loader
Foto

2 सप्ताह की रियायत के बाद भी बाजार में नहीं रौनक...

गोंदिया : जिले के नागरिकों ने कोरोना महामारी का डटकर मुकाबला किया है. देश में 24 मार्च से लॉकडाउन घोषित किया गया था. इसके बाद सतत चौथे चरण का लॉकडाउन 31 मई तक घोषित किया गया है. लेकिन दीर्घ अवधि तक लॉकडाउन का सामना कर रहे नागरिकों को केंद्र व राज्य शासन ने आखिरकार बड़ी राहत दी है.

जिला प्रशासन ने तीसरे चरण के बाद 5 मई से व्यापारियों को कुछ शर्तो के साथ दूकाने शुरु रखने की अनुमति दी है. इसके पूर्व जीवनावश्यक वस्तुओं की दूकानें सतत शुरु ही थी. जिला प्रशासन के आदेश के बाद एक तरह से संपूर्ण मार्केट खुल गया है. लेकिन बाजार से 2 सप्ताह बीत जाने के बाद भी रौनक गायब है. लोगों में खरीददारी को लेकर कोई उत्साह नजर नहीं दिखाई दे रहा है.

शासकीय कार्यालयों में पहले की तरह कामकाज नहीं हो रहा है. अधिकांश कार्यालयों में कर्मचारियों का अभाव है. वहंी शासकीय कार्यालयों में काम के लिए जाने वालों की संख्या भी नगण्य है. जिला मुख्यालय में गिनती के होटल व रेस्टारेंट शुरु किए गए है. लेकिन वहां केवल पार्सल कर खाद्य सामग्री दी जा रही है. जिले में सब्जी भाजी की बिक्री खुब हो रही है.

कृउबास मुख्य बाजार के साथ साथ हिंदी टाउन स्कूल, सुभाष स्कूल मैदान व नप स्टेडियम में जिला प्रशासन की पहल पर अस्थायी लघु बाजार बनाए गए है. जहां लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर खरीददारी कर रहे है. विवाह का सीजन भी फिका हो गया है. अप्रेल व मई इन दो माह में सामूहिक के साथ साथ बड़ी संख्या में पारिवारीक विवाह होते है. जिससे विवाह करने वाले दोनों पक्षों के लोग मार्केट में जमकर खरीदी करते थे. जबकि कोरोना वायरस ने उन्हें भी मुश्किल मंें डाल दिया है. अनेक परिवारों ने विवाह की तिथियां आगे बढ़ा दी है. इसका असर भी मार्केट की खरीददारी पर पड़ रहा है.

Recent Posts