loader

Vidarbha News

जगभऱ्यासह देशात महाराष्ट्रात कोराना विषाणूचा संसर्ग झपाट्याने वाढत आहे.तसेच कोराना बाबत योग्यती खबरदारी घेण्याचे आदेश वर्धा जिल्हा अधिकाऱ्यांकडुन जिल्ह्यात धार्मिक संस्थांना देण्यात आले आहे. या अनुषंगाने जिल्हात आपत्ती व्यवस्थापन कायद्या लागू करण्यात आला आहे. 

जिल्हा प्रशासनाकडून देण्यात आलेल्या आदेशानुसार साठी वर्धा जिल्ह्यातील गिरड येथिल हिंदू मुस्लिम एकतेचे प्रतिक असलेल्या विदर्भ सुप्रसिद्ध पाहाड फरीद दर्गाह टेकडी व बाबा फरीद दर्गाह शक्करबाहुली या दोन्ही प्रशासनाकडून कोरोना विषाणूचा संसर्गा बाबत खबरदारी म्हणून आज पासून पुढिल शासनाच्या आदेश येईपर्यंत भाविकांना दर्शनासाठी दर्गाह बंद ठेवण्याचा निर्णय दोन्ही कमेटीकडुन घेण्यात आल्याची माहिती बाबा फरीद दर्गाह टेकडी कमेटीचे चेअरमन करीमुद्दीन काजी यांनी दिली आहे...

कल रात मंगलवार के दिन रात्री ११.४० के दरम्यान सुरु हुये वेगवान बारीश और तुफान के कारण हिंगणघाट तालुका के  शहरी व ग्रामीण भाग का बडा नुकसान हुवा है
हिंगणघाट शहर मै तेज  तुफान के   साथ तेज हवा और बिजली के गडगडाट के साथ पाणि शुरवात हु उस वक्त बिजली आपुती खंडीत हो चुकी थी

  शहर के अनेक जगाहा के बडे पेड धराशाहि हुये और बिजली के कई खंबे भी तेडे हो गय दिखाई दिये दिये, स्थानिक रामनगर वार्ड के प्रंशात जीकार ईनके घर का छप्पर सिंलीग फॅन के सह उड गया उस वक्त जिकार परीवार गहरी निंद मै था तब यह सब प्रकार हूवा प्रशांत जिकार ईनके परीवार के दो छोटी लडकीया, उनकी पत्नी, उनके माता, पिता निंद मै रहते हुये हादसा हुवा सुदैवसे कोई जिवित हानि नहि हुई. पंरतु रोजमजुरी करके परीवार का उदरनिर्वाह करणे वाले गंरीब परीवार का बड आर्थीक नुकसान हुवा है।ईस तेज तुफान और पाणी के कारण घर रखे अन्न धान्य के साथ जिवन आवश्यक वस्तुये धराशाहि हुई है
 उनका आसपास देड लाख नुकसान हुवा है । उनोने  शासन कि और से मद्दत कि मांग किई है| हिंगणघाट शहर के सिमा लगत परीसरमै  पिंपळगांव परीसर मै नये ले आऊट के काम के लिये मंजुरो कि टोली आई है कल तुफान और पाणी के कारण उनका का भी संसार उदवस्त हुवा है। उनकी भी झोपडिया उडके उन्हके भी बर्तन भांडे कपडे और अन्य ईधर उड गये।शहर के न्यायालय के सामने  समाधान हाॅटेल पे जिर्ण हुवा झाडे गिरा उसके साथ गांव मै अन्य जगाह भी बडे पेड धरा शाहि हुये|

चंद्रपुर. नागपुर मार्ग पर स्थानीय जनता कालेज चौक में स्थित रेणुका गेस्ट हाउस पर पुलिस ने छापामार कार्रवाई की. इस दौरान वहां से कालेज के कुल 26 छात्र-छात्राओं को पकड़ा गया. शुक्रवार को दोपहर को रामनगर पुलिस ने कार्रवाई की. किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा पुलिस को दी गई जानकारी के आधार पर पुलिस की एक टीम दोपहर को इस गेस्ट हाउस पर पहुंची और तलाशी कार्रवाई शुरू की. अचानक पड़े इस छापे से गेस्ट हाउस में हड़कंप मच गया और अफरातफरी शुरू हुई.

इस भागदौड़ में कुछ युवक-युवतियां गेस्ट हाउस से भागने में सफल हुए, जबकि पुलिस ने अलग-अलग कमरों से युवक-युवतियों के कुल 13 जोड़ों को धरदबोचा. सभी को रामनगर पुलिस थाने में लाया गया. जहां पुलिस ने सभी संबंधित छात्र-छात्राओं के परिजनों को थाने में बुलाकर सबसे माफीनामा लिखवा लिया. पश्चात सभी को छोड़ दिया गया. इस घटना से शहर में खलबली मच गई. बताया जाता है कि इस गेस्ट हाउस की कई शिकायतें पुलिस को इससे पहले भी प्राप्त हुई थी. पुलिस उचित मौके की तलाश कर रही थी.

वर्धा. जब्त किये गए रेती से लदे तीन टिप्पर लेकर चालक फरार हो गए़ राजस्व प्रशासन की लापरवाही के चलते उक्त मामला सामने आते ही सर्वत्र खलबली मच गई़ इस प्रकरण में वडनेर पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी़.

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिंगनघाट के नायब तहसीलदार विजय पवार ने अवैध रेतमाफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की़ इसमें उन्होंने तीन टिप्पर (क्र.एमएच 36 एफ 0517, एमएच 32 एजे 0648 व एमएच 32 एजे 0649). जब्त कर लिए़ इसमें 30 से 35 ब्रास रेती जब्त कर सभी वाहन मौजा शेकापुर बाई स्थित विकास विद्यालय समक्ष गोठाडी शिवार में खडे रखे थे़ इस संबंध में राजस्व कर्मचारी देवानंद गोविंद खेकारे (53) को सूचना देते हुए सभी जब्त माल सुपुर्दनामे पर देने की बात कही़ सूचना मिलते ही खेकारे घटनास्थल पर पहुंचे़ जहां उन्हें 50 फीट दूरी पर तीन टिप्पर दिखाई दिए़ पंचनामा कर सभी वाहन कर्मचारियों के स्वाधीन कर दिये गए़ किन्तु शाम 4 बजे दौरान टिप्पर चालकों ने कर्मचारियों को चकमा देते हुए तीनों टिप्पर लेकर फरार हो गए़ यह बात सामने आते ही सर्वत्र खलबली मच गई़.

थाने में शिकायत - इस प्रकरण में देवानंद खेकारे की शिकायत पर वडनेर पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी़ जब्त किये गए टिप्पर लेकर चालक कैसे फरार हुए, यह प्रश्न उपस्थित किया जा रहा है़ वहीं दूसरी ओर राजस्व प्रशासन की इस कार्रवाई को लेकर सवालिया निशान खड़ा हो रहा है़.

वर्धा: कपास उत्पादक किसानों इस वर्ष आस्मानी व सुलतानी संकट का सामना करना पड़ रहा है. परिणाम स्वरुप किसानों को करीब 10 हजार करोड़ का नुकसान होने की संभावना है. जिस कारण धान उत्पादक की तरह कपास उत्पादकों को प्रति क्विंटल 1,000 रुपए बोनस देने की मांग किसान संगठन के विजय जावंधिया ने की. इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ज्ञापन सौंपा.

गत वर्ष से कम है दाम - गत वर्ष सूखा प्रभावित स्थिति थी. चारें की किल्लत थी. जिस कारण सरकी, ढेप के दरों में तेजी थी. जिससे सरकी के दाम 3500 से 4000 रुपए प्रति क्विंटल मिले. इस दाम से कपास उत्पादकों को कपास का गारंटी मूल्य 5450 रुपए प्रति क्विंटल होकर बाजार में 6000 से 6500 रुपए दाम मिला था. इस आकर्षक वृद्धि से किसानों ने इस बार किसानों ने 25 फीसदी अधिक कपास की बुआई की. महाराष्ट्र में प्रतिवर्ष औसत 80 लाख कपास गाठो का उत्पादन होता है. एक गांठ यानी 5 क्विंटल कपास, इसका अर्थ 4 करोड़ क्विंटल कपास का उत्पादन था. आज महाराष्ट्र में कपास उत्पादकों को औतस 5 हजार रुपए प्रति क्विंटल कपास का उत्पादन मिल रहा है. यह दाम गत वर्ष से 1000 रुपए से कम है. भारत सरकार का गारंटी मूल्य 5550 रुपए है. इसका अर्थ ऐसा कि, सुलतानी संकट के कारण कपास उत्पादक किसानों को 4 करोड क्विंटल कपास उत्पादन पर 4 हजार करोड़ रुपए का नुकसान होगा. इस वर्ष 25 फीसदी कपास उत्पादन का बढ़ा था. जिससे 5 करोड़ क्विंटल से अधिक कपास का उत्पादन होना अपेक्षित था. परंतु प्रत्यक्ष 4 करोड़ क्विंटल का अनुमान व्यक्त किया जा रहा है. यानि 1 करोड़ क्विंटल का नुकसान होगा. औसत अपेक्षित 6000 रुपए प्रति क्विंटल के दाम से यह नुकसान 6 हजार करोड़ रुपए का था जिस कारण कपास उत्पादक किसानों को 4,000 करोड़ रुपए कम दाम से 6,000 करोड रुपए के कम उत्पादन से 10,000 करोड़ का नुकसान होगा. ऐसा ही रहा तो किसानों की आय दुगनी कैसे होगी? ऐसा सवाल विजय जावंधिया ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछा है.

मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन - धान उत्पादकों को जिस तरह से गारंटी मूल्य पर 700 रुपए प्रति क्विंटल बोनस जारी किया है, उसी तरह कपास उत्पादकों को 1000 रुपए प्रति क्विंटल बोनस देने की मांग जावंधिया ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ज्ञापन सौंपकर की है.

अमरावती. विदर्भ का दूसरा प्रमुख संभाग अपराध के मामलों में पिछे नहीं है, अमरावती ग्रामीण, अकोला, यवतमाल, बुलढाना और वाशिम ऐसे पांच जिलों में एक वर्ष 2019 में कुल 203 हत्याएं दर्ज की जा चुकी है. अमरावती परिक्षेत्र के इन पांचों जिलों में पुलिस का डिटेक्शन 60 फीसदी दर्ज किया है. इस वर्ष क्राइम के मामले में संभाग में बुलढाना जिला अव्वल रहा है. विशेष पुलिस महानिरीक्षक डा.मकरद रानडे ने चार्ज संभालते ही अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों पर शिंकजा कसने के साथ ही क्राइम कंट्रोल व डिटेक्शन ग्राफ बढ़ाने के लिए पांचों जिले के अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए है.

क्राइम ग्राफ घटा, डिटेक्शन बढ़ा - अमरावती परिक्षेत्र के पांचों जिले में वर्ष 2019 में कुल 18,770 मामले दर्ज किए गए है, जबकि वर्ष 2018 में 19,332 इतने मामले दर्ज हुए है. पिछले साल की तुलना में इस वर्ष 562 अपराध कम दर्ज हुए है. जबकि संगीन मामलों के आंकडे देखे तो वर्ष 2019 में कुल 203 मर्डर, 260 हत्या के प्रयास, 35 डकैती, 220 राबरी, 800 बडी चोरियां, 1100 दुर्घटना में मौत, 400 दुष्कर्म तथा 1,300 छेड़छाड़ के मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले वर्ष 2018 के आंकड़े देखे तो कुल 209 मर्डर, 282 हत्या के प्रयास, 23 डकैती, 242 रॉबरी, 821 बडी चोरियां, 456 रेप व 1,500 के करीबन छेड़छाड़ की घटनाएं दर्ज की गई है. इस वर्ष लगभग संगीन अपराधों में कमी आयी है, जबकि डिटेक्शन का ग्राफ बढ़ा है. इन संगीन अपराधों में 60 से 65 फीसदी डिटेक्शन दर्ज किया है.

यवतमाल क्राइम में दूसरे नंबर पर - वर्ष 2019 में कुल 18,770 अपराध दर्ज किए गए. जिसमें सर्वाधिक 4,941 प्रकरण बुलढाना जिले में दर्ज हुए है, जबकि 4,559 यवतमाल जिले में दर्ज हुए है, जिससे यवतमाल क्राइम में दूसरे नंबर पर रहा. वहीं अमरावती में 3,597, अकोला 3,632 तथा वाशिम में 2,241 मामले दर्ज किये गए.

अमरावती. शहर में शुक्रवार की सुबह 2 अलग अलग हादसों में 2 ट्रक पलट गए. भाग्य से कोर्ई जीवित हानि नही हुई. हादसों की देर शाम तक कोई शिकायत संबंधित थानों में दर्ज नहीं की गई थी. अकोली रोड पर शुक्रवार की सुबह गिट्टी लेकर जा रहा टिप्पर (एमएच27 एक्स 832) अचानक सड़क किनारे पलट गया. इस दौरान यहां से गुजर रहे स्कूली छात्र बाल बाल बच गए. टिप्पर अकोली रोड से म्हाडा कालोनी की ओर जा रहा था. इस मार्ग पर खडीकरण का काम शुरू रहने से कच्चे सड़क पर गिट्टी डाली हुई थी. गिट्टी से लदा यह टिप्पर आगे जाकर अचानक पलट गया. जिससे कोई जीवितहानी नहीं हुई. देर शाम तक इस मामले में खोलापूरी गेट थाने में कोई शिकायत दर्ज नहीं हुई थी.

गोंदिया. शहर पुलिस स्टेशन में दिल्ली निवासी खुशमितसिंह सविंदासिंह भाटिया (37) की शिकायत पर नकली पावर हेबिल्स प्लस की बिक्री करने वाले दूकानदार व पूर्ति के खिलाफ कापी राइट कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. सिंधी कालोनी निवासी रोचवानी अपनी सब्जी मंडी चना लाइन परिसर की दूकान में पावर हेबिल्स प्लस लिखे हुए प्लास्टिक के पाइप बिक्री करने के लिए रखे थे. जबकि सिविल लाइन निवासी विवेक असाटी उसे उक्त पाइप की पूर्ति कर रहा था.

इस संदर्भ में फिर्यादी का कहना है कि दूकानदार के पास लायसेंस टेडमेन कॉपी राईट न होते हुए भी हेबिल्स कम्पनी के नाम का उपयोग कर प्लास्टिक पाइप पर हेबिल्स प्लस लिखकर नकली पाइप की बिक्री कर रहा था. घटना की शिकायत दर्ज होते ही सहायक पुलिस निरीक्षक विवेक नार्वेकर ने दूकान पर छापा मारकर नकली पाइप सामग्री की जब्ती की है.

गोंदिया. शासन ने अब तक रेती घाटों की नीलामी नहीं की है. फलस्वरूप रेती का अवैध उत्खनन हो रहा है. इसके बाद रेती की अवैध ढुलाई की जाती है. अब रेती घाटों की नीलामी प्रक्रिया के लिए संबंधित राजस्व विभाग ने गतिविधियां शुरू कर दी है. तहसील स्तरीय तकनीकी समिति ने वैसी रिपोर्ट जिला स्तरीय सनियंत्रण समिति के पास भेजा है. जिसमें जिले के 65 रेती घाटों में से 27 रेती घाट योग्य दर्ज किए गए है, इसमें जनसुनवाई व पर्यावरण मान्यता प्राप्त होने के बाद रेती घाटो की नीलामी प्रक्रिया पूर्ण होगी. जिले में शासकीय व निजी निर्माण कार्य बड़े पैमाने पर शुरू है. इसमें भी तिरोड़ा, तुमसर, गोंदिया, गोरेगांव, देवरी, आमगांव इन राज्य मार्गों सहित शासकीय बांधकाम हो रहे हैं. प्रधानमंत्री घरकुल योजना अंतर्गत व निजी निर्माण कार्य के काम शुरू है. बावजूद शासन स्तर पर जिले के रेती घाट शुरू नहीं किए गए.

हर दिन सैकड़ों ब्रास रेती का उत्खनन - जिससे रेती का व्यवसाय करने वालों की बन आई है. जिले में हर दिन सैकड़ों ब्रास रेती का अवैध उत्खनन कर रेती की तस्करी की जा रही है. निर्धारित किए गए रेती घाटों के अलावा अन्य स्थानों पर भी कई घाट तैयार हुए है. पर्यावरण के नियमों का पालन किए बिना किसी भी स्थान से रेती का उत्खनन किया जा रहा है. इसके बाद अधिक दर पर रेती की बिक्री की जाती है. जिले में गोंदिया, तिरोड़ा, सड़क अर्जुनी, आमगांव, सालेकसा, देवरी व अर्जुनी मोरगांव इन तहसीलों में रेती के घाट है. तहसीलों की तहसील तकनीकी समिति के रिपोर्ट अनुसार तिरोड़ा तहसील के 9 रेती घाट नीलामी के योग्य है. वहीं गोंदिया 9, सड़क अर्जुनी 3, आमगांव 2, सालेकसा 1, देवरी 1 तथा अर्जुनी मोरगांव तहसील में 2 रेती घाट इस तरह कुल 27 रेती घाटों को नीलामी के लिए योग्य ठहराए जाने की रिपोर्ट समिति ने दिया है.

पर्यावरण समिति के समक्ष पेश होगी - उल्लेखनीय है कि जन सुनवाई के बाद पर्यावरण मान्यता के लिए पर्यावरण समिति को रिपोर्ट प्रस्तुत किया जाएगा. पर्यावरण समिति के निर्णय के बाद कितने रेती घाटों की नीलामी की जाएगी यह निश्चित किया जाएगा. रेती घाटों की नीलामी के लिए समिति का रिपोर्ट प्राप्त हो गया है. जिसकी जन सुनवाई व पर्यावरण समिति की हरी झंडी मिलने के बाद तत्काल रेती घाटों की नीलामी प्रक्रिया पूर्ण की जा

भंडारा. पालोरा में राष्ट्रीयकृत इलाहाबाद बैंक की शाखा में खातेदार इसलिए परेशान हैं कि वे 20 हजार से ज्यादा की धनराशि नहीं निकाल सकते. इस शाखा में 13 गांव के लोगों के खाते हैं. इस शाखा में जिन खातेदारों के खाते हैं, वे तरह-तरह की परेशानियों का सामना कर रहे हैं. बैंक के खातेदारों को जरूरत हो तो भी 20 हजार रूपए से ज्यादा नहीं निकला सकते. पालोरा के इलाहाबाद बैंक की शाखा में आने वाले खातेदारों को पैसों के लेन-देन में काफी प्रतीक्षा करनी पड़ती है. इस वजह से लोगों को अपना बहुत सा वक्त बैंक में ही व्यतीत करना पड़ रहा है. बैंक के मुख्य व्यवस्थापक का कहना है कि मुख्य शाखा से अधिक धनराशि न मिलने के कारण प्रति खातेदार को अधिकतम 20 हजार रूपए निकालने की ही अनुमति दी गई है.

अमरावती. उधार पैसे लौटाने में मदद करने के नाम पर महिला से दुष्कर्म की घटना फ्रेजरपुरा थानांतर्गत घटी है. शनिवार की रात थाने में दर्ज शिकायत के अनुसार पीड़ित महिला ने उसकी एक सहेली से 15,000 रुपए उधार मांगे थे. मां के इलाज के लिए सहेली ने पीड़िता से पैसे की मांग की. लेकिन पैसे नहीं होने से वह लाचार थी. आरोपी डा. मोहित मेत्रे (बियाणी चौक) ने उसे पैसे लौटाने में मदद का भरोसा दिलाया और उसे बियानी चौक में गिरमकर ले आउट स्थित फ्लैट में बुलाया. पीड़िता के अनुसार फ्लैट में आरोपी के साथ दो लोग शराब पी रहे थे. आरोपी ने पीड़िता को भी जबरदस्ती शराब पिलायी, वहां से जाने नहीं दिया व रात भर दुष्कर्म किया. पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है.

कामावर जाण्यासाठी घराबाहेर पडलेल्या एका तरुणीला भरचौकात तिच्या अंगावर पेट्रोल ओतून तिला जाळल्याची धक्कादायक घटना वर्धाजिल्ह्यातील हिंगणघाट येथील नंदेरी चौकात घडली. या तरुणीला तातडीने जवळच्या रुग्णालयात दाखल करण्यात आले असून तिची प्रकृती गंभीर असल्याचे समजते. आरोपीने हे कृत्य केल्यानंतर तो तिथून तत्काळ पसार झाला असून पोलीस त्याचा शोध घेत आहेत. आज सकाळी घडलेल्या या घटनेमुळे हिंगणघाटमध्ये भीतीचे वातावरण पसरले आहे.

वर्धा: सांगली येथे दोनच दिवसांपूर्वी प्रेमी युगुलांना मारहाण करून, तरुणीचा विनयभंग करून ते चित्रित करण्याची लाजीरवाणी घटना ताजी असतानाच, आज विदर्भातील वर्धा येथे तरुणीला भर चौकात दिवसाढवळ्या जाळण्याचा धक्कादायक प्रकार घडला आहे. कामावर जाण्यासाठी घराबाहेर पडलेल्या या पीडित तरुणीला भरचौकात तिच्या अंगावर पेट्रोल ओतून तिला जाळण्याचा प्रयत्न एका तरुणाने केला. वर्धा जिल्ह्यातील हिंगणघाट येथील नंदेरी चौकात ही घटना घडली. या तरुणीला तातडीने जवळच्या रुग्णालयात दाखल करण्यात आले असून तिची प्रकृती गंभीर असल्याचे समजते. या मुळे पीडित तरुणीचा चेहरा पूर्णपणे जळाला असून तिची वाचाही गेल्याचे डॉक्टरांनी सांगितले.

आरोपीने हे कृत्य केल्यानंतर तो तिथून तत्काळ पसार झाला. मात्र काही तासांतच पोलीस त्याचा शोध घेत त्याला ताब्यात घेतले आहे. विकी नगराळे असे आरोपीचे नाव असून तो तरुणीच्या गावचाच रहिवासी असल्याचे पोलिसांनी सांगितले. एकतर्फी प्रेमातून हा प्रकार घडल्याचे सांगण्यात येत आहे. मात्र पोलिसांनी या घटनेबाबत अधिक माहिती देण्यास नकार दिला आहे. आज सकाळी घडलेल्या या घटनेमुळे हिंगणघाटमध्ये भीतीचे वातावरण पसरले आहे.

चंद्रपुर. जिले के लिए राज्य सरकार द्वारा 2020-21 वर्ष के लिए निर्धारित किए 180 करोड़ के नियमित खर्च में 43.60 करोड़ रुपये अतिरिक्त की मांग की गई थी. अगले वर्ष के लिए 223.60 करोड़ के जिला वार्षिक योजना को राज्य के उपमुख्यमंत्री एवं वित्तमंत्री अजीत पवार ने नागपुर में मंजूरी दी. पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने अतिरिक्त निधि की मांग है. इस संदर्भ में निर्णय मंत्रिमंडल की बैठक में लिए जाने का वित्तमंत्री ने स्पष्ट किया.

नागपुर में हुई बैठक - जिला वार्षिक योजना के प्रारूप बजट को मंजूरी देने के लिए उपमुख्यमंत्री एवं वित्तमंत्री अजीत पवार के मार्गदर्शन में विभागीय आयुक्त कार्यालय में आयोजित बैठक में गृहमंत्री अनिल देशमुख, राज्य के सहायता एवं पुनर्वास व चंद्रपुर जिले के पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार, जिला परिषद अध्यक्ष संध्या गुरनुले, सांसद सुरेश धानोरकर, विधायक किशोर जोरगेवार, विधायक प्रतिभा धानोरकर, नियोजन विभाग के अपर मुख्य सचिव देवाशीष चक्रवर्ती, विभागीय आयुक्त डा. संजीव कुमार, जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल कर्डिले आदि विभाग प्रमुख उपस्थित थे.

पालकमंत्री ने की 425 करोड़ की मांग - जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार ने जिले में विभिन्न स्रोतों से प्राप्त होने वाली निधि एवं प्रस्तावित जिलास्तरीय योजना के बारे में तैयार किए गए प्रारूप की जानकारी दी. जिले को 2020-21 वर्ष के लिए सरकार की सूचना अनुसार 180 करोड़ का नियतव्यव मंजूर किया गया था. पालकमंत्री वडेट्टीवार ने 425.38 करोड़ रुपये अतिरिक्त की मांग की. वित्तमंत्री ने कहा कि जिला वार्षिक समिति के निकष अनुसार सभी जिलों को विस्तारित निधि दी जाएगी. जिले में आंगनवाड़ी निर्माण कार्य के संदर्भ में बड़े पैमाने पर निधि मांगी गई. वित्तमंत्री ने बताया कि मनरेगा में बड़े पैमाने पर इस संदर्भ में निधि उपलब्ध है. केन्द्र सरकार की ओर से यह निधि मिलने से जिला नियोजन समिति के माध्यम से अति आवश्यक होने पर निधि का उपयोग किए जाने के निर्देश दिए. जिले के विभिन्न कार्यालयों के सदर्भ में 64 करोड़ रुपये की मांग जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार ने रखी. जिला परिषद के सीईओ राहुल कर्डिले ने आंगनवाड़ी दुरुस्ती का प्रश्न रखा. विद्युत वितरण कंपनी को सौर एवं अन्

अमरावती. सीएए-एनआरसी व एनपीआर के विरोध में भारतीय संविधान सुरक्षा संघर्ष समिति के बैनर तले लगातार 17 वें दिन बुधवार को भी सत्याग्रह आंदोलन बदस्तूर जारी रहा. बुधवार को उलेमाओं की अगुवाई में ट्रक बाडी मेकर व पेंटर मल्टीपरपज एसोसिएशन तथा मेकनिक व स्पेयर पार्टस विक्रेता मल्टीपरपज एसो. इतवारा बाजार सब्जी व फल विक्रेता तथा उस्मानिया कम्पाउड के मैकनिक ने सत्याग्रह आंदोलन को समर्थन देकर एक दिवसीय धरना आंदोलन किया. सीएए काले कानून के निषेधार्थ काले गुब्बारे परिसर में बांधकर काला निषेध जताया गया.

सीएए-एनआरसी कानून को रद्द करने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा गया. इस समय समाजवार्दी पार्टी के शहर व जिला अध्यक्ष सलीम खान ने भी सत्याग्रह आंदोलन का समर्थन दिया. इस समय जयरोड वेज के इमरान खान, युनुस खां पठान, रहमत खान, अमजद खान, मो.शाकीर, छोटू खान, शेख जाबीर, अ.कलीम, हाजी राजा, अ.राजीक, महेद्र शर्मा, सलीम सैय्यद, शफीद्दीन, मो.आबिद, शेख फिरोज, अफसर खान, पाशु खान, अशपाक खान, शेख अंजु समेत अन्य उपस्थित थे.

अमरावती. शहर के प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों को छोड़ दिया जाए तो बुधवार को शहर में भारत बंद का मिला-जुला असर रहा. मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में सुबह से दूकानें नहीं खुली. कुछ स्कूल-कालेज को छुट्टी दे दी गई. आटो, साइकिल रिक्शा, चाय टपरियां, पानठेले बंद रहे. पिछले बंद में हुए लाठीचार्ज को देखते हुए सावधानी बरतते पुलिस ने संयम से काम लेते देखने की भूमिका अपनाई. वहीं कुछ आंदोलनकारियों ने मांगीलाल हाइटस में स्थित फिर उसी शाप पर पथराव किया. आयकान पर 5-6 पत्थर दे मारे. जबकि ईर्विन की ओर आ रही 2 कारों को रोककर बोनट पर मुक्के मारे. यह नजारा देखकर भी पुलिस ने दूरी बनाए रखी. आंदोलनकारियों ने ही उग्र प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित किया.

ईर्विन पर उमड़ी भीड़ - भारत बंद के दौरान ईर्विन चौक पर सुबह 11 बजे हजारों की भीड़ उमड़ पडी. एक ओर भारतीय संविधान सुरक्षा संघर्ष समिति का लगातार 17 वें दिन सत्याग्रह आंदोलन जारी था, वहीं दूसरी ओर बहुजन क्रांति मोर्चा ने भी ईर्विन चौक पर ही भारत बंद के लोगों को इकठ्ठा किया. दोनों पंडाल में हजारों की संख्या में लोग उमड़ पडे. यहां मुलनिवासी के सम्मान में हम बहुजन मैदान में, सीएए-एनआरसी हटाओ देश बचाओ, संविधान बचाओं देश बचाओ जैसे नारे लगाये. जिन के हाथों में केसरी, नीले, हरे व पीले रंग के झंडे थे. कुछ महिला कार्यकर्ताओं ने नो सीएए, नो एनआरसी, नो एनपीआर के बैनर हाथ में लेकर प्रदर्शन किया.

उग्र हुई भीड़ - दोपहर 1 बजे ईर्विन चौक पर 10,000 के करीब भीड़ इकठ्ठा हो गई. जिससे पुलिस को पूरे ईर्विन चौराहे के मार्ग को बंद करना पड़ा. इस दौरान 2 कारों ने भीड़ में घुसने का प्रयास किया. जिन्हें आंदोलनकारियों ने रोक लिया जिसके बोनट पर कुछ आंदोलनकारियों ने मुक्के मारे. जिससे चालक ने कार को वापस पलटा लिया. आंदोलनकारी इतने पर भी नहीं रुके तो भीड़ की शक्ल में ईर्विन से आगे बढ़ने लगे. जिन्होंने मांगीलाल हाइट्स स्थित उसी आयकान एलइडी शाप पर 5 से 6 पत्थर मारे.

समय रहते आयकान एलइडी के कर्मचारियों ने शटर गिरा दिया. जिससे कोई नुकसान नहीं हुआ. दौरान आंदोलनकारी और आगे बढ़कर वालकट कम्पौंड की ओर बढ़े. जहां पर महेश ट्रेडिंग कंपनी दूकान खुली देखकर आंदोलनकारी भड़क उठे. जिन्होंने जोरदार नारे लगाए. जिससे तत्काल ट्रेडिंग कंपनी के मालि

वर्धा. पैसों को लेकर चल रहे विवाद में दो भाइयों ने एक की चाकू से गोदकर निर्मम हत्या कर दी़ उक्त सनसनीखेज वारदात इंदिरानगर समीप बुरांडे लेआउट में शनिवार की रात्रि 8.45 बजे घटी़ इस खूनी संघर्ष के सामने आते ही परिसर में हड़कम्प मच गया. मृतक अविनाश शेखर मसराम (30) बताया गया़ जबकि उसका साथी सौरभ मदन कुवेरकर (30) गंभीर जख्मी हुआ़ पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बुरांडे लेआउट निवासी आरोपी प्रीतम चंदनखेडे व उसका भाई सुमीत का मृतक अविनाश के साथ पैसों को लेकर पुराना विवाद चल रहा था़.

25 जनवरी की दोपहर अविनाश व प्रीतम में न्यू आर्ट्स, कामर्स कालेज के समीप इस बात पर विवाद हुआ़ विवाद बढ़ने पर मृतक व उसके साथी ने प्रीतम व उसके भाई सुमित को जान से मारने की कोशिश की़ इसमें सुमीत के हाथ का अंगूठा कट गया़ किंतु किसी तरह दोनों हमलावरों के चंगुल से बचकर निकल गए़ पश्चात प्रीतम व सुमित सीधे शहर थाने पहुंचे़ जहां उन्होंने मृतक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई़ इसका पता चलते ही शनिवार की रात्रि 8.30 बजे दौरान मृतक अविनाश अपने साथी सौरभ के साथ दुपहिया से प्रीतम के घर पहुंचा़ उसने प्रीतम की मां के साथ विवाद शुरू किया.

इस दौरान घात लगाये बैठे प्रीतम व सुमीत ने दोनों पर कातिलाना हमला कर दिया़ उनकी आंखों में मिर्च पावडर फेंका गया़ पश्चात प्रीतम ने अविनाश के सीने व सिर पर चाकू से वार किए़ इसमें अविनाश की घटनास्थल पर ही मौत हो गई़ हमले में सौरभ गंभीर जख्मी हो गया़ वारदात को अंजाम देकर दोनों वहां से फरार हो गए़ घटना की जानकारी मिलते ही वर्धा व रामनगर पुलिस घटनास्थल पहुंची़ सौरभ को गंभीर हालत में सेवाग्राम अस्पताल में दाखिल किया गया, जहां से उसे नागपुर रेफर कर दिया़ देर रात्रि रामनगर पुलिस ने प्रीतम हरि चंदनखेडे (25) को हिरासत में ले लिया़ अंगूठा कटा होने से सुमित (28) सावंगी अस्पताल में उपचारार्थ दाखिल हुआ़ वारदात घटते ही परिसर में दहशत फैल गई़ घटनास्थल को उपविभागीय पुलिस अधिकारी पियुष जगताप ने भेंट दी़ आगे की जांच थानेदार धनोजी जलक के मार्गदर्शन में चल रही है़.

आरोपी को 30 तक पीसीआर - कातिलाना हमले के आरोपी प्रीतम चंदखेडे को रामनगर पुलिस ने न्यायालय में पेश किया़ जहां उसे 30 जनवरी तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है़ जबकि सुमित क

अमरावती: गत वर्ष सितंबर-अक्टूबर में बेमौसम बारिश ने किसानों की फसलें बर्बाद कर दी. इस संकट से किसानों को फसल बीमा के मुआवजे से राहत की उम्मीद थी, लेकिन यह फसल बीमा भी बिरबल की खिचड़़ी बना हुआ है. जिले के 1 लाख 10 हजार 163 किसान अब तक बीमा राशि के इंतजार में है.

बेमौसम बारिश से क्षति - अक्टूबर माह के पहले सप्ताह में खेतों में फसलें लहलहा रही थी, लेकिन अतिवृष्टि और लौटती बारिश ने किसानों की उम्मीद पर पानी फेर दिया. 14 तहसीलों की सोयाबीन, मुंग, उड़द फसलों को भारी क्षति पहुंची. लाखों हेक्टेयर कृषि का माल मिट्टी में मिल गया. कहीं खड़ी फसलें तो कहीं काटकर रखी गई फसलें प्राकृतिक आपदा के भेंट चढ़ गई. प्राकृतिक आपदा के चलते राज्यपाल ने भी तुरंत मदद के आदेश दिये. जिससे प्रशासन सर्वे के काम में जुट गया. सर्वे के बाद जिले में बड़े पैमाने पर फसलों को क्षति होने का जानकारी राज्यसरकार को भेजी गई. मदद का वितरण भी हुआ. किसानों को एग्रिकल्चरल इन्शोरेन्स कंपनी से शत-प्रतिशत बीमा मिलने की भी उम्मीद थी, लेकिन अब तक किसानों के खातों में यह राशि जमा नहीं हुई है.

1.95 लाख किसानों ने निकाला था बीमा - जिले की 14 तहसीलों में 1 लाख 95 हजार 544 किसानों ने 1 लाख 88 हजार 133 हेक्टेयर कृषि क्षेत्र का बीमा निकाला था. जिसमें से 1 लाख 10 हजार 163 किसानों के 1 लाख 14 हजार 100 हेक्टेयर भूक्षेत्र की फसलें बेमौसम की बारिश से तबाह हुई. फसलों की क्षति का जानकारी 72 घंटे के भीतर भेजन की सूचनाएं शासन ने प्रशासन को दी थी.

भेजे  पंचनामे - अतिवृष्टि बाधित किसानों के पंचनामे कर राज्य सरकार की ओर भेजे गये है. जो कि बीमा कंपनियों को हस्तांतरित हुए है. जल्द ही नुकसान भरपाई का अनुदान किसानों के खातों में जमा होगा-विजय चव्हाले, जिला कृषि अधीक्षक

                                        बेमौसम बारिश से हुई क्षति                तहसील किसानों की संख्या बाधित क्षेत्र

अमरावती                                   9092                                               10704

भातकुली                                   16700                                              19918

चांदूर रेलवे                &nbs

          बिहार के पटना में एक लड़के ने शादी से बचने के लिए खुद की हत्या का नाटक रच दिया. उसने मौत का ड्रामा रचते हुए अपनी फोटो को सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. फोटो वायरल होते ही इलाके में सनसनी फैल गई. वहीं पुलिस ने लड़के की चालाकी को बखूबी समझ लिया और चार घंटे के अंदर ही लड़के के ड्रामे का पर्दाफाश कर दिया. बताया जा रहा है कि लड़का शाहजहांपुर के नूरीचक इलाके में अपने परिवार के साथ रहता है. लड़के की मार्च में शादी होनी थी. उसकी शादी के कार्ड भी बंट चुके थे. इस बीच वह गुरुवार को अपने घर से गायब हो गया. इसके बाद लड़के ने सबलपुर इलाके में एक कमरा लिया और अपने दोस्त की मदद से अपनी ही हत्या का ड्रामा रच दिया.

हत्या का फोटो खिंचवाया - पुलिस ने बताया कि लड़के ने जमीन पर लेट कर अपने माथे पर गाढ़ा रंग गिरा लिया. उसने ऐसा नाटक किया कि फोटो देखने से लोगों को लगे कि किसी ने लड़के के सिर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी हो. इसके बाद लड़के के दोस्त ने उसकी फोटो खींची और उसका फोटो वायरल कर दिया. थाना अधिकारी मनीष कुमार ने बताया कि फोटो की सच्चाई का पता लगाते हुए मोबाइल लोकेशन के आधार पर लाश की खोज की गई. चार घंटे के बाद ही लड़के को नदी थाने के सबलपुर इलाके से सकुशल बरामद कर लिया गया. वहीं लड़के ने बताया कि वह 12वीं का छात्र है और अभी पढ़ाई करना चाहता है लेकिन परिजन शादी का दबाव बना रहे थे. इसी कारण उसने यह ड्रामा किया.

मुंबईः  मुंबई के पास वसई पुलिस की हद में. डेढ़ साल पहले पुलिस को एक जंगल में बोरी में बंद एक लाश मिली. बोरी में बंद लाश का पता 6 महीने बाद लगा जब जंगल में कुछ लोगो ने उसे को देखा. लाश पूरी तरह से हड्डियों में तब्दील हो चुकी थी. पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया.
सिर्फ हड्डियों की बिनाह पर पुलिस को इस हत्या की जांच करना और हत्यारे तक पहुंचना बेहद कठिन लग रहा था. पुलिस इस मामले को लगभग भूल चुकी थी लेकिन इस हत्या के डेढ़ साल बाद पुलिस के हाथ एक ऐसा अपराधी लगा जिसने इस हत्या के राज खोल दिये.
दरअसल ठाणे पुलिस ने एक चोरी के मामले में एक चोर को हिरासत में लिया. पुलिस इस आरोपी से पूछताछ कर रही थी लेकिन इसी पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया की उसने सिर्फ चोरी नही की बल्कि डेढ़ साल पहले अपनी पहली पत्नी की हत्या भी की है. लाश को उसने बोरी में भरकर मुंबई अहमदाबाद हाइवे पर वसई के एक जंगल में फेंक दिया था. इस आरोपी ने पुलिस की बताया कि उसने अपनी पत्नी की हत्या गला दबाकर की थी, जिसमें उसका साथ उसकी पहली पत्नी ने दिया था. पुलिस ने जब फाइल निकाली तो पता चला ये वही मामला है जिसमें लाश हड्डियों में तब्दील हो गयी थी.
वैसे पुलिस के साथ ऐसा कम ही होता है जब वो किसी एक मामले की जांच कर रही हो और दूसरा मामला भी सुलझ जाये. फिलहाल अदालत ने इस आरोपी को 6 जनवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है और पुलिस आगे की जांच कर रही है.

अमरावती- नववर्ष  पर ज्यादातर लोग कोई न कोई प्रण लेते हैं| नया साल आते ही हम जीवन में कुछ सकारात्मक परिवर्तन लाने के बारे में सोचने लगते हैं| कई लोग किसी बुरी आदत को छोड़ने का  संकल्प  लेते हैं तो कुछ किसी अच्छी आदत को आगे भी जारी रखने का निश्चय करते हैं| इसी क्रम में जिले की राजनीति में सक्रिय अधिकांश एमएलए भी नववर्ष में नव संकल्प में अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास के साथ ही लंबित प्रकल्पों को पूरा करने और कुछ हटके काम करने की चाहत रखते है|

सर्वांगीण विकास ही मुख्य लक्ष्य
जिले का सर्वांगीण विकास ही मुख्य लक्ष्य है| लंबित प्रकल्पों को भी पूरा करने विशेष जोर रहेगा| खासकर किसानों को उन्नत बनाने सिंचाई प्रकल्पों को जल्द से जल्द पूरा कर सुजलाम-सुफलाम का सपना साकार करने कोई कसर बाकी नहीं रखुंगी| उद्योग, कल-कारखानों का रिव्यू लेकर बेरोजगारी के संकट को पाटने का भी प्रयास होगा| विकास के मामले में असामनता दूर करना है-एड|यशोमति ठाकुर, कैबिनेट मंत्री

संतरा प्रक्रिया प्रकल्प होगा साकार
पिछले 10 वर्षों से इस निर्वाचन क्षेत्र से जो कार्य अधूरे है उन्हें पूरा करना मेंरी प्राथमिकता होगी| इसके साथ ही संतरा उत्पादन का केंद्रबिंदू यह क्षेत्र होने के कारण यहां पर सरकारी संतरा प्रक्रिया केंद्र शुरु करने के लिए मैं विशेष कार्य करुंगा| मुख्यमंत्री उद्ध्व ठाकरे ने अपने पहले अभिभाषण में ही यहां के संतरा प्रक्रिया केंद्र का वादा किया | इसे पूरा करनेा का मेरा संकल्प है|

सर्वांगीण ही सर्वोपरि
मेरे लिए हर नया दिन और अधिक काम करने के संकल्प के साथ आता है| नया वर्ष मुझे अपने जिले की जनता के लिए और ताकत से काम करने के लिए संकल्पबध्द करता है| अब तक जिले के विकास के पहिए थमें हुए थे| अब इस विकास को गति देने के लिए अपनी पूरी ताकत मैं झोंक दूंगी| जिले के औद्योगिक विकास व महिलाओं के लिए रोजागर के अवसरों का सृजन करने का प्रयास आरंभ हो चुका है| नए वर्ष में इसका परिणाम दिखाई देगा| सकल कृषि उपज सरकार खरीदी करें इसके लिए सदन में मैं बार बार मुद्दा उठा रही हुं-नवनीत राणा, सांसद

शिक्षा का स्तर उंचा करुंगा
मेलघाट का भवष्यि नौनिहालों के हाथ में है| यहां पर शिक्षा व्यवस्था चुस्त करने क

गड़चिरोली- साल भर में जिला पुलिस दल व्दारा चलाया जा रहे कार्रवाई से नक्सल मुहिम को बड़ा झटका लगा है| इसमें आत्मसमर्पित योजना व्दारा नक्सलियों का पुनर्वसन किए जाने से कई नक्सलियों का आत्मसमर्पण की और रूझान बढ़ रहा है| इस दौरान 27 लाख रु. का पुरस्कार घोषित किए 5 खुंखार नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है| इसमें 2 पुरुष व 3 महिला नक्सलियों का समावेश है|आत्मसमर्पित नक्सलियों के नाम अजय ऊर्फ मनेसिंह फागुराम कुलयामी, सुनील ऊर्फ फुलसिंह सुजान होली (38), राजो ऊर्फ गंगा उर्फ शशिकला सोमजी तुलावी (26), सपना ऊर्फ रूखमा दोनू वड्डे (27), गुन्नी ऊर्फ बेहरी ऊर्फ वसंती मनकेर मडावी (31) है|

सभी पर थे 5-5 लाख से अधिक इनाम

अजय ऊर्फ मनेसिंह फागुराम कुलयामी अप्रैल 2007 में टिपागड दलम का सदस्य पद दाखिल हुआ | जुलाई 2016 से अभी तक वो प्लॉटून क्र. 3 उपकमांडर पद पर कार्यरत था| उस पर मुठभेड़ के 19 अपराध, जलाने के 5 अपराध दाखिल होकर शासन ने उस पर कुल 5 लाख 50 हजार रु. का इनाम घोषित किया था| सुनील ऊर्फ फुलसिंह सुजान होली यह जुलाई 2008 में टिपागड दलम में सदस्य पद पर दाखिल हुआ| फरवरी 2013 से अब तक वह कंपनी क्रं. 10 के सदस्यपद पर कार्यरत था| उसपर मुठभेड़ के 12 अपराध, खून के 4, जलाने के 3, अपहरण के 2 मामला दर्ज है| उस पर 5 लाख 75 हजार रु. का इनाम घोषित किया था| राजो उर्फ गंगा उर्फ शशिकला सोमाजी तुलावी सत्र 2008 में टिपागड दलम में सदस्य के रूप में दाखिल हुई| जुलाई 2015 से अब तक प्लॉटून क्रं. 3 में सदस्य पद पर कार्यरत थी| उस पर मुठभेड़ के 8, खून के 2 व जलाने के 2 अपराध दर्ज है| उसपर शासन ने कुल 5 लाख के इनाम घोषित किए गए थे| सपना ऊर्फ रूखमा दोनू वड्डे जहाल नक्सली अक्टूबर 2006 में चातगाव दलम के सदस्य पद पर भर्ती हुई|

दिसंबर 2011 तक धानोरा दमल में कार्यरत रहकर उसके बाद जनवरी 2012 से वह आज तक प्लॉटून क्रं. 15 में सदस्य पद पर कार्यरत थी| उस पर मुठभेड के 12 अपराध, खून के 4, जालपोल के 4 अपराध दर्ज होकर सरकार ने 5 लाख का ईनाम घोषित किया था| गुन्नी ऊर्फ बेहरी ऊर्फ वसंती मनकेर मडावी दिसंबर 2007 में टिपागड दलम में दखिल हुई| 2013 में टिपागड दलम के पीपीसीएम पद पर बढ़ती मिलकर 2015 से आज तक कंपनी क्रं. 10 के सदस्य पद पर कार्यरत थी| उसपर मुठभेड के 2 अपराध दर्ज होकर सरकार ने 5 लाख 75 लाख रु. का इनाम घोषित किया गया था|विक

भंडारा आज तक हमने सरकारी कर्मचारी की रिटायरमेंट पार्टी देखी है ,लेकिन किसान की रिटायरमेंट पार्टी हुई ऐसा पहली बार सुना होंगा। यह बात  भंडारा जिले के मोहड़ी तहसील अंतर्गत मोहगांव देवी गांव की  है। 80 साल के किसान गजानन काले के लिए  उनके बेटो ने खुद सेवानिवृत्त पार्टी का आयोजन अपने ही खेत में किया । उनके साथ 10 किसानों को भी सम्मानित किया और उन्हें बैलगाड़ी पर बिठाकर पुरे गांव में  जुलूस भी  निकाला।

मोहाडी तहसील के मोहगांव देवी में गजानन काले का संयुक्त परिवार रहता  है  जिसमें छोटे-बड़े 19 सदस्य हैं। गजानन के हिस्से में 25 एकड़ खेती है। भाई की उम्र ज्यादा हो गई थी, इसलिए हमने उन्हें खेती के काम से मुक्त करने के लिए यह फैसला लिया। किसान गजानन काले करीब 60 वर्षो से खेत काम कर रहे है ।उन्होंने अपने जीवन में कई उतार-चढाव देखे लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। और कड़ी मेहनत कर अपने परिवार और किसानो के सामने आदर्श बनाया ।किसान गजानन का खेत  के प्रति इतना प्रेम ,लगन  और 60  साल उन्हें कड़ी मेहनत  करता देख परिवार के सदस्यों को उन्हें सेवानिवृत्त करने की कल्पना सूचि ।सरकारी कर्मचारी अपने नौकरी के प्रति ईमानदार रहकर अपनी सेवा देता है ।और उन्हें उम्र के 60  वर्ष पुरे होने पर मन-सम्मान के साथ विदाई दी जाती है ।और ऐसाही गजानन के परिवार ने उनके लिया किया।बाजे-गाजे के साथ उनका सम्मान कर उन्हें खेती के काम से विदाई दी ।

किसान गजानन काले का कहना है की मैंने अपना पूरा जीवन खेत  में काम करते हुए बिताया  है ।अब भी मुझे अपने मिटटी से दूर जाने की बिलकुल इच्छा नहीं है ,लेकिन एकओर अब खेत की जिम्मेदारी बेटे संभालेंग

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा में किसानों का 30 सितंबर 2019  तक 2 लाख तक का कर्जा माफ करने की घोषणा की| उन्होंने कहा कि पैसा सीधे किसानों के बैंक खाते में भेजे जाएंगे| उद्धव ठाकरे ने कहा, "मेरी सरकार 30 सितंबर 2019 तक का बकाया फसल ऋण माफ करेगी| कर्जमाफी की अधिकतम सीमा दो लाख रुपये होगी| इसे महात्मा ज्योतिबा फुले कर्जमाफी योजना के नाम से जाना जाएगा|" समय पर कर्ज का भुगतान करने वाले किसानों के लिए एक विशेष योजना लाई जाएगी| महाराष्ट्र के वित्तमंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि कर्ज माफी शर्तरहित होगी और इसका विवरण भविष्य में मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी किया जाएगा| उन्होंने यह भी कहा कि शिवसेना नीत सरकार किसानों को बेमौसम बरसात के कारण हुए नुकसान की भरपाई के लिए प्रति हेक्टेयर पच्चीस हजार रुपए की सहायता देने में विफल रही है| उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनने से पहले खुद इसकी मांग की थी| 

ब्रम्हपुरी तहसील के तहत आनेवाले कोल्हारी के वैनगंगा विद्यालय मे निम्नस्तर का माधान्ह पोषण आहार मिला। जिसे देख बच्चो के स्वास्थ से सतर्क हेड मास्टर धनंजय दाते इन्होने यह पोषण आहार वापस भेज दिया। सरकार से माध्यान्ह भोजन मे चावल, दाल, मुंगदाल ऐसी चिजे मिलती हैै। ऐसे ही वैनगंगा स्कुल मे दो दिन पहले 255 किग्रॅ चावल के 5 कट्टे भेेजे गये। हेडमास्टर दाते इन्होने इन कट्टो को चे किया तो उसमे चावल का दर्जा निम्नस्तर का दिखा। जिसमे इल्लीया और जाले लगे हुये थै। जिसके बाद उन्होने बीओ पोषण आहर अधिक्षक गट शिक्षणाधिकारी और मुख्य पोषण आहार अधिक्षक चंद्रपूर इन्ह पत्र व्यवहार कर इस बात की जाणकारी दी । साथ रिसिप्ट पर पोषण आहार वापस भेजने का जिक्र करते हुये, पुरा चावल वापस भेज दिया। यह पोषण आहार खाणे योग्य नही था।इस घटना मे एक बात सामने आयी। की यह पोषण आहार स्कुलो मे भेजने के पहले शालेय पोषण आहार अधिक्षक से जाचा जाता है। उसकी बाद ही स्कुलो मे भेजा जाता है। पर इसे जांच करने के बाद भी भेजा गया। जिससे शक की सुई सामने आती है। खास बात ये भी है की जो तालुका अधिक्षक है उस व्यक्ती को चार जगह अलग अलग पोस्ट पर पोस्टींग है । प्रमोद नाट नामक यह शक्स नागभीड और ब्रम्हपुरी पर दो दो जगह पर पोस्ट पर है। उस वजह एक इंसान कहा काह ध्यान देगा । साथ इस शक्स से बात करे तो अरेराव पर उतर आता है। ऐसे मे स्कुलो को सुनने वाला ना होतो इस तरह से प्राॅब्लम्स भी सामने आते है।

        बुधवार को दिनदहाड़े हुई इस घटना में छात्रा बुरी तरह से झुलस गई। आसपास के लोगों ने उसे तुरंत नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालत गंभीर होने पर उसे नागपुर रेफर किया गया। डॉक्टरों के मुताबिक, छात्रा 18% झुलसी है। उसके चेहरे और छाती पर गंभीर जख्म हैं। 21 साल की छात्रा नागपुर के इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ती है। दो दिन की छुट्टी पर नागपुर से अपने घर गोंदिया आई हुई थी। बुधवार को उसे विदर्भ एक्सप्रेस से नागपुर वापस जाना था।

      नागपुर लौटने से पहले वह किसी काम से गुडीपाड इलाके में गई थी। वहां पहुंचने पर जैसे ही छात्रा बस से उतरी हेलमेट और जैकेट पहने दो युवक बाइक से आए और उसके चेहरे पर ऐसिड फेंककर भाग गए। पुलिस ने बताया कि आरोपियों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। लेकिन, शंका है कि वे गोंदिया के ही रहने वाले हैं।

अहेरी उपविभाग के आदिवासी बहुल क्षेत्न में प्रशासकीय विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम लोगों की सेवा के लिए पहुंच रही है| फिर भी इस क्षेत्न के अशिक्षति आदिवासी लोगों के मन से अंधश्रद्धा नहीं जा रही है| ऐसे ही एक घटना में डाक्टर के बजाय नवजात बालक पर पुजारी ने उपचार करने से उसकी जान चली गई| जन्म लेते ही पीलिया हुए उस बालक को माता-पिता डाक्टर के पास नहीं ले गए| पुजारी द्वारा शुरू उपचार के भरोसे रहने से 16 दिन के बालक की मौत हो गई| घटना एटापल्ली टोला में सामने आई| शहर से महज 1 किमी दूर है क्षेत्न एटापल्ली शहर से महज 1 किमी दूर स्थित टोला में 50 से 60 मकानों की बस्ती है| यहां निवासी सुनील पुंगाटी की पत्नी की प्रसूति एटापल्ली के ग्रामीण अस्पताल में हुई| इस समय लड़के का जन्म हुआ| जन्म लेते ही नवजात बच्चे को पीलिया के लक्षण दिखाई देने से डाक्टर ने अहेरी के उपजिला अस्पताल में इलाज करने की सलाह दी| किंतु परजिनों ने उक्त बालक पर अस्पताल में उपचार नहीं करते हुए खुद के घर में पुजारी द्वारा उपचार शुरू किया| इस दौरान मंगलवार को तोड़सा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की परिचारिका उक्त बालक के घर पर टीकाकरण के लिए जाने से बालक की तबीयत ठीक नहीं होने का ध्यान में आया| उपचार के बारे में स्वास्थ्य कर्मचारियों ने पूछताछ करने पर पुजारियों द्वारा बालक पर उपचार शुरू होने की जानकारी मिली| समझाने का किया प्रयास पुंगाटी परिवार के लोगों को समझाकर बालक को अस्पताल में भर्ती करने की सलाह दी थी| किंतु परजिनों ने बालक को अस्पताल में ले जाने से इनकार कर दिया| उसके बाद यह जानकारी तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डा. राजेश वाहने को दी. डा. वाहने ने पुंगाटी के घर जाकर परिवारजनों को समझाया| शुरु आत में बालक को अस्पताल ले जाने से परिवारवालों ने इनकार किया| किंतु डा. वाहने ने इस बालक को मंगलवार को दोपहर 12.30 बजे ग्रामीण अस्पताल में भर्ती किया| उपचार के दौरान शाम करीब 4.10 बजे बालक की मृत्यु हो गई. पुंगाटी के इस बालक को पीलिया व अन्य बीमारियां होने की जानकारी दी| इसलिए उक्त बालक को उपचार के लिए अहेरी लाया गया| किंतु परिवारवाले अहेरी ले जाने को तैयार नहीं होकर उन्होंने ऐसा लिखकर भी दिया है| यह जानकारी ग्रामीण अस्पताल के वैद्यकीय अधीक्षक डा. नटवरलाल शृंगारे ने दी| अस्पताल ला

राज्य मे विधानसभा चुनाव के बाद जिस तेजी से सत्ता समीकरण बदले, राष्ट्रपती शासन का दौर भी राज्य मे चला। जिसके बाद गुरुवार को महाविकास आघाडी की सरकार राज्य को मीली है। एनसीपी कांग्रेस और शिवसेना मिलकर यह गठबंधन हुआ है। इस विधानसभा चुनाव में नया समीकरण पूरे देश को देखने मिला है।मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने गुरुवार को शपथ विधी हुआ। जिसके बाद शुक्रवार ठाकरे ने पदभार संभालते ही फडणवीस सरकार के एक बडे फैसले पर रोक लगा दी है। साथ ही किसानों को राहत मिले ऐसा फैसला करना है। जिससे किसानों को मदत हो। महाविकास आघाडी को शनीवार को विश्वासमत हासील कर लीया है। शिवसेना एन सी पी और कांगे्रस गठबंधन के पक्ष में 169 विधायकों ने मतदान किया है। विश्वासमत के विरोध मे एक भी मत नही गया है। अब 1 दिसंबर मतलब रविवार को विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा और 3 दिसंबर या 4 दिसंबर को मंत्रीमंडल का विस्तार होगा। जिसमें महाआघाडी के मंत्री शपथ लेंगे जिसमें विदर्भ से नितीन राउत को मंत्री पद मिलने वाला है। साथ विदर्भ के नाना पटोले, का नाम विधानसभा अध्यक्षपद के लियेे निश्चित कीया गया है। बता दे कि भाजप सरकार के मंत्री मंडल में विदर्भ से मंत्री थे। जिसमें मुख्यमंत्री ही नागपूर से थे तो राज्य के उर्जामंत्री भी नागपूर थे। साथ ही अर्थमंत्री मुनगंटीवार भी चंद्रपूर से थे। इसका मतलब विदर्भ कि समस्याओं से यह काफी नजदीक से वाकीफ थे। जिस कारण विदर्भ की समस्याये दुर करने पर कार्य कीया गया। लेकीन महा वीकास आघाडी मे पश्चिम महाराष्ट्र से मंत्री चुन गए है। तो विदर्भ से कॅबीनेट में नितीन राउत होंगे । तो इससे पहले भी विदर्भ को अपने हक्क के लीये लढना पडा था। तो क्या आगे भी विदर्भ के जनता को लढाई जारी रखनी पडेंगी या नही यह तो अब आघाडी के आनेवाले दीनो मे ही पता चलेगा।

नागपूर मे शनिवार को एक रंगारंग कार्यक्रम के दौरान रिओ स्ट्राॅंग एक्स्ट्रा ड्राय इस वाइन का लाॅंच किया गया। इस सफेद वाईन मे सिर्फ 15 परसेंट मद का प्रमाण होने की वजह से ये वाइन ताजगी दायक पेय होने का दावा कंपनी की ओर से व्यवस्थापकीय संचालक आश्विन रोड्रिग इन्होने किया गया है। साथही रिओ स्ट्राॅंग की ओर से बुलेट लकी रोड्रिग के विजेताओ को पुरस्कार वितरीत कर उन्हे सम्मानित किया गया। नागपूर के सुशील धनोरकर इस लकी ड्रॉ के विजेता रहे, उन्हे राॅयल एनफिल्ड बुलेट पुरस्कार मे दि गई। तो वही अन्य विजेताओको टिव्ही, मोबाईल फोन देकर गुड ड्रॉप वाईन की ओर से सम्मानीत किया गया।

नागपूर मे शनिवार को एक रंगारंग कार्यक्रम के दौरान रिओ स्ट्राॅंग एक्स्ट्रा ड्राय इस वाइन का लाॅंच किया गया। इस सफेद वाईन मे सिर्फ 15 परसेंट मद का प्रमाण होने की वजह से ये वाइन ताजगी दायक पेय होने का दावा कंपनी की ओर से व्यवस्थापकीय संचालक आश्विन रोड्रिग इन्होने किया गया है। साथही रिओ स्ट्राॅंग की ओर से बुलेट लकी रोड्रिग के विजेताओ को पुरस्कार वितरीत कर उन्हे सम्मानित किया गया। नागपूर के सुशील धनोरकर इस लकी ड्रॉ के विजेता रहे, उन्हे राॅयल एनफिल्ड बुलेट पुरस्कार मे दि गई। तो वही अन्य विजेताओको टिव्ही, मोबाईल फोन देकर गुड ड्रॉप वाईन की ओर से सम्मानीत किया गया।

Recent Posts