loader

Vidarbha News

दर्यापूर. जलापूर्ति बंद होने  से स्नान के लिए अपने खेत तालाब पर पहुंचे 22 वर्षीय युवक दीपक आनंद टापरे की तालाब में डूब कर मौत हो गई. यह घटना बुधवार को दोपहर 12 बजे थिलोरी गांव में घटी. जिले में लगातार 4 दिनों से डूब कर मरने की मौत का तांडव जारी है. 

 स्नान करने गया था

शहानुर बांध से जलापूर्ति करने वाली दर्यापुर में जलापूर्ति पाईपलाईन फुट जाने के कारण 3 दिनों से जलापूर्ति खंडित है. बुधवार को घर में पानी न होने से  दीपक अपने घर से कुछ ही दूर स्थित खेत में बने खेत तालाब पर गया.  स्नान करते समय तालाब के बिच में वह उतर गया. लेकिन संतुलन बन पाने से पानी में डूबकर उसकी मौत हो गई. गांव वासियों ने उसकी तलाश की. लेकिन वह नहीं मिला. तहसीदार योगेश देशमुख की ने तुरंत जिले की रेस्क्यू टीम बुलाई. लेकिन इससे पहले ही गांव के युवक . अवधूत नांदने , रामेश्वर कुरवाडे, उमेश नांदने ने पानी में डूबकर दीपक का शव बाहर निकाला. थानेदार  तपण कोल्हे, तलाठी विजय वाघमारे, कृषी सहाय्यक कोरडे, पोलीस पाटील आनंद वर्धे आदि इस समय उपस्थित थे.

भातकुली की पेढी नदी से रेती चोरी करते रंगेहाथ पकड़ने से रेत तस्करों ने नायब तहसीलदार पर ट्रैक्टर चढ़ाने का प्रयास किया. यह सनसनीखेच घटना मंगलवार की सुबह 11.45 बजे हुई. भातकुली के नायब तहसीलदार विजय भाऊराव मांजरे (56, भातकुली) की रिपोर्ट पर आरोपी सुरज नागमोते, विनोद रामसिंग पवार (भातकुली) तथा मयुर मधुकर भातकुलकर (भातकुली) के खिलाफ भातकुली पुलिस ने मामला दर्ज किया है. जिसमें सुरज व विनोद को पुलिस ने हिरासत में लिया है, जबकि मयुर फरार हो गया है.

कार्रवाई से बचने हाथापाई

29 सितंबर मंगलवार की सुबह नायब तहसीलदार विजय मांजरे भातकुली तहसील की ओर जा रहे थे, तभी उन्हें पेढी नदी के किनारे एक ट्रैक्टर दिखाई दिया. कार्यालय पहुंचकर कुछ कर्मचारियों के साथ पेढी नदीं पहुंचे. यहां ट्रैक्टर ट्राली (एमएच 27 3261) में रेती भरते दिखाई दिये. ट्रैक्टर चालक विनोद पवार व मयुर भातकुलकर समेत 10 मजदूरों ने रेती भरकर रखी थी. जिन्हें रायल्टी व अनुमति के बारे में पूछने पर कोई जानकारी नहीं दी, जिससे ट्रैक्टर को तहसील कार्यालय में जमा करने कहा. यहां ट्रैक्टर ट्राली से रेती फेककर उन्हें गाली गलौचकर हाथापाइ कर ट्रैक्टर लेकर भागने का प्रयास किया. जिस पर मांजरे ने उन्हें रोकने की कोशीश की तो सीधे ट्रैक्टर को उनके शरीर पर चढ़ाने का प्रयास कर फरार हो गए. इस दौरान ट्रैक्टर मालिक सुरज नागमोते अपने साथियों के साथ वहां आया. जिसने हाथापाई कर गाली गलौचकर जान से मारने की धमकी दी. पुलिस ने रिपोर्ट के आधार पर 2 आरोपियों को हिरासत में लिया है, जबकि 1 अन्य फरार है.

दो अरेस्ट, 1 फरार

इस प्रकरण में पुलिस ने आरोपी सुरज नागमोते व विनोद पवार को हिरासत में लिया है, जबकि मयुर फरार हो गया है. दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर 1 दिन की पुलिस कस्टड़ी में लिया है. पुलिस फरार आरोपी की तलाश कर रही है

पथ्रोट. पथ्रोट पुलिस ने अचलपुर तहसील के कुष्ठा में स्थित महाईसेवा केंद्र के संचालक प्रणव हागोणे के खिलाफ मंगलवार को एफआयआर दर्ज की है. 30 किसानों ने फसल बीमा की किश्त के तौर पर 1 लाख 55 हजार रुपये अदा किए, लेकिन महाईसेवा केंद्र के इस संचालक ने केवल 11 हजार 550 रुपये बीमा कंपनी में जमा किए. शेष 1 लाख 40 हजार की रकम हड़प कर ली. 25 से 30 नवंबर 2019 तक हुए  इस मामले में तहसीलदार मदन जाधव की ओर से कर्मी मधुकर संगारे ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया है. तहकीकात में और भी किसानों के साथ जालसाजी उजागर होने की संभावना है. जिले में फसल बीमा की रकम डकारे जाने का यह पहला मामला है. जिससे अन्य महाईसेवा केंद्रों की भी जांच हो सकती है. 

30 किसानों के 1.40 लाख डकारे 

अचलपुर तहसील के कुष्ठा के महा ई सेवा केंद्र पर बोपापुर, निजामपुर, रासेगांव के किसानों ने बीमा की नगद रकम भरने की प्रक्रिया पूर्ण की, लेकिन अदा की गई रकम के आधार पर अनुदान नहीं मिलने से महा ईसेवा केंद्र संचालक व्दारा की गई आर्थिक गड़बड़ी की पोलखोल हो गई.  इस संदर्भ में किसानों ने तहसीलदार को ज्ञापन सौंपते हुए कार्रवाई करने की मांग भी की है. मामले की गंभीरता को देखते हुए तहसीलदार ने भी महा-ई-सेवा केंद्र के संचालक को दोषी ठहराते हुए एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिये थे. जिसके बाद यह फौजदारी मामला दर्ज हुआ है. 

अमरावती. यातायात में बाधा बनने से त्यौहारों के दिनों में नागरिकों को ट्राफिक जाम का सामना करना पडता है. इन दिनों में कई बार नागरिकों की शिकायतें प्राप्त होती है जिससे महानगरपालिका निगमायुक्त प्रशांत रोडे के आदेशों पर मनपा अतिक्रमण विभाग ने गत सप्ताह से ही नवरात्रोत्सव, दशहरा-दीपावली को ध्यान में रखते हुए अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई आरंभ कर दी है. 

सैकड़ों हाथगाडियों से ट्राफिक प्रभावित 

बुधवार को अतिक्रमण विभाग ने रेलवे स्टेशन चौक, मालविया चौक, काटन मार्केट कृषि उपज मंडी परिसर, चौधरी चौक, वालकट कंपाउंट, चित्रा चौक, बापट चौक, नगर वाचनालय परिसर, गांधी चौक, नमूना गल्ली नं.1, व राजकमल चौक मार्ग का अतिक्रमण हटाया. इस दौरन 2 ट्रक साहित्य जब्त किया गया है. जिसमें हाथगाडियां, लोखंडी खोके, लोहे के टेबल, प्लास्टिक साहित्य, प्लास्टिक बैग, चेयर, टेबल आदि का समावेश है. चौकानेवाली बात यह है कि अतिक्रमण विभाग व्दारा पहले दिन कार्रवाई करने के बाद भी तिसरे दिन ही अतिक्रमण जैसे थे हो जाता है. जिसके कारण प्रशासन को आये दिन कार्रवाई कर अतिक्रमण धारियों को हटाने का काम करना पडता है. 

कोंढाली के समिपस्थ सोनेगाव परिसर में मंगलवार को मध्य रात्री करीब साढ़े बारह बजे के दरमियान सडक  पार कर रहे तीन ट्रक चालकों को तेज गती से आ रहे ट्रक के चपेट में आये तीन  ट्रक चालकों  की घटना स्थल पर ही दर्दनाक मौत हो गई.वहीं ट्रक  का एक क्लिनर गंभीर घायल  तथा एक क्लिनर  बच गया.प्राप्त जानकारी के अनुसार 29 सितंबर  को नागपुर से ट्रक क्रमांक एम एच-30-एबी-1279-तथा एम एच-30-ए बी-3861-चावल की खेप लेकर अमरावती जिले के  तिवसा की ओर जा रहे थे.रात्री साढ़े बारह बजे के दरमीयान  कोंढाली के समिपस्थ सोनेगाव पेरिस में सडक किनारे अपने  अपने वाहन खडे कर खाना खाने  के लिये सडक पार के एक होटल  पर जाने  के लिये सडक पार कर  ही रहे थे,की इसी बिच नागपुर से  से ही अमरावती के ओर तेज गती से आ रहे ट्रक के चपेट में तीन चालक तथा एक क्लिनर चार लोगों को रौंदते हुये निकल गया.इस दर्दनाक घटना में तीन ट्रक चालकों की घटना स्थल पर ही मौत हो गई.इस दर्दनाक  हादसे में एक क्लिनर गंभीर घायल हुआ जिसे कोंढाली  प्राथमिक स्वास्थ केंद्र ले जाया गया.वहां डॉ अश्विनी दातीर तथा डॉ बीलाल पठाण ने प्रथमोपचार  कर नागपुर शासकिय अस्पताल  रेफर किया गया.वहीं एक क्लिनर खडे ट्रक के निचे छूप जाने  से  बाल-बाल बच गया.इस दर्दनाक घटना में  शेख अन्नू (20)(शिवनी)अकोला,जावेद खान (28)खदान अकोला तथा शेख परवेज(35)अंबीका नगर  अकोला के रहनेवाले है.वहीं  फिरोज खान(45)गंभीर जख्मी का अस्पताल में इलाज चल रहा है.और क्लिनर सोहेल खान बच गया.घटना की जानकारी मिलते ही कोंढाली के थानेदार शाम गव्हाने,एएसआय दिलिप इंगले  अपने सहयोगीयों के साथ घटना स्थल पहूंच कर घटनास्थल के पंचनामे के बाद मृतकों को  शवविच्छेदन के लिए काटोल  ग्रामिण अस्पताल भेजा गया.इस  घटना में  दुर्घटना करने वाला  ट्रक चालक वाहन लेकर फरार हो गया है.इस घटना की जांच कोंढाली पुलीस कर रही है.

भंडारा: जिले में गुरूवार को 95 मरीज ठीक होकर घर पहुंचे. अब तक ठीक हुए मरीजों की संख्या 2751 हो गई है. गुरूवार को 202 कोरोना पाजिटिव मरीजों का पंजीयन किया गया. इस तरह अब कोरोना पाजिटिव रोगियों की संख्या 4413 हो गई है. कोरोना पाजिटिव मरीजों में भंडारा तहसील के 137, साकोली 06, लाखांदूर 7, तुमसर 15, मोहाडी 15, पवनी 17 एवं लाखनी तहसील के 5 लोगों का समावेश है.

अब तक 2751 मरीजों ने कोरोना पर सफलतापूर्वक मात दी है. जिले में अब तक कोरोना प्रभावित मरीजों की संख्या 4413 हो गई है. जिनमें से 1568 क्रियाशील मरीज है. शुक्रवार को कोरोना के 4 मरीजों की मृत्यु हुई. जिले में कोरोना पाजिटिव मृतकों की संख्या कुल 94 हुई है. शुक्रवार को आइसोलेशन वार्ड में 178 लोग भर्ती हुए. एवं 1928 लोगों को आइसोलेशन वार्ड से डिस्चार्ज दिया गया है.

चंद्रपुर. बफर जोन क्षेत्र अंतर्गत मोहुर्ली वन परिक्षेत्र अंतर्गत आने वाले अर्जुनी गांव के जंगल में बाघ ने एक पालतु मवेशी का शिकार किया था। इसकी सूचना मिलने पर का पंचनामा करने पहुंचे वनरक्षक सौदागर लाटकर पर बाघ ने हमला कर दिया जिसमें वे गंभीर रुप से घायल हो गये। यह घटना आज दोपहर के बाद घटी। उन्हे उपचार के हास्पिटल में दाखिल किया गया है। बफर क्षेत्र मोहुर्ल वनपरिक्षेत्र अंतर्गत अर्जुनी गांव निवासी मारोती कुलमेथे के पालतु मवेशी का बाघ ने शिकार किया था।

सूचना के आधार पर वनरक्षक पंचनामा करने के लिए वनपाल आकाश मल्लेवार, वनरक्षक सौदागर लाटकर और पशुपालक के साथ 5 लोग शिवणी पुल घटनास्थल पर पहुंचे थे। वहां झाडियों में दबिश देकर बैठे बाघ ने सौदागर लाटकर पर हमला कर दिया। यह देखकर साथियों ने शोर शराबा कर बाघ को खदेड दिया। किंतु बाघ के हमले में लाटकर के पैर में गंभीर चोट आई है। उसे स्थानीय हास्पिटल से तुरंत जिला सरकारी अस्पताल भेजा गया है। सौभाग्य से वनरक्षक बच गया किंतु इस घटना से परिसर में दहशत फैल गयी है।

गोंडपिपरी: आज शुक्रवार की सुबह 6 बजे गोंडपिरी स्थित श्री साई मशीनरी एंड ट्रैक्टर पार्ट दूकान में आग लग जाने से दूकान मालिक अजय माडुरवार का लाखों का नुकसान हुआ है।

मार्च महीने से शुरु लाकडाउन की वजह से पहले ही दुकानदारी नहीं चल रही है और ऐसे में आज सुबह दूकान आग लग जाने से दूकान मालिक पर दुबले पर दो आषाढ वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। आज सुबह कुछ लोगों ने देखा कि दूकान से धुंआ उठ रहा है तो उन्होंने दूकान मालिक माडुरवार के मोबाइल पर सूचना दी।

किंतु तब तक दूकान का काफी सामान जलकर राख हो चुका था। दूकान के पीछे ही गोदाम है जिसकी वजह से माडूरवार के लाखों का नुकसान हुआ है। यह आग शार्टसर्किट की वजह से लगने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

अमरावती: कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बगैर मास्क के घूमनेवाले वाहन चालकों के खिलाफ शहर ट्राफिक पुलिस ने अभियान छेड दिया है. जिसमें बगैर मास्क पहने घुम रहे 108 वाहन चालकों पर पुलिस ने कार्रवाई कर जुर्माना वसूला है. पश्चिम जोन में 74 तथा पूर्व जोन में 34 मामले दर्ज किए गए हैं.

जिलाधिकारी ने दिए कड़े आदेश मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, स्वच्छता  जैसे उपाय योजनाओं को अमल में न लाने वाले लोगों के खिलाफ सख्त एक्शन लेने के निर्देश पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने दिए हैं. इसी तरह संक्रमण को रोकने के लिए प्रत्येक ने मास्क पहनना आवश्यक है. जो लोग मास्क नहीं पहनते है ऐसे लोगों पर सख्ती से कार्रवाई करने के आदेश जिलाधिकारी शैलेश नवाल ने दिये है. इन आदेशों के तहत ट्राफिक पुलिस के दोनों जोन की ओर से मुहिम छेडी गई है. जिसमें बगैर मास्क का इस्तेमाल किए घुम रहे 108 वाहन चालकों पर पुलिस ने कार्रवाई की है.

गोंदिया: करोनाबाधीत रुग्णांवर प्लाझ्मा थेरपीद्वारे उपचार करण्यासाठी प्लाझ्मा अफेरॅसिस पद्धतीने संकलित केलेल्या प्रती डोस प्लाझ्मा बॅगसाठी (२०० मि.ली.) खासगी, विश्वस्त रक्तपेढ्या, रुग्णालयांना रुग्णांकडून साडेपाच हजार रुपये इतका कमाल दर आकारण्यास मान्यता दिली आहे. यापेक्षा अधिक दर आकारल्यास त्यांनी आकारलेल्या अतिरिक्त रक्कमेची परतफेड संबधित रुग्णांना करणे अनिवार्य राहील अन्यथा संबंधित रक्तपेढीचा परवाना रद्द करण्याबाबतची कारवाई संबंधित सक्षम प्राधिकाऱ्यामार्फत करण्यात येईल, असे आरोग्यमंत्री राजेश टोपे यांनी सांगितले. सोबतच सीटीस्कॅन तपासणीसाठी दोन प्रकारचे शुल्क आकारले जाणार असून १६ स्लाईजच्या कमी दोन हजार रुपये, १६-६४ स्लाईजच्यापर्यंत असल्यास हे दर २ हजार ५०० तर ६४ स्लाईजच्यावर मल्टीस्पेशलकरिता तीन हजार रुपये निश्चित करण्यात आले आहेत, अशी माहिती गोंदिया जिल्हाधिकारी कार्यालयात पत्रकारांशी संवाद साधताना दिली. त्यापूर्वी टोपे यांनी गोंदियातील मेडिकल कॉलेज, बीजीडब्ल्यू रुग्णालयाची पाहणी केल्यानंतर आढावा बैठक घेतली. जिल्ह्यातील रिक्त पदे भरण्यासाठी जिल्हाधिकारी यांना परवानगी देण्यात आल्याचे सांगत सध्याचे वैद्यकीय महाविद्यालयाचे अधिष्ठाता हे स्थायी असल्याचे सांगितले.

ज्यात सध्या शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालयात कोरोना बाधितांवर ट्रायल बेसीसवर नि:शुल्क प्लाझ्मा थेरपी उपचारपद्धती वापरण्यात येत आहे. केंद्र शासन व सेंट्रल ड्रग स्टँडर्ड कंट्रोल ऑर्गनायझेशने ऑफ लेबल प्लाझ्मा थेरपी वापरण्याच्या मार्गदर्शक सूचना निर्गमित केल्यानंतर प्लाझ्माफेरॅसिस पद्धतीने संकलित करण्यात आलेल्या कॉन्व्हॅलेसंट प्लाझ्मा (ऑफ लेबल) वापरण्यासाठी खासगी व विश्वस्त रक्तपेढ्यांकडून प्लाझ्मा थेरेपीसाठी आवश्यक प्लाझ्मा बॅगसाठी अवाजवी शुल्क आकारले जात असल्याचे निदर्शनास आले.

गडचिरोली. सिरोंचा तहसील के वार्ड क्र. 9 के एक दूकान पर छापा मारकर सुगंधित तंबाकू व खर्रा घोटने की मशीन, ऐसे कुल 20 हजार का माल जब्त किया है। दूकानदार पर सिरोंचा पुलिस थाने मे मामला दर्ज किया गया है। आरोपी का नाम रामू अंकलू दुरशेट्टी है। पुलिस विभाग व मुक्तिपथ  ने संयुक्त रूप से की कार्रवई से सुगंधित तंबाकू बिक्रेताओं में खलबली मची है।

कोरोना वायरस की पार्श्वभूमि पर जिलाधिकारी ने तंबाकू बिक्री बंदी व पानठेले खोलने पर पाबंदी लगा दी है। मात्र, शहर के कुछ दूकानदार किराना व अन्य सामग्री की आड सुगंधित तंबाकू, तंबाकूजन्य पदार्थ की बिक्री करते है। सिरोंचा शहर किराणा एसोसिएशन ने तंबाकू बिक्री न करने  का निर्णय लिया है। जिसका अमल किया जा रहा है।

मात्र, शहर के कुछ बिक्रेता सरकार व एसोसिएशन के निर्णय का उल्लंघन कर तंबाकूजन्य पदार्थ की बिक्री कर रहे है। शहर के वार्ड क्र. 9 के दूकान से सुगंधित तंबाकू की बिकी हो रही। जानकारी मिलते ही पुलिस विभाग व मुक्तिपथ ने संयुक्त कार्रवाई कर उस दुकान की जांच कर सुगंधित तंबाकू के 15 बडे डब्बे व खर्रा घोटने की मशीन जब्त कर ली।

यह कार्रवाई थानेदार अजय अहिरकर के मार्गदर्शन में बीट जमादार तोरे व मुक्तिपथ तहसील टीम ने की है।

चंद्रपुर. जिले भर में तेजी से बढ रहे कोरोना बाधितों की संख्या नियंत्रित करने  25 सितंबर से 1 अक्टूबर के बीच चंद्रपुर जिले में जनता कर्फ्यू लगाने का निर्णय प्रशासन ने लिया है। इसके मद्देनजर आज 24 सितंबर को आवश्यक किराना सामान और सब्जियों के खरीददारों की भीड़ बाजार में उमड पडी है। 25 से 7 दिनों के लिए लगने वाले जनता कर्फ्यू को देखते हुए चिल्लर सब्जी विक्रेताओं ने जमकर कमाई की है।

औसतन 40 से 60 रुपये किलो बिकने वाली सब्जियों के दाम आज 80 से 120 रुपये बिकी है। एक सप्ताह तक मुख्य बाजार, दुकानें बंद रहने के चलते आज गुरूवार को जिले में लोगों ने सब्जी मार्केट समेत अन्य दुकानों पर भीड़ जमा ली थी। लोगों की भीड़ का लाभ उठाकर विक्रेताओं ने जीवनावश्यक वस्तूओं के दामों में बढोत्तरी कर दी। इसका जनसामान्य पर काफी असर पड़ा।

दो दिन पूर्व ही पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए कोरोना संक्रमण की श्रृंखला तोडने के लिए जिले में 25 सितंबर से 1 अक्टूबर तक सात दिनों का जनता कार्फ्यू की घोषणा की। इसके चलते सात दिनों तक किराणा सामान, डेली नीड्स, सब्जी मार्केट आदि दुकानें पूर्णत: बंद रहेंगी। इसके चलते लोगों ने आज गुरूवार को ही जीवनावश्यक वस्तूएं संग्रहित कर लिया है।

बल्लारपुर. गुप्त सूचना के आधार पर स्थानीय अपराध शाखा की टीम ने बल्लारपुर पेपर मिल के पास नाकाबंदी कर अकोला के मूर्तिजापुर से लाई जा रही 100 पेटी देसी शराब समेत कुल 20 लाख का माल ज्ब्त कर 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

जिले में शराबबंदी की घोषणा के बाद से अवैध शराब कारोबारी अनेक प्रकार की योजना बनाकर शराब की तस्करी कर रहे है। इसी प्रकार प्याज के बीच में  मूर्तिजापुर से  छुपाकर लाई जा रही शराब को पुलिस ने जब्त कर लिया है। सूचना के आधार पर पुलिस ने 23 सितंबर की रात 1 से 2 बजे के बीच पेपर मिल के पास नाकाबंदी की इस दौरान महिंद्रा पिकअप वाहन क्रं. एमएच 10 सीआर 4950 आती दिखाई दी। पुलिस को वाहन पर संदेह होने पर उसे रोककर उसकी तलाशी ली तो उसमें 24 सफेद बोरे में प्याज और 34 सफेद बोरे में अवैध देसी शराब बरामद हुई।

एलसीबी की टीम ने धानोरा वैद्य त. मूर्तिजापुर जिला अकोला निवासी वाहन चालक शुभम प्रमोद मिराशे (22) और अभिलाष प्रभाकर वैद्य को गिरफ्तार कर लिया। इस कार्रवाई के दौरान 10 लाख की देसी शराब, 9 लाख की महिंद्रा बोलेरो पिकअप, एक मोबाइल और प्याज ऐसे कुल 20 लाख का माल जब्त कर लिया है। आगे की जांच थानेदार शिवलाल भगत के मार्गदर्शन में एपीआई विनित घागी कर रहे है।

यहां के जिला कारागृह के कैदियों के साथ कर्मचारियों में कोरोना संक्रमण फैलने से कारागृह में खलबली मच गई थी। किंतु अब सभी कर्मचारी और कैदी कोरोनामुक्त हो गए है। उनका स्वास्थ्य बेहतर होने की जानकारी कारागृह प्रशासन ने दी है।

जिले में कोरोना बाधितों की संख्या तेजी से बढ रही है। जिला कारागृह के 170 कैदी और 20 कर्मचारी कोरोना बाधित पाये गये थे। इसके बाद जिला सरकारी अस्पताल के सीएस डा. निवृत्ती राठोड ने तुरंत जिला कारागृह को भेंट देकर समीक्ष की। कारागृह के सभी कैदी और कर्मचारियों को लिये नये कर्मचारी निवास में कोविड सेंटर की स्थापना की गई। मेडिकल टीम और जिला कारागृह के मुख्य मेडिकल अधिकारी तथा कोविड केयर सेंटर के नोडल आफिसर डा. अमित डांगेवार के नेतृत्व में सभी कैदी और कर्मचारियों को उचित सुविधाएं पहुंचायी गई।

सभी को 10 दिनों के लिए क्वारंटाइन और 7 दिनों की अतिरिक्त कालावधि पूणघ्र् की है। इन दिनों सभी के स्वास्थ्य बेहतर है। कारागृह का कोविड सेंटर बेहतर ढंग से कार्यरत रखने शल्य चिकित्सक डा. राठोड, कारागृह अधीक्षक वैभव आगे, जेल अधिकारी वैभव आत्राम, रविंद्र जगताप और प्रशासन ने सहयोग किया है।

नाशिक से बांग्लादेश की ओर 900 कैरेट टमाटर ले जा रहा ट्रक अमरावती नागपुर राष्ट्रीय महामार्ग क्रमांक 6 पर बिजीलैंड के पलट गया. एक दुपहिया चालक को बचाने के लिए चक्कर में यह ट्रक सीधे डिवायइडर को जा भीडा. रविवार की सुबह 8 बजे हुई इस घटना में किसी भी प्रकार की जिवितहानी नहीं हुई है, लेकिन टमाटर सडकों पर पडने से लाखों रुपयों का नुकसान हुआ जबकि लोगों की चांदी रही. 

नागरिकों ने कांटी चांदी 

रविवार की सुबह नाशिक से टमाटर लेकर एक ट्रक बांग्लादेश की ओर जा रहा था. नांदगांव पेठ के बिजीलैंड के पास अचानक दुपहिया चालक ट्रक के सामने आने से उसे बचाने के चक्कर में यह ट्रक डिवाईडर पर जा गिरा. जिससे कुछ ही देर में वह पलटी हो गया. जिससे महामार्ग पर सुबह सुबह टमाटर ही टमाटर दिखाई दे रहे थे. नागरिकों ने भी पडे टमाटर देख हाथ साफ किये. 40 से 50 रुपये किलो के टमाटर फ्री में मिलने से लोगों ने कोई जिवितहानी नहीं होने के चलते जमकर टमाटर बंटोरे. 900 कैरेट टमाटर रहने से 100 से 150 कैरेट टमाटर सडक पर दिखाई दे रहे थे. 

 वर्धा: सेवाग्राम हे महात्मा गांधी यांच्या वास्तव्याने पुनीत आहे. त्यांच्या विचारांचा गाभा समोर ठेवूनच यापुढे विकासकामे केली जातील. शाश्वत विकास आणि सुरक्षा या दोन्हीचा समन्वय असलेले विकासाचे मॉडेल सर्वांच्या सहमतीने तयार करण्यात येईल. वर्ध्याचे हे विकासाचे मॉडेल यापुढे सर्वांसाठी मार्गदर्शक राहील, असे प्रतिपादन रस्ते विकास विभागाचे सचिव उल्हास देबडवार यांनी केले.

दत्तपूर-वर्धा या साडेअकरा किलोमीटर रस्त्याच्या चौपदरीकरणात येणारी झाडे तोडू नयेत यासाठी वर्धा जिल्ह्यातील विविध संघटना, संस्था आणि नागरिकांनी वृक्ष बचाव समिती उभारली आहे. या समितीच्या सदस्यांची मते जाणून घेतानाच या रस्त्याला पर्याय शोधण्यासाठी रविवारी देबडवार यांच्या अध्यक्षतेखाली बैठक घेण्यात आली. जिल्हाधिकारी कार्यालयात झालेल्या या बैठकीला जिल्हाधिकारी विवेक भीमनवार, अधीक्षक अभियंता (सार्वजनिक बांधकाम) श्रीमती साखरवाडे, कार्यकारी अभियंता गजानन टाके, सुषमा शर्मा, विभा गुप्ता, मुरलीधर बेलखोडे, डॉ. आलोक बंग, डॉ. विठ्ठल साळवे, संजय इंगळे तिगावकर आदी उपस्थित होते.देबडवार म्हणाले, वर्ध्यात वृक्ष वाचविण्याबाबत लोक जागरूक आहेत, याचा आनंद आहे. सेवाग्राम हे केवळ वर्धा आणि महाराष्ट्रापुरते मर्यादित नाही. अवघे जग महात्मा गांधींसमोर नतमस्तक होते त्यांच्या वास्तव्याचे ठिकाण आहे. देश-विदेशातील लोक इथे येतात. वृक्ष बचाव समितीने मांडलेला प्रत्येक मुद्दा महत्वाचा आहे. तो शासनासमोर ठेवला जाईल, असेही त्यांनी स्पष्ट केले. या बैठकीचा अहवाल शासनाला सादर करण्यात येईल, त्यानंतर याबाबत झालेला निर्णय जिल्हाधिकारी यांच्या माध्यमातून आपल्याला कळविण्यात येईल, असेही त्यांनी स्पष्ट केले.

कोल्हापूर: लॉकडाऊनमुळे रोजगार गेल्यानंतर आर्थिक अडचणीत सापडलेल्या बापाने आपल्या मुलाला दत्तक दिल्याचे सांगत चक्क ५ लाख रूपयांना विकल्याचा खळबळजनक प्रकार कोल्हापुरात उघडकीस आला आहे. करोनामुळे माणुसकी, नातीगोती यांचा अंतच झाल्याचे या घटनेने पुढे आले आहे. मुलाच्या आजीने जावयाचे हे बिंग फोडल्यानंतर सध्या मुलाचा ताबा द्यायचा कोणाला यावरून वाद सुरू झाला आहे. याबाबत सोमवारी बालकल्याण समिती निर्णय घेणार आहे.याबाबत मिळालेल्या माहितीनुसार, पन्हाळा तालुक्यातील काटेभोगाव येथील दिगंबर उर्फ उत्तम ज्योतिराम पाटील हा गेले दोन-तीन वर्षे कोल्हापुरात राहतो. तो चांदी कारागीर आहे. लॉकडाऊनच्या काळात तो बेरोजगार झाला. त्याची पत्नी गेली तीन वर्षे आजारी आहे. त्याला दोन मुले आहेत. आजारी पत्नीचा उपचार खर्च आणि मुलांना सांभाळणे अवघड होऊ लागल्याने त्याने पत्नी आणि एका मुलासह माहेरी पाठवले. त्यानंतर तो आणि दहा वर्षाचा मुलगा गंगावेश येथे राहू लागले. या काळात त्याला दारूचे व्यसन लागले. तो कर्जबाजारीही झाला. एका मुलालाही सांभाळणे अशक्य झाल्याने शेवटी त्याने या मुलाला दत्तक देण्याचा निर्णय घेतला.

चंद्रपूर: मंत्री व लोकप्रतिनिधींना करोनाची लागण होण्याचं प्रमाण दिवसेंदिवस वाढतच आहे. दोन दिवसांत ठाकरे सरकारमधील तीन मंत्र्यांना लागण झाल्यानंतर आता माजी मंत्री व भाजपचे नेते सुधीर मुनगंटीवर यांनाही करोनाने गाठले आहे.

मुनगंटीवार यांनी ट्वीट करून ही माहिती दिली आहे. 'माझा कोविड चाचणी अहवाल पॉझिटिव् आला आहे. त्यानंतर मी स्वत:ला क्वारंटाइन केलं आहे. गेल्या काही दिवसांत माझ्या संपर्कात आलेल्या सर्वांनी काळजी घ्यावी, अशी विनंती मुनगंटीवार यांनी केली आहे. तज्ज्ञ डॉक्टरांच्या सल्ल्यानुसार मी पुढील उपचार घेत आहे,' अशी माहितीही त्यांनी दिली आहे. करोना आणि त्यानंतरच्या लॉकडाऊनच्या काळात लोकप्रतिनिधी हे सातत्यानं आपापल्या मतदारसंघात कार्यरत आहेत. पोलीस, प्रशासकीय अधिकारी, कार्यकर्ते व लोकांशी त्यांचा संपर्क येत आहे. हे सर्व करताना खबरदारी घेऊनही करोनाची लागण होत असल्याचं समोर आलं आहे.

आतापर्यंत राज्यात अनेक मंत्र्यासह आजी-माजी आमदार, खासदारांना करोनाचा सामना करावा लागला आहे. गृहनिर्माण मंत्री जितेंद्र आव्हाड, सार्वजनिक बांधकाम मंत्री अशोक चव्हाण, सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे, मंत्री अस्लम शेख, बाळासाहेब पाटील, प्राजक्त तनपुरे, संजय बनसोडे, अब्दुल सत्तार, सुनील केदार यांना करोनाची लागण झाली होती. यातील बहुतेकांनी करोनावर यशस्वीरित्या मात केली आहे तर काहींवर अद्यापही उपचार सुरू आहेत. प्रकाश सुर्वे, मुक्ता टिळक, वैभव नाईक, मकरंद पाटील, किशोर जोरगेवार, ऋतुराज पाटील, पंकज भोयर, माणिकराव कोकाटे, सुनील टिंगरे, किशोर पाटील, यशवंत माने, मेघना बोर्डीकर, सुरेश खाडे, सुधीर गाडगीळ, रवी राणा, चंद्रकांत जाधव, प्रकाश आवाडे, अतुल बेनके, अभिमन्यू पवार, कालिदास कोळंबकर, माधव जळगावकर, महेश लांडगे, मोहन हंबरडे, मंगेश चव्हाण, गीता जैन, सरोज अहिरे, अमरनाथ राजूरकर तसेच विधान परिषद सदस्य गिरीश व्यास, सुजितसिंह ठाकूर, नरेंद्र दराडे आणि सदाभाऊ खोत यांनाही कोविडचा सामना करावा लागला आहे. राज्यात करोनाचा संसर्ग वेगाने वाढत आहे. गेल्या काही दिवसांपासून दिवसाला सरासरी २० हजार नवीन रुग्णांची नोंद होत आहे.

कोरोना संकट को ध्यान में रखते हुए एसटी बसों में केवल 22 यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति दी गयी थी लेकिन अब शुक्रवार से यह नियम शिथिल किया गया है. अब पूरी क्षमता से बसें चल रही हैं. अकोला विभाग में इस संदर्भ में निर्देश दिये जाने की जानकारी रापनि की विभाग नियंत्रक चेतना खिरवाड़कर ने दी है.

इसी तरह एसटी का यातायात सुगम बनाने हेतु पूरा ध्यान दिया जा रहा है, यह जानकारी यातायात नियंत्रक सुतवने ने दी है. अब पूरी क्षमता के साथ एसटी बसें शुरु की गयी है. इस आशय का निर्णय राज्य सरकार द्वारा लिये जाने से 18 सितंबर से इस निर्णय पर अमल शुरु किया गया है. फिर भी वर्तमान समय में लागू नियमों का पालन करना यात्रियों के लिए बंधनकारक रहेगा.

इस संदर्भ में एसटी प्रशासन भी सतर्क है. पिछले कुछ दिनों से एसटी डिपो की आय भी बढ़ रही है. प्रतिदिन 2.25 लाख रु. से अधिक की आय हो रही है, यह जानकारी भी दी गयी.

 हाइस्पीड हुए कोरोना संक्रमण पर अंकुश लगाने के लिए सीपी आरतीसिंह ने सभी थानेदारों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को नियमों का कड़ा पालन कराने के आदेश दिए है, नियम तोडने वालों के खिलाफ सीधे आपत्ती व्यवस्थापन कानून के तहत एफआइआर दर्ज करने के निर्देश है, इन आदेश पर गुरुवार को अलग-अलग थाने में 15 लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज किया है.

वलगांव में सर्वाधिक 12 लोगों पर कार्रवाई
बगैर मास्क पहने घुम रहे लोगों के खिलाफ वलगांव पुलिस ने अलग-अलग जगह कार्रवाई की. इन लोगों में नितेश भटकर(सावरखेड), पकंज मदने (वलगांव), शेख शरीफ (सोफी नगर), प्रवीण कलाणे (तेलीपुरा) , विनोद कटकतलवारे(भिम नगर), विक्की तराले(धनगरपुरा), सुरेश मालवे (बाजारपुरा), बबलु लोणारे(अशोक नगर), सुधीर वानखडे(सावता चौक), धनंजय कांडलकर (सावता चौक),विवेक आसरे (मक्रमपुर), प्रतिक किटुकले(मक्रमपुर) का समावेश है. इसी तरह फ्रेजरपुरा में पवन लोणारे (बेलपुरा) व अक्षय सलामे(बेनोडा) तथा भातकुली में युवराज वानखडे नामक शख्स पर आपत्ती व्यवस्थापन कानून के तहत मामला दर्ज किया.

आदेशों का कड़ा पालन करे
राज्य सरकार ने कोरोना महामारी के लिए जारी अधिसूचना व आदेशों का कड़ा पालन करे, कहीं भी भीड इकठ्ठा ना होने दे, 6 फीट के अंतर के साथ सोशल डिस्टेसिंग व मास्क का इस्तेमाल अनिवार्य है, पुलिस आपको कोरोना महामारी से बचाने व तुम्हारी सुरक्षा के लिए सडक पर उतरी है, बगैर किसी काम फिजुल बाहर ना घुमे, बहुत ही जरुरत होने पर मास्क व सोशल डिस्टेसिंग के साथ बाहर निकले, नियमों को तोडकर पुलिस को कार्रवाई करने मजबूर ना करे, नियमों को ना मानने वालों पर पुलिस एक्शन लेगी- आरतीसिंह, पुलिस आयुक्त

मेलघाट के सुसर्दा वनक्षेत्र के वनखंड क्र. 1233 में तस्करों द्वारा सागौन के 30 बडे पेड़ काटकर ले भागे जाने के मामले में वनकर्मियों की लिप्तता होने का आरोप किया जा रहा है. तस्कर ट्रक लेकर घुसे जंगलों में प्रथम दर्शनी सागौन की यह तस्करी मध्यप्रदेश से किए जाने के तथ्य सामने आ रहे है. 10 चक्का ट्रक जंगल में लाकर गुप्त मार्ग की जानकारी और सागौन के बडे बडे पेडों का कटाई के लिए चयन किए जाने में तस्करों को स्थानीय वनकर्मियों का सहयोग मिलने का संदेह व्यक्त किया जा रहा है.

वनरक्षक ही तस्करों के लिए गाईड की भूमिका में होने का शक बढ़ता जा रहा है. सुसर्दा वनपरिक्षेत्र से सटे सुसर्दा, सावलीखेडा, बिरोटी, चेंडो, कोल्डाढाणा, बारातांडा, जामपाणी, दाभ्याखेडा और डाबका गांव में वनकर्मियों की भूमिका को लेकर सवाल उठाए जा रहे है. 

सुरक्षा में खामी
सागौन तस्करी के समय सुसर्दा वनपरिक्षेोत्र में वनरक्षक पाखंडे व वनमजदूर व रवि ड्यूटी पर तैनात थे. उसके बावजूद दोनों को कानोकान खबर नहीं लगना चर्चा का विषय  बन गया है. तस्करों ने केवल 4-5 घंटों में इलेक्ट्रानिक मशीन से पेड काटकर ट्रक में भरे और भाग गए. जबकि जंगल में कोई एक अकेला भी प्रवेश कर जाए तो उसे तुरंत पकड़ लिया जाता है. स्थानीय आदिवासी वनकर्मियों की इस सजगता से भलीभांति परिचित है. 

 शहर में कोरोना संक्रमण की रफ्तार दुगनी हो गयी है. रोजाना 300 से अधिक पेशंट मिल रहे है. इतने मरिजों की व्यवस्था के लिए अस्पताल और दवाईयां भी कम पड रही है. मरिजों की संख्या यदि बढ जाती है तो निश्चित ही जिले की स्थिति भयावह होगी. इसलिए जिले में 7 दिन का कडा जनता कर्फ्यू लागू करें ऐसी मांग महानगर चेंबर की ओर से की गई. शुक्रवार को हव्याप्रमंडल के प्रधान सचिव प्रभाकरराव वैद्य के नेतृत्व में ज्ञापन भेजा गया. 

क्रिटिकल स्थिति से बचने एकमात्र उपाय
इस समय महानगर चेंबर के सदस्यों ने जिलाधिकारी शैलेश नवाल को बताया कि शहर में मरिजों के लिए बेड नहीं मिल रहे है. दवाईयों की किल्लत है जैसे की रेमीडेसीवीर, फैबीफ्लु टैबलेट की कमी के साथ टोसीलीझोमैब इंजेक्शन की कमी है. पेंशट को दवाईयां व अस्पतालों के लिए घूमने पर विवश होना पड रहा है. आक्सीजन सिलेंडर की भी किल्लत है. आरटी-पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट 3-4 दिन में मिलती है. तब तक पेशंट को कोरोना अस्पताल में अडमिड नहीं किया जाता  जिससे उसकी तबियत क्रिटिकल हो जाती है. प्रशासन काम कर रहा है लेकिन क्रिटिकल स्थिति से बचने एकमात्र उपाय जनता कर्फ्यू घोषित करना है. 

शहर के मुख्य और महत्वपूर्ण आजाद चौक से दानशूर चौक तक का काम शनिवार तक प्रगति पथ पर था। किंतु रेती खत्म होने से इस काम को ब्रेक लग गया है। इसकी वजह से चॉल के दूकानदार और नागरिकों को आवागमन में असुविधा हो रही है।

दो महीने पूर्व अतिक्रमण हटाकर मार्ग के काम की शुरुवात की गई थी। तब से अहेरी नगर पंचायत के मुख्याधाकरी अजय सालवे ने जांच के दौरान बताया था कि यह काम बेहतर ढंग से हो रहा है। किंतु कार्य के दौरान रेती खत्म होने से काम थम गया और लोगों को आवागमन में बाधा निर्माण हो रही है।

इस संबंध में मुख्याधिकारी सालवे से पूछे जाने पर बताया कि अहेरी रेती घाटों की नीलामी नहीं हुई है। रेती उपलब्ध कराने की मांग तहसीलदार ओंकार ओतारी से की है। जितनी जल्दी रेती उपलब्ध होगी उतनी जल्दी काम की शुरुवात होगी। नागरिकों की समस्या को ध्यान में रखकर जल्द से जल्द काम शुरु कराने के प्रयास शुरु है।

अहेरी नगर पंचायत की नगराध्यक्ष हर्षा ठाकरे ने कहा कि इस काम के लिए रेती उपलब्ध न होने से काम इतने दिनों तक बंद था किंतु जल्द काम शुरु होगा और उच्च क्वालिटी का होगा। चामोर्शी से रेती लाकर जल्द काम को पूरा किया जाएगा।

प्राकृतिक संपदा संपन्न मेलघाट वन क्षेत्र में सागौन तस्करों का आतंक अभी भी कम नहीं हुआ है. वनाधिकारियों की नाक के नीचे तस्कर लाखों का सागौन चोरी कर ले जाने की घटनाएं लगातार उजागर हो रही है. इसी श्रृंखला के तहत सोमवार को सुसर्दा बीट के कोल्डाढाना के जंगल से सागौन तस्करों ने 15 से अधिक सागौन पेड़ों की कटाई कर उन्हें 10 पहिया ट्रक में डालकर वहां से फरार हो गए. इस चोरी के सागौन की कीमत 25 लाख रुपये बताई जाती है.  

इलेक्ट्रानिक मशीन जनरेटर पर चलाई

तडके इन सागौन चोरों ने 40 से 60 फीट ऊंचे सागौन के पेड़ों को इलेक्ट्रानिक पावर आरा मशीन, जो जनरेटर पर चलती है. उसका उपयोग कर काट लिये. इतना ही नहीं बल्कि आनन-फानन में एक-एक कर सभी पेड़ों को पहले से वहां खडे ट्रक में लोड कर दिया. थुकईथड अथवा खिडक्या मार्ग से मध्य प्रदेश की ओर भाग गए. खास बात है कि इस मार्ग पर कोई फारेस्ट नाका नहीं है. सागौन चोरी हो जाने के बाद वनाधिकारी वहां पहुंचे. पंचनामा कर नुकसान का अंदाज लगाकर कागजी खानापूर्ति की गई. सहायक वन संरक्षक पराड सहित अन्य कर्मचारी यहां उपस्थित थे. आरोप लगाया जा रहा है कि पिछले 20 वर्षों से सुनियोजित तरीके से तस्कर सागौन चुराते है. पिछले 10 दिन पहले भी इसी तरह 10 से 12 सागौन पेड काटकर चोरी कर लिये जाने की चर्चा है.

राज्य के गृह विभाग ने वरिष्ठ स्तर के अधिकारियों के तबादले किये है.वर्धा के पोलिस अधीक्षक डॉ बसवराज तेली का तबादला कर उनकी जगह पर अमरावती में उपायुक्त पद पर कार्यरत प्रशांत होलकर की नियुक्ति की गई है. गत कुछ दिनों से बसवराज तेली के तबादले को लेकर चर्चा चल रही थी.

जिसपर 17 सितंबर के आदेश के बाद पूर्णविराम लग गया है.तेली की अबतक अन्य जगह नियुक्ति नही की गईं है.उनके पोस्टिंग के संदर्भ में गृह विभाग अलग आदेश निकालेगा.तेली के कार्यकाल में सुस्त पढ़े पुलिस विभाग को पुनः गतिमान करने की चुनौती होलकर के सामने होगी.बढ़ते अपराध, शराब बिक्री, पुलिस अधिकारियों मनमानी पर अंकुश लगाने की जिम्मेदारी उनपर होगी.गत कुछ वर्षों में पुलिस अधीक्षक  नाममात्र रहे थे.

अन्य अधिकारी ही अपनी धौंस जमा रहे थे.जिससे पुलिस विभाग का कार्य मनमर्जी चल रहा था.विभाग की गाड़ी पटरी पर लाने का मुश्किल काम होलकर पर होगा.होलकर ने वाशिम में पुलिस अधीक्षक की जिम्मेदारी निभाई है.साथ ही राज्य गुप्तवार्ता विभाग में उपायुक्त के रूप में कार्य किया है.विदर्भ में काम करने का अनुभव उनके पास है.

पुराने विवाद में युवक की कुल्हाडी से हमला कर निर्मम हत्या करने की वारदात वर्धमनेरी गांव में उजागर हुई. इस घटना से परिसर में हडकम्प मच गया. सुखदेव सलामे (38) यह मृतक का नाम है. इस प्रकरण में तलेगांव पुलिस ने भगत वल्के के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुखदेव सलामे वर्धमनेरी में अकेले रहते थे. जंगल से लकडियां लाकर उसके जरीए अपना उदरनिर्वाह करते थे. परंतु गत एक माह पूर्व कुल्हाडी की चोरी को लेकर गांव के ही निवासी भगत वल्के के साथ विवाद हुआ था. जिससे बदला लेने की भावना भगत वल्के में मन में घर कर गई.

दौरान गुरुवार रात्रि भगत वल्के शराब के नशे में धूत होकर सुखदेव सलामे के घर गया. उस वक्त गहरी नींद में सो रहे सुखदेव सलामे पर कुल्हाडी से गहरे वार किए. जिसमें सुखदेव सलामे की जगह पर ही मौत हो गई. घटना के बाद आरोपी फरार हो गया. हत्या की बात प्रकाश में आते ही पुलिस को जानकारी दी गई. तलेगांव पुलिस ने घटनास्थल पहुंचकर पंचनामा किया. पश्चात वर्धमनेरी से आरोपी भगत वल्के को गिरफ्तार किया. आगे की जांच तलेगांव पुलिस कर रही है.

रेत तस्करी में वाहनों समेत एक करोड 75 लाख रुपये का माल जब्त कर 7 आरोपी पकड़ने की एक बड़ी कार्रवाई खापरखेड़ा पुलिस ने पोटा गाव की हद में बुधवार को की.कन्हान नदी से रेत तस्करी करते हुए 7 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. वाहनों समेत एक करोड़ 75 लाख 53 हजार 500 रुपए का माल जब्त किया गया है. खापरखेड़ा के थानेदार जयपाल सिंह गिरासे सहकर्मियों के साथ बुधवार को तड़के 3 बजे गश्त लगा रहे थे.इस दौरान उन्हें पोटा परिसर के घाट से रेत का अवैध उत्खनन किए जाने की सूचना मिली.इसके आधार पर घाट पर छापा मारा गया.बताया जा रहा है कि,यहा से रेत की चोरी कुछ दिनों से काफी बड़े पैमाने पर हो रही थी और इस बारे में जानकारी नागपुर पुलिस अधीक्षक राकेश ओला को भी मिली थी.उन्होंने भी इन रेत चोरो को पकड़ने के लिए सख्त सूचनाएं दी थी.पुलिस ने घटना स्थल से 7 ट्रक और एक जेसीबी मशीन जब्त कर ली है. इस प्रकरण में संतोष प्रभुजी वासनिक (30) नवीन भानेगांव, मातादीन मुखिया वर्मा (30) सिल्लेवाड़ा, उमराव बबन उके (27) काला फोटो, सोनू महेश यादव (20) वलनी रोड झोपड़पट्टी, मनकापुर, चंद्रकांता सर्वेश्वर घोड़े (34) साहुली (कालाफाटा), प्रदीप चुनीलाल खोब्रागड़े (30) और संकेत सुरेश कोल्हे (24) पारडी तहसील पारशिवनी को गिरफ्तार किया गया है.उक्त मामले का मुख्य सूत्रधार चनकापुर निवासी कृष्णा रामनाथ यादव (30) बताया जाता है.इस कार्रवाई में हवलदार बाबा पोशाक मेश्राम, बंडू कोकाटे,नायक सिपाही आशीष भूरे,सिपाही नुमान शेख,अलीम खान,कासेकर,होमगार्ड जवान रिजवान अंसारी,शुभम सोनी, असकरी ने भाग लिया.आय दिन रेत चोरी की बढ़ती घटनाये पर अंकुश लगाने के लिए रेत चोरी की घटना को अंजाम देने वाले सूत्रधार कृष्णा रामनाथ यादव पर मकोका की कार्रवाई की जाना तय है.

खापरखेड़ा क्षेत्र में विश्वकर्मा जयंती गुरुवार को सादगी के साथ मनाई गई । कोरोना महामारी के संकट को देखते हुए इस साल खापरखेड़ा ५०० मेगावॉट विज केंद्र परिसर में एम.एफ.जैन कंपनी के स्टोर में और कन्हान नदी पुलिया किनारे कन्वेयर बेल्ट के साइडपर रवि खांडेकर कंपनी में भी विश्वकर्मा जयंती का आयोजन किया गया था। दरम्यान भगवान विश्वकर्मा की विधिवत पूजा अर्चना आरती की गई। बताया गया कि पुराणों में भगवान विश्वकर्मा को धरती के पहले इंजीनियर और देवलोक के शिल्पकार वास्तूकला के अद्वितीय आचार्य के रूप में माना जाता है। जिससे हर साल १७ सप्टेंबर को विश्वकर्मा जयंती मनाई जाती। विश्वकर्मा  जयंती अवसरपर जैन कंपनी के स्टोर मैं  पौधारोपण कार्यक्रम भी किया गया। कार्यक्रम दौरान कार्यकारी अभियंता चौहान साहब , पुनवटकर साहब इनके हाथों  पौधे लगाए गए हैं ।आज शुक्रवार को भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा को माल्यार्पण कर विधिवत पूजा आरती की गई। और घट विसर्जित की गया। इस पश्चाय उपस्थितो को प्रसाद वितरित किया गया । कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए विकास गजभिये, स्वप्नील गिते,शंकर ठाकरे, संदिप ठाकरे,एवं कामगार भाई बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

साकोली-तुमसर मार्ग का नाम राज्य महामार्ग भले हो, पर इस मार्ग पर इतने गड्ढे-गड्ढे हो गए हैं कि इस मार्ग को राज्य महामार्ग न कहकर गड्ढों का महामार्ग कहा जाने लगा है. जब कोई इस मार्ग के बारे में पूछता है तो सामने से यह आवाज आती है कि वही रास्ता न जिस पर अनगिनत गड्ढ़े हैं.

साकोली-तुमसर मार्ग पर आने वाले देव्हाडा में चीनी का कारखाना है. इस कारखाना में दिसंबर से मई माह तक ट्रैक्टर दो ड्रालियों को जोड़कर उसमें गन्ने भरकर ले जाया जाता है. इस वजह यह रास्ता पूरी तरह से खराब हो गया है. इस रास्ते की इस वर्ष मानसून से पहले मरम्मत नहीं करायी गई थी, इस वजह से रास्ते की हालत ज्यादा खराब हुई है. सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग की ओर से इस रास्ते की हालत सुधारने की ओर से गंभीरता से ध्यान ही नहीं दिया गया. रास्ते पर बने गड्ढों में पानी भरने के कारण वाहनचालकों को गड्ढे का अंदाज नहीं रहता और उनकी दुर्घटना हो जाती है. इस मार्ग पर दुर्घटना होना आम बात हो गई है, इस मार्ग पर अब तक कितने लोगों की जान जा चुकी है, इसकी कोई निश्चित संख्या किसी के पास नहीं है. इस मार्ग पर कोई बड़ा हादसा हो, इससे पहले इस मार्ग पर कोई बड़ा हादसा हो सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग रास्ते की मरम्मत कराए, ऐसी अपील यहां के लोगों ने की.

अकोला जिले में पूर्णा नदी का पानी पूरी तरह प्रदूषित हो गया है. इस ओर प्रशासन, प्रदूषण नियंत्रण मंडल को बार बार सूचित करने के बावजूद अनदेखी किए जाने से सामाजिक कार्यकर्ता गणेश पोटे ने बुधवार को नदी में तैरना आंदोलन शुरु किया. बुधवार की सुबह गणेश पोटे पूर्णा नदी के पानी के बहाव में कूद पड़े, जिससे प्रशासन सतर्क हो गया. नदी में प्रदूषण की समस्या एक माह के भीतर हल करने का आश्वासन अधिकारियों द्वारा दिये जाने के बाद गणेश पोटे ने आंदोलन समाप्त किया.

बुधवार की दोपहर बाद विधायक रणधीर सावरकर, प्रदूषण मंडल के पाटिल, तहसीलदार विजय लोखंडे सहित अन्य अधिकारी समीपी ग्राम गांधीग्राम पहुंचे थे. सुबह 11 बजे गणेश पोटे ने नदी में छलांग लगाकर तैरते हुए पुल के समीप शिव मंदिर के पास रुके. नदी में पानी क्षमता से अधिक था. दोपहर के समय पूर्व विधायक डा.जगन्नाथ ढोणे, गजानन दालू गुरुजी ने गणेश पोटे से भेंट की.

अकोला जिले के खारा पानी पट्टा क्षेत्र से बहनेवाली पूर्णा नदी रासायनिक घटकों के मिलने से प्रदूषित हो गयी है. नदी किनारे रहनेवाले नागरिक एवं मवेशियों का स्वास्थ्य खतरे में आ गया है. इस संदर्भ में प्रदूषण बोर्ड व प्रशासन की ओर सन 2014 से ध्यान देने की मांग की जा रही है. लेकिन मांग की ओर अब तक अनदेखी किए जाने से सामाजिक कार्यकर्ता गणेश पोटे को कोरोना संकट के समय आंदोलन करना पड़ रहा है, यह दुर्भाग्य की बात है.

जिला प्रशासन व प्रदूषण मंडल की अनदेखी से खतरा बढ़ जाने पर सरकार जिम्मेदार रहेगी, यह सूचना भाजपा जिलाध्यक्ष, विधायक रणधीर सावरकर के नेतृत्व में शामिल प्रतिनिधि मंडल ने जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर से भेंट कर दी. पूर्णा नदी के बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए गणेश पोटे ने अपनी जान जोखिम में डालकर नदी में तैरना आंदोलन शुरु किया है.

जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस संदर्भ में शीघ्र ही समस्या हल की जाय व पहले आंदोलनकारी से चर्चा करें. विधायक रणधीर सावरकर के साथ तेजराव थोरात, माधव मानकर, अंबादास उमाले, अभिमन्यू नलकांडे, विवेक भरणे उपस्थित थे.

कोरोना संक्रमण तेजी से पूरे जिले में फैल रहा है. शहर पुलिस आयुक्तालय में भी कोरोना की एंट्री हुई है. आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार किए आरोपी योगेश कावरे की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से ईओडब्ल्यू में कार्यरत एक महिला पुलिस कर्मी की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है, जबकि अपराध शाखा ने खोलापुरी गेट क्षेत्र से गिरफ्तार किए आरोपी की रिपोर्ट भी कोरोना संक्रमित पाए जाने से आयुक्तालय में हड़कंप मचा है, क्योकि दोनों शाखा सीपी आफिस में मौजुद है

ईओडब्लु संक्रमित के घेरे में: शौचालय घोटाला प्रकरण में आरोपी योगेश कावरे को आर्थिक अपराध शाखा ने हिरासत में लिया था. पुलिस कस्टड़ी के दौरान उसकी कोरोना टेस्ट पॉजीटिव आने से खलबली मच गई थी. ईओडब्ल्यु के पुलिस अधिकारी समेत 9 कर्मियों की कोरोना टेस्ट कराई थी. जिसमें 1 महिला पुलिस पॉजीटिव आयी है, जबकि अन्य कर्मियों की रिपोर्ट निगेटिव आयी है. जिससे आर्थिक शाखा को सील किया है.

 क्राईम ब्रांच एक दल क्वॉरंटाईन: अपराध शाखा के एक पुलिस दल ने 2 दिन पहले खोलापुरी गेट क्षेत्र से शिवा सरदार नामक आरोपी को हिरासत में लिया था. जिससे पूछताछ करने के बाद उसे खोलापुरी गेट पुलिस की कस्टड़ी में दिया था.पुलिस ने शिवा सरदार की कोरोना टेस्ट कराई, जिसकी रिपोर्ट पॉजीटिव आयी है. जिस आरोपी को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था. वह पॉजिटीव आने से पुलिस में हड़कंप मच गया, इसीलिए अपराध शाखा के एक पुलिस दल की मेडिकल टेस्ट करवाकर होम क्वॉरंटाईन किया है.

बाइक चोरी कर पंचवटी चौक पर संदिग्ध घुम रहे एक शातिर चोर को राजापेठ पुलिस ने हिरासत में लिया है, जिससे एक चोरी की होन्डा शाईन (एमएच 27 सीपी 6936) जब्त की है. जिसकी किमत 60 हजार रुपए आंकी है. आरोपी सागर गजानन हनवंते (26, सर्कसपूर, आर्वी, वर्धा) है.  जिससे कई चोरियां सामने आने की संभावना जताई है

किराये से रहकर चोरी को अंजाम

आरोपी सागर मुलताह वर्धा जिले के आर्वी सर्कसपूर का रहने वाला है. शहर के प्रमोद कालोनी में किराये से रहकर बाइक चोरियों को अंजाम दे रहा था. आरोपी सागर ने होन्डा शाइन चुराई, जिसे लेकर पंचवटी चौक पर घूम रहा था, खबर मिलते ही राजापेठ पुलिस ने उसे पकड लिया. पूछताछ करने पर पहले उसने गुमराह करने का प्रयास किया, लेकिन बाद में चोरी की कबूली दी. राजापेठ प्रभारी पीआय निलीमा आरज, पीआय किशोर शेलके, योगेश इंगले, राजेश राठोड, किशोर महाजन, किशोर अंबुलकर, अतुल संभे, दानिश शेख, राहुल ढेगेकर, अमोल खंडेझोड ने सहभाग लिया.

तहसील के पुसला गांव में बारिश का पानी रिहायशी क्षेत्र में घुस गया है. लोगों के घरों में यह पानी जाने से उनके घरों में रखा समाना इस पानी में तैर रहा है. लेकिन ग्राम सेवक व प्रशासक गांव में न होने से शिकायत किससे करे यह समस्या यहां क परेशान हाल नागरिकों के सामने खड़ी है. 

तीन दिनों से हालात हालात: तहसील में इन दिनों झमाझम बारिश जारी है. लेकिन पुसला में नालियों की पर्याप्त व्यवस्था न होने से यह पानी सडकों पर जमा होता है. अब बारिश होने के कारण पानी को बहाव न मिलने से यह गंदा  पानी लोगों के घरों के भीतर घुस रहा है.   तीन दिनों से घरों व गांव में पानी भरा होने से अब बिमारियां फैलने का खतरा मंडरा रहा है. जिससे लोगों में घबराहट है. 

विस्थापित गांव है पुसला: वर्ष 1991 की बाढ़ के कारण पुसला गांव का पुनर्वास किया गया था. लेकिन तब से प्रशासन इस गांव के साथ सौतेला बर्ताव कर रहा है. ऐसा आरोप गांववासी लगा रहे है. इस समय गांव में सरपंच पद का कार्यकाल समाप्त होने से प्रशासक की नियुक्ति की गई है. लेकिन प्रशासन गांव की समस्याओं से कोई सरोकार ही नहीं रखते हम करे सो कायदा वाली स्थिति गांव में बन गई है. रमेश वाघ सहित कईयों के घर में पानी भरा है. लेकिन प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है. 

जल्द होगी समस्या हल : गांव की स्थिति की सूचना मिली है. मैंने तुरंत समस्याएं हल करने की सूचना संबधितों को दी है. समस्या जल्द हल होगी. – वासुदेव कनाटे, गुट विकास अधिकारी

चंद्रपूर: ताडोबा-अंधारी व्याघ्रप्रकल्पातील बफरसोबतच आता कोअरमधील पर्यटन येत्या १ ऑक्टोबरपासून सुरू होणार आहे. येत्या १६ सप्टेंबरपासून यासाठी ऑनलाइन बुकिंगची सोय उपलब्ध होणार आहे.

करोनाच्या संकटामुळे १८मार्चपासून ताडोबा प्रकल्प बंद करण्यात आला होता. १ जुलैपासून मान्सून पर्यटन सुरू झाले. थेट बुकिंगच्या माध्यमातून पर्यटकांना प्रवेश दिला जात होता. आता ऑनलाइनची सोयही उपलब्ध होणार आहे. पर्यटकांना www.mytadoba.org या नव्या संकेतस्थळावरून आरक्षण करता येणार आहे, अशी माहिती ताडोबा-अंधारी व्याघ्र प्रकल्पाचे क्षेत्र संचालक डॉ. जितेंद्र रामगावकर यांनी दिली आहे. दरम्यान, करोनामुळे प्रकल्पाने नियम आखून दिले आहेत. प्रवेशापूर्वी तापमान तपासले जाईल. आजारी असल्याचे दिसून येताच प्रवेश नाकारण्यात येणार आहे.

कुणाला प्रवेश?
-ओपन जिप्सीत चालक, मार्गदर्शक व चार पर्यटकांना मंजुरी
-दहा वर्षांखालील व ६५ वर्षावरील व्यक्ती, गर्भवतींना बंदी

वैद्यकिय प्रवेश के लिए राष्ट्रीय स्तर पर ली गई राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) रविवार को कोरोना के साये में ली गयी. कोरोना का डर होने के बावजूद भविष्य की चिंता रहने से परीक्षा केंद्र पर छात्रों के साथ अभिभावकों की भीड भी दिखाई दी. संसर्ग रोखने के लिए प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर थर्मल स्कैनिंग, सैनिटाइजर का प्रबंध किया गया. अमरावती विभाग अंतर्गत अमरावती व यवतमाल जिले के 21 परीक्षा केंद्रों पर यह परीक्षा ली गई. यवतमाल शहर के साथ ही जिले के वरुड, चांदूरबाजार व धामणगांव रेलवे आदि परीक्षा केंद्रों पर 6 हजार 705 छात्रों ने यह परीक्षा दी. 

जांच करने के बाद ही प्रवेश 
नीट का पर्चा दोपहर 2 से 5 लिया गया. लेकिन कोरोना के कारण भीड टालने के लिए 11 बजे से ही  टाइमटेबल के अनुसार प्रवेश शुरु किया गया. प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर थर्मल से जांच करने के बाद ही प्रवेश दिया गया. बुखार अथवा कोरोना के लक्षण रहनेवाले छात्रों को आयसोलेशन हाल में व्यवस्था कराई गई. इस हाल में भी पर्यवेक्षकों को पीपीई कीट की व्यवस्था भी रही. एक परीक्षा केंद्र में केवल 12 छात्रों की बैठने की व्यवस्था की गई है. 720 अंकों की इस परीक्षा में 180 सवाल थे. प्रत्येक केंद्र पर छात्रों को सैनिटाइजर व मास्क भी दिया गया. 

90.35 प्रश. की उपस्थिति
परीक्षार्थियों ने कोरोना से न डरते हुए परीक्षा केंद्र पर उपस्थिति दर्ज करायी. परीक्षा का समन्वयक सुरेश लकडे ने दी गई जानकारी के अनुसार 7421 में से 6705 यानी 90.35 प्रतिशत छात्रों ने यह परीक्षा दी है. जबकि 716 छात्र अनुपस्थित थे. 

चीन से कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ और सभी को घरों मे कैद होना पड़ा. लॉकडाउन में कुछ लोग अपने शौक को पूरा कर रहे हैं. बीते दो महीने से शहर के कुछ लोग पतंगबाजी में व्यस्त हैं. ऐसे में उन्हें चीनी मांजे से कोई परहेज नहीं है. वे उसका बेखौफ इस्तेमाल कर रहे हैं. मकर संक्रांति के मौके पर जितनी पतंगे उड़ती है उतनी कई गुना अधिक पतंगे इस समय शहर में उड़ रही है. पतंगे उड़ाने के लिए इस्तेमाल में लाए जा रहे चीनी मांजे के चलते लोग, पक्षियों की जान खतरे में है.

इससे पहले चीनी मांजे का इतना अधिक इस्तेमाल नहीं हुआ है जितना अभी हो रहा है. प्लास्टिक की डोर पर धातु, कांच के मिश्रण से तैयार किया जाने वाला चीनी मांजा धारदार हथियार से कम नहीं है. पतंगबाजी के दौरान जब ये मांजा किसी बाइक वाहन चालक से उलझता है तो गहरे जख्म देता है. कॉटन से बने धागे की तुलना में चीनी मांजा मजबूत और सस्ता होता है. अत: लोग इस मांजे को अधिक खरीदते है. इस मांजे पर लोहे का बुराद लगा होता है, जो यदि किसी बिजली के तार पर लग जाए तो करंट भी लग सकता है.

चोरी छुपे बिक रहा बाजार में

शहर के पतंग कारोबारियों का आरोप है कि कुछ लोग अभी भी चाइनीज मांजे को चोरी छिपे बेच रहे हैं. हालांकि, इस बार चाइनीज मांजा मार्केट में नहीं आया है. जिन कारोबारियों के पास पिछले साल का चाइनीज मांजा बच गया था, वो ही इसकी बिक्री कर रहे हैं.

 वणी से चंद्रपुर तक बने महामार्ग के डिवाइडर मे पौधे लगाने और उनके बड़े होने तक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए डिवाइयर वॉल की दोनों ओर कंटीली झाड़ियां तोड़ने एवं रेडियम पेंट करने के पीडब्ल्यूडी  के आदेश को टोल कंपनी ने ठेंगा दिखा दिया है. अब तक आधा अधूरा काम ही किया है. मालूम हो की सामाजिक कार्यकर्ता इबादुल सिद्दीकी ने इस मामले को लेकर अनेक शिकायतें वरिष्ठ अधिकारियों से की थी. 28 अगस्त को पीडब्ल्यूडी ने आयवीआरसीएल को लिखे पत्र में कहा कि इससे पूर्व कंपनी को 6 बार पत्र दिये जाने के बावजूद कंपनी ने पडोली से यवतमाल तक डिवाइडर के बीच मे पौधे लगाने, रेडिमय पेंट करने, सड़क की साफ-सफाई करने, डिवाइडर के अंदर बेर बबुल के कंटीले पौधों को निकालने, सर्विस रोड की लेवलिंग करने, सड़क से पशुओं को हटाने आदि कार्यों को अब तक पूर्ण करना था.

कंपनी ने इनमें से कोई काम पूरा नहीं किया है. इसे अंतिम नोटिस समझकर उपरोक्त सभी कार्य तत्काल पूर्ण किये जाये. इस महामार्ग पर न केवल वणी, चंद्रपुर, गड़चिरोली, यवतमाल जिले के वाहनों का आवागमन होता है, बल्कि समीप के तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, मध्यप्रदेश के मालवाहक वाहन एवं अन्य वाहनों का यहां से 24 घंटे आवागमन लगा रहता है.

सुरक्षा के नहीं किए जा रहे इंतजाम

डिवाइडर पर लगाये गए पौधे तैयार नहीं होने और रेडिमय के अभाव में रात में डिवाइडर नजर नहीं आता है. ऐसे में वाहनों की तेज लाइट के प्रकाश में ध्यान भटकाने से अक्सर वाहन सीधे डिवाइडर से टकरा जाता है. इस रोड पर रात में यात्रा करने वालों को हमेशा डर बना रहता है. जोखिम उठाकर वाहन चालकों को यात्रा करनी पड़ती है. रोड निर्माण करने वाली कंपनी को रोड बनाकर 5 वर्ष का समय बीत चुका है. यहां कंपनी केवल टोल वसूली पर विशेष ध्यान दे रही है. रोड डिवाइडर की ओर कंपनी को कोई ध्यान नहीं है.

उमरेड.उमरेड करहांडला पवनी अभयारण्य के कुही परिक्षेत्र में एक बाघ की मौत होने से जानकारी सामने आई है. प्राथमिक जांच के अनुसार बाघ की मौत अपना अधिराज्य स्थापित करने के लिए हुई लड़ाई में होने का सामने आया है.मृत बाघ के शरीर पर जख्मो के कई निशान मिले हैं.ऐसी जानकारी नागपुर जिला मुख्य वन्यजीव सन रक्षक के प्रतिनिधी रोहित कारु ने दी.इस परिसर में पहले से ही एक बड़ा उम्रदराज नर बाघ रह रहा था.ऐसे में दूसरे क्षेत्र से नया युवा बाघ इस परिसर को अपना राज्य बनाने के लिए आया था. जिसकारण दोनों बाघों में लढाई हुई.और युवा बाघ की मौत हो गई.ऐसा अंदाज वनविभाग द्वारा व्यक्त किया जा रहा है.फिलहाल वनविभाग ने बाघ के शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा है.बाघ का शरीर बड़े पैमाने पर गल चुका  है.केवल बाघ की खाल रह गई है. इस मामले की जांच जारी है.वाकई में बाघ की मौत कैसी हुई थी यह जांच रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा.साथ ही बाघ का शिकार तो नही हुआ हैं इस दिशा में भी जांच की जा रही है.

रविवार को संपुर्ण देश भर में मेडीकल संस्थानों मे दाखिले के लिए नीट परिक्षा संपन्न हुई.परिक्षा  का समय दोपहर दो बजे से पांच  बजे तक था.कोरोना महामारी के संकटकाल को देखते हुये,नैशनल टेस्टिंग एजंसी द्वारा परिक्षा केंद्रों  की संख्या बढाई गयी थी.ईसी के तहत नागपुर जिले के काटोल तहसील के कोंढाली के लाखोटीया भुतडा सीबीएसई हायस्कूल में भी परिक्षा केंद्र दिया गया था.यहां के परिक्षा केंद्र पर नागपुर शहर के साथ-साथ पुर्व  विदर्भ के कई जिलों के 600 परिक्षार्थी में से 499 परिक्षार्थीयों ने अपने-अपने अभिभावकों के साथ कोंढाली के लाखोटीया भुतडा सीबीएसई हायस्कूल के परिक्षा केंद्र पर पहूंचे.परिक्षा केंद्र से दो सौ गज के दुरी पर ही बैरिकेट (अवरोधक)लगाकर  वाहनों को रखकर परीक्षा केंद्र  परिसर में सिर्फ परिक्षार्थीयों को ही प्रवेश दिया गया था.परिक्षा केंद्र पर पहूंचे परिक्षार्थीयों को एनटीए के दिशानिर्देशोंके पालन  करते हुऐ परिक्षा केंद्र पर प्रवेश  के समय सोशल डिस्टनसिंग,प्रत्येक छात्र को  परिक्षा केंद्र पर मास्क,सैनिटायजर परिक्षा केंद्र संचलन अधिकारीयो द्वारा दिया गया.प्रत्येक कक्षा में सिर्फ  12 परिक्षार्थी के बैठने की व्यवस्था की गयी थी.सभी परिक्षार्थीयों  तथा परिक्षा केंद्र पर परिक्षा  निरिक्षक तथा सभी अधिकारीयों  के शरीर तापमान जांच  के लिये स्वास्थ्य अधिकारीयों द्वारा थर्मलगन तथा आक्टोमिटर से शारिरीक  तापमान तथा ऑक्सीजन लेव्हल जांच  के बाद   दोपहर दो बजे से पांच बजे तक  परिक्षार्थीयों ने  परिक्षा दी.वही परिक्षार्थीयों के अभीभावको ने अपने-अपने वाहनो को यहां के वाहन पार्किंग में तथा कुछ अभिभावकों ने काटोल मार्ग पर  सडक किनारे वाहनों को पार्क   किया था.परिक्षा केंद्र से दो सौ  गज के दुरी पर उडान पुलीया के निचे अभीभावकों तथा नगरवासियों ने सहारा लिया था.इस अवसर पर ग्राप प्रशासन द्वारा मास्क लगाकर रखने, शारिरिक दुरी बनाये रखने की बार-बार उद्घोषणा की जा रही थी.वही पुलीस विभाग द्वारा दो सौ गज के क्षेत्र में सिर्फ परिक्षार्थीयों को ही प्रवेश दिया जा रहा था.

यहां से जाने वाले राज्यमार्ग 262 पर वाहनों के आवागमन का सिलसिला लगातार जारी रहता है. यह मार्ग बेहद भीड़भाड़ वाला होने के बावजूद इस मार्ग की ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है. बॉयपास मार्ग का काम करने के प्रति राजनीतिक इच्छा का अभाव होने के कारण नहीं हो पा रहा है. सानगडी नाका से विहिरगांव टोली तक यह मार्ग गांव के बीच से ही गुजरता है. इसी मार्ग पर वन विभाग कार्यालय, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, पुलिस चौकी, बैंक तथा सभी व्यापारिक केंद्र स्थित हैं.

इस मार्ग पर स्कूल, महाविद्यालय होने के कारण विद्यार्थियों का आवागमन होता रहता है. साकोली, वडसा, लाखांदूर, गोठनगांव, हैदराबाद स आने-जाने वाले वाहनों का सिलसिला भी इस मार्ग सदैव जारी रहता है. इस मार्ग की मरम्मत करने के बारे में कई बार शिकायतें करने के बाद भी रास्ते को धुएं से मुक्त करने में कुछ नहीं सोचा. पांच छह वर्ष से इस मार्ग छुएं के साए में है, लेकिन किसी ने भी इस मार्ग को धुएं साए से बचाने की सार्थक कोशिश नहीं की.

लाखनी तहसील के केसलवाडा में (वाघ)  के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना योद्धाओं का सत्कार किया गया. खंड विकास अधिकारी डॉ शेखर जाधव की मुख्य उपस्थिति में आयोजित किए गए इस कार्यक्रम में तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुनील हटनागर, डॉ. डी.आर.राऊत, पी.एस. राखड़े, नरेश नवखरे, आई. ए. खान भी उपस्थित थे.

कार्यक्रम में कोरोना संकट काल में उत्कृष्ट काम करने वाले स्वास्थ्य सहायक अनमोल बोदले तथा सुधीर अतकरी का अतिथियों के हाथों सत्कार किया गया. कार्यक्रम में स्वास्थ्य सहायक रामनाथ चोपकर, औषधि निर्माण अधिकारी जी.एम. सांबरबांधे. आर.टी. नांगलवाडे. ओ.जी. उके समेत अन्य लोगों ने सहयोग दिया.   

हाई होल्टेज वितरण प्रणाली योजना के अंतर्गत प्रलंबित कृषि पम्पों को बिजली कनेक्शन देने के लिए एशियन डेवलपमेंट बैंक द्वारा कर्ज लेने के लिए ऊर्जा विभाग द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव को मंजूरी मिलने की उम्मीद है. प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के कारण मार्च 2018 तक प्रलंबित कृषि पम्पों के बिजली कनेक्शन देने की राह आसान होगी. महावितरण के अकोला परिमंडल में लगभग 13,600 किसानों के कृषि पम्पों को बिजली कनेक्शन देना शेष है. इस योजना में अधिकतर किसानों को नये बिजली कनेक्शन दिये जा सकेंगे. इस बीच योजना के लिए राज्य में 5,048 करोड़ रु. मंजूर किए गए हैं.

जिसमें से पंजाब नैशनल बैंक और बैंक ऑफ इंडिया बडोदा से 2,800 करोड़ रु. का कर्ज लिया गया है. जबकि विदर्भ और मराठवाड़ा के बिजली कनेक्शन देने हेतु 2,248 करोड़ रु. की आवश्यकता है. इस योजना में मार्च अंत तक प्राप्त आवेदनों के अनुसार कृषि पम्पों के बिजली कनेक्शन दिये जाएंगे. इस योजना में पेड पेंडिंग सूची के किसानों को नये बिजली कनेक्शन दिये जाएंगे. उच्चदाब वितरण प्रणाली योजना के लिए विदर्भ के किसानों को कृषि पम्प कनेक्शन दिये जा रहे हैं. कनेक्शन मिलने के बाद किसानों की समस्या हल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है.

अकोला. बोअरिंग के पानी को लेकर दो गुटों में हुए संघर्ष के बाद हत्या प्रकरण के 3 आरोपियों को न्यायालय ने फरार घोषित किया है. पुलिस द्वारा फरार आरोपियों की खोज की जा रही है. स्थानीय जाम मुहल्ला परिसर में मारपीट के बाद रामदासपेठ पुलिस स्टेशन में शमीम गौरवे की शिकायत पर 11 आरोपियों के खिलाफ भादंवि की धारा 307 व अन्य धाराएं तथा आर्म एक्ट के तहत मामला दर्ज किए गए.

थानेदार मुकुंद ठाकरे के मार्गदर्शन में 8 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया और तीन आरोपी फरार है. इस प्रकरण में उपचार के दौरान जख्मी हुए जावेद गौरवे की मौत होने पर आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया. मामले की जांच कर रहे सहायक पुलिस निरीक्षक सुनील सोलंके की जानकारी के अनुसार न्यायालय ने 3 आरोपियों को फरार घोषित किया है.

मुंबई में सेवानिवृत्त नेवी अधिकारी मदन शर्मा पर हमला किए जाने के निषेधार्थ अकोला में अमर जवान पूर्व सैनिक नामक संगठन द्वारा निषेध सभा का आयोजन कर निषेध व्यक्त किया गया. स्थानीय कर्ता हनुमान मंडल कार्यालय में हमलावरों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की गयी और प्रदर्शन किया गया.

निषेध सभा व प्रदर्शन में पूर्व सैनिक संगठन अध्यक्ष सुभाष म्हैसने, विलास गासे, लक्ष्मण मोरे, शंकर देशमुख, संतोष चराटे, प्रकाश बाहेकर, रामेश्वर लांडगे, श्रीकृष्ण चक्रनारायण, वसंतराव खेडकर, सुरेश वढे, मुरलीधर झटाले, शांताराम काले, शांताराम रोहनकार, हिम्मतराव पोहरे, महादेवराव खडसाले, विठ्ठल चिकटे, संजय वेध, मुरलीधर आवटे, गजानन माली, शरद कोकाटे, विलास आगरकर, दीपक चतार, विलास धारस्कर, वसंत जायदे, निवृत्ती मानकर व संगठन के कार्यकर्ता एवं नागरिक उपस्थित थे.

 जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते रौद्र रूप को देखते हुए जिले के पालकमंत्री विजय वडेटटीवार ने शुक्रवार को यहां एक आपात बैठक लेते हुए बताया कि, जिस रफ्तार से जिले में कोरोना मरीज बढ़ रहे है उसे देखते हुए सितंबर अंत तक जिले में मरीजों का आंकड़ा 20 हजार से अधिक होने का अनुमान है।

उन्होंने कहा कि, जिस रफ्तार से मरीजों की संख्या बढ़ रही है उसे देखकर जिला प्रशासन  की मदद से उन्होंने  कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण निर्णय लिए है।

उन्होंने कहा कि, सितंबर माह जिले में कोरोना संक्रमण का पिक पिरेड रहेगा। इस माह के अंत तक सक्रिय मरीजों की संख्या ही 8 हजार से अधिक होने के अनुमान पर अब जिले में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ ही स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने का निर्णय हुआ है।

जिले में अब वरोरा, भद्रावती, राजुरा, ब्रम्हपुरी तथा बल्लारपुर तहसील मुख्यालयों में 100 बिस्तरों वाले कोविड अस्पताल तैयार किये जायेंगे जिनमे 50 बेड आईसीयू के तथा शेष 50 बेड ऑक्सीजन सुविधायुक्त होंगे।

उन्होंने बताया कि, चंद्रपुर शहर के महिला अस्पताल में भी 100 बेड का कोविड अस्पताल बनेगा। साथ ही साथ आगामी 10 दिनों में चंद्रपुर में अतिरिक्त एक हजार बेड का अस्थायी कोविड अस्पताल तैयार किया जाएगा ताकि जिले में मरीजों के लिए बिस्तरों की कमी ना हो और तहसीलों के मरीजों को उपचार हेतु महानगर में आने की नौबत न आये।

उन्होंने कहा कि, जिले में स्वास्थ्य कर्मियों तथा डॉक्टरों की कमी के मद्देनजर आज से ही आउटसोर्सिंग के माध्यम से कर्मियों की भर्ती की जा रही है।

 

जिला पुलिस अधीक्षक के विशेष पथक ने ग्राम अड़गांव बु. में एक घर पर छापा मारकर 2.17 लाख रु. मूल्य का गुटका जब्त किया है. पुलिस के अनुसार विशेष पथक जब अकोट उप विभाग में पेट्रोलिंग कर रहा था, उन्हें सूचना मिली की ग्राम अड़गांव बु. में अवैध गुटका बेचा जा रहा है. पथक ने अक्रमखां हशमत खां (28) के घर छापा मारकर कुल 2,17,550 रु. मूल्य का प्रतिबंधित माल जब्त कर आरोपी के खिलाफ हिवरखेड़ थाने में मामला दर्ज किया गया. यह कार्रवाई पुलिस अधीक्षक जी.श्रीधर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रशांत वाघुंडे के मार्गदर्शन में विशेष पथक प्रमुख, पुलिस निरीक्षक मिलिंदकुमार बहाकर ने की. 

लाकडाउन से स्वयंरोजगार धारकों पर भुखमरी की नौबत आई है. देश में सभी ओर लाकडाउन में शिथिलता देने के लिए विविध फेज के अंतर्गत विविध व्यवसायिकों को व्यवसाय करने के लिए छुट दी जा रही है. समाज के मनोरंजन के लिए अपनी जान की बाजी लगाकर जान खतरे में डालकर लोगों का मनोरंजन करनेवाले राजपालनाधारक व लघु व्यवसायधारक, स्वयंरोजगार व यात्रि व्यवसायधारकों को व्यवसाय की अनुमति न देने से उन पर भूखमरी की नौबत आई है. 500 लोग इकठ्ठा कार्य करनेवाले कारखाने को मंजूरी देकर शुरू किया गया है.

छोटे बड़े व्यवसाय करनेवाले सभी व्यवसायिकों को व्यवसाय शुरू करने के लिए अनुमति दी गई है, लेकिन स्वयंरोजगार प्रदर्शनी, आनंद मेला, मीना बाजार को शुरू करने के लिए अभी तक सरकार ने अनुमति न देने से उन पर भुखमरी की नौबत आकर मार्च 2020 से किसी भी प्रकार की सरकारी मदद अब तक उनको मिली नही है. वे सदैव यात्रा कर अपना जीवनयापन करने से उनको सरकार की ओर से मिलनेवाला राशन कार्ड से भी वे वंचित है. कोई भी सरकारी योजना उनको नही मिलती है. केवल स्वयंरोजगार प्रदर्शनी, आनंद मेला के माध्यम से गांव गांव घुमकर वे अपना जीवनयापन करते है.

पिछले मार्च 2020 से उनका व्यवसाय बंद होने से उनकी सामग्री खराब होकर बेकार हो रहे है. इस परिस्थिति में कोई दूसरा आय का साधन न होने से उन्होंने अपना जीवनयापन कैसा करना यह सवाल उनके सामने खड़ा हो गया है. सरकार ने उनके मांग पर विचार कर उनको सरकारी मदद देकर व्यवसाय शुरू करने की अनुमति देने की मांग स्वयंरोजगार, राजपालनाधारक व लघु व्यवसायधारक तथा यात्रि व्यवसायधारक की ओर से सतीश पवार ने निवेदन द्वारा प्रधानमंत्री से की है.

गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने ब्रम्हपुरी नागभीड महामार्ग के उराडे राईस मिल के पीछे जंगल में छापा मारकर मुर्गो की लडाई पर शर्त लगाकर जुआ खेल रहे आरोपियों नगदी समेत 16.56 लाख का माल जब्त कर 18 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उपविभागीय पुलिस अधिकारी मिलिंद शिंदे को मुर्गा की लडाई पर शर्त लगाकर जुआ खेलने की गुप्त सूचना मिली थी।

इस आधार पर उराडे राईस मिल के पीछे एक किलोमीटर दूरी पर जंगल में टीम ने छापा मारकर खरबी निवासी धनु शिवरकर, ब्रम्हपुरी निवासी डिगेश्वर कुथे, पवनी निवासी मंगेश मानापुरे, जांभुलघाट निवासी सतसिंह जुनी, निलज निवासी अभिजीत कानतोडे, मेंढा निवासी अतुल शेंडे, कमलेश नेहलानी, देवराव मानापुरे, अरुण मेहेर, मोहम्मद अंसारी, संदीप गेडाम, अजय अलोने, शालिक लोनबले, अनिल मसराम, सुनिल खरकाटे, अजहर सैयद, महेंद्र मिसार, हरीष सोरते को गिरफ्तार कर उनके पास से 31000 रुपये नगदी, 29 मोटर साइकिल, मोबाइल, मुर्गो की बांधने की काती ऐसे कुल 16,56,740 रुपये का माल जब्त किया है।

यह कार्रवाई एसडीपीओ मिलिंद शिंदे के मार्गदर्शन में पीएसआई पढाले, सोनेकर, झाडे, नैताम, विशाल शिंदे, बंडू जाधव, किशोर कुलै, वारजुकर, आंबोरकर, युक्रांत, सोनवाने, मुलेमवार, रोहित, नितीन आदि ने की है।

भंडरा जिले के गोसीखुर्द बाँध का जलस्तर बढ़ने से बांध के सभी 33 दरवाजे सुबह 9 बजे 0.50 मीटर खोलना पड़ा था। सुबह 10 बजे 18 दरवाजे बंद कर दिये  और 15 दरवाजे 0.50 मीटर खुले है और लगातार पानी छोड़ा जा रहा है।

वर्तमान में 15 दरवाजे से 1597 कुव्मेक्स पानी छोड़ा जा रहा है। अगस्त महीने के अंतिम सप्ताह में बिना पूर्वसूचना के गोसीखुर्द बांध के सभी दरवाजे खोल देने से गडचिरोली और चंद्रपुर जिले से बहने वाली वैनगंगा नदी किनारे बसे चंद्रपूर जिले के ब्रह्मपुरी, सावली, गोंडपिपरी तहसील में बाढ़ आ गई थी। बाढ़ के पानी से सैकड़ों गांव के लोगो का भारी नुकसान हुआ था। किसानों के खेतों की खडी फसल में पानी घुस जाने फसलों का भारी नुकसान हुआ था। अब भी लोग बाढ़ से संवर नही पाये है। इसलिए इस बार प्रशासन लगातार सतर्कता की चेतावनी दे रहा है। जिससे लोग सतर्क हो जाये।

गुप्त सूचना के आधार पर स्थानीय अपराध शाखा की टीम ने घुग्घुस के भंगार मोहल्ले में एक खराब कर के नीचे छुपाकर रखी 1.17 लाख रूपये कीमत की शराब जब्त कर ली। पुलिस ने यह कार्रवाई मंगलवार की रात 2 बजे की है।

पुलिस को सूचना मिली थी की घुग्घुस के लोहा पुलिया के पास भंगार मोहल्ले में शराब छुपाकर रखी है। स्थानीय अपराध शाखा के थानेदार ओमप्रकाश कोकाटे ने अपने टीम के साथ छापा मारकर शराब जब्त कर ली। रिपोर्ट के आधार पर घुग्घुस पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया। यह कार्रवाई थानेदार ओमप्रकाश कोकाटे के मार्गदर्शन में  हवलदार संजय अतकुलवार, धनंजय करकड़े, गोपाल अतकुलवार, प्रशांत नागोशे, अमोल केंद्रे रविन्द्र पंडरे ने की है।

जिला सरकारी अस्पताल में बुधवार की दोपहर उस समय बवाल मच गया जब एक 75 वर्षीय बुर्जुग मरीज की मौत के बाद परिजनों ने इंजेक्शन से सूलो पाइजन देने का आरोप लगाकर ड्यूटी पर कार्यरत डाक्टर व परिचारिका से विवाद कर पेट्रोल डालकर जान से मारने की धमकी देकर गाली गलौच की. जिससे संतप्त परिचारिकाओं ने कामबंद आंदोलन कर दिया. जिससे मरीजों को घंटों परेशानी उठानी पड़ी. कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है. 

इलाज में लापरवाही का आरोप
पुलिस सूत्रों के अनुसार चपरासीपुरा निवासी रमजान खान सलमान खान (75) नामक शख्स को गंभीर हालत में बुधवार की दोपहर जिला अस्पताल में भरती किया. यहां ड्युटी पर कार्यरत डा.बनसोड के कहने पर परिचारिका ने उसे तत्काल सलाइन लगाकर इंजेक्शन दिया. कुछ मिनट बाद अचानक उसकी हालत और अधिक बिगड जाने से उसने दम तोड दिया. मौत की खबर सुनते ही परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर हो हल्ला मचा दिया. इंजेक्शन में सूलो पाईजन देने का आरोप लगाकर कुछ युवक परिचारिका को गालियां देने लगे, जबकि कुछ लोगों ने बाहर निकलने पर पेट्रोल से भडका देने की धमकी दी. 

पुलिस कार्रवाई का आश्वासन
इस घटना से इर्विन की सभी परिचारिकाओं ने काम बंद कर दिया. सभी इकठ्ठा होकर सीएस डा.शामसुंदर निगम के पास पहुंचे. सीएस से तत्काल कार्रवाई की मांग की अन्यथा काम बंद रहेगा. सूचना पर कोतवाली पुलिस घटनास्थल पहुंची. पुलिस ने परिचारिका की रिपोर्ट पर कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने से कामबंद वापस लिया. इस घटना से कुछ घंटों तक कामबंद होने से मरीजों को असुविधाओं का सामना करना पड़ा.

तहसील अंतर्गत आनेवाले शाहपुर में कुएं में गिरकर युवक की मौत हो गई. मृतक निर्मल मधुकर शेलार है. वह अपने पिता के साथ बुधवार को सबेरे से अपने पिता के साथ खेत में काम करने गया था. लेकिन काम करते समय अचानक पैर फिसलने से वह कुएं में जा गिरा. 

मधुकर और निर्मलखेत में किटनाशक का छिड़काव कर रहे थे. इस बिच निर्मल छिडकाव के लिए पानी लेने कुएं पर गया. कुएं से पानी निकालते समय पैर फिसल गया और वह कुएं में जा गिरा. कुएं में मलबा अधिक होने से वह मलबे में जा फंसा. 

आस पास के लोगों ने येणस, कणस के पुलिस पाटिल योगेश उक को सूचित किया. उसे तुरंत निकालकर अस्पताल भेजा गया. जहां उसे मृत घोषित किया गया.

 बडनेरा पुलिस ने सुनील काजले पर जानलेवा हमले के मामले में सिर्फ 12 घंटे के भीतर 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है.इन आरोपियों में योगेश अरुण घुगे (19) ,आकाश गजानन तूपटकर (19), यश विनायक शिरसागर (20) ,प्रतीक ज्ञानेश्वर देउलकर(20), यश दिनेश भट्कर (19) सभी गोपाल नगर निवासी तथा प्रज्वल विकास लोखंडे (19,अंजनगांव बारी) का समावेश है. जिनसे 2 मोटर साइकिल, 1 मोबाइल, एलुमिनियम के डेडन 8 नग ,2 तलवारें, एक चाइना चाकू भी जब्त किया गया 

ठेकेदार की हत्या का प्रयास
महावितरण कंपनी के ठेकेदार सुनील काजले पर 5 सितंबर को आरोपियों ने जानलेवा हमला किया. बडनेरा पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज होते ही आरोपियों की तलाश शुरु की. जिसमें सिर्फ 12 घंटे के भीतर 5 आरोपियों को हिरासत में लिया. जिनसे तलवार, चाकु समेत अन्य माल जब्त किया. बडनेरा पुलिस निरीक्षक पंजाब वंजारी के नेतृत्व में एएसआई बोरवार, दीपक सुंदरकर,ईशा खंडे शैलेश मोरे, मनीष यादव, अक्षय देशमुख कार्रवाई में सहभाग लिया.

एक परिचित युवक ने धोखे से खेत दिखाने के बहाने 28 वर्षीय युवती को भानखेडा जंगल ले गया, यहां उसने अन्य 2 साथियों के साथ मिलकर युवती से गैंगरेप किया. सोमवार की दोपहर 4 से रात 8 बजे के बीच हुई इस घटना में बडनेरा पुलिस ने 3 आरोपियों को हिरासत में लिया है. आरोपी रतन अवधूत पाटिल (30,शोभा नगर), सुनील विष्णु राठौड़(कस्तूरा मोगरा बडनेरा) तथा दिनेश यादव ( (32,शोभा नगर) है.

खेत दिखाने के बहाने ले गया
युवती मूलतः नांदगांव खंडेश्वर तहसील की रहने वाली है. शहर में पोस्टमेन कालोनी में किराये से रहकर कपडे की दूकान में काम करती है. आरोपी सुनील राठौड से युवती की जान-पहचान थी. इसी जान-पहचान के बहाने सोमवार की दोपहर सुनील ने उसे दस्तुर नगर चौक पर बुलाया. भानखेडा से 1 किमी दूरी पर स्थित उसका खेत है. खेत दिखाने के बहाने युवती को बाइक पर बैठाकर साथ ले गया. भानखेडा के जंगल में स्थित खेत में पहले से ही सुनील के 2 साथी मौजूद थे. जहां आरोपियों ने सामूहिक दुष्कर्म किया. 

संत गाडगेबाबा विद्यापीठ के मुख्य प्रवेश व्दार पर परीक्षाओं का शुल्क लौटाने समेत विद्यार्थियों की विभिन्न मांगों के लिए आंदोलन करने के मामले में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता समेत 100 विद्यार्थियों के खिलाफ फ्रेजरपुरा पुलिस ने एफआइआर दर्ज किया है. 

आदेशों का उल्लंघन
पीआय नितिन मगर की रिपोर्ट पर एबीवीपी के प्रदेश मंत्री रवि दांडगे(26), संगठक प्रमुख विक्रांत कलाने(35, दारापुर), वृषभ पवन भुतडा (22, छांगाणी नगर), अखिलेश भारतीय(26, कृष्णार्पन कालोनी), चेतन खडसे (चांदुर रेलवे) समेत 100 विद्यार्थियों के खिलाफ गैरकानूनी ढंग से इकठ्ठा होने, राष्ट्रीय आपत्ती व्यवस्थापन कानून का उल्लंघन व साथी रोग प्रतिबंधक कानून के तहत मामला दर्ज किया है.

कोरोना महामारी के कारण 5 से अधिक लोगों को एक साथ इकठ्ठा होने की सख्त मनाई है, फिर भी एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने सैकडों की संख्या में उपस्थित रहकर विवि गेट पर प्रदर्शन किया. बैरीकेट्स को हटाने का प्रयास किया. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए जिलाधिकारी व्दारा जारी किए गए आदेशों का उल्लंघन किया.

बैंड, बाजा, घोडेवालों समेत इस व्यवसाय पर निर्भर लोगों ने मंगलवार को मोर्चा निकाला. नेहरु मैदान से निकाला गया यह मोर्चा गर्ल्स हाइस्कूल होते हुए सीधा जिलाधिकारी कार्यालय पर जा धमका. कोरोना के चलते गत 5 माह से बैंड, बाजा घोडेवाले, लाइटिंगवालों का जीना मुश्किल हो चुका है. 3 लोग, 2 घोडे मर चुके है बावजूद इसके पूरा देश अनलाक होने के बावजूद केवल शादी ब्याह में ही बैंड बजाने की अनुमति नहीं दी जा रही. परिणामत: दो वक्त की रोटी का जुगाड करना पड रहा है ऐसा आरोप लगाते हुए राज्य व केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई.

सीएम के नाम भेजा ज्ञापन
पूर्व कृषि मंत्री अनिल बोंडे के नेतृत्व में इसके पूर्व भी आंदोलन कर प्रशासन को बैंड बजाने की अनुमति मांगी थी. लेकिन प्रशासन ने इस पर उचित निर्णय नहीं लिये जाने से बैंड एसो. के अध्यक्ष गणेश कलाने के नेतृत्व में मोर्चा निकाला गया. मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजकर  कोरोना में परिवार के सदस्यों के हो रहे हाल को देखकर आर्थिक मदद करने की गुहार लगाई.

 वैनगंगा नदी में आयी भीषण बाढ से ब्रम्हपुरी, गोंडपिपरी, सावली, मूल और पोंभूर्णा तहसील प्रभावित हुई. यहां ना केवल घरों का बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ बल्कि खेतों में खड़ी फसल तबाह हो गई. इस समय बाढ का असर पूरी तरह से समाप्त होने से विभिन्न स्थानों पर आश्रय लेने वाले लोग अपने घरों की ओर लौटने लगे है और अपने उजड़े और बिखरे हुए आशियाने को संवारने में लगे हुए है. इस बीच अब तक स्थानीय प्रशासन की ओर कोई मदद नहीं पहुंच पायी है. वही विभिन्न राजनीतिक दलों और सामाजिक संस्थाओं द्वारा मदद के लिए हाथ बढाया है. 

बाढ तो सिमट गई पर अपने जो निशान छोड गई है वह तबाही का मंजर पेश कर रहे है. इस संकट की घडी में मानवता का परिचय देखने को मिल रहा है अच्छे बुरे अनुभवों का लोगों को सामना करना पड़रहा है. लोगों का कहना है कि इस बाढ ने उन्हें जीवन जीने का अनुभव दिया है. पिछली बार आयी बाढ के किस्से लोगों से सुनते आ रहे थे प्रत्यक्ष में उन्हें इस कठिनसमय का सामना करना पड़ा.

वैनगंगा नदी का जलस्तर अचानक से बढ जाने के कारण गोंडपिपरी तहसील में अनेक खेतों एवं गांव में बाढ का पानी प्रवेश कर जानेसे बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ. गोंडपिपरी तहसील के नदी किनारे की कई खेती पानी में डूबने से किसानों का काफी नुकसान हुआ. इसकी जानकारी पूर्व विधायक एड. संजय धोटे को मिलते ही उन्होने गोंडपिपरी तहसील का दौरा किया. बाढ प्रभावित क्षेत्र में कुलथा, पुरडी, हेटी, नांदगांव, रालापेठ, पानोरा अन गांव मेंखेतों में जाकर फसल की क्षति का जायजा लिया. साथ ही गांव कु कुछ घरों का भी बाढ के कारण लुकान हुआ. उन्होने गांव के नागरिकों से चर्चा की. सरकार के मार्फत नुकसान भरपाई देने के लिए हरसंभव प्रयास करने का आश्वासनदिया.

किसानों को राज्य सरकार प्रतिहेक्टर 25 हजार रूपयों नुकसान भरपाई और जिन घरों का नुकसान हुआ है ऐसे लोगों की मदद करने की मांग सरकार से की है. इस समय भाजपा के वरिष्ठ नेता दीपक बोनगिरवार, गोंडपिपरी भाजपा तहसील महामंत्री रवि पावडे, पूर्व उपसभापति मनीष वासमवार, भाजपा युवा नेता नितीन ढुमने, भाजपा नेता गणपति चौधरी, भाजयुमो तहसील महामंत्री रवि बुरडकर आदि उपस्थित थे.

विभिन्न आसमानी, सुल्तानी व कोरोना संकट से घीरे किसान अब सोयबीन पर हुए कीटों के हमले से हलाकान हो गए है. अतिवृष्टि से जिले के किसानों ने सोयाबीन की फसलों पर विभिन्न रोगों ने आक्रमण किया है. जिसे रोकने के लिए कृषि विभाग द्वारा प्रमाणित कीड नियंत्रण की मानक संचालन प्रक्रिया (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर) से कीट नियंत्रण की पद्धति अमल में लाने के लिए राज्य के साथ केंद्र सरकार के संशोधक, विविध प्रयोगशालाओं के संचालक, जीव तंत्रज्ञान व कृषि कीटक शास्त्र विषय के तज्ञों के साथ अधिकारी दल सर्वेक्षण करे, यह मांग भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दिनेश सुर्यवंशी ने की है. 

अमरावती में शुरु करें संशोधन केंद्र 
इस साल, खरीफ सोयाबीन के लिए किसानों की उम्मीदें धराशायी हो गईं. इससे पहले, जब सोयाबीन नियंत्रण में था, अर्ली वैरायटी के पौधे को बहुत अधिक फल्लियां लगी. लेकिन भारी बारिश के कारण, व्हाइटफ्लाइज़ ने सोयाबीन के डंठल को खोखला करना शुरू कर दिया. सोयाबीन फल्ली के लिए उपयोगी रस की अनुपलब्धता के कारण, सोयाबीन फल्लियां नहीं भर पाई तथा पत्तियां पीली पड़ने लगी. इसके अलावा, मोजैक व अन्य बीमारियों का प्रकोप भी सोयाबीन पर बढ़ा.

इस प्रकोप को रोकने के लिए खेत में किसानों का मार्गदर्शन करना महत्वपूर्ण है, लेकिन हाल ही में किसानों को वैज्ञानिक मार्गदर्शन नहीं मिल रहा है. इसके लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए सुर्यवंशी ने कहा कि अमरावती में सोयाबीन कीट नियंत्रण पर एक अत्याधुनिक अनुसंधान केंद्र स्थापित करने की आवश्यकता है, ताकि ऐसे कीटों के प्रकोप पर जल्द अंकुश लगाया जा सके और किसानों के नुकसान को रोका जा सके.

चांदूर बाजार. तहसील में इन दिनों संतरा बगीचों में रोजाना जमीन पर संतरे बिखरे देखकर किसानों की आंखों में आंसू तैर रहे है. अत्याधि बारिश के कारण संतरा पेडों को नुकसान पहुंच रहा है.  फल पिले व काले पडकर पेडों से टपकन शुरु हो गई है.  जिससे संतरा उत्पादकों को लाखों का नुकसान हो रहा है. 

अधिक बारिश बनी आफत
विदर्भ का कैलिफोर्निया कहे जाने वाली वरुड तहसील में इस बार रिकार्ड तोड बारिश हुई है. नदी, तालाब, डैम ओवर फ्लो हो गए है. पूर्णा नदी के दोनों किसानों पर बड़ी संख्या में संतरा बगीचे है. सोनोरी, नानोरी, घाटलाडकी, ब्राम्हणवाडा थड़ी, करजगांव, शिरजगांव, देउरवाडा, काजली, कोदो, माधान में संतरे बगीचे है. 

फुट अच्छी  के बाद भी हाथ खाली
लेकिन इन बगीचों में संतरा टपकन बढने से पेडों के आस पास जमीन पर फलों के ढेर लग रहे है. जबकि किसानों का कहना है कि अपने संतरा बगीचों पर उन्होंने लाखों रुपए खर्च किए है. इस बार अच्छे उत्पादन की उम्मिद भी थी. संतरा फुट भी अच्छी हुई थी.  लेकिन अब संतरा टपकन से फिर उनका आर्थिक भविष्य मुसीबत में आ गया है. जिससे उनके हाथ खाली है.

कोरोना के चलते रद्द हुई परीक्षाओं का शुल्क लौटाने की प्रमुख मांग के साथ लगभग दो दर्जन मांगों को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबिविपी) ने सोमवार की दोपहर करीब 12 बजे संत गाडगेबाबा अमरावती विश्वविद्यालय पर भव्य मोर्चा निकाला. एबिविपी के विदर्भ प्रांत मंत्री रवि दांडगे के नेतृत्व में विद्यापिठ चौक से निकला यह मोर्चा विवि के प्रवेश द्वार पहुंचते ही जमकर नारेबाजी की गई तथ द्वार पर ठिया दिया गया.

आंदोलन में अमरावती महानगरमंत्री सौरभ लांडगे, यवमताल संयोजक अक्षय अस्वार, खामगांव संयोजक विष्णू काले, वाशिम संयोजक यशवंत काले, बुलढाणा संयोजक नंदेश्वर चोपडे, पुसद संयोजक धीरज शिंदे, अमरावती संयोजक चेतन खडसे, अकोला महानगरमंत्री अभिषेक देवरे समेत बडी संख्या में संभाग के पांचों जिलों के विद्यार्थी शामिल हुए.

विसी को द्वार पर बुलकार सौंपा निवेदन
विवि प्रवेश द्वारा पर ठिया दे रहे आंदोलनकर्ताओं ने कुलगुरु को यही निवेदन देने का आग्रह किया. जिसके बाद कुलगुरु डा.मुरलीधर चांदेकर ने निवेदन स्वीकारा तथा कहा कि कुछ मांगे मान्य की गई है, जबकि कुछ मांगों पर चर्चा के लिए आमंत्रीत किया, जिसके बाद आंदोलन समाप्त किया गया. 

बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री कंगना राणावत के खिलाफ यहां जिला शिवसेना की तरफ से प्रदर्शन कर उसका निषेध किया गया।

मुंबई की तुलना पाक व्याप्त कश्मीर से करने तथा मुंबई पुलिस से डर लगने जैसे कथित बयान पर शिवसेना की ओर से यह विरोध प्रदर्शन करते हुए स्थानीय रामनगर स्थित संत कंवरराम चौक में कंगना के पुतला जलाया गया।

शिवसेना जिला प्रमुख संदीप गिर्हे के नेतृत्व में किये गए इस आंदोलन में बड़ी संख्या में शिवसैनिक उपस्थित थे।

इस अवसर पर आंदोलनकारियों ने कहा कि, जब तक कंगना अपना बयान वापस नहीं लेती और माफी नहीं मांगती है तब तक कंगना की कोई मूवी चलने नहीं दी जाएगी। उनका कहना था कि, जिस कंगना को मुंबई जैसे शहर ने  नाम, शोहरत और धन दिलाया उसी मुंबई की कंगना बदनामी कर रही है।

कांग्रेसी सांसद सुरेश धानोरकर ने यहां कहा कि, चंद्रपुर महानगर को शीघ्र ही वाई फाई युक्त बनाया जाएगा।इस संदर्भ में तुरंत प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश उन्होंने दूरसंचार विभाग के अधिकारियों को दिए।

दूरसंचार सलाहकार समिति सदस्यों की एक बैठक में सांसद ने उक्त बात कही। उन्होंने कहा कि, पिछले मुख्यमंत्री ने स्थानीय मनपा चुनाव के दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए लोगों से इस शहर को वाई फाई सुविधायुक्त बनाने का प्रलोभन दिया था किंतु मनपा चुनाव समाप्त होते ही वे अपने वादे को भूल गए।

उन्होंने आगे कहा कि, बीएसएनल की सेवा पहले सबसे अग्रणी मानी जाती थी, घर घर मे बीएसएनएल का कनेक्शन हुआ करता था, लेकिन अब यह स्थिति बदल चुकी है। उन्होंने कहा कि, लोगों की प्राथमिकता बदल चुकी है. बीएसएनएल के कनेक्शन तेजी से घटते जा रहे है, यह बेहद चिंताजनक बात है।

उन्होंने कहा कि, बीएसएनएल इतिहास जमा होने से पहले ही सबको सचेत होने की आवश्यकता है। बीएसएनएल कर्मियों को अपनी सेवाओं में सुधार और गति लाने की जरूरत है।सड़क निर्माण या अन्य किसी खुदाई के कारण अगर किसी की सेवा खंडित होती है तो उसकी मरम्मत के लिए बीएसएनएल को महीनों लग जाते है। अन्य निजी सर्विस प्रोवाइडर्स की तुलना में बीएसएनएल कंपनी पीछे पड़ती जा रही है, यह स्वीकार करने की जरूरत है। बीएसएनएल के अन्यत्र जा रहे ग्राहकों को पुनः बीएसएनएल की ओर आकृष्ठ करने की दिशा में सभी कर्मियों को एकजुटता दिखानी पड़ेगी।

बैठक में महाप्रबंधक अरविंद पाटिल, सह महाप्रबंधक वी के फाये, मंडल अभियंता सचिन सरोदे प्रमुखता से उपस्थित थे।

नागपुर विभाग में निर्माण हुए बाढ प्रभावित नागरिकों के सहायता करने के उद्देश से तत्काल सानुदान अनुदान, पीड़ित नागरिकों को भोजन,  पानी व मेडिकल सेवा उपलब्ध कराने हेतु पालकमंत्री वडेट्टीवार की अगुवाई में नागपुर विभाग के नागपुर, वर्धा, भंडारा, गोंदिया, चंद्रपुर व गडचिरोली जिले के लिए 16 करोड 48 लाख 25 हजार रूपये का निधि मंजूर किया है।  शुक्रवार को भंडारा में दौरे पर पालकमंत्री वडेट्टीवार ने निधि की घोषणा की व शासन निर्णय पारित किया।

मध्य प्रदेश के संजय सरोवर प्रकल्प का पानी छोडे जाने से गोसीखुर्द प्रकल्प के दरवाजे 5 मीटर तक खोलने से भंडारा, गडचिरोली, चंद्रपुर व नागपुर जिले में 1995 से अधिक बाढ आने से कई गांवों व खेतों में बाढ का पानी घुसने से नागरिकों तथा किसानों का काफी नुकसान हुआ है।बाढग्रस्त परिस्थिति का मुआयना करने हेतु पालकमंत्री वडेट्टीवार ने चंद्रपुर , गडचिरोली, भंडारा, नागपुर जिले के दौरे पर गए। चारों जिलों के दौरान उन्होंने महाविकास आघाडी बाढग्रस्त परिवारों के पीछे खडी होने का आश्वासन दिया था। दौरे के दौरान मुख्यमंत्री ठाकरे, उपमुख्यमंत्री तथा वित्तमंत्री अजीत पवार से मोबइल चर्चा कर बाढ़ पीड़ितों को तत्काल सहायता करने की अपील की। उसके अनुसार राजस्व व वन विभाग ने निधि मंजूर करने का निर्णय लिया तथा शासन निर्णय पारित किया। नागपुर विभाग के 6 जिलो में मृत व जखमी व्यक्तिओं के परिवारों की सहाय्यत व  मदद तथा प्राकृतिक आपदा से पूर्णत: बह गए अथवा नुकसान होने पर 8 करोड 86 लाख 25 हजार, अंशत: धाराशाही हुए कच्चे व पक्के मकान तथा नष्ट हुई झोपडियो को आर्थिक सहायता देने के लिए 7 करोड 15 लाख रूपये, सहायता छावणी चलाने के लिए 47 लाख रूपये ऐसे कुल 16 करोड 48 लाख 25 हजार रूपये की निधि बाढ पीड़ितों को दी जानेवाली  है।

नागपुर जिले के लिए 5 करोड, वर्धा 2 लाख 25 हजार, भंडारा 5 करोड, गोंदिया 1 करोड, चंद्रपुर 5 करोड व गडचिरोली जिले के लिए 46 लाख रूपये निधि मंजूर किया है। भंडारा दौरे में उन्होने दिया वचन पूर्ण करते हुए पालकमंत्री वडेट्टीवार ने शासन निर्णय पारित किया है।

महादेवखोरी परिसर के नाले में मिले 12 फीट के अजगर को सुरक्षित तरीके से पकडकर पोहरा के जंगल में छोडा गया. सर्पमित्र ठकसेन इंगोले ने अजगर को जीवनदान दिया.

गुरुवार की रात महादेवखोरी परिसर स्थित जय भोले हार्ड वेअर के पास नाले में कुछ लोगों को 12 फीट लंबा अजगर दिखाई दिया. जिसे देखने के लिए लोगों की भीड़ इकठ्ठा हो गई. सूचना मिलते ही सर्पमित्र ठकसेन इंगोले वहां पहुंचा. ठकसेन इंगोले ने अपने मित्र मंगेश तवाडे के साथ मिलकर अजगर को पकड लिया. इस बारे में वन विभाग को जानकारी दी. जिसके बाद वन विभाग के अमोल गावनेर समेत सर्पमित्रों ने अजगर को सुरक्षित पोहरा के जंगल में छोड दिया. इस समय सर्पमित्र मंगेश तवाडे, राधेय माकडे, निखिल आकोडे उपस्थित थे.

राज्य मंत्री बच्चू कडू की समय सूचकता से दुर्घटना में गंभीर घायल 2 युवकों की जान बचायी जा सकी. मंत्री बच्चू कडू ने अपने वाहन से दोनों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया. जहां समय रहते दोनों पर उपचार शुरु हो सका. 

अस्पताल में तुरंत उपचार शुरु
अमरावती-दर्यापुर मार्ग के पास आराळा फाटे् पर शुक्रवार को सबेरे  2 दुपहिया आपस में भीड जाने से दो युवक गंभीर घायल हुए. इसी समय मंत्री बच्चू कडू इसी मार्ग से जा रहे थे. उन्हे खून से लथपथ  यह दोनों युवक दिखाई देने पर उन्होंने अपनी गाड़ी रोकरकर  तुरंत दोनों युवकों को गाडी में उपजिला अस्पताल  बैठाकर अस्पताल पहुंचाया.  जिसके बाद अस्पताल की वैद्यकिय अधिकारी डा. गुंजन गुल्हाने ने तुरंत उपचार शुरु किया. इस समय बच्चू कडू की गाडी पूरी तरह  बच्चू कडू खून से सन गई. लेकिन दोनों युवकों पर समय रहते उपचार शुरु होने से उनकी जान बचायी जा सकी. डॉक्टर दिनेश म्हाला सहित अन्य नागरिकों ने उनकी सराहना की.

शहर में आवारा मवेशियों के कारण लोगों लोग परेशान है. शुक्रवार को एक पागल सांड ने सडकों पर उत्पात मचाया. इस सांड की चपेट में एक महिला व एक पुरुष गंभीर रुप से घायल हुए है. इस घटना के बाद से शहरवासियों में घबराहट है. 

दुपहिला को मारी ठोस
शहर में खुली सड़कों पर आवारा मवेशी घुमते है. बिच सडक पर यह मवेशी डेरा जमा लेते है. आने जाने वाले नागरिक इस मवेशियों की चपेटे आकर गंभीर घायल हो रहे है. लेकिन कई बार की शिकायतों के बावजूद नगर पालिका प्रशासन इस आवारा मवेशियों का बंदोबस्त नहीं कर रही है. शुक्रवार को दोपहर शशिकला टाकरखेडे नामक महिला  पर सांड ने हमला किया. जिसमें वे गंभीर घायल हुए है. 

हेलमेट से बची जान
इतना ही नहीं तो अपनी दुपहिया पर आ रहे पशुवैद्किय अधिकारी डा. मधुकर जाधव पर भी इस सांड ने हमला किया. इस सांड ने उनकी दुपहिया को टक्कर मार दी. लेकिन सिर पर हेलमेट होने से डा. जाधव की जान बची. लेकिन उन्हे हाथ में चोट आयी. तुरंत इसकी शिकायत मुख्याधिकारी रवीन्द्र पाटिल से की गई. जिसके बाद इस सांड के बंदोबस्त के आदेश दिए गए. लेकिन नागरिकों का आरोप है कि गांव ऐसे कई पागल सांड है. जो नागरिकों के लिए मुसीबत बने हुए है.

विधानमंडल में विपक्षी नेता देवेंद्र फडणवीस ने यहां आरोप लगाया कि, मानवनिर्मित बाढ़ से विदर्भ के 5 जिले बुरी तरह से प्रभावित हुए है और आपदा की इस घड़ी में राज्य सरकार अस्तित्वहीन नजर आ रही है।

फडणवीस ने गुरुवार को जिले के ब्रम्हपुरी तहसील के कुछ बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया। इस समय पत्रकारों से बातचीत के दौरान फडणवीस ने आगे कहा कि, विदर्भ के 5 जिलों में बाढ़ ने बेहद तबाही मचाई है, बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करते समय जो दृश्य दिखाई दे रहा है, उससे वे बेहद आहत हुए है। किसानों की कृषि भूमि, फसल तबाह हो चुकी है, मकान ध्वस्त हुए है, मवेशी बाढ़ के पानी मे बह गए है। इतनी विपदा के बावजूद भी राज्य सरकार आंख मूंदे बैठी है।

उन्होंने कहा कि, बाढ़ पीड़ितों के लिए राशन नहीं, उनके लिए अस्थायी निवास की व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि, वर्ष 2019 में जब आकस्मिक बारिश से राज्य के कुछ हिस्सों में भारी नुकसान हुआ था उस वक्त उद्धव ठाकरे स्वयं क्षतिग्रस्त खेतों में पहुंचे थे तथा आपदाग्रस्त किसानों को प्रति हेक्टेयर 25 हजार रुपये की मदद करने की मांग कर रहे थे, किंतु अब जब वे सत्ताधीन है, बाढ़ग्रस्तों की ओर अनदेखी कर रहे है।

उन्होंने कहा कि, बाढ़ग्रस्त किसानों तथा नागरिकों को 29 अगस्त 2019 के शासन निर्णय में दिए गए प्रावधानों को यथाशीघ्र लागू करने की आवश्यकता है।

फडणवीस के साथ में पूर्व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार, सांसद अशोक नेते, विधायक कीर्तिकुमार भाँगड़िया, पूर्व विधायक अतुल देशकर, जिला परिषद अध्यक्ष संध्या गुरनुले, देवराव भोंगले, संजय गजपुरे उपस्थित थे।

शैक्षणिक सत्र में विद्यार्थियों को महाविद्यालयीन प्रवेश हेतु 30 सितंबर तक समयवृध्दि देने का महत्वपूर्ण निर्णय संत गाडगेबाबा अमरावती विद्यापीठ व्दारा लिया गया है. इस निर्णय के चलते विद्यापीठ अंतर्गत आनेवाले पांचों जिलों के 400 महाविद्यालय व हजारों विद्यार्थियों को काफी बड़ी राहत मिलती दिखाई दे रही है. ज्ञात रहे कि कोरोना को लेकर जारी खतरे की वजह से शैक्षणिक सत्र का नियमित नियोजन पूरी तरह से बिगड़ गया है और इसका परिणाम महाविद्यालयीन प्रवेश पर भी हुआ है. जिसके संदर्भ में विद्यापीठ की व्यवस्थापन परिषद की बैठक में सघन चर्चा हुई. 

बैठक में लिया निर्णय
इस समय परिषद के सदस्य वसंत घुईखेडकर समेत अन्य सदस्यों ने महाविद्यालयीन प्रवेश को समयवृध्दि दिये जाने की मांग की है. कुलगुरु डा. मुरलीधर चांदेकर व्दारा स्वीकार लिया गया है. उल्लेखनीय है कि प्रति वर्ष प्रवेश के लिए अगले सोमवार तक ही समय दिया जाता है लेकिन इस वर्ष कोरोना के चलते छात्रों को समय और शासकीय नियमों का पालन हो इसलिए 31 अगस्त तक समयावृध्दि दी गई है. 

कोरोना वायरस के कारण केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन घोषित किया गया. गत चार माह से आनंदमेला, मीनाबाजार व स्वयंरोजागर प्रदर्शनी आयोजित करने वाले लघु व्यावसायिकों पर भुखमरी की नौबत आन पड़ी है. राज्य चरणबध्द पध्दति से अनलॉक हो रहा है बावजूद इसके छोटे छोटे व्यवसायियों को व्यवसाय शुरू करने की अनुमति नहीं मिलती. रोजगार नहीं रहने से अब परिवार का गुजारा करना मुश्किल हो रहा है इसलिए आनंदमेला, मीनाबाजार समेत अन्य यात्रा, जत्रा आयोजित करने की अनुमति देने की मांग लघु व्यवसायी  रहीम खान हाजी युसूफ खान के नेतृत्व में की गई. इस संदर्भ में बुधवार को आक्रोश आंदोलन कर जिलाधिकारी शैलेश नवाल को ज्ञापन सौंपा गया. 

वर्ना सामूहिक रूप से करेंगे आंदोलन
स्वयंरोजगार बहुउद्देशीय सेवा संस्था के पदाधिकारियों ने आक्रोश रैली का बैनर हाथों में लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे. सरकार की ओर से गांव-गांव में आयोजित की जानेवाली यात्रा, जत्रा पर प्रतिबंध लगाए गए. इसलिए आनंद मेला, आकाश झूले, मीना बाजार समेत विभिन्न प्रदर्शनी भी बंद हो चुकी है. वह शुरू होने पर हजारों परिवार को रोजगार मिलेगा. ऐसी संभावना व्यावसायियों ने व्यक्त की.

रोजगार नहीं रहने से मजदूरों पर भुखमरी की नौबत आन पड़ी है. जल्द से जल्द निर्णय नहीं लिया गया तो सामूहिक रुप से आत्मदाह करने की चेतावनी भी आंदोलन कर्ताओं ने दी. इस समय उनके साथ रहीम खान हाजी युसूफ खान, अजीज खान, बंडू आठवले, सतीश पवार, विश्वनाथ बावणे, रहमान शेख, प्रमोद खांडेकर, संजय खांडेकर, अंबादास खांडेकर, इस्माइल खान, अमीर खान, इलियाझ झानस राजा गौस, अहमद खान आदि उपस्थित थे. 

आनंदवाड़ी में वनोद्यान बनाने का कार्य प्रारंभ हुआ है. यहां पर सुदंर व आदर्श वनोद्यान बनों ऐसे निर्देश महिला व बालविकास मंत्री पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने दिए. पालकमंत्री ठाकुर की उपस्थिति में बुधवार को वनोद्यान का निर्माण कार्य शुरु हुआ. इस अवसर पर नगराध्यक्ष वैभव वानखडे, जिप सभापति पूजा आमले, पंस सभापति शिल्पा हांडे, उपसभापति शरद वानखडे, पंस सदस्य रोशनी पुनसे, निलेश खुले, अ. सत्तार, नप उपाध्यक्ष संध्या मुंदाने आदि उपस्थित थे. 

1,670 मीटर की जगह पर उद्यान 
आनंदवाडी में वनविभाग की 1670 मीटर की जगह पर लोकनिर्माण विभाग ने कम्पाउंड बनाना शुरू किया है. वनविभाग व्दारा यहां निर्सग पर्यटन केंद्र स्थापित किया जाएगा. यहां पर सुंदर व आदर्श वनोद्यान बनाने की दृष्टि से नियोजनबध्द काम करें, विभिन्न प्रजाति के वृक्ष व सभी सुविधाओं से युक्त आदर्श वनोद्यान बनाया जाए. ऐसी उम्मीद पालकमंत्री ने व्यक्त की. राज्य सरकार व्दारा वृक्षारोपन व पर्यावरण सुरक्षा के बारे में जागृति के लिए स्कूल नर्सरी योजना चलाई जाएगी. साथ ही नगर वनोद्यान योजना के माध्यम से शहरी नागरिकों में वन व जंगल के बारे में जागृति होगी. 

विभिन्न विकास कार्य के लिए निधि
वनमंत्री संजय राठोड के कक्ष में तिवसा के विकास कार्यों के बारे में स्वतंत्र बैठक ली गई. जिसमें पालकमंत्री यशोमति ठाकुर, नगराध्यक्ष वैभव वानखडे, पालिका मुख्याधिकारी उपस्थित थे. पालकमंत्री एड ठाकुर की मांग पर तिवसा में वनजमीन पर ऋषि महाराज मंदिर टेकडी सभागृह, शेख फरीदबाबा टेकड़ी, परिसर के विकास के लिए निधि उपलब्ध कराई गई. इसी तर्ज पर आनंदवाडी में जिला नियोजन समिति व्दारा मंजूर डिपी व पोल का काम पूर्ण हुआ. वन उद्यान व सुरक्षा दिवार के निर्माण कार्य को वनविभाग व्दारा मंजूरी मिलते ही काम शुरू हुआ. 

गणेश विसर्जन के बाद बोर नदी प्रकल्प पर तैरने गए पुलिस पुत्र की डूबने से मौत हो गई. नांदगांव पेठ के वालकी स्थित बोर डैम पर मंगलवार की देर शाम 6 बजे यह घटना हुई. मृतक देवेंद्र अशोक बुंदेले(21, गाडगे नगर) है. उसके पिता अशोक बुंदेले सिटी

छलांग लगाते ही डूब गया
मंगलवार की दोपहर देवेंद्र अपने 3 मित्रों के साथ मंगलवार की दोपहर रेवसा नदी पर गणेश मुर्ति का विसर्जन करने गया था, यहां शाम 5 बजे विसर्जन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद वह दोस्तों के साथ तैरने के लिए वालकी रोड स्थित बोर नदी के डैम पर गया था. तैरने के लिए उसने तालाब में छलांग लगाई, लेकिन उसके बाद पानी से बाहर ही नहीं आया.

यह देखकर उसके दो घबरा गए, जिन्होंने तत्काल कंट्रोल रुम को जानकारी दी. सूचना पर नांदगांव पेठ थानेदार दिलीप चव्हाण, पीएसआइ राम कदम घटनास्थल पहुंचे. पुलिस ने गोताखोरों की मदद से लाश को बाहर निकाला. एक वर्ष से बोर नदी प्रकल्प को नागरिकों के लिए खुला छोड़ दिया है, सुरक्षा के दृष्टिकोण से कोई उपाय योजना न करने से यह हादसा हुआ है ऐसी चर्चा चल रही है.

वरुड से राजुरा बाजार में चुड़ामण नदी पर पर पुल का काम अधूरा पड़ा है. यातायात के लिए नदी से डायवर्शन मार्ग निकाला गया है, लेकिन तीन बार यह डायवर्शन बह जाने के चलते नागरिक परेशान हैं. गत 3 दिनों से यह मार्ग बंद होने के कारण किसानों व आम लोगों का संपर्क टूट गया है. जिससे नागरिकों में रोष है. संबधित ठेकेदार पर तुरंत कार्रवाई की मांग नागरिकों ने की है.

कई गांवों का संपर्क टूटा
वरुड़ से राजुरा बाजार के बीच बहनेवाली चूड़ामण नदी पर पुल का निर्माण जारी है. करार में पुल का निर्माण कार्य पूरा होने तक नागरिकों के लिए पक्के पर्यायी मार्ग के निर्माण की शर्त है. लेकिन ठेकेदार ने पैसे बचाने के लिए केवल गिट्टीकरण व मिट्टी डालकर यह रोड बनाया है.

बार-बार काम चलाऊ निर्माण
जिससे यह बारिश के पानी के साथ बह पुल बह गया. इसके बाद 2 तीन पाइप बिछाकर व पतला डांबर डालकर यह मार्ग बनाया गया. लेकिन 29 अगस्त की बारिश में यह सड़क फिर पानी के साथ बह गई. लेकिन इन दिन दिनों में इस पर्यायी सड़क की मरम्मत नहीं की गई. जिससे यह मार्ग बंद पड़ा है. जिससे इस मार्ग से  वरुड़, राजुरा बाजार, आर्वी, वर्धा, पवनी, गाड़ेगांव, डवरगांव, उदापुर, फत्तेपुर जानेवाली गाड़ियां बंद हैं. इन गांववासियों का संपर्क टूटने से लोग बेहाल हैं. नागरिकों‍ में तीव्र असंतोष बना हुआ है.

आगामी त्यौहारों में कानून व्यवस्था कायम रखें तथा शांतिपूर्ण तरीके से प्रक्रिया को निपटाने के लिए शहर में सक्रिय अपराधियों पर शिकंजा कसने शहर पुलिस ने अभियान छेड़ दिया है. जिसमें अब तक 70 आरोपियों को शहर की सीमा से तड़ीपार कर जिले के बाहर भेजा गया है, जबकि 31 सक्रिय बदमाशों के खिलाफ तड़ीपारी की कार्रवाई करने के लिए प्रस्ताव पाइप लाइन में है. जिन पर जल्दी कार्रवाई कर शहर में  पुलिस तड़ीपारी का शतक लगाने वाली है. वहीं 1 आरोपी पर एमपीडीए के तहत कार्रवाई की गई है, लेकिन आरोपी शहर से फरार हो जाने के कारण एमपीडीए की कार्रवाई प्रक्रिया में है, जबकि और 3 आरोपियों पर एमपीडीए का प्रस्ताव आर्थिक अपराध शाखा के माध्यम से बनाया जा रहा है. पुलिस की कार्रवाई से अपराधी प्रवृत्ति के लोगों में हड़कंप मचा हुआ है.

गाड़गे नगर व बडनेरा में सर्वाधिक कार्रवाई
सीपी संजय बावीस्कर के आदेश पर जोन 1 डीसीपी यशवंत सोलंके तथा जोन 2 डीसीपी शशीकांत सातव ने 10 थानांतर्गत सभी थानेदारों को सक्रिय बदमाशों के खिलाफ को तड़ीपारी के प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए. जिसमें जोन 1 में अब तक 50 बदमाशों को तड़ीपार किया गया है, जबकि जोन 2 में 20 आरोपियों को तड़ीपार किया गया. जिसमें सर्वाधिक गाड़गे नगर व बडनेरा थाना क्षेत्र में 20- 20 आरोपियों को तड़ीपार किया गया है. इसी तरह और 31 आरोपियों की तड़ीपारी का प्रस्ताव लाइन में है, जिन पर जल्दी कार्रवाई होगी.

100 का टारगेट
त्यौहारों में  कानून व्यवस्था  तथा शांति बनाए रखने के उद्देश्य  से इस वर्ष भी 100  सक्रिय बदमाशों को तड़ीपार कर शहर सीमा से बाहर भेजने तय हुआ है, जिसमें से 70 आरोपियों को तड़ीपार कर बाहर भेजा गया है, जबकि और 31 प्रस्ताव प्रक्रिया में है जिन पर जल्द ही कार्रवाई होगी.-यशवंत सोलंके, DCP

मेलघाट व्याघ्र प्रकल्प द्वारा चिखलदरा के होटल व्यवसायियों को कंजर्वेशन शुल्क भरने की नोटिस जारी की गई है. इस बारे में चिखलदरा की होटल व्यवसायियों को राहत देने के लिए शासन स्तर पर जल्द ही स्वतंत्र बैठक आयोजित की जाएगी. ऐसा आश्वासन पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने सोमवार को होटल व्यवसायियों के प्रतिनिधि मंडल को दिया. उन्होंने इस समय वन मंत्री संजय राठौड़ से मोबाइल पर चर्चा कर मुंबई में बैठक लेने का निर्णय लिया.

पालकमंत्री का आश्वासन 
होटल व्यवसायियों ने बताया कि चिखलदरा 1948 में स्थापित गिरी स्थान में नगर पालिका है. जिसके कारण नगर पालिका क्षेत्र में आने वाले होटलों को यह कंजर्वेशन शुल्क ना लगाएं. पहले ही पर्यटन नगरी चिखलदरा में लॉकडाउन के कारण होटल और रिसोर्ट व्यवसाय पांच-छह माह से बंद पड़ा है. जिसके कारण होटल व्यवसायियों और यहां काम करने वाले सैकड़ों कामगारों की आर्थिक स्थिति बदहाल हो गई है. ऐसी स्थिति में व्याघ्र प्रकल्प द्वारा चिखलदरा के होटल व्यवसायियों को कंजर्वेशन शुल्क भरने की नोटिस बजाई गई है. जिसके कारण होटल व्यवसायियों में जबरदस्त असंतोष देखा जा रहा है.

सहन नहीं करेंगे पशु पालकों पर अन्याय
इसी दौरान मेलघाट के पशुपालकों के मवेशी पकड़े जाने और समय के पहले ही उनकी नीलामी किए जाने की शिकायतें अत्यंत गंभीर पालकमंत्री ने इस पर तीव्र नाराजी व्यक्त करते हुए स्पष्ट कहा कि पशु पालकों पर किसी भी तरह का अन्याय सहन नहीं किया जाएगा. निर्धन पशु पालकों के मवेशी उन्हें लौटाने और पूरे प्रकरण की जांच कर न्याय दिलाने का आश्वासन दिया.

चंद्रपूर जिल्ह्यामध्ये करोना विषाणूचा प्रादुर्भाव दिवसेंदिवस वाढत आहे. त्यामुळे पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार यांनी ३ सप्टेंबरपासून जिल्हा प्रशासनाच्या सहकार्याने कडक लॉकडाऊन होणार असल्याच्या सूचना केलेल्या आहेत. या संदर्भात जिल्हा प्रशासनाने राज्य शासनाकडे कडक लॉकडाऊन करण्याच्या परवानगी करिता प्रस्ताव पाठविला असल्याची माहिती जिल्हाधिकारी अजय गुल्हाने यांनी व्हिडिओ संदेश जारी करताना दिली आहे.

३ ते ८ सप्टेंबरपर्यंत आरोग्य सेवा संदर्भातील आस्थापना वगळून सर्व प्रकारची दुकाने, किराणा दुकाने, सर्व व्यवसाय, आस्थापना या संपूर्णतः बंद राहतील. ८ ते १२ सप्टेंबरपर्यंत सकाळी ९ ते दुपारी २ वाजेपर्यंत अत्यावश्यक वस्तूंचा पुरवठा करणारी दुकाने आणि त्यांचे ठोक विक्रेते म्हणजेच किराणा दुकाने, दूध, ब्रेड, फळे, भाजीपाला, मास-मासे विक्री, पशुखाद्य इत्यादींच्या आस्थापना सुरू राहतील. इतर सर्व प्रकारचे दुकाने आणि आस्थापना बंद राहतील, असे स्पष्ट करण्यात आले आहे.

याबाबत परवानगी संदर्भातील प्रस्ताव जिल्हा प्रशासनाने राज्य शासनाकडे सादर केला आहे. त्यामुळे लॉकडाऊन सुरू होण्याअगोदर जीवनावश्यक वस्तूंची खरेदी करून घ्यावी. या कालावधीमध्ये नागरिकांनी घरातच राहून लॉकडाऊनचे पालन करावे आणि प्रशासनाला करोना विषाणूचा प्रादुर्भाव रोखण्यासाठी सहकार्य करावे, असे आवाहन जिल्हाधिकारी अजय गुल्हाने यांनी केले आहे.

 

वर्ध्याच्या आर्वी नगरपरिषदेत भाजपची एकहाती सत्ता आहे. २६ नगरसेवक आणि नगराध्यक्षही भाजपचाच आहे. एकही विरोधी नगरसेवक नगर परिषदेत नाही मात्र आता भाजप अंतर्गत कलहातून रणकंदन माजले असून थेट नगराध्यक्ष प्रशांत सव्वालाखे यांच्या खुर्चीलाच चपलांचा हार घालण्यात आला आहे. ( Arvi Municipal Council President Prashant Sawalakhe )

आर्वी शहरात मागील काही दिवसांपासून कंत्राटी सफाई कर्मचाऱ्यांचे पगार झालेले नाही. त्यामुळे कर्मचाऱ्यांनी काम बंद केले आहे. त्यामुळे शहरात कचऱ्याचे ढिग साचले असून सर्वत्र दुर्गंधी पसरली आहे. नगराध्यक्षांच्या मनमानी कारभारामुळेच ही परिस्थिती ओढवल्याचा स्वपक्षाच्या नगरसेवकांनी केला असून आता तर चक्क चपलांचा हार आणि बेशरमचे झाड नगराध्यक्षांच्या खुर्चीला भेट म्हणून देण्यात आला आहे. या अनोख्या पद्धतीने झालेल्या निषेधाची सर्वत्र चर्चा आहे. यावेळी आरोग्य सभापती गंगा सुभाष चकोले, गट नेता प्रशांत ठाकूर, भाजपचे आर्वीचे अध्यक्ष व नगरसेवक जगन गाठे, माझी आरोग्य सभापती रामू राठी, प्रकाश गुलहाने, हर्षल पांडे, मिथुन बारबैले, मनोज कसर, कैलास गळहाट उशा सोनटक्के व इतर नगरसेवक उपस्थित होते.

ब्रम्हपुरी एक सांस्कृतिक नगरी, शैक्षणिक नगरी है वर्षों से यहां सांस्कृतिक परंपरा तथा शैक्षणिक वातावरण का बोलबाला चलते आ रहा है. यहां से पढे लिखे विद्यार्थी पूरे भारत तथा बाहर देशों में उच्च पदों पर कार्यरत है. अभी तो ब्रम्हपुरी नगरी स्वास्थ्य सेवा के लिए प्रसिध्द है. यह सब देखते हुए बाहर से आनेवाले कर्मचारी, व्यवसायिक तथा विक्रेता यहां आकर बस गए है जिससे यहां की आबादी तथा शहर का विस्तार बढते जा रहा है. देखते देखते 25 साल में ब्रम्हपुरी शहर का विस्तार तीन से चार गुना बढा है. वही हिसाब से नागरी सुविधा भी बढते जा रही है. और सुविधाएं भी उपलब्ध हो रही है. 

यहां कृषि उत्पन्न बाजार समिति में सब्जी मार्केट की व्यवस्था होने के बावजूद रास्ते पर सब्जी मार्केट लगाये जाने से आवागमन में काफी परेशानी हो रही है. यहां पर सब्जी विक्रेता, फल विक्रेता आदि मुख्य मार्ग पर दुकानें सजा देते है ग्राहक भी अपने दुपहिया और चौपहिया वाहन भी रोड पर ही सजा देते है. मानों ब्रम्हपुरी मार्ग उनकी स्वयं की संपत्ति हो गई है. कोरोना संक्रमण के चलते फिलहाल तो साप्ताहिक मार्केट पर पाबंदी है परंतु रोजाना जो गुजरी लगती है उसके लिए कृषि उत्पन्न बाजार समिति में जगह दिए जाने के बावजूद सब्जी विक्रेता रास्तों पर दुकानें लगाते है. दुकाने लगाने का समय शाम पांच बजे तक ही परंतु देर रात आठ बजे तक दुकानें सजी रहती है.

भद्रावती तहसील के माजरी पुलिस स्टेशन अंतर्गत आने वाले देउरवाडा टेकडी परिसर में मूलत: वणी निवासी शिवाजी पिसे (40) नामक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। किंतु उसके आत्महत्या का कारण ज्ञात नहीं हो सका है। बताया जाता है कि शिवाजी सब्जी भाजी बेचता था। हसमुख और मिलनसार होने की वजह से माजरी में उसकी अच्छी जान पहचान थी। लाकडाउन के बाद से उसका सब्जी का कारोबार भी बेहतर चल रहा था। किंतु उसने अचानक खुदकुशी का निर्णय क्यों लिया यह अनुत्तरित है।

आत्महत्या के पूर्व उसने अपने भाई को फोन पर बताया था कि भाई मै आत्महत्या कर रहा हूं मुझे माफ कर देना। सूचना के आधार पर माजरी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा बना पोस्टमार्टम के लिए वरोरा उपजिला अस्पताल भेज दिया है। मामले की जांच माजरी के थानेदार सदाशिव ठाकणे के मार्गदर्शन में माजरी पुलिस कर रही है।

गणेश विर्सजन को लेकर महानगरपालिका प्रशासन ने  तैयारियां पूर्ण की है. इस वर्ष का गणेश विर्सजन भी बगैर तामझाम के साथ ही किया जायेगा. न बैंड न ही  ढोल  ताशे  केवल सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क  बांधकर  बाप्पा को विदाई देने का नियोजन किया है. ऐसे में प्रशासन के नियमों का उल्लंघन करनेवालों के खिलाफ भी कार्रवाई करने की चेतावनी प्रशासन ने दी है. हालांकि इस संदर्भ में पूरी तरह से एक्शन प्लान बनाते हुए निगमायुक्त प्रशांत  रोड़े  ने अधिकारियों को  जिम्मेदारी  सौंपी है.

जगह जगह आर्टिफिशयल टैंक
सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क के बगैर गणेश विर्सजन नहीं होगा. इसलिए प्रशासन ने मिट्टी के गणेशजी का घर पर ही विर्सजन करने तथा बाप्पा के लिए जगह जगह आर्टिफिशयल टैंक की व्यवस्था की है. जिसमें बडनेरा जोन कार्यालय, नवाथे चौक, बडनेरा, प्रशांत नगर उद्यान, नवोद्य विद्यालय, नेहरू मैदान, मालटेकडी, अभियंता भवन का समावेश है. इसके अलावा घरेलू बाप्पा के लिए प्रथमेश तथा सार्वजनिक मंडलों के लिए छत्रीतालाब का नियोजन किया है.

मनपा की तैयारियां पूर्ण 
कोरोना का फैलाव ना हो इसलिए मास्क अनिवार्य है. बाप्पा का विर्सजन करते समय मास्क का इस्तेमाल नहीं करनेवालों पर भी कार्रवाई की जायेगी. इसके लिए प्रशासन ने विर्सजन स्थल प्रथमेश तालाब पर सीसीटीवी लगाए है. सीसीटीवी के माध्यम से सभी पर वाच रहेगा. बाप्पा के लिए 20 टेबलों की व्यवस्था की गई है. टेबलों के अंतर को भी बढ़ाने के निर्देश दिये. एक टेबल पर मात्र दो बाप्पा को रखकर उनका विर्सजन किया जायेगा.  हालाकिं जितनी कम संख्या में बाप्पा के विर्सजन के लिए लोग घर से बाहर निकलेंगे उतना ही प्रशासन का लोड कम होगा.

 

जाफर जिन प्लाट स्थित अनाज गोदाम में सेंध लगाने के मामले में कोतवाली पुलिस ने 3 आरोपियों को हिरासत में लेकर उनसे एक लाख 5 हजार का चावल जब्त किया है. आरोपी इरफान खान उर्फ सद्दाम बिस्मिल्लाह खान (23 आजाद नगर), आकाश साप सिंह सागर( 20 तारखेडा),  मोहसीन अली मोहम्मद अली ( 21 इतवारा बाजार) तथा अक्षय उर्फ गोलू अनिल मौर्या (23 साईं नगर) है.

2 बड़ी चोरियों की कबूली
19 जुलाई को अजय ईश्वरदास राठी (45) प्रभात कालोनी के जाफर जिन स्थित दुर्गा ट्रेडिंग कंपनी में फल्ली दाने की बोरियां चोरी की गई थीं. इस मामले की जांच करते हुए हिरासत में लिए गए .इन आरोपियों ने 2 अनाज चोरियों में कबूली दी है, जिनमें 270 किलो फल्ली दाना व चावल के 52 कट्टे जब्त किए. इन आरोपियों से और कई मामले सामने आने की संभावना पुलिस ने जताई है. कोतवाली के थानेदार शिवाजी बचाटे व विवेक रावत के मार्गदर्शन में पीएसआई गजानन राजमलू, अब्दुल कलाम, गजानन ढवले, सागर ठाकरे, अमोल यादव, विनोद मालवीय तथा पंकज खटे ने कार्रवाई में सहभाग लिया. 

तिवसा. तिवसा पंचायत समिति के तहत आने वाले सातरगांव में इन दिनों पेयजल से बदबू आ रही है. आरोप है कि जिस हैन्डपंप से आदर्शनगरवासियों को पेय जलापूर्ति की जाती है. उसमें शौचालय का गंदा पानी रिस रहा है. जिससे गांववासी दूषित पेयजल पीने पर मजबूर है. बता दें कि धामणगांव रेलवे तहसील के शिदोड़ी में हाल ही में दूषित पेयजल के कारण 150 से अधिक ग्रामवासियों में डायरिया का प्रकोप फैला था. जांच में पता चला कि गंदे पानी की नालियों का पानी कुएं में जमा हो रहा है. इसी कुए से गांव को जलापूर्ति होती है. ठीक उसी तर्ज पर अब तिवसा के आदर्श नगर में भी दूषित जलापूर्ति की प्रशासन को तुरंत देखल लेकर कार्रवाई करनी जरूरी है.  

नागरिकों की सेहत पर खतरा
तिवसा पंस के स्वास्थ विभाग क्षेत्र के  सातरगांव के आदर्श नगर में हैन्ड पंप से पेयजल आपूर्ति की जाती है. लेकिन गत कुछ  दिनों से इस पानी में  दुर्गंध आने की शिकायत नागरिक  कर रहे  है. आरोप है कि जिस हैन्ड पंप से यह पानी सप्लाय किया जाता है. वहीं आस पास के शौचालय का पानी इस हैन्डपंप में जा रहा है. इस मामले में गांववासियों ने  पंचायत समिति गुटविकास अधिकारी से शिकायत की है.

आदर्श नगर में बीमारी फैलने की चिंता
बताया जाता है कि आदर्श नगर निवासी  आदिवासी राजेंद्र कडू उनकी जगह में  शौचालय का निर्माण कार्य करवाया है. लेकिन इसी शौचालय का गंदा पानी 15-20 फीट तक रिसकर हैन्डपंप के जलस्त्रोत में मिल रहा है. यही गंदा पानी हैन्डपंप से लोगों के घर तक पहुंच रहा है. इस मामले में ग्रामपंचायत विवाद मुक्ति व पंचायत समिति के पास लिखित शिकायत देकर शौचालय में सेफ्टी टैंक पद्धति का उपयोग करने की मांग  प्रणय उमरे ,राजेंद्र मनोहर, महादेव टिचुकले लता धनराज विटोले, उज्वला संजय ढोले, अनिता पंढरी उईके, बेबी डोमाजी मानकर,  सहित कुल  45 क्षेत्रवासियों ने की है. अन्यथा धामणगांव के शिदोड़ी गांव की तरह यहां भी डायरिया का प्रकोप फैलने की संभावना जतायी जा रही है.

धुले में पालक मंत्री और राज्य मंत्री अब्दुल सत्तार से मिलने से इनकार कर दिया,तब कार्यकता उनसे मिलने के लिये उनके गाडी के पास मिलने गये तो उनके अंगरक्षकों और क्यूआरटी टीम के सदस्यों ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं की पिटाई कर दी।  

तब सदर प्रकरण कि चौकश करके  संबधितो पे कारवाई किई जाये।* भारतीय जनता युवा मोर्चा  कि मांग । और उसके साथ हि परीक्षा शुल्क वापस किये जाये, , वर्तमान वर्ष के लिए शैक्षणिक  फीस में 30 प्रतिशत की कमी किई जाये, कुछ गलत निकाल परिणामों का पुनर्मूल्यांकन किया जाये, सरासरी निकालने के कारण कुछ विद्याथ्योका नुकसान हुवा है व परीक्षा मे फेल हुये तब उनको परीक्षा में पास किया जाये.इस मांगो लेके  महाराष्ट्र प्रदेश राज्य सचिव अंकुश ठाकुर के नेतृत्व में हिंगनघाट में एक आंदोलन  किया गया।  *और  जिला कलेक्टर वर्धा के माध्यम से महाराष्ट्र के माननीय मुख्यमंत्री इनको निवेदन दिया गया इस वक्त * महामंत्री * कवेश्वर इंगोले, तालुका अध्यक्ष विठु बेनीवर, समुद्रपुर * तालुका के अध्यक्ष रोशन पांगुळ, पप्पू मडावी, तुषार हवाईकर, पार्षद सोनू गवली, बंटी वाघमारे, नीलेश पोगले  ,अभय झाडे, सोनू पांडे, कानगाव अलीपुर मंडल अध्यक्ष राजू किटकुले अजय पवार, भूषण राऊत, गौरव तांबोळी सौरभ शिवनकर, राजू पोगड़े, कपिल गुमडेलवार, गोलू कटकर, योगेश्वर ज़िकार, शंकर मोरे, सौगर वसु, निलेश वासाड

बेसबॉल के डंडे से पीट कर 24 वर्षीय युवक के हत्या का मामला मंगलवार को सामने आया. इस मामले में पुलिस ने वलनी के सरपंच लाइक अंसारी , राजाबाबू अंसारी , इलू अंसारी , सोहैल अंसारी , रोशनकुमार साहनी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया. घटना के बाद ही  रोशनकुमार को खापरखेड़ा पुलिस ने पकड़ लिया जबकी राजाबाबू , सोहैल और इलू ने बुधवार की दोपहर पुलिस को सरेंडर कर दिया. मिली जानकारी अनुसार एक पुराने विवाद के मामले में मृतक मोबिन खान ने कुछ जानकारी सार्वजनिक कर दी. इससे खफा होकर मोबिन का मोबाइल छीनकर उसकी जांच की. मोबाइल में एक रेकॉर्डिंग मिली जिसमे मोबिन एक लड़की से बात कर रहा था. इस घटना का पता चलने के बाद 15 अगस्त को अंसारी भाइयो ने मिलकर मोबिन से मारपीट की और उस लड़की से दूर रहने की चेतावनी दी. बुधवार को मोबिन उत्तरप्रदेश अपने गाँव जाने वाला था. लेकिन मंगलवार को मोबिन ने लड़की को मैसेज किया. इसी वजह से अंसारी भाइयो मोबीन को चनकापुर से वलनी जाने वाले मार्ग पर पकड़ लिया. मोबिन को बेसबॉल और हॉकी के डंडे से पिट कर गंभीर जख्मी कर दिया. नागपुर के ऍलेक्सिस अस्पताल में मोबिन की रात 12 बजे मौत हो गयी. बताया जा रहा कि वलनी के सरपंच लईक अंसारी  इस घटना के समय कही और थे . जानबूझकर शिकायत कर्ता ने उसके नाम से शिकायत दर्ज की. पुलिस इस बारे में भी जांच कर रही.

गंदगी मुक्त भारत अभियान के अंतर्गत आज दिनांक 24 ऑगसत  2020  को  पंचायत समिती पारशिवनी के 51 ही ग्रामपंचायत मै  श्रमदान ,प्लास्टिक कचरा  जमा कर उसका उचित जगह नाश करना, और ग्राम को साफ़-सुथरा रखने के लिये अभियान की  सुरुवात की गई। इस अभियान की तालुका स्तरीय  शुभारंभ   ग्रामपंचायत पालोरा यहा से की गई। श्रमदान करके  प्लास्टिक जमा किया गया ।आज पालोरा ग्राम मै साफसफाई कयते हुये  5 ते 7 किलो प्लास्टिक जमा किया गया।  इसी प्रकार   पंचायत समिती पारशिवनी के जरीये सै covid-19 करोणा वायरस बिमारी की जानकारी एल उपाय  करने के हेतु  जनजागृती की गई। दीवार पर पाॅपलेट चिपका कर तथा धर धर  जा कर जानकारी दी।  लोगो को किसी भी प्रकार का   लक्षण  दिखते ही या जानकारी होणे पर करोणा वायरस  की जांच करने के लिये आव्हान किया गया । गंदगी मुक्त भारत अभियान अंतर्गत ग्रामपंचायत परिसर मै  वृक्षारोपण कर इस अभियान की समाप्ति की गई।   पंचायत समिती   सभापती मीनाताई कावळे, पंचायत समिती उपसभापती  चेतन जी देशमुख,  पंचायत समितीच्या सदस्य  मंगलाबाई निंबोन   पंचायत समिती  गटविकास अधिकारी प्रदीप बमनोटे  ,सहाय्यक गटविकास अधिकारी अनिल आकुलवार जिल्हा समन्वयक आशिष रावडे जिल्हा जल  व स्वच्छता मिशन कक्ष ग्रामपंचायत सरपंच  प्रकाश  कांमडे ग्रामसेवक विनायक गाहाने ,गटशिक्षणाधिकारी बाल विकास प्रकल्प अधिकारी ग्रामपंचायतीचे सर्व माननीय सरपंच सदस्य पोलीस पाटील पाणीपुरवठा व स्वच्छता विभाग गट संसाधन केंद्र चे मुनेश दुपारे देवानंद tumdam शुभांगी कांबळे ग्रामसेवक श्री बांबल श्री ठवरे श्री गावंडे श्री लोखंडे   अंगणवाडी सेविका,  शिक्षक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन मुनेश दुपारे ने किया, आभार  प्रदर्शन विनायक गहाणे ग्रामसेवक पालोरा ने किया ।इस कायॅक्रम को सफर करने के लिये  ग्रामपंचायत कर्मचारी, सदस्य, सरपंच, उपसरपंच ग्रामपंचायत ग्रामसेवक, पाणीपुरवठा व स्वच्छता विभाग पंचायत समिती पारशिवनी ने मदत की।

गणेशोत्सव के पार्श्वभूमि पर पालिका प्रशासन सुसज्ज है. उत्सव के दौरान बड़े पैमाने पर गर्दी टालने के लिए चंद्रपुर शहर महानगर पालिका की ओर से विसर्जन आपके द्वार उपक्रम अंतर्गत चलित विसर्जन कुंड आज शुरू किया गया. महापौर राखी कंचर्लावार के घर के गणेशमूर्ति का विसर्जन इस कुंड में कर विसर्जन रथ जनसेवा में नियुक्त किया गया.

शहर में डेढ दिवसीय, पांच दिवसीय, साथ ही दस दिवसीय गणेश मूर्तियों का विसर्जन किया जाता है. मात्र इस बार कोरोना का संक्रमण होने से उत्सव अवसर पाबंदी का पालन करना पड़ता है. कोरोना संक्रमण रोकने के लिए श्रीगणेश मूर्ति विसर्जन अवसर पर गर्दी टालने के लिए मनपा की ओर से 20 कृत्रिम तालाब, 20  निर्माल्य कलश स्थापित किए गए है. इस व्यवस्था में अधिक जोर देते हुए चंद्रपुर नगर पालिका की ओर से शहर में मूर्ति संकल्प के लिए चलित विसर्जन कुंड कार्यरत रखे गए है.

इसके तहत चलित विसर्जन कुंड कार्यरत होगे. वाहन शहर में घुमकर नागरिकों के घर के पास श्रीमूर्ति संकलित करेंगे इनका विधिवत विसर्जन करेंगे. इसके लिए नागरिक फोन से सूचित कर करते है फोन करने पर विसर्जन रथ अपने घर तक आएंगा. नागरिक कोरोना संक्रमण रोकने के लिए भीड़ टालने के दृष्टि से विसर्जन के पूर्व बिदाई आरती घर पर करें अपनी श्रीगणेश मूर्ति महानगर पालिका संकलन वाहन के स्वयंसेवक को दे ऐसा आवाहन किया गया है.

इस वर्ष सम्पूर्ण मानवजाति पर कोरोना का विघ्न आया हुआ है इसके चलते इस वर्ष गणेशोत्सव संभवता पारिवारिक पध्दति से, पारिवारिक वातावरण में मनाकर यह कोरोना का विघ्न दूर करना है. संभव हो तो त्यौंहार केवल घर में करना है. सार्वजनिक रूप में त्यौंहार मनाना टाले, ऐसा आवाहन महापौर राखी कंचर्लावार ने किया है.

नईबस्ती स्थित साप्ताहिक बाजार परिसर में गंदगी के साम्राज्य को लेकर बडनेरा महानगरपालिका जोन क्रमांक 4 के स्वास्थ्य निरीक्षक ने संबधित सफाई ठेकेदार पर जुर्माना ठोकने की जानकारी दी. साथ ही पूजा कन्स्ट्रक्शन को 2000  एवं कचरा उठाने वाले ठेकेदार को 1000 जुर्माना ठोका है. इस संदर्भ में संबंधित ठेकेदारों को हिदायत दी है कि क्षेत्र में पड़ा गंदगी व कचरा यदि समय-समय पर नहीं उठाया गया तो भविष्य में भी इस प्रकार और भी सख्त कार्रवाई होगी. 

क्षेत्र से कचरा डिपो हटाने की मांग
 बडनेरा के साप्ताहिक बाजार परिसर में पड़े इस कचरे से सैकड़ों क्षेत्रवासियों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है और यह कचरा डिपो शहर के मध्य में स्थित होने के चलते समस्त क्षेत्रवासी इससे परेशान है. क्षेत्रवासियों की मांग है कि कचरा डिपो को यहां से दूसरी जगह स्थानांतरित किया जाए. 

जिले में कोरोना टेस्ट की गति बढ़ने से पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है. हालांकि मरीजों के स्वस्थ होने की संख्या भी बढ़ रही है. इसके बावजूद एक्टिव मरीजों की संख्या काफी बढ़ी है. ऐसे में जिला प्रशासन ने लक्षण नहीं रहनेवाले तथा सौम्य लक्षणवाले मरीजों को होम आयसोलेशन के तहत घर पर ही इलाज मुहैया कराने की सहुलियत दी है. लगभग एक तिहाई मरीज होम आयसोलेशन में है. जिला प्रशासन की 23 अगस्त की शाम डेली रिपोर्ट के अनुसार 1131 एक्टिव मरीज है, जिनमें से 337 घर पर इलाज ले रहे हैं. जबकि 775 कोविड सेंटर में भर्ती है. शेष 19 को नागपुर रेफर किया गया है.  

 डाक्टर अनिवार्य
कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाए जाने पर होम आयसोलेशन के लिए इच्छुक मरीजों को महानगरपालिका प्रशासन की अनुमति लेनी होती है. अनुमति के तहत यह बताना जरुरी होता है कि कौनसा डाक्टर दिन में तीन बार आकर मरीज का उपचार करेगा. इसके अलावा मनपा ने होम आयसोशलेशन के लिए कुछ नियम व मानक तय किए हैं. जिसके तहत की यह अनुमति दी जाती है. लेकिन गंभीर लक्षणवाले मरीजों का इलाज कोविड अस्पताल में किया जाता है.

 3 हजार से अधिक डिस्चार्ज
रिपोर्ट के अनुसार जिले में अब तक  48,330 संदिग्धों की जांच की गई है. इनमें से  38,113  के नमूने भेजे गए हैं. जिसमें   32,771  रिपोर्ट निगेटिव आई है. शेष   4,577 पॉजिटिव मरीजों में 3,334 स्वस्थ हुए हैं, उन्हें डिस्चार्ज दिया गया है. जबकि कोरोना से 112 मरीजों की मौत हुई है.

नईबस्ती के विश्राम ग्रह से लेकर छत्री चौक पर महीनों से बंद पड़ा सीमेंटीकरण का काम फिर शुरू हुआ है. ठेकेदार की इस मनमानी से बडनेरावासियों को नाहक  परेशानी झेलने पर विवश होना पड़ रहा है. क्योंकि यह निर्माण कार्य कई बार ठप पड़ चुका है.

लंबे समय से चल रहा काम
नई बस्ती में विश्रामगृह से लेकर छत्री चौक  तक सीमेंटीकरण का निर्माण कार्य पिछले लंबे समय से चल रहा है. चरण बध्द तरीके से किये जा रहे इस निर्माण कार्य में ठेकेदार ने मनमाने ढंग से सड़क किनारे पर रोड रोलर समेत निर्माण सामग्री के वाहन खड़े कर रखे हैं. जिससे इस मुख्य रोड से आने जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. 

1 वर्ष से था बंद
 चांदनी चौक और छत्री चौक से लेकर महानगरपालिका के चौक तक यह रोड का काम बीते 1 वर्ष से बंद पड़ा था. जिसके चलते इस संपूर्ण रोड पर गड्ढे ही गड्ढे पड़ गए थे.  क्षेत्रवासियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. बारिश के दिनों में तो इस रोड पर कई बार दुर्घटनाएं भी घटित हुई. इस संबंध में कई बार बडनेरा के निर्माण विभाग के इंजीनियर को भी इसकी शिकायत की गई थी जबकि इस रोड के निर्माण कार्य की कोरोना वायरस के चलते समयावधि भी बढ़ाई गई थी. यह समयावधि बढ़ाने के बाद आखिरकार 24 अगस्त को फिर से दोबारा इस सड़क का निर्माण कार्य दोबारा शुरू हुआ. 

मिलेगा छुटकारा
भले ही इस निर्माण कार्य को अब महीनों लग जाए, लेकिन कम से कम क्षेत्रवासियों को हो रही परेशानी से छुटकारा मिलेगा. जिस प्रकार से दोनों ओर के रोड का निर्माण कार्य हो जाएगा तो उतनी ही जल्दी डिवाइडर के बीच में लगे यह बड़े-बड़े पेड़ों को भी काट कर इससे होने वाली दुर्घटनाओं से नागरिकों को बचाया जा सकेगा. बारिश के चलते संपूर्ण विश्रामगृह से लेकर छत्री चौक तक रोड के मध्य में बड़े-बड़े पेड़ उग आए हैं. जिससे नागरिकों को खासी परेशानी हो रही है.  

कोरोना के चलते मार्च महीने से लॉकडाउन के कारण काम धंदे ठप्प होने से परिवार का गुजारा करने के लिए कर्ज चुकाने के टेंशन में एक चालक ने खुदकुशी करने का मामला सामने आया। प्राप्त जानकारी के अनुसार सम्राट अशोक नगर आठवां मैल दवलामेटी निवासी लीलाधर दिवाकर ताजने उम्र 48 साल टाटा एस चालक ने पंखा पर गले को फांसी का फन्दा लगाकर सोमवार देर रात खुदकुशी की।मंगलवार सुबह पत्नी उठते ही पती लटका देख पत्नी के होश उड़ गए।लीलाधर के पास खुद की टाटा एस गाड़ी है।किराया भाड़ा पर गाड़ी खुद ही चलाकर परिवार का गुजारा करता है।लेकिन मार्च महा से लोकडाउन के कारण गाड़ी बराबर नही चलने से वो परीशान चल रहा था।ऐसे में परिवार का गुजारा करने के लिए कुछ कर्ज लिया होंगे ऐसे अंदाजा लगाया जा रहा है।धंदे नही होने से कर्ज को वापस करने का प्रश्न लीलाधर के सामने खड़ा होंगे।इस परेशानी को लेकर लीलाधर को शराब की भी लत लगी थी।रोज परेशान होकर घर मे भी पत्नी के साथ विवाद करता था।सोमवार को अपने टाटा एस गाड़ी के कांच भी फोड़े।आर्थिक तंगी में होने से लीलाधर ने सोमवार देर रात अपने ही घर मे गले को फाँसी का फंदा लगाकर खुदकुशी की।लीलाधर को दो बच्चें है।नीचे माता पिता रहते है वही ऊपर के माले पर लीलाधर परिवार के साथ रहता था।बेडरूम में पत्नी व बच्चे सोए थे।दूसरे कमरे में अकेला लीलाधर सोया था।मंगलवार को सुबह पत्नी उठी तो पती का शव लटका दिखा तो चिल्लाने लगी।वार्ड मेम्बर प्रशांत केवटे ने वाड़ी पुलिस को घटना की जानकारी दी।पीएसआई प्रशांत देशमुख घटना स्थल दलबल के साथ पहुंचे।शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल में भेजा गया।आत्महत्या का सही कारण क्या है वो पता नहीं चल पाया,इसकी जांच वाड़ी पुलिस कर रही है!

खापरखेड़ा पुलिस थाना अंतर्गत खापरखेड़ा (चिचोली) शिवार के कोलार नदी में एक युवक की लाश मिलने से परिसर में हड़कंप मच गया। प्राप्त जानकारीनुसार प्रणय गोपालरावजी वाजूरकर उम्र 22 साल मु. वार्ड नंबर 2 खापरखेड़ा ऐसा खुदकुशी करने वाले मृतक का नाम बताया जा रहा है। मृतक आज प्रात:काल सुबह 4:00 बजे घर से निकल गया था। पश्चात घर से जाने के पहले शाम को अपने मां-बाप के साथ मिलकर उसने भोजन भी किया था। बताया जा रहा है कि मृतक  मानसिक मनोरुग्ण भी था। मृतक खापरखेड़ा में अधिकांश युवा वर्ग से परिचित था। मृतक  अपने बडा भाई और मां-बाप के साथ किराए के घर रहता था । घटना पश्चात किसी को न बताते हुए घर से प्रात:सुबह निकल गया ।उसके परिजनों ने आज खापरखेड़ा पुलिस थाना जाकर गुमशुदा की जानकारी भी दी। इस आधार पर पुलिस ने मामले को गंभीरता से लिया ।अचानक आज दोपहर के समय खापरखेड़ा  पुलिस को किसी होमगार्ड द्वारा कोलार नदी पर लाश पड़ी है ऐसी जानकारी मिली। तुरंत खापरखेड़ा थाना के पुलिस उपनिरीक्षक निंमगड़े अपने स्टाफ के साथ घटनास्थल रवाना हुए। घटनास्थल पहुंचने के बाद लाश कोलार नदी के तट पर पानी में तैर रही थी । परिजन भी घटनास्थल पहुंचे। परिजनों ने पुलिस थाना जाकर रिपोर्ट दर्ज कराई। फिर्यादी के शिकायत के  आधार पर खापरखेड़ा पुलिस ने मर्ग दाखल किया। वास्तविकता घटनास्थल पर परिजन शोक में आक्रोश करते हुए खुदकुशी की हत्या ? इस पर सवाल उठा रहे थे । लेकिन घटनास्थलपर शव के शरीरपर कोई भी जख्म नहीं थी। पुलिस के प्राथमिक अंदाजानुसार आत्महत्या होने की पुष्टि हुई। बताया जा रहा है कि शव का पोस्टमार्टम होने के बाद ही डॉक्टर के जांच रिपोर्ट में ही सच का पता चलने की बात कही गई। उक्त घटना का खापरखेड़ा पुलिस ने पंचनामा कर शव मेयो अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के तहत किए गए नामांकन में वेस्ट झोन में पोंभूर्णा नगर पंचायत ने 23 वां और राज्य में 17 वां स्थान प्राप्त किया है. पोंभूर्णा नगर पंचायत ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में अधिक परिश्रम कर लोगों के सहयोग से नामांकन में बढोत्तरी हासिल करने का मानस व्यक्त किया है.

केन्द्र सरकार पुरस्कृत इस अभियान में घर घर जाकर गीला कचरा, सूखा कचरा जमा करना, डम्पिंग में पहुंचाना, उसकी प्रक्रिया करना और घातक कचरे की व्यवस्था करना, जनजागृति तथा प्रचार प्रचार करना इन बातों के माध्यम से जनता के फीडबैक का भी ध्यान रखा गया. पूरे देश मेंचार झोन में विभाजित कर हर जोन से 100 शहरों को चुनकर नामांकन दिया जाता है.जिसमें पोंभूर्णा ने 23  वां स्थान प्राप्त किया है वहीं राज्य में 17 वां स्थान प्राप्त किया है.

पिछले वर्ष 2018-19 में वेस्टझोन में सिटीजन फीडबैक में पूरे देश में प्रथम क्रमांक हासिल कर नगर पंचायत ने मान बढाया था. इस कार्य में तत्कालिन मुख्याधिकारी विपीन मुदधा, वर्तमान मुख्याधिकारी सिध्दार्थ मेश्राम, नगराध्यक्ष श्वेता बनकर, उपनगराध्यक्ष रजिया कुरैशी, भाजपा गटनेता गजानन गोरंटीवार, कांग्रेस के गट नेता अतिक कुरैशी, सभापति विजय कस्तुरे, किशोर कावले, नगरसेवक अजीत मंगद्वारीवार, ईश्वर नैताम, नोडल अधिकारी सुशांत आमटे, सिटी कोआर्डीनेटर महेंद्र निमजे, राम टेंभुर्णे के साथ सभी पदाधिकारी, नगरसेवक, कर्मचारी की भूमिका महत्वपूर्ण रही है.

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने अंतरराज्यीय व राज्यों के भीतर आवागमन पर कोई प्रतिबंध नहीं होना चाहिये. जिसके लिए ही ई पासेस की जरूरत नहीं होगी. ऐसा आदेश जारी किया है, लेकिन राज्य सरकार की ओर से अब तक ई-पास  कोई भी कोई दिशा-निर्देश ना मिलने से ई-पास की अनिवार्यता को बरकरार रखा है.  इसीलिए राज्य व बाहरी जिले में आने जाने के लिए निजी वाहन को ई-पासेस आवश्यक बताया गया है.

सोशल मीडिया पर चर्चा
 केंद्र व राज्य सरकार के निर्णयों से नागरिकों में संभ्रम की स्थिति बनी हुई है, वहीं सोशल मीडिया पर ई-पास को लेकर कई प्रकार के मैसेज व चर्चाएं चल रही है, बाहरी जिले व राज्य में आने व जाने के लिए आखिरकार ई-पास की आवश्यकता है, या नहीं इस बात को लेकर लोगों में संभ्रम की स्थिति बनी हुई है

अब तक कोई आदेश नहीं 
केंद्रीय गृह सचिव द्वारा ई-पास को लेकर आदेश जारी किए गए हैं, लेकिन राज्य सरकार की ओर से इस बारे में अब तक पुलिस आयुक्तालय को कोई आदेश नहीं मिले हैं. जिसकी वजह से निजी वाहनों  से बाहरी जिले व राज्य में जाने के लिए ई-पास आवश्यक है.-यशवंत सोलंके, डीसीपी 

विधायक अमोल मिटकरी ने कहा कि एक समय में अमरावती राष्ट्रवादी कांग्रेस का गढ़ रह चुका है. उसी गढ़ को दोबारा पाने के लिए कार्यकर्ताओं को जुट जाना है. भले ही भाजपा महाविकास आघाड़ी को बदनाम करने के कितने भी प्रयास कर रही है, लेकिन उनके हर प्रयास को विफल बनाने का काम करने तैयार रहें. कोई कितना भी उछले, लेकिन पांच वर्ष तक कोई भी सरकार गिरा नहीं सकता. क्योंकि महाविकास आघाड़ी भगवान भोलेनाथ की तीन आंखें है. जिसमें तीसरी आंख राष्ट्रवादी कांग्रेस है. जब आंखें खुलेंगी तो विरोधियों की मुश्किलें बढ़ेंगी. यह चेतावनी भी दी. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की ओर से रविवार को कार्यकारिणी की समीक्षा बैठक व सत्कार समारोह का आयोजन किया गया.

कैंडर कैम्प से बढ़ाये संगठन
बैठक में हेमंत देशमुख, शहराध्यक्ष राजेंद्र महल्ले, महिला शहराध्यक्षा सुचिता वनवे मंचासीन थे. मिटकरी ने कहा कि इंसान को आगे ले जानेवाली विचारधारा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में है. इस समय उन्होंने कार्यकर्ताओं व्दारा पूछे गये सवालों के जबाव देते हुए कहा कि निष्ठावान कार्यकर्ताओं का निश्चित ही विचार किया जायेगा. इसलिए कार्यकर्ताओं ने अभी से चुनाव के मद्देनजर तैयारियां आरंभ कर देनी चाहिए. जो 16 वर्ष आयु के महाविद्यालयीन युवक युवतियां हैं. उनके लिए कैडर कैम्प लेने का आवाहन भी उन्होंने किया. हालांकि उन्होंने यह भी कबूल किया कि कोरोना के कारण सरकार का राजस्व रुका है. इसलिए किसानों तक नहीं पहुंच पा रहा है, लेकिन सरकार प्रयास कर रही है. इसलिए कार्यकर्ताओं ने भी अभी से काम में जुट जाना चाहिए.

कार्यकर्ताओं ने जतायी नाराजगी
इस समय पार्टी कार्यकर्ताओं ने भी खुलकर अपने विचार रखे. जिसमें उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि पार्टी में निष्ठा से काम करने वाले कार्यकर्ताओं का विचार नहीं किया जाता. बाहरी लोगों को ही उम्मीदवारी दी जाती है. इसलिए पार्टी ने कार्यकर्ताओं की भी कदर करनी चाहिए. संचालन चिंटू हरणे व आभार प्रदर्शन सूर्यकांत गभणे ने किया. कार्यक्रम में शहर कार्याध्यक्ष धीरज श्रीवास, श्रीधर देशमुख, गजानन रेवालकर, नितिन शेरेकर समेत कार्यकारिणी के सदस्य उपस्थित थे.

FDA को किया सूचित
चांदुर रेलवे शहर के केमिस्ट व्यवसायियों को इस बात की जानकारी मिली की कोई अनजान व्यक्ति चांदुर रेलवे शहर में मेडिकल की दूकानों में जाकर गर्भपात की गोलियां बेच रहा है. केमिस्ट के सभी व्यवसायी अलर्ट हो गए. जैसे ही आरोपी कविता मेडिकल में पहुंची. मेडिकल संचालक ने तुरंत औषधि प्रशासन के निरीक्षक मनीष गोतमारे को फोन पर सूचित कर उन्हें तुरंत बुला लिया. जिसके बाद एफडीए की टीम ने वहां पहुंचकर अशफाक से क्लीयर गर्भपात के लिए उपयोग की जाने वाली कट नाम की दवा की 22 स्ट्रीप व मुगल ए आजम नाम की गोलियों के 32 डिब्वे जब्त किए. अशफाक पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है. अवैध दवाओं के व्यवसाय में पूरा रैकेट शामिल होने का अंदेशा पुलिस जता रही है. वहीं कैमिस्ट व्यवसाइयों की इस सतर्कता की सराहना की जा रही है.

समय सूचकता सराहनीय
बगैर लाइसेन्स व बगैर अनुमति के दवा बेचने वालों पर नजर रखते हुए केमिस्ट ऐसासिएशन के सदस्यों ने जो समय सूचकता दिखाई है वह सराहनीय है. हमारे जाने तक उन्होंने आरोपियों को वहीं रोककर रखा. आरोपी पर मामला दर्ज किया गया है. इस दिशा में पूरी जांच की जाएगी. मामले की जड़ तक पहुंचेंगे. पुलिस मामले की जांच कर रही है.-मनीष गोतमारे, निरीक्षक एफडीए

 जिलाधिकारी कार्यालय पर सोमवार को युवक कांग्रेस के ‘रोजगार दो आंदोलन’ ने दस्तक दी़ किन्तु बिना किसी अनुमति के आंदोलन होने से पुलिस ने आंदोलनकारियों को रोकने की कोशीश की़ इस दौरान युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता व पुलिस में झडप देखने मिली़ कुछ समय तक तणाव की स्थिति के बाद पांच सदस्यों को निवेदन देने भेजा गया़ वहीं दूसरी ओर बिना अनुमति आंदोलन करने से 16 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किये जाने की जानकारी है़  

बता दे कि, केंद्र सरकार की नीति के खिलाफ युवक कांग्रेस ने ‘रोजगार दो आंदोलन’ की चेतावनी दी थी़ परंतु कोरोना के चलते उक्त आंदोलन को अनुमति नहीं मिली़ बावजुद इसके युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता सुबह 11.15 बजे डा़ बाबासाहेब आंबेडकर प्रतिमा परिसर में इकठ्ठा हुए़ पश्चात युवक कांग्रेस के राज्य उपाध्यक्ष कुणाल राऊत के नेतृत्व में मोर्चा ने जिलाधिकारी कार्यालय की ओर रुक अपनाया. परंतु बिना अनुमति आंदोलन होने से पुलिस ने आंदोलनकारियों को रोक लिया़ आंदोलको ने कलेक्ट्रेट से मिलने की जिद करने से पुलिस ने बल का प्रयोग किया.

परिणामवश आंदोलनकारी व पुलिस में झडप देखने मिली़ इससे कलेक्ट्रेट परिसर में तणाव की स्थिति पैदा हो गई थी़ अंतत: थानेदार योगेश पारधी ने आंदोलको से चर्चा कर पांच लोगों को जाने की अनुमति दी़ पांच सदस्यों ने जिलाधिकारी विवेक भीमनवार से मिलकर मांगों का निवेदन सौंपा़ केंद्र सरकार ने प्रेतिवर्ष 2 करोड युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी, इसका क्या हुआ ? कोरोना से लगभग 30 करोड लोग बेरोजगार हुए, केंद्र सरकार उन्हें न्याय दे, ऐसी मांग निवेदन में की गई़ 

 शहर में केशवनगर परिसर स्थित एमराल्ड हाईट्स स्कूल ने सीबीएसई के नाम पर पालकों को लाखों रुपयों से ठगे जाने के आरोप पर शाला के अध्यक्ष, संचालक मंडल व मुख्याध्यापिका के खिलाफ खदान पुलिस थाने में शुक्रवार की देर रात मामला दर्ज किया गया है. खदान पुलिस थाने में पंचायत समिति के प्रभारी गट शिक्षणाधिकारी श्याम राऊत द्वारा दर्ज की गयी शिकायत के अनुसार स्कूल में कक्षा 1 से 2 के लिए ऑनलाइन कक्ष न लेने के आदेश रहने के बावजूद ऑनलाइन कक्ष लिये गये, शिक्षा संस्था शुल्क अधिनियम 2011 के अंतर्गत पालक-शिक्षक संघ व पालक शिक्षक कार्यकारी समिति गठित न करना, शाला को स्टेट बोर्ड की मान्यता रहने के बावजूद सीबीएसई पाठ्यक्रम के पुस्तकों की बिक्री करना, सीबीएसई के नाम पर पालकों से शिक्षाशुल्क वसूल करना, शाला से ही किताबे, कापियां, गणवेश व शैक्षणिक सामग्री बेचना, शाला में स्टेट बोर्ड का पाठ्यक्रम न पढ़ाते हुए सीबीएसई पाठ्यक्रम पढाना तथा सीबीएसई के नाम पर पालकों से गैरकानूनी रकम वसूलना, दिशाभूल करना आदि आरोप शिकायत में दर्ज किए गए हैं. दर्ज शिकायत में जांच के बाद शाला के संचालक मंडल, शाला के अध्यक्ष, मुख्याधिकारी दोषी पाए जाने पर भादंवि की धारा 420, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है. मामले की जांच खदान पुलिस कर रही है.

मौसम विभाग नागपुर के संदेश के अनुसार अकोला जिले में 24 अगस्त तक भारी वर्षा, तेज हवाएं, तूफान, बिजली गिरना आदि नैसर्गिक आपदाएं हो सकती हैं. अकोला जिले को जलापूर्ति करनेवाले समीपी ग्राम महान स्थित काटेपूर्णा बांध प्रकल्प बाढ़ नियंत्रण कक्ष की सूचना के अनुसार इस प्रकल्प में लगभग 98 प्रतिशत जलभंडारण जमा होने के बाद सुबह के समय काटेपूर्णा प्रकल्प के 2 वक्रद्वार 20 सेमी खोलकर नदी में प्रति सेकंद 34.11 घ.मी. पानी की निकासी की जा रही है.  इसी तरह मोर्ना प्रकल्प में जलभंडारण शत प्रतिशत के साथ अन्य बांध प्रकल्पों में भी जलभंडारण बढ़ रहा है. प्रकल्प परिसर के जलग्राही क्षेत्रों में बारिश को देखते हुए पानी की निकासी की जाएगी. इस संदर्भ में नदी किनारे बसे गांवों के नागरिकों को सतर्क रहने की सूचना जिला प्रशासन द्वारा दी गयी है. नागरिकों  से कहा गया है कि वे नदी नालों में आयी बाढ़ को देखने न जाये और सतर्क रहे, यह निर्देश जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर ने दिये हैं.

मार्च से राज्य में कोरोना का संकट छाया है. इस संकट से किसान स्वंय को दुबारा लडने के लिए तैयार कर रहा है. ऐसे में ही कोरोना के कारण फुलोत्पादक किसानों को राहत मिलने की संभावना है. कोरोना के चलते मंदिर, शादी समारोह बंद रहने से सर्वाधिक नुकसान हुआ है लेकिन गणेशोत्सव –महालक्ष्मी के कारण फुलों की डिमांड बढने से फुल उत्पादकों को भी राहत मिलेगी. फुलों की डिमांड के साथ फुलों को अच्छे दाम मिलेंगे.

कोरोना ने घटाई थी मांग
कोरोना के कारण लाकडाउन से गणेशोत्सव, दशहरा, दिपावली से फुलोत्पादक किसानों ने फुलों की बुआई करने की हिम्मत नहीं की. जिसके चलते इस वर्ष अधिकांस जगहों से गेंदा, शेवंती, अष्टर, गुलाब, निशिगंधा आदि फुलों की बुआई क्षेत्र कम हो गया है. फिलहाल डिमांड कम रहने से आवक भी संतुलित है. लेकिन त्यौहारों के कारण फुलों की डिमांड बढने की संभावना जताई जा रही है. कोरोना ने फुलों की डिमांड सर्वाधिक कम कर दी. केवल धार्मिक विधी के लिए ही फुलों की डिमांड थी.

मार्केट में फुलों के रेट
गेंदा- 70 से 80 रुपये किलो

शेवंती- 150 से 160 रुपये किलो

गुलाब- 250 रुपये किलो

टोरा गुलाब 100 से 150 रुपये

निशिगंधा 150 से 200 रुपये

अष्टर 70 से 80 रुपये

जिला मध्यवर्ती कारागृह में रवाना होने वाले प्रत्येक आरोपी की प्रथम कोरोना टेस्ट की जाएगी, जिसके बाद उसे जेल में भेजा जाएगा ऐसे आदेश जिलाधिकारी शैलेश नवाल ने जारी किए हैं 

अब तक 30 क़ैदी पॉजिटिव
अमरावती मध्यवर्ती कारागृह के 30 कैदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए है, कारागृह में क्षमता से अधिक कैदी होने से अन्य कैदियों को इस संक्रमण के होने का भय निर्माण हो गया है, कारागृह में कोरोना का संक्रमण ना हो इसके लिए बाहर से आने वाले नए कई कैदियों की जांच जरूरी है, इस बात को ध्यान में रखकर जिला प्रशासन ने यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है, न्यायालय से कारागृह में रवाना होने वाले प्रत्येक आरोपी की अब आरटीपीसीआर तरीके से कोरोना में जांंच बंधनकारक रहेंगी, यह निर्णय जेल में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए आवश्यक है ऐसा विश्वास जिला प्रशासन ने व्यक्त किया है कैदियों की कोरोना टेस्ट निगेटिव आने के बाद ही उन्हें कारागृह में भेजा जाएगा.

केंद्र सरकार के निर्णय के विरोध में महाराष्ट्र की 407 कृषि उपज मंडी (एपीएमसी) के साथ-साथ अमरावती एपीएमसी भी शुक्रवार को बंद रही. जिसके कारण तीज-त्यौहार में फलों के दामों में जबरदस्त उछाल दर्ज किया गया. हरितालिका तीज पर लोगों को 20 रुपये दर्जन केले 40 से 50 रुपये दर्जन के भाव से खरीदने विवश होना पड़ा. उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने बाजार समिति से सेस बंद करने और नियमन मुक्त करने का शान निर्णय जारी किया है.

सब्जी विक्रेता व किसान परेशान
एपीएमसी बंद रखकर कर्मचारियों ने भी केंद्र सरकार के निर्णय के विरोध में महाराष्ट्र से आहूत किए गये इस आंदोलन से सब्जी विक्रेता व किसानों को थोडी परेशानी का सामना उठाना पडा. हालांकि इस आंदोलन को लेकर जनजागृति की गई बावजूद इसके एपीएमसी में सब्जी व फ्रुट के दिन तय होने से किसानों को आकर वापस जाना पडा. एपीएमसी का थोक मार्केट अनाज और फ्रुट-सब्जी बंद रहने से कर्मियों ने एपीएमसी के गेट के सामने जबरदस्त प्रदर्शन कर नारेबाजी की.  

10 रुपये का भुट्टा 25 में 
हरितालिका तीज और गणेश चतुर्थी के कारण लोगों को फल चढ़ाने तथा उपवास के कारण फलाहार की डिमांड रहती है. जिसके चलते फलों की अधिक खरीदी होती है. मार्केट में शु्क्रवार के दिन होलसेल फ्रुट मार्केट बंद रहता है. लेकिन एपीएमसी का थोक मार्केट भी बंद रहने से फलों के दाम दोगुना बढ़ गये. 40-80 रुपये किलो के सफरचंद मार्केट में 140 से 160 रुपये किलो बेचे गये. उसी तरह 10 रुपये का भुट्टा प्रत्येकी 20 से 25 रुपये के भाव से बेचा गया. तीज पर फलाहार से भी सुहागनों को मुंह मोडना पड़ा. गणेश स्थापना के लिए सेब समेत सभी फलों के दाम सुनकर खरीददारों को झटका लगा. वहीं फल विक्रेताओं की जमकर बल्ले-बल्ले रही.

मामूली बात को लेकर हुए विवाद में युवक को अपनी जान गवानी पडी़ पहले डंडे से वार किया, पश्चात चाकू से घोंप कर उसकी निर्ममता से हत्या कर दी़ उक्त सनसनीखेज वारदात बरबडी मार्ग पर स्थित एफसीआई गोदाम परिसर में घटते ही हडकम्प मच गया़ मृतक का नाम झोपडपट्टी निवासी प्रवीण मोहन कांबले (30) बताया गया़ 

प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक प्रवीण का गुरुवार, 20 अगस्त की दोपहर पडोसी रायकवार के साथ श्वान को लेकर विवाद हुआ था़ उसी समय अनीता रायकवार (40), दीपक वैरागडे (37) व योगराज रायकवार (20) ने प्रवीण को जान से मारने की धमकी दी थी़ किसी तरह उस समय विवाद निपट गया़ परंतु शाम को 5.45 बजे दौरान प्रवीण अपने घर के सामने पतंग उडा रहा था़ उसी दौरान अनीता रायकवार घर से बाहर निकली़ जहां दोनो में पुन: विवाद छिड गया़ इससे गुस्साए अनीता ने प्रवीण के सिर पर डंडा दे मारा़ जोरदार प्रहार होने से प्रवीण नीचे गिर गया़ उसी दौरान योगराज व दीपक भी वहां पहुंचे़.

इन दोनो ने भी चाकू से प्रवीण पर कातिलाना हमला कर दिया़ पेट व सिर पर गहरा वार होने से प्रवीण ने मौके पर दम तोड दिया़ वारदात सामने आते ही परिसर में हडकम्प मच गया़ सूचना मिलते ही सेवाग्राम पुलिस की टिम घटनास्थल पहुंची़ घटना पंचनामा कर शव पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया़ घटनास्थल को एसडीपीओ पीयूष जगताप, सेवाग्राम के थानेदार कांचन पांडे ने भेंट देकर मुआयना किया़ वारदात को अंजाम देकर आरोपियों ने छुपने की कोशीश की़ किन्तु सेवाग्राम पुलिस ने दीपक, योगराज व अनीता इन तीनों को गिरफ्तार कर लिया़ मृतक की बहन माधुरी मोहन कांबले (32) की शिकायत पर सेवाग्राम पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरु कर दी़ 

कुछ करने की इच्छाशक्ति हो तो कुछ असंभव नहीं होता है इसका उदाहरण राजुरा तहसील के मंगी (बु) गांव में देखने को मिला है। ग्रामीणों ने प्रशासन से मिलने वाली शासकीय निधि के अलावा जनसहयोग से गांव को धुआमुक्त, निर्मल ग्राम, शराबमुक्त कर गांव का कायाकल्प किया है। आज मंगी ग्राम विकास का माडल और अन्य ग्राम पंचायतों के लिए प्रेरणादायी बना है।

मंगी (बु) गुट ग्रापं में खैरगुडा, कुडमेथेगुडा, राजीगुंडा, मंगी (बु) गांव का समावेश है। ग्राम पंचायत ने विकास के बल पर स्मार्ट विलेज के रुप में 11 लाख रुपये का पुरस्कार प्राप्त किया है। जनसहयोग से गांव की अलग पहचान बनी है। गांव के मार्ग, साफ सफाई के साथ जनसहयोग से धुआमुक्त हो गया है। ग्रामीणों ने घर के पास शोषगड्ढे तैयार कर बहने वाले पानी की समस्या से छुटकारा पा लिया है। हर घर में शौचालय होने से गांव निर्मल हो गया है। सफाई की बदौलत ग्रापं को संत गाडगेबाबा स्वच्छता पुरस्कार मिला है। इसमें से 8 लाख के आरो प्लांट से ग्रामीणों को शुध्द पेयजल उपलब्ध हो रहा है। गांव के प्रवेश द्वार पर सुंदर और मनमोहक बगीचा तैयार किया है जिससे गांव सुंदर और हराभरा दिखाई देता है। आंगनवाडी का सुशोभीकरण किया गया है जिससे देखने वालों की नजर नहीं हटती है। ग्रामीण विकास के साथ आध्यात्मिक और सर्वधर्म समभाव का संदेश दे रहे है। ग्रापं ने 5 वर्षो से गांव के कायाकल्प और विकास पर जोर दिया है।

मंगी (बु) गांव के विकास में अंबुजा सीमेंट फाउंडेशन उपरवाही के कार्यक्रम अधिकारी श्रीकांत कुंभारे का बडा योगदान है। उन्होंने समय समय पर मार्गदर्शन और आर्थिक सहयोग किया है। इसके अलावा सरपंच रसिका पेंदोर, उपसरपंच वासुदेव चापले, शंकर तोडासे, ग्रामसेवक वंजारे, मुख्याध्यापक रत्नाकर भेंडे आदि मेहनत कर रहे है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के तहत यहाँ कार्यरत एक अधिकारी ने एमबीए की फर्जी डिग्री देकर और जिला प्रशासन की आंखों में धूल झोंकते हुए जिला कार्यक्रम प्रबंधक की कुर्सी हथियाने का आरोप केंद्रीय मानवाधिकार संगठन ने किया है।इस संदर्भ में संगठन के प्रदेश सहसचिव निलेश हिवराले ने राज्य के स्वास्थ्य राज्यमंत्री राजेन्द्र पाटिल यड्रावकर से मुलाकात कर उक्त कथित मामले की शिकायत की है।

यहां एक संयुक्त पत्रपरिषद में मामले की जानकारी देते हुए हिवराले तथा विवेक बारसिंगे ने बताया कि, जिले में वर्ष 2011 को राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के तहत जिला प्रोग्राम मैनेजर के पद के लिए जिला स्वास्थ्य प्रशासन ने भर्ती प्रक्रिया ली थी। इस पद के लिए प्रशासन ने एमएसडब्ल्यू के साथ एमबीए की डिग्री अनिवार्य बताई थी।

इस प्रक्रिया के तहत जिस व्यक्ति का जिला प्रशासन ने चयन किया उस व्यक्ति के पास की एमबीए की डिग्री फर्जी होने की बात सामने आने का आरोप दोनों ने लगाया है। उन्होंने कहा है कि, जिस शिक्षा संस्थान की डिग्री प्रशासन को दी है उस शिक्षा संस्थान एमआईटी ने ही सूचना अधिकार के तहत यह डिग्री फर्जी होने की बात स्पष्ट की है।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि, वर्ष 2011 से जिले में जब जब राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के तहत विभिन्न पदों की भर्ती ली गयी उसमें अनियमितता की गई है। जिन प्रत्याशियों का चयन किया गया है उनके अंक अन्य प्रत्याशियों की तुलना में कम होने के बावजूद उनका चयन किया गया है। इस चयन प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर आर्थिक लेन देन का भी आरोप उन्होंने लगाया है। इस बात की शिकायत जिलाधिकारी, जिला पुलिस अधीक्षक, जिला परिषद के सीईओ से की है, सबने मामले की जांच के आदेश भी जारी किए है।

फर्जी डिग्री देकर पद हासिल करने वाले इस अधिकारी के खिलाफ तत्काल धोखाधड़ी का मामला दर्ज करने की मांग उन्होंने की है।

वैसे तो किसी भी शुभकार्य के पूर्व विध्नहर्ता गणेश की पूजा की जाती है। गणेश चतुर्थी के 10 दिनों तक देश समेत दुनिया भर में गणेशोत्सव की धूम रहती है। किंतु इस वर्ष कोरोना संकट के चलते गणेशोत्सव सादगीपूर्ण वातावरण में मनाया जाएगा। गणेश चतुर्थी के पूर्व इतिहास संशोधक और सिक्के संग्रहक अशोक सिंह ठाकुर के कलेक्शन में एक 18 वीं सदी का गणपति का सिक्का है। जो याद दिलाता है कि मराठा साम्राज्य में भी गणेशजी का महत्वपूर्ण स्थान था।

इस सिक्के के बारे में ठाकुर ने बताया कि इस सिक्के को 18 वी शताब्दी में मुगल बादशाह शाह आलम – द्वितीय ने (जिसका कार्यकाल सन 1759 से 1806) उन्हीं के कार्यकाल में मराठा शासन में मिरज संस्थान के पटवर्धन जिनके आराध्य देव श्री गणपति थे उन्होंने नायाब सिक्का ढलवाया। इस सिक्के के अग्र भाग पर देवनागरी में श्री गणपति और फारसी में शाह आलम बादशाह गाजी और हिजरी वर्ष 1202 अंकित है। इस सिक्के के पृष्ठ भाग पर देवनागरी में श्री पंतप्रधान और फारसी में मैमनत मानुस और टकसाल का नाम मुर्तजाबाद (मिरज) अंकित हैं। इस चांदी के सिक्के का वजन 11.34 ग्राम हैं, ये चांदी का सिक्का मिरज संस्थान के पटवर्धन ने पेशवा के लिए अपनी निष्ठा प्रकट करने के लिए ढलवाया था। पंतप्रधान  यह  पेशवा की पदवी भी थीं। 

उस समय भारत में संस्थानिक शासन किसी भी राजा का हों परंतु सिक्के दिल्ली में बैठे हुए बादशाह के नाम से ही निकाले जाते थे। 22 अगस्त गणेश चतुर्थी से देश भर में 10 दिवसीय गणेशोत्सव की शुरुवात होगी। इस दौरान लोग अपने घरों में गणेश मूर्ति की स्थापना कर 10 दिनों पूजा अर्चना करेंगे. कोरोना संकट की वजह से प्रशासन ने सार्वजनिक गणेश उत्सव की अनुमति नहीं दी है। किंतु 18 वीं सदी का बना सिक्का दर्शाता है कि मराठा सम्राज्य के दौरान भी गणेशजी का विशेष स्थान था।

आगामी 22 अगस्त से गणेशोत्सव की शुरुआत हो रही है. जिले में कोरोना का बढ़ते संक्रमण को देखकर राज्य शासन के आदेश पर केवल पारंपरिक गणेश मंडलों को पुलिस की ओर से अनुमति दी जा रही है. कोरोना महामारी में कड़े नियम व शर्तों के कारण अधिकांश गणेश मंडलों द्वारा घर-घर में गणेश स्थापना की योजना बनाई गई है. यही वजह है कि शहर पुलिस द्वारा गणेश उत्सव के लिए ऑनलाइन आवेदन मंगवाने के बाद अब तक शहर में केवल 90 गणेशोत्सव मंडलों ने अनुमति के लिए आवेदन किया है.

राज्य शासन ने दी सख्त गाइडलाइंस
हर वर्ष जिले में कुल 16 67 गणेश मंडलों की स्थापना होती है. जिसमें शहर में 516 तथा ग्रामीण भाग में 1151 मंडल की स्थापना की जाती है. लेकिन कोरोना वायरस के कारण राज्य सरकार ने 31 अगस्त तक सभी प्रकार के धार्मिक उत्सव कार्यक्रम पर पाबंदी लगाई है. 22 अगस्त से गणेशोत्सव शुरू हो रहे हैं. जिसको देखते हुए राज्य सरकार ने एक जीआर निकालकर सभी गणेश मंडलों के लिए सख्त गाइडलाइंस तैयार की है.

जिसमें सार्वजनिक गणेश मंडलों को सिर्फ 4 फीट की मूर्ति बैठाने के आदेश दिए हैं. जबकि घरों में मात्र 2 फीट या उससे कम ऊंचाई वाली मूर्तियों के निर्देश हैं. इसी तरह गणेश शोभा यात्रा, रैली, झांकियां, दिखावे समेत अन्य पर पाबंदी लगाई है. जिसके चलते अधिकांश गणेश मंडलों ने घर-घर में गणेश स्थापना का निर्णय लिया है. यही कारण है कि अब तक केवल 90 गणेश मंडलों ने ऑनलाइन आवेदन कर पुलिस से अनुमति मांगी है. ऑनलाइन आवेदन के लिए और 2 दिन शेष बचे हुए हैं.

गणेश मंडलों को ऑनलाइन अनुमति 
करुणा संक्रमण के कारण राज्य सरकार ने गणेश उत्सव मंडलों के लिए सख्त गाइडलाइंस जारी की है. जिसके तहत पारंपरिक गणेश उत्सव मंडल से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं. अब तक 90 गणेश उत्सव मंडल ने अनुमति मांगी है

 जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मिलने का सिलसिला सतत शुरू है. कोरोना संक्रमण किसी को भी अपने जकड़ में ले रहा है, इससे बड़े अधिकारी से लेकर छोटे कर्मचारी, व्यवसायी से लेकर छोटे दूकानदार तथा नौकरीपेशा वाले से सामान्य नागरिक तक प्रभावित हुए है. जिससे जिले में चिंता बढ़ गई है. इसमें फुलचुर नाका परिसर में स्थित उपप्रादेशिक परिवहन कार्यालय में एक मोटरवाहन निरीक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए है. आरटीओ कार्यालय को 3 दिनों के लिए बुधवार तक बंद कर दिया गया है.

RTO चव्हान ने दी जानकारी
इस संबंध में उप प्रादेशिक परिवहन अधिकारी विजय चव्हान ने बताया कि मोटर वाहन निरीक्षक के पॉजिटिव पाए जाने पर कार्यालय को बंद करने का निर्णय लिया गया है. उल्लेखनीय है कि नवेगांवबांध थाना, गोरेगांव थाना, जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय सहित 21 पुलिस कर्मचारी पॉजिटिव पाए गए है. इसके अलावा 2 होमगार्ड भी कोरोना  की सूची में आ गए है. इसके पूर्व देवरी स्थित न्यायालय एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है.

गडचांदुर शहर की बिजली समस्या निवारण के उपाय योजना के संदर्भ क्षेत्रीय विधायक सुभाष धोटे की अध्यक्षता में गडचांदूर विश्रामगृह में बिजली वितरण कंपनी की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक में बिजली मंडल के कार्यकारी अभियंता महेशचंद्र तेलंग, उपविभागीय इंजीनियर अतुल इंदुरकर, जूनियर इंजीनियर राउत, शेंडे और अन्य कर्मचारी उपस्थित थे। 

बैठक में प्रमुखता से प्रभाग 1 और 2 के ओवरलोड तार, विद्यानगरी,  प्रभाग 7 तथा अन्य प्रभाग के सिंगल फेज को थ्री फेज में रुपातंरित करना, ओपनस्पेस के ट्रांसफार्मरों को हटाना, मुख्य बाजार और अचानक चौक के मार्ग पर लगे बिजली पोल का स्थानांतरण, किसानों को कनेक्शन, रेलवे लाईन के लोगों को ग्रामीण क्षेत्र से हो रही बिजली आपूर्ति शहरी क्षेत्र से देने के विषय नागरिकों ने उपस्थित किये। सभी विषयों पर तुरंत कार्रवाई के आदेश विधायक सुभाष धोटे ने संबंधित विभाग को दिये।

नागरिकों ने बिजली की आंखमिचौली, सब स्टेशन में 4 ब्रेकर का काम शुरु है इसमें से 1 का पूर्ण हुआ और 3 का काम कोरोना की वजह से विलंब होने की जानकारी उपविभागीय इंजीनियर इंदुरकर ने दी। गडचांदुर शहर को जलापूर्ति करने वाले अमलनाला इंटेकवाल को हो रही अनियमित बिजली आपूर्ति और उससे निर्माण होने वाली जल समस्या की ओर निर्माणकार्य सभापति विक्रम येरणे ने ध्यानाकर्षण किया। बीबी के 40 पोल का विषय उपसरपंच प्रा. आशिष देरकर ने रखा। यह काम तुरंत पूर्ण करने के आदेश विधायक धोटे ने संबंधित अधिकारी को दिए। बैठक में अरुण निमजे, शैलेश लोखंडे, अभय मुनोत ने ग्रामीण परिसर की विविध समस्याएं रखी।

इस वर्ष कोरोना के साये में मानसून शुरु से ही संभाग के पांचों जिलों पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान है, लेकिन अत्याधिक वर्षा ने कई क्षेत्रों में नुकसान किया है. संभागीय आयुक्तालय से प्राप्त साप्ताहिक रिपोर्ट के अनुसार 1 जून से 14 अगस्त तक संभाग के 165 गांव बाधित हुए हैं. पांचों जिलों में 10840.71 हेक्टेयर फसलों को क्षति पहुंची है. जबकि 17702.39 हेक्टेयर खेत जमीन बह गई है. बारिश् के इस कहर ने 34 लोगों की जान भी ली है. कोरोना महामारी ने वैसे ही जनमानस को पस्त कर रखा है, ऐसे में बारिश के रूप में बरसी आफत ने हजारों का प्रभावित किया है.

 अकोला में सर्वाधिक नुकसान
बारिश का सर्वाधिक नुकसान अकोला में हुआ है. यहां 7327.33 हेक्टेयर फसले बर्बाद हुई है. जबकि संभागीय मुख्यालय अमरावती जिले में 2167.40 हेक्टेयर, बुलडाणा में 502.45 हे., वाशिम में 843.53 हे. फसलें क्षतिग्रस्त हुई हैं. बुलढाना जिले में सर्वाधिक 13654 हेकटेयर खेत जमीन बारिश के पानी में बही है. यवतमाल में जिले में 3481.70 हे., अमरावती में 558 हे. जमीन बही है.

 यवतमाल में सर्वाधिक मौंतें
बारिश में बिजली गिरनी से, बाढ़ में बहने से तथा मलबे में दबने से संभाग में कुल 34 मौते हुई हैं. जिसमें यवतमाल जिले में सर्वाधिक 13 मौतें हुई हैं. अमरावती में 9, अकोला-बुलढाना में 5-5 तथा वाशिम में 2 लोगों की जान गई है. संभाग में 101 मवेशी भी बारिश के कहर का शिकार हुए हैं. इनमें 31 बडे दुधारु मवेशी, 17 छोटे मवेशी, बोझ ढोनेवाले 46 बड़े तथा 7 छोटे जानवरों का समावेश है.  

मेलघाट में स्वास्थ्य विभाग पर शासन-प्रशासन प्रतिवर्ष करोड़ों खर्च कर रहा है. वहीं बोगस डाक्टर  के गलत इलाज के कारण सुसर्दा में एक 13 माह के मासूम की मौत हो गई. स्वतंत्रता दिवस पर यह घटना  सामने आने से सरकारी स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. पहले साद्राबाड़ी से धारणी उपजिला अस्पताल और बाद में अमरावती जिला अस्पताल में रेफर किया गया. इसी रेफर-रेफर के चक्कर में बच्चे को समय पर इलाज नहीं मिल पाया. राज्य की महिला-बाल विकास मंत्री के जिले में इस तरह घोर लापरवाही चर्चा का  विषय बन गई है.  

अवेयरनेस की कमी   
प्राप्त जानकारी के अनुसार शिवाझिरी निवासी मनीष नंदकिशोर राठोड़ नामक 13 माह के मासूम बच्चे पर सुसर्दा स्थित बोगस व झोला छाप डाक्टर व्दारा 15 अगस्त को गलत उपचार किये जाने के कारण उसकी हालत चिंताजनक हो गई. बाद में इस बालक की मौत हो गई. शिवाझिरी में कार्यरत आंगनवाड़ी सेविका व एएनएम व आशा वर्कर ने इसकी पुष्टि की. पता चला है कि शासन की करोड़ों रुपये की निधि मेलघाट में व्यर्थ जाया हो रही है. आज भी मेलघाट में आवश्यकता के अनुसार स्वास्थ्य की दृष्टिकोण से जनजागृति व परिस्थिति में सुधार नहीं हो पा रहा है.  

स्वास्थ्य विभाग भगवान भरोसे 
13 माह के मासूम मनीष की माता ने शिवाझिरी स्थित संपूर्ण स्वास्थ्य विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है. माता के अनुसार उसका बच्चा जन्मत: कुपोषित पैदा हुआ. उसके बाद भी सरकारी स्वास्थ्य यंत्रणा ने ध्यान नहीं दिया. आशा वर्कर, एएनएम व वैद्यकीय अधिकारी, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र साद्राबाड़ी में से किसी ने भी एक वर्ष में बच्चे की सुध लेना भी जरुरी नहीं समझा. जैसे-तैसे बच्चे का एक वर्ष तक लालन-पोषण किया. इस अभागी माता ने मासूम मनीष की मौत के लिये स्वास्थ्य विभाग को जिम्मेदार होने का आरोप लगाया है. 

चांदा-फोर्ट गोंदिया रेलमार्ग के तलोधी जंक्शन समीप रविवार की रात 10 बजे मालगाडी क्रं. 1149/16 की टक्कर में एक भालू की मृत्यु हो गई। विस्तृत जानकारी के अनुसार बालापुर सामाजिक वणीकरण क्षेत्र के बालापुर बीट के कम्पार्टमेंट क्रं. 72 रेलमार्ग पार करते समय चांदा फोर्ट से गोंदिया की ओर जा रही मालगाडी क्रं. 1149/16 ने नर भालू को टक्कर मार दी। इसमें  भालू की मृत्यु हो गई।

आज सोमवार की सुबह तलोधी बा. के पशुधन विकास अधिकारी डा. डी.जी. टेकाम ने लगभग 5 वर्षीय भालू का पोस्टमार्टम किया। पीएम के पश्चात सामाजिक वनीकरण बालापुर के वनपरिक्षेत्र अधिकारी एस.ए. कुलबांधे और उनकी टीम ने लाकडा डिपो बालापुर में भालू के शव को जला दिया।

भारतीय स्वाधीनता संग्राम में चिमूर क्रांति एक सुनहरे पन्ना है चिमूर की लड़ाई ने भारतीय स्वाधीनता संग्राम में करो या मरो की भूमिका और दिशा तय की है. ऐसा प्रतिपादन पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने किया.

पालकमंत्री वडेट्टीवार ने चिमूर शहीद स्मारक पहुंचकर शहीदों को नमन किया. 16 अगस्त 1942  को ही नागपंचमी के दिन क्रांतिकारियों ने यूनियन जैक नीचे उतारकर भारतीय तिरंगा फहराया था. जहां सारा देश गुलामी में था वहीं लगातार तीन दिनों तक चिमूर शहर स्वतंत्र था. प्रतिवर्ष 16 अगस्त को चिमूर शहर में शहीदों को आदरांजलि अर्पण करने का कार्यक्रम आयोजित किया जाता है.

पालकमत्री विजय वडेट्टीवार ने सर्वप्रथम शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पण किए. इसके उपरांत किला परिसर के शहीद स्मारक को उन्होने भेट दी. इस स्थान पर उन्होने राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज, शहीद बालाजी रायपुरकर को पुष्पचक्र अर्पित किए. परिसर में स्थित म.ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले के पुतले  पर अभिवादन किया.

वडेटटीवार ने चिमूर क्रांति लड़ाई ने इस परिसर में नहीं बल्कि समस्त देश में क्रांति की चेतना जगाई थी. चिमूर शहीद स्मारक पहुंचने पर शहीदों के बलिदान,त्याग की स्मृति ताजा हो जाती है. राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज ने खंजिरी से क्रांति का सूत्रपात किया था.

इस समय शिवानी वडेट्टीवार, नगराध्यक्ष गोपाल झाडे, उपविभागीय अधिकारी प्रकाश संकपाल, तहसीलदार संजय नागतिलक, मुख्याधिकारी मंगेश खवले, जि.प. सदस्य ममता डुकरे, गजानन बुटके, पं.स. सभापति लता पिसे, चित्रा डांगे आदि उपस्थित थे. तत्पश्चात नगर परिषद पहुंचकर उन्होने कोरोना उपाययोजना की समीक्षा की.

लाकडाऊन के दौरान का तीन महिने के बिजली बिल की माफी का संकल्प लेते हुए विदर्भ राज्य आंदोलन समिति के कार्यकर्ताओं ने सींदेवाही में बिजली वितरण कंपनी के कार्यालय समक्ष बिजली बिलों की होली कर निषेध व्यक्त किया गया. तत्पश्चात कंपनी के विरोध में जोरदार घोषनाए की गयी. आंदोलन का नेतृत्व में विराआंस के अध्यक्ष पुर्व विधायक एड. वामनराव चटप, पुर्व राज्यमंत्री डा. रमेशकुमार गजबे ने किया.   

दो सौ युनिट तक बिजली बिल निशुल्क दिए जाने, कृषी पम्प का बकाया बिजली बिल माफ करने, घरेलु, व्यावसायिक व औद्योगिक बिजली बिल  एक निहाई किए जाने आदि समेत अन्य मांगों का निवेदन मुख्यमंत्री व ऊर्जामंत्री को सींदेवाही के बिजली बिल कंपनी के उपविभागिय अभियंता के माध्यम से भेजा गया. 

आंदोलन में एड. वामनराव चटप, पुर्व राज्यमंत्री डा. रमेश कुमार गजबे, किशोर पोतनवार, मनोहर पवार, बाबुराव परसावार, अशोक सालवे, दिवाकर माणूसमारे, बंडू देठे, विनायक गजभिये, मधुकर चिंचोलकर, विकास बोरकर, वंदना गजभिये, इंदिरा पवार, नथु मडावी, प्रशांत शेट्टीय, आशिष गजबे, जयदेव श्रीरामे, सतीश पवार, भास्कर ठाकरे, शेषराव मडकाम, विजय बहयाल, अरविद गुरनुले, संजीव चौके, सुरज खोडे, अमर कोडापे, प्रफुल्ल चौधरी, चोखोबा वाघमारे समेत कई कार्यकर्ता व नागरिक आंदोलन में सहभागी हुए थे. 

अमरावती. संत गाड़गेबाबा अमरावती विवि की कोरोना लैब को एक ऐसी आटोमैटिक मशीन उपलब्ध करा दी गई है, जो प्रति ढाई घंटे में 96 थ्रोट स्वैब सैम्पल की रिपोर्ट देगी. इस तरह डेली 500 से अधिक थ्रोट स्वैब सैम्पल की रिपोर्ट इस नई मशीन से प्राप्त करने की सुविधा होगी. पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर ने मशीन के लिए अपनी निधि उपलब्ध कराई है. बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए टेस्ट बढ़ाने के उद्देश्य से यह मशीन कारगर साबित होगी. 

गुरुवार के बाद होगी कार्यान्वित
यह आरएन एक्सट्रेक्टर मशीन विवि की कोरोना लैब में गुरुवार के बाद कार्यान्वित होगी. इसे तक इस्टाल करने की प्रक्रिया शुरू है. संत गाड़गेबाबा अमरावती विवि में कोरोना लैब शुरू होने के बाद मेन्यूअल पध्दति से थ्रोट स्वैब की जांच हो रही थी, लेकिन लैब के डाक्टर व विद्यार्थी एक दिन में 150 से 250 नागरिकों की ही थ्रोट स्वैब जांच कर सकते हैं. जिले में कोरोना बाधितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है.  जिससे थ्रोट स्वैब जांच बढ़ाने के लिये पालकमंत्री यशोमति ठाकुर की पहल पर जिला प्रशासन ने नई आरएनए आटोमैटिक एक्सट्रेशन मशीन विवि लैब को उपलब्ध कराई है. 

सैम्पल जांच को मिलेगी गति
विवि की लैब में अब तक मैन्युअली थ्रोट स्वैब जांच शुरू थी. अब आरएनए मशीन उपलब्ध होने से अब ऑटोमैटिक जांच रिपोर्ट प्राप्त होगी. एक बैच में 96 सैम्पल ढाई घंटे में जांचे जा सकेंगे. जिससे अब डेली 500 से अधिक थ्रोट स्वैब सैम्पल की जांच संभव हो पाएंगी. जिससे रोगी को समय पर तत्काल उपचार मिल पाएगा. -प्रशांत ठाकरे, नोडल ऑफिसर, विवि लैब

राजुरा. फसल की उचित पैदावार न होने से परेशान राजुरा तहसील के पंचाला निवासी अल्पभूधारक किसान धर्मा करमनकर (60) ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली। पंचाला निवासी धर्मा करमनकर के पास 4 एकड खेती है। खेती के लिए बैंक आफ इंडिया से 2 लाख का कर्ज लिया था। सरकार ने किसानों के लिए कर्जमाफी की घोषणा की इससे किसानों की उम्मीद जागी थी। किंतु संपूर्ण कर्जमाफी के लिए सरकार ने अनेक जटील शर्ते रखी। जिससे अनेक किसान आज भी कर्जमाफी से वंचित है।

वर्तमान में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते कोई भी कृषि केंद्र संचालक उधार बीज, खाद, कीटनाशक देने को तैयार नहीं और किसान के पास नगद रुपये नहीं है। बैंक भी कर्ज नहीं दे रहे इससे हताश होकर धर्मा ने रविवार की शाम अपने खेत में कीटनाशक प्राशन कर लिया। यह ज्ञात होने पर उसकी पत्नी से शोर शराबा किया तो पास के खेत में काम रहे किसानों ने तुरंत राजुरा ग्रामीण हास्पिटल में दाखिल किया किंतु हालत में सुधार न आने पर जिला सरकारी अस्पताल चंद्रपुर भेज दिया जहां उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। किसान की आत्महत्या से उसके परिवार पर भारी संकट आ गया है।

नाबालिग के साथ जबरन अश्लील हरकत कर उसके अश्लील फोटो वायरल करने के आरोप में पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों में गांधीनगर निवासी संदीप धनराज गराडे (26) और शेरु मुस्तफा शेख (25) का समावेश है.

पीडित नाबालिग ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि आरोपी शेरु शेख के साथ उसकी मित्रता थी। मित्रता का फायदा उठाकर शेरु पीडित की सहेली के घर आया और उसकी सहेली को घर के बाहर भेजकर उसके साथ जबरदस्ती का प्रयास किया। पीडित ने संबंध बनाने से इंकार किया तो शेरु ने किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी।

दूसरे मामले में शेरु शेख के मित्र संदीप गराडे के साथ पीडित की सिंतबर-अक्टूबर में मित्रता थी। उस समय पर आरोपी संदीप पीडित को बाहर घुमाने ले जाता था। इसी प्रकार एक दिन वह खेडमक्ता रोड के शासकीय गोदाम के पास उसे ले गया और वहां उसके साथ जबरदस्ती का प्रयास किया। इस घटना के फोटो आरोपी ने खींच लिये थे और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी थी। 14 अगस्त को पीडित के मौसी के पडोस में रहने वाली उसकी सहेली ने बताया कि उसके फोटो वायरल हो गए है। फोटो की जांच करने पर पाया कि एक नाबालिग आरोपी ने सहेली के वाट्सएप पर फोटो डाला है। फरियादी की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने शेरु शेख और संदीप गराडे के खिलाफ दुष्कर्म के साथ जान से मारने की धमकी देने के साथ अन्य धाराओं के तहत मामला पंजीबध्द कर आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मामले की जांच ब्रम्हपुरी पुलिस कर रही है।

लंबे अरसे से बीमार चल रहे बड़े भाई की नागपुर में इलाज दौरान मौत हो जाने की खबर सुनकर छोटे भाई ने दम तोड़ दिया, एक परिवार में दो भाइयों की आकस्मिक मौत से पूरे परिसर में शोक की लहर दौड़ गई है, यह घटना शनिवार की सुबह मौलाना आजाद कालोनी में घटी, मृतकों में 2 बार पूर्व जिला केसरी व उप विदर्भ केसरी रहे हाजी सैय्यद इशाक पहलवान (52, कडबी बाजार) तथा उनके छोटे भाई सैय्यद इमरान (50,मौलाना आजाद कालोनी) है.

कुश्ती प्रेमियों में शोक लहर
स्थानीय पुराना काटन मार्केट परिसर में फलों का  होलसेल कारोबार करने वाले सैयद इशाक पहलवान विगत कुछ दिनों से स्वास्थ्य संबंधित परेशानियों से जूझ रहे थे, जिन्हें नागपुर रेफर किया गया था, जहां 20 दिन से उनका इलाज चल रहा था. शनिवार तड़के 3 बजे इशाक पहलवान ने अपनी अंतिम सांस ली. यह खबर मिलने के बाद उनके छोटे भाई सैयद इमरान शनिवार की सुबह कड़बी बाजार स्थित अपने बड़े भाई के घर पहुंचे. इस खबर से वह काफी दुखी थे. जिसके बाद उन्हें तीव्र हृदयाघात हुआ, जिसके चलते सैयद इमरान का भी इंतकाल हो गया. यह खबर पता चलते ही सैय्यद परिवार में शोक लहर दौड़ गई.

सैयद इशाक पहलवान का पार्थिव शरीर परिजनों को सौंपा गया. इस समय कोरोना महामारी को लेकर जारी हालत की वजह से इशाक पहलवान के पार्थिव को अमरावती लाने की अनुमति नहीं दी गई, ऐसे में अमरावती से नागपुर गए परिजनों ने नागपुर के मुस्लिम कब्रस्तान में उन्हें सुपुर्द ए खाक किया. वहीं शनिवार की शाम उनके छोटे भाई इमरान का जनाजा निकाला गया, उन्हें हैदरपुरा स्थित कब्रस्तान में सुपुर्द ए खाक किया गया, बड़े भाई की मौत की खबर सुनकर छोटे भाई की मौत हो जाने का यह शायद पहला मामला है, इशाक पहलवान के चले जाने से कुश्ती प्रेमियों में शोक की लहर दौड़ गई है.

स्वतंत्रता के बाद 72 वर्ष में देश ने ज्ञान विज्ञान के क्षेत्र में नाम रोशन किया है. देश के विभिन्न जाति धर्म में एकता बनाये रखने का संदेश सभी महापुरुषों ने दिया. लोकतांत्रिक मूल्यों का जतन कर ही हमें आगे जाना है. इसके पूर्व कोई भी संकट रहा तो संपूर्ण देश ने एकजूटता के साथ मुकाबला किया. इसी एकजूटता से कोरोना महासंकट से भी बाहर आएंगे. यह विश्वास राज्य की महिला व बालविकास मंत्री तथा जिले की पालकमंत्री यशोमति ठाकुर ने व्यक्त किये. वे विभागीय आयुक्त कार्यालय के प्रांगण में ध्वजारोहण कार्यक्रम में बोल रही थीं. इस समय चेतन गांवडे, विभागीय आयुक्त पियुष सिंह, विशेष पुलिस महानिरीक्षक मकरंद रानड़े, जिलाधिकारी शैलेश नवाल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमोल येड़गे, पुलिस आयुक्त संजय कुमार बाविस्कर, पुलिस अधिक्षक हरी बालाजी आदि उपस्थित थे.

ज्ञान-विज्ञान में अतुलनीय कार्य
पालकमंत्री ने कहा कि गत 7 दशकों में ज्ञान विज्ञान क्षेत्र में अतुलनीय कार्य देश ने किया है. कई महापुरुषों का त्याग, योगदान व दूर दृष्टि से देश खड़ा है. पं. जवाहरलाल नेहरू ने विभिन्न क्षेत्र में ज्ञानमंदिर तैयार कर आधुनिक भारत की रचना की. भारतरत्न डा. बाबासाहब आंबेडकर ने समाज के अंतिम घटकों के लिए कार्य किया. उसी मूल्यों का जतन कर देश को आगे ले जाना है. सामान्य लोगों को जोड़कर रखने की ताकत संविधान ने दी है. 

महिलाओं का सहयोग जरूरी
प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं का सहयोग बढ़ाने की आवश्यकता है. महिला व बालविकास विभाग इसके लिए प्रयासरत है. देश में युवाओं की संख्या बढ़ी है. युवाओं की उर्जा से विधायक कार्य के लिए नया महाराष्ट्र तैयार होगा. डा. पंजाबराव देशमुख वैद्यकिय महाविद्यालय प्रयोगशाला जल्द ही कार्यान्वित होगी. लॉकडाउन में ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार निर्माण के लिए मनरेगा के माध्यम से मांगेगा उसे काम उपलब्ध कराये गये. जिले में 690 गांव से 3,120 कामों को प्रोत्साहन मिला है. सीसीआय के नये केंद्र शुरू होने से कपास खरीदी मे गति आयी.

बडनेरा नई बस्ती  स्थित मौलाना अबुल कलाम आजाद मार्केट परिसर में करीब 100 से ज्यादा दुकानें हैं और इन सभी दुकानदारों की सेवा के लिए इस मार्केट परिसर के अंदर बड़ा सा शौचालय भी बनाया गया है, लेकिन बड़ी हैरानी है कि बीते कई वर्षों से यह शौचालय बंद पड़ा है. किसी दुकानदार व्दारा इस शौचालय का इस्तेमाल गोदाम के रूप में किये जाने की जानकारी है. जिससे व्यापारियों को शौचालय हेतु या तो अपने निवास पर जाना पड़ता है या साप्माहिक बाजार परिसर में जाना पड़ता है, जबकि बारिश के दिनों में तो इन व्यापारियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. यदि बारिश चालू हो और इन्हें इमरजेंसी में शौचालय जाना हो तो वह भी परेशान होकर तिल-मिलाते रहते हैं. 

बरसों लगे हैं ताले
मार्केट परिसर के शौचालय के दोनों दरवाजों के ताले लगे हुए हैं, लेकिन जानकारी है कि इन तालों की चाबी किसी दूकानदार के पास में है और उस दूकानदार ने इस शौचालय को अपना गोदाम बना रखा है. साथ ही शौचालय के सामने गंदगी का अंबार लगा हुआ है पानी की टांकी में तो इतनी ज्यादा गंदगी जमा है कि इस पानी में  सड़े हुए अंडे पड़े हैं. जिसके चलते पानी की टंकी में इल्लियां पड़ गई है और मच्छरों की भरमार हो रही है.

अधिकारी  बन रहे अनजान
मौलाना आजाद मार्केट परिसर के शौचालय के संदर्भ में  क्षेत्रीय अधिकारी, स्वास्थ्य निरीक्षक  और इंजीनियर को शौचालय बंद होने के  संदर्भ में जानकारी मांगी गई तो उनके होश उड़ गए. किसी को भी यह पता ही नहीं था कि इस मार्केट परिसर में शौचालय है और शौचालय बंद है. उसे ताले भी लगे हैं. बडनेरा जोन के सह आयुक्त किसी से मिलने या कुछ जानकारी देना बिल्कुल भी पसंद नहीं करती हैं. इसी के चलते शायद बडनेरा महानगरपालिका के दूसरे अधिकारी भी धृतराष्ट्र बने हुए हैं. महानगर पालिका की संपत्ति का यहां के व्यापारी फायदा उठा रहे हैं और इसी फायदे के चलते यह संपत्ति महानगरपालिका की ना होकर  इन व्यापारियों की नजर आती है.

अमरावती. जिले की पालकमंत्री यशोमति ठाकुर ने शनिवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में जिले के विभिन्न विकासकार्यों की समीक्षा की‍. जिसमें उन्होंने कहा कि फसल कर्ज वितरण लक्ष्य के अनुसार पूर्ण करना है. जिसके लिए कर्ज वितरण कार्य को गति देने के निर्देश प्रश्‍शासन को दिए. बैठक में संभागीय आयुक्त पीयूष सिंह, विशेष पुलिस महानिरीक्षक मकरंद रानड़े, जिलाधिकारी शैलेश नवाल, जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमोल येड़गे, पुलिस आयुक्त संजय बाविसकर, पुलिस अधीक्षक हरी बालाजी, महानगरपालिका आयुक्त प्रशांत रोड़, जिला शल्यचिकित्सक डा. श्यामसुंदर निकम, जिला उपनिबंधक संदीप जाधव आदि उपस्थित थे.

627.98 करोड़ रु. कर्ज वितरित 
जिले में अब तक 627.98 करोड़ रूपयों का फसल कर्ज वितरित किए जाने की जानकारी लीड बैंक प्रबंधक जितेद्रकुमार झा ने इस समय दी. कर्ज वितरण के काम को गति देने के साथ किसानों की समस्याएं जानकर उन्हें कर्ज उपलब्ध कराने में सहयोग करने की सूचना भी दी. खरीफ में किसानों को कर्ज मिले इसके लिए महात्मा फुले कर्जमुक्ति योजना के माध्यम से अनेक किसानों को कर्जमुक्ति का लाभ दिया गया. पात्र किसानों को कर्ज वितरण का भी लाभ देने के दिए.

रेती तस्करों पर करें कार्रवाई
जिले में रेत तस्करी की बढ़ती शिकायतों के मद्देनजर पालकमंत्री ने इस पर नकेल कसने के लिए रेती तस्करों पर कड़ी कार्रवाई करने की सूचना दी. इस समय कोरोना उपाय योजनाओं को लेकर जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, जिला परिषद व महानगरपालिका  द्वारा की जा रही कार्रवाई की भी जानकारी ली. कोविड अस्पताल में पर्याप्त ऑक्सिजन सुविधा उपलब्ध कराने की जानकारी जिलाधीश शैलेश नवाल ने दी है. उन्‍होंने बताया कि आवश्यक वहां डबल ऑक्सिजन यंत्रणा भी मुहैया कराई गई है. 

अकोला. अकोला महानगर व जिले में गंभीर मामलों में शामिल कुख्यात अपराधियों के तड़ीपार के प्रस्ताव उप विभागीय दंडाधिकारी डा.नीलेश अपार की ओर पुलिस प्रशासन द्वारा प्रस्तुत किए गए थे. मुंबई पुलिस अधिनियम 1951 की धारा 56 के तहत अपराधियों को विविध समयावधि के लिए तड़ीपार किया गया है.

अकोला शहर से तड़ीपार किए जाने वाले  अपराधियों में रामदासपेठ थानांतर्गत रामदास खरारे तीन माह , पुराना शहर थानांतर्गत निवासी ललित राजेश बेंडे 3 माह व शेख शाहरुख शेख महबूब को 6 माह, धनराज उर्फ कालू, संजय कुचर को 6 माह, शेख फजल शेख युसूफ को 6 माह इसी तरह एमआईडीसी पुलिस थानांतर्गत निवासी गोपाल काठोडे, पातुर थानांतर्गत निवासी बंटी केवट को 3 माह, बोरगांव मंजू थानांतर्गत निवासी नितिन बढे को 3 माह, पुराना शहर के आशीष वानखडे को 3 माह, शेख कासम उर्फ गुड्डू को 6 माह, अकोट फैल निवासी विशाल रोकडे को 6 माह, अरुण बल्लाल को 3 माह और सिविल लाईन थानांतर्गत निवासी विशाल अंभोरे को 3 माह, राष्ट्रपाल इंगले को 6 माह के लिए अकोला जिले से तड़ीपार किया गया है. 

साकोली (सं). कोरोना पीडितों की बढती संख्या को रोकने के लिए जिलाधिकारी भंडारा के निर्देश अनुसार 15 एवं 16 अगस्त को जनता कर्फ्यू रखने का आह्वान किया गया है. साकोली में शनिवार को दोपहर 12 बजे से ही रविवार पूरे दिन एवं रात्री में जनता कर्फ्यू का पालन करना है. इन दोनों ही दिन शहर के सभी प्रकार की दुकान बंद रखी जाएगी. सिर्फ दवा दुकान, अस्पताल एवं दूध आपूर्ती सेवा शुरू रहेगी. शहर के नागरिकों ने 15 अगस्त के दोपहर से सोमवार के सुबह तक कर्फ्यू का पालन करे. इस आदेश का उल्लंघन करने पर संक्रमण बिमारी प्रतिबंधात्मक कानून 897 अनुसार गुनाह दर्ज किया जाएगा ऐसा नप. के मुख्याधिकारी माधुरी मडावी ने बताया है.

घुग्घुस. बेलोरा बस स्टैंड टी पॉइंट के पास पुलिस ने नाकाबंदी कर यवतमाल जिले के वाणी तहशील से लाई जा रही 100 पेटी देशी और विदेशी शराब जब्त कर वाणी निवासी दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने यह कार्रवाई बुधवार की रात 9 बजे की। 

घुघुस थाने के पुलिस कर्मी सचिन दोहे और प्रकाश करपे को वाणी की ओर से स्कोर्पियो क्रमांक एमएच 34 एएम 1450 आती दिखाई दी। पुलिस ने वाहन चालक को हाथ दिखाकर रोक लिया। तलाशी के दौरान कार  में 100 पेटी देशी विदेशी शराब बरामद कर वणी निवासी राजू आत्राम (22) और शंकर कोवे (19) को गिरफ्तार काट लिया वही 3 आरोपी फ़रार हो गए। पुलिस ने 1 लाख की विदेशी और 4 लाख की देशी शराब 9 लाख की कार ऎसे 14 लाख का माल जब्त कर लिया है। मामले की जांच पुलिस कर रही है।

अमरावती. शनिवार व रविवार को शहर में कर्फ्यू आयोजित किया है. सुबह 6 से 11.30 बजे तक कर्फ्यू में शिथिलता के आदेश जिला आपत्ती व्यवस्थापन प्राधिकरण के अध्यक्ष तथा जिलाधिकारी शैलेश नवाल ने दिये है. कोरोना को ध्यान में रखते हुए सभी को दक्षता का पालन कर स्वतंत्रता दिवस मनाने का आह्वान जिलाधिकारी नवाल ने किया है. जिलाधिकारी कार्यालय में जिलाधिकारी के हाथों सुबह 8 बजे ध्वजारोहण किया जायेगा.    

वर्ना होगी कार्रवाई
स्वतंत्रता दिवस पर सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजित करने के लिए भी अनुमति नहीं दी गई है. यदि कोई कार्यक्रम आयोजित करता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. छूट केवल शासकीय कार्यक्रमों के लिए दी गई है.

विभागीय आयुक्त कार्यालय में ध्वजारोहण
भारतीय स्वतंत्रता का 73वां स्थापना दिन 15 अगस्त को शान के साथ मनाया जायेगा. राज्य की महिला व बालविकास मंत्री तथा जिले की पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर के हाथों शनिवार को विभागीय आयुक्त कार्यालय के प्रांगण में तिरंगा लहरायेगी. कोरोना प्रतिबंधात्मक उपाययोजना के तौर पर स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी सभी दक्षताओ का पालन किया जायेगा. 

ध्वजारोहण रद्द 
पूर्व पालकमंत्री डा. सुनील देशमुख के जनसंपर्क कार्यालय में आयोजित किये जानेवाला स्वतंत्रता दिन का कार्यक्रम इस वर्ष कोरोना के चलते रद्द किया गया है. कार्यक्रम आयोजित करने पर 10 से अधिक लोग जमा होंगे, जो नागरिकों के लिए खतरा साबित हो सकता है. इसलिए नागरिकों की सुरक्षितता को ध्यान में रखते हुए यह कार्यक्रम रद्द किये जाने की जानकारी सचिव विनोद मोदी ने दी है. 

आज 7 बजे प्रतिष्ठान होंगे बंद 
15 अगस्त के चलते प्रशासन ने भले ही कर्फ्यू में छूट देने का निर्णय लिया है, लेकिन कर्फ्यू में शुक्रवार की शाम 7 बजे से ही शहर के प्रतिष्ठान व्यापारियों को बंद करने होंगे. शुक्रवार शाम 7 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक कर्फ्यू में किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं किया है.

अकोला. अकोला जिले के बार्शीटाकली तहसील में निहिदा – पिंजर मार्ग पर स्थित पुल का निर्माण कार्य पिछले दो वर्षों से अधर में लटका पड़ा है. इस पुल से  आठ गांवों के ग्रामीण आवागमन करते हैं. पुल के निर्माण कार्य के संदर्भ में ग्रामीणों द्वारा कई बार शिकायतें की गई लेकिन इस ओर अनदेखी की गई है. निहिदा-पिंजर मार्ग पर पुल का निर्माण कार्य शुरू न किए जाने से नागरिक त्रस्त हो गए हैं. मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत निहिदा-पिंजर मार्ग का पुल निर्माण कार्य दो वर्ष पूर्व शुरू किया गया था.

पर्यायी व्यवस्था करने की मांग
 ग्राम निहिदा, लखमापुर, उमरदरी, बहिरखेड़, सावरखेड़, पिंपलगांव हांडे, धाकली, जमकेश्वर गांव के लोगों को पिंजर और तहसील स्तर पर जाने के लिए कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. नदी पर पुल का निर्माण कार्य शीघ्र कर आवागमन के लिए पुल बनाए, अन्यथा पर्यायी व्यवस्था करें  मांग पूरी न होने पर बेमियादी अनशन करने की चेतावनी ग्राम बहिरखेड़ के सरपंच किरण ठाकरे, निहिदा के सरपंच विजय ठाकरे, लखमापुर के सरपंच मनोज सोनटक्के ने दी है.

शीघ्र बनाया जाएगा पुल: ढवले
 इस संदर्भ में मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना अकोला के शाखा अभियंता प्रशांत ढवले ने बताया कि निहिदा-पिंजर मार्ग पर नदी में पानी रहने से पुल का निर्माण कार्य नहीं किया जा सका. अब नदी का पानी कम हो गया है इसलिए ठेकेदार को शीघ्र पुल का निर्माण कार्य शुरू करने के आदेश दिए गए हैं और पर्यायी व्यवस्था करने संबंधी पत्र भी दिया गया है. आगामी आठ दिनों में पुल का निर्माण कार्य शुरू किए जाने की संभावना है.

धामणगांव रेलवे: धामणगांव रेलवे में कोरोना जेसी संक्रामक बीमारी के संकट में भी सरकारी अधिकारियों-कर्मियों का अप-डाउन बंद नहीं हुआ है. जिसके कारण धामणगांव रेलवे तहसील में फिर एक बार कोरोना ने अपनी रफ्तार तेज कर दी है. हालांकि अब तक धामणगांव रेलवे में कोरोना मरीजों से लगभग मुक्ति मिल गई थी, लेकिन अब फिर एक ही दिन 29 रोगी पॉजिटिव मिल रहे है. जिससे यहां के नागरिकों में घबराहट देखी जा रही है. अप-डाउन करने वाले अधिकारियों-कर्मियों पर वरिष्ठ प्रशासकीय अफसरों व्दारा नकेल कसी जाए, ऐसी मांग नागरिक कर रहे है. 

ताकिद का नहीं हो रहा पालन 
कोरोना के प्रभाव को देखते हुए पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर व कलेक्टर नवाल ने सभी अधिकारियों-कर्मियों को अपने मुख्यालय में रहने की ताकिद दे रखी है. लेकिन इसके बाद भी तहसीलदार, तहसील कृषि अधिकारी, नायब तहसीलदार समेत दर्जनों अधिकारी डेली अमरावती, अकोला व यवतमाल से अप-डाउन करते है. जब अधिकारी ही नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे है तो उन्हीं की राह पर चलते हुए सैकड़ों कर्मचारी, पटवारी, कृषि पर्यवेक्षक, शिक्षक व मुख्याध्यापक भी डेली अप-डाउन करने से बाज नहीं आ रहे है. जिससे संक्रमण फैलने की संभावना और भी बढ़ रही है. ऐसे अधिकारियों-कर्मियों पर सख्त कार्रवाई की मांग नागरिकों ने की है.

अमरावती: अमरावती में. फर्जी ई पास बनाकर पुणे जाने के प्रयास के मामले में फ्रेजरपुरा पुलिस ने नागपुर से ट्रैवर्ल्स एजेंसी मालिक अक्षय सुरेंद्र राय (28 वैशाली नगर, नागपुर) को  गिरफ्तार किया है.  जिसके घर से कम्प्युटर, मोबाइल समेत अन्य सामान जब्त किया. जिसे लेकर पुलिस दल देर शाम शहर पहुंचा है.

घर से कम्प्युटर, मोबाइल भी जब्त
फर्जी ई पास बनाने के प्रकरण में अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए फ्रेजरपुरा थानेदार पुंडलीक मेश्राम के मार्गदर्शन में पीआय नितिन मगर, पीएसआई बालाजी लालपालवाले, शेखर गायकवाड समावेश वाला दल सोमवार को नागपुर रवाना हुआ. यहां नागपुर के वैशाली चौक निवासी ट्रैवर्ल्स एजेसी मालिक अक्षय सुरेंद्र राय को हिरासत में लिया. जिसके घर से कम्प्यूटर, मोबाइल व अन्य सामान जब्त किया.

पुरानी को एडिट कर बनाई फर्जी पास
 पूछताछ में उसने बताया कि उसे ट्रैवर्ल्स एजेंसी के माध्यम से कुछ यात्रियों को एमरजेंसी में नागपुर से पुणे भेजना था, जिसके लिए आनलाइन आवेदन भी किया था, लेकिन वह प्रलंबित होने से अपने कम्प्युटर व मोबाइल की सहायता से उसने पुरानी ई-पास को एडिट कर नई पास बनाई थी. इस फर्जी ई पास को मोबाइल से डाउनलोड कर चालक के मोबाइल पर फारवर्ड किया.

इसी फर्जी ई-पास से चालक अमोल मेश्राम यात्रियों को लेकर पुणे जा रहा था, तभी पुलिस ने उसे दबोच लिया. अक्षय को देर शाम शहर लाया गया, जिसे बुधवार की दोपहर कोर्ट में पेश कर पुलिस कस्टड़ी में लिया जाएगा.

गोंदिया. शहर में कोरोना के आंकड़ों में बेहताशा वृद्धि हो रही है. इसे देखते हुए नप प्रशासन की ओर से जनता कर्फ्यू का फैसला लिया गया, किंतु इस फैसले को लेकर व्यापारियों में एकजुटता नहीं दिख रही है. यहीं वजह है कि कुछ व्यापारियों ने इस जनता कर्फ्यू का पुरजोर विरोध किया है. जिससे अब व्यापारियों और नप प्रशासन के बीच तनातनी की स्थिति निर्माण हो गयी है.

ताकि लोग सतर्क हो सकें : शर्मा
नप उपाध्यक्ष शिव एस. शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार से कोरोना के केस बढ़ रहे हैं. इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग ने 14 दिन का लॉकडाउन प्रस्तावित किया था, लेकिन स्थानीय जन प्रतिनिधियों से चर्चा हुई. जिसमें उन्होंने इस 2 दिवसीय सांकेतिक लॉकडाउन के प्रति सहमति दर्शाई है, ताकि लोग कोरोना संक्रमण की गंभीरता के प्रति सतर्क हो सकें.

मोहाडी. श्रावण बाल योजना का लाभ प्राप्त कर देने के लिए जिन 35 लोगों ने झूठे प्रमाणपत्र को जोडकर आवेदन प्रस्तुत किए थे उन आवेदनकर्ताओं की जांच शुरू हो गई है. आवेदनकर्ताओं के दिए गए बयान अनुसार सभी के आवेदन वहां के ही एक व्यक्ती द्वारा भरकर दाखिल करने का खुलासा हुआ है. तथा दाखिल किए गए आवेदन के झुठे दस्तावेज भी उसी व्यक्ती ने स्वयं तैयार करने का आवेदनकर्ताओं का कहना है.

ताडगाव के 35 लोगों ने श्रावणबाल योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आनलाइन आवेदन प्रस्तुत किए थे. हालांकि इन सभी आवेदन के साथ जोडी गई पटवारी रिपोर्ट, वैद्यकीय प्रमाणपत्र एवं आधार कार्ड फर्जी थे. एवं यह मामला बहूत गुंज गया था. अब तहसीलदार ने इस मामले के जांच के आदेश दिए है. नायब तहसीलदार हुकरे इसकी जांच कर रहे है.

आवेदनकर्ता के बयान अनुसार ताडगाव के श्रावण डोये ने आवेदनकर्ता की ओर आकर कहा कि तुम्हें मैं श्रावण बाल योजना का लाभ प्राप्त कर देता हूं. इस पर उनके द्वारा फोटो, आधार कार्ड, बैंक की पासबुक झेराक्स तथा आवेदन के लिए लगनेवाला खर्च किसी की ओर से हजार रु. तो किसी की ओर से 2 हजार रु. आवेदन भरने के लिए लिए. उस आवेदनकर्ता ने दाखिल किए आवेदन पर स्वयं के हस्तांक्षर या अंगुठा भी नहीं लगाया. तथा वैद्यकीय प्रमाणपत्र एवं पटवारी रिपोर्ट भी नहीं जोडी ऐसा आवेदनकर्ता का कहना है. इस कारण यह संपूर्ण फर्जी कागजात श्रावण डोये ने ही तैयार किए होंगे ऐसा संदेह है. इसमें दोषी कौन यह जांच पूरी होने पर ही सामने आएगा. इस मामले की जांच की जाए ऐसी मांग हो रही है.

जिला दुध उत्पादक संघ संचालक रिता हलमारे ने कहा कि इस मामले के सभी आवेदनकर्ता निर्दोष है. उनके अज्ञान होने का लाभ उठाकर झुठे कागजात पत्र तैयार करनेवाले लोगों पर कार्रवाई की जाएगी.

चंद्रपुर. बल्लारपुर तहसील अंतर्गत कोठारी गांव के पास एक सड़क दुर्घटना में मरे जंगली सुअर का मांस लावारी गांव में  बेचने का प्रयास करने वाले दो आरोपियों को वनविभाग के दल गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां से दोनों को 21 अगस्त तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। आरोपियों में लावारी निवासी शिवराम राजीराम गडमवार, गंगाराम रामदास टेकाम का समावेश है।

क्षेत्र सहायक ए.डी. मल्लेवार, वनरक्षक मनोहर धाईत, राकेश शिवणकर, आईटलावार, प्रताप गिरवार को सूचना मिली थी कि 7 अगस्त को सड़क दुर्घटना में एक जंगली सुअर की मृत्यु हो गई थी। जिसे मोटर साइकिल में लादकर दोनों लावारी गांव लाये और वहां कुल्हाडी की सहायता से उसका मांस काटकर बेच रहे थे.

किंतु उसी समय वनविभाग की टीम पहुंच गई और आरोपियों को 8 किलो मांस, कुल्हाडी, चाकू, वजनमाप, तराजू, एल्युमिनियम के दो गंज, मोटर साइकिल आदि जब्त कर आरोपियों के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की धारा के तहत मामला दर्ज कर न्यायालय में पेश किया। मामले की जांच उपवनसंरक्षक गजेंद्र हिरे के मार्गदर्शन में बल्लारपुर वनपरिक्षेत्र अधिकारी संतोष थिपे कर रहे है।

अमरावती. अमरावती जिले के नांदगांव पेठ मार्ग पर गुरुवार को रात 10 बजे  खडे ट्रक से कार टकरा गई. इस भीषण दुर्घटना में ट्रक चालक मो. शफी(35, यवतमाल के बुट्टीबोरी) की मौत हो गई जबकि कार में सवार 1 ही परिवार के 4 लोग गंभीर घायल है. जिसमें 2 मासूमों का भी शामिल है.

घायलों में साजिद हुसैन(45) उनकी पत्नी सायरा बानो (40) बेटी मुजफ्फा फातिमा(10) व बेटा मो. अरशान(4) है. कार चालक आनंद तायड़े भी इस हादसे में घायल है. सभी घायलों को  जिला अस्पताल में उपचार हेतु दाखिल किया गया. वहां से  उन्हे निजी अस्पताल ले जाया गया है. 

बताया जाता है कि शेगांव निवासी साजिद हुसैन अपने परिवार के साथ कार में नागपुर से अमरावती की ओर आ रहे थे. तभी बिच रास्ते में खडे ट्रक में ड्राईवर मो. शफी चढ रहा था. तेज रफ्तार कार ने अचनाक पहले चालक शफी को ठोस मार दी. जिसके बाद कार ट्रक भिड गई. इस भिषण दुर्घटना में कार चकनाचूर हो गई.

वरुड. अमरावती जिले की वरुड तहसील में दहेज देने से इंकार करने पर वर पक्ष द्वारा सगाई  तोडने का मामला सामने आया है.   वधु पक्ष के घर धुमधाम से सगाई समारोह निपटाने के बाद वर पक्ष ने  दहेज में 3 लाख रुपए की मांग की. न मांग पूरी करने की असमर्थता जताने पर वर पक्ष ने सगाई तोड़ दी. इस मामले में अनिल नामदेवराव मालोदे (51) ने पुलिस वर पक्ष के 5 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवायी.

भावि वधु के पिता ने पुलिस में बताया है कि शेंदूरजना घाट परिसर निवासी शुभम बागडे के साथ उनकी पुत्री  का विवाह तय हुआ. 3 जुलाई को जरुड स्थित उनके  घर में सगाई हुई. सगाई से पहले बागडे परिवार ने दहेज की कोई मांग नहीं की. वधु पक्ष ने सगाई में 7 ग्राम सोने की अंगुठी व 15 ग्राम सोने की चेन शुभम को दी. इसके साथ ही कपड़े पर खर्च किया. लेकिन सगाई के बाद आरोपी शुभम सहित अन्य सभी ने उनसे 3 लाख रुपए नगद दहेज मांगा. 

युवती की बदनामी: लेकिन मालोदे परिवार ने दहेज की यह रकम देना संभव न होने की बात बतायी. जिसके बाद आरोपियों ने सगाई तोड़ दी. इतना ही  नहीं तो अंगुठी, चेन वापस लौटाने से इंकार किया. लडकी की बदनामी की.  अनिल मालोदे की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच आरंभ की है.

चंद्रपूर: देशभरातील व्याघ्र गणनेसाठी पुढील वर्षीच्या ऑक्टोबरपासून २० राज्यांतील जंगलात 'लाइन ट्रॅन्झॅक्ट मेथड' (रेषा विभाजन पद्धत) वापरण्यात येणार आहे. वाघांच्या संख्येसोबत वनांची स्थिती, वनस्पती, वृक्ष, जलचर, उभयचर पक्षी, प्राणी, मानवी हस्तक्षेप आदींची माहिती मिळविण्यावर यात भर दिला जाणार आहे. अद्याप त्याचे वेळापत्रक घोषित झालेले नाही.

डेहराडूनच्या भारतीय वन्यजीव संस्थेने विकसित केलेल्या रेषा विभाजन पद्धतीने २००६मध्ये प्रथमच देशभरात व्याघ्रगणना करण्यात आली होती. यंदादेखील पाचव्यांदा त्याच पद्धतीने व्याघ्र गणनेची मोहीम राबविली जाणार आहे. व्याघ्र तस्करीचे मुख्य केंद्र मानल्या जाणाऱ्या चीन नजीक असणाऱ्या व्हियतनाम, लाओ पीडीआर व कंबोडिया या तीन देशातून मागील १० वर्षांत वाघ जवळपास लुप्त झाल्याची धक्कादायक माहिती अलीकडेच समोर आली आहे. भारत जगासाठी मोठी आशा आहे. जगातील ७५ टक्के वाघ असणाऱ्या भारतात व्याघ्र संवर्धनाचे मोठे काम आहे. तरी शिकारीचे मोठे संकट कायम आहे.

वाघांच्या प्रजाती झपाट्याने लुप्त होत असताना भारतात मात्र त्याला वाचविण्यासाठी मोठ्या प्रमाणात व अत्यंत गांभीर्यपूर्ण प्रयत्न होताना दिसत आहेत. त्यामुळेच संपूर्ण देशभरात २०१८च्या व्याघ्र गणनेनुसार २ हजार ९६७ वाघांची नोंद झाली आहे. एकेकाळी देशात संकटग्रस्त ठरू पाहणारी वाघांची प्रजाती आणि आता वाढत असलेली वाघांची संख्या, हे आशादायी चित्र २०१८च्या व्याघ्रगणनेत दिसून आले. आता भारताची जबाबदारी वाढली आहे. त्यामुळे २०२२च्या व्याघ्र गणनेसाठी देशभरात राबविण्यात येणाऱ्या वेळापत्रकावर काम सुरू आहे. हे वेळापत्रक अद्याप जाहीर झालेले नसले तरी देशभरात २० राज्यांत प्रत्यक्ष व्याघ्रगणना सुरू होणार असल्याचे संकेत आहेत. व्याघ्र गणनेची प्रत्यक्ष प्रक्रिया पुढील वर्षीच्या ऑक्टोंबरपासून देशभरातील सर्वच जंगलात सुरू होणार आहे. एकाच वेळी वेगवेगळ्या राज्यांत ही प्रक्रिया होणार असल्याची माहिती भारतीय वन्यजीव संस्थेच्या वरिष्ठ सूत्रांनी 'मटा'शी बोलताना दिली. ज्या जंगलात वाघ आहेत तेथे ही मोहीम २०२२च्या वर्षाअखेरपर्यंत पूर्ण केली जाणार आहे.

गोरेगांव. नपं के तहत प्रभाग क्रमांक ७ के घरकुल लाभार्थी हेतराम कटरे का पुराना जर्जर मकान भारी बारिश के कारण क्षतिग्रस्त हो गया. वर्षों से घरकुल योजना के लाभ से वंचित लाभार्थी अब बेघर हो गया है. मजदूरी कर अपने परिवार का पालन-पोषण करता आ रहा है. परिवार में पत्नी व 2 बच्चों के साथ जान जोखिम में डालकर लाभार्थी अति जर्जर अवस्था वाले मकान में रह रहा था. लाभार्थी ने २ वर्ष पूर्व ही प्रधानमंत्री घरकुल योजना का लाभ मिलने नपं को आवेदन किया था, लेकिन लंबे इंतजार के बाद भी कटरे को योजना का लाभ नहीं मिल सका. जबकि उसके बाद में आवेदन करने वाले कई लाभार्थियों को घरकुल का लाभ दिया गया है.

शीघ्र की जाएगी व्यवस्था
प्रशासन की गलत कार्य योजना के तहत एक ओर शहर में स्थित पक्के मकान वाले अनेक लाभार्थियों को घरकुल का लाभ दिया गया, वहीं दूसरी ओर जर्जर अवस्था के मकान वाले अनेक मजदूर वर्ग अब भी इस लाभ से वंचित है. घरकुल योजना अंतर्गत आने वाले सभी जरूरतमंद लाभार्थियों को सर्वप्रथम प्राथमिकता देने की मांग की गई है. पार्षद हीरा रहांगडाले के अनुसार लाभार्थी कटरे के दस्तावेजों में कमी के चलते उसे योजना का लाभ नहीं मिला है, कटरे व परिवार को किसी दूसरे मकान में स्थानांतरण करने का प्रयास किया जा रहा है.

अकोला. अकोला महानगर सहित जिले के सभी सातों तहसीलों में बुधवार को दिन भर उमस भरा वातावरण रहा. शाम के बाद बादल छाने लगे और देर शाम को मूसलाधार बारिश हुई. यह बारिश लगभग 1 घंटा तक होती रही. सिंचाई विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार की सुबह 8 बजे तक पिछले 24 घंटों में 20 मि.मी. बारिश हुई है. इसी तरह ग्राम महान स्थित काटेपूर्णा बांध में जलभंडारण भी बढ़ जाने के कारण बांध प्रकल्प से पानी की निकासी का काम धीरे धीरे शुरू है. काटेपूर्णा बांध का जलभंडारण लगभग 88 प्रश तक बढ़ गया है.

नदी किनारे बसे लोगों को किया अलर्ट
 जिला प्रशासन द्वारा नदी किनारे बसे गांवों के लोगों को सतर्क रहने के लिए आदेश दि गए हैं. जिला प्रशासन ने आपदा प्रबंधन विभाग को मुख्यालय में उपस्थित रहने के निर्देश दिये हैं. गुरुवार की रात हुई मूसलाधार बारिश के कारण कई किसानों के खेतों में पानी जमा हो गया है. जबकि कई किसानों के लिए यह बारिश फसलों के लिए लाभदायक बताई जा रही है. मूसलाधार बारिश के समय कई भागों में अचानक बिजली सप्लाई बंद होने से नागरिकों को परेशानी उठानी पड़ी.

चंद्रपुर. स्थायी नौकरी की मांग के लिए 7 प्रकल्प पीडित चंद्रपुर थर्मल पावर स्टेशन (सीटीपीएस) की चिमनी पर चढ गए आज तीसरे दिन भी प्रकल्प पीडितों की आंदोलन जारी है। आंदोलनकारियों में परेश भगतकर, प्रमादे घरमडे, मंगेश खोब्रागडे, प्रशांत ढवस, सुनिल वानखेडे के साथ महिला आंदोलनकारी विद्या झाडे, रमा कातकर का समावेश है।

गुरुवार की रात आंदोलनकारियों को भोजन और पानी भेजा गया है। रात के समय आई बरसात में भी आंदोलन जारी था। आज शुक्रवार को ऊर्जामंत्री और पालकमंत्री, सीटीपीएस के 5 प्रतिनिधियों के साथ होने वाली वीडियो कान्फ्रसिंग दोपहर 12 बजे शुरु नहीं हो सकी थी। इसकी वजह से आंदोलनकारी आज तीसरे दिन भी चिमनी पर चढे है और उनके सैकडों सहयोगी नीचे में डटे है। 

चंद्रपुर. संयुक्त महाराष्ट्र में विदर्भ राज्य पर अन्याय हो रहा है। आज विदर्भ में किसान आत्महत्या, नक्सलवाद, कुपोषण, बालमृत्यु, बेरोजगारी जैसी अनेक ज्वलंत समस्याएं है। कोरोना महामारी के चलते राज्य सरकार ने बजट में 67 प्र.श.की कटौति कर दी है। यदि विदर्भ का विकास करना हो तो एकमात्र उपाय पृथक विदर्भ राज्य है। इसलिए विदर्भ राज्य आंदोलन समिति की ओर से 9 अगस्त क्रांतिदिन पर विदर्भ के सभी 11 जिलों में बिजली बिलों की होली जलाकर आंदोलन किया जाएगा।

आंदोलन के माध्यम से औद्योगिक, कमर्शियल और घरेलू बिजली के दर कम करने के साथ अन्य मांग की जाएगी। आंदोलन में शामिल होने की अपील विदर्भ राज्य आंदोलन समिति के अध्यक्ष अधि। वामनराव चटप के साथ विदर्भवादियों ने की है।

चंद्रपुर. मध्य भारत में सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय नवभारत जिला कार्यालय की ओर से ‘मन मै है विश्वास’ अंतर्गत चंद्रपुर महानगरपालिका के आयुक्त राजेश मोहिते द्वारा गांधी चौक में आज शुक्रवार सुबह मास्क, सेनेटाइजर और जनजागृति के लिए पाम्प्लेट का वितरण किया गया।

देश भर में फैली कोरोना महामारी के बाधितों की संख्या रोज बढती जा रही है। विश्व के सभी देश अपने अपने स्तर पर वैक्सीन बनाने का प्रयास कर रहे है। किंतु अब तक किसी भी देश को सफलता नहीं मिली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन भी कोरोना महामारी से हलाकान है। फिलहाल कोरोना से बचाव एकमात्र पर्याय है।इसके लिए बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग, बार बार हाथ धोने के लिए हैंड सैनेटाइजरर का प्रयोग, सोशल डिस्टन्सिंग आदि की आवश्यकता है।

सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करते हुए नागरिकों को मास्क, सैनेटाइजर का वितरण किया गया। पाम्प्लेट के माध्यम से नागरिकों में जनजागृति की गई। जिसमें आवश्यकता होने पर ही घर से बाहर निकले, घर से निकलते समय मास्क का उपयोग अवश्य करें, सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करने जनजागृति की गई। इस अवसर पर मनपा के जनसंपर्क अधिकारी युधिष्ठिर राईच, नवभारत चंद्रपुर के ब्रांच मैनेजर प्रशांत चहांदे, आशिक महिलावार के साथ बडी संख्या में चंद्रपुरवासी मौजूद थे। 

अमरावती. जिले की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के साथ ही विधायक रवि राणा की रिपोर्ट गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव आई है. इससे पहले राणा परिवार में ससूर गंगाधीर-सास सावित्रीबाई और बेटी आरोही व बेटा रणवीर पॉजिटिव आए थे. गुरुवार की सुबह तबियत खराब होने से नवनीत राणा की एंटीजन रैपिड टेस्ट तथा थ्रोट स्वैब ली गई. रैपिड टेस्ट की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी है. राणा परिवार व उनके संपर्क में आने वाले अब तक 15 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी है. नागपुर मौजूद विधायक राणा की भी रिपोर्ट पाजिटिव आई है. सांसद नवनीत को होम क्वरंटाइन किया गया है, जबकि विधायक राणा नागपुर के मेडिकल कॉलेज में उपचार ले रहे हैं.  

3 अगस्त सोमवार को सांसद नवनीत राणा की 7 वर्षीय बेटी आरोही तथ 4 वर्षीय बेटे रणवीर समेत ससूर व सास की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी थी, जिसमें से सांसद नवनीत, विधायक रवि राणा व उनके भाई सुनील राणा की रिपोर्ट निगेटिव आयी थी. एमएलए रवि राणा के माता-पिता को नागपुर के व्होकार्ट अस्पताल में ले जाया गया था, जबकि घर में ही होम आइसोलेशन हुए दोनों बच्चों की देखभाल में सांसद नवनीत राणा लगी रहीं.

लगातार 4 दिनों से वह बच्चों की देखभाल व सेवा में होने से गुरुवार की सुबह नवनीत की तबियत बिगड़ गई. इसके बाद उन्होंने एंटीजन रैपिड टेस्ट व थ्रोट स्वैब करवाया. रैपिड टेस्ट में नवनीत की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है, जिनके संपर्क में आने वाले लोगों के भी टेस्ट कराये गए. सभी लोगों ने दक्षता लेकर सुरक्षित रहने का आह्वान नवनीत व रवि राणा ने किया है.

रवि ने भी कराई जांच
नागपुर में लगातार 4 दिनों से व्होकार्ट हास्पिटल में भर्ती माता-पिता के पास रहकर सेवा में जुटे विधायक रवि राणा को भी गुरुवार को अस्वस्थ लगने, बुखार व खांसी होने से उन्होंने नागपुर के सरकारी वैद्यकीय महाविद्यालय के डीन डा. शैजल मित्रा की देखरेख में खुद की मेडिकल जांच कराई. 

अमरावती. कोरोना पर लगाम कसने के लिये किए गये लॉकडाउन का असर सभी विभागों पर पड़ा है, लेकिन महानगरपालिका के कुछ विभाग ऐसे है, जिसके असर से विभाग की आय को फटका लगा है. बाजार परवाना विभाग को कोरोना से 2.50 करोड़ के आस-पास का नुकसान उठाना पड़ सकता है, जिसमें हॉकर्स वसूली के साथ मालटेकड़ी, बांबू गार्डन, विज्ञापन समेत अन्य आय क्षेत्रों का समावेश है. 

मार्केट के 1 करोड़ पेडिंग
मनपा के बाजार परवाना विभाग को सांस्कृतिक भवन से सालाना 58 लाख रुपयों की आय प्राप्त होती थी. मनपा के 27 तथा अन्य मार्केट क्षेत्रों से 1 से 1.15 करोड़ की आय प्राप्त होती थी, लेकिन अब वह विवादित प्रकरण छोड़ दिये जाते है तो भी 80 लाख के आस-पास की वसूली पेडिंग है. विज्ञापन दरों के विषय भी विवादित प्रकरण के चलते प्रलंबित रहने से उससे होनेवाली आय पूरी तरह से डूब चुकी है. 

40 लाख की आय डूबी
मनपा के करोड़ों रुपयों की वसूली प्रलंबित रहने के बावजूद लाखों रुपयों की आय डूब चुकी है, जिससे भी विभाग का नुकसान हुआ है. बांबू गार्डन से मनपा को 2 लाख की आय प्राप्त होती थी. मालटेकडी के यातायात स्थल से 80 से 90 हजार रुपये, प्रशांतनगर गार्डन से 3 लाख रुपये, हॉकर्स से 29 लाख रुपयों की सालाना आय होती थी. लेकिन 6 माह की आय पूरी तरह से डूब चुकी है. 

बाजार लाइसेंस अनिवार्य 
विभाग ने व्यापारियों से बाजार परवाना लाइसेंस अनिवार्य कर दिया है, जिसके लिए गत 2 माह से एक्सटेंशन दिया जा रहा है. बावजूद इसके व्यापारी लाइसेंस निकालने में आनाकानी कर रहे है. विशेष बात यह है कि फायर आडीट के लिए भी छूट दी गई है. इसलिए अब लाइसेंस अनिवार्य कर दिया है, जिसके बाद कार्रवाई की जायेगी.-उदय चव्हाण, बाजार परवाना अधीक्षक 

बल्लारपुर. विधायक व राज्य के पूर्व वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार का जन्मदिन भाजपा की स्थानीय शाखा के लिए सिरदर्द साबित हो रहा है. मुनगंटीवार के जन्मदिन के उपलक्ष्य में 24 जुलाई से बल्लारपुर भाजपा की ओर से नप चौक में सेवा सप्ताह का शुभारंभ किया गया. सप्ताह भर चले कार्यक्रमों में लोगों को मास्क व दवाइयां वितरित की गईं. लेकिन इन कार्यक्रमों में शामिल हुए भाजपा के शहराध्यक्ष में कोरोना लक्षण पाए गए.

उन्होंने 4 अगस्त को अपना टेस्ट कराया, जिसमें वे पाजिटिव पाए गए. उन्होंने सोशल मीडिया में पोस्ट जारी कर उनके संपर्क में आने वाले सभी लोगों से ऐहतियात बरतने तथा कोरोना टेस्ट कराने का आग्रह किया. जिसके बाद बल्लारपुर भाजपा में हड़कंप मच गया है.

6 लोग बाधित
मंगलवार को यहां 10 लोगों ने टेस्ट कराया. जिनमें से 3 लोग पाजिटिव पाए गए. 5 अगस्त को नप द्वारा झाकिर हुसैन वार्ड स्थित आईएमए हाल में टेस्ट की विशेष सुविधा प्रदान की गई थी. जिसमें 125 लोगों ने एंटीजेन रैपिड टेस्ट करवाया. बुधवार को फिर 3 लोग कोविड-19 के पाजिटिव पाए गए. मरीजों को चंद्रपुर कोविड सेंटर भेजा गया है. मुख्याधिकारी विजय सरनाईक ने बताया कि अब रोज बड़ी संख्या में एंटीजेन टेस्ट किए जाएंगे. श्वास से संबंधित रोगियों का सर्वे नप द्वारा किया जा रहा है. सर्वे में संशयित लोगों को अनिवार्य रूप से एंटीजेन टेस्ट कराना होगा.

पालांदुर (सं). गांव की जनता का स्वास्थ्य अच्छा रहे इसके लिए ग्रामस्वच्छता अभियान चलाया जाता है. ग्रामस्वच्छता अभियान से जनता को स्वच्छता का महत्व समझा कर देने का प्रयास सरकार स्तर पर किया जाता है. इसके बावजूद भी लाखनी तहसील के पालांदूर गांव में चारों ओर गंदगी का साम्राज्य बना हुआ है.

ग्राप की अनदेखी
साफ सफाई की ओर ग्राम पंचायत द्वारा ध्यान नहीं दिए जाने से गांव में स्वास्थ्य का सवाल निर्माण हो रहा है. ग्रापं के पदाधिकारी ठेकेदारी करने में व्यस्त रहते हैं. उनके द्वारा गांव में स्वच्छता की ओर अनदेखी की जाती है. गांव में सडक किनारे अस्वच्छता नहीं दिखाई देनी चाहिए इसके लिए सरकार स्तर पर मार्गदर्शन किया जा रहा है. हालांकि लाखनी तहसील का पालांदुर गांव इससे अलग है. 

जगह-जगह कचरे के ढेर
गांव में सफाई नहीं होने से जगह जगह कचरे के ढेर दिखाई दे रहे हैं. हनुमान मंदिर परिसर में कचरे का साम्राज्य बना हुआ है. अनेक घरों के पास ही कचरा पड़ा रहता है. परिणामस्वरून लोगों के स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है. 

चलाया जाता अभियान
प्रति वर्ष 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी जयंती से ग्रामस्वच्छता अभियान चलाया जाता है. स्वच्छता का मूलमंत्र देने का प्रयास सरकार स्तर से किया जाता है. इस बार अनदेखी किए जाने से जनता के स्वास्थ के साथ खिलवाड़ हो रहा है. गांव में स्वच्छता रहे इसके लिए गांव में ग्रापं ने स्वच्छता अभियान चला कर लोगों को बीमार होने से बचाने का काम करना चाहिए. 

लाखांदूर (सं). सरकार के खाद्यापूर्ति विभाग के तहत राशन दूकानों द्वारा प्रतिमाह गरीब एवं आम जनता को खाद्य की आपूर्ति की जाती है, लेकिन जुलाई महीना बीतने के बावजूद भी तहसील के एपीएल कार्डधारकों को खाद्य की आपूर्ति नहीं होने से नाराजगी जताई जा रही है. इससे फिर एक बार खाद्यापूर्ति विभाग लचर प्रणाली साफ नजर आई है.

तहसील में 96 दूकानें
प्राप्त जानकारी अनुसार लाखांदूर तहसील में करीब 96 राशन दूकानें हैं. इन दूकानों द्वारा सभी कार्डधारक परिवारों को प्रतिमाह सरकारी निर्देश के अनुसार खाद्य की आपूर्ति की जाती है.  इन कार्ड धारकों में केशरी, अंत्योदय एवं प्राधान्य गट के पात्र परिवार का समावेश है. कोरोना संकट काल में इन सभी परिवारों को सरकारी निर्देशानुसार खाद्य का वितरण भी किया गया, लेकिन नियमित अनाज वितरण प्रणाली के अनुसार राशन दूकानदारों ने पिछले जुलाई महीने के केशरी कार्ड धारक परिवार के साथ साथ अंत्योदय एवं प्राधान्य योजना के कार्डधारकों की संख्या के अनुसार चालान का भुगतान करने की जानकारी है. 

बना है नाराजी का माहौल
संबंधित चालान के अनुसार केवल योजना के तहत ही खाद्य आपूर्ति करते समय केशरी कार्डधारक परिवार को खाद्य की आपूर्ति नहीं होने से उक्त कार्डधारक नाराज दिखाई दे रहे हैं. इस मामले में सरकार प्रशासन ने शीघ्र दखल लेकर पिछले जुलाई महीने के केशरी कार्डधारक परिवार को खाद्य आपूर्ति होने हेतु कार्रवाई करनी चाहिए ऐसी मांग की जा रही है.

चंद्रपुर. समीपस्थ शिरपुर के सुमित रामटेके तथा चंद्रपूर की प्रज्ञा खंडारे ने यूपीएससी परीक्षा में सफलता अर्जित की है. 

संघ लोकसेवा आयोग ( यूपीएससी ) द्वारा सितंबर 2019 में ली गयी परीक्षा का परिणाम मंगलवार को घोषित किया गया. इस परीक्षा में चंद्रपुर एवं समीपस्थ यवतमाल जिले के वणी तहसील के 2 होनहार छात्रों ने अपने अपने जिलों का नाम रोशन किया है.

वणी के सुमित रामटेके ने इस परीक्षा में 748 वाँ रैंक हासिल किया है. 

उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा वणी तहसील के ग्राम शिरपुर से जिला परिषद स्कूल से पूर्ण करने के बाद हाई स्कूल की शिक्षा के लिए वणी में जनता हाईस्कूल में प्रवेश लिया था. यहां से दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्होंने महाविद्यालयीन शिक्षा के लिए नागपुर का रुख किया और बारहवीं की परीक्षा अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण की. उन्हें इंजीनियरिंग के लिए वाराणसी के आईआईटी में प्रवेश मिला. वर्ष 2015 में इंजीनियरिंग पूर्ण करने के बाद ही उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी.

उन्होंने कहा कि, प्रशासनिक सेवा परीक्षा देने की उनकी इच्छा वाराणसी में ही जागृत हुई थी. यूपीएससी की परीक्षा की ओर उत्तर प्रदेश तथा बिहार के छात्रों की ज्यादा रुचि होती है. और वहीं से यह परीक्षा देने की उनमें इच्छा जाग उठी और इस परीक्षा में सफ़ल होने का विश्वास भी निर्माण हो गया था.

उन्होंने कहा कि घर मे उनसे बड़े एक भाई है. पिता लैब असिस्टेंट के पद से सेवानिवृत्त हुए है जबकि माँ भी इंजीनियरिंग कर चुकी है. उन्होंने भरोसा जताया कि, रैंक के अनुसार उनका आईपीएस अथवा आईआरएस में नंबर लग सकता है.

चंद्रपुर की प्रज्ञा खंडारे से संपर्क नही हो सका था.

वरोरा. कोरोना महामारी के पार्श्वभूमि पर शहर में स्वच्छता रखना आवश्यक है अब पुन: बारिश का मौसम शुरू होने से स्वास्थ्य के दृष्टि से शहर के सभी प्रभाग में फवारणी और फोगिंग का उपयोग तत्काल कर शहर के नागरिकों के स्वास्थ्य की समस्या सुलझाना आवश्यक है. इसलिए स्वयं निर्माणकार्य सभापति होते हुए भी सामाजिक दायित्व ध्यान में रखकर छोटूभाई शेख ने मुख्याधिकारी एवं नगर परिषद अध्यक्ष को निवेदन देकर उक्त ज्वलंत समस्या पर ध्यान देने की अपील की.

इस अवसर पर अध्यक्ष अहेतेशाम अली ने संबंधित विभाग के अभियंता और स्वास्थ्य निरीक्षक को बुलाकर उक्त विषय को तत्काल सुलझाने का निर्देश दिए एवं आश्वासन भी दिए. साथ ही अभियंता गेडाम ने उक्त काम शुरू करने की बात कही. इस समय सार्वजनिक निर्माणकार्य सभापति छोटूभाई शेख के अलावा सामाजिक कार्यकर्ता भारत तेल सहित अनेक नगरसेवक कार्यालय में उपस्थित थे.

वरोरा नगर परिषद मार्फत शहर में बारिश के दो महीने बीतने के बाद भी सभी प्रभाग में कीटनाशक फवारणी नहीं होने से कीटनाशक जंतू एवं मच्छरों की तादाद बढ गई है. इसके चलते अनेक नागरिक बीमार पड़ रहे है. शहर के सभी प्रभाग पूर्णत: कीटनाशक औषधि की फवारणी नहीं होने से शहर के सभी प्रभाग में बड़े पैमाने पर डेंगू टायफाईड, मलेरिया रोगियों में वृध्दि होकर अनेक अस्पताल में उनका उपचार शुरू है. तीन दिन के भीतर वरोरा शहर के सम्पर्ण प्रभाग में फवारणी शुरू की जाए, साथ ही आवश्यकता अनुसार फोगिंग मशीन का उपयोग किया जाए और गड्ढे में जमा पानी में मलेरिया ऑईल एवं अन्य दवाईयां डालने की मांग छोटूभाई ने निवेदन में की है. उक्त समस्या तीन दिन के भीतर सुलझाये अन्यथा चौथे दिन संबंधित विभाग के कार्यालय का ताला लगाकर आंदोलन किया जाएगा ऐसी चेतावनी छोटूभाई शेख ने दिया है.

अमरावती. जिले के अनेक तहसील व गांवों में कम उंचाई के पुल नागरिकों के लिए जानलेवा साबित हो रहे है. बारिश के दिनों में नदी, नालों को पार करते समय यह पुल ‘मौत के पुल’ बन रहे है. बीते रविवार की रात भातकुली तहसील में आमला के कम उंचाई के पुल से बह जाने से 3 व्यक्तियों की मौत हो गई थी. उसी प्रकार सप्ताहभर पहले कामनापुर जावरा में भी ऐसे ही एक पुल से 2 युवा बह गए थे, लेकिन सौभाग्य से ग्रामस्थों की सतर्कता से उन्हें बचा लिया गया. जनप्रतिनिधि व प्रशासन की अकार्यक्षमता ग्रामस्थों के लिए जानलेवा बन रही है. शासन, प्रशासन को कुंभकर्णी नींद से जागकर जिले के सभी कम उंचाई के पुलों का सर्वे कर उनकी उंचाई बढ़ाने के लिए अभियान चलाने की आवश्यकता है.

जिले में अनेक घटनाएं
जिले में अब तक इस प्रकार की अनेक घटनाएं घटी है. कुछ वर्ष पूर्व धामणगांव रेलवे तहसील के अंजनसिंगी के समीप कार से यवतमाल से वर्धा जा रहा एक परिवार पुल से पार करते समय कार सहीत बह गया था. इस घटना में पूरे परिवार की मौत हो गई थी. उसी प्रकार मेलघाट में बैलगाड़ी से जा रहा किसान मासूम के साथ बह गया था. दो वर्ष पूर्व अपने बच्चों के लिए गणवेश ले जा रहा व्यक्ति की बाइक पुल से बह गई थी, जिसमें दोनों बच्चों की मौत हो गई थी. अचलपुर के बिच्छन नदी पर बने बौने पुल से एक छात्रा व एक सरकारी कर्मी बह गया था. उसके बाद इस पुल का निर्माण कर उंचाई बढ़ाई गई. 

अमरावती. लॉकडाउन के दौरान 3 माह का बिजली बिल माफ करने की मांग को लेकर जिला कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति विभाग के जिलाध्यक्ष सागर कलाने के नेतृत्व में गुहार आंदोलन किया गया. सभी कार्यकर्ताओं ने एक साथ आवाज में जिलाधिकारी से बिजली बिल माफ करों, गरीबों को न्याय दो, के नारे लगाये. खासकर दरवृद्धि कर भेजे गये बिजली बिल का भी जमकर विरोध किया गया.

उर्जामंत्री के नाम भेजा पत्र
अ.जा. विभाग के प्रदेशाध्यक्ष विजय अंभोरे के मार्गदर्शन में कलाने के नेतृत्व में यह आंदोलन किया गया. इस समय जिलाधिकारी नवाल को बताया कि लॉकडाउन के दौरान सभी लोग घर पर ही थे. परिणामत: बिजली का इस्तेमाल अधिक हुआ लेकिन बिजली दरवृद्धि करने से बिल इतने बढ़ाये गये कि महाराष्ट्र के सेलिब्रिटी ने भी इस पर तंज कसा है, तो आम आदमी का क्या कहें. बेरोजगार होने से लोगों पर भुखमरी की नौबत आन पड़ी है, जिसमें सरकारी कर्मियों का भी समावेश होगा.

इसलिए यह बिल माफ कर देने के संदर्भ में वरिष्ठों से पत्रव्यवहार करने की गुहार लगाई. इतना ही नहीं तो इसके पूर्व कलाने ने उर्जामंत्री से मिलकर भी 3 माह का बिजली बिल माफ करने की गुहार लगाई. आंदोलन में आश्विनी थोरात, तात्या खंडारे, अमोल जोंधले, जितेश अंभोरे, मयूर मेश्राम, आशा तायडे, शैलेश खंडारे, अजय तायडे, संतोष शिंदे, प्रवीण सरोदे, सोहम उज्जैनकर, सचिन सदावर्ते, गुड्डू वासनिक, कमलेश आतम, प्रेम इंगोले आदि शामिल हुए.

अमरावती. प्रतिबंधित चायना मांजे से आये दिन दुर्घटनाएं हो रही है. पशु पक्षियों समेत मनुष्य के लिए भी यह चायना मांजा जानलेवा साबित हो रहा है. इस बारे में लगातार मिल रही शिकायतों के चलते इतवारा के ट्रान्सपोर्ट गल्ली में चायना मांजा बड़े पैमाने में बेचे जाने की खबर पर नागपुरी गेट पुलिस ने छापा मारकर 2 लोगों को हिरासत में लिया, जिनसे 80,000 का चायना मांजा जब्त किया है. आरोपी हुसेन हकीम (42, जैन मंदीर के पास) तथा काईत जोहर कासम ( 43, भिमनपुरा) बालाजी मंदीर के पास है. 

चायना मांजे की बड़े पैमाने में बिक्री
शहर में चायना मांजा प्रतिबंध होने के बावजूद चायना मांजा बड़े पैमाने में बेचा जा रहा है. इस लोगों के लिए जानलेवा बने इस मांजे की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के उद्देश्य से नागपुरी गेट पुलिस ने इतवारा के ट्रान्सपोर्ट गल्ली में कार्रवाई कर चायना के अलग-अलग मांजे जब्त किये, जिसकी कीमत 80,000 आंकी है. आरोपी हुसैन हकीम तथा काईत जोहर कासम के खिलाफ धारा 188,290 आयपीसी सह धारा 5/15 पर्यावरण संरक्षण अधि. 1986 के तहत मामला दर्ज किया. सीपी संजय बाविस्कर, डीसीपी यशवंत सोलंके, एसीपी सोहेल शेख के मार्गदर्शन में थानेदार अर्जुन ठोसरे, एपीआय मंगेश मोहोड, जमादार प्रमोद गुडधे, अकील खान, राजेश मेटकर, विक्रम देशमुख ने कार्रवाई में सहभाग किया.

चंद्रपुर. महाराष्ट्र के आशा वर्करों को कोरोना 19 के दौरान कई समस्याओं का सामना करना पड रहा है. इसके बावजुद आशा वर्कर घरघर जाकर प्रत्येक परिवारों का सर्वे कर रहे है. आशा वर्कर कोरोना से दो-दो हाथ कर संघर्ष करते हुए प्रोत्साहन देने में सफल हुई है. चंद्रपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्र में कार्यरत आशा वर्कर नही बल्की आशाताई नाम से पहचाने जायेगे. सोमवार को रक्षाबंधन के पर्व पर जिले के पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने आशा बहनों से राखी बंधवाकर 1100 रूपये का चेक व 400 रूपये किट देकर सम्मानित किया. यह कार्यक्रम जिलाधिश कार्यालय परिसर के नियोजन भवन में लिया गया. 

कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री खनिज विकास निधि जिला खनिज प्रतिष्ठाण चंद्रपुर की ओर से पालकमंत्री आशा सुरक्षा सुविधा व पालकमंत्री वंदनिय योजना का शुभारंभ कार्यक्रम का उद्घाटन पालकमंत्री वडेट्टीवार के हाथेां से किया गया. इस समय उन्होने नागरिकों के स्वास्थ की सुरक्षा की दृष्टी से स्वयं के परिवार की चिंता ना करते हुए कम मानधन में राष्ट्रीय सेवा देने का कार्य आशा बहनों ने किया है. इसपर हमे गर्व होने की बात कहकर उनका सम्मान किया. 

जिप अध्यक्षा संध्या गुरनूले ने आशा बहनों के कार्य का सन्मान किया. मंच पर सांसद बालु धानोरकर, विधायक किशोर जोरगेवार, विधायक प्रतिभा धानोरकर, जिप उपाध्यक्षा रेखा कारेकर, जिलाधिश डा. खेमनार, जिप सदस्य लोधे, सीईओं कर्डीले, सीएस डा. राठोड, डीएचओ डा. गहलोत आदि उपस्थित थे. संचालनक डा. सुत्राडे तो आभार डा. गेडाम व प्रास्ताविक डा. गहलोत ने किया. 

अमरावती. ब्यूटी पार्लर में मसाज के दौरान अश्लील तस्वीर खिंचकर ब्लैकमेल कर 5 लाख फीरौती के साथ युवती से जबरन दुष्कर्म करने के मामले में नागपुरी गेट पुलिस फर्जी निकाहनामा की छानबीन कर रही है. निकाहनामा पर किए गए हस्ताक्षर व गवाहों से पुलिस ने पूछताछ की है, जिसमें से कुछ तथ्य सामने आने की संभावना है. आरोपियों ने पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए फर्जी निकाहनामा जोड़ने की बात सामने आ रही है.

आरोपी घरों से फरार
इस प्रकरण में मुख्य आरोपी अनवर हुसैन मेहमूद हुसैन व ब्यूटी पार्लर संचालिका महिला दोनों ही घर से फरार हो गए है. जिन्हें घर से भगाने के लिए कई लोगों ने सहायता करने की भी जानकारी सामने आ रही है. पुलिस उन लोगों के भी नाम पत्ते निकाल रही है, आरोपियों के मोबाइल से संपर्क में रहकर उनकी मदद करने तथा पुलिस कार्रवाई की टीप वाले लोगों के सीडीआर निकाले जा रहे है. इन लोगों की जानकारी इकठ्ठा होते ही उन पर भी कार्रवाई हो सकती है. पुलिस दोनों फरार आरोपियों की तलाश में जुटी है. उनके संगे संबंधि रिश्तेदारों से भी पूछताछ चल रही है.

अमरावती. 2 दिन के कर्फ्यू के कारण रक्षाबंधन जैसे त्योहार पर खरीदी के लिए सोमवार को सड़कों पर जाम लग गये. प्रतिष्ठानों से भी पी 1, पी 2 रद्द किये जाने से प्रतिष्ठान भी हाउस फुल्ल दिखाई दिये, जिससे कोरोना का शिकार होने का डर नागरिकों में है अथवा नहीं ऐसा सवाल निर्माण हो रहा था. रक्षाबंधन और ईद के चलते सुबह से ही मार्केट में महिलाओं की भीड़ नजर आ रही थी, जिससे मार्केट की रौनक कई महीनों बाद लौट आने का नजारा दिखाई दिया. 

वाहनों की कतारें
शहर में सड़कों के काम शुरू रहने से राजकमल चौक पर वाहनों की कतारें लगी. इसी तरह गांधी चौक, मोची गली, जवाहर गेट, प्रभात चौक में भी जमकर खरीदी हुई. नतीजतन सड़क के दोनों ओर वाहनों की कतारें लगी थी, जिससे पुलिस को यातायात के लिए भी नियोजन करना पड़ा.

सम-विषम हटाने से भी बढ़ी संख्या
पी1, पी 2 हटाये जाने से सभी प्रतिष्ठान एक साथ खोले गये, जिसके कारण प्रतिष्ठानों में काम करने वाले कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ गयी. सम-विषम भले ही हटाया गया, लेकिन शाम 7 बजे तक ही मार्केट शुरू रहने से लोगों में जल्दी खरीदी कर घर वापस जाने की चाह भी दिखाई दी.

वलगांव. वलगांव के आमला नाले में आयी बाढ़ में 3 मजदूर डूब गए, जिसमें से 2 मजदूर की लाश मिली है, जबकि 1 अन्य मजदूर लापता है. यह हादसा रविवार की रात 12 बजे आमला ग्राम में हुई. पानी में डूबने वालों में पद्माकर गोवर्धन वानखडे (50), सतीश अण्णाजी भुजाडे (46) तथा अंकुश सुरेश सगणे (28) है, जिसमें से अंकुश तथा पद्माकर का शव मिला है, जबकि सतीश को एनडीआरएफ की टीम तलाश में जुटी है. इस तरह सतीश की 2 बहनों और पद्माकर की बहन को राखी के दिन अपने भाई से बिछड़ने का आघात सहना पड़ रहा है. 

वलगांव से लौट रहे थे 4 मजदूर
पुलिस सूत्रों के अनुसार रविवार की रात 12 बजे पद्माकर, सतीश, अंकुश तथा कोरे नामक मजदूर यह 4 लोग वलगांव से किसी काम से आमला गांव में लौट रहे थे. रविवार को तेज बारिश होने के कारण आमला से होकर पेढ़ी नदी में मिलने वाले नाले में भारी बाढ़ आयी हुई थी. नाले का पानी तेज गति से बह रहा था. नाले का पुलिया पार करने के लिए 4 मजदूरों ने एक दूसरे का हाथ पकड़ रखा था. नाले के पुलिया पर पहुंचते ही अचानक पानी का स्तर और अधिक बढ़ गया. पानी के तेज बहाव में तीनों मजदूर बह गए, जबकि कोरे तैरते हुए पानी से बाहर निकला आया, जिसने गांवसावियों को इस बारे में जानकारी दी. सूचना पर वलगांव पुलिस देर रात ही आमला नाले पर पहुंची. जिन्होंने देर रात आपत्ती व्यवस्थापन की टीम से उन्हें तलाशना शुरू किया, लेकिन किसी का भी कोई पता नहीं चल पाया.

सोमवार की सुबह फिर तलाश मुहिम शुरू
सोमवार की सुबह वलगांव के थानेदार आसाराम चोरमले ने आपत्ती व्यवस्थापन की टीम के साथ नाव से मृतकों की खोज शुरू की. दोपहर के समय एनडीआरएफ की टीम को पेढी नदीं किनारे सुबह के समय अंकुश की लाश मिली, जबकि दोपहर 3 बजे पद्माकर का शव मिला. अन्य 1 की तलाश शुरू थी. इस दौरान गांववासियों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी. जिला आपत्ती व्यवस्थापन प्रमुख रामेकर के नेतृत्व में हेमंत सरकटे, योगेश घाडगे, देवानंद भुजाडे, सचिन धरमकर, अर्जुन सुंदरडे, दीपक डोलस, संदीप पाटिल, उदय मोरे, राजेंद्र शाहाकार, अजय आसोले, प्रफुल्ल भुसारी, महेश मांदाले, वहीद शेख, अयुब खान ने मुहिम में सहभाग लिया.

अमरावती. विधायक रवि और सांसद नवनीत राणा के परिवार में रविवार को उनके माता-पिता समेत एक साथ 7 सदस्य कोरोना पाजिटिव पाए गए. हालांकि एमएलए रवि और एमपी नवनीत राणा की एंटीजन रैपिड टेस्ट निगेटिव रही. लेकिन उनकी बेटी आरोही (5) और रणवीर (4) की थ्रोट स्वैब रिपोर्ट सोमवार को दोपहर 2 बजे पाजिटिव मिली. पिता गंगाधर व माता सावित्री को वोक्हार्ट में रेफर किय जा रहा है. शेष सभी डा. विजय बख्तार के निरीक्षण में होम क्वारंटाइन हुए है.  

MLA, MP निगेटिव
एमएलए रवि व एमपी नवनीत ने मुंबई से लौटते ही सबसे पहले रैपिड टेस्ट कराई थी, जिसमें दोनों की रिपोर्ट निगेटिव आई, परंतु बुखार में तपने के चलते पिता गंगाधर व माता सावित्री समेत परिवार के सभी सदस्यों व कार्यकर्ताओं-युवा स्वाभिमान के पदाधिकारियों की एंटीजन रैपिड टेस्ट करवाई गई, जिसमें सभी पदाधिकारी-कार्यकर्ताओं की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई. परंतु सोमवार को दोपहर में दोनों बच्चों की रिपोर्ट पाजिटिव मिली. 

अमरावती. भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश उपाध्यक्षा चित्रा वाघ ने क्वारंटाइन सेंटर में हो रहे महिला अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाते हुए क्वारंटाइन सेंटर को एसओपी लागू करने की मांग की है.  क्वारंटाइन सेंटर महिला व पुरुषों का अलग होना चाहिए, लोकबस्ती से दूर सेंटर के कारण पुलिस प्रशासन को भी पीपीई किट की सुविधा दें, पैनिक बट की सुविधा और महिलाओं को ग्राउंड फ्लोअर पर ही रखने के साथ क्वारंटाइन सेंटर में भेंट देने के लिए आने वालों की सूची बनाए जाने का समावेश है. जितने भी अत्याचार हुए वह सभी अत्याचार करने वाले उसी क्वारंटाइन सेंटर के थे. इसलिए महिलाओं की सुरक्षा का मुद्दा सरकार ने गंभीरता से लेने की मांग की है. 

शिवबा का महाराष्ट्र निर्माण करें
उन्होंने रविवार को पत्र परिषद में बताया कि जिला दौरे पर आते ही उन्होंने टीम के साथ क्वारंटाइन सेंटर तथा पीड़िता के घर पर भेंट दी. अस्पताल की नर्स ने कई बार वरिष्ठों को इस संदर्भ में शिकायत की. बावजूद इसके गंभीरता से दखल नहीं ली. वह कर्मचारी जिला स्वास्थ्य यंत्रणा का रहने से इसके लिए सिविल सर्जन भी पूरी तरह से जिम्मेदार है इसलिए उन्हें कुर्सी पर बैठने का कोई अधिकार नहीं है.  

मांग है, टिप्पणी नहीं
इस दौरान वाघ ने पालकमंत्री यशोमति ठाकुर के बयान को फस्ट्रेशन में निकाले गये शब्द बताया. उन्होंने कहा कि जब हाथ में हाथ डालकर काम करना है तो सुझाव देना भी काम है. हमारी मांग को अंधा कहना गलत है. पत्र परिषद में नागपुर की पूर्व महापौर तथा प्रदेश सचिव अर्चना हेडनकर, पूर्व उपमहापौर नागपुर मनीषा कोठे, ग्रामीण जिलाध्यक्ष निवेदिता चौधरी, स्थायी समिति सभापति राधा कुरील, उपमहापौर कुसूम साहू सुचिता बिरे, सुरेखा लुंगारे आदि उपस्थित थी. 

अमरावती. पालकमंत्री यशोमति ठाकुर ने बडनेरा के घटनाक्रम पर राजनीति करने वालों को जमकर हड़काया. उन्होंने कहा कि जो घटना हुई है. वह शर्मनाक है. आरोपी पर मामले दर्ज हुए हैं. उसकी जेल रवानगी हुई है. लेकिन कोरोना काल में युवति के साथ हुई इस घटना को पर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप करने से बेहतर है. साथ मिलकर काम करें

जनता के हितों, सुरक्षा का ध्यान है 
उन्होंने कहा कि आरोपी की हरकतों को लेकर अस्पताल के डाक्टरों ने मनपा से पहले भी शिकायत की थी. तो उस पर पहले कार्रवाई क्यों नहीं की गई. जबकि मनपा में तो भाजपा की सत्ता है. महापौर भी भाजपा के है. उन्होंने सांसद को भी नसीहत देते हुए कहा कि   मेरी जिम्मेदारियां मुझे पता है. इसकी कोई मुझे सीख न दे. जिला प्रशासन, स्वास्थ यंत्रणा, पुलिस प्रशासन में समन्वय रखकर मैं अपनी जिम्मेदारियां पूरी कर रही हूं. जनता के हितों, उनके स्वास्थ का मुझे पूरा ध्यान है. अनावश्यक रुप से सलाह देने काम न किया जाए.

इस्तीफा दे अकार्यक्षमता महापौर : गुडधे
शिवसेना के महानगर प्रमुख पराग गुडधे ने आरोप लगाया है कि महापौर की अकार्यक्षमता छिपाने के लिए पालकमंत्री को बदनाम करने का काम भाजपा द्वारा किया जा रहा है. हाल ही में बडनेरा के ट्रामा केअर सेंटर में हुई घटना के बाद भाजपा के कुछ स्थानीय नेता महापौर की अकार्यक्षमता छिपाने के लिए राजनीति कर रहे हैं. महापौर से इस्तीफे की मांग करते हुए गुडधे ने कहा कि ट्रामा सेंटर के डॉक्टरों द्वारा की गई शिकायतों की कभी गंभीरता से दखल नहीं ली गई. महापौर ने कोविड सेंटर को भेंट नहीं देते है. मरीजों की पूछपरख नहीं करते. प्रशासन पर पकड़ नहीं. इन सब नाकामियों को छिपाने भाजपा नेता पालकमंत्री एड.यशोमति ठाकुर को टार्गेट कर बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं. 

अमरावती. इस वर्ष जिले में अपेक्षा से अधिक बारिश हुई है, लेकिन उमस परेशान कर रही है. जिस दिन बारिश होती है, उसी दिन मौसम थोड़ा ठंडा रहता है. लेकिन अन्य दिनों में लोगों को पसीने छूट रहे हैं. यही वजह है कि अनेक घरों में कूलर अब भी चल रहे हैं. जिले की सभी 14 तहसीलों में 466.8 मिमी  की औसत से वर्षा हुई है. 2 अगस्त तक 441.5 मिमी बारिश का अनुमान था. इस हिसाब से 105.7 प्रतिशत दर्ज हुई है. 

मेलघाट में सबसे कम
जिले की अन्य तहसीलों की तुलना में हिलस्टेशन माने जाते मेलघाट में सबसे कम वर्षा दर्ज की गई. धारणी में 549.5 मिमी की तुलना में केवल 357 मिमी, याने केवल 65 प्रतिशत बारिश हुई. उसी प्रकार चिखलदरा में 699.9 मिमी की तुलना में केवल 431.5 मिमी, यानी केवल 64.4 प्रश वर्षा दर्ज की गई. जिले के दर्यापुर तहसील में सर्वाधिक 177.7 प्रतिशत बारिश दर्ज की गई. उसी प्रकार भातकुली में 133.1 प्रश, अंजनगांव सुर्जी में 144.2 प्रश, चांदुर बाजार में 146.4 प्रश, नांदगांव खंडेश्वर में 139.2 प्रश, मोर्शी में 123.3 प्रश, अमरावती में 105.6 प्रश, तिवसा में 107.1 प्रश, चांदूर रेलवे में 106.2 प्रश, वरुड में 121.3 प्रश, अचलपुर में 89.6 तथा धामणगांव रेलवे तहसील में 84.5 प्रश वर्षा हुई.

वर्धाः नगरपालिकेकडून पाइपलाइन टाकण्याचे काम सुरू असताना संबंधित जमीन आपल्या नावावर असल्याचा दावा करणाऱ्या शेतकऱ्याला भाजप खासदार रामदास तडस यांनी शिवीगाळ करत मारहाण केल्याचा धक्कादायक प्रकार घडला आहे. या घटनेचा व्हिडिओ सोशल मीडियावर व्हायरल झाला आहे.

देवळी येथील नागरी वस्तीला पाणीपुरवठा करण्यासाठी नगरपालिकेकडून पाइपलाइन टाकण्याचे काम सुरू आहे. ही पाइपलाइन टाकण्यात येत असलेली जमीन आपली असल्याचा दावा करीत शेतकऱ्याने विरोध दर्शविला. यावरून वाद वाढल्याने खासदार रामदास तडस यांनी शेतकऱ्याला शिविगाळ करीत दगडफेक केली. यासंदर्भातील व्हिडीओ सोशल मीडियावर व्हायरल झाला आहे. परस्परविरोधी तक्रारीही पोलिस ठाण्यात दाखल करण्यात आल्या आहेत. पण, खासदार तडस यांनी मात्र या घटनेचा विरोध करत असं काही घडलं नसल्याचा दावा केला असून लोकांच्या पाणीप्रश्नासाठी पुढाकार घेतल्याचे म्हटले आहे.

देवळी येथील अशोक काकडे यांची शेत सर्व्हे क्रमांक पाचमध्ये ०.५८ हेक्टर जमीन आहे. या जमिनीवर बाबाराव गुजरकर यांच्यासह सुमारे ४७ जणांनी अतिक्रमण केले. पक्की घरे बांधून राहू लागले. नगर परिषदेने या लोकांना नागरी सुविधा पुरविल्या. रस्ते, वीज, पाणी आणि नालीची सुविधा उपलब्ध करून दिली. अतिक्रमित जागा असतानाही या लोकांना घरकुल मंजूर करण्यात आल्याचा काकडे यांचा आरोप आहे. याविरोधात त्यांनी तहसील कार्यालयात दाद मागितली. तहसीलदारांनी हे अतिक्रमण अवैध असल्याचे स्पष्ट केले. पण, अतिक्रमण न्यायालयाच्या माध्यमातून हटविण्यात यावे, असेही आदेशात स्पष्ट केले. हा वाद कायम असतानाच पाइपलाइनचे बांधकाम केले जात असल्याने रविवारी काकडे यांनी विरोधात आवाज उठविला. अतिक्रमण करू नका, अशी विनंती करू लागले. तरीही कुणी दाद देत नसल्याने स्वत: नालीत उतरले. याच सुमारास खासदार रामदास तडस आले. त्यांच्याशी काकडे यांचा वाद झाला. वाद वाढल्याने संतापलेल्या तडस यांनी नालीजवळील दगड आपल्याला मारल्याचा आरोप काकडे यांनी केला आहे. पोलिसांनी त्यांना रोखून धरले. गावकऱ्यांनी या घटनेचे व्हिडीओ काढून सोशल मीडियावर व्हायरल केले.

पालांदुर. आगामी दिसंबर माह के अंत तक राज्य में पुलिस के 12,538 पदों की भर्ती किए जाने की घोषणा राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने की है. इतने बड़े पैमाने पर पुलिस भर्ती घोषित होने के कारण एवं इसका कार्यकाल कम होने से पालांदुर एवं परिसर के युवाओं का पुलिस भर्ती की ओर ध्यान लगा है. युवा मैदानी एवं लिखित परीक्षा की तैयारी में जुटे हैं.

बनी है भ्रम की स्थिति
इसके पूर्व नवंबर 2019 में पुलिस सिपाही, पुलिस वाहनचालक एवं राज्य आरक्षित पुलिस दल भर्ती के कुल 5,297 पदों के लिए उम्मीदवारों ने संगणक प्रणाली द्वारा आवेदन भरे हैं. इसमें नये से पदों की वृद्धि होने के कारण एक ओर उम्मीदवार एवं अभिभावकों में आनंद का वातावरण है, तो दूसरी ओर यह भर्ती प्रक्रिया कैसी चलाई जाएगी इस बारे में भ्रम की स्थिति बनी हुई है. भर्ती प्रक्रिया के लिए शुरूआत में मैदानी परीक्षा होगी या लिखित परीक्षा, मैदानी परीक्षा कैसी रहेगी. लिखित परीक्षा कम्प्यूटर द्वारा सीधे होगी या पारंपारिक तरीके से होगी इस बारे में उम्मीदवारों के मन में भ्रम है. होगी लिखित परीक्षा

अकोट. तुषार पुंडकर हत्या प्रकरण में देशी कट्टे की बिक्री करनेवाले आरोपी शहाबाज खान की जमानत अर्जी स्थानीय अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश मनीष गणोरकर ने खारिज की. प्रहार जनशक्ति पार्टी के जिलाध्यक्ष तुषार पुंडकर की हत्या करने के लिए उपयोग में लायी गयी देशी बनावट की पिस्तौल की बिक्री करनेवाले मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित आरोपी शहाबाज खान ने जेल अधीक्षक द्वारा जमानत के लिए अर्जी दाखिल की थी, जिसे न्यायालय ने खारिज किया है. इसी तरह निखिल सेदानी के आवेदन को भी खारिज कर दिया है. इस प्रकरण में सरकारी वकील अजीत देशमुख ने युक्तिवाद करते हुए कहा कि यह बहुत गंभीर अपराध है. शहबाज पर बंदूकों की व्यवस्था करने का आरोप है और जेल में कोरोना फैलने के कारण उनके इलाज की अलग से व्यवस्था की गई है. जिससे जमानत देने की आवश्यकता नहीं है.

साथ ही, जेल अधीक्षक को इस मामले में जमानत के संबंध में हाई पावर कमेटी के निर्देशों का सत्यापन करना चाहिए और कैदियों के आवेदनों को अस्थायी जमानत के लिए अदालत में भेजना चाहिए. साथ ही, जेल अधीक्षकों और कैदियों के व्यवहार के कारण अदालत का समय बर्बाद नहीं होना चाहिए. इस प्रकरण के आरोपी निखील सेदानी की अर्जी 4 जुलाई को नामंजूर करने के बाद कोविड-19 को आधार बनाकर अस्थायी जमानत के लिए एक आवेदन भेजा गया था. जिससे यह स्पष्ट है कि जेल अधीक्षक बिना किसी जांच के आवेदन भेजते हैं. दोनों आरोपी मध्य प्रदेश के निवासी हैं और अगर उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया जाता है, तो वे भाग सकते हैं, यह युक्तिवाद एड.अजीत देशमुख ने किया. जिससे न्यायाधीश ने आदेश देकर दोनों की जमानत अर्जी खारिज की. 

अमरावती. कन्हैय्या लिडिया हत्याकांड के मामले में फ्रेजरपुरा पुलिस ने और 3 हत्यारों को हिरासत में लिया है. आरोपी बलीराम यादव, अजय यादव तथा रवि यादव है. जिसमें से बलीराम को कोर्ट में पेश कर 2 अगस्त तक पुलिस कस्टड़ी में लिया है, जबकि अन्य 2 आरोपियों को शनिवार की दोपहर कोर्ट में पेश किया जाएगा.

कई वर्षों से हो रहा था विवाद
भैंसों के तबेले को लेकर कन्हैय्या व अजय यादव के बीच कई वर्षों से झगड़ा चल रहा था. गुरुवार को आरोपियों ने मौका देखकर कन्हैय्या पर कुल्हाडी, लाठी, सलाख जैसे हथियारों से वारकर निर्मम हत्या कर दी. फ्रेजरपुरा थानेदार पुंडलिक मेश्राम ने देर रात ही 3 हत्यारों को गिरफ्तार किया. जिनसे पूछताछ चल रही है

अमरावती. भाई-बहन के रक्षाबंधन से मार्केट में त्यौहारों का सीजन शुरु हो जाता है. इस दिन हर बहन अपने हाथों पर भाई की कलाई पर सुरक्षा के वादे के साथ राखी बांधती है. जिस तरह प्रतिवर्ष राखियों की विक्री होती थी उसकी तुलना में इस वर्ष कोरोना के चलते 30 से 40 फीसदी विक्री घट चुकी है. शहर के मोचीगली में रक्षाबंधन के 15 दिन पहले से ही राखियों की विक्री आरंभ हो जाती है, लेकिन इस बार तीन दिन बाद रक्षाबंधन का त्यौहार आने के बावजूद भी राखियों की खरीदी के लिए बहनें खरीदी के लिए बाहर नहीं निकल रही है. 

अन्य राज्यों से नहीं पहुंची राखियां
जिले में प्रतिवर्ष प्रतिष्ठान सजाने के लिए अन्य राज्यों से भी राखियों की डिमांड पूर्ण की जाती है. लेकिन इस वर्ष अधिकाशं प्रतिष्टान संचालकों ने बाहरी राज्यों की बजाए यहां तैयार किये जानेवाले लोगों से ही राखियां खरीदी. इतना ही नहीं तो गत वर्ष शेष बची राखियों से भी प्रतिष्ठान सजाये गये. कोरोना ग्रस्तों के आंकडे बढने से महिलाएं मार्केट की भीड में जाने की बजाए आस पडोस की दूकानों से ही खरीदने में भलाई समझ रही है. इसलिए 24 घंटे जाम रहने वाली जमील कालोनी इन दिनों सुनसान पडी है. 

दो दिन बंद, आज ही खरीदी 
राखियों के लिए मार्केट में भीड न हो और सोशल डिस्टसिंग का पालन हो इसलिए गली मोहल्ले में भी बेरोजगार हुए लोगों ने गली मोहल्लों में प्रतिष्ठान आरंभ कर दिया है. शनिवार व रविवार को लाकडाउन के चलते मार्केट बंद है इसलिए कई दिनों बाद भीड 10 प्रतिशत बढी दिखी. सोमवार को रक्षा बंधन रहने से राखियां खरीदने में महिलाएं बाहर निकल पडी थी.  हालांकि इस वर्ष 10 रुपये से लेकर 100 रुपये तक राखियां मार्केट में उपलब्ध है. इस वर्ष नयी राखी की ओर अधिक आकर्षित होने की बजाए लुंबा राखियों को ही अधिक पसंद किया गया. शाम 7 बजे तक ही मार्केट रहने से अधिकांश महिलाओं ने खरीदी जल्दी निपटाई. 

अमरावती. अमरावती जिले में बढते कोरोना के चलते जिला प्रशासन ने उपाययोजना के तौर पर आगामी 31 अगस्त तक कर्फ्यू कायम रखने के आदेश जारी किये है. राज्य सरकार के आदेश के अनुसार सुलभ व चरणबध्द लाकडाउन खोले जाने  को लेकर मिशन बिगेन अंतर्गत कलेक्टर शैलेश नवाल ने शुक्रवार की शाम प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये. जिसके अनुसार अमरावती शहर में जिले में 31 अगस्त की मध्यरात्री तक कर्फ्यू लागू रहेगा. बाजार समेत सभी तरह के मार्केट, दूकानें, सब्जी व फल मार्केट, पेट्रोल पंप, सलून, बैंक के लिए इसके पूर्व लागू आदेश 31 अगस्त में भी कायम रहेंगे.

दूध डेअरी रहेगी नियमित 
इस कालावधि में प्रति सप्ताह शुक्रवार शाम 7 से सोमवार सुबह 7 बजे तक कर्फ्यू रहेगा. सोमवार से शुक्रवार तक अमरावती शहर में नियमित सुबह 9 से शाम 7 बजे तक सभी दूकाने खुली रहेगी. दूध डेअरी सुबह 9 से 7 बजे तक सप्ताह के 7 दिन नियमित शुरु रहेंगे. इस आदेश का उल्लंघन करने पर कडी कार्रवाई करने के आदेश दिये गये है. लाकडाउन की इस नयी कालावधि में भी जिले में शाला, महाविद्यालय, शैक्षणिक प्रशिक्षण केंद्र, निजी ट्युशन, कोचिंग क्लासेस बंद रखे जायेंगे.

आनलाइन शिक्षा प्रणाली को अनुमति दी गई है. इसी तरह सिनेमा गृह, शापिंग मॉल, मनोरंजन उद्यान, नाट्यगृह, शराब खाने, मंगल कार्यालय व संबंधित प्रतिष्ठान बंद रहेंगे. सभी तरह की सामाजिक व राजनीतिक, मनोरंजन व शैक्षणिक व सांस्कृतिक धार्मिक कार्यक्रम व अन्य स्नेहसम्मेलन के साथ ही धार्मिक स्थल भी धार्मिक पूजा स्थल सभी नागरिकों के लिए बंद रहेंगे. 31 अगस्त तक लागू कर्फ्यू आदेश में पी 1 व पी 2 रद्द रहेगा. 

भिसी. कुछ छोटे-छोटे 2 या उससे अधिक गांवों को मिलाकर एक ग्राम पंचायत का गठन किया जाता है. गांव की जनसंख्या के आधार पर ग्रापं सदस्यों की संख्या तय होती है. इस ग्रापं के माध्यम से उन गांवों का कामकाज संभाला जाता है. किंतु चिमूर तहसील में एक गांव ऐसा है, जहां का कामकाज 2 ग्राम पंचायतें संभालती है. गांव में एक मात्र सड़क है. इस गांव का नाम है खुर्सापार. 200 से 2500 जनसंख्या वाले इस गांव का प्रशासकीय कामकाज वाहानगांव तथा बोथली 2 ग्राम पंचायतों के अधीन है और यही स्थिति उसके विकास में सबसे बड़ा रोड़ा बनकर सामने आ रही है. गांव अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है. यहां बुनियादी सुविधाओं तक का अभाव है.

2 घर का मेहमान भूखा
एक कहावत है कि 2 घर का मेहमान भूखा रह जाता है. कुछ इसी तरह के हाल खुर्सापार गांव के है. चिमूर-वरोरा राष्ट्रीय राज्यमार्ग नं. 353 ई पर बसे वाहानगांव तथा बोथली दोनों गांव की ग्राम पंचायत के राजस्व क्षेत्र में खुर्सापार गांव शामिल है. गांव में आवागमन करने के लिए एकमात्र गलीनुमा सड़क है. इस सड़क के एक ओर रहने वाले निवासी वाहानगांव ग्राम पंचायत में आते हैं, तो दूसरी ओर रहने वाले बोथली ग्राम पंचायत में शामिल है. चिमूर-वरोरा राष्ट्रीय राज्यमार्ग से 3 किमी अंदर बसे इस गांव को टोली के नाम से भी जाना जाता था. गांव में करीब 40 परिवार रहते हैं.

गांव में करीब 125 मतदाता हैं. गांव में आने के लिए वाहाणगांव तथा बोथली से पक्की सड़क बनी है. किंतु गांव में आज भी नाली, स्ट्रीट लाइट, पीने के पानी की सुविधाएं नहीं हैं. 2 ग्राम पंचायतों से मिलने वाली विकास निधि से खुरसापार ग्राम का विकास दुगुना होना चाहिए था, लेकिन वास्तविकता इसके उलट है. जो भी विकास निधि यहां दी जाती है, वह 2 ग्राम पंचायतों के सीमावाद की वजह से वापस चली जाती है. गांव में मतदाता भी कम होने के कारण जनप्रतिनिधियों को यहां की समस्याओं से कोई वास्ता नजर नहीं आता.

अमरावती. गोबर की गंदगी हटाने की बात को लेकर मंगलधाम कालोनी के राधिकानगर में एक 50 वर्षीय शख्स पर 5 से 6 बदमाशों ने कुल्हाड़ी, लाठी समेत तीक्ष्ण हथियारों से हमलाकर निर्मम हत्या कर दी, जबकि बीचबचाव करने आई उसकी पत्नी व बेटे से हाथापाई कर उन्हें घायल कर दिया. यह घटना गुरुवार की सुबह 10 बजे हुई.

मृतक कन्हैय्या माणीक लिडिया (50, राधिकानगर) है, जबकि घायल प्रभा कन्हैय्या लिडिया(42) तथा बेटा दर्शन लिडिया (20) है. एसीपी सोहेल शेख, पीआय नितीन मगर दल बल के साथ वहां पहुंचे. पुलिस ने पंचनामा कर एक संदिग्ध को हिरासत में लिया. आरोपी अजय यादव समेत 6 लोगों की तलाश कर रही है. एक संदिग्ध को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

गोबर की गंदगी को लेकर झगड़ा
कन्हैय्या व अजय यादव एक दूसरे के पड़ोस में रहते है. कन्हैय्या हाथ मजदूरी करता था. उसके परिवार में पत्नी, 5 बेटियां व 1 बेटा है. आरोपी अजय यादव का भैंसों का तबेला है, जहां हमेशा गोबर व गंदगी पड़ी रहती है, जिससे परिसर में मच्छर व अन्य बीमारियां फैलने के खतरे से कन्हैय्या ने उन्हें गोबर की गंदगी हटाने के लिए कहा, जिस पर अजय यादव व उसके रिश्तेदारों ने कन्हैय्या से झगड़ा किया था. इसी बात से दोनों परिवार में रंजिश चल रही थी. गुरुवार की सुबह 9 बजे गोबर की गंदगी हटाने की बात को लेकर फिर से कन्हैय्या व अजय के बीच शाब्दिक बहस हुई. बात इतनी बढ़ गई कि आरोपियों ने कुल्हाड़ी, लाठी व अन्य हथियारों से कन्हैय्या पर हमला कर दिया. 

अमरावती. ब्यूटी पार्लर में एक महिला की मसाज के दौरान अश्लील फोटो खींचकर ब्लैकमेल करते हुए 30 वर्षीय युवती से जबरन दुष्कर्म किए जाने का मामला नागपुरी गेट थाने में सामने आया है. नागपुरी थाना क्षेत्र निवासी युवती की रिपोर्ट पर आरोपी अनवर हुसैन मेहमुद हुसैन (40, पैराडाइज कालोनी) व एक महिला के खिलाफ दुष्कर्म समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. आरोपी अनवर हुसैन फरार है.

धोखे से खींची थी फोटो
पीड़ित युवती ने रिपोर्ट में बताया कि 1 वर्ष पहले ताजनगर में एक ब्यूटी पार्लर में मसाज के लिए गई थी. यहां ब्यूटी पार्लर संचालिका ने उससे दोस्ती कर धोखे से उसका मसाज का फोटो लिया था. यह फोटो उसने आरोपी अनवर हुसैन मेहमुद हुसैन को सेंड कर दिया, जिसके बाद आरोपी महिला ने उसकी अनवर हुसैन से पहचान कराई. आरोप अनवर ने उससे प्यार का इंजहार किया, लेकिन युवती के इंकार करने से उसे फोटो दिखाकर ब्लैकमेल किया. बदनामी का डर दिखाकर उससे अनवर ने 4 लाख व महिला ने 1 लाख रुपए फिरौती ली. आरोपी महिला ने उसे धमकी देकर घर ले गयी. जहां अनवर हुसैन ने उससे जबरन दुष्कर्म किया.

बेहोशी की दवाई पिलाई
कुछ दिन पहले युवती को नींबू शरबत में बेहोशी की दवाई पीलाकर सफेद रंग की कार से चिखलदरा ले गया. यहां युवती से जबरन दुष्कर्म किया. आरोपी ने बदनाम करने व जान से मारने की धमकी दी. कार्रवाई से बचने के लिए उसने फर्जी निकाह नामा भी दिखाया. पुलिस ने दुष्कर्म, फिरौती, धमकाने जैसी संगीन अपराध दर्ज किये है. पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है.

अमरावती. जिला प्रशासन की ओर से व्यापारियों समेत नागरिकों को राहत देने के लिए ऑड इवन फार्मूले को रद्द करने का निर्णय लिया है. 1 अगस्त से इस निर्णय पर अमल होगा लेकिन शनिवार व रविवार को लॉकडाउन रहने के चलते रविवार से इस निर्णय पर अमल किया जायेगा, जिसके चलते अब त्योहारों के दिनों में लगातार मार्केट 5 दिन शुरू रहेंगे. 

लॉकडाउन कायम 
शैलेश नवाल ने बताया कि व्यापारियों को राहत दी गई है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं रहेगा कि नियमों का पालन भी नहीं करना पड़ेगा. व्यापारियों को मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग समेत सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना अनिवार्य रहेगा. शनिवार व रविवार को लॉकडाउन के कारण व्यापारियों को प्रतिष्ठान शतप्रतिशत बंद रखने होंगे, जिसमें केवल कृषि केंद्र, मेडिकल, नर्सिंग होम, गैस सेवा, नाला सफाई, महावितरण सेवा को अनुमति रहेगी. सोमवार से शुक्रवार तक व्यापारियों को सुबह 9 बजे से रात 7 बजे तक ही प्रतिष्ठान खुले रखने होंगे. 

वर्ना होगी कार्रवाई
व्यापारियों द्वारा लगातार डिमांड करने पर प्रशासन ने यह निर्णय लिया है. लेकिन इस दौरान मनपा की टीम की ओर से नियमों का उल्लंघन करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. क्योंकि पी-1, पी-2 रद्द हुआ है, लेकिन कोरोना का खतरा बरकरार रहने से नियमों का पालन करना जरुरी है.

गड़चिरोली. एटापल्ली तहसील के हेडरी पुलिस उपविभाग अंतर्गत येलदमडी जंगल परिसर में 3 जुलाई को पुलिस व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी. मुठभेड़ में पेरमिली दलम कमांडर सोमा शंकर समेत ही गट्टा दलम का डिप्टी कमांडर अमोल होयामी (21)के भी मारे जाने की जानकारी प्राप्त हुई है. नक्सलियों द्वारा डाले गए पर्चों से उक्त घटनाक्रम उजागर हुआ है. नक्सल सप्ताह के प्रथम दिन ही बड़ा खुलासा होने नक्सल आंदोलन को बड़ा नुकसान होने की बात स्पष्ट हुई है. 3 जुलाई को येलदमडी जंगल परिसर में जिला पुलिस दल के सी-60 के जवान व नक्सलियों में मुठभेड़ हुई थी. मुठभेड़ में पेरमिली दलम कमांडर सोमा उर्फ शंकर मारा गया था. उसका शव कब्जे में लिया गया था. उक्त घटनास्थल की स्थिति के अनुसार और करीब 2 नक्सली मारे जाने की आशंका व्यक्त की गई थी.

गट्टा दलम की थी जिम्मेदारी
नक्सली होयामी महज 21 वर्ष का था. वह छत्तीसगढ़ राज्य के बीजापुर जिले के भैरामगड़ तहसील का निवासी था. वर्ष 2017 में वह भामरागड़ दल में दाखिल हुआ था. उसके बाद उसे गट्टा दलम के डिप्टी कमांडर पद पर नियुक्ति की गई थी.

6 लाख का था इनाम
होयामी का कई हिंसक घटनाओं में समावेश था. गड़चिरोली जिले के विभिन्न पुलिस थानों में उस पर 3 गंभीर स्वरूप के मामले दर्ज थे. वहीं उस पर सरकार ने 6 लाख रुपयों का इनाम रखा था.

भंडारा. पवनी तहसील के कोंढ़ा कोसरा में लगने वाला पशुओं का साप्ताहिक बाजार बंद होने के कारण पशु पालकों का संकट बढ़ गया हैं. विदर्भ के प्रसिद्ध पशु बाजार कोंढ़ा में लगता है. इसलिए इस बाजार की ओर पशु पालकों का विशेष ध्यान रहता है. इस बाजार में विदर्भ के पशुपालक बड़ी संख्या में आते रहे हैं. इस वर्ष कोरोना माहामारी के कारण पशु बाजार पिछले 4 महीने से बंद पड़ा है. सरकारी आदेश का पालन करते हुए पशु बाजार में एक भी पशु बिक्री के लिए नहीं लाया गया.

ऐन खरीफ के मौसम में किसानों को बैल जोड़ी खरीदने का मौका नहीं मिल पाया. कोरोना के कारण किसान बैल जोड़ी नहीं खरीद सके, इस बात का किसानों को भी अफसोस है, लेकिन उनका कहना है कि जान है तो जहान है. बाजार बंद होने के कारण पशुपालकों की समस्याएं हर दिन बढ़ती ही रही हैं.

अन्य राज्यों से भी आते है व्यापारी
कोंढ़ा के पशु बाजार में विदर्भ, मध्यप्रदेश तथा छत्तीसगढ़ की विभिन्न जाति के गोवंश, भैंस बिक्री के लिए आते रहे हैं. इस बार कोरोना महामारी ने कोंढ़ा के साप्ताहिक पशु बाजार को भी बंद करा दिया. ग्राम पंचायत व कृषि उत्पन्न बाजार समिति पवनी की ओर की देखरेख में लगने वाले इस पशु बाजार के बंद होने से उन लोगों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा है, जो इस बाजार का हिस्सा रहते आए हैं. कोरोना का कहर दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है. ऐसे में कोंढ़ा का पशु साप्ताहिक बाजार शुरू करना ठीक नहीं है, फिर भी कोंढ़ा कोरसा के अधिकांश लोग यह कहने में कोई गुरेज नहीं कर रहे कि पशु बाजार को कुछ नियम शर्तों के साथ शुरू किया जाए. 

भंडारा. किसानों ने किसी तरह बुआई तो कर ली है, किंतु बारिश के गायब होने से अब वह फसल सूखने की स्थिति में आ गई है. फसल सूखने से किसानों के सामने और फिर एक बार संकट के बादल मंडराने लगे हैं. मानसूनी वर्षा के बार-बार लापता होने का सिलसिला इस वर्ष भी जारी है. हालांकि इस वर्ष मौसम विभाग ने पहले ही कह रखा है कि पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष ज्यादा बरसात होगी, किंतु मौसम के बदले मिज़ाज से पिछले वर्ष के जैसे ही हालात नजर आ रहे हैं.

मानसून के आरंभिक दौर में अच्छी वर्षा होने पर किसानों ने खेत में बुआई का काम शुरू कर दिया था, किंतु बुआई के बाद वर्षा ने अचानक मुंह मोड़ लिया. जिससे किसानों में जितनी भी फसलें लगायी गई थी, वह सभी खराब हो गई. वर्षा के अभाव में अगर कुएं का पानी उपयोग किया जाए तो वह कम ही पड़ेगी. किसान मानसूनी वर्षा के पुनरागमन आगमन की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं. 

अंजनगांव सुर्जी. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सातेगांव शाखा के व्यवस्थापक के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश तहसीलदार विश्वनाथ घुगे ने दिये है. महात्मा ज्योतिबा फुले कर्जमाफी योजना के तहत लाभार्थियों से अनावश्यक दस्तावेज मांगने के मामले में उन्होंने मंगलवार को अग्रणी बैंक के जिला व्यवस्थापक को आदेश पत्र भेजा है, जिससे बैंकिग क्षेत्र में हड़कंप मच गया है. 

तहसीलदार ने दिए आदेश
महात्मा फुले कर्जमाफी योजना के तहत लाभार्थी किसानों से अनावश्यक दस्तावेज न मांगने के आदेश पालकमंत्री व जिलाधिकारी द्वारा किए गए है. इसके बावजूद सातेगांव के शाखा व्यवस्थापक द्वारा किसानों से कई तरह के दस्तावेज मांगकर उन्हें परेशान किया जा रहा है. इस मामले में किसान विनायक टाक व संतोष जगतराम काले ने तहसीलदार से शिकायत की. जिस पर तहसीलदार ने तुरंत कार्रवाई करते हुए बैंक के जिला व्यवस्थापक को आदेश पत्र भेजा. 

खेत का नक्शा मांगा जा रहा
किसानों का आरोप है कि बैंक व्यवस्थापक कर्जमाफी के लिए अन्य दस्तावेजों के साथ ही खेत का नक्शा मांग रहे है, जिससे भूमि अभिलेख कार्यालय में 500 से अधिक किसानों ने नक्शे के लिए आवेदन किया है.

हमें तहसीलदार का कोई पत्र नहीं मिला
सातेगांव ब्रांच के व्यवस्थापक के खिलाफ कुछ किसानों की शिकायत थी. जिसे हमने सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है. फिलहाल हमें तहसीलदार का कोई पत्र नहीं मिला है.-संजय तिवारी, डिविजनल मैनेजर,  एसबीआई

यवतमाल/अमरावती. 10वीं कक्षा की स्टेट बोर्ड परीक्षा के शनिवार को ऑनलाइन घोषित नतीजों में अमरावती विभागीय बोर्ड से 95.14 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए. अमरावती बोर्ड से 1 लाख 68 हजार 605 छात्रों में से 1 लाख 67 हजार 455 छात्रों ने परीक्षा दी, जिसमें से 1 लाख 59 हजार 313 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं. गत वर्ष संभाग का नतीजा 71.98 फीसदी ही रहा था. इस तरह रिजल्ट में गत वर्ष की तुलना में 23 फीसदी से बढ़ोतरी हुई है, जिसके लिए बोर्ड ने दोबारा शुरू हुई इंटरनल असेसमेंट को कारण बताया है. अमरावती बोर्ड महाराष्ट्र में 5वें स्थान पर रहा. जबकि पिछले वर्ष 8वें स्थान पर था.

 संभाग में अमरावती पिछड़ा
गौरवशाली परंपरा कायम रखते हुए फिर एक बार लड़कियों ने बाजी मारी है. इस वर्ष 90,164 छात्र तथा 78,441 छात्राएं उत्तीर्ण हुई है, जिसमें लड़कों का प्रतिशत 93.72 तथा लड़कियों का प्रतिशत 96.76 फीसदी रहा. लेकिन गत वर्ष तीसरे स्थान पर रहा अमरावती जिला इस वर्ष संभाग से पांचवें स्थान पर रहा. संभाग में बुलढाना जिले के 96.10 प्रश छात्र उत्तीर्ण हुए. जबकि वाशिम जिला 96.09 प्रश अंक लेकर दूसरे स्थान पर रहा. अकोला जिले के छात्रों ने 95.52 प्रश और यवतमाल जिले के छात्रों ने 94.63 प्रश अंक हासिल किए. अमरावती जिले के 93.94 प्रश छात्र उतीर्ण हुए है, जिसमें ग्रेड 1 में 59,035 तथा ग्रेड 2 में 35,425 छात्रों ने गुणवत्ता सूची में नाम दर्ज किया है. 60 विषयों में से 20 विषयों में शतप्रतिशत अंक छात्र छात्राओं ने हासिल किए. 

61 दोषी 
बोर्ड की पत्रकार परिषद में विभागीय सचिव अनिल पारधी ने बताया कि परीक्षा के दौरान 241 उड़न दस्ते तैयार किये गये थे, जिससे 61 दोषियों को पकड़ा गया, जिसमें अकोला में 7, अमरावती में 13, बुलढाना में 8, यवतमाल में 7 और वाशिम में सर्वाधिक 26 दोषी पाये गये. दोषियों को जिस पर्चे के दौरान रंगेहाथ पकड़ा गया, उस पर्चे में फेल करने की कार्रवाई की जायेगी. 

अमरावती. पारिवारिक कारणों के झगड़े में छोटे भाई ने बडे भाई को परिवार के सदस्यों की सहायता से सब्बल (लोहे का राड) मारकर निर्मम हत्या कर दी. गाडगेनगर पुलिस ने पिता, माता समेत 4 सदस्यों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है. मृतक राहुल सुभाष ससाने (34) है. हत्यारे छोटे भाई प्रफुल्ल सुभाष ससाने (24) को पुलिस ने हिरासत में लेकर 31 जुलाई तक पुलिस कस्टड़ी में लिया है.

शराब पीकर लड़ाई झगड़े से परेशान
राहुल सब्जी विक्रेता था. वह रोजाना शाम के समय शराब पीकर परिवार के सदस्यों से विवाद करता था, जिससे परिजन परेशान हो गए थे. मंगलवार की शाम 7 बजे भी राहुल शराब पीकर घर आया. यहां माता-पिता से लड़ाई झगड़ा करने लगा. इसी दौरान प्रफुल्ल ने लोहे के सब्बल से उसके सिर, पैर पर हमला किया, जबकि परिवार के अन्य सदस्यों ने राहुल को पकड़कर रखा. इस मारपीट में राहुल की मौत हो गई. सूचना पर गाडगेनगर पुलिस वहां पहुंची. पुलिस ने आरोपी प्रफुल्ल ससाने को हिरासत में लिया है. जिसे कोर्ट में पेश कर 31 जुलाई तक कस्टड़ी में लिया है.

सिंदेवाही. मंगलवार 28 जुलाई की सुबह सिंदेवाही टाऊन में पेट्रोलिंग के दौरान सिंदेवाही से राजोली मार्ग पर सिंदेवाही पुलिस को पेटगांव की ओर जाते समय सरडपार गांव के पास एक कत्थे रंग का ट्रक संदिग्ध अवस्था में जाते दिखाई दिया. उसे रोकने का प्रयास किया तो पुलिस को देख ट्रक चालक फौजी ढाबे के पास ट्रक छोड़कर भाग निकला.

ली गई तलाशी
ट्रक क्र.एमएच 31  सीबी 3677 की तलाशी ली गई तो ट्रक के केबिन ट्रक का पिछला हिस्सा काले रंग की तिरपाल से ढंका हुआ था. उसमें तेल के खाली पीपे और अवैध रूप से शराब पायी गई. इसमें 4 लाख 75 हजार 200 रूपयों की 33 नग खड्डे के बॉक्स में 48 नग के हिसाब से 1584 नग मैकडॉल कंपनी की विदेशी शराब मिली. 5 लाख 70 हजार की कुल 29 नगद खड्ढे के बॉक्स में 100 नग के हिसाब से 2900 नगद एवं कुल 7 बोरियों में कुल 2800 नग समेत कुल 5700 नगद देशी शराब सुपर सानिक रोकेट संतरा नामक शराब प्लास्टिक शीशियों में थी. 1000 रूपये के 200 नग टीन के खाली पीपे जब्त किए गए. ट्रक की कीमत 8 लाख समेत कुल 18 लाख 46 हजार 200 रूपयों का माल जब्त किया गया. आगे की जांच पुलिस निरीक्षक निशिकांत रामटेके, पुलिस उपनिरीक्षक गोपीचंद नेरकर एवं सहयेागी कर रहे हैं.

चंद्रपुर. स्थानीय जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक के अध्यक्ष मनोहर पाउनकर तथा मुख्य कार्यकारी अधिकारी सिद्धार्थ दुबे को 3 दिन के पुलिस रिमांड में भेजा गया है. बैंक में आर्थिक अनियमितता तथा हेराफेरी के आरोप में दोनों को आर्थिक अपराध शाखा ने आत्मसमर्पण के बाद सोमवार शाम को गिरफ्तार किया था.

खारिज हुई याचिका
दोनों के खिलाफ पुलिस ने 15 दिन पहले ही अपराध दर्ज कर लिया था. गिरफ्तारी से बचने के लिए दोनों ने स्थानीय न्यायालय में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया था. तत्पश्चात दोनों ने उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ में भी अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी जहां कोर्ट ने सेशन कोर्ट के ही निर्णय को कायम करते हुए उनकी अग्रिम जमानत याचिका ठुकरा दी थी. अतः सोमवार शाम को दोनों आरोपियों ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण करते हुए अपनी गिरफ्तारी दी थी.

सिंदेवाही. सिंदेवाही शहर के जयस्वाल कालोनी में 4 कोरेाना बाधित पाए जाने से प्रशासन में खलबली मच गयी. प्रशासन ने संक्रमण न बढ़ने के उद्देश्य से कालोनी परिसर को सील कर दिया है.

इस समय सिंदेवाही तहसीलदार गणेश जगदाले, पुलिस निरिक्षक निशिकांत रामटेके, सिंदेवाही नगरपंचायत मुख्याधिकारी डा. सुप्रिया राठोड़, स्वास्थ्य अधिकारी डा. मानकर, डा. कुंभरे आदि उपस्थित थे.

चारों कोरोना बाधित एक ही परिवार के व्यक्ति हैं. वे नागपुर में एक विवाह में गए थे. शुक्रवार की रात सिंदेवाही लौटने पर दूसरे दिन उन्हें नगरपंचायत ने क्वारन्टाइन किया. उनकी रिपोर्ट पाजिटिव आई. तहसील में कुल 6 पाजिटिव पाए गए. 4 सिंदेवाही, एक गुंजेवाही तो एक पेंढरी मक्ता का है. यह सभी बाहर गांव से आने से उन्हें त्वरित 14 दिन के लिए निगरानी में रखा गया था. वे अब प्रशासन की निगरानी में हैं.

गड़चांदुर. परिसर में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा मंगलवार से लेकर गुरूवार 30 जुलाई तक कड़े लॉकडाउन की घोषणा के चलते यहां पूरे परिसर में दिन भर सन्नाटा छाया रहा. सभी दूकानें बंद रही. जीवनावश्यक वस्तूओं की दूकानें छोड़कर अन्य सभी दूकानें बंद रही. लॉकडाऊन को देखते हुए नगरपालिका प्रशासन की ओर से समूचित व्यवस्था की गई थी.

था पुलिस बंदोबश्त
सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस बल को तैनात किया गया था. इस बीच कोरोना प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण का काम युध्दस्तर पर जारी था. गड़चांदुर में अधिक पैमाने में औद्योगिक क्षेत्र होने से अधिकांश कारखाने विशेषकर सीमेंट कारखानों के ट्रक चालकों की अधिकाधिक जांच इस लॉकडाऊन में की जा रही है.

31 से दी जाएगी छूट
इस दौरान आयएलआय मरीजों पर निगरानी और परीक्षण भी किया जा रहा है. शहर में मेडिकल, अस्पताल, शासकीय कार्यालयों में ही लोग नजर आये. अन्य स्थानों पर लोगों ने घरों में रहना बेहतर समझा. प्रशासन के अनुसार आगामी 31 जुलाई से 2 अगस्त तक लॉकडाउन में कुछ मामलों में ढील दी जाएगी. इसमें जीवनावश्यक वस्तूओं की दूकानें सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक शुरू रहेंगी. रविवार को पूरी तरह से बंद रखी जाएंगी. शासकीय कार्यालय नियमित रूप से शुरू रहेंगे. अंतिम संस्कार में 20 लोगों की उपस्थिति की मंजूरी दी जाएगी.

परतवाड़ा. रविवार को शहर के जयस्थंभ परिसर में झंडे लगाने की बात को लेकर 2 गुटों में जम कर विवाद हो गया. कुछ ही देर में विवाद संघर्ष में बदल गया. इसकी सूचना पुलिस को मिलते ही पुलिस ने घटना स्थल पर पहुंचकर स्थिति नियंत्रित की. लोगों ने अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की गई. हालांकि इस मामले में किसी ने भी पुलिस के पास कोई शिकायत नहीं की. लेकिन स्थिति को भांपते हुए पुलिस ने यहां पर दंगा नियंत्रण पथक व एसआपीएफ की टुकड़ी बुलाई. 

झंडे लगाने को लेकर विवाद
सीएम के जन्मदिन के उपलक्ष में रविवार को रात 10 बजे तिलक चौक से जयस्थंभ चौक तक झंडे लगाए जा रहे थे. इसी बात को लेकर 2 गुटों में संषर्घ हुआ. विवाद मारपीट पर पहुंच गया. परिसर में पथराव किए जाने की भी चर्चा पूरे शहर में रही,  जिसके बाद पुलिस ने बंदोबस्त लगाया. क्षेत्र में सीसीटीवी कैमरों के फुटेज लिए गए. जिन्हें अब खंगाला जा रहा है. पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. 

शांति भंग न करें
धर्म के नाम पर विवाद कर शहर की एकता को बाधित करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाएगा. अपने शहर में शांति व सुरक्षा बनाए रखना हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है.-सदानंद मानकर, थानेदार

अमरावती. स्वच्छ महाराष्ट्र अभियान के अंतर्गत बडनेरा जोन में शौचालय निर्माण के नाम पर 74.80 लाख के फर्जी बिल प्रकरण में गिरफ्तार मनपा लिपिक अनुप भगवान सारवान (38, महात्मा फुलेनगर) तथा कनिष्ठ लिपिक संदीप सुरेश रायकवाड (28, वडुरा, बडनेरा) को कोर्ट में पेश कर 30 जुलाई तक पुलिस कस्टड़ी में लिया है.  आर्थिक अपराध शाखा ने मंगलवार की दोपहर दोनों को कोर्ट में पेश किया. आरोपियों से फर्जी बिल के बारे में पूछताछ करने के लिए पुलिस कस्टड़ी की मांग की, जिस पर कोर्ट ने उन्हें 30 जुलाई तक पुलिस कस्टड़ी में लेने के आदेश दिये.

अंतिम संस्कार में शामिल होने की दी अनुमति
मंगलवार की सुबह आरोपी संदीप रायकवाड की मां का निधन हो गया, जिसका अंतिम संस्कार देर शाम होने से कोर्ट ने पुलिस को आदेश दिए कि संदीप को उसके मां के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए ले जाये. देर शाम पुलिस ने कोर्ट के आदेशानुसार उसे घर ले जाने की तैयारियां की थी.

कब सौंपेगी समिति जांच रिपोर्ट
महानगरपालिका में करोड़ों रुपयों के शौचालय घोटाले की रिपोर्ट समयावधि समाप्त होने के बावजूद निगमायुक्त को सौंपी नहीं गई है, जिसके चलते मनपा की जांच समिति भी क्या रिपोर्ट सौंपती है और उसमें कौन कौन दोषी बताये जाते है. इसका सभी को इंतजार है. 

वरुड़. नगराध्यक्ष स्वाति आंडे के खिलाफ स्वजनों के साथ ही विपक्ष ने मोर्चा खोल दिया है. अविश्वास प्रस्ताव दायर किये जाने के मामले में अब कलेक्टर शैलेश नवाल ने जांच समिति के गठन के आदेश दिए है. लेकिन पूर्व कृषि मंत्री डा. अनिल बोंडे ने इस पूरे मामले के बारे में कोई जानकारी नहीं होने की बात स्पष्ट की है. जबकि आरोपों में घिरी नगराध्यक्ष आंडे ने पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों पर मामले को तूल देने का आरोप लगा रही है. 

BJP के 11 पार्षद खिलाफ में 
24 सदस्यीय नप के कुल 18 सदस्यों ने सोमवार को कलेक्टर के पास नगराध्यक्ष आंडे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दायर किया. इन नगरसेवकों में भाजपा के 11 नगरसेवक भी शामिल है, जिसके बाद जिलाधिकारी ने जांच गठन के आदेश दिए. लेकिन यह पूरा मामला राजनीतिक उठापटक के तहत देखा जा रहा है. आंडे जनता के बीच से निर्वाचित नगराध्यक्ष है. लेकिन आरोपकर्ता पार्षद भ्रष्टाचार के साथ ही नगराध्यक्ष के पति के कामकाज में हस्तक्षेप को लेकर बार-बार संताप जता चुके है. 

पार्षदों की नाराजी करेंगे दूर
मुझे इस विषय में पहले कोई जानकारी नहीं थी. अब संज्ञान लेकर पार्षदों की नाराजी दूर करने का प्रयास करुंगा. यह पार्टी का मामला है. समन्वय से हल करेंगे.-डा. अनिल बोंडे, पूर्व कृषि मंत्री

पार्षदों को विश्वास में लिया
मैंने हर काम पार्षदों को विश्वास में लेकर ही किया है. अविश्वास प्रस्ताव में पार्टी के ही कुछ वरिष्ठ पदाधिकारियों का हाथ है. इस तरह की साजिश गलत है. -स्वाति आंडे, नगराध्यक्ष

अमरावती. कोरोना समाप्त होने की बजाए और भी बढ़ता जा रहा है. शहर के बाद ग्रामीण में संक्रमण पैर पसारने लगा है, जिसकी गंभीर दखल लेते हुए पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर के आदेश पर जिला प्रशासन ने भी टेस्ट की गति में बढ़ा दी है. 24 दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों में 1,827 एंटीजन रैपिड टेस्ट कराये गये, जबकि मनपा क्षेत्र में 1,650 टेस्ट हुए है. इस टेस्ट के लिए मनपा के पास 2 और जिला प्रशासन के पास 2 अस्पताल है. इसके अलावा भी कोरोना थ्रोट स्वैब जांच में भी मनपा को पछाड़ते हुए जिला व ग्रामीण में सर्वाधिक टेस्ट कराये गये है. 

4 माह में 31,874 की टेस्ट
4 माह में मनपा व जिला प्रशासन ने कुल 31,874 लोगों की कोरोना टेस्ट करायी है, जिसमें से 19,882 नमूने जांच के लिए भेजे गये. हालांकि उसमें से 17,750 की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई. लेकिन कोरोना पाजिटिव मरीजों के आंकड़े भी बढ़ते जा रहे है. मनपा की बात करें तो 4 माह में 31,000 में से 12,589 टेस्ट कराये गये है. टेस्ट में अव्वल रहने वाली मनपा आखिरकार टेस्ट में पीछे हट रही है. वहीं जिला परिषद के डीएचओ के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में 4,500 से अधिक थ्रोट स्वैब जांच करायी. 

रैपिड टेस्ट ही एकमात्र कारण
आंकड़े बढ़ने का एंटीजन रैपिड टेस्ट ही एकमात्र कारण है. इस टेस्ट के चलते कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आये लोगों की टेस्ट भी जल्दी करायी जाती है. संदिग्धों की टेस्ट भी इसी के माध्यम से की जा रही है. जबकि ऐसा नहीं है कि लोगों द्वारा थ्रोट स्वैब जांच में कमी आ रही है.-श्यामसुंदर निकम, जिला शल्यचिकत्सक

मनपा ने पूरी ताकत झोंकी
शहर में कोई भी संदिग्ध अथवा पाजिटिव के संपर्क में आनेवाला जांच के बगैर रहे इसलिए मनपा ने पूरी ताकद झोंक दी है. रैपिड टेस्ट में भी 24 दिन में 1,600 से अधिक लोगों की जांच करायी है.-प्रशांत रोडे, निगमायुक्त

गडचिरोली. तहसील के साथ जिले में इस वर्ष अपेक्षित बारिश नहीं हुई है. जिससे रोपाई कार्य प्रभावित हुए है. जुलाई माह समाप्ती के कगार पर है. फिर भी अबतक धुआंधार बारिश नहीं होने से धान धान रोपाई कार्य का समयावधि भी समाप्ती के कगार पर पहुंचा है. जिससे किसान चिंता में डूबा है. 

4 नक्षत्र में रिमझिम बारिश
बारिश के प्रमुख 4 नक्षत्र होनेवाले रोहिणी, मृग, आर्द्रा, पुष्य समाप्त हुए है, मात्र अबतक जिले में अपेक्षित बारीश नहीं हुई है. जिससे धान फसलों की रोपाई प्रभावित हुई है. अबतक अपेक्षीत बारिश नहीं होने से जिले के तालाब, नदी, नालों के जलस्तर में वृद्धी नहीं हुई है. आगामी कुछ दिन में धुआंधार बारिश न होने पर धान फसलों के रोपाई की समयावधि भी समाप्त होनेवाली है. इसके बाद रोपाई होने पर उत्पादन में व्यापक घट होने की संभावना किसानों द्वारा व्यक्त की जा रही है. 

भंडारा. पूर्व विदर्भ में विस्तारित एवं आर्थिक विकास के कारण आम लोगों की बैंक के रूप में जानी जानेवाली दी भंडारा अर्बन को आप. बैंक के उपाध्यक्ष पद पर एड. जयंत वैरागड़े का निर्विरोध चयन हुआ. 21 जनवरी 1971 में स्थापित बैंक ने भंडारा, गोंदिया, चंद्रपुर, नागपुर एवं गड़चिरोली में पहचान बनाई है. कई लोगों को रोजगार एवं आर्थिक मदद देकर अर्बन बैंक ने आर्थिक विकास किया है.

इस अवसर पर अर्बन बैंक के अध्यक्ष नाना पंचबुद्धे, पूर्व विधायक राजेंद्र जैन, संचालक रामदास शहारे, धनंजय दलाल, महेंद्र गडकरी, डा. जगदीश निंबार्ते, एड. विनयमोहन पशीने, पांडूरंग खाटिक, उद्धव डोरले, लीलाधर वाड़ीभस्मे, चिंतामण मेहर, गोपीचंद थवानी, ज्योति बावनकर, सुमित हेडा, हेमंत महाकालकर, हीरालाल बांगडकर, विलास काटेखाये आदि संचालक उपस्थित थे. चुनाव निर्णय अधिकारी के रूप में सहायक निबंधक हटवार, नीलेश जिभकाटे ने काम देखा.

भंडारा (का). पढ़े लिख युवकों को वर्तमान में नौकरी आसानी से नहीं मिल पा रही है. ऐसे में बहुत से युवक अपना ध्यान आधुनिक खेती की ओर लगा रहे हैं. रोजगार के घटते अवसरों के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में युवाओं ने आधुनिक खेती को ही अपना करियर बनाने पर जोर देना शुरू कर दिया है.

आधुनिक कृषि पर जोर
भंडारा के पास स्थित गुंथारा के महेश भोयर को बचपन से ही शिक्षा के प्रति गहरी रूचि रही है. महेष ने स्नातक तक की शिक्षा अर्जित की है. लेकिन उसे नौकरी नहीं मिली. बार-बार प्रयास करने के बाद भी जब महेश को नौकरी नहीं मिली तो उसने अपने गांव में ही आधुनिक कृषि करने का निर्णय लिया. 

अपनाई SRT पद्धति
भोयर के पास डेढ़ एकड़ जमीन है. भोयर ने एक वर्ष पूर्व आधे एकड़ जमीन पर एसआरटी पद्धति से धान की फसल की बुआई की. खेत में रहकर काम करते- करते उसे कृषि कार्य करना आसान लगने लगा और इस वजह से भोयर ने इस वर्ष डेढ़ एकड़ में आधुनिक तरीके से कृषि करने संकल्प किया. इस आधुनिक कृषि में कार्य करने पर खेत में कीचड़ नहीं होता, साथ ही इस तकनीक में आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग किया. आधुनिक तकनीक का अनुकरण कर प्रभाकर गोमासे, दिगंबर गोमासे तथा अतुल नागदेवे जैसे किसानों ने भी इसी तरह धान की बुआई की. 

भंडारा. कोका अभयारण्य के बफर जोन में आने वाले लाखनी तहसील के गोंडसावरी में रात के समय गोठे में बंधी 5 बकरियों का तेंदुए ने शिकार किया. इस घटना से गांववासियों में दहशत फैल गई है.

लाखनी तहसील के गोंडसावरी, रेंगेपार, चिखलाबोंडी, दैतमांगली, परसोडी, केसलवाडा आदि गांव कोका अभयारण्य समीप होकर बफर जोन में आते हैं. अभयारण्य के वन्यप्राणी तथा हिंसक जनावर गांव की ओर आते हैं. मवेशियों का बड़े पैमाने पर शिकार हो रही है. इसके पूर्व भी इस परिसर में ऐसे कई घटना हो चुकी है. गोंडसावरी के श्रीकृष्ण तुमसरे एवं नेहरू तुमसरे के गोठे में बंधी बकरी पर तेंदुए ने हमला कर 5 बकरियों को अपना शिकार बनाया. इसमें श्रीकृष्ण तुमसरे की 2 बकरियां एवं नेहरू तुमसरे की 3 बकरियों का समावेश है.

इस घटना की जानकारी लाखनी वनविभाग को दी गई. लाखनी वनविभाग के क्षेत्र सहायक बी.के. राऊत, वनरक्षक के.एस. सानप, वन मजदूर सैय्यद ने घटनास्थल पर पहुंचकर घटना का पंचनामा किया. लाखनी के पशुवैद्यकीय अधिकारी डा. गुणवंत भडके ने पीएम किया. वनविभाग ने वन्यप्राणियों का बंदोबस्त करने की मांग ग्रामवासियों ने की है.

गोबरवाही-तुमसर. तहसील के राजापुर गांव में अंधविश्वास व जादू टोना के संदेह पर शनिवार की रात गांव के 4 लोगों को वस्त्रहीन कर कपड़े जलाए व पेट्रोल, केरोसिन डालकर जिंदा जलाने का प्रयास किये जाने का मामला सामने आया है. इस घटना से गांव में तनाव का वातावरण निर्माण हो गया है. पुलिस ने इस मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

वस्त्रहीन कर पेट्रोल व केरोसिन डाला
जानकारी के अनुसार राजापुर की नाई समाज की महिला पर जादू-टोना किये जाने के संदेह में ग्रामीणों ने शनिवार की रात राजापुर से चिखला की ओर जाने वाले मार्ग के चौराहे पर ओमप्रकाश मेश्राम को बुलाकर उसकी चप्पल जूतों से पिटाई की. इसके बाद कचरु राऊत, मनोहर गोटे व कचरू गौपाले को बुलाकर बेहरमी से पिटाई की. उन्हें वस्त्रहीन कर कपड़े उतारकर जलाए गए. इतना कुछ करने पर भी ग्रामीणों का गुस्सा शांत नहीं हुआ. गुस्साई भीड़ ने चारों पर पेट्रोल व केरोसिन छिड़ककर जिंदा जलाने का प्रयास किया. इस बीच बारिश होने व पुलिस पहुंचने उनकी जान बच गई.

पुलिस ने चारों जख्मियों को इलाज के लिए गोबरवाही के स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचाया. इसमें ओमप्रकाश मेश्राम (50) व कूंदन गौपाले (32) ज्यादा झुलस गये. उन्हें उपजिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

अकोला. किसान आत्महत्या प्रकरण के संदर्भ में शीघ्र मदद देने के लिए जिलाधिकारी कार्यालय के कक्ष में जिलास्तरीय समिति की बैठक हुई.  अकोला जिले के किसान आत्महत्या के 24 प्रकरण मदद के लिए पात्र ठहराये गए हैं. जबकि 6 प्रकरण अपात्र घोषित किए गए तथा 4 किसान आत्महत्या प्रकरणों की फिर से जांच करने के निर्देश दिए गए हैं.  

बैठक जिले के 35 किसान आत्महत्या प्रकरणों पर चर्चा की गई. पात्र प्रकरणों में अकोला तहसील के ग्राम आखातवाडा के किसान प्रवीण मोहोड, ग्राम म्हातोड़ी के सुशांत सिरसाट, ग्राम वडद खुर्द के राजकुमार गवई, धामना के तेजराव भांबेरे, गोरेगांव के धनराज तायडे, बार्शीटाकली तहसील के ग्राम पार्डी निवासी किसान शुभम काकड, संदीप काकड, ग्राम धाबा के संदीप चांभारे, दगड़पारवा के शेषराव महल्ले, बालापुर तहसील के ग्राम कान्हेरी निवासी किसान बाबुराव मुंडे, वाडेगांव के महादेव कातखेडे, ग्राम हसनापुर के पुरुषोत्तम राऊत, कोलासा के देवराव गाड़गे, वाडेगांव के नारायण सरप, अकोट तहसील के ग्राम वस्तापुर निवासी श्रीराम मावस्कर, मोहाला के इनायत खां मिया खां पटेल, पातुर तहसील के ग्राम खानापुर निवासी किसान प्रवीण सिरसाट, सस्ती के महादेव बंड, कार्ला के सुभाष बोदडे, पिंपलडोली के दीपक डाखोरे, चान्नी के नारायण निलखन, तेल्हारा तहसील के मिलिंद नगर निवासी अनिकेत इंगले, वडगांव रोठे के मुरलीधर बरिंगे और ग्राम जस्तगांव के किसान प्रकाश मोहोड के आत्महत्या प्रकरणों के लिए मदद देने का निर्णय लिया गया. 

बैठक में जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर, निवासी उप जिलाधिकारी संजय खड़से, जिप के कृषि सभापति पंजाबराव वडाल, अकोला पंस के सभापति वसंतराव नागे, डा.प्रमोद चोरे, जिला अग्रणी बैंक के व्यवस्थापक आलोक तारेणिया, प्रभारी जिला उप निबंधक शशिकांत खाडे सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे. 

चंद्रपुर. नागपुर से चंद्रपुर की ओर विदेशी शराब की तस्करी किएजाने की गुप्त सूचना मिलने पर पुलिस ने आज रविवार के तडके 3 बजे पेट्रोल पम्प टप्पा में जाल बिछाकर शराब तस्करी को पकडने का प्रयास किया. पुलिस को देख शराब तस्कर वाहन छोड़कर भाग निकला. अपराध अन्वेषण पथक ने वाहन की जांच कर कुल 14 लाख80 हजार रूपयों का माल जब्त किया. आरोपी चालक के खिलाफ भद्रावती पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है. आरोपी की तलाश की जा रही है.

भद्रावती अपराध अन्वेषण विभाग के प्रमुख अमोल तुलजेवार को गुप्त सूचना मिली कि नागपुर से चाकलेट कलर की होन्डा सिटी कार में विदेशी शराब आ रही है. पुलिस ने पेट्रोल पंप टप्पा में तडके 3 बजे निगरानी रखी. नागपु से आ रही होंडा सिटी कार क्र. एमएच 15  डीसी 0504 वाहन के चालक ने पुलिस को देख गाडी को पहले रोक दिया और गाड़ी छोडकर भाग निकला. पुलिस को गाड़ी की डिक्की एवं बीच की सीट पर ऑफिसर च्वाईस विदेशी शराब की 3200 बोतल 32  खड्डों के बॉक्स में मिली.

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भद्रावती पुलिस थाने में मामला दर्ज किया है. आगे की जांच पुलिस उपनिरीक्षक अमोल तुलजेवार कर रहे है. उक्त कार्रवाई पुलिस अधीक्षक डा. महेश्वर रेड्डी, अप्पर पुलिस अधीक्षक प्रशांत खैरे, उपविभागीय पुलिस अधिकारी डा. निलेश पांडे के मार्गदर्शन में थानेदार सुनील सिंग पवार के नेतृत्व में पुलिस उपनिरीक्षक अमोल तुलजेवार, पुलिस सिपाही सचिन गुरनुले, केशव चिटगिरे, निकेश ठेंगे, हेमराज प्रधान ने की.

चिमूर. पुलिस ने ग्रामीण परिसर में कार्रवाई कर अवैध शराब विक्रेताओं की नकेल कसने का प्रयास कर रही है. पुलिस ने विविध स्थानों पर छापा मार कार्रवाई कर 7 आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लाखों की शराब जब्त की है.

लाकडाउन काल में शराब विक्रेताओं ने अब शहर के साथ ही ग्रामीण परिसर की ओर रुख किया है. इसलिए हर बीट पुलिस ने विशेष अभियान छेड रखा है. खडसंगी परिसर में सिल्वर रंग की शेवरलेट कार क्रं. एमएच 40 ए 7673 में 3.21 लाख की देसी शराब लाई जा रही थी. पुलिस ने कार की तलाशी लेकर शराब जब्त कर वाघेडा निवासी अक्षय लभाने अैर परमेश्वर झांबरे को गिरफ्तार कर लिया.

दूसरी कार्रवाई में खडसंगी निवासी विना चाचरकर, कैलाश् मेश्राम, और वाहनगांव निवासी बाजसिंह आंद्रेले से 5200 रुपये कीमत की देसी शराब जब्त कर अपराध दर्ज किया है. तीसरी कार्रवाई में पिपर्डा निवासी प्रफुल धडांजे के निवास से 45 हजार रुपये कीमत की महुआ शराब और पलसगांव में सुमित भिमटे से 1600 रुपए कीमत की शराब जब्त कर मामला दर्ज किया है. यह कार्रवाई उपविभागीय पुलिस अधिकारी अनुज तारे के मार्गदर्शन में थानेदार स्वप्निल धुले, विलास सोनुले, किशोर बोढे, दिनेश सुर्यवंशी, सतीश झिलपे, सचिन गजभिये, विशाल वाढई, विजय उपरे, मयूरी कोराम आदि ने की है.

अमरावती. बारिश का मौसम शुरू होते ही नर्सरी में खरीददारों की भीड़ लगती है. घरेलू पेड़-पौधों व कलमों से प्रतिवर्ष लाखों-करोड़ों का व्यवसाय होता है. लेकिन कोरोना ने व्यवसाय को भी ठप कर दिया है. नर्सरी में इक्का-दुक्का ग्राहक ही बमुश्किल पहुंच रहे हैं. हजारों पौधों की आवक अन्य राज्यों से होती है, जो इस बार पूरी तरह बंद है. नर्सरी व्यवसाय के साथ ही पूरक व्यवसाय पर भी असर पड़ा है. गमलों की दूकानें तो लगी है, लेकिन ग्राहक नदारद है. 

मांग और दाम घटे
शहर के नागरिक पर्यावरण प्रेमी होने के चलते प्रति वर्ष बड़े पैमाने पर पाम, क्रिसमस, आम, अमरुद, नींबूवर्गीय पौधों के साथ ही सजावट पौधों की बारिश में बड़े पैमाने पर डिमांड रहती है. बारिश खत्म होते ही शेवंती, गुलाब, रात-रानी, चमेली, मोगरा, मधुमालती व पेंटास समेत अन्य किस्मों के फूलों की मांग बढ़ जाती है. नर्सरी व्यवसायियों के साथ ही मिट्टी के गमलों, खाद के व्यवसायियों की भी दूकानें चलती है. इतना ही नहीं तो कटला चालकों, नर्सरी कामगारों को भी बड़े पैमाने पर रोजगार मिलता है. लेकिन इस बार नर्सरी में ही सन्नाटा है. अधिकांश नर्सरी संचालकों ने कामगारों की संख्या घटा दी है. 

दर्यापुर: तहसील में मूंग पर अज्ञात रोग का प्रार्दुभाव होने से किसान परेशान है. किसी तरह जुगाड़ कर  महंगे कीटनाशकों की खरीदी की जा रही है. अब वे कृषि विभाग से मार्गदर्शन के लिए दौड़भाग कर रहे हैं. पंजाबराव कृषि विश्वविद्यालय  की टीम तहसील के प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचकर जांच और सर्वेक्षण में जुटी है.

30 प्रश क्षेत्र में बुआई
तहसील में  कुल 75,608  हेक्टेयर बुआई क्षेत्र है. इसमें से लगभग 30 प्रतिशत अर्थात 21650 हेक्टेयर क्षेत्र में मूंग की बुआई की गई है. इस वर्ष अच्छी बारिश के कारण फसल भी अच्छी है. लेकिन अचानक अज्ञात रोग के कहर ने फसल खतरे में है.  टिड्डी जैसा दिखने वाले कीड़े पौधों की पत्तियां खराब कर रहे हैं. पत्तियों में छेद कर पत्ते पीले पड़ रहे हैं. 

तहसीलदार को निवेदन
तहसील के पेठ इतबारपुर, येवदा, सागरवाडी, पनोरा, गायवाडी, थिलोरी, बनोसा, बाभली, सहित अन्य क्षेत्रों में भी इस रोग का प्रार्दुभाव है. कृषि अधिकारी राजकुमार अड़गोकार, कृषि अधिकारी राजाभाऊ तराल, उध्दव बाहेकर आदि ने जायजा लिया. किसानों ने तहसीलदार को निवेदन देकर तुरंत उपाय योजना करने की मांग की है. इस समय राकां के डा. अभय पाटिल, तहसील अध्यक्ष अरविंद घाटे, वैभव गावंडे, नितिन गावंडे, प्रशांत मानकर सहित अनेक उपस्थित थे.

चांदूर बाजार. खरीफ के मौसम में बुआई के बाद बीज अंकुरित नहीं हो पाए. इस संदर्भ में तहसील कृषि अधिकारी के पास 389 शिकायतें पहुंची है. इनमें से 350 किसानों के खेतों के पंचनामें कृषि विभाग ने पूरे किए हैं. जबकि 15 किसानों ने शिकायतें वापस ली है. 

अच्छी बारिश से बुआई निपटी 
तहसील कृषि अधिकारी जोगदंड के अनुसार जिन किसानों के खेतों में बीज अंकुरित नहीं हुए है. ऐसे किसानों द्वारा लगातार शिकायतें की जा रही है. इस पर विभाग गंभीरता से ध्यान देते हुए पंचानामा तैयार कर रिपोर्ट बना रहा है. इस बार शुरू से ही बारिश अच्छी होने के चलते खरीफ की बुआई जल्द ही पूरी हो गई. लेकिन पिछले गुरुवार को हुई मूसलाधार बारिश के कारण खेतों में पानी भर गया है. इससे फसलें खराब होने की संभावना है. 

278 किसान मुआवजे की प्रतीक्षा में
बोगस बीज अंकुरित नहीं होने से 278 शिकायतकर्ता किसानों को अब मुआवजे का इंतजार है. 250 किसानों के खेतों का सर्वे पूरा हो चुका है. उनके साथ ही अन्य किसान भी मुआवजे के इंतजार में है. इस बार तहसील में तुअर की बुआई सर्वाधिक हुई है. खेतों में पानी भरने से  फसल को नुकसान हो सकता है. तहसील के कई किसान मुआवजे की मांग कर रहे हैं. हालांकि इस बार अच्छी बारिश हुई तथा  फसलों की स्थिति अच्छी होने से किसानों में राहत है.

भंडारा. शहर के राष्ट्रीय महामार्ग समीप कंटेनमेंट जोन का एटीएम फोड़कर चोरों ने 9 लाख 41 हजार रुपये पर हाथ साफ करने की घटना को अब 2 सप्ताह बित चुके है. बावजूद भी चोरों का अभी तक कोई पता नहीं है. सीसीटीवी का स्पष्ट फुटेज नहीं होने से जांच में परेशानी हो रही है. भंडारा पुलिस की एक टीम चोरों की खोज में है. इसमें एटीएम फोड़ने के लिए इस्तेमाल किया गया गैस कटर व वाहन पर जांच केंद्रीत की जा रही है.

शुरू नहीं थे सीसीटीव कैमरे
भंडारा शहर के राष्ट्रीय महामार्ग के इंद्रप्रस्थ काम्प्लेक्स के भारतीय स्टेट बैंक का एटीएम गैस कटर की सहायता से फोड़ने की घटना 4 सामने आई थी. खुलासा होते ही पुलिस ने विभिन्न मार्गों से चोरों की खोज करने का प्रयास किया. किंतु चोरों ने कोई भी सबूत नहीं रखा था. इस दौरान परिसर के कोई भी सीसीटीवी कैमरे शुरू नहीं थे. जिले में इसके पूर्व भी एटीएम फोड़ने का प्रयास हो चुका है, लेकिन अभी तक एटीएम फोड़नेवाले चोर पुलिस के हाथ नहीं लगे है.

तुमसर के एटीएम फोड़ने की घटना को अब 2 वर्ष हुए है, लेकिन चोरों का कोई पता नहीं है. भंडारा शहर में घटी एटीएम फोड़ने की घटना में स्थानीय राज्य का गिरोह होने की संभावना दिखाई नहीं देती है. पुलिस ने अलग-अलग तरीके से इसकी खोज लेने पर अंतरराज्यीय गिरोह का सामवेश होने की संभावना है. विशेषत: जिस तरीके से एटीएम फोड़ा गया उस आधार पर गिरोह शातिर होगा ऐसा संदेह है.

चंद्रपुर. अनुसूचित जनजाति तथा अन्य पारंपरिक वन निवासियों के दावों पर अंतिम निर्णय होने से पहले उनका अतिक्रमण नहीं हटाने के सख्त आदेश जिले के पालकमंत्री तथा जिलाधिकारी द्वारा दिए गए. इसके बावजूद वन विभाग उपरोक्त आदेशों को नहीं मानते हुए ग्रामीणों के अतिक्रमण हटा रहा है. यह कार्रवाई विशेषतः उन गांवों में ही ज्यादातर की जा रही है, जो जिले के पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार के निर्वाचन क्षेत्र में आते हैं.

जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार ने इस संदर्भ में 29 जून को स्पष्ट आदेश जारी किए थे. जिले के पालकमंत्री वडेट्टीवार ने भी 11 जुलाई को इस संदर्भ में निर्देश दिए थे. इसके बावजूद वन विभाग ने 2 दिन पहले सिंदेवाही तहसील के ग्राम सिरकड़ा में वन जमीन पर किए गए कथित अतिक्रमण के नाम पर कुछ किसानों द्वारा लगाई गई फसल पर ट्रैक्टर चला दिया. वन विभाग की इस कार्रवाई से ग्रामीणों में असंतोष बढ़ता जा रहा है.

फसलों को किया जा रहा नष्ट
वन विभाग ने इन दिनों वन भूमि पर अतिक्रमण कर फसल लेने वालों के खिलाफ मुहिम छेड़ दी है. वन भूमि पर रोपी गई फसल को नष्ट किया जा रहा है. वन विभाग ने यह कार्रवाई खासकर सिंदेवाही, सावली, ब्रम्हपुरी जैसे तहसीलों में आरंभ कर दी है. वन विभाग अब तक उपरोक्त तहसीलों के ग्राम वासेरा, सिरकाड़ा, खातेरा, शिवनी, पेठगाव, पांगड़ी, पिपरहेटी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई कर चुका है. ऐसी ही कार्रवाई का एक प्रयास पिछले दिनों ताड़ोबा क्षेत्र के निकट आगरझरी में भी हुआ था. यहां वन अधिकारी अतिक्रमण हटाने जेसीबी मशीनों के साथ आ धमके थे. किंतु वहां ग्रामीणों की एकजुटता तथा उनके रौद्र रूप को देखते हुए अधिकारियों को उल्टे पांव वापस लौटना पड़ा था.

 

चंद्रपुर. जिले में पिछले 5 दिनों से निरंतर जारी बारिश के क्रम ने जिले के धान उत्पादक किसानों को काफी राहत प्रदान की है. बारिश का क्रम रुक जाने से जिले के धान उत्पादक किसान काफी चिंतित थे. इस समय धान की रोपाई का काम पूरे जिले भर में युद्धस्तर पर जारी है. पिछले कुछ दिनों से बारिश नहीं होने से किसानों ने पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार से गोसीखुर्द का पानी छोड़ने की गुहार लगाई थी. पालकमंत्री के निर्देश पर गोसीखुर्द का पानी दाईं नहर में छोड़ने का काम शुरू किया गया था. तभी बारिश की पुन: शुरुआत होने से किसानों को काफी राहत मिली.

जुलाई का महीना महत्वपूर्ण
जिले की अधिकांश कृषि मानसून पर निर्भर है. मानसून की दृष्टि से जुलाई माह को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. जुलाई का महीना धान की रोपाई का मौसम होता है. इन दिनों खेतों में महिलाएं सावन के गीतों को गुनगुना कर धान की रोपाई में जुटी हुई हैं. कोरोना के संकट को देखते हुए सभी अपने स्वास्थ्य का भी पूरा ध्यान रख रहे हैं. बल्लारपुर में भी जोरदार बारिश का नजारा देखने को मिला. जिले में अब तक कुल 41.68 प्रश बारिश हुई है. हालांकि कृषि के लिहाज से यह कम है. अब तक 50 प्रश से अधिक बारिश का होना कृषि के लिए अनुकूल माना जाता है.

शहर में सड़कों का बेहाल
बारिश की वजह से कई स्थानों पर नालियां, नाले चोकअप होने से पानी सड़कों पर बह रहा है. चंद मिनटों में ही तालाब जैसी स्थिति बन जाती है. स्थानीय मूल रोड पर रेंजर कालेज के प्रवेश द्वार के सामने नाली चोकअप होने से पूरा पानी मूल रोड पर जमा होने से यहां सड़क बदहाल हो चुकी है. सड़क जगह-जगह से उखड़ गई है. गड्ढों में जमा पानी का अंदाज नहीं होने से दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है. मूल, गड़चिरोली होकर मध्यप्रदेश की ओर जाने वाला यह प्रमुख मार्ग है.

अमरावती. विवाहिता को प्रताड़ित व उससे अनैसर्गिक कृत्य करने के मामले में वरुड़ थाने में दर्ज शिकायत में न्यायिक अधिकारी व उनके परिवार के खिलाफ कोर्ट में अनुमति के बगैर चार्जशीट  दर्ज करने से हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है, यह आदेश न्यायमूर्ति जेड. ए.हक तथा एस मोदक की खंडपीठ ने दिए हैं.

6 लोगों के खिलाफ FIR
 पीड़ित महिला की शिकायत पर 6 लोगों के खिलाफ वरुड़ पुलिस स्टेशन में  एफआईआर दर्ज की गई थी, जिसमें आरोप लगाए गए थे कि न्यायिक अधिकारी व उनके परिवार वालों ने पीड़ित पत्नी को विवाह के बाद दहेज की मांग कर शारीरिक व मानसिक तकलीफ दी, इतना ही नहीं तो अनैसर्गिक  कृत्य  किया. न्यायिक अधिकारी व उनके परिवार वालों की ओर से अधिवक्ता एड. परवेज मिर्जा के माध्यम से मुंबई हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ में एफआईआर खारिज करने की याचिका दायर की गई. 

1 साल का विलंब
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह बताया कि एफआईआर दायर करने में पूरे 1 साल का विलंब है, जिसके बारे में कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया, वैसे ही पीड़िता व पति ने मिलकर पारिवारिक कोर्ट के समक्ष बहुत पहले ही सहमति से तलाक की याचिका दाखिल कर दी थी, जिसके पश्चात यह मामला दर्ज किया गया. एफआईआर सोची समझी आरोपी पर दबाव बनाने के लिए की गई है, जिस पर हाईकोर्ट ने चार्जशीट  दाखिल करने पर रोक लगा दी. एड. मिर्जा के साथ उनके सहयोगी आशीष चौबे व युसूफ शेख ने पैरवी की.

अमरावती. 8 लाख की जनसंख्या वाले शहर को मुलभूत सुविधाएं देने में कार्यरत अमरावती महानगरपालिका घोटालों के लिए पूरे राज्य में जानी जाती है. बीते एक दशक में महानगरपालिका में एक दर्जन से अधिक घोटाले हुए, लेकिन एक में भी जांच पूरी नहीं हुई और ना ही किसी पर आज तक कोई कार्रवाई हुई.

इस दौरान सभी राजनीतिक दलों की सत्ता महानगरपालिका पर रही. प्रशासन समेत किसी भी सियासी दल ने इन करोड़ों के घोटालों की जांच व कार्रवाई को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई. कोई ना कोई कनेक्शन के चलते सभी ‘तेरी भी चुप मेरी चुप’ का स्टैंड लेकर प्रत्येक घोटाला रफा-दफा होता रहा है. जबकि अपने खून-पसीने की कमाई टैक्स के रूप में महानगरपालिका में जमा करने वाले नागरिकों को कभी न्याय नहीं मिलता. 

करोड़ों बर्बाद 
मनपा में अनेक घोटाले हुए, जिनमें घोटालेबाजों ने करोड़ों‍ की निधि पर हाथ साफ किए. इनमें वर्तमान शौचालय घोटाले के साथ फायबर टॉयलेट घोटाला, मल्टियूटिलिटी वैन खरीदी घोटाला, हाईड्रॉलिक ऑटो खरीदी घोटाला, संपत्ति टैक्स वसूली घोटाला, मार्केट किराया वसूली घोटाला, कौशल्य विकास योजना, इंदला पावती घोटाला, अंबा नाला घोटाला, सांस्कृतिक भवन घोटाला आदि का प्रमुखता से उल्लेख किया जा सकता है.  

DPR पर भी करोड़ों फूंके
घोटालों में करोड़ों रुपये गवाने वाले मनपा प्रशासन ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के नाम पर भी करोड़ों की निधि फूंक दी है. प्रशासन ने हाकर्स जोन का सर्वेक्षण, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, छत्री तालाब सौंदर्यीकरण, नालों पर सुरक्षा दीवार निर्माण, संपत्ति असेसमेंट सर्वेक्षण आदि काम के लिए विभिन्न कंपनियों को डीपीआर बनाने नियुक्त किया गया. डीपीआर बनाने के लिए करोड़ों खर्च हो गए, लेकिन प्रत्यक्ष में काम शुरू नहीं हो पाया या फिर पूरा नहीं हुआ.

भंडारा. किसानों की आर्थिक उन्नति के लिए सरकार की ओर से विभिन्न योजनाएं अमल में लायी जा रही हैं. रेशम उद्योग कृषि पूरक उद्योग है. जिसके कारण किसानों के लिए उपयुक्त साबित हो रहा है. क्षेत्र के नागरिकों ने सरकार की ओर से रेशन उद्योग के लिए बढ़ाने देने की मांग की जा रही है. सरकारी नियमों के अनुसार लाभार्थियों को राशि की प्रतीक्षा करनी पड़ रही है. रेशम उद्योग के प्रति सरकार की उदासीनता ही नज़र आ रही है. 

पूरक व्यवसाय से सुधरेगी हालत
जिले के किसानों को कृषि के माध्यम से रेशम उद्योग शुरू करने पर लगातार किसानों में अकाल का सामना करने की ताकत आएगी. रेशम उद्योग शुरू करने के लिए सरकार की ओर से अनुदान दिया जाता है, किंतु जिला प्रशासन की ओर से भुगतान में विलंब किया जा रहा है. जिससे किसानों के समक्ष आर्थिक संकट बढ़ने लगा है.

नहीं दिखा रहे रुचि
लिहाजा किसानों ने रेशम उद्योग से कन्नी काटना शुरू कर दिया. रेशम उद्योग कृषि का पूरक होने के कारण इसे किसान करने में रूचि दिखाते हैं, लेकिन दिक्कत यह है कि इस उद्योग को शुरू करने के लिए जो खर्च सरकार की ओर से दिया जाता है, उसके भुगतान में बहुत विलंब हो रहा है. इस वजह से किसानों को यह उद्योग शुरू करने में भारी दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है. अन्य उद्योगों की तुलना में कम लागत वाला होने के बावजूद शुरू करने में किसान कतरा रहे हैं.  

लाखांदूर. नलों में दूषित पानी आने से लोगों को शुद्ध पानी के लिए 2 किमी की दूरी तय करना पड़ रहा है. बारिश के दिनों में पानी की गंभीर समस्या भागड़ी गांव के लोगों के सामने खड़ी हो गयी है. इस समस्या से शीघ्र निजात दिलाने की मांग की जा रही है. जल शुद्धिकरण केंद्र नहीं होने से लोगों को दूषित जलापूर्ति हो रही है. जल शुद्धिकरण के लिए प्रस्ताव भी सरकार को भेजा गया है, किंतु अब तक उस पर कोई विचार नहीं किया गया है.

उल्लेखनीय है कि 20 वर्षों पूर्व से भागड़ी गांव को जलापूर्ति करनेवाले नदी पात्र के विंधन कुएं के भूगर्भ से पानी का स्त्रोत बंद होने से ग्रामवासियों को बारिश के दिनों में नदी में आनेवाली बाढ़ का मलबायुक्त व दूषित पानी पीना पड़ रहा है. जिसके चलते कई ग्रामवासियों को कालरा बीमारी का संक्रमण हुआ है. बीमारी से बचाव के लिए गांव के नागरिक करीब 2 किमी दूरी से पीने का शुद्ध पानी लाते हैं. 

नागरिकों को हो रही परेशानी
लाखांदूर तहसील के भागड़ी वासियों को इस गंभीर समस्या का सामना करना पड़ रहा है. करीब 694 परिवार व 3,590 जनसंख्या होनेवाले भागड़ी गांव में चुलबंध नदीपात्र के विंधन कुएं से उपसा होकर 2 पानी की टंकियों से नलयोजना द्वारा ग्रामवासियों को पीने के पानी की आपूर्ति करना शुरू है. यह पानी पीने योग्य नहीं है. जिससे कुछ नागरिक गांव के हैंडपंप का पानी पीने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं. अधिकतम नागरिक गांव से 2 किमी दूरी के परिसर के कृषि बिजली पंप का पानी पीने के लिए ला रहे हैं. इस मामले में सरकार प्रशासन ने शीघ्र दखल लेकर पीने के शुद्ध पानी की आपूर्ति के लिए उपाय करने की मांग ग्रामवासियों ने की है. 

शीघ्र मिलेगा छुटकारा : सरपंच
ग्रापं भागडी सरपंच ताराचंद मातेरे ने बताया कि नदीपात्र के कुएं का जलस्त्रोत बंद पड़ने से गांव को दूषित जलापूर्ति हो रही है. शीघ्र ही इस समस्या से छुटकारा मिल जाएगा. वर्षभर पूर्व सरकार द्वारा जलशुद्धिकरण केंद्र की मंजूरी के लिए प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया है. 

अकोला. इस वर्ष खरीफ मौसम के लिए यूरिया खाद की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए जिले में 2,000 मीट्रिक टन से अधिक यूरिया खाद का स्टाक रखने के निर्देश राज्य के कृषि आयुक्तालय द्वारा महाराष्ट्र कृषि उद्योग विकास निगम को दिए हैं. जिले में यूरिया खाद का स्टाक करने की कार्रवाई शुरू की गई है. अंकुरित फसलों के लिए किसानों द्वारा यूरिया खाद की मांग बढ़ गई है लेकिन मांग की तुलना में जिला सहित अन्य जिलों में विविध स्थानों पर कृषि निविष्ठा केंद्रों से किसानों को यूरिया खाद न मिलने की शिकायतें मिली हैं. 

इसे देखते हुए यह निर्देश दिए गए हैं. यह जानकारी कृषि विकास अधिकारी डा. मुरली इंगले ने दी है. उन्होंने कहा कि सोयाबीन, उड़द, मूंग और तुअर की फसलों के लिए यूरिया खाद का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है.

कपास की फसल पर करें यूरिया खाद का उपयोग
अकोला जिले के किसान केवल कपास की फसल के लिए ही यूरिया खाद का उपयोग करें. यह सलाह कृषि विकास अधिकारी डा. इंगले ने दी है. जिला परिषद कृषि विभाग के सूत्रों के अनुसार अकोला जिले की सातों तहसीलों में स्थित कृषि सेवा केंद्र व खाद विक्रेताओं के पास वर्तमान समय में 3,233 मीट्रिक टन यूरिया खाद का स्टाक उपलब्ध है. 

अकोला. केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री संजय धोत्रे की अध्यक्षता में जिला विकास समन्वय व नियंत्रण समिति (दिशा) की सभा जिलाधिकारी कार्यालय के नियोजन भवन में हुई. इस वक्त राज्यमंत्री धोत्रे ने केंद्र सरकार की विविध योजनाओं का जायजा लिया. बैठक में जिला परिषद की अध्यक्षा प्रतिभा भोजने, महापौर अर्चना मसने, विधायक गोवर्धन शर्मा, विधायक रणधीर सावरकर, जिलाधिकारी जीतेंद्र पापलकर, पुलिस अधीक्षक जी. श्रीधर, मनपा आयुक्त संजय कापडणीस, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. सुभाष पवार, निवासी उपजिलाधिकारी संजय खडसे, जिला ग्रामीण विकास विभाग के प्रकल्प संचालक सूरज गोहाड उपस्थित थे.

5 नए उपकेंद्रों का कार्य पूर्ण
 जिले में चलाई जा रही केंद्र सरकार की विविध योजना व कार्यक्रमों, जिले के वर्तमान स्थिति का जायजा प्रस्तुत किया गया. जिसमें राष्ट्रीय भूमि अभिलेख विभाग द्वारा आधुनिकीकरण कार्यक्रम के अंतर्गत शत प्रतिशत अभिलेखों का स्कैनिंग किए जाने की जानकारी दी गई. पं. दीनदयाल उपाध्याय ग्रामज्योति योजना के अंतर्गत मालेगांव बाजार, पिंपरी खुर्द, अकोली जहांगीर, कान्हेंरी सरप व कुरुम के पांच नए उपकेंद्रों का कार्य पूर्ण कर कार्यान्वित करने तथा उपकेंद्र के डीपी की क्षमता बढ़ाने के लिए ग्राम माना, कारंजा रमजानपुर, पिंजर और निंबा उपकेंद्रों  की क्षमता बढ़ाने की जानकारी महावितरण के अधीक्षक अभियंता ने बैठक में दी.

–रेलवे माल धक्का का स्थलांतर करने के निर्देश
 धोत्रे ने अकोला के रेलवे माल धक्का का स्थलांतर शीघ्र ही बोरगांव मंजू में करने की निर्देश रेल विभाग को दिए. इसी तरह डाबकी रोड के उड़ानपुल का कार्य शीघ्र पूर्ण करने तथा अकोला रेलवे स्टेशन के आधुनिकीकरण का शुरू कार्य निर्धारित समय में पूरा करने की आदेश दिए. बैठक में विविध योजनाओं का जायजा लिया गया. संचालन जिला ग्रामीण विकास यंत्रणा के प्रकल्प संचालक सूरज गोहाड ने किया. इस अवसर पर विविध विभागों के विभाग प्रमुख उपस्थित थे. 

चंद्रपुर. जिले में अवैध शराब विक्री बंद करने को लेकर विधायक जोरगेवार ने आवाज उठाया है. इसीको लेकर जिले के एक अवैध शराब विक्रेता ने विधायक जोरगेवार को अवैध शराब बिक्री के मामले में एसपी के पास जाना बंद करे अन्यथा परिवार के किसी सदस्य के साथ अहित होने की धमकी का अज्ञात पत्र भेजा है. इन धमकीयों से घबरानेवाला विधायक नही ऐसे स्पष्ट शब्दों में संबंधित अज्ञात अवैध शराब विक्रेता को विधायक जोरगेवार ने सुनाया है. 

चंद्रपुर जिले में वर्ष 2015 में शराब बंदी अंमल में लायी गयी. जिले में शराबबंदी घोषित करने कईयों को रोजगार से हाथ धोना पडा. तो कुछ लोगों ने इसका लाभ लेते हुए अवैध तथा नकली शराब का कारोबार कर काफी धन प्राप्त किया. शराबबंदी पर सक्त कानुन का अंमल नही होने से जिले में अवैध शराबबिक्री पर अंकुश लगाने में पुलिस प्रशासन असफल हो रहा है. ऐसे में जिले में अवैध शराब बिक्री कराने पर वह आए दिन एसपी से चर्चा कर रहे थे. इससे कुछ अवैध शराब विक्रेता बोखलाए गए है. इस मामले में विधायक जोरगेवार ने अबतक किसी के खिलाफ शिकायत दर्ज नही की है. 

चंद्रपुर. माजरी में दो आरोपी विदेशी कट्टे तथा जिंदा कारतुस समेत टहल रहे थे. इसकी गुप्त सुचना पडोली पुलिस के स्थानिय अपराध शाखा को मिलने पर माजरी के शिवाजी नगर निवासी आरोपी शाहरूख अस्लम शेख 22 तथा राकीब सागीर अहमद सिद्दीकी 20 को गिरफ्तार किया गया. दो आरोपीयों की गिरफ्तारी से कई गुनाह सामने आने की संभावना जतायी जा रही है.   

माजरी पुलिस थाने में विविध अपराधों में फरार आरोपी शाहरूख अस्लम शेख व सिद्दीकी यह दोनो खुटाला परिसर में एमएच 34 के 8030 क्रमांक के कार से जाने की जानकारी पुलिस को मिली. पुलिस ने जाल बिछाकर दोनों आरोपीयेां को गिरफ्तार किया. दौरान उनके पास से एक विदेशी कट्टा, चार जिंदा कारतुस, एक देशी कट्टा, तलवार, चाकु समेत चौपहीया वाहन जब्त किया. मामले में पुलिस ने आरोपीयेां पर विविध धाराओं के तहत अपराध दर्ज कर गिरफ्तार किया.  

अबतक दोनो अपराधीयों ने एकता नगर तेलवासा में घरफोडी, घुग्घुस पुलिस स्टेशन के सरहद्द में मंदिर में चोरी, माजरी में चोरी किए जाने के अपराध को कबुला. पुलिस ने आरोपीयों के निवासस्थान की तलाशी लेने पर 5 लाख 43 हजार 450 रूपये का माल जब्त किया. आरेापीयेां पर भद्रावती, घुग्घुस, माजरी में विविध अपराध दर्ज है ओर वह उजागर हुए है. आरेापीयों को न्यायाल में उपस्थित करने पर पीसीआर में रखने के आदेश दिए है. जिससे अधिक मामले उजागर होने की संभावना है.    

यह कार्रवाई एसपी डा. महेश्वर रेड्डी, अप्पर पुलिस अधीक्षक प्रशांत खैरे के मार्गदर्शन में स्थानिय अपराध शाखा के पीआय ओमप्रकाश कोकाटे के नेतृत्व में जितेंद्र बोबडे, पुलिस उपनिरीक्षक विकास मुंढे, सचिन गदादे, केमेकर, संजय आतकुलवार, धनराज करकाडे, अमोल धंदरे, प्रशांत नागोसे, रवी पंधरे, जावेद सिद्दीकी, प्रफुल मेश्राम आदि ने की.

अमरावती: लॉकडाउन में आर्थिक तंगहाल किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना ने राहत दी है. वार्षिक  6,000   उपलब्ध  कराने  वाली  किसान  सम्मान  योजना  के अंतर्गत लॉकडाउन में संभाग के किसानों के बैंक खातों में 1 करोड़ 21 लाख 3 हजार 592 रुपए की किश्त जमा हुई है. वर्ष 2020-21 में पहली किश्त के रूप में 79 लाख 9 हजार 286 और दूसरी किश्त 41 लाख 4 हजार 306 रुपये केंद्र सरकार ने जमा करवाए. अप्रैल-मई में लॉकडाउन के दौरान किसानों के बैंक खातों में यह सम्मान राशि ऑनलाइन जमा की है.

संभाग में 13,43.074 पंजीबद्ध
 संभाग में कुल 13 लाख 43 हजार 74 किसानों का प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना में पंजीयन हुआ है. वर्ष 2019-20 में पांचों जिलों के पंजीबद्ध किसानों के खातों में 1 करोड़ 23 लाख 4,418, दूसरी किश्त-1 करोड़ 20 लाख 2 हजार 197 और तीसरी किश्त के रूप में 91 लाख 5 हजार 886 रुपये जमा करवाये गए थे. उसके बाद अब सीधे 2020-21 में प्रत्येक किसान को 6,000 रुपये के हिसाब से अप्रैल-मई में लॉकडाउन के दौरान यह सम्मान राशि पहली व दूसरी किश्त के रूप में जमा करवाई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2019-20 के बजट में इस योजना की घोषणा की थी. साथ ही इसे दिसंबर 2018 से लागू किया गया है.  

नांदगांव पेठ. हाईवे पर बंद पड़ी ट्रैवल्स की रिपेयरिंग करते समय तेज रफ्तार ट्रक ने बस को टक्कर मार दी, जिसमें यात्री शहनवाज खान (उत्तर प्रदेश) सहित बस चालक, क्लीनर भी गंभीर रूप से घायल हो गए. यह दुर्घटना मंगलवार की शाम को 7 बजे बोरगांव धर्माले उड्डाण पुल के पास घटी. बुधवार को जिला अस्तपाल में इलाज के दौरान शहनवाज की मौत हो गई. 

ट्रक चालक फरार
नागपुर से मुंबई जा रही सीटीजन ट्रैवल्स (एमपी 30 पी 8002) 1 यात्री को लेकर मुंबई जा रही थी. शाम 6 बजे बोरगांव धर्माले के पुल पर बस अचानक खराब हो गई. चालक अनुप कुमार, क्लिनर चेतन व यात्री शहनवाज खान (उत्तर प्रदेश) बस को सड़क के किनारे खड़ी कर काम करने लगे. तभी अचनाक एक ओवर टेक करने के चक्कर में तेज रफ्तार ट्रक ने तीनों को कुचल दिया, जिसमें चालक अनुप व यात्री शहनवाज गंभीर रूप से घायल हो गए. जबकि क्लिनर को चोटें आयी. घायलों को उपचार के लिए सरकारी अस्पताल में दाखिल किया गया है. जहां से उनकी गंभीर हालत के चलते उन्हें जिला सामान्य अस्पताल भेजा गया. जहां बुधवार को इलाज के दौरान शहनवाज ने दम तोड़ दिया. 

अंतरराज्यीय प्रवेश कैसे 
इस घटना के बाद आरोपी ट्रक चालक फरार बताया जा रहा है. लॉकडाउन में ट्रैवल्स को अन्य राज्यों में प्रवेश की अनुमति नहीं है. लेकिन इसके बावजूद नियमों को ताक पर रखते हुए नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है. एमपी से 1 यात्री लेकर महाराष्ट्र में यह ट्रैवल्स कैसे प्रवेश किया. इस मामले पुलिस जांच कर रही है.

अमरावती. अक्सर ऐसा सुनाई देता है कि पति द्वारा प्रताड़ना दिए जाने से पत्नी ने आत्महत्या जैसे कदम उठा लिए है, लेकिन फ्रेजरपुरा के यशोदानगर में इसके विपरित एक पत्नी की यातना से तंग आकर पति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतक पवन गणेश श्रीराव ( 35 यशोदानगर) है. फ्रेजरपुरा पुलिस ने आरोपी पत्नी के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

2 वर्ष पहले हुआ था विवाह
पुलिस सूत्रों के अनुसार 10 जुलाई 2018 को वलगांव निवासी युवती के साथ पवन का रिती रिवाज के साथ विवाह हुआ था. विवाह के बाद छोटी-छोटी बातों पर दोनों में विवाद होते थे. पत्नी बार-बार उससे पैसों की मांग करती थी, वहीं अपने पति के चरित्र पर संदेह कर झगड़ा करती थी. उसने पति से उसके नाम का खेत अपने नाम पर करने का तकाजा लगाकर परेशान कर रखा था, जिसे बेडरूम में आने से भी मना कर दिया था, जिसके कारण पवन घर के हाल में रह रहा था, पत्नी उससे विवादकर अपने मायके चली गई.

इस बात से मानसिक तनाव में आकर पवन ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सूचना पर फ्रेजरपुरा पुलिस में आकस्मिक मौत का मामला दर्ज किया. एएसआई अरुण मिश्रा ने मामले की जांच की, जिसमें पत्नी द्वारा प्रताड़ित करने की जानकारी सामने आते ही उसके खिलाफ दफा 306 के तहत मामला दर्ज किया.

विदर्भात सातत्याने वाढणाऱ्या रुग्णसंख्येने बुधवारी दहा हजारांचा टप्पा ओलांडला. २७५ रुग्णांचा उपचारादरम्यान मृत्यू झाला. दिलासादायक बाब म्हणजे ६ हजार ८०८ रुग्णांनी करोनावर मात केली आहे.

विदर्भातील पहिला करोनाबाधित नागपुरात ११ मार्च रोजी सापडला. त्यानंतर हळूहळू रुग्णसंख्या वाढत गेली. नागपूरपुरता मर्यादित असलेला करोना यवतमाळ आणि नंतर अकोल्यात पसरला. अनेक दिवस एकही रुग्ण नसलेल्या जिल्ह्यांतील रुग्णसंख्येने शंभर, दोनशे, पाचशेचे आकडे पार केले. बुधवारपर्यंतचा विचार करता नागपुरात सर्वाधिक ३,२९३ रुग्णांची नोंद झाली आहे. त्याखालोखाल अकोल्यात २,२४६, अमरावती १,४४५ तर बुलडाण्यात ८३४ रुग्णांची नोंद आहे. सर्वात कमी १०८ रुग्ण वर्धा जिल्ह्यात आढळले आहेत. गडचिरोली जिल्ह्यात माओवादविरोधी अभियानात महत्त्वपूर्ण भूमिका निभावणाऱ्या एसआरपीएफ आणि सीआरपीएफचे सुमारे २८६ जवान करोनाबाधित आढळले आहेत. हे चिंताजनक आकडे समोर येत असतानाच चंद्रपूर जिल्ह्याने करोनाने मृत्यू होणाऱ्या रुग्णांची शून्य संख्या कायम राखण्यात यश मिळविले आहे.

लाखांदूर. बारिश के 4 नक्षत्र बितने के बावजूद भी अभी तक तहसील में अतिवृष्टि नहीं हुई है. तहसील के कुछ क्षेत्रों में कृषि बिजली पम्प से तो कुछ क्षेत्रों में गोसी प्रकल्प के बाई नहर व इटियाडोह परियोजना के पानी से कुछ प्रमाण में रोपाई हुई. असिंचित किसानों की पर्याप्त बारिश के कारण रोपाई अटक गई है. जिससे किसान चिंता में पड़ गये है.

इस वर्ष के खरीफ सीजन में लाखांदूर तहसील में करीब 2,460 हेक्टेयर क्षेत्र में धान नर्सरी की बुआई की गई. केवल 560 हेक्टेयर क्षेत्र में आवत्या धान की बुआई की गई. बीजों की बुआई के आंकड़ेवारी अनुसार लाखांदूर तहसील में अधिकतम क्षेत्र में धान फसल की बुआई की जाएगी. कुछ क्षेत्र में कृषि बिजली पंप सिंचाई सुविधा रहने से बड़े पैमाने पर रोपाई हुई.

किसानों में फसल को लेकर चिंता
चौरास में गोसी प्रकल्प के बाई नहर का पानी छोड़ने से रोपाई के लिए किसानों को लाभ हुआ है. तहसील के शेष क्षेत्रों में इटियाडोह प्रकल्प के पानी से सिंचाई की जाने से इस क्षेत्र में भी रोपाई को प्रारंभ हुआ है. बारिश के 4 नक्षत्र बितने के बावजूद भी अभी तक तहसील में अतिवृष्टि दर्ज नहीं हुई है. जिसके कारण आगे के कार्यकाल में बुआई क्षेत्र की धान रोपाई संकट में आने का डर किसानों में व्यक्त किया जा रहा है.

पर्याप्त बारिश के अभाव से तहसील के असिंचित किसानों को कोई भी सिंचाई सुविधा उपलब्ध नहीं है. जिससे किसानों की धान नर्सरी योग्य रहने के बावजूद भी अटकने पानी के अभाव में रोपाई अटकने की संभावना है. गोसी प्रकल्प के बाई नहर का पानी छोड़ने से कुछ किसानों ने इंजन से सिंचाई के लिए जलापूर्ति की है. धान फसल रोपाई होने तक इस पानी का किसान लाभ ले पाएंगे. इसके पश्चात नहर की जलापूर्ति बंद होने पर आगे के कार्यकाल में किसानों पर फसल के लिए पानी का भीषण संकट निर्माण होने की संभावना है.

सिहोरा (सं). तुमसर तहसील के चांदपुर में रात 3 से 5.30 बजे के बीच हुई बारिश से देवदास कोहरे के गाय का गोठा गिर जाने से 5 बकरियों की घटनास्थल पर ही मृत्यु हुई. एक बकरी जख्मी हुई. इस गोठे में एक गाय, बैल एवं गाय का बछड़ा भी था. बछड़ा भी घायल हुआ है. गाय एवं बैल को भी चोट आई.

किया पंचनामा
घटना का पंचनामा कोतवाल दीपक वाघमारे एवं पटवारी कुंभारे ने किया. मृत बकरियों को पीएम के लिए कवलेवाड़ा के सरकारी पशु अस्पताल में भेजे जाने की जानकारी स्थानीय सरपंच उर्मिला लंजे ने दी. इस प्राकृतिक आपदा के कारण कोहरे परिवार पर आर्थिक संकट आया है. सरकारी योजना के तहत इस परिवार को आर्थिक मदद शीघ्र मिलनी चाहिए ऐसी मांग हो रही है. 

पूरा प्रयास करूंगी : तुरकर
जिप सदस्य प्रेरणा तुरकर ने कहा कि इस प्राकृतिक आपदा के कारण कोहरे पर आए आर्थिक संकट के लिए समय पर मदद मिलने के लिए वे पूरा प्रयास करेंगी. 

निधि की जानकारी पहुंचाउंगा : कुंभारे
टेमनी के पटवारी कुंभारे ने बताया कि पंचनामा कर तहसीलदार को जानकारी भेजी है. वहां से जो कुछ निधि आएगी उसकी जानकारी शीघ्र पहुंचाउंगा. 

आर्थिक भरपाई दें : लांजे
सरपंच उर्मिला लांजे ने कहा कि प्रात: में हुई बारिश से एक परिवार संकट में आया है. उनका हुआ आर्थिक नुकसान सरकार ने शीघ्र देना चाहिए. इसके लिए वे भी प्रयास करेंगी. 

अकोला. विधायक गोवर्धन शर्मा ने शहर में विकास कार्य करने के लिए सरकार से 100 करोड़ की मांग की है. उन्होंने कहा कि तत्कालीन भाजपा सरकार ने अकोला शहर का विकास करने के लिए 15 करोड़ रु. की निधि दी थी लेकिन वर्तमान महाविकास आघाड़ी सरकार द्वारा प्रक्रिया पूर्ण होने के बावजूद विकास कार्य रद्द कर जनता में असंतोष  बढ़ाया है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे व नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे भाजपा सरकार के विकास कार्य रद्द कर रही हैं. ऐसा न करते हुए अकोला शहर के विकास के लिए 100 करोड़ रु. की निधि दें और विदर्भ का समतोल विकास करें. 

रोक दिए विकासकार्य
शहर विकास के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने निधि दी, जिसमें तत्कालीन वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने सहयोग दिया. सन 2019 में तत्कालीन मुख्यमंत्री ने 15 करोड़ रु. की निधि दी लेकिन महाजनादेश का अनादर कर महाविकास आघाड़ी सत्ता में आई और विकास कार्य स्थिगित कर दिए गए.

मुख्यमंत्री ठाकरे को भेजा पत्र
 सरकार अकोला के विकास के लिए 100 करोड़ दें. सन 2004 में तत्कालीन मंत्री अजीत पवार ने शहर में जलसंकट दूर करने के लिए 5 करोड़  की निधि दी थी, उसका हम आज भी स्वागत करते हैं. विधायक शर्मा ने  कहा कि नई निधि देकर शहर विकास को गति दें, यह मांग मुख्यमंत्री से एक पत्र द्वारा की है. उन्होंने कहा कि अकोला में विकास कार्य रुके हैं, जिसके लिए सरकार निधि दें. साथ ही सुपर स्पेशालिटी हास्पिटल, विमानतल आदि के लिए भी राज्य सरकार निधि दें यह मांग विधायक गोवर्धन शर्मा ने की है और कहा कि वर्तमान सरकार विकास कार्यों में भेदभाव न करें. 

अकोला. कोरोना संक्रमण जांच के लिए जिले में रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जा रहे हैं. इसमें 830 जांच में 32 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है. यह जानकारी निवासी उपजिलाधिकारी प्रा. संजय खडसे ने दी है. जिले में मनपा सीमा में 46 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 5 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव है. अकोला में 11 स्वास्थ्य कर्मचारियों की जांच की गई है, जिसमें कोई पाजिटिव नहीं मिला है. अकोला ग्रामीण परिसर में 65 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 2 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है.

अकोट में 86 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 3 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है. बालापुर में 156 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 10 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव है. पातुर में 223 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 11 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव है. बार्शीटाकली में 26 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें कोई पाजिटिव नहीं मिला है.

तेल्हारा में 30 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें कोई पाजिटिव नहीं मिला है. मूर्तिजापुर में 187 व्यक्तियों की जांच की गई है, जिसमें 3 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है. ऐसे जिले में 830 जांच में 32 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव है. अब तक जिले में रैपिड एंटीजन टेस्ट व्दारा 3,204 जांच में 153 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाजिटिव है. यह जानकारी जिला प्रशासन ने दी है.

चंद्रपुर. पिछले कुछ दिनों से निरंतर बढते जा रह कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए कोविड-19 की अधिक से अधिक जांच करने एंव जांच रिपोर्ट शीघ्र प्राप्त करने के लिए चंद्रपुर महानगर पालिका क्षेत्र में महानगर पालिका द्वारा स्वयं का प्रथम कोविड-19 एटीजन टेस्टिंग सेंटर जटपुरा वार्ड के सरदार पटेल स्कूल में शुरू किया गया है.

इस लैब में प्रतिदिन 125 से 200 जांच करने की क्षमता है इसका नागरिकों बड़े पैमाने पर फायदा होगा. कोविड-19 जांच की रिपोर्ट उपलब्ध होने में अब कम समय लगेगा. मरीज पर उपचार भी शीघ्र किए जाने पर मदद होगी. इस समय कोविड-19 के जांच के बाद रिपोर्ट मिलने पर साधारण 12 घंटे की अवधि लगती है. रैपिड एटीजन टेस्टिंग सेँटर माध्यम से जांच किए जाने के बाद केवल 15  से 30 मिनट में जांच की रिपोर्ट प्राप्त होगी. इससे समय पर कोविड संदिग्ध व्यक्ति से मिलकर उस पर समय उपचार कराना संभव होगा.

यहां जो भी जांच होगी वह इंडियन कौन्सिल आफ मेडिकल रिसर्च के दिशा निर्देश अनुसार की जाएगी. कोविड सदृश्य लक्ष्ण बुखार, सर्दी, थकावट, खांसी वाले व्यक्ति, कंटेनमेंट झोन या हॉटस्पॉट क्षेत्र के मरीज, अस्पताल के संदिग्ध कक्ष के मरीजों की विशेष रूप से जांच की जाती है. इस केन्द्र के माध्यम से महानगर पालिका क्षेत्र में अधिकाधिक जांच की जा रही है. जांच का रिजल्ट प्राप्त होने में समय की बचत होगी.

आयुक्त राजेश मोहिते ने मनपा वैद्यकीय स्वास्थ्य अधिकारी डा. कीर्ति राजुरवार के प्रत्यक्ष नियंत्रण में रैपिड ऍटीजन टेस्टिंग सेंटर के नोडल अधिकारी के रूप में डा. वनिता गर्गेलवार को जिम्मेदारी सौपी गई है. उनके सहायक के रूप में मेडिकल आफिसर डा. जयश्री वाडे साथ ही विद्या चौधरी, स्नेहल शंभरकर, अनिता बंडेलवार, स्मिता उराडे, बालाजी जाधव, शुभम दिवसे, राकेश सोयाम, प्रलय पडगेलवार शामिल है.

माजरी. माजरी थानाक्षेत्र के अंतर्गत कुचना कालोनी के सामने 43 वर्षीय व्यक्ति चिकन विक्रेता कोरोना पॉजिटिव पाया गया. यह व्यक्ति स्थायी रूप से रहकर कुचना में चिकन बेचने का कार्य करता था. साथ ही यह भाड़े की टैक्सी भी चलता है. अपने सास के देहांत के उपरांत 10 जुलाई को यह उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर गया था. उसके बाद 16 जुलाई को कुचना वापस लौटने के बाद इसे होम क्वारन्टीन होने का निर्देश स्वास्थ विभाग के तरफ से दिया गया. जिसके बाद यह व्यक्ति नियम का पालन करने के वजह यह पास के विसलोंन,पलसगाव व नागलोंन में घूमने के साथ ही चिकन की दुकान चालू रखा. इतना ही नही यह कुचना कालोनी में घूमकर सब्जी व फल भी बेचा. पास के ही नागलोंन गाँव मे सोमवार को ही सलून में ही दाड़ी भी बनाया. तथा रविवार के दिन इसकी चिकन की दुकान में चिकन लेने के लिए काफी भीड़ भी थी. जिससे सैकड़ो लोग प्रभावित होने की संभावना है. 

एक व्यक्ति की लापरवाही ने पूरे गाँव को सांसत में डाल दिया है. सोमवार को रात 8 बजे व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद माजरी क्षेत्र में हड़कंप मच गया है. स्वास्थ विभाग माजरी पुलिस और कुचना ग्रामपंचायत ने सही ताल मेल ना होने के वजह से आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया, जबकि कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के साथ संपर्क में आनेवाले नागलोंन, पलसगाव और विसलोंन के एक व्यक्ति तथा माजरी के तेलगु दफाई वार्ड क्रमांक 5 से पांच लोगों को माजरी पुलिस ने पकड़कर स्वास्थ्य विभाग को जांच के लिए सौपा दिया है. 

वैधकीय अधिकारी, माजरी डा. रिजवाना ने बताया कि कुचना का कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति 16 तारीख को उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर से आकर 18 जुलाई को उसका स्वैब जांच के लिए भेजा गया. जिसकी रिपोर्ट 20 तारीख सोमवार को रात के 8 बजे पॉजिटिव आने पर उसे मंगलवार दोपहर 12 बजे लेकर चंद्रपुर इलाज के किए भेज दिया गया.

अमरावती. महानगरपालिका में कोरोना काल के दौरान अपने पद से इस्तीफा देने वाले मनपा के वैद्यकीय अधिकारी डा. विशाल काले ने अचानक यूटर्न लिया है. उन्होंने सोमवार की शाम निगमायुक्त प्रशांत रोडे को पत्र भेजकर अपना इस्तीफा पीछे लेने के लिए गुहार लगाई है. जबकि निगमायुक्त डा. काले का इस्तीफा मंजूर करने सामान्य प्रशासन विभाग को भेज चुके है.

15 दिन पूर्व सौंपा था पत्र
जानकारी के अनुसार वैद्यकीय अधिकारी डा. काले ने निगमायुक्त रोडे को 15 दिन पूर्व ही इस्तीफा सौंपा. कोरोना में एक एक अधिकारी महत्वपूर्ण रहने से काले को भी काम करते समय अत्याधिक ध्यान देने के आदेश दिये जा रहे थे. 15 दिनों तक वे स्वयं भी क्वारंटाइन थे. आमसभा में भी सभी पार्षदों का गुस्सा काले पर भड़क उठा. पार्षदों ने भी ऐसी स्थिति पर नियंत्रण लाने की बजाए इस्तीफे का नाटक करने का जमकर विरोध किया था, जिससे वैद्यकीय अधिकारी काले ने आमसभा के बाद देर शाम निगमायुक्त को इस्तीफा पीछे लेने का पत्र सौंपा. जिस पर भी प्रशासन द्वारा विरोध किया जा रहा है.

अंजनगाव सुर्जी.  तहसील के वनोजा गांव में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण करने के मामले पर नाराज नागरिकों ने तहसील कार्यालय पर धमके. प्रशासन तुरंत यह अतिक्रमण हटाए ऐसी मांग नागरिकों ने की है. अन्यथा आंदोलन की चेतावनी दी है. 

सड़क हुई बंद 
नागरिकों का आरोप है कि गत वर्ष से यहां के नागरिक इस भूखंड से आवाजाही कर रहे थे. लेकिन पूर्व ग्राम पंचायत सदस्य द्वारा इस जमीन पर अतिक्रमण कर कंपाउंड डाले जाने के कारण मार्ग बंद हो गया है. उन्हें कीचड़ से होकर आना जाना पड़ता है, जिससे नागरिक परेशान है. नागरिकों ने बीडीओ व तहसीलदार को निवेदन दिया. इतना ही नहीं तो मामले की जांच की मांग भी की है. 

किसानों को हो रही दिक्कत
नागरिकों का आरोप है कि पूर्व ग्राम पंचायत सदस्य हरीचंद्र गायगोले ने सदस्यकाल में झूठे दस्तावेज दाखिल कर इस जमीन पर कब्जा किया है और सड़क पर कंपाउंड बना ली है, जिससे इस क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों को दिक्कत हो रही है. क्षेत्र में तीनों ओर खेत है.  

अमरावती. मौसम में परिवर्तन के साथ ही डायरिया, गैस्ट्रो,  वायरल फीवर, उल्टी दस्त, बुखार जैसी बीमारियां पैर फैलाना शुरू कर देती है, लेकिन देश में चल रही कोरोना वायरस के संक्रमण के खिलाफ लोगों की जनजागृति मुहिम व सुरक्षा उपाय योजना के चलते इस वर्ष यह मौसमी बीमारियों में कमी आई है. इन बीमारियों के मरीज नहीं के बराबर सामने आ रहे हैं, मानो कोरोना बीमारी के चलते यह सब बीमारियां खत्म सी हो गई है.

यही कारण है कि इनदिनों बारिश के दिनों में हाउसफुल रहने वाले जिला अस्पताल के वार्ड 8 तथा 10 में नाममात्र मरीज देखे जा सकते हैं, स्वच्छता को लेकर लोगों द्वारा उठाए जा रहे कदमों के चलते वह कम बीमार पड़ रहे है. यही वजह है कि इस वर्ष मौसमी बीमारियों का आंकड़ा कम हो गया है.

शुद्ध वातावरण का असर
कोरोना महामारी के कारण लोग भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने से परहेज कर रहे हैं, वहीं बाहर खाना खाने व दूषित पानी पीने से कतरा रहे हैं, जबकि वातावरण भी शुद्ध हुआ है, जिससे यह मौसमी बीमारियां पूरी तरह से कम हो गई है.डॉ श्याम सुंदर निकम, जिला शल्य चिकित्सक

गोंदिया. बालकों को नि:शुल्क व सख्ती क साथ शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के अनुसार वंचित व दुर्बल घटकों के बालकों को कायम व बिना अनुदानित शालाओं में 25 प्रश प्रवेश देने का प्रावधान है. लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण से शाला विलंब से शुरु हो रही है. जिससे आरटीई की प्रवेश प्रक्रिया शुरु है. जिले में अब तक 903 जगहों में से 664 जगहों पर प्रवेश निश्चित हो गया है. जबकि शेष 239 जगहों पर प्रवेश नही हुआ है.

शैक्षणिक सत्र 2020-21 इस वर्ष के लिए आरटीई अंतर्गत 25 प्रश प्रवेश संबंधी ऑन लाइन आवेदन मंगाकर 17 मार्च 2020 को ड्रा निकाला गया था. इस ड्रा के माध्यम से 1 लाख 920 विद्यार्थियों का चयन किया गया है. 75 हजार 465 विद्यार्थियों की प्रतीक्षा सूची घोषित की गई. इसमें सभी विद्यार्थियों को मॅसेज भेजे गए है. लॉकडाउन से आगे प्रवेश प्रक्रिया के काम रुक गए है. शैक्षणिक वर्ष 2020-21 के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्रियान्वित करने के लिए शासन ने मान्यता दी है.

सन 2020-21 के शैक्षणिक वर्ष 15 जून से शुरु हो गया है. वर्तमान स्थिति में केंद्र पर पड़ताल समिति के पास जाकर कागजातों की जांच करना कठीन है. जिससे केवल इस शैक्षणिक वर्ष के लिए शाला स्तर पर कागजातों की प्राथमिक जांच व संकलन कर पड़ताल समिति की मंजूरी से प्रवेश दिया जा रहा है.

शाला में आरटीई पोर्टल पर उसके लॉगिन विद्यार्थियों के नाम व मोबाइल क्रमांक दिए गए है. इस नाम के सामने निश्चित तिथि को विद्यार्थियों को प्रवेश के लिए बुलाना है. इसके लिए तारीख शाला दे रही है. इसमें भीड़ नही होगी ऐसा नियोजन किया जा रहा है. जिले में 903 जगहों के लिए 3 हजार 658 आवेदन किए गए थे. प्रवेश लेने के लिए 847 बालकों के पालकों को तारीख दी गई है. अब तक केवल 56 बालकों के पालकों को तारीख दी गई है.

वरठी. कोविड-19 रोग के कारण संपूर्ण जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है.  लोग अपने शरीर व स्वास्थ्य को बनाए रखने संघर्ष कर रहे हैं.  इसमें कर्मचारी, व्यापारी, नौकरशाही, किसान व सबसे महत्वपूर्ण छात्रों को प्रभावित किया है. शुल्क देकर नीजि स्कूलों में पढ़ने वाले अभिभावकों की कक्षाएं भी ऑनलाइन चल रही है. सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों व ग्रामीण क्षेत्र की स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को शिक्षा से वंचित होना पड़ा है.  इसे देखते हुए मोहाड़ी तहसील के निलज बु. गांव के एक शिक्षित युवा रेवननाथ गाढवे ने छात्रों को मुफ्त में शिक्षा देने का बीड़ा उठाया है. है. रेवननाथ की शिक्षा गवर्नमेंट पालिटेक्निक, ब्रम्हपुरी में हुई थी.  वर्तमान में नागपुर के एक कालेज में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है.

लॉकडाउन की वजह से सभी कालेज बंद होने के कारण, रेवननाथ अपने गांव निलज बु. लौटा. तब देखा कि गांव में जिला परिषद स्कूल को सरकारी नियमों के अनुसार बंद कर दिया गया है.  इससे छात्रों की पढ़ाई पर असर हो रहा है.  उसे एक कल्पना सूची, उसने अपने घर में छात्रों को मुफ्त में पढ़ाना शुरू किया.  उन्होंने गांव के स्कूल के शिक्षकों के साथ फोन पर इसी मुद्दे पर चर्चा की. उन्हें अपने स्वयं के मोबाइल पर छात्रों के अध्ययन के बारे में जानकारी भेजने कहा गया. 

पढ़ाई के साथ, स्वास्थ्य का भी ध्यान
रेवननाथ का कहना है कि वह, छात्रों की सेहत पर विशेष ध्यान दे रहे हैं. क्योंकि छात्रों के पढ़ाई के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना आवश्यक है.  यदि कोई छात्र की तबीयत में परिवर्तन देखा जाता है, तो उसे घर पर रहने की सलाह दी जाती है.

पढ़ाना आंनद देने वाला कार्य है : रेवननाथ
रेवननाथ का कहना है कि, मैं गांव में एक जिला परिषद स्कूल में पढ़ा और आज मैं उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहा हूं.  यह कोई बड़ी बात नहीं है कि मैंने कितनी उच्च शिक्षा प्राप्त की, बल्कि यह मायने रखता है कि मेरे कारण कितने छात्र सीखते हैं. इस कार्य से मुझे बहुत आंनद मिलता है.

भंडारा (का). शहर के बीटीबी बाजार से लेकर जिला अस्पताल की सड़क पर हर रविवार एवं बुधवार को साप्ताहिक बाजार लगता है. इस सड़क की 3 वर्षों से दयनीय स्थिति हो चुकी है. इस सड़क से जिला अस्पताल, सरकारी अनाज गोदाम, एसटी डिपो, जल शुद्धीकरण केंद्र, बीटीबी बाजार एवं ग्रामसेवक कालोनी रहने से बड़े पैमाने पर यातायात जारी रहता है.

चरमराती यातायात व्यवस्था
साप्ताहिक बाजार के कारण हर रविवार एवं बुधवार को 1 से 2 घंटे यातायात व्यवस्था चरमरा जाती है. इस कारण इस सड़क पर कोरोना बिमारी का संक्रमण होने की संभावना है. इस सड़क की दयनीय स्थिति के कारण ग्रामसेवक कालोनी निवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. 

नगरसेवकों का ध्यान नहीं
इस प्रभाग के नगरसेवकों को इस सड़क की दयनीय स्थिति एवं इस पर लगनेवाला बाजार दिखाई नहीं दे रहा है. इस कारण परिसर के निवासियों ने इस सड़क की दुरूस्ती एवं बाजार को दूसरी ओर स्थानांतरित करने के बारे में सांसद एवं नगराध्यक्ष सुनील मेंढे एवं नप मुख्याधिकारी भंडारा को निवेदन सौंपा, लेकिन 25 दिनों का कार्यकाल बीतने के बावजूद भी इस पर कोई कार्रवाई होते हुए दिखाई नहीं देने से परिसर के नागरिक आक्रामक निर्णय लेने की तैयारी में है.

अकोला. अकोला जिले की सातों तहसीलों में किसानों द्वारा खेतों में बुआई का काम शुरू है. बुआई अब अंतिम चरण में आ गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक 78 प्रश बुआई का कार्य पूरा हो चुका है. कृषि विभाग के अनुसार जिले के किसानों ने 1,73,230 हेक्टेयर में सोयाबीन की तथा 1,06,937 हेक्टेयर में कपास की बुआई का काम पूरा किया है. दो दिनों पूर्व हुई मूसलाधार बारिश के कारण किसानों ने बुआई कार्य में तेजी लाई है.

आगामी सप्ताह अंत तक शतप्रतिशत बुआई का कार्य पूरा होने की संभावना है. कृषि विभाग के अनुसार अकोला जिले में 4.85 लाख हेक्टेयर में बुआई का नियोजन किया गया है. जिसमें विविध फसलें ली जाती है. कपास और सोयाबीन की यह दो प्रमुख फसलें इस वर्ष 50 प्रश से अधिक क्षेत्रों में बोई गयी है.

तुअर,मूंग व उड़द भी बोई गई
 मृग नक्षत्र के पूर्व रोहिणी नक्षत्र में भी भारी बारिश हुई लेकिन तीन सप्ताह तक बारिश न होने के कारण कई किसानों का बुआई कार्य रुक गया था. अब पर्याप्त मात्रा में बारिश होने के बाद बुआई कार्य में गति आयी और किसानों द्वारा बुआई की जा रही है. कपास और सोयाबीन फसल के अतिरिक्त किसानों ने 49,440 हेक्टेयर में तुअर, 19,840 हेक्टेयर में उड़द, 17,128 हे. में मूंग और ज्वारी की बुआई 4,626 हेक्टेयर में की है.

तलोधी बा. पिछले एक महीने भर में परिसर के तीन लोगों पर हमला कर उन्हें अपना शिकार बनानेवाले लगभग तीन साल के एनटी 1 नर बाघ को आखिरकार पकड़ने में वनविभाग को सफलता मिली है. शनिवार को एक किसान का शिकार करनेवाले इस बाघ की वनविभाग ने युध्दस्तर पर तलाश शुरू कर दी थी. रविवार पूरा दिन सर्च अभियान जारी रहा और आखिरकार देर शाम वनविभाग को बाघ को बेहोश कर पकड़ने में सफलता मिली है. बाघ के पकडे जाने से परिसर के किसानों ने राहत की सांस ली है. इस बाघ ने नागभीड़ वन परिक्षेत्र में दो लोगों और तलोधी वनपरिक्षेत्र में शनिवार को एक किसान को अपना शिकार बनाया था. तभी से इस बाघ को लेकर यहां लोगों में दहशत है. इसी वजह से परिसर में बाघ का बंदोबस्त करने की आवाज उठने लगी थी.

इस बाघ ने 18 जुलाई को नागभीड़ तहसील के ओवाला में रहनेवाले किसान जगदीश मोहुर्ले पर खेत में काम करते हुए बाघ ने हमला कर अपने जबड़े में फंसाकर जंगल की ओर ले गया दूसरे दिन किसान की लाश मिली.इसके पूर्व 4 जुलाई को वनपरिक्षेत्र नागभीड़ अंतर्गत मांगरूड बिट में सोनुली निवासी खेतिहर मजदूर को बाघ ने मारा था, उसके पूर्व नागभीड़ वनविभाग के क्षेत्र के तुकूम निवासी किसान को भी 18 जून को मारकर आधा खा लिया था.

तभी से तलोधी बा. वनविभाग के वनकर्मी किसानों के खेतों के फसलों को ध्यान में रखते हुए रात_दिन परिसर में गश्त शुरू कर दी थी. जब तीसरी घटना होने पर चौकसी पश्चात तीन लोगों को मारनेवाला यह बाघ होने की पुष्टि हो गई थी. तब इसे पकडने का आदेश जारी कर इसे बेहोशी की डॉट देकर पकड़ा गया.

चंद्रपुर. कोरोना के चलते जिले में लाकडाऊन चल रहा है. ऐसे में सुगंधित तम्बाकु बडे पैमाने में बेचा जा रहा है. लाकडाऊन में सुगंधित तम्बाकु की यातायात बंद होने से स्थानिक तस्करीयों तम्बाकु बनाने की मशीन को ही खरिदकर सुगंधित तम्बाकु बनाने का उद्योग शुरू कर दिया. इस संदर्भ में रामनगर पुलिस को सुचना मिलने पर एसपी डा. रेड्डी के मार्गदर्शन व एसडीपीओ नांदेडकर के नेतृत्व में रामनगर पुलिस व अपराध शाखा ने चिचपल्ली के वलनी के पास चेक निम्बाला मार्ग के फार्म हाऊस पर छापामार कार्रवाई करते हुए 50 लाख का माल जब्त किया है. मामले में पुलिस ने 3 आरोपीयों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने मामले में फार्म हाऊस धारक शशीम प्रेमानंद काबले 48, लालपेठ निवासी शैलेश जगन्नाथ पटेल, बल्लारपर निवासी मोहम्मद अब्दुल शेख का समावेश है.

कार्रवाई में 3 लाख 62 हजार 400 रूपये के कुल 302 डब्बे, 7 लाख 20 हजार रूपये के कुल 1800 पैकेट, 1 लाख 60 हजार रूपये के 2 प्लास्टिक थैली में 400 तम्बाकु पैकेट, 2 हजार 600 रूपये का 13 किलो खुला तम्बाकु, 3 हजार 300 रूपये का कुतूबमिनार हुक्का कंपनी का सुगंधित तम्बाकु के 11 पैकेट, 29 हजार रूपये के पुराने इगल कंपनी के सुबंधित तम्बाकु पैकेट, बारिक सुपारी, 25 किलो, 80 हजार रूपये का 160 किलो सुगंधित खुला तम्बाकु, 1 लाख 50 हजार रूपये का सिल्वर रंग की बारिक सुपारी, 1 लाख 97 हजार रूपये के सोनेरी रंग के बारीक सुपारी के 394 पैकेट, 10 हजार रूपये के 20 किलो बारिक सुपारी, 2 लाख 85 हजार रूपये की काली रंग की सिल्वर डिजाईन सुपारी 10 बोरी, टिन डिब्बे तथा 20 लाख की पुरानी टाटा कंपनी का चौपहीया वाहन ऐसा कुल 50 लाख का माल जब्त किया है. 

यह कार्रवाई एसपी डा. रेड्डी, अप्पर पुलिस अधिक्षक खैरे के मार्गदर्शन में एसडीपीओ नांदेडकर के नेतृत्व में रामनगर पीआय हाके, संदिप कामडे, विठ्ठल मोरे, कामडी, पुठ्ठावार आदि ने की है

चंद्रपुर. पिछले वर्ष से शहर में अमृत कलश योजना का कार्य चल रहा है. परंतु अब तक वह पुर्ण नही होने से नागरिकों को जलसंकट समस्या का सामना करना पड रहा है. अब इस योजना को अधिक गतीशील बनाने की सुचना विधायक किशोर जोरगेवार ने मनपा प्रशासन को की है. 

विधायक जोरगेवार ने बैठक लेकर अमृत कलश योजना के र्का का जायजा लिया. इस समय मनपा आयुक्त राजेश मोहिते, कार्यकारी अभीयंता महेश बारई, विजय बोरीकर, महाराष्ट्र जीवन प्राधिकर के भालधरे, विवके कामन समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे. 

शहर की पाणी समस्या को हल करने के लिए मनपा प्रशासान असफल रही है. धुपकाले में शहरवासीयों को जलसंकट का सामना करना पड रहा है. अमृत कलश योजना के पश्चात नागरिको को जलसंकट समस्या से हल निकलने की आशा थी. परंतु कार्य में हो रही देरी के चलते यह योजना सक्रीय होने में विलम्ब हो रहा है. इससे नागरिकों की प्रतिक्षा बढती जा रही है. संपुर्ण शहर में 527 किमी तक अमृत कलश योजना की पाईपलाईन बिछाई जा रही है. जिसमें से 360 किमी तक का कार्य पुर्ण हुआ है. उर्वरित कार्य दिसम्बर महिने तक करने का नियोजन होने की जानकारी अधिकारीयों ने दी. इस योजना के अंतर्गत 80 हजार घरों के पाईप लाईन को कनेक्शन देना है. जिसमें से 7 हजार कनेक्शन दिए गए है. शेष कनेक्शन देने के कार्य जल्द करन की निर्देश विधायक किशोर जोरगेवार ने दिए है. तुकूम के जलशुध्दीकरण केंद्र के दुरूस्ती का कार्य 80 प्रश पुर्ण हुआ है. 8 पाणी की टंकीयो का कार्य 91 प्रश पुर्ण होने की जानकारी अधिकारीयो ने विधायक जोरगेवार को दी. 

अमरावती. कोरोना के चलते दूध उत्पादक किसानों पर आर्थिक संकट घिर आया है. दूध व दूग्ध पदार्थों की बिक्री कम होने से उत्पादकों को 10 रुपये अनुदान देने तथा दूध पाउडर को प्रति लीटर 50 रुपये अनुदान देने की मांग को लेकर भाजपा ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पर दस्तक दी. पूर्व कृषिमंत्री व भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डा. अनिल बोंडे व भाजपा जिला अध्यक्ष निवेदिता चौधरी दिघड़े के नेतृत्व में जिलाधिकारी  शैलेश नवाल  के माध्यम से  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को ज्ञापन भेजा गया. जिसमें गाय का पवित्र दूध भी मुख्यमंत्री समेत मंत्रियों को भेंट किया गया. 

सरकारी योजना में मात्र 1 लाख लीटर खरीदी
बोंडे ने कहा कि महाराष्ट्र में 1 करोड़ 40 लाख लीटर गाय के दूध उत्पादन होता है. जिसमें से 35 लाख लीटर सहकारी संघ की ओर से खरीदी किया जाता है. जबकि 90 लाख लीटर दूध निजी संस्था व डेयरी के माध्यम से बेचा जाता है. 15 लाख लीटर दूध किसानों के माध्यम से होटल व ग्राहक को बेचा जाता है. सरकारी योजना द्वारा केवल 1 लाख लीटर दूध खरीदी किया जाता है. जिसमें कोरोना की वजह से दूध बिक्री में 30 फ़ीसदी कमी आई है. वहीं शहर के होटल व दूकान बंद होने से दूध की मांग कम हुई है. 

जिसे दूध उत्पादक किसान  आर्थिक  संकट में घिर गया है. इसलिए मुख्यमंत्री समेत अन्य मंत्रियों का इस ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए गाय का पवित्र दूध भेंटकर इस दूध को प्राशन करने के बाद मंत्रियों को सद्बुध्दि  प्राप्त होगी. इस आशय का ज्ञापन और गाय के दूध को प्रति लीटर 10 रुपये अनुदान दें, दूध पाउडर को प्रति लीटर 50 रुपये अनुदान दें, शासन की ओर से 30 रुपये प्रति लीटर दूध की खरीदी कर न्याय देने की मांग की गई.

1 अगस्त को राज्यव्यापी आंदोलन
 इन मांगों पर जल्द ही सरकार ने उचित निर्णय नहीं लिया तो 1 अगस्त को राज्यव्यापी दूध यलगार आंदोलन किया जाएगा. इसी तरह जिले की  प्रत्येक तहसील कार्यालय पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने निवेदन देकर दूध उत्पादकों को न्याय देने की गुहार लगाई जिलाधिकारी को निवेदन देते समय  प्रवीण तायड़े, राजेश पाठक समेत अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे. 

अमरावती. दिनदहाड़े चोरों ने कर्फ्यू के दौरान जाफरजिन प्लॉट स्थित दुर्गा ट्रेडिंग कंपनी के फल्लीदाना गोदाम में सेंध लगाकर 1लाख का माल उड़ा लिया. प्रभात कालोनी निवासी अजय ईश्वरदास राठी का जाफरजिन प्लांट जुम्मनशाह बाबा दरगाह की गली में दुर्गा ट्रेडिंग कंपनी नामक फल्लीदाने का गोदाम है. 

कर्फ्यू के कारण बंद था गोदाम
 17 जुलाई को उसने अमित ट्रेडिंग कंपनी रतनगंज से फल्लीदाने का माल खरीदकर गोदाम में रखा था, कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए शनिवार और रविवार को कर्फ्यू होने से गोदाम बंद था, इस दौरान किसी ने गोदाम के लोहे के गेट व शटर को तोड़कर भीतर प्रवेश किया, चोरों ने टामी से लोहे के शटर को तोड़ दिया, यहां गोदाम से 17 बैग फल्लीदाना, फल्ली दाना साफ करने की मशीन व अन्य साहित्य समेत 95 ,000 का माल चुरा लिया, रविवार की देर शाम चोरी के बारे में जानकारी मिलते ही उन्होंने कोतवाली पुलिस को सूचना दी, सूचना पर पीएसआई इंगोले घटनास्थल पहुंचे,

CCTV फुटेज की जांच
 जिन्होंने पंचनामा कर मामला दर्ज किया है, इससे पहले भी चोरों ने यहां अनाज के गोदाम में सेंध लगाकर लाखों रुपए का चावल चुरा लिया था, पुलिस ने पास पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगालना शुरू किया है, जिससे आरोपियों के मिलने की संभावना है, जिसके आधार पर पुलिस आगे की जांच करेगी.

अमरावती. संडे के दिन कर्फ्यू के दौरान दूकान खोलकर मटन बेच रहे 4 मटन विक्रेताओं के खिलाफ राजापेठ व फ्रेजरपूरा पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. इस क्रम में राजापेठ क्षेत्र के मायानगर में मंगेश चिकन सेंटर नामक दुकान खोलकर चिकन भेज रहे. आरोपी मंगेश सुरेश राव कंठाले (36, मायानगर) के खिलाफ पीएसआई मापारी की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है.

विवि चौक पर हुई कार्रवाई
इसी तरह राजापेठ क्षेत्र के बेलपुरा परिसर में शिवकृपा मटन सेंटर नामक दुकान खोलकर मटन बेच रहे अनिल विष्णुजी मदने (35, बेलपुरा) के खिलाफ मामला दर्ज किया है जबकि फ्रेजरपूरा क्षेत्र में विद्यापीठ चौक सुपर एक्सप्रेस हाईवे के पास मटन बेच रहे नितिन विट्ठलराव दुर्गे (32, खारतलेगांव) तथा विद्यापीठ चौक पर चिकन बेच रहे शेख नासिर शेख फारुख (32, बिच्छु टेकड़ी) के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

अकोला. अति दुर्गम एवं आदिवासी बहुल क्षेत्र में बच्चों के कुपोषण की समस्या दूर करने के लिए राज्य के विविध भागों में राज्य सरकार द्वारा पोषण पुनर्वसन केंद्र की स्थापना की है. इसी के अंतर्गत अकोला स्थित जिला महिला अस्पताल में भी  केंद्र की स्थापना 17 जनवरी 2016 को की गयी थी. यह केंद्र कुपोषण मुक्ति की दिशा में काफी कारीगर सिद्ध होने का विश्वास जिला महिला अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षिक डा.आरती कुलवाल ने व्यक्त किया. 

 उन्होंने कहा कि पोषण पुनर्वसन केंद्र से आदिवासी बंधुओं में बालमृत्यु दर का प्रमाण कम होकर एक सक्षम पीढ़ी का निर्माण करने की राज्य सरकार की योजना को बल मिलेगा. जिला महिला अस्पताल में प्रसूति या बच्चों के जननी शिशु योजना अंतर्गत किए जाने वाले उपचार इसके लिए अकोला के साथ ही बुलढाना और वाशिम जिले के लोग भी अकोला स्थित जिला महिला अस्पताल में पहुंच रहे हैं. दूसरे जिलों में ससुराल गई पश्चिम विदर्भ की गरीब लड़कियां भी प्रसूति के लिए अकोला के जिला महिला अस्पताल में आने के लिए उत्सुक रहती है.   अस्पताल पर तनाव बढ़ जाने के बावजूद मरीजों की सेवा के संदर्भ में अस्पताल ने विदर्भ में एक आदर्श कायम किया है. 

डा.आरती कुलवाल ने बताया कि 10 बिस्तरों वाले पोषण पुनर्वसन केंद्र में 6 वर्ष आयु तक के कुपोषित बच्चों का सर्वांगीण शारीरिक विकास करने हेतु उपचार किया जाता है.  बच्चों के लिए खेल के साधन, पालकों का समुपदेशन, बच्चे की माता को भी स्वास्थ्य सुविधा दी जाती है. बच्चों को एनआरसी केंद्र के मेस से तथा माता को अस्पताल की मेस से भोजन दिया जाता है. कुपोषित बच्चों के पिता को रोजगार भरपाई के रुप में प्रतिदिन 100 रु. दिए जाते हैं. बच्चों को पूरी तरह से कुपोषण मुक्त किया जाता है.   केंद्र में 6 वर्ष आयु तक के कुपोषित बालकों पर 14 दिनों तक उपचार किया जाता है. बालकों को घर भेजने के बाद आगामी 6 माह तक प्रति दो सप्ताह में स्वास्थ्य जांच की जाती है. 

चंद्रपुर. ब्रम्हपुरी-नागभीड़ मार्ग पर शासकीय तंत्रनिकेतन महाविद्यालय के समीपस्थ खेड टोली के पास शुक्रवार को संदिग्ध अवस्था में मिली चंद्रभान मडूजी झरकर 38 की हत्या की गुत्थी पुलिस ने मात्र 12 घंटे के भीतर सुलझा ली.

वृध्द माता-पिता और बहन ने मिलकर चंद्रभान की हत्या की सुपारी दी थी. इस मामले में पुलिस ने मडू बिसन झरकर 70, सुमित्रा मडू झरकर 65 और बहन शोभा शांताराम मुंडे 50 एवं धनराज लुटारू निखाडे 65 सभी उमरेड तहसील के कलमना निवासी को गिरफ्तार किया है.

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार मृतक चंद्रभान मडूजी झरकर संपत्ति के लिए अपने माता-पिता और बहन को मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताडित करता आ रहा था. जिससे वें उसके अत्याचार से त्रस्त हो चुके थे. मृतक उमरेड में रहता था जबकि उसके मातापिता नागभीड़ तहसील के नवेगांव पांडव में रहते थे. मृतक चंद्रभान 14 जुलाई को नवेगांव पांडव आया और संपत्ति का हिस्सा मांगते हुए अपने माता-पिता को बुरी तरह पीट दिया. इसकी शिकायत उसके पिता मडू झरकर ने नागभीड़ पुलिस थाने में की. 

चंद्रपुर. महानगर समेत दुर्गापुर, उर्जानगर में किया गया लॉकडाऊन शहर के घर घर में कोई कोरोना संक्रमित रूग्ण तो नहीं इसकी खोज करने के लिए है. बेवजह किसी को घर में रखने के लिए नहीं है, इसलिए घर के बार नहीं निकले, लक्षण नजर आने पर तुरंत संपर्क करें, बाहर से आये हुए हो तो स्वयं ही क्वारंटाईन हो ऐसा आवाहन जिलाधिकारी डा. कुणाल खेमनार ने किया है. जिलाधिकारी ने चंद्रपुर शहर एवं समीपस्थ परिसर में शुरू लॉकडाऊन पर भूमिका रखी.

कोरोना संदर्भ में केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देश अनुसार उचित दिशा में प्रयास करनेवाले महाराष्ट्र के तीन जिलों में चंद्रपुर जिले का समावेश है. सौभाग्य से यहां किसी की भी कोरोना से मौत नहीं हुई है. कोरोना को नियंत्रित करना है तो चंद्रपुर शहर एवं समीपस्थ के परिसर में लॉकडाऊन में घर घर के नागरिक को इस मुहिम में शामिल होना आवश्यक है. यदि कोई लक्षण हो तो इसकी जानकारी दें, वैद्यकीय मदद ले, बाहर से आये हो तो जानकारी नहीं छिपाये जानकारी दें, स्वयं अलग रहे, लक्षण हो तो स्वैब जांच कराये.

जिले में वर्तमान में अॅटीजेन जांच शुरू है. लक्षण वाले तत्काल इस जांच का उपयोग ले, 15 से 30 मिनट में इसके द्वारा जानकारी आगे आती है. इसके लिए अधिकाधिक लोग जांच कराना आवश्यक है. अनेक स्थानों के लोग कही अपडाऊन कर रहे तो वें वही रूके रहे. आनेवाले समय में मरीजों की संख्या बढने पर ऐसे चोरी छिपे जानकारी नहीं देते रेड झोन में आनेजानेवालों पर कार्रवाई की जाएगी. पुलिस में मामले भी दर्ज किए जाएंगे. इसलिए अपने जिले, शहर एवं स्वयं के बचाव के लिए इस लड़ाई में हर नागरिक सहयोग दें.

आनेवाले समय कोरोना मरीजों की संख्या बढ सकती है. मरीजों की संख्या डबल होने की अवधि 14 दिनों की है. इसलिए कोरोना की श्रृंखला को तोड़ना जरूरी है. जिले में मरीजों की बढती संख्या को देखते हुए कुछ इमारतों को भीअधिकार में लिया जाएगा. इसके लिए अलगीकरण कक्ष तैयार किए जाएंगे. कोरोना संदर्भ में उपाययोजना करना यह सभी शासकीय यंत्रणा का काम है इसके लिए यंत्रणा तैयार है. नागरिक यंत्रणा पर विश्वास रखे. इसलिए कोई भी जानकारी नहीं छिपाये ऐसा आवाहन जिलाधिकारी ने किया है.

अमरावती. जुलाई के अंतिम सप्ताह से शुरू हो रहे तीज-त्योहारों पर भी कोरोना का काला साया मंडरा रहा है. श्रावण मास आरंभ होते ही त्योहारों के दिन शुरू हो जाते हैं.  मार्केट गुलजार रहने से व्यापारियों के चेहरे पर भी रौनक छा जाती है, लेकिन कोरोना ने पूरे मार्केट समेत जनजीवन पर ऐसा कहर ढाया है कि अब तीज त्योहारों में प्रतिष्ठान बंद रहने से व्यापारियों पर भी रोने की नौबत आ रही है. व्यापारियों से लेकर नागरिक भी गत 4 माह से आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं.

यदि कोरोना मरीजों के आंकड़े बढ़ते ही रहे तो घरों में ही त्योहार मनाने विवश होना पड़ेगा जिससे फिर एक बार व्यापार-कारोबार ठप पड़ने से व्यापारियों की आर्थिक कमर टूट जाएगी. पहले ही विवाह व जयंती का सीजन लॉकडाउन की बलि चढ़ने से व्यापारियों का स्टॉक वैसे ही पड़ा है. अब त्योहारी सीजन पर भी कोरोना का काला साया मंडरा रहा है.   

त्योहारों के भरोसे व्यापार का गणित
महाराष्ट्र में त्योहारों का अनन्य साधारण महत्व है. प्रत्येक त्योहार के भरोसे ही व्यापार-कारोबार का गणित जुड़ा है. राज्य में मंदिरों के पट अभी तक बंद रहने से श्रावण सोमवार भी घरो में ही मनाने का आह्वान  प्रशासन कर रहा है. त्योहारों में कई लोग मंदिरों के बाहर फूल प्रसाद बिक्री का व्यवसाय करते हैं, लेकिन इस बार ऐसे व्यावसायिकों पर भी भुखमरी की नौबत आ गई है. रक्षाबंधन पर गली-मोहल्ले में राखियों की दूकानें सजाकर व्यवसाय करते हैं. बहनें भी रक्षाबंधन के लिए राखियों की तैयारियां 15 दिन पहले से ही शुरू करती है, किंतु इस वर्ष ऐसा कुछ भी नहीं होगा. 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर शाला-महाविद्यालयों में फहराये जाने वाले तिरंगा समारोह में छात्र छात्राएं शामिल नहीं होंगे. पोले पर मिट्टी के बैलों की बिक्री से आय नहीं होगी.

अमरावती. सड़कों पर रोककर राहजनी व मकान-दूकानों में घुसकर लूट की घटनाएं अब पुरानी हो चुकी है. चालबाज अब ऑनलाइन लूट को हथियार बना रहे हैं. ग्रामीण व नवयुवकों के साथ ही अब उच्च शिक्षितों को भी अपने जाल में फांसने का प्रयास हो रहा है. शहर में ऐसे 2 मामले उजागर हुए. प्राचार्य डा. विजय भांगडिया ने समय सूचकता दिखाते हुए न केवल अपने अकाउंट की सुरक्षा की, बल्कि अन्य लोगों को भी सतर्कता बरतने की अपील कर रहे हैं.

HDFC का मैनेजर बताकर मांगे डाक्यू्मेंट
 केशरबाई लाहोटी महाविद्यालय के प्राचार्य डा. विजय भांगडिया के फोन पर अज्ञात व्यक्ति ने फोन किया.  आरोपी ने अपने आपको एचडीएफसी का मैनेजर बताया. और कहा कि 2011 में आपने जो यंगस्टर पालिसी निकाली है. उसकी बकाया किश्त के कुल 1,32,000 रुपए जमा करना है.  इसके लिए कमीशन की राशि की रियायत देने की बात कही. यह राशि भरने पर 2021 में पालिसी मैच्योर होने पर उन्हें 3,15,000 रुपए नहीं मिलेंगे. इसके लिए उन्होंने आधार, पेन कार्ड व ब्लैंकचेक सहित सभी डाक्यूमेंट वाट्सअप करने कहा. 

अमरावती.  यह जानकारी जिलाधिकारी शैलेश नवाल ने बताया कि  फिलहाल जिले में कोरोना पाजिटिव की संख्या लगातार बढ़ रही है. ऐसे में बतौर सुरक्षा पी-1, पी-2 फार्मूला आवश्यक है. व्यापारियों की समस्या भी हम समझ रहे हैं. लेकिन संकट की इस घड़ी में सप्ताह में 10-12 दिन व्यापार को भी सकारात्कता से लेना चाहिए. शहर में लागू पी-1, पी-2 के फार्मूले को लेकर अगले सप्ताह विचार किया जाएगा. इसके महानगर पालिका प्रशासन से चर्चा की जाएगी. स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजने पर निर्णय होगा.

सकारात्मक हो व्यापारी 
एक ओर  कोरोना पाजिटिव मरीजों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है.  प्रशासन ने शनिवार रविवार का कर्फ्यू घोषित किया है. वहीं दूसरी ओर व्यापारियों के लिए पी-1,पी-2 फार्मूला लागू है. ऐसे में हर व्यापारी को महीने में केवल 10-12 दिन ही व्यापार करने का अवसर मिल रहा है.  अब व्यापारी यह फार्मूला रद्द कर सप्ताह के 5 दिन दूकानें खोलने की अनुमति के लिए प्रशासन पर दबाव बना रहे हैं. लेकिन जिलाधिकारी नवाल स्पष्ट किया है कि आने वाले 1 सप्ताह तक पी-1, पी-2 पर कोई विचार नहीं होगा. इसके बाद स्थिति देखते हुए ही कोई विचार किया जाएगा. कोरोना के इस समय में बाजार खुल रहे हैं. फिलहाल यही बहुत है. 

लड़कियों का प्रमाण कम
विगत 6 माह में जन्में शीशूओं में लड़कों का प्रमाण अधिक है, वहीं लड़कों की तुलना में 4 प्रतिशत लड़कियां कम है. कुल जन्में 5,763 शीशुओं में 52.30 प्रतिशत लड़के हैं, जबकि 47.70 प्रतिशत लड़कियां है. उसी प्रकार मृत्यु दर में भी पुरुष अव्वल है. कुल 3,146 मौतों में से 53.46 प्रश पुरुष हैं तथा 46.53 प्रश महिलाएं है.

जनवरी में सर्वाधिक 
जनवरी 2020 माह में सर्वाधिक जन्म और मृत्य के आंकड़े दर्ज किए गए हैं. जनवरी में रिकार्ड 1,750 शीशुओं का जन्म हुआ. उसी प्रकार फरवरी में 850, मार्च में 895, अप्रैल में 796, मई में 810 तथा जून माह में 662 शीशुओं का जन्म दर्ज किया गया. उसी प्रकार सर्वाधिक मौतें भी जनवरी में ही दर्ज की गई. जनवरी में 685, फरवरी में 540, मार्च में 431, अप्रैल में 550, मई में 460 तथा जून में 480 मौतें हुई हैं.

गोरेगांव. गोरेगांव बस स्थानक इन दिनों एसटी महामंडल द्वारा देखरेख के अभाव में असामाजिक तत्वों का अड्डा बन गया है. बस स्थानक का यात्रीकक्ष धीरे धीरे शराब खाने में तब्दील होते जा रहा है.

बस स्थानक  यात्रियों की सुविधाओं के लिए प्रशासन द्वारा पांच वर्ष पूर्व लाखों रुपए की निधि खर्च कर तैयार किया गया था. उल्लेखनीय है कि  गोरेगांव पुलिस स्टेशन बस स्थानक के बिल्कुल करीब हैं परंतु दुर्भाग्य से यहां बस स्थानक के यात्रीकक्ष के भीतर तथा इर्द गिर्द परिसर में अनेक असामाजिक कार्य प्रगति पर हैं. यात्रीकक्ष के भीतर शराब की बोतलें, पानी बाटल, सिगरेट पैकेट जैसे सामग्रियां प्रतिदिन पाई जाती है. इसके अलावा बाथरूम में भी यही आलम बना हुआ है साथ ही  यात्रीकक्ष पान गुटखा रहीत थूकदान बन गया है.  

इस बीच यहां स्थित कर्मचारी सरजारे ने बताया कि यहां यात्री कक्ष के भीतर की बिजली वर्षों से नादुरुस्त है जिसका फायदा असामाजिक कार्य करने वाले व्यक्तियों को मिल रहा है. इस बीच बस स्थानक परिसर में स्थित सामग्रियों की चोरी की घटनाएं यहां अनेक बार हो चुकी है जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस विभाग को पत्र द्वारा दी है परंतु कार्रवाई अब तक ठंडे  बस्ते में है. ऐसे अनेक कारणों के चलते लाखों रुपए की लागत से तैयार किया गया बस स्थानक असामाजिक तत्वों का अड्डा बन हुआ है.

इस बस स्थानक को तैयार हुए लगभग पांच वर्ष हो चुके हैं परंतु बस स्थानक के भीतर एसटी महामंडल की ज्यादातर बसें प्रवेश ही नहीं करती जिस कारण दुर्भाग्य से यात्रियों को महा मार्ग पर खड़े बसों का इंतजार करना पड़ता है. जबकि यात्रियों की सुविधा हेतु तैयार किया गया यात्रीकक्ष धूल खा रहा है. एसटी महामंडल के अधिकारीयो के अनदेखी के चलते गोरेगांव बस स्थानक के हाल बेहाल हो रहे है. जिसमें सुधार की सख्त आवश्यकता है.

संजना पटले डिपो मैनेजर गोंदिया के अनुसार  आर्थिक मंदी के चलते यहां चौकीदार रखने की स्थिति नही है. सभी बसो को बस स्टैंड के भीतर जाने के आदेश दिए जाएंगे तथा  आसामाजिक कार्य करने वालों पर दंड स्वरूप कार्रवाई की जाएगी.

गोंदिया. मध्यप्रदेश से महाराष्ट्र राज्य में शराब की तस्करी करने वाले 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके पास से मारुति 800 सहित 2 लाख 26 हजार रुपये का माल जब्त किया है. कार्रवाई रावणवाड़ी पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक सचिन वांगडे के नेतृत्व में कोरणी घाट परिसर में नाकाबंदी कर की गई. थानेदार वांगडे को सूचना मिली थी कि 2 अज्ञात व्यक्ति अवैध शराब लेकर बालाघाट से गोंदिया जा रहे हैं. वांगडे, पुलिस उपनिरीक्षक विनोद जोकर, पुलिस कांस्टेबल संजय चव्हान, दीपक देशभ्रतार, राहुल बोंबार्डे व मोनेस तुरकर आदि ने कोरनी घाट पर नाकाबंदी कर 2 व्यक्तियों को हिरासत में लेकर उनके पास से 3 बाक्स विदेशी शराब जब्त की.

गोदाम पर मारा छापा
दोनों व्यक्तियों से पूछताछ में उन्होंने गोंदिया के आनंद नागपुरे व सिद्धार्थ नंदागवली के नाम बताए. पुलिस ने उनकी निशानदेही पर उन दोनों के पास से एक पुरानी मारुति 800 कार सहित 3 बाक्स विदेशी शराब जब्त की. बाद में उन आरोपियों से अधिक पूछताछ करने पर श्याम चाचेरे व मोनू ठाकुर के नाम सामने आए. थानेदार वांगडे ने बाजपेई चौक मुर्री चौकी परिसर में गोदाम पर छापा मारकर वहां से 16 देशी नकली शराब के बाक्स जब्त किए.

इस प्रकरण में पुलिस ने मोसीन शेख, कादीर शेख दोनों बालाघाट निवासी व बाजपेई वार्ड निवासी आंनद नागपुरे व सिद्धार्थ नंदागवली को गिरफ्तार किया. जबकि मुख्य आरोपी श्याम चाचेरे व मोनू ठाकुर फरार है. पुलिस ने 76 हजार रुपये की शराब, मारुति 800 कीमत 1 लाख रुपये व 1 मोटरसाइकिल 50 हजार रुपये इस तरह कुल 2 लाख 26 हजार रुपये का माल जब्त किया गया है. रावनवाड़ी पुलिस ने मामला दर्ज किया है.

भंडारा (का). प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना सन् 2020-21 से अगले तीन वर्षों के लिए अमल में लाने की मंजूरी राज्य सरकार ने दी है. अस योजना के तहत जिले के लिए धान तथा सोयाबीन ये दो अधिकृत फसलें हैं. इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 31 जुलाई रखी गई है, इस योजना का लाभ उठाने की अपील कृषि विभाग की ओर से की गई है.

इस योजना के अंतर्गत प्रतिकूल प्राकृतिक परिस्थिति के कारण होने वाले नुकसान, मौसम के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई दी जाती है. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (खरीप) के तहत 2020-21 के अंतर्गत धान तथा सोयाबीन दोनों फसल के लिए जोखिम स्तर 70 प्रतिशत निश्चित किया गया है. फसल बीमा योजना के तहत धान फसल के लिए किसानों को बीमा हफ्ते का धनराशि 760 रुपए प्रति हेक्टेयर है, जबकि बीमा संरक्षित धनराशि 27, 500 रुपए प्रति हेक्टर है.

लाखांदूर. राष्ट्रीय महामार्ग का निर्माण 2 वर्ष पहले ठप हो गया था. पिछले वर्ष से गति पकड़ चुकी है. हालांकि महामार्ग का निर्माणकार्य होते समय कुछ जगह पर मुरूम की बजाए लाल मिट्टी व धुल मिट्टी मिश्रित गिट्टी का इस्तेमाल करने से साकोली-पालांदूर सीमावर्ती राष्ट्रीय महामार्ग निर्माणकार्य पर सवाल उठाया जा रहा है. इस निर्माणकार्य की जांच करने की मांग लोगों की ओर से की गई है.

मुरुम की जगह लाल मिट्टी का इस्तेमाल
2 वर्षों पूर्व सरकार ने साकोली लाखांदूर इस सीमावर्ती क्षेत्र के तहत करीब 55 किमी लंबा करीब 226 करोड़ निधि का राष्ट्रीय महामार्ग निर्माण मंजूरी किया. करीब 2 वर्षों से अटके हुए राष्ट्रीय महामार्ग निर्माणकार्य को पिछले वर्ष से शुरुआत होने से नागरिकों में समाधान व्यक्त किया जा रहा था. हालांकि इस महामार्ग का निर्माणकार्य करते समय ठेकेदार कंपनी द्वारा कुछ जगह मुरुम की बजाए लाल मिट्टी का इस्तेमाल करने का आरोप है. 

इस महामार्ग का खुदाई कार्य कर निर्माणकार्य करते समय अधिकतम क्षेत्र का सीमेंटीकरण रात्रि के दौरान भी करने की चर्चा है. लाखांदूर तहसील के चप्राड पहाड़ी समीप इस महामार्ग के सीमेंटीकरण के कार्य के लिए सड़क किनारे रखी काली गिट्टी धुल व मिट्टी मिश्रित होने का दिखाई दे रहा है. लगातार पिछले 2 वर्षों से विवाद में अटके इस महामार्ग के निर्माणकार्य निकृष्ट साहित्यों के इस्तेमाल से फिर से एक बार चर्चा में होने का दिखाई दे रहा है. इस मामले में सरकार प्रशासन ने शीघ्र दखल लेकर संबंधित महामार्ग निर्माणकार्य की जांच कर दोषी ठेकेदार व कंपनी पर कार्रवाई की मांग की गई है.

अकोला. अकोट फैल पुलिस थानांतर्गत पाचमोरी परिसर के गोदाम से एक ट्रक में भरा गया कीटनाशक रसायन चुराने वाले 4 आरोपियों को अकोट फैल पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस ने चोरों से रासायनिक द्रव सहित 3 लाख रु. का माल जब्त किया. पुलिस के अनुसार पाचमोरी के गोदाम से ट्रक में रासायनिक द्रव भरकर ट्रक चालक ने सोलासो प्लाट स्थित घर के सामने ट्रक खड़ा किया और सो गया. सुबह रसायन चुराने का मामला उजागर हुआ. ट्रक चालक ने अकोट फैल पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की. पुलिस ने जांच के बाद सैय्यद सादिक सै. मोहीमोद्दीन, अजरुद्दीन तमीजोद्दीन, शहबाज खान उर्फ शब्या, सुलेमान खान, आकिब जहीर खान सभी अकोट फैल निवासियों को गिरफ्तार किया. चोरों ने अपराध कबूल किया.

 पुलिस ने आरोपियों से 1.50 लाख रु. मूल्य का रसायन , 1 लाख रु. मूल्य की दो मोटरसाइकिलें कुल 3 लाख का माल जब्त किया. यह कार्रवाई पुलिस अधीक्षक जी.श्रीधर, शहर पुलिस उप अधीक्षक सचिन कदम के मार्गदर्शन में थानेदार महेंद्र कदम के निर्देश पर पुलिस उप निरीक्षक सुशीर, हरिश्चंद्र दाते, सुनील टोपकर, शेख अस्लम, संजय पांडे, छोटू पवार, राहुल चव्हाण, दिलीप इंगोले, श्याम आठवे आदि ने की. 

माजरी. माजरी में भारतीय रिजर्व पुलिस बल के 90 जवानों की एक कंपनी कोल्हापुर से चंद्रपुर जिले में बंदोबस्त के लिए आयी. इस कंपनी के दो जवान कोरोना प्रभावित होने पर उन्हें माजरी पुलिस स्टेशन के कर्मचारी आवास में एक कमरे में इन्स्टिटयूशनल विलगीकरण किया गया इन जवानों को लोगों ने बाहर घुमते हुए होटल में चाय नाश्ता करते हुए देखने में माजरी के लोगों में कोरोना को लेकर चिंता छा गई है. प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के वैद्यकीय अधिकारी ने इस संदर्भ में माजरी पुलिस स्टेशन में लिखित शिकायत की है. 

उल्लेखनीय है कि माजरी के नये पुलिस स्टेशन के कर्मचारी आवास में संस्थात्मक विलगीकरण की जानकारी ग्रामपंचायत या प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की वैद्यकीय अधिकारी को नहीं दी गई है.

इस बीच भारतीय राखीव बटालियन के सहायक पुलिस निरीक्षक बनसोडे का कहना है कि उनके बटालियन का कोई भी जवान बाहर नहीं घुम रहा है उनके बारे में किसी ने झूठी जानकारी फैलाई है. हमारी कंपनी के सभी जवान निगेटीव है.

भद्रावती के तहसीलदार महेश शितोडे का कहना है कि भारतीय रिजर्व बटालियन को संस्थात्मक विलगीकरण किया गयाहै. वें जवान बाहर ना घुमे इसके लिए पुलिस को सूचित किए जाने की जानकारी उन्होने दी.

चंद्रपुर. महानगर में कोरोना के बढ़ते कदम रोकने और कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने के उद्देश्य से जिला प्रशासन की ओर से लागू किये गए 10 दिन के कठोरतम लॉकडाउन के पहले दिन महानगर समेत समीपस्थ दुर्गापुर तथा उर्जानगर परिसर में तड़के सुबह से ही दिनभर सन्नाटा छाया रहा.

तीनों क्षेत्रों में जिलाधिकारी कुणाल खेमनार के आदेश के बाद से 10 दिनों का सख्त लॉकडाउन घोषित किया गया है. इस लॉकडाउन में मेडिकल स्टोर्स तथा पेट्रोल पुम्पों को छोड़ कर अन्य सभीं जीवनावश्यक वस्तुओं के दुकानों सहित सभीं व्यापारी प्रतिष्ठानों को बंद रखने के आदेश जारी किए गए है. 

जिलाधिकारी के इस आदेश को शुक्रवार को शहरवासियों ने स्वयंस्फूर्त प्रतिसाद देते हुए स्वयं को घरों में कैद कर लिया था. शहर के सभीं सड़कों पर सिर्फ अत्यावश्यक सेवाओं पर कार्यरत कर्मियों के अलावा अन्य कोई दिखाई नहीं दे रहा था. 

कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने के लिए जिला प्रशासन के प्रयासों को सफल बनाने के लिए शुक्रवार को शहरवासियों ने साथ देकर अपनी एकजुटता तथा सहयोग की भावना का परिचय दिया.

लॉकडाउन के चलते महानगर समेत उर्जानगर एवंम दुर्गापुर क्षेत्र में तगड़ा पुलिस बंदोबस्त तैनात किया गया था किंतु एक दो घटनाओं को छोड़ दिया जाए तो पुलिस को लॉकडाउन के आदेश पर अमल करने हेतु कहीं भी कोई खास मशक्कत करने की जरूरत नहीं पड़ी.

लॉकडाउन के तीनों क्षेत्रों में मेडिकल तथा पेट्रोल पंप शुरू तो थे किंतु वहां किसी प्रकार की कोई भीड़ नजर नहीं आयी. अत्यावश्यक सेवाओं पर कार्यरत इक्का दुक्का लोग ही पेट्रोल पंम्पों पर नजर आए.

चंद्रपुर. जिले में तेजी से पांव पसार रहे कोरोना के संकट पर एकत्रित रूप से मात करने हेतु पुलिस योद्धा के रूप में पुलिस दल के साथ निस्वार्थ भाव से काम करने की अपील जिला पुलिस प्रशासन ने की है.

जिला पुलिस अधीक्षक महेश्वर रेड्डी ने यहां युवकों से आहवान करते हुए कहा है कि, जिले में प्रतिदिन कोरोना महामारी का संकट गहराता जा रहा है. जिले के पुलिस अधिकारी तथा कर्मी अपराधों की जांच, तथा अपराधियों की खोज करने, तथा बंदोबस्त की अपनी नियमित जिम्मेदारियों के साथ साथ अब कोरोना की रोकथाम हेतु नाकाबंदी, कंटेन्मेंट जोन, कोविड केअर सेंटर, हॉस्पिटल आदि स्थानों पर तैनाती, बाहरी लोगों से पूछताछ आदि मोर्चों पर भी कार्यरत है. इसके साथ ही वे अपने परिवार की जिम्मेदारियों को भी निभाने के लिए वक्त निकाल रहे है.

उन्होंने आगे कहा है कि, पहले ही पुलिस कर्मी तथा अधिकारियों पर काम का अत्याधिक भार है, ऐसे में अगर जिले के होनहार युवक आगे आकर पुलिस योद्धा के रूप में 15 दिन तक अपनी निस्वार्थ सेवा देने आगे आते है तो पुलिस और जनता मिलकर कोरोना संकट पर एकत्रित रूप से मात की जा सकती है.

यह सेवा देने के लिए उन्होंने युवकों से जिला पुलिस प्रशासन से संपर्क करने की अपील की है. उन्होंने स्पष्ट किया कि, जो युवक यह सेवाएं देंगे उन्हें पुलिस दल की तरफसे सम्मानित किया जाएगा तथा उन्हें प्रमाणपत्र भी दिया जाएगा.

चंद्रपुर. पोंभूर्णा तहसील के घनोटी ग्राम के विहीरगांव परिसर में गुरूवार की शाम बेहोश कर पकड़े गए तेंदूए की आज उपचार के दौरान मौत हो गई. तेंदूए ने दो लोगों को बुरी तरह से घायल कर दिया. घायलों में से एक की हालत नाजुक देख उसे चंद्रपुर जिला सामान्य अस्पताल में भरती किया गया है.

उल्लेखनीय है कि सुबह साढे आठ बजे के बीच विहिरगांव (घनोटी चंक नंबर 1) में खेत में काम कर रहे अंतोष हरी बावने 32  पर तेंदूए ने हमला कर घायल कर दिया था उसे गंभीर अवस्था जिला सामान्य अस्पताल चंद्रपुर में उपचार के लिए रैफर किया गया. यहां तेंदूए को पकडने के लिए पिंजारा लगाया था.  वन परिक्षेत्र अधिकारी खोब्रगडे, वनक्षेत्र अधिकारी रामलाल यादव के नेतृत्व में वनक्षक एवं वनकर्मी तेंदूए की हरकत पर नजर रखे हुए थे

गांव में सड़की पुलिया के नीचे पाईप में उसे बैठा पाये जाने पर देर शाम उसे बेहोश कर पकड़ा गया. तेंदूए के गले पर तारों का फांसा लगा हुआ था जिससे काफी गहरा घाव होने से उसे चंद्रपुर के ट्राजिंट केअर सेंटर में इलाज के लिए लाया गया. सहायक वनसंरक्षक गजेंद्र हिरे ने इस संदर्भ में बारे में जानकारी देते हुए बताया कि तेंदूए के गले में तारों फांसा था जिससे जख्म होकर उसमें कीड़े लग गए थे. जिससे उपचार के दौरान उसकी आज सुबह मौत हो गई. तेंदूआ तीन साल कर नर था.

गोंदिया. महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक परीक्षा मंडल पुणे द्वारा ली गई एचएससी 12 वीं का परीक्षा परिणाम गुरुवार को घोषित किया गया है. इसमें गोंदिया जिले ने पुन: उंची उड़ान भरी है. संपूर्ण विदर्भ में उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों की संख्या सबसे अधिक है. विभाग में गोंदिया जिले ने प्रथम स्थान हासिल किया है. 20 हजार 282 में से 19 हजार 92 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए है. जिसका प्रश.94.13 है. राज्य शिक्षण मंडल ने 12 वीं बोर्ड का परिणाम घोषित किया है.

इस परिणाम ने जिले के रिजल्ट की परंपरा इस वर्ष भी कायम रखी है. 12 वीं की परीक्षा में 10 हजार 342 छात्र और 9 हजार 940 छात्राएं इस तरह कुल 20 हजार 282 विद्यार्थी परीक्षा में बैठे थे. इसमें से गुरुवार को घोषित परिणाम में 9 हजार 582 छात्र व 9 हजार 510 छात्राएं इस तरह कुल 19 हजार 92 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए है. जिले में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों का प्रश. 92.65 है. जबकि छात्राओं का प्रश.95.67 है. जिले में कुल उत्तीर्ण विद्यार्थियों का प्रश. 94.13 है. इसी तरह रिपीट परीक्षा देने वाले 1109 विद्यार्थियों में से 473 विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए है. जिसका प्रश. 42.65 है.

गोंदिया. जिले में कोरोना संक्रमण के खिलाफ लड़ाई और सशक्त हो इसके लिए तत्काल रैपिड एंटीजन जांच के माध्यम से कोरोना संदिग्धों का तत्काल निवारण करने में मदद होगी. ऐसा प्रतिपादन जिलाधीश डा.कादंबरी बलकवडे ने जिलाधीश कार्यालय में आयोजित बैठक में किया. डा.बलकवडे ने कहा कि कोरोना संदिग्ध का तत्काल निवारण करने जिले में रैपिड जांच प्रक्रिया हाल ही में शुरू की गई है. पथदर्शी प्रकल्प के रूप में शहर के कुंभारे नगर में यह जांच शुरू की गई.

कोरोना संदिग्ध मरीज की प्राथमिक जांच के लिए टेस्ट किट अत्यंत उपयोगी है. जांच की रिपोर्ट केवल 3 मिनट में उपलब्ध होती हैं. जिससे प्रशासन को जिले में कोरोना संक्रमण रोकने तत्काल आवश्यक सभी उपाय योजना करने में मदद होती है. रैपिड एटीजन जांच के लिए सारी, आईएलआई, मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी तथा स्थायी स्वरूप वाली बीमारी, गर्भवती महिला, 60 वर्ष वाले व्यक्ति तथा कोरोना संदिग्धों की जांच रैपिड एंटीजन किट के माध्यम से की जा सकेगी. इस टेस्ट में संदिग्ध व्यक्ति कोरोना प्रभावित मिलने पर व्यक्ति को कोविड केअर सेंटर या आइसोलेशन कक्ष में दाखिल कर उपचार किया जाएगा. यदि उस व्यक्ति का टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आयी तो वह व्यक्ति घर जा सकेगा.

गोरेगांव. तहसील में कोरोना महामारी से संक्रमित मरीजों की संख्या प्रति दिन बढ़ती जा रही हैं. जानकारी के अनुसार ग्राम घोटी में एक तथा मुंडीपार में एक ऐसे और 2 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं जिसके चलते गोरेगांव तहसील में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 9 हो गई है. ग्राम घोटी में 13 जुलाई को जम्मू कश्मीर से एक भारतीय सैनिक अपने घर आया था.

ग्राम के प्रभाग 3 के कुछ व्यक्तियों से संपर्क में भी आया था. जिसके चलते प्रशासन द्वारा कोविड-१९ रोकथाम हेतु साथ रोक प्रतिबंधात्मक कायदा 1897 के तहत जिलाधिकारी व उपविभागीय दंडाधिकारी तिरोड़ा के आदेश अनुसार ग्राम घोटी के प्रभाग 3 को पुलिस सुरक्षा के बीच कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है. प्रभाग में आने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया गया है. साथ ही ग्राम के प्रभाग नं. 1, 2 व 4 को बफर जोन में रखा गया है.

ग्राम घोटी गोरेगांव शहर से बिल्कुल करीब होने के कारण शहर में भी महामारी फैलने का खतरा बढ़ गया है. जिस कारण शहरवासियों को अब ज्यादा सतर्क रहने का समय आ गया है. इस बीच तहसील के स्वास्थ्य विभाग, आशा वर्कर, आंगनवाड़ी सेविकाओं की ओर से टीम बनाकर ग्राम घोटी के प्रभाग 3 में स्थित सभी घरों में जाकर ग्रामीणों की स्वास्थ्य की जांच तेजी से की जा रही है.

इसके अलावा तहसील के ग्राम मुंडीपार में भी एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. मुंडीपार निवासी व्यक्ति कुछ दिन पूर्व बांग्लादेश से लौटा था, परंतु इस व्यक्ति ने समझदारी का परिचय देते हुए खुद को तत्काल क्वारंटाइन कर लिया था. जिस कारण प्रशासन ने ग्राम मुंडीपार को सील करने के आदेश फिलहाल नहीं दिये हैं.

भंडारा. जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में दिन ब दिन वृद्धि हो रही है. जिप के स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी की रिपोर्ट पाजिटिव आने के कारण जिप में हड़कम्प मच गया. प्रशासन ने सभी अधिकारी व कर्मचारियों को होम क्वारंटाइन होने के साथ साथ 20 जुलाई तक जिप बंद रखने का आदेश दिया है. भंडारा जिप के स्वास्थ्य विभाग के एक कर्मचारी की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आने की जानकारी मिलते ही जिप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भूवनेश्वरी एस ने स्वास्थ्य विभाग को भेंट दी.

सभी को किया होम क्वारंटाइन
स्वास्थ्य विभाग के तहत संपूर्ण जिप को सैनिटाइज किया गया. जिप के सभी अधिकारी व कर्मचारियों को होम क्वारंटाइन होने के निर्देश दिए गए. 20 जुलाई तक कोरोना संबंधित कुछ लक्षण दिखाई देने पर स्वास्थ्य विभाग व अपने खाता प्रमुख से संपर्क करने का भी आदेश है. जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी भूवनेश्वर एस ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी की रिपोर्ट पाजिटिव आयी है. स्वास्थ्य विभाग को सैनिटाइज किया गया है. संपर्क के व्यक्ति की खोज लेकर उपाय किए जाएंगे. 

तुमसर. केंद्रीय शिक्षा मंडल (सीबीएससी बोर्ड) द्वारा फरवरी 20 में ली गई कक्षा 10वीं की परीक्षा का ऑनलाइन परिणाम घोषित किया गया. इसमें स्थानीय यूएसए विद्यानिकेतन स्कूल की छात्र सुजल येरने ने 95.6 प्रश अंक प्राप्त कर स्कूल में अव्वल स्थान हासिल किया. इसी स्कूल से सबक ईलाही ने 94.4 प्रश एवं सुहानी नाईक ने 93.8 प्रश अंक प्राप्त कर क्रमशः दूसरे एवं तीसरे स्थान पर रही है.

वैसे ही 90 प्रश से अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में आकांशा ठाकुर, सुबोध रायकवार, मानस शेंडे, शांतनु पटले, हर्षवर्धन कटरे, समृद्धि निखाड़े, अक्षत दखने, पीयूष कटनकर, सायली भांडके, समर्थ देशमुख, सिध्दार्थ सावलानी, सुजल धातरक का समावेश है. इसके साथ 32 विद्यार्थियों ने 80 प्रश से अधिक अंक हासिल कर सफलता प्राप्त की गई हैं.

विद्यानिकेतन स्कूल का परिणाम शतप्रतिशत लगा है. कक्षा 10 वी बोर्ड की  कुल 107 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी. सफलता प्राप्त विद्यार्थियों का  यूएसए विद्यानिकेतन के प्राचार्य सुनीत कुमार दुबे के साथ ही अन्य शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने बधाई दी.

सिहोरा. सिहोरा क्षेत्र को 43 गांवों का केंद्रबिंदू माना जाता हैं. इस क्षेत्र में सिहोरा, हरदोली, करकापुर सिंदपुरी, चूल्हाड़, गोंदेखारी, मोहाड़ी खापा, टेमनी, चांदपुर, बिनाखी, देवसर्रा, बपेरा, पीपरी चुन्नी, मछेरा आदि गांवों में सरकारी समर्थन मूल्य धान खरेदी केंद्र चलाये गये. इससे हर गांव के किसान के खर्चे में बचत हुई. इसी बात से किसान खुश हैं.

नहीं थम रहे संकट
किंतु एक माह होने के बावजूद भी अभी तक किसानों के खाते में पैसे नहीं आने से क्षेत्र के किसान परेशान हैं. बताया जाता हैं कि, किसानों की परेशानी थमी नहीं हैं.  हर गांव में गोदाम की समस्या सामने आ रहीं है. अभी खरीप मौसम आने से खेती पर कार्य करने के लिए ट्रैकटर का खर्च, परा लगाने के लिए खर्च आदि खर्च कहां से करें, क्या फिर से साहुकार के दरवाजे में जाएं ऐसे कई सवाल खड़े होने से किसानों की दिक्कतें बढ़ी हैं. 

हर गांव से 2500 के ऊपर कट्टे का काटा किया गया. शासकीय धान खरेदी केंद्र पर रेट सही मिलने से आस लेकर धान केंद्रो पर दिया गया. किंतु अंत में समय पर पैसा नहीं आने से किसानों के बेहाल हो रहे हैं.  

क्षेत्र के सामजिक कार्यकर्ता व जनप्रतिनिधि हाथ पर हाथ धरे बैठें हैं. इस समस्या को जल्दी हल करने की मांग पूर्व सरपंच हेमराज लन्जे, धनराज भगत, सुनील माने, मधू अड़माचे, सरपंच सिहोरा ओमप्रकाश शरणागत, सामजिक कार्यकर्ता वामनराव सिंगनजुड़े, सा. कार्यकर्ता सिंदपुरी गोवर्धन शेंडे आदि ने मांग की हैं.

अकोला. रामदासपेठ पुलिस थानांतर्गत फरियादी आसिक शहबास खान (25) निवासी ताजनापेठ अकोला यह कैटरर्स के कार्य हेतु कारंजा लाड गया था. अज्ञात आरोपी ने उसके कमरे का ताला तोड़कर अलमारी में रखी 4 लाख रु. की बैग चुरा ली. पुलिस थाने में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. पुलिस अधीक्षक के आदेश पर थानेदार मुकुंद ठाकरे ने घटनास्थल पर भेंट दी और आरोपी की खोज के लिए अपराध खोज पथक को रवाना किया.

पथक में शामिल सहायक पुलिस निरीक्षक नरेंद्र पद्मणे, पुलिस कांस्टेबल प्रशांत इंगले, शेख हसन शेख अब्दुल्ला, स्वप्निल खेड़कर, गजानन खेड़कर, संजय अकोटकर, स्वप्निल चौधरी, विशाल चव्हाण, आजम प्यारेवाले ने मामले की जांच कर आरोपी सलमान शेख रियाज मोहम्मद (25) निवासी ताजनापेठ को गिरफ्तार किया. पुलिस ने आरोपी से चुराई गई रकम में से 90 हजार रु. जब्त किए. शेष रकम 3.12 लाख रु. पुलिस कस्टडी के दौरान जब्त की. न्यायाधीश ने आरोपी को 18 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में रखने के आदेश दिये . यह कार्रवाई पुलिस अधीक्षक जी. श्रीधर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रशांत वाघुंडे, उप विभागीय शहर पुलिस अधिकारी सचिन कदम के मार्गदर्शन में थानेदार मुकुंद ठाकरे व स्टाफ ने की. 

अकोला. अकोला जिले में बुधवार की रात भी मूसलाधार बारिश हुई जिससे विविध स्थानों पर जल जमाव की स्थिति दिखाई दी. निचले इलाकों में पानी जमा हो गया. ग्रामीण क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण कच्चे रास्तों पर दलदल की स्थिति होने से राह चलना मुश्किल हो गया है. जिले के कुछ भागों में स्थित नदी नालों में बाढ़ आने के कारण यातायात ठप्प हो गया था. अकोला जिले में औसतन पिछले 24 घंटों में सुबह आठ बजे तक 27.40 मि.मी. बारिश हुई.

बालापुर तहसील के कई गांवों में बारिश के कारण खेतों की फसलें खराब हो गई. नदी में आयी बाढ़ का पानी कई खेतों में चला गया. इस संदर्भ में बालापुर के तहसीलदार पुरुषोत्तम भुसारी ने बताया कि नुकसानग्रस्त खेतों का सर्वे करने के निर्देश पटवारियों को दिए गए हैं. तेल्हारा तहसील में भी भारी बारिश के कारण विविध स्थानों पर पेड़ गिर गए. शहर के एसटी बस स्टैंड, शिवाजी हाईस्कूल, न्यायालय परिसर, खरीदी बिक्री संस्था सहित कई भागों में पानी जमा हो गया. 

कौठा बैरेज के 5 दरवाजे खोले
वान बांध प्रकल्प के जलभंडारण में 1.73 प्रश बढ़ोतरी होने की जानकारी उप कार्यकारी अभियंता अनिकेत गुल्हाने ने दी. मूसलाधार बारिश होने से लोहारा परिसर के शेगांव-अकोट मार्ग पर स्थित मन नदी का पानी पुल से ऊपर बह रहा था जिससे राज्य महामार्ग का यातायात बंद किया गया. गुरुवार की दोपहर यातायात फिर से सुगम हो सका. बारिश के कारण मन नदी के कौठा बैरेज के 5 दरवाजे खोले गये थे.  जिसके कारण ग्राम कवठा के नीचले इलाकों में पानी जमा हो गया. 

राजुरा. लॉकडाउन के 3 महीने का बिजली बिल माफ करने और आगामी समय में 200 यूनिट तक बिजली बिल माफ करने की मांग को लेकर विदर्भ राज्य आंदोलन समिति ने आंदोलन किया. संगठन ने विरूर स्टेशन के बिजली वितरण कंपनी कार्यालय के सामने बिजली बिलों की होली जलाई. किसानों को नि:शुल्क बिजली देने और कृषि पंपों के बिजली बिल माफ करने की मांग की गई.

आंदोलन का नेतृत्व समिति के नेता पूर्व विधायक एड. वामनराव चटप ने किया. उनके साथ प्रभाकर ढवस, कपिल इद्दे, मधुकर चिंचोलकर, नरेंद्र काकड़े, गुलाब ताकसांडे, आबा ढवस, शेकंद देरकर, सुधाकर अमृतकर, भास्कर सिडाम, भीमराव पाला, जीवन आमने, साईंनाथ झुरमुरे, चरणदास बोटरे, विट्ठल खेकारे, उद्धव कुलसंगे, प्रभाकर लोहे, शालिक मत्ते, शरद जीवतोड़े, रामलू नक्कावार, विलास हजारे, विठोबा लोनारे, बालकृष्ण लडके, चांगदेव बोंडे, जयराम झाड़े, सत्यदेव तोड़ासे, आनंद चहारे, महादेव धोटे, जगदीश बोभाटे, संजय सबावत आदि ने किया.

कृषि पंपों का बिल माफ करें
एड. चटप ने कहा कि वास्तव में उत्पादन खर्च प्रति यूनिट ढाई रुपए होने के बावजूद उपभोक्ताओं से औसतन 7.50 और इंडस्ट्रीयल उपयोग वालों से 11.50 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिल वसूल किया जा रहा है. भारी भरकम बिल की राशि से सामान्य नागरिक हलाकान हो चुके हैं. लॉकडाउन में सभी धंधे-रोजगार ठप रहने से लोगों पर भूखे रहने की नौबत आ गई. अब खरीफ का मौसम शुरू है. किसानों ने खेतों में बुआई कर दी है. किंतु कई जगह पर कपास और सोयाबीन के बीज अंकुरित नहीं हुए. जिससे किसानों को दुबारा बुआई करनी पड़ रही है.

 

चंद्रपुर. जिले में ग्रामीण क्षेत्र काफी बड़ा है. ग्रामीण में अधिक से अधिक लोग खेती पर निर्भर होते हैं. ग्रामीण क्षेत्र की वित्त व्यवस्था मजबूत करनी हो, तो कृषि उपज बाजार समिति ने किसानों को स्वयंपूर्ण बनाने के केंद्र बनना चाहिए. उनके लिए सक्षम नियोजन करने का प्रतिपादन विधायक किशोर जोरगेवार ने कृषि उपज बाजार समिति को दी भेंट के दौरान किया. इस समय सभापति दिनेश चोखारे, उपसभापति रंजीत डवरे, संचालक नीरज बोंडे, गोविंद पोले, अरविंद चवरे, प्रभाकर श्रीरामे आदि प्रमुखता से उपस्थित थे. 

मदद के लिए साथ खड़े रहें
विधायक जोरगेवार ने किसान भवन, सुलभ शौचालय आदि विषयों पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि कृषि उपज बाजार समिति व किसानों में अच्छे संबंध होना आवश्यक है. संकटों का सामना करने के दौरान किसान वर्ग हमेशा पीछे हट जाता है. ऐसे में कृषि उपज बाजार समिति ने उनके पीछे सहायता के लिए खड़े रहना चाहिए. कृषि उपज बाजार समिति की कई समस्या प्रलम्बित है. अनियमित बारिश व फसल खराब होने से किसान संकटों में फंसता जा रहा है. इसका परिणाम वित्तीय व्यवस्था पर हो रहा है. किसानों द्वारा उत्पादित फसलों की बिक्री किसानों को स्वयं की इच्छाअनुसार करना चाहिए. इसलिए कृषि उपज बाजार समिति की निर्मिति की है. समिति का मूल उद्देश्य लोगों को समझे ऐसा कार्य कृषि उपज बाजार समिति के माध्यम से होना चाहिए.

चंद्रपुर. राज्य शिक्षा मंडल द्वारा ली गई 12वीं की परीक्षा का परिणाम गुरुवार को घोषित किया गया. कोरोना संकट के चलते परिणाम घोषित करने में देरी हुई. आमतौर पर कक्षा 12वीं का परिणाम जून के अंतिम सप्ताह में घोषित हो जाता है. जिले का कुल परिणाम 90.60 प्रश लगा. पिछले वर्ष के मुकाबले यह काफी बेहतर है. पिछले वर्ष 80.89 प्रश रिजल्ट लगा था. हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी छात्रों के मुकाबले छात्राओं ने एक बार फिर बेहतरीन प्रदर्शन किया.

नागपुर संभाग में चंद्रपुर इस वर्ष भी चौथे स्थान पर है. पिछले 4 वर्षों से चंद्रपुर चौथे स्थान पर बरकरार है. नागपुर संभाग में गोंदिया 94.13 प्रश लेकर प्रथम, भंडारा 93.58 प्रश लेकर द्वितीय, नागपुर 92.53 प्रश लेकर तृतीय, चंद्रपुर 90.60 प्रश लेकर चौथे स्थान, गड़चिरोली 88.64 प्रश लेकर 5वें और वर्धा 87.40 प्रश लेकर 6वें स्थान पर रहा.

93.51 प्रश छात्राएं सफल
प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी बेटों के मुकाबले बेटियों ने बाजी मारी. छात्राओं का परीक्षाफल 93.51 प्रश रहा. वहीं छात्रों का 82.87 प्रश लगा. पढ़ाई के मामले में छात्रों का पिछड़ना कई वर्षों से जारी है. इस वर्ष 65 जूनियर कालेजों का शतप्रतिशत रिजल्ट लगा, जो पिछले वर्ष के मुकाबले में काफी अच्छा है. पिछले वर्ष केवल 17 कालेज का ही परिणाम शतप्रतिशत लगा था.

अमरावती. जिले के किसानों को यूरिया व खाद की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन कृषि विभाग व अधिकारी हाथ पर हाथ धरे बैठे है. कृषि केंद्र संचालकों द्वारा लिंकिंग व्यवस्था का फायदा उठाने का आरोप लगाते हुए जिप कृषि समिति के सदस्यों ने सीईओ अमोल येडगे के कक्ष में ही ठिया आंदोलन किया. प्रशासन द्वारा की जा रही मनमानी तथा यूरिया व खाद की कृत्रिम किल्लत के निषेध में हाथों में पोस्टर दिखाए. 

गलत जानकारी देने से फटा गुस्सा 
जिप में गुरुवार को कृषि विभाग की बैठक उपाध्यक्ष विठ्ठल चव्हाण की अध्यक्षता में शुरू हुई. बैठक शुरू होते ही अधिकारियों द्वारा सदस्यों को गलत जानकारी देने का आरोप लगाते हुए सदस्यों का गुस्सा फूट पड़ा. प्रकाश साबले, प्रवीण तायडे ने अधिकारियों के सवालों पर ही असंतोष जताते हुए सही जानकारी मांगने के लिए सीईओ के कक्ष में पहुंच गये.

इस समय प्रत्येक सदस्य के हाथ में लिंकिंग बंद करने की मांग वाला पोस्टर भी पकड़ाया गया. सदस्यों ने सीधे सीईओ के कक्ष में पहुंचकर नारेबाजी करते हुए अधिकारियों पर ही कार्रवाई की मांग. इसलिए गलत जानकारी देनेवाले अधिकारियों पर कार्रवाई कर किसानों को यूरिया उपलब्ध कराने की मांग की. बैठक में सरिता देशमुख, महादेवराव समोसे आदि उपस्थित थे.

अमरावती. शहर के जयस्तंभ चौक परिसर स्थित दवा बाजार से सटा महात्मा गांधी निजी व्यापारी संकुल की 3 मंजिला इमारत के 16 प्रतिष्ठान गुरुवार की सुबह 3 बजे अचानक धराशाही हो गये. इस घटना में इमारत के बाहर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षा कर्मी जख्मी हुए है. शहर के व्यस्त इलाके में हुई इस घटना से खलबली मची हुई है. हालांकि यह हादसा रात में होने से सौभाग्य से जीवित हानि नहीं हुई है. 

65 वर्ष पूराना मार्केट
जयस्तंभ चौक का यह मार्केट 60 से 65 वर्ष पूराना है. इस मार्केट में तकरीबन 100 से 125 प्रतिष्ठान है, जिसमें से दवा मार्केट मार्ग के 16 प्रतिष्ठान जर्जर होने से धराशाही हो गये. गुरुवार की सुबह 3 बजे के आसपास मार्केट का एक तरफ का हिस्सा धराशाही हो गया. इमारत ढहने की जानकारी जैसे ही मनपा प्रशासन को मिली, तो मनपा के अधिकारियों के साथ व्यापारी भी 20 मिनट में घटनास्थल पर पहुंचे. मलबे के नीचे दबे कर्मचारी को ढाई घंटे की लंबी जद्दोजहद के बाद दमकल विभाग के अधिकारियों द्वारा बाहर निकाला गया. 

स्ट्रक्चरल आडिट भी नहीं, ना ही नोटिस
महानगरपालिका ने इसके पूर्व ही 30 वर्ष से अधिक वर्ष हुई इमारतों को स्ट्रक्चरल आडिट करने के आदेश जारी किये थे. जबकि 70 से अधिक वाली इमारतों को स्वयं अथवा मनपा को सूचित कर ढहाने का आह्वान किया, लेकिन मनपा के आह्वान पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया. पार्षदों ने भी इस मार्केट के साथ अन्य मार्केट को भी नोटिस नहीं भेजे जाने पर प्रशासन से सवाल पूछा है. 

अहेरी. विकास के लिए सडक व यातायात की अधिक आवश्यकता है. यह आवश्यकता ध्यान में लेकर सडक व नाले के छोटा-बडा पुलिया निर्माण किया जाए इसके लिए प्रयास करने का प्रतिपादन पूर्व राज्यमंत्री तथा विधायक धर्मरावबाबा आत्राम ने किया.

तहसिल के देवलमरी यहा के नाले के पुलिया का आज, बुधवार 15 जुलाई विधायक धर्मरावबाबा आत्राम के हाथों उद्घाटन किया गया. इस अवसर पर वे बोल रहे थे. कार्यक्रम में पूर्व जिप अध्यक्षा भाग्यश्री आत्राम, सामाजिक कार्यकर्ते बबलू हकीम, राकां पक्ष की महिला जिला कार्याध्यक्ष शाहीन हकीम, देवलमरी के ज्येष्ठ नेते मुतन्ना दोन्तुलवार, साबां विभाग आलापल्ली के कार्यकारी अभियंता अतुल मेश्राम, उपविभागीय अभियंता राजकुमार नाकले, कंत्राटदार व्हि. बी. बोम्मावार आदी उपस्थित थे.

इस समय विधायक धर्मरावबाबा आत्राम ने कहा की, ‘जहा गाव वहा सडक’ व जहा गाव वहा बस सेवा’ यह अपना ब्रीद वाक्य होकर अहेरी क्षेत्र के प्रत्येक नाले के पुलिया के लिए व सडक निर्माणकार्य के लिए हमेशा प्रयासशील होकर उसके लिए कटिबध्द होने का उन्होंने कहा.

इस समय राकां अहेरी तहसिलध्यक्ष श्रीनिवास विरगोनवार, श्रीकांत मद्दीवार, लक्ष्मण येरावार, महेश अलोण, शैलेश पटवर्धन, इरफान शेख, श्रीनिवास मगडीवार, संतोष तोरे, सुरेश बोम्मावार, महेश लेकुर, सुरेश गुंडावार, देलवमरी ग्रापं सदस्य सालय्या कंबालवार  आदिं समेत देवलमरी के ग्रामीण तथा परिसर के गावकरी उपस्थित थे. 

तकरीबन 25 वर्ष की बडी प्रतीक्षा के बाद देवलमरी के नाले पर पुलिया की निर्मिती की गई है. उक्त पुलिया से तकरीबन 18 गावों का संपर्क बारिश में तहसिल मुख्यालय से जुडा रहनेवाला है. सिरोंचा तहसिल के रेगुंठा तक उक्त पुलिया से आना जाना किया जा सकता है. उक्त पुलिया से इस क्षेत्र के गावकरियों की सडक व पुलिया की समस्या छुटी होकर उनकी होनेवाली परेशानी हल होनेवाली है.

गडचिरोली. मानसून में अधिक बारीश होनेवाले आद्रा व पुनर्वसू यह 2 नक्षत्र सुके जाने से खेत में बुआई किए धान के रोपे नष्ट होने में मार्ग पर थे. अनेक किसानों पर दोबारा बुआई का संकट आया था. ऐसे में गए 2 दिनों से जिलें में बारीश होने से चिंता में होनेवाले किसानों के चेहरे पर मुस्कान आयी होकर किसानों रोपाई कार्य में जुटे हुए है. 

जुलाई महिने में 2 सप्ताह बारीश नही हुई. जिससे जिलें के किसानों की आकाश की ओर नजर टीकी हुई थी. खेत में बुआई किए धान के रोप नष्ट होने के मार्ग पर होने से किसान चिंताओं पडे थे. मात्र 2 दिन से जिलें समेत अनेक तहसील में रिमझिम बारीश होने से किसान समेत नागरिकों को राहत मिली है. बिच की अवधि में बारीश ने पीठ की होने से किसान बारीश की प्रतिक्षा में थे. पहले बारीश के बाद अनेक किसानों ने खेत में धान की बुआई की थी. मात्र बारीश ने पीठ की होने से बुआई किए रोप नष्ट होने के मार्ग पर थे.

गडचिरोली. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का (सीबीएसई) 10 के नतीजे आज 15 जुलाई को घोषीत किए गए. इसमें चामोर्शी तहसील घोट में स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय का विद्यार्थी निनाद प्रशांत कांबले ने जिलें में अव्वल स्थान प्राप्त किया है. वही देसाईगंज तहसील के कारमेल अकॅडमी हाइस्कुल आमगांव का विद्यार्थी निशांत बन्सोड ने द्वितीय स्थान पर रहा. तो इसी हाईस्कुल की श्रावस्ती सुखदेवे, राजेश्वरी रहेजा छात्राएं संयुक्त रूप से तृतीय स्थान पर रही.

नवोदय विद्यालय घोट का विद्यार्थी निनान प्रशांत कांबले ने 98 प्रतिशत अंक प्राप्त करते हुए स्कुल के साथ ही जिलें में अव्वल क्रमांक प्राप्त किया है. उसे गणित तथा विज्ञान विषय में शतप्रतिशत अंक मिले. देसाईगंज तहसील के कारमेल अकॅडमी हाईस्कुल आमगांव का विद्यार्थी निशांत प्रेमचंद बन्सोड ने 97.2 प्रतिशत अंक प्राप्त कर जिलें से द्वितीय स्थान प्राप्त किया. वहीं इसी हाईस्कुल की छात्रा श्रावस्ती लक्ष्मण सुखदेवे व राजेश्वरी गिरीधारीलाल रहेजा ने संयुक्त रितो से 97 प्रतिशत अंक प्राप्त कर तिसरा क्रमांक हासील किया. सफलता प्राप्त विद्यार्थीयों का शिक्षक, शिक्षकेत्तर कर्मचारी साथ ही सभी स्तर से प्रशांसा की जा रही है. 

सिरोंचा. सिरोंचा पंस अंतर्गत शिक्षा विभाग में सभी रिक्त पड़े पद शैक्षणिक सत्र शुरू होने के पूर्व भरने की मांग आदिवासी विद्यार्थी संगठन ने जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार व जिप उपाध्यक्ष मनोहर पोरेटी को सौंपे ज्ञापन में की है. दोनों सिरोंचा दौरे पर आए थे. आविसं के तहसील अध्यक्ष बानय्या जनगम व सल्लागार रवि सल्लम ने शिक्षा विभाग के रिक्त पद भरने संदर्भ में चर्चा कर ज्ञापन सौंपा गया.

ज्ञापन में कहा है कि, सिरोंचा के शिक्षा विभाग में गुटशिाधिकारी, अधीक्षक, विस्तार अधिकारी श्रेणी 2 के 4 पद, श्रेणी 3 के 4 पद, केंद्र प्रमुख के 8 पद, उच्च श्रेणी प्रधानाध्यापक, विषय शिक्षक 5 पद व प्राथमिक शिक्षकों के 36 पद कुल शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों के 62 पद रिक्त है. 

शिक्षा पर पड़ रहा विपरीत असर
रिक्त पदों से ग्रामीण व शहरी क्षेत्र छात्रों के प्राथमिक शिक्षा पर विपरीत परिणाम हो रहा है. जिससे होने वाले रिक्त पद तत्काल भरने की मांग की है. इस समय जिप अध्यक्ष कंकडालवार व उपाध्यक्ष पोरेटी ने सिरोंचा पंस अंतर्गत आनेवाले शिक्षा विभाग के रिक्त पद तत्काल भरने का आश्वासन आविस के पदाधिकारियों को दिया.

भंडारा. शहर के विभिन्न क्षेत्रों में मोबाइल टॉवर पिछले कई वर्षों से खड़े हैं. इन टॉवरों की देखभाल कई वर्षों से नहीं की जा रही हैं. अगर समय रहते इन टॉवरों को नहीं हटाया गया तो निकट भविष्य में किसी बड़ी दुर्घटना से इंकार नहीं किया जा सकता. नागरिकों की ओर से कई बार शिकायत करने के बाद भी खतरनाक टॉवरों के बारे में गंभीरता से विचार नहीं किया जा रहा है. 

शहर में बिछा है जाल
सवा लाख जनसंख्या वाले भंडारा शहर में 25 मोबाइल टॉवर हैं. पिछले वर्ष पर्यावरण प्रेमियों समेत वरिष्ठ नागरिकों ने शहर में मोबाइल टॉवरों के विरोध में स्वर बुलंद किया था, किंतु नागरिकों के विरोध की ओर ध्यान न देकर मेंढा (खांबतालाब), खात रोड, कस्तूरबा गांधी वार्ड, साईं मंदिर रोड क्षेत्रों में मोबाइल टॉवर का निर्माण किया गया. 11 वर्षों में शहर में मोबाइल टॉवरों का जाल सा बिछा है. फिर भी मोबाइल सेवा शहर में सुचारू रूप से संचालित नहीं हो पा रही है. 

नियमों की अनदेखी
इस क्षेत्र में काम करने वाली कई निजी कम्पनियां अपनी सुविधा के लिए सभी नियमों को ताक पर रखकर मोबाइल टॉंवर का निर्माण कर रही हैं. जिनकी मालिकाना जगह या इमारत में यह टॉवर लगाया जाता है. उनको अच्छी खासी रकम मिलती है. इस वजह से जिन स्थान इमारत परिसर में  टॉवर लगाए गए हैं, उसे हटाने के प्रति उस जगह या इमारत के मालिक कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते, इसीलिए खतरनाक होने के बावजूद मोबाइल टॉवर को हटाने के प्रति कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है. 

भंडारा. वर्तमान में पारम्पारिक धान खेती नुकसान में रहने से किसान अब साग-सब्जी फसल के साथ ही फल नर्सरी बुआई की ओर ध्यान दे रहे हैं. अब कृषि विभाग रोजगार गारंटी योजना के माध्यम से जिले में 200 हेक्टेयर पर फल नर्सरी की बुआई की जाएगी. इससे 1,683 मजदूरों को दिलासा मिलेगा. इसमें भंडारा तहसील में 58.10 हेक्टेयर पर फल नर्सरी बुआई के लिए कृषि विभाग ने मंजूरी दी है.

जिले में धान मुख्य फसल है. हालांकि खर्च में वृद्धि होने से किसानों के हाथ में अपेक्षित उत्पन्न नहीं आता है. फल नर्सरी की बुआई करने के बाद किसान आंतर फसल ले सकेंगे. इस कारण किसानों को दोगुणा लाभ होगा. सरकारी कृषि विभाग द्वारा इसके लिए किसानों को मार्गदर्शन किया जा रहा है. 

योजना का लाभ लें किसान : कोटांगले
रोजगार गारंटी योजना से किसानों को फल नर्सरी बुआई करनी है. किसान स्वयं परिवार की मदद से बुआई कर सकते हैं. उनके काम के पैसे किसानों के खाते में जमा होंगे. किसानों का जाब कार्ड आवश्यक है. 3 वर्षों के लिए सरकार की ओर से अनुदान दिया जाता है. कटहल, आम, चिकू, जाम, सीताफल बुआई की जाएगी. सरकार के भंडारा व आंधलगांव फलरोप वाटिका से पौधे उपलब्ध कर दिए जाएंगे.

अकोला. इन दिनों हो रही जोरदार बारिश के कारण बालापुर तहसील के कई गांवों को बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. लगातार बारिश होने के कारण नदी और नालों का जलस्तर बढ़ गया है. अब यदि जोरदार बारिश होती है तो बालापुर तहसील में मन, महेश, निगुर्णा और पुर्णा नदियों के साथ-साथ छोटे बड़े नालों में भी बाढ़ आ सकती है. ने की आशंका व्यक्त की जा रही है. बाढ़ की स्थिति दिखाई देने पर प्रशासकीय विभाग सजग हो गया है. बालापुर तहसील कार्यालय में नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है ताकि आपदा आने पर तुरंत उससे निपटा जा सके. बालापुर के उपविभागीय अधिकारी रमेश पवार के मार्गदर्शन में तहसीलदार पुरुषोत्तम भुसारी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं. 

आपदा से निपटने सजग
आपदा व्यवस्थापन को सतर्क किया गया है. बाढ़ से खतरे वाले संबंधित गांवों को सूचनाएं दे दी गई है, ताकि बालापुर तहसील में बालापुर, कोलासा, मनारखेड, कसूरा, सोनगिरी, कलंबा बु., कलंबा खु, डोंगरगांव, लोहारा, कवठा, बहादुरा, हिंगणा, निंबा, हातरुण, वाडेगांव, सांगवी, कुपटा, शेलद, भिकूनखेड, सोनाला, बोरगाव वैराले आदि गांवों को बाढ़ आने पर प्रशासन द्वारा सतर्क रहने के संदेश के साथ ही आपदा से निपटने के लिए तैयारी की गई है.

अकोला. अकोला महानगर, मूर्तिजापुर , बोरगांव मंजू शहर सहित खांबोरा उन्नई बांध के ग्रामीण जलापूर्ति से जुड़े 64 ग्रामों को जलापूर्ति करने वाले ग्राम महान स्थित काटेपूर्णा बांध का जल भंडारण बढ़कर 51 प्रतिशत तक पहुंच गया है. काटेपूर्णा बांध प्रकल्प परिसर में भारी बारिश होने से जल भंडारण में बढ़ोतरी हुई है. 1 जून से अब तक 270 मीमी बारिश होने की जानकारी सिंचाई विभाग द्वारा दी गई है. पिछले वर्ष काटेपूर्णा बांध में इस समय तक जल भंडारण कम था. इस वर्ष जल भंडारण में और बढ़ोतरी होने की संभावना व्यक्त की जा रही है.

काटेपूर्णा बांध के जलग्राही क्षेत्र में आने वाले 12 लघु तालाब सुकंडा, कुरल, कोली, विझोरा, मसला, खडकी, मालेगांव, बोरगांव, कुत्तरडोह, डव्हा, सुधी और चाकातीर्थ यह तालाब पूरी तरह से भर गए हैं. अकोला महानगर को जलापूर्ति करनेवाले काटेपूर्णा बांध में कुल 5 वाल्व है. जिसमें से 4 ‍वाल्व पूरी तरह से पानी के नीचे आ गए हैं और 3 फीट की दूरी पर पांचवा वाल्व है. इस वर्ष जल भंडारण शुरू से ही बढ़ रहा है. जलग्राही क्षेत्र की वाघा, कोथली, जांभरूण, देवधरी की टेकडियां पानी में डूब चुकी है. 

चंद्रपुर. जिले में तेजी से बढ़ रहे कोरोना महामारी के प्रकोप की रोकथाम करने, कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आये लोगों की खोज करने तथा कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने की दृष्टि से चंद्रपुर शहर, उर्जानगर तथा दुर्गापुर क्षेत्र में 17 से 21 जुलाई तक कड़क लॉकडाउन घोषित किया गया है.

जिलाधिकारी कुणाल खेमनार ने यहाँ जारी एक वीडियो बयान में उक्त लॉकडाउन की घोषणा की है. उन्होंने बताया है कि, यह लॉकडाउन 2 चरणों मे होगा. पहले चरण में 21 जुलाई तक उपरोक्त तीनों क्षेत्र में जीवनावश्यक वस्तुओं सहित अन्य सभी दुकानें तथा व्यापारी प्रतिष्ठान पूर्णतः बंद रखे जाएंगे. 

उसके बाद तीनों क्षेत्रों में सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक जीवनावश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेगी.अन्य सभीं प्रतिष्ठान बंद ही रहेंगे.

उन्होंने स्पष्ट किया कि, उपरोक्त लॉकडाउन के दौरान तीनों क्षेत्र में निजी यात्री परिवहन सेवाएं, निजी कार्यालय बंद ही रहेंगे. इस दौरान जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से उपरोक्त तीनों क्षेत्रों में किसी को भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा. इसके पहले जिन्होंने भी आगमन के लिए पासेस बनाये वे सभीं पासेस रद्द किए गए है.

खेमनार ने आगे बताया कि, तीनों शहरों में सिर्फ उन्हीं लोगों को प्रवेश दिया जाएगा जो वंदे भारत स्कीम के तहत विदेशों से आने वाले है.

चंद्रपुर. पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने कहा है कि जिले में स्कूल_ कालेज शुरू करने के संदर्भ में 31 जुलाई के बाद राज्य सरकार से प्राप्त मार्गदर्शक सूचनाओं का चरणबध्द तरीके से निर्णय लिया जाएगा. तब तक विभिन्न माध्यम से विद्यार्थियों तक शैक्षणिक सूचना, सुविधा पहुंचाने का प्रयास हम कर रहे है.जिले में हो रहे विभिन्न प्रयोगों को अभिभावकों एवं विद्यार्थियों का प्रतिसाद मिल रहा है.

वडेट्टीवार ने कहा कि जिला प्रशासन, महानगर पालिका, नगर पालिका प्रशासन के माध्यम से चलायी जा रही स्कूलों के संदर्भ में अलग अलग प्रयोग शुरू है. जिला परिषद के सीईओ राहुल कर्डिले ने ऑनलाईन शिक्षण के लिए विद्यार्थियों को प्रेरित करने के लिए सरपंचों से संपर्क किया है, महानगर पालिका प्रशासन अपने परिसर में विद्यार्थियों के घर शिक्षकों को भेजकर पढाने की शुरूआत की है. नगर पालिका, नगरपंचायत, स्तर पर ऑनलाईन पध्दति से शैक्षणिक सुविधा एवं मार्गदर्शन उपल्ब्ध करने का काम शुरू है. उन्होने कहा कि राज्य सरकार का नीतिगत निर्णय 31 जुलाई के बाद ही अपेक्षित है इसलिए 31 जुलाई तक स्कूलें बंद ही रहेंगी. परंतु शिक्षक एवं शिक्षकेततर कर्मचारी अपने अपने काम के लिए स्कूलों में उपस्थित रहे. चंद्रपुर जिला कार्य क्षेत्र में प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्कूल चरणबध्द तरीके से शुरू करने का तय किया है. इसके लिए प्रत्येक स्थान पर स्थानीय परिस्थिति अनुसार स्कूल शुरू करने का निर्णय लिया जाएगा. ग्राम पंचायत स्कूल प्रबंधन समिति इस संदर्भ में एकत्रित होकर निर्णय ले.

जिले में बड़े पैमाने पर डिजीटल माध्यम का शैक्षणिक सत्र में उपयोग करने का संकल्प लगभग पक्का होने के कारण इस संदर्भ में शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण देने के लिए शुरूआत करने का निर्देश दिया गया है. शिक्षणाधिकारी माध्यमिक, शिक्षणाधिकारी प्राथमिक से चर्चा शुरू है. शीध्र ही इस संदर्भ में भी निर्णय लिया जाएगा ऐसा उन्होने स्पष्ट किया है.

सिंदेवाही. सिंदेवाही के लोनवाही नागरी बस्ती में स्थित सहकारी राईसमील परिसर में मंगलवार की सुबह घुसी एक मादा बाघिन ने वहां के वाहन चालक गजानन ठाकरे को गंभीर जखमी किया था. परिसर में बाघिन की मौजुदगी से नागरिकों में दहशत फैल गयी थी. जानकारी मिलने के पश्चात घटनास्थल पहुची वनविभाग टिम ने 12 घंटों के काफी मशक्कत के बाद झाडीयों में झुपी बाघिन को ट्रैग्युलाईज कर शाम 7 बजे पिंजरे में बाघिन को कैद करने में सफलता मिली. संबंधित बाघिन ढाई से 3 वर्ष की है. 

मंगलवार की सुबह से ही परिसर के नागरिक घर के छत्तों पर चढकर बाघ को देखने की कोशिश कर रहे थे. दौरान किसी भी तरह का अनुचित प्रकार ना हो इसलिए पुलिस ने तगडा बंदोबस्त लगाया था. सर्वप्रथम बाघ परिसर से बाहर ना जाए इसहेतु परिसर को ग्रिननेट की बाड बनाई गयी थी. तत्पश्चात चंद्रपुर के शार्पशुटर ठाकरे को बुलाया गया. साथ ही पशु वैद्यकीय अधिकारी डा. खोब्रागडे को बुलाया गया था. तत्पश्चात बाघिन को पकडने का रेस्क्यु आपरेशन चलाया गया. आखिरकार 12 घंटे के मशक्कत के पश्चात शार्पशुटर ने झाडियों में छिपे बाघिन को ट्रैग्युलाईज इंजेक्टशन के जरिए बाघिण को बेहोश किया व उसे पिंजरे में कैद किया गया. बाघिन को पिंजरे में कैद करने के पश्चात परिसर के नागरिकों ने राहत की सांस ली.

बाघिन ने सहकारी राईस मील में वाहन चालक पर हमला करने की जानकारी मिलते ही लोनवाही व सींदेवाही के नागरिकों ने भीड इकठ्ठा की थी. बाघिन के पिंजरे में कैद होने तक लोगों की भीड जुटी रही थी. घरों के छतों पर लोगों की भीड दिखाई दे रही थी.  

कार्यवाही में ब्रम्हपुरी वनविभाग अधिकारी सहाय्यक वनसंरक्षक रामेश्वरी भोंगाडे, सींदेवाही वनपरिक्षेत्र अधिकारी आर एस गोंड, क्षेत्र सहाय्यक आर एम करंडे, नागभीड वनपरिक्षेत्र अधिकारी गायकवाड, सींदेवाही वनपरिक्षेत्र कर्मचारी व आरआरटी_टीएटीआर के अमोल ताजने, राहुल धनविजय, सींदेवाही पुलिस निरिक्षक रामटेके व उनकी टिम घटनास्थल पहुची थी. बुधवार की सुबह बाघिन को जंगल में मुक्त करने का निर्णय लिया गया. 

चंद्रपुर. कोरोना का संक्रमण कायम होने से स्कूल शुरू करना कठिन है. अभिभावकों के आक्षेप और विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए इस समय अंग्रेजी माध्यम की स्कूलों ने घरों में ही ऑनलाईन क्लासेस शुरू की है परंतु स्थानीय निकायों के स्कूलों में पढने वाले विद्यार्थियों के लिए ऑनलाईन कक्षाएं लेना संभव नहीं होने से चंद्रपुर मनपा शिक्षण विभाग ने बीच का रास्ता निकाला स्कूल बंद पर शिक्षण शुरू इस उपक्रम अंतर्गत विद्यार्थियों के घर जाकर शिक्षक उन्हें पढा रहे है. इस उपक्रम का अभिभावकों ने स्वागत किया है.

कोरोना संकट के चलते जिला परिषद, नगर पालिका, महानगर पालिका की स्कूलें बंद है. इन स्कूलों में पढनेवाले अधिकांश विद्यार्थी गरीब होने से अभिभवकों के पास स्मार्टफोन उपलब्ध नहीं है.इंटरनेट का खर्चा उठाना संभव नहीं है इसलिए उन्हें ऑनलाईन शिक्षण देना कठिन है. ऐसे समय विद्यार्थियों का शैक्षणिक नुकसान ना हो इसलिए मनपा आयुक्त राजेश मोहिते, प्रशासकीय अधिकारी नागेश नीत ने स्कूल बंद, शिक्षण उपक्रम हाथ में लिया है इसके अंतर्गत स्कूल बंद रखकर शिक्षकों को विद्यार्थियों के घरों में जाकर पढाने का काम दिया गया है.

मनपा की 29 स्कूलें है पहली से दसवीं तक लगभग 2400 विद्यार्थी शिक्षणरत है 74 शिक्षक कार्यरत है सभी शिक्षक प्रतिदिन दस विद्यार्थियों के घर जाकर उन्हें पढा रहे है किसी एक प्रभाग में यदि आठ से दस विद्यार्थी रहते है तो उन्हें घर में बुलाकर पढाया जारहा है. विद्यार्थयों को घर में पढाई के लिए होमवर्क दिया जा रहा है. विद्यार्थी एवं शिक्षक मास्क लगाकर, सैनिटाईज होकर इस काम को अंजाम दे रहे है. मनपा के इस उपक्रम को अभिभावकों का भी सकारात्मक सहयोग मिल रहा है.

अमरावती. कोरोना के बढ़ते प्रसार को देखते हुए अब जिलाधिकारी ने अप-डाउन करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के प्रति सख्ति दिखाई है. उन्होंने बुधवार को आदेश जारी करते हुए मुख्यालयों में न रहने वालों पर कोविड-19 के तहत कार्यवाई करने की चेतावनी दी है.

कोरोना के संक्रमण पर उपाय योजना
जिला प्रशासन कोरोना से निपटने के लिए एडी चोटी का जोर लगा रहा है. लेकिन अधिकारियों, कर्मचारियों के मुख्यालय में रोज अप-डाउन के कारण कोरोना का संक्रमण बढ़ने की संभावना है. ऐसे में सभी सरकारी विभाग प्रमुखों से उन्होंने अपने अधिकारियों- कर्मचारियों को मुख्यालय में रहने पर के बंधन की सूचना देने को कहा है. नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई की चेतावनी उन्होंने दी है.

चांदूर बाजार. बोगस बीज के बाद अब बोगस खर-पतवार नाशक भी किसानों के मत्थे मढ़े जा रहे है. ऐसा आरोप तहसील के किसानों ने लगाया है. उन्होंने बताया है, कि इन दिनों अच्छी बारिश के कारण खेतों में खरपतवार तेजी से बढ़ रहा है, जिससे निपटने के लिए किसान मुश्किल आर्थिक जुगाड़ कर आनन फानन में खर-पतवार नाशक दवा खरीदी तर छिड़काव कर रहे है. लेकिन इसका भी असर नहीं हो रहा है, जिससे यह बोगस होने की बात किसान कर रहे है.

जली ही नहीं घास
फसल के पास बड़ी मात्रा में उग आयी खर-पतवार से फसलों को नुकसान पहुंच रहा है, ऐसे में किसानों ने बड़ी कंपनियों के महंगे खर-पतावार नाशक खरीदे. लेकिन इनका छिड़काव करने पर भी अनावश्क घास नहीं जली. तलवेल के निलेश काले के साथ भी ऐसा ही हुआ है. अन्य किसानों ने भी बोगस खर-पतवार नाशक की शिकायत की है. किसानों में रोष पनप रहा है.

चांदूर रेलवे. बिजली का पोल खड़ा करते समय गड्ढे में कांक्रीट कम व पत्थर अधिक डाले जाने से एक बारिश में ही पोल डेढ़ा हो गया, जिससे महावितरण के काम को लेकर शहर में रोष व्याप्त है. मंगलवार को रात को शहर में तेज बारिश हुई.  इस बारिश से धामणगांव रोड की जिजामता कालोनी के सामने लगा बिजली का पोल टेढ़ा हो जाने की बात बुधवार को उजागर हुई है. पोल डेढ़ा होने के साथ गड्ढे का कांक्रीट भी नीचे बह गया, जिससे पत्थर ही पत्थर गड्ढे में दिखाई दे रहा है. इस मामले में नागरिकों की शिकायत पर दोपहर 3 बजे विषेश प्रकल्प विभाग की कार्यकारी अभियंता वैद्य उपविभागीय अभियंता कोहले आदि ने भेंट दी व कार्रवाई का आश्वास दिया. 

काम व्यवस्थित नहीं 
हमारे घर के सामने जो पोल लगाया गया. काली मिट्टी में गड्ढाकर उसमें कांक्रीट की जगह पत्थर अधिक भरे गए. काम व्यवस्थित न होने से बुधवार को यह पोल टेढ़ा हो गया.-संग्राम इंगले, नागरिक

3 माह में पोल पूरी तरह झुका
3 माह पहले लगाए गए पोल में से 1 पोल बुधवार को पूरी तरह झुक गया. सौभाग्य से कोई हानि नहीं हुई. यह काम अत्यंत निकृष्ठ दर्जे का किया गया. इस काम की उच्च स्तरिय जांच होना जरुरी है. -राजेश पांडे, पूर्व पार्षद

होगी कार्रवाई
हमने प्रत्यक्ष जाकर मुआयना किया है. कमियां दिखाई दी है. जल्द ही इस मामले में जांच होगी. -वैद्य, कार्यकारी अभियंता

गोरेगांव. गोंदिया-चंद्रपुर रेलवे मार्ग पर गोरेगांव तहसील अंतर्गत हिरडामाली रेलवे स्टेशन पर योग कक्षा शुरू होने की जानकारी मिलने पर विभिन्न प्रकार की चर्चाएं जारी हैं. इस समय किसी भी तरह के ट्रेनों के परिचालन नहीं होने से काफी दिनों से यह प्लेटफार्म सुना पड़ा है, जहां कोई हलचल नहीं है. ऐसे में वहां प्रवेश कर किसी भी तरह की गतिविधि संचालित करने के लिए रेलवे प्रशासन का निर्देश जरूरी है.

होगी कार्रवाई : बहादुर
रेलवे सुरक्षा बल के प्रभारी नंद बहादुर ने इस संदर्भ में कहा कि घटना की पुष्टि होने पर निश्चित रुप से संबंधितों पर कार्रवाई की जाएगी. जानकारी के अनुसार इस घटनाक्रम में गोरेगांव नगर के कुछ अति उत्साही नेताओं की पहल पर योग करना शुरू किया गया है. इस संदर्भ में जिला भाजपा उपाध्यक्ष रेखलाल टेंभरे ने कहा कि रेलवे प्लेटफार्म में गंदगी की जानकारी मिलने के बाद वे वहां पहुंचे थे और सुबह का समय होने के कारण सफाई के साथ योग क्रिया भी की.

तुमसर. सीबीएससी बोर्ड द्वारा फरवरी 19 में ली गई कक्षा 12वीं बोर्ड की परीक्षा का ऑनलाइन परिणाम घोषित किया गया. इसमें स्थानीय यूएसए विद्यानिकेतन स्कूल की छात्रा प्रांजल माधवानी ने 93.8 प्रश अंक प्राप्त कर तुमसर तहसील में अव्वल स्थान हासिल किया. इसी स्कूल से लकी माधवानी ने 92.6 प्रश एवं श्रेय गुप्ता ने 88.8 प्रश अंक प्राप्त कर क्रमशः दूसरा व तीसरा स्थान हासिल किया.

अन्य छात्रों में विशाल अग्रवाल ने 87.2 प्रश, मुस्कान अंगवानी ने 86.4 प्रश, जागृति दादलानी ने 85.6 प्रश, नित्यम लांजेवार ने 84.4 प्रश, साक्षी बोंदरे 84 प्रश अंक हासिल कर सफलता प्राप्त की. विद्यानिकेतन स्कूल का परिणाम 97.95 प्रश लगा है. कक्षा 12वीं बोर्ड की परीक्षा में कुल 49 विद्यार्थियो ने परीक्षा दी थी. सफलता प्राप्त विद्यार्थियों का यूएसए विद्यानिकेतन के प्राचार्य सुनीतकुमार दुबे के साथ ही अन्य शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने बधाई दी.