loader

Maharastra News

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पूरी दुनिया में वेंटिलेटर की मांग में जोरदार वृद्धि देखने को मिल रही है. ऐसे में देश में भी कोरोना के बढ़ते मामले के बीच सरकार वेंटिलेटर को लेकर एक्शन मोड पर आ गई है. सरकार की तरफ से सरकारी अधिकारियों, बड़े कॉरपोरेट घराने और वेंटिलेटर प्रोडूसर का एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है. समय-समय पर वीडियो कांफ्रेंस भी की जा रही है जिसमें केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल एस जयशंकर भी मौजूद रहते हैं जहां वेंटिलेटर के मेगा प्रोडक्शन को लेकर प्लानिंग पर बात की जा रही है.

मुंबई का एवीआई हेल्थ केयर जो वेंटिलेटर बनाने का काम करता है पिछले कई दिनों से इनका काम ठप चल रहा था. कंपनी के मालिक चिराग लगातार सरकार से परमिशन के लिए बात कर रहे थे अब सरकार की ओर से उन्हें परमिशन भी दी गई है और यह भी शेयर किया गया है कि उनकी जरूरत का सारा सामान उनको उपलब्ध कराया जाएगा उनके कर्मचारियों की मदद की जाएगी और उन्हें हर तरह से मदद की जाएगी.  मंगलवार से प्रोडक्शन शुरू करने की तैयारी भी है.

देश में वेंटीलेटर प्रोडक्शन का ज्यादातर काम असेम्बलिंग का होता है जिसके लिए विदेशो से रॉ मैटेरियल इंपोर्ट किया जाता है. ऐसे में जब इंपोर्ट एक्सपोर्ट बंद है उत्पादन बहुत चैलेंजिंग हो जाता है.प्रशासन की तरफ से वेंटिलेटर प्रोड्यूसर को आश्वस्त किया गया है की उन्हें जो जरूरत होगी सरकार उसे पूरा करेगी. मशीन बनाने के लिए जो सहयोगी प्रोडक्शन की कम्पनी होगी उन्हें भी खोला जाएगा. आईआईटी और तकनीकी संस्थानों में हो रहे रिसर्च और भारतीय तकनीकी विकास करने को लेकर बातें की जा रही है.

 देश में सबसे ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले महाराष्ट्र में है. अबतक कुल 537 मामले सामने आए हैं जिनमें से अधिकांश मामले 306 मुंबई के है लिहाजा कोरोना संक्रमण का ख़तरा मुंबई शहर पर सबसे ज़्यादा है. ऐसी स्थिती में लोगों के ज़्यादा से ज़्यादा टेस्ट और इलाज के लिए बीएमसी ने शनिवार से कोरोना टेस्टिंग क्लिनिक शुरु करने का निर्णय लिया है.

आज से मुंबई नगर निगम में 10 जगहों पर कोरोना टेस्टिंग क्लिनिक की शुरुआत की गई है. क्लिनिक मुख्य रूप से घनी आबादी वाले क्षेत्र में शुरू किए गए हैं. बीएमसी द्वारा दी गई सूचना के मुताबिक़ ये कोरोना टेस्टिंग क्लिनिक सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक यानि चार घंटों के लिए खुले रहेंगे.

क्लिनिक में एक टीम होगी जिसमें एक डॉक्टर और एक नर्स शामिल होंगे. सुबह 9बजे से दोपहर 1 बजे तक चार घंटे की अवधि के दौरान, अस्पतालों में संदिग्ध 'स्वैब' के नमूने भी लिए जाएंगे. इन नमूनों को आवश्यक चिकित्सा जांच के लिए मेडिकल लैब भेजा जाएगा.

चिकित्सा प्रयोगशाला में इन क्लिनिकों में लिए गए 'स्वैब' के नमूने भेजने के लिए आवश्यक परिवहन व्यवस्था, साथ ही स्टाफ की योजना बनाने के लिए विभागीय स्तर और सहायक आयुक्त के स्तर पर निर्देश दिए गए हैं.

ये क्लिनिक ज़्यादातर उन परिसरों में रहेंगे जहां कोरोना पॉज़िटिव मामले ज़्यादा है या जहां संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा है. वर्ली, धारावी, गोवंडी, शिवाजी नगर, भिंडी बाज़ार जैसे इलाक़ों में ये क्लिनिक खोले गए हैं.

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने मरकज में शरीक हुए लोगों पर एक विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि मरकज में शामिल हुए लोग जो प्रशासन की बात नहीं सुन रहे हैं और कोरोना फैलने की वजह बन रहे हैं ऐसे लोगों को गोली मार देने चाहिए.

पत्रकारों से बात करते हुए राज ठाकरे ने कहा, ''मरकज में गए लोगों का वजह से देश में कोरोना का ख़तरा बढ़ा है.कोरोना का संक्रमण करने की कोशिश करने वाले ऐसे लोगों को गोली मार देनी चाहिए. इन्हें ट्रीटमेंट नहीं देना चाहिए. अगर ऐसी स्थिती में भी इन लोगों को देश से ज़्यादा धर्म प्यारा है को इन लोगों को किसी तरह की सुविधा नहीं देनी चाहिए.''

राज ठाकरे ने कहा कि ‘इनमें से कुछ लोग अस्पतालों में अश्लील हरकतें कर रहे हैं, पुलिस प्रशासन के अधिकारी कर्मचारियों पर थूक रहे है. इन लोगों को सड़क पर लाकर मारना चाहिए और वो वीडियो वायरल करने चाहिए तभी इन लोगों का दिमाग़ ठिकाने पर आएगा. इन सभी लोगों को किसी अलग जगह पर सबसे दूर रखना चाहिए और इन्हें किसी तरह का इलाज या सुविधा नहीं देनी चाहिए तभी उनको समझ में आएगा.''

*   धारावी में रहने वाला डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव

*   मुंबई में अब तक कोरोना के 238 मामले

एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में भी कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं. अब एक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव निकला है. फिलहाल, उसकी बिल्डिंग में मौजूद लोगों को क्वारनटीन किया जा रहा है. साथ ही संपर्क में आए लोगों की तलाश शुरू हो गई है. मुंबई में बीते 24 घंटे में कोरोना के 4 मरीजों की मौत हो चुकी है, जबकि 57 नए केस पॉजिटिव मिले हैं.

अधिकारियों के मुताबिक, मुंबई सेंट्रल के एक हॉस्पिटल में काम करने वाले सर्जन ने खुद बीएमसी को अपने कोरोना संक्रमण की खबर दी. इसके बाद उसके सैंपल की जांच की गई, जिसमें वह पॉजिटिव मिला है. अब उसके सैंपल की जांच सरकारी अस्पताल में होगी. डॉक्टर की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है. माना जा रहा है कि वह किसी कोरोना संक्रमित के संपर्क में आया था.

*  राज्य में CM सहित कर्मचारियों के सैलरी में होगी कटौती

*  देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2500 के पार पहुंची

कोरोना का संकट देश में गहराता जा रहा है. कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. इनका आंकड़ा 2500 के पार पहुंच चुका है, जबकि 69 लोगों की मौत हो चुकी है. इस महामारी के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से सामने आए हैं. यहां 335 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि 16 लोगों की अब तक जान गई है.

आर्थिक राजधानी मुंबई के लिए चिंता का विषय ये है कि एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं. अब एक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव निकला है. फिलहाल, उसकी बिल्डिंग में मौजूद लोगों को क्वारनटीन किया जा रहा है. साथ ही संपर्क में आए लोगों की तलाश शुरू हो गई है. इससे पहले यहां एक कोरोना संक्रमित शख्स की मौत हो चुकी है.

 

मुझे मैरे मम्मी के तरफ जाना, है यह गुहार लगता हुवा है लेकीन प्रशासन इस और आँख मिचोली करते देख राहा है देखने मै आ रहा है. यह व्यथा है शाहेन अलि इस बाल की बालकने गये तिन दिनसे अन्न का एक दाना भी नहि खाया है| देश मै लॉकडाउन घोषना होत हि सारे देश मै हाहाकार मज गया. दुसरे राज्य मै कामके लीये, शिक्षा के लिये व्यापार लिये गये लोग विदेश के साथ अन्य राज्य मै लटक हुय है. अपने घर लिये जाने लिये निकले. तब पोलिस व प्रशासन के कडी सुरक्षा चलते यह लोग जगाह जगाह लटक गये
      परसु 30 मार्च के दिन पोलिस लोगो द्वारा हिंगणघाट मै भी ट्रक से अवैध प्रवास पलायन करने वाले नागरीको स्थानबध्द किया गया. ईन नागरीको की शहर के संत तुकडोजी वार्ड के कमला नेहरु स्कुल मै निवास कि व्यवस्था किई गई
   इसमे एक तिरुपती से अपने स्वगृही उत्तर प्रदेश के आग्रा के पास के केराना याहा के कपडे का व्यापार करणे वाले सदगृहस्थ अपने छोटे भाई और छोटे लडके  के साथ लटके  हुये है
 उनकी पत्नी और तेरा वर्षीय लडकी उपने रहवासी गांव मै अपने पत्ती के राह मै आॅखे लगाके है. घरका कर्ता आदमी किस तराहा फैसा है यह उस माऊलि चिंता लगी है, लडके के विरहस से उसकी प्रकृती बिघडी हुई है, लडका बार बार बोल रहा है मुझे मम्मी के तरफ जाना है और आॅखो से पाणि निकाल राहा है. वो जब से याहा उदास है मम्मी के दुरी के वजह से उसने खानापिना छोड दिया है. उसके पिता ने प्रयत्न करणे के बाद भी बालक खाना नहि खाना रहा है
   वाहा पे कर्तव्य जो कर्मचारी है उनको भी इस बालक कि दया आती है तब जल्दि तुझे जल्दिसे अपने गांव भेज दिया जायेगा इस प्रकार छुटी समज निकाली जाती है तब यह परीवार बार बार प्रशासन गुहार लगा राहा है लेकीन उनको कुछ नहि हो रहा है

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीग जमात के मरकज के मामले की तरह ही महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में भी ऐसी ही घटना सामने आई है. जिले के नेवासा पुलिस थाने में दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

मरकज मस्जिद के ट्रस्ट के लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. विदेश से आए 10 लोगों को मस्जिद में छुपाकर रखने को लेकर मामला दर्ज किया गया है. केस सेक्शन 188 के तहत दर्ज किया गया है. पुलिस ने सभी 10 लोगों को हिरासत में लेकर सिविल अस्पताल में भर्ती किया है. सभी का कोरोना का टेस्ट किया जाएगा. इसके अलावा तबलीगी जमात के मरकज से उनका कोई संबंध था क्या, इसकी भी जांच चल रही है.

पुणे : पिंपरी चिंचवड परिसरातील कोरोना रुग्णांचा संख्येत घट (Pimpri Corona patients decreased) होताना दिसत आहे. पिंपरी चिंचवड परिसरात 11 मार्चपासून तब्बल 12 रुग्ण कोरोना पॉझिटिव्ह आढळले (Pimpri Corona patients decreased) होते. गेल्या चार ते पाच दिवसांमध्ये 12 रुग्णांपैकी 9 रुग्णांवर यशस्वीरित्या उपचार करून, त्यांना रुग्णालयातून डिस्चार्ज देण्यात आला आहे. त्यामुळे आता फक्त 3 रुग्ण हे पिंपरी चिंचवडमधील महापालिका रुग्णालयात उपचार घेत आहेत.

एकीकडे राज्यभरात कोरोनाबाधितांचा आकडा वाढत असताना, पिंपरी चिंचवडसाठी काहीसा दिलासा मिळत आहे.  महत्त्वाचं म्हणजे मागच्या 9 दिवसात पिंपरी-चिंचवडमध्ये एकही कोरोना रुग्ण आढळलेला नाही. पिंपरी-चिंचवडमध्ये किराणामालाच्या दुकानांबाहेर गर्दीचे प्रमाण काही प्रमाणात कमी झाले आहे. मात्र पिंपरीच्या रस्त्यांवर अद्यापही तुरळक नागरिक दिसत आहेत.

पोलिसांची कडक कारवाई सुरुच -  दरम्यान पिंपरी चिंचवड पोलिसांची रस्त्यावर फिरणाऱ्यांवर कडक कारवाई सुरूच आहे. पिंपरी चिंचवड महापालिकेकडून कोरोनाच्या पार्श्वभूमीवर नागरिकांमध्ये आरोग्य तपासणी सर्व्हेचे काम सुरू आहे.पिंपरी-चिंचवड शहरातील कोरोनाचा प्रादुर्भाव रोखण्यासाठी आरोग्य विभाग आणि अग्निशामक विभाग यांच्या संयुक्त विद्यमाने विशेष मोहीम सुरू केली आहे. ग्निशमन विभागाच्या वाहनाद्वारे पिंपरी चिंचवडमधील परिसरामध्ये रात्रीच्या वेळी औषधाची फवारणी करण्याचं काम सुरू आहे.

अहमदनगर : जिल्ह्यातील संगमनेर तालुक्यात तब्बल 15 नागरिक कोरोना विषाणूचा संसर्ग झालेल्या रुग्णाच्या संपर्कात आल्याने एकच खळबळ माजली आहे (Corona Suspects in Sangamner Ahmednagar). ही बाब समोर येताच आरोग्य यंत्रणेने तात्काळ या 15 संशयित रुग्णांना अहमदनगरच्या जिल्हा रुग्णालयात दाखल करण्यात आलं आहे. या सर्वांना सध्या विलगीकरण कक्षात ठेवण्यात आले आहे.

संगमनेर शहरातील 15 जण कोरोनाबाधित रुग्णांच्या संपर्कात आल्याचं स्पष्ट झाल्यानंतर त्यांच्या कुटुंबियांनाही क्वारंटाईन करण्यात आलं आहे. एकाच वेळी 15 जण कोरोना संशयित आढळल्याने शहरात खळबळ उडाली आहे. संशयित ज्या परिसरात राहतात तो आजूबाजूचा परिसर सील करण्यात आला आहे.

अहमदनगर जिल्हयातील मुकूंदनगर परिसरात दोन कोरोना रुग्ण सापडले. त्यांची चौकशी केली असता ते जामखेड येथे एका कार्यक्रमात गेल्याचं त्यांनी सांगितलं. तेथे त्यांच्यासोबत संगमनेरमधील इतर 15 जण असल्याचंही समोर आलं. हे सर्व जामखेडमध्ये 10 दिवस मुक्कामी होते. ही माहिती मिळताच आरोग्य यंत्रणेने तातडीने या 15 जणांचा शोध घेतला. या 15 पैकी एकाची प्रकृती गंभीर असल्याचंही सांगितलं जात आहे. संबंधित 15 कोरोना संशयित रुग्णांना जिल्हा रूग्णालयात हलवण्यात आलं आहे. या घटनेनंतर अहमदनगरमध्ये कोरोना संशयितांच्या संख्येत कमालीची वाढ झाली आहे.

सातारा : कोरोना विषाणूंचा प्रादुर्भाव टाळण्यासाठी 21 दिवसांकरिता लॉकडाऊनची (Corona Lockdown Satara Kandi Pede) घोषणा करण्यात आली आहे. देशभरात संचारबंदी लागू केल्यानंतर त्या ठिकाणी घरात थांबून राहावे असे आवाहन पंतप्रधान मोदी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे यांनी केले आहे. अचानक घोषित झालेल्या लॉकडाऊनमुळे मात्र साताऱ्याच्या प्रसिद्ध अशा कंदी पेढे व्यावसायिकांना याचा मोठा फटका बसला आहे.

सातारा शहरातील प्रसिद्ध मोदी, लाटकर, जेपी हे पेढे फार (Corona Lockdown Satara Kandi Pede) प्रसिद्ध आहे. या पेढ्याची मागणी देशभरात आहे. आठवडाभर सुस्थितीत राहणार पेढा मात्र आता बाहेर फेकून देण्याची वेळ व्यापाऱ्यांवर आली आहे. तर शिल्लक राहिलेले सर्व पेढे व्यावसायिकांनी भटक्या कुत्र्यांना आणि माशांना खायला घालायला सुरुवात केली आहे. या ठिकाणी 50 हजारांहून अधिक व्यावसायिकांनी आर्थिक फटका सहन करावा लागला आहे.

कोरोना विषाणू प्रादुर्भाव टाळण्यासाठी देशभरात 21 दिवसांचा लॉकडाऊन पाळला जात आहे. यामुळे अनेक पर्यटन स्थळी लोकांनी पाठ फिरवली आहे. त्यामुळे याचा फटका सर्व व्यापाऱ्यांना बसत आहे.

 एपीएमसी प्रशासनाकडून रोज नवनवीन उपयोजना करून सुद्धा एपीएमसी बाजारात गर्दीमूळे सोशल डिस्टन्सिंग ठेवणे (APMC market may shift kharghar due to rush)  कठीण झाले आहे. ही गर्दी कमी करण्यासाठी एपीएमसी प्रशासनाने बाजार विस्तार करण्याचे ठरवले आहे. तसेच बाजारात किरकोळ खरेदीदांना आत सोडण्यावर बंदी घालण्यात आली आहे. बाजारातील गर्दी कमी झाली नाही तर संपूर्ण बाजार खारघर येथे हलवण्यात येईल, असा निर्णय कोकण विभागीय आयुक्त शिवाजी दौंड, बाजार समिती सचिव अनिल चव्हाण आणि इतर अधिकाऱ्यांसोब झालेल्या बैठकीत घेण्यात (APMC market may shift kharghar due to rush) आला.

दिवसेंदिवस राज्यातील कोरोनाबाधितांच्या संख्येत वाढ होत आहे. ही वाढ लक्षात घेता राज्यात लॉकडाऊन आणि संचारबंदी करण्यात आली आहे. याच पार्श्वभूमीवर गर्दीची ठिकाणंही बंद करण्यात आली आहे. या लॉकडाऊनमध्ये शहरातील काही बड्या बाजारपेठा मात्र सुरु ठेवण्यात आल्या आहेत. पण या बाजारपेठेतील गर्दी सध्या धोकादायक ठरत आहे. ही गर्दी कमी झाली नाही, तर हा भाजीपाला आणि फळ बाजार वाशी येथून खारघर येथे हलवण्यात येणार आहे. बाजारपेठ दुसरीकडे स्थलांतरीत करणार त्यामुळे व्यापाऱ्यांमध्ये भीतीचे वातावरण पसरले आहे.

नागपुर,महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते आज से प्रशासन ने शहर में एहतियातन धारा 144 लगा दी है। शहर के पुलिस संयुक्त आयुक्त के ऑफिस से कल यह खबर दी गयी। संयुक्त आयुक्त श्री रविंदर कदम ने कल रात अपने जारी किये विज्ञप्ति में कहा है कि आज दिनांक 17 मार्च से नागपुर शहर में एहतियातन धारा 144 लगायी गयी है जो दिनांक मार्च तक क्रियान्वन रहेगी। 

इसके साथ ही नागपुर पुलिस ने यह चेतावनी जारी की है कि जहाँ भी इस आज्ञा के तामील नहीं होगी वहाँ ऐसे अवांछनीय तत्वों पर IPC की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी। पुलिस ने यह भी कहा है कि धारा 144 लोगो के भलाई के लिए ही सुरक्षात्मक तरीके से लगायी गयी है जिससे कोरोना वायरस का प्रकोप ज्यादा न फैले। क्या है धारा 144

आपको बता दें कि सीआरपीसी की धारा 144 शांति कायम करने के तहत उस परिस्थिति में लगाई जाती है जब किसी तरह के सुरक्षा संबंधित खतरे या दंगे की आशंका हो। धारा-144 जहां लगती है, उस इलाके में पांच या उससे ज्यादा आदमी एक साथ जमा नहीं हो सकते हैं। इसके तहत कहीं भी गैर कानूनी तरीके से जमा होने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ दंगे में शामिल होने के लिए मामला दर्ज किया जा सकता है। इसके लिए अधिकतम तीन साल कैद की सजा भी हो सकती है।

पुलिस संयुक्त आयुक्त श्री कदम ने कहा है कि फिलहाल धारा 144 लोगो के भलाई के लिए लगी है जिससे इसके वायरस प्रकोप में ज्यादा लोग एक जगह पर इकट्ठे न हों और इसको फैलने से रोका जा सके। विदित हो कि महाराष्ट्र में अभी तक कोरोना वायरस के 39 मामले पॉजिटिव पाए गए हैं।

पिंपरी चिंचवड़ में पूजा के नाम पर महिला के साथ दुष्कर्म करने वाले के पाखंडी बाबा को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया है। इसपर आरोप है कि यह महिला को निर्वस्त्र कर उनके शरीर पर निम्बू घुमाता था। जांच में सामने आया है कि यह घर में गुप्तधन होने और बेटा होने के लिए तांत्रिक पूजा करने के नाम पर महिलाओं को ठगता था। इसके खिलाफ पांच महिलाओं ने अलग-अलग पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई है। गिरफ्तार कथित तांत्रिक की पहचान सोमनाथ चव्हाण के रुप में हुई है। एक शिकायतकर्ता महिला का आरोप है कि चव्हाण ने पूजा के नाम पर उसके साथ अश्लील हरकत की और उसके परिवार से पूजा के लिए 3 लाख 11 हजार रुपये धोखे से ले लिए।

जान का डर और खजाने की कहानी बना कर ठगा - उसने बताया था कि उसके घर के एक कमरे  में गुप्त धन गड़ा है। इसमें 7 पेटी आभूषण, एक सोने की गागर और एक गणपति की मूर्ति शामिल है। साथ ही बताया था कि घर की बेटी की जान खतरे में है। अगर बेटा चाहिए, लड़की की जान बचानी है और खजाना चाहिए तो घर पर पड़ी छाया को हटाना होगा। 15 दिनों में ये सब नहीं किया गया तो घर के लोगों की जान को खतरा है।  इसके बाद परिवार तांत्रिक पूजा के लिए तैयार हो गया था। परिवार ने पैसे की व्यवस्था करने के लिए महिलाओं के आभूषण तक बेचे। इसके 20 दिन बाद बाबा एक काली मुर्गी, सफेद कपड़ा, नमक और नीबू लेकर आया और पूजा शुरू की। उसने लड़की को एक कमरे में लेजाकर उसके कपड़े उतार उसके साथ अश्लील हरकत की। 

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में न्यायिक आयोग के सामने एनसीपी प्रमुख शरद पवार की भी गवाही होगी। पवार की गवाही को लेकर एक अर्जी लगाई गई थी, जिसे आयोग ने स्वीकार कर लिया है। इसको लेकर शरद पवार की ओर से भी अक्टूबर 2018 में हलफनामा दायर किया गया है। अब आयोग इसे लेकर जल्द ही एनसीपी प्रमुख को समन जारी करेगा। न्यायिक पैनल के वकील आशीष सातपुते ने मंगलवार को बताया कि पवार को सुनवाई के अंतिम चरण में बुलाने की संभावना है। दरअसल, पिछले हफ्ते सामाजिक समूह विवेक विचार मंच के सदस्य सागर शिंदे ने आयोग के समक्ष एक आवेदन दायर किया था। इसमें 2018 में जातिगत हिंसा के बारे में शरद पवार के मीडिया को 18 फरवरी को दिए गए बयान के आधार पर उन्हें तलब करने की मांग की थी। आवेदन के अनुसार, पवार ने प्रेस मीट में आरोप लगाया था कि दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं मिलिंद एकबोटे और संभाजी भिड़े ने पुणे शहर के बाहरी इलाके में स्थित कोरेगांव-भीमा और इसके आसपास के क्षेत्र में हिंसा के लिए माहौल बनाया था। याचिका में कहा गया है कि उसी प्रेस कॉफ्रेंस में पवार ने यह भी आरोप लगाया कि पुणे शहर के पुलिस आयुक्त की भूमिका संदिग्ध है और इसकी जांच होनी चाहिए। ये बयान आयोग के संदर्भ की शर्तों के दायरे में हैं और इसलिए वे प्रासंगिक हैं। आवेदक ने कहा कि उसके पास यह विश्वास करने के कारण हैं कि पवार के पास प्रासंगिक और अतिरिक्त जानकारी है। इसके अलावा उन्होंने हिंसा और अन्य संबंधित मामलों के बारे में पैनल के समक्ष दायर अपने हलफनामे में पहले ही साझा किया है। 

बांबे हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस की अध्यक्षता में बना है आयोग - आयोग की अध्यक्षता बॉम्बे हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जे.एन. पटेल कर रहे हैं। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्य सचिव सुमित मुलिक न्यायिक पैनल के सदस्य हैं। जब महाराष्ट्र में भाजपा सत्ता में थी, तब आयोग का गठन किया गया था। इसके बाद इस माह की शुरुआत में शिवसेना की अगुवाई वाली राज्य सरकार ने आयोग का कार्यकताल 8 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। पवार की पार्टी एनसीपी अब महाराष्ट्र में शिवसेना की अगुवाई वाली सरकार में महात्वपूर्ण घटक दल के रूप में शामिल है।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और एमएलसी अनिल भोसले समेत 3 लोगों को 71.78 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के मामले में पुलिस ने मंगलवार देर रात गिरफ्तार किया है। पुलिस ने यह कार्रवाई शिवाजीराव भोसले सहकारी बैंक घोटाले में की है। भोसले इस बैंक के निदेशक भी हैं। उनके अलावा बैंक के सीईओ तन्हाजी पड़वल और बैंक के मुख्य लेखाकार शैलेष भोसले को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस साल जनवरी की शुरुआत में पुणे पुलिस ने भोसले, उनकी पत्नी और निदेशक बोर्ड समेत करीब 15 अन्य लोगों के खिलाफ कथित जालसाजी, हेराफेरी और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था।

आरबीआई ने बैंक के बोर्ड को किया था सस्पेंड - इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने फर्जी कागजात पर रिश्तेदारों को लोन दिया था। घोटाले के बाद बाद आरबीआई ने बैंक के बोर्ड को सस्पेंड कर दिया था। अनिल भोसले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से विधान परिषद के सदस्य हैं। 3 साल पहले निगम चुनावों के दौरान उन्होंने राकांपा छोड़कर भाजपा जॉइन कर ली थी। लेकिन, यह दोस्ती ज्यादा दिन नहीं चली और वे फिर राकांपा में आ गए।

मारिया पर आरोप लगे थे कि उन्होंने पीटर को बचाने की कोशिश की थी

अपनी किताब में मारिया ने कहा- एक शीर्ष अफसर ने उन्हें अंधेरे में रखा

Sheena Bora Murder Case: मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर राकेश मारिया ने शीना बोरा हत्या मामले की जांच के दौरान अपने अचानक हुए तबादले पर चुप्पी तोड़ी है. उन पर आरोप थे कि जांच के दौरान उन्होंने पीटर मुखर्जी को बचाने की कोशिश की थी. बता दें कि पीटर अपनी पूर्व पत्नी इंद्राणी की बेटी शीना की हत्या का आरोपी है.शीना बोरा हत्या मामला 2015 में तब सुर्खियों में आया था, जब मुंबई पुलिस ने इंद्राणी मुखर्जी को गिरफ्तार किया और उस पर 2012 में शीना की हत्या का आरोप लगाया. ये मामला खार पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया था. उस दौरान राकेश मारिया मुंबई पुलिस में कमिश्नर थे. इस मामले की तफ्तीश में राकेश मारिया काफी सक्रिय रहे. उस वक्त इंद्राणी के बाद पीटर मुखर्जी से लंबी पूछताछ हुई थी.यह मामला जब सुर्खियों में था, तभी राकेश मारिया को प्रमोशन देकर होमगार्ड के महानिदेशक के तौर पर स्थानांतरित कर दिया गया. उस समय यह अनुमान लगाया गया था कि राकेश मारिया का तबादला महाराष्ट्र में सरकार बदलने की वजह से हुआ था. बताया जाता है कि तत्कालीन सीएम देवेंद्र फडणवीस शीना बोरा हत्या मामले की जांच से खुश नहीं थे क्योंकि उन्हें पीटर मुखर्जी के बारे में नहीं बताया गया था. कुछ दिनों बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी.

अपनी किताब 'Let Me Say It Now' में राकेश मारिया ने लिखा है कि मुंबई पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने शीना बोरा हत्या मामले से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में उन्हें अंधेरे में रखा था. मारिया का यह भी कहना है कि उन्हें अपनी ओर से हत्या के मामले में तब के सीएम देवेंद्र फडणवीस को गलत ब्रीफिंग करने का डाउट था.तबादले पर मारिया ने लिखा कि उन्हें इसके बारे में सूचित किया गया था. मारिया ने सवाल किया कि क्या महाराष्ट्र सरकार को उनके उत्तराधिकारी जावेद अहमद के पीटर मुखर्जी से संबंध मालूम थे. मारिया ने जिक्र किया कि रायगढ़ जिले की पुलिस की ओर से जांच पड़ताल के लिए शुरू की गई जांच में क्या हुआ? 2012 में मानव अवशेष बरामद हुए जो बाद में शीना के पाए गए.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार 'जीरो' पाने वाली कांग्रेस में घमासान मच गया है। पार्टी के 63 उम्मीदवारों की इन चुनावों में जमानत जब्त हो गई। इस बुरी तरह से हार के बाद कांग्रेस में घमासान मच गया है। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने अरविंद केजरीवाल को बधाई दी वहीं, दिल्ली महिला कांग्रेस चीफ शर्मिष्ठा मुखर्जी ने उनसे चुभते हुए सवाल पूछे हैं। इधर, दिल्ली चुनाव प्रभारी और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीसी चाको ने कहा कि आप के उदय के बाद कांग्रेस कभी भी अपना वोट बैंक वापस नहीं पा सकी। दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने आम आदमी पार्टी की जीत पर कांग्रेस की खुशी पर तंज किया है। पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए शर्मिष्ठा ने पूछा कि क्या कांग्रेस को अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए?

आप की जीत पर गर्व क्यों? - आम आदमी पार्टी को जीत की चिदंबरम के बधाई देने वाले ट्वीट को अपने ऑफिशल हैंडल से री-ट्वीट करते हुए शर्मिष्ठा ने कहा, 'सर, उचित सम्मान के साथ बस इतना जानना चाहती हूं कि क्या कांग्रेस पार्टी राज्यों में बीजेपी को हराने के लिए क्षेत्रीय दलों को आउटसोर्स कर रही है? यदि नहीं, तो फिर हम अपनी हार पर मंथन करने के बजाय AAP की जीत पर गर्व क्यों कर रहे हैं? और अगर ऐसा है, तो हमें (प्रदेश कांग्रेस कमिटी) संभवत: अपनी दुकान बंद कर देनी चाहिए।'

महाराष्ट्र के हिंगणघाट में जिंदा जलाई गई 24 वर्षीय लेक्चरर की मौत को लेकर शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में कहा गया है कि हमारा कानून नपुंसक बन चुका है. सामना के संपादकीय में कहा गया है कि निर्भया केस से पूरा देश दहल उठा था. ऐसे अभियुक्तों के लिए मृत्युदंड का प्रावधान है लेकिन इस तरह की मानसिकता हमारे समाज में अब तक मौजूद है. रेप केस में भी फांसी दी जा सकती है लेकिन हिंगणघाट जैसे कितने अपराधों में मौत की सजा दी गई है?

'सामना' में लिखा गया है- 'निर्भया केस में फांसी की तारीख भी तय हो चुकी थी. फंदा भी तैयार हो चुका था लेकिन अभी तक दोषियों को फांसी नहीं दी जा सकी. दोषियों की दया याचिका राष्ट्रपति की ओर से ठुकरा दिए जाने के बावजूद उनके वकील तमाम कानूनी दांवपेंच चल रहे हैं. संपादकीय के मुताबिक 'पिछले दिनों हैदराबाद में भी एक युवती से सामूहिक बलात्कार करने के पश्चात उसे जला दिया गया था. बाद में इस कांड के आरोपी हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई में मारे गए. हर बार की तरह तथाकथित मानवतावादियों लोगों ने इस कार्रवाई पर उंगली उठाने का प्रयास किया लेकिन देशभर से इस पुलिस कार्रवाई का स्वागत किया गया. आगे उसमें कहा गया, 'बलात्कारियों को सजा होने के बावजूद उसे कानूनी रूप से अमली जामा पहनाने में वक्त लग जाता है, ये बात अब समाज की सहनशक्ति के बाहर हो चुकी है. इसलिए अब बलात्कारियों को हैदराबाद पुलिस की तरह ही 'सजा' मिले, ऐसी जनभावना बन चुकी है. हैदराबाद पुलिस का समर्थन करने की नौबत हिंगणघाट प्रकरण में नागरिकों पर न आए, न्याय-व्यवस्था और केंद्र सरकार से यही निवेदन है, ऐसी प्रतिक्रिया प्रसिद्ध अभिनेता मकरंद अनासपुरे ने व्यक्त की है. इसे सांकेतिक ही कहा जाना चाहिए.'

केंद्र के बाद महाराष्ट्र में बीजेपी का साथ छोड़ चुकी शिवसेना लगातार मोदी सरकार पर हमलावर नजर आ रही है. शिवसेना ने सोमवार को अपने मुखपत्र सामना में प्याज पैदा करने वाले किसानों की समस्याओं का जिक्र करते हुए उनकी दुर्दशा के लिए केंद्र सरकार की कमजोर नीतियों को जिम्मेदार ठहराया है. शिवसेना ने कहा कि कमजोर नीतियों की वजह से ही कभी प्याज रसोई से गायब था तो अब उसके सड़ने की नौबत आ चुकी है.सामना में 'प्याज के अनर्थशास्त्र' के शीर्षक के साथ एक संपादकीय लिखा गया है जिसमें नासिक में प्याज की पैदावार करने वाले किसानों की दिक्कतों का जिक्र किया गया है. शिवसेना ने कहा कि 15 दिन के भीतर ही प्याज का भाव आठ हजार से गिरकर हजार रुपये आ चुका है जिससे किसानों को काफी नुकसान हो रहा है. कुछ दिन पहले तक प्याज के आयात करने की मांग की जा रही थी और अब इसके निर्यात की मांग तेज हो रही है.

शिवसेना ने कहा कि पिछले तीन दशकों से प्याज किसी न किसी रूप में किसानों और आम ग्राहक को रुलाता आ रहा है. कभी किसानों को प्याज के लिए कौड़ी के दाम मिलते हैं तो कभी महंगाई की वजह से यह आम लोगों की पहुंच से बाहर हो जाता है. शिवसेना ने कहा कि प्याज की कीमतें बढ़ने के बाद केंद्र सरकार ने विदेश से इसका आयात कराकर दाम नियंत्रित जरूर कर लिए लेकिन अब प्याज उत्पादक के सामने चुनौती भी खड़ी हो गई है और इसके लिए केंद्र की कमजोर नीतियां जिम्मेदार हैं.सामना में लिखा गया है कि प्याज के आयात से आखिर क्या हासिल हुआ, क्यों इस पर करोड़ों रुपये का विदेशी खर्च किया गया जब घरेलू किसानों का प्याज सड़ने की कगार पर आकर खड़ा हो गया है. दिसंबर में आयात हुआ प्याज फरवरी में मिल रहा है, इससे प्याज का अर्थशास्त्र पूरी तरह से बिगड़ चुका है. किसान अब इसके निर्यात की मांग कर रहे हैं ताकि उन्हें प्याज का सही दाम मिल सके. शिवसेना ने केंद्र सरकार से जल्द से जल्द जरूरी कदम उठाने की मांग की है.

1993 के मुंबई सीरियल बम धमाकों के एक आरोपी मुनाफ हलारी मूसा को गुजरात एटीएस ने मुंबई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया है. उसकी तलाश 1500 करोड़ रुपये के ड्रग्स तस्करी मामले में थी. एटीएस को खबर मिली कि मूसा पाकिस्तानी पासपोर्ट पर यात्रा कर रहा है. इसके बाद मुंबई एयरपोर्ट से उसे गिरफ्तार कर लिया गया है. गुजरात एटीएस आज दोपहर 3 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार मूसा ड्रग्स के काले कारोबार की दुनिया में बड़ा नाम है. पिछले साल पुलिस ने 1500 करोड़ रुपये के एक ड्रग रैकेट का पर्दाफाश किया था. इस रैकेट में उसकी बड़ी भूमिका थी. मुनाफ हलारी 1993 में बंबई के जावेरी बाजार में ब्लास्ट मामले में आरोपी था. जांच एजेंसियों को लंबे समय से इसकी तलाश थी. वो लंबे समय से जांच एजेंसियों को चकमा देकर बच रहा था. आखिरकार गुजरात एटीएस ने लंबे समय बाद उसे धर दबोचा. प्रेस कॉन्फ्रेंस में गुजरात एटीएस इस पूरे नेटवर्क का खुलासा कर सकती है. मुनाफ हलारी की गिरफ्तारी को पुलिस के लिए बड़ी कामयाबी बताई जा रही है. इस गिरफ्तारी के बाद दक्षिण एशिया में एक बड़े ड्रग रैकेट का पता चल सकता है.

घर में घुसने से मना करने पर दलित महिला को जिंदा जलाया, मौत घटना के बाद औरंगाबाद से लोकसभा सदस्य इम्तियाज जलील ने मांग की है कि इस घटना में कार्रवाई जल्द से जल्द पूरी हो, ताकि पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय मिल सके.95 फीसदी जली महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई. पड़ोसी जबरन घर में घुसने का कर रहा था प्रयासरोकने पर पर महिला को किया आग के हवाले95 फीसदी जली हालत में हुई थी अस्पताल में भर्ती.
महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दलित महिला को जिंदा जला दिया गया. 95 फीसदी जली हालत में महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अस्पताल प्रशासन ने बताया कि इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया. रविवार रात को महिला ने अपने घर में एक व्यक्ति को घुसने से रोका तो उसे आग के हवाले कर दिया था.

औरंगाबाद के सिल्लोड तहसील के अंधारी गांव में रविवार रात एक दलित महिला को जिंदा जला दिया गया. महिला 95 फीसदी जल गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. समाचार एजेंसी पीटीआई ने गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के सुप्रीटेंडेंट सुरेश हार्वडे के हवाले से बताया कि इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई. आरोपी और महिला के पड़ोसी संतोष मोहिते को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस ने उसके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

सांसद इम्तियाज जलील ने जल्द कार्रवाई की मांग की - घटना के बाद औरंगाबाद से लोकसभा सदस्य इम्तियाज जलील ने मांग की है कि इस घटना में कार्रवाई जल्द से जल्द पूरी हो, ताकि पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय मिल सके. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिम के नेता ने कहा कि उन्होंने संसद में इस मामले में शीघ्र कार्रवाई करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि हमने वर्धा में 25 साल की टीचर को जलाने के मामले में भी त्वरित कार्रवाई की मांग की है.

महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने होर्डिंग लगाकर बांग्लादेशी अप्रवासियों के राज्य से निकल जाने की धमकी दी है। मुंबई के पास पनवेल में ये पोस्टर 9 फरवरी को अवैध अप्रवासियों के खिलाफ होने वाली रैली के लिए लगाए गए।

बता दें कि ठाकरे ने जनवरी में बांग्लादेशी व पाकिस्तानी मुस्लमानों को देश से निकल जाने को कहा था। साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी को लेकर भारतीय जनता पार्टी के समर्थन के संकेत भी दिए थे। मनसे के क्षेत्रीय नेता महेश यादव ने कहा कि काफी समय से क्षेत्र में बांग्लादेशियों का संख्या बढ़ गई है। हालांकि उनके खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया गया है। 

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र और हिंदू धर्म के लिए अगर हमें कानून हाथ में लेना पड़ा तो लेंगे लेकिन पाकिस्तानी व बांग्लादेशी मुस्लमानों को देश से निकालेंगे। वहीं अन्य नेता सुधीर नवले ने कहा कि हमें मालूम हुआ है कि अवैध बांग्लादेशी अप्रवासी लोगों को सस्ते लेबर के रूप में लाया जाता है। उन्हें खाने और रहने को दिया जाता है। ये लोग बेतुके दस्तावेज लेकर यहां सेट हो गए हैं।  उन्होंने कहा कि प्रशासन को मामले में कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत है। इन लोगों को पनवेस से निकल जाना चाहिए नहीं तो हम इन्हें मनसे के अंदाज में सबक सिखाएंगे। बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने मुंबई में कहा था कि हम 9 फरवरी को पाकिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले अवैध घुसपैठियों को भारत से बाहर भगाने के लिए एक विशाल रैली निकालेंगे। उन्होंने कहा कि- मैं कुछ मुद्दों पर राज्य के गृह मंत्री या मुख्यमंत्री से मिलूंगा। भारत में मुस्लिम मौलवी दूसरे देशों में जाते हैं, किसी को नहीं पता कि वे क्या करते हैं, यहां तक ​​कि पुलिस भी वहां नहीं जा सकती।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सरकार ने पिछले 5 साल में विज्ञापनों पर 15 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि सरकारी खजाने से उड़ाई। अगर प्रतिदिन के हिसाब से इसका आंकड़ा निकाला जाए, तो यह राशि करीब 80 हजार होगी। वह भी टीवी और रेडियो के विज्ञापनों पर, जिसमें अखबार शामिल नहीं हैं। यह जानकारी आरटीआई से सामने आई है।

आरटीआई के जरिये नितिन यादव ने यह जानकारी जुटाई है। आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार, फडणवीस सरकार ने 2017-18 में टीवी चैनलों पर विज्ञापनों के लिए करीब 5,99,97,520 रुपये खर्च किए हैं और इसी साल रेडियो पर विज्ञापनों पर 1 करोड़ 20 लाख 69 हजार 877 रुपये खर्च किए।
पांच साल में कई गुना बढ़ा खर्च - फडणवीस सरकार के पांच साल के कार्यकाल में हर साल विज्ञापनबाजी पर उड़ाई जाने वाली रकम बढ़ती ही गई है। 2013-2014 में रेडियो के जरिए होने वाले विज्ञापनों पर केवल 59 लाख 96 हजार 291 रुपये खर्च किए गए थे। वहीं भाजपा की फडणवीस सरकार कार्यकाल के आखरी साल यानी 2018-2019 में सिर्फ रेडियो पर विज्ञापनों में 1 करोड़ 85 लाख 72 हजार 887 रुपये सरकारी खजाने से खर्च कर दिए थे। इसी तरह 2013-14 में टीवी पर विज्ञापन में 53,25,730 रुपये खर्च हुए थे, वहीं 2018-2019 में कई गुना ज्यादा 2,84, 48, 317 रुपये खर्च किए गए।

नाइट लाइफचं वारं आता मुंबईभर घोंगावू लागलंय. हे आत्ता होत असलं, तरी मुंबईच्या नाइट लाइफचे अम्बॅसेडर म्हणता येतील अशी काही मंडळी वर्षानुवर्षं या शहरात आहेत. रात्रीच्या वेळी रस्त्यांवर फिरणारे चहा-कॉफीवाले, पावभाजी-भुर्जीपावच्या गाड्या यांनी गेली अनेक वर्षं मुंबईकरांना आधार दिला आहे. '२४ तास जागणारं शहर' ही मुंबईची ख्याती कायम ठेवणाऱ्या फिरत्या चाकांवरील दूतांविषयी...

संध्याकाळच्या वेळी नोकरदार मुंबईकर आपली कामं आटोपून घरची वाट धरतात, तेव्हा यांची कामाची तयारी सुरू होते. संसाराचा गाडा ओढण्यासाठी दोन चाकांवरील त्यांची फिरती सुरू होते. रोजच्या व्यवसायासाठी लागणारी भांडी, आपली सायकल किंवा हातगाडीची आवराआवर सुरू होते. सफाईसाठी एक हात फिरवला जातो. जेवण वगैरे उरकून साधारण रात्री ११च्या आसपास ही मंडळी आपापल्या ठरलेल्या ठिकाणी पोटाची खळगी भरण्यासाठी मार्गस्थ होतात. ही मंडळी सर्वाधिक संख्येनं दक्षिण मुंबईसह दादर, परळ, घाटकोपर, बोरिवली, मालाड परिसरात आपला व्यवसाय थाटतात. इतर ठिकाणी म्हणायचं तर अनेक रेल्वे स्थानकांच्या बाहेर या चहावाल्यांच्या सायकली हमखास दिसतात. या मंडळींच्या जागा 'फिक्स' असल्याने, रात्री वेळ जसजशी पुढे सरकते तसे चहाप्रेमी हळूहळू इथे गर्दी करू लागतात.

मात्र प्रत्येक वेळी असे खादाड खवय्येच त्यांच्या वाट्याला येतात असं नाही. अनेकदा गर्दुल्ले, दारुडेही या चहाविक्रेत्यांना त्रास देताना दिसतात. मुद्दामहून अपशब्द वापरणं, प्रत्युत्तर दिल्यास मारायला धावणं, सायकलीचं नुकसान करणं, पैसे न देताच पळून जाणं अशा गोष्टींचा सामना त्यांना करावा लागतो. घाटकोपर स्थानक परिसरात सायकल लावणारा एक चहाविक्रेता नाव न सांगण्याच्या अटींवर म्हणाला, की 'साब, थोडा तकलीफ तो होता है. पर सेह लेते है. लडाई करके क्या मिलेगा? एक जगह बदलके दुसरी गली जाते है.' रात्री बेरात्री फिरताना पोलीस त्यांना हटकतात. मात्र आता याची सवय झाल्याचं ते सांगतात.
 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बीजेपी पर निशाना साधा है. सामना को दिए इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे ने कहा कि अगर बीजेपी अपने वादे को निभाती तो सीएम की कुर्सी पर मैं नहीं होता बल्कि कोई दूसरा शिवसैनिक होता. सीएम ठाकरे ने कहा कि उन्होंने वचन निभाया होता तो क्या हुआ होता. ऐसा मैंने क्या बड़ा मांगा था? आसमान के चांद-तारे मांगे थे क्या? लोकसभा चुनाव से पहले जो हमारे बीच तय हुआ था उतना ही मांगा था.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि बाला साहेब को दिए वचन को निभाने के लिए किसी भी स्तर तक जाने की तैयारी थी. उन्होंनेकहा , ''मुख्यमंत्री पद को स्वीकारना न ही मेरे लिए झटका था और न ही मेरा सपना था. अत्यंत ईमानदारी से मैं ये कबूल करता हूं कि मैं शिवसेनाप्रमुख का एक स्वप्न- फिर उसमें ‘सामना’ का योगदान होगा, शिवसेना का सफर होगा और मुझ तक सीमित कहें तो मैं मतलब स्वयं उद्धव द्वारा उनके पिता मतलब बालासाहेब को दिया गया वचन. इस वचनपूर्ति के लिए किसी भी स्तर तक जाने की मेरी तैयारी थी.''

उन्होंने कहा, ''उससे भी आगे जाकर एक बात मैं स्पष्ट करता हूं कि मेरा मुख्यमंत्री पद वचनपूर्ति नहीं बल्कि वचनपूर्ति की दिशा में उठाया गया एक कदम है. उस कदम को उस दिशा की ओर बढ़ाने के लिए मैंने मन से किसी भी स्तर तक जाने का तय किया था. अपने पिता को दिए गए वचन को पूरा करना ही है और मैं वो करूंगा ही.''

बीजेपी को झटका देने के सवाल पर ठाकरे ने कहा, ''मैंने पहले ही कहा था न कि इस क्षेत्र में झटका और धक्का-मुक्की आ गई है. धक्का-मुक्की ही हुई. महाराष्ट्र की राजनीति में इस तरह की धक्का-मुक्की कभी नहीं हुई थी? परंतु इसमें धक्का देना और मुक्की देना ये दोनों बातें आर्इं. धक्का किसने खाया और मुक्की किसको मिली? महाराष्ट्र और देश देख रहा है. मुझे ज्यादा कुछ कहने की जरूरत नहीं है.''

 

तीस जनवरी, यानी महात्मा गांधी की पुण्यतिथि उनके अनुकरणीय जीवन और असाधारण बलिदान को याद करने का अवसर है; ऐसा बलिदान, जो एक गहरे अर्थ की अभिव्यक्ति करता है। यह भी विडंबना ही है कि एक कट्टरपंथी के हाथों हुई गांधीजी की हत्या के कारण उनकी जीवन-गाथा की महान परिणति हुई। यह एक साधारण बालक मोहनदास द्वारा अपना निरंतर विकास करते हुए, अंतत: विश्व-वंद्य शांति-दूत के रूप में अमर हो जाने की महागाथा है। गांधीजी की पूरी जीवन-यात्रा प्रयोगों की अविरल धारा के समान थी। सत्य और अहिंसा के जीवन-मूल्य हमेशा उनका मार्गदर्शन करते रहे। उन्होंने स्वयं कहा था कि ये दोनों मूल्य उनके मौलिक आविष्कार नहीं थे। गांधीजी कहा करते थे कि ये शाश्वत मूल्य तो तभी से विद्यमान थे, जब से प्रकृति अस्तित्व में आई थी।

आत्म-साक्षात्कार के लिए अपनी गहरी तलाश में विभिन्न मतों के धर्मग्रंथों से प्राप्त विचारों को उन्होंने उदारतापूर्वक अपनाया, यद्यपि वह स्वयं एक धर्मपरायण हिंदू थे। गांधीजी के धर्म में रूढ़ियों और कट्टरता के लिए कोई जगह नहीं थी। आध्यात्मिक ग्रंथों में भगवद् गीता को गांधीजी ने सर्वाधिक महत्व दिया था। ईसा मसीह का चरित्र उन्हें द्रवित करता था। सर्मन ऑन द माउंट  उनका प्रेरणा-स्रोत भी था और जीवन-निर्माण का मार्ग भी। श्रीमद राजचंद्र के अलावा उन्होंने लियो टॉल्सटॉय, जॉन रस्किन और हेनरी डेविड थोरो का उल्लेख करते हुए कहा है कि ‘इन आधुनिक लोगों ने मेरे जीवन पर गहरी छाप छोड़ी और मुझे अभिभूत कर दिया।’ रस्किन द्वारा लिखित अनटु दिस लास्ट नामक पुस्तक को पढ़ना गांधीजी के जीवन का परिवर्तनकारी क्षण सिद्ध हुआ। उनकी पिपासा आत्मज्ञान के लिए थी, तथा उनके प्रयास भी इसी लक्ष्य के लिए थे। उनकी गहरी आस्थाओं का ध्यानपूर्वक अध्ययन करने से यह स्पष्ट होता है कि उनके लिए मोक्ष प्राप्ति के मार्ग में सबसे अधिक महत्वपूर्ण था मानवता की नि:स्वार्थ सेवा करना।

 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथुराम गोडसे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला किया है. केरल में अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि नाथुराम गोडसे की अंदर नफरत थी, उसने महात्मा गांधी को मारा. वह किसी से प्यार नहीं करता था. पीएम मोदी के साथ भी ऐसा ही है. वह केवल खुद से प्यार करते हैं. राहुल गांधी ने कहा, ‘’नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को गोली मार दी, क्योंकि वह खुद पर विश्वास नहीं करता था, वह किसी से प्यार नहीं करता था, वह किसी की परवाह नहीं करता था, वह किसी पर विश्वास नहीं करता था और हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी ऐसा ही है. वह केवल खुद से प्यार करते हैं और केवल खुद पर विश्वास करते हैं.’’

इतना ही नहीं राहुल गांधी ने कहा, ‘’नाथूराम गोडसे और नरेंद्र मोदी एक ही विचारधारा में विश्वास करते हैं. कोई फर्क नहीं है. नरेंद्र मोदी को यह कहने की हिम्मत नहीं है कि वह गोडसे में विश्वास करते हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘’आप गौर करना. जब भी आप पीएम मोदी से बेरोजगारी और नौकरियों के बारे में पूछते हैं तो वह अचानक ध्यान भटका देते हैं.’’ नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी को लेकर राहुल गांधी ने कहा, ‘’सीएए और एनआरसी से नौकरियां नहीं मिलने जा रही हैं. कश्मीर की स्थिति और असम को जलाने से हमारे युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा.’’ उन्होंने कहा, ‘’मोदी की तरफ से भारतीयों को यह साबित करने के लिए कहा जा रहा है कि वे भारतीय हैं. किसने उन्हें यह तय करने का लाइसेंस दिया है कि कौन भारतीय है और कौन नहीं? मैं जानता हूं कि मैं एक भारतीय हूं और मुझे इसे साबित करने की जरूरत नहीं है.’’

 

मुंबई. मुंबई में लोगों को 'नाइटलाइफ' को बढ़ावा देने के लिए 'मुंबई 24 आ‍वर्स'  की नीति जागरुकता की कमी की वजह से खास असर नहीं छोड़ पाई. राज्य मंत्रिमंडल ने 22 जनवरी को ‘मुंबई 24 आवर्स’ नीति को मंजूरी दे दी थी. इसके तहत गैर आवासीय इलाके में स्थित मॉल और खाद्य परिसरों में रात में रेस्त्रां, दुकान और थियेटर खुले रखने की मंजूरी है, ताकि लोग रात में जीवन के आनंद ले सकें. यह नीति 26 जनवरी से लागू हो गई.

सुरक्षा नियमों पालन करने वाली ही दुकानें खुलेंगी - राज्य पर्यटन मंत्री आदित्य रश्मि ठाकरे इसको लेकर आशावादी हैं. इस कदम के पीछे मुख्य तौर पर वह जुड़े हैं. ठाकरे से जब देर रात मॉल बंद करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कुछ सप्ताह में जब लोगों को यह महसूस होगा कि देर रात बाहर जाना और आनंद उठाना सुरक्षित है तो वह ऐसा करने लगेंगे. उन्होंने कहा कि उन दुकानों को रात में खोले जाने की अनुमति है जो सुरक्षा नियम का पालन करते हैं.

ठाकरे ने दोहराया कि मुंबई सभी के लिए सुरक्षित है और ऐसी बनी रहेगी. इस नीति के तहत दुकानों, मॉल और रेस्त्रां को खोलना वैकल्पिक है न कि अनिवार्य.  

पायलट प्रोजेक्ट के तहत हुआ काम - ठाकरे ने यह फैसला किया है कि मुंबई में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर अब पब, मॉल और रेस्टोरेंट 24 घंटे खोले जाएंगे. फिलहाल मुंबई में इन्हें काला घोड़ा, नरीमन प्वाइंट, बीकेसी और कमला मिल कंपाउंड के इलाके में खोलने का फैसला किया गया है. 26 जनवरी से अब इन जगहों पर पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 24 घंटे पब मॉल और रेस्टोरेंट्स खुले रहेंगे. लेकिन नरीमन प्वाइंट और वरली क्षेत्रों में कई मॉल रात में बंद रहे.

अमरावती. सीएए-एनआरसी व एनपीआर के विरोध में इंडियन युनियन मुस्लिम लीग ने मंगलवार को साझी शाहदत साझी नागरिकता थिम के तहत देश के लिए खुद को फांसी पर चढ़ाकर प्रतीकात्मक आंदोलन किया. संविधान बचाओ देश बचाओं, नो सीएए, नो एनआरसी काले कानून को रद्द करने की मांग को लेकर भारतीय संविधान सुरक्षा संघर्ष समिति के बैनर तले लगातार 9 वें दिन जारी सत्याग्रह में मुस्लीम लीग ने फांसी आंदोलन में देश की आजादी के लिए क्रांतिकारियों के भांति कुर्बानी का जज्बा लेकर गले में फंदा डालकर प्रतीकात्मक रूप से फांसी पर चढ़ा लिया. इस दौरान संविधान के सम्मान में भारतीय मैदान में, हम लेकर रहेंगे आजादी, इन्कलाब जिंदाबाद के बुलंद नारे लगाये.

आज भी है कुर्बानी का जज्बा - मुस्लिम लीग के यूथ प्रदेशाध्यक्ष मो.इमरान अशरफी ने बताया कि देश की आजादी में हजारों उलेमाओं ने अपनी शाहदत पेश की है. शहीद भगतसिंह, अशपाकउल्ला खान व रामप्रसाद बिस्मिल ने देश के लिए अपनी शाहदत पेश की, वहीं जज्बा देश के लिए आज का नौजवान भी अपने दिल में रखता है, इसी के तहत यह प्रतीकात्मक फांसी आंदोलन किया गया. सीएए कानून असंविधानक है, जो धर्म के नाम पर बनाया गया है, जबकि संविधान सभी जाति, धर्म के लोगों को समान अधिकार करता है. जब धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता तो धर्म के आधार पर नागरिकता देना कहा उचित है. इसीलिए तत्काल इस कानून को रद्द करे.

 

मुंबई: शिवसेना ने मंगलवार को कहा कि साईंबाबा की जन्मस्थली को लेकर उपजा विवाद बेवजह है और इसके लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को दोष नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि यह तो कोई नहीं बता सकता है कि 19वीं सदी के संत का जन्म वास्तव में शिर्डी में हुआ था अथवा नहीं। शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादकीय में कहा गया कि शिर्डी साईंबाबा की बदौलत समृद्ध हुआ है और जिस शहर में संत की मृत्यु हुई, वहां की समृद्धि को कोई नहीं छीन सकता।

इसमें यह भी कहा गया कि साईंबाबा संस्थान की संपत्ति 2,600 करोड़ रुपये से अधिक है और इससे सामाजिक कार्य किए जाते हैं। इसमें कहा गया कि ठाकरे ने परभणी जिले के पाथरी को ‘‘अपने मन से' साईंबाबा का जन्मस्थान नहीं बताया था बल्कि इसका आधार कुछ इतिहासकारों के मत थे। नौ जनवरी को राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में ठाकरे ने कहा था कि साईंबाबा का जन्मस्थान माने जाने वाले पाथरी को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।

इसके लिए उन्होंने 100 करोड़ रुपये के अनुदान की घोषणा भी की थी। इससे खड़े हुए विवाद के चलते शिर्डी के लोगों ने रविवार को बंद की घोषणा की जिसे वापस ले लिया गया। फिर मुख्यमंत्री ने शिर्डी के कुछ लोगों से मुलाकात की और यह विवाद हल हो गया। मुखपत्र में कहा गया है ‘‘मुख्यमंत्री ने कोई विवाद खड़ा नहीं किया। पाथरी और शिरडी के लोगों को भी ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे साईंबाबा की आभा फीकी पड़ेगी।'

सामना में कहा गया कि साईंबाबा शिर्डी के अहमदनगर में अवतरित हुए थे लेकिन यह कोई नहीं कह सकता है कि उनका जन्म वहां हुआ था। इसमें कहा गया, ‘‘बाबा शिर्डी में कहां से आए थे, क्या वह पाथरी से आए थे। परभणी के सरकारी गजट में जिक्र है कि कुछ लोगों के मुताबिक यह (पाथरी) शिर्डी के साईंबाबा का जन्मस्थान हो सकता है।' संपादकीय में कहा गया, ‘‘गजट मुख्यमंत्री ने नहीं लिखा, न प्रकाशित करवाया। इसलिए विवाद का दोष उन पर नहीं मढ़ा जा सकता।'

मुंबई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की और एक बार छत्रपति शिवाजी महाराज से तुलना की गई है। इस पर शिवसेना के नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने अपनी आक्रामक प्रतिक्रिया दी है। राउत ने कहा छत्रपति शिवाजी महाराज युगपुरुष है। राजनीती के लिए शिवाजी महाराज का उपयोग करना गलत है। हम ऐसा अपमान नहीं सहेंगे। राउत ने उदयनराजे भोसले पर तंज कसते हुए कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में जिन्होंने शिवसेना पर टिपण्णी की थी वो इस पर क्या भूमिका लेंगे इसकी राह देख रहा हूँ।

दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए तान्हाजी फिल्म की एक सिन का वीडियो क्लिप वायरल हो रहा है। इस सिन में शिवाजी महाराज के चेहरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा लगाया गया है। वहीं तानाजी मालुसरे के चेहरे पर अमित शाह का चेहरा लगाया गया है। यह वीडियो क्लिप काफी वायरल हो रही है। इस वीडियो क्लिप से सियासत गरमा रही है। उक्त वीडियो क्लिप पर संजय राउत ने कहा है कि "राजनीती के लिए शिवाजी महाराज का उपयोग करना गलत है। छत्रपति शिवजी महाराज युगपुरुष है। शिवजी महाराज का अपमान नहीं सहा जायेगा। यह वीडियो क्लिप मैंने संभाजी भिड़े समेत कईयों को भेजी है। शिवाजी महाराज पर भूमिका लेते हुए जिन्होंने शिवसेना पर टिपण्णी की उनकी प्रतिक्रिया की मै राह देख रहा हूँ। शिवसेना के खिलाफ सतारा, सांगली में बंद करने वाले अब क्या भूमिका लेंगे यह मुझे देखना है"।

नितिन गडकरी ने कहा ने कहा कि मैं आपको सच बताता हूं, पैसे की कोई कमी नहीं है, जो कुछ कमी है वो सरकार में काम करने वाली जो मानसिकता है, जो निगेटिव एटीट्यूड है, निर्णय करने में जो हिम्मत चाहिए, वो नहीं है. अफसरों पर भड़के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरीकहा- निर्णय करने में हिम्मत चाहिए, वो आप में नहीं केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आईएएस अफसरों को लेकर लताड़ लगाई. नागपुर में विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के हीरक जयंती समारोह के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते नितिन गडकरी ने कहा, 'मैं आपको सच बताता हूं, पैसे की कोई कमी नहीं है, जो कुछ कमी है वो सरकार में काम करने वाली जो मानसिकता है, जो निगेटिव एटीट्यूड है, निर्णय करने में जो हिम्मत चाहिए, वो नहीं है.'

नितिन गडकरी ने कहा, 'इसलिए मैं परसों हमारे एक बड़े फोरम में था तो कह रहे थे हमें यह शुरू करेंगे, वो शुरू करेंगे, तो मैंने उनको कहा आप क्यों शुरू करेंगे? आपकी अगर शुरू करने ताकत होती तो आप आईएएस अफसर बनकर यहां नौकरी नहीं करते. नितिन गडकरी ने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप जाकर कोई बड़ा उद्योग कर सकते थे, आपका काम नहीं है ये करने का, जो कर सकता है उसकी आप ज्यादा मदद करो, आप इस लफड़े में मत पड़ो. वी आर ओनली फैसिलिटेटर.'

'वहां काम करें, जहां आप बेहतर हैं' - केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों को उस क्षेत्र में काम करना चाहिए, जिसमें वे अच्छा कर सकते हैं. नितिन गडकरी इससे पहले रविवार को छत्रपति नगर के एक ग्राउंड में क्रिकेट भी खेला. उन्होंने शहर के कई ग्राउंड्स का दौरा किया, साथ ही खासदर क्रीड़ा महोत्सव के खिलाड़ियों की हौसला अफजाई भी की.

ठाणे में एक रैली को संबोधित करते हुए जितेंद्र अव्हाड ने कहा, देश के तख्त से पूछता हूं, अब तू मांगेगा मुझसे सबूत मेरे देशवासी होने का? तो सुनो, जब तेरे बाप सिर झुकाकर अंग्रेजों के तलवे चाट रहे थे, तब मेरे बाप फांसी के तख्त को चूमकर इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगा रहे थे.नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) का विरोध पूरे देश में जारी है. इस बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री जितेंद्र अव्हाड ने विवादित बयान दिया है. ठाणे में एक रैली को संबोधित करते हुए जितेंद्र अव्हाड ने कहा, 'देश के तख्त से पूछता हूं, अब तू मांगेगा मुझसे सबूत मेरे देशवासी होने का? तो सुनो, जब तेरे बाप सिर झुकाकर अंग्रेजों के तलवे चाट रहे थे, तब मेरे बाप फांसी के तख्त को चूमकर इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगा रहे थे.'

ठाणे: स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने संशोधित नागरिकता कानून को लेकर केंद्र सरकार की आलोचना की और कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केवल ‘‘सफेद टोपी' और ‘‘हिजाब' दिखाई देता है, लेकिन लाखों लोगों के हाथों में राष्ट्रीय ध्वज दिखाई नहीं देता। यादव ने कहा कि केंद्र सरकार के कुछ फैसलों के खिलाफ देश भर में जारी विरोध प्रदर्शन लोगों के लिए अपनी ‘‘घुटन' दिखाने का एक तरीका है।

राजनेता-कार्यकर्ता शनिवार रात यहां के भिवंडी शहर में सीएए, प्रस्तावित देशव्यापी राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के विरोध में आयोजित एक रैली को संबोधित कर रहे थे। महाराष्ट्र के आवास मंत्री जितेंद्र आव्हाड, जद(एस) के राष्ट्रीय महासचिव और न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) बी जी कोलसे-पाटिल और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र नेता उमर खालिद ने भी सभा को संबोधित किया।

यादव ने कहा, ‘‘मोदी को केवल सफेद टोपी और हिजाब दिखता है, लाखों लोगों के हाथों में तिरंगा नहीं दिखता, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। देश में लोगों को जो घुटन महसूस हो रही थी, वह इन आंदोलन के जरिए बाहर निकल रही है।' उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली के शाहीन बाग में जारी आंदोलन ने ‘‘नारी शक्ति को साबित किया है'।

शिरडी: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अपील के बावजूद शिरडी ग्राम सभा ने रविवार को बंद करने का फैसला किया है। सीएम की ओर से साई जन्मभूमि पाथरी शहर के लिए विकास निधि के ऐलान के बाद उठा विवाद शांत होने का नाम नहीं ले रहा है. मुख्यमंत्री के बयान से शिरडी के लोग नाराज हैं। 19 जनवरी से शिरडी में अनिश्चितकालीन बंद बुलाया गया है। साईं भक्तों का आरोप है कि महाराष्ट्र सरकार आस्था से खिलवाड़ कर रही है. शिरडी में ग्रामीणों और ट्रस्ट से जुड़े लोगों के बीच कई दौर की बैठकों के बाद ये फैसला किया गया है कि रविवार यानि 19 जनवरी से अनिश्चितकालीन बंद किया जाएगा। साईं के जन्म स्थान को लेकर पहले भी कई बार चर्चा हो चुकी है, लेकिन बीती 9 जनवरी को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने परभणी जिले के पाथरी को साईं के जन्म स्थान की हैसियत से विकसित करने के लिए 100 करोड़ के पैकेज का ऐलान कर दिया। इसके बाद से ही ये विवाद भड़क गया है। उद्धव से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी पाथरी को लेकर ऐसा ही ऐलान किया था।  2018 में साईं समाधि शताब्दी समारोह का उद्घाटन करने पहुंचे राष्ट्रपति ने कहा था, 'पाथरी साईं बाबा का जन्म स्थान है। मैं पाथरी के विकास के लिए काम करूंगा।'

हालांकि, ये सच है कि साईं बाबा के बारे में जानकारियां बहुत सीमित हैं। यहां तक कि उनके धर्म और परिवार के बारे में भी लोगों के अपने-अपने दावे हैं लेकिन सवाल ये भी है कि अगर कुछ लोगों की आस्था के तहत पाथरी को साईं बाबा का जन्म स्थान मान भी लिया जाए तो इससे किसी को क्या आपत्ति हो सकती है? लेकिन बात सिर्फ आस्था की है या फिर असल मुद्दा कुछ और है? पाथरी का विवाद उठने पर एनसीपी नेता अब्दुल्ला खान दुर्रानी ने इस ओर इशारा भी किया है।

          नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), एनपीआर और एनआरसी को लेकर कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला जारी है. आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम ने कहा कि एनआरसी का ही छद्म रूप है एनपीआर है. उन्होंने कोलकाता में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी विपक्षी दलों को एक साथ आने की अपील की. चिदंबरम ने कहा, ''असम में एनआरसी की असफलता के बाद, नरेंद्र मोदी सरकार ने तुरंत गियर बदल दिए, अब एनपीआर के बारे में बात कर रहे हैं.'' उन्होंने कहा, ''सीएए, एनपीआर और एनआरसी का विरोध कर रही सभी पार्टियों को साथ आना चाहिए.''

बता दें कि हाल ही में दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों की बैठक बुलाई थी. इस बैठक से ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी, समाजवादी पार्टी, बीएसपी और डीएमके दूर रही थी. ये दल भी सीएए, एनपीआर और एनआरसी का विरोध कर रहे हैं. चिदंबरम कोलकाता के पार्क सर्कस में सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में शामिल हुए और वहां मौजूद लोगों को आश्वस्त किया कि उनकी पार्टी उनके साथ है. उन्होंने कई यूनिवर्सिटी में हुए छात्रों के हालिया प्रदर्शन को लेकर कहा, ''मुझे गर्व है कि छात्र संवैधानिक सम्प्रभुता और संवैधानिक नैतिकता जैसी अमूर्त चीजों के लिए लड़ रहे हैं.''

        दिल्ली में बीजेपी के टिकट बंटवारे की पहली लिस्ट आने के बाद टिकट कटने वाले नेताओं की नाराजगी का दौर भी शुरू हो गया है. बीजेपी के पूर्व विधायक करण सिंह तंवर के समर्थकों ने आज कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर के बाहर प्रदर्शन किया. दरअसल करण सिंह तंवर दिल्ली कैंट से टिकट चाहते हैं, जिसे अभी होल्ड किया गया है. जबकि दूसरी सीट छतरपुर, कल घोषित हो चुकी है. उनकी जगह पार्टी ने ब्रह्म सिंह तंवर को टिकट दिया है. करण सिंह दिल्ली कैंट अथवा छतरपुर दोनों में से एक मे लड़ना चाहते थे चुनाव. आज प्रदर्शन करने पहुंचे करण सिंह के समर्थकों को पुलिस ने हटाया. बता दें कि दिल्ली में बीजेपी ने शुक्रवार को अपने 57 उम्मीदवारों के नाम का एलान किया था. बीजेपी ने 57 में से 11 एससी प्रत्याशी उतारे हैं और 4 महिलाओं को टिकट दिया है.

पटपड़गंज सीट से मनीष सिसोदिया के खिलाफ रवि नेगी को उतारा गया है. कपिल मिश्रा को मॉडल टाउन से उम्मीदवार बनाया गया है. दिल्ली में 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को वोटों की गिनती होगी.

             राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मौसम ने एक बार फिर करवट ले ली है. एनसीआर में शनिवार की सुबह कोहरा छाया रहा. कोहरे की वजह से विजिबिलिटी घट गई और गाड़ियों की ऱफ्तार पर ब्रेक लग गया. कोहरे के बीच शहर में कई जगहों ट्रैफिक जाम हो गया. दिल्ली में आज न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग के मुताबिक अगले कई दिनों तक दिल्ली-एनसीआर में कोहरा रहेगा. फिलहाल दिल्ली का तापमान 13 से 14 डिग्री सेल्सियस के बीच बना हुआ है. इससे पहले दिल्ली-एनसीआर में गुरुवार और शुक्रवार को बारिश हुई थी, जिसके चलते छंड बढ़ गई थी.अब कोहरे ने एक बार फिर परेशानी बढ़ा दी है.

दो से पांच घंटे तक देरी से चल रही हैं ट्रेनें - दिल्ली आ रही 20 ट्रेनें आज शनिवार को दो से पांच घंटे तक देरी से चल रही हैं. रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि पुरी-नई दिल्ली पुरुषोत्तम एक्सप्रेस और सियालदह-अमृतसर अकाल तख्त एक्सप्रेस पांच घंटे की देरी से चल रही हैं. उन्होंने बताया कि कटिहार-अमृतसर एक्सप्रेस तीन घंटे, दरभंगा-नई दिल्ली बिहार संपर्क क्रांति दो घंटे, रीवा-आनन्द विहार-रीवा एक्सप्रेस चार घंटे, इलाहाबाद-नई दिल्ली-प्रयागराज एक्सप्रेस तीन घंटे, आजमगढ़-नई दिल्ली कैफियत एक्सप्रेस दो घंटे, हावड़ा-नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस 4.30 घंटे, वाराणसी-नई दिल्ली काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस 4.30 घंटे और भागलपुर-आनंद विहार विक्रमशिला एक्सप्रेस तीन घंटे की देरी से चल रही हैं.

मुंबई. छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की इमारत से ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन में तैनात जूनियर खुफिया अधिकारी अभिषेक बाबू ने कूद कर आत्महत्या कर ली. उन्हें हवाई अड्डे की पार्किंग के पास खून से लथपथ पाया गया. सहार पुलिस ने एक्सिडेंट डेथ का मामला दर्ज कर आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है.

ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन में जूनियर इंटेलिजेश ऑफिसर के पद पर अभिषेक बाबू (55) तैनात थे. सोमवार को दोपहर 2.45 बजे अभिषेक ने छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की इमारत से छलांग लगा दी. हवाई अड्डे के पार्किंग के पास मौजूद लोगों ने कुछ गिरने की आवाज सुनी. लोग उस तरफ गए, तो देखा कि एक व्यक्ति खून से लथपथ पड़ा हुआ है.

पुलिस को इसकी सूचना दी गयी. सहार पुलिस मौके पर पहुंची और अभिषेक को पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. सहार पुलिस ने एक्सिडेंटल डेथ का मामला दर्ज किया है. पुलिस अभिषेक के आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है.

मुंबई. महाराष्ट्र विकास आघाड़ी ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर चर्चा करने के लिए माटुंगा के दयानंद स्कूल को नोटिस जारी किया है. बीजेपी के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने इसकी जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि यह दुखद है कि ठाकरे सरकार ने सीएए पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए दयानंद स्कूल के खिलाफ नोटिस जारी किया है. सीएए को संसद ने पारित किया है. राष्ट्रपति ने इसे मंजूरी दी है.  अब इसे लागू करने का काम भी शुरू हो गया है. ऐसे में स्कूल को नोटिस भेजना संविधान के मौलिक सिद्धांतों का उल्लंघन है. सोमैया ने इस एक्शन के लिए ठाकरे सरकार की कड़ी आलोचना की है.  

स्कूलों में राजनीति बर्दाश्त नहीं

शिवसेना के कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा है कि स्कूलों को राजनीति का अखाड़ा नहीं बनने दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि स्कूलों में बच्चों के लिए लैंगिक समानता , हेलमेट व सफाई पर बोलना चाहिए. आदित्य ने सीएए पर जनजागृति को  लेकर स्कूलों में  कार्यक्रम आयोजित करने के अभियान को गलत करार दिया. अब इस विवाद के बाद  पूरे राज्य में इस तरह के कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई हैं. राज्य के सभी स्कूलों को महाराष्ट्र सरकार की तरफ से एक नोटिस भेजा गया है, जिसमें कहा गया है कि, किसी भी स्कूल में राजनीति से जुडे मुद्दों का प्रचार नहीं होना चाहिए. अगर किसी ने ऐसा किया तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

 एजुकेशन इंस्पेक्टर ने भेजा नोटिस

दयानंद स्कूल की ट्रस्टी सुमिता सुमन सिंह ने कहा कि स्कूल को नोटिस एजुकेशन इंस्पेक्टर ने भेजा है. उन्होंने बताया कि यह स्कूल की ट्रस्टी होने के साथ वे बीजेपी से जुड़ी हुई हैं. उन्होंने साफ़ किया कि यह सीएए पर कार्यक्रम स्कूल कैंपस के बाहर एक मैदान में आयोजित किया गया था और इसका स्कूल प्रबंधन से कोई लेना -देना नहीं था. सुमन ने कहा कि स्कूल के बच्चे अपनी मर्जी से इस कार्यक्रम में भाग लेने आए थे. उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को लेकर स्कूल को घसीटना सही नहीं होगा. सुमिता ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी के तहत सभी लोगों को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी है. ऐसे में जिस कार्यक्रम को स्कूल ने आयोजित नहीं किया हो उसके लिए उन्हें नोटिस भेजा जाना बेहद खेदजनक है.

सीएए को लेकर राजनीति

बीजेपी के पूर्व

मुंबई. उपनगर चेंबूर के माहुल क्षेत्र स्थित भारत पेट्रोलियम निगम लिमिटेड (बीपीसीएल) के संयंत्र में मंगलवार दोपहर आग लग गई. अधिकारी ने बताया कि घटना में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है.

शहर नगर निकाय के नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने बताया कि दोपहर करीब 12 बजकर 40 मिनट पर बीपीसीएल संयंत्र के मुख्य द्वार पर एअर कम्प्रेसर में आग लग गई. काला धुआं संयंत्र से निकलता दिखा. अधिकारी ने कहा कि यह मामूली आग थी.

कोई हताहत नहीं हुआ है. बीपीसीएल के कर्मियों ने तुरन्त ही आग पर काबू पा लिया. उन्होंने बताया कि आग लगने की जानकारी मिलते ही मुंबई दमकल विभाग सहित सभी संबंधित एजेंसियां वहां पहुंच गईं. उन्होंने बताया कि आग लगने के कारण का अभी पता नहीं चल पाया है.

ब्रम्हपुरी. वन विभाग के दक्षिण वन परिक्षेत्र अंतर्गत मुडझा कक्ष क्र. 1179 में मृत पाये गए सिर और पंजे विहीन बाघ के शिकार के मामले में वन विभाग ने मृत बाघ का सिर और पंजे बरामद किए हैं. जिन 2 लोगों को हिरासत में लिया गया था उनसे रविवार को भी पूछताछ की गई. जिसमें एक और आरोपी का नाम सामने आया है. हिरासत में लिए गए आरोपियों में गाय मालिक मुडझा निवासी बाजीराव नारायण मशाखेत्री और चरवाहा राकेश लक्ष्मण झाड़े का समावेश है.                                            दोनों आरोपियों कि  जांच

चरवाहे ने बताया कि उसने मृत बाघ का सिर और पंजे काटे थे और उसे खेत में लगभग 500 मीटर दूरी पर दफन कर रखा है. वन विभाग की टीम ने बाघ का सिर खेत में और पंजे नाले के पास से बरामद किए. बरामद पंजे में नाखून गायब है. आरोपी ने अपने साथी मुडझा निवासी यशवंत बोबाटे का नाम बताया है. आरोपी गांव से फरार हो चुका है. उसकी तलाश जारी है.

पकड़े गए दोनों आरोपियों कि जांच अधिकारी सहायक वन संरक्षक ब्रम्हपुरी वन विभाग रामेश्वरी बोंबाले ने न्यायिक दंडाधिकारी मूल के समक्ष दोपहर 2 बजे पेश किया. जहां न्यायिक दंडाधिकारी ने आगे की जांच के लिए दोनों को 20 जनवरी तक एफ.सी.आर. दिया है.

2 लड़कियां छुड़ाई गई

मुंबई. गांवदेवी पुलिस ने 'बॉम्बे एस्कॉर्ट सर्विस' वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन चलाए जा रहे सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने ग्रांट रोड के एक होटल पर छापा मार कर महिला दलाल को गिरफ्तार किया है. उसके चंगुल से 2 युवतियों को छुड़ाया गया है.

गांवदेवी पुलिस को 'बॉम्बे एस्कॉर्ट सर्विस' वेबसाइट से ऑनलाइन सेक्स रैकेट चलाए जाने की गुप्त सूचना मिली थी. वेबसाइट के जरिए ग्राहंक महिला दलाल से संपर्क करते थे. वह ग्राहकों को ग्रांट रोड के एक होटल में वेश्यावृत्ति के लिए लड़कियों को भेजती थी. पुलिस निरीक्षक पवार और उप निरीक्षक मयेकर, विक्रम पवार एवं तांबे की टीम ने ग्रांट रोड के उस होटल पर छापा मार कर महिला दलाल को गिरफ्तार कर लिया है.

मुंबई. महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रविवार को कहा कि उनके नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने पारदर्शिता के साथ काम किया, लेकिन उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी सरकार उसके खिलाफ किसी भी जांच का आदेश देने के लिये स्वतंत्र है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण द्वारा फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार को “सबसे भ्रष्ट” बताए जाने और सभी मामलों में जांच कराए जाने की बात कहने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री का यह बयान आया है।

सोलापुर जिले के अकलुज में संवाददाताओं से बात करते हुए फडणवीस ने कहा, “धमकी मत दीजिए, हम डरते नहीं हैं। मेरी सरकार पारदर्शी थी। मौजूदा सरकार किसी भी जांच का आदेश देने के लिये स्वतंत्र है। सरकार जो भी जांच करनी चाहे कर सकती है।” उन्होंने महाराष्ट्र विकास आघाडी (एमवीए) सरकार पर “बदले की भावना” से काम करने का आरोप लगाया।

पालघर. बोईसर स्थित तारापुर एमआईडीसी में एक रसायन फैक्ट्री में विस्फोट की घटना में रविवार को मलबे से लापता लड़की का शव बरामद किया गया. एएनके फार्मा नामक कंपनी में करीब 20 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद एनडीआरएफ की टीम ने ख़ुशी यादव (13) का शव बरामद किया. विस्फोट शनिवार शाम को कोलवाडे गांव स्थित फार्मा कंपनी के निर्माणाधीन संयंत्र में हुआ.हादसे में मरने वालों की संख्या 8 बताई गई है.

7 लोग घायल हुए - जिला आपदा नियंत्रण प्रकोष्ठ के प्रमुख विवेकानंद कदम ने बताया कि मलबा हटाने के अभियान के दौरान रविवार सुबह एक और शव मिला. जिले के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह ने कहा कि हमने लापता लड़की का शव रविवार को दोपहार करीब डेढ़ बजे मलबे से बरामद किया गया. उसकी पहचान खुशी सुरेंद्र यादव के तौर पर हुई है. घटना में 7 लोग घायल हुए हैं जिनमें संयंत्र के मालिक नटवरभाई पटेल भी शामिल हैं, जो गंभीर रूप से घायल हैं. घटना में गंभीर रूप से घायल हुए लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है. विस्फोट से निर्माणाधीन संयंत्र ढह गया और पास में स्थित दो अन्य रसायन फैक्ट्रियों को भी नुकसान पहुंचा.इस घटना में अन्सारी इलियास (45),निशु सिंह (26),माधुरी सिंह (46),गोलू यादव (19), राजमती यादव (46), ख़ुशी यादव (13) मोहन इंगले (42) नामक 8 लोगो की मौत हो गई .

सिंह और यादव परिवार पर टूटा पहाड़ - इस ब्लास्ट में सिंह और यादव परिवार पर दुःख का पहाड़ टूट पड़ा है. बिहार के रहने वाले राहुल वशिष्ठ सिंह की पत्नी निशु और उनकी माता माधुरी की मौत हो गयी और उनकी 2 छोटी-छोटी बच्चियां जख्मी हो गई थी, उन्हें इलाज के बाद छोड़ दिया गया है. सुरेंद्र यादव की पत्नी राजमती यादव और बेटा गोलू और बेटी ख़ुशी यादव की मौत हो गयी है. खुशी जो घटना के बाद से मिसिंग थी उसके शव को करीब 20  घंटे का रेस्क्यू करने के बाद एनडीआरएफ की टीम ने बरामद किया. जबकि उनके भतीजे सचिन का अभी इलाज शुरू है. यह दोनों परिवार कंपनी में रहता था.

दोषी कंपनियों पर होगी कार्रवाई - घटना का जायजा लेने पहुंचे उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि इस प्रकार की घटना दुर्भाग्यजनक है. ऐसे रासायनिक कारखानों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार इस निर्माणधीन कंपनी को परमीशन दिया गया उसकी जांच रिपोर्ट मेरे पास आई है. दोषी अधिका

मुंबई,  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छत्रपति शिवाजी महाराज से तुलना करने वाली किताब को लेकर छिड़े विवाद के बीच शिवसेना के नेता संजय राउत ने सोमवार को कहा कि मराठा योद्धा के वंशजों को यह स्पष्ट करना चाहिए कि उन्हें उनकी(शिवाजी की) तुलना मोदी से किया जाना पसंद है या नहीं। राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा कि भाजपा को यह घोषणा करनी चाहिए कि उसका छत्रपति शिवाजी की तुलना मोदी से करने वाली किताब से कोई लेना-देना नहीं है।

‘आज का शिवाजी: नरेंद्र मोदी' किताब भाजपा नेता जय भगवान गोयल ने लिखी है। राज्य की महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार ने इस पुस्तक की निंदा की है। राउत ने भाजपा के राज्यसभा सदस्य एवं शिवाजी के वंशज संभाजी राजे पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘छत्रपति शिवाजी के वशंजों को यह स्पष्ट करना चाहिए कि उन्हें उनकी (शिवाजी) तुलना मोदी से किया जाना पसंद है या नहीं। इस किताब को लेकर छत्रपति शिवाजी के वशंजों को भाजपा से इस्तीफा दे देना चाहिए।''संभाजी राजे ने भाजपा प्रमुख अमित शाह से रविवार को मांग की थी कि वे भाजपा के दिल्ली कार्यालय से प्रकाशित इस किताब पर तत्काल प्रतिबंध लगाएं। महाराष्ट्र के कांग्रेस प्रवक्ता अतुल लोंढे ने गोयल के खिलाफ किताब में मोदी की तुलना छत्रपति शिवाजी से करके लोगों की भावनाओं को कथित तौर पर ठेस पहुंचाने की शिकायत रविवार को नागपुर में दर्ज करवाई थी।

         मुंबई: शिवसेना के संस्थापक बाला साहब ठाकरे की जयंती 23 जनवरी को पार्टी के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को सम्मानित करने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम बांद्रा के एमएमआरडीए मैदान में आयोजित किया जाएगा। परिवहन मंत्री अनिल परब ने कहा कि आज सभी इस बात से प्रसन्न हैं कि उद्वव ठाकरे ने शिवसेना प्रमुख से किए उस वादे को निभा दिया कि एक शिवसैनिक एक दिन मुख्यमंत्री बनेगा। परब ही कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं। उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा' से कहा, ‘‘शिव सैनिक इस बात से प्रसन्न हैं कि उद्धव जी ने अपना वादा निभाया है।

बीकेसी के एमएमआरडीए मैदान में सैनिक कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं और इसमें प्रमुख शख्सियतें शिरकत करेंगी।'' यह पूछे जाने पर कि क्या गठबंधन सहयोगी कांग्रेस और राकांपा को भी आमंत्रित किया जाएगा, परब ने कहा कि कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की जा रही है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे भी पार्टी का राज्य स्तरीय सम्मेलन 23 जनवरी को करने वाले हैं। इस कार्यक्रम में वह पार्टी को आगे ले जाने के संबंध में अपनी योजनाओं की घोषणा कर सकते हैं।

             एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को हैदराबाद में तिरंगा मार्च निकाला था जिसमें हजारों लोग शामिल हुए. अब 26 जनवरी से पहले यहां तिरंगों का स्टॉक खत्म हो गया है. इस बारे में दुकानदारों का कहना है कि जितना तिरंगा सालों में नहीं बिका उतने की बिक्री सिर्फ दो दिनों में हो गई. बता दें कि शुक्रवार को ओवैसी ने हैदराबाद में तिरंगा मार्च का नेतृत्व किया था और वह इसके माध्यम से सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे थे.

गौरतलब है कि 11 दिसंबर को सीएए कानून को संसद से पास किया गया. इसके बाद से देशभर में इसके विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं. इसी कड़ी में हैदराबाद में भी मार्च निकाला गया था. इस प्रदर्शन में लोग तिरंगे के साथ शामिल हुए थे जिससे शहर में इसकी जबरदस्त बिक्री दर्ज की गई है. हैदराबाद के दुकानदारों का कहना है कि जितने तिरंगे की बिक्री पिछले 70 साल में नहीं हुई उससे ज्यादा की बिक्री पिछले कुछ दिनों में हुई है. दुकानदार बंपर बिक्री से काफी खुश हैं. हालांकि, गणतंत्र दिवस से पहले इन दुकानदारों को अभी और बिक्री की उम्मीद है. तिरंगे का स्टॉक शहर में खत्म होने के बाद दुकानदारों ने तिरंगा मंगवाना का ऑर्डर दिया है.

          साल का पहला चंद्र ग्रहण (चंद्र ग्रहण  2020) समाप्त हो चुका है. गुजरा चंद्र ग्रहण एक टेंशन दे गया है. चंद्र ग्रहण के बाद डबल डेकर बस से दोगुना आकार का एक धूमकेतु तेजी से पृथ्वी की तरफ बढ़ रहा है. खगोल वैज्ञानिकों की चिंता है कि अगर यह धूमकेतू पृथ्वी से टकरा गया तो बड़ी प्रलय हो सकती है. यह धूमकेतु 12 जनवरी को पृथ्वी के करीब से होकर गुजरेगा. पृथ्वी की तरफ बढ़ रहे इस धूमकेतु के बारे में अमेरिका के 'नासा' ने जानकारी दी है. धूमकेतु जिस रफ्तार से पृथ्वी की तरफ आ रहा है उससे अगर यह पृथ्वी के किसी भी कोने से टकरा गया तो सुनामी से भयंकर प्रलय ला सकता है.

अंतरिक्ष विज्ञानी अब इस धूमकेतु की दिशा का अध्ययन करने में जुट गए हैं. अगर यह धूमकेतु पृथ्वी से होकर गुजरता है तो इससे कोई नुकसान नहीं होगा लेकिन अगर पृथ्वी को स्पर्श करते हुए भी यह धूमकेतु गुजरा तो भी ये भारी नुकसान पहुंचा सकता है. हालांकि नासा का यह दावा है कि पृथ्वी की तरफ तेजी से बढ़ रहा ये धूमकेतू पृथ्वी के बेहद करीब से होकर गुजरेगा. इसको लेकर नासा ने चेतवानी भी जारी की है. धूमकेतु को लेकर एक बार फिर पृथ्वी को लेकर की गई भविष्यवाणियों को लोग याद करने लगे हैं. प्रसिद्ध भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस और बाबा बांगा पहले ही पृथ्वी प्रलय को लेकर भविष्यवाणी कर चुके हैं. जिनमें से अधिकतर सच भी साबित हुई हैं. बाबा बांगा की कई गईं भविष्यवाणी हाल में काफी हद तक सच साबित हुईं हैं, उन्होने अमेरिका के राष्ट्रपति और रूसी राष्ट्रपति पुतिन को लेकर भी भविष्यवाणी की हैं. भारतीय मान्यताओं के अनुसार किसी भी तरह के ग्रहण को शुभ नहीं माना गया है. ग्रहण को हमेशा से ही प्राकृतिक आपदाओं से जोड़कर देखा गया है. 26 दिसंबर 2019 को लगने वाले सूर्य ग्रहण के बाद भी कहा गया था कि जनवरी माह में देश और विश्व के अन्य देशों में उथल पुथल की स्थिति रहेगी. ऐसा हुआ भी ईरान और अमेरिका का तनाव इन भविष्यवाणियों को सच साबित करती हैं.

नासा ने इस धूमकेतू को 2020 एबी2 नाम दिया है. इस धूमकेतु का पता नासा ने एस्टेरॉयड ट्रैकिंग सिस्टम के जरिए पता लगाया है. नासा के अनुसार यह धूमकेतु 12 जनवरी को पृथ्वी के करीब से होकर गुजरेगा.

धूमकेतु क्या होता है - धूमकेतु हमारे सोलर सिस्टम का ही हिस्सा होते

क्राइम ब्रांच एवं एफडीए की कार्रवाई

मुंबई. मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच एवं एफडीए ने संयुक्त रूप से थैली दूध में मिलावट करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया है. इसके अंतर्गत विभिन्न इलाकों में छापेमारी की जा रही है. क्राइम ब्रांच ने गोरेगांव (प.) के भगतसिंह नगर एवं हनुमान नगर के विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी कर थैली के दूध में मिलावट करते हुए एक महिला समेत 4 लोगों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया. उनके पास से 358 लीटर मिलावटी दूध जब्त किया गया है.

क्राइम ब्रांच को गुप्त सूचना मिली कि गोरेगांव (प.) के भगतसिंह नगर एवं हनुमान नगर में बड़े पैमाने पर विभिन्न कंपनियों के थैली के दूध में मिलावट बेचा जा रहा है. पुलिस उपायुक्त अकबर पठान के मार्गदर्शन में क्राइम ब्रांच के प्रभारी पुलिस निरीक्षक सागर शिवलकर, पुलिस निरीक्षक सचिन गवस, अतुल डहाके, सहायक पुलिस निरीक्षक विक्रम सिंह कदम, अतुल अव्हाड, सिपाही कारंडे एवं कदम की टीम ने एफडीए अधिकारियों के साथ संयुक्त रूप से गोरेगांव (प.) के भगतसिंह नगर एवं हनुमान नगर के विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी की. यहां से अमूल, गोकुल और मदर डेअरी सहित कई कंपनियों के 358 लीटर मिलावटी दूध थैली जब्त किया गया. पुलिस ने दूध में मिलावट करते हुए एक महिला सहित 4 आरोपियों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया.

गुजरात के सूरत में गैस सिलेंडर से भरे ट्रक में धमाका हो गया. सिलेंडर फटने की आवाजें काफी दूर तक सुनी गईं. इस ट्रक में लगी आग की चपेट में एक स्कूल बस भी आ गई. वक्त रहते सभी बच्चों को बस से उतार लिया गया. इस हादसे में ट्रक के साथ बस, टेंपो और ऑटो भी जल गए. ये घटना ओलपाड इलाके में हुई. सूरत में जब गैस सिलेंडरों से भरा ये ट्रक गुजर रहा था तभी अचानक इस ट्रक में आ लग गई. इस आग की चपेट में आस पास के वाहन भी आ गए. सिलेंडर ब्लास्ट होने शुरू हुए तो सभी लोग घबरा गए. काफी देर की मशक्कत के बाद किसी तरह इस आग पर काबू पाया जा सका. फायर ब्रिगेड की 5 गाड़ियों ने मोर्चा संभाला था और आग बुझाने के प्रयास शुरू किए थे. इस हादसे में ना तो किसी की जान गई और ना ही कोई घायल हुआ. हालांकि इस अग्निकांड में सिलेंडर भरे ट्रक के साथ साथ स्कूल की बस तो जल ही गई, वहीं कुछ और गाड़ियों को भी नुकसान हुआ है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है कि आखिर आग कैसे लगी. उत्तर प्रदेश के नोएडा में ईएसआईसी अस्पताल में आज सुबह आग लग गई. आग लगने के बाद अस्पताल में अफरा तफरी मच गई, जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने मरीजों सहित सभी लोगों को बाहर निकाला. हालांकि इस आग से किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं मिली है. इससे पहले आज राजधानी दिल्ली के पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया में आग लग गई. इस हादसे में एक शख्स की मौत हो गई. फिलहाल आग पर काबू पा लिया गया है. आग इतनी भयंकर थी कि मौके पर दमकल की 30 गाड़ियां मौजूद थी. फायर ऑफिसर के मुताबिक आग देर रात 2:38 बजे लगी. हालांकि अभी तक आग लगने के कारण का पता नहीं चला है.

 कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अहमदाबाद में एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प को लेकर बुधवार को आरोप लगाया कि बीजेपी सरकार गुंडों को खुला संरक्षण दे रही है.

उन्होंने घटना से जुड़ा एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, '' बीजेपी सरकार गुंडों को खुला संरक्षण दे रही है. पहले इनके मंत्री गुंडों को जेल से छूटने के बाद फूल माला पहनाते थे. अब तो सड़क पर ही कानून की आंख पर पट्टी बांध दी गई है. "

 

गौरतलब है कि जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) हिंसा के खिलाफ मंगलवार को अहमदाबाद में आयोजित एक प्रदर्शन के दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और उसके प्रतिद्वंद्वी नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया के सदस्यों के बीच झड़प हो गई जिसमें 10 से अधिक व्यक्ति घायल हो गए.

गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस ने मंगलवार को जबर्दस्ती हटा दिया। इन्हें यहां से हटाकर आजाद मैदान ले जाया गया। प्रदर्शनकारी रविवार रात से यहां धरना दे रहे थे। पुलिस ने गेटवे पर प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की है। वहीं, प्रदर्शन के दौरान ‘फ्री कश्मीर’ का पोस्टर लहराने पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव सरकार को घेरा है।  मुंबई में हम अलगाववादी तत्वों को बर्दाश्त कैसे कर सकते हैं? फ्री कश्मीर के पोस्टर मुख्यमंत्री कार्यालय से महज 2 किमी दूर लहराए गए। उद्धव जी, क्या आप अपनी नाक के नीचे भारत विरोधी अभियान पर सहमति जताएंगे?’’ वहीं,  फ्री कश्मीर के पोस्टर पर भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने कहा, ‘‘मैंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है, उन्होंने मुझे जांच का आश्वासन दिया है।’’ 

          गेटवे पर प्रदर्शन के दौरान ‘फ्री कश्मीर’ का पोस्टर नजर आने के बाद मचे बवाल पर शिवसेना की ओर से सांसद संजय राउत ने बचाव किया है। राउत ने कहा, ‘‘वे कश्मीर में इंटरनेट,मोबाइल सेवा पर बैन से आजादी चाहते हैं, भारत से कश्मीर की आजादी की बात बर्दाश्त नहीं है।’’ वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरुपम ने कहा कि ऐसे पोस्टर देश भर में चल रहे छात्र आंदोलन को बदनाम कर सकते हैं। आंदोलन गुमराह हो सकता है।

शिव सेना, एनसीपी प्रमुख शरद पवार को राष्ट्रपति के रूप में देखना चाहती है. 2022 में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनाव के लिए शिव सेना गैर बीजेपी पार्टियों को एकजुट करके पवार को बतौर राष्ट्रपति उम्मीदवार पेश करना चाहती है. इसके लिए जल्द ही शिव सेना सांसद संजय राउत कई राज्यों का दौरा करने वाले हैं. शिव सेना का मानना है कि देश में गैर बीजेपी राज्यों की संख्या बढ़ी है. इस वजह से राष्ट्रपति चुनाव के समय संख्याबल पवार की ओर झुक सकता है. राउत इस सिलसिले में जल्द ही पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और केरल के सीएम पिनराई विजयन से मुलाकात करेंगे. एनसीपी के महासचिव एडवोकेट मजीद मेमन ने पवार को राष्ट्रपति बनाने के प्रयास की तस्दीक की है. मेमन ने ट्वीट करके कहा कि पवार को राष्ट्रपति बनाने की ओर उठाये जाने वाले कदम सकारात्मक परिणाम लाएंगे और गैर बीजेपी ताकतों को एकजुट करेंगे. 2024 में बीजेपी को हराने में भी इसकी भूमिका रहेगी. महाराष्ट्र की मौजूदा महाविकास गठबंधन की सरकार शरद पवार की ही देन है. उन्होंने ही शिव सेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की पेशकश की थी. गठबंधन में कांग्रेस को साथ लेने के लिए पवार ने ही सोनिया गांधी को मनाया था. सियासी हलकों में माना जा रहा है कि चूंकि पवार ने उद्धव ठाकरे को सीएम बनवाया इसलिए अब ठाकरे पवार को राष्ट्रपति बनवा कर एहसान चुका रहे हैं.

 

राजधानी दिल्ली की जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में छात्रों पर हमले के बाद साबरमती हॉस्टल के वॉर्डन आर मीणा ने इस्तीफा दे दिया है. यूनिवर्सिटी कैंपस में बदमाशों के हमले से आर मीणा बेहद नाराज़ हैं. आर मीणा ने कहा है कि यूनिवर्सिटी कैंपस में आजतक कभी ऐसा नहीं हुआ जैसा कल हुआ है. जेएनयू में हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी में छात्र, शिक्षक और स्टाफ बेहद नाराज हैं. ये लोग कल शाम से लगातार दिल्ली पुलिस से आरोपियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं. इस मामले में आज सुबह दिल्ली पुलिस ने दंगा करने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है. वहीं, हिंसा को लेकर शुरू हुए विवाद के बीच पहली बार यूनिवर्सिटी के वीसी एम. जगदीश कुमार ने चुप्पी तोड़ी है. वीसी जगदीश कुमार ने कहा, ''सभी छात्रों से अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें. यूनिवर्सिटी सभी छात्रों को अकादमिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने की सुविधा प्रदान करने के लिए खड़ा है. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि उनका शीतकालीन सत्र पंजीकरण बिना किसी बाधा के संपन्न होगा.'' उन्होंने कहा, ''छात्रों को अपनी प्रक्रिया को लेकर डरने की जरूरत नहीं है. विश्वविद्यालय की सर्वोच्च प्राथमिकता हमारे छात्रों के शैक्षणिक हितों की रक्षा करना है.''

जेएनयू कैंपस के बाहर सुरक्षाकर्मियों की भारी तैनाती की गई है. यूनिवर्सिटी के अधिकारी केवल वैध पहचान पत्र वाले छात्रों को ही परिसर के अंदर जाने की अनुमति दे रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक छात्रावासों, प्रशासनिक खंड और अन्य महत्वपूर्ण स्थानों के बाहर सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है. सूत्रों ने बताया कि मीडिया सहित किसी भी बाहरी लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित है.

 

 पहले उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में, फिर बिहार के मुजफ्फरपुर में, फिर राजस्थान के कोटा में सैकड़ों बच्चों की असामयिक मौत हुई. अब गुजरात के राजकोट में भी मासूमों की मौत की घटना सामने आ गई है. बताया जा रहा है कि राजकोट में एक साल में सिविल अस्पताल में 1235 बच्चों की मौत हो गई है. हैरान करने वाला ये आंकड़ा जनवरी 2019 से दिसंबर 2019 के बीच का है. सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि सिर्फ दिसंबर महीने में 134 बच्चों की मौत हुई है. लेकिन जब इसे लेकर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली.

आंकड़ों के मुताबिक राजकोट सिविल अस्पताल में एक साल में 1235 बच्चों की मौत हुई है. जिसमें....

जनवरी 2019- 122 बच्चों की मौत
फरवरी 2019- 105 बच्चों की मौत
मार्च 2019- 88 बच्चों की मौत
अप्रैल 2019- 77 बच्चों की मौत
मई 2019- 78 बच्चों की मौत
जून 2019- 88 बच्चों की मौत
जुलाई 2019- 84 बच्चों की मौत
अगस्त 2019- 100 बच्चों की मौत
सितंबर 2019- 118 बच्चों की मौत
अक्टूबर 2019- 131 बच्चों की मौत
नवंबर 2019- 101 बच्चों की मौत
दिसंबर 2019- 134 बच्चों की मौत हुई है.

इसके अलावा अहमदाबाद सिविल अस्पताल में तीन महीने में 265 बच्चों की मौत हुई है. जिसमें....

अक्टूबर 2019- 93 बच्चों की मौत
नवंबर 2019- 87 बच्चों की मौत
दिसंबर 2019- 85 बच्चों की मौत हुई है.

बता दें कि इससे पहले राजस्थान के कोटा के जे के लोन अस्पताल में कल हुई तीन बच्चों की मौत के बाद दिसंबर से लेकर अब तक 110 बच्चों की मौत हो गई है. इस साल जनवरी में यानी चार दिनों में दस बच्चों की मौत हो गई है. मीडिया में खबर दिखाए जाने के बाद अस्पताल प्रशासन की ओर से कदम उठाए जा रहे हैं. सिर्फ कोटा ही नहीं बल्कि राजस्थान के अलग-अलग जिलों से भी बच्चों की मौत की खबर आ रही है. कोटा के बाद कल बूंदी से बच्चों की मौत की खबर आई थी.

नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने सदफ जफर, एस आर दारापुरी और पवन राव को नागरिकता कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुए हिंसा के मामले में गिरफ्तारी को लेकर सवाल उठाया है. चिदंबरम ने दोनों की गिरफ्तारी को शर्मनाक बताया है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने चौंकाने वाली बयान दिए हैं कि उनकी संलिप्तता के कोई साक्ष्य नहीं है.

उन्होंने ट्वीट किया, ''सदफ जफर, एस आर दारापुरी और पवन राव आम्बेडकर को पुलिस की इस बयान के बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया कि हिंसा में उनकी संलिप्तता के कोई सबूत नहीं हैं. यह चौंका देने वाली स्वीकारोक्ति है.'' चिदंबरम ने कहा, ''यदि ऐसा था, तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार ही क्यों किया? और मजिस्ट्रेट ने सबूत देखे बिना उन्हें हिरासत में कैसे भेज दिया?'' उन्होंने कहा, ''कानून कहता है कि 'पहले सबूत, बाद में गिरफ्तारी' लेकिन हकीकत में 'पहले गिरफ्तार करो, बाद में सबूत ढूंढो' है. शर्मनाक.''

नई दिल्ली: क्या पिछले एक दो दिन में धूप देख कर आपने अपने गर्म कपड़े उठा कर अलमारी में रख दिए हैं? तो बाहर निकाल लीजिए क्योंकि मौसम विभाग ने कहा है कि बारिश होने वाली है जिसके बाद ठंड थोड़ा बढ़ जाएगी. माना जा रहा है कि वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के कारण बारिश आने वाली है. पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी के कारण मौसम में ठंड बढ़ेगी और जनवरी भी दिसंबर की तरफ काफी ठंडा रहेगा. दिल्ली में इन दिनों ठंड थोड़ा कम हुई है और गुनगुनी धूप देख कर लोग सोच रहे हैं कि शायद भयंकर ठंड के दिन चले गए. पिछले एक-दो दिन काफी धूप रही जिसने लोगों को काफी राहत दी. जहां अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस से थोड़ा अधिक रहा वहीं नून्यतम तापमान करीब 8 डिग्री सेल्सियस रहा. शनिवार को 12 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा भी रही.

अब मौसम विभाग ने कहा है कि दिल्ली और आस पास के इलाकों में 7 व 8 जनवरी को बारिश हो सकती है. इसके कारण कोहरा काफी बढ़ जाएगा और साथ ही ठंड में भी काफी इजाफा हो जाएगा. दरअसल 6 जनवरी को पश्चिमी विक्षोभ पैदा होगा जो दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत के मौसम को बदल देगा. इसी पश्चिमी विक्षोभ के कारण पहाड़ों में बर्फ गिर सकती है और मैदानों में ठंड काफी बढ़ सकती है. तो यानि अगर आपने सोचा था कि ठंड अब कम हो जाएगी तो ऐसा नहीं है बल्कि ठंड तो उल्टे बढ़ सकती है. हालांकि देखना ये होगा कि बढ़ी हुई ठंड कितने दिनों तक दिल्ली और उत्तर भारत को ठिठुराएगी. आपको बता दें कि कोहरे के कारण पिछले दिनों काफी हादसों की भी खबरें सामने आई थीं और ठंड के कारण जनजीवन काफी प्रभावित रहा था. हालांकि भारत के तटीय इलाकों में ठंड का प्रकोप उतना नहीं रहता है लेकिन उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड पड़ती है. पहाड़ों के अलावा दिल्ली और पूरे यूपी में काफी अधिक ठंड रहती है. माना जाता है कि गंगा यमुना का दोआब क्षेत्र होने के कारण भी यहां ठंड अधिक रहती है.

मुंबईः पुलिस स्टेशन में दर्ज तमाम केस ऐसे होते हैं जिनकी जांच से पुलिस निराश हो चुकी होती है और फाइल लगभग तमाम नये आने वाले मामलों के बीच दब जाती है. लेकिन कभी कभी ऐसा भी होता कि पुलिस के हाथ अचानक कुछ ऐसा लग जाता है कि सालों पहले का मामला एक झटके में सुलझ भी जाता है. ऐसा ही एक मामला सामने आया है मुंबई के पास वसई पुलिस की हद में. डेढ़ साल पहले पुलिस को एक जंगल में बोरी में बंद एक लाश मिली. बोरी में बंद लाश का पता 6 महीने बाद लगा जब जंगल में कुछ लोगो ने उसे को देखा. लाश पूरी तरह से हड्डियों में तब्दील हो चुकी थी. पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया.
सिर्फ हड्डियों की बिनाह पर पुलिस को इस हत्या की जांच करना और हत्यारे तक पहुंचना बेहद कठिन लग रहा था. पुलिस इस मामले को लगभग भूल चुकी थी लेकिन इस हत्या के डेढ़ साल बाद पुलिस के हाथ एक ऐसा अपराधी लगा जिसने इस हत्या के राज खोल दिये.
दरअसल ठाणे पुलिस ने एक चोरी के मामले में एक चोर को हिरासत में लिया. पुलिस इस आरोपी से पूछताछ कर रही थी लेकिन इसी पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया की उसने सिर्फ चोरी नही की बल्कि डेढ़ साल पहले अपनी पहली पत्नी की हत्या भी की है. लाश को उसने बोरी में भरकर मुंबई अहमदाबाद हाइवे पर वसई के एक जंगल में फेंक दिया था. इस आरोपी ने पुलिस की बताया कि उसने अपनी पत्नी की हत्या गला दबाकर की थी, जिसमें उसका साथ उसकी पहली पत्नी ने दिया था. पुलिस ने जब फाइल निकाली तो पता चला ये वही मामला है जिसमें लाश हड्डियों में तब्दील हो गयी थी.
वैसे पुलिस के साथ ऐसा कम ही होता है जब वो किसी एक मामले की जांच कर रही हो और दूसरा मामला भी सुलझ जाये. फिलहाल अदालत ने इस आरोपी को 6 जनवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है और पुलिस आगे की जांच कर रही है.

 एक 60 साल के व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। यह घटना मुंबई के बांद्रा इलाके में में सामने आई है।आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।पुलिस के अनुसार, यह घटना तब सामने आई जब एक अस्पताल ने जानकारी दी कि एक महिला उनके यहां गंभीर हालत में भर्ती कराया गया| कथित तौर पर व्यक्ति ने दुष्कर्म किया। फिलहाल इस मामले में केस भी दर्ज कर लिया गया है। आगे की जांच जारी है। उपनगरीय बांद्रा में अपने फ्लैट में महिला के साथ कई बार दुष्कर्म किया, जहां वह अकेली रहती है। पुलिस ने कहा कि आरोपी ने महिला के साथ काफी क्रूर तरीके से दुष्कर्म किया। अधिकारी ने कहा कि घटना तब सामने आई जब महिला बुरी तरह से बीमार हो गई, जिसके बाद आरोपी उसे भाभा अस्पताल ले गया।   

 पुणे में भोर से कांग्रेस विधायक संग्राम थोपटे के नाराज़ समर्थकों ने थोपटे को मंत्री न बनाए जाने पर कांग्रेस दफ्तर में जबरदस्त तोड़फोड़ की| पुलिस ने कई समर्थकों को गिरफ्तार किया है| 
        तीन दिन पहले ही ठाकरे सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार हुआ है| 32 दिन लगे गठबंधन सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में लेकिन जब हुआ तो कांग्रेस में भारी आक्रोश मच गया| करीब 25-30 कार्यकर्ता कांग्रेस दफ्तर में घुसे और सामने जो भी दिखा उसे तोड़ दिया| पुणे में तोड़फोड़ हुई तो सोलापुर में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को समर्थकों ने खून से खत लिखा| कांग्रेस विधायक प्रणिति शिंदे के समर्थको ने अपने खून से सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी है और एतराज जताया है कि प्रणिति शिंदे के साथ नाइंसाफी हुई है| प्रणीति शिंदे को सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल नही किया गया| प्रणिति शिंदे कांग्रेस के कद्दावर नेता सुशील शिंदे की बेटी हैं| 


 

   एक्सिस बैंक में वरिष्ठ पद पर आसीन अमृता फडणवीस और शिवसेना के बीच ट्विटर पर शुरू हुई लड़ाई बढ़ती जा रही है। ताजा जानकारी के मुताबिक, अमृता के ट्वीट से नाराज शिवसेना ने ठाणे नगर निगम के सभी कमर्चारियों का वेतन खाता एक्सिस बैंक से हटाकर एक राष्ट्रीयकृत बैंक में स्थानांतरित करने का फैसला किया है। बता दें कि ठाणे नगर निगम में शिवसेना की सत्ता है।  नगर निगम के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को इसकी पुष्टि की है। 
        गुरुवार को एक बैठक में अधिकारियों को खातों को एक्सिस बैंक से किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में स्थानांतरित करने का निर्देश दिया है। यही नहीं सूत्रों के मुताबिक, एक्सिस बैंक को महाराष्ट्र पुलिस विभाग के सालाना 11 हजार करोड़ रुपए के वेतन खाते से हाथ धोना पड़ सकता है क्योंकि उद्धव ठाकरे नीत सरकार इस राशि को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में स्थानांतरित करने पर विचार कर रही है। 
     शिवसेना नगरसेवक अमेय घोलप ने अमृता की तुलना पेशवा रघुनाथ राव की 'बुद्धि भ्रष्ट' करने वाली आनंदी बाई से कर डाली। वहीं युवा सेना के नेता वरुण सरदेसाई ने ट्विटर पर लिखा, 'मराठी बिग बॉस के ऑडिशन शुरू हो गए हैं क्या? भूतपूर्व होने के बाद अब कोई इंडियन आइडल के लिए तो खड़ा करेगा नहीं, इसलिए बिग बॉस के लिए चलने दो।' यही नहीं उनकी तस्वीर पर चप्पलों से पिटाई की गई। जिसका वीडियो अमृता ने अपने ट्विटर पर शेयर कर शिवसेना को जवाब दिया था

     मुंबई में आज भी CAA के खिलाफ प्रदर्शन जारी रहेगा, इतना ही नहीं आज मुंबई में समर्थन में रैली भी होनी है| दोनों ही प्रदर्शन मुंबई के आजाद मैदान में होंगे| एक तरफ जहां विरोध में इंकलाब मोर्टा निकाला जाएगा, तो वहीं समर्थन में जनसभा होनी है, जिसमें देवेंद्र फडणवीस शामिल होंगे| दोपहर दो बजे ये इंकलाब मोर्चा निकाला जाएगा| इसके अलावा ज्वाइंट एक्शन कमेटी फॉर सोशल जस्टिस की ओर से CAA के विरोध में मार्च निकाला जाएगा| ये मार्च रानी बाग से लेकर CSMT तक जाएगा| 
     तो आज समर्थन में भी रैली होगी| शाम चार बजे आज अगस्त क्रांति मैदान संविधान सम्मान मंच की ओर से नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन में रैली का आयोजन किया गया है| इसमें पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस भी शामिल होंगे| रैली के बाद यहां मार्च भी निकाला जाएगा जो आजाद मैदान से होता हुआ चौपाटी तक जाएगा| 


 

       गुरुवार को उन्होंने कहा कि अभिमान लोगों को अक्सर सर्वनाश की राह पर ले जाता है| राउत ने यह टिप्पणी संशोधित नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी  के विरोध में जारी प्रदर्शनों को लेकर बीजेपी के सख्त रवैये को लेकर की| शिवसेना के नेता संजय राउत ने एक बार फिर बीजेपी पर निशाना साधा है| उन्होंने शायराना अंदाज में ट्वीट करते हुए लिखा, ‘तूफान में कश्तियां और घमंड में हस्तियां अक्सर डूब जाती हैं|’ पिछले दिनों महाराष्ट्र में सरकार गठन और मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना ने बीजेपी से अपना नाता तोड़ लिया था| जिसके बाद दोनों के बीच तीस साल पुराना गठबंधन खत्म हो गया था| शिवसेना ने लंबी माथापच्ची के बाद एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन सरकार का गठन किया था| 


 

     गुरुवार को वंचित बहुजन अघाड़ी के कार्यकर्ताओं ने मुंबई में प्रदर्शन किया। दादर में बड़ी संख्या में प्रकाश अंबेडकर की पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे। उधर, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कोलकाता में मार्च निकाला। उन्होंने कहा कि मैं सभी छात्रों से अपील करती हूं कि अपने अधिकारों के लिए लोकतांत्रिक तरीके से विरोध जारी रखें। इसमें बड़ी संख्या में आदिवासी समाज से जुड़े लोग भी पहुंचे। उन्होंने नृत्य के जरिया प्रतीकात्मक तौर पर सीएए और एनआरसी का विरोध दर्ज कराया। इससे पहले 24 दिसंबर को प्रकाश अंबेडकर मातोश्री में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मिले थे। इसके अलावा ममता ने मैंगलोर में बीते शुक्रवार को हिंसक प्रदर्शन में मारे गए दो लोगों के परिवार को 5-5 लाख रु. मदद देने की घोषणा की।

महाराष्ट्र के सांगली में भिड़े ने कहा कि राष्ट्रवाद की बात आने पर हिंदू समाज सौ प्रतिशत नपुंसक हो जाता है। जैसे नपुसंक आदमी को बच्चा नहीं हो सकता, उसी तरह राष्ट्रहित की बात आने पर हिंदू समाज यही रवैया दिखाता है। दक्षिणपंथी नेता संभाजी भिड़े 'गुरूजी' ने फिर एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है नागरिकता कानून की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि जब राष्ट्रवाद की बात आती है तो हिंदू समाज नपुंसक हो जाता है। भिड़े ने कहा कि भारत में मुसलमानों से राष्ट्रवाद की उम्मीद करना 'बेवकूफी' है।

       बता दें कि गुरूजी का नाम भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में भी आ चुका है। भिड़े शिव प्रतिष्ठान हिन्दुस्तान के प्रमुख हैं और साल 2018 के भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में आरोपी हैं। उन्होंने कहा कि हिंदू सीएए को लेकर बहुत इच्छुक नहीं दिखते हैं। हालांकि अधिकतर मुसलमान जो पहले मूल रूप से हिंदू थे, वे सीएए का विरोध कर रहे हैं। भारत में मुस्लिमों से राष्ट्रवाद की अपेक्षा करना बेवकूफी है। भिड़े ने कहा कि भारतीय आत्मकेंद्रित लोग होते हैं। 

एक महिला सफाई कर्मचारी कूड़ेदान से कचरा उठा रही थी, तभी उसे एक पतले कपड़े में कुछ हिलता हुआ दिखाई दिया| सफाई कर्मचारी ने तुरंत पुलिस को इस बात की जानकारी दी| इसके बाद पुलिस कूड़ेदान में से नवजात को एक आश्रम में देखभाल एवं इलाज के लिए पहुंचाई| 
         लक्ष्मी ने कूड़ेदान में देखा कि कोई चीज हिल रही है| नवजात के गले को कपड़े से कसकर बांधा गया था| उसने आशंका जताई कि जल्दबाजी में किसी ने हत्या करके उसे छोड़ दिया| नवजात का ससून अस्पताल में इलाज कराया गया| बाद में उसे एक आश्रम मे भेजा गया जहां ऐसे अन्य अनाथ बच्चों के साथ ये नवजात जिंदगी की शुरुआत करेगा| 

      पुणे की सत्र अदालत में यलगार परिषद और भीमा कोरेगांव मामले के आरोपियों के खिलाफ ड्राफ्ट आरोप पत्र दायर किया है। अरुण थॉमस फेरेरिया, रोना जैकब विल्सन, सुधीर प्रल्हाद धवले उन 19 आरोपियों में से हैं जिनके खिलाफ आरोप तय किए गए हैं।  
       पुलिस के मुताबिक अभी भी कुछ माओवादी गुट से जुड़े लोग इसमें गिरफ्तार नहीं हो सके हैं। पूर्व पीएम राजीव गांधी की हत्या के तरह ही रोड शो के दौरान पीएम मोदी की हत्या की साजिश रच रहे थे। आरोपियों में मानवाधिकार वकील, शिक्षाविद और लेखक शामिल हैं। पुलिस ने इनका संबंध प्रतिबंधित सीपीआई, कबीर कला मंच से बताया है। 
   

मुंबई- 14 मार्च 2019 में हुए फुट ओवरब्रिज गिरने के मामले में गिरफ्तार ऑडिटर नीरज देसाई और तीन अन्य बीएमसी इंजीनियरों को 50-50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है।  बृहन्मुंबई नगर निगम की प्रारंभिक रिपोर्ट में सेफ्टी ऑडिट में लापरवाही सामने आई थी। हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई थी और 30 से अधिक लोग घायल हुए थे मार्च में ही बीएमसी के कार्यकारी अभियंता अनिल पाटिल, सहायक अभियंता संदीप काकुल्ले और मुख्य अभियंता  शीतल प्रसाद कोरी को भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया था। 
 

शिवसेना ने भी मोदी सरकार पर हमला बोला है| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में जारी विरोध प्रदर्शन को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है| उन्होंने कहा कि छात्रों में युवा बम जैसी ताकत है| हम केंद्र सरकार से अनुरोध करते हैं कि छात्रों के साथ जो हो रहा है वैसा न करें | उद्वव ठाकरे "जामिया मिलिया इस्लामिया में जो हुआ वह जलियांवाला बाग की तरह है| छात्रों में युवा बम जैसी ताकत है| हम केंद्र सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह छात्रों के साथ जो कर रही है वैसा न करें|"

मुंबई- एक ओर जहां नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूर्वोत्तर में हिंसक प्रदर्शन जारी है, वहीं कुछ राज्य सरकारों ने इसे सूबे में लागू करने से इनकार किया है। पश्चिम बंगाल, केरल और पंजाब के बाद महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश सरकार ने संकेत दिए हैं कि वह इस कानून को लागू नहीं करने का फैसला कर सकते हैं। महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में मंत्नी बाला साहेब थोराट के साथ एमपी के मुख्यमंत्नी कमलनाथ ने इस बात के संकेत दिए हैं। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा, नागरिकता (संशोधन) विधेयक को संसद में पारित करके और इसके कानून बना कर केंद्र सरकार हमें इसे मानने के लिए बाध्य नहीं कर सकती। उधर, छत्तीसगढ़ ने भी इसे नहीं लागू करने का संकेत दिया है। ऐसे में अब कुल 6 राज्य ऐसे हो गए हैं, जो इस कानून के सीधे विरोध में दिख रहे हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, कांग्रेस पार्टी जो भी स्टैंड नागरिकता कानून पर लेगी, हम उसका पालन करेंगे। हम उस प्रक्रि या का हिस्सा नहीं होना चाहते, जिसका बीज भेदभाव हो। वहीं बाला साहेब थोराट ने कहा, हम पार्टी नेतृत्व की नीति का पालन करेंगे। गौरतलब है कि कांग्रेस ने इस बिल का पुरजोर विरोध किया है। उधर, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्नी भूपेश बघेल ने भी कहा है कि इस कानून पर पार्टी नेतृत्व का निर्णय ही उनका भी निर्णय है। पंजाब और केरल में लागू नहीं होगा नागरिकता कानून इससे पहले पंजाब के सीएम कैप्टन सिंह के ऑफिस की ओर से गुरु वार को यह ऐलान किया गया कि राज्य में इसे लागू नहीं किया जाएगा। वहीं, केरल के सीएम पिनरई विजयन ने भी कहा है कि उन्हें भी यह स्वीकार नहीं है। विजयन ने इसे असंवैधानिक बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार भारत को धार्मिक आधारों पर बांटने की कोशिश कर रही है।

मुंबई. महाराष्ट्र की उद्धव सरकार में मंत्नी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बाला साहब थोराट ने कहा, नागरिकता बिल पर वह पार्टी लाइन और सेंट्रल लीडरशिप के निर्णय को फॉलो करेंगे। महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा की संयुक्त सरकार है। इस विधेयक में संशोधन के मुद्दे पर शिवसेना लोकसभा में समर्थन और राज्यसभा में वॉकआउट कर चुकी है। कांग्रेस इस बिल के विरोध में खडी है। महाराष्ट्र में भी पार्टी इसका विरोध करेगी। ऐसी स्थिति में शिवसेना क्या कांग्रेस के साथ खुलकर खडी होती है यह देखना होगा। सूत्नों के मुताबिक, बुधवार को राज्यसभा में वोटिंग के दौरान शिवसेना के वॉकआउट के निर्णय से राहुल गांधी खुश नहीं थे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने उद्धव ठाकरे से दो टूक कहा था कि नागरिकता बिल जैसे मुद्दों पर पार्टी का स्टैंड भविष्य में गठबंधन को नुकसान पहुंचा सकता है। लोकसभा में बिल का समर्थन करने पर उद्धव ठाकरे ने कहा था कि पार्टी के सांसदों ने स्पष्टता नहीं होने के कारण समर्थन में वोट किया। लोकसभा से बिल पास होने के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, नागरिकता संशोधन विधेयक भारतीय संविधान को चोट पहुंचाने वाला है। जो भी इसका समर्थन कर रहे हैं वह हमारे देश की नींव को चोट पहुंचाने का काम कर रहे हैं|

मुंबई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी/एनसीपी ने कहा, लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पर महाराष्ट्र विकास अघाडी के घटक दलों कांग्रेस और एनसीपी से शिवसेना के अलग रु ख के बावजूद राज्य सरकार की स्थिरता पर असर नहीं पड़ेगा| वह पांच साल तक चलेगी| एनसीपी ने कहा, शिवसेना द्वारा लोकसभा में विधेयक का समर्थन किए जाने के बाद राज्यसभा से वॉक आउट करना उनके रु ख में बदलाव को दिखाता है| बता दें, शिवसेना ने सोमवार को नागरिकता (संशोधन) विधेयक का समर्थन किया था, लेकिन बुधवार को राज्यसभा में मतदान के दौरान उसने वॉक आउट कर दिया था| विधेयक में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले गैर मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है| दोनों सदनों की मंजूरी के बाद इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है| शिवसेना के रुख में बदलाव खबर थी, कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व ने विधेयक पर शिवसेना के रुख पर नाराजगी व्यक्त की थी| एनसीपी के प्रमुख प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि शिवसेना का बुधवार को राज्यसभा से वॉक आउट करना दिखाता है कि उसके रु ख में बदलाव आया है| एनसीपी नेता मलिक ने दोहराया, राज्य सरकार सुनिश्चित करेगी कि किसी को भी धर्म, क्षेत्न, जाति और भाषा के आधार पर अन्याय का सामना न करना पड़े| वहीं, एनसीपी की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख जयंत पाटिल ने कहा, उन्हें नागरिकता विधेयक पर शिवसेना के अलग रुख के मामले में गलत नहीं दिखता|

बिल पास करवाने के लिए बीजेपी को कई अन्य पार्टियों के सहयोग की जरूरत है| इस बीच शिवसेना के रुख ने भी सस्पेंस बढ़ा दिया है| पहले संजय राउत ने कहा कि लोकसभा में जो हुआ वो भूल जाइए| उसके बाद खुद पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी बिल पर सवाल उठा दिए| उद्धव ठाकरे ने कहा, ''लोकसभा में हमारे कुछ सवाल हैं जो हमने पूछे है पर कल गृह मंत्री ने सब पार्टियों के जवाब दिए है लेकिन शिवसेना के सवालों का जवाब नहीं दिया| बीजेपी को भ्रम में नहीं रहना चाहिए कि जो वो कर रही है सब ठीक है|'' उन्होनें कहा कि हमारे सवालों पर जब तक स्पष्टता नहीं आ जाती तब तक हम समर्थन नहीं करेंगे|

औरंगाबाद में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी की हत्याकर शव को टुकड़ों में बांटकर नाले में बहा दिया| इस मामले में पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है| पुलिस का कहना है कि आरोपी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है| पुलिस ने बताया कि आरोपी ने पहले अपनी पत्नी की हत्या कर शव को घर के फ्रिज में छुपा दिया| इसके बाद शव के टुकड़े कर उसे नाले में फेंक दिया| इस दौरान आरोपी ने शव के टुकड़ाें को कथित तौर पर जलाने का भी प्रयास किया| करीब सात दिनों तक वह पत्नी के शव को फ्रिज में ही रखे रखा| इस दौरान वह शव के टुकड़ाें को नाले में फेंकता रहा| इन सात दिनों में उसके मासूम बच्चे भी उसी घर में थे जहां पर लाश फ्रिज में रखी गई थी| पुलिस ने बताया कि आरोपी उस समय पकड़ में आया जब वह तड़के नाले के पास बाल्टी लेकर अपने दो बच्चों के साथ खड़ा था| इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया|

शिवसेना के राज्यसभा सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने 'घुसपैठियों' को मतदान का कोई भी अधिकार देने का विरोध किया है| लेकिन, उन्होंने शरणार्थी हिंदुओं को नागरिकता देने की वकालत की है| संजय राउत ने सोमवार को ट्वीट कर कहा, 'घुसपैठियों को बाहर निकालना चाहिए| शरणार्थी हिंदुओं को नागरिकता दी जानी चाहिए, लेकिन वोट बैंक बनाने के आरोपों को विश्राम दें और उन्हें मतदान का अधिकार न दिया जाए|' शिवसेना के वरिष्‍ठ नेता ने कश्‍मीरी पंडितों का भी मुद्दा उठाया| उन्‍होंने कहा कि क्या अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद कश्मीरी पंडित कश्मीर लौटै? राउत की टिप्पणियों को महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि वह शिवसेना के मुख्य सचेतक भी हैं| नागरिकता विधेयक के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक उत्पीड़न के शिकार गैर मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है| लोकसभा में आज नागरिकता संशोधन विधेयक पर दिनभर चर्चा हो रही है|

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में शनिवार को तेलंगाना पुलिस की तारीफ करते हुए लिखा कि पुलिस जिंदाबाद, पीड़िता को न्याय मिला है| पुलिस जिंदाबाद के नारे लगाते हुए जनता पुलिस पर फूल बरसा रही है| उन्होंने भागने की कोशिश की तो पुलिस ने उन पर गोलियां चलाकर एनकाउंटर कर दिया| शिवसेना ने सामना में कहा कि इस कहानी पर कोई विश्वास नहीं करेगा लेकिन चार नराधमों का खात्मा हो गया इसलिए लोगों ने खुशी जाहिर की है| शिवसेना ने कहा कि इस मामले को लेकर अब दो गुट बन गए हैं| जिसमें एक तरफ लोगों का कहना है कि पुलिस ने ‘न्याय’ देने के लिए कानूनी रास्ता नहीं अपनाया| हालांकि पुलिस ने जो गैरकानूनी रास्ता अपनाया, वही जनभावना है| शिवसेना ने कहा, मुठभेड़ हुई या नहीं यह विवाद छोड़ दें| हम खुद भी इस मुठभेड़ पर विश्वास करने को तैयार नहीं हैं| लेकिन हैदराबाद पुलिस ने चारों आरोपियों को हमेशा के लिए खत्म कर दिया तो उसका स्वागत करना चाहिए|

प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं| 150 रु पये किलो प्याज होने के चलते आम लोगों के आंखों में पानी आ रहा है| ऐसे में अगर कोई प्याज की जमाखोरी करता है तो उसपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी, ऐसी चेतावनी पुणो कृषि उपज मंडी के प्रशासक बी. जे. देशमुख ने दी. देशमुख ने कहा कि, विभिन्न कारणों से इस समय प्याज के दाम काफी बढ़ गए है| प्याज के दाम कम होने की दृष्टि से केंद्र सरकार की ओर से पहल भीकी जा रही है| थोक तथा खुदका व्यापारियों को प्याज की खरीददारों की प्याज की बिक्र ी पर कुछ सीमा लगाई गई है| थोक व्यापारीयों को 50 प्रतिशत तथा खुदरा व्यापारियों को 5 प्रतिशत तक प्याज जमा करने की सीमा लगाई गई है| इन फैसलों से जल्द ही प्याज के दाम कम होंगे, ऐसी आशा है| लेकिन इन निर्देशों के बावजूद भी अगर कोई व्यापारी प्याज की जमाखोरी करता है, तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी, ऐसी चेतावनी देशमुख ने दी है|

महाराष्ट्र एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने सिंचाई घोटाले में पूर्व डिप्टी सीएम अजित पवार को क्लीन चिट दी|बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में 27 नवंबर को एसीबी ने हलफनामा दायर किया, जिसमें कहा गया कि एजेंसियों के भ्रष्टाचार के लिए अजित पवार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि उनका कोई कानूनी कर्तव्य नहीं था| हाल में एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) के प्रमुख और मुंबई के पुलिस कमिश्नर संजय बारवे ने भी कुछ साल पहले कोर्ट में हलफनामा दायर किया था| एसीबी के हलफनामे में कहा गया था कि गोसीखुर्द और जीगाव परियोजनाओं के लिए टेंडर की फाइल पर अजित पवार ने साइन किए| अब नए हलफनामे में कहा गया है कि विदर्भ इरिगेशन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (वीआईडीसी) के सभी प्रावधानों का पालन किया गया| इसलिए उनका ऑब्जर्वेशन खारिज किया गया. गौरतलब है कि अजित पवार इस घोटाले में आरोपी थी| जब भाजपा की सरकार थी, तब मुख्यमंत्नी देवेंद्र फडणवीस भ्रष्टाचार के इन्हीं मामलों में अजित पवार को जेल भेजने की बात करते रहे| हालांकि बाद में फडणवीस ने इन्हीं अजित पवार के समर्थन से सरकार बनाई और पवार को उपमुख्यमंत्नी बनाया| पवार को क्लीन चिट देने की भी तभी शुरु आत हो गई थी| एसीबी ने अजित पवार से जुड़े कई मामलों में जांच बंद करने की घोषणा कर दी थी|

मुंबई. महाराष्ट्र में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे नीत महाराष्ट्र विकास आघाडी (एमवीपी) सरकार के शपथ ग्रहण के हफ्ते भर बाद भी मंत्रियों को विभाग आवंटित नहीं करने पर विपक्षी भाजपा ने सत्तारूढ़ गठबंधन की आलोचना की है| भाजपा नेता आशीष शेलार ने छह मंत्रियों को विभाग आवंटित करने में नाकाम रहने के लिए ठाकरे नीत सरकार की गुरु वार को आलोचना की| शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा ने मिलकर एमवीए गठबंधन बनाकर सरकार गठित की है, जिसने पिछले महीने के आखिर में शपथ ली| मंत्रियों को अब तक विभाग आवंटित नहीं किए गए हैं| दो मंत्रियों ने कहा, एक-दो दिन में विभाग आंविटत कर दिए जाएंगे| शेलार ने कहा, ‘एमवीए ने सरकार बनाने के समय निर्दिलयों से वादा किया था, लेकिन शपथ ग्रहण समारोह के आठ दिन बाद भी, एक भी मंत्नी को विभाग आवंटित नहीं किया गया है| ’उन्होंने दावा किया कि एमवीए में शामिल तीनों पार्टियों के विधायकों में ‘बहुत असंतोष’ है| शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर को मुख्यमंत्नी के तौर पर शपथ ली थी| कई बैठकें भी बेनतीजा ठाकरे के साथ ही, शिवसेना से एकनाथ शिंदे, सुभाष देसाई, राकांपा से जयंत पाटिल और छगन भुजबल और कांग्रेस से बालासाहेब थोराट और नितिन राउत ने शपथ ली, लेकिन अब तक किसी को भी विभाग आवंटित नहीं किए गए हैं| एक सूत्न ने बताया कि छह मंत्रियों को जल्द की विभाग आवंटित किए जा सकते हैं| सूत्नों के मुताबिक, विभाग आवंटन पर चर्चा करने के लिए कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेताओं की इस हफ्ते के शुरू में दिल्ली में बैठक हुई थी| एक सूत्न ने बताया, ‘इस बैठक में राकांपा प्रमुख शरद पवार एवं प्रफुल्ल पटेल, कांग्रेस नेता अहमद पटेल, बालासाहेब थोराट, अशोक चव्हाण और नितिन राउत शामिल हुए थे| अंतिम फैसला लेने के बाद कोई निर्णय किया जाएगा|’ शिवसेना के होंगे 16 मंत्नी एमवीए के बीच समझौते के तहत, शिवसेना के मुख्यमंत्नी समेत 16 मंत्नी होंगे जबकि राकांपा के उपमुख्यमंत्नी समेत 15 मंत्नी होंगे, वहीं कांग्रेस को 12 मंत्नी पद मिलेंगे| साथ में विधानसभा अध्यक्ष भी उसका होगा| राज्य सरकार के मंत्रि-परिषद में 43 सदस्य हो सकते हैं, जो 288 सदस्यीय विधानसभा का 15 फीसदी है| सूत्नों के मुताबिक, राकांपा नेता अजित पवार की नजरें उपमुख्यमंत्नी पद पर हैं| उन्

नासिक. मुंबई से नागपुर को जोड़ने के लिए महाराष्ट्र में बन रहा 706 किमी लंबा समृद्धि महामार्ग (हाईवे) चर्चा में है। 3 सितंबर 2019 से इसका निर्माण शुरू हुआ, जो दो साल और चलेगा। इंजीनियर्स का दावा है कि इसे यातायात के लिए 2 सितंबर 2022 में खोल दिया जाएगा। इनके बनने से नासिक और मुंबई की दूरी तीन घंटे से घटकर महज डेढ़ घंटा रह जाएगी। इंजीनियर्स का कहना है कि हाईवे से 24 जिलों को लाभ होगा। यह 16 चरणों में बन रहा है। वर्तमान में इसके 14वें चरण का काम चल रहा है। हाईवे पर 7.8 किमी टनल भी बन रही है, जो नासिक के इगतपुरी से ठाणो को जोडेगी। इसमें दो टनल है, जिसमें फोर लेन आने के लिए और फोर लेन जाने के लिए होंगी। इसके हर 300 मीटर की दूरी पर इमरजेंसी एिक्जट बनाया जा रहा है।

मुंबई. शिवसेना को बुधवार को एक बडा झटका लगा है। धारावी में पार्टी के 400 कार्यकर्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है। ये सभी शिवसैनिक कांग्रेस और राकांपा के साथ मिलकर सरकार बनाने से नाराज थे। इसलिए छोडी पार्टी शिवसेना में विशेष कार्यकारी अधिकारी के रूप में काम कर चुके रमेश नादसन ने बताया- पार्टी के चार सौ समर्थक भाजपा में शामिल हो गए हैं। क्योंकि उन्हें लगा कि जब शिवसेना भ्रष्ट और हिंदू विरोधी दलों से हाथ मिला चुकी है। नादसन भी उन 400 लोगों में शामिल हैं। उन्होंने आगे बताया- मैं पार्टी के साथ इसलिए जुडा था क्योंकि हिंदुत्व उनके लिए सबसे बडा मुद्दा था। उन्होंने कहा कि सिर्फ 400 पार्टी कार्यकर्ता ही नहीं, बल्कि कई अन्य लोग भी शिवसेना से नाखुश हैं। वे जल्द ही भाजपा का हिस्सा बनने वाले हैं। उन्होंने कहा, कोई भी समर्थक की भावनाओं को नहीं समझता है, जो वास्तव में पार्टी के लिए काम करता है। पिछले सात वर्षों में हम राकांपा और कांग्रेस के खिलाफ लड़ रहे थे। चुनावों के दौरान हमने घर-घर जाकर पार्टी के लिए वोट मांगे। अब हम उन्हीं लोगों का कैसे सामना करेंगे, जिन्होंने ईमानदार सरकार के लिए वोट किया था। अन्य शिवसेना कार्यकर्ता ने कहा, हम राकांपा और कांग्रेस के साथ जाने के शिवसेना के फैसले से दुखी है। हम पार्टी इसलिए छोड रहे हैं क्योंकि शिवसेना ने अपना मूल एजेंडा यानि हिंदुत्व का मुद्दा छोड दिया है। इधर, सूत्रों के मुताबिक, कई दिनों तक चली बातचीत के बाद उद्धव सरकार में मंत्रालयों के बंटवारे का नया फॉर्मूला तय हो गया है. तीनों पार्टियों के बीच मंत्रालयों को लेकर सहमति बन गई है| महाराष्ट्र सरकार में जहां नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के पास सबसे ज्यादा मंत्रालय होंगे, वहीं कांग्रेस पार्टी के पास सबसे कम| एनसीपी के पास 16 मंत्रालय, शिवसेना के पास 15 और कांग्रेस के पास 12 मंत्रालय होंगे| हालांकि कैबिनेट विस्तार पर अब तक कोई फैसला सामने नहीं आया है| सूत्रों के मुताबिक विभागों के बंटवारे का फैसला सामने आ सकता है| वैसे तो एनसीपी ने डिप्टी सीएम पद की भी मांग की है लेकिन इस पद पर कौन शपथ लेगा, इस पर किसी के नाम पर सहमति बनती नजर नहीं आ रही है|

मंगलवार को उन्होंने कहा कि मैं पार्टी की सच्ची और समर्पित कार्यकर्ता हूं। पंकजा ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखी बातों को मीडिया के एक वर्ग द्वारा ट्विस्ट करने का आरोप लगाया। इससे पहले मंगलवार दोपहर भाजपा के पूर्व मंत्री विनोद तावड़े ने पंकजा मुंडे से मुलाकात की। 12 दिसंबर को पंकजा के पिता दिवंगत गोपीनाथ मुंडे का जन्मदिवस है। हालांकि, महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि पंकजा मुंडे पार्टी नहीं छोड़ रही हैं, ये खबरें गलत हैं। कजा साल 2009 और 2014 में बीड जिले की परली विधानसभा सीट से चुनाव जीती थीं। 206 करोड़ की चिक्की घोटाले में उनका नाम आया था। पंकजा भाजपा के कद्दावर नेता दिवंगत नेता प्रमोद महाजन की भांजी हैं।

शाही जोड़ा सुबह-सुबह मुंबई के वर्सोवा बीच पर जाकर एक सफाई अभियान का हिस्सा बना। इसका आयोजन संयुक्त राष्ट्र अर्थ चैंपियन अफरोज शाह की ओर से किया गया था। इस कार्यक्रम के बाद शाही दंपति और उनके साथ आये प्रतिनिधिमंडल महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ दोपहर भोज पर मिलें। शाम को शाही मेहमान के मुंबई में उनके कुछ और कार्यक्रम हैं। सोमवार को उन्होंने दिल्ली में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण समेत शीर्ष सरकारी अधिकारियों से मुलाकात की थी। राजा-रानी बृहस्पतिवार सुबह देहरादून रवाना होंगे। सोमवार सुबह एयर इंडिया के विमान से भारत दौरे पर पहुंचे। उनके साथ पत्नी सिल्विया भी मौजूद थीं। ऐसा पहली बार हुआ, जब शाही जोड़े ने किसी देश की सरकारी यात्रा के लिए कमर्शियल फ्लाइट का इस्तेमाल किया। अधिकारियों के मुताबिक, स्वीडन के राजा की इस यात्रा के दौरान द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए कई करार पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। पिछले कुछ सालों में भारत और स्वीडन के बीच संबंध तेजी से मजबूत हुए हैं।

मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि राज्य पर ‘4 लाख 71 हजार करोड़ रुपये के कर्ज’को देखते हुए क्या बुलेट ट्रेन जैसी परियोजनाओं को टाला जा सकता है| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन समेत राज्य में जारी सभी विकास परियोजनाओं की समीक्षा करने का आदेश दिया है| पाटिल का यह बयान इसके बाद आया है| उन्होंने कहा कि इस परियोजना की व्यवहार्यता और राज्य सरकार को इसके लिए कितने पैसे चुकाने होंगे इस पर विचार करने के लिए सरकार ने एक बैठक बुलायी है|

अनंत कुमार हेगड़े ने दावा किया था कि महाराष्ट्र में बीजेपी ने फडणवीस को 40 हजार करोड़ का फंड बचाने के लिए मुख्यमंत्री बनाकर ड्रामा किया। सीएम के पास करीब 40 हजार करोड़ की केंद्र की राशि थी, ये राशि फडणवीस ने दोबारा सीएम बनकर केंद्र को वापस कर दी, ताकि शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस सरकार इसका दुरुपयोग ना कर सके। हालांकि बयान सामने आते ही शिवसेना और कांग्रेस हमलावर हो गईं और इसे महाराष्ट्र के साथ गद्दारी बताया। अनंत कुमार हेगड़े के बयान पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सफाई देते हुए कहा, महाराष्ट्र सरकार ने कोई भी पैसा केन्द्र को ट्रांसफर नहीं किया है। मेरे द्वारा ऐसा कोई फैसला नहीं लिया गया है। मूल रूप से बुलेट ट्रेन केंद्र सरकार की कंपनी के तहत तैयार हो रही है। जिसमें महाराष्ट्र सरकार का काम केवल लैंड इक्वेशन का है। इसलिए महाराष्ट्र सरकार को पैसे देने का कोई सवाल नहीं उठता। सीएम ने कहा, बुलेट ट्रेन हो या कोई चीज हो केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र से कोई पैसा नहीं मांगा, ना सरकार ने पैसा दिया है। मैं चाहता हूं कि वित्त विभाग द्वारा इस मामले की जांच कराई जाए ताकि जो सच है वो समाने आ सके है। मैं हेगड़े की इस बयान को पूरी तरह से नकारता हूं। संजय राउत ने ट्विट करते हुए लिखा, बीजेपी सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने कहा है कि फडणवीस महाराष्ट्र के 40 हजार रुपये करोड़ केन्द्र को ट्रांसफर करने के लिए 80 घंटे के मुख्यमंत्री 80 बने थे, तो ये महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है।

अक्टूबर में मुंबई के आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड के लिए काटे जा रहे पेड़ों को बचाने के लिए लोगों ने धरना-प्रदर्शन किया था। तब पर्यावरण कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किए थे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि मुंबई के आरे में मेट्रो शेड का काम रोक दिया है, लेकिन मेट्रो लाइन का काम चलता रहेगा। सरकार ने मुंबई में आरे मेट्रो कार शेड निर्माण के खिलाफ आंदोलन करने वाले पर्यावरण कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमा वापस लेने का निर्णय लिया है। इससे पहले सीएम उद्धव ने आरे मेट्रो कार शेड के निर्माण पर रोक लगाने का फैसला लिया था। महाराष्ट्र विधानसभा के विशेष सत्र में सीएम उद्धव ठाकरे ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मैंने फडणवीस से बहुत चीजें सीखी है। मैं हमेशा उनका दोस्त रहूंगा। मैं अभी भी हिंदुत्व की विचारधारा के साथ हूं और इसे कभी नहीं छोडूंगा।

कल यानी रविवार को विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा| शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन में स्पीकर का पद कांग्रेस के खाते में गया है और कांग्रेस ने नाना पटोले को उम्मीदवार बनाया गया है, जबकि बीजेपी ने किसन कथोरे को अपना प्रत्याशी बनाया है| महाराष्ट्र की उद्धव सरकार आज अपना बहुमत साबित करेगी| उन्होंने पहला चुनाव अंबरनाथ सीट से लड़ा और शिवसेना के कद्दावर नेता को हराया था| यह सीट 2008 में अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हो गई| इस वजह से किसन कथोरे ने 2009 का चुनाव मुरबाड सीट से लड़ा और जीत दर्ज की| 2014 में किसन कथोरे बीजेपी में शामिल हो गए| स्पीकर के चुनाव से पहले उद्धव सरकार का आज बहुमत परीक्षण होगा| बहुमत परीक्षण दोपहर 2 बजे होगा| प्रोटेम स्पीकर दिलीप वालसे पाटिल बहुमत परीक्षण कराएंगे| विधानसभा में विधायकों की गिनती के आधार पर बहुमत का फैसला होगा| बहुमत के लिए महा विकास अघाड़ी को 145 विधायकों की जरूरत है|

हम सभी राजनीतिक दलों को सीखना होगा कि ये नियम का पालन करने के बावजूद भी इनके विकास में कोई कमी आई है, हमारी पार्टी को भी ये सीखना चाहिए. हमें इन पार्टियों का धन्यवाद करना चाहिए संसद का शीतकालीन सत्र शुरूराज्यसभा का 250वां सत्रपीएम मोदी ने किया संबोधितPM ने NCP को सराहा संसद का शीतकालीन सत्र इस बार ऐतिहासिक है. ऊपरी सदन राज्यसभा में सोमवार को 250वें सत्र की शुरुआत हुई. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सदन को संबोधित किया. इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि इन 250 सत्रों के बीच जो यात्रा चली है, उनको नमन करता हूं. अपने संबोधन में आखिर में प्रधानमंत्री ने कुछ ऐसा कहा कि राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई. दरअसल, 250वें सत्र के दौरान जब प्रधानमंत्री संबोधित कर रहे थे, तब उन्होंने शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) की तारीफ की. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमें सदन में रुकावटों की बजाय संवाद का रास्ता चुनना चाहिए, एनसीपी-बीजेडी की विशेषता है कि दोनों ने तय किया है कि वो लोग सदन के वेल में नहीं जाएंगे.’ पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी राजनीतिक दलों को सीखना होगा कि ये नियम का पालन करने के बावजूद भी इनके विकास में कोई कमी आई है, हमारी पार्टी (BJP) को भी ये सीखना चाहिए. हमें इन पार्टियों का धन्यवाद करना चाहिए. जब हम विपक्ष में थे, तो भी ये काम करते थे लेकिन इन दो पार्टियों ने इस उदाहरण को तय किया है.

शिवसेना ने भारतीय जनता पार्टी पर शायराना अंदाज में तंज किया है| महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए गए थे| लेकिन उसके बाद मुख्यमंत्री पद पर बीजेपी और शिवसेना में रार हो गई| शिवसेना जहां ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद बांटना चाह रही थी| वहीं बीजेपी इसके लिए तैयार नहीं हुई| शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट किया है कि " यारों नए मौसम ने ये एहसान किया है, याद मुझे दर्द पुराने नहीं आते|" राउत का यह ट्वीट ऐसे वक्त में आया है जब शिवसेना बीजेपी से 30 साल पुराना रिश्ता खत्म कर चुकी है और अब प्रतिद्वंदी रही कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रही है|

जपानी मेंदूज्वराने पुन्हा डोके वर काढल्याचे दिसून आले आहे. या आजारामुळे सहा जिल्ह्यांमध्ये आतापर्यंत ३० रुग्ण आढळून आले आहेत तर नागपूर विभागातील ७ जणांचा मृत्यू झाला आहे. शासकीय वैद्यकीय रुग्णालयात देखील जपानी मेंदूज्वराचे रुग्ण आढळून आले असून या आजाराचे सगळ्यात जास्त रुग्ण चंद्रपूर जिल्ह्यात आढळून आले आहेत. मात्र, शहरातील आरोग्य विभागाच्या मेडिकल ऑडिटमध्ये जोपर्यंत रुग्णाच्या मृत्यूचे कारण स्पष्ट होत नाही, तो पर्यन्त सदरील आजारामुळे त्याची मृत्यू झाल्याचे कळत नाही, अशी अवस्था आहे.

Recent Posts