loader

Sports News

साउथ अफ्रीका (South Africa) के क्रिकेटर एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) रिटायरमेंट से पहले अपनी टीम की सबसे बड़ी मजबूती माने जाते थे. उनके जाने के बाद से साउथ अफ्रीका (South Africa) की टीम अब तक उनकी कमी से उबर नहीं पाई है. पिछले साल इंग्लैंड (England) में हुए वर्ल्ड कप के दौरान एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) की अंतरराष्ट्रीय वापसी को लेकर चर्चा शुरू हुई थी जो अब तक कायम है. अब खुद डिविलियर्स (AB De Villiers) ने अपनी वापसी को लेकर बयान दिया है.

डिविलियर्स ने वापसी को लेकर दिया बड़ा बयान - इस साल अक्टूबर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप को देखते हुए कायास लगाए जा रहे हैं कि डिविलियर्स(AB De Villiers) अपने देश के लिए एक बार फिर मैदान पर उतर सकते हैं. डिविलियर्स से जब उनकी वापसी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'अभी रुकते हैं और देखते हैं क्या होता है. फिलहाल मेरा पूरा ध्यान आईपीएल पर है. मैं चाहता हूं कि आरसीबी के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं. इसके बाद स्थिति के देखते हुए फैसला किया जाएगा कि इस साल मुझे औऱ क्या करना है.' एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) पिछले साल हुए क्रिकेट वर्ल्ड कप से पहले भी वापसी के लिए तैयार थे लेकिन उन्हें मौका नहीं दिया गया था. साउथ अफ्रीका के लिए वर्ल्ड कप निराशाजनक रहा था. वह ग्रुप स्टेज पर ही बाहर हो गई थी.

टी20 लीग में किंग साबित हुए हैं एबी डिविलियर्स  - एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) ने साउथ अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट, 228 वनडे और 78 टी20 मैच खेले हैं. हालांकि टी20 इंटरनेशनल में डिविलियर्स का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है. उनका औसत 26.1 है और उन्होंने 10 अर्धशतक ही लगाए हैं.  डिविलियर्स ब्रिसबेन हीट के लिए बिग बैश लीग (Big Bash League) में खेले थे. वहां उन्होंने 6 मैच खेले और 24.33 की औसत से 146 रन बनाए. उन्होंने एक ही अर्धशतक लगाया. वहीं वह लंबे समय से आईपीएल (IPL) में विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से खेलते हैं और अहम खिलाड़ी हैं. वह अब तक 154 मैचों में 4395 रन बना चुके हैं. जिसमें तीन शतक औऱ 33 अर्धशतक लगा चुके हैं. पिछले साल उन्होंने 13 मैचों में 442 रन बनाए थे जिसमें पांच अर्धशतक शामिल थे.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) का 13वां सीजन खटाई में पड़ता नजर आ रहा है. हालांकि बीसीसीआई (BCCI) ने फिलहाल की स्थिति को देखते हुए इसका आयोजन 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है, लेकिन बोर्ड अब भी आईपीएल आयोजित करने की हर तरह की संभावनाओं पर विचार कर रहा है. इस बीच इस तरह की खबरें भी आ रहीं हैं कि आईपीएल (IPL) आयोजित होता है तब भी विदेशी खिलाड़ी इससे दूरी बना सकते हैं. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने तो खिलाड़ियों से आईपीएल में खेलने को लेकर विचार तक करने के लिए कह दिया है. हालांकि अब ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर (David Warner) के खेमे से आईपीएल को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है.

15 अप्रैल तक टाल दिया गया है आईपीएल का आयोजन

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) का 13वां सीजन 29 मार्च से शुरू होना था. इसका पहला मुकाबला चार बार की चैंपियन रोहित शर्मा की अगुआई वाली मुंबई इंडियंस और तीन बार की विजेता महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच होना था. मगर दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते बीसीसीआई ने इसे 15 अप्रैल तक टाल दिया.

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण सभी पुरुष और महिला पेशेवर टेनिस टूर्नामेंट सात जून तक स्थगित कर दिये गये हैं. एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) ने बुधवार को घोषणा की कि क्लेकोर्ट का पूरा सत्र पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नहीं होगा. इससे एक दिन पहले फ्रेंच ओपन (French Open) ने घोषणा की थी मई में क्लेकोर्ट पर होने वाला वर्ष का यह दूसरा ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट सितंबर तक स्थगित कर दिया गया है.

कई टूर्नामेंट पर पड़ेगा असर

एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) टूर ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह अप्रैल के आखिर या मई के शुरू तक टूर्नामेंटों को निलंबित कर सकता है. नयी घोषणा के बाद जिन टूर्नामेंट पर असर पड़ेगा में उनमें पुरुष और महिलाओं के मैड्रिड और रोम टूर्नामेंट भी शामिल हैं.

जिन टूर्नामेंट को रद्द किया गया है उनमें डब्ल्यूटीए के स्ट्रासबोर्ग (फ्रांस) और रबात (मोरक्को) तथा एटीपी के म्यूनिख, पुर्तगाल, जेनेवा और फ्रांस के लियोन में होने वाले टूर्नामेंट शामिल हैं. दोनों टूर ने कहा कि आगामी नोटिस तक रैंकिंग जस की तस बनी रहेगी और उसमें कोई बदलाव नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ ने अपने निचली श्रेणी के टूर्नामेंट को सात जून तक रद्द कर दिया है.

 पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण दशहत में हैं. इस महामारी के चलते खेल के मैदान भी सूने हाे गए हैं. अधिकतर टूर्नामेंट रद्द हो गए हैं, वहीं कुछ स्‍थगित कर दिए गए हैं. खिलाड़ी भी अपने अपने घर लौट रहे हैं. इसी वजह से न्‍यूजीलैंड की टीम भी ऑस्‍‍‍ट्रेलिया दौरे से स्‍वेदश लौट आई है. इसके बावजूद खिलाड़ी अभी अपने परिवार वालों से दूर ही रहेंगे. दरअसल इस महामारी के चलते सुरक्षा के लिहाज से उन्‍हें 14 दिनों के लिए आइसोलेशन पर रहने के लिए कहा गया है. कीवी टीम और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज होनी थी, मगर खाली स्‍टेडियम में पहला मैच करवाने के बाद अधिकारियों ने इस सीरीज को स्‍थगित कर दिया.

कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी के चलते पूरी दुनिया थम गई है. सभी की जिंदगी काफी प्रभावित हो रही है. चीन के वुहान शहर से शुरू हुए इस वायरस के कारण दुनिया भर में करीब सात हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. साथ ही दो लाख से अधिक लोग संक्रमित हो गए हैंं.

चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) ने दुनिया की रफ्तार मानो थाम सी दी है. खेलों की दुनिया पर भी इसका गहरा असर पड़ा है. छोटे से लेकर बड़े अधिकतर खेल आयोजन या तो स्‍थगित कर दिए गए हैं, या फिर उन्हें रद्द ही कर दिया गया है. इंडियन प्रीमियर लीग पर भी इसका असर देखने को मिला है, जिसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. यहां तक कि टोक्यो ओल‌िंपिक के आयोजन को लेकर भी संदेह के बादल मंडराने लगे हैं. पाकिस्तान सुपर लीग (Pakistan Super League) के सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबले भी स्‍थगित कर दिए गए हैं.

पाकिस्तान सुपर लीग (Pakistan Super League) के पिछले कुछ मुकाबले बिना दर्शकों के खाली स्टेडियम में खेले गए थे, लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते असर के बाद आखिरकार बाकी बचे तीनों मुकाबले स्‍थगित कर दिए गए. मगर अब राहत की खबर ये आई है कि पाकिस्तान सुपर लीग से जुड़े 128 लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने का शक जताया जा रहा था, उन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

सभी की रिपोर्ट निगेटिव - पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) ने ये खुलासा किया था कि पीएसएल से जुड़े रीब 128 लोगों का कोविड-19 (Covid-19) टेस्ट किया गया था. खास बात ये है कि इन 128 लोगों में कई खिलाड़ी भी शामिल हैं. अब इसकी रिपोर्ट आ गई है. पीसीबी के चीफ एग्जीक्यूटिव वसीम खान ने बताया कि सभी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है और हम खुश हैं कि ये सभी लोग अपने-अपने परिवारों के पास लौट गए हैं. 

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने कहा है कि कोरोना वायरस से लड़ने की इस मुश्किल जंग में सभी लोगों को जिम्मेदार होने की जरूरत है. कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर में करीब आठ हजार लोगों की जान जा चुकी है, जबकि दो लाख से अधिक लोग इसके संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. इस वायरस की वजह से दुनियाभर में खेल आयोजनों को स्‍थगित या रद्द कर दिया गया है. अश्विन ने कहा है कि लोगों को एकजुट होकर इस दुश्मन से लड़ना चाहिए.

अनुशासन की कमी
रविचंद्रन अश्विन ने भारत ऐसा देश हो सकता है जहां ये वायरस बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां आत्म अनुशासन की काफी कमी है. हम सभी का दुश्मन एक ही है, जिसे देखा नहीं जा सकता. इसे लेकर घबराहट भी है, लेकिन नजरअंदाजी भी कम नहीं है. भारत जैसे देश में आपको वायरस से बचने के लिए थोड़ी किस्मत की भी जरूरत होती है.

ऑस्‍ट्रेलिया (Australia) की घरेलू लीग शेफील्ड शील्ड (Sheffield Shield) के विजेता का ऐलान कर दिया गया है. दिलचस्प बात है कि न तो इसका नतीजा फाइनल से निकला और न ही टॉस से. कोरोना वायरस के चलते शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट के फाइनल को रद कर दिया गया है, जिसके बाद न्यू साउथ वेल्स को अंक तालिका में टॉप पर रहने का इनाम विजेता ट्रॉफी के रूप में मिला. टूर्नामेंट में एक दौर का खेल बाकी था, लेकिन ऑस्‍ट्रेलिया ने अपने यहां सभी खेल गतिविधियों को बंद करने का फैसला किया. अंक तालिका में दूसरे स्थान पर विक्टोरिया की टीम काबिज थी जो न्यू साउथ वेल्स से 12 अंक पीछे थी. खास बात है कि ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ, मिचेल स्टार्क, पैट कमिंस और नाथन लायन साउथ वेल्स के लिए ही खेलते हैं.

खिताबी मुकाबला खेलने की संभावना नहीं थी - क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया (Cricket Australia) के चीफ एग्जीक्यूटिव केविन रॉबटर्स ने कहा कि ऐसे में जबकि 27 मार्च को शेफील्ड शील्ड (Sheffield Shield) टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले के आयोजन की कोई संभावना नहीं थी तो एकमत से न्यू साउथ वेल्स को विजेता चुनने का ऐलान किया गया. उन्होंने कहा कि नौ दौर के मुकाबलों के बाद न्यू साउथ वेल्स की टीम ने बड़ी बढ़त ले रखी थी. ऐसे में इस सीजन को बिना किसी विजेता के खत्म करने से अच्छा तरीका बेहतर साबित हुई टीम को ट्रॉफी देने का था, जिसे सर्वसम्मति से मान लिया गया.

 कोरोना वायरस के चलते इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन पर रद्द होने की तलवार लटक गई है. बीसीसीआई ने 29 मार्च से प्रस्तावित सीजन को पहले ही 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है. अब सोमवार को आठों फ्रेंचाइजियों के बीच हुई अहम बैठक में भी कोई नतीजा नहीं निकल सका, जिसके बाद टूर्नामेंट के रद्द होने की आशंका बढ़ गई है. कोरोना वायरस के चलते भारत और साउथ अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज भी रद्द कर दी गई है. अब आईपीएल के आगामी सीजन को लेकर आठों फ्रेंचाइजियों ने बड़ा कदम उठाया है.

अगले आदेश तक प्री टूर्नामेंट कैंप रद्द - दरअसल, फ्रेंचाइजियों ने अपने सभी खिलाड़ियों को छुट्टी दे दी है. फ्रेंचाइजियों ने प्री टूर्नामेंट कैंप अगले आदेश तक रद्द कर दिए हैं. डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट के अनुसार, विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 21 मार्च से शुरू होने वाले अपने कैंप को रद्द्द कर दिया है. गत चैंपियन और आईपीएल इतिहास की सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस, तीन बार की विजेता चेन्नई सुपरकिंग्स और दो बार की चैंपियन कोलकाता नाइटराइडर्स ने भी ऐसा ही किया है.
 

कपिल देव... एक ऐसा जादुई कप्तान जिसने भारत में क्रिकेट को एक अलग और खास जगह दिलाई. कपिल देव की कप्तानी में ही भारत ने पहली बार विश्व विजेता का ताज पहना. कपिल देव की अगुवाई में ही टीम इंडिया ने साल 1983 में वेस्टइंडीज जैसी दिग्गजों से भरी टीम को वर्ल्ड कप फाइनल में मात दी और लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीती. हालांकि वर्ल्ड कप जीतने के 17 साल बाद इसी विश्व विजेता कप्तान पर एक ऐसा आरोप लगा, जिसके बाद कपिल देव इतने आहत हुए कि उन्होंने आत्महत्या तक की बात कह डाली थी.


कपिल देव पर लगा था फिक्सिंग का आरोप
साल 2000, जुलाई के महीने में कपिल देव पर पूर्व ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर ने मैच फिक्सिंग का आरोप लगा था. मनोज प्रभाकर ने सनसनीखेज आरोप लगाते हुए दावा किया था कि साल 1994 में कपिल देव ने उन्हें घूस देने की कोशिश की थी. इस आरोप के दौरान कपिल देव टीम इंडिया के कोच थे. प्रभाकर के आरोपों के बाद कपिल देव पर मीडिया, राजनेताओं ने दबाव बनाया और उन्हें टीम इंडिया के कोच का पद छोड़ना पड़ा. इस मामले की जब सीबीआई जांच हुई तो कपिल देव को बेकसूर पाया गया और प्रभाकर का दावा गलत साबित हुआ. सीबीआई ने मनोज प्रभाकर ही मैच फिक्सिंग का दोषी पाया. 

 

हाल ही में क्रिकेट को अलविदा कहने वाले भारतीय ओपनर वसीम जाफर (Wasim Jaffer) ने टीम इंडिया के दो दिग्गजों राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) और वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) काे लेकर बड़ा बयान दिया है. वसीम जाफर ने कहा है कि मौजूदा दौर में क्रिकेटरों को सम्मान और पहचान तभी मिलती है जब वे तीनों प्रारूपों में सफल होते हैं. जाफर ने क्रिकेट डाॅटकाॅम से कहा, ‘आपको तभी पहचान और सम्मान मिलेगा जब आप तीनों प्रारूपों में कामयाब हैं. मैं यह नहीं कहता कि चेतेश्वर पुजारा का सम्मान नहीं है लेकिन वह सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलता है, कोई दूसरा प्रारूप नहीं. अब समय बदल गया है. मेरे समय में भी राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण जैसे खिलाड़ियों को उनका श्रेय नहीं मिला.’

तीनों प्रारूपों में फिट खिलाड़ी को ही मिलती है पहचान
वसीम जाफर (Wasim Jaffer) के अनुसार आज का समय ऐसे खिलाड़ियों का है जो तीनों प्रारूपों में अपने को ढाल सकते हैं. उन्होंने कहा, 'कोई भी खिलाड़ी किसी एक प्रारूप को खेलकर नहीं टिक सकता. आपको तभी पहचान और सम्मान मिलता है जब आप तीनों प्रारूपों में फिट होते हैं. मैं ये नहीं कह रहा हूं कि चेतेश्वर पुजारा का सम्मान नहीं है, लेकिन स्वाभाविक रूप से वो सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलेंगे, कोई और प्रारूप नहीं.'

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड  के बीच सिडनी वनडे कोरोना वायरस  के खतरे को देखते हुए खाली स्टेडियम में आयोजित किया गया था. इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 71 रन की जोरदार जीत दर्ज की थी. हालांकि मैच की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हुईं, जिसमें दोनों टीमों के खिलाड़ी दर्शक दीर्घा में जाकर कुर्सियों के नीचे गेंद तलाशते नजर आ रहे थे. हालांकि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते ये सीरीज रद्द कर दी गई. अब खाली स्टेडियम में मैच आयोजित किए जाने को लेकर ऑस्ट्रेलियाई के दिग्गज बल्लेबाज ने बड़ा बयान दिया है.
भीड़ की जरूरत नहीं
दरअसल, ऑस्ट्रेलिया (Australia) के पूर्व क्रिकेटर इयान चैपल (Ian Chappell) ने कहा है कि खिलाड़ियों को भीड़ की जरूरत नहीं होती. चैपल ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो से कहा, ‘मेरा मानना है कि एक खिलाड़ी को अच्छे प्रदर्शन के लिए भीड़ की जरूरत नहीं है. करीबी मुकाबलों का रोमांच ही इसके लिए काफी है. चौकों-छक्कों के बीच एससीजी पर खामोशी छाई हुई थी. ऐसे माहौल में खेल का मजा लेकर अच्छा लगा जहां आप अपने आपको सोचते हुए सुन सकते हैं.’

विश्व युद्ध से भी बुरे दौर में पहुंच गए  - इयान चैपल (Ian Chappell) ने साथ ही कहा कि लगभग सभी क्रिकेट मैचों का रद्द होना पहली बार हुआ है. इससे हम दो विश्व युद्धों वाले बुरे दौर में पहुंच गए लगते हैं.  चैपल ने कहा, 'साल 1914 की शुरुआत में प्रथम विश्व युद्ध के चलते भी टेस्ट मैच निलंबित कर दिए गए थे. ये निलंबन 1920 तक जारी रहा था. इसके बाद दूसरे विश्व युद्ध के दौरान भी अगस्त 1939 से लेकर मार्च 1946 तक ऐसा ही किया गया.'
 

भारतीय टीम (Indian Team) के टेस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) इन दिनों अपनी बल्लेबाजी को लेकर सुर्खियों में हैं. या यूं कहा जाए कि अपनी धीमी बल्लेबाजी को लेकर. न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ वेलिंगटन टेस्ट के बाद तो भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के सब्र का बांध भी टूट गया था और उन्होंने सार्वजनिक रूप से पुजारा की धीमी बल्लेबाजी पर सवाल खड़े कर दिए थे. दरअसल, इस मैच में पुजारा ने पहली पारी में 42 गेंद पर 11 रन बनाए थे, जबकि दूसरी पारी में 81 गेंद पर 11 रनों की पारी खेली ‌थी. यहां तक कि क्राइस्टचर्च में खेले गए दूसरे टेस्ट में भी पुजारा ने 54 रनों के लिए 140 और 24 रनों के लिए 88 गेंदें खेली ‌थीं. अब इस मामले में पुजारा का दर्द छलक आया है.

चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की मौजूदगी में सौराष्ट्र (Saurashtra) की टीम ने बंगाल (Bengal) को हराकर पहली बार रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) खिताब अपने नाम किया. इस मैच में पुजारा ने एक बार फिर धीमी, लेकिन अहम पारी खेली. पुजारा ने 237 गेंद पर 66 रन बनाए थे. पुजारा ने खुलासा किया कि रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने के बाद टीम ने शानदार तरीके से इसका जश्न मनाया. शाम को पार्टी की गई और फिर अगले दिन वो फिल्म भी देखने गए.

 

कोरोना वायरस (Corona Virus ) से संक्रमित लोगों के भारत में 111 मामले सामने आ चुके हैं. देश में दो लोगों की जान इस महामारी ने ली है. चीन (China) के वुहान (Wuhan) से निकले इस वायरस ने दुनियाभर में खौफ का माहौल बना रखा है. ऑस्ट्रेलिया (Australia) में भी इससे संक्रमित लोगों के 156 मामले सामने आए हैं. यहां तक कि दुनियाभर में खेल आयोजनों पर भी इसका असर देखने को मिला है. हाल ही में इसके चलते ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड (Australia vs New Zealand) के बीच खेली जा रही वनडे सीरीज भी रद्द कर दी गई. मगर अब इस वायरस से निपटने के उपायों को लेकर ऑस्ट्रेलियाई सरकार अपने ही लोगों के निशाने पर आ गई है.

14 दिन तक सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा - ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने इस हफ्ते ऐलान किया था कि जो लोग भी दूसरे देशों से ऑस्ट्रेलिया (Australia) आ रहे हैं, उन्हें 14 दिन तक सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके. अब ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के ओपनर डेविड वॉर्नर (David Warner) और एरॉन फिंच (Aaron Finch) ने इस पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

बड़ा सवाल : कैसे पता चलेगा कि सेल्फ आइसोलेशन हुआ है या नहीं?

पांच बार के चैंपियन और स्टार चेस प्लेयर विश्वनाथन आनंद  भी कोरोना वायरस से बचने की जद्दोजहद में जुटे हैं. एक शतरंज टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए जर्मनी गए विश्वनाथन आनंद वहीं फंस गए हैं. उन्हें सोमवार 16 मार्च को भारत लौटना था, लेकिन अब उनकी वापसी इस महीने के अंत तक के लिए टल गई है. तब तक के लिए आनंद ने खुद को सेल्फ आइसोलेशन में रखा है. 50 वर्षीय विश्वनाथन आनंद फरवरी में जर्मनी पहुंच गए थे. फिलहाल वह परिवार के साथ वीडियो कॉलिंग करके और इंटरनेट पर दोस्तों के साथ बातें करके समय बिता रहे हैं. पहली बार अलग-थलग रहने पर मजबूर होना पड़ा - विश्वनाथन आनंद  ने कहा है कि उनके लिए ये अनोखा अनुभव है. आनंद के अनुसार, 'जिंदगी में पहली बार मुझे अलग-थलग रहने पर मजबूर होना पड़ रहा है. ये बिल्कुल अलग तरह का अनुभव है. मेरे दिन का सबसे अहम हिस्सा वीडियो कॉल पर बेटे अखिल और पतनी अरुणा से बात करने का होता है. ऐसा करके हमारे चेहरे पर खुशियां बिखर जाती है.' जर्मनी में कोरोना वायरस का पहला मामला 27 जनवरी 2020 को सामने आया था. मगर फरवरी में इसकी संख्या बढ़ती गई.

दो बार वॉक और इंटरनेट पर दोस्तों से बात...

बढ़ते मामलों के बाद जर्मनी ने कोरोना वायरस (Corona Virus) को देश में फैलने से रोकने के लिए फ्रांस, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, डेनमार्क और लक्जमबर्ग से लगी अपनी सीमाओं पर सख्ती बढ़ा दी है. विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) ने कहा, 'मैं दिन में दो बार वॉक करने जाता हूं और इंटरनेट पर दोस्तों से बातें करता हूं. अगर इस दौरान मैं किसी से मिलता हूं तो ये सुनिश्चित करता हूं कि हमारे बीच कुछ मीटर की दूरी बनी रहे.'

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की तर्ज पर कुछ समय पहले शुरू हुआ पाकिस्तान सुपर  लीग ( Pakistan Super League ) भी अब लोकप्रिय होने लगा है. पहली बार पाकिस्तान अपने घर में  इस लीग का पूरा सीजन करवा रहा है. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्पिनर ब्रैड हॉग (Brad Hogg) लंबे समय से आईपीएल (IPL) से जुड़े हुए हैं. वहीं उन्होंने पीएसएल (PSL) को भी बढ़ते हुए देखा है. इसी आधार पर हॉग ने दोनों लीग को खासियत और लोकप्रियता के आधार पर नंबर दिए. दरअसल ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ट्विटर पर सवाल जवाब के सेशन में शामिल थे. इसी  दौरान एक फैन ने दोनों लीग को नंबर देने के लिए कहा था. हॉग ने दोनों  लीग को 10 में से नौ अंक दिए. उन्होंने पाकिस्तान में क्रिकेट को वापस लाने और इस खेल में लोगों की रूचि बढ़ाने के लिए पीएसएल की तारीफ की. उसी समय उन्होंने  दुनियाभर में अधिक लोकप्रिय होने और बड़ी संख्या में दर्शक जुटाने के लिए आईपीएल की तारीफ की.

दोनों लीग पर कोरोना वायरस की मार - हालांकि इस साल दोनों ही लीग कोरोना वायरस  की चपेट में आ गए. जहां आईपीएल के 13वें सीजन को 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. वहीं पीएसएल के समय को भी घटा दिया गया है  और अब सेमीफाइनल मुकाबले डबल हेडर में खेले जाएंगे. लीग पर वायरस का प्रभाव पड़ने से पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर  काफी निराश भी हैं. उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा था कि काफी लंबे समय बाद पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी हुई ‌थी. देश में पीएसएल का पूरा सीजन पहली बार हो रहा था, मगर इस खतरे की वजह से लीग प्रभावित हो गई. विदेशी खिलाड़ी वापस जा चुके हैं. मैच भी खाली स्टेडियम में हो रहे हैं.

टीम जब मैदान पर विजय हासिल  करके अपने ड्रेसिंग रूम में लौटती तो वहां पर जश्न का माहौल  होता है, मगर दिल्ली यूनाइटेड (Delhi United) की टीम जब अपने ड्रेसिंग रूम में लौटी तो वहां की स्थिति होश उड़ाने वाली थी. ड्रेसिंग रूम से उनका सब कुछ चोरी हो गया था. मोबाइल फोन, पर्स, बैग, कपड़े और यहां तक कि च्यूइंग गम पर भी चोरों ने हाथ साफ कर दिया था. यह मामला शुक्रवार का है. जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम (Jawaharlal Nehru Stadium) में दिल्ली फुटबॉल लीग में दिल्ली यूनाइटेड और सिटी एफसी के बीच मुकाबला खेला गया और इस मुकाबले में दिल्ली की टीम ने एकतरफा अंदाज में 2-0 से जीत दर्ज की. मगर इस जीत की खुशी उनकी ज्यादा देर तक नहीं रह गई. ड्रेसिंग रूम में पहुंचते ही सबके चेहरे  का रंग उड़ गया.  देश में सबसे अहम स्टेडियम में इस प्रकार की घटना से हर कोई हैरान है.

दिल्ली यूनाइटेड के कोच आयुष भुट्टन ने बताया मैच दोपहर सवा तीन बजे शुरू होना था. मगर शुरू होने में 15-20 मिनट की देरी हो गई. उन्होंने बताया कि मैदान पर आने से पहले ड्रेसिंग रूम में ताला लगा दिया  गया था और चाबी टीम के मैनेजर के पास थी. जो पूरे मैच के दौरान डगआउट में बैठे थे.

कोरोना वायरस के कारण सभी खिलाड़ी मैदान से दूर हैं. मैदान से दूर वह अपने परिवार और खास दोस्तों के साथ यह समय बिता रहे हैं. वहीं पूर्व भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह और वेस्टइंडीज के धाकड़ बल्लेबाज क्रिस गेल भी इस समय जमकर मस्ती कर रहे हैं. युवराज ने रविवार को क्रिस गेल का एक वीडियो शेयर किया. जिसमें कैरेबियाई बल्लेबाज हिंदी का एक डायलॉग बोलने की को‌शिश  करते नजर आ रहे हैं. मगर वह सही से नहीं बोल सके. जिसका वीडियो युवी ने सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया. इस वीडियो को शेयर करते हुए युवराज ने लिखा कि  कॉन्फिडेंस मेरा,कब्र बनेगी तेरी. अच्छा कहा काका!. दरअसल गेल को भी यही डायलॉग कहना था. युवराज सिंह  पिछले दिनों रोड़ सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज में इंडिया लीजेंड्स टीम का हिस्सा थे, मगर कोरोना वायरस के कारण सीरीज को स्‍‌थगित कर दिया गया. वहीं क्रिस गेल को नेपाल की एवरेस्ट प्रीमियर लीग में खेलना था, मगर कोरोना की मार से वह लीग भी नहीं बच पाई. इसके बाद उनकी नजर इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) पर थी, जिसका आगाज पहले 29 मार्च से होना था, मगर भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए  इसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. गेल किंग्स इलेवन पंजाब का हिस्सा हैं.

अगले महीने हो सकता है आईपीएलआईपीएल (IPL) को टालने का फैसला बीसीसीआई ने दिल्ली स‌हित कर्नाटक और महाराष्ट्र राज्य में टूर्नामेंट के आयोजन से मना करने के बाद लिया गया. हालांकि अभी तक इस पर आशंका बनी हुई है कि आईपीएल का 13वां सत्र होगा भी या नहीं. हालांकि मुंबई में बीसीसीआई  और टीम मालिकों के बीच हुई मीटिंग में इस बात पर चर्चा हुई कि अगर आईपीएल का सीजन देरी से शुरू होता है तो इसे छोटा किया जा सकता है.कोराेना वायरस के कारण सिर्फ आईपीएल ही नहीं, बल्कि भारत और साउथ अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज भी रद्द हो  गई है. वहीं ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच चल रही सीरीज को भी रद्द करना पड़ा. क्रिकेट के अलावा काफी खेल पर भी इस महामारी का काफी असर पड़ा है.

चेन्नई के लोग कोरोनावायरस को लेकर जिस तरह की लापरवाही दिखा रहे हैं, भारत के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन उसे लेकर खासा निराश हैं. पूरे विश्व भर में फैली बीमारी कोरोनावायरस के कारण तमाम स्वास्थ एजेंसियों ने लोगों से आपस में दूरी बनाने को कहा है. अश्विन का कहना है कि तमिलनाडु के लोग इस चीज को मान नहीं रहे हैं, क्योंकि उनका मानना है कि गर्मी कोरोना वायरस के प्रभाव को अपने आप कम कर देगी.

चेन्नई में कोरोना का डर नहीं - अश्विन ने ट्वीट किया, 'मैं दूसरे तरीके से कहूं तो चेन्नई में अभी तक आपस में दूरी बनाने वाली बात पर अमल नहीं किया गया है. इसका एक कारण यह है कि लोगों को लगता है कि गर्मी इस बीमारी को कम कर देगी और उनका विश्वास है कि कुछ नहीं होगा.'

विराट कोहली ने की अपील - इससे पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने लोगों से इस बीमारी को लेकर सावधान रहने की अपील की है. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 15 अप्रैल तक स्थगित होने के बाद चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी टीम के कार्यक्रम को छोड़कर फैन्स से मिलते नजर आए थे.

पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो के होटलों में से एक होटल ने उन खबरों का खंडन किया है, जिसमें कहा गया था कि कोराना वायरस के खतरों से निपटने और इससे पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए रोनाल्डो अपने होटलों को अस्पतालों में बदलने जा रहे हैं. स्पेनिश अखबार मार्का ने कहा था कि रोनाल्डो ने अपने दो होटलों में से एक होटल को अस्पताल में बदलने का फैसला किया है, जिसमें कि कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की मदद की जा सके.

हालांकि लिस्बन में स्थित होटल के स्टाफ ने कहा है कि होटलों को अस्पताल में बदलने की किसी भी योजना से वे अवगत नहीं है. गोल डॉट कॉम ने होटल के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा, 'यह एक होटल है और यह अस्पताल बनने नहीं जा रहा है. यह प्रतिदिन एक जैसा ही है और यह होटल ही बना रहेगा. हमें प्रेस की ओर से फोन भी आया था. मैं उनके अच्छे दिन की कामना करता हूं.'पुर्तगाल में कोरोना वायरस के अब तक 200 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है. इससे पहले, स्पेन स्थित मार्का डेली ने कहा था कि रियल मेड्रिड के पूर्व खिलाड़ी रोनाल्डो अस्पतालों में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की हरसंभव मदद मुहैया कराएंगे. रोनाल्डो के जुवेंतस टीम साथी खिलाड़ी डिफेंडर डेनिएल रुगानी भी कोरोना वायरस की चपेट में हैं. डिफेंडर डेनिएल रुगानी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और रोनाल्डो ने उन्हें भी अपना हरसंभव मदद देने का भरोसा दिया है.

ग्रीस के युवा स्टार टेनिस खिलाड़ी स्टेफानोस सितसिपास ने दुबई ड्यूटी फ्री चैंपियनशिप के दूसरे राउंड में प्रवेश कर लिया है। सितसिपास ने मेंस सिंगल्स के पहले राउंड के मुकाबले में स्पेन के पाब्लो कारेनो बुस्ता को 7-6(1), 6-1 से मात देकर दूसरे राउंड में अपनी जगह पक्की की है। दोनों खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला एक घंटा 34 मिनट तक चला। अब दूसरे राउंड में सितसिपास का सामना एलेक्जेंडर बुबलिक से होगा। जिन्होंने वर्ल्ड नंबर-47 हुरकाक्ज को 76 मिनट तक चले मैच में 6-2, 7-5 से हराया। 

मैच के बाद सितसिपास ने कहा, मैं इस बात से खुश हूं कि मैं लंबे समय से दो सेट में मैच जीतते आ रहा हूं। मैं कोर्ट पर अतिरिक्त समय नहीं बिता रहा, इसलिए इससे मुझे मदद मिलेगी। अगले मैच के अपने प्रतिद्वंद्वी पर सितसिपास ने कहा, बुब्लिक मुश्किल खिलाड़ी हैं। वह कोर्ट पर अजीब तरह की चीजें करते हैं। मुझे वहां अपना काम करना होगा, जिस तरह से मैं करता आ रहा हूं। अभी तक मैं अच्छा कर रहा हूं। मुझे यह प्रदर्शन जारी रखना होगा।

विश्व चैंपियन भारतीय महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु को आंध्र प्रदेश सरकार की एंटी-करप्शन हेल्पलाइन की ब्रांड एम्बेसडर नियुक्त किया गया है। सिंधु और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी की मौजूदगी में मंगलवार को यहां एंटी-करप्शन टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया। इस अवसर पर भ्रष्टाचार रोको शीर्षक से एक वीडियो भी जारी किया गया, जिसमें लोगों को भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी आंखें और कान खोले रखने को कहा गया।

सिंधु आंध्र प्रदेश में डिप्टी कलेक्टर हैं। 2016 में रियो ओलंपिक में रजत पदक जीतने के बाद राज्य की तत्कालीन सरकार ने उन्हें तीन करोड़ रुपये नकद पुरस्कार, अमरावती में एक आवास और ग्रुप वन अफसर की नौकरी देने की घोषणा की थी।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के उप कप्तान हरमनप्रीत सिंह ने कहा है कि टीम को आगामी टोक्यो ओलंपिक से पहले कुछ क्षेत्रों पर खास ध्यान देने की जरूरत है। भारतीय टीम ने एफआईएच प्रो लीग के पिछले मैच में मौजूदा चैंपियन आस्ट्रेलिया को पेनाल्टी शूट आउट में 3-1 से हराया था। इससे पहले टीम को 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था। हरमनप्रीत को आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला था।

हरमनप्रीत ने कहा, विश्व की टॉप-3 टीमों के खिलाफ अच्छा परिणाम था और इससे पूरी टीम का आत्मविश्चवास बढ़ा है। लेकिन अभी भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं, जोकि हमारे लिए चिंता का सबब बने हुए हैं। आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के बाद जब टीम बेंगलुरू के साई सेंटर में अभ्यास के लिए एकजुट हुई है तो हमने अपने बेसिक्स पर ध्यान देने का फैसला किया है।उपकप्तान का मानना है कि टीम को सभी चार क्वार्टरों में निरंतरता बनाए रखने की जरूरत है और साथ ही गोल स्कोरिंग में सुधार करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, इन मैचों में क्वार्टरों के बीच धीमा पड़ने के कारण हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा है। यह एक ऐसा क्षेत्र हैं, जिसपर ओलंपिक खेलों से पहले सुधार करने की जरूरत है। कोच का भी मानना है कि सर्किल पर पेनाल्टी में हम और भी बेहतर कर सकते हैं। इसके अलावा पेनाल्टी कॉर्नर पर भी ज्यादा गोल खाने से बच सकते हैं।

जर्मनी के फुटबाल क्लब बायर्न म्यूनिख ने चैम्पियंस लीग के मैच मे इंग्लिश क्लब चेल्सी को 3-0 से करारी शिकस्त देते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह लगभग पक्की कर ली है। यह दोनों टीमें 2012 में चैम्पियंस लीग के फाइनल में भिड़ी थीं जहां चेल्सी ने अपना पहला खिताब जीता था। लेकिन इस बार जर्मन क्लब ने अंतिम-16 के पहले चरण के मैच में अपनी बादशाहत को पहले मिनट से ही दिखाया। स्टैमफोर्ड ब्रिज पर खेले गए इस मैच में पहले हाफ में एक भी गोल नहीं हो सका। यहां चेल्सी के गोलकीपर विलि काबालेरो ने कुछ अच्छे बचाव किए। थॉमस मुलर ने पहले ही मिनट में एक प्रयास किया, जिसे अर्जेटीना के गोलकीपर ने निरस्त कर दिया। इसके बाद 15वें मिनट मे उन्होंने रोबर्ट लेवांडोव्स्की के शॉट को ब्लॉक कर चेल्सी को राहत दी। 30वें मिनट में इस गोलकीपर ने लेवांडोव्स्की को एक बार फिर रोका और कुछ देर बाद मुलर के एक और प्रयास को विफल कर चेल्सी को गोल खाने से लगातार बचाए रखा।

इस बीच हालांकि इंग्लिश क्लब ने गोल करने के ना के बराबर मौके बनाए थे। 43वें मिनट में मार्कोस अलोंसो ने एक करीबी मौका जरूर बनाया लेकिन बायर्न के गोलकीपर मैनुएल नेयुर ने कॉर्नर किक को क्लीयर करने में सफलता हासिल की। दूसरे हाफ की शुरुआत जिस तरह से हुई थी उससे लग रहा था कि जर्मन क्लब जल्द ही स्कोरशीट पर खाता खोल लेगा। इस टीम ने चार मिनट के अंतर में 2-0 की बढ़त ले ली। यह दोनों गोल सर्जी गनबैरी ने किए जिसमें लेवांडोव्स्की ने उनकी मदद की।

AUS Vs NZ: आस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए अपनी टीम का ऐलान कर दिया है. चयनकर्ताओं ने टीम में कोई बदलाव नहीं किया है और वही टीम चुनी है जो इस समय दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेल रही है. कंधे की चोट से जूझ रहे झाए रिचर्डसन को हालांकि न्यूजीलैंड दौर के लिए चुनी गई 14 सदस्यीय टीम में जगह नहीं मिली है.रिचर्डसन को टी-20 टीम में जगह मिली थी. वह दक्षिण अफ्रीका में वनडे टीम के साथ ही रहेंगे. रिचर्डसन ने बीते 11 महीनों से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम नहीं रखा है. उन्हें पिछले साल मार्च में पाकिस्तान के खिलाफ खेली गई सीरीज में कंधे में चोट लगी थी.टीम के मुख्य चयनकर्ता ट्रेवर होंस ने कहा, "झाए अच्छा कर रहे हैं, जैसा हमने बिग बैश में देखा. वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई टी-20 सीरीज में वापस आए थे और टीम में जगह बनाने के लिए मेहनत कर रहे थे."

उन्होंने कहा, "हम लकी हैं कि हमारे पास प्रतिभाशाली तेज गेंदबाजों का एक पूल है. झाए ने कड़ी मेहनत के बाद यह जगह हासिल की है. उन्हें दक्षिण अफ्रीका में रखने से हमें एक विकल्प मिलेगा." आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज 29 फरवरी से शुरू हो रही है. इसके बाद आस्ट्रेलिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 13 मार्च से वनडे सीरीज खेलनी है.

आस्ट्रेलियाई टीम : एरॉन फिंच (कप्तान), एश्टन अगर, एलेक्स कैरी (उपकप्तान), पैट कमिंस (उपकप्तान), जोश हेजलवुड, मार्नस लाबुशैन, मिशेल मार्श, केन रिचर्डसन, डी आर्सी शॉर्ट, स्टीव स्मिथ, मिशेल स्टार्क, मैथ्यू वेड, डेविड वार्नर, एडम जाम्पा.

ऑस्ट्रेलिया के स्टार खिलाड़ी स्टीव स्मिथ के फैंस के लिए बहुत अच्छी खबर है. स्टीव स्मिथ इंग्लैंड की नई क्रिकेट लीग 'द हंड्रेड' में वेल्स फायर टीम की कमान संभालेंगे. इस बात की जानकारी वेल्स फायर टीम की ओर से दी गई है. 'द हंड्रेड' लीग का पहला सीजन जुलाई 2020 में खेला जाना है. स्मिथ को गेंद से छेड़छाड़ करने के मामले में दो साल पहले आस्ट्रेलिया की कप्तानी से हटा दिया गया था.

स्मिथ उस टीम की अगुवाई करेंगे जिसमें आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क, इंग्लैंड की विश्व कप विजेता टीम के सदस्य जॉनी बेयरस्टो और प्लंकेट शामिल हैं. इन स्टार खिलाड़ियों के अलावा इस टीम में टॉम बैंटन और वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज रवि रामपाल भी शामिल हैं.

कप्तानी मिलने के बाद स्मिथ ने कहा, ''हंड्रेड के पहले साल में वेल्स फायर की कप्तानी का न्योता मिलना सम्मान है. हमारी टीम काफी मजबूत दिख रही है और उसमें ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने पिछले कुछ सालों में अंतरराष्ट्रीय और घरेलू स्तर पर दबदबा बनाया.'' वेल्स के कोच गैरी कर्स्टन हैं.

आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप 2020 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने जीत से आगाज किया है. वेस्टइंडीज के खिलाफ वॉर्मअप मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को रोमांचक मुकाबले में 2 विकेट से हरा दिया. भारत की टीम महज 107 रन बनाने के बावजूद ये मैच जीत गई. वेस्टइंडीज की टीम एक समय एकतरफा अंदाज में जीत की ओर बढ़ रही थी लेकिन आखिरी ओवर में पूनम यादव ने 3 गेंदों में 2 विकेट लेकर मैच का पासा ही पलट दिया.

भारत की बल्लेबाजी फ्लॉप
ब्रिसबेन के एलन बॉर्डर फील्ड पर खेले जा रहे मैच में टीम इंडिया की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और उसने 19 गेंदों के अंदर अपने 3 विकेट गंवा दिये. स्मृति मंधाना दूसरे ही ओवर में 4 रन बनाकर आउट हो गईं. जेमिमाह रोड्रिग्ज तो दूसरी ही गेंद पर निपट गईं. इसके बाद शेफाली वर्मा भी 12 रन बनाकर पैवेलियन लौट गई. कप्तान हरमनप्रीत कौर और दीप्ति शर्मा ने साझेदारी करने की कोशिश की लेकिन, दोनों खुलकर नहीं खेल सकीं. हरमनप्रीत 11वें ओवर में 11 रन बनाकर आउट हो गईं. वेदा कृष्णमूर्ति 5 और दीप्ति शर्मा 21 रन बनाकर आउट हो गईं. पूजा वस्त्रकार ने 13 और तानिया भाटिया ने 10 रन बनाए. आखिर में शिखा पांडे ने कुछ अच्छे शॉट लगाकर भारत का स्कोर 100 के पार पहुंचाया. वो 16 गेंदों में 24 रन बनाकर नाबाद रहीं. 

कंबाला रेस (भैंसों की परंपरागत दौड़) में 100 मीटर की दूरी महज 9.55 सेकंड में पूरी कर तहलका मचा देने वाले श्रीनिवास गौड़ा का रिकाॅर्ड एक हफ्ते भी कायम नहीं रह सका. निशांत शेट्टी  ने भैंसों के साथ 9.51 सेकंड में 100 मीटर दौड़कर उनका ये कीर्तिमान ध्वस्त कर दिया है. निशांत ने 13.68 सेकंड में 143 मीटर की दूरी तय की. उनका ये प्रदर्शन श्रीनिवास गौड़ा से 4 सेकंड बेहतर रहा. जबकि सौ मीटर रेस अकेले पूरी करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दुनिया के सबसे तेज इंसान और जमैकाई धावक यूसेन बोल्ट के नाम है, जिन्होंने 100 मीटर की दूरी 9.58 सेकंड में पूरी की थी.  

श्रीनिवास गौड़ा ने साई ट्रायल में हिस्सा लेने से किया इनकार - बाजागोली जोगीबेट्टू के निशांत शेट्टी ने रविवार को वेन्नूर में ये नया रिकॉर्ड बनाया. हाल ही में कंबाला रेस में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले श्रीनिवास गौड़ा को मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा ने सम्मानित किया था. साथ ही राज्य सरकार ने उन्हें 3 लाख रुपये बतौर पुरस्कार देने का भी ऐलान किया था. यहां तक कि खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने श्रीनिवास गौड़ा को भारतीय खेल प्राधिकरण के बेंगलुरु स्थित सेंटर पर ट्रायल देने को कहा था. हालांकि गौड़ा ने ट्रायल की बजाय दस मार्च को कंबाला रेस में दूसरी बार दौड़ने को तरजीह देने का फैसला किया. 

श्रीनिवास गौड़ा ने खुद ही बताई थी ट्रैक पर रेसिंग की सच्चाई - कंबाला कर्नाटक में होने वाली वार्षिक दौड़ प्रतियोगिता है, जिसमें प्रतियोगी भैंसों के साथ 143 मीटर की दौड़ पूरी करते हैं. इससे पहले, श्रीनिवास गौड़ा ने कंबाला रेस और ट्रैक रेस दोनों में फर्क बताया था. गौड़ा ने कहा था कि कंबाला रेस में हील्स का अहम रोल होता है, जबकि ट्रैक रेस में पैरों की उंगली का रोल अहम होता है. उन्होंने बताया कि कंबाला रेस में सिर्फ जॉकी ही नहीं, बल्कि भैसों का भी अहम रोल होता है. वहीं  ट्रैक रेस में ऐसा कुछ नहीं होता. 

 वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज ओशाने थॉमस की कार का एक्सीडेंट हो गया है, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. खबरों के अनुसार, उनकी हालत स्थिर है. ओशाने ने वेस्टइंडीज के लिए अपना पिछला मैच 12 जनवरी 2020 को आयरलैंड के खिलाफ खेला था. 23 साल के इस तेज गेंदबाज ने वेस्टइंडीज के लिए 20 वनडे और 10 टी20 मैच खेले हैं. वनडे में उनके नाम 27 जबकि टी20 प्रारूप में 9 विकेट दर्ज हैं. वेस्टइंडीज प्लेयर्स एसोसिएशन ने उनके जल्द ठीक होने की कामना की है. 

टक्कर लगने के बाद पलट गई थॉमस की कार
वेस्टइंडीज प्लेयर्स एसोसिएशन के अनुसार, 'हमारी संवेदनाएं ओशाने थॉमस के साथ हैं. हम उनके जल्दी ठीक होने की कामना करते हैं.' वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज टीनो बेस्ट ने भी थॉमस के जल्द ठीक होने की उम्मीद जताई है. दरअसल, ओशाने थॉमस रविवार रात को कार से जा रहे थे. हाईवे पर उनकी कार की दूसरी गाड़ी से टक्कर हो गई. जिसके बाद उनकी कार पलट गई. हालांकि अस्पताल ले जाते वक्त थॉमस होश में थे और प्रतिक्रिया व्यक्त कर पा रहे थे. 

एथेंस ओलिंपिक 2004  में राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़  ने निशानेबाजी में रजत पदक जीतकर इतिहास रचा था. यह किसी भी भारतीय का व्‍यक्तिगत स्‍पर्धा में पहला रजत पदक था. इससे पहले केडी जाधव, लिएंडर पेस और कर्णम मलेश्‍वरी ने कांस्‍य पदक जीत रखा था और राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने इस पदक को चांदी में बदला था. उन्‍होंने पुरुषों के डबल ट्रैप इवेंट में रजत पदक जीता था. उन्‍होंने 17 अगस्‍त 2004 को रजत जीता था. स्‍वतंत्रता दिवस का जश्‍न मना रहे देश को जब उनकी कामयाबी का पता चला तो खुशी दोगुनी हो गई.

2004 के एथेंस ओलिंपिक में राठौड़ ने न केवल भारत का पदक सूखा समाप्‍त किया बल्कि यह उस टूर्नामेंट में भारत का इकलौता पदक रहा. इन खेलों में सानामाचा चानू, कुंजारानी, अभिनव बिंद्रा और सुमा शिरुर जैसे खिलाड़ियों ने अच्‍छा प्रदर्शन किया लेकिन ये सभी फाइनल में पदक से दूर रह गए थे.

यह‍ निशानेबाजी की एक स्‍पर्धा है. इसमें निशानेबाज को एक सेकंड में हवा में जा रहे दो टारगेट पर निशाना लगाना होता है. जितने टारगेट पर निशाना लगता है उनके पॉइंट काउंट होते हैं. राठौड़ ने ओलिंपिक मेडल के अलावा दुनियाभर के कई टूर्नामेंट में कुल 25 मेडल अपने नाम किए. एथेंस ओलिंपिक से 2 साल पहले मैनचेस्‍टर कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स 2002 में उन्‍होंने इन खेलों का रिकॉर्ड बनाते हुए गोल्‍ड मेडल जीता था. उन्‍होंने 200 में से 192 निशाने लगाए थे. यह रिकॉर्ड आज भी बरकरार है.  

इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब अब जल्द ही वेस्टइंडीज में भी पांव पसारने जा रही है. किंग्स इलेवन पंजाब ने कैरेबियाई प्रीमियर लीग  की टीम सेंट लूसिया जूक्स को खरीदने की पूरी तैयारी कर ली है. अभिनेता शाहरुख खान की स्वामित्व वाली इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइटराइडर्स के बाद किंग्स इलेवन पंजाब दूसरी फ्रेंचाइजी होगी, जो कैरेबियाई प्रीमियर लीग की टीम खरीदेगी. कोलकाता नाइटराइडर्स ने ट्रिनबागो नाइट राइडर्स को खरीदा था. वर्ष 2013 में शुरू हुई कैरेबियाई प्रीमियर लीग दुनिया की स्थापित टी20 लीग में से एक है.  

नौ महीने से जारी थी कोशिशें
किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया ने पीटीआई से कहा, ‘हम कैरेबियाई प्रीमियर लीग का हिस्सा बनने के लिए करार पर हस्ताक्षर करने वाले हैं. हम सेंट लूसिया फ्रेंचाइजी को खरीद रहे हैं. ढांचा और कंपनी के नाम के बारे में जानकारी बीसीसीआई से स्वीकृति मिलने के बाद ही दी जाएगी.’ वाडिया ने साथ ही कहा, ‘मोहित बर्मन (सह मालिक) करार पर हस्ताक्षर के लिए फिलहाल वेस्टइंडीज में हैं. इस करार को संभव बनाने के लिए मैं विशेष तौर पर सेंट लूसिया के प्रधानमंत्री एलेन चेस्टनेट को धन्यवाद देना चाहता हूं. हम लगभग नौ महीनों से इस पर काम कर रहे थे.’ 

भारतीय हॉकी प्रेमियों के ‌लिए खुशखबरी आई है. साल 2021 का जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप भारत में खेला जाएगा. अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ ने सोमवार को घोषणा की कि भारत अगले साल होने वाले जूनियर पुरुष विश्व कप का मेजबान होगा. यह दूसरी बार है जब भारत इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा. इससे पहले 2016 में भी उत्तर प्रदेश के लखनऊ में इस टूर्नामेंट का आयोजन किया गया था और तब भारत चैंपियन बना था. वहीं, साल 2021 में जूनियर महिला हॉकी वर्ल्ड कप का आयोजन साउथ अफ्रीका में किया जाएगा.  

16 टीमें खिताब के लिए भिड़ेंगी - एफआईएच ने कहा कि यह प्रतियोगिता 2021 के अंत में खेली जाएगी लेकिन इसके आयोजन स्थल और असल तारीखों की घोषणा बाद में की जाएगी. जूनियर पुरुष विश्व कप  में 16 टीमें खिताब के लिए चुनौती पेश करेंगी जिसमें छह यूरोप, मेजबान भारत सहित चार एशिया, दो अफ्रीका, दो ओसियाना और दो अमेरिका से होंगी. भारत इससे पहले साल 2018 में सीनियर हॉकी वर्ल्ड कप की मेजबानी भी कर चुका है. जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप खिलाड़ियों को खुद को अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों के खिलाफ परखने का मौका देता है.

दो बार जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप जीत चुका है भारत - इन 16 टीमों में से छह यूरोपीय टीमें भारत में होने वाली इस प्रतियोगिता के लिए पहले ही क्वालीफाई कर चुकी हैं. इनमें जर्मनी, इंग्लैंड, नीदरलैंड, स्पेन, बेल्जियम और फ्रांस शामिल हैं. इन्होंने यूरोपीय महाद्वीपीय चैंपियनशिप के जरिए क्वालीफाई किया है जो 2019 में खेली गई. भारत ने 2016 में लखनऊ में फाइनल में बेल्जियम को 2-1 से हराकर खिताब जीता था. यह भारत का दूसरा एफआईएच जूनियर पुरुष विश्व कप खिताब था. इससे पहले भारतीय टीम ने साल 2001 में अर्जेंटीना को 6-1 से हराकर खिताब अपने नाम किया था.

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने हाल ही में पत्नी कायली को तलाक दिया था. मगर जीवन के इस घटनाक्रम ने उनके करियर पर किसी तरह का प्रभाव नहीं डाला है और अब वह नई नौकरी करने वाले हैं. माइकल क्लार्क ने 8 अगस्त 2015 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था, लेकिन इससे पहले उन्होंने साल 2015 में न केवल अपनी टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाया, बल्कि देश के लिए 245 वनडे में तकरीबन 45 की औसत से 7981 रन बनाए. वहीं 115 टेस्ट मैच में 49.10 की औसत से 8643 रन उनके बल्ले से निकले. हालांकि टी20 में उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा. क्लार्क ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 34 टी20 मैचों में सिर्फ एक अर्धशतक लगाया. 

लॉरी डैली के साथ स्पोर्ट्स ब्रेकफास्ट शो में आएंगे नजर
पिछले हफ्ते ही ये खबर आई थी कि माइकल क्लार्क ने पत्नी कायली से तलाक ले लिया है. और अब डेली टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, क्लार्क ने नई नौकरी भी तलाश ली है. खबरों के अनुसार, माइकल क्लार्क रग्बी लीग के दिग्गज रहे लॉरी डैली के साथ स्काई स्पोर्ट्स रेडियो का बिग स्पोर्ट्स ब्रेकफास्ट शो होस्ट करने जा रहे हैं. ब्रॉडकास्टिंग जगत के दिग्गज टेरी केनेडी के पिछले साल शो से हटने के बाद अब माइकल क्लार्क ये जिम्मेदारी संभालने जा रहे हैं. 

 

आयोजकों को बड़ी राहत देते हुए चीन ने आगामी मार्च में नई दिल्ली में होने वाले आईएसएसएफ वर्ल्ड कप से नाम वापस ले लिया है. इतना ही नहीं, चीन के बाद अब पाकिस्तान भी इस शूटिंग वर्ल्ड कप के लिए अपने खिलाड़ियों को नहीं भेजेगा. 15 मार्च से डॉ. कर्णी सिंह रेंज में शुरू हो रही इस प्रतियोगिता में राइफल, पिस्टल और शॉटगन तीनों स्पर्धाएं आयोजित की जाएंगी. कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए इस बात की संभावना कम ही थी कि विदेश मंत्रालय और स्वास्‍थ्य मंत्रालय चीनी खिलाड़ियों को वीजा देता, लेकिन उससे पहले ही चीन ने नाम वापस लेकर आयोजकों की मुश्किल आसान कर दी. 

'चीन ने अच्छा फैसला किया'
इस बारे में भारतीय राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन के अध्यक्ष रणइंदर सिंह ने कहा, 'प्रतियोगिता से नाम वापस लेने का फैसला पूरी तरह से चीन का है. इससे हमारा कोई लेना-देना नहीं है. मुझे लगता है कि ये अच्छा फैसला है. हालांकि हमारी ओर से चीन  के खिलाड़ियों के लिए होटल बुकिंग्स समेत अन्य व्यवस्‍था कर दी गई थीं.' वहीं पाकिस्तान के निशानेबाज भी दिल्ली नहीं आएंगे. बता दें कि भारत ने जब पिछला शूटिंग वर्ल्ड कप का आयोजन किया था, तब भारत सरकार ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को वीजा देने से इनकार कर दिया था.  पाकिस्तान का दावा-जर्मनी में ट्रेनिंग लेंगे निशानेबाज, इसलिए वर्ल्ड कप में नहीं खेल सकते पाकिस्तानने भी अपने निशानेबाजों को दिल्ली में होने वाले शूटिंग वर्ल्ड कप में हिस्सा न लेने देने का फैसला किया है. नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ पाकिस्तान के एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसीडेंट जावेद लोधी ने बताया कि हमारे तीन निशानेबाजों ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है और हम उनकी कोचिंग पर ध्यान दे रहे हैं. हमने जर्मनी में उनके लिए कोच तलाश लिया है, लेकिन वह मार्च से ही ट्रेनिंग शुरू कर सकेंगे. ऐसे में इस बात का कोई मतलब नहीं है कि हम ट्रेनिंग की बजाय अपने शूटरों को वर्ल्ड कप में खेलने भेज दें.  

70 मैचों में 362 टेस्ट विकेट लेने वाले आर अश्विन ने अबतक अपने करियर में जबर्दस्त प्रदर्शन किया है. वो अपने करियर में हर फॉर्मेट में एक हजार से ज्यादा विकेट ले चुके हैं. अश्विन ने ये कामयाबी अपनी सटीक लाइन-लेंथ और गेंदबाजी में विविधता के चलते हासिल की है. अश्विन कई तरह की गेंद फेंकने के लिए जाने जाते हैं. उनके तरकश में एक तीर कैरम बॉल का है, जिसपर अकसर बल्लेबाज चकमा खाते दिखते हैं. अश्विन ने अपनी इसी कैरम बॉल को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है. अश्विन ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने कैरम बॉल एक टेनिस बॉल क्रिकेटर से सीखी थी.  

अश्विन ने किससे सीखी कैरम बॉल? - आर अश्विन ने क्रिकबज के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में खुलासा किया कि उन्होंने कैरम बॉल फेंकने की कला उनके साथ पार्क में खेलने वाले एक टेनिस बॉल क्रिकेटर से सीखी थी. अश्विन ने कहा, 'मैं पहली बार जब टेनिस बॉल से क्रिकेट खेलने गया तो मैं बल्लेबाजी कर रहा था. वहां पर एक लड़का था जो गजब के एक्शन के साथ गेंदबाजी कर रहा था. उसकी गेंद हवा में अंदर आ रही थी और वो लगातार गेंद को दोनों ओर घुमा रहा था. मुझे नहीं पता कि आज वो लड़का कहां है लेकिन मैंने उसके जैसा गेंदबाज आजतक नहीं देखा.' अश्विन ने आगे बताया, 'उसका नाम एसके था. उसी से मैंने कैरम बॉल सीखी थी.' अश्विन ने खुलासा किया कि वो टेनिस बॉल से काफी अच्छा खेलते थे लेकिन उस गेंदबाज ने उनके होश उड़ा दिए थे. अश्विन ने कहा, 'मेरा टेनिस क्रिकेट में बड़ा नाम था लेकिन उस गेंदबाज ने अपनी कला से मुझे नचाया. इसके बाद मैंने उस लड़के से गेंदबाजी सीखी. मैं रोजाना सुबह उस लड़के से कैरम बॉल सीखने जाता था, वो 10-15 दिन मुझे हर सुबह कैरम बॉल सिखाने आया.' इसी शो में आर अश्विन ने ये भी खुलासा किया था कि उन्हें टेनिस बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट का फाइनल खेलने से रोकने के लिए अगवा तक कर लिया था.

कंबाला रेस (भैंसों की परंपरागत दौड़)  में 100 मीटर की रेस 9.55 सेकंड में पूरी करने के बाद चर्चा में आए कर्नाटक के  कंबाला धावक श्रीनिवास गौड़ा  के ट्रायल की असल तारीख अभी तय नहीं की गई है. गौड़ा को भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के बेंगलुरू केंद्र में आकलन के लिए बुलाया गया है. साइ के सूत्रों ने बताया कि गौड़ा को वास्तविक ट्रायल से पहले सामंजस्य बैठाने का समय दिया जाएगा. उनके सोमवार को साइ के बेंगलुरू केंद्र में पहुंचने की उम्मीद है. साइ सूत्रों ने बताया कि श्रीनिवास गौड़ा सोमवार को साइ बेंगलुरू केंद्र पहुंच रहे हैं. उन्हें आराम करने और सामंजस्य बैठाने के लिए एक या दो दिन का समय दिया जाएगा, जिसके बाद उनका ट्रायल होगा. ट्रायल की तारीख अभी तय नहीं हुई है. खेल मंत्री किरेन रिजिजू  ने शनिवार को साइ के शीर्ष कोचों को 28 वर्ष के कंबाला धावक गौड़ा का ट्रायल करवाने का निर्देश दिया था. एक वीडियो क्लिप में गौड़ा पारंपरिक भैंस दौड़ के दौरान 100 मीटर की दूरी सिर्फ 9.55 सेकंड में पूरी करते नजर आए थे जिसके बाद वह सोशल मीडिया पर छा गए थे.  

यूसेन बोल्ट से होने लगी तुलना - कर्नाटक के गौड़ा ने इस प्रतियोगिता के दौरान सिर्फ 13.62 सेकंड में 142.5 मीटर की दौड़ लगाई थी. उन्होंने पहले 100 मीटर की दूरी सिर्फ 9.55 मीटर में तय की, जिसके बाद उनकी तुलना ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता यूसेन बोल्ट (Usain Bolt) से होने लगी, जिनका 100 मीटर में विश्व रिकॉर्ड 9.58 सेकंड का है. हालांकि गौड़ा का मानना है कि उनकी रेस और  बोल्ट की रेस में जमीन आसमान का फर्क है और वह खुद की तुलना बोल्ट से नहीं करते. 

वनडे सीरीज में मात देने के बाद मेजबान न्यूजीलैंड  दो टेस्ट मैचों की सीरीज में भी भारत  को मात देने के लिए तैयार है. इसके लिए न्यूजीलैंड ने भारज के खिलाफ दो टेस्ट मैचाें की सीरीज के लिए अपनी 13 सदस्यीय टेस्ट टीम की घोषणा कर दी है. तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट की टीम में वापसी हुई है, जो चोटिल होने के कारण टीम से बाहर चल रहे थे. मगर टीम से सबसे अनुभवी और सफल स्पिनर मिचेल सेंटनर को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. सेंटनर सहित न्यूजीलैंड ने तीन खिलाड़ियों  को टीम से  बाहर कर दिया है. भारत और न्यूजीलैंड के बीच 21 फरवरी से दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जाएगी. सलामी बल्लेबाज जीत रावल, स्पिन गेंदबाज ऑल राउंडर मिचेल सेंटनर और तेज गेंदबाज मैट हेनरी टीम में जगह नहीं बना पाए.  

एजाज पटेल की हुई वापसी - पिछले साल अगस्त में श्रीलंका के खिलाफ खेलने के बाद अब जाकर एजाज पटेल की टीम में वापसी हुई है. वहीं ऑकलैंड के तेज गेंदबाज काइल जैमिसन को चोटिल लॉकी फर्ग्युसन की जगह टीम में जगह मिली है. बोल्ट भी पूरी तरह से फिट हो गए हैं. दरअसल पिछले साल दिसंबर में बोल्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में अपने दाएं हाथ में चोट लगवा बैठे थे. जिसके बाद वह सीरीज का आखिरी मैच भी नहीं खेल पाए थे  और सीमित ओवर क्रिकेट से भी दूर रहे ‌थे. ट्रेंट बोल्ट  की वापसी के साथ ही कीवी टीम अधिक मजबूत हो गए है. भारत के खिलाफ दो इंटरनेशनल वनडे मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले कायल जेमीसन को भी 13 सदस्‍यीय टीम में शामिल किया गया है और उन्हें टेस्ट डेब्यू का मौका मिल सकता है.

जैमिसन को टेस्ट टीम में मिल सकता है मौका - भारत के खिलाफ वनडे मैच और न्यूजीलैंड ए के लिए शानदार  प्रदर्शन करने का इनाम तो जेमीसन को मिल गया है, मगर वह टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू कर पाएंगे या नहीं, ये तो टीम की रणनीति पर निर्भर करेगा. क्योंकि कीवी टीम ने अपने तीनों अनुभवी तेज गेंदबाजों बोल्ट , टिम साउदी और नील वैगनर को मौका दिया है और यह तिकड़ी भारत को परेशान करने के लिए तैयार है. वहीं पहले टेस्ट मैच में जेमीसन को अंतिम एकादश में शामिल किए जाने पर विचार चल रहा है. अगर कीवी टीम चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरती है तो जेमीसन को मौका सकता है. 

खेल जगत के लिए यह साल काफी खास है. ओलिंपिक ईयर होने के कारण हर खिलाड़ी का पूरा ध्यान सिर्फ अपने खेल पर ही है, मगर ओलिंपिक से पहले भारतीय उम्मीदों को बड़ा झटका लगा है. 400 मीटर की वर्ल्ड जूनियर चैंपियन और एशियन गेम्स की सिल्वर मेडलिस्ट हिमा दास साल भर के लिए अपनी पसंदीदा स्‍पर्धा (400 मीटर) से दूर जा रही हैं और अब वह अपना पूरा ध्यान 200 मीटर पर लगाएंगी. हालांकि इसके बाद व्यक्तिगत स्पर्धा में ओलिंपिक का टिकट हासिल करने की उनकी संभावना लगभग खत्म सी हो गई है. दरअसल चोट और फिर बुखार के कारण उनकी स्पीड और ताकत पर भी फर्क पड़ा है जिसे वह वापस हासिल करना चाहती हैं और इसीलिए वह 200 मीटर रेस पर अपना ध्यान लगाना चाहती हैं. 200 मीटर में हिमा का सर्वश्रेष्ठ 23.10 सेकंड है. 2018 में एशियन गेम्स में सिल्वर जीतने के बाद से ही वह चोटों से जूझ रही थीं.

400 मीटर के लिए तैयार नहीं हिमा दास - भारतीय एथलेटिक्स फेडरेशन के हाइ परफॉर्मेंस डायरेक्टर वोल्कर हेरमैन ने कहा कि हिमा दास  400 मीटर के लिए अभी पूरी  तरह से तैयार नहीं हैं. जरूरत के हिसाब से उनकी अभी वह कंडीशनिंग नहीं है और 400 मीटर में आपको अच्छी ट्रेनिंग और ताकत की जरूरत होती है. उन्होंने कहा कि हम पिछले सत्र की तरह कोई गलती नहीं करना चाहते. सा‌थ ही हम किसी को मजबूर नहीं करना चाहते. उन्होंने कहा कि यदि हम हिमा को 400 मीटर में प्रतियोगिता के लिए कहते हैं तो उन पर काफी दबाव आ जाएगा. वह अभी युवा हैं और हम कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहते. 

400 मीटर में मिलेगी मदद - कोच को भी उम्मीद है कि 200 मीटर से हिमा दास को स्पीड बढ़ाने में मदद मिलेगी, जब वह 2021 में 400 मीटर में वापसी करेंगी तो उनके लिए थोड़ा आसान हो जाएगा. पिछले सीजन में 200 मीटर में हिमा ने चार गोल्ड मेडल जीते थे. हेरमैन  ने कहा कि पिछले साल वह बैक इंजरी से जूझ रही थीं. जिससे उबरने के बाद उन्हें बुखार हो गया और वह सही से ट्रेनिंग नहीं कर पाईं. इसीलिए अपनी पुरानी लय को हासिल करने के लिए उन्हें 200 मीटर पर ध्यान लगाने के लिए कहा गया है. हालांकि इसकी संभावना कम है कि हिमा 4 गुणा 400 मीटर रिले स्क्वॉड का हिस्सा होंगी. हालांकि फेडरेशन मई में टीम फाइनल करेगी. 

कर्णम मलेश्‍वरी (Karnam Malleshwari). भारत की पहली ओलिंपिक मेडलिस्‍ट महिला. भारत की पहली और इकलौती ओलिंपिक मेडलिस्‍ट वेटलिफ्टर. आंध्र प्रदेश के एक छोटे से गांव वुसावनीपेटा से ताल्‍लुक रखने वाली कर्णम मलेश्‍वरी (Karnam Malleshwari) ने 25 साल की उम्र में साल 2000 में हुए सिडनी ओलिंपिक में वेटलिफ्टिंग में 69 किलो भारवर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर इतिहास रच दिया था. उन्‍होंने फाइनल में कुल 240 किलो ( 110 किलो स्‍नैच और 130 किलो क्‍लीन एंड जर्क) उठाया था और अगर कोच के गणित में गड़बड़ी नहीं हुई होती तो संभव है कि भारत को पहला व्‍यक्तिगत गोल्‍ड मेडल साल 2000 में ही मिल जाता. कर्णम मलेश्‍वरी को सिडनी ओलिंपिक्‍स में गोल्‍ड न जीतने का मलाल अब भी रहता है. 

कर्णम मलेश्‍वरी 5 बहनों में से एक थी और सभी वेटलिफ्टिंग में थी. 12 साल की उम्र में उन्‍होंने कोच नीलमशेट्टी अप्‍पन्‍ना की देखरेख में प्रैक्टिस कर दी थी. बाद में दिल्‍ली में स्‍पोर्टस अथॉरिटी ऑफ इंडिया में जाने के बाद तो कर्णम ने मुड़कर नहीं देखा. सिडनी ओलिंपिक में जाने से पहले वह दो बार वर्ल्‍ड चैंपियन बन चुकी थीं और उन्‍हें राजीव गांधी खेल रत्‍न मिल चुका था. ओलिंपिक में मेडल जीतने से पहले वह 29 अंतरराष्‍ट्रीय मेडल जीत चुकी थीं और इनमें से 11 गोल्‍ड थे.

पाकिस्तान की टीम ने भारत की गैर आधिकारिक टीम को हराकर सर्किल कबड्डी वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम  कर लिया है. खिताबी मुकाबले में पाकिस्तान ने करीबी मुकाबले में भारत को 43-41 के अंतर से मात दी. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान को इस जीत की बधाई दी. मगर बधाई देने के साथ ही वह फैंस के निशाने पर आ गए. फैंस ने कहा कि इस जीत से वे अपनी जनता को बेवकूफ बना रहे हैं. दरअसल इस टूर्नामेंट के लिए भारतीय दल सरकार की मजूंरी के बिना ही पाकिस्तान गया था. यहां तक कि मंत्रालय को भी नहीं पता था कि किसी टूर्नामेंट के लिए कोई भारतीय टीम पाकिस्‍तान गई है.  

सोशल मीडिया पर फोटो वायरल होने के बाद इसका खुलासा हुआ. पिछले सप्ताह ही खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि किसी भी कबड्डी टीम को टूर्नामेंट में हिस्सा लेने की मंजूरी नहीं दी गई है. भारतीय झंडे और नाम के साथ खेलने वालों के खिलाफ जांच की जाएगी. पाकिस्तान (Pakistan) में हुए सर्किल कबड्डी वर्ल्ड कप टूर्नामेंट में भारत के अलावा, ईरान, इंग्लैंड, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया सहित कई और टीमों ने ‌हिस्सा लिया था. भारतीय की इस गैर अधिकारिक टीम पर मिली जीत के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान  ने अपनी टीम को बधाई दी और ट्वीट करके कहा कि भारत को हराकर कबड्डी वर्ल्ड कप जीतने के लिए पाकिस्तान टीम को बधाई.

हालांकि इसके बाद वह खुद ही अपने ट्वीट पर फैंस के निशाने पर आ गए. एक फैन ने कहा कि सुबह सुबह भड़काना शुरू कर दिया. वहीं एक फैन ने कहा कि पाकिस्तान कबड्डी टीम  तो प्रो कबड्डी लीग की पटना पाइरेट्स तक को भी नहीं हरा पाएगी. एक यूजर ने साफ किया कि भारत ने कबड्डी वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं लिया था. इस यूजर ने पाक प्रधानमंत्री को कहा कि वे अपनी जनता को बेवकूफ बनाकर खुश रहें और वह बेवकूफ बनती जाएगी.  

श्रीलंका के दौरे पर 3 वनडे और 2 टी20 मैचों की सीरीज खेलने गई वेस्टइंडीज की टीम ने अपनी प्रैक्टिस शुरू कर दी है. श्रीलंका क्रिकेट इलेवन के खिलाफ सोमवार को वनडे प्रैक्टिस मैच में उसके बल्लेबाजों ने जलवा दिखाया. कोलंबो में खेले जा रहे इस मैच में वेस्टइंडीज की टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में 282 रन बनाए. सुनील एंब्रिस, निकोलस पूरन ने 41-41 रनों की पारी खेली, वहीं डैरेन ब्रावो ने शानदार शतक ठोका.  

डैरेन ब्रावो का शानदार शतक - डैरेन ब्रावो (Darren Bravo) ने महज 88 गेंदों में 100 रन बनाए, जिसमें उन्होंने 14 चौके और एक छक्का लगाया. शतक पूरा करने के बाद ब्रावो ने खुद ही पैवेलियन लौटने का फैसला किया और वो रिटायर्ड आउट हुए. डैरेन ब्रावो के लिए ये पारी बेहद अहम है, क्योंकि वो 7 महीने बाद वेस्टइंडीज की वनडे टीम में लौटे हैं. ब्रावो को फिटनेस टेस्ट में फेल होने वाले हेटमायर की जगह मौका मिला है. बता दें डैरेन ब्रावो ब्रायन लारा के भतीजे हैं और उनका बल्लेबाजी स्टाइल उनसे मिलता है. डैरेन ब्रावो तकनीकी तौर पर बेहद मजबूत हैं, लेकिन उनके प्रदर्शन में निरंतरता का अभाव रहा है. ब्रावो ने 8 टेस्ट शतक और 3 वनडे शतक लगाए हैं. ब्रावो के नाम 54 टेस्ट में 3506 रन हैं, वहीं वनडे में उन्होंने 110 मैचों में 2839 रन बनाए हैं. 

वेस्टइंडीज का श्रीलंका दौरा - बता दें वेस्टइंडीज की टीम श्रीलंका के खिलाफ 22 फरवरी से तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलेगी. पहला वनडे कोलंबो में खेला जाएगा. दूसरा वनडे 26 फरवरी को हंबनटोटा और तीसरा वनडे मैच कैंडी में खेला जाएगा. तीन मैचों की वनडे सीरीज के बाद दो टी20 मैचों की सीरीज भी होगी. दोनों टी20 मैच कैंडी में 4 और 6 मार्च को खेले जाएंगे. श्रीलंका दौरे के लिए वेस्टइंडीज की वनडे टीम- कायरन पोलार्ड (कप्तान), फाबियान एलेन, सुनील एंब्रिस, डैरेन ब्रावो, रोस्टन चेज, शेल्डन कॉटरेल, जेसन होल्डर, शे होप, अलजारी जोसफ, ब्रैंडन किंग, कीमो पॉल, निकोलस पूरन, रोवमैन पॉवेल, रोमारियो शेफर्ट और हेडन वॉल्श जूनियर. 

न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज 0-3 से गंवाने के बाद अब टीम इंडिया की अगली चुनौती 2 मैचों की टेस्ट सीरीज है (India vs New Zealand Test Series), जिसका आगाज 21 फरवरी से हो रहा है. पहला टेस्ट मैच वेलिंगटन में खेला जाने वाला है और सीरीज के लिए मेजबान टीम ने अपने 13 खिलाड़ियों का ऐलान कर दिया है. न्यूजीलैंड की टीम में ट्रेंट बोल्ट की वापसी हुई है, तो वहीं वनडे सीरीज में अपनी गेंदों का दम दिखाने वाले जेमीसन को टेस्ट टीम में भी मौका मिला है. इसके अलावा कीवी टीम ने एक ऐसा खिलाड़ी भी टीम में चुना है जो भारत के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है. दिलचस्प बात ये है कि इस खिलाड़ी का जन्म भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में हुआ था और अपनी गेंदबाजी से उसने पाकिस्तान से जीत छीन ली थी. न्यूजीलैंड की टीम ने बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज एजाज पटेल को अपनी टेस्ट टीम में जगह दी है. 31 साल के एजाज पटेल 6 महीने बाद कीवी टीम में वापस आए हैं, उन्होंने साल 2018 में पाकिस्तान के खिलाफ अबू धाबी में अपना टेस्ट डेब्यू किया था. एजाज पटेल 7 टेस्ट मैचों में 22 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. बता दें एजाज पटेल का जन्म मुंबई में हुआ था लेकिन जब वो महज 8 साल के थे तो उनका परिवार ऑकलैंड में बस गया. 

पाकिस्तान से छीन ली थी जीत - एजाज पटेल (Ajaz Patel) ने 16 नवंबर 2018 को अपना डेब्यू टेस्ट खेला और पहले ही मुकाबले में उन्होंने पाकिस्तान के होश उड़ा दिए. अबू धाबी में खेले गए टेस्ट मैच में एजाज पटेल ने दूसरी पारी में 5 विकेट लेकर पाकिस्तान से मैच छीन लिया. न्यूजीलैंड ने ये मुकाबला महज 4 रन से जीता था. पाकिस्तान की टीम को जीत के लिए 176 रन बनाने थे और वो एक समय 3 विकेट पर 130 रन बना चुकी थी. इसके बाद एजाज आए और उन्होंने कहर बरपाती गेंदबाजी करते हुए इमाम उल हक, सरफराज अहमद, बिलाल आसिफ, हसन अली और अजहर अली को आउट कर न्यूजीलैंड को जीत दिला दी. एजाज पटेल को इस मुकाबले में मैन ऑफ द मैच चुना गया.

एजाज पटेल क्यों हैं टीम इंडिया के लिए खतरा - बता दें टेस्ट सीरीज में एजाज पटेल (Ajaz Patel) टीम इंडिया के लिए भी खतरा बन सकते हैं. भारतीय टीम पिछले कुछ दौरों पर स्पिनर्स के खिलाफ संघर्ष करती दिखी है. इंग्लैंड में मोइन अली और ऑस्ट्रेलिया में नाथन लायन इसका बड़ा उदाहरण हैं. एजाज पटेल 223 फर्स्ट क्लास विकेट ले चुके हैं और बड़ी बात ये है कि भारत की प्लेइंग

भारत में बास्केटबॉल अब तेजी से फैल रहा है. ज्यादा से ज्यादा भारतीय खिलाड़ियों को बाहर निकलकर ट्रेनिंग करने का मौका मिल रहा है. इन दिनों देश के तीन उभरते खिलाड़ियों पर हर किसी की नजर है. जिनका चयन एनबीए (NBA) टीम में भी हो चुका है. यहां तक कि उन्होंने यूरोप में ट्रेनिंग भी ली. भारत के तीन युवा खिलाड़ी लोकेंद्र, जितेंद्र और जयदीप को एनबीए ने टीम में चुना. यह टीम यूरोप  टूर पर भी गई थी. दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार अंडर 17 के ये तीनों खिलाड़ियों ने पेरिस में ट्रेनिंग भी ली और फिर बुडापेस्ट में मुकाबले भी खेले. तीनों खिलाड़ी एनबीए (NBA) की ग्रेटर नोएडा स्थित एकेडमी में ट्रेनिंग ले रहे हैं. 

 

भारत इस साल होने वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान डे नाइट टेस्ट खेलेगा. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने रविवार को यह जानकारी दी. भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कुछ समय पहले कहा था कि उनकी टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान डे नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार है. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा, ‘हां, ऑस्ट्रेलिया में भारत डे नाइट टेस्ट खेलेगा. जल्द ही इसकी औपचारिक घोषणा की जाएगी.’

पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने साथ ही कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ अगली घरेलू सीरीज का दूसरा टेस्ट डे नाइट का मुकाबला होगा. उन्होंने साथ ही कहा कि बोर्ड भविष्य में हर सीरीज में एक डे नाइट टेस्ट के आयोजन का प्रयास करेगा. भारत ने अपना पहला डे नाइट टेस्ट पिछले साल नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ ईडन गार्डन्स में खेला था और इस मुकाबले में आसान जीत दर्ज की थी. ऑस्ट्रेलिया दौर पर डे नाइट टेस्ट का स्थल अभी तय नहीं है लेकिन गुलाबी गेंद के मैच की मेजबानी पर्थ या एडिलेड को मिलने की संभावना है.

पिछले महीने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर तीन मैचों की वनडे सीरीज से पहले कोहली ने कहा था, ‘हम चुनौती के लिए तैयार हैं- फिर चाहे यह गाबा हो या पर्थ... यह हमारे लिए मायने नहीं रखता. यह किसी भी टेस्ट सीरीज का बेहद रोमांचक हिस्सा बन गया है और हम डे नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार हैं.’

भारत ने 2018-19 में एडिलेड में डे नाइट टेस्ट खेलने का ऑस्ट्रेलिया का अनुरोध ठुकरा दिया था और इसके बाद अनुभव की कमी का हवाला दिया था. इस बीच पता चला है कि भारत आईपीएल के बाद श्रीलंका में तीन वनडे और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की सीरीज खेलेगा.

मास्को में 1980 में हुए ओलिंपिक  में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गोल्‍ड जीता था, लेकिन इससे पहले के ओलिंपिक में भारतीय टीम सातवें पायदान पर रही थी और उससे पहले लगातार दो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था. यानी 16 साल बाद भारत एक बार फिर दुनिया को अपना दम दिखाने में कामयाब हो गया था, लेकिन इसके बाद आज तक हॉकी में भारत अपनी  ताकत नहीं दिखा पाया. 1980 ओलिंपिक का गोल्ड भारतीय हॉकी के लिए आखिरी मेडल साबित हुआ. उस ओलिंपिक में भारत ने स्पेन को मात दी ‌थी. इस हाईवोल्टेज मुकाबले में भारत ने स्पेन को 4-3 से  मात दी थी. 

टीम का सफर - पहले मैच में भारत (India) ने तंजानिया को 18-0 से हराया था. ओलिंपिक हॉकी में यह दूसरा सबसे बड़ा स्कोर था. इससे पहले 1932 लॉज एंजलिस में भारत ने यूएसए पर 24-1 से जीत दर्ज की थी. इससे बाद पोलैंड से भारत ने 2-2 से ड्रॉ खेला. अगले मैच में भारत ने स्पेन से भी ड्राॅ मुकाबला खेला. दो ड्रॉ खेलने के बाद भारत क्यूबा को 13-0 से और मेजबान रूस को 4-2 से हराकर पूल में दूसरे स्‍थान पर रहा. पहले स्‍थान पर स्पेन की टीम थी. इसी के साथ भारत ने फाइनल में लिए भी क्वालीफाई कर लिया था.

मोहम्मद शाहिद ने जगाई ‌थी उम्मीद - स्पेन के साथ भारत का फाइनल मुकाबला धड़कने रोक देना वाला रहा. इस समय भारत में सैटलाइट टेलीविजन आया ही था. दूसरे हाफ के शुरुआती मिनट में ही भारत ने तीन गोल करके शानदार बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन स्पेन ने पलटवार करते हुए दो गोल करके भारत को जवाब दिया. हालांकि इसके छह मिनट बाद मोहम्मद शाहिद (Mohammed Shaheed) ने गोल दागा, जिससे भारतीय टीम का उत्साह बढ़ा. दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर चल रही थी. इसके चार मिनट बाद ही स्पेन ने एक और  गोल दाग दिया. हुआन अमत ने यहां अपनी हैट्रिक पूरी की थी. आखिरी के मिनटों में  माहौल काफी टेंशन वाला हो गया था. लेकिन भारतीय डिफेंस ने इसके बाद स्पेन के आक्रामण को मजबूती से रोका और आखिरकार भारत 16 साल के इंतजार के बाद गोल्ड जीतने में सफल हो ही गया.

अगले महीने से शुरू होने वाले आईपीएल से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर  ने बड़े बदलाव का ऐलान किया है. दो दिन पहले टीम ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से सभी तस्वीरें हटी ली थीं जिसके बाद कायास लगाए जा रहे थे कि आरसीबी में बड़ा बदलाव होने वाला है. शुक्रवार को आरसीबी  ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस बदलाव का ऐलान किया.

फैंस के साथ शेयर किया नया लोगो - आरसीबी  ने ट्विटर पर एक वीडियो डालकर फैंस के साथ अपना नया लोगो शेयर किया. उन्होंने वीडियो शेयर किया जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा था, 'यही वह लम्हा था जिसका आपको इंतजार था. नए साल के लिए नई आरसीबी और उसका नया लोगो.'  

फैंस ने की टीम का नाम बदलने की अपील - फैंस ने लोगो बदलने के साथ ही मैनेजमेंट को टीम का नाम बदलने की भी सलाह दी. फैंस का कहना था कि टीम के नाम में बैंगलोर की जगह बेंगलुरु (Bengaluru) होना चाहिए. आपको बता दें कि साल 2014 बैंगलोर का नाम बदलकर बेंगलुरु कर दिया गया था. ऐसे में फैंस चाहते हैं कि टीम भी अपना नाम बदले.  आरसीबी (RCB) ने तीसरी बार अपना लोगो बदला है. वहीं टीम ने ट्वीटर पर भी अपना नाम बदलकर रॉयल चैलेंजर्स रख लिया है. आपको बता दें कि इस बदलाव से पहले बुधवार को टीम ने अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट से तस्वीरें हटा ली थीं जिसके बाद लगातार यह संशय कायम था कि आखिर टीम ने ऐसा क्यों किया. शुक्रवार को इसकी वजह भी फैंस के सामने आ गई. 

डबल्स विशेषज्ञ सत्विकसाईराज रंकीरेड्डी  की अनुपस्थिति का खामियाजा भारत को भुगतना पड़ा जिसे गुरुवार को बैडमिंटन एशिया टीम चैम्पियनशिप (Badminton Asian Championship) के दूसरे ग्रुप बी मैच में युवा मलेशियाई टीम से 1-4 से शिकस्त मिली.

टखने की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण सात्विक के टूर्नामेंट से हटने के कारण भारत को एम आर अर्जुन (MR Arjun) और चिराग शेट्टी तथा ध्रुव कपिला और लक्ष्य सेन की दो जोड़ियों को उतारना पड़ा. दोनों ही जोड़ियां अपने मुकाबले गंवा बैठी.

केवल श्रीकांत को मिली जीत
किदाम्बी श्रीकांत एकमात्र भारतीय खिलाड़ी रहे जिन्होंने जीत हासिल की. दुनिया के 11वें नंबर के खिलाड़ी बी साई प्रणीत और एच एस प्रणॉय  को अन्य एकल मुकाबलों में सीधे गेम में पराजय का मुंह देखना पड़ा. 

इस हार के बाद भारत ग्रुप में दूसरे स्थान पर रहा और अब शुक्रवार को क्वार्टरफाइनल में उसका सामना थाईलैंड (Thailand) से होगा. शुरुआती मैच में कजाखस्तान पर 4-1 की जीत के बाद भारत को दूसरे मुकाबले में मलेशिया (Malaysia) से भिड़ना था. सत्विक की अनुपस्थिति से भारत को अच्छी शुरुआत कराने की जिम्मेदारी प्रणीत के कंधों पर थी लेकिन विश्व चैम्पियनशिप का कांस्य पदक विजेता दुनिया के 14वें नंबर के खिलाड़ी ली जी जिया से 18-21 15-21 से हार गया.

हैमिल्टन. सीमित ओवर प्रारूप के बाद टीम इंडिया का असली टेस्ट शुरू हो चुका है. भारतीय टीम को अब न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है, जिसका पहला मुकाबला 21 फरवरी से वेलिंगटन में शुरू होगा. हालंकि टीम ने न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ तीन दिवसीय अभ्यास मैच से टेस्ट सीरीज की तैयारियों का आगाज कर दिया है. भारतीय टीम ने पहले दिन सभी दस विकेट खोकर 263 रन बना लिए हैं. इनमें मध्यक्रम के बल्लेबाज हनुमा विहारी ने सबसे ज्यादा 101 रन बनाए, जबकि चेतेश्वर पुजारा ने 93 रनों की शानदार पारी खेली. 

पृथ्वी-मयंक ने की ओपनिंग, भारत ने 38 रनों तक गंवाए चार विकेट - भारतीय टीम ने इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. टीम के लिए पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल ओपनिंग करने उतरे. हालांकि ये जोड़ी पहले ही ओवर में टूट गई जब शॉ चार गेंदों में बिना खाता खोले रचिन रवींद्र को कैच थमाकर चलते बने. इसके बाद तो जैसे विकेटों का पतझड़ ही लग गया. मयंक अग्रवाल भी 13 गेंदों पर एक रन बनाकर डैन क्लीवर को कैच देकर पवेलियन लौटे. चौथे नंबर पर उतरे शुभमन गिल पहली ही गेंद पर टिम सीफर्ट को कैच देकर आउट हुए. अजिंक्य रहाणे ने जमने की कोशिश की, लेकिन वे भी अपनी पारी को 30 गेंदों पर 18 रन से आगे नहीं खींच सके. इस तरह 38 रनों पर ही भारत के चार विकेट गिर चुके थे.

हनुमा-पुजारा ने पांचवें विकेट के लिए जोड़े 195 रन- शुरुआती झटकों के बाद तीसरे नंबर पर उतरे चेतेश्वर पुजारा और छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए हनुमा विहारी ने टीम को संभाला. दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 195 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की. इस दौरान हनुमा विहारी अधिक आक्रामक नजर आए. उन्होंने 182 गेंदों पर 10 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 101 रन की पारी खेली. वहीं चेतेश्वर पुजारा शतक से आठ रनों से चूक गए. उन्होंने 211 गेंदों पर 11 चौके और 1 छक्के की मदद से 93 रन बनाए.

सुमित पस्सी के इंजुरी टाइम में किए गए गोल के दम पर जमशेदपुर एफसी ने गुरुवार को मेजबान हैदराबाद एफसी (Hyderabad FC) को उसके घर जीएमसी बालायोगी स्टेड़ियम में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग (ISL) के छठे सीजन के मैच में 1-1 की बराबरी पर रोक दिया.
पहले हाफ में मार्सेलिन्हो द्वारा 39वें मिनट में किए गए गोल के दम पर हैदराबाद ने एक गोल की बढ़त ले ली थी और मैच के अंतिम समय तक उसे कायम भी रखा था लेकिन इंजुरी टाइम में पस्सी की किस्मत से जमशेदपुर ने गोल कर मेजबान टीम को अपने आखिरी घरेलू मैच में पूरे तीन अंक नहीं लेने दिए.
इस जीत के बाद हैदराबाद के 17 मैचों में सात अंक हो गए हैं. वह अंक तालिका में सबसे नीचे 10वें स्थान पर ही बनी हुई है. जमशेदपुर भी इस मैच से एक अंक लेने में सफल रही. वह सातवें स्थान पर ही है.  

पहले हाफ में हैदाराबाद ने बनाई थी बढ़त - शुरुआत में दो मौके मिलने के बाद हैदराबाद ने अपना आक्रमण तेज कर दिया. इन मौकों के बीच 32वें मिनट में हैदराबाद के पास एक बार फिर से खाता खोलने का मौका हाथ से चला गया. टीम के स्टार खिलाड़ी आदिल  इस बार भी चूक गए और मोहम्मद रफीक ने उनके हेडर को ब्लॉक कर दिया. मेजबान टीम इसके कुछ मिनट बाद ही जमशेदपुर एफसी की डिफेंस को भेदने में सफल रहे और उसने नेस्टर गार्डियोलो के बेहतरीन गोल से मैच में अपना खाता खोल लिया. नेस्टर ने बॉक्स के बाहर से नेट के दाए कोने में गेंद को डाल अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई. नेस्टर ने यह गोल 39वें मिनट में किया. हैदराबाद ने इस बढ़त को हाफ टाइम की समाप्ति तक कायम रखा.  

दूसरे हाफ में टीमों में हुआ बदलाव - जमशेदपुर  को बराबरी के मौके कम मिल रहे थे और जो मिल रहे थे उन्हें वो अपने पक्ष में मोड नहीं पा रही थी. 69वें मिनट में करण अमिन ने थ्रो से गेंद ली जो वापस उनके पास आ गई. अमिने इस पर शॉट लेना चाहा जिसे मैथ्यू किलगालोन ने डाइव मार कर रोक दिया और गेंद बाहर चली गई.

भारतीय क्रिकेट टीम  के बेहतरीन ऑलराउंडरों में शुमार युवराज सिंह  ने सौरव गांगुली की कप्तानी में अपने करियर की शुरुआत की थी. युवी ने पिछले साल आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद से युवराज सिंह सोशल मीडिया पर बेबाकी से भारतीय टीम को लेकर अपनी राय रखते रहे हैं. अब एक बार फिर उन्होंने सोशल मीडिया पर ऐसा कुछ लिख दिया है, जिसने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को भी हैरान कर दिया है. युवराज सिंह ने अपनी पोस्ट में सौरव गांगुली को जमकर ट्रोल किया है.  

दादा लोगो तो हटा लो - दरअसल, बीसीसीआई अध्यक्ष और टीम इंडिया के सबसे पसंदीदा कप्तानों में रहे सौरव गांगुली  ने सोशल मीडिया पर अपनी एक तस्वीर पोस्ट की, जिसमें वो राहुल द्रविड़ के साथ पिच पर नजर आ रहे हैं. गांगुली ने इसका कैप्‍शन लिखा, 'शानदार यादें.' युवराज सिंह ने गांगुली की इस पोस्ट पर प्रतिक्रिया देने में जरा भी देर नहीं लगाई. युवराज सिंह ने गांगुली की पोस्ट के नीचे लिखा, 'दादा लोगो तो हटा लो, आप अब बीसीसीआई अध्यक्ष बन गए हो. प्लीज प्रोफेशनल हो जाओ.'  

इंग्लैंड को 344 रनों पर समेट दिया, वेंकटेश प्रसाद ने लिए पांच विकेट - साल 1996 के भारतीय टीम के इंग्लैंड दौरे पर खेले गए इस मैच में तत्कालीन कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था. इंग्लैंड ने मैच में 344 रन का स्कोर खड़ा किया था. इसमें जैक रसेल का शतक जबकि ग्राहम थोर्पे के 89 रनों का अहम योगदान रहा. भारतीय टीम की ओर से तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने बेहतरीन खेल दिखाया. उन्होंने इंग्लैंड के पांच बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई. गांगुली ने जड़ा शतक, द्रविड़ ने बनाए 95 रन - जवाब में भारतीय टीम ने भी शुरुआती विकेट जल्दी गंवा दिए थे, लेकिन सौरव गांगुली के शतक और राहुल द्रविड़ के 95 रनों की बदौलत टीम ने पहली पारी में 429 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा कर लिया. इंग्लैंड के लिए क्रिस लेविस और एलन मुलाली ने तीन-तीन विकेट लिए. हालांकि भारतीय टीम इंग्लैंड की दूसरी पारी समेट नहीं सकी और पहली पारी में अच्छी बढ़त के बावजूद टीम को ड्रॉ से संतोष करना पड़ा. सौरव गांगुली अपने डेब्यू मैच में शतक लगाने वाले दसवें भारतीय क्रिकेटर बने.

बेंगलुरु. हार्दिक पंड्या, इशांत शर्मा, शिखर धवन और भुवनेश्वर कुमार जैसे सीनियर खिलाड़ी इन दिनों बेंगलुरु के एनसीए में हैं जहां वह सब रिहैब की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं. जहां हार्दिक पंड्या अपनी सर्जरी के बाद से टीम में वापसी की कोशिश में लगे हैं वहीं इशांत और धवन चोटिल होने के चलते फिलहाल टीम से बाहर हैं. यह सभी खिलाड़ी एनसीए में मेडिकल निगरानी में है. हालांकि साथ रहकर यह सब मस्ती का कोई मौका नहीं छोड़ रहे जिसका सबूत दिया शिखर धवन ने.  

जिम में मस्ती के मूड में दिखे स्टार खिलाड़ी - धवन ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वह इशांत शर्मा और हार्दिक पंड्या के साथ जिम में नजर आ रहे हैं. वीडियो में आमिर खान की फिल्म जो जीता वहीं सिकंदर का गाना बज रहा था जिसपर तीनों मस्ती के मूड में दिखे. जहां हार्दिक पंड्या नाचते हुए दिखाई दिए तो शिखर धवन साइकिल पर बैठकर गाने का मजा लेते दिखे. वहीं इशांत शर्मा हाथ में वेट रोड लेकर नाचते हुए दिखाई दिए. वीडियो के कैप्शन में शिखर धवन ने लिखा, 'किसने कहा रिहैब बोरिंग होता है? यहां के हम सिकंदर.' इस वीडियो के नीचे युवा तेज गेंदबाज खलील अहमद ने कमेंट करते हुए कहा कि एक और खिलाड़ी जल्दी आपके साथ जुड़ने वाला है.  

टीम से बाहर हैं धवन और हार्दिक पंड्या - शिखर धवन को ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे के दौरान वनडे सीरीज में फील्डिंग करते हुए कंधे में चोट लग गई थी. इसके बाद से ही वह टीम से बाहर चल रहे हैं. बात करें हार्दिक पंड्या की तो वह लंबे समय से अपनी सर्जरी के चलते टीम से बाहर हैं.
उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ इंडिया ए में शामिल किया गया था हालांकि बाद में उनकी फिटनेस को देखते हुए उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया. वह फिलहाल एनसीए में क्रिकेट प्रैक्टिस के साथ-साथ फिटनेस पर काम कर रहे हैं. इशांत शर्मा को दिल्ली के लिए रणजी मैच खेलते हुए एड़ी में चोट लगी थी. उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए टीम में शामिल किया गया है. हालांकि टीम से जुड़ने से पहले उन्हें शनिवार को एनसीए में फिटनेस टेस्ट देना होगा जिसमें पास होने के बाद ही वह न्यूजीलैंड जा सकेंगे. 

लय हासिल करने के लिए जूझ रही पहलवान साक्षी मलिक ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने की उम्मीदों को बनाए रखने के लिए एक बार फिर से ट्रायल कराने की मांग की है। साक्षी इन दिनों एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप के भाग लेने की तैयारी कर रही है जहां वह गैर ओलंपिक वर्ग में चुनौती पेश करेंगी। रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता को ओलंपिक के 62 किग्रा भारवर्ग के लिए हुए ट्रायल में सोनम मलिक ने हरा दिया था। 

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) पहले ही यह साफ कर चुका है कि ट्रायल में जीत दर्ज करने वाले खिलाड़ी अगर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन नहीं करेंगे तो फिर से ट्रायल का आयोजन किया जा सकता है। सोनम रोम में रैंकिंग सीरिज की प्रतियोगिता के पहले दौर में हार गयी थी लेकिन अगर वह दिल्ली में 18 फरवरी से शुरू हो रही एशियाई चैम्पियनशिप में पदक जीतने में सफल रहीं तो डब्ल्यूएफआई उन्हें एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर में भाग लेने से नहीं रोकेगा। यह क्वालीफायर मार्च में आयोजित होगा।

साक्षी ने कहा, ''मुझे एक दौर के ट्रायल की उम्मीद है। अगर मैं ट्रायल में क्वालीफाई कर जाती हूं तो मेरे पास ओलंपिक का टिकट हासिल करने के दो मौके होंगे। एशियाई विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स (एडब्ल्यूसी) और विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स। मैं इन दोनों टूर्नामेंटों के जरिये क्वालीफाई करना चाहती हूं। उन्होंने कहा, ''एडब्ल्यूसी के लिए मेरी तैयारी अच्छी है। चाहे कोई भी प्रतियोगिता हो मैं पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगी। मैं अपनी तकनीक सुधारने पर काम कर रही हूं। मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूं कि पिछले टूर्नामेंटों की गलती फिर से ना दोहराऊं। ट्रायल्स में 18 साल की सोनम 6-10 से साक्षी से पिछड़ रही थी लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए जीत दर्ज की। साक्षी एशियाई चैम्पियनशिप में 65 किग्रा भाग वर्ग में भाग ले रही हैं।

कुश्ती से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रख चुकीं महिला पहलवान रितु फोगाट को ओलम्पिक पदक न जीत पाने का मलाल है लेकिन उनका मानना है कि फोगाट परिवार का ओलम्पिक पदक जीतने का सपना विनेश पूरा कर सकती हैं। भारतीय कुश्ती में फोगाट बहनों का बड़ा नाम है और उन्होंने अपनी कामयाबियों से देश का नाम रोशन किया है। रितु महिला कुश्ती से अब मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रख चुकीं हैं और इस कॉम्बैट खेल में उनका सपना विश्व चैंपियन बनने का है। रितु ने बुधवार को यहां नेशनल स्पोर्ट्स क्लब में वन चैम्पियनशिप किंग ऑफ द जंगल के लिए अपनी तैयारियों का प्रदर्शन किया। उनकी तैयारियां देखने के लिए भारी संख्या में प्रशंसक और मीडियाकर्मी मौजूद थे। उनके कोच पिता महावीर फोगाट भी इस अवसर पर मौजूद थे।

वर्ष 2016 में राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक और अंडर 23 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली रितु ने अपने नए खेल और पुराने खेल कुश्ती पर बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें इस बात का अफ़सोस रहेगा कि वह ओलम्पिक पदक नहीं जीत पायीं लेकिन उन्हें लगता है कि विनेश इस साल टोक्यो ओलम्पिक में फोगाट परिवार का ओलम्पिक पदक जीतने का सपना पूरा कर सकती हैं। उल्लेखनीय है कि विनेश ने 2016 के रियो ओलम्पिक में हिस्सा लिया था लेकिन चोट के कारण उन्हें अपना मुकाबला गंवाना पड़ा था। विनेश ने चोट से उबरने के बाद शानदार वापसी करते हुए 2018 में राष्ट्रमंडल खेलों और फिर एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। विनेश ने 2019 में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ देश को ओलम्पिक कोटा भी दिलाया था।

भारत के रोहन बोपन्ना और उनके कनाडा के जोड़ीदार डेनिस शापोवालोव ने रोटरडैम ओपन टेनिस टूर्नामेंट के पुरुष युगल वर्ग के क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है। इन दोनों ने आस्ट्रेलिया के जॉन पीयर्स और मिशेल वीनस को मात दे अंतिम-8 में प्रवेश किया। रोहन-शापोवालोव की जोड़ी ने आस्ट्रेलियाई जोड़ी को 7-6, 6-7, 10-8 से मात दी। क्वार्टर फाइनल में रोहन-शापोवालोव जोड़ी का सामना चौथी सीड जीन जूलिएन रोजर और होरिया टेकाउ की जोड़ी से गुरुवार को होगा।

साल के पहले ग्रैंडस्लैम ऑस्ट्रेलियाई ओपन में रोहन बोपन्ना ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाए थे। वो और यूक्रेन की उनकी जोड़ीदार नादिया किचेनोक को मिक्स्ड डबल्स के क्वॉर्टर फाइनल में सीधे सेटों में हार का सामना करना पड़ा। भारत और यूक्रेन की जोड़ी को 47 मिनट चले एकतरफा मुकाबले में निकोला मेकटिच और बारबोरा क्रेसिकोवा की पांचवीं वरीय जोड़ी के खिलाफ 0-6, 2-6 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

सरफराज खान (नाबाद 169) और आकर्षित गोमेल (122) रन की शतकीय पारियों की बदौलत मुंबई ने बुधवार को मध्य प्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए और बी मुकाबले के पहले दिन का खेल खत्म होने तक पहली पारी में 4 विकेट पर 352 रन बना लिए। 

टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की टीम की ओर से सरफराज ने 204 गेंदों में 22 चौके और 3 छक्कों की मदद से नाबाद 169 रन और गोमेल ने 122 रन की शतकीय पारी में 11 चौके और 1 छक्का जड़ा। सरफराज ने इस साल जनवरी में हिमाचल प्रदेश के खिलाफ नाबाद दोहरा शतक लगाया था।

मुंबई की पारी में हार्दिक तामोर (12) के रुप में पहला विकेट गिरने के बाद गोमेल और सूर्यकुमार यादव ने दूसरे विकेट के लिए 52 रन की साझेदारी की। सूर्यकुमार ने 43 रन की पारी में 9 चौके लगाए। सूर्यकुमार के आउट होने के कुछ देर बाद ही सिद्धेश लाड भी 4 रन के मामूली स्कोर बनाकर जल्द ही पैवेलियन लौट गए। इसके बाद सरफराज ने गोमेल का साथ मिलकर मुंबई की पारी को संभाला और दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 275 रन की बड़ी साझेदारी हुई।

दिन का खेल खत्म होने तक सरफराज और अंकुश जायसवाल बिना खाता खोले क्रीज पर हैं। मध्य प्रदेश की ओर से कुलदीप सेन ने 67 रन देकर 3 विकेट और कप्तान शुभम शर्मा ने 34 रन पर 1 विकेट लिया।

एक बार फिर गोल्ड जीतने की उम्मीद लिए भारतीय हॉकी टीम 1972 में म्यूनिख ओलिंपिक  में उतरी. लेकिन यहां पर भी वह  लगातार दूसरी  बार सेमीफाइनल की बाधा को पारी नहीं कर पाई और 1972 के सेमीफाइनल में मिली हार टीम सहित फैंस के लिए स्वीकार करना मुश्किल था. ग्रुप में शीर्ष स्‍थान हासिल करने वाली टीम इंडिया (Team India) को सेमीफाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने शिकस्त दी और वो भी  करारी. भारत ने 2-0 के अंतर से सेमीफाइनल मुकाबला गंवा दिया था.  इसके बाद ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में भारतीय नेदलैंड्स को हराकर ब्रॉन्ज मेडल के साथ भारत लौटी.  

टीम का सफर - पिछले सभी ओलिंपिक की तरह इस ओलिंपिक में भी भारतीय टीम ग्रुप में टॉप पर रही. भारत ने अपने ग्रुप का पहला मुकाबला नेदरलैंड्स के साथ 1-1 से ड्रॉ खेला. इसके बाद ग्रेट ब्रिटेन को 5-0 से, ऑस्ट्रेलिया  को 3-1 से हराया. भारत ने अगला मुकाबला पोलैंड के साथ 2-2 से ड्रॉ खेला. इसके बाद केन्या को 3-2,  मैक्सिको को 8-0 से और न्यूजीलैंड को 3-2 से मात दी. हर किसी को उम्मीद थी कि इस बार भी खिताबी मुकाबला भारत और पाकिस्तान का होगा, लेकिन पाकिस्तान की टीम अपने ग्रुप में दूसरे नंबर पर रही, जिससे दोनों सेमीफाइनल में ही आमने सामने हो गई और इस मुकाबले में पड़ोसी देश ने 2-0 से मात दी.

ब्रॉन्ज मेडल के लिए भारत को बहाना पड़ा पसीनासेमीफाइनल गंवाने के बाद भारत (India) के पास सम्मान बचाने का सिर्फ एक ही मौका था. ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में नेदरलैंड्स को मात दे. मुकाबला शुरू हुआ और शुरुआती छह मिनट में ही नेदरलैंड्स के टाइ क्रूज ने गोल दागकर भारत की धड़कने बढ़ा दी थी. भारत पर दबाव बढ़ गया था, लेकिन सात बार की ओलिंपिक चैंपियन इस दबाव को हैंडल करना भी जानती थी. 

15वें मिनट में बिलीमोगा गोविंदा ने गोल दागकर स्कोर बराबर कर दिया. मुकाबला बराबरी पर पहुंच गया था. दोनों टीम की ओर से जोर आजमाइश शुरू हो गई, लेकिन पहला हाफ बराबरी पर रहा. दूसरा हाफ भी गोल रहित रहता दिख रहा था. लेकिन मुकाबले के आखिरी मिनट में मुखबेन ‌सिंह ने गोल दागकर भारत को इस ओलिंपिक में भी खाली हाथ नहीं रहने दिया.
टीम: बीपी गोविंदा, चार्ल्स कुरनेलियुस, मैनुअल फ्रेड्रिक, माइकल किंडो, एमपी गणेश, कृष्‍णामूर्ति पेरुमल, अजीपाल सिंह, हरबिन्दर सिंह, हरमिक सिंह, मुकबेन सिंह,

एफसी गोवा को अपने घर का शेर कहा जाए तो गलत नहीं होगा. बीते सीजन का फाइनल खेलने वाली इस टीम ने बुधवार को अपने घर में लगातार छठी जीत के साथ हीरो इंडियन सुपर लीग (ISL) के छठे सीजन की अंक तालिका में एक बार फिर शीर्ष स्थान हासिल कर लिया है. गोवा ने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मुंबई सिटी एफसी को 5-2 से हराया. गोवा के लिए फेरान कोरोमिनास ने 20वें और 80वें मिनट में गोल किए जबकि हुगो बोउमोस ने 38वें तथा जैकीचंद सिंह 39वें मिनट में गोल दागा. मुंबई के मोहम्मद रफीक का एक आत्मघाती गोल भी गोवा के खाते में जुड़ा. गोवा के लिए रावलिन बार्जेस ने 18वें और बिपिन सिंह ने 57वें मिनट में गोल किए. गोवा की इस सीजन में 17 मैचों में यह 11वीं जीत है और वह 36 अंकों के साथ शीर्ष पर विराजमान हो गया है. मुंबई के 17 मैचों से 26 अंक हैं और वह चौथे स्थान पर ही बना हुआ है. मुंबई की हार ने ओडिशा एफसी को प्लेऑफ की दौड़ से बाहर होने से बचा लिया.

मैच में पहले 15 मिनट बीत जाने के बाद अगले पांच मिनट में एक के बाद एक दो गोल देखने को मिलेंगे. पहले मुंबई ने 18वें मिनट में रॉवलिन बॉर्जेस के गोल की मदद से 1-0 की बढ़त बना ली. लेकिन गोवा ने दो मिनट बाद ही शानदार वापसी करते हुए कोरोमिनास के गोल के दम पर मुकाबले में 1-1 की बराबरी कायम कर ली. गोवा के इस गोल में बोउमोस  का असिस्ट रहा. बराबरी का गोल करने के बाद गोवा ने हमले तेज किए और दो मिनट मे दो गोल करते हुए 3-1 की बढ़त ले ली. उसके लिए दूसरा गोल बोउमोस ने 38वें मिनट में और तीसरा गोल जैकीचंद ने 39वें मिनट किया. जैकी के इस गोल में कोरो का असिस्ट रहा.
दूसरे हाफ में गोवा ने मुंबई को नहीं होने दिया आगे - दूसरे हाफ की शुरुआत अच्छी नहीं रही. 49वें मिनट में मुंबई के विद्यानंद सिंह और 51वें मिनट में इसी टीम के लिए पहला गोल करने वाले बार्जेस को पीला कार्ड मिला. 57वें मिनट में हालांकि बिपिन सिंह ने गोल करते हुए दोनों टीमों के गोल अंतर को कम कर दिया. गोवा ने 68वें मिनट में भी एक जोरदार हमला किया लेकिन मुंबई के डिफेंडर सावधान थे. 71वें मिनट में गोला के मंडार राव देसाई को चोट लगी और वह बाहर जाने को मजबूर हए. 75वें मिनट में बिपिन चोटिल होकर बाहर गए और रेनियर फर्नांडिस ने उनकी जगह ली. 

मुंबई  एक गोल से पीछे था और गोवा इस अंतर को बढ़ाना चाहता था. इसी क्रम में कोरो ने 80वें मिनट

भारतीय हॉकी टीम 1968 मैक्सिको ओलिंपिक (Mexico Olympic) में उतरी तो थी खिताब बचाने के लिए, लेकिन किसी को अंदाजा नहीं था कि हॉकी में भारत का स्वर्णिम काल आखिरी पड़ाव पर है इस ओलिंपिक में भारत ने ब्रॉन्ज मेडल जीता. भारत के इस ब्रॉन्ज मेडल से जितना दुख देश को हुआ था, उतनी ही हैरानी दुनिया भर को हुई थी. हॉकी पर राज करने वाली टीम इस बार कैसे ब्रॉन्ज तक ही पहुंच पाई.
सात बार ओलिंपिक का खिताब जीतने वाली भारतीय टीम सहित पूरी दुनिया को उस समय बड़ा झटका लगा, जब सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने उसे हरा दिया. इसके बाद ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में वेस्ट जर्मनी को रोमांचक मुकाबले में हराकर भारत को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा. 

पिछले सभी ओलिंपिक (Olympic) की तरह इस ओलिंपिक में भी भारतीय टीम ग्रुप में टॉप पर रही. हालांकि इस बार उसे ग्रुप में एक हार का भी सामना करना पड़ा था. भारत के ग्रुप में वेस्ट जर्मनी, बेल्जियम, स्पेन, ईस्ट जर्मनी, जापान (Japan) और मेजबान मेक्सिको थे. भारतीय टीम ने शुरुआती दौर में अपने ग्रुप में कुल सात मैच खेले, जिसमें से छह में जीत मिली, जबकि एक में हार का सामना करना पड़ा.

लय हासिल करने के लिए जूझ रही पहलवान साक्षी मलिक ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने की उम्मीदों को बनाये रखने के लिए एक बार फिर से ट्रायल कराने की मांग की है. साक्षी इन दिनों एशियन कुश्ती चैंपियनशिप के भाग लेने की तैयारी कर रही है जहां वह गैर ओलिंपिक वर्ग में चुनौती पेश करेंगी. रियो ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता को ओलिंपिक के 62 किग्रा भारवर्ग के लिए हुए ट्रायल में सोनम मलिक ने हरा दिया था.

दूसरी बार हो सकते हैं ट्रायल - भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) पहले ही यह साफ कर चुका है कि ट्रायल में जीत दर्ज करने वाले खिलाड़ी अगर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन नहीं करेंगे तो फिर से ट्रायल का आयोजन किया जा सकता है. सोनम रोम में रैंकिंग सीरिज की प्रतियोगिता के पहले दौर में हार गयी थी लेकिन अगर वह दिल्ली में 18 फरवरी से शुरू हो रही एशियाई चैंपियनशिप में पदक जीतने में सफल रहीं तो डब्ल्यूएफआई उन्हें एशियाई ओलिंपिक क्वालीफायर में भाग लेने से नहीं रोकेगा. यह क्वालिफायर मार्च में आयोजित होगा.

साक्षी के पास अब भी ओलिंपिक टिकट हासिल करने का मौका - साक्षी ने कहा, ‘मुझे एक दौर के ट्रायल की उम्मीद है. अगर मैं ट्रायल में क्वालिफाई कर जाती हूं तो मेरे पास ओलिंपिक का टिकट हासिल करने के दो मौके होंगे. एशियाई विश्व ओलिंपिक क्वालिफायर्स (एडब्ल्यूसी) और विश्व ओलिंपिक क्वालीफायर्स. मैं इन दोनों टूर्नामेंटों के जरिये क्वालीफाई करना चाहती हूं.’ उन्होंने कहा, ‘एडब्ल्यूसी के लिए मेरी तैयारी अच्छी है. चाहे कोई भी प्रतियोगिता हो मैं पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगी. मैं अपनी तकनीक सुधारने पर काम कर रही हूं. मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूं कि पिछले टूर्नामेंटों की गलती फिर से ना दोहराऊं.’ ट्रायल्स में 18 साल की सोनम 6-10 से साक्षी से पिछड़ रही थी लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए जीत दर्ज की. साक्षी एशियाई चैम्पियनशिप में 65 किग्रा भार वर्ग में भाग ले रही हैं.

टी-20 सीरीज में न्यूजीलैंड को 5-0 से हराने के बाद वनडे सीरीज में उत्साह के साथ उतरी भारतीय टीम को करारी हार झेलनी पड़ी है. न्यूजीलैंड ने तीन मैचों की इस सीरीज को 3-0 से जीत लिया है. यह 1989 यानी 31 साल बाद पहला मौका है जब भारतीय टीम को वनडे सीरीज (कम से कम तीन मैच) में व्हाइटवाश का सामना करना पड़ा है. इससे पहले वनडे सीरीज में भारतीय टीम सभी मैच वेस्ट इंडीज के खिलाफ 1989 में हारी थी.

वनडे सीरीज में भारत की हार - वेस्ट इंडीज ने 1983-84 में 5-0 से हराया

                                              वेस्ट इंडीज ने ही फिर 1988-89 में 5-0 से हराया

                                              न्यूजीलैंड ने 3-0 से हराया

हार के बाद कप्तान कोहली बोले  -वहीं, न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज में एक भी नहीं जीतने के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा कि मैदान पर टीम के खिलाड़ी अपनी काबिलियत के साथ न्याय नहीं कर सके. न्यूजीलैंड की टीम ने 14 साल बाद भारत को किसी द्वीपक्षीय सीरीज में क्लीन स्वीप किया है.विराट कोहली ने मैच के बाद कहा, "पहले मैच में हम दौड़ मे थे. सभी तीन मैचों में हमारी फील्डिंग का लेवल उच्चस्तरीय नहीं थी. हमने जिस तरह से वापसी की, वह सकारात्मक है लेकिन फील्ड के अंदर हम अपनी क्षमता के साथ न्याय नहीं कर सके."

इससे पहले बता दें कि वनडे सीरीज में चोट की वजह से भारतीय ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा बाहर हो गए थे. वनडे में शिखर धवन भी चोट की वजह से नहीं खेल पाए थे. इन दोनों खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में भारतीय टीम में दो नए ओपनर बल्लेबाज- पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल आए लेकिन ये दोनों ही बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाए और टीम को किसी मैच में अच्छी शुरुआत नहीं दिला सके.

भारतीय फॉरवर्ड लालरेम्सियामी को 2019 की एफआईएच की सर्वश्रेष्ठ उदीयमान महिला खिलाड़ी चुना गया। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। भारत की 19 वर्ष की स्ट्राइकर ने अर्जेंटीना की जूलिएटा जांकुनास और नीदरलैंड की फ्रेडरिक माटला को हराया जो दूसरे और तीसरे स्थान पर रही। मिजोरम की इस खिलाड़ी को 40 प्रतिशत वोट मिले। उन्हें राष्ट्रीय संघों से 47.7 प्रतिशत, मीडिया से 28.4 प्रतिशत और प्रशंसकों तथा खिलाड़ियों से 36.4 प्रतिशत वोट मिले।

बेलारूस के खिलाफ 2017 में पदार्पण करने के बाद लालरेम्सियामी भारतीय टीम का अभिन्न अंग बनी हुई है। उन्होंने 2017 में कोरिया और 2019 में स्पेन के खिलाफ सर्वाधिक गोल दागे। हिरोशिमा में एफआईएच सीरिज फाइनल्स में भारत ने ओलंपिक क्वालीफायर्स में जगह बनाने की होड़ में शामिल आठ दूसरी टीमों को हराया। भारत ने अमेरिका को हराकर शीर्ष स्थान हासिल किया। 

टूर्नामेंट के दौरान लालरेम्सियामी के पिता का निधन हो गया था लेकिन इस दुख को झेलते हुए उसने खेलने का फैसला किया। उसने बाद में कहा, ''मैं चाहती थी कि मेरे पिता को मुझ पर गर्व हो। इसलिए मैंने रुकने और खेलने का फैसला किया।'' 

मिजोरम के छोटे से गांव से निकली लालरेम्सियामी ने कहा, ''मेरे गांव में हॉकी काफी मशहूर नहीं है। बहुत कम लोग खेलते हैं लेकिन मेरी हमेशा से हॉकी में रुचि थी। यही वजह है कि मैने थेंजाल जाने का फैसला किया जो मेरे गांव से काफी दूर था। मुझे शुरुआती साल होस्टल में बिताने पड़े।''

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने कबड्डी विश्व कप  में हिस्सा लेने के लिए भारतीय टीम के पाकिस्तान  पहुंचने पर हैरानी जताई है. आईओए के अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा  ने सोमवार को कहा कि जो लोग शनिवार को लाहौर पहुंचे हैं, वे देश के अधिकारी नहीं हैं. वे अपने बैनर तले ‘भारत’ (India) शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. वे एमेच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया  द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है. नरेंद्र बत्रा ने कहा, ‘आईओए  ने उन्हें अपनी मंजूरी नहीं दी है और ना ही महासंघ ने उन्हें मंजूरी दी है. इसलिए मुझे नहीं पता कि कौन गए हैं. पता नहीं 60 गए हैं या 100 लोग. मुझे कुछ नहीं पता. कबड्डी फेडरेशन, जो आईओए (IOA) का सदस्य है, उसने हमसे पुष्टि की है कि उन्होंने किसी को नहीं भेजा है. मैंने खेल मंत्रालय का बयान पढ़ा है जिसमें भी पुष्टि की गई है कि उन्होंने किसी को इसकी मंजूरी नहीं दी है. इसलिए मुझे नहीं पता कि वे कौन है और क्या कहानी है.’

भारतीय टीम वाघा सीमा के रास्ते लाहौर पहुंची. पाकिस्तान में पहली बार कबड्डी विश्व कप  का आयोजन हो रहा है. इसमें भारत समेत 10 देशों की टीमें हिस्सा ले रही हैं. बत्रा ने कहा, ‘जब तक हमारे सदस्य इकाई इसे मंजूरी नहीं देते तब तक वे ‘भारत’ शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकते. इसके लिए आपको आईओए और सरकार से अनुमति लेनी होगी, तभी आप उस शब्द का इस्तेमाल कर सकते हैं. भारतीय पासपोर्ट वाले कुछ लोग भारत के रूप में वहां जाते हैं और खेलते हैं. लेकिन मैं पाकिस्तान के बारे में कुछ नहीं कह सकता, यह मेरे अधिकार से बाहर है.’ विदेश में होने वाले टूर्नामेंटों में भाग लेने के लिए राष्ट्रीय महासंघों को खेल मंत्रालय से इजाजत लेने की जरूरत होती है. खेल मंत्रालय फिर इसके लिए गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय से अनुमति मांगता है. इस बीच, एकेएफआई के प्रशासक जस्टिस (रिटायर्ड हर्ट) एपसी गर्ग ने कहा है कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है कि कोई टीम पाकिस्तान गई है. उन्होंने एक बयान में कहा, ‘किसी भी टीम ने पाकिस्तान जाने और वहां कबड्डी मैच खेलने के लिए एकेएफआई से अनुमति नहीं ली है. एकेएफआई ऐसे कामों के लिए समर्थन नहीं करता है। उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.’ 

U19 World Cup के फाइनल मैच में भारत और बांग्लादेश के खिलाड़ियों में बहस हो गई। दोनों देशों के खिलाड़ियों में बात धक्का-मुक्की तक पहुंच गई थी। इस मामले में कड़ा रुख अपनाते हुएइंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी ने अंडर 19 वर्ल्ड कप के फाइनल में विवाद पैदा करने वाले 5 खिलाड़ियों को दोषी पाया है। आइसीसी ने विश्व कप फाइनल में माहौल खराब करने के लिए 5 खिलाड़ियों को दोषी पाया है, जिनमें 3 बांग्लादेशी खिलाड़ी हैं, जबकि 2 भारतीय खिलाड़ी भी इस विवाद में लिप्त पाए गए।

जिन पांच खिलाड़ियों को आइसीसी ने दोषी पाया है उनमें बांग्लादेश के खिलाड़ी मोहम्मद तौहविद ह्रदोय, शमीम हुसैन और रकिबुल हनस का नाम शामिल है। वहीं, भारतीय खिलाड़ियों में नाम वर्ल्ड कप में अच्छा प्रदर्शन करने वाले और आइसीसी की वर्ल्ड कप टीम में चुने गए रवि बिश्नोई और आकाश सिंह का नाम शामिल है। इन सभी को आइसीसी ने अपने आचार संहिता के आर्टिकल 2.21 को तोड़ने का दोषी पाया है, जबकि बिश्नोई पर 2.5 आर्टिकल का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है। इन सभी पांच खिलाड़ियों ने आइसीसी अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल के मैच रेफरी ग्रेमी लैब्रॉय द्वारा लगाए गए आरोपों को स्वीकार कर लिया है।

सभी आरोप मैदानी अंपायरों सैम एन और एड्रियन होल्डस्टोक, तीसरे अंपायर रवीन्द्र विमलासिरि और चौथे अंपायर पैट्रिक बोंगनी जेले ने लगाए।
क्या है निलंबन अंक के मायने : निलंबन अंक आगामी अंतरराष्ट्रीय मैचों पर लागू होंगे। एक निलंबन अंक के मायने हैं कि खिलाड़ी एक वनडे या टी-20, अंडर-19 या ये टीम अंतरराष्ट्रीय मैच से बाहर रहेगा।

दुबई। किसी वैश्विक टूर्नामेंट में पहली बार फ्रंटफुट नोबॉल तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा, जब आईसीसी इस महीने के आखिर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले महिला टी-20 विश्व कप में इसे लागू करेगी। हाल ही में भारत और वेस्टइंडीज में सफल प्रयोग के बाद इसके इस्तेमाल का फैसला किया गया। 

आईसीसी ने एक बयान में कहा कि तीसरा अंपायर हर गेंद के बाद फ्रंटफुट लैंडिंग पोजिशन पर नजर रखेगा। गेंद नोबॉल होने पर वह मैदानी अंपायर को इसकी सूचना देगा। इसमें कहा गया कि मैदानी अंपायरों को निर्देश दिए गए हैं कि फ्रंटफुट नोबॉल पर वे फैसला नहीं लेंगे, बाकी नोबॉल पर हालांकि वे ही फैसला लेंगे। हाल ही में 12 मैचों में इस तकनीक का ट्रॉयल लिया गया जिसमें 4,717 गेंदें डाली गईं और उनमें 13 नोबॉल थीं।

आईसीसी महाप्रबंधक (क्रिकेट) ज्यौफ अलार्डिस ने कहा कि क्रिकेट में मैच अधिकारियों की मदद के लिए तकनीक के इस्तेमाल की अच्छी परंपरा रही है। मुझे यकीन है कि इस तकनीक के प्रयोग से आईसीसी महिला टी-20 विश्व में फ्रंटफुट नोबॉल में गलतियों की गुंजाइश कम हो जाएगी।

भारतीय कप्तान प्रियम गर्ग ने कहा कि पहला अंडर 19 वर्ल्ड कप जीतने के बाद बांग्लादेश के खिलाड़ियों का बर्ताव ‘भद्दा ’ था. भारत को रविवार को फाइनल में हराने के बाद कुछ बांग्लादेशी क्रिकेटर जश्न मनाते समय सीमा लांघ गए. उनके कप्तान अकबर अली ने इस ‘अप्रिय घटना’ के लिए माफी मांगी. भारतीय कप्तान गर्ग ने कहा कि इस तरह की घटना नहीं होनी चाहिए थी. गर्ग के हवाले से क्रिकइन्फो ने कहा, ‘हम सहज थे. यह खेल का हिस्सा है. कभी आप जीतते हैं तो कभी हारते हैं. उनकी प्रतिक्रिया भद्दी थी. ऐसा नहीं होना चाहिए था लेकिन ठीक है, चलता है.’ मैच के दौरान भी बांग्लादेशी खिलाड़ी काफी आक्रामक थे जबकि उनके तेज गेंदबाज शरीफुल इस्लाम ने हर गेंद पर भारतीय बल्लेबाजों के साथ छींटाकशी की. विजयी रन लेने के बाद भी उनका रवैया ऐसा ही था.

अली ने हालांकि कहा ,‘जो हुआ, वह नहीं होना चाहिए था. मुझे नहीं पता कि वास्तव में क्या हुआ. फाइनल में जज्बात उमड़ आते हैं और कई बार खिलाड़ियों का उन पर काबू नहीं रहता.’ उन्होंने कहा, ‘युवाओं को इससे बचना चाहिए. हमें विरोधी का सम्मान करना चाहिए, खेल का सम्मान करना चाहिए. क्रिकेट भद्रजनों का खेल है. मैं अपनी टीम की ओर से माफी मांगता हूं.’ भारत ने पिछले साल एशिया कप फाइनल और ट्राई सीरीज के फाइनल में बांग्लादेश को हराया था. अली ने कहा, ‘भारत बांग्लादेश प्रतिद्वंद्विता ऐसी ही है. हम एशिया कप फाइनल में उनसे हारे थे तो मुझे लगता है कि कहीं बदले की बात खिलाड़ियों के जेहन में थी. मैं उनकी ओर से माफी मांगता हूं.’ भारतीय टीम प्रबंधन के एक करीबी सूत्र ने बताया कि मैच काफी तनाव में खेला गया लेकिन मैच के बाद जो हुआ, उसमें भारतीय खिलाड़ियों की कोई गलती नहीं थी.

 

इंडोनेशिया के क्रिस्टोफर रुंगकाट और स्वीडन के आंद्रे गोरांसन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट का युगल खिताब जीत लिया. चेक गणराज्य के जिरी वेस्ली ने रविवार को यहां महालुंगे बालेवाड़ी स्टेडियम में बेलारूस के इगोर गेरासिमोव को हराकर टाटा ओपन महाराष्ट्र के तीसरे संस्करण का एकल खिताब जीत लिया. वेस्ली ने 546,355 डॉलर इनामी इस टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में गेरासिमोव को 7-6 (7-2), 5-7, 6-3 से हराया. यह मुकाबला करीब सवा दो घंटे चला. वेस्ले ने पहला सेट 7-6 से अपने नाम किया. पहले सेट में दोनों के बीच जोरदार भिड़ंत हुई. एक समय दोनों 5-5 की बराबरी पर थे और फिर दोनों ने 6-6 की बराबरी हासिल की. इसके बाद यह सेट टाइब्रेकर में गया, जहां वेस्ले ने 7-2 से जीत हासिल की. दूसरे सेट में भी दोनों खिलाड़ियों के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिली. एक समय दोनों 5-5 से बराबरी पर थे लेकिन गेरासिमोव ने पहले 6-5 की बढ़त हासिल की और फिर 7-5 से यह सेट जीतकर मैच को तीसरे और निर्णायक सेट में ले जाते हुए रोमांचक बना दिया.

निर्णायक सेट में हालांकि वेस्ले ने अपने प्रतिद्वंद्वी को मौका नहीं दिया और 6-3 से जीत हासिल करते हुए चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया. इससे पहले, इंडोनेशिया के क्रिस्टोफर रुंगकाट और स्वीडन के आंद्रे गोरांसन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट का युगल खिताब जीत लिया. रुंगकाट और गोरांसन ने दक्षिण एशिया के एकमात्र एटीपी टूर इवेंट के फाइनल में इजरायल के जोनाथन इर्लिच और बेलारूस के आंद्रेई वेसीलेवस्की को 6-2, 6-3, 10-8 से हराया. इर्लिच और आंद्रेई इस मैच में आठ ऐस सर्विस लगाने के बावजूद हार गए. साथ ही इन दोनों ने रुंगकाट और गोरांसन (3) की तुलना में सिर्फ एक डबल फॉल्ट किए. रुंगकाट और गोरांसन ने पहला सेट आसानी से 6-2 से अपने नाम कर दिया लेकिन इर्लिच और वेसीलेवस्की ने दूसरे सेट में शानदार खेल दिखाते हुए वापसी की और इसे 6-3 से अपने नाम किया. इसके बाद सुपर टाईब्रेकर हुआ, जिसमें दोनों के बीच जोरदार भिड़ंत हुई लेकिन रुंगकाट और गोरांसन 10-8 से जीत हासिल करने में सफल रहे.

लिंकन: विराट कोहली की अगुआई में जहां सीनियर टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज खेल रही है, वहीं इंडिया ए की टीम न्यूजीलैंड ए  के खिलाफ दूसरे गैर आधिकारिक टेस्ट मैच में उतर गई है. हालांकि हनुमा विहारी की कप्तानी में इंडिया ए और न्यूजीलैंड ए के बीच खेला गया पहला गैर आधिकारिक टेस्ट बिना किसी नतीजे के ड्रॉ समाप्त हुआ था. शुक्रवार से शुरू हुए दूसरे मुकाबले में न्यूजीलैंड ए ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पांच विकेट पर 276 रन बना लिए हैं. स्टंप के समय डैन क्लेवर 46 और डेरिल मिचेल 36 रन बनाकर क्रीज पर जमे हुए थे.  

कप्तान ने दिलाई ठोस शुरुआत - न्यूजीलैंड ए के कप्तान रदरफोर्ड ने इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. टीम के लिए ओपनरों रदरफोर्ड और यंग ने अच्छी शुरुआत की. दोनों ने पहले विकेट के लिए 67 रन की साझेदारी की. रदरफोर्ड के रूप में मेजबान टीम को पहला झटका लगा. उन्हें तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज  ने विकेटकीपर केएस भरत के हाथों कैच कराया. रदरफोर्ड ने 79 गेंदों पर 40 रन बनाए. तीसरे नंबर पर उतरे रचिन रवींद्र भी 12 रन बनाकर चलते बने. उन्हें सिराज ने बोल्ड आउट कर पवेलियन भेजा. विल यंग भी कुछ देर बाद 26 रन बनाकर शाहबाज नदीम की गेंद पर स्टंप आउट हो गए.  

अवेश खान ने दिया दोहरा झटका - न्यूजीलैंड ए  ने तीन विकेट 105 रनों पर गंवा दिए थे. इसके बाद ग्लेन फिलिप्स और सीफर्ट ने पारी को आगे बढ़ाया. दोनों ने संभलकर खेलते हुए रन बनाने का सिलसिला जारी रखा. दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 76 रनों की साझेदारी हुई. टीम का स्कोर जब 181 रन था, तभी फिलिप्स अवेश खान की गेंद पर केएल भरत को कैच दे बैठे. उन्होंने 80 गेंदों पर 65 रन बनाए. सीफर्ट भी अधिक देर तक नहीं टिक सके और 64 गेंदों पर 30 रन बनाकर अवेश खान की गेंद पर शुभमन गिल को कैच देकर पवेलियन लौट गए.  

इंदौर की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी अमी कमानी ने पुणे में आयोजित राष्ट्रीय बिलियर्ड्स चैंपियनशिप में महिला वर्ग का खिताब अपने नाम किया। म.प्र. बिलियर्ड्स-स्नूकर एसोसिएशन के चेयरमैन भोलू मेहता ने बताया कि अमी ने खिताबी मुकाबले में दिल्ली की किरत भंडाल को 3-1 (77-66, 55-75, 78-39, 75-32) से मात दी। खिताबी मुकाबला पांच फ्रेम का था, लेकिन अमी ने शानदार खेल दिखाते हुए किरत को 4 फ्रेम में ही हराकर राष्ट्रीय चैंपियन होने का गौरव हासिल किया। वहीं सेमीफाइनल में अमी ने कर्नाटक की गत विजेता उमा देवी को कड़े संघर्ष में 3-2 से पराजित किया था।

अमी कमानी ने क्वार्टर फाइनल में कर्नाटक की एम. चित्रा को हराया था। अमी का यह दूसरा राष्ट्रीय बिलियर्ड्स खिताब है जबकि अब तक वह कुल 8 बार राष्ट्रीय खिताब जीत चुकी है। अमी की सफलता पर भारतीय बिलियर्ड्स-स्नूकर एसो. के उपाध्यक्ष सुनील बजाज, अश्विनी पुराणिक, सुजीत गेहलोत, अशोक सेठी व मितेंद्र गौड़ ने बधाई दी।

 

भारतीय खेल प्राधिकरण ओर हॉकी इंडिया ने जूनियर और सब जूनियर खिलाड़ियों के लिए देश के 7 शहरों में हाई परफार्मेंस केंद्र बनाने की घोषणा की। 

यह कदम ओलंपिक 2024 और 2028 के लिए प्रतिभाओं को तैयार करने के मकसद से उठाया गया है। दिल्ली के ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम पर राष्ट्रीय हॉकी अकादमी, सुंदरगढ (ओडिशा), भोपाल और बेंग्लुरु में साइ केंद्र अगले तीन महीने में शुरू हो जाएंगे जबकि बाकी तीन केंद्र अगले एक साल में शुरू होंगे। हॉकी इंडिया और उसके हाई परफार्मेंस निदेशक इन पर नजर रखेंगे और खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के मौके भी दिए जाएंगे। ये अकादमियां खेलो इंडिया योजना के तहत शुरू की जाएंगी।

हाई परफार्मेंस हॉकी केंद्र शुरू में इन 7 जगहों पर खोले जाएंगे।

1. साइ केंद्र, बेंग्लुरु

2. मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम, दिल्ली

3. साइ सुंदरगढ, ओडिशा

4. साइ यूडीएमसीसी, भोपाल

5. साइ एनएस एनईसी, इम्फाल

6. बालेवाड़ी खेल परिसर, पुणे

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को हराकर तहलका मचाने वाली दो बार की विश्व कैडेट चैंपियन सोनम मलिक देश की स्टार पहलवान विनेश फोगाट को अपना आदर्श मानती हैं और उनके नक्शेकदम पर चलना चाहती हैं। 

17 वर्षीय सोनम सोमवार को यहां बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्स वुमैन ऑफ द ईयर के पांच नामित खिलाड़ियों की घोषणा के अवसर पर मौजूद थीं और उन्होंने इस दौरान अपनी पंसदीदा पहलवान के बारे में पूछने पर कहा, मैं विनेश को ज्यादा बेहतरीन मानती हूं क्योंकि वह सबसे ज्यादा मजबूत पहलवान हैं। आगामी 15 अप्रैल को 18 वर्ष की होने जा रही सोनम के पिता राजेंद्र मलिक और कोच अजमेर मलिक भी इस अवसर पर मौजूद थे। सोनम ने जनवरी के शुरु में ट्रायल मुकाबले में साक्षी को पराजित किया था।
वह मुकाबले के आखिर तक 4-6 से पिछड़ी हुई थी लेकिन उन्होंने अंतिम सेकेंडों में चार अंक लेने वाला दांव लगाते हुए स्कोर 10-10 से बराबर कर दिया। कुश्ती नियमों के अनुसार मुकाबले में स्कोर बराबर रहने की स्थिति में अंतिम अंक लेने वाले खिलाड़ी को विजेता घोषित किया जाता है।

यह पूछने पर कि क्या कभी उन्हें उम्मीद थी कि उनका साक्षी से मुकाबला हो सकता है, सोनम ने कहा, मैं 62 किग्रा वर्ग में खेलती हूं जो साक्षी का वजन वर्ग है। मुझे मालूम था कि मेरा एक ना एक दिन उनसे मुकाबला होना है इसलिए मैं इस चुनौती के लिए हमेशा तैयार थी।” हरियाणा के सोनीपत जिले के गोहाना की पहलवान सोनम को कोच अजमेर अपनी अकादमी में ट्रेनिंग देते हैं और कोच का मानना है कि इस लड़की में ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने का दम है।

क्रिकेट इतिहास की दो चिर-प्रतिद्वंद्वी, भारत और पाकिस्तान की टीमें मंगलवार को सेनवेस पार्क मैदान पर अंडर-19 विश्व कप के सेमीफाइनल में आमने-सामने होंगी। सीनियर टीमों का मैच होता है तो जबरदस्त हो-हल्ला होता है लेकिन युवा टीमों के इस मैच को लेकर अधिक हो-हल्ला नहीं है। वैसे इससे इस मैच की अहमियत कम नहीं होती और दोनों टीमों के लिए यह मैच किसी फाइनल से कम नहीं होगा। आइए जानें भारत के किन खिलाड़ियों पर नजरें हैं...

शीर्ष क्रम में यशस्वी जायसवाल गजब के फॉर्म में चल रहे हैं। उन्होंने 4 मैच खेले हैं और 3 में हाफ सेंचुरी लगाई है। इस दौरान उनके नाम 103.50 की औसत से 207 रन दर्ज हुए हैं। एक बार उनसे वैसे ही प्रदर्शन की उम्मीद होगी। अगर यह बल्लेबाज चल गया तो पाकिस्तान के लिए मुश्किल हो सकती है।

कप्तान प्रियम गर्ग को वैसे तो बैटिंग का बहुत मौका नहीं मिला है, लेकिन यहां सूझ-बूझ भरी कप्तानी के साथ-साथ बैटिंग में भी अच्छा करने का दबाव होगा। उन्होंने वर्ल्ड कप में अपने पहले मैच में श्रीलंका के खिलाफ 72 गेंदों में 56 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली थी, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 रन ही बना पाए थे।

गेंदबाजों की बात करें तो टूर्नमेंट में रवि बिस्नोई ने 4 मैच में कुल 11 विकेट झटके हैं और भारत के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 5 रन देकर 4 विकेट लेने का है, जो जापान के खिलाफ लिया था। इसके अलावा उन्होंने 4 विकेट न्यू जीलैंड के खिलाफ भी 4 विकेट झटके थे। रवि बैटिंग भी अच्छी कर सकते हैं। उन्होंन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल में महत्वपूर्ण 30 रन बनाए थे।

भारतीय टीम के महत्वपूर्ण खिलाड़ी कार्तिक त्यागी भी फॉर्म में हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल में 4 विकेट झटकते हुए भारत को अहम मौके पर जीत दिलाई थी। यह तेज गेंदबाज जब पाकिस्तान के खिलाफ मैदान पर उतरेगा तो वैसे ही करिश्माई प्रदर्शन की उम्मीद होगी। त्यागी ने अब तक 4 मैचों में 9 विकेट झटके हैं।

न्यूजीलैंड के खिलाफ ट्वेंटी-ट्वेंटी सीरीज 5-0 से अपने नाम करने के बाद टीम इंडिया को बड़ा झटका लगा है. टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ी और ओपनर रोहित शर्मा 5 फरवरी से शुरू हो रही तीन मैचों की वनडे सीरीज से बाहर हो गए हैं. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में इस बात की जानकारी दी है. रोहित शर्मा पांचवें ट्वेंटी-ट्वेंटी मुकाबले के दौरान चोटिल हो गए थे. रोहित शर्मा को आखिरी ट्वेंटी-ट्वेंटी मुकाबले में रन लेते हुए पिंडली में चोट लगी थी. चोट के बावजूद रोहित शर्मा ने बल्लेबाजी करने की कोशिश की और एक छक्का भी लगाया. हालांकि ना भाग पाने की वजह से वह रिटायर्ड हर्ट हो गए थे. उन्होंने 41 गेंद की अपनी पारी में तीन चौकों और तीन छक्कों की मदद से 60 रन बनाए. अब जब रोहित शर्मा सीरीज के बाकी मैचों में नहीं खेल पाएंगे तो उनकी जगह मयंक अग्रवाल को भारतीय टीम में शामिल किया जाएगा.जबकि टेस्ट सीरीज में के एल राहुल की वापसी हो सकती है. इसके अलावा पृथ्वी शॉ भी वापसी का दावा पेश करेंगे.

चोट से जूझ रही है टीम इंडिया - न्यूजीलैंड दौरे पर टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ियों का चोटिल होना जारी है. न्यूजीलैंड दौरे की शुरुआत से पहले ही ईशांत शर्मा और शिखर धवन चोट की वजह से बाहर हो गए थे. कुछ दिन पहले हार्दिक पांड्या भी चोट से नहीं उभर पाने की वजह से टेस्ट टीम से बाहर हो गए.

तीन वनडे और दो टेस्ट खेलने बाकी - न्यूजीलैंड दौरे पर टीम इंडिया को अभी तीन वनडे की सीरीज खेलनी है. पहला वनडे बुधवार 5 फरवरी को खेला जाएगा. 21 फरवरी से खेला जाएगा. यह टेस्ट सीरीज आईसीसी की टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा है.

इनफॅार्म भारतीय सलामी बल्लेबाज केएल राहुल ने कहा है कि वह अभी टी-20 वर्ल्ड कप के बारे में ज्यादा नहीं सोच रहे हैं और आगे भी इसी तरह का प्रदर्शन जारी रखना चाहते हैं. राहुल ने रविवार को बे ओवल मैदान में न्यूजीलैंड के साथ समाप्त हुई पांच मैचों की टी-20 सीरीज में 56, नाबाद 57, 27, 39 और 45 रनों की पारी खेली. इसके लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज का पुरस्कार मिला. भारतीय कप्तान विराट कोहली को पांचवें टी-20 मैच से आराम दिया गया था और उनकी जगह रोहित शर्मा इस मैच में कप्तानी कर रहे थे. लेकिन कार्यवाहक कप्तान रोहित चोटिल हो गए वह रिटायर्ड हर्ट हो गए. रोहित के रिटायर्ड हर्ट होने के बाद राहुल को मैच में कप्तानी करने का मौका मिला और उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को सात रनों से जीत दिला दी. भारत ने इस जीत के साथ ही सीरीज में 5-0 से क्लीन स्वीप हासिल कर ली.

राहुल ने मैच के बाद कहा, "हम बहुत खुश हैं कि हमने 5-0 से सीरीज जीती है. मैं इस बात से बहुत खुश हूं कि मैं भारतीय टीम की जीत में भूमिका निभा सका और भारतीय टीम ने मेरे प्रदर्शन के दम पर यह सीरीज जीती." उन्होंने कहा, "मैं वास्तव में अब बहुत अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं और मैं हमेशा कोशिश करता हूं कि टीम में मुझे जो भी भूमिका मिले मैं उसे बखूबी निभा सकूं. अभी हम टी-20 वर्ल्ड कप के बारे में ज्यादा नहीं सोच रहे हैं. लेकिन उम्मीद करता हूं कि मैं अपनी बल्लेबाजी टी-20 वर्ल्ड कप तक इसी प्रकार जारी रख पाऊंगा." भारत पांच फरवरी से न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन वनडे मैच खेलेगा और राहुल ने कहा कि वे 50 ओवर के फॉर्मेट में भी इसी प्रक्रिया का पालन करेंगे. राहुल ने रोहित की चोट पर कहा, "दुर्भाग्यवश रोहित के साथ ऐसा हुआ. लेकिन उम्मीद है कि वह अगले कुछ दिनों में ठीक हो जाएंगे. टीम के रूप में हम एक दूसरे पर बहुत ज्यादा विश्वास करते हैं. हम अब कुछ दिन आराम करेंगे और इस जीत का मजा उठाएंगे."

भारत ने पांचवें और अंतिम टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में न्यूजीलैंड को सात रन से हराया. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए तीन विकेट पर 163 रन बनाये. इसमें कप्तान रोहित शर्मा के 60, राहुल के 45 और श्रेयस अय्यर के नाबाद 33 रन शामिल हैं.

आस्ट्रेलियाई ओपन खिताब के साथ अपना 17वां ग्रैंडस्लैम जीतने वाले नोवाक जोकोविच ने चेताया है कि अब उनकी नजरें रोजर फेडरर के 20 ग्रैंडस्लैम के रिकार्ड पर लगी है. दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी बने जोकोविच ने डोमिनिक थिएम को पांच सेटों में हराकर आठवीं बार आस्ट्रेलियाई ओपन जीता.

नोवाक जोकोविच के अलावा फेडरर और नडाल ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो एक ग्रैंडस्लैम आठ या अधिक बार जीत चुके हैं. सर्बिया के इस खिलाड़ी ने कहा, ''अपने कैरियर के इस चरण में मेरे लिये सबसे अहम ग्रैंडस्लैम हैं.''

उन्होंने कहा, ''ग्रैंडस्लैम की वजह से ही मैं खेल रहा हूं. मेरी नजरें सबसे ज्यादा ग्रैंडस्लैम जीतने का रिकार्ड बनाने पर लगी है. यही सबसे बड़ा लक्ष्य है.''

 स्पेन के दिग्गज फुटबाल क्लब बार्सिलोना ने ब्राजील के मिडफील्डर मैथ्यूज फर्नाडीज के साथ करार करने की घोषणा की है। क्लब ने फर्नाडीज के साथ 7 मिलियन यूरो का करार किया है और वह अब अगले पांच साल तक इस क्लब में बने रहेंगे। बार्सिलोना ने एक बयान में कहा, एफसी बार्सिलोना ने मैथ्यूज फर्नाडीज के साथ करार किया है और वह एक जुलाई को क्लब से जुडेंगे।

फर्नाडीज ने 2016 में ब्राजील की फर्स्ट क्लब के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। 2019 में वह पालमिरास पहुंच गए थे, जहां उन्होंने 11 मैचों में एक गोल किया था। वह ब्राजील की अंडर-17 टीम और अंडर-20 टीम के लिए 2-2 मैच खेल चुके हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या पूरी तरह फिट ना होने के कारण न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली 2 मैचों की टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं। हार्दिक राष्ट्रीय क्रिकेट संघ (एनसीए) के प्रमुख फिजियो आशीष कौशिक के साथ लंदन गए थे। जहां पर स्पाइनल सर्जन डाक्टर जेम्स आलीबोन ने उनकी चोट की जांच की। अब पंड्या जब तक पूरी तरह से फिटनेस हासिल नहीं कर लेते हैं तब तक वह एनसीए में ही रिहैब करेंगे। 

टेस्ट सीरीज का पहला मैच 21 फरवरी को वेलिंग्टन में होगा - चोट के कारण पंड्या पहले ही न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 और वनडे सीरीज में जगह नहीं बना पाए थे। BCCI ने बताया कि हार्दिक जब तक पूरी तरह से फिटनेस हासिल नहीं कर लेते हैं तब तक वह एनसीए में ही रिहैब करेंगे। भारत-न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला 21 फरवरी को वेलिंग्टन और दूसरा 29 फरवरी को क्राइस्टचर्च में खेला जाएगा। 

India vs New Zealand भारत और न्यूजीलैंड (Ind vs NZ) के बीच खेली जी रही पांच टी-20 मैचों की सीरीज़ में टीम इंडिया ने (Team India) 3-0 की अजेय बढ़त बना ली है. इसी के साथ भारत ने न्यूज़ीलैंड की ज़मीन पर इतिहास भी रच दिया है, क्योंकि ये पहला मौका है जब कीवी धरती पर भारतीय टीम ने टी-20 सीरीज़ जीत की उपलब्धि हासिल की है. तीसरा मैच टीम इंडिया के लिए बेहद खास रहा और इस मैच का नतीज़ सुपर ओवर (Super Over) से निकला. इस रोमांचक मुकाबले भारत की जीत के हीरो रहे रोहित शर्मा (Rohit Sharma). रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 40 गेंदों पर 65 रन की दमदार पारी खेली और फिर जब मैच सुपर ओवर में पहुंचा तो उन्होंने आख़िर की दो गेंदों पर दो छक्के लगा कर टीम इंडिया को जीत दिला दी.

रोहित शर्मा के लिए भी खास रहा ये मैच - तीसरे टी-20 मैच में ओपनर रोहित शर्मा 40 गेंदों में 65 रन बनाए, लेकिन मजे की बात ये है कि इस पारी के दौरान उन्होंने पहली 11 गेंदों पर सिर्फ़ 12 रन बनाए थे, लेकिन इसके बाद उन्होंने अपना गियर चेंज किया और फिर अगली 12 गेंदों में ही उन्होने अपने 50 रिन पूरे कर लिए. इसके बाद जब मैच सुपर ओवर में पहुंचा, तो वहां पर भी रोहित ने द हिटमैन शो दिखाते हुए आख़िर की दो गेंदों पर दो छक्के लगा टीम इंडिया को जीत दिला दी. रोहित ने भारत को इस मैच में जीत तो दिलाई ही इसके साथ ही साथ उन्होंने इस बेहद ही रोमांचक मुकाबले में एक खास मुकाम भी हासिल कर लिया. इस अहम मैच में रोहित शर्मा ने बतौर भारतीय ओपनर सभी फॉर्मेट में अपने 10 हज़ार रन भी पूरे कर लिए.

गावस्कर, सचिन और सहवाग को छोड़ा पीछे -रोहित शर्मा से पहले सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और विरेंदर सहवाग भी ये कारनामा कर चुके हैं. लेकिन रोहित इस मामले में बेहद ख़ास हैं क्योंकि वो एकलौते खिलाड़ी हैं जिनका औसत 50 से ऊपर का रहा है. मैच में बनाए अर्धशतक के साथ रोहित अंतरराष्ट्रीय टी-20 में संयुक्त रूप से सबसे ज्यादा 50 रनों से अधिक की पारी खेलने वाले खिलाड़ी बन गए है. उन्होंने इस पारी के जरिए विराट कोहली की बराबरी कर ली है. अब दोनों टी-20 में 24 बार 50 रनों से अधिक की पारी खेलने वाले खिलाड़ी बन गए है. इन 24 पारियों में रोहित के नाम चार शतक भी है. यह भी एक रिकॉर्ड है. वहीं विराट कोहली अंतरराष्ट्रीय टी20 में शतक नहीं लगा पाए है.

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने साइना नेहवाल का नाम लिए बिना उनके बीजेपी में शामिल होने पर तंज कसा है. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा , ‘‘पहली बार सुना है. बेवजह खेलना शुरू किया और अब बेवजह पार्टी ज्वाइन किया.’’
सोशल मीडिया में ज्वाला के इस ट्वीट पर लोगों ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है. सानिया और उनकी बड़ी बहन चंद्रांशू नेहवाल बुधवार को बीजेपी में शामिल हो गईं. बीजेपी में शामिल होने पर बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री जिस तरह से दिन रात काम करते हैं, वह मुझे बहुत पसंद है. मुझे देश के लिए कुछ करना पसंद है और बीजेपी एक ऐसी पार्टी है जो देश के लिए अच्छा काम कर रही है, मुझे पार्टी में शामिल होने की खुशी है. 8 फरवरी को दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले साइना का बीजेपी ज्वाइन करना पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. माना जा रहा है कि सायना के बीजेपी में आने से दिल्ली चुनाव में पार्टी और मजबूत होगी और सत्ताधारी आम आदमी पार्टी पर बीजेपी को बढ़त मिलेगी.

साइना के फैंस ने जमकर किया ट्रोल  - ज्वाला के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया में साइना के फैंस ने उन्हें जमकर ट्रोल किया. लोगों ने ज्वाला को याद दिलाया कि साइना ने भारत के लिए जीतकर देश का सम्मान बढ़ाया है. वहीं ज्वाला ने बाद में अपने ट्वीट के लिए लोगों को सफाई दी. अपने ट्वीट के चार घंटे के बाद, ज्वाला ने साइना को बीजेपी ज्वाइन करने पर बधाई भी दी. ज्वाला ने ट्वीटर पर लिखा, "साइना, पार्टी ज्वाइन करने के लिए आपको शुभकामना...मेरी शुभकामना है कि तुम देश की महिलाओं और महिला खेल के लिए कुछ बड़ा करोगी. हां यह कठिन है लेकिन मुझे उम्मीद है तुम एक बड़ा परिवतन करोगी, गुड लक." उल्लेखनीय है कि साइना ने बीजेपी महासचिव अरुण सिंह सिंह की उपस्थिति में बुधवार को पार्टी ज्वाइन किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि बीजेपी में शामिल होना उनके लिए सौभाग्य की बात है. साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश के लिए योगदान करने का वादा किया.

वेलिंगटन. विराट कोहली क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में बतौर कप्तान और बतौर बल्लेबाज ढेरों उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं और कर चुके हैं. मगर कप्तान के तौर पर अब तक उनके पास आईसीसी की एक भी ट्रॉफी नहीं है. यही वो पैमाना है, जिस पर इतिहास उन्हें कसौटी पर कसेगा. साल 2019 में इंग्लैंड में हुए आईसीसी वर्ल्ड कप में भी टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के हाथों सेमीफाइनल में शिकस्त का सामना करना पड़ा था. ऐसे में जबकि मौजूदा समय में भारतीय टीम पांच मैचों की टी20 सीरीज, तीन मैचों की वनडे सीरीज और दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने के लिए न्यूजीलैंड में हैं तो उसके लिए राहत की खबर आई है. टीम इंडिया टी20 सीरीज में शुरुआती तीनों मुकाबले जीतकर अजेय बढ़त बना चुकी है. इसी सीरीज के बाद उसे पांच फरवरी से वनडे सीरीज में उतरना है.  

वनडे सीरीज के लिए टीम का ऐलान
भारत  के खिलाफ वनडे सीरीज में न्यूजीलैंड की मुश्किल बढ़ गईं हैं. मेजबान टीम ने वनडे सीरीज के लिए टीम का ऐलान कर दिया है, जिसमें उसे तिहरा झटका लगा है. उसके तीन अहम तेज गेंदबाज चोट के चलते टीम इंडिया के खिलाफ वनडे सीरीज नहीं खेल पाएंगे. इन खिलाड़ियों में भारतीय टीम को आईसीसी वर्ल्ड कप सेमीफाइनल  में धूल चटाने वाले ट्रेंट बोल्ट , लॉकी फग्युर्सन और मैट हेनरी शामिल हैं. ट्रेंट बोल्ट के हाथ में चोट है, जबकि मैट हेनरी के अंगूठे में चोट लगी है. वहीं फग्युर्सन की पिंडलियों में खिंचाव है. ये तीनों खिलाड़ियों ऑस्ट्रेलिया में खेलने के दौरान चोटिल हुए थे. इन तीनों तेज गेंदबाजों ने वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ मिलकर छह विकेट लिए थे और टीम की जीत का आधार रख दिया था.  

 

महेंद्र सिंह धोनी के बारे में कहा जाता है कि वो न सिर्फ अपनी बल्लेबाजी बल्कि कप्तानी से भी मैच जिताने का दम रखते हैं. दुनिया के बेहतरीन कप्तानों में शुमार और टीम इंडिया के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने भले ही जुलाई 2019 से क्रिकेट के मैदान पर कदम नहीं रखा है, लेकिन वो एक बार फिर कप्तान की भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं. धोनी ने पिछला मैच आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल के तौर पर खेला था, जिसमें टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. उसके बाद से धोनी के भविष्य को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है. हालांकि उन्होंने खुद इस बारे में स्थिति साफ नहीं की है.

आईपीएल के उद्घाटन मैच से पहले ऑल स्टार मैच का आयोजन
महेंद्र सिंह धोनी (इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के कप्तान हैं. वह अपनी टीम को तीन बार इस टूर्नामेंट का विजेता बना चुके हैं. आईपीएल का 13वां सीजन इस साल 29 मार्च से शुरू होगा, जबकि खिताबी मुकाबला 24 मई को मुंबई में खेला जाएगा. हालांकि इस बार के आईपीएल के उद्घाटन से तीन दिन पहले एक ऑल स्टार मैच का आयोजन भी किया जाएगा. माना जा रहा है कि इसमें आईपीएल (IPL) की सभी आठों फ्रेंचाइजियों के खिलाड़ी शामिल होंगे. माना जा रहा है कि ये मैच उत्तर व पूर्वी भारत की चार फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब, दिल्ली कैपिटल्स, राजस्‍थान रॉयल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स व दक्षिण और पश्चिम भारत की फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपरकिंग्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सनराइजर्स हैदराबाद और मुंबई इंडियंस के खिलाड़ियों के बीच होगा.  

एबी डिविलियर्स भी होंगे धोनी की टीम का हिस्सा
अगर ऐसा हुआ तो फिर दुनिया एक बार फिर विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे दिग्गजों को महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेलता देखेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि एमएस धोनी चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान हैं जबकि विराट कोहली के पास रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और रोहित शर्मा के पास मुंबई इंडियंस की कप्तानी है. ऐसे में जबकि ये तीनों खिलाड़ी ऑल स्टार मैच में एक ही टीम के लिए खेलेंगे तो इस बात में कोई शक नहीं है कि टीम की कमान एमएस धोनी के ही हाथ में रहेगी. 

चोटिल खिलाड़ी की विपक्षी टीम ने ऐसे की मदद - न्यूजीलैंड की टीम ने बुधवार को भारत के हाथों टी-20 मुकाबला भले ही सुपर ओवर में गंवाया हो, लेकिन उनकी जूनियर टीम (अंडर-19) वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पहुंच गई है. अब उसका मुकाबला साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश के बीच सुपर लीग क्वार्टर फाइनल मुकाबले के विजेता से होगा.

बेनोनी (साउथ अफ्रीका) में खेले गए अंडर-19 वर्ल्ड कप के सुपर लीग क्वार्टर फाइनल में न्यूजीलैंड ने वेस्टइंडीज को 2 विकेट से हराया. पहले बल्लेबाजी करते हुए विंडीज की टीम 47.5 ओवरों में 238 रन पर सिमट गई. न्यूजीलैंड टीम ने 49.4 ओवर में 8 विकेट खोकर जीत का लक्ष्य हासिल कर लिया. यह मैच न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों की खेल भावना के लिए याद रखा जाएगा. दरअसल, जब वेस्टइंडीज के बल्लेबाज को चलने में दिक्कत हुई, तो कीवी क्रिकेटर्स ने उस खिलाड़ी को अपने कंधों का सहारा दिया.इस मुकाबले में विंडीज के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले किर्क मैकेंजी जब 99 रन बनाए थे, तब वह रिटायर्ड हर्ट हो गए. उस वक्त टीम का स्कोर 6 विकेट पर 205 रन था. इसके बाद मैकेंजी आखिरी बल्लेबाज के रूप में उतरे, लेकिन वह बोल्ड हो गए. मैकेंजी के पैर में तकलीफ थी. जब तक उनकी मदद के लिए कोई और मैदान में पहुंचता, उन्हें विपक्षी टीम के जेसी ताशकॉफ और जॉय फील्ड ने कंधे पर उठा लिया और मैदान के बाहर ले गए.

साइना ने भाजपा से जुड़कर जल्द बैडमिंटन को अलविदा कहने के संकेत दिए
 नयी दिल्ली, पिछले कुछ अर्से से सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार की नीतियों की खुलकर सराहना करने वाली साइना नेहवाल ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से जुड़कर चोटों से प्रभावित रहे अपने सुनहरे करियर को जल्द ही अलविदा कहने के संकेत दे दिए हैं। भाजपा से जुड़ने के दौरान साइना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी जमकर सराहना की। पार्टी आगामी दिल्ली चुनाव में युवा मतदाताओं में पैठ बनाने के लिये उन्हें यूथ आइकन के रूप में पेश कर सकती है । दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी रही साइना का करियर पिछले कुछ समय से चोटों से प्रभावित रहा है जिसका असर उनके खेल पर भी पड़ा है।रियो ओलंपिक 2016 में जल्दी बाहर होने के बाद इस स्टार खिलाड़ी को घुटने का आपरेशन कराना पड़ा था और इसके बाद से इस चोट ने उन्हें लगातार परेशान किया है। पूर्व ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साइना ने 2018 से 30 से अधिक टूर्नामेंटों में हिस्सा लिया और इस दौरान सिर्फ दो खिताब जीत पाईं। साथ ही इस दौरान लगभग आधे टूर्नामेंटों में वह क्वार्टर फाइनल में भी जगह नहीं बना पाई। साइना के लिए इस साल होने वाले तोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करने की राह भी आसान नहीं होगी।साइना की विश्व रैंकिंग अभी 18 है और अगर वह 30 अप्रैल को जारी होने वाली रैंकिंग में शीर्ष 16 में जगह नहीं बना पाती हैं तो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाएंगी। तोक्यो ओलंपिक में महिला एकल में कोई देश अधिकतम दो खिलाड़ियों को कोर्ट पर उतार सकता है लेकिन इसके लिए ये दोनों खिलाड़ी विश्व रैंकिंग में शीर्ष 16 में होनी चाहिए। पीवी सिंधू की विश्व रैंकिंग अभी छह है और अगर साइना शीर्ष 16 में जगह बनाने में नाकाम रहती हैं तो उनका चौथी बार ओलंपिक में हिस्सा लेने का सपना टूट जाएगा।माना जा रहा है कि अगर साइना ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहती हैं तो वह राजनीति में सक्रिेय भूमिका निभा सकती हैं। हिसार में जन्मीं साइना साथ ही इस साल 17 मार्च को 30 बरस की हो जाएंगी और ऐसे में लोगों का मानना है कि पिछले कुछ समय से चोटों से परेशान रहने के कारण वैसे भी उनका अंतरराष्ट्रीय करियर अधिक नहीं बचा है। खेल जगत में साइना जाना माना चेहरा हैं और भारत में बैडमिंटन को लोकप्रिय बनाने में उनक

ब्रायंट ने शाकिल ओ नील के साथ मिलकर लेकर्स को 2000, 2001 और 2002 में खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी.

ब्रायंट की अगुवाई में अमेरिका की ओलंपिक टीम ने 2008 बीजिंग ओलंपिक और 2012 लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते थे. इससे वह वैश्विक हस्ती बन गये थे.

वाशिंगटनकभी हार न मानने के जज्बे, कड़ी प्रतिस्पर्धा और सटीकता के कारण कोबे ब्रायंट एनबीए के दिग्गज बने और वह अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए, जिसने नेशनल बास्केटबॉल लीग की नई पीढ़ी और दुनिया भर के फैन्स को प्रेरित किया. ब्रायंट की कल 41 साल की उम्र में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई. आज पूरी दुनिया उनकी जाने पर आंसू बहा रही है. हर कोई उनकी उपलब्धियों को याद कर शोक मना रहा है.

23 साल की उम्र में 3 खिताब जीतने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बने - कोबे ब्रायंट लॉस एंजिलिस लेकर्स के साथ 20 साल तक जुड़े रहे और इस दौरान उनकी टीम ने पांच एनबीए खिताब जीते. कोबे बीन ब्रायंट पूर्व एनबीए खिलाड़ी जो ‘जेलीबीन’ ब्रायंट के बेटे थे. उनका 23 अगस्त 1978 को फिलाडेल्फिया में जन्म हुआ था. ब्रायंट ने शाकिल ओ नील के साथ मिलकर लेकर्स को 2000, 2001 और 2002 में खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी. इस तरह से वह 23 साल की उम्र में तीन खिताब जीतने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बने थे.

बीजिंग और लंदन ओलंपिक के बाद बने वैश्विक हस्ती  - इसके बाद ओ नील ने ब्रायंट के साथ झगड़े के कारण लेकर्स को छोड़ दिया. इससे ब्रायंट का खेल भी प्रभावित हुआ और इसके बाद स्पेन के पाउ गैसोल के आने तक उनकी टीम कोई खिताब नहीं जीत पायी. ब्रायंट की अगुवाई में लेकर्स ने 2009 और 2010 में खिताब जीते. बाद में उनकी ओ नील से सुलह हो गयी थी. ब्रायंट की अगुवाई में अमेरिका की ओलंपिक टीम ने 2008 बीजिंग ओलंपिक और 2012 लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते थे. इससे वह वैश्विक हस्ती बन गये थे. उन्होंने कई शानदार प्रदर्शन किये लेकिन 22 जनवरी 2006 को टोरंटो रैप्टर्स के खिलाफ उनके प्रदर्शन को कोई नहीं भुला सकता जब उन्होंने 81 अंक बनाये. उनसे अधिक अंक केवल विल्ट चैंबरलेन (100 अंक) ने 1962 में बनाये थे. यही नहीं 2016 में 37 साल की उम्र में उन्होंने एनबीए के अपने अंतिम मैच में भी उटाह के खिलाफ 60 अंक बनाये थे.

'बास्केटबॉल मेरा जीवन है' - ब्रायंट ने कहा था, ‘

टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारी के लिए अहम मानी जा रही पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच में शुक्रवार को टीम इंडिया का सामना खिलाड़ियों की चोटों से प्रभावित न्यूजीलैंड टीम से होगा. इस व्यस्त सत्र में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी सरजमीं पर आखिरी वनडे के पांच दिन के भीतर यहां टी-20 मैच खेल रही है. यह मुकाबला भारतीय समयानुसार दोपहर 12.20 से खेला जाएगा.

विराट कोहली की कप्तानी में टीम मंगलवार को आकलैंड पहुंची और बुधवार को आराम किया. टीम ने गुरुवार को अभ्यास किया. दूसरी ओर व्यस्तता के कारण टीम प्रबंधन चयन में निरंतरता लाने में कामयाब रहा है, चूंकि विश्व कप से पहले उसे सर्वश्रेष्ठ संयोजन तलाशना है.

टी-20 विश्व कप इस साल अक्टूबर में ऑस्ट्रेलिया में होगा. शिखर धवन, हार्दिक पंड्या, दीपक चाहर और भुवनेश्वर कुमार की चोटों के बावजूद वैकल्पिक खिलाड़ियों ने अपनी उपयोगिता साबित करके टीम को कमी नहीं खलने दी है.

धवन के विकल्प के तौर पर केएल राहुल ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया. इसके बाद धवन के लौटने पर उनके साथ अच्छी सलामी जोड़ी बनाई जब रोहित शर्मा को आराम दिया गया था. इस बार भी धवन की गैरमौजूदगी में रोहित और राहुल पारी की शुरुआत करेंगे.

कप्तान कोहली ने संकेत दिया है कि बल्लेबाज विकेटकीपर के तौर पर राहुल की दोहरी भूमिका से टीम को अधिक विकल्प मिले हैं. कोहली के अनुसार राहुल वनडे और टी-20 दोनों में विकेटकीपिंग करते रहेंगे. वह टी-20 में पारी की शुरूआत करेंगे, लेकिन वनडे में मध्यक्रम में ही उतरेंगे. इसके मायने हैं कि तीन मैचों की वनडे सीरीज में रोहित के साथ पृथ्वी शॉ पारी का आगाज कर सकते हैं. राहुल के विकेटकीपिंग करने पर ऋषभ पंत अंतिम एकादश से जगह खो सकते हैं. मनीष पांडे पांचवें विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में उतर सकते हैं और श्रेयस अय्यर चौथे स्थान पर रहेंगे. पांडे, अय्यर और पंत ने गुरुवार को नेट्स पर साथ में अभ्यास किया जबकि संजू सैमसन बाद में उतर. सैमसन का पहले टी-20 में खेलना तय नहीं लग रहा. भारत अगर पांच गेंदबाजों को लेकर उतरता है और छठे विकल्प के रूप में शिवम दुबे को बाहर रखता है तो पंत और पांडे दोनों अंतिम एकादश में आ सकते हैं.

 

आस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच ने भारतीय कप्तान विराट कोहली को ऑल टाइम ग्रेट वनडे प्लेयर करार दिया जबकि रोहित शर्मा को शीर्ष पांच में शामिल किया. रोहित ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे में 119 रन बनाए जो उनका 29वां वनडे शतक है. कोहली ने 89 गेंदों पर 91 रन बनाये. इन दोनों ने 137 रन की साझेदारी की जिससे भारत ने यह मैच आसानी से जीत लिया. ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरोन फिंच का मानना है कि सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के कंधे की चोट के कारण बल्लेबाजी के लिए नहीं उतरने के बावजूद इन दोनों की पारियों से भारत ने 287 रन के लक्ष्य को आसानी से हासिल किया. फिंच ने मैच के बाद कहा, "उनके पास विराट हैं जो शायद ऑल टाइम ग्रेट वनडे खिलाड़ी हैं और रोहित है जो शायद ऑल टाइम ग्रेट बल्लेबाजों की सूची में टॉप पांच में शामिल होगा. वे लाजवाब हैं और अभी भारतीय टीम की विशेषता यह है कि उसके अनुभवी खिलाड़ी बड़े मैचों में अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभा रहे हैं."

उन्होंने कहा, "रोहित ने शतक जड़ा. शिखर के नहीं खेल पाने के कारण उन्हें बदलाव करना पड़ा और उनके दो सबसे अनुभवी खिलाड़ियों ने सर्वाधिक योगदान दिया जिससे पता चलता है कि उनका शीर्ष क्रम कितना मजबूत है." आस्ट्रेलिया ने अंतिम दस ओवरों में केवल 63 रन बनाए और इस बीच पांच विकेट गंवाए और फिंच की नजर में यह टीम पर भारी पड़ा. फिंच ने कहा, "पिछले दो मैचों में आखिर के अधिकतर ओवरों में हमारे गेंदबाजों ने बल्लेबाजी की. हमने राजकोट में देखा कि केएल राहुल ने अंतिम ओवरों में हमें कितना नुकसान पहुंचाया क्योंकि वे मंझे हुए बल्लेबाज हैं. मुझे लगता है कि इस मामले में हमसे चूक हुई. हमारे पास ऐसा बल्लेबाज नहीं था जो अंतिम 20-30 गेंदों पर हमारे लिये पर्याप्त रन जुटा पाता." एरोन फिंच ने आगे कहा, "लेकिन श्रेय भारत को जाता है. पिछले कुछ मैचों में डेथ ओवरों की उसकी गेंदबाज बेजोड़ रही. मोहम्मद शमी, नवदीप सैनी और जसप्रीत बुमराह ने पिछले दोनों मैचों में शानदार गेंदबाजी की. आप उन क्षेत्रों की पहचान कर सकते हो जिनमें आपको सुधार करना है लेकिन आपको भारत को भी श्रेय देना होगा."

        भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कल सीरीज का तीसरा और आखिरी वनडे मैच बेंगलुरू में खेला जाएगा. इस मैच में चोटिल शिखर धवन और रोहित शर्मा के खेलने को लेकर सस्पेंस बढ़ गया है. हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कहा है कि शिखर धवन और रोहित शर्मा के खेलने को लेकर कल सुबह फैसला लिया जाएगा.

बीसीसीआई ने कहा है कि शिखर धवन और रोहित शर्मा तेजी से सुधार कर रहे हैं. उनपर नजर रखी जा रही है. कल अंतिम एकदिवसीय मैच में दोनों खिलाड़ियों के खेलने को लेकर मैच से पहले फैसला लिया जाएगा. शुक्रवार जब भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच में रोहित शर्मा बाउंड्री पर फील्डिंग कर रहे थे तभी गेंद को रोकते हुए नीचे गिरे जिसमें उनके बाएं कंधे में चोट लग गई. रोहित इस दौरान गेंद को फेंकने में भी सक्षम नहीं थे. इसके बाद रोहित फीजियो नीतिन पटेल के साथ मैदान के बाहर गए जहां केदार जाधव को फील्डिंग करने का मौका मिला.

वहीं शिखर धवन को भी दूसरे मैच में एक शॉट खेलते हुए 10वें ओवर में पैट कमिंस की गेंद पर पसली में भी चोट लगी थी. धवन भी फील्डिंग के दौरान मैदान पर नहीं उतरे थे. दूसरे मैच में शिखर धवन में 90 गेंदों पर 96 रनों की पारी खेली थी. अगर कल के मैच के लिए धवन रिकवरी करने में नाकाम रहते हैं तो भारतीय टीम के लिए यह किसी बड़े झटके से कम नहीं होगा. रोहित शर्मा ने भी 42 रनों की पारी खेली थी. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए दूसरे वनडे मैच में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराकर सीरीज को 1-1 की बराबरी पर ले आई है. ऐसे में टीम इंडिया का कल फाइनल मुकाबला बेंगलुरू में खेला जाएगा. ऐसे में रोहित और धवन का खेलना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर टीम इंडिया के ये दोनों ओपनर्स ये मैच नहीं खेलते हैं तो ऑस्ट्रेलिया को फायदा पहुंच सकता है और टीम इंडिया इस दौरान बैकफुट पर नजर आ सकती है.

         विश्व की दो दिग्गज टीमें भारत और आस्ट्रेलिया के बीच रविवार को यहां होने वाला तीसरा और निर्णायक वनडे मैच रोमाचंक होने की संभावना है. सीरिज में अभी तक दोनों ही टीमों ने एक-एक मुकाबला जीत रखा है. अब दोनों ही टीमें आखिरी मैच जीतकर सीरिज जीतने के इरादे से उतरेंगी. फाइनल मैच बेंगलुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला जाएगा. सीरीज के पहले मैच में जहां ऑस्ट्रेलिया ने जीता वहीं दूसरे मुकाबले में भारत ने वापसी करते हुए टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हरा दिया. मुंबई में खेले गए पहले वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को बुरी तरह हराया था वहीं राजकोट में भारत ने हर क्षेत्र में बेहतरीन प्रदर्शन करके जीत दर्ज की है. अब दोनों ही टीमों की निगाहें सीरिज के आखिरी निर्णायक मुकाबले पर होंगी. दोनों ही टीमें इस मैच को जीतकर सीरिज पर कब्जा जमाना चाहेंगी.

दूसरे वनडे में भारत की तरफ से रोहित शर्मा और शिखर धवन ने पारी का आगाज किया. जबकि कप्तान विराट कोहली अपने पसंदीदा तीसरे नंबर पर उतरे और श्रेयस अय्यर चौथे नंबर पर आए. अब तीसरे वनडे में भी यही बल्लेबाजी क्रम बरकरार रहने की संभावना है. गेंदबाजी में किसी तरह के बदलाव की संभावना नहीं है और टीम तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों के साथ ही उतर सकती है. कुलदीप यादव पिछले साल अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाए थे, हालांकि पिछले मैच में उन्होंने एक ओवर में अलेक्स कैरी और स्टीव स्मिथ के विकेट लेकर खुद को साबित किया था. वहीं इस मैच से पहले भारत के लिए कुछ मुश्किलें भी हैं. पिछले मुकाबले में फिल्डिंग करते वक्त सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा चोटिल हो गए थे. टीम को विश्वास है कि वे मैच से पहले फिट हो जाएंगे. इसके अलावा दूसरे वनडे में चोटिल ऋषभ पंत की जगह मनीष पांडे को खेलने का मौका मिला था. अब देखना होगा कि बाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज मैच के लिए फिट हो पाएंगे या नहीं.

         बीसीसीआई द्वारा केंद्रीय अनुबंध से दरकिनार करने की खबरों के बीच महेंद्र सिंह धोनी ने जब अपने घरेलू राज्य झारखंड की रणजी टीम के साथ अभ्यास किया तो टीम के कोच राजीव कुमार को अपनी बल्लेबाजी से हैरान कर दिया. यह पहली बार था जब धोनी ने विश्व कप-2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार के बाद बल्ला थामा हो. कुमार ने कहा कि उनको लग रहा था कि धोनी को बल्लेबाजी में थोड़ी परेशानी होगी, लेकिन वो बल्ले के बीचोंबीच से गेंद को मार रहे थे. कोच ने कहा कि धोनी ने आईपीएल-2020 की तैयारियां शुरू कर दी हैं.

उन्होंने कहा, "मैं ईमानदारी से कहूं तो.. मुझे लगा था कि धोनी ने लंबे समय से ट्रेनिंग नहीं की है तो उन्हें थोड़ी परेशानी होगी. आखिरी बार जब हमने बात की थी तो उन्होंने कहा था कि वह जनवरी में शुरू करेंगे और देख लीजिए उन्होंने अभ्यास शुरू कर दिया. वह अपनी बात पर कायम रहने वाले खिलाड़ी हैं. इसमें कोई हैरानी वाली बात नहीं थी कि वह टीम के बाकी खिलाड़ियों के साथ किसी आम झारखंड के खिलाड़ी की तरह ही खेल रहे थे, लेकिन जिस बात से मुझे हैरानी हुई वह यह थी कि उन्होंने लगभग हर गेंद को बल्ले के बीचों-बीच लिया, चाहे वो तेज गेंदबाज हों या स्पिनर. उन्होंने थ्रोडाउनस को भी अच्छी तरह खेला." कोच ने कहा, "मैंने राष्ट्रीय टीम को लेकर उनसे अभी तक बात नहीं की है. लेकिन अगले आईपीएल के लिए उन्होंने तैयारियां शुरू कर दी हैं. टीम रविवार से रणजी ट्रॉफी खेलने में व्यस्त होगी वहीं धोनी तब तक अभ्यास करेंगे जब तक वो रांची में हैं."

कोच से जब पूछा गया कि इन दो दिनों में धोनी ने उन चीजों से कुछ हटकर किया जो वो आमतौर पर करते हैं तो कोच ने कहा कि उन्होंने गेंदबाजों से काफी बातें कीं. कोच ने कहा, "वह बेहद पेशेवर खिलाड़ी हैं. उन्होंने युवाओं के साथ समय बिताया, खासकर गेंदबाजों के साथ. उन्होंने गेंदबाजों से लाइन और लैंग्थ को लेकर चर्चा की. उन्होंने बताया कि कहां और किधर गेंद डालनी चाहिए और बल्लेबाजों को कैसे फंसाना चाहिए. धोनी जैसे सीनियर खिलाड़ी से जितनी उम्मीद की जानी चाहिए वे उतने ही खुलकर खिलाड़ियों से बात कर रहे थे."

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज कल से शुरु होने जा रही है. ये सीरीज भारत में ही खेली जाएगी. इस दौरान दोनों टीमों को अपने बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद है. सीरीज को लेकर ऑस्ट्रेलिया पूर्व कप्तना और दिग्गज बल्लेबाज रिकी पोंटिंग ने अपनी राय रखी है.

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया की सीरीज से पहले रिकी पोंटिंग ने ट्विटर पर ऑस्ट्रेलिया के दमदार प्रदर्शन करने का दावा किया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, "वर्ल्डकप में शानदार प्रदर्शन करने के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम आत्मविश्वास में नजर आएगी. हमारी टीम ये सीरीज 2-1 जीत सकती है.

बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच मुंबई में खेला जाएगा. भारत ने हाल ही में श्रीलंका को टी20 सीरीज में 2-0 से मात दी तो वहीं ऑस्ट्रेलिया ने भी न्यूजीलैंड को टेस्ट सीरीज में 3-0 से मात दी. पिछली बार जब भारत और ऑस्ट्रेलिया का मुकाबला हुआ था तो ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 3-2 से हराया था. ऐसे में टीम इंडिया की इस बार पूरी कोशिश होगी कि वो पिछली सीरीज का हार का बदला इस बार जरूर ले.

 

टीम इंडिया के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या एक बार फिर सुर्खियों में हैं. इस बार किसी विवाद को लेकर नहीं बल्कि इस बार उन्होंने अपने बयान से अपने फैंस का दिल जीत लिया. दरअसल पिछले कुछ समय से बतौर फिनिशर उनकी तुलना पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से की जा रही थी. जिस पर उन्होंने ऐसा बयान दिया जिसकी हर तरफ प्रशंसा हो रही है. चोट के कारण टीम से बाहर चल रहे ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने उनकी तुलना एम एस धोनी से करने पर कहा है, "मैं कभी भी एम एस धोनी की कमी पूरी नहीं कर सकता, मैं तो उस बारे में सोचता ही नहीं हूं. मैं आने वाली चुनौतियों को लेकर एक्साइटेड हूं. मैं जो भी, जब भी करूंगा वो टीम के लिए सोचकर करूंगा. ये वर्ल्ड कप की तरफ बढ़ाया गया पहला कदम होगा और फिर धीरे-धीरे कप आ जाएगा."

वहीं एक शो 'कॉफी विद करण' में दिए गए अपने बयान का भी पांड्या ने जिक्र किया. उन्होंने कहा, "जो भी कमेंट्स किए गए, वो ऐसे समझ लीजिए कि उस समय गेंद मेरे पाले में नहीं थी." पांड्या ने कहा कि "मुझे मालूम नहीं था कि एक क्रिकेटर के तौर पर इसके बाद हमें क्या कुछ झेलना पड़ेगा. बता दें कि लोअर इंजरी होने के कारण हार्दिक पांड्या पिछले साल सितंबर से क्रिकेट से दूर हैं और अब वह टीम इंडिया में वापसी को लेकर बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. माना जा रहा है कि अगले महीने न्यूजीलैंड के दौरे पर जा सकते हैं. इस दौरे से पहले पांड्या इंडिया ए के साथ मैच खेलते नजर आएंगे.

भारत और श्रीलंका की क्रिकेट टीमें शुक्रवार को महाराष्ट्र क्रिकेट संघ (एमसीए) स्टेडियम में तीसरे और आखिरी टी-20 मैच के लिए आमने-सामने होंगी. गुवाहाटी में खेला गया पहला मैच बारिश और गीली पिच के कारण रद्द हो गया था जबकि इंदौर में खेले गए दूसरे मैच में भारत ने एकतरफा जीत हासिल कर सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली है.

इस मैच को जीत मेजबान टीम साल की पहली सीरीज अपने नाम करने की कोशिश में होगी जबकि श्रीलंका बराबरी की इच्छा लेकर मैदान पर उतरेगी. भारत के लिए दूसरे मैच में जहां सब कुछ अच्छा रहा था वहीं श्रीलंका को हर विभाग में दिक्कतें आई थीं.

भारतीय गेंदबाजों ने श्रीलंका को बड़ा स्कोर नहीं करने दिया था जिसमें अहम भूमिका नवदीप सैनी और शार्दूल ठाकुर ने निभाई थी. दोनों ने मिलकर पांच विकेट लिए थे. इंदौर में उम्मीद थी कि वापसी कर रहे जसप्रीत बुमराह अपना जलवा दिखाएंगे. वह हालांकि मिला-जुला प्रदर्शन ही कर सके थे. बुमराह ने चार ओवर फेंके थे और 32 रन देकर एक विकेट लिया था.

यह सीरीज बुमराह के लिहाज से काफी अहम है क्योंकि न्यूजीलैंड दौरे पर जाने से पहले वह अपनी पुरानी लय हासिल करना चाहते हैं. आखिरी मैच में भी बुमराह की कोशिश होगी कि वह पुराने रूप की तरफ लौटे.

वहीं बल्लेबाजी में लोकेश राहुल, श्रेयस अय्यर, कोहली ने अहम योगदान दिया था और अच्छी बल्लेबाजी की थी. हां शिखर धवन की बल्लेबाजी ने पिछले मैच में निराश किया था. चोट के बाद वापसी कर रहे धवन को भी बुमराह की तरह लय हासिल करने में परेशानी हो रही थी. वह गेंद को बल्ले पर सही तरह से ले नहीं पा रहे थे. दूसरे मैच में धवन एक बार फिर फॉर्म में वापसी की कोशिश करेंगे.

भारत के लिए बाकी सब कुछ सही रहा था. इसी कारण बदलाव की उम्मीद कम ही नजर आती है. इसी लिहाज से देखा जाए तो संजू सैमसन को फिर मौका मिलता नहीं दिख रहा है. वहीं श्रीलंका की बात की जाए तो उसका प्रदर्शन किस तरह का निराशाजनक था इस बात का पता उसके नए कोच मिकी आर्थर के बयान से पता चल जाता है जो उन्होंने दूसरे मैच के बाद दिया था.

कोच ने कहा था, "अधिकतर समय, सही समय पर खेल की कम समझ होने की कमी से हमें नुकसान हुआ." कोच अपने बल्लेबाजों के खासे नाराज दिखे थे. उन्होंने कहा था कि बल्लेबाजों का स्ट्राइक रोटेट न करना नुकसानदायक रहा. कोच की बात पर

    मलेशिया मास्टर्स सुपर 500 टूर्नामेंट के क्वालीफायर में मंगलवार को हार का सामना करना पड़ा। शुभांकर को तीसरी सीड मलेशिया के लिएव डेरेन ने 31 मिनट तक चले मुकाबले में 21-15, 21-15 से मात दी। शुभांकर के अलावा लक्ष्य को भी तीन गेम तक चले संघर्षपूर्ण मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। चौथी सीड डेनमार्क के हेंस क्रिस्टियन सोल्बर्ग विटिंग्स ने 49 मिनट तक चले मुकाबले में लक्ष्य को 11-21 21-18 21-14 से हराया। इंडोनेशिया के सिती फादिया सिल्वा रामाधांती और रिब्का सुगियार्तो की जोड़ी ने भारतीय जोड़ी को 30 मिनट में 21-15 21-10 से हरा दिया। पुरुष युगल में सात्विकसाइराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी को अभी क्वालीफायर मुकाबले में उतरना है। 

    इंदौर में भारत और श्रीलंका के बीच दूसरा टी20 मुकाबला खेला जाएगा| क्रिकेट फैंस बेसब्री से इस मैच का इंतजार कर रहे हैं| हालांकि मौसम को लेकर ये कहा जा रहा है कि फैंस को ये पूरा मैच देखने को मिल सकता है क्योंकि आज मौसम पूरी तरह से साफ है| तापमान की अगर बात करें तो वहां 20 से 21 डिग्री का तापमान रह सकता है| हालांकि मौसम विभाग का मानना है कि मैच के दौरान धुंध काफी ज्यादा होगी|

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, शिवम दुबे, श्रेयस अय्यर, रवींद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मनीष पांडे, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), लोकेश राहुल, नवदीप सैनी, संजू सैमसन (विकेटकीपर), शार्दूल ठाकुर, वॉशिंगटन सुंदर.

श्रीलंका : लसिथ मलिंगा (कप्तान), धनंजय डी सिल्वा, वानिंडु हसारंगा, निरोशन डिकवेला (विकेटकीपर), ओशाडा फर्नाडो, अविश्का फर्नाडो, दानुष्का गुणाथिलका, लाहिरु कुमारा, एंजेलो मैथ्यूज, कुशल मेंडिस, कुशल परेरा, भानुका राजापक्षा, कासुन राजिथा, लक्षण संदकाना, दासुन शनका, इसुरु उदाना.

    एमपीसीए के चीफ क्यूरेटर का कहना है कि ओस से लड़ने के लिए हम पिछले तीन दिनों से केमिकल का छिड़काव कर रहे हैं| क्यूरेटर का कहना है कि ग्राउंड स्टाफ पिछले तीन दिनों से पानी भी काफी दे रहा है|  पिच पर लाल मिट्टी है जिससे गेंद सीधे बल्ले पर आएगी| साल 2017 में भारत और श्रीलंका के बीच एक टी20 मैच खेला गया था| यहां भारत ने पांच विकेट खोकर 260 रन बनाए थे जहां रोहित शर्मा ने 43 गेंदों में 118 रनों की पारी खेली थी| टीम इंडिया ने श्रीलंका को इस मैच में 88 रनों से हरा दिया था| 

रोहित शर्मा का मानना है कि न्यूजीलैंड का घातक तेज गेंदबाजी आक्रमण अपने घर में और भी ज्यादा कारगर साबित होता है, क्योंकि वह अपनी योजनाओं को बखूबी अंजाम देते हैं| इसके बावजूद रोहित ने दावा किया है कि अगले महीने आने वाली चुनौती के लिए वह पूरी तरह तैयार हैं| अपनी पहली टेस्ट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डबल सेंचुरी सहित तीन शतक ठोक चुके रोहित शर्मा इस बार न्यूजीलैंड में नील वैग्नर, मैट हैनरी, ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी जैसे तेज गेंदबाजों का सामना करेंगे| यहां भारतीय टीम को दो टेस्ट मैच खेलने हैं, जो फरवरी में वेलिंग्टन और क्राइस्टचर्च में खेले जाएंगे| रोहित ने कहा, "मेरे लिए बिना किसी शक के यह चुनौतीपूर्ण होगा| यहां मुझे नई गेंद का सामना करना होगा|"  रोहित अच्छी तरह जानते हैं कि भारत से बाहर की पिचों पर गेंद कहीं ज्यादा स्विंग और सीम करती है| लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ पिछले साल खेली गई घरेलू सीरीज भी भारत में स्वागत योग्य वाले बदलाव के साथ खेली गई थी| 

ओलम्पिक पदक विजेता सायना नेहवाल के नाम की ही गूंज होती थी। समय के साथ सायना ढलान पर गईं, लेकिन उनके हाथ से गिरते बैडमिंटन की बागडोर को पीवी सिंधु ने संभाल लिया। रियो ओलिम्पक की रजत पदक विजेता ने 2019 में भारत को विश्व चैम्पियनशिप में पहला स्वर्ण पदक भी दिलाया, लेकिन सायना की ढलान को संभालने वाली सिंधु अब खुद लड़खड़ाती दिख रही हैं। भारतीय बैडमिंटन की परिचायक हैं। यह साल सिंधु के लिए हर लिहाज से अहम है, क्योंकि इसी साल जापान की राजधानी टोक्यो में ओलम्पिक खेलों का आयोजन भी होना है। सिंधु के बीते साल के प्रदर्शन पर गौर किया जाए तो विश्व चैम्पियन बनने के बाद से उनके हिस्से कोई भी ट्रॉफी नहीं आई और कई बार तो वह टूर्नामेंट के पहले ही दौर में बाहर हो गईं। सिंधु का खेल अब अवसान पर है, यह हालांकि समय ही बताएगा। वह अभी 24 साल की हैं और वह ओलम्पिक रजत पदक जीतने के अलावा विश्व चैंपियनशिप में तीन पदक और कई खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। इसके बाद उन्हें 14 से 19 जनवरी तक इंडोनेशिया मास्टर्स में भाग लेना है। इंडोनेशिया मास्टर्स के पहले दौर में उनका सामना जापान की आया ओहरी से होना है। ओहरी की बाधा के बाद सिंधु के सामने सायना और जापान की सयाका ताकाहाशी के बीच होने वाले मैच की विजेता होगी। 

    भारत का अगला इंटरनेशनल एसाइन्मेंट 26 मार्च को है, जब वह 2022 फीफा विश्व कप क्वालीफायर में एशियाई चैम्पियन कतर से भिड़ेगी। इसके बाद भारत को चार जून को बांग्लादेश से भिड़ना और फिर नौ जून को अफगानिस्तान से भिड़ना है। मैदान पर निरंतरता की कमी उसे पीछे की तरफर खींचती रही है। इसके अलावा कई ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे भारतीय टीम अभी जूझ रही है और आने वाले समय में इन समस्याओं के और गहराने के आसार हैं। अफगानिस्तान और बांग्लादेश के खिलाफ उसे जीतना चाहिए था लेकिन रक्षात्मक खेल के कारण वह ड्रॉ को मजबूर हुआ। इससे उसके क्वालीफायर में आगे जाने की सम्भावनाओं को आघात लगा। कतर के खिलाफ ड्रॉ बीते साल और हाल के कुछ वर्षो में भारत की सबसे बड़ी सफलता कही जा सकती है लेकिन इसके अलावा टीम बीते साल कोई और सकारात्मक परिणाम नहीं दे सकी।  इनमें से दो में उसकी जीत हुई और चार मुकाबले ड्रॉ रहे। बाकी के मैचों में उसे हार मिली। भारत ने एशियन कप में 6 जनवरी, 2019 को थाईलैंड पर 4-1 की जीत के साथ नए साल की शुरुआत की थी। उस समय स्टीफेन कांस्टेनटाइन भारत के कोच थे। भारत को एशियन कप में 10 जनवरी को संयुक्त अरब अमीरात से 0-2 से हार मिली और फिर 14 जनवरी को बहरीन ने उसे 1-0 से हराया। उनकी देखरेख में भारत ने थाईलैंड में आयोजित किंग्स कप में थाईलैंड को 1-0 से हराकर शानदार शुरुआत की लेकिन उसके बाद वह जीत के लिए तरस गई। खिलाड़ियों की चोट और उनके ट्रीटमेंट, रीहैब और कुल मिलाकर उनके मैनेजमेंट को लेकर भी भारतीय टीम की तैयारी पूरी नहीं है। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा और डिफेंडर संदेश झिंगन लम्बे समय से चोटिल हैं। 2019 में आधे साल तक ये नहीं खेले। ऐसे में अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ को खिलाड़ियों के ट्रीटमेंट के नए साधनों और बेहतर मैनेजमेंट के बारे में सोचना होगा। झिंगन और जेजे हालांकि इस साल वापसी कर रहे हैं लेकिन उनकी गैरमौजूदगी में टीम को पहली ही काफी नुकसान हो चुका है।

भारत और श्रीलंका के बीच कल गुवाहाटी में पहला टी20 मुकाबला खेला जाना था. इस दौरान टॉस भी हुआ और भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया लेकिन तभी मैच के बीच बारिश आ गई और एक भी गेंद नहीं फेंका जा सका. इसके बाद जब कवर्स हटाए गए तो कप्तान से लेकर अंपायर इस बात को लेकर चौंक गए कि बारिश के कारण पिच भी गीली हो चुकी है. इसके बाद ग्राउंड स्टाफ से लेकर अंपायर्स बार बार इस बात को लेकर परेशान होते रहे कि गीली पिच को कैसे सुखाया जाए लेकिन तभी ग्राउंड स्टाफ अपना जुगाड़ लेकर आया. स्टेडियम में बैठे लोगों को ये लग रहा था कि ग्राउंड स्टाफ पिच को सुखाने के लिए कुछ हाइटेक मशीने लेकर आएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ और अंत में पिच पर हेयरड्रायर, वैक्यूम क्लिनर, कपड़ा प्रेस करने वाला आयरन ये सभी चीजें पिच पर दिखीं. बता दें कि कल के मैच का ये नजारा भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे बेहतरीन तो नहीं लेकिन सबसे शर्मसार जरूर कहा जाएगा क्योंकि एक तरफ बीसीसीआई सबसे अमीर बोर्ड तो है लेकिन अंत में असम क्रिकेट एसोसिएशन के पास कोई ऐसी तकनीक नहीं थी जिससे गीली पिच को सुखाकर मैच को दोबारा से शुरू किया जा सके. बता दें कि कल के मैच के इस नजारे के बाद अब भारतीय फैंस लगातार ट्विटर पर बोर्ड असम क्रिकेट और क्रिकेट ऑफिशियल्स को ट्रोल कर रहे हैं.

टीम इंडिया के कैप्टन को टेस्ट क्रिकेट का प्रारूप बदलना रास नहीं आया है और उन्होंने साफ कहा है कि वे चार दिन वाले टेस्ट के पक्ष में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि ये टेस्ट क्रिकेट के साथ न्याय नहीं है. गौरतलब है कि आईसीसी टेस्ट क्रिकेट का फॉर्मेट बदलने के लिए सोच रही है वहीं कई जाने माने खिलाड़ी इस पर अपना विरोध दर्ज करा चुके हैं. इसी लिस्ट में अब विराट कोहली का भी काम जुड़ गया है. विराट ने कहा कि टेस्ट के फॉर्मेट में अधिक बदलाव नहीं होने चाहिए. अगर इसको बाजार के लिए बनाना है तो इसको डे-नाइट कर दिया जाना चाहिए लेकिन टेस्ट क्रिकेट में इससे अधिक बदलाव ठीक नहीं होंगे.

भारत और श्रीलंका के बीच खेले जाने वाले टी-20 मैच से पहले कोहली से पत्रकारों ने इस पर सवाल पूछे थे. इनके जवाब में कोहली ने कहा कि अगर डे-नाइट टेस्ट पर फोकस किया जाएगा तो इसके फॉर्मेट में काफी दिलचस्पी पैदा हो सकती है. दरअसल आईसीसी चाहती है कि विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप-2023 से चार दिन के टेस्ट मैच कराए जाएं. फिलहाल टेस्ट मैच 5 दिन के होते हैं. 4 दिन के टेस्ट वाले आईडिया की कई खिलाड़ी आलोचना कर चुके हैं और अब विराट ने भी अपनी राय रख दी है. कोहली ने यहां तक कहा कि अगर 5 दिन के टेस्ट को 4 दिन का कर दिया जाएगा तो एक दिन वो भी आएगा जब तीन दिन के टेस्ट की बात कही जाएगी. उन्होंने कहा कि टेस्ट मैच क्रिकेट का सबसे शुद्ध फॉर्मेट है और इसमें बदलाव नहीं किया जाना चाहिए. कोहली ने कहा कि टी20 नए फॉर्मेट के हिसाब से अच्छा था. जब उनसे 100 गेंदों वाले फॉर्मेट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे उस फॉर्मेट में नहीं जाना चाहते क्योंकि पहले ही वे काफी कुछ कर रहे हैं.

ऋषभ पंत ने लिखा, ''जब मैं तुम्हारे साथ होता हूं तो खुद को ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं.' उनकी इस पोस्ट को 5 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं.

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव नहीं रहते हैं. लेकिन नए साल के मौके पर अपनी गर्लफ्रेंड ईशा नेगी के साथ फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की हैं. पंत ने इंस्टाग्राम पर फोटो पोस्ट की हैं. फोटो में दोनों बर्फ में मस्ती करते हुए नजर आ रहे हैं ऋषभ पंत और ईशा नेगी की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. ऋषभ पंत ने लिखा कि 'जब तुम्हारे साथ होता हूं तो खुद को ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं.' उनकी इस पोस्ट को 5 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं. वहीं ईशा नेगी ने फोटो शेयर करते हुए लिखा, ''5 साल और अभी भी जारी…लव यू...'' उनकी इस पोस्ट पर 45 हजार लाइक्स आ चुके हैं. पिछले साल जनवरी में ही पंत ने अपनी प्रोफाइल पर ईशा नेगी के साथ फोटो पोस्ट की थी और दुनिया को अपने प्यार  के बारे में बताया था. उस समय पोस्ट पर  उन्होंने लिखा था, ''मैं बस तुम्हें खुश रखना चाहता हूं क्योंकि तुम्हारी वजह से मैं बहुत खुश हूं.''

कर्नाटक ने बीसीसीआई के आग्रह पर सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को मुंबई के खिलाफ उसके मैदान पर तीन जनवरी से होने वाले रणजी ट्रॉफी मैच से आराम देते हुए 15 सदस्यीय टीम में शामिल नहीं किया है| हालांकि, मुंबई ने इस मुकाबले के लिए भारतीय टेस्ट टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे के अलावा पृथ्वी शॉ को भी अपनी टीम में जगह दी है|

मयंक को 17 जनवरी से शुरू हो रहे न्यूजीलैंड दौरे के लिए भारत ए की सभी प्रारूपों की टीम में जगह दी गई है| टीम 10 जनवरी को ऑकलैंड के लिए रवाना होगी और टेस्ट टीम के नियमित सदस्य अग्रवाल पर काम के बोझ को देखते हुए उन्हें आराम देने का आग्रह किया गया था|

आर समर्थ की टीम में वापसीमयंक अग्रवाल की गैरमौजूदगी में आर समर्थ की टीम में वापसी हुई है| खराब फॉर्म से जूझ रहे आर समर्थ को हिमाचल प्रदेश के खिलाफ पिछले मैच में चार और शून्य रन की पारियां खेलने के बाद टीम से बाहर कर दिया गया था| भारत की सीनियर टीम भी 24 जनवरी से न्यूजीलैंड के खिलाफ पांच टी20, तीन वनडे और फिर दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी| भारत का न्यूजीलैंड दौरा 24 जनवरी से चार मार्च तक चलेगा|

रहाणे को भी भारत ए टीम में जगह मिली है, लेकिन उनके फरवरी में दूसरे चार दिवसीय मैच में ही खेलने की संभावना है| शॉ को भी सभी प्रारूपों के लिए भारत ए टीम में शामिल किया गया है, लेकिन वह आठ महीने के डोपिंग प्रतिबंध के बाद वापसी कर रहे हैं| वहीं, चोट के कारण लंबे समय से टीम इंडिया  से बाहर रहे  हार्दिक पंड्या को भी तीन वनडे मैच के लिए टीम में शामिल किया गया है|

भारतीय कप्तान विराट कोहली पत्नी अनुष्का शर्मा के साथ इस समय स्विट्जरलैंड में छुट्टियां मना रहे हैं| इस कपल ने नए साल का स्वागत भी इस खूबसूरत जगह पर ही किया| वहीं उन्होंने फैंस को बर्फीले पहाड़ों से नए साल की बधाईयां भेजीं| सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करके इस  खूबसूरत जोड़ी ने कहा कि हमारी तरफ से हर एक को नए साल की बधाई| हालांकि जब कोहली फैंस के लिए यह खास मैसेज रिकॉर्ड कर रहे थे, तभी अनुष्का रोमांटिक हो गईं और उन्होंने कोहली को कसकर गले लगा लिया|
टीम इंडिया श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी के साथ अपने नए साल की शुरुआत करेगी और उससे पहले कोहली छुट्टियों का पूरा मजा ले रहे हैं| कोहली ने कहा कि वे दोनों अभी खूबसूरत ग्ले‌शियर पर हैं और उन्होंने सोचा कि सभी के लिए पहले ही न्यू ईयर की विशेज रिकॉर्ड करें|  

अनुष्का बनी बेस्ट फोटोग्राफर
इससे पहले मंगलवार को विराट कोहली ने अपनी एक तस्वीर शेयर की थी, जिसका क्रेडिट उन्होंने अनुष्का शर्मा को देते हुए उन्हें बेस्ट फोटोग्राफर बताया| कोहली ने कहा कि तस्वीर को लेकर कोई तनाव नहीं है| जब बेहतरीन फोटोग्राफर तस्वीर लें| कोहली ने अनुष्का के साथ अपनी इस ट्रिप को लेकर और भी कई फोटोग्राफ शेयर  की| 

 

छुट्टियों से लौटते ही व्यस्त हो जाएंगे भारतीय कप्तान
भारतीय कप्तान विराट कोहली छुट्टियों से लौटते ही व्यस्त हो जाएंगे| टीम इंडिया को जनवरी के शुरुआत में ही श्रीलंका के खिलाफ तीन टी20 मैचों की घरेलू सीरीज खेलनी है और फिर इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज भारत के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी| ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज होने के बाद भारतीय टीम पांच टी20 मैचों की सीरीज के लिए न्यूजीलैंड का दौरा करेगी, जो 24 जनवरी से शुरू होगी| टी20 सीरीज के बाद कीवी टीम तीन वनडे और दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारत की मेजबानी करेगी, जो चार मार्च तक चलेगी|

नए साल 2020 ने दस्तक दे दी है और पूरी दुनिया उसका जश्न मना रही है| दुनिया के कई बड़े क्रिकेटर छुट्टियां मना रहे हैं| कोई समंदर के तट पर है तो कोई अपने परिवार के साथ खूबसूरत बर्फीली जगह पर नए साल का आगाज कर रहा है, लेकिन एक क्रिकेटर ऐसा भी है जिसने बेहद खास अंदाज में नए साल का जश्न मनाया| ये क्रिकेटर नए साल से ठीक पहले अपने देश की सेना में शामिल हुआ| यहां बात हो रही है श्रीलंका के ऑलराउंडर तिसारा परेरा की, जो श्रीलंकाई सेना की गजबा रेजीमेंट में शामिल हुए हैं|  

श्रीलंका के ऑलराउंडर तिसारा परेरा  ने श्रीलंका की गजबा रेजीमेंट को बतौर मेजर जॉइन किया है| तिसारा परेरा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं जिसमें वो सेना की वर्दी में दिख रहे हैं| एक फोटो में परेरा सावधान की मुद्रा में वर्दी में सीना तान कर खड़े हैं| वहीं दूसरी तस्वीर में उनके हाथ में बंदूक है और वो जमीन पर नीचे लेटकर गोलियां चला रहे हैं| 

तिसारा परेरा ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी| उन्होंने कहा, 'मैंने आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल शैवेंद्र सिल्वा का न्योता स्वीकार कर सेना को जॉइन किया है| उनके जैसे शख्स से न्योता पाना मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा लम्हा है| शुक्रिया सर| मैं अपने देश की सेना के लिए बेहतर क्रिकेट खेलने की कोशिश करूंगा|'  

ऑस्ट्रेलिया में महज 16 साल की उम्र में टेस्ट डेब्यू करने वाले तेज गेंदबाज नसीम शाह आने वाले आईसीसी अंडर 19 वर्ल्ड कप  में नहीं खेल पाएंगे| पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने मंगलवार को इसका ऐलान किया| बोर्ड ने नसीम शाह का नाम वापस लेने की वजह उनका सीनियर टीम में होना बताई| पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के मुताबिक नसीम शाह ने पाकिस्तान के लिए 3 टेस्ट मैच खेल लिए हैं और वो एक पारी में पांच विकेट लेने का कारनामा भी कर चुके हैं ऐसे में अब वो अंडर 19 वर्ल्ड कप के स्तर से काफी ऊपर हैं|
    नसीम शाह का नाम वापस होने के बाद जूनियर सेलेक्शन कमेटी के अध्यक्ष सलीम जाफर ने उनकी जगह मोहम्मद वसीम जूनियर को टीम में जगह दी है| ये गेंदबाज खैबर पख्तूनवा का है और उन्होंने हाल ही में हुए जूनियर एशिया कप में अच्छा प्रदर्शन किया था| साथ ही श्रीलंका दौरे पर इस तेज गेंदबाज ने 7 विकेट हासिल किए थे| 
नसीम शाह का नाम वापस लेने के मुद्दे पर पीसीबी के चीफ एक्जीक्यूटिव वसीम खान ने कहा, 'आईसीसी अंडर 19 वर्ल्ड कप भविष्य के सितारों के लिए एक अच्छा मंच है| नसीम ने हाल ही में इंटरनेशनल क्रिकेट में खुद को साबित कर दिया है| इसलिए पीसीबी ने फैसला किया है कि नसीम का नाम वापस लिया जाएगा और किसी और दूसरे युवा क्रिकेटर को मौका दिया जाएगा|'

वसीम खान ने आगे कहा, 'नसीम शाह का नाम वापस लेने से पाकिस्तान के अंडर 19 वर्ल्ड कप जीतने के आसार पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा| हमारी टीम मजबूत है और उसके पास अनुभव के साथ-साथ जीतने का हौसला भी है| नसीम खान अब पाकिस्तान की टीम के साथ बने रहेंगे और गेंदबाजी कोच वकार यूनिस के साथ मेहनत करेंगे|' 

      दिल्ली के मेजर ध्यानचंद हाॅकी स्टेडियम खेले जा रहे 48वें नेहरू जूनियर हाॅकी टूर्नामेंट  के फाइनल मुकाबले में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए एनसीसी राउरकेला  को 2-1 से हराकर चैम्पियन का खिताब अपने नाम किया। इसी के साथ मध्यप्रदेश एक वर्ष में तीनों वर्गों में नेहरू टूर्नामेंट जीतने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।  इसके जबाब में मध्यप्रदेश हाॅकी अकादमी के खिलाड़ी अंकित पाल ने 49वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर टीम को 1-1 से बराबर कर दिया। मैच के 54वें मिनट में अकादमी के खिलाड़ी अली अहमद ने फील्ड गोल कर 2-1 से टीम को जीत दिलाई। अकादमी के खिलाड़ी अली अहमद को मैन ऑफ द मैच पुरस्कार से नवाजा गया। मध्य प्रदेश हाॅकी अकादमी के खिलाड़ियों की टीम को नेहरू हाॅकी टूर्नामेंट में इस वर्ष अलग-अलग वर्गों में तीन बार चैम्पियन बनने का गौरव हासिल हुआ है। इसे पूर्व मध्यप्रदेश राज्य हाॅकी अकादमी अंडर-15 टीम ने 37वें नेहरू सब जूनियर हॉकी टूर्नामेंट खिताबी मुकाबला अपने नाम किया। जबकि महिला हाॅकी अकादमी ग्वालियर की अंडर-17 टीम ने 26वीं चरणजीत राय नेहरू कप महिला हाॅकी प्रतियोगिता एनसीसी सोनीपत की टीम को 1-0 से परास्त कर विजेता का खिताब अर्जित किया।

 गुरुवार को यहां जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मेजबान और दो बार के चैम्पियन चेन्नइयन एफसी को 4-3 से हराकर हीरो इंडियन सुपर लीग के छठे सीजन की अंक तालिका में एक बार फिर टॉप पोजीशन हासिल कर लिया है। मेजबान चेन्नइयन एफसी का यह नौवां मैच था। यह टीम दो जीत, तीन हार और इतने ही ड्रॉ से नौ अंक लेकर 10 टीमों की तालिका में आठवें स्थान पर है।

       दूसरी ओर, गोवा का यह 10वां मैच था। गोवा की टीम छह जीत, तीन ड्रॉ और एक हार के साथ 21 अंक लेकर तालिका में शीर्ष पर काबिज हो गई है। गोवा की यह लगातार चौथी जीत है। उसने 3-0 की बढ़त के साथ एक लिहाज से यह मैच अपने नाम कर लिया। इस हाफ की शुरुआत में चेन्नइयन एफसी ने अच्छी इच्छाशक्ति दिखाई और गोवा को कई मौकों पर चुनौती दी लेकिन पहले हाफ के मध्यांतर के बाद मानो उसने घुटने टेक दिए। इसी का फायदा उठाकर गोवा ने एक के बाद एक तीन गोल करते हुए अपने लिए तीन अंक सुरक्षित कर लिए। जाहो ने यह गोल बोउमोस की मदद से किया। इस गोल में कोरोमिनास का भी हाथ रहा। कोरो ने ही राइट फ्लैंक से बोउमोस को पास दिया था।

क्रिसमस के मौके पर भारतीय टीम के पूर्व कप्तान धोनी के साथ एक तस्वीर डाली और फिर ट्वीट किया| लेकिन इस ट्वीट के कुछ देर बाद ही भारतीय फैंस ने उन्हें ऐसा ट्रोल किया वो शायद दोबारा ऐसी गलती नहीं करेंगे|  
      मलिक ने साल 2012 में हुए भारत- पाकिस्तान के बीच टी20 मैच की एक फोटो डाली जहां पाकिस्तान वो मैच 5 विकेट से जीत गया था| मलिक इस दौरान साफ धोनी की तरफ देखकर खुशियां मनाते नजर आ रहे थे और उन्होंने कैप्शन लिखा कि, ''मैरी क्रिसमस दोस्तों और हैप्पी 25 दिसंबर|'' इस दौरान भारतीय टीम ने 133 रनों का टारगेट दिया था जहां बेंग्लुरू में उमर गुल ने टीम इंडिया के टॉप तीन बल्लेबाजों को जल्द ही पवेलियन भेज दिया| पाकिस्तान ये मैच दो गेंद शेष रहते ही जीत गया| 

ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ को पछाड़ते हुए विराट इस साल का अंत टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष बल्लेबाज के रूप में करने जा रहे हैं। टीम इंडिया भी आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में नंबर 1 पर बनी हुई है। 
           विराट कोहली के 928 रेटिंग अंक हैं और वह ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ से 17 अंक आगे हैं। न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन  साल का अंत नंबर 3 के रूप में करेंगे। चेतेश्वर पुजारा ने अपना चौथा स्थान बरकरार रखा है लेकिन रहाणे सातवें स्थान पर खिसक गए हैं। उनकी जगह पाकिस्तान के बाबर आजम ने ली है। भारत की तरफ से शीर्ष 20 में शामिल अन्य बल्लेबाजों में सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल और रोहित शर्मा  शामिल हैं। कराची में दूसरे टेस्ट मैच में नाबाद शतक और 60 रन बनाए थे तथा वह तीन पायदान ऊपर छठे स्थान पर पहुंच गये हैं। यह उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग है।

  भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना हो गई जहां जनवरी में अंडर-19 विश्व कप खेला जाना है| भारतीय टीम इस विश्व कप में अपना खिताब बचाने उतरेगी| 2018 में पृथ्वी शॉ की कप्तानी में भारत ने अंडर-19 विश्व कप जीता था| 
        खिलाड़ियों का एक वीडियो पोस्ट कर लिखा है, "हमारे अंडर-19 के लड़कों को बधाई जो आज दक्षिण अफ्रीका के लिए विश्व कप की तैयारियों के लिए रवाना हो रहे हैं| विश्व कप 17 जनवरी से शुरू होगा." अंडर-19 विश्व कप का यह 13वां संस्करण 16 टीमों के बीच खेला जाएगा| मौजूदा विजेता भारत को ग्रुप-ए में पहली बार क्वालीफाई करके आई जापान, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के साथ रखा गया| भारत ने सबसे ज्यादा चार बार अंडर-19 विश्व कप का खिताब जीता है| 

   इंडियन प्रीमियर लीग में ऑस्ट्रेलिया की वनडे टीम के कप्तान एरॉन फिंच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेलते नजर आएंगे| गुरुवार को हुए ऑक्शन में आरसीबी ने उन्हें 4.40 करोड़ में खरीदा| इसी के साथ फिंच आईपीएल के इतिहास में 8 अलग-अलग फ्रैंचाइजी की ओर से खेलने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं|

    आईपीएल करियर 2010 में राजस्थान रॉयल्स की ओर से खेलते हुए शुरू किया था| इसके बाद अगले दो सीजन में वह दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम में रहे| इसके बाद हुए ऑक्शन में उन्हें पुणे वॉरियर्स की टीम ने खरीदा| के अलावा कोई भी ऐसा खिलाड़ी नहीं रहा है जो 6 से ज्यादा आईपीएल टीम का हिस्सा रहा हो| युवराज सिंह और पार्थिव पटेल आईपीएल की 6 टीमो का हिस्सा रह चुके हैं|


 

  टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में अपना मैच 25 जुलाई को न्यूजीलैंड के साथ खेलेगी। इसी तरह भारतीय महिला हॉकी टीम भी इसी दिन अपना पहला मैच रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता नीदरलैंड्स टीम के खिलाफ खेलेगी।
      टोक्यो ओलंपिक खेलों के लिए मंगलवार को मैचों के कार्यक्रम की घोषणा की गई। भारतीय पुरुष टीम को मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन अर्जेटीना, वर्ल्ड नंबर-1 आस्ट्रेलिया, स्पेन, न्यूजीलैंड और जापान के साथ पूल-ए में रखा गया है। दूसरा मैच 26 जुलाई को आस्ट्रेलिया से और तीसरा मैच 28 जुलाई को स्पेन के खिलाफ खेलेगी। एक दिन की ब्रेक के बाद भारत को अपना अगला मैच 30 जुलाई को अर्जेंटीना से और फिर 31 जुलाई को मेबजान जापान के खिलाफ खेलना है। पुरुषों के अलावा भारतीय महिला पुरुष हॉकी टीम भी 25 जुलाई से ही अपने अभियान की शुरुआत करेंगी। भारतीय टीम को नीदरलैंड्स, जर्मनी, ग्रेट ब्रिटेन, आयरलैंड और दक्षिण अफ्रीका के साथ पूल-ए में रखा गया है।

 इन 338 खिलाड़ियों को पंजीकृत कराए गए 997 खिलाड़ियों में चुना गया है, जिसमें से 186 भारतीय खिलाड़ी हैं, जबकि 143 विदेशी| तीन खिलाड़ी एसोसिएट सदस्यों के हैं| अगर फ्रेंचाइजियों के पास मौजूद रकम की बात करें तो किंग्स इलेवन पंजाब, कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली कैपिटल्स मोटी रकम लेकर नीलामी में जा रही हैं| पंजाब के पास 42.70 करोड़ रुपये हैं जिनको लेकर वो नीलामी में जाएगी| इन पैसों से टीम अपनी खाली नौ जगहों को भरने की कोशिश करेगी| वहीं दो बार की विजेता कोलकाता नाइट राइडर्स 35.65 करोड़ की रकम के साथ नीलामी में हिस्सा लेगी और उसका ध्यान 11 खिलाड़ियों को भरने पर होगा|
            दिल्ली कैपिटल्स के पास 11 खिलाड़ियों की जगह है जिन्हें खरीदने के लिए वह 27.85 करोड़ रुपये लेकर जा रही है| विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर 12 खिलाड़ियों की खाली जगह लेकर नीलामी में जा रही जिन्हें खरीदने के लिए उसके पास 27.90 करोड़ रुपये हैं| राजस्थान ने इस साल कई बड़े खिलाड़ियों को रिलीज किया है| यह टीम 11 खिलाड़ियों की पूर्ति के लिए 28.90 करोड़ रुपये लेकर उतरेगी|वहीं सनराइजर्स हैदराबाद के पास 17 करोड़ रुपये हैं जिनसे वो सात खिलाड़ियों को खरीदना चाहेगी|
            सात विदेशी खिलाड़ी ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी वेस प्राइज दो करोड़ रुपये रखी है| इनमें पैट कमिंस, जोश हेजलवुड, क्रिस लिन, मिशेल मार्श, ग्लैन मैक्सवेल, डेल स्टेन और एंजेलो मैथ्यूज जैसे खिलाड़ियों के नाम शामिल हैं|

 टीम इंडिया  के तेज गेंदबाज दीपक चाहर का मानना है कि आईपीएल वह मंच है, जहां से आप शॉर्ट कट तरीके से भारतीय टीम में प्रवेश कर सकते हैं। एक दिवसीय मैचों की सीरीज के दूसरे वनडे मैच के लिए यहां पहुंचे चाहर ने कहा कि मुझे अपने क्रिकेट करियर के शुरू में ही समझ में आ गया था कि सीमित ओवरों की क्रिकेट पर ज्यादा ध्यान देना होगा और आईपीएल भारतीय टीम में जगह बनाने का आसान रास्ता है। चाहर ने राजस्थान की तरफ से रणजी ट्रॉफी पदार्पण पर ही हैदराबाद के खिलाफ 10 रन देकर 8 विकेट लिए थे लेकिन उन्हें जल्द ही यह अहसास हो गया कि लाल गेंद से 125 किमी की रफ्तार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का उनका सपना पूरा नहीं कर सकती।

25 जुलाई को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगी जबकि महिला टीम के सामने इसी दिन पहले मुकाबले में नीदरलैंड की चुनौती होगी। मंगलवार को कार्यक्रम की जानकारी दी जिसके मुताबिक भारत की दोनों टीमें टूर्नामेंट के पहले दिन अपने अभियान को शुरु करेगी। विश्व रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज ऑस्ट्रेलिया से 26 जुलाई को भिड़ेगी। इसके बाद ग्रुप ए में शामिल भारतीय टीम का सामना स्पेन (28 जुलाई), गत चैम्पियन अर्जेंटीना (30 जुलाई) और मेजबान जापान (31 जुलाई) को होगा। भारतीय महिला टीम 27 जुलाई को जर्मनी, 29 जुलाई को ग्रेट ब्रिटेन, 31 जुलाई को आयरलैंड और एक अगस्त को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलना है।
 

सीरीज में टीम इंडिया फिलहाल 0-1 से पिछड़ रही है। वेस्टइंडीज की ओर से पहले वनडे इंटरनेशनल मैच में सेंचुरी जड़ने वाले शाई होप सीरीज के दूसरे मैच में एक खास मामले में विराट कोहली और रोहित शर्मा को पीछे छोड़ना चाहते हैं। इस साल वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में विराट कोहली और रोहित शर्मा क्रम से नंबर-1 और नंबर-2 पायदान पर हैं और तीसरे नंबर पर होप हैं। 
      उन्होंने कहा, 'मुझे यकीन है कि कुछ खिलाड़ियों का ध्यान इस पर होगा लेकिन मेरे लिए ये प्राथमिकता नहीं है। हम यहां भारत के खिलाफ सीरीज खेलने आए हैं और वही प्राथमिकता है।' होप इस साल वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की लिस्ट में विराट कोहली  और रोहित शर्मा के बाद तीसरे नंबर पर हैं। होप के नाम 1225 रन हैं।

 


 

शाहरुख खान और जूही चावला के स्वामित्व वाली केकेआर ने 2012 और 2014 में दो बार आईपीएल का खिताब अपने नाम किया है। इन दोनों ही जीतों में एक बात कॉमन रही थी। वो यह कि दोनों जीतों में केकेआर की कमान गौतम गंभीर के हाथों में थी। क्रिकेट से संन्यास के बाद गौतम गंभीर भले ही मैदान पर ना उतरे हों, लेकिन अपनी इस फ्रेंचाइजी के प्रति उनका लगाव कम नहीं हुआ है। ऐसे में आईपीएल के अगले सीजन को लेकर गौतम गंभीर ने केकेआर के कप्तान को लेकर अपनी बात रखी है। 2018 के ऑक्शन में केकेआर और गौतम गंभीर की राहें अलग हो गईं। गौतम को दिल्ली डेयरडेविल्स ने खरीदा। वहीं, दूसरी तरफ केकेआर ने दिनेश कार्तिक को खरीदा और उन्हें कप्तान बनाया। 

तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे से पहले नेट पर भारतीय टीम के साथ अभ्यास करेंगे| बुमराह स्ट्रेस फ्रेक्चर के कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज की शुरुआत से टीम से बाहर हैं| वह हालांकि अब ठीक होने की राह पर है| टीम प्रबंधन को उम्मीद है कि अगले साल न्यूजीलैंड दौरे से पहले वह फिट हो जायेंग| वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरा वनडे 18 दिसंबर को खेला जायेगा| बीसीसीआई (BCCI) के एक सूत्र ने बताया ,‘बुमराह भारतीय टीम के साथ अभ्यास करेंगे| अब यह परंपरा बन गई है| टीम प्रबंधन ने भुवनेश्वर कुमार की फिटनेस भी इंदौर में बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट से पहले परखी थी हालांकि वह टीम का हिस्सा नहीं थे| इसी तरह बुमराह की फिटनेस को आजमाया जायेगा|’ सूत्र ने कहा ,‘अब यही परंपरा बन गई है कि जब कोई खिलाड़ी फिट होता नजर आता है तो टीम प्रबंधन, फिजियो और ट्रेनर नेट अभ्यास में उसे परखते हैं|’

भारत ने आज 150 स्वर्ण पदकों का आंकड़ा पार कर लिया और वह कुल 300 पदकों की तरफ अग्रसर हो चला है। भारत ने पिछले दक्षिण एशियाई खेलों में 189 स्वर्ण सहित कुल 309 पदक जीते थे।इन खेलों में सोमवार तक की पदक तालिका में भारत के 158 स्वर्ण, 92 रजत और 44 कांस्य पदक सहित कुल 294 पदक हो गए हैं। भारत के बाद मेजबान नेपाल 49 स्वर्ण, 53 रजत और 89 कांस्य पदक सहित 191 पदकों के साथ दूसरे तथा श्रीलंका 39 स्वर्ण, 78 रजत और 117 कांस्य पदक सहित 234 पदकों के साथ तीसरे स्थान पर है। भारतीय पहलवानों ने 13वें दक्षिण एशियाई खेलों में अपनी श्रेष्ठता साबित करते हुए 14 स्वर्ण पदक जीत लिए। आज इन खेलों में भारत ने कुश्ती में 2 स्वर्ण, कबड्डी में 2 स्वर्ण, महिला फुटबॉल में एक स्वर्ण, तलवारबाजी में 3 स्वर्ण, बास्केटबॉल में 2 स्वर्ण, मुक्केबाजी में 6 स्वर्ण, जूडो में 4 स्वर्ण, टेनिस में 2 स्वर्ण और तैराकी में 4 स्वर्ण पदक जीते।

अगले वर्ष यह संख्या और बढ़ेगी। ज्यादा से ज्यादा कोटा हासिल करने के लिए विशेषज्ञों का पैनल गठित किया जा रहा है, जिसमें स्पोर्ट्स साइंटिस्ट, स्पोर्ट्स मेडिसिन विशेषज्ञ और फीजियोथेरेपिस्ट शामिल होंगे। किसी भी खिलाड़ी के चोटिल होने पर उसके रिहैबलिटेशन में जाने के दौरान पैनल की नजर इनपर रहेगी। पैनल खिलाड़ी की मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर देखेगा कि खिलाड़ी ने सही डॉक्टर और अस्पताल का चयन किया है या नहीं, साथ ही रिहैबलिटेशन में उसने पूरा समय लगाया है या नहीं। कहीं खिलाड़ी चोट से उबरे बिना खेलने के लिए तो नहीं उतर रहा है। साई के सामने कर्माकर का उदाहरण है वह चोट से पूरी तरह उबर नहीं पाई थीं और एशियाई खेलों में खेलने चली गईं। उसके बाद उनकी घुटने की चोट ऐसी उबरी कि करिअर के लिए खतरा बन गई। विशेषज्ञों का पैनल खिलाड़ियों की जांच कर देगा हरी झंडीरियो ओलंपिक में चोटिल साइना नेहवाल, योगेश्वर दत्त के खेलने और दीपा कर्माकर के लगातार चोटिल होने जैसी घटनाएं टोक्यो ओलंपिक के दौरान नहीं दोहराई जाएं इसके लिए साई तीन सदस्यीय विशेषज्ञों का पैनल गठित करेगा। यह पैनल चोटिल खिलाड़ियों की जांच-परख करने के बाद ही उन्हें खेलने की अनुमति देगा। टोक्यो के लिए महिला और पुरुष हॉकी टीमों के अलावा अब तक 26 खिलाड़ी कोटा हासिल कर चुके हैं।

हरियाणा की 35 वर्षीय अनिता ने पिछले साल भी स्वर्ण पदक जीता था और इस बार भी उन्होंने सबको चौंकाते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया। पंजाब की गुरशरण कौर ने छह साल बाद वापसी करते हुए 76 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में पूजा को 4-2 से हराकर स्वर्ण पदक जीता। रेलवे का प्रतिनिधित्व कर रही विनेश फोगाट और साक्षी मलिक ने भी अपने-अपने भारवर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया। ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी ने राधिका को 4-2 से मात देकर 62 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया। 20 वर्षीय विनेश ने 55 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में अंजू को 7-3 से शिकस्त देकर लगातार दूसरी बार स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

सोमवार को U-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप 2020 के लिए 15 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी है। U-19 टीम इंडिया की कप्तानी प्रियम गर्ग को सौंपी गई है। टीम का उपकप्तान ध्रुव चंद जुरेल को बनाया गया है। U-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप 2020 साउथ अफ्रीका में 17 जनवरी से खेला जाएगा। टूर्नामेंट का फाइनल पोटचेफस्ट्रूम में 9 फरवरी को होगा। U-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप 2020 के लिए 15 सदस्यीय भारतीय टीम - प्रियम गर्ग (कप्तान), ध्रुव ज्यूरल (उप-कप्तान / विकेटकीपर), यशस्वी जायसवाल, दिव्यांष सक्सेना, शशवत रावत, दिव्यांग जोशी, शुभांग पावे, रवि बिश्नोई, आकाश सिंह, कार्तिक त्यागी, अथर्व अंकोलेकर, कुमार कुशाग्र, कुमार कुशाग्र मिश्रा, विद्याधर पाटिल

गोला फेंक के स्टार खिलाड़ी तेजिंदर पाल सिंह तूर नेपाल की राजधानी काठमांडू में रविवार को होने वाले दक्षिण एशियाई खेलों के उद्घाटन समारोह में भारत के ध्वजवाहक होंगे। पच्चीस साल के तूर एशियाई खेलों के गत चैंपियन हैं। भारतीय ओलंपिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने तूर को भेजे पत्र में कहा, ‘‘आईओए आपको, तेजिंदर पाल सिंह तूर को, नेपाल के पोखरा और काठमांडू में होने वाले 13वें दक्षिण एशियाई खेल 2019 के उद्घाटन समारोह में भारतीय दल का ध्वजवाहक बनाकर सम्मानित महसूस कर रहा है। ’’ इन खेलो का आयोजन काठमांडू और पोखरा में एक से 10 दिसंबर तक किया जाएगा।

सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण क्रिकेट सलाहकार समिति में वापसी कर सकते हैं| इस समिति का गठन होना है| बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक, सचिन और लक्ष्मण सीएसी में लौटेंगे| हितों के टकराव के आरोपों के बाद दोनों ने जुलाई में अपने-अपने पद छोड़ दिए थे| बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली तब सीएसी के तीसरे सदस्य थे| गांगुली ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिन्हें उस समय भारत का अगला कोच चुनने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी| अधिकारी ने कहा कि सचिन और लक्ष्मण के सीएसी में वापस आने की पूरी संभावना है| गांगुली के नेतृत्व में रविवार को मुंबई में बोर्ड की आम बैठक आयोजित होनी है| एपेक्स काउंसिल की बैठक शनिवार को है|

अपने विरोधियों को परोक्ष चेतावनी देते हुए बजरंग पूनिया ने कहा कि कुश्ती जगत टोक्यो ओलंपिक में उन्हें नये रूप में देखेगा। बजरंग टोक्यो ओलंपिक में भारत की सबसे बड़ी पदक उम्मीदों में से एक हैं। ‘लेग डिफेंस’ उनकी कमजोरी रहा है और उनके विरोधियों ने इसका फायदा हमेशा उठाया है। उन्होंने कहा ,‘‘ मेरे कोच का कहना है कि दोबारा मैट पर उतरने पर मुझे अपने विरोधी को चौंकाने का तरीका आना चाहिये। मैं बताऊंगा नहीं कि क्या कर रहा हूं लेकिन टोक्यो में मैट पर आपको एक नया बजरंग देखने को मिलेगा।’’ कई विशेषज्ञों को मानना है कि ओलंपिक में यह कमजोरी उन पर भारी पड़ सकती है। इस कमजोरी के बावजूद वह 2018 में 65 किलो वर्ग में दुनिया के नंबर एक पहलवान बने। उन्होंने कहा ,‘‘ लोग कहेंगे कि बजरंग का खेल बिल्कुल बदल गया है। चाहे तकनीक हो, दम खम या शैली, सभी पर मैंने काम किया है।’’ बजरंग ने यहां खेल रत्न पुरस्कार लेने के बाद यह बात कही। वह विश्व चैम्पियनशिप की तैयारी में व्यस्त होने के कारण पुरस्कार समारोह में नहीं आ सके थे। बजरंग ने कहा ,‘‘ नये सत्र में मेरा पहला टूर्नामेंट जनवरी में होगा। इटली के बाद एशियाई चैम्पियनशिप है और एक रैंकिंग सीरिज टूर्नामेंट है। अभी शेड्यूल तय नहीं हुआ है।’’

शुक्रवार से शुरू हुए मुकाबले में भारत को यह बढ़त रामकुमार रामनाथन और सुमित नागल की बदौलत मिली जिन्होंने अपने पाकिस्तान प्रतिद्वंद्वियों को टेनिस का कड़ा सबक सिखाया। रामकुमार ने पहले मैच में 17 वर्षीय मोहम्मद शोएब को केवल 42 मिनट में 6-0, 6-0 से शिकस्त दी। शोएब केवल दूसरे सेट के छठे गेम में थोड़ी चुनौती पेश कर पाए, जब उन्होंने रामकुमार को दो ड्यूस अंकों तक खींचा। पहले मैच में जहां मुकाबला था नहीं, वहीं दूसरे मैच में पाकिस्तान के युवा खिलाड़ी हुफैजा ने नागल का जितना संभव हो लंबी रैलियों में उलझाने की कोशिश की। शनिवार को जीत से पेस डेविस कप इतिहास में सर्वाधिक युगल मैच जीतने के अपने विश्व रिकॉर्ड को आगे बढ़ाएंगे। वह अभी 43 जीत के साथ शीर्ष पर हैं।

भारत के पूर्व बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ ने कहा है कि अगले साल होने वाला आईपीएल कुलदीप यादव के लिए बेहद महत्वपूर्ण है| बांगड़ का कहना है कि अच्छा प्रदर्शन करने से उन्हें टी 20 विश्व कप टीम में जगह मिल सकती है| कुलदीप हाल ही में नौ महीने के अंतराल के बाद वेस्ट इंडीज सीरीज के लिए भारत की टी-20 टीम में लौटे है| उन्होंने आखिरी बार इस साल फरवरी की शुरुआत में न्यूजीलैंड के खिलाफ छोटे फॉर्मेट में खेला था| पूर्व बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ ने कहा, 'यह कुलदीप के फैंस के लिये बहुत बड़ी बात है और जहां तक स्ट्राइक रेट की बात है तो उसने वनडे में सबसे तेज 100 विकेट लिये और यहां तक कि छोटे फॉर्मेट में भी उसने अच्छा प्रदर्शन किया है| ' उन्होंने कहा, 'कुलदीप के लिये यह आईपीएल बेहद अहम होगा और अगर वह वास्तव में अच्छा प्रदर्शन करता है तो उसे बाहर रखना आसान नहीं होगा|' इसके साथ ही बांगड़ का मानना है कि रविंद्र जडेजा भारत की विश्व कप टी-20 टीम में क्रुणाल पंड्या के बजाय बेहतर विकल्प होंगे| उन्होंने कहा, 'रविंद्र जडेजा का क्रुणाल पंड्या पर पलड़ा भारी है क्योंकि क्रुणाल एक समय में चार ओवर का कोटा पूरा करने में सक्षम नहीं है और जडेजा अभी शानदार फार्म में है|' कुलदीप यादव ने छह टेस्ट, 53 वनडे और 18 टी-20 मुकाबले खेले हैं| सभी फॉर्मेट को मिलाकर कुलदीप ने 150 से अधिक विकेट लिए हैं|

टीम इंडिया की कहर बरपाती तेज गेंदबाजी की चर्चा इस समय चारो तरफ है। हर एक क्रिकेट प्रेमी इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह की बातें कर रहा है। इसी बीच टीम इंडिया की तेज गेंदबाजी के पीछे काम करने वाले गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने खुलासा करते हुए बताया कि आखिर क्या कारण है जो शमी इन दिनों इतनी खतरनाक गेंदबाजी कर रहे हैं। इतना ही नहीं भारतीय तेज गेंदबाजी की लगातार सफलता का क्या कारण है इस बात से भी पर्दा उठाया। टीम इंडिया के घातक गेंदबाजों ने बांग्लादेश के खिलाफ पिंक बॉल से खेले गए डे-नाईट टेस्ट मैच में सभी 19 विकेट अपने नाम किए। जिसमें एक बल्लेबाज रिटायर्ड हार्ट रहा था। ऐसे में स्पिनरों को एक भी विकेट ना मिलने के कारण चारो तरफ भारतीय गेंदबाजी की तारीफ हो रही है। जिसमें इशांत शर्मा ने 9 विकेट, उमेश ने 8 तो शमी के नाम 2 विकेट रहे थे। ऐसे में पिछले एक साल से बेहतरीन सीम पोजीशन के साथ गेंदबाजी करने वाले शमी के बारे में जब कोच भरत अरुण से पूछा गया तो उन्होंने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, "शमी काफी मजबूत खिलाड़ी है। वह अनजाने में हर रोज उपवास करता है। ये उसके अंदर प्राक्रतिक रूप से आता है। जब उसके जीवन में कठिनाई भरा समय चल रहा था तब वो काफी गुस्से में था। उसके बाद मैंने और रवि शास्त्री ने मिलकर उसे समझाया कि वो अपने गुस्से को गेंदबाजी में निकाले और सिर्फ फिट होने पर ध्यान दे। जिसके बाद से शमी एक बैल की तरह काम में जुट गए और सफलता हासिल की।" इतना ही नहीं टीम इंडिया के गेंदबाजी कोच भरत ने शमी की गेंदबाजी के बारे में आगे कहा, "शमी की सीम और उसका रीलिजिंग पॉइंट के साथ ट्रैजक्ट्री वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे शानदार है। 140 से अधिक की गति के साथ जब शमी की गेंद टिप्पा खाने के बाद हिलती है तो बल्लेबाज के पास जज करने के लिए बहुत की कम समय होता है। हालांकि सीम पोजीशन के साथ उसे लैटरल मूवमेंट भी मिलता है। सीधी सीम से जब वो पिच पर हिट करता है तो गेंद खेलने में और मुश्किल होती है। यही कारण है कि शमी खतरनाक होता जा रहा है। इतना ही नहीं हमारे गेंदबाज जमीन से जुड़े रहते हैं क्योंकि उनक अंदर विकेट लेने की भूख बनी रहती है।" वहीं पिंक बॉल टेस्ट क्रिकेट में इशांत शर्मा के 9 विकेट हासिल करने की सफलता के बारे में भ

भारत के गैर खिलाड़ी कप्तान रोहित राजपाल ने कहा है, "पाकिस्तान की टीम में युवा खिलाड़ी हैं जो मजबूत भारतीय टीम के खिलाफ खेलेंगे, उनके पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है। उन्होंने कहा कि वे फाइटर हैं और अंत तक लड़ेंगे। हम सूपड़ा साफ करने की कोशिश करेंगे।" मजबूत भारतीय टीम से पाकिस्तान की कमजोर और युवा टीम का डेविस कप का मुकाबला यहां होना है। उम्मीद है कि यहां शुरू होने वाले डेविस कप मुकाबले में भारतीय टीम कमजोर पाकिस्तान की चुनौती को आसानी से पार कर लेगी। नाटकीय परिस्थितियों के बाद भारत बनाम पाकिस्तान मुकाबलों को तटस्थ स्थल पर आयोजित कराने का फैसला किया गया। ये मुकाबला आज यानी शुक्रवार 29 नवंबर को दोपहर डेढ़ बजे से होगा। स्थल पर अंतिम समय तक अनिश्चितता बनी रही जिससे दोनों टीमों में खिलाडि़यों के चयन को लेकर संदेह रहा। आखिर में अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ ने इस मुकाबले को नूर-सुल्तान में कराने का फैसला किया क्योंकि उसके स्वतंत्र पंचाट ने पाकिस्तान टेनिस महासंघ की समीक्षा की अपील ठुकरा दी थी। सुमित नागल, रामकुमार रामनाथन और अनुभवी लिएंडर पेस जैसे खिलाड़ियों की उपस्थिति से भारत के आसानी से जीतने की उम्मीद है जबकि पाकिस्तानी खिलाड़ी अब भी आइटीएफ फ्यूचर्स स्तर के टूर्नामेंट में छाप छोड़ने में जूझ रहे हैं। इस मुकाबले की विजेता टीम मार्च में क्रोएशिया में होने वाले 2020 में विश्व ग्रुप क्वालीफायर में जगह बनाएगी। वहीं, 46 वर्षीय पेस के लिए सबसे ज्यादा डबल्स जीत का अपना डेविस कप रिकॉर्ड बेहतर करने का मौका होगा जिसमें वह 43 जीत से शीर्ष पर हैं। यह रिकॉर्ड उन्होंने पिछले साल चीन के खिलाफ खेलते हुए हासिल किया था। रामकुमार शुक्रवार को मुहम्मद शोएब के खिलाफ मुकाबले की शुरुआत करेंगे जो आइटीएफ फ्यूचर्स टूर्नामेंट के मुख्य ड्रॉ में एक भी मैच नहीं जीते हैं। दूसरे सिंगल्स में नागल का सामना हुजाएफा अब्दुल रहमान से होगा। शून्य से कम तापमान के कारण यह मुकाबला इंडोर हार्ड कोर्ट पर खेला जाएगा। शनिवार को मुकाबले के दूसरे दिन पेस और जीवन का सामना रिवर्स सिंगल्स में शोएब और हुजाएफा से होगा। अगर भारत 3-0 की अजेय बढ़त बना लेता है तब भी चौथा मुकाबला खेला जाएगा। टीमों के पास पांचवें मुकाबले को नहीं खेलने का विकल्प है।

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी ने गुरुवार को बैंकॉक में एशियन कॉन्टिनेंटल क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट की महिला व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा में स्वर्ण और अंकिता भक्त ने रजत पदक अपने नाम किया| दीपिका ने अंकिता को एकतरफा फाइनल में 6-0 से मात दी| इन दोनों ने सेमीफाइनल में पहुंचकर पहले ही देश के लिए व्यक्तिगत ओलंपिक कोटा हासिल कर लिया| अंतिम चार में अंकिता ने भूटान की कर्मा को, जबकि दीपिका ने वियतनाम की एनगुएट डो थि एन को पराजित किया था| भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी ने महिला व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा में स्वर्ण और अंकिता भक्त ने रजत पदक अपने नाम किया| इन दोनों ने सेमीफाइनल में पहुंचकर पहले ही देश के लिए व्यक्तिगत ओलंपिक कोटा हासिल कर लिया| इस महाद्वीपीय क्वालिफिकेशन से तीन कोटे हासिल किए जा सकते थे| भूटान और वियतनाम को बाकी दो कोटे हासिल हुए| शीर्ष वरीय दीपिका और छठी वरीय अंकिता ने अंतिम चार में पहुंचकर व्यक्तिगत ओलंपिक स्थान पक्का किया| दीपिका ने मलेशिया की नूर अफीसा अब्दुल को 7-2, ईरान की जहरा नेमाती को 6-4 और स्थानीय तीरंदाज नरीसारा खुनहिरानचाइयो को 6-2 से मात देकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया| अंतिम-4 में दीपिका ने एनगुएट को 6-2 से मात दी| अंकिता ने हांगकांग की लाम शुक चिंग एडा को 7-1, वियतनाम की एनगुएन थि फुयोंग को 6-0 और कजाखस्तान की अनास्तासिया बानोवा को 6-4 से मात दी| अंकिता ने अंतिम चार में कर्मा को 6-2 से पराजित किया|

Recent Posts