loader
Foto

सात जून तक नहीं खेला जाएगा टेनिस का कोई भी मैच, लिया गया बड़ा फैसला...INBCN NEWS

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण सभी पुरुष और महिला पेशेवर टेनिस टूर्नामेंट सात जून तक स्थगित कर दिये गये हैं. एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) ने बुधवार को घोषणा की कि क्लेकोर्ट का पूरा सत्र पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नहीं होगा. इससे एक दिन पहले फ्रेंच ओपन (French Open) ने घोषणा की थी मई में क्लेकोर्ट पर होने वाला वर्ष का यह दूसरा ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट सितंबर तक स्थगित कर दिया गया है.

कई टूर्नामेंट पर पड़ेगा असर

एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) टूर ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह अप्रैल के आखिर या मई के शुरू तक टूर्नामेंटों को निलंबित कर सकता है. नयी घोषणा के बाद जिन टूर्नामेंट पर असर पड़ेगा में उनमें पुरुष और महिलाओं के मैड्रिड और रोम टूर्नामेंट भी शामिल हैं.

जिन टूर्नामेंट को रद्द किया गया है उनमें डब्ल्यूटीए के स्ट्रासबोर्ग (फ्रांस) और रबात (मोरक्को) तथा एटीपी के म्यूनिख, पुर्तगाल, जेनेवा और फ्रांस के लियोन में होने वाले टूर्नामेंट शामिल हैं. दोनों टूर ने कहा कि आगामी नोटिस तक रैंकिंग जस की तस बनी रहेगी और उसमें कोई बदलाव नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ ने अपने निचली श्रेणी के टूर्नामेंट को सात जून तक रद्द कर दिया है.

पेस ने दी सुरक्षित रहने की सलाह - भारत के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस (Leander Paes) ने गुरुवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के खिलाफ जंग में लोगों को घबराना नहीं चाहिए और फर्जी खबरों के जाल में फंसने से बचना चाहिए. उन्होंने लोगों से सुरक्षित रहने के लिये विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशा निर्देशों का पालन करने का आग्रह किया.

घातक कोरोना वायरस के कारण विश्व भर के 157 देशों में अब तक 8809 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 2,18,631 लोग संक्रमित हैं. भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus) के मामलों की संख्या बढ़कर 169 पर पहुंच गयी है. पेस ने ट्वीट किया, ‘अभी हम जंग में एक ऐसे प्रतिद्वंद्वी का सामना कर रहे हैं जो तेजी से विश्व भर में अपने पांव पसार रहा है. ऐसे समय में यह महत्वपूर्ण है कि हम समाज में अपनी भूमिका निभाएं और स्वस्थ समाज सुनिश्चित करने में अपना योगदान दें.’

इस 46 वर्षीय खिलाड़ी ने इस संबंध में कई ट्वीट किये हैं और लोगों से स्वास्थ्य संबंधी सलाह को मानने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा, ‘यह महत्वपूर्ण है कि हम डब्ल्यूएचओ और भारत के स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्रालय के दिशानिर्देशों का पालन करें. घबरायें नहीं और फर्जी खबरों के जाल में न फंसे. यह भी महत्वपूर्ण है कि हम अपने आसपास के लोगों को इस बारे में शिक्षित करने में मदद करें जैसे कि कामगार, जिनके पास आसानी से जानकारी नहीं पहुंचती है.' 

Recent Posts