loader

TECH & GADGETS News

जेरुसलेम: करोनाच्या वाढत्या संसर्गाला आळा घालण्यासाठी अनेक प्रयत्न सुरू आहेत. करोनाबाधितांना ओळखून त्यांच्या उपचार करण्याचे मोठे आव्हान अनेक देशांसमोर आहे. करोनाची चाचणी व त्याचे परिणाम झटपटपणे समोर यावे यासाठी टेस्ट किटवरही संशोधन सुरू आहे. इस्रायलच्या संशोधकांनी अवघ्या एका मिनिटांत करोनाचे निदान करता येईल असे टेस्ट किट विकसित केल्याचा दावा केला आहे.

इस्रायलच्या बेन-गुरियन विद्यापीठातील संशोधक प्रा. गॅबी सरूसी यांनी हे टेस्ट किट विकसित केले आहे. संशोधकांनी निर्मिती केलेल्या इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल करोना टेस्टमध्ये किट नाक, घसा आणि फुंक मारून नमुने जमा केले जात आहे. ही चाचणी करोनाबाधितांमधील संक्रमणाची चाचणी करू शकत असल्याचे संशोधकांनी म्हटले आहे. या किट मध्ये असलेल्या एका खास सेन्सरमुळे करोनाचे निदान करता येणे शक्य असल्याचे संशोधकांनी म्हटले आहे. नमुने घेताना फुंक मारल्यानंतर त्यातील काही कण सेन्सरपर्यंत जातात. त्यातून करोनाचे निदान करता येते. हे सेन्सर खास करोनाच्या चाचणीसाठी विकसित करण्यात आले आहे. या टेस्ट किटने आतापर्यंत ९० टक्के अचूक निदान केले आहेत.

ही चाचणी स्वस्त दरात होणार असल्याचे संशोधकांनी म्हटले आहे. एका चाचणीसाठी ४० ते ५० डॉलरचा खर्च येऊ शकतो. सार्वजनिक ठिकाणी, विमानतळ, गर्दीच्या ठिकाणी ही चाचणी किट उपयुक्त ठरणार असल्याचा दावा करण्यात आला आहे. संबंधित शासकीय परवानगी मिळाल्यानंतर लवकरच या किट्सची निर्मिती करण्यात येणार आहे.

मिनियापोलिस: अमेरिकेतील मिनियापोलिसमध्ये एका कृष्णवर्णीय व्यक्तीच्या मृ्त्यूनंतर हिंसाचार उफाळला आहे. वाढत्या हिंसाचाराला आळा घालण्यासाठी युएस नॅशनल गार्ड बोलवण्यात आले आहेत. सोमवारी पोलीस तपासणीच्या वेळेस ४६ वर्षीय कृष्णवर्णीय जॉर्ज फ्लॉयर्डचा मृत्यू झाला होता. पोलिसांनी त्याची हत्या केली असल्याचा आरोप करण्यात येत आहे.

स्थानिक माध्यमांनी, वृत्तसंस्थांनी दिलेल्या वृत्तानुसार, जॉर्जच्या मृत्यूनंतर संतापलेल्या जमावाने पोलिस स्टेशनची तोडफोड केली. त्याशिवाय परिसरात असलेल्या वाहनांना आग लावण्यात आली. वाढत्या हिंसाचाराला रोखण्यासाठी पोलिसांनी अश्रूधुरांच्या नळकांड्या फोडल्या. हिंसाचार करणाऱ्यांनी काही दुकांनाना लुटले असून तोडफोड केल्याचे वृत्त आहे. मिनियापोलिसशिवाय शिकागो, लॉस एंजिल्स आणि मेम्फिसमध्ये आंदोलन करण्यात आले.

 

संयुक्त राष्ट्र म्हणजेच यूएनमध्ये भारताविरोधात इस्लामिक समन्वय संस्थेचा (ओआयसी) अनौपचारिक समूह तयार करावा हा पाकिस्तानचा प्रयत्न हाणून पाडण्यात आला आहे. मालदीव आणि संयुक्त अरब अमिराती म्हणजेच यूएईने पाकिस्तानचा हा प्रयत्न हाणून पाडला. इस्लामोफोबियावर यूएनमध्ये ओआयसीचा गट तयार करावा, असा पाकिस्तानचा प्रयत्न होता, जेणेकरुन मुस्लीम राष्ट्रांकडून यूएनमध्ये भारताविरोधात भूमिका मांडता येईल. पण ओआयसीच्या सदस्यांनीच पाकिस्तानच्या या प्रयत्नाला दाद दिली नाही. पाकिस्तानचं वृत्तपत्र डॉनने याबाबतचं वृत्त दिलं आहे.

मालदीवने यापूर्वीच ओआयसीच्या व्हर्च्युअल बैठकीत भारताच्या बाजूने जाहीरपणे भूमिका मांडली होती. इस्लामोफोबियासाठी भारताला लक्ष्य करणं हे फक्त वास्तविकदृष्ट्या चूकच नाही, तर दक्षिण आशियातील सामाजिक सलोख्यासाठी धोकादायकही आहे, असं मालदीवने या बैठकीत थेट सांगितलं होतं. आता संयुक्त अरब अमिरातीनेही पाकिस्तानच्या या प्रयत्नाकडे पाठ फिरवल्याची माहिती आहे. फक्त परराष्ट्र मंत्रीच असा गट तयार करू शकतात, असं यूएईकडून सांगण्यात आलं.

मालदीव कायम इस्लामोफोबिया, झेनोफोबिया आणि इतर कोणत्याही प्रकारच्या हिंसाचाराच्या विरोधात आहे, ज्याचा अजेंडा हा राजकीय किंवा इतर प्रकारचा असेल. एखाद्या विशिष्ट देशाला लक्ष्य करणं हे मूळ मुद्दे मागे टाकण्यासारखं आहे, अशी परखड भूमिका मालदीवचे न्यूयॉर्कमधील स्थायी प्रतिनिधी थिलमिझा हुसैन यांनी दिली.

बीजिंग: भारत-चीन सीमा प्रश्नात मध्यस्थी करण्याची तयारी दर्शवणाऱ्या अमेरिकेच्या प्रस्तावाला चीनने विरोध केला आहे. भारत आणि चीनमधील सीमा प्रश्नात आम्हाला मध्यस्थ म्हणून कोणाचीही आवश्यकता नसल्याचे चीनने ठणकावले आहे.

चीनच्या परराष्ट्र मंत्रालयाचे प्रवक्ते झाओ लिजियन यांनी शुक्रवारी पत्रकार परिषदेत अमेरिकेचा प्रस्ताव धुडकावून लावला. त्याआधी चीनने सरकारी वृत्तपत्र ग्लोबल टाइम्सनेदेखील चीन व भारत दरम्यान सुरू असलेल्या सीमावादावर अमेरिकेच्या मध्यस्थीची आवश्यकता नसल्याचे म्हटले होते. भारत आणि चीन हे दोन्ही देश सीमा प्रश्न सोडवण्यास सक्षम असल्याचे 'ग्लोबल टाइम्स'ने म्हटले होते. 


दरम्यान, भारताने सूचक इशारा देत अमेरिकेचा मध्यस्थीचा प्रस्ताव फेटाळून लावला. सीमावादाच्या मुद्द्यावर चीनसोबत चर्चा सुरू आहे. आम्ही चीनच्या संपर्कात आहे आणि शांततेच्या मार्गातून समाधानकारक तोडगा काढण्याचा प्रयत्न सुरू आहे, असं परराष्ट्र मंत्रालयाचे प्रवक्ते अनुराग श्रीवास्तव यांनी सांगितले.

वॉशिंग्टन: अमेरिकेचे राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प आणि ट्विटर यांच्यातील वाद वाढण्याची शक्यता आहे. ट्रम्प यांच्या एका ट्विटला ट्विटरने आक्षेप घेतला असून त्यांचे ट्विट हे हिंसाचाराला प्रोत्साहन देणारे असल्याचा इशारा झळकावला आहे. मिनीपॉलिसंमध्ये कृष्णवर्णिय व्यक्तीच्या हत्येनंतर त्या ठिकाणी हिंसाचार उफाळून आला आहे. त्यावर ट्रम्प यांनी ट्विटवर प्रतिक्रिया दिली.

डोनाल्ड ट्रम्प यांनी ट्विटरवर म्हटले की, शहरात हिंसाचार होत असताना मी शांतपणे पाहू शकत नाही. वाढता हिंसाचार हा प्रबळ नेतृत्वाचा अभाव दर्शवत आहे अथवा डाव्या विचारांचे महापौर जेकब फ्रे यांचे अपयश असू शकते. लवकरात लवकर शहरात शांतता आणण्यासाठी नॅशनल गार्डला पाठवत असल्याचे ट्रम्प यांनी सांगितले. तर, त्याच्या पुढील ट्विटमध्ये ट्रम्प यांनी हिंसाचार, लुटपाट सुरू झाल्यास गोळ्या घालण्यात येणार असल्याचे म्हटले. ट्विटरने या दुसऱ्या ट्विटला आक्षेप घेतला असून हे ट्विट हिंसाचाराला प्रोत्साहन देणारे असल्याचे म्हटले आहे. सदरील ट्विट हे ट्विटरच्या मार्गदर्शक तत्वांचे उल्लंघन करणारे असल्याचेही ट्विटरने म्हटले.

दरम्यान, ट्विटरसोबत झालेल्या वादावादीनंतर आता अमेरिकेचे राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प यांनी सोशल मीडियावर नियंत्रण ठेवण्यासाठी एका कार्यकारी आदेशावर स्वाक्षरी केली आहे. या आदेशामुळे सरकारी यंत्रणांना फेसबुक आणि ट्विटरसारख्या सोशल मीडियावर नियंत्रण ठेवण्यासाठी अधिक अधिकार मिळणार आहेत. या कार्यकारी आदेशाविरोधातही ट्विटरने नाराजी व्यक्त केली असून इंटरनेट स्वातंत्र्याची गळचेपी करण्याचा प्रयत्न असल्याचे म्हटले आहे.

हाँगकाँग: चीन सरकारने मंजूर केलेल्या हाँगकाँग सुरक्षा विधेयकाच्या मुद्यावर चीन व अमेरिकेमध्ये शाब्दिक हल्ले-प्रतिहल्ले जोरात सुरू आहेत. हाँगकाँगचा विशेष आर्थिक दर्जा काढण्याची धमकी अमेरिकेने दिल्यानंतर अमेरिकेने अंतर्गत वादात पडू नये असे, हाँगकाँग सरकारने म्हटले आहे. यामध्ये अमेरिकेचेही मोठे आर्थिक नुकसान होणार असल्याचा इशारा देण्यात आला आहे.

हाँगकाँगमध्ये नवीन सुरक्षा कायदा लागू करण्यास स्थानिक लोकशाहीवादी कार्यकर्त्यांचा विरोध आहे. या कायद्याविरोधात अनेक तीव्र आंदोलनेही झाली आहेत. चीनच्या संसदेने या विधेयकाला मंजुरी दिल्यास हाँगकाँगला देण्यात आलेला विशेष आर्थिक दर्जा रद्द करण्याची धमकी अमेरिकेने दिली होती. त्याशिवाय इतरही निर्बंध लादणार असल्याची शक्यता वर्तवण्यात येत आहे. मात्र, अमेरिकेने हा दर्जा काढल्यास अमेरिकेलाही मोठे नुकसान होणार असल्याचा इशारा हाँगकाँगमधील सरकारने दिला आहे. हे निर्बंध दुधारी तलवारीसारखे असल्याचेही म्हटले आहे.

*  भूमि संसाधन मंत्रालय ने जारी किया नक्शा

*  सोमवार को नेपाल कैबिनेट ने किया था पास

नेपाल की सरकार ने नए राजनीतिक नक्शे को आधिकारिक तौर पर जारी कर दिया है. इस नए नक्शे में भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को भी शामिल किया गया है. सोमवार को हुई नेपाल कैबिनेट बैठक में भूमि संसाधन मंत्रालय ने नेपाल का संशोधित नक्शा जारी किया था, जिसका सबने समर्थन किया था.

इसके बाद आज यानी बुधवार को भूमि प्रबंधन मंत्री पद्मा आर्या ने आधिकारिक राजनीतिक नक्शा जारी कर दिया है. दरअसल, 8 मई को भारत ने उत्तराखंड के लिपुलेख से कैलाश मानसरोवर के लिए सड़क का उद्घाटन किया था, जिसे लेकर नेपाल ने कड़ी आपत्ति जताई थी. इसके बाद नेपाल ने नया राजनीतिक नक्शा जारी करने का फैसला किया था.

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली ने भी कहा था कि वह एक इंच जमीन भारत को नहीं देंगे. वहीं, सरकार के एक मंत्री ने कहा कि सरकार भारत की तरफ से हो रहे अतिक्रमण को लंबे वक्त से बर्दाश्त कर रही थी, लेकिन फिर भारतीय रक्षा मंत्री ने लिपुलेख में नई सड़क का उद्घाटन कर दिया. भारत हमारी वार्ता की मांग को गंभीरता से ले रही है.

*  पाकिस्तान में कई घंटों तक ट्विटर और जूम रहा बंद

*  साथ वर्चुअल कॉन्‍फ्रेंस' से डरी दिखी पाकिस्तान सरकार

पाकिस्तान सरकार ने बीती रात सोशल मीडिया साइट ट्विटर और वीडियो स्ट्रीमिंग बेवसाइट पर कई घंटों के लिए पाबंदियां लगाई रखी. जानकारी के मुताबिक, 'साथ वर्चुअल कॉन्‍फ्रेंस' पर जबावदेही से बचने के लिए पाकिस्तान सरकार ने ऐसा किया.

बता दें कि पाकिस्तान में राज्य स्वीकृत अत्याचार, हत्याएं और लोकतंत्र पर हो रहे प्रहार को लेकर ‘साथ वर्चुअल कॉन्‍फ्रेंस’ का आयोजन किया गया. इसे लेकर पाकिस्तान की सरकार काफी डरी दिखी. पाकिस्तानियों के सवालों से बचने के लिए सरकार ने ट्विटर और जूम को कई घंटों के लिए ब्लॉक कर दिया.

वहीं, पाकिस्तान में बढ़ते कोरोना वायरस के मामले पर लगाम लगाने के लिए लॉकडाउन किया गया है. हालांकि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का कहना है कि पाकिस्तान लॉकडाउन को लंबा नहीं झेल सकता है. पीएम इमरान खान ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के चलते 150 मिलियन से ज्यादा पाकिस्तानी प्रभावित हुए हैं.

इमरान खान का कहना है कि पाकिस्तान, अमेरिका, यूरोप और चीन की तरह लॉकडाउन लागू नहीं कर सकता है. इमरान का कहना है कि पहले ही लॉकडाउन ने देश में आर्थिक स्थिति को बुरी तरह प्रभावित किया है, विशेष रूप से कमजोर वर्ग को, जिनमें 25 मिलियन लोग शामिल थे जो दैनिक या साप्ताहिक मजदूरी पर रहते थे.

*  हनीफ को 2010 में स्कॉटलैंड यार्ड ने किया था गिरफ्तार

*  इंटरपोल ने हनीफ के खिलाफ जारी किया था रेड कॉर्नर नोटिस

ब्रिटेन के पूर्व गृह मंत्री और पाकिस्तान मूल के साजिद जाविद ने 1993 सूरत ब्लास्ट्स केस में अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के करीबी टाइगर हनीफ के भारत प्रत्यर्पण के अनुरोध को ठुकरा दिया था. आजतक/इंडिया टुडे के पास मौजूद जानकारी के मुताबिक साजिद जाविद ने 2019 में गृह मंत्री के पद से हटने से ठीक पहले भारतीय जांच एजेंसियों की ओर से किए गए टाइगर हनीफ के प्रत्यर्पण के आग्रह को नामंजूर किया था. टाइगर हनीफ सूरत में 1993 में हुए दो बम धमाकों में अपनी कथित भूमिका के लिए वांछित है.

लंदन हाईकोर्ट ने पहले फैसला दिया था कि जांच एजेंसियों की ओर से प्रदान किए गए सबूतों के आधार पर टाइगर हनीफ को भारत में प्रत्यर्पित किया जा सकता है. तब प्रत्यर्पण संबंधी कागजात मंजूरी के लिए ब्रिटेन के गृह विभाग को भेजे गए थे, लेकिन तत्कालीन गृह मंत्री साजिद जाविद ने टाइगर हनीफ के भारत प्रत्यर्पण को मंजूरी देने से इनकार कर दिया.

*  सीईओ मसायोशी सन के सहयोगी के तौर पर कर रहे थे काम

*  पिछले साल अलीबाबा ग्रुप के चेयरमैन पद से हुए थे रिटायर

अलीबाबा के संस्थापक जैक मा ने सॉफ्टबैंक बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है. जैक मा अब व्यवसाय से ध्यान हटाकर अपना जीवन पूर्णत: सामाजिक कार्यों में लगाना चाहते हैं. सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्प ने सोमवार को एक बयान जारी करते हुए कहा कि अलीबाबा के सह संस्थापक जैक मा बोर्ड से इस्तीफा देंगे. जैक मा, कंपनी के सीईओ मसायोशी सन के सहयोगी के तौर पर काम कर रहे थे.

बताया गया है कि जैक मा अब सभी तरह के व्यवसाय को छोड़कर अपना पूरा ध्यान सामाजिक कार्यों में लगाना चाहते हैं. सितंबर (2019) महीने में ही जैक मा अलीबाबा ग्रुप के चेयरमैन पद से रिटायर हुए थे. उनके रिटायरमेंट से पहले भी कहा गया था कि वो रिटायर होने के बाद शिक्षा के क्षेत्र में काम करेंगे. असल में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक अंग्रेजी टीचर के तौर पर ही की थी.

*  HC ने पहले ही कर दी थी प्रत्यर्पण के खिलाफ याचिका खारिज

*  विजय माल्या पर धोखाधड़ी-मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित केस दर्ज

*  अब माल्या 28 दिनों के अंदर भारत किया जा सकता है प्रत्यर्पित

भगोड़े करोबारी विजय माल्या को जोर का झटका लगा है. इंग्लैंड के हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाने की याचिका खारिज कर दी है. इस फैसले के बाद माल्या के सारे कानूनी रास्ते बंद हो चुके हैं, और अब 28 दिनों के अंदर उन्हें भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है.

हाई कोर्ट की ओर से याचिका खारिज होने के बाद लंदन होम ऑफिस प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू करेगा. अब माल्या के पास इंग्लैंड में कोई भी कानूनी रास्ता नहीं बचा है. हाई कोर्ट पहले ही प्रत्यर्पण के खिलाफ माल्या की याचिका खारिज कर चुका है.

माल्या ने की मोदी सरकार की तारीफ - इस फैसले से पहले शराब कारोबारी विजय माल्या ने कोरोना संकट पर पीएम नरेंद्र मोदी के आर्थिक राहत पैकेज के ऐलान पर केंद्र सरकार को बधाई देते हुए कहा कि अब सरकार को उससे सारा पैसा वापस ले लेना चाहिए. विजय माल्या की ओर से ट्वीट किया गया, 'मैं सरकार को कोरोना वायरस संकट के बीच रिलीफ पैकेज की बधाई देता हूं. वो जितना पैसा छापना चाहें छाप सकते हैं, लेकिन उन्हें मेरे जैसे एक छोटे सहयोगकर्ता को इग्नोर करना चाहिए, जो स्टेट बैंक का सारा पैसा वापस लौटाना चाहता है.' शराब कारोबारी ने लिखा कि मुझसे सारा पैसा बिना शर्त के लिए लीजिए और मामला खत्म कीजिए.

*  रूस में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी

*  व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता भी कोरोना पॉजिटिव

कोरोना वायरस का महासंकट धीरे-धीरे दुनिया के हर कोने में पहुंच रहा है. रूस में अब कोरोना विकराल रूप लेता जा रहा है, यहां अमेरिका के बाद दुनिया में सबसे अधिक केस हैं. मंगलवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव भी कोरोना वायरस की चपेट में आए और उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

दिमित्री पेस्कोव ऐसे पांचवें बड़े रूसी अधिकारी हैं, जो कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं. इसके पहले रूस के प्रधानमंत्री भी कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं, जिसके बाद उनके पूरे स्टाफ को क्वारनटीन किया गया था.

पेस्कोव ने जानकारी दी कि उन्होंने करीब एक महीने पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की थी.

दिमित्री के अलावा उनकी पत्नी तत्याना भी कोरोना वायरस पॉजिटिव आई हैं. इसकी जानकारी उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर दी. अभी दोनों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

*  विदेश में फंसे भारतीयों की वापसी का मिशन जारी

*  ऑस्ट्रेलिया से कई फेज में लाए जाएंगे लोग

कोरोना वायरस के संकट काल में विदेश में फंसे भारतीयों के लिए सरकार के द्वारा अभियान चलाया जा रहा है. मिशन वंदे भारत के तहत सभी भारतीयों को लाया जा रहा है, इस बीच ऑस्ट्रेलिया में फंसे हुए भारतीयों को लाने के लिए कुल सात फ्लाइट जाएगी.

ऑस्ट्रेलिया में मौजूद भारतीय दूतावास के मुताबिक, 21 मई से सात स्पेशल फ्लाइट चलाई जाएंगी जो ऑस्ट्रेलिया में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाएगी. ये भारतीयों को निकालने का पहला फेज़ होगा, जो कि 21 से 28 मई तक चलेगा.

जारी नोटिफिकेशन के अनुसार, इसमें मरीजों, बुजुर्गों और वीज़ा खत्म होने वाले लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी. जिन यात्रियों को शॉर्ट लिस्ट किया जाएगा, अगर वो विमान के उड़ने से चौबीस घंटे पहले तक टिकट नहीं खरीद पाए तो किसी को भेज दिया जाएगा. टिकट का खर्च पैसेंजर्स को ही देना होगा.

वॉशिंग्टन: खास 'कोव्हिड १९'च्या रुग्णांसाठी अमेरिकी अवकाश संशोधन संस्थेने (नासा) विशेष उच्च दाबयुक्त व्हेंटिलेटर तयार केला आहे. व्हेंटिलेटर इंटरव्हेन्शन टेक्नॉलॉजी अॅक्सेसिबल लोकली (व्हायटल) असे नाव या यंत्राला देण्यात आले आहे, अशी माहिती 'नासा'च्या वतीने देण्यात आली.

ज्या रुग्णांना सौम्य लक्षणे आहेत, अशांसाठी हे उपकरण विकसित करण्यात आले आहे, जेणेकरून गंभीर रुग्णांना हॉस्पिटलमधील अधिकाधिक व्हेंटिलेटर उपलब्ध व्हावेत, असे 'नासा'ने निवेदनात स्पष्ट केले आहे.

गेल्या आठवड्यात या उपकरणाची वैद्यकीय चाचणी न्यूयॉर्कमधील इकान स्कूल ऑफ मेडिसिनमध्ये करण्यात आली असून, ती यशस्वी ठरली आहे, असेही निवेदनात म्हटले आहे.
 

बीजिंग: एकीकडे चीनमधून फैलाव झालेल्या करोनामुळे संपूर्ण जग चिंतेत असताना दुसरीकडे चीन मात्र, पुन्हा 'रुळावर' येताना दिसत आहे. चीनने मंगळावर स्वारीचे नियोजन सुरू केले असून, शुक्रवारी चीनने या मोहिमेचे नाव जाहीर केले. पुढील वर्षी प्रत्यक्षात येणाऱ्या चीनच्या मंगळ मोहिमेचे नाव 'तिआनवेन १' असे असणार आहे.
चीनने आपला पहिला उपग्रह 'डाँग फेंग हों-१' अवकाशात पाठवला त्याला पन्नास वर्षे पूर्ण झाल्याबद्दल ही घोषणा करण्यात आली. हा दिवस चीनकडून 'स्पेस डे' म्हणून साजरा केला जातो. भारत, अमेरिका, रशिया आदी देशांनंतर आता चीनची मंगळ मोहीम महत्त्वाकांक्षी असल्याचे म्हटले जाते.

'चायना नॅशनल स्पेस अॅडमिनिस्ट्रेशन'ने याबाबत अधिकृत घोषणा केली. 'तियानवेन' असे नाव या मोहिमेला दिले आहे. चीनमधील प्रसिद्ध कवी क्व युआन यांच्या कवितेवरून 'तियानवेन' असे नाव देण्यात आले आहे. 'स्वर्गाला विचारलेले प्रश्न' असा तियानवेन या शब्दाचा अर्थ आहे. या कवितेत युआन यांनी आकाश, तारे, नैसर्गिक घटना, विविध मिथके, वास्तव या सर्व बाबींवर प्रश्न उपस्थित करण्यात आले आहेत. काही पारंपरिक कल्पना आणि सत्याचा शोध याचाही या कवितेत उहापोह झाला आहे. मंगळ मोहिमेची आखणी करताना या कवितेच्या संदर्भाने मोहिमेला नाव देण्यात आले आहे.

जिन्हुआ वृत्तसंस्थेने दिलेल्या वृत्तानुसार, चीनच्या यापुढील सर्व अवकाश मोहिमांची नावे 'तियानवेन' या साखळीतीलच असतील. सत्य आणि विज्ञानाची कास धरत असनाता ब्रह्मांडाचा शोध घेण्याचा विचार असल्याचे सांगण्यात येते.

वाबीजिंग: उत्तर कोरियाचे राष्ट्राध्यक्ष किम जोंग उन यांची प्रकृती अत्यवस्थ असल्याची माहिती असतानाच चीनमधील डॉक्टरांचे एक पथक उत्तर कोरियाला रवाना झाले असल्याचे वृत्त आहे. त्यामुळे किम यांच्या प्रकृतीबाबत पुन्हा एकदा चर्चा सुरू झाल्या आहेत.

मागील काही दिवसांपूर्वी किम जोंग उन यांच्यावर कार्डियोवेस्क्युलेरची शस्त्रक्रिया करण्यात आल्यानंतर त्यांची प्रकृती ढासळली असल्याची माहिती समोर आल्यानंतर खळबळ उडाली होती. राउटरने दिलेल्या वृ्त्तानुसार, किम जोंग उन यांच्या प्रकृतीबाबत चर्चा करण्यासाठी डॉक्टरांचे पथक चीनमध्ये दाखल झाले आहे. चीनच्या कम्युनिस्ट पक्षाच्या आंतरराष्ट्रीय विभागाच्या एका वरिष्ठ सदस्याच्या नेतृत्वात हे पथक पाठवण्यात आले आहे. किम जोंग यांच्या प्रकृतीची आढावा घेण्यात येणार असून डॉक्टरांशीदेखील चर्चा करण्यात येणार आहे.

दरम्यान, किम जोंग यांच्या प्रकृतीबाबतच्या उलटसुलट चर्चा, दावे सुरूच आहेत. दक्षिण कोरियातील एका अधिकाऱ्याने सांगितले की, किम हे जिवंत असून लवकरच लोकांसमोर येणार आहेत. किम हे लोकांसमोर येत नाहीत, याचा अर्थ त्यांची प्रकृती चिंताजनक आहे, असा अर्थ होत नाही असेही या अधिकाऱ्याने म्हटले.

भारत में कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों के बीच पहले देशव्यापी प्रशासनिक सर्वेक्षण ने चिंता की कई लाल लकीरें भी खींची हैं. अनेक जिला कलेक्टरों समेत 410 प्रशासनिक अधिकारियों से आए फीडबैक के मुताबिक देश का स्वास्थ्य ढांचा इस महामारी से मुकाबले को कई मोर्चों पर अब भी बहुत कमजोर है. 

देश में 24 मार्च की मध्यरात्रि से लागू 21 दिनी लॉकडाउन लगाए जाने के बाद ज़मीनी तैयारियां आंकने के लिए पीएम मोदी ने कोविड-19 की तैयारियों का एक सर्वे कराया. इस सर्वे में यह बात प्रमुखता से सामने आई है कि अधिकतर जिलों में चिकित्सा स्टाफ, उपकरण, आईसीयू बेड, वेंटिलेटर, एम्बुलेंस और ऑक्सीजन सिलेंडर आदि की कमी है. वहीं पूर्वोत्तर राज्यों समेत कई इलाकों में मेडिकल स्टाफ को पर्याप्त प्रशिक्षण की भी ज़रूरत है. 

जिलों में तैनात कलेक्टर स्तर के अधिकारियों और खासतौर पर भारतीय प्रशासनिक सेवा के 2014-18 बैच अधिकारियों के बीच केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय के इस सर्वेक्षण में 266 अधिकारियों ने अपना फीडबैक दिया. लॉकडाउन की घोषणा के बाद 25 से 30 मार्च के बीच प्रशासनिक सुधार व लोक शिकायत विभाग के इस सर्वेक्षण में जिला अधिकारियों को 20 सवालों के जवाब देने को कहा गया था. साथ ही लॉक डाउन से लेकर स्वास्थ्य तैयारियों, कानून व्यवस्था इंतजामों व कोविड-19 को लेकर आम लोगों में चेतना पर अपनी आंकलन रिपोर्ट भी साझा करने को कहा गया था. 

 देश में जारी कोरोना संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो संदेश के जरिए देश से संवाद किया. इस दौरान उन्होंने कहा,''आज लॉकडाउन को 9 दिन हो रहे हैं. इस दौरान आपने जिस प्रकार अनुशासन का परिचय दिया है वो प्रशंसा के योग्य है. आपने जिस प्रकार 22 मार्च रविवार के दिन कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले सभी लोगों का धन्यवाद किया वो सभी देशों के लिए मिसाल है. इससे साबित हुआ देश एक होकर लड़ाई लड़ रहा है.''

इसके आलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से लाइट बंद कर दीया जलाने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा,'' हम पांच अप्रैल रविवार को रात 9 बजे अपने घरों की लाइट बंद कर के नौ मिनट तक घर के दरवाजे पर या बालकनी में
खड़े रहकर मोमबत्ती या मोबाइल की लाइट जलाए. दुनिया को प्रकाश की ओर जाना है. ऐसा करने से एहसास होगा कि हम अकेले नहीं हैं.''.

पीएम मोदी ने कहा कि इस रविवार को हमें संदेश देना है कि हम सभी एक हैं. पीएम ने अपील करते हुए कहा कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन ना करें. उन्होंने कहा,'' सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा को कभी भी लांघना नहीं है.  कोरोना की चेन तोड़ने का यही रामबाण इलाज है. उस प्रकाश में, उस रोशनी में, उस उजाले में, हम अपने मन में ये संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, कोई भी अकेला नहीं है.''

*    दुनिया में 10 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित

*    अमेरिका, इटली और स्पेन में हुईं सबसे ज्यादा मौतें

कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. Johns Hopkins यूनिवर्सिटी के मुताबिक, दुनिया भर में कुल 10,15,403 लोग कोरोना से संक्रमित हैं जबकि 53,030 लोगों की मौत हो चुकी है. अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 950 लोगों ने कोरोना की चपेट में आकर अपनी जान गंवाई. जबकि अमेरिका में अबतक 6,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. यूरोप के 11 देश कोरोना की चपेट में हैं.

स्पेन में कोरोना से 10,000 से ज्यादा लोगों की मौत - यूरोपीय देश स्पेन में कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है. स्पेन में मौत का आंकड़ा 10,348 तक पहुंच गया. इटली, अमेरिका, फ्रांस के बाद स्पेन चौथा ऐसा देश है, जहां कोरोना के संक्रमण के कारण चीन से ज्यादा मौतें हुई हैं. कोरोना से पिछले 24 घंटे में 961 लोगों की मौत हुई है, जबकि 7,947 नए केस सामने आए हैं और कुल संक्रमित लोगों की संख्या 1,12,065 तक पहुंच गई है.

*  उमर शेख की सजा कम करने पर भारत भड़का

*  FATF के सामने करेगा पाकिस्तान की शिकायत

पाकिस्तान की एक अदालत ने गुरुवार को अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या करने वाले आतंकी उमर शेख की मौत की सजा को बदल दिया. इस फैसले की अमेरिका से लेकर दुनिया के कई देशों ने आलोचना की है, अब भारत की ओर से भी इस पर आपत्ति जताई गई है. भारत फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की कमेटी के सामने इस मसले को उठाएगा. ये कमेटी आतंकवाद के खिलाफ उठाए जा रहे कदमों की समीक्षा करती है.

उमर शेख ब्रिटेन में पैदा हुआ एक आतंकवादी है, जिसने साल 2002 में अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या कर दी थी. उमर शेख को पाकिस्तान की एक अदालत ने पहले मौत की सजा सुनाई थी, लेकिन गुरुवार को इस फैसले को बदल दिया गया और सिर्फ 7 साल की सजा दी गई.

इससे पहले अमेरिका ने भी इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि डेनियल पर्ल की हत्या के लिए दोषियों की सजा को पलटना हर जगह आतंकवाद के पीड़ितों के लिए संघर्ष का अपमान है.

*  चीन में अब तक कोरोना से 3,322 लोगों की मौत

*  डॉ. ली समेत 14 कार्यकर्ता शहीद घोषित किए गए

*  शहीदों में कम्युनिस्ट पार्टी के 8 कार्यकर्ता भी शामिल

कोरोना वायरस की वजह से हजारों लोगों को खोने वाला चीन कल यानी शनिवार को अपने शहीदों की याद में राष्ट्रीक शोक दिवस मनाएगा. इस शोक दिवस में कोरोना को दुनिया के सामने लाने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग भी शामिल हैं जिनकी बाद में कोरोना की वजह से मौत हो गई. कोरोना की वजह से चीन में 3,300 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

चीन की आधिकारिक मीडिया की ओर से शुक्रवार को बताया गया कि शनिवार को शोक दिवस के दिन पूरे देश में और विदेश में सभी चीनी दूतावासों और वाणिज्य दूतावासों में झंडे आधे झुके रहेंगे. सार्वजनिक मनोरंजक गतिविधियों को निलंबित कर दिया जाएगा.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोनावायरस और उससे होने वाली बीमारी COVID-19 के खतरे के बारे में इत्तिला देते हुए आने वाले हफ्तों को 'क्रूर' करार दिया है, और व्हाइट हाउस के इतिहास में सबसे डरावनी मानी जा रही प्रेस कॉन्फ्रेंस में COVID-19 की वजह से 2,40,000 तक मौतों की आशंका जताई गई है.

अमेरिकी राष्ट्रपति की कोरोनावायरस एमरजेंसी टास्क फोर्स के वरिष्ठ सदस्यों द्वारा राष्ट्रपति की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिखाए गए प्रेज़ेन्टेशन के मुताबिक, समूचे देश में कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए उठाए गए सख्त कदमों के बावजूद आने वाले हफ्तों में अमेरिका में 1,00,000 से 2,40,000 तक लोगों को मौत का शिकार होना पड़ सकता है.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस ब्रीफिंग रूम में की गई इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "मैं चाहता हूं कि हर अमेरिकी हमारे सामने आने वाले बेहद मुश्किल दिनों के लिए तैयार रहे... हम बेहद कठिन और मुश्किल दो हफ्तों का सामना करने वाले हैं..."

बता दें, अमेरिका में बुधवार को कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या चार हजार से अधिक पहुंच गई है. अमेरिका में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 700 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कोरोनावायरस महामारी को लेकर बड़ा बयान दिया है. ट्रंप ने चेतावनी दी है कि आने वाले सप्ताह व्हाइट हाउस के इतिहास में और भी चुनौती भरा और कठिन हो सकता है. 

चीन (China) के वुहान शहर (Wuhan) के मीट बाजार से दुनियाभर में फैला कोरोना वायरस (Coronavirus) इस समय कहर बरपा रहा है. अमेरिका (United States), इटली (Italy) जैसे देशों में तो इससे मौतों के आंकड़ों में भी बड़ी वृद्धि हो रही है. आपको बता दें कि दुनिया की मौजूदा अनुमानित जनसंख्‍या 7.8 अरब है. इनमें से कोरोना वायरस (Covid 19) के कारण विभिन्‍न देशों में हुए लॉकडाउन (Lockdown) की चपेट में 3.4 अरब लोग हैं. मतलब कि अधिकांश आबादी घरों में ही रहने को मजबूर है.

कोरोना संक्रमण पर देश-दुनिया के अहम आंकड़े-

1. दुनिया में 183 देश कोरोना वायरस संक्रमण के शिकार हैं.

2. विश्‍व में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्‍या 7,96,397 है.

3. दुनिया में 38,576 लोगों की मौत अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हो चुकी है.

*  पार्कों में अस्पताल बना रहा है अमेरिका

*  कोरोना से लड़ने के लिए संसाधनों की कमी

दुनिया का सबसे ताकतवर देश अमेरिका कोरोना वायरस के कहर से कराह रहा है. विश्व की महाशक्ति अमेरिका कोरोना की चपेट में इस तरह आया कि यहां संसाधनों की कमी हो गई है. अमेरिका में अस्पताल के बिस्तर कम पड़ने लगे हैं, यहां पर वेंटिलेटर की कमी हो गई है.

हालात से निपटने के लिए अब टेंट में ही अस्थायी इंतजाम कर कोरोना का टेस्ट किया जा रहा है. सेना को सहायता के लिए बुलाया गया है और आपात स्थिति से निपटने के लिए पार्कों को अस्पताल में तब्दील किया जा रहा है. बता दें कि ट्रंप के सलाहकारों ने कहा है कि कोरोना वायरस से कम से कम दो लाख लोगों की जान जा सकती है.

पब्लिक पार्क में बन रहा अस्पताल - इसके बाद अमेरिका बेहद सतर्क है. पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार इस वक्त अमेरिका में युद्ध जैसे हालात हैं. आनन-फानन में अस्पताल बनाने के लिए सेना की मदद ली जा रही है. जगह की कमी होने की वजह से कन्वेंशन सेंटर, रेस ट्रैक और पब्लिक पार्क में अस्थायी अस्पताल बनाया जा रहा है.

*  अमेरिका में सोशल डिस्टेंसिंग की मियाद बढ़ी

*  अब 30 अप्रैल तक लोगों को घर में रहना होगा

*  अबतक डेढ़ लाख लोग हो चुके हैं कोरोना के मरीज

कोरोना वायरस की बीमारी ने अमेरिका में विकराल रूप ले लिया है. रोजाना वहां पर हजारों की संख्या में नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं, जबकि रोजाना मरने वालों की संख्या भी सैकड़ों में हैं. इस बीच अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश में लागू वॉलंटियर लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ाने का फैसला किया है. ट्रंप ने अपील की है कि लोग 30 अप्रैल तक घर में रहें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.

बता दें कि अमेरिका में भारत की तरह पूर्ण रूप से लॉकडाउन लागू नहीं हुआ है, कई एक्सपर्ट्स ने इसकी मांग भी की थी लेकिन डोनाल्ड ट्रंप ने इसे नकार दिया. हालांकि, प्रशासन की ओर से लोगों से कम भीड़ इकट्ठी करने, घरों में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की जा रही है.

*  ट्रंप के इनकार के बाद दोनों ने निजी सुरक्षा ली

*  हैरी-मेगन कनाडा से कैलिफोर्निया आने वाले थे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को कहा कि वे प्रिंस हैरी और मेगन मर्केल के सुरक्षा का खर्च नहीं उठाएंगे. इसके बाद हैरी और मेगन ने अमेरिका के शहर कैलिफोर्निया में रहने का प्लान बदल दिया. दोनों कनाडा से कैलिफोर्निया आने वाले थे लेकिन अब नहीं आएंगे क्योंकि अमेरिकी प्रशासन ने उनकी सुरक्षा का खर्च उठाने से मना कर दिया है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने एक ट्वीट में कहा, मैं ब्रिटेन की महारानी का बहुत बड़ा प्रशंसक और अच्छा मित्र हूं. ऐसी रिपोर्ट आई थी कि हैरी और मेगन जो यूके का साम्राज्य छोड़ चुके हैं, वे स्थाई तौर पर कनाडा में रहेंगे. ट्रंप ने आगे कहा, फिलहाल उन्होंने कनाडा छोड़कर अमेरिका आने का मन बनाया है. हालांकि अमेरिका उनकी सुरक्षा का खर्च नहीं उठाएगा. इसका भुगतान उन्हें खुद करना होगा.

*   इटली में अबतक 10779 लोगों की मौत

*   संक्रमण दर में आ रही है कमी

*  3 अप्रैल को खत्म हो रही लॉकडाउन की मियाद

इटली में कोरोना महामारी ने कोहराम मचा रखा है. कोरोना को बेकाबू होता देख इटली की सरकार ने देश में लॉकडाउन को एक महीने तक बढ़ाने का फैसला किया है. इटली की सरकार जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा कर सकती है.

सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद कोरोना से सबसे बुरी तरह से प्रभावित इस देश में मौतें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक इटली में रविवार को भी 756 मौतें रिकॉर्ड की गईं. हालांकि उम्मीद की हल्की किरण ये है कि अब संक्रमण की दर में थोड़ी कमी आ रही है.

ईरान के कुर्दिस्तान प्रांत की एक जेल से कम से कम 80 कैदी फरार हो गए। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने राज्य मीडिया का हवाला देते हुए बताया कि शुक्रवार को साक्वेज शहर में कैदी जेल तोड़कर फरार हो गए। दरअसल ये दंगा देश में तेजी से बढ़ते घातक कोरोना वायरस महामारी पर भड़का था।

संक्रमितों की संख्या 32,332 के पार पहुंची  - 19 मार्च को 20 से भी अधिक कैदी लोरेस्टन प्रांत की राजधानी खोरमाबाद शहर की एक जेल से भाग गए। ईरान की न्यायपालिका ने पहले ही 85,000 कैदियों को जेल से कोरोनावायरस के प्रसार के खिलाफ एक निवारक उपाय के रूप में रिहा किया था। घातक कोरोनवायरस द्वारा ईरान सबसे प्रभावित देशों में से एक है, जिसमें कुल संक्रमितों की संख्या शुक्रवार को 32,332 तक पहुंच गई, जिसमें 2,378 मौतें हुईं।

चीन के हुबेई प्रांत से निकला कोरोनावायरस अब तक दुनिया के 195 देश में पहुंच चुका है। इस महामारी से अब तक 613,828 लोग संक्रमित हैं। अब तक 28 हजार से ज्यादा लोगों की इस वायरस से मौत हो गई है। वहीं 1 लाख 33 हजार से ज्यादा लोग ठीक भी हो चुके हैं। वहीं इस महामारी ने अगर किसी देश में सबसे ज्यादा तबाही मचाई है तो वो इटली है। यूरोप के इस देश में अब तक 9 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अकेले शुक्रवार को यहां सबसे ज्यादा 1000 मौतें हुईं। यहां अब तक कोरोना के 86,498 मामले सामने आ चुके हैं और 10, 950 लोग ठीक भी हुए हैं। वहीं अमेरिका में भी कोरोनावायरस के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। अब तक इस महामारी से यहां 1700 से ज्यादा लोग अपनी जान गवां चुके हैं। अमेरिका में संक्रमितों की संख्या 1 लाख 4 हजार के पार जा चुकी है। यह आंकड़ा चीन और इटली से भी ज्यादा है। चीन में अब तक 81 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। यहां 3, 295 लोगों की मौत भी हो चुकी है। 

इटली, अमेरिका और चीन के अलावा स्पेन, जर्मनी, फ्रांस, ईरान, ब्रिटेन और स्विट्जरलैंड उन देशों में शामिल हैं, जहां संक्रमित लोगों की संख्या 12 हजार के पार पहुंच चुकी है। इटली, स्पेन और फ्रांस में अब तक 16,267 लोगों ने जान गंवाई है। यह दुनियाभर में हुई कुल मौतों का लगभग 60% है। वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन भी कल संक्रमित पाए गए। संक्रमित पाए जाने के बाद उन्होंने खुद को आइसोलेशन में रखा। बता दें कि ब्रिटेने में अब तक 14,543 संक्रमित पाए गए हैं। यहां 759 लोगों की मौत हो चुकी है और 135 लोग ठीक भी हुए हैं। 

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन महामारी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं. वह कोरोना से संक्रमित हैं. ब्रिटिश पीएम का कोरोना का टेस्ट पॉजिटिव आया है. इससे पहले प्रिंस चार्ल्स के भी कोरोना से संक्रमित होने की जानकारी सामने आई थी.

इससे पहले ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं. उनकी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. बुधवार को क्लेरेंस हाउस ने घोषणा की थी कि प्रिंस चार्ल्स का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया है. मगर उनका स्वास्थ्य ठीक है. 71 वर्षीय प्रिंस चार्ल्स का कोरोना वायरस के लिए टेस्ट स्कॉटलैंड में किया गया था.यहां वह अपनी पत्नी कामिला, डचेस ऑफ कॉर्नवाल के साथ थे, जिनका टेस्ट निगेटिव आया है. क्लेरेंस हाउस के एक प्रवक्ता ने कहा कि सरकार और चिकित्सा सलाह के अनुसार प्रिंस और डचेस ने अब स्कॉटलैंड में घर पर खुद को आइसोलेट कर लिया है.

डिजिटल डेस्क, वेलिंगटन। न्यूजीलैंड रक्षा बल (एनजेडडीएफ) के सात जवानों की जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। यह जानकारी शुक्रवार को एनजेडडीएफ प्रवक्ता ने दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एनजेडडीएफ के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि सभी सात व्यक्ति हाल ही में विदेश से लौटे थे, जिसके बाद स्वास्थ्य अधिकारियों को इस बारे में सूचित किया गया।

न्यूजीलैंड के राष्ट्रीय लॉकडाउन का दूसरा दिन था। आपातकालीन स्थिति में आदेश का पालन सुनिश्चित करने के लिए रक्षा बल के सदस्यों को क्षेत्रों में गश्त करनी थी। सातों मामलों की अभी तक पूरी तरह से पुष्टि नहीं हुई है।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा, न्यूजीलैंड में शुक्रवार को कोरोनावायरस के 76 नए मामलों की पुष्टि की गई, जिससे संभावित मामलों की संख्या बढ़कर 368 तक पहुंच गई। अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इन सात मामलों को राष्ट्रीय आकड़ों में शामिल किया गया है या नहीं।

विश्वभर के लिए तबाही का कारण बने कोरोना वायरस ने कम आबादी वाले पाकिस्तान का हाल बेहाल कर दिया है। पाकिस्तान के डॉक्टरों का कहना है कि आने वाले दिनों में देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ सकती है क्योंकि हाल ही ईरान में तीर्थ कर देश लौटे 5600 लोग पूरे पाकिस्तान में फैल चुके हैं। 

इन तीर्थ यात्रियों को पाकिस्तान के तफ्तान (बलोचिस्तान) बॉडर्र जो ईरान के पास है पर रखा गया था। ईरान वायरस से सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है। लेकिन क्वारंटाइन करने में अधिकारियों की कोताही के चलते ये मामले बढ़ गए। पाकिस्तान में कुल 301 मरीजों के अलावा दो की मौत हो चुकी है। इसमें से 208 मामले केवल सिंध प्रांत में हैं। केवल पूर्वी सिंध में 33 मामले हैं और 23 बलोचिस्तान में, 19 खैबर पख्तुनवा में और 2 इस्लामाबाद में। बुधवार को पाकिस्तान में 1621 लोगों का कोरोना वायरस जांच की गई। तेजी से मामलों के मद्देनजर एक्सपर्ट्स का राय है कि सारी फ्लाइटें बंद कर पूरे देश को क्वारंटाइन किए जाने की जरूरत है। 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस के बढ़ते असर को देखते हुए दुनिया के अमीर देशों से मदद करने की अपील की है. इमरान खान ने कहा है कि बड़े देशों को पाकिस्तान को लोन देना चाहिए और आर्थिक मदद देनी चाहिए ताकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा सके. पाकिस्तान में मंगलवार को कोरोना वायरस की वजह से पहली मौत हो गई है.

एक इंटरव्यू में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से गरीब देशों की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा. अगर यहां पर हालात बिगड़ते हैं तो मेडिकल व्यवस्था ये नहीं संभाल पाएगी, ऐसा सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं बल्कि भारत में भी होगा. इमरान खान मंगलवार शाम को पाकिस्तानी आवाम को भी संबोधित करेंगे.

इमरान खान ने कहा कि यही कारण है कि बड़े देशों को छोटे देशों की मदद करनी चाहिए और आर्थिक मदद देनी चाहिए. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने ईरान का उदाहरण दिया और कहा कि ईरान पर सैंक्शन लगे हुए हैं, इस वजह से वहां पर मौतें हो रही हैं.

भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. अभी तक 113 केस सामने आए हैं, जिसमें से दो की मौत हो गई और 15 सही होकर घर जा चुके हैं. इस बीच सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर नया हेल्पलाइन नंबर जारी किया है, जिस पर फोन करके कोई भी कोरोना से जुड़ी जानकारी पा सकता है.

सरकार की ओर से हेल्पलाइन नंबर 1075 और 1800-112-545 जारी किए गए हैं. दोनों नंबर 24 घंटे चालू रहेंगे और इस पर फोन करके आप कोरोना से जुड़ी जानकारी पा सकते हैं. इसके अलावा अलग-अलग राज्य सरकारों की ओर से जारी हेल्पलाइन नंबर पर भी आप फोन कर सकते हैं.

दिल्ली में 31 मार्च तक जिम, नाईट क्लब बंद - वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कोरोनो पर गठित टास्क फोर्स की बैठक ली. मुख्यमंत्री केजरीवाल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस बैठक में शामिल हुए और कोरोना से निपटने की तैयारियों पर चर्चा की. बैठक में तय किया गया कि कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए दिल्ली के सभी जिम, नाईट क्लब और स्पा सेंटर 31 मार्च तक बंद रहेंगे. इसके अलावा 50 से अधिक लोगों की गैदरिंग पर रोक लगा दी गई है.

वैश्विक मंच पर लगातार बेइज्जत होने के बावजूद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. एक फिर पाक ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में कश्मीर का रोना रोया है. पाकिस्तान ने यूएनएचआरसी में कश्मीर मुद्दे को फिर से उठाया और कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चुप्पी से भारत के हौंसले बुलंद होंगे.

स्विट्जरलैंड के जिनेवा में 24 फरवरी से 20 मार्च तक आयोजित होने वाले मानवाधिकार परिषद के 43 वें सत्र में पाकिस्तान की मानवाधिकार मंत्री शिरीन माजरी ने भारत पर कश्मीरी लोगों के मानवाधिकारों का हनन करने का आरोप लगाया. उन्होंने कश्मीर में पिछले साल 5 अगस्त को भारत द्वारा उठाए गए सभी कदमों को तत्काल वापस लेने की मांग की. गौरतलब है कि भारत ने पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष राज्य के दर्जे को रद्द कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था. पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश करता रहा है, लेकिन भारत ने लगातार कहा है कि अनुच्छेद 370 को निरस्त करना उसका आंतरिक मामला है. भारत ने पाकिस्तान को वास्तविकता स्वीकार करने और भारत विरोधी बयानबाजी को रोकने के लिए कहा है.

मंगलवार को दिल्ली में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात हुई है. ट्रंप ने आगे कहा कि बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने उन्हें बताया कि वे भारत में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर 'कड़ी मेहनत' कर रहे हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप ने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, "हमने धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर बात की है. मैं कहना चाहूंगा कि पीएम मोदी अविश्वसनीय हैं. उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं कि भारत में लोगों को धार्मिक स्वतंत्रता का अनुभव हो."

दिल्ली हिंसा में अब तक गई 10 लोगों की जान - धार्मिक स्वतंत्रता पर राष्ट्रपति ट्रंप का यह बयान उस वक्त आया है जब उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई हिस्से हिंसा की त्रासदी झेल रहे हैं और सीएए को लेकर कई इलाकों में आगजनी और पत्थरबाजी की घटनाएं सामने आई हैं. सोमवार को जबसे हिंसा भड़की थी, अब तक दिल्ली में 13 लोगों की जानें जा चुकी हैं. मारे गए लोगों में दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल भी शामिल हैं.

ट्रंप से दिल्ली हिंसा पर भी पूछा गया सवाल -प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप से दिल्ली हिंसा पर भी एक सवाल पूछा गया. ट्रंप से पूछा गया कि आपकी यात्रा के दौरान  दिल्ली के उत्तर पूर्वी हिस्से में भड़की हिंसा में अब तक कई मौतें हुई हैं. नागरिकता संशोधन कानून के बारे में पीएम मोदी ने आपसे क्या कहा और आप इस तरह की धार्मिक हिंसा से कितने चिंतित हैं?

चीन के काेरोना वायरस के प्रकोप का असर कारोबार पर

इसकी वजह से भारत में पैरासीटामॉल का दाम 40% बढ़ा

कच्चे माल की आपूर्ति में बाधा से दवा उद्योग मुश्किल में

चीन में कोरोना वायरस के प्रकोप का असर भारत में दवाओं से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स तक के कारोबार पर होने लगा है. कच्चे माल की आपूर्ति में अवरोध की वजह से देश में पैरासीटामॉल सहित कई दवाओं के दवाओं के दाम 40 से 70 फीसदी तक बढ़ गए हैं.

किन दवाओं के बढ़े दाम - भारतीय दवा उद्योग काफी हद चीन से आने वाले कच्चे माल (तैयार ड्रग फॉर्मुलेशन) पर निर्भर है. न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग के मुताबिक जाइडस कैडिला के चेयरमैन पंकज पटेल ने बताया, 'सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले एनालजेसिक पैरासीटामॉल का दाम 40 फीसदी बढ़ गया है. इसी तरह कई तरह के बैक्टीरियल इनफेक्शन के लिए इस्तेमाल होने वाले एजिथ्रोमाइसिन की कीमत में 70 फीसदी की बढ़त हुई है.'

उन्होंने कहा कि अगले महीने के पहले हफ्ते तक अगर तैयार ड्रग फॉर्मुलेशन की आपूर्ति यदि बहाल नहीं हुई तो दवा उद्योग को काफी मुश्किल हो सकती है.

भारत से फरार चल रहे कारोबारी विजय माल्या बुधवार को लंदन में रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के सामने पेश हुए. कोर्ट के सामने उन्होंने कहा, 'मैं बैंकों से हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि मूलधन का 100 प्रतिशत तुरंत वापस लें पर मैं भारत जाने के लिए तैयार नहीं हूं.' बता दें 64 साल के माल्या भारत में धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में वांछित हैं. माल्या ने कहा, 'प्रवर्तन निदेशालय और बैंकों ने मेरे खिलाफ शिकायत की है कि मैं उन्हें भुगतान नहीं कर रहा हूं. मैंने पीएमएलए (धन शोधन निवारण अधिनियम) के तहत कोई अपराध नहीं किया है कि प्रवर्तन निदेशालय को मेरी संपत्ति जब्त करनी चाहिए.' माल्या के मामले की सुनवाई दो जजों की बेंच ने की. इनमें लॉर्ड जस्टिस स्टीफन इरविन और जस्टिस एलिजाबेथ विंग शामिल थे.

क्या बोले वकील - माल्या के प्रत्यर्पण आदेश के खिलाफ उनकी अपील इस बात पर टिकी है कि कारोबारी के खिलाफ धोखाधड़ी का कोई मुख्य केस है या नहीं. माल्या के वकील ने जोर देकर कहा, 'किंगफिशर एक 'व्यवसायिक विफलता' थी. भारत सरकार के लिए इस मामले का नेतृत्व करने वाले मार्क समर्स ने कहा, 'हमारा मानना हैं कि उन्होंने कर्ज प्राप्त करने के लिए झूठ बोला. फिर उन्होंने धन वापस देने से इनकार कर दिया.'

माल्या ने की अपील - पत्रकारों से बात करते हुए माल्या ने कहा, 'मैं कह रहा हूं, कृपया बैंक आपका पैसा ले लें. लेकिन ईडी मना कर रहा है. वह कह रहा है कि इन परिसंपत्तियों पर उसका अधिकार है. एक तरफ ईडी और दूसरी तरफ बैंक, एक ही संपत्ति पर लड़ रहे हैं.' उन्होंने आगे कहा, 'अगर सीबीआई और ईडी तर्कसंगत तरीके से सोचें तो अलग बात है. हालांकि, वे पिछले चार साल से जो मेरे साथ कर रहे हैं, वह पूरी तरह गलत है.'

चीन से शुरू हुआ कोरोना अब दुनिया के कई देशों में कहर बरपा रहा है. कोरोना से जापान में पहली मौत हुई है. जापान के स्वास्थ्य मंत्री ने पुष्टि की है कि वहां एक 80 साल की महिला की कोरोना वायरस से मौत हुई है. जबकि चीन में मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. कोरोना से चीन में मृतकों की संख्या 1500 के पार पहुंच गई है.कोरोना दुनिया के दूसरे देशों में भी रौद्र रूप लेता जा रहा है. जापान में कोरोना से पहली मौत की पुष्टि हुई है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने वहां के स्वास्थ्य मंत्री कात्सुनोबू कातो के हवाले से बताया कि एक 80 साल की महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उसकी मौत हो गई है. मौत के बाद कोरोना जांच रिपोर्ट में पता चला कि रिपोर्ट पॉजिटिव है. वह महिला टोकियो की सीमा की रहने वाली थी. इससे पहले चीन के बाहर हांगकांग और फिलीपींस में एक-एक मौत हो चुकी है.

जापानी क्रूज पर 218 कोरोना से संक्रमित, 2 भारतीय भी - उधर, जापान के योकोहामा तट पर खड़े डायमंड प्रिंसेस क्रूज पर कोरोना के 28 नए मामलों की पुष्टि हुई है. इस तरह क्रूज पर कोरोना के कुल 218 मामले सामने आ चुके हैं. साथ ही क्रूज पर तैनात कुछ अधिकारी भी इससे संक्रमित हो गए हैं. बता दें कि इस क्रूज पर कुल 3711 लोग एक सप्ताह से फंसे हुए हैं. इस क्रूज पर हांगकांग से सवार हुए एक शख्स में सबसे पहले कोरोना वायरस के लक्षण सामने आए थे. क्रूज में कुल 138 भारतीय नागरिक भी मौजूद हैं. दो भारतीयों में कोरोना की जांच पॉजिटिव आई है. भारतीय एंबेसी जापान प्रशासन के साथ संपर्क में है.

 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस महीने के आखिर में भारत आ रहे हैं. डोनाल्ड ट्रंप अपनी यात्रा के दौरान दिल्ली और अहमदाबाद जाएंगे, जिसके लिए तैयारियां जोरो पर चल रही हैं. अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप भी भारत आएंगी और उन्होंने ट्वीट कर इस यात्रा के लिए खुशी जताई है. मेलानिया ने लिखा कि वह भारत की यात्रा के लिए काफी उत्साहित हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट का जवाब देते हुए मेलानिया ट्रंप ने लिखा, ‘...शुक्रिया नरेंद्र मोदी, इस खास न्योते के लिए. इस महीने के आखिर में वह दिल्ली और अहमदाबाद आने के लिए उत्सुक हैं. मैं और राष्ट्रपति इस दौरे के लिए उत्साहित हैं और भारत-अमेरिका की दोस्ती का जश्न मनाने को तैयार हैं’.गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप और मेलानिया ट्रंप इस महीने 24-25 फरवरी को भारत दौरे पर रहेंगे. इस दौरान वह गुजरात के अहमदाबाद जाएंगे और नई दिल्ली में द्विपक्षीय वार्ता करेंगे.

पीएम मोदी ने ट्वीट कर जताई थी खुशी - गुजरात में अमेरिकी राष्ट्रपति के दौरे की तैयारियों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर स्वागत किया था. पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, फर्स्ट लेडी इस महीने भारत आ रहे हैं. भारत उनका शानदार स्वागत करने के लिए तैयार है. भारत और अमेरिका की दोस्ती को प्रगाढ़ बनाने के लिए ये दौरा काफी अहम है.

स्टेडियम का उद्घाटन और रोड शो - अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अहमदाबाद में बन रहे दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन करेंगे. अहमदाबाद एयरपोर्ट से लेकर मोटेरा स्टेडियम तक डोनाल्ड ट्रंप, नरेंद्र मोदी का रोड शो होगा. इसके बाद मोटेरा में एक बड़े कार्यक्रम को संबोधित करेंगे, जहां एक लाख से अधिक लोग उपस्थित होंगे. डोनाल्ड ट्रंप इसके अलावा अहमदाबाद के गांधी आश्रम भी जाएंगे, साथ ही साबरमती रिवर फ्रंट का भी दौरा करेंगे. अहमदाबाद के दौरे को खत्म करने के बाद दोनों नेता दिल्ली आएंगे, जहां पर द्विपक्षीय वार्ता शुरू होगी.

कोरोनावायरस को आखिरकार एक नाम मिल ही गया. अब कोरोनावायरस को कोविड 19 नाम से जाना जाएगा. कोविड 19 कोरोनावायरस से अब तक दुनिया में 45,171 लोग संक्रमित हो चुके हैं. जबकि 1,115 लोगों की मौत हो चुकी है. अब कोविड 19 (COVID 19) के नाम से ही यह जानलेवा वायरस करीब एक महीने और पूरी दुनिया को डराएगा. कोविड 19 कोरोनावायरस की वजह से सिर्फ चीन में ही 44,653 लोग बीमार हैं. जबकि, 1,113 लोगों की मौत हो चुकी है. कोविड 19 नाम विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization - WHO) ने दिया है. यहां CO का मतलब ‘कोरोना’, VI का मतलब Virus, D का मतलब 'Disease' और '19' साल 2019 के लिए, जब यह बीमारी पैदा हुई. WHO ने कहा है कि कोविड 19 (Covid 19) अभी थमा नहीं है. यह अभी और फैलेगा. मंगलवार को सिर्फ चीन में ही 108 लोगों की मौत हुई है. यह पहला दिन था जब 100 से ज्यादा मौतें एक दिन में हुईं.

चीन के संक्रामक बीमारियों के सबसे बड़े विशेषज्ञ झॉन्ग नैनशैन ने कहा है कि कोविड 19 कोरोनावायरस इस महीने और फैलेगा. यह अभी और जानलेवा होगा. झॉन्ग नैनशैन ने बताया कि खुशी की बात ये है कि अब कोविड 19 की वजह से संक्रमण का दर कम हो रहा है. लेकिन अभी मरने वालों की संख्या में कमी नहीं आई है. यह दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है. झॉन्ग नैनशैन ने बताया कि कोविड 19 की वजह से अब तक 45,171 लोग संक्रमित हुए. इनमें से 1,115 लोग मारे गए. अब तक 4,657 लोग बीमारी से उबर चुके हैं. यानी पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं. जबकि, अब भी कई पश्चिमी देशों में अलग-अलग जगहों पर कोविड 19 के मरीज सामने आ रहे हैं. चीन के स्वास्थ्य विभाग की मानें तो कोविड 19 की वजह से अब संक्रमण का दर हर हफ्ते करीब 2 फीसदी की दर से कम हो रहा है. अभी इसका इलाज दुनिया में उपलब्ध नहीं है, इसलिए कुछ दिन तक और शहरों को क्वारंटीन रखा जाएगा. इसके अलावा जापान के योकोहामा तट पर डायमंड प्रिंसेस क्रूज शिप को रोक दिया गया है.

सोशल मीडिया के लिए बुरी खबर है. दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया साइट फेसबुक के ट्विटर, इंस्टाग्राम और मैसेंजर अकाउंट के हैक होने की खबर आई है. जानकारी मिली है कि इस हरकत के पीछे हैकिंग ग्रुप OurMine का हाथ है. ये हैकिंग ग्रुप गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई, फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग और ट्वीटर के सीईओ जैक डॉर्सी का अकाउंट हैक कर चुका है. ये ग्रुप दुबई का बताया जा रहा है. इस ग्रुप को कुछ युवा चलाते हैं. इस हमले के बाद 'अवरमाइन' ने पोस्ट डाली है जिसमे कहा गया है 'हाय, हम लोग अवरमाइन हैं. वेल, फेसबुक को भी हैक किया जा सकता है, लेकिन इसकी सिक्योरिटी कम-से-कम ट्विटर से मजबूत है. अपने अकाउंट की सिक्योरिटी बढ़ाने के लिए हमसे संपर्क करें: [email protected] सिक्योरिटी सर्विस के लिए ourmine.org पर विजिट करें. हालांकि इसके बाद  सभी अकाउंट को री-स्टोर कर लिया गया है. अवरमाइन ग्रुप ने इसी जनवरी में यूएस नेशनल फुटबॉल लीक टीम का अकाउंट हैक किया था. यह ग्रुप नेटफ्लिक्स और  ESPN का भी अकाउंट हैक कर चुका है.

फेसबुक ने  हैकिंग हमले की पुष्टि की है. फेसबुक ने कहा है कि कुछ कॉर्पोरेट सोशल अकाउंट को हैक किया गया था, जिन्हें अब री-स्टोर कर लिया गया है, वहीं ट्विटर ने भी फेसबुक के अकाउंट के हैक होने की पुष्टि की. इस ग्रुप के सदस्य दुबई में बैठकर अपने काम को अंजाम देते हैं. यह ग्रुप 2016 से सक्रिय है. इस हरकत के बाद ट्विटर ने अवरमाइन के ट्विटर अकाउंट को हटा दिया है. फेसबुक ने भी इस ग्रुप का अकाउंट डिलीट कर दिया है. खास बात ये है कि यह ग्रुप अपनी साइट पर वह हैकिंग की रिपोर्ट का लिंक भी शेयर करता है. hacker

चीन में घातक कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 908 हो गई है और इसके संक्रमण के 40,000 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है. नेशनल हेल्थ कमीशन के मुताबकि रविवार को इससे 97 और लोगों की जान चली गई. नेशनल हेल्थ कमीशन ने बताया कि शनिवार को जिन 97 लोगों की जान गई उनमें से 91 हुबेई के थे. इसके अलावा हीलोंगजियांग, जिआंगशी, हैनान और गान्सू में इससे एक-एक व्यक्ति की जान गई है. कमीशन के अनुसार चीन के 31 राज्यों में अब तक कुल 908 लोगों की जान जा चुकी है. रविवार को 296 मरीज कोरोना वायरस के कारण गंभीर रूप से बीमार हो गए. वहीं कुल 3,281 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी भी दे दी गई है. चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि कोरोना वायरस सेवेरे एक्ट्यू रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स) का ही दूसरा रूप है. बता दें कि 2002-2003 में हांगकांग और चीन से इस बीमारी से 650 लोगों की मौत हो गई थी. इसके अलावा 120 लोगों की पूरी दुनिया में मौत हुई थी. हाल ही में भारत सरकार ने भी चीन से आने वाले लोगों को लेकर अपनी ई-वीजा सुविधा पर अस्थाई रोक लगा दी थी.

वायरस का सबसे ज्यादा असर वुहान में - कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों में से 65 लोगों की मौत हुबेई में हुई है. बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर चीन के वुहान शहर में देखने को मिला है. हुबेई में सपोर्ट के लिए 2000 नर्सों को लगाया गया है. चीनी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ की एक खबर के अनुसार शनिवार को 600 लोगों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी भी दे दी गई. जिनमें से 324 लोग हुबेई के थे. अमेरिका ने कोरोना वायरस से प्रभावित चीन और अन्य देशों को इस महामारी से लड़ाई के लिए 10 करोड़ डॉलर की मदद की पेशकश की है.आपको बता दें कि अभी भी चीन के वुहान में 80 भारतीय नागरिक मौजूद हैं. इनमें से 70 लोगों ने अपनी मर्जी से वहां रहने का फैसला किया है. वहीं 10 लोग ऐसे हैं जिन्हें वापस आने की इजाजत इसलिए नहीं दी गई है क्योंकि उनमें कोरोना वायरस के लक्षण देखे गए हैं.

श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद हमारे क्षेत्र में एक बहुत बड़ा खतरा है. हम दोनों देशों ने इस समस्या का डट कर मुकाबला किया है. ​पिछले साल अप्रैल में श्रीलंका में ईस्टर डे पर दर्दनाक और बर्बर आतंकी हमले हुए थे. ये हमले सिर्फ श्रीलंका पर ही नहीं, पूरी मानवता पर भी आघात थे.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज की बातचीत में हमने श्रीलंका में संयुक्त आर्थिक परियोजनाओं पर, और आपसी आर्थिक, व्यापारिक, और निवेश संबंधों को बढ़ाने पर भी विचार-विमर्श किया. हमने अपने पीपुल्स टू पीपुल्स संपर्क बढ़ाने, पर्यटन को प्रोत्साहन देने, और कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने पर भी चर्चा की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि मुझे विश्वास है कि श्रीलंका सरकार यूनाइटेड श्रींलका के भीतर समानता, न्याय, शांति और सम्मान के लिए तमिल लोगों की अपेक्षाओं को साकार करेगी. श्रीलंका के विकास प्रयासों में भारत एक विश्वस्त भागीदार रहा है. पिछले साल घोषित नई लाइंस ऑफ क्रेडिट से हमारे विकास सहयोग को और अधिक बल मिलेगा.

चीन में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना से चीन में अबतक 490 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 24 हजार से ज्यादा कन्फर्म केस सामने आ चुके हैं. वहां सिर्फ मंगलवार को 65 लोगों की मौत हुई है. ये सभी मौतें हुबेई प्रांत के वुहान में हुई हैं. दुनिया भर में फैलते कोरोना वायरस को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पहले ही इंटरनेशनल हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा कर चुका है. कई देशों ने चीन के लिए उड़ानें रद्द कर दी हैं.

कोरोना वायरस के कारण चीन में लगातार मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों के हवाले बताया है कि वहां अबतक 490 लोगों की मौत हो चुकी है और कन्फर्म केस की संख्या 24324 तक पहुंच गई है. इनमें 3,887 कन्फर्म केस मंगलवार को सामने आए हैं. चीन का हुबेई प्रांत कोरोना का केंद्र बना हुआ है. मंगलवार को सभी 65 मौतें हुबेई के वुहान में हुई हैं. मंगलवार को 431 लोगों की हालत गंभीर बताई गई है और 262 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है. 1.85 लाख लोगों की मेडिकल जांच चल रही है.

कोरोना से चीन में मौत का आंकड़ा 2003-2004 में बीजिंग में सार्स (SARS) वायरस से हुई मौतों की संख्या से ज्यादा हो चुकी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक दुनिया के 20 से ज्यादा देशों में कोरोना ने पैर पसार लिए हैं. जबकि कई देशों ने एयरलिफ्ट करके अपने लोगों को निकालना शुरू कर दिया है.

आने वाले पांच वर्षों में गर्मी रिकॉर्ड तोड़ देगी। ऐसा पेरिस समझौते में 2024 तक धरती का तापमान 2.0 डिग्री सेल्सियस कम करने के बावजूद होगा। मौसम की स्थिति देखने पर सामने आया कि हर दशक में तापमान लगातार बढ़ रहा है। साल 2020 से 2024 में यह तापमान 1.06 से 1.62 सेल्सियस की गति से बढ़ेगा। अबतक 2016 सबसे ज्यादा गर्म रहा है। हालांकि आने वाले पांच साल में सर्वाधिक गर्मी का रिकॉर्ड टूट सकता है। यह जानकारी ब्रिटेन के मौसम विभाग ने दी है

ब्रिटेन मौसम विभाग के अनुसार आने वाले पांच साल में हर नया साल बीतने वाले वर्ष से ज्यादा गर्म होगा। ऐसा पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली गैसों के अधिक उत्सर्जन के कारण होगा। ज्वालामुखी में आने वाला उबाल भी तापमान बढ़ने का मुख्य कारण होगा। बढ़े हुए तापमान का असर यूरोप में उत्तरी देश, एशिया और उत्तरी अमेरिका में रहेगा। 

2015 से 2019 के बीच तापमान में 1.09 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई है। हर वर्ष गर्मी बढ़ी है और नया रिकॉर्ड बनाया है। 2015 में हुए पेरिस समझौते में हानिकारक गैसों का उत्सर्जन कम कर तापमान करने का निर्णय लिया गया है। हालांकि कोयला, तेल और गैस जलाकर ऊर्जा प्राप्त करने का सिलसिला हर साल बढ़ता ही जा रहा है। ऊर्जा की सबसे ज्यादा खपत करने वाला अमेरिका पेरिस समझौते से हट चुका है। 

 पाकिस्तानी सेना के पूर्व आईएसपीआर मेजर जनरल आसिफ गफूर ने पीएम मोदी के 10 दिन में पाकिस्तान के सफाए वाले बयान पर गीदड़ भभकी दी है. मेजर गफूर ने गुरूवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में  कहा कि अगर भारत पाकिस्तान पर युद्ध थोपता है तो पाकिस्तानी सेना उसका भरपूर जवाब देगी. उन्होंने आगे कहा कि युद्ध शुरू तो भारत करेगा लेकिन उसे खत्म पाकिस्तानी सेना करेगी. आसिफ गफूर ने कहा कि पाकिस्तान पिछले दो दशकों से आतंकवाद के खिलाफ मजबूती से युद्ध कर रहा है. पाकिस्तानी मीडिया से सहयोग मांगते हुए गफूर ने कहा कि मीडिया  इस युद्ध में उनकी पूरी मदद कर रही है. उन्होंने कहा," भारतीय नेतृत्व कह रहा है कि वो पाकिस्तान को 8-10 दिनों में खत्म कर देंगे. उनसे मैं कहना चाहता हूं कि पाकिस्तानी सेना भारत के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए हमेशा तैयार है."

आईएसपीआर के पद से हटे आसिफ गफूर - पाक आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने मेजर जनरल गफूर को आईएसपीआर के पद से हटा दिया है. अब पाक सेना की आईएसपीआर जिम्मेदारी की मेजर जनल बाबर इफ्तिकार को दी गई है.

पीएम मोदी ने क्या कहा था - राजधानी दिल्ली में नेशनल कैडेट कोर (एनसीसी) के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंक को पनाह देने वाले पड़ोसी देश पाकिस्तान पर बिना उसका नाम लिए निशाना साधा था. पीएम मोदी ने कहा कि पड़ोसी देश को हराने में हमें दस दिन भी नहीं लगेंगे. पड़ोसी देश तीन बार जंग हार चुका है. उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश प्रॉक्सी वॉर लड़ रहा है. गौरतलब है कि पिछले दिनों गफूर अपने एक गलत ट्वीट के चलते सोशल मीडिया में जमकर ट्रोल हुए थे. दरअसल पुलवामा आंतकी हमले के बाद भारत द्वारा किए गए एयर स्ट्राइक से पाकिस्तानी सेना डरी हुई है. उसे हमेशा भारतीय सेना के बड़े हमले का डर सताता रहता है.

इन दिनों दुनिया भर में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचाया हुआ है. चीन से शुरू हुए इस वायरस ने काफी दूर दूर तक अपने पैर पसार लिए हैं और भारत में भी इस वायरस से एक मरीज में ग्रसित पाया गया है. केरल की एक महिला जो चीन के वुहान प्रांत से लौटी है उसमें इस वायरस का असर दिखा है. केरल के स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने इस मामले में बयान दिया है. पीड़ित मरीज को तृस्सूर अस्पताल से तृस्सूर मेडिकल कॉलेज शिफ्ट कर दिया गया है. राज्य में 15 व्यक्तियों को डॉक्टरों की देखरेख में रखा गया है. इन 15 व्यक्तियों में से 9 को स्पेशल वार्ड में रखा गया है.

क्या है कोरोना वायरस - चीन के वुहान शहर से शुरू हुए कोरोना वायरस के लक्षण सामान्य सर्दी-जुकाम से लेकर गंभीर बीमारियों जैसे मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (एमईआरएस) –सीओवी और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स-सीओवी) जैसे हैं.

क्या हैं लक्षण - आपको बता दें कि बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई इसके आम लक्षण हैं. जब कोई शख्स इसकी गिरफ्त में आता है तो ये वायरस उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमताओं को खत्म कर देता है और धीरे धीरे शरीर के अंग भी काम करना बंद कर देते हैं.

इस बीमारी से कैसे बचें - यदि आपने हाल में चीन की यात्रा की है (पिछले 14 दिनों के भीतर) या ऐसे शख्स से मुलाकात की है जो चीन से लौटा हो तो बाकी लोगों से अलग रहें, खांसने और छींकने के दौरान मुंह ढक लें. अगर किसी को सर्दी या फ्लू के लक्ष्ण दिखाई दें तो उससे दूरी बनाए रखें.

16 देशों में फैल गया है कोरोना वायरस - घर में हर किसी को हर समय हाथ की सफाई रखनी चाहिए और हाथ धोना चाहिए, विशेष तौर पर छींकने या खांसने के बाद, बीमार की देखभाल के समय, भोजन तैयार करने से पहले और बाद में, खाने से पहले, शौचालय उपयोग के बाद, जब हाथ गंदे होते हैं, जानवरों या जानवरों के अपशिष्ट के संपर्क में आने के बाद.

हेल्पलाइन नंबर - यदि आपको चीन से लौटने के 28 दिनों के भीतर बुखार, खांसी या सांस लेने में कठिनाई होती है तो अधिक जानकारी के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के नियंत्रण कक्ष के फोन नंबर +91-11-2397 8046 पर संपर्क करें. तुरंत मास्क पहनें और नजदीकी चिकित्सा केंद्र जाकर परामर्श लें.

खतरनाक विषाणु (वायरस) कोरोना से पूरी दुनिया सहमी है। चीन के ग्यारह करोड़ की आबादी वाले वुहान नगर में संक्रमित हुए वायरस के विस्तार ने चीन के अनेक शहरों में दहशत फैला दी है। यहां के करीब 1283 लोग इसकी चपेट में हैं। 42 की मौत हो चुकी है और अनेक की हालत गंभीर है। यह विषाणु बिना किसी अवरोध के चीन की सीमा लांघ कर हांगकांग, मकाऊ, ताइवान, नेपाल, जापान, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, थाइलैंड, वियतनाम, फ्रांस और अमेरिका में फैल चुका है। भारत भी इसकी दस्तक से चौकन्ना होकर सावधानी बरत रहा है, जिससे इसका संक्रमण नियंत्रित रहे। गोया, भारत में दो हजार लोगों को चिकित्सकों की निगरानी में रखा है। चीन से लौटे तीन लोगों का मुंबई के एक अस्पताल में चिकित्सीय परीक्षण किया गया, जिनमें से दो की जांच रिपोर्ट नकारात्मक है। तीसरे संदिग्ध यात्री के रक्त के नमूनों को जांच के लिए पुणे स्थित ‘नेशनल इंस्ट्रीट्यूट ऑफ वायरोलाॅजी‘ भेजी गई है। मुंबई में चीन से लौटने वाले 1789 और हैदराबाद में 250 यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई है। चीन में भारत की शिक्षिका प्रीति महेश्वरी इस संक्रमण से गंभीर रूप से पीड़ित हैं। प्रीति यहां के इंटरनेशनल स्कूल ऑफ सांइस एंड टेक्नोलाॅजी में शिक्षिका हैं। उनके उपचार में करीब एक करोड़ रुपए खर्च आ रहा है। साफ है, आंख से नहीं दिखने वाला यह अत्यंत मामूली विषाणु जहां इंसान पर कहर बनकर टूट रहा है, वहीं आधुनिकतम चिकित्सा विज्ञान के लिए भयावह चुनौती के रूप में पेश आया है।

अक्सर हर साल दुनिया में कहीं न कही, किसी न किसी वायरस से उत्पन्न होने वाली बीमारी का प्रकोप देखने में आ जाता है, जिस पर यदि समय रहते नियंत्रण नहीं हो पाया तो महामारी फैलने में देर नहीं लगेगी। इस नए वायरस को जलवायु परिवर्तन, बढ़ते तापमान और दूषित होते पर्यावरण का कारक बताया जा रहा है। ऋतुचक्र में हो रहे परिवर्तन और खानपान में आए बदलाव को भी इसके उत्सर्जन का कारण माना गया है। 

पाकिस्तान में मौलानाओं के विरोध के बाद फ़िल्म का प्रदर्शन नहीं हो सका. फिल्म 24 जनवरी को पर्दे पर दिखाया जाना था. केंद्रीय फिल्म बोर्ड से इसकी मंजूरी भी मिल गयी थी. मगर फिल्म के विरोध के पीछे इस्लाम की आस्था को ठेस पहुंचानेवाला बताकर सिनेमा हॉल तक नहीं पहुंचने दिया गया. फिल्म ‘जिंदगी तमाशा’ को पिछले साल इंटरनेशल पुरस्कार मिल चुका है. फिल्म का विषय वस्तु एक मौलवी का संघर्ष है. फिल्म के प्रदर्शन के लिए ट्रेलर भी जारी कर दिया था. मगर उससे पहले ही विरोध शुरू हो गया. एक धार्मिक संस्था ने आरोप लगाया कि फिल्म लोगों को इस्लाम और पैगंबर से दूर कर सकती है.  पाकिस्तान में ईश निंदा का इलज़ाम एक बेहद संवेदनशील मामला है.

ट्रेलर जारी होने के बाद तहरीक लब्बैक पाकिस्तान ने फिल्म के प्रदर्शन से हिंसा भड़कने की भी आशंका जताई. चेतावनी जारी करने के साथ ही संगठन ने बड़े पैमाने पर देश भर में रैलियों का आयोजन किया. हालाँकि, फ़िल्म के निर्देशक सरमत ख़ूसट फिल्म पर लगे आरोपों से इनकार करते हैं और अपनी सफाई में कहते हैं कि उनका इरादा किसी की भावना को ठेस पहुंचाने का नहीं था. विवाद बढ़ता देख प्रधानमंत्री कार्यालय को कूदना पड़ा. प्रधानमंत्री की सलाहकार फ़िरदौस आशिक अवान ने मंगलवार को ट्वीट किया. और कहा कि फिल्म निर्माताओं को फिल्म रिलीज़ नहीं करने का निर्देश दिया है. साथ ही काउंसिल ऑफ़ इस्लामिक विचारधारा पर विचार करने वाली समिति से संपर्क करने का निर्णय लिया है.

इराक के मोसुल में आईएसआईएस आतंकी को पकड़ने गई स्वाट टीम उस वक्त हक्की बक्की रह गई. जब उन्होंने आतंकी शिफा-अल-निमा उर्फ ''जब्बा द जिहादी'' को देखा. दरसअल इस आतंकी का वजन इतना ज्यादा था कि वो पुलिस को देखकर हिल भी नहीं पा रहा था. असली मुसिबत तो तब हुई जब 250 किलोग्राम वजन वाले आतंकी को ले जाने के लिए पुलिस वैन छोटी पड़ गई और फिर उसे ले जाने के लिए पिकअप ट्रक बुलानी पड़ी. आतंकी को ले जाने की फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. जब्बा द जिहादी ओबेसिटी का शिकार है. आईएसआईएस के शीर्ष नेताओं में से एक माना जाने वाला जब्बा द जिहादी के नाम से मशहूर ये आतंकी सुरक्षा बलों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के लिए जाना जाता था.

         ब्रिटिश एक्टिविस्ट माजिद नवाज के मुताबिक आतंकी तैयार करता था शिफा - शिफा अल निमा के बारे में तहकीकात कर चुके ब्रिटिश एक्टिविस्ट माजिद नवाज के मुताबिक, शिफा का काम था- अपने भाषणों के जरिए आतंकियों को तैयार करना और उनके दिमाग में जहर घोलना. उसे शुरू से ही आईएसआईएस का बड़ा लीडर माना गया. वह फतवे जारी करता था, जिसके बाद आतंकी खुलकर कत्लेआम मचाते थे. शिफा का पकड़ा जाना आतंकी संगठन के लिए बहुत बड़ा झटका है, क्योंकि माना जा रहा था कि बगदादी की मौत के बाद भी आतंकी संगठन फिर खड़ा हो सकता है.

        न्यूयॉर्क में रहने वाले एक बधिर व्यक्ति ने तीन पॉर्न वेबसाइटों के खिलाफ वर्ग भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दायर किया है. व्यक्ति ने अपनी अर्जी में कहा है कि सबटाइटल के बिना वह वेबसाइटों पर उपलब्ध कंटेंट का पूरा-पूरा लुत्फ नहीं उठा पाता है. ब्रुकलीन फेडरल कोर्ट में गुरुवार को दी गई अर्जी में यारोस्लाव सुरिज ने पॉर्नहब, रेडट्यूब और यूपॉर्न और उसके कनाडाई मुख्य कंपनी माइंडगीक के खिलाफ मुकदमा दायर कर कहा है कि वे ‘अमेरिकंस विद डिसैबिलिटी एक्ट’ (विकलांग अमेरिकी कानून) का उल्लंघन कर रहे हैं. इससे पहले भी सुरिज इसी बात को लेकर फॉक्स न्यूज के खिलाफ मुकदमा कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि वह अक्टूबर और इस महीने कुछ वीडियो देखना चाहते थे, लेकिन नहीं देख पाए.

सुरिज ने अपने 23 पन्ने की अर्जी में लिखा है, ‘‘सबटाइटल के बिना बधिरों और ऐसे लोगों को जिन्हें कम सुनाई देता है वे वीडियो का पूरा-पूरा लुत्फ नहीं उठा पाते हैं, जबकि सामान्य लोग ऐसा कर पाते हैं.’’ पॉर्नहब के वाइस प्रेसिडेंट कोरी प्राइस ने एक बयान जारी कर कहा है कि वेबसाइट पर सबटाइटल वाला भी एक सेक्शन है और उन्होंने उसका लिंक भी दिया है.

ईरान के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद आईएसआईएस ने खुशी जताई है. आईएसआईएस का मानना है कि सुलेमानी की मौत के बाद हमें फिर से उभरने का मौका मिलेगा. आईएसआईएस ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तारीफ भी की है.

इस्लामिक स्टेट के साप्ताहिक अखबार अल-नबा में सोलेमानी की मौत को ईश्वरीय हस्तक्षेप के रूप में बताया गया है. बीबीसी में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार सुलेमानी के मारे जाने के तुरंत बाद अमरीका के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना ने इराक में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ अपना अभियान तुरंत रोक दिया. अमेरीका और उनके सहयोगी देशों का ये कहना था कि अब उनकी प्राथमिकता अपनी सुरक्षा है.

अगर सैनिक दृष्टि से देखें, तो शायद उनके पास कोई विकल्प भी नहीं है. ईरान और इराक में उसके समर्थन वाली मिलिशिया ने सुलेमानी की हत्या का बदला लेने की बात कही है. पिछले शुक्रवार को बगदाद हवाई अड्डे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश के बाद ड्रोन हमले में ईरान के कुद्स फोर्स के मुखिया जनरल कासिम सुलेमानी मारे गए थे. कासिम सुलेमानी की मौत के बाद इस्लामिक स्टेट को फायदा मिलेगा. आईएसआईएस चीफ अबू बकर बगदादी की मौत के बाद एक बार फिर इस्लामिक स्टेट उभरने की कोशिश करेगा. कोशिश करेगा. पिछले साल अमेरिका ने अबु बकर बगदादी को मार गिराया था.

 पूरी दुनिया की नजर इस वक्त ईरान और अमेरिका पर है. दोनों देशों ने एक-दूसरे के खिलाफ बगावत की बिगुल फूंक रखा है. अमेरिका ने ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी को मार गिराया तो जवाब में बुधवार की सुबह अमेरिका के इराक स्थित सैन्‍य ठिकानों पर ईरान ने दर्जनों मिसाइल दागे. अब सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या इन दोनों देशों के बीच युद्ध होगा.

अगर इन दोनों देशों के बीच युद्ध होगा तो सबसे ताकतवर देख कौन साबित होगा. आइए दोनों देशों के सैन्य ताकत से लेकर अन्य चीजों तक सभी कुछ पर एक नजर डालते हैं..

सैन्य बजट - वर्ष 2018 में ईरान ने 13.2 अरब डालर सेना पर खर्च किया तो वहीं स्‍टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रीसर्च इंस्‍टीट्यूट के मुताबिक अमेरिका का सैन्‍य बजट 648.8 अरब डालर है. आंकड़ों से साफ है कि सैन्य बजट के मामले में ईरान अमेरिका के काफी पीछे है.

दोनों देशों के पास कितनी सेना है, अगर इस आधार पर दोनों की ताकत को आंके तो अमेरिका सरकार के मुताबिक ईरान के पास कुल 6 लाख सक्रिय सैनिक और पांच लाख रिजस्र सैनिक हैं. वहीं अमेरिका के पास 13 लाख सैनिक हैं.

किस देश के पास कितने टैंक और तोप
युद्ध लड़ने के लिए टैंक, युद्धक वाहन, तोप आदि की आवश्कता होती है. इस मामले में भी अमेरिका ईरान से काफी मजबूत है. बात अगर समुद्री ताकत की करें तो ईरान के पास नवल शिप, पनडुब्बी, माइन वारफेयर आदि मिलाकर कुल संख्या 398 है. अमेरिका के लिए यह संख्या 415 है. वहीं परमाणु हथियारों के मामले में भई अमेरिका ईरान से काफी आगे है. बता दें कि 90 प्रतिशत परमाणु हथियार सिर्फ रूस और यूएस के पास हैं. 2018 में अमेरिका के पास कुल 6450 परमाणु हथियार थे. वहीं माना जाता है कि ईरान के पास एक भी परमाणु हथियार नहीं है. हालांकि ईरान खतरनाक मिसाइल वाला देश है. उसके पास 2000 किमी तक मार करने वाला मिसाइल है. हर मामले में बेशक ईरान अमेरिका से कम ताकतवर दिख रहा हो लेकिन अगर दुनिया के दो सबसे ताकतवर देशों में शुमार रूस और चीन ईरान की मदद के लिए आगे आते हैं तो मामला उलटा पड़ जाएगा. वर्तमान स्थिति को देखते हुए साफ है कि चीन और रूस ईरान का ही साथ देंगे क्योंकि सुलेमानी की हत्‍या के बाद मंगलवार को रूसी राष्‍ट्रपति ब्‍लादिमीर पुतिन सीरिया पहुंचे थे जो ईरान का सहयोगी देश है. वहीं चीन के विदेश मंत्रालय ने

अमेरिकी हमले के बाद ईरान भी अब आर-पार की बात कर रहा है. ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी के अंतिम संस्कार के बाद ईरानी लोग गुस्से में हैं. इसी बीच अंतरराष्ट्रीय मीडिया में छपी खबरों की मानें तो ईरान की एक संस्था ने ट्रंप के सिर पर 80 मिलियन डॉलर ईनाम का एलान किया.

ट्र्ंप का सर काटने वाले को 80 मिलियन डॉलर यानी भारतीय रुपयों में बात करें तो करीब 5.76 अरब भारतीय रुपये देने की बात कही गई है. जिस संस्था ने ईनाम रखा है उसने ईरान के सभी नागरिकों से अपील की है कि वह एक डॉलर दान करें. बीते शुक्रवार अमेरिका ने बगदाद हवाई अड्डे पर स्ट्राइक किया जिसमें ईरानी जनरल सुलेमानी की हत्या कर दी गई. इसी बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्होंने ईरान में 52 स्थान चिह्नित किए हैं और अगर ईरान ने अपने कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेने की कोशिश की तो हम उन ठिकानों पर बहुत तेज और बहुत खतरनाक जवाब देंगे.सुलेमानी को मारने का आदेश ट्रंप ने दिया था.

ट्रंप ने शनिवार को ट्विटर पर कहा, "इसे एक चेतावनी समझें कि अगर ईरान ने किसी अमेरिकी व्यक्ति या संपत्ति पर हमला किया तो हमने ईरान के 52 ठिकानों पर निशाना लगाया हुआ है, जिनमें कुछ ईरान के लिए काफी उच्च स्तरीय और महत्वपूर्ण हैं, और ईरान की संस्कृति, उन लक्ष्यों और खुद ईरान पर बहुत तेज और बहुत ही मारक हमला होगा."
समाचार के अनुसार, राष्ट्रपति ने कहा, "अमेरिका और ज्यादा धमकी नहीं चाहता."

वॉशिंगटन: ईरान और अमेरिका के बीच चल रही तनातनी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप का नया ट्वीट. ट्वीट में ट्रंप ने ईरान को चेतावनी देते हुए कहा है कि ईरान को हम सलाह देते हैं ऐसा ना करें. क्योंकि अगर वो ऐसा करते हैं तो फिर अमेरिका ऐसा हमला करेगा जैसा अब तक नहीं हुआ है. ट्र्ंप ने ट्वीट में लिखा, "उन्होंने हमला किया और हमने उसका जवाब दिया. अगर वो फिर से हमला करेंगे, जो कि मैं उन्हें सलाह देता हूं कि वो ना करें तो हम उन पर और जोरदार हमला करेंगे जैसा अब तक कभी नहीं हुआ.''

ट्रंप के इस ट्वीट के बाद दोनों देशों के बीच का तनाव बढ़ना और तय है. एक तरफ जहां अमेरिकी राष्ट्रपति हमले की चेतावनी दे रहे हैं वहीं दूसरी ओर ईरान ने मस्जिद पर लाल झंडा फहराकर युद्ध और बदले का एलान कर दिया है. शिया परंपरा के मुताबिक मस्जिद पर लाल झंडा युद्ध का प्रतीक और बदला लेने का प्रतीक होता है दरअसल कई दशकों से एक दूसरे के दुश्मन अमेरिका और ईरान की दुश्मनी नए दशक की शुरूआत में और ज्यादा बढ़ गई है. परसों अमेरिका ने ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी को बगदाद में एयर स्ट्राइक में मौत के घाट उतार दिया था. वहीं ईरान समर्थित संगठन हशद अल शाबी को भी अमेरिका ने कल इराक में निशाना बनाया. जिसके बाद बीती रात अमेरिका के दो ठिकानों पर रॉकेट से हमला किया गया. पहला हमला अमेरिकी दूतावास पर हुआ जबकि दूसरा हमला एयरफोर्स बेस पर किया गया।

ये हमला ईरान का अमेरिका से बदला कैसे हो सकता है. इसके समझने के लिए आपको कासिम सुलेमानी की बेटी जेनाब सुलेमानी और ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी की बातचीत जाननी चाहिए. कासिम सुलेमानी की बेटी जेनाब सुलेमानी ने राष्ट्रपति हसन रोहानी से कहा, ''मिस्टर रोहानी जब मेरे पिता के दोस्तों को खून बहता था तो वो बदला लेते थे. अब मेरे पिता के खून बहने का बदला कौन लेगा?'' इसके जवाब में राष्ट्रपति रोहानी ने कहा, '' बिल्कुल मिलेगा. शहीद के खून का बदला लिया जाएगा, चिंता मत करो.'' इराक में अमेरिका के ठिकानों पर हुआ हमला बगदाद में अमेरिका के एयर स्ट्राइक के बाद से हुआ है. इस हमले में ईरान का टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी मारा गया था. अमेरिका के राष्ट्रपति ने इस हमले के बाद साफ साफ कहा था कि अमेरिका को नुकासान पहुंचाने वालों को ढूंढकर

बगदादः अमेरिका और ईरान में तनातनी के बीच अमेरिका ने एक बार फिर इराक पर हवाई हमला किया है. ये हमला भी ईरान को निशाना बनाकर किया गया है. इराक के संगठन हशद अल शाबी को निशाना बनाकर अमेरिका ने ये हमला किया है. हशद अल शाबी वही संगठन है जिसे ईरान का समर्थन मिला हुआ है. बगदाद के उत्तर में कैंप ताजी पर हुए इस हमले में 6 लोग मारे गए हैं. हमला स्थानीय समय के मुताबिक रात एक बजकर 12 मिनट पर किया गया.

सूत्रों ने बताया कि यह हमला रॉकेट से किया गया था. रॉकेट गाड़ियों पर आकर गिरा जिसके बाद उसमें आग लग गई. आग लगने के कारण 6 लोगों की मौत हो गई. जानकारी सामने आ रही है कि हमले में पॉप्‍युलर मोबलाइजेशन फोर्सेस के एक बड़े नेता की मौत हो गई है. हालांकि, अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है.. अमेरिका और ईरान के बीच की तनातनी एक कदम और आगे बढ़ चुकी है. दुनिया तीसरे विश्व युद्ध की आशंका जता रही है लेकिन अमेरिका इससे इनकार कर रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का बड़ा बयान आया है. ट्रंप का कहना है कि हमने जो एक्शन लिया वो युद्ध शुरू करने के लिए नहीं बल्कि युद्ध खत्म करने के लिए लिया. अमेरिका के हवाई हमले में ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद ट्रंप का ये बयान आया है. इससे पहले शुक्रवार को हुए हमले में ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड (IRGC) के वरिष्ठ जनरल और कुद्स फोर्स कमांडर कासिम सुलेमानी को रॉकेट से हमला कर मार गिराया था. इस हमले में ईरान समर्थित पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स के कमांडर अबू मेहंदी अल मुहंदीस भी मारा गया. इरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने कहा है कि समय आने पर सही मौका आने पर हम जवाब देंगे.

          संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक समीक्षा के पहले भाग में मलाला के संबंध में यह ऐलान किया है। समीक्षा के इस पहले भाग में संयुक्त राष्ट्र ने 2010 से 2013 के बीच की घटनाओं पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया। शिक्षा के लिए आवाज उठाने पर तालिबान आतंकियों ने 2012 में मलाला पर जानलेवा हमला किया था। हमले के बावजूद उन्होंने लड़कियों की शिक्षा के लिए आवाज उठाना जारी रखा और खुद की शिक्षा भी ब्रिटेन में जारी रखी। उन्हें उनके प्रयासों के लिए 2014 में शांति के नोबेल सम्मान से नवाजा गया था। संयुक्त राष्ट्र ने पाकिस्तान की नोबेल पुरस्कार विजेता शिक्षा कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई को विश्व भर में इस दशक की सर्वाधिक प्रसिद्ध किशोरी करार दिया है।

          2012 में पाकिस्तान के स्वात में स्कूल से लौटने के दौरान मलाला और अन्य लड़कियों पर तालिबान के जानलेवा हमले का जिक्र करते हुए कहा गया है, मलाला की गतिविधियों और साथ ही उनके प्रोफाइल में इस जानलेवा हमले के बाद बढ़ोतरी हुई और उन्हें कई प्रतिष्ठित सम्मान से नवाजा गया। इनमें 2014 में शांति का नोबेल पुरस्कार और 2017 में संयुक्त राष्ट्र का शांति राजदूत बनना शामिल है।

एक विमान दो मंजिला इमारत से टकरा कर क्रैश हो गया। इस हादसे में अब तक 14 यात्रियों के मारे जाने की खबर है। अल्माटी एयरपोर्ट मैनेजमेंट के मुताबिक विमान में 100 यात्री सवार थे। एयरपोर्ट मैनेजमेंट ने दुर्घटना स्थल पर  रेस्क्यू टीम को भेज दिया। विमान बेक एयर कंपनी का था। अधिकारियों का कहना है कि इस हादसे में 14 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 9 लोग घायल हैं। इसमें 6 बच्चे भी शामिल है। एयरपोर्ट के काफी करीब ही प्लैन क्रैश हुआ। अबतक मिली जानकारी के मुताबिक घटना के वक्त प्लेन काफी नीचे उड़ रहा था। 

        इस हादसे के कारण प्लेन के परखच्चे उड़ गए। वहीं इस हादसे के कारण कई लोकल नागरिक भी घायल हो गए। अधिकारियों का कहना है कि प्लेश क्रैश की जांच की जाएगी।

 विदेश में भी इस कानून पर बहस हो रही है| मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने भी इस कानून को लेकर कुछ ऐसा बयान दे दिया है कि भारतीय विदेश मंत्रालय ने बयान पर सख्त ऐतराज जताया है| साथ ही अगली बार भारत के आंतरिक मामलों पर सोच-समझकर बोलने की सलाह भी दी है| 
      इस टिप्पणी को फौरन भारतीय विदेश मंत्रालय ने खारिज किया| विदेश मंत्रालय ने नाराजगी जताते हुए कहा, ''कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मलेशिया के प्रधानमंत्री ने फिर से भारत के आतंरिक मामले पर टिप्पणी की है| नागरिकता कानून तीन देशों से आए गैर नागरिकों की पहचान के लिए है|'' 
 

 8वां शिखर सम्मेलन 24 दिसंबर को चीन के सछ्वान प्रांत के छंगतु शहर में आयोजित किया जााएगा। इस सम्मेलन में अगले दशक में चीन, जापान, दक्षिण कोरिया सहयोग के लिए संभावनाएं प्रकाशित करने की संभावना है और विश्वास है कि इस सम्मेलन में तीनों देशों के बीच सहयोग को बढ़ावा मिलेगा। 1990 के दशक से चीन, जापान और दक्षिण कोरिया ने तीनों देशों के बीच सहयोग करने का कार्यक्रम शुरू किया था। इसमें 21 मंत्री स्तरीय मीटिंग भी शामिल हैं। तीनों ही देश व्यापार, वातावरण संरक्षण, आपदा रोकथाम, सूचना और विज्ञान व तकनीक के संदर्भ में सहयोग कर रहे हैं। चीन के उप विदेश मंत्री लो चाओ ह्वेई ने बताया कि 'मौजूदा शिखर सम्मेलन में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग अलग अलग तौर पर दक्षिण कोरिया और जापान के नेताओं से भेंट करेंगे और प्रधानमंत्री ली खछ्यांग भी शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे। 


 

 अमेरिका संसद में ट्रंप के महाभियोग को लेकर लंबी बहस चली। इस दौरान डेमोक्रेटिक प्रतिनिधि सुसान डेविस ने सदन में कहा कि हम राष्ट्रपति ट्रंप महाभियोग नहीं लगा रहे हैं। वह खुद ऐसा कर रहे हैं। बता दें ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने सत्ता का दुरुपयोग किया। उन्होंने यूक्रेन पर 2020 के आम चुनाव में उनके प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन को बदनाम करने का दबाव बनाया था। उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में पास हो गया।
       लेकिन उनकी पार्टी को बहुमत है। ऐसे में उनके पद से हटने की उम्मीद नहीं है। हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की स्पीकर नैन्सी पॉलोसी ने कहा, 'ट्रंप की बतौर राष्ट्रपति उल्टी गिनती शुरू हो गई।'  

 इस बात की जानकारी मंगलवार को सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता स्टेनी होयर ने दी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने बताया कि सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेताओं पर ट्रंप के खिलाफ आरोपों पर मतदान करने के लिए किसी भी तरह का दवाब नहीं डाला गया है। बता दें कि सदन में रिपब्लिकन पार्टी के पास 100 में से 53 सीटें हैं और राष्ट्रपति ट्रंप को कार्यालय से निकालने के लिए दो-तिहाई बहुमत की आवश्यकता होगी। 
          2020 में होने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में अपने प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन के खिलाफ जांच शुरू कराने के लिए यूक्रेन पर दबाव डाला। इसके चलते उन्होंने अपने पद और अपने कार्यालय की शक्तियों का दुरूपयोग किया। हालांकि इस बात को राष्ट्रपति ट्रंप ने पूरी तरह से गलत बताकर खारिज कर दिया है।

एस्टोनिया के मंत्री के आपत्तिजनक बयान के चलते हुआ| अपने बयान में फिनलैंड की सबसे युवा प्रधानमंत्री सना मारिन का एस्टोनिया के मंत्री ने मजाक उड़ाया था| उन्होंने प्रधानमंत्री मारिन को ‘सेल्स गर्ल’ बताया|
      प्रधानमंत्री सना मारिन का एस्टोनिया के मंत्री मार्ट हेल्मे ने मजाक उड़ाया| उन्होंने प्रधानमंत्री मारिन को ‘सेल्स गर्ल’ बताया| मंत्री ने प्रधानमंत्री पद के लिए उनके फिटनेस पर सवाल उठाए| हेल्मे ने कहा, “अब हम देख सकते हैं कि कैसे एक सेल्स गर्ल प्रधानमंत्री बन गई है और कैसे गली के कुछ कार्यकर्ता और अशिक्षित लोग उनकी कैबिनेट में हैं|”


 

देशद्रोह के मामले में इस्लामाबाद की स्पेशल कोर्ट ने पाकिस्तान के पूर्व फौजी शासक परवेज मुशर्रफ को फांसी की सज़ा सुनाई है| परवेज़ मुशर्रफ पर आरोप है कि उन्होंने साल 2007 में पाकिस्तान में आपातकाल लगाया था| 76 साल के मुशर्रफ फिलहाल इलाज के लिए दुबई में हैं| जिसके बाद से वह सुरक्षा और स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर पाकिस्तान नहीं लौटे| पीएमएल-एन सरकार ने उनके खिलाफ साल 2013 में यह मामला दर्ज करवाया था| उस वक्त देश के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ थे| बड़ी बात यह है कि खुद नवाज़ शरीफ भी भ्रष्टाचार के मामले में जेल की हवा खा रहे हैं| इसके बाद 31 मार्च 2014 को मुशर्रफ आरोपी करार दिए गए और उसी साल सितंबर में अभियोजन ने सारे साक्ष्य विशेष अदालत के सामने रखे|

बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए.के अब्दुल मोमेन ने इस बात के संकेत दिए हैं। विदेश मंत्री अब्दुल ने भारत से अनुरोध किया कि अगर उसके पास वहां अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशी नागरिकों की सूची है तो उसे मुहैया कराए और वह उन्हें लौटने की मंजूरी देगा। उन्होंने कहा, CAA और NRC का कोई असर बांग्लादेश नहीं पड़ेगा। मोमेन ने कहा मैंने निजी कारणों में व्यस्त की वजह से अपना भारत दौरा रद्द किया था। उन्होंने कहा कि भारत ने एनआरसी प्रक्रिया को अपना आंतरिक मामला बताया है और ढाका को आश्वस्त किया कि इससे बांग्लादेश पर असर नहीं पड़ेगा| भारतीय नागरिक आर्थिक वजहों से बिचौलिए के जरिए अवैध रूप से बांग्लादेश में घुस रहे हैं। मोमेन ने यहां मीडिया से कहा, ‘लेकिन अगर हमारे नागरिकों के अलावा कोई बांग्लादेश में घुसता है तो हम उसे वापस भेज देंगे। उनसे उन रिपोर्टों के बारे में पूछा गया था कि कुछ लोग भारत के साथ लगती सीमा के जरिए अवैध रूप से देश में घुस रहे हैं। वहीं मोमेन बांग्लादेश ने भारत सरकार से अनुरोध किया है कि अगर उसके पास भारत में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों की कोई सूची है तो उन्हें मुहैया कराए।

ग्रेटा थनबर्ग को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुस्से पर काबू रखने और दोस्तों के साथ पुरानी फिल्में देखने की नसीहत दी है| जिसकी सोशल मीडिया पर चर्चा हो रही है| उनका ये ट्वीट तब आया जब ग्रेटा को टाइम पत्रिका द्वारा ‘पर्सन ऑफ द इयर 2019’ के लिए चुना गया| ट्रंप ने ये नसीहत ग्रेटा को ट्वीट के जरिए दी है| ग्रेटा, अपने गुस्से को काबू करो और फिर अपने दोस्त के साथ कोई पुरानी अच्छी फिल्म देखने जाओ| इसके बाद उन्होंने लिखा कि शांत ग्रेटा...शांत| पिछले साल स्वीडन की संसद के सामने जलवायु परिवर्तन के खिलाफ अकेले प्रदर्शन करने के लिए पहली बार चर्चा में आई थीं| जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन में ग्रेटा ने ग्लोबल वार्मिंग को नियंत्रित करने में विफल होने के लिए 'आपकी हिम्मत कैसे हुई' के शीर्षक वाले अपने वक्तव्य से दुनिया के नेताओं पर विश्वासघात का आरोप लगाया था|

अमेरिकी सांसदों ने आग्रह कर कहा है कि भारत सरकार उन लोकतांत्रिक मूल्यों को बरकरार रखे जिन पर उसकी स्थापना हुई| अमेरिकी कांग्रेस के सांसद स्टीव वाटकिंस ने प्रतिनिधि सभा के सदन में अपनी संक्षिप्त टिप्पणी में कहा| सांसद स्टीव वाटकिंस ने कहा, 'महोदया, मैं आज जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए लोकतंत्र और स्वतंत्रता के समर्थन और धार्मिक अल्पसंख्यकों की रक्षा के महत्व पर अपनी बात रखना चाहता हूं|' भारत सरकार ने अगस्त में आर्टिकल 370 हटाकर क्षेत्र की स्वायत्तता को खत्म कर दिया| उन्होंने कहा, तब से वहां संचार सेवाएं बंद हैं|

हेट क्राइम में जान गंवाने वाले सिख पुलिसकर्मी संदीप धालीवाल को सम्मान देने के लिए शुक्रवार को संसद में बिल पेश किया गया। इसके तहत ह्यूस्टन के एक पोस्ट ऑफिस का नाम बदलकर संदीप सिंह धालीवाल पोस्ट ऑफिस करने का प्रस्ताव रखा गया। अमेरिकी सांसद लिजी फ्लेचर ने शुक्रवार को हाउस ऑफ रिप्रेंजेटेटिव्स में यह बिल पेश किया। उन्होंने कहा कि डिप्टी धालीवाल ने टेक्सास में समानता, रिश्तों और समुदाय के लिए काम किया और अपने जीवन को दूसरे की सेवाओं के लिए लगा दिया। डिप्टी धालीवाल की 27 सितंबर को टेक्सास में ट्रैफिक ड्यूटी के दौरान गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। धालीवाल ने जांच के लिए कार को रोका था, जिसमें एक महिला और पुरुष सवार थे। हमलावर ने कार से निकलते ही सिंह पर गोली चला दी। इस घटना के बाद टेक्सास में लोगों ने शोक जताया था।

नाटो समिट के बाद यह न्यूज कॉन्फ्रेंस होने वाली थी. ट्रंप ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है| आज की मीटिंग खत्म हो जाएगी तो मैं वॉशिंगटन के लिए रवाना हो जाऊंगा| हम इससे पहले नाटो के सहयोगी होने की वजह से कई बार न्यूज कॉन्फ्रेंस कर चुके हैं, इसलिए हम इस बार न्यूज कॉन्फ्रेंस नहीं कर रहे हैं| नाटो के दो दिवसीय बैठक में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार पत्रकारों के लंबे सवालों के बड़े जवाब देते नजर आए| कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो पर नाराजगी जाहिर की और पूर्व निर्धारित प्रेस कॉन्फ्रेंस को रद्द कर दिया| चारों देशों के नेता बुधवार को नाटो शिखर सम्मेलन के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की मीडिया के साथ हुई लंबी बातचीत के बारे में मजाक उड़ाते हुए दिखे|

नाइजीरिया के तट के पास समुद्री लुटेरों ने अगवा कर लिया है| इसमें 18 भारतीय भी सवार हैं| समुद्री गतिविधियों पर नजर रखने वाली एक वैश्विक एजेंसी ने यह जानकारी दी है| भारतीयों के अगवा होने की खबर मिलते ही भारतीय दूतावास के अफसरों ने नाइजीरया से संपर्क साधा है ताकि घटना के बारे में और ब्योरा हासिल किया जा सके| गतिविधियों पर निगरानी रखने वाले एआरएक्स मैरीटाइम ने अपनी वेबसाइट पर बताया है कि जहाज को मंगलवार को समुद्री डाकुओं ने अपने कब्जे में ले लिया और जहाज पर सवार 19 लोगों का अपहरण कर लिया| इनमें से 18 भारतीय हैं जबकि एक तुर्की नागरिक है| सोमालिया के पास एडन की खाड़ी से 18 भारतीयों सहित 22 यात्रियों वाले एक पानी के जहाज को समुद्री लुटेरों ने बंधक बना लिया था|

बुधवार दोपहर एक हमलावर ने खुलेआम गोलीबारी कर दी। इसमें रक्षा विभाग के 2 कर्मचारियों की मौत हो गई, वहीं एक की हालत गंभीर है। हमलावर ने फायरिंग के बाद खुद को गोली मार ली। उसकी पहचान अमेरिकी नौसैनिक के तौर पर हुई है। भारतीय वायुसेना के एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया घटना के वक्त पर्ल हार्बर में ही थे। वे हिंद-प्रशांत क्षेत्र के अफसरों के साथ एक कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं। भारतीय वायुसेना के सभी अधिकारी सुरक्षित हैं। घटना के बाद बेस को पूरी तरह बंद कर दिया गया| सके अलावा इनकी मरम्मत और मेंटेनेंस की देखरेख भी यहीं होती है। पर्ल हार्बर में अमेरिका के करीब 10 नौसैनिक युद्धपोत और 15 पनडुब्बियां तैनात हैं। अमेरिका की तरफ से हिंद-प्रशांत महासागर क्षेत्र के वायुसेना प्रमुखों के लिए आयोजित कार्यक्रम पैसिफिक एयर चीफ सिम्पोसियम में हिस्सा लेने गए हैं। इस कॉन्फ्रेंस का मकसद क्षेत्रीय सुरक्षा और आपसी सहयोग बढ़ाने के लिए नई योजनाओं को आकार देना है।

रेलवे स्टेशन गारे डू नॉर्ड से एक बैग में विस्फोटक मिलने के बाद अफरातफरी का माहौल हो गया| इसके बाद पुलिस ने पूरे स्टेशन को खाली करवा दिया| एसएनसीएफ ने कहा कि यात्रियों को लगभग 40 मिनट तक स्टेशन के बाहर इंतजार करने के लिए मजबूर रहना पड़ा| हालांकि इस घटना के कारण शहर में अन्य लाइनें प्रभावित नहीं हुईं| रेलवे कंपनी एसएनसीएफ ने बताया कि शुक्रवार को बैग में विस्फोट के पाए जाने के बाद यात्रियों से स्टेशन परिसर को खाली करने के लिए कहा गया| पेरिस की इस घटना से पहले ब्रिटेन के मशहूर लंदन ब्रिज के निकट शुक्रवार को चाकूबाजी की घटना को अंजाम दिया गया जिसमें दो लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए| ब्रिटेन ने इस हमले को आतंकवादी घटना घोषित किया|

पहली रक्षा और विदेश मंत्री स्तर 2+2 वार्ता शनिवार को नई दिल्ली में होगी| यह वार्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच होने वाली वार्ता से पहले अहम है, जिसमें कई रणनीतिक सहयोग परियोजनाओं पर चर्चा होगी| अक्टूबर 2018 में जापान में आयोजित 13वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और प्रधानमंत्री आबे के बीच बनी रजमांदी की कड़ी है| द्विपक्षीय सुरक्षा और रक्षा सहयोग को अधिक गहरा बनाने के लिए दो मंत्री स्तर की यह संवाद प्रक्रिया स्थापित की जा रही है|जापानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोतेगी और रक्षा मंत्री ताओ कोनो करेंगे| विदेश मंत्रालय के मुताबिक इस बैठक में दोनों पक्षों के बीच रक्षा और सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा होगी ताकि भारत-जापान विशेष सामरिक और वैश्विक भागीदारी को अधिक गहराई दी जा सके|

स्वीडन ने जम्मू-कश्मीर में लागू पाबंदियों और राजनीतिक हिरासतों का विरोध किया है| हाल ही में भारत सरकार ने अनुच्छेद-370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष प्रावधानों को खत्म करके राज्य की भौगोलिक-संवैधानिक स्थिति में बदलाव कर दिया था| विदेश मंत्री एने लिंद ने अपने जवाब में कहा, “कश्मीर में हालात चिंताजनक हैं और सरकार हालात पर करीब से नजर बनाए हुए है| स्वीडन और यूरोपीय संघ दोनों ने इस मसले पर भारत और पाकिस्तान से संपर्क करने का आदेश दे दिया है| यूरोपीय यूनियन के साथ स्वीडन, जम्मू और कश्मीर में हो रहे संवैधानिक परिवर्तनों, घटनाओं और मानवाधिकारों पर पड़ रहे उनके असर पर नजर बनाए हुए है|” स्वीडन की विदेश मंत्री ने बुधवार को संसद में कहा, “हम मानवाधिकार के महत्व को सम्मान देने पर जोर देते हैं, कश्मीर में जो स्थिति है उसने बढ़ने देने से बचना चाहिए और स्थिति के दीर्घकालिक राजनीतिक समाधान के लिए कश्मीर के निवासियों को शामिल करना चाहिए| भारत और पाकिस्तान के बीच संवाद भी अहम है|”

Recent Posts