loader

Sports News

कर्नाटक तैराकी संघ ने घोषणा की कि वह राज्य के प्रशिक्षकों और स्वीमिंग पूल कर्मचारियों के लिए 15 लाख रुपये का तीन महीने वित्तीय राहत कोष उपलब्ध कराएगा। कोविड-19 महामारी के कारण पिछले छह महीने से स्वीमिंग पूल बंद पड़े हैं तथा प्रशिक्षक और कर्मचारी वित्तीय परेशानियों से जूझ रहे हैं।

कर्नाटक तैराकी संघ (केएसए) ने इसे भारत में किसी राज्य तैराकी संघ का अपनी तरह का पहला प्रयास बताया। उसने कहा कि वह केएसए केयर्स के जरिए जरूरतमंदों को वित्तीय सहायता देगा।

संघ ने कहा कि उसने अगस्त में कर्नाटक में 250 प्रशिक्षकों और स्वीमिंग पूल कर्मचारियों को 5.50 लाख रुपये की वित्तीय सहायता दी थी। बयान में कहा गया है कि पद, प्रदर्शन और लॉकडाउन के समय के वेतन के अनुरूप प्रत्येक को प्रतिमाह 10000, 5000, 3000 और 1500 रुपये दिए गए।

आईपीएल में क्रिकेटर अब चौकों-छक्कों की झड़ी लगाने के साथ ही मासिक धर्म के प्रति जागरूकता फैलाते भी नजर आएंगे। जी हां, राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी इस बार जो जर्सी पहनेंगे, उस पर एक सैनेटरी पैड निर्माता कंपनी का लोगो भी दिखाई देगा। राजस्थान रॉयल्स किसी सैनेटरी पैड निर्माता के साथ स्पॉन्सरशिप समझौता करने वाली पहली आईपीएल टीम है। उसने भारतीय कंपनी 'नाइन' के सैनेटरी पैड के प्रचार की हामी भरी है। यानी आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलने वाले बेन स्टोक्स, जोस बटलर और जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ी 'नाइन' के लोगो वाली जर्सी पहने नजर आएंगे।

टीम के मुख्य संचालन अधिकारी जेक लश मैकक्रम ने कहा कि मासिक धर्म भारत सहित कई देशों में अब भी चर्चा के लिए वर्जित विषयों में शुमार है। न सिर्फ महिलाएं, बल्कि पुरुष भी इस पर बात करने में असहज महसूस करते हैं। उन्होंने बताया कि दक्षिण एशियाई देशों में मान्यता है कि मासिक धर्म के दौरान महिलाएं अपवित्र होती हैं। इस कारण उन्हें भेदभाव और उपेक्षा से भी गुजरना पड़ता है।  मैकक्रम के मुताबिक भारत में रजस्वला उम्र की करोड़ों महिलाएं और लड़कियां आज भी मासिक धर्म के दौरान कपड़े, बोरों या पत्तों का इस्तेमाल करती हैं। सस्ते सैनेटरी पैड तक पहुंच हासिल न होना और स्वच्छता को लेकर जागरुकता की कमी इसकी मुख्य वजह है।

'नाइन' के प्रोडक्ट मैनेजर अमर तुलसियान ने बताया कि राजस्थान रॉयल्स से समझौता करने की एक बड़ी वजह पुरुषों में मासिक धर्म के प्रति जागरूकता लाना है। उन्हें एहसास दिलाना है कि सैनेटरी पैड भी घर में हर महीने आने वाले सामान में शामिल होना चाहिए। भाई-पिता-बेटे सबको इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि घर की प्रत्येक महिला मासिक धर्म में साफ और सुरक्षित सैनेटरी पैड का इस्तेमाल करे।

आईपीएल 2020 शुरू होने से एक दिन पहले ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाड़ियों का यूएई में पहुंचने का दौर शुरू हो चुका है। दोनों देशों के 21 खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में विभिन्न टीमों से खेल रहे हैं। यह सभी खिलाड़ी ब्रिटेन से खास विमान के जरिए यूएई पहुंचे हैं। यहां पहुंचने के बाद इन्हें सिर्फ 36 घंटे के लिए क्वारंटाइन होना रहेगा। ऐसे में यह सभी खिलाड़ी आईपीएल के उद्घाटन  मैच से ही उपलब्ध रहेंगे। दोनों टीमों के बीच तीन वनडे की सीरीज बुधवार को खत्म हुई थी।

जो खिलाड़ी स्पॉट हुए उनमें स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर, पैट कमिंस, इयोन मोर्गन, जोफ्रा आर्चर और जोस बटलर शामिल हैं। इन सभी खिलाड़ियों को कोरोना वायरस महामारी की वजह से पर्सनल प्रोटेक्शन किट्स (PPE)में देखा गया। 19 सितंबर को मुंबई और चेन्नई के बीच आईपीएल का पहला मैच खेला जाएगा।

इससे पहले बीसीसीआई के दिशा-निर्देश के अनुसार, इन खिलाड़ियों को 6 दिन के लिए क्वारंटाइन में रहना था। इस दौरान पहले, तीसरे और छठे दिन सभी का कोरोना टेस्ट होना था। सभी रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही 7वें दिन खिलाड़ियों को बायो-सिक्योर माहौल में एंट्री मिलनी थी। लेकिन अब एक टेस्ट की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही यह सभी खिलाड़ी अपनी-अपनी टीमों के बायो सिक्योर बबल में एंट्री कर पाएंगे।

एक फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने पहले कहा था कि बीसीसीआई ने क्वारंटाइन की अवधि 36 घंटे करके बहुत अच्छा काम किया है। इसका मतलब है कि चेन्नई सुपरकिंग्स (जोश हेजलवुड और टॉम कुरैन), राजस्थान रॉयल्स (स्मिथ, बटलर और आर्चर) के खिलाड़ी पहले मैच से ही उपलब्ध रहेंगे। इसी तरह से किंग्स इलेवन पंजाब के लिए ग्लेन मैक्सवेल और दिल्ली कैपिटल्स के लिए एलेक्स कैरी पहले मैच में खेल पाएंगे।'' केवल कोलकाता नाइटराइडर्स ही ऐसी फ्रेंचाइजी थी, जो छह दिन के क्वारंटाइन से प्रभावित नहीं हो रही थी क्योंकि उसका पहला मैच 23 सितंबर को है। उसकी टीम में इयोन मोर्गन, टॉम बैंटन और पैट कमिंस जैसे खिलाड़ी शामिल हैं।

इस साल का आईपीएल शुरू होने में अब बस कुछ घंटे ही रह गए हैं। शनिवार 19 सितम्बर को इस टूर्नामेंट की दो सबसे सफल टीमों चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच मुकाबले के साथ ही आईपीएल का आगाज हो जाएगा। इस मैच में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका सभी की निगाहें होंगी। इस लिस्ट में सबसे ऊपर नाम भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा का है। अपने ऑलराउंड खेल से टीम इंडिया में जगह पक्की कर चुके रवींद्र जडेजा के लिए भी यह मैच काफी मायने रखता है क्योंकि इस मैच में उनके नाम एक बड़ा रिकॉर्ड दर्ज हो सकता है।

रवींद्र जडेजा अगर आईपीएल के उद्घाटन मैच में 73 रन बनाने में सफल हो जाते हैं तो वो आइपीएल इतिहास के पहले ऑलराउंडर बन जाएंगे जिसने नाम पर 2000 रन और 100 विकेट दर्ज होंगे। उनसे पहले आइपीएल के अब तक के इतिहास में किसी भी ऑलराउंडर ने ये कमाल नहीं किया है। जडेजा आइपीएल में राजस्थान रॉयल्स, कोच्चि टस्कर्स केरल और गुजरात लायंस के लिए भी खेल चुके हैं और उनके नाम पर अब तक कुल 1927 रन व 108 विकेट दर्ज है।

सिर्फ यही नहीं, रवींद्र जडेजा के नाम इस टूर्नामेंट में फिफ्टी जड़े बगैर 1500 रन पूरे करने का रिकॉर्ड भी दर्ज है। इसका कारण यह है कि चेन्नई सुपर किंग्स की बल्लेबाजी लाइनअप काफी मजबूत है और उन्हें बल्लेबाजी क्रम में नीचे भेजने के कारण बैटिंग करने के ज्यादा मौके मिलते नहीं है। इसलिए ऐसा लगता है कि आईपीएल के उद्धाटन मैच में जडेजा के पास 2000 रन पूरा करने के चांस कम हैं। हालांकि पूरे सीजन में उनके पास यह मौका रहेगा। टीम इस दौरान लीग स्टेज में 14 मैच खेलेगी। इसके अलावा प्लेऑफ के मैच भी अलग से हैं। रवींद्र जडेजा ने अपना आईपीएल करियर राजस्थान रॉयल्स के साथ शुरू की थी और 2008 में खिताब जीतने वाली टीम का हिस्सा भी रहे थे।

पंजाब पुलिस ने बुधवार को बताया कि पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी सुरेश रैना के रिश्तेदारों पर हमले के मामले में एक गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. इस हमले में रैना के फूफा और फुफेरे भाई की मौत हो गई थी.पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी अंतरराज्यीय लुटेरे-अपराधी गिरोह के सदस्य हैं. इस बीच रैना परिवार से मिलने के लिए पठानकोट पहुंच गए हैं.यह हमला 19-20 अगस्त की रात को पठानकोट के थारयाल गांव में हुआ था. पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने यहां बताया कि 11 अन्य आरोपियों को अभी गिरफ्तार किया जाना है.रैना के फूफा अशोक कुमार की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि कुमार के बेटे कौशल ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था. कुमार की पत्नी आशा रानी अस्पताल में है और उनकी हालत नाजुक है. हमले में जख्मी हुए दो अन्य को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है.

पूर्व क्रिकेटर ने हमले को बेहद भयानक बताया था और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से इस घटना पर ध्यान देने का आग्रह किया था.  पंजाब पुलिस ने जांच के लिए चार सदस्य विशेष जांच दल गठित किया था.पंद्रह सितंबर को एसआईटी को सूचना मिली कि घटना के बाद सुबह में डिफेंस रोड पर दिखे तीन संदिग्ध पठानकोट रेलवे स्टेशन के नजदीक रह रहे हैं.

गुप्ता ने एक बयान में बताया कि छापा मारा गया और तीनों को पकड़ लिया गया. उन्होंने बताया कि उनके पास से सोने की अंगूठी, सोने की चेन और 1530 रुपये नकद बरामद हुए हैं. साथ में दो लकड़ी के डंडे भी मिले हैं.पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों की पहचान सावन उर्फ मैचिंग, मुहोब्बत और शाहरूख खान के तौर पर हुई है. सभी राजस्थान के झुंझुनू के निवासी है. पुलिस ने बताया कि शुरुआती जांच में पता चला है कि वे अन्य के साथ मिलकर गिरोह के तौर पर सक्रिय थे और उन्होंने उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर तथा पंजाब के कई हिस्सों में कई आपराधिक वारदातों को अंजाम दिया है.

राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के मुख्य कोच एंड्रयू मैकडोनाल्ड (Andrew Mcdonald) ने कहा है कि फ्रेंचाइजी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में दिग्गज हरफनमौला बेन स्टोक्स (Ben Stokes) की उपलब्धता को लेकर ‘सुनिश्चित नहीं’ है, जो न्यूजीलैंड में आपने बीमार पिता के साथ हैं। पिछले साल इंग्लैंड की विश्व कप खिताबी जीत के नायक रहे स्टोक्स (Ben Stokes) कठिन दौर से गुजर रहे हैं। अपने पिता को ब्रेन कैंसर का पता लगने के बाद वह पाकिस्तान के खिलाफ श्रृंखला के दूसरे टेस्ट से पहले अगस्त में टीम से हट गये थे।

मैकडोनाल्ड ने ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ से कहा, ‘‘ सबसे पहले और जरूरी यह है कि हमारी संवेदनाएं स्टोक्स के परिवार के साथ है। यह मुश्किल परिस्थिति है, इसलिए हम उसे उतना समय दे रहे हैं जितना उसे जरूरत है।” उन्होंने कहा, ‘‘ स्टोक्स की स्थिति अभी क्या है, हमें नहीं पता है लेकिन एक बार चीजें साफ हो जाएं तो हम कोई फैसला कर सकेंगे। हम अभी यह अनुमान नहीं लगा सकते कि उनका क्या होगा।” टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ के ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड एकदिवसीय श्रृंखला के पहले दो मैचों में नहीं खेलने के बारे में पूछे जाने पर मैकडोनाल्ड ज्यादा चिंतित नहीं दिखे।

उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे लगता है उसकी सोच स्पष्ट है। उसे थोड़े समय की जरूरत है। कनकशन (सिर में चोट) के बाद पहले और दूसरे एकदिवसीय के बीच काफी कम समय था तो सावधानी बरतते हुए ऐसा किया गया होगा। उम्मीद है कि वह बुधवार (तीसरे एकदिवसीय) को मैदान पर दिखेंगे।”

पिछले साल टीम के मुख्य कोच नियुक्त हुए मैकडोनाल्ड को अपने पहले आईपीएल में युवा खिलाड़ियों के बूते टीम से बेहतर नतीजे की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमने अपने बाएं हाथ की बल्लेबाजी को मजबूत किया है। खासकर (अनुज) रावत और (यशस्वी) जायसवाल जैसे घरेलू खिलाड़ी के रूप में हमें कुछ अच्छे विकल्प मिले हैं। अनुभवी डेविड मिलर के पास शानदर फिनिशिंग कौशल है।”

दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के आलराउंडर अक्षर पटेल (Axar Patel) ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने प्रत्येक विभाग में अच्छी तैयार की है और उनका मानना है कि इस साल फ्रेंचाइजी के पास पहली बार इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) खिताब जीतने की क्षमता है। भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण आईपीएल के 13वें सत्र का आयोजन यूएई के तीन स्थलों दुबई, अबु धाबी और शारजाह में 19 सितंबर से 10 नवंबर के बीच किया जाएगा। दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) की टीम टूर्नामेंट में प्रबल दावेदारों में शामिल होगी। 

टीम में कई अच्छे खिलाड़ियों की मौजूदगी पर अक्षर ने कहा, ‘‘नए बदलाव के साथ मुझे लगता है कि टीम काफी अच्छी लग रही है। तेज गेंदबाजों, स्पिनरों और आलराउंडरों की मौजूदगी में हमने सभी विभागों की तैयारी कर ली है और मुझे लगता है कि इस बार हम चैंपियन बन सकते हैं।” उन्होंने कहा, ‘‘नेट्स पर सभी सकारात्मक लग रहे हैं और हम सब फिट हैं।” छब्बीस साल के बायें हाथ के स्पिनर अक्षर ने कोरोना वायरस महामारी के बीच जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में ट्रेनिंग के अनुभव और चुनौतियों के बारे में बताया।

अक्षर ने कहा, ‘‘बेशक स्टेडियम में दर्शकों के नहीं होने से हमें खाली-खाली लगेगा। इसके अलावा लार के इस्तेमाल पर प्रतिबंध से गेंदबाजों के लिए काफी अंतर पैदा होने वाला है।” उन्होंने कहा, ‘‘शुरुआती अभ्यास सत्रों में मैं सतर्कता बरत रहा था कि गेंद पर लार या पसीने का इस्तेमाल नहीं करूं। इसलिए ये चुनौतियां हैं जिसके बारे में हमें चिंतित होने की जरूरत है।”

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के दिशानिर्देशों के अनुसार खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ का लीग के दौरान प्रत्येक पांच दिन में परीक्षण होगा। अक्षर ने कहा, ‘‘हमें थोड़ा बुरा लग रहा है कि हमें अपने दोस्तों के साथ मैचों का लुत्फ नहीं उठा सकते।'

मुंबई इंडियन्स (Mumbai Indians) के आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जेम्स पेटिनसन (James Pattinson ) ने जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ टी20 गेंदबाज करार देते हुए कहा कि वह आगामी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में भारत के तेज गेंदबाजी आक्रमण के इस अगुआई के साथ काम करने को लेकर उत्सुक हैं। आईपीएल (IPL 2020) का आयोजन यूएई में 19 सितंबर से 10 नवंबर के बीच किया जाएगा।पेटिनसन ने कहा, ‘‘निजी तौर पर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों के साथ काम करना शानदार है। बेशक बुमराह संभवत: दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टी20 गेंदबाज है। और बोल्ट (ट्रेंट बोल्ट) भी मौजूद है।” मुंबई इंडियन्स द्वारा जारी वीडियो में इस तेज गेंदबाज ने कहा, ‘‘इसलिए मेरे लिए इन खिलाड़ियों के साथ खेलना शानदार अनुभव होगा।”

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने इससे पहले यूएई में कुछ एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं इसलिए मुझे यहां यूएई में खेलने का थोड़ा अनुभव है।” गत चैंपियन मुंबई की टीम ने पेटिनसन को अनुभवी लसिथ मलिंगा के विकल्प के तौर पर टीम में शामिल किया है जिन्होंने निजी कारणों से इस साल आईपीएल में नहीं खेलने का फैसला किया।

यूएई की पिचों के संदर्भ में पेटिनसन ने कहा, ‘‘विकेट सूखे हैं और तीन विकेट हैं जिनका इस्तेमाल पूरे टूर्नामेंट के दौरान किया जाएगा इसलिए टूर्नामेंट आगे बढ़ने के साथ पिच धीमी होती जाएगी और उछाल कम हो जाएगा।”

स्थानीय युवा लोरेंजो मुसेत्ती ने इटालियन ओपन टेनिस के पहले दौर में स्टान वावरिंका को 6 . 0, 7 . 6 से हराकर बड़ा उलटफेर कर दिया। तीन बार के ग्रैंडस्लैम विजेता वावरिंका के हर शॉट का मुसेत्ती ने माकूल जवाब दिया। वह एटीपी टूर पर जीत दर्ज करने वाले 2002 में जन्मे पहले खिलाड़ी बन गए। वावरिंका ने अमेरिकी ओपन नहीं खेला था। मुसेत्ती 2018 अमेरिकी ओपन जूनियर फाइनल में उपविजेता था और उन्होंने 2019 में आस्ट्रेलियाई ओपन जूनियर खिताब जीता था। इटली के वाइल्ड कार्डधारी सल्वातोर कारूसो ने अमेरिकी क्वालीफायर टेनिस सैंडग्रेन को मात दी। अब उनका सामना सर्बिया के धुरंधर नोवाक जोकोविच से होगा। वहीं मुसेत्ती की टक्कर केइ निशिकोरि से होगी जो कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद अमेरिकी ओपन नहीं खेल सके थे

महिला वर्ग में कैटरीना सिनियाकोवा ने तीन बार की ग्रैंडस्लैम चैम्पियन एंजेलिक कर्बर को 6 . 3, 6 . 1 से हराया। वहीं 16 वर्षीय अमेरिकी कोको गॉ ने ओंस जाबेउर को 6 . 4, 6 . 3 से मात दी। अब उनका सामना पूर्व फ्रेंच ओपन और विम्बलडन चैम्पियन गारबाइन मुगुरूजा से होगा जिसने स्लोएने स्टीफेंस को 6 . 3, 6 . 3 से हराया।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) की मेजबानी करने वाले तीन स्थलों में से एक शारजाह स्टेडियम (Sharjah Cricket Stadium) का दौरा किया और इस नवीनीकृत स्टेडियम की सराहना की। भारत में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए आईपीएल 2020 को यूएई में आयोजित किया जा रहा है और इस टी20 लीग की मेजबानी दुबई, अबु धाबी और शारजाह करेंगे।

सोमवार को यहां जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार गांगुली (Sourav Ganguly)ने कहा कि युवा खिलाड़ी उस क्रिकेट मैदान में खेलने को लेकर उत्सुक हैं जहां सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर जैसे महान खिलाड़ियों ने इतिहास रचा। हाल में शारजाह स्टेडियम (Sharjah Cricket Stadium) में बड़े पैमाने पर नवीनीकरण का कार्य किया गया है जिसमें नई कृत्रिम छत लगाना, रॉयल सुइट को अपग्रेड करना के अलावा कमेंटरी बॉक्स और वीआईपएल हॉस्पिटेलिटी बॉक्स को कोविड-19 से जुड़े नियमों के अनुसार तैयार करना है।

गांगुली(Sourav Ganguly) के साथ इस दौरान आईपीएल चेयरमैन बृजेश पटेल, पूर्व आईपीएल प्रमुख राजीव शुक्ला और आईपीएल सीओओ हेमंग अमीन भी मौजूद थे। इस दौरान बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरूण धूमल, बीसीसीआई संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज और मुबासिर उस्मानी के अलावा एमिरेट्स क्रिकेट बोर्ड के महाप्रबंधक भी मौजूद थे। शारजाह को आईपीएल के आगामी सत्र में 12 मैचों की मेजबानी करनी है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) ने जिम्बाब्वे के खिलाफ अगले महीने शुरू होने वाली अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला के लिये जैविक रूप से सुरक्षित बबल तैयार करने में इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (England & Wales Cricket Board) (ECB) की मदद मांगी है। जिम्बाब्वे टीम 20 अक्टूबर को पाकिस्तान पहुंचेगी । उनके टी20 और वनडे मैच मुल्तान और रावलपिंडी में होने की संभावना है । 

पीसीबी के एक सूत्र ने कहा ,‘‘ दोनों स्थानों पर विचार हो रहा है क्योंकि वहां पर राष्ट्रीय टी20 चैम्पियनशिप जैव सुरक्षित माहौल में होगी ।” पीसीबी पाकिस्तान सुपर लीग के बाकी चार मैच भी पांच नवंबर से लाहौर में आयोजित करायेगा।

अपने तेज गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर इंग्लैंड (England) ने दूसरे एक दिवसीय क्रिकेट मैच में आस्ट्रेलिया (Australia) को 24 रन से हराकर श्रृंखला में 1 . 1 से बराबरी कर ली। इंग्लैंड (England) का टास जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला एक समय गलत साबित होता नजर आने लगा जब विश्व चैम्पियन टीम नौ विकेट पर 231 रन ही बना सकी और आस्ट्रेलिया (Australia) ने 20 ओवर बाकी रहने तक दो विकेट पर 143 रन बना लिये थे। आस्ट्रेलिया के लिये कप्तान आरोन फिंच (73) और मार्नस लाबुशेन (48) ने तीसरे विकेट के लिये 107 रन की साझेदारी की।

एक सय आस्ट्रेलिया का स्कोर छह विकेट पर 147 रन था जो आठ विकेट पर 166 रन हो गया । पूरी टीम 48 . 4 ओवर में 207 रन पर आउट हो गई । इंग्लैंड के तेज गेंदबाज क्रिस वोक्स ने 32, जोफ्रा आर्चर ने 34 और सैम कुरेन ने 35 रन देकर तीन तीन विकेट लिये । इससे पहले इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। सातवें ओवर तक उसके दोनों सलामी बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टॉ (शून्य) और जैसन रॉय (21) पवेलियन जा चुके थे । एडम जंपा (36 रन देकर तीन विकेट) ने अनुभवी जो रूट (39) कप्तान इयोन मोर्गन (42) और पिछले मैच में शतक जड़ने वाले सैम बिलिंग्स (आठ) को आउट करके इंग्लैंड का मध्यक्रम लड़खड़ाया।

निचले क्रम के बल्लेबाजों क्रिस वोक्स (26), टॉम कुर्रेन (37) और आदिल राशिद (नाबाद 35) ने टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। टॉम कुर्रेन और राशिद ने नौवें विकेट के लिये 76 रन जोड़े जिससे टीम 200 रन से आगे पहुंचने में सफल रही। आस्ट्रेलिया की तरफ से जंपा के अलावा मिशेल स्टार्क ने 38 रन देकर दो विकेट लिये। जोश हेजलवुड (27 रन देकर एक) ने बेहद किफायती गेंदबाजी की। पैट कमिन्स और मिशेल मार्श ने भी एक . एक विकेट हासिल किया। आस्ट्रेलिया ने शुरू से कसी हुई गेंदबाजी की और इंग्लैंड के बल्लेबाजों दबाव में रखा।

आस्ट्रेलिया के महान स्पिनर शेन वार्न (Shane Warne) को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) टीम राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) ने मेंटोर भी नियुक्त किया है। इस तरह से वह फ्रेंचाइजी के ‘ब्रांड दूत’ की भूमिका के अलावा यह पद भी संभालेंगे। वार्न 2008 में फ्रेंचाइजी के शुरू होने के समय से ही राजस्थान रॉयल्स से जुड़े हुए हैं और उन्होंने उसी शुरूआती वर्ष में टीम को इंडियन प्रीमियर लीग का एकमात्र खिताब भी दिलाया था। टीम मेंटोर के तौर पर वार्न मुख्य कोच एंड्रयू मैकडोनाल्ड के साथ काम करेंगे। 

ये देानों 2003-07 तक विक्टोरिया टीम के साथी भी रहे। वह फ्रेंचाइजी के क्रिकेट प्रमुख जुबिन भरूचा के साथ मिलकर यह काम करेंगे। वार्न ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा, ‘‘अपनी दोहरी भूमिका के बारे में कहूं तो रॉयल्स के साथ होना हमेशा अच्छा अहसास है, मेरी टीम, मेरा परिवार। जिस फ्रेंचाइजी को मैं इतना प्यार करता हूं, उसके सभी स्तर पर काम करना रोमांच भरा होगा। 

दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने आर्थिक रूप से कमजोर 560 आदिवासी बच्चों की मदद करने के लिए एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के साथ हाथ मिलाया है। तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)  ने ‘एनजीओ परिवार’ के साथ भागीदारी की है जिसने मध्य प्रदेश के सीहोर जिले के दूरदराज के गांवों में सेवा कुटीर का निर्माण किया है। इस जिले के सेवानिया, बीलपति, खापा, नयापुरा और जामुनझील गांव के बच्चों को तेंदुलकर की संस्था की मदद से पौष्टिक भोजन और शिक्षा प्रदान की जा रही हैं। 

ये बच्चे मुख्य रूप से बरेला भील और गोंड जनजातियों से हैं। यहां जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘‘ सचिन (तेंदुलकर) की यह पहल मध्य प्रदेश के उन आदिवासी बच्चों के प्रति उनकी चिंता का प्रमाण है, जो कुपोषण और अशिक्षा से त्रस्त हैं।” तेंदुलकर यूनिसेफ के सद्भावना दूत के रूप में में नियमित रूप से ‘बच्चों के प्रारंभिक विकास’ जैसे जरूरी मुद्दे पर बोलते रहे हैं। 

आस्ट्रेलियाई (Australia) तेज गेंदबाज पैट कमिंस (Pat Cummins) ने कहा है कि इंग्लैंड (England) के खिलाफ दूसरे वनडे में दो बार जीत के करीब पहुंचकर मिली हार को पचाना बहुत मुश्किल है । इंग्लैंड (England)ने आठ विकेट 149 रन पर गंवाने के बाद नौ विकेट पर 231 रन बनाये । इसके बाद आस्ट्रेलिया (Australia) ने शानदार शुरूआत करके दो विकेट पर 144 रन बना लिये थे लेकिन पूरी टीम 207 रन पर आउट हो गई । तीन मैचों की श्रृंखला अब 1 . 1 से बराबर है ।

कमिंस (Pat Cummins) ने कहा ,‘‘ मैं इस मैच के फुटेज देखूंगा । हमें 40वें ओवर तक लगा था कि मैच हमारी गिरफ्त में है लेकिन फिर पासा पलट गया । हमें उन्हें 200 रन पार करने देना नहीं चाहिये था ।” उन्होंने कहा ,‘‘ इस हार को पचाना मुश्किल है । हमने अच्छी गेंदबाजी की लेकिन आखिरी 10 ओवर में अतिरिक्त 40 . 50 रन दे दिये ।” कमिंस ने कहा कि उनकी टीम को इस तरह की पिचों पर बेहतर प्रदर्शन करना होगा क्योंकि 2023 में भारत में विश्व कप में ऐसी ही पिचों से सामना होगा ।

नेमार (Neymar) समेत पांच खिलाड़ियों को स्टॉपेज टाइम में लालकार्ड दिखाया गया जिससे पेरिस सेंट जर्मेन (Paris Saint-Germain) फुटबॉल क्लब को तनावपूर्ण मुकाबले में मार्शेले ने मात दी।

पेरिस. नेमार (Neymar) समेत पांच खिलाड़ियों को स्टॉपेज टाइम में लालकार्ड दिखाया गया जिससे पेरिस सेंट जर्मेन (Paris Saint-Germain) फुटबॉल क्लब को तनावपूर्ण मुकाबले में मार्शेले ने मात दी। पीएसजी स्टार नेमार को सीधे लालकार्ड मिला जो सेंटर हाफ अलवारो गोंजालेस से भिड़ गए थे।

मार्शेले (Marseille) ने यह मैच 1 . 0 से जीता। ब्राजील के स्टार फुटबॉलर नेमार ने बाद में अधिकारियों से कहा कि उन पर नस्लवादी टिप्पणी की गई थी। पिछले नौ साल में मार्शेले के हाथों यह पीएसजी की पहली हार है। 

जापान की 22 वर्षीय नाओमी ओसाका ने दूसरी बार अमेरिकी ओपन का खिताब अपने नाम कर लिया है. फाइनल में ओसाका ने बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका को शिकस्त दी. पहले सेट हारने के बाद ओसाका ने जबरदस्त वापसी करते हुए लगातार दो सेट जीतकर मैच जीता. उन्होंने अजारेंका को 1-6, 6-3, 6-3 से मात दी.

अमेरिकी ओपन के महिलाओं के सिंगल्स फाइनल मुकाबला यूएसटीए बिली जींस किंग नैशनल टेनिस सेंटर में खेला गया. महज 22 साल की ओसाका का यह तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब है. इससे पहले वह साल 2018 में अमेरिकी ओपन और 2019 में ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब अपने नाम कर चुकी हैं.

विक्टोरिया अजारेंका को तीसरी बार अमेरिकी ओपन के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा. अजारेंका साल 2012 और 2013 में भी अमेरिकी ओपन की फाइनल में पहुंचीं थीं जहां उन्हें दोनों बार दिग्गज खिलाड़ी सेरेना विलियम्स ने हराया था.

1994 के बाद पहली बार ऐसा हुआ जब कोई महिला खिलाड़ी ने पहला सेट हारने के बाद अमेरिकी ओपन का खिताब अपने नाम किया. इससे पहले सेमीफाइनल में जापानी खिलाड़ी नाओमी ओसाका ने अमेरिका की जेनिफर ब्रैडी को मात दी और फाइनल में जगह बनाई. ओसाका ने मेजबान जेनिफर ब्रैडी को 7-6(1), 3-6, 6-3 से मात देकर फाइनल में प्रवेश हासिल किया.

मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस ने शनिवार को आईपीएल के आगामी सीजन के लिए अपना थीम कैम्पेन लांच कर दिया है. मौजूदा विजेता प्रशंसकों को सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए जश्न में शामिल होने के लिए प्रेरित कर रही है.फ्रेंचाइजी ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें प्रशंसक अपने घरों और कॉलोनियों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर जश्न मानते दिखाई दे रहे हैं. फ्रेंचाइजी ने एक बयान में कहा कि यह हमारे परिवार की भावना को बताता है जो किसी भी स्थिति में सिमटती नहीं है.

आईपीएल के सभी मैच यूएई के तीन शहरों में खेले जाएंगे
आईपीएल-2020 का आयोजन इस बार कोविड-19 के कारण संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में किया जा रहा है. आईपीएल के सभी मैच यूएई के तीन शहर दुबई, अबु धाबी और शारजाह में खेले जाएंगे. इन तीन शहरों में दुबई सबसे ज्यादा 24 मैचों की मेजबानी करेगा. वहीं अबु धाबी में 20 मैच खेले जाएंगे. शरजाह में सबसे कम 12 मैच खेले जाएंगे.

करोनामुळे क्रिकेटवर बरीच बंधन आलेली आहेत. त्यामुळे क्रिकेटपटूंनाही काही समस्या जाणवत आहे. यापूर्वी चेंडू सीमारेषे पार गेला की तो सहज मिळायचा. पण आता चाहत्यांना स्टेडियममध्ये प्रवेश दिला जात नाही. त्यामुळे एका क्रिकेटपटूवर स्टेडियमच्या पार्किंगमध्ये जाऊन चेंडू आणण्याची वेळ आली. या गोष्टीचा व्हिडीओ आता चांगलाच व्हायरल झालेला पाहायला मिळत आहे.

शुक्रवारी इंग्लंड आणि ऑस्ट्रेलिया यांच्यामध्ये पहिला एकदिवसीय सामना खेळवण्यात आला. या सामन्यात ऑस्ट्रेलियाने इंग्लंडवर विजय मिळवला. पण या सामन्यात एका ऑस्ट्रेलियाच्याच खेळाडूवर गाड्यांच्या पार्किंगमध्ये जाऊन चेंडू आणण्याची वेळ आल्याचे पाहायला मिळाले. नेमके घडले तरी काय, पाहा...

ही गोष्ट सामन्याच्या २७ व्या षटकात घडली. त्यावेळी ऑस्ट्रेलियाचा वेगवान गोलंदाज पॅट कमिन्स हा गोलंदाजी करत होता. त्याचा सामना करायला इंग्लंडचा सॅम बिलिंग्स सज्ज होता. कमिन्सने एक बाऊन्सर टाकण्याचा प्रयत्न केला. त्यावेळी सॅमने या चेंडूनर जोरदार प्रहार करण्याता प्रयत्न केला, पण चेंडूने सॅमच्या बॅटची कडा घेतली. पण सॅमच्या ताकदिच्या जोरावर हा चेंडू सीमारेषेपार गेला आणि इंग्लंडला षटकार मिळाला. पण हा चेंडू त्यानंतर गाड्यांच्या पार्किंगच्या येथे गेला. आता स्टेडियममध्ये प्रेक्षक तर नव्हतेच. त्यामुळेच पार्किंगमध्ये जाऊन चेंडू आणण्याची वेळी ऑस्ट्रेलियाच्या मिचेल मार्शवर आली होती.

न्यूजीलैंड के पूर्व हरफनमौला स्कॉट स्टाइरिस (Scott Styris) को लगता है कि सुरेश रैना (Suresh Raina) के आगामी इंडियन प्रीमियर (IPL 2020) लीग से हटने के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) के लिये तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये अंबाती रायुडू (Ambati Rayudu) आदर्श क्रिकेटर हैं। लीग के 13वें चरण के शुरू होने से पहले रैना ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए हटने का फैसला किया और ऐसा तब हुआ जब चेन्नई सुपरकिंग्स दल में 13 कोविड-19 पॉजिटिव मामले सामने आये थे। 

स्टाइरिस ने स्टार स्पोर्ट्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टिड’ से कहा, ‘‘व्यक्तिगत रूप से मैं उस स्थान पर रायुडू को रखूंगा। ” वह मानते हैं कि रैना की अनुपस्थिति से चेन्नई सुपरकिंग्स के मध्यक्रम में काफी खालीपन आ गया है और उनकी जगह किसी को ढूंढना आसान नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘‘उस स्तर का खिलाड़ी जो इतने लंबे समय तक इतना अच्छा खेला। अचानक से उतने रन बनाने वाले और यहां तक कि मैदान में और गेंद से भी अच्छा करने वाले खिलाड़ी को ढूंढना बड़ा काम होगा। ”

उन्होंने कहा, ‘‘मैं जानता हूं कि चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम में गहराई है, उनके पास शीर्ष में काफी विकल्प हैं, लेकिन मेरा यह भी मानना है कि अब तीसरे नंबर के लिये खिलाड़ी को ढूंढने का भी काफी दबाव है। चेन्नई सुपरकिंग्स के लिये यह शायद सबसे चुनौतीपूर्ण समय है। ” स्टाइरिस ने कहा, ‘‘अब रैना और हरभजन (सिंह) के नहीं होने से खिलाड़ियों को एकजुट करना इस ग्रुप के नेतृत्वकर्ताओं का – महेंद्र सिंह धोनी और स्टीफन फ्लेमिंग – काम है।” 

 कोरोना वायरस महामारी के कारण पांच महीने के ब्रेक के बावजूद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के कप्तान विराट कोहली अपनी टीम के सदस्यों की फिटनेस के स्तर से खुश है और 19 सितंबर से शुरू हो रहे आईपीएल से पहले उन्होंने कहा है कि सभी पूरी तरह फिट दिख रहे हैं । फिटनेस के ऊंचे मानदंड कायम करने वाले कोहली ने कहा कि यूएई पहुंचने के बाद पहले अभ्यास सत्र से उन्हें अच्छा महसूस हुआ । उन्होंने आरसीबी के ट्विटर हैंडिल पर कहा ,‘‘ फिटनेस के मामले में हर कोई बेहतरीन दिख रहा है ।यह अच्छा महसूस करने की बात है और मुझे यहां पहले ही सत्र से अच्छा महसूस हो रहा है ।”

कोहली ने कहा ,‘‘ कुछ चीजों में आप सुधार करने की कोशिश करते हैं ताकि मानसिक रूप से तैयारी मुकम्मिल हो सके ।” भारतीय कप्तान ने कहा कि टीम प्रबंधन ने दो सप्ताह ट्रेनिंग में पूरा संतुलन रखा ताकि कोई खिलाड़ी चोटिल नहीं हो । उन्होंने कहा ,‘‘ हमने छह दिन में छह सत्र नहीं किये ।लड़कों को पूरा समय दिया और आगे भी अभ्यास ऐसे ही होगा ।” कोहली ने कहा कि लंबे ब्रेक के बाद धीरे धीरे शुरूआत करनी जरूरी थी और वह टीम की तैयारी से खुश हैं । उन्होंने कहा ,‘‘ शुरूआत में कुछ परेशानियां आई क्योंकि इतने लंबे ब्रेक के कारण शरीर अकड़ गया था । लेकिन अब खिलाड़ी लय में आ गए हैं ।” आरसीबी को 21 सितंबर को यूएई में सनराइजर्स हैदराबाद से पहला मैच खेलना है। 

दो सेट में पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करते हुए अलेक्जेंडर ज्वेरेव (Alexander Zverev) ने पाब्लो कारेनो बस्टा (Pablo Carreno Busta) को हराकर अमेरिकी ओपन पुरूष एकल फाइनल में प्रवेश कर लिया जहां उनका सामना डोमिनिक थीम से होगा । जर्मनी के 23 वर्ष के टेनिस स्टार ज्वेरेव पहले दो सेट में बिल्कुल फार्म में नहीं दिखे लेकिन समय पर संभलते हुए उन्होंने बस्टा को 3 . 6, 2 . 6, 6 . 3 , 6 . 4, 6 . 3 से हराया । पांचवीं वरीयता प्राप्त ज्वेरेव अब दूसरी वरीयता प्राप्त थीम से रविवार को खिताब के लिये खेलेंगे । थीम ने उन्हें जनवरी में आस्ट्रेलियाई ओपन सेमीफाइनल में हराया था । जीत के बाद ज्वेरेव ने कहा ,‘‘ दो सेट गंवाने के बाद आम तौर पर खिलाड़ी पकड़ छोड़ देते हैं लेकिन मैं मैच में बना रहा । 

मुकाबले आसान नहीं होते और कई बार सब्र की परीक्षा होती है ।” नौ साल पहले रोजर फेडरर के हाथों दो सेट गंवाने के बाद नोवाक जोकोविच ने इसी तरह वापसी की थी । उसके बाद से यह कमाल करने वाले ज्वेरेव पहले खिलाड़ी हैं । वह पिछले दस साल में ग्रैंडस्लैम फाइनल खेलने वाले सबसे युवा खिलाड़ी भी हैं ।जोकोविच 2010 में अमेरिकी ओपन फाइनल में पहुंचे , तब वह 23 वर्ष के थे । वहीं आस्ट्रिया के 27 वर्षीय थीम ने पिछले साल के उपविजेता दानिल मेदवेदेव को 6 . 2, 7 . 6 , 7 . 6 से हराया । थीम दो साल पहले फ्रेंच ओपन फाइनल में रफेल नडाल से हारे थे जबकि इस साल आस्ट्रेलियाई ओपन फाइनल में उन्हें नोवाक जोकोविच ने मात दी थी। 

कप्तान कीरोन पोलार्ड (Kieron Pollard) की शानदार गेंदबाजी के बाद लेंडल सिमन्स (Lendl Simmons) और डेरेन ब्रावो (Darren Bravo) के बीच अटूट शतकीय साझेदारी से ट्रिनबागो नाइटराइडर्स (Trinbago Knight Riders) ने फाइनल में सेंट लूसिया जॉक्स (ST Lucia Zouks) को आठ विकेट से हराकर कैरेबियाई प्रीमियर लीग (CPL 2020) का खिताब जीता। ट्रिनबागो के सामने 155 रन का लक्ष्य था जो उसने सिमन्स (49 गेंदों पर नाबाद 84) और ब्रावो (47 गेंदों पर नाबाद 58) के बीच तीसरे विकेट के लिये 138 रन की अटूट साझेदारी से 11 गेंद शेष रहते ही हासिल कर दिया। 

ट्रिनबागो को इस पूरे टूर्नामेंट में दबदबा इस कदर रहा कि उसने खिताब जीतने तक एक भी मैच नहीं गंवाया जो सीपीएल में नया रिकार्ड है। उसने खिताबी जीत अपने प्रमुख खिलाड़ी सुनील नारायण के बिना दर्ज की जिन्हें अंतिम एकादश में जगह नहीं दी गयी थी। मैच का टर्निंग प्वाइंट 17वां ओवर रहा जिसे अफगानिस्तान के बायें हाथ के स्पिनर जाहिर खान ने किया। इस ओवर में 23 रन बने। इससे पहले ट्रिनबागो को 24 गेंदों पर 41 रन चाहिए थे लेकिन ब्रावो के दो छक्कों और सिमन्स के एक छक्के ने तस्वीर बदल दी। ऐसे में सेंट लूसिया के सबसे प्रभावशाली गेंदबाज स्कॉट कूगलीन का भी अपने गेंदों पर नियंत्रण नहीं रहा। सिमन्स ने उन पर एक छक्का और चौका लगाया।

इस ओवर में भी 16 रन बने। ब्रावो ने 19वें ओवर की पहली गेंद पर विजयी चौका जड़कर स्कोर दो विकेट पर 157 रन पर पहुंचा दिया। सिमन्स ने अपनी पारी में आठ चौके और चार छक्के जबकि ब्रावो ने दो चौके और छह छक्के लगाये। इससे पहले ट्रिनबागो के कप्तान पोलार्ड ने सेंट लूसिया को अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठाने दिया।

एक समय सेंट लूसिया का स्कोर एक विकेट पर 77 रन था लेकिन पोलार्ड ने 30 रन देकर चार विकेट लेकर विकेटों का पतझड़ लगा दिया। सेंट लूसिया की टीम 19.1 ओवर में 154 रन पर सिमट गयी। सेंट लूसिया की तरफ से मार्क डेयल (29), आंद्रे फ्लैचर (39) और रोस्टन चेज (22) अपनी अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पाये। 

पिछले छह महीनों में अपना दूसरा टूर्नामेंट खेल रहे भारतीय गोल्फर अनिर्बान लाहिड़ी (Anirban Lahiri) ने सेफवे गोल्फ चैंपियनशिप (Safeway Open Championship) के पहले दौर में दो ओवर 74 का कार्ड खेला और वह संयुक्त 128वें स्थान पर हैं। लाहिड़ी का यह पिछले चार सप्ताह में पहला टूर्नामेंट है। उन्होंने दो बर्डी बनायी लेकिन इस बीच दो बोगी और एक डबल बोगी भी की। उन्हें कट में जगह बनाने के लिये दूसरे दौर में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। 

इस बीच स्कॉटलैंड के रसेल नॉक्स ने नौ अंडर 63 का स्कोर बनाया और पीजीए टूर 2020-21 सत्र के इस पहले टूर्नामेंट के शुरुआती दौर में बढ़त बनायी। भारतीय मूल के अमेरिकी गोल्फर अक्षय भाटिया ने छह अंडर 66 का कार्ड खेला। यह 18 वर्षीय खिलाड़ी अभी संयुक्त 11वें स्थान पर है। भारतीय मूल के एक अन्य अमेरिकी गोल्फर सहित थीगाला ने एक अंडर 71 का स्कोर बनाया और वह संयुक्त 81वें स्थान पर हैं। थीगाला 2020 में पेशेवर बना था जबकि भाटिया 2019 में 17 साल की उम्र में ही पेशेवर बन गया था। 

किंग्स इलेवन पंजाब (Kings XI Punjab) की पुर्नगठित टीम में आगामी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में सफलता हासिल करने के लिये सभी जरूरी चीजें मौजूद हैं लेकिन उन्हें सुनिश्चित करना होगा कि वे अच्छी शुरूआत को नहीं गंवायें और उनका विदेशी संयोजन उपयुक्त हो। पंजाब की टीम ने पिछले साल नीलामी में काफी राशि खर्च की और अपने मध्यक्रम को मजबूत करने और ‘डेथ ओवरों की गेंदबाजी’ की कमियों को दूर करने के लिये नौ खिलाड़ियों को खरीदा।

मध्यक्रम में ग्लेन मैक्सवेल की वापसी और शेल्डन कॉट्रेल और क्रिस जोर्डन के रूप में ‘डेथ ओवरों की गेंदबाजी’ के विकल्प हासिल करने से दिख रहा है कि टीम ने अपनी कमियों को दूर कर लिया है। उनके पास क्रिस गेल और लोकेश राहुल के रूप में खतरनाक सलामी जोड़ी है और उनके बाद मयंक अग्रवाल भी आईपीएल में अपनी अंतरराष्ट्रीय सफलता को दोहराने का लक्ष्य बनाये हुए हैं। पंजाब को साथ ही निकोलस पूरन को नियमित रूप से खिलाने का तरीका ढूंढना होगा क्योंकि वेस्टइंडीज का यह खिलाड़ी कैरेबियाई प्रीमियर लीग में सफल अभियान के बाद यहां पहुंच रहा है।

लीग चरण के ज्यादातर हिस्से में मध्यक्रम में मैक्सवेल का साथ देने के लिये मंदीप सिंह या सरफराज खान के मौजूद रहने की उम्मीद है। यह सत्र राहुल की कप्तानी के लिये भी बड़ी परीक्षा होगा जिन्हें सलामी बल्लेबाज के तौर पर दो सत्र में शानदार प्रदर्शन के आधार पर टीम की अगुआई की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। जैसा कि वह खुद कह चुके हैं, उन्हें इस दबाव भरी चुनौती से निपटने के लिये मुख्य कोच अनिल कुंबले और बाकी सहयोगी स्टाफ पर निर्भर रहना होगा। कॉट्रेल और जोर्डन के अलावा तेज गेंदबाजी में अन्य विकल्प मोहम्मद शमी, जेम्स नीशाम, हार्डस विलजोन, दर्शन नलकंडे, अर्शदीप सिंह और इशान पोरेल हैं।

शीर्ष गोल्फर और दो बार के चैंपियन ब्रूक्स कोएपका (Brooks Koepka) बायें घुटने में दर्द के कारण यूएस ओपन (US Open) गोल्फ टूर्नामेंट से हट गये हैं। कोएपका ने हाल में दस सप्ताह के अंदर आठ टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। इनमें से उन्होंने लगातार छह सप्ताह तक टूर्नामेंट भी खेले लेकिन पिछले साल लगी घुटने की चोट फिर से उबरने के कारण उन्हें फेडएक्स कप प्लेऑफ से हटना पड़ा था। 

उन्होंने अपने ट्विटर पेज पर लिखा, ‘‘दुर्भाग्य से मैंने अगले सप्ताह से शुरू होने वाले यूएस ओपन से हटने का फैसला किया है। मैं पूरी तरह स्वस्थ होकर जल्द ही वापसी करने पर ध्यान दे रहा हूं। ” कोएपका की जगह पॉल वारिंग को यूएस ओपन में जगह दी गयी है। 

अनुभवी आलराउंडर शेन वाटसन (Shane Watson) का मानना है कि कोविड-19 के 13 मामले सामने आने के कारण तैयारियों में रुकावट के बावजूद चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) अपने अनुभवी और क्षमतावान खिलाड़ियों के दम पर आगामी इंडियन प्रीमियर लीग ( IPL 2020) में जीत दर्ज करने में सफल रहेगा। चेन्नई की टीम के 13 सदस्यों को 19 सितंबर से शुरू होने वाले टूर्नामेंट से कुछ सप्ताह पहले इस घातक बीमारी से संक्रमित पाया गया था। इनमें दो खिलाड़ी भी शामिल थे। इसके कारण उसकी टीम को अधिक दिनों तक पृथकवास पर रहना पड़ा और उसने सबसे बाद में अभ्यास शुरू किया। 

वाटसन ने नबील हाशमी के यूट्यूब कार्यक्रम में कहा, ‘‘एक अनुभवी टीम होने का मतलब है कि आपके खिलाड़ियों पास पहले मैच से ही दबाव की परिस्थितियों में अपने कौशल को दिखाने की अच्छी समझ है। ” हाशमी पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) की टीम क्वेटा ग्लैडिएटर्स से जुड़े हैं। वाटसन पीएसएल में इस टीम की तरफ से खेलते हैं। पूर्व आस्ट्रेलियाई आलराउंडर ने कहा, ‘‘इसलिए मेरा मानना है कि हमारी जीत की अच्छी संभावना है क्योंकि हमारे पास बहुत अच्छे और अनुभवी खिलाड़ी है। हमारे पास कम गलतियां करते हुए जल्द से जल्द लय हासिल करने के अधिक मौके होंगे। ”

वाटसन ने पिछले सत्र के उतार चढ़ाव वाले दौर में उनका साथ देने के लिये चेन्नई के टीम प्रबंधन की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे लिये 2018 का सत्र अच्छा रहा। यह केवल फाइनल (जिसमें उन्होंने मैच विजेता शतक जड़ा था) तक सीमित नहीं है। लेकिन पिछले साल सीएसके ने पूरी तरह से मेरा साथ दिया। उन्हें विश्वास था कि मैं जल्द अच्छी पारी खेलूंगा और वे मेरा साथ देते रहे। केवल विश्वस्तरीय नेतृत्व इस तरह से भरोसा बनाये रखता है। 

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई (ACU ) खाली स्टेडियमों में होने वाले आगामी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के दौरान सोशल मीडिया के जरिये होने वाली भ्रष्ट पेशकश को रोकने पर ध्यान देगी और इससे पहले वह खिलाड़ियों को ‘वीडियो काउंसलिंग’ के जरिये शिक्षित करेगी। अजित सिंह की अगुवाई में बीसीसीआई (BCCI) की आठ सदस्यीय टीम मंगलवार को दुबई पहुंची और अभी वह पृथकवास पर है।

सिंह पहले ही कह चुके हैं कि 19 सितंबर से शुरू होने वाला आईपीएल पूर्व के टूर्नामेंटों की तुलना में अधिक सुरक्षित है क्योंकि यह जैव सुरक्षित वातावरण में खेला जाएगा। स्टेडियम में दर्शक नहीं होंगे और प्रशंसकों को टीम होटल में आने की अनुमति नहीं दी जाएगी। ऐसे भी वाकये हुए हैं जबकि भ्रष्ट लोगों ने प्रशंसक के रूप में खिलाड़ियों से संपर्क किया। एसीयू सभी आठ टीमों से अलग अलग बात करेगी तथा यह सत्र उन युवा खिलाड़ियों के लिये अधिक उपयोगी होगा जिन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट या आईपीएल की चकाचौंध का अनुभव नहीं है। स्थापित खिलाड़ी पहले ही एसीयू के नियमों से अवगत हैं।

सिंह ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘इस बार वीडियो काउंसलिंग होगी और यह एक के बाद एक आधार नहीं की जाएगी। हम इसे समूह और व्यक्तिगत आधार पर भी कर सकते हैं। यह परिस्थितियों पर निर्भर है। हम एक टीम के बाद दूसरी टीम के साथ काउंसलिंग करेंगे। ” उन्होंने कहा, ‘‘हमने खेल इंटीग्रिटी एजेंसियों को भी काम पर रखा है। हम खिलाड़ियों की गतिविधियों पर निगरानी रखने के लिेये उनकी मदद लेंगे कि वहां कोई संदिग्ध है। ”

विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने गुरुवार को राफेल (Rafale) लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के बेड़े में शामिल किये जाने का स्वागत करते हुए कहा कि ‘आईएएफ पायलटों के हाथों में आकर इस शक्तिशाली विमान की मारक क्षमता और बढ़ेगी।’ ऐसा भी समय आता है जबकि प्रादेशिक सेना के इस लेफ्टिनेंट कर्नल के लिये क्रिकेट दोयम बन जाता है। वह सेना से जुड़ी किसी भी चीज से बेहद अपनत्व रखते हैं।

धोनी ने पांच राफेल लड़ाकू विमानों के अंबाला वायु स्थल पर एक समारोह में औपचारिक तौर पर भारतीय वायुसेना के 17 स्क्वाड्रन में शामिल किये जाने पर तुरंत ही खुशी व्यक्त की। धोनी ने ट्वीट किया, ‘‘युद्ध में स्वयं को साबित कर चुके दुनिया के सर्वश्रेष्ठ 4.5 पीढ़ी के लड़ाकू विमानों के शामिल होने के साथ ही उन्हें विश्व के सर्वश्रेष्ठ फाइटर पायलट भी मिल गये हैं। हमारे पायलटों के हाथों ओर भारतीय वायुसेना के अलग अलग विमानों के बीच इस शक्तिशाली विमान की मारक क्षमता और बढ़ेगी। ”

इन विमानों में भारतीय वायुसेना में शामिल करने के लिाये आयोजित समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उनकी फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोरेंस पार्ली ने हिस्सा लिया। हाल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले धोनी ने 17 स्क्वाड्रन को शुभकामनाएं भी दी। धोनी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘गौरवशाली 17 स्क्वाड्रन (गोल्डन एरोज) को शुभकामनाएं देता हूं और हम सभी को उम्मीद है कि राफेल मिराज 2000 का सेवा रिकार्ड पीछे छोड़ने में सफल रहेगा लेकिन सुखोई 30 एमकेआई मेरा पसंदीदा विमान बना रहेगा। ” धोनी अभी दुबई में हैं और अपनी टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ 19 सितंबर से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की तैयारियों में लगे हैं।

स्टार स्ट्राइकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में 100 गोल करने वाले दुनिया के दूसरे फुटबॉलर बन गये हैं। रोनाल्डो ने यह उपलब्धि मंगलवार को पुर्तगाल (Portugal) की नेशन्स लीग (UEFA Nations League) में स्वीडन (Sweden) पर 2-1 से जीत के दौरान हासिल की। उन्होंने 25 मीटर की दूरी से फ्री किक पर टीम की तरफ से पहला गोल दागा और इस तरह से अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में गोल का शतक पूरा किया। अपना 165वां मैच खेल रहे रोनाल्डो से पहले केवल ईरान के स्ट्राइकर अली देई ने ही अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में गोल का शतक पूरा किया था। 

रोनाल्डो ने इसके बाद टीम की तरफ दूसरा गोल भी किया। वह अब देई के 109 गोल के रिकार्ड को पीछे छोड़ने से केवल नौ गोल पीछे हैं। देई 1993 से 2006 तक ईरान की तरफ से खेले थे। पांच बार वर्ष के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गये रोनाल्डो के नाम पर चैंपियन्स लीग में सर्वाधिक 131 गोल करने का रिकार्ड भी है जो उनके करीबी प्रतिद्वंद्वी लियोनेल मेस्सी से 16 अधिक है। वह लगातार 17वें वर्ष अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर में गोल करने में सफल रहे।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) 19 सितंबर से जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में शुरू होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) की तैयारियों का जायजा लेने बुधवार को दुबई के लिये रवाना हुए। भारत में बढ़ते कोविड-19 मामलों को देखते हुए इस टी20 टूर्नामेंट को संयुक्त अरब अमीरात में कराया जा रहा है जिसके शुरूआती मैच में गत चैम्पियन मुंबई इंडियंस का सामना चेन्नई सुपरकिंग्स से होगा। 

गांगुली ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर अपनी फोटो के साथ पोस्ट किया, ‘‘छह महीने में मेरी पहली फ्लाइट आईपीएल के लिये दुबई जाना होगा…जिंदगी बदल जाती है। ” गांगुली इस फोटो में मास्क और चेहरे की शील्ड पहने हुए थे जो महामारी के दौरान उड़ान के वक्त मानक परिचालन प्रक्रिया का हिस्सा है। आईपीएल के चेयरमैन बृजेश पटेल उन अहम अधिकारियों में शामिल हैं जो पहले ही दुबई जा चुके हैं। 

मिशेल मार्श (Mitchell Marsh) की शानदार पारी से आस्ट्रेलिया (Australia) ने तीसरे और अंतिम टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में पांच विकेट से जीत दर्ज करके क्रिकेट के इस सबसे छोटे प्रारूप में फिर से शीर्ष रैंकिंग हासिल की।आस्ट्रेलिया (Australia) के सामने 146 रन का लक्ष्य था। उसने मार्श के नाबाद 39 रन की मदद से तीन गेंद शेष रहते हुए जीत दर्ज की। इंग्लैंड ने श्रृंखला 2-1 से जीती। उसने रविवार को दूसरा मैच जीतकर नंबर एक रैंकिंग हासिल कर ली थी लेकिन दो दिन के अंदर उसने इसे गंवा दिया।

इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टॉ ने धीमी शुरुआत से उबरकर 44 गेंदों पर तीन चौकों और इतने ही छक्कों की मदद से 55 रन बनाये जिससे उनकी टीम छह विकेट पर 145 रन बनाने में सफल रही। यह श्रृंखला का सबसे कम स्कोर था। तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने चार ओवर में केवल 20 रन देकर एक विकेट लिया। जो डेनली के आखिरी क्षणों में बनाये गये 19 गेंदों पर नाबाद 29 रन से इंग्लैंड सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाया। आस्ट्रेलिया ने अच्छी शुरुआत की।

कप्तान आरोन फिंच (39) और मार्कस स्टोइनिस (26) की पारियों से एक समय उसका स्कोर एक विकेट पर 70 रन था लेकिन मध्यक्रम लड़खड़ाने से 13वें ओवर में स्कोर पांच विकेट पर 100 रन हो गया। लेग स्पिनर आदिल राशिद (21 रन देकर तीन) ने फिंच, ग्लेन मैक्सवेल (छह) और स्टीवन स्मिथ (तीन) को आउट करके आस्ट्रेलिया को संकट में डाल दिया था।

मार्श और एस्टन एगर (नाबाद 16) ने 46 रन की भागीदारी करके आस्ट्रेलिया को लक्ष्य तक पहुंचाया। इंग्लैंड को मैच में स्टार बल्लेबाज जोस बटलर और नियमित कप्तान इयोन मोर्गन की कमी खली। आस्ट्रेलिया भी तेज गेंदबाज पैट कमिन्स और सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर के बिना उतरा था। इन दोनों टीमों के बीच शुक्रवार से तीन एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला खेली जाएगी।

ट्रिनबागो नाइटराइडर्स (Trinbago Knight) और सेंट लूसिया जॉक्स (St Lucia Zouks) ने आसान जीत के साथ कैरेबियाई प्रीमियर लीग (CPL 2020) के फाइनल में प्रवेश किया। ट्रिनबागो के पास अब सीपीएल के इतिहास में शुरू से लेकर आखिर तक कोई मैच नहीं गंवाने का रिकार्ड बनाने का मौका है। उसने सेमीफाइनल से पहले अपने सभी 10 लीग मैच जीते थे। सेमीफाइनल में ट्रिनबागो ने जमैका तल्लावाह को सात विकेट पर 107 रन पर रोक दिया और फिर पांच ओवर शेष रहते हुए नौ विकेट से जीत दर्ज की।

सेंट लूसिया जॉक्स ने दूसरे सेमीफाइनल में गयाना अमेजॉन वारियर्स को 13.4 ओवर में 55 रन पर ढेर कर दिया जो टूर्नामेंट का न्यूनतम स्कोर है। सेंट लूसिया ने केवल 4.3 ओवर में बिना विकेट खोये दस विकेट से जीत हासिल की। इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइटराइडर्स और ट्रिनबागो नाइटराइडर्स के मालिक एक ही हैं जबकि सेंट लूसिया जॉक्स और किंग्स इलेवन पंजाब का मालिकाना हक भी एक ही प्रमोटर्स के पास है।

पहले बल्लेबाजी का न्यौता पाने के बाद जमैका के बल्लेबाज रन बनाने के लिये जूझते रहे। उसके केवल तीन बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे। इनमें से नक्रुमाह बोनर ने 42 गेंदों पर 41 और कप्तान रोवमैन पावेल ने 35 गेंदों पर 33 रन बनाये। ट्रिनबागो की तरफ से अकील हुसैन ने तीन और खारी पियरे ने दो विकेट लिये।

इंग्लैंड के दौरे पर पाकिस्तान के खराब प्रदर्शन के बाद मुख्य सिलेक्टर और कोच मिस्बाह उल हक निशाने पर हैं. पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज गेंदबाज शोएब अख्तर ने भी मिस्बाह उल हक को टीम के खराब प्रदर्शन के लिए लताड़ लगाई है. पाकिस्तान को इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट सीरीज में 1-0 से हार का सामना करना पड़ा, जबकि ट्वेंटी-ट्वेंटी सीरीज 1-0 से ड्रॉ रही.

पाकिस्तान टीम ट्वेंटी-ट्वेंटी रैंकिंग में लंबे समय तक नंबर वन रही है. लेकिन हाल ही में टीम चौथे पायदान पर पहुंच गई. मिस्बाह ने हार की जिम्मेदारी लेने के बजाए कहा कि पाकिस्तान को पहले ही ट्वेंटी-ट्वेंटी में खराब प्रदर्शन कर रहा था.

लेकिन अख्तर ने मिस्बाह को इसी बयान को लेकर फटकार लगाई है. अख्तर का कहना है कि मिस्बाह का काम समस्या का समाधान करना है, शिकायत करना नहीं. उन्होंने कहा, ''ईमानदार लोग शिकायत नहीं करते हैं, बल्कि फैसले लेते हैं. अगर मैं उनकी जगह होता तो मैं कहता कि यह मेरी गलती है, मैं सब कुछ ठीक करूंगा.''

यूएस ओपन में अमेरिका की स्टार टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स ने मारिया सकारी के खिलाफ तीन सेट तक चले संघर्षपूर्ण मैच में जीत दर्ज की. इस जीत के साथ सेरेना लगातार 12वीं बार यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह पक्की करने वाली खिलाड़ी बन गई हैं.

खाली पड़े आर्थर ऐस स्टेडियम में तीसरी वरीयता प्राप्त सेरेना ने खुद ही अपना उत्साह बढ़ाया और यूनान की 15वीं वरीय सकारी को 6-3, 6-7 (6), 6-3 से हराने में सफल रही. सकारी ने वेस्टर्न एंड सदर्न ओपन में सेरेना को पराजित किया था.

सेरेना मैच के दौरान जोर जोर से बोलकर खुद का हौसला बढ़ाती रही. उन्होंने इस बारे में कहा, ''मुझे लगता है कि दर्शक हों या नहीं मैं काफी बोलती हूं. मैं बेहद जुनूनी हूं. यह मेरा काम है. मैं इस तरह से खुद का हौसला बढ़ाती हूं. मैं कोर्ट पर अपना सब कुछ झोंक देती हूं.''

इस महीने के आखिर में 39 वर्ष की होने वाली सेरेना सेमीफाइनल में पहुंचने के लिये बुल्गारिया की गैरवरीयता प्राप्त स्वेताना पिरिनकोवा से भिड़ेगी. बच्चे के जन्म के कारण तीन साल तक बाहर रहने के बाद वापसी करने वाली 32 वर्षीय पिरिनकोवा ने एलिज कोर्नेट पर 6-4, 7-6 (5), 6-3 से जीत दर्ज की.

भारत के पूर्व बाएं हाथ के स्पिनर प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) का आज (5 सितंबर को) जन्मदिन है। उनका जन्म ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में 5 सितंबर 1986 को हुआ था। प्रज्ञान ने अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में कई मौकों पर टीम को मुश्किल से निकाला है। प्रज्ञान ने इंटरनेशनल डेब्यू 28 जून 2008 को कराची में बांग्लादेश के खिलाफ एशिया कप मैच के दौरान किया था। उन्होंने 24 टेस्ट, 18 वनडे और 6 टी20 मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने इस दौरान कुल 144 विकेट झटके। उन्होंने 108 फर्स्ट क्लास मैचों में 424 विकेट लिए। उन्होंने अपना अंतिम इंटरनेशनल मैच नवंबर 2013 में मुंबई में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था, यह सचिन तेंडुलकर का विदाई टेस्ट मैच था।

ओझा ने अपने करियर में भारत के लिए शानदार पारी खेली है। प्रज्ञान का इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के शुरुआती संस्करणों में अच्छा दबदबा रहा। प्रज्ञान के नाम आईपीएल का एक ऐसा खास रिकॉर्ड दर्ज है जो कभी तोड़ा नहीं जा सकेगा। बावजूद इसके उनका क्रिकेट करियर बेहद ही नाटकीय ढंग से ‘खत्म’ हुआ। आईये जानते हैं उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें…

प्रज्ञान ओझा ने अपना आखिरी टेस्ट नवंबर 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था, ये सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के करियर का आखिरी मैच भी था। इस मैच में ओझा ने विरोधी टीम को धूल छठा दिया था और 10 विकेट अपने नाम किए थे। शानदार प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। प्रज्ञान ने इस प्रदर्शन का श्रेय सचिन के नाम किया था लेकिन ये मैच उनके लिए भी आखिरी साबित हुआ। सचिन के रिटायरमेंट के बाद ओझा को टीम से बाहर कर दिया गया और उनका कभी टीम इंडिया में सेलेक्शन नहीं हुआ।   

प्रज्ञान ओझा का एक्शन साल 2014 में संदिग्ध पाए जाने पर उनपर बैन लगा दिया गया था। हालांकि एक महीने बाद ही बंद हटा लिया गया। साल 2009 में प्रज्ञान ओझा ने टेस्ट डेब्यू किया और उन्होंने फील्डिंग करते हुए मैच की पहली ही गेंद पर तिलकरत्ने दिलशान का कैच लेकर आउट किया। ये कारनामा करने वाले वो दुनिया के एकलौते क्रिकेटर हैं। 

भारत के अनुभवी टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना (Rohan Bopanna) और उनके कनाडाई जोड़ीदार डेनिस शापोवालोव (Denis Shapovalov) ने यहां सीधे सेट में जीत से अमेरिकी ओपन पुरूष युगल स्पर्धा (US Open men’s doubles) के दूसरे दौर में प्रवेश किया। बोपन्ना और शापोवालोव को टूर्नामेंट के शुरूआती मुकाबले में अर्नेस्टो एस्कोबेडो और नोआ रूबिन की अमेरिकी जोड़ी के खिलाफ जरा भी पसीना नहीं बहाना पड़ा।

उन्होंने शुक्रवार को एक घंटे और 22 मिनट तक चले मैच में 6-2 6-4 से जीत हासिल की। अब भारतीय-कनाडाई जोड़ी का सामना छठी वरीयता प्राप्त केविन क्रावेट्ज और आंद्रियास मिएस की जोड़ी से होगा। टूर्नामेंट में अब बोपन्ना अकेले भारतीय खिलाड़ी बचे हैं। सुमित नागल और दिविज शरण की चुनौती खत्म हो चुकी है। सुमित नागल दूसरे दौर में जबकि शरण पहले दौर में बाहर हो गये।

एरॉन फिंच शुक्रवार को टी20 अंतरराष्ट्रीय में 2000 रन बनाने वाले दूसरे सबसे तेज बल्लेबाज बन गए. ऑस्ट्रेलिया के कप्तान फिंच ने साउथेम्प्टन में एजेस बाउल में इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 के दौरान 2000 रन के टारगेट को पूरा किया. यह टी20 में फिंच की 62वीं पारी थी और भारत के कप्तान विराट कोहली के बाद दूसरी सबसे तेज पारी थी, जो केवल 56 पारियों में वहां पहुंच चुके हैं.

कुल मिलाकर, फिंच 2000 T20I रन बनाने वाले 10वें बल्लेबाज बन गए, जिसमें दुनिया के कुछ सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज जैसे, कोहली, रोहित शर्मा, इयोन मोर्गन और उनके ऑस्ट्रेलियाई टीम के साथी डेविड वार्नर शामिल हैं. मैच में, जोफ्रा आर्चर के हाथों आउट होने से पहले फिंच ने 32 गेंदों में सात चौकों और एक छक्के की मदद से 46 रन बनाए लेकिन अंत में इंग्लैंड की टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 2 रनों से मात दे दी.

फिंच ने इस तथ्य को खारिज कर दिया कि ऑस्ट्रेलिया आरामदायक स्थिति से मैच हार गया. ऑस्ट्रेलिया एक समय में बेहतरीन तरीके से चेज़ कर रहा था, मैच की अंतिम 30 गेंदों में जीतने के लिए 36 रनों की जरूरत थी. हालांकि, इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के मध्य और निचले क्रम को रन नहीं बनाने दिए और अपने अंतिम 31 गेंदों में सिर्फ 33 रन दिए.

फिंच ने कहा कि वो स्मिथ और मैक्सवेल को इसके लिए जिम्मेदार नहीं ठहराएंगे क्योंकि कई बार आपका गेम प्लान काम नहीं करता है. ऐसे में मैं और वॉर्नर इसके लिए जिम्मेदार हैं क्योंकि हम दोनों ने अच्छी शुरूआत की लेकिन एक बड़ा स्कोर नहीं बना पाए.

इंग्लैंड में बिना भीड़ के क्रिकेट खेलने की बात हो तो डेविड वॉर्नर इससे पीछे नहीं हटेंगे. ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज जिन्होंने सालो से, अंग्रेजी भीड़ के साथ सही तरीके से तालमेल शेयर नहीं किया है. और आमतौर पर उनकी पारी का अंत भीड़ से उबने या परेशान होकर ही हुआ है. लेकिन कल ऐसा पहली बार हुआ जब पहले टी20 में इंग्लैंड के खिलाफ डेविड वॉर्नर को ऐसा कुछ नहीं सुनना पड़ा और न ही किसी फैन का सामना करना पड़ा.

वॉर्नर ने कहा कि, “यह पहली बार था जब मैं यहाँ (इंग्लैंड) आया और मुझे दुर्व्यवहार नहीं मिला. यह काफी अच्छा था, ”वार्नर ने मैच के बाद कहा, "आप उस भीड़ से ही उठते हैं. यही कारण है कि हम घर और बाहर खेलना पसंद करते हैं. घर में और बाहर खेलने का अपना अपना फायदा नुकसान होता है.

दरअसल साल 2013 में बर्मिंघम में इंग्लैंड के कप्तान जो रूट और डेविड वॉर्नर के बीच एक पब में झड़प हो गई थी जिसके बाद आज तक इंग्लैंड के फैंस वॉर्नर को वॉर्मअप का भी मौका नहीं देते और सीधे हमला करने लगते हैं. वहीं वॉर्नर पर 12 महीनों का बैन भी लगा था जो गेंद से छेड़छाड़ के कारण था. इसको लेकर भी इंग्लिश क्राउड वॉर्नर को पसंद नहीं करती है.

फ्रांस (French) के गोलकीपपर स्टीव मंडाडा (Steve Mandanda) को कोरोना वायरस (Corona Virus)से संक्रमित पाया गया है जिसके कारण वह राष्ट्रीय टीम के आगामी मैचों से हट गये हैं। फ्रांस की टीम और सहयोगी स्टाफ का बुधवार की शाम को परीक्षण किया गया था तथा मंडाडा का परिणाम कोविड-19 के लिये पॉजीटिव आया है। इसके बाद दूसरा परीक्षण किया गया और इसमें भी उनके संक्रमित होने की पुष्टि हो गयी। 

फ्रांस फुटबॉल महासंघ ने गुरुवार को बयान में कहा, ‘‘स्टीव मंडाडा इस वजह से स्वीडन के खिलाफ मैच में नहीं खेल पाएंगे और शुक्रवार की सुबह टीम छोड़ देंगे।” फ्रांस नेशन्स लीग में शनिवार को स्वीडन और मंगलवार को क्रोएशिया का सामना करेगा। 

कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित दीपक चाहर (Deepak Chahar) और रुतुराज गायकवाड़ (Ruturaj Gaikwad) को छोड़कर चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) के बाकी खिलाड़ी अब इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के लिये अभ्यास शुरू कर देंगे क्योंकि तीसरे दौर के परीक्षण के बाद उन सभी के परिणाम नेगेटिव आये हैं। इन परिणामों से फ्रेंचाइजी को बड़ी राहत मिली क्योंकि पिछले सप्ताह उसके 13 सदस्य कोविड-19 के लिये पॉजीटिव पाये गये थे। टूर्नामेंट 19 सितंबर से तीन शहरों दुबई, शारजाह और अबुधाबी में खेला जाएगा।

सीएसके के मुख्य कार्यकारी अधिकारी केएस विश्वनाथन ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘अभ्यास आज से शुरू हो जाएगा। उन 13 को छोड़कर बाकी सभी का परीक्षण तीसरी बार भी नेगेटिव आया है। जिनका परीक्षण पॉजीटिव आया था उनका पृथकवास (14 दिन) पूरा करने के बाद ही फिर से परीक्षण किया जाएगा। ”

दीपक और रुतुराज के अलावा चेन्नई टीम स्टाफ के 11 सदस्यों का अगले सप्ताह 14 दिन का पृथकवास पूरा होने के बाद दो बार परीक्षण किया जाएगा। अभ्यास शुरू करने से पहले उनके दो परीक्षण नेगेटिव आने जरूरी हैं। इस बीच अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह के टीम से जुड़ने में देरी को लेकर इस खिलाड़ी और सीएसके की तरफ से कोई पुष्टि नहीं हो पायी।

कयास लगाये जा रहे हैं कि वह निजी कारणों से टूर्नामेंट से हट सकते हैं। विश्वनाथन ने इस पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया। सीएसके पास हरभजन के अलवा तीन अन्य प्रमुख स्पिनर हैं। इनमें लेग स्पिनर इमरान ताहिर, बायें हाथ के स्पिनर मिशेल सैंटनर और लेग स्पिनर पीयूष चावला शामिल हैं।

मौजूदा चैंपियन बारबाडोस ट्रिडेंट्स (Barbados Tridents) और सेंट कीट्स (St Kitts) एवं नेविस पैट्रियट्स (Nevis Patriots) की टीम दस लीग मैचों का कोटा पूरा करने से पहले ही कैरेबियाई प्रीमियर लीग (Caribbean Premier League) में सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो गयी हैं। वारियर्स ने ट्रिडेंट्स को कम स्कोर वाले मैच में छह विकेट से शिकस्त देकर सेमीफाइनल में जगह पक्की की जबकि पैट्रियट्स और जमैका तल्लावाह का मैच बारिश के कारण रद्द करना पड़ा। इस मैच में केवल पांच ओवर का ही खेल हो पाया। तीन टीमों को अभी दो-दो जबकि दो अन्य टीमों को एक-एक मैच खेलना है लेकिन सेमीफाइनल की चारों टीमें तय हो गयी हैं

ट्रिनबागो नाइटराइडर्स, गयाना अमेजॉन वारियर्स, सेंट लूसिया जॉक्स और जमैका तल्लावाह ने अंतिम चार में अपनी जगह सुरक्षित कर ली है। अंतिम स्थिति बाकी मैचों के बाद तय होगी। बारबाडोस के बल्लेबाज फिर से नहीं चल पाये और उसकी टीम पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर नौ विकेट पर 89 रन ही बना पायी। उसकी तरफ से निचले क्रम के मिशेल सैंटनर (18) और नईम यंग (18) सहित चार खिलाड़ी दोहरे अंक में पहुंचे

वारियर्स की तरफ से इमरान ताहिर (12 रन देकर तीन) और रोमेरियो शेफर्ड (22 रन देकर तीन) सफल गेंदबाज रहे। शिमरोन हेटमेयर (नाबाद 32), चंद्रपाल हेमराज (29) और रोस टेलर (नाबाद 16) की पारियों से वारियर्स ने 14।2 ओवर में चार विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर दिया। अन्य मैच में सेंट कीट्स एवं नेविस पैट्रियट्स ने जब 5।4 ओवर में बिना किसी नुकसान के 46 रन बनाये थे तभी बारिश आ गयी जिसके बाद आगे का खेल नहीं हो पाया। पैट्रियट्स के नौ मैचों में केवल तीन अंक हैं। 

अपने 24वें ग्रैंडस्लैम खिताब की कवायद में लगी सेरेना विलियम्स ने सीधे सेटों में जीत दर्ज करके यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट के तीसरे दौर में जगह बना ली है. हालांकि यूएस ओपन में उलटफेर देखने को भी मिल रहे हैं. अनुभवी एंडी मर्रे और ग्रिगोर दिमित्रोव पुरुष सिंगल से बाहर हो गये.

अपने 23 ग्रैंडस्लैम में से छह टूर्नामेंट फ्लाशिंग मीडोज में जीतने वाली सेरेना ने गुरुवार की रात को आर्थर ऐस स्टेडियम विश्व में 117वें नंबर की रूसी खिलाड़ी मारग्रिटा गैस्पारयान को 6-2, 6-4 से हराया. सेरेना का अगला मुकाबला 2017 की यूएस ओपन चैंपियन और यहां 26वीं वरीय सलोनी स्टीफन्स से होगा जिन्होंने ओल्गा गोर्वात्सोवा को 6-2, 6-2 से पराजित किया. सेरेना का स्टीफन्स के खिलाफ रिकार्ड 5-1 है लेकिन इन दोनों के बीच आखिरी मुकाबला 2015 में फ्रेंच ओपन में हुआ था. स्टीफन्स ने आखिरी बार 2013 आस्ट्रेलियाई ओपन में सेरेना को हराया था.

पुरुष वर्ग में तीसरी वरीयता प्राप्त डोमिनिक थीम ने भारत के सुमित नागल के खिलाफ 6-3, 6-3, 6-2 से जीत दर्ज की. थर्ड सीट और पिछले साल के उपविजेता दानिल मेदवेदेव ने 116वीं रैंकिंग के आस्ट्रेलियाई क्रिस्टाफेर ओकोनेल को 6-3, 6-2, 6-4 से पराजित किया.

जिन अन्य खिलाड़ियों ने तीसरे दौर में जगह बनायी उनमें छठे वरीय मैटियो बेरेटिनी, आठवें वरीय राबर्ट बातिस्ता आगुट, दसवें वरीय आंद्रेई रूबलेव, 11वें वरीय कारेन काचनोव, 2014 के चैंपियन मारिन सिलिच शामिल हैं. लेकिन एंडी मर्रे, 14वें वरीय ग्रिगोर दिमित्रोव और 25वें वरीय मिलोस राओनिच को हार का सामना करना पड़ा.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने पाकिस्तान सुपर लीग के 2020 सीजन के बाकी बचे मैचों की तारीखों का एलान कर दिया है. कोरोना वायरस की वजह से लीग के चार मैचों का आयोजन नहीं हो पाया था. यह चारों मैच लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में नवंबर के महीने में खेले जाएंगे. पीएसएल के नॉकआउट दौर के मैच मार्च में होने थे लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण लीग को स्थगित कर दिया गया था.

शीर्ष दो टीमों-मुल्तान सुल्तांस और कराची किंग्स के बीच मैच 14 नवंबर को होगा. इस दिन पहला एलिमिनेटर मैच तीसरे और चौथे स्थान वाली टीम लाहौर कलंदर्स और पेशावर जाल्मी के बीच खेला जाएगा. पहले एलिमिनेटर की विजेता और क्वालीफायर में हारने वाली टीम के बीच दूसरा एलिमिनेटर 15 नवंबर को खेला जाएगा. पीएसएल का फाइनल मैच 17 नवंबर को होगा.

घरेलू सीजन का एलान भी हुआ: पीसीबी ने साथ ही घरेलू क्रिकेट की शुरुआत का भी कार्यक्रम घोषित कर दिया है. इसी महीने से पाकिस्तान में पेशेवर क्रिकेट की वापसी होगी. पीसीबी नेशनल हाई परफॉर्मेंस सेंटर में ट्रेनिंग शुरू करने का फैसला किया है. साथ ही जमीनी स्तर पर क्रिकेट की शुरुआत के लिए एडवाइजरी जारी कर दी है.

पीएसएल के अलावा पीसीबी 2020-21 घरेलू सीजन को शुरू करने और दो अंतर्राष्ट्रीय टीमों की मेजबानी करने की कोशिश में हैं. जिम्बाब्वे नवंबर में तीन वनडे और तीन टी-20 मैचों की सीरीज के लिए पाकिस्तान आ सकती है. इसके बाद जनवरी 2021 में दक्षिण अफ्रीका दो टेस्ट और तीन टी-20 मैच खेलने पाकिस्तान आ सकती है. घरेलू सीजन सितंबर के आखिरी सप्ताह में शुरू हो सकता है.

चेन्नई सुपर किंग्स संघाला यंदाच्या आयपीएलमध्ये दुसरा मोठा धक्का बसला आहे. कारण सुरेश रैनानंतर चेन्नईच्या एका अनुभवी खेळाडूने संघाला सोडचिठ्ठी दिल्याचे आता पुढे येत आहे.

चेन्नईच्या संघाच्या समस्या संपण्याचे नाव घेताना दिसत नाही. कारण चेन्नईच्या संघाील १४ सदस्य करोना पॉझिटीव्ह सापडले होते. त्यानंतर शनिवारी तडकाफडकी रैनाने संघाला सोडण्याचा निर्णय घेतला होता आणि तो युएईमधून भारतामध्ये दाखल झाला होता. आता चेन्नईच्या संघाला दुसरा धक्का बसला आहे. कारण आता एका अनुभवी खेळाने चेन्नईच्या संघाची साथ सोडल्याचे पाहायला मिळत आहे. त्यामुळे आता चेन्नईच्या संघाची चिंता नक्कीच वाढलेली पाहायला मिळत आहे.

आयपीएल खेळण्यासाठी चेन्नईच्या संघाचा अनुभवी क्रिकेटपटू हरभजन सिंग हा १ सप्टेंबरपर्यंत युएईमध्ये दाखल होणार होता. पण १ सप्टेंबरला हरभजन युएईमध्ये पोहोचला नाही. त्यानंतर हरभजन काही दिवसांमध्ये चेन्नईमध्ये दाखल होईल, असे संघाकडून सांगण्यात आले होते. पण तसेही झाले नाही. त्यामुळेच हरभजनने चेन्नईच्या संघाला सोडचिठ्ठी दिली असल्याचे वृत्त दैनिक जागरणने प्रसिद्ध केले आहे.

यंदाच्या आयपीएचे वेळापत्रक काहीच वेळात समोर येणार आहे. पण यावर्षी आयपीएलचा पहिला सामना चारवेळा जेतेपद पटकावलेल्या मुंबई इंडियन्स आणि आतापर्यंत तीनदा जेतेपद पटकावणाऱ्या चेन्नई सुपर किंग्स यांच्यामध्ये होणार असल्याचे आता स्पष्ट झाले आहे.

आयपीएलमधील आठ संघ युएईमध्ये पोहोचल्यानंतर चेन्नई सुपर किंग्ज संघातील २ खेळाडूंसह १३ जणांना करोनाची लागण झाली होती. स्पर्धेतील पहिला सामना मुंबई इंडियन्स आणि चेन्नई सुपर किंग्ज यांच्या होणार आहे. कारण हे दोन्ही संघ गतविजेते आणि उपविजेते आहेत. पण चेन्नई संघातील अन्य खेळाडूंची करोना चाचणीच्या रिपोर्टची वाट पाहण्यासाठी बीसीसीआयने वेळापत्रक जाहीर करण्याचे टाळले. चेन्नईच्या खेळाडूंची सलग दुसरी चाचणी नेगेटिव्ह आल्यामुळे आता पहिला सामना ठरल्यानुसार मुंबई विरुद्ध चेन्नई असाच होईल.

आयपीएलचे आयोजन करताना वातावरणाचा विचार करणेही महत्वाचे असते. युएईमध्ये सर्वात जास्त उष्ण वातावरण हे अबुधाबी येथे आहे. त्यामुळे अबुधाबी येथे बीसीसीआयला जास्त सामने खेळवायचे नाहीत. कारण अबुधाबीला जास्त सामने खेळवले तर त्याचा विपरीत परीणाम खेळाडूंवर होऊ शकतो, असे म्हटले जात आहे. त्यामुळेच बीसीसीआयला आयपीएलचे वेळापत्रक बनवण्यासाठी वेळ लागत असल्याचे म्हटले जात आहे. पण चाहत्यांना मात्र आयपीएलच्या वेळापत्रकाची उत्सुकता लागून राहीलेली होती.

श्रीलंका प्रीमियर लीग (Sri Lanka Premier League) टी20 टूर्नामेंट का आयोजन इस साल 14 नवंबर से छह दिसंबर के बीच किया जाएगा। श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) ने यह जानकारी दी। एसएलपीएल (SLPL) का आयोजन पहले 28 अगस्त से 20 सितंबर के बीच होना था लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। एसएलसी ने बयान में कहा, ‘‘श्रीलंका क्रिकेट को बहुप्रतीक्षित श्रीलंका प्रीमियर लीग टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट के नवंबर में शुरू होने की उम्मीद है। ”  

यह टूर्नामेंट तीन अंतरराष्ट्रीय स्थलों रंगीरी दाम्बुला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, पल्लेकल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और सुरियावेवा महिंदा राजपक्षे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में आयोजित किया जाएगा। इस 15 दिन तक चलने वाले टूर्नामेंट में पांच टीमें भाग लेंगी और इसमें कुल 23 मैच खेले जाएंगे। पांच टीमें कोलंबो, कैंडी, गॉल, दाम्बुला और जाफना जिलों की होंगी। 

आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज केन रिचर्डसन (Kane Richardson) ने कहा है कि इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) से हटना मुश्किल था लेकिन निश्चित तौर पर यह सही फैसला है क्योंकि कोविड-19 (COVID-19) महामारी के कारण यात्रा प्रतिबंधों को देखते हुए वह अपने पहले बच्चे के जन्म के समय अपनी पत्नी से दूर नहीं रह सकते। इस 29 वर्षीय गेंदबाज को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलो ( Royal Challengers Bangalore) ने पिछले साल दिसंबर में हुई नीलामी में चार करोड़ रुपये में खरीदा था।

उन्होंने अपने पहले बच्चे के जन्म के समय पत्नी के साथ रहने को प्राथमिकता दी और आईपीएल से हट गये। आरसीबी ने 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में होने वाले आईपीएल के लिये उनके स्थान पर आस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर एडम जंपा को अपनी टीम में रखा है। रिचर्डसन ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘आईपीएल जैसी प्रतियोगिता से हटना बेहद मुश्किल होता है। यह विश्व में सर्वश्रेष्ठ घरेलू प्रतियोगिता है इसलिए यह आसान फैसला नहीं था लेकिन जब मैंने इस पर गहन विचार विमर्श किया तो मुझे यह वास्तव में सही निर्णय लगा। ”

उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया अभी जिस दौर से गुजर रही है वैसे में सही समय पर घर पहुंचने की गारंटी नहीं दी जा सकती है। ऐसे में मैं अपने बच्चे के जन्म के समय बाहर नहीं रहना चाहता हूं।” रिचर्डसन अभी सीमित ओवरों की शृंखला के लिये इंग्लैंड में हैं। वह दौरा समाप्त होने पर दो सप्ताह पृथकवास पर रहने के बाद एडिलेड में अपने परिवार से जुड़ेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘आईपीएल में नहीं खेल पाना निराशाजनक है लेकिन उम्मीद है कि इसके लिये आगे भी मौके मिलेंगे। ”  

नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) ने इस साल पहली बार टाईब्रेकर गंवाने के बाद शानदार वापसी करके चार सेट में जीत दर्ज करके यूएस ओपन (Us Open) टेनिस टूर्नामेंट के तीसरे दौर में प्रवेश किया लेकिन महिला वर्ग में शीर्ष वरीयता प्राप्त कारोलिना पिलिसकोवा (Karolina Pliskova) दूसरे दौर से आगे नहीं बढ़ पायी। विश्व के नंबर एक खिलाड़ी जोकोविच ने काइल एडमंड को 6-7 (5), 6-3, 6-4, 6-2 से हराया। पहला सेट एक घंटे से अधिक समय तक चला जिसे एडमंड ने टाईब्रेकर में अपने नाम किया। इससे पहले इस साल जोकोविच ने सभी दस अवसरों पर टाईब्रेकर में जीत दर्ज की थी। इसके बाद हालांकि जोकोविच ने दबदबा बना दिया और इस साल के अपने रिकार्ड को 25-0 पर पहुंचाया।

इस बीच उन्होंने आस्ट्रेलियाई ओपन के रूप में अपना 17वां ग्रैंडस्लैम खिताब भी जीता था। महिला वर्ग में शीर्ष वरीयता प्राप्त पिलिसकोवा का सफर दूसरे दौर में थम गया। उनके पास दूसरे सेट में दो सेट प्वाइंट थे लेकिन वह उनका फायदा नहीं उठा पायी। फ्रांस की कारोलिन गर्सिया ने उन्हें 6-1, 7-6 (2) से पराजित किया। इस बीच 2018 की चैंपियन नाओमी ओसाका को कामिला जियोर्जी पर 6-1, 6-2 से जीत दर्ज करने में कोई परेशानी नहीं हुई लेकिन 2016 की चैंपियन एंजेलिक कर्बर ने अन्ना लेना फ्रीडसम के खिलाफ एक घंटा 40 मिनट कोर्ट पर बिताये। उन्होंने यह मैच 6-3, 7-6 (6) से जीता।

पेशेवर गोल्फ से जुड़े पीजीए (PGA) टूर ने 2020-21 के लिये अपने कार्यक्रम की घोषणा कर दी है जिसमें वह रिकार्ड 50 टूर्नामेंट का आयोजन करेगा। यह 1962 के बाद पहला अवसर होगा जबकि पीजीए टूर एक सत्र में 50 टूर्नामेंट आयोजित करेगा जिसमें छह मेजर टूर्नामेंट भी शामिल हैं। पीजीए (PGA) टूर के आयुक्त जय मोनाहन ने कहा, ‘‘यह स्वप्निल सत्र है। अगर आप गोल्फ प्रेमी हैं तो यह आपके लिये स्वप्निल सत्र है जिसमें ओलंपिक सहित कई महत्वपूर्ण टूर्नामेंट खेले जाएंगे।”

कोरोना वायरस के कारण पीजीए टूर तीन महीने तक बंद रहा था। उसने बुधवार को जो नया कार्यक्रम घोषित किया उसमें पांच महीने के अंदर दो मास्टर्स भी शामिल हैं। इसके अलावा इसमें दो यूएस ओपन और डोमिनिक गणराज्य में होने वाला एक टूर्नामेंट शामिल है जो एक सत्र में दो बार खेला जाएगा।

इस नये सत्र की शुरुआत दस सितंबर को कैलिफोर्निया के नापा में होगी जबकि यह अगले साल चार सितंबर को अटलांटा में समाप्त होगा। इन 50 टूर्नामेंट में तोक्यो ओलंपिक शामिल नहीं है जो कोरोना वायरस के कारण एक साल के लिये स्थगित कर दिया गया था। ओलंपिक खेलों का आयोजन ब्रिटिश ओपन से दो सप्ताह बाद और विश्व गोल्फ चैंपियनशिप से एक सप्ताह पहले होगा। 

पॅरीसच्या सेंट जर्मन क्लबचे (पीएसजी) तीन फुटबॉलपटू कोरोना पॉझिटिव्ह आढळले आहेत (Corona infected football player Nemar). फ्रान्सच्या अग्रणी फुटबॉल क्लबने याबाबतची माहिती दिली. पीएसजीने खेळाडूंच्या नावाचा खुलासा केलेला नाही. पण पॉझिटिव्ह आढळलेल्या खेळाडूंमध्ये जगातील सर्वात महागडा फुटबॉलपटू नेमारचाही समावेश आहे, असं एका क्रीडा वृत्तपत्राने म्हटले आहे (Corona infected football player Nemar)

कोरोना पॉझिटिव्ह खेळाडूंमध्ये नेमार, अँजेल डी मारिया आणि लिअँड्रो पेरेडेस या खेळाडूंचा समावेश आहे, अशी माहिती एका वृत्तपत्राने दिली आहे. हे तिघेही सुट्टीत स्पेनमधील एका बेटावर फिरायला गेले होते.

जगभरात कोरोना विषाणूने धुमाकूळ घातला आहे. दिवसेंदिवस कोरोना रुग्णांच्या संख्येतही वाढ होत आहे. आता फुटबॉल खेळांडूनाही कोरोनाची लागण झाल्याची माहिती समोर आली आहे. त्यामुळे फुटबॉल विश्वात एकच खळबळ उडाली आहे. यापूर्वी क्रिकेट विश्वातीलही काही खेळाडूंना कोरोनाची लागण झाल्याचे समोर आले होते. याचा फटका भारतात होणाऱ्या इंडियन प्रीमिअर लीगला बसला आहे.

चार वर्ष बार्सिलोनामध्ये खेळल्यानंतर 2017 मध्ये 19.8 कोटी डॉलरसह नेमार फ्रान्सच्या पीएसजी क्लबमध्ये सहभागी झाला होता. पण नेमार सध्याचा पीएसजी क्लब सोडून पुन्हा स्पॅनिश क्लब बार्सिलोनामध्ये येण्यास तयार आहे, अशी चर्चा सुरु आहे.

नेमार फ्रान्सच्या क्लबमध्ये खूश नसून तो पुन्हा खास मित्र लिओनेल मेस्सीसोबत बार्सिलोनामध्ये राहण्यास इच्छुक आहे, अशा चर्चा दररोज माध्यमांवर सुरु आहेत. स्पेनच्या एका वृत्तपत्रानुसार नेमार बार्सिलोनामध्ये परत येण्यासाठी सध्याच्या पीएसजी क्लबमधील त्याच्या फीमधून 6000000 पाऊंड प्रती आठवडा कट करण्यास तयार आहे. जेणेकरुन तो स्पॅनिश क्लबमध्ये पुन्हा परतू शकेल.

यूरोपमधील बार्सिलोना नेमारचा पहिला क्लब होता आणि त्याने या क्लबसोबत दोन स्पॅनीश पुरस्कारही जिंकले आहेत. त्यासोबत बार्सिलोनामध्ये नेमारने क्लबसोबत तीन वेळा कोपा डेल रे आणि एकदा चॅम्पियन्स लीगचा पुरस्कारही जिंकला आहे.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (International Cricket Council) के मैच रेफरी और पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ ( Javagal Srinath) का मानना है कि अगर गेंदबाज के गेंद छोड़ने से पहले नॉन स्ट्राइकर छोर का बल्लेबाज क्रीज से छोड़ देता है तो वह खेल भावना का पालन नहीं कर रहा है और ऐसे में रन आउट होने पर उसे सहानुभूति नहीं बटोरनी चाहिए।

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने पिछले साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मंड जोस बटलर को क्रीज से काफी आगे निकलने पर रन आउट करके विवाद खड़ा कर दिया था। इस मामले में गेंदबाज की भूमिका पर सवाल उठाये गये। लेकिन श्रीनाथ का मानना है कि अगर बल्लेबाज इस तरह से रन आउट होता है तो इसमें गेंदबाजी की गलती नहीं होती है। श्रीनाथ ने अश्विन से उनके यूट्यूब कार्यक्रम ‘डीआरएस विद ऐस’ में कहा, ‘‘गेंदबाज का ध्यान बल्लेबाज पर केंद्रित रहता है। एक बल्लेबाज के लिये (नॉन स्ट्राइकर छोर पर) गेंद छूटने से पहले तक अपनी क्रीज पर बने रहना बड़ी बात नहीं है क्योंकि वह बल्लेबाजी नहीं कर रहा होता है और वह कुछ सोच भी नहीं रहा होता है। ”

दिल्ली कैपिटल्स के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग का मानना है कि इस तरह के रन आउट करने से गेंदबाज खेल भावना का उल्लंघन करता है और वह अश्विन को ऐसा करने की अनुमति नहीं देंगे। पिछले साल किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान रहे अश्विन इस साल 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में होने वाले आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से खेलेंगे।

श्रीनाथ ने कहा, ‘‘बल्लेबाज को क्रीज नहीं छोड़नी चाहिए और गेंदबाज को केवल गेंदबाजी और जिस बल्लेबाज के लिये वह गेंद कर रहा है उस पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। अगर बल्लेबाज अनुचित फायदा उठा रहा है और उसे रन आउट किया जाता है तो मुझे कोई परेशानी नहीं है। मेरे हिसाब से यह सही है।” इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि नियमों में साफ कहा गया है कि बल्लेबाज को गेंद छूटने से पहले क्रीज के अंदर रहना चाहिए।

दक्षिण अफ्रीकी (South Africa) क्रिकेटर फाफ डुप्लेसिस (Faf du Plessis), लुंगी एनगिडी (Lungi Ngidi) और कैगिसो रबाडा (Kagiso Rabada) 19 सितंबर से शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग ( IPL 2020) के लिये मंगलवार को तड़के संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पहुंचे। कोविड-19 महामारी के कारण 13वां आईपीएल दुबई, अबुधाबी और शारजाह में 19 सितंबर से 10 नवंबर के बीच खेला जाएगा।

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान डुप्लेसिस और तेज गेंदबाज एनगिडी चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम में हैं जबकि रबाडा दिल्ली कैपिटल्स की टीम से जुड़े। इन दोनों फ्रेंचाइजी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर तीनों खिलाड़ियों की तस्वीरें साझा की हैं। तीनों खिलाड़ियों को छह दिन तक पृथकवास पर रहना होगा। उनके पहले, तीसरे और छठे दिन परीक्षण किये जाएंगे और इन तीनों में नेगेटिव आने पर वे अभ्यास शुरू कर सकते हैं।

भारत के सभी खिलाड़ी पहले ही यूएई पहुंच चुके थे और उन्होंने छह दिन के पृथकवास की अवधि भी पूरी कर ली है जो बीसीसीआई की मानक संचालन प्रक्रिया का हिस्सा है। चेन्नई की टीम को छोड़कर बाकी टीमों ने अभ्यास भी शुरू कर दिया है। महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली टीम के 13 सदस्य कोविड-19 से संक्रमित पाये गये हैं। इनमें दो खिलाड़ी भी शामिल हैं। 

कोविड-19 (COVID-19) महामारी के कारण जापान में होने वाली पीजीए टूर (PGA Tour) जोजो गोल्फ चैंपियनशिप (Zozo Championship) का आयोजन इस बार कैलिफोर्निया में किया जाएगा। यह 80 लाख डॉलर इनामी टूर्नामेंट 22 से 25 अक्टूबर के बीच कैलिफोर्निया के शेरवुड कंट्री क्लब में खेला जाएगा। टाइगर वुड्स इसके मौजूदा चैंपियन हैं अब उन्हें उस कोर्स यह टूर्नामेंट खेलना है जहां उन्होंने पांच बार खिताब जीता है। 

पीजीए टूर और आयोजन समिति ने यह फैसला किया। इसे जोजो चैंपियनशिप के नाम से ही जाना जाएगा। जापान में पिछले साल जोजो चैंपियनशिप के रूप में पहली बार पीजीए टूर का आयोजन किया गया था। तब वुड्स ने हिदेकी मात्सुयामा को तीन शॉट से हराकर अपने करियर का 82वां पीजीए टूर खिताब जीता था।

नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) ने वर्ष 2020 में अपना विजय अभियान जारी रखते हुए आसान जीत के साथ यूएस ओपन (U.S. Open) टेनिस टूर्नामेंट में शानदार शुरुआत की लेकिन अमेरिकी किशोरी कोको गॉफ (Coco Gauff ) को पहले दौर में हार का सामना करना पड़ा। विश्व के नंबर एक सर्बियाई खिलाड़ी ने अपना 18वें ग्रैंडस्लैम जीतने के अभियान की शुरुआत दामिर दाजुमहर पर 6-1, 6-4, 6-1 की जीत से की। इस तरह से उन्होंने इस साल अपना रिकार्ड 24-0 पर पहुंचा दिया है। उन्होंने इससे पहले आस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब भी जीता था।

जोकोविच ने मैच के बाद कहा, ‘‘मैं अपने इस विजय क्रम को निश्चित तौर पर जारी रखना चाहता हूं कि लेकिन ऐसा नहीं है कि मैं हर दिन इसे पहली प्राथमिकता मानता हूं। यह मेरे लिये अतिरिक्त प्रेरणा जरूर है। इससे मुझे अधिक दमदार और बेहतर खेल दिखाने की प्रेरणा मिलती है।” कोविड-19 महामारी के कारण इस बार यूएस ओपन में दर्शकों को अनुमति नहीं दी गयी है। इस बीच 2018 की महिला चैंपियन नाओमी ओसाका को अपनी हमवतन जापानी खिलाड़ी मिसाकी दोइ के खिलाफ तीन सेट तक जूझना पड़ा।

चौथी वरीयता प्राप्त ओसाका को कोर्ट कवर करने में परेशानी हो रही थी लेकिन आखिर में वह विश्व में 81वें नंबर की दोइ को 6-2, 5-7, 6-2 से हराने में सफल रही। अमेरिका की कोको गॉफ हालांकि पहले दौर में ही हार गयी। अनास्तेसिया सेवास्तोवा ने इस 16 वर्षीय खिलाड़ी को 6-3, 5-7, 6-4 से हराया। पिछले साल गॉफ तीसरे दौर तक पहुंचने में सफल रही थी। महिला वर्ग में ही शीर्ष वरीयता प्राप्त कारोलिना पिलिसकोवा ने सीधे सेटों में जीत दर्ज की। उन्होंने एंजेलिना कालिनिना को 6-4, 6-0 से पराजित किया।

किम क्लाइस्टर्स (Kim Clijsters) जब पहली बार यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट (U.S. Open champion) में खेली थी तो वह वर्ष 1999 था और उन्हें तब जिस खिलाड़ी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था उसका नाम सेरेना विलियम्स (Serena Williams) था। इतने वर्षों बाद ये दोनों खिलाड़ी फिर से फ्लाशिंग मीडोज पर अपना जलवा दिखाने के लिये तैयार हैं। क्लाइस्टर्स ने संन्यास से वापसी की है। यह 37 वर्षीय खिलाड़ी 2012 के बाद पहली बार किसी ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में खेल रही है। सेरेना जल्द ही 39 साल की होने वाली है लेकिन अब भी अच्छी फार्म में है। 

क्लाइस्टर्स से जब उनके पहले यूएस ओपन टूर्नामेंट की यादों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने सेरेना के साथ पहले मुकाबले को याद किया। सेरेना ने तीसरे दौर का यह मैच 4-6, 6-2, 7-5 से जीता था और आखिर में अपने 23 ग्रैंडस्लैम खिताब की पहली ट्राफी भी हासिल की थी।

क्लाइस्टर्स ने कहा, ‘‘ यह शानदार मैच था। माहौल लाजवाब था। मैं जब भी यहां खेली मैंने इस तरह की ऊर्जा महसूस की है। यहां आर्थर ऐस स्टेडियम में रात का कोई भी मैच खेलना शानदार होता है। ” यूएस ओपन में क्लाइस्टर्स ने 2005, 2009 और 2010 में खिताब जीते थे। उन्होंने 2009 में फाइनल में सेरेना को हराया था। इसके अलावा उन्होंने 2011 में आस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब भी जीता था।

निकोलस पूरण (Nicholas Pooran) ने अपने टी20 करियर का पहला शतक जमाया जिससे गयाना अमेजॉन वारियर्स (Guyana Amazon Warriors) ने खराब शुरुआत से उबरकर कैरेबियाई प्रीमियर लीग (Caribbean Premier League) क्रिकेट टूर्नामेंट में सेंट कीट्स (St Kitts) एंड नेविस पैट्रियट (Nevis Patriots) को 21 गेंद शेष रहते हुए तीन विकेट से हराया। वारियर्स ने 151 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए तीन विकेट 25 रन पर गंवा दिये थे। इसके बाद पूरण ने 45 गेंदों पर चार चौकों और दस छक्कों की मदद से नाबाद 100 रन बनाये।

उन्होंने रोस टेलर (27 गेंदों पर नाबाद 25) के साथ चौथे विकेट के लिये 11.5 ओवर में 128 रन की अटूट साझेदारी की जिससे वारियर्स 17.3 ओवर में तीन विकेट पर 153 रन बनाने में सफल रहा। इससे पहले पैट्रियट्स से पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर जोशुआ डासिल्वा के 59 रन और दिनेश रामदीन के नाबाद 37 रन की मदद से पांच विकेट पर 150 रन बनाये थे। वारियर्स की सात मैचों में यह तीसरी जीत है जबकि पैट्रियट को छठी हार का सामना करना पड़ा।

एक अन्य मैच में सेंट लूसिया जॉक्स ने अपने कम स्कोर का सफलतापूर्व बचाव करके बारबाडोस ट्रिडेंट्स को तीन रन से हराया। जॉक्स की यह सात मैचों में पांचवीं जीत है। बारबाडोस ने टास जीतकर सेंट लूसिया को पहले बल्लेबाजी के लिये आमंत्रित किया और उसकी टीम को 18 ओवर में 92 रन पर आउट कर दिया। सेंट लूसिया की तरफ से तीन बल्लेबाज ही दोहरे अंक में पहुंचे।

बारबाडोस के लिये हेडन वाल्श ने तीन और रेमन रीफर ने दो विकेट लिये। बारबाडोस के सामने छोटा लक्ष्य था लेकिन उसकी टीम सलामी बल्लेबाज जॉनसन चार्ल्स के 42 गेंदों पर 39 रन के बावजूद निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट पर 89 रन ही बना पायी। सेंट लूसिया की तरफ से केसरिक विलियम्स और जावेल ग्लेन ने दो -दो विकेट लिये। आखिरी ओवर में बारबाडोस को नौ रन की जरूरत थी लेकिन रोस्टन चेज ने इस ओवर में केवल पांच रन दिये।

दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज एबी डिविलियर्स (AB de Villiers) ने कहा कि 19 सितंबर से शुरू होने वाले 13वें इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) से पहले अपनी टीम रॉयल चैंलेजर्स बेंगलोर (Royal Challengers Bangalore) की तरफ से पहली बार मुश्किल विकेट पर अभ्यास करना चुनौतीपूर्ण था। इस 36 वर्षीय खिलाड़ी ने कोरोना वायरस के कारण पांच महीने तक क्रिकेट से दूर रहने के बाद अभ्यास किया और उन्होंने कहा कि पहला सत्र शानदार रहा तथा उन्होंने बेसिक्स पर ध्यान दिया।

डिविलियर्स ने आरसीबी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किये गये वीडियो में कहा, ‘‘यह बहुत अच्छा रहा। अभ्यास का पूरा आनंद उठाया। विकेट थोड़ा मुश्किल था इसलिए यह बड़ी चुनौती थी। मैं लंबे समय बाद पहला नेट सत्र इसी तरह से चाहता था। ” उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अपने बेसिक्स पर ध्यान दिया तथा गेंद पर पूरी निगाहें लगाकर रखी। मैंने कुछ अच्छे शॉट खेले और इसका पूरा लुत्फ उठाया। ”

नेट अभ्यास के दौरान डिविलियर्स ने विकेटकीपिंग भी की। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पहुंचने के बाद डिविलियर्स छह दिन तक पृथकवास पर रहे और कोविड-19 के तीन परीक्षणों में नेगेटिव आने के बाद ही वह नेट्स पर उतरे। इस सत्र में उमेश यादव, पार्थिव पटेल, गुरकीरत सिंह आदि ने भी हिस्सा लिया। आरसीबी ने पहली बार शनिवार को अभ्यास सत्र में भाग लिया था। पहले नेट सत्र में कप्तान विराट कोहली, दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज डेल स्टेन, स्पिनर युजवेंद्र चहल, वाशिंगटन सुंदर और शाहबाज नदीम ने हिस्सा लिया था।

कोहली ने बाद में कहा था, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो यह उम्मीद से कहीं बेहतर रहा। मैं थोड़ा डरा हुआ था। मैंने पांच महीनों से बल्ला नहीं पकड़ा था, लेकिन हां, जैसा मैने सोचा था, यह उससे बेहतर रहा। ” आईपीएल 19 सितंबर से 10 नवंबर तक चलेगा। यह यूएई में तीन स्थानों दुबई, अबुधाबी और शारजाह में खेला जाएगा। आरसीबी ने अभी तक आईपीएल ट्राफी नहीं जीती है। वह तीन बार उप विजेता रहा है।

कप्तान इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) की शानदार पारी और डेविड मलान (Dawid Malan) के साथ उनकी शतकीय साझेदारी से पिछले मैच में पाकिस्तान (Pakistan) पर पांच विकेट से जीत दर्ज करने वाला इंग्लैंड (England) मंगलवार को यहां होने वाले तीसरे और अंतिम टी20 अंतरराष्ट्रीय में अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखकर क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में लगातार छठी श्रृंखला जीतने की कोशिश करेगा।

मोर्गन (66) और मलान (नाबाद 54) के बीच तीसरे विकेट के लिये 112 रन की साझेदारी से इंग्लैंड ने दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय में पाकिस्तान का चार विकेट पर 195 रन का स्कोर बौना करने के साथ मोहम्मद हफीज (69) और बाबर आजम (56) के प्रयासों पर भी पानी फेर दिया था।

पहला मैच बारिश के कारण पूरा नहीं हो पाया था और इस तरह से इंग्लैंड तीन मैचों की श्रृंखला में अभी 1-0 से आगे है। इंग्लैंड ने 2018 में भारत के हाथों 1-2 से हार के बाद पिछले दो वर्षों से भी अधिक समय में टी20 प्रारूप में अपनी प्रत्येक श्रृंखला जीती है और वह अपने इस विजय अभियान को जारी रखने के लिये प्रतिबद्ध है। पाकिस्तानी गेंदबाजों के लिये इंग्लैंड के बल्लेबाजों को रोकना आसान नहीं होगा जिसमें विशेषकर कप्तान मोर्गन बेहतरीन फार्म में चल रहे हैं।

मोर्गन ने दूसरे मैच में जीत के बाद कहा, ‘‘मेरे लिये अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पिछले दो साल शानदार रहे। अगर मैं अपनी इस फार्म और अनुभव का अच्छा तालमेल बिठाता हूं तो इससे मैच जीतने में मदद मिलेगी।” इंग्लैंड के कप्तान ने पिछले मैच में शाहीन अफरीदी को अपने निशाने पर रखा था और पाकिस्तान उनकी जगह अनुभवी वहाब रियाज को मौका दे सकता है। इंग्लैंड के गेंदबाज भी शुरू में प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे और ऐसे में डेविड विली को अंतिम एकादश में रखा जा सकता है। मैच भारतीय समयानुसार रात दस बजकर 30 मिनट से शुरू होगा।

कोलकाता नाइटराइडर्स (Kolkata Knight Riders) के बल्लेबाज नितीश राणा (Nitish Rana) ने कहा कि अपने प्रेरणादायी व्याख्यान के लिये मशहूर माइक होर्न (Mike Horn) की बातें सुनने के बाद उन्होंने असफलता को आत्मसात करना सीखा और तेज गेंदबाजों का सामना करने का डर दूर करने में सफल रहे। होर्न ने 2011 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम और 2014 की विश्व कप विजेता जर्मन फुटबॉल टीम के साथ काम किया था। पिछले कुछ वर्षों से वह इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) फ्रेंचाइजी नाइटराइडर्स से भी जुड़े रहे।

राना ने केकेआर की वेबसाइट से कहा, ‘‘मैं केकेआर की टीम से जुड़ने से पहले ही इंस्टाग्राम पर माइक होर्न से जुड़ चुका था। ” घरेलू स्तर पर दिल्ली की तरफ से खेलने वाले राणा 2018 में केकेआर से जुड़े थी। उसी वर्ष उनके आदर्श गौतम गंभीर केकेआर को अपार सफलताएं दिलाने के बाद वापस दिल्ली कैपिटल्स की टीम से जुड़ गये थे।

राणा ने कहा, ‘‘मैं जब उन्हें (होर्न) को देखता हूं तो हैरान होता हूं कि वे इतनी अधिक चीजों से कैसे तालमेल बिठाते हैं। जब मैं युवा था तो तेज गेंदबाजी का सामना करने से डरता था और मुझे संदेह था कि क्या मैं कभी 140 किमी की रफ्तार वाली गेंदबाजी का सामना कर पाऊंगा। ” उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं निजी तौर पर उनसे मिला और उनके व्याख्यान सुने तो तब मुझे अहसास हुआ कि वह असफलता से नहीं डरते। वह केवल इतना जानते हैं कि उनसे कैसे लाभ हासिल करना है। ” 

राणा ने कहा, ‘‘मैंने उनका यह गुण आत्मसात करने का प्रयास किया। अगर आप ऐसी मानसिकता से कुछ भी करते हो तो आपको कुछ नुकसान नहीं होगा। आपको फायदा ही होगा और आप बेहतर प्रदर्शन करोगे। ” राणा की जिंदगी का वह यादगार क्षण था जब उन्होंने दिल्ली में गंभीर की मौजूदगी वाली टीम की कप्तानी है क्योंकि वह भारतीय सलामी बल्लेबाज को देखते हुए ही आगे बढ़े थे।

चेन्नई सुपर किंग्जचा स्टार फलंदाज सुरेश रैना या वर्षी युएईमध्ये होणारी आयपीएल सोडून भारतात परतला. रैना वैयक्तीक कारणामुळे भारतात परतल्याचे बोलले जात होते. पण सोमवारी संघाचे मालक आणि बीसीसीआयचे माजी अध्यक्ष एन श्रीनिवासन यांनी यश त्याच्या डोक्यात गेल्याचे वक्तव्य केले होते.

रैनाने वैयक्तीक कारणामुळे नव्हे तर संघात अचानक १३ जण करोना पॉझिटिव्ह आणि हॉटेलमधील रुमवरून झालेल्या वादानंतर भारतात परतण्याचा निर्णय घेतल्याच्या वृत्ताला श्रीनिवासन यांनी दुजोरा दिला. रैनाबद्दल अशी माहिती समोर आल्यानंतर त्याच्या चाहत्यांना देखील धक्का बसला होता. पण आता श्रीनिवासन यांनी यावर खुलासा केला आहे. माध्यमांनी माझ्या वक्तव्याचा चुकीचा अर्थ लावल्याचे त्यांनी म्हटले.

यासंदर्भात श्रीनिवासन यांनी टाइम्स ऑफ इंडियाशी सविस्तर चर्चा केली. ते म्हणाले, चेन्नई संघात रैनाचे योगदान दुसऱ्या क्रमांकाचे नाही. मला वाइट वाटेत की या गोष्टीचा लोक चुकीचा अर्थ काढत आहेत.

चेन्नई संघात रैनाचे योगदान प्रत्येक वर्षी शानदार राहिले आहे. आता आपल्याला हे समजून घेणे गरजेच आहे की रैना कोणत्या परिस्थितीत आहेत आणि त्याला वेळ देणे गरजेचे आहे, असे श्रीनिवासन म्हणाले. २००८ पासून रैना चेन्नईकडून खेळतोय. तो चेन्नई बॉय आहे धोनीला 'थाला' तर रैना 'चिन्नाथाला' असे नाव मिळाले आहे.

अश्वेत नागरिक जैकब ब्लैक पर एक पुलिसकर्मी के गोलियां चलाने के बाद विभिन्न खेलों से जुड़े पेशेवर खिलाड़ी फिर से अश्वेतों पर अत्याचार के खिलाफ एक जुट हो गये हैं। इन खिलाड़ियों में कुछ वे खिलाड़ी भी शामिल हैं जिन्होंने इससे पहले ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ ( Black Lives Matter) में भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया था। इस बार कई खिलाड़ियों ने इसके विरोध में खेलने से इन्कार कर दिया। इस वजह से नेशनल बॉस्केटबॉल लीग (National Basketball League) के बुधवार और गुरुवार को होने वाले प्लेऑफ मैच स्थगित करने पड़े।इसके बाद दूसरे खेलों के खिलाड़ी भी इससे जुड़ने लगे और कई खेलों में मैच स्थगित करने पड़े।

शीर्ष बॉस्केटबॉल खिलाड़ी लेब्रोन जेम्स ने कहा, ‘‘हम अमेरिका में अश्वेत होने के कारण डरे हुए है। अश्वेत पुरुष, अश्वेत महिला, अश्वेत बच्चे। हम भयभीत हैं। ” इससे पहले एक पुलिसकर्मी के हाथों अश्वेत जार्ज फ्लॉयड की मौत के बाद भी खिलाड़ियों ने ऐसी एकजुटता दिखायी थी। इसके बाद ही ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ अभियान चला था।

मेजर लीग बेसबॉल में भी खिलाड़ियों ने खेलने से इन्कार कर दिया है। बेसबॉल में बुधवार को तीन मैच रद्द किये गये थे जबकि गुरुवार को सात मैच स्थगित कर दिये गये।नेशनल फुटबॉल लीग (एनएफएल) में नौ टीमों ने गुरुवार को अभ्यास नहीं किया। यह लीग 10 सितंबर से शुरू होगी। नेशनल हॉकी लीग ने प्लेऑफ मैचों को दो दिन के लिये टाल दिया है। गोल्फ में ओलंपिया फील्ड्स में पीजीए टूर की प्रतियोगिता शुरू हुई लेकिन कुछ खिलाड़ियों ने अश्वेतों पर अत्याचार का सांकेतिक विरोध किया।

टेनिस में नाओमी ओसाका ने वेस्टर्न एंड सदर्न ओपन के सेमीफाइनल से हटने का फैसला किया था जिसके कारण एक दिन मैच नहीं हो पाये लेकिन अब यह जापानी खिलाड़ी खेलने के लिये तैयार हो गयी है। वह सेमीफाइनल में एलिस मर्टन्स से भिड़ेगी। महिला बॉस्केटबॉल लीग में बुधवार और गुरुवार को छह मैच स्थगित करने पड़े जबकि मेजर लीग सॉकर (एमएलएस) में भी बुधवार को कोई मैच नहीं हो पाया।

 ट्रिनिबागो नाइटराइडर्स (Trinbago Knight Riders) ने लगातार पांचवीं जीत दर्ज करके कैरेबियाई प्रीमियर लीग(Caribbean Premier League) क्रिकेट टूर्नामेंट में अपना विजय अभियान जारी रखा जबकि मोहम्मद नबी (Mohammad Nabi) ने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करते हुए सेंट लूसिया जॉक्स (St Lucia Zouks) को छह विकेट से जीत दिलायी। ट्रिनिबागो ने एक कम स्कोर में वाले मैच में गयाना अमेजॉन वारियर्स को सात विकेट से हराया। उसने अभी तक अपने सभी पांचों मैच जीते हैं। वारियर्स की टीम पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर सात विकेट पर 112 रन ही बना पायी।

नाइटराइडर्स ने दस गेंद शेष रहते हुए तीन विकेट पर 115 रन बनाकर जीत दर्ज की। वारियर्स के चार बल्लेबाज ही दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें से कीमो पॉल (नाबाद 28), शिमरोन हेटमेयर (26) और रोस टेलर (26) भी शामिल हैं। नाइटराइडर्स की तरफ से खारी पियरे ने 18 रन देकर तीन विकेट लिये। नाइटराइडर्स ने लक्ष्य का पीछा करते हुए पहले पांच ओवर में बिना किसी नुकसान के 32 रन बनाये लेकिन इमरान ताहिर ने लेंडल सिमन्स (19) ओर कोलिन मुनरो (शून्य) को लगातार गेंदों पर आउट कर दिया। डेरेन ब्रावो (नाबाद 26) ने उनकी हैट्रिक नहीं बनने दी।

दस ओवर के बाद नाइटराइडर्स का स्कोर दो विकेट पर 51 रन था और इसके बाद टियोन वेबस्टर (27) भी पवेलियन लौट गये। ऐसे में टिम सीफर्ट ने नाबाद 39 रन की पारी खेलकर टीम को जीत दिलायी। एक अन्य मैच में नबी ने 15 रन देकर पांच विकेट लिये और सेंट लूसिया जॉक्स को सेंट कीट्स एवं नेविस पैट्रियट पर छह विकेट से जीत दिलायी। पैट्रियट की टीम ने निर्धारित 20 ओवरों में नौ विकेट पर 110 रन बनाये। जॉक्स ने 32 गेंद शेष रहते आसान जीत दर्ज की।

नबी ने पैट्रियट का शीर्ष क्रम लड़खड़ा दिया जिससे स्कोर चार विकेट पर 11 रन हो गया। बेन डंक (33) और अल्जारी जोसेफ (नाबाद 21) के प्रयासों से ही टीम तिहरे अंक में पहुंच पायी। जॉक्स के सामने छोटा लक्ष्य था जिसे उसने रकीम कार्नवॉल (26), रोस्टन चेज (नाबाद 27) और नजीबुल्लाह जादरान (33) के प्रयासों से आसानी से हासिल कर दिया।

 ऐसे समय में जबकि लियोनेल मेस्सी (Lionel Messi) का विश्व फुटबॉल (Football) में भविष्य सबसे बड़ा सवाल बना हुआ है तब लंबे समय से उनके प्रतिद्वंद्वी रहे क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) ने युवेंटस के प्रति अपनी पूरी प्रतिबद्धता दिखाते हुए कहा कि वह इस इतालवी क्लब को हर प्रतियोगिता में शीर्ष पर देखना चाहते हैं। रोनाल्डो ने युवेंटस ( Juventus ) के साथ चार साल का करार किया है और अब वह इस क्लब की तरफ से तीसरे सत्र में खेलने के लिये तैयार हैं। 

रोनाल्डो ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट पर लिखा, ‘‘मैं युवेंटस के खिलाड़ी के तौर पर अपने तीसरे सत्र के लिये तैयार हो रहा हूं तथा मेरा जुनून और जज्बा हमेशा की तरह चरम पर हैं। ” उन्होंने कहा, ‘‘प्रतिबद्धता, समर्पण और पेशेवरपन। मेरी पूरी शक्ति तथा मेरे साथियों और युवेंटस के स्टाफ की मदद से हम फिर से इटली, यूरोप और विश्व में अपनी पताका लहराने का प्रयास करेंगे। ”

पैंतीस वर्षीय रोनाल्डो ने युवेंटस को पिछले दो सत्र में सेरी ए का खिताब जीतने में मदद की लेकिन वह अभी तक टीम को चैंपियन्स लीग का खिताब दिलाने में नाकाम रहे हैं।

क्रिकेट आस्ट्रेलिया (Cricket Australia) ने कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण के फैलने के जोखिम को कम करने की कोशिश में इंग्लैंड (England) के खिलाफ सीमित ओवरों की श्रृंखला के दौरान गेंद को चमकाने के लिये अपने खिलाड़ियों को सिर, चेहरे और गर्दन से पसीने के इस्तेमाल से रोक दिया है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (International Cricket Council) ने कोविड-19 (COVID-19)महामारी से बचने के लिये अंतरिम स्वास्थ्य सुरक्षा के लिये गेंद पर लार के इस्तेमाल को प्रतिबंधित कर दिया है। हालांकि खिलाड़ी शरीर पर कहीं से भी पसीने का इस्तेमाल कर सकता है और गेंद पर लगा सकता है। लेकिन सीए इस वायरस के फैलने के किसी भी जोखिम को कम करने के लिये सतर्कता बरत रहा है।

क्रिकेट डॉट कॉम डॉट यू के अनुसार बोर्ड की चिकित्सा सलाह के आधार पर उसने अपने खिलाड़ियों को कहा कि वे मुंह या नाक के पास से पसीने का इस्तेमाल नहीं करें। इससे खिलाड़ियों के पास चार सितंबर से साउथम्पटन में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली श्रृंखला के दौरान पेट या कमर के पास से ही पसीने के इस्तेमाल का विकल्प बचता है। टीम के मुख्य तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क को लगता है कि इससे सीमित ओवरों के प्रारूप में ज्यादा असर नहीं पड़ेगा। स्टार्क ने कहा, ‘‘सफेद गेंद की क्रिकेट में यह इतना अहम नहीं है। एक बार नयी गेंद से खेलना शुरू होता है तो आप इसे सूखा रहने की कोशिश करते हो। यह लाल गेंद की क्रिकेट में ज्यादा अहम होता है। ”

इंग्लैंड के खिलाड़ी वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ श्रृंखला के दौरान अपनी पीठ और माथे से पसीने का इस्तेमाल करते हुए दिखायी दिये थे। स्टार्क ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि इंग्लैंड टेस्ट श्रृंखला के दौरान हमने इसे देखा, जोफ्रा (आर्चर) अपनी पीठ से पसीने का इस्तेमाल कर रहा था। ” स्टार्क आस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम में भी शामिल हैं, उन्हें लगता है कि अगर चीजें नहीं बदलती हैं तो टीम के घरेलू सत्र के दौरान इसी तरह की पाबंदियां बरकरार रहेंगी। हालांकि इस तेज गेंदबाज ने कहा कि जब टीम की टेस्ट श्रृंखला शुरू होंगी तो इस संबंध में चर्चा करनी होगी।  

आतापर्यंत भारतामध्ये बरेच महान क्रिकेटपटू होऊन गेले. पण या सर्वांमधून एक निवडायचा झाला तर लगेच कोणालाही निवडता येणार नाही. पण भारताचे माजी महान फलंदाज आणि समालोचक सुनील गावस्कर यांनी, भारताचा सर्वकालिन महान क्रिकेटपटू कोण? या प्रश्नाचे उत्तर दिले आहे.

काही जणांना सचिन तेंडुलकर, तर काहींना विराट कोहली, तर काही जणांना महेंद्रसिंग धोनी हे सर्वकालिन महान क्रिकेटपटू वाटत असतील. पण गावस्कर यांनी आतापर्यंत बरेच क्रिकेट पाहिले आहे. त्याचबरोबर बऱ्याच महान क्रिकेटपटूंबरोबर ते खेळलेले आहेत. त्यामुळेच त्यांच्या मताला आजही वजन असल्याचे पाहायला मिळते.

गावस्कर यांनी भारताचा सर्वकालिन महान क्रिकेटपटू सांगताना, सचिन, कोहली किंवा धोनीचे नाव घेतलेले नाही. गावस्कर यांच्यामते भारताला १९८३ साली विश्वचषक जिंकवून देणारे कर्णधार कपिल देव हे भारताचे सर्वकालिन महान क्रिकेटपटू आहेत. आतापर्यंतच्या क्रिकेटमध्ये कपिल यांचे भरीव योगदान आहे, असे गावस्कर यांना वाटते.

याबाबत गावस्कर म्हणाले की, " भारताने कपिल यांच्या नेतृत्वाखाली १९८३ साली पहिल्यांदा विश्वचषक जिंकला. या विश्वचषकात परिस्थिती चांगली नसतानाही कपिल यांनी फलंदाजी आणि गोलंदाजीच्या जोरावर विश्वविजयात मोलाचा वाटा उचलला होता. त्याचबरोबर संघातील सर्वोत्तम क्षेत्ररक्षकांपैकी ते एक होते."

आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषदेने आज आपली क्रमवारी जाहीर केली आहे. या क्रमवारीत भारतीय खेळाडूच अव्वल स्थानावर असल्याचे पाहायला मिळाले आहे. भारतीय फलंदाजांनी या यादीत आपले स्थान कायम ठेवले आहे.

भारताचा कर्णधार विराट कोहली हा आयसीसीच्या एकदविसीय क्रमवारीत फलंदाजांच्या यादीमध्ये अव्वल स्थानावर विराजमान आहे. आयसीसीच्या एकदविसीय क्रमवारीत फलंदाजांच्या यादीमध्ये भारताचा उपकर्णधार रोहित शर्मा आहे. कोहली आणि रोहित यांच्या पहिल्या आणि दुसऱ्या स्थानाला अजूनही धक्का लागलेला नाही. आयसीसीच्या एकदविसीय क्रमवारीत गोलंदाजांच्या यादीमध्ये भारताच्या जसप्रीत बुमराहने अव्वल स्थान पटकावले आहे.

कसोटी क्रमवारीत ऑस्ट्रेलियाचा स्टीव्हन स्मिथ हा अव्वल स्थानावर आहे. त्यानंतर कसोटी क्रमवारीत दुसरे स्थान पटकावले आहे ते विराट कोहलीने. या यादीत तिसऱ्या स्थानावर ऑस्ट्रेलियाचा मार्नल लाबुशेन आहे. ट्वेन्टी-२० क्रमवारीत पाकिस्तानचा बाबर आझम आहे. आझमनंतर दुसऱ्या स्थानावर भारताच्या लोकेश राहुलने दुसरे स्थान पटकावले आहे. आयसीसी क्रमवारीच्या तिन्ही प्रकारांत अव्वल पाच फलंदाजांमध्ये भारतीय खेळाडू आहेत. संघांच्या क्रमवारीत भारत एकदिवसीय क्रिकेटमध्ये दुसऱ्या स्थानावर आहे, तर कसोटी आणि ट्वेन्टी-२० प्रकारात भारत तिसऱ्या स्थानावर आहे.

आयसीसीच्या कसोटी क्रमवारीत गोलंदाजांच्या यादीमध्ये ऑस्ट्रेलियाचा पॅट कमिन्स पहिल्या स्थानावर आहे, तर ट्वेन्टी-२० क्रिकेटच्या गोलंदाजांच्या यादीमध्ये अफगाणिस्तानचा रशिद खान हा अव्वल स्थानावर आहे. कसोटी क्रिकेटमध्ये सहाशे बळींचा टप्पा गाठणारा इंग्लंडचा वेगवान गोलंदाज जेम्स अँडरसनने या यादीमध्ये सहावे स्थान पटकावले आहे.

विराट कोहलीच्या नेतृत्वाखालील भारतीय संघ जागतिक कसोटी अजिंक्यपद स्पर्धेत अव्वल स्थानावर विराजमान आहे. पण भारताच्या या अव्वल स्थानाला आता धक्का बसू शकतो, असे म्हटले जात आहे. कारण ऑस्ट्रेलिया आणि इंग्लंडसारखे मातब्बर संघ भारतापेक्षा जास्त पिछाडीवर नाहीत.

बऱ्याच कालावधीपासून भारतीय संघ जागतिक कसोटी अजिंक्यपद स्पर्धेत अव्वल स्थानावर विराजमान आहे. दुसऱ्या क्रमांवर ऑस्ट्रेलिया आणि तिसऱ्या स्थानावर इंग्लंडचा संघ आहे. इंग्लंड आणि ऑस्ट्रेलियाचे संघ हळूहळू भारताच्या जवळ येऊ शकतात, असे दिसत आहे. इंग्लंडचा संघ तर लवकर भारताच्या जवळ येईल, असे म्हटले जात आहे.

करोनानंतर पहिल्यांदा क्रिकेट खेळायला सुरुवात केली ती इंग्लंडने. आतापर्यंत इंग्लंड दोन कसोटी मालिका खेळलेली आहे. इंग्लंडने पहिल्या कसोटी मालिकेत वेस्ट इंडिजला २-१ अशा फरकाने पराभूत केले होते. त्यानंतर नुकत्याच झालेल्या पाकिस्तानविरुद्धच्या मालिकेत इंग्लंडने १-० असा विजय मिळवला. जर इग्लंडने पाकिस्तानविरुद्धचे दोन कसोटी सामनेही जिंकले असते तर ते ऑस्ट्रेलियालावर मात करून दुसऱ्या स्थानावर विराजमान झाले असते.

सध्याच्या घडीला जागतिक कसोटी अजिंक्यपद स्पर्धेत भारतीय संघ ३६० गुणांसह अव्वल स्थानावर आहे. दुसऱ्या स्थानावर ऑस्ट्रेलियाचा संघ असून त्यांच्या खात्यामध्ये २९६ गुण आहेत. इंग्लंडचा संघ ऑस्ट्रेलियापेक्षा फक्त चार गुणांनी पिछाडीवर आहे आणि त्यांचे २९२ गुण झाले आहेत. त्यामुळे जर इंग्लंडने एक कसोटी मालिका जिंकली तर ते भारतीय संघाच्या अव्वल स्थानाला धक्का पोहोचवू शकतात, असे म्हटले जात आहे.

क्रिकेटच्या इतिहासात असे अनेक खेळाडू होऊन गेले आहेत ज्यांनी विक्रमी आणि ऐतिहासिक कामगिरी केली . पण असा एक फलंदाज आहे ज्यांची कामगिरी पाहिल्यानंतर तसा खेळाडू ना कधी पुन्हा झाला आणि नाही भविष्यात होइल अशी प्रतिक्रिया तुम्ही द्याला. क्रिकेटमधील आजवरचे सर्वात महान फलंदाज ऑस्ट्रेलियाचे सर डॉन ब्रॅडमन यांचा आज जन्मदिवस आहे.

डोनाल्ड जॉर्ज ब्रॅडमॅन यांच्या नावावर असा अनोखा विक्रम नोंदला गेला आहे जो मोडणे केवळ स्वप्नच ठरेल. २७ ऑगस्ट १९०८ साली ऑस्ट्रेलियाच्या या दिग्गज फलंदाजाचा जन्म झाला होता.

क्रिकेट विश्वातील एकमेव फलंदाज आहेत ज्यांची सरासरी ९९च्या पुढे आहे. दुसऱ्या कोणत्याही फलंदाजाला त्यांच्या जवळपास पोहोचता आले नाही. ब्रॅडमन यांच्या नावावर क्रिकेटमधील अनेक विक्रम आहेत. यातील आणखी एक म्हणजे त्यांनी कसोटी क्रिकेटमध्ये सर्वाधिक १२ द्विशतक झळकावली आहेत.

जेम्स एंडरसन (Jimmy Anderson) ने टेस्ट क्रिकेट में 600 विकेट लेने वाला पहला तेज गेंदबाज बनने के बाद कहा कि वह 700 विकेट के क्लब में भी शामिल हो सकते हैं जहां अभी तक दो दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) और शेन वार्न (Shane Warne) ही पहुंच पाये हैं। इंग्लैंड (England) के तेज गेंदबाज एंडरसन ने मंगलवार को यहां तीसरे टेस्ट मैच के दौरान पाकिस्तानी कप्तान अजहर अली को आउट करके अपना 600वां विकेट लिया। वह अब सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में मुरलीधरन (800), वार्न (708) और अनिल कुंबले (619) के बाद चौथे स्थान पर हैं। मैच ड्रा समाप्त होने के बाद इस 38 वर्षीय गेंदबाज ने अपने इरादे स्पष्ट तौर पर जतला दिये।

ईएसपीएनक्रिकइन्फो के अनुसार एंडरसन ने कहा, ‘‘मैंने इस बारे में जो (रूट) से बात की और उसने कहा कि वह मुझे आस्ट्रेलिया (अगले साल एशेज श्रृंखला) में देखना चाहते हैं। मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता कि मैं क्यों (टीम में) नहीं हो सकता। मैं हमेशा की तरह अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत कर रहा हूं। मैं अपने खेल पर कड़ी मेहनत कर रहा हूं। ” उन्होंने कहा, ‘‘मैं इन गर्मियों में वैसी गेंदबाजी नहीं कर पाया जैसी मैं करना चाहता था लेकिन इस टेस्ट में मैं वास्तव में ऐसा महसूस कर रहा था कि मैं इस टीम में अब भी योगदान दे सकता हूं। जब तक मैं ऐसा महसूस करता रहूंगा तो तब तक खेल में बने रहना पसंद करूंगा। मुझे नहीं लगता कि इंग्लैंड के क्रिकेटर के रूप में मैंने अपना आखिरी टेस्ट मैच जीत लिया है। क्या मैं 700 विकेट तक पहुंच सकता हूं? क्यों नहीं? ”

सेंट कीट्स एवं नेविस पैट्रियट्स (Nevis Patriots) ने कैरेबियाई प्रीमियर लीग (CPL 2020) टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट में आखिरकार जीत दर्ज की जबकि जमैका तल्लवाह (Jamaica Tallawahs) ने एक कम स्कोर वाले मैच में गयाना अमेजॉन वारियर्स (Guyana Amazon Warriors ) को हराया। सलामी बल्लेबाज इविन लुईस ने 60 गेंदों पर 89 रन बनाये जिससे पैट्रियट्स ने बारबाडोस ट्रिडेंट्स के खिलाफ छह विकेट से जीत दर्ज की। यह सीपीएल में पिछले चार मैचों में उसकी पहली जीत है।

बारबाडोस ने पहले बल्लेबाजी का मौका मिलने पर निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट पर 151 रन बनाये। उसकी तरफ से कोरे एंडरसन ने 31 और शाई होप ने 29 रन का योगदान दिया। पैट्रियट्स ने 19।3 ओवर में चार विकेट खोकर यह लक्ष्य हासिल किया। लुईस ने 19वें ओवर में आउट होने से पहले अपनी पारी में दो चौके और नौ छक्के लगाये। एक अन्य मैच में जमैका ने गयाना को पांच विकेट से हराया।

फिदेल एडवर्ड्स (30 रन देकर तीन) और मुजीब उर रहमान (11 रन देकर तीन विकेट) की शानदार गेंदबाजी से जमैका ने गयाना को नौ विकेट पर 108 रन ही बनाने दिये। जमैका ने 18 ओवर में पांच विकेट पर 113 रन बनाकर जीत दर्ज की। जमैका के पांच विकेट 62 रन पर निकल गये थे लेकिन इसके बाद निक्रुमाह बोनर (नाबाद 30) और आंद्रे रसेल (नाबाद 23) ने टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया। 

भारत के महान क्रिकेटर अनिल कुंबले (Anil Kumble) और सौरव गांगुली (Sourav Ganguly ) ने इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन (James Anderson) की उपलब्धि की प्रशंसा की जो टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में 600 विकेट लेने वाले पहले तेज गेंदबाज बन गये हैं। इंग्लैंड के तेज गेंदबाज एंडरसन ने मंगलवार को यहां ड्रा रहे तीसरे टेस्ट मैच के अंतिम दिन पाकिस्तानी कप्तान अजहर अली को आउट करके अपना 600वां विकेट लिया। वह अब सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में मुथैया मुरलीधरन (800), शेन वार्न (708) और अनिल कुंबले (619) के बाद चौथे स्थान पर हैं। 

कुंबले ने ट्वीट किया, ‘‘बधाई हो जिम्मी, 600 विकेट हासिल करने के लिये। महान तेज गेंदबाज का बेहतरीन प्रयास। क्लब में आपका स्वागत। ” मैच ड्रा समाप्त होने के बाद इस 38 वर्षीय गेंदबाज ने 700 विकेट हासिल करने के इरादे जाहिर किये।

पूर्व भारतीय कप्तान और बीसीसीआई अध्यक्ष गांगुली ने भी एंडरसन की उपलब्धि के बाद ट्वीट किया, ‘‘जेम्स एंडरसन शानदार। यह उपलब्धि सिर्फ महानता है। 156 टेस्ट मैचों में तेज गेंदबाज के रूप में खेलने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। आप सभी युवा तेज गेंदबाजों को यह भरोसा दिलाओगे कि महानता हासिल की जा सकती है। ”

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने भी एंडरसन की प्रशंसा की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बधाई हो जिम्मी 600 विकेट की शानदार उपलब्धि हासिल करने के लिये। मैंने अभी तक जिन तेज गेंदबाजों का सामना किया है, वह निश्चित रूप से सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से एक हैं।”

किंग्स इलेवन पंजाब (Kings XI Punjab) और राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के पिछले सप्ताह यहां पहुंचने वाले खिलाड़ियों ने छह दिन का अनिवार्य पृथकवास ( Quarantine) पूरा कर लिया है और इस दौरान कोविड-19 (COVID-19) के लिये किये गये उनके तीनों परीक्षण नेगेटिव आये। इन दोनों टीमों के खिलाड़ी अब अभ्यास के लिये तैयार हैं। दुबई की गर्मी से बचने के लिये इन टीमों ने शाम को अभ्यास करने की योजना बनायी है।

किंग्स इलेवन और रॉयल्स यहां पहुंचने वाली शुरुआती टीमों में शामिल थी। कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम भी पिछले गुरुवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) पहुंची थी। उसकी टीम अबुधाबी में टिकी है। भारतीय क्रिकेट बोर्ड की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के अनुसार खिलाड़ियों का यहां पहुंचने के बाद पहले, तीसरे और छठे दिन परीक्षण किया गया तथा इन तीनों में नेगेटिव आने के बाद किंग्स इलेवन और रॉयल्स के खिलाड़ी अभ्यास की तैयारियों में जुट गये हैं। छह दिन के प्रवास के दौरान खिलाड़ियों को अपने कमरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी गयी थी।

एक सूत्र ने रॉयल्स के संदर्भ में कहा, ‘‘भारत से यहां पहुंचे सभी खिलाड़ियों का तीन बार परीक्षण किया गया और वे अब अभ्यास शुरू करेंगे। ” रॉयल्स की टीम आईसीसी मैदान पर अभ्यास करेगी। इस साल रॉयल्स से जुड़ने वाले दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर डेविड मिलर कल ही यहां पहुंचे हैं और वह अपना पृथकवास पूरा करने के बाद ही अभ्यास कर पाएंगे। किंग्स इलेवन के दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी हार्डस विलजोन को भी ऐसी प्रक्रिया से गुजरना होगा। 

किंग्स इलेवन के सूत्रों ने कहा, ‘‘भारत से 20 अगस्त को यहां पहुंचने वाले सभी खिलाड़ियों ने पृथकवास पूरा कर लिया है और वे अब अभ्यास शुरू कर देंगे। ” रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर, मुंबई इंडियन्स और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीमें शुक्रवार को यूएई पहुंची थी और उनका पृथकवास गुरुवार को समाप्त होगा। आईपीएल 19 सितंबर से 10 नवंबर तक यूएई के तीन स्थलों दुबई, अबुधाबी और शारजाह में खेला जाएगा।

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने कहा कि उन्होंने नॉन स्ट्राइकर छोर पर गेंद करने से पहले आगे निकलने वाले बल्लेबाज को आउट करने के विवादास्पद मसले पर इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के अपने कोच रिकी पोंटिंग (Ricky-Ponting)से बात की लेकिन वह टेलीफोन पर हुई अपनी बातचीत के सार का अगले सप्ताह खुलासा करेंगे।

अश्विन की टीम दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals)के मुख्य कोच पोंटिंग ने कहा था कि वह संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में 19 सितंबर से शुरू होने वाले आईपीएल से पहले बल्लेबाजों को आउट करने के इस विवादास्पद तरीके को लेकर इस भारतीय स्पिनर से बात करेंगे। तब से यह चर्चा का विषय बना हुआ है। अश्विन ने पिछले साल आईपीएल में इंग्लैंड के बल्लेबाज जोस बटलर को नॉन स्ट्राइकर छोर पर क्रीज से काफी आगे निकलने के बाद रन आउट कर दिया था और तब कई ने इसे खेल भावना के विपरीत बताया था।

अश्विन दुबई पहुंच चुके हैं लेकिन पोंटिंग को अगले सप्ताह वहां पहुंचना है और इसके बाद वे आपस में बैठकर बात करेंगे। अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘‘रिकी पोंटिंग अभी (दुबई) नहीं पहुंचे हैं। जब वह पहुंच जाएंगे तो हम उनके साथ बात करेंगे। हम फोन पर पहले ही बात कर चुके हैं। यह बातचीत बेहद दिलचस्प रही थी। ” इस स्पिनर ने कहा कि आमने सामने बातचीत करना बेहतर है क्योंकि आस्ट्रेलियाई लहजे की अंग्रेजी का अनुवाद में अर्थ का अनर्थ बन सकता है।

उन्होंने कहा, ‘‘कई बार ऐसा होता है कि अंग्रेजी में आस्ट्रेलियाई संदेश अनुवाद में खो जाता है और हमारे पास भिन्न अर्थ के साथ पहुंचता है। यहां तक कि उनके कुछ मजाक समाचार बन जाते हैं। यह मामला भी ऐसा ही है और रिकी के साथ अपनी बातचीत का अगले सप्ताह मैं थोड़ा और खुलासा करूंगा। ”

पोंटिंग ने कहा था कि उनकी अश्विन के साथ इस मसले को लेकर कड़ी बातचीत होगी और वह उन्हें दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से बल्लेबाजों को इस तरह से रन आउट करने की अनुमति नहीं देंगे क्योंकि यह खेल भावना के विपरीत है। अश्विन ने सोमवार को बल्लेबाज के गेंद करने से पहले क्रीज से आगे निकल जाने पर गेंदबाज को ‘फ्री बॉल’ देने का सुझाव दिया और इस तरह से उन्होंने साफ कर दिया कि बल्लेबाज को इस तरह से रन आउट करना गलत नहीं है।

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals ) ने संयुक्त अरब अमीरात (UAE ) में 19 सितंबर से शुरू होने वाले टूर्नामेंट से पहले मंगलवार को आस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज रेयान हैरिस (Ryan Harris) को अपना गेंदबाजी कोच नियुक्त किया। यह 40 वर्षीय गेंदबाज हमवतन जेम्स होप्स की जगह लेगा। होप्स ने 2018 और 2019 में कैपिटल्स के गेंदबाजी कोच की भूमिका निभायी थी लेकिन इस बार निजी कारणों से टीम से नहीं जुड़ पाएंगे।

हैरिस ने यहां जारी विज्ञप्ति में कहा, ‘‘मैं आईपीएल में वापसी करके खुश हूं। यह आईपीएल ट्राफी हासिल करने के फ्रेंचाइजी के लक्ष्य में मदद करने का बहुत बड़ा अवसर है। ”

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली कैपिटल्स के पास प्रभावशाली गेंदबाज हैं और मैं उनके साथ काम करने को लेकर उत्सुक हूं। ” हैरिस ने टेस्ट क्रिकेट में 113, वनडे में 44 और टी20 अंतरराष्ट्रीय में चार विकेट लिये हैं। वह 2009 में आईपीएल जीतने वाली डेक्कन चार्जर्स टीम के सदस्य थे। चोटों के कारण उन्होंने 2015 में संन्यास ले लिया था।

इसके बाद हैरिस आस्ट्रेलियाई टीम और बिग बैश टीम ब्रिस्बेन हीट के साथ गेंदबाजी कोच की भूमिका निभा रहे थे। वह यहां तक कि आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के गेंदबाजी कोच रह चुके हैं। हैरिस के अलावा दिल्ली कैपिटल्स के कोचिंग स्टाफ में पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग, मोहम्मद कैफ, सैमुअल बद्री और विजय दहिया शामिल हैं। कोविड-19 महामारी के कारण इस बार आईपीएल भारत से बाहर खेला जाएगा।

स्लोवाकिया (Slovakia) की चैंपियन टीम स्लोवान ब्रातिस्लावा को अपने कुछ खिलाड़ियों के कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित पाये जाने के कारण चैंपियन्स लीग फुटबॉल टूर्नामेंट (Champions Football Tournament) का क्वालीफाईंग मैच गंवाना पड़ा।

जेनेवा. स्लोवाकिया (Slovakia) की चैंपियन टीम स्लोवान ब्रातिस्लावा को अपने कुछ खिलाड़ियों के कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित पाये जाने के कारण चैंपियन्स लीग फुटबॉल टूर्नामेंट (Champions Football Tournament) का क्वालीफाईंग मैच गंवाना पड़ा। यूरोपीय फुटबॉल की सर्वोच्च संस्था यूएफा ने यह फैसला दिया कि स्लोवान को अपने प्रतिद्वंद्वी की क्लासविक के खिलाफ अपने पहले दौर का मैच 3-0 से गंवाना पड़ेगा क्योंकि उसे पिछले सप्ताह फैरो आइलैंड में दो बार स्थगित करना पड़ा था।

फैरो आइलैंड के अधिकारियों ने स्लोवाकियाई टीम के खिलाड़ियों को पृथकवास पर रखा है क्योंकि कुछ खिलाड़ियों का कोविड-19 के लिये परीक्षण पॉजीटिव आया है। इस महामारी के दौरान यूएफा के प्रतियोगिता नियमों के अनुसार कोविड-19 मामले पाये जाने पर स्थानीय अधिकारी मैचों को रोक सकते हैं। इससे पहले कोसोवा लीग के विजेता द्रीता क्लब को स्विट्जरलैंड में चैंपियन्स लीग मैच खेलने से रोक दिया गया था क्योंकि उसके दो खिलाड़ियों को संक्रमित पाया गया था।

यूएफा ने सोमवार को कोसोवा की दूसरी टीम प्रिस्टीना को यूरोपा लीग के प्रारंभिक दौर के मैचों से बाहर कर दिया था। प्रिस्टीना के दस खिलाड़ियों सहित कई अन्य सदस्यों को कोविड-19 के लिये पॉजीटिव पाया गया था।

खेल मंत्रालय (Sports Ministry) और भारतीय ओलंपिक संघ (Indian Olympic Association) ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय के उस आदेश को चुनौती देने के लिए सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है जो मंत्रालय को राष्ट्रीय खेल संघों (National Sports Federations) को मान्यता देने पर कोई भी निर्णय लेने से रोकता है। यह मामला 2010 में दायर एक याचिका से संबंधित है जिसमें अधिवक्ता राहुल मेहरा ने अदालत से केंद्र को यह निर्देश देने का अनुरोध किया गया था कि आईओए और एनएसएफ अपने कर्तव्यों का पालन करें ताकि देश में खेल प्रशासन में सुधार हो सके।

इस साल फरवरी में, दिल्ली उच्च न्यायाल ने मंत्रालय को एनएसएफ पर अदालत के परामर्श के बिना कोई भी निर्णय लेने से रोक लगा दिया था। इसके बाद मंत्रालय को विभिन्न खेलों के 57 एनएसएफ को दी गई मान्यता वापस लेनी पड़ी, जिससे उनके प्रशासनिक कार्यों में बाधा पड़ी।

खेल मंत्रालय के एक सूत्र ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘हम एक या दो दिन में विशेष अनुमति याचिका दायर करेंगे। हम दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दे रहे हैं जिसमें कहा गया है कि मंत्रालय अदालत को बिना बताये खेल संघों से संबंधित कोई भी निर्णय न लें।” आईओए के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा और सचिव राजीव मेहता ने भी एक संयुक्त बयान जारी कर कहा कि वे भी शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे क्योंकि क्योंकि इस मामले में आईओए भी एक पक्ष है।

बयान के मुताबिक, ‘‘ हम (आईओए) राहुल मेहरा मामले की याचिका के संबंध में जल्द ही माननीय उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की योजना बना रहे हैं।” इससे पहले सात अगस्त को मंत्रालय ने सात अगस्त को उच्च न्यायालय से आदेश में बदलाव और कम से कम एनएसएफ को मान्यता प्राप्त करनी अनुमति देने का अनुरोध किया था, लेकिन अदालत ने उस याचिका को खारिज कर दिया और राष्ट्रीय खेल संहिता अनुपालन रिपोर्ट की मांग की।

इसके बाद मंत्रालय ने एनएसएफ को एक प्रश्नावली भेजकर उनके पदाधिकारियों की उम्र और कार्यकाल का विवरण मांगा। कुल 56 एनएसएफ ने इसका जवाब दिया। इस मामले की सुनवाई 21 अगस्त को उच्च न्यायालय में होनी थी। इसे हालांकि 18 सितंबर तक टाल दिया गया।

सर्वात वेगवान धावपटू उसेन बोल्ट (Usain Bolt) याच्या वाढदिवसाची पार्टी क्रीडा क्षेत्रातील मोठ मोठ्या लोकांना अडचणीत आणणारी ठरण्याची शक्यता आहे. उसेन बोल्टचा वाढदिवस २१ ऑगस्ट रोजी होता. या वाढदिवसासाठी आयोजित करण्यात आलेल्या पार्टीत अनेक स्टार खेळाडू आले होते. आता बोल्टची करोना चाचणी पॉझिटिव्ह आली आहे. त्यामुळे या पार्टीत आलेल्या लोकांना देखील याची लागण होण्याची शक्यता आहे.

बोल्टने आयोजित केलेल्या पार्टीत सोशल डिस्टन्सिंगचा नियम पाळला नव्हता, इतकच नव्हे तर कोणी मास्क देखील लावले नव्हते. पार्टीत क्रिकेटमधील धडाकेबाज फलंदाज ख्रिस गेल (Chris Gayle), फुटबॉलपटू रहीम स्टर्लिंग आणि लियॉन बेली हे देखील उपस्थित होते.

बोल्टचा रिपोर्ट पॉझिटिव्ह आल्यानंतर तो आयसोलेशनमध्ये गेला आहे. पार्टी झाल्यानंतर बोल्टने करोनाची चाचणी घेतली होती. बोल्टच्या वाढदिवसाच्या पार्टीचा व्हिडिओ सोशल मीडियावर जोरदार व्हायरल झाला होता. यात सहभागी झालेले त्याचे मित्र डान्स करत होते आणि एकानेही मास्क लावला नव्हता. पार्टानंतर बोल्टने हॅपी बर्थडे एव्हर असे ट्विट केले होते.

विशेष म्हणजे ख्रिस गेल आयपीएलमध्ये किंग्ज इलेव्हन पंजाब संघाकडून खेळतो आणि या वर्षी होणाऱ्या युएईमधील स्पर्धेसाठी तो लवकरच संघात दाखल होण्याची शक्यता आहे.

नेमार (Neymar) और काइलिन मबापे (Kylian Mbappe) पेरिस सेंट जर्मेन (Paris Saint-Germain) की चैंपियन्स लीग फाइनल में बायर्न म्यूनिख (Bayern Munich) के हाथों 1-0 से हार के बाद बेहद निराश थे क्योंकि उन्हें आखिर तक इस परिणाम की उम्मीद नहीं थी। ये दोनों खिलाड़ी पीएसजी की बेंच पर अगल बगल में बैठे थे। मबापे के चेहरे पर मायूसी साफ दिख रही थी जबकि नेमार अपने आंसू नहीं रोक पाये और उन्होंने अपना मुंह ढक दिया। पीएसजी का चैंपियन्स लीग का अपना पहला खिताब जीतने का इंतजार एक साल और बढ़ गया क्योंकि नेमार और मबापे फाइनल में अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरे। इन दोनों ने लचर प्रदर्शन किया।

फ्रांसीसी टीम के सबसे बड़े स्टार खिलाड़ियों ने अपनी टीम को पहली बार यूरोपीय क्लब टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचाया था लेकिन खिताबी मुकाबले में वे किसी भी समय अपने असली रंग में नहीं दिखे। पीएसजी ने पहली बार चैंपियन्स लीग जीतने के लिये इन खिलाड़ियों पर करोड़ों डालर खर्च किये लेकिन निर्णायक मैच में उनका जादू नहीं चला। मबापे और नेमार दोनों को पहले हाफ में मौके मिले लेकिन वे उसका फायदा नहीं उठा पाये। दूसरे हाफ में तो वे किसी भी समय अपना प्रभाव नहीं छोड़ पाये।

बायर्न ने 59वें मिनट में बढ़त हासिल कर ली थी और पीएसजी को वापसी दिलाने का जिम्मा इन दोनों खिलाड़ियों पर था। पीएसजी के कोच थामस टचेल ने कहा, ‘‘पिछले कुछ सप्ताहों में हमने वह सब कुछ किया जो जीत के लिये जरूरी होता है। फुटबॉल में आपको यह स्वीकार करना होगा कि भाग्य भी बड़ी भूमिका निभा सकता है। हमारे पास मौके थे लेकिन हम गोल नहीं कर पाये, लेकिन हम यह नहीं कह सकते कि यह किसी की गलती है। ”

नेमार के पास 18वें मिनट में गोल करने का मौका था लेकिन उनका शॉट नेयुर ने रोक दिया। मबापे को भी बायर्न के गोलमुख के पास दो मौके मिले लेकिन वे विरोधी टीम के रक्षकों को नहीं छका पाये। यह जोड़ी इसके बाद दूसरे हाफ में पीएसजी को मिले सर्वश्रेष्ठ अवसरों को भी नहीं भुना सकी। मबापे 72वें मिनट में तेजी से गेंद लेकर आगे बढ़े लेकिन वे गोल करने में नाकाम रहे। नेमार के पास इंजुरी टाइम में मौका था लेकिन उन्हें भी असफलता ही देखने को मिली।

कोविड-19 के कारण पांच महीने बाद कोर्ट पर लौटे भारतीय टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना (Rohan Bopanna) और कनाडा के उनके साथी डेनिस शापोवालोव (Denis Shapovalov) को वेस्टर्न एंड सदर्न ओपन (Western and Southern Open) के पुरुष युगल के पहले दौर में हार का सामना करना पड़ा। बोपन्ना और शापोवालोव को इस 42,22,190 डॉलर इनामी हार्डकोर्ट टूर्नामेंट के पहले दौर में 2019 में यूएस ओपन के उप विजेता मार्सेल ग्रेनोलर्स और होरासियो जेबालोस से 4-6 6-7(1) से हार झेलनी पड़ी।

बोपन्ना का यह मार्च में क्रोएशिया के खिलाफ डेविस कप मुकाबले के बाद पहला प्रतिस्पर्धी मैच था। वह पिछले साल इंडियन वेल्स मास्टर्स के बाद लगातार शापोवालोव के साथ जोड़ी बना रहे हैं। उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘यह काफी करीबी मैच था और ईमानदारी से कहूं तो पांच महीने बाद सीधे टूर्नामेंट में उतरकर हमने जिस तरह का प्रदर्शन किया, उससे मैं संतुष्ट हूं। हम बहुत अच्छी टीम के खिलाफ खेल रहे थे। हम अब अगले कुछ दिन यूएस ओपन की तैयारी करेंगे। ” यूएस ओपन न्यूयार्क में 31 अगस्त से शुरू होगा।

ऑफ स्पिनर डोम बेस (Dom Bess) ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में 600 विकेट पूरे करने से दो कदम दूर दिग्गज जेम्स एंडरसन (James Anderson) इंग्लैंड के सर्वकालिक महान गेंदबाज हैं। उम्मीद है कि पाकिस्तान के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला के तीसरे टेस्ट की दूसरी पारी में वह इस आंकड़े को छू लेंगे। एंडरसन सर्वाधिक टेस्ट विकेट चटकाने वाले खिलाड़ियों की सूची में चौथे स्थान पर हैं। उनसे अधिक विकेट संन्यास ले चुके तीन स्पिनरों मुथैया मुरलीधरन (800), शेन वार्न (708) और अनिल कुंबले (619) ने हासिल किये हैं।

इस 38 साल के तेज गेंदबाज ने पहली पारी में 56 रन देकर पांच विकेट लिये जिससे उनके टेस्ट विकेटों की संख्या 598 तक पहुंच गयी। उन्होंने करियर में 29वीं बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट हासिल किए। उनकी शानदार गेंदबाजी से मैच के तीसरे दिन पाकिस्तान की पहली पारी 273 रन पर सिमट गयी और इंग्लैंड से 310 रन से पीछे रह गई जिसके बाद मेजबान टीम के कप्तान जो रूट ने उन्हें फॉलोआन दिया। प्रेस एसोसिएशन के मुताबिक बेस ने कहा, ‘‘ वह सर्वकालिक महान गेंदबाज है। वह गेंदबाजी के सर्वकालिक महान और इंग्लैंड के महानतम गेंदबाज हैं।”

उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने, डोम सिबले, ओली पोप और जॉक क्राउली ने बचपन से उन्हें खेलते हुए देखते हुए देखा है। क्षेत्ररक्षण करते हुए उन्हें देखना अभूतपूर्व है । वह लगातार बेहतरीन गेंदबाजी करते हैं जिससे गेंद बल्ले का किनारा लेती है, कई बार बल्लेबाजों के पिंडली से टकराती है।” एंडरसन ने जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 2003 में पदार्पण किया था तब बेस महज छह साल के थे। उन्होंने कहा, ‘‘ किसी इंसान के लिए यह आश्चर्यजनक बात है लेकिन मुझे लगता है कि जब जिमी अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो वह टीम के लिए होता है।”

 ट्रिनबागो नाइटराइडर्स (Trinbago Knight Riders) ने शानदार बल्लेबाजी का नजारा पेश करके बारबाडोस ट्रिडेंट (Barbados Trident ) को 19 रन से हराकर कैरेबियाई प्रीमियर लीग (Caribbean Premier League) में अपना विजय अभियान जारी रखा। ट्रिनबागो को पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर तीसरे नंबर पर उतरे कोलिन मुनरो (Colin Munro) (30 गेंद में 50) ने रन बटोर कर तेज शुरुआत की जबकि डेरेन ब्रावो (Darren Bravo) (54) और कीरोन पोलार्ड (41) ने इसे बरकरार रखा।

इन दोनों ने चौथे विकेट के लिये 98 रन की अटूट साझेदारी की जिससे उनकी टीम तीन विकेट पर 185 रन बनाने में सफल रही। इसके जवाब में जॉनसन चार्ल्स (33 गेंदों पर 52) ओर शाई होप (38 गेंदों पर 36) ने पहले विकेट के लिये 68 रन जोड़े लेकिन बाकी बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाये।

कप्तान जैसन होल्डर (34) और एशले नर्स (21) ने आखिर में 45 रन की साझेदारी की लेकिन टीम छह विकेट पर 166 रन तक ही पहुंच पायी। एक अन्य मैच में रोस्टन चेज के लगातार दूसरे अर्धशतक और गेंदबाजों के अच्छे प्रदर्शन से सेंट लूसिया जॉक्स ने गयाना अमेजॉन वारियर्स को 10 रन से हराया। चेज ने 66 रन बनाये जिससे जॉक्स ने सात विकेट पर 144 रन का स्कोर खड़ा किया। मोहम्मद नबी (19) और जेवेल ग्लेन (19) ने भी बल्लेबाजी में योगदान दिया। इसके जवाब में निकोलस पूरण ने 49 गेंदों पर 68 रन बनाकर वारियर्स की उम्मीदें बनाये रखी। वारियर्स को अंतिम ओवर में 13 रन चाहिए थे।

चेमार होल्डर ने इस ओवर में शानदार गेंदबाजी की और वारियर्स को आठ विकेट पर 134 रन तक पहुंचने दिया। चेमार होल्डर ने केवल दो रन दिये और इस बीच दो विकेट भी लिये जिससे जॉक्स लगातार तीसरी जीत दर्ज करने में सफल रहा। स्कॉट कुगलीन ने तीन और केसरिक विलियम्स ने दो विकेट लिये।

भारताचा माजी कर्णधार महेंद्रसिंग धोनीने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती जाहीर करत सर्वांनाच धक्का दिला. पण धोनीला बीसीसीआयने एक धक्का दिला होता आणि त्यानंतर धोनीने निवृत्तीचा विचार करायला सुरुवात केली, असे म्हटले जात आहे.

धोनीने तडकाफडकी आपल्या निवृत्तीचा निर्णय घेतला, असे काही जणांना वाटते. पण ही गोष्ट तशी नक्कीच नाही. बीसीसीआयने धोनीला या वर्षाच्या सुरुवातीलाच एक धक्का दिला होता. या धक्क्यातून धोनी सावरू शकला नव्हता. त्यामुळेच धोनीने अखेर १५ ऑगस्टला आपल्या आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटला रामराम ठोकला.

धोनी गेल्या वर्षी झालेल्या विश्वचषकात आपला अखेरचा आंतरराष्ट्रीय सामना खेळला होता. त्यानंतर धोनीला आतापर्यंत मैदानात खेळण्यासाठी उतरल्याचे पाहिले गेले नाही. बीसीसीआयने जानेवारी महिन्यातच धोनीला एक धक्का दिला होता. बीसीसीआयने १६ जानेवारीला या वर्षातील पुरुष क्रिकेटपटूंच्या करारांची घोषणा केली. या करारामध्ये धोनीचे नाव वगळण्यात आले होते. त्यावेळीच बीसीसीआयने धोनीला निवृत्ती घेण्याचा इशारा दिला होता, असे म्हटले जाते.

बीसीसीआयने करारामध्ये स्थान न दिल्यामुळे धोनी निराश झाला होता. या धक्क्यातून तो सावरू शकला नाही. त्यावेळी रांची येथील आपल्या जवळच्या मित्रांना धोनीने काही प्रश्न विचारले होते. धोनी आपल्या मित्रांना म्हणाला होता की, " मी क्रिकेट खेळण्यासाठी फिट नाही का, मला बीसीसीआयने आपल्या करारामध्ये स्थान का दिले नाही?" पण त्याचवेळी बीसीसीआयने असे नेमके का केले, याची जाणीव झाली होती. त्यानंतरच धोनी आपल्या निवृत्तीचा विचार करायला लागला होता. पण तरीदेखील आपल्याला भारताकडून ट्वेन्टी-२० क्रिकेट खेळण्याची संधी मिळेल, अशी आशा धोनीला होती. त्यामुळेच धोनी फिट राहण्यासाठी काही खास गोष्टी करत होता.

भारताचा माजी कर्णधार महेंद्रसिंग धोनीने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती जाहीर करत सर्वांनाच धक्का दिला. पण धोनीला बीसीसीआयने एक धक्का दिला होता आणि त्यानंतर धोनीने निवृत्तीचा विचार करायला सुरुवात केली, असे म्हटले जात आहे.

धोनीने तडकाफडकी आपल्या निवृत्तीचा निर्णय घेतला, असे काही जणांना वाटते. पण ही गोष्ट तशी नक्कीच नाही. बीसीसीआयने धोनीला या वर्षाच्या सुरुवातीलाच एक धक्का दिला होता. या धक्क्यातून धोनी सावरू शकला नव्हता. त्यामुळेच धोनीने अखेर १५ ऑगस्टला आपल्या आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटला रामराम ठोकला.

धोनी गेल्या वर्षी झालेल्या विश्वचषकात आपला अखेरचा आंतरराष्ट्रीय सामना खेळला होता. त्यानंतर धोनीला आतापर्यंत मैदानात खेळण्यासाठी उतरल्याचे पाहिले गेले नाही. बीसीसीआयने जानेवारी महिन्यातच धोनीला एक धक्का दिला होता. बीसीसीआयने १६ जानेवारीला या वर्षातील पुरुष क्रिकेटपटूंच्या करारांची घोषणा केली. या करारामध्ये धोनीचे नाव वगळण्यात आले होते. त्यावेळीच बीसीसीआयने धोनीला निवृत्ती घेण्याचा इशारा दिला होता, असे म्हटले जाते.

बीसीसीआयने करारामध्ये स्थान न दिल्यामुळे धोनी निराश झाला होता. या धक्क्यातून तो सावरू शकला नाही. त्यावेळी रांची येथील आपल्या जवळच्या मित्रांना धोनीने काही प्रश्न विचारले होते. धोनी आपल्या मित्रांना म्हणाला होता की, " मी क्रिकेट खेळण्यासाठी फिट नाही का, मला बीसीसीआयने आपल्या करारामध्ये स्थान का दिले नाही?" पण त्याचवेळी बीसीसीआयने असे नेमके का केले, याची जाणीव झाली होती. त्यानंतरच धोनी आपल्या निवृत्तीचा विचार करायला लागला होता. पण तरीदेखील आपल्याला भारताकडून ट्वेन्टी-२० क्रिकेट खेळण्याची संधी मिळेल, अशी आशा धोनीला होती. त्यामुळेच धोनी फिट राहण्यासाठी काही खास गोष्टी करत होता.

रोमेलू लुकाकु का आत्मघाती गोल करना इंटर मिलान(Inter Mila)को भारी पड़ा जिससे सेविला ने कोविड-19 महामारी के कारण सबसे लंबे समय तक चली यूरोपा फुटबॉल लीग (Europa Football League) के फाइनल में 3-2 से जीत दर्ज कर छठी बार खिताब अपने नाम किया। लुकाकु ने शुक्रवार को मैच के पांचवें मिनट में पेनल्टी को गोल में बदल कर इंटर मिलान का खाता खोला लेकिन इसके लुक डी जोंग ने 12वें और 33वें मिनट में गोल कर सेविला को 2-1 से आगे कर दिया।

सेविला की यह बढ़त हालांकि ज्यादा देर तक कायम नहीं रही और डिएगो गोडिन ने 35वें मिनट में स्कोर 2-2 से बराबर कर मैच में इंटर मिलान की वापसी कर दी। बेल्जियम के लुकाकु ने मैच के 74वें मिनट में डिएगो कार्लोस के किक को अपने गोल पोस्ट की तरफ मोड़ दिया और इस आत्मघाती गोल ने सेविला की बढ़त को 3-2 कर दिया जो मैच खत्म होने तक बरकरार रही। सेविला के लिए पिछले सात सत्र में यह चौथा खिताब है।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई)(BCCI)ने सीमित ओवरों की टीम के उप कप्तान रोहित शर्मा (Rohit sharma)को इस साल देश के सबसे बड़े खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न (Rajiv gandhi khel ratna)के लिये चुने जाने पर बधाई दी और कहा कि क्रिकेट संस्था को उनकी उपलब्धियों पर गर्व है। बीसीसीआई ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘भारत के सबसे बड़े खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार 2020 के लिये बधाई हो रोहित शर्मा। वह इस पुरस्कार को हासिल करने वाले चौथे भारतीय क्रिकेटर हैं। ” इसमें लिखा, ‘‘हमें तुम पर गर्व है ‘हिटमैन’ । ”

बीसीसीआई ने इशांत शर्मा और महिला राष्ट्रीय टीम की खिलाड़ी दीप्ति शर्मा को भी अर्जुन पुरस्कार के लिये चुने जाने पर बधाई दी। बीसीसीआई ने कहा, ‘‘हमारे सबसे सीनियर टेस्ट गेंदबाज इशांत शर्मा को प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार 2020 के लिये बधाई। चैम्पियन बढ़ते रहो। ‘‘ बोर्ड ने ट्वीट किया, ‘‘हमारी आल राउंडर दीप्ति शर्मा को प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार 2020 के लिये बधाई। आप नयी ऊंचाईयां हासिल करना जारी रखो। ” खेल मंत्रालय ने शुक्रवार को 29 अगस्त को दिये जाने वाले खेल पुरस्कारों के लिये पांच खिलाड़ियों को खेल रत्न पुरस्कार दिये जाने की घोषणा की जिसमें रोहित भी शामिल हैं जबकि इशांत और दीप्ति अर्जुन पुरस्कार हासिल करने वाले 27 खिलाड़ियों में शामिल हैं।

इंग्लैंड के बल्लेबाज जॉक क्राउली( Zuck Crowley) ने स्वीकार किया है कि वह पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे टेस्ट के पहले दिन 90 रन के बाद नर्वस थे, लेकिन जोस बटलर (Jose Butler)जैसे ‘शांत दिमाग’ के बल्लेबाज के साथ होने के कारण उन्हें स्थिति से निपटने में मदद मिली और वह इस प्रारूप में पहला शतक जड़ने में सफल रहे। अपना आठवां टेस्ट खेल रहे 22 वर्षीय क्राउली ने पांचवें ओवर में क्रीज पर कदम रखा और शानदार बल्लेबाजी का नजारा पेश करके अपने करियर का पहला शतक जमाया। वह अभी 171 रन बनाकर खेल रहे हैं। उन्होंने बटलर (नाबाद 87) के साथ पांचवें विकेट के लिये 205 रन की अटूट साझेदारी की है।

इस साझेदारी के दम पर इंग्लैंड ने पहले दिन चार विकेट पर 332 रन बना लिये। क्राउली ने कहा, ‘‘ जब मैं लगभग 91 रन पर था, तब मैं वास्तव में नर्वस था। जोस (बटलर) को हालांकि ऐसा नहीं लगा। शायद मैं अपनी घबराहट को अच्छी तरह से छिपा रहा था।” क्राउली और बटलर ने ऐसे समय में जिम्मेदारी संभाली जबकि इंग्लैंड का स्कोर चार विकेट पर 127 रन था। स्काई स्पोर्ट्स के मुताबिक क्राउली ने कहा, ‘‘ जोस के साथ बल्लेबाजी करना आसान था । वह बहुत शांत दिमाग के है और वह हमेशा आपको सतर्क रहने के लिए कहते है। मुझे लगता है कि इसीलिए हम अच्छी साझेदारी बनाने में सफल रहे।” उन्होंने कहा, ‘‘ क्रिकेट के मैदान पर यह मेरा सबसे अच्छा अहसास था, उम्मीद है कि ऐसा और होगा।”

आयपीएलचा १३वा हंगाम १९ सप्टेंबरपासून युएईमध्ये होणार आहे. मार्चमध्ये होणारी ही स्पर्धा कोरनामुळे पुढे ढकलल्यामुळे आता चाहत्यांना प्रचंड उत्सुकता लागली आहे. आयपीएलच्या निमित्ताने पुन्हा एकदा क्रिकेटमध्ये फलंदाजी, गोलंदाजी आणि क्षेत्ररक्षण यातील थरार पाहायला मिळणार आहे.

आयपीएलमध्ये काही विक्रम असे झाले आहेत की जे वाचल्यानंतर तुम्ही हैराण व्हाल. तर काही विक्रम असे आहेत जे कोणत्याच खेळाडूला आपल्या नावावर असू नयेत असे वाटले. आयपीएलमधील असाच एक नकोसा वाटणारा विक्रम म्हणजे सर्वाधिक नो बॉल टाकण्याचा होय. जाणून घेऊयात आयपीएलच्या इतिहासात सर्वाधिक नो बॉल कोणी टाकले आहेत.

लसिथ मलिंगा- स्पर्धेतील एक यशस्वी गोलंदाज मलिंगाने आतापर्यंत १८ नो बॉल टाकले आहेत. या यादीत पहिला पाचमध्ये सर्वात शेवटी मलिंगाचा क्रमांक लागतो. मलिंगाने सर्वात चांगली गोलंदाजी करून देखील त्याचे नाव या यादीत आहे. त्याने आयपीएलमध्ये १२२ सामने खेळले असून त्यात २ हजार ८२७ चेंडू टाकले आहेत.

अमित मिश्रा- आयपीएलमध्ये सर्वाधिक वेळा हॅटट्रिक घेणारा फिरकीपटू अमित मिश्राने २० नो बॉल टाकले आहेत. त्याने १४७ सामन्यात १५७ विकेट घेतल्या आहेत.

हैमस्ट्रिंग चोट से उबर रही स्टार हरफनमौला एलिसे पैरी (Ellyse Perry) को न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ सितंबर में होने वाली टी20 और वनडे श्रृंखला के लिये आस्ट्रेलिया (Australia) की 18 सदस्यीय टीम में जगह दी गई है लेकिन फिट होने पर ही वह खेल सकेगी। न्यूजीलैंड टीम तीन वनडे और तीन टी20 मैच खेलने आस्ट्रेलिया जायेगी।

राष्ट्रीय चयनकर्ता शॉन फ्लेगलेर ने क्रिकेट आस्ट्रेलिया द्वारा जारी बयान में कहा ,‘‘ कोरोना वायरस महामारी के कारण हमने बड़ी टीम चुनी है।खिलाड़ियों को पिछले एक दो साल में आस्ट्रेलिया और आस्ट्रेलिया ए के खिलाफ प्रदर्शन के आधार पर चुना गया है।” उन्होंने कहा ,‘‘ एलिसे चोट से उबर रही है और हम उसे पूरा मौका देना चाहते हैं।उसके स्वास्थ्य पर पूरी नजर रखी जायेगी।” मैच न्यू साउथवेल्स और क्वींसलैंड में खेले जायेंगे लेकिन कोरोना वायरस स्थिति को देखते हुए इसमें बदलाव हो सकता है।

सुनील नारायण के हरफनमौला प्रदर्शन से ट्रिनबागो नाइट राइडर्स (Trinbago Knight Riders) ने जमैका टाल्लावाहास (Jamaica Tallawahs) को सात विकेट से हराकर हीरो सीपीएल क्रिकेट (Caribbean Premier League) लीग में शीर्ष स्थान पर कब्जा कर लिया। एक अन्य वर्षाबाधित मैच में सेंट लूसिया जोउक्स ने बारबाडोस ट्राइडेंट्स को डकवर्थ लुईस प्रणाली के आधार पर सात विकेट से हराया।

दो दो मैचों के पहले दौर के बाद ट्रिनबागो के नाम दो जीत रही जबकि गयाना अमेजंस वारियर्स , जोउक्स, टाल्लावाहास और ट्राइडेंटस ने एक एक मैच जीता। सेंट किट्स और पेविस पैट्रियट्स दोनों मैच हार गए। ट्रिनबागो के लिये नारायण ने चार ओवर में 19 रन देकर एक विकेट लिया। जीत के लिये 136 रन के लक्ष्य के जवाब में उन्होंने 38 गेंद में दो छक्कों ओर सात चौकों की मदद से 53 रन भी बनाये जबकि कोलिन मुनरो ने नाबाद 49 रन का योगदान दिया ।

 भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर विजय शंकर (Vijay Shankar)ने सगाई कर ली है। 29 साल के विजय शंकर(Vijay Shankar)ने इंस्टग्राम पर अपनी सगाई की तस्वीरें शेयर की हैं। आईपीएल 2020 ( IPL) के लिए UAE रवाना होने से पहले विजय ने यह खुशख़बरी अपने फैंस के साथ शेयर की है। 

विजय शंकर की मंगेतर का नाम वैशाली विश्वेश्वरन है। विजय ने इंस्टाग्राम पर वैशाली के साथ दो तस्वीरें शेयर की है। उन्होंने इस पोस्ट के कैप्शन में रिंग की इमोजी बनाई है। सोशल मीडिया पर विजय शंकर के फैंस और उनके साथी खिलाड़ी उन्हें बधाइयाँ दे रहे हैं। उन्हें बधाई देने वालों में के एल राहुल, युजवेंद्र चहल, श्रेयस अय्यर, करुण नायर, आर अश्विन, सिद्धार्थ कौल शामिल हैं। 

तमिलनाडु के क्रिकेटर विजय शंकर ने कोलंबो में श्रीलंका के खिलाफ मार्च 2018 में टी 20 डेब्यू किया था। इसके बाद उन्होंने जनवरी 2019 में मेलबर्न में अपना वनडे डेब्यू किया। विजय शंकर वनडे  वर्ल्ड  कप 2019 में भारतीय टीम का हिस्सा थे। लेकिन, चोट लगने के कारण उन्हें बीच में से ही तेम से हटाना पड़ा।    

वहीं,आईपीएल फ्रेंचाइज़ी सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) ने भी उन्हें सगाई की बधाई दी है। विजय शंकर आईपीएल में सनराइडर्स हैदराबाद टीम के खिलाडी हैं। विजय अब तक आईपीएल में 33 मैचों में 11 बार नाबाद रहे हैं। वहीं, उन्होंने 30।94 की औसत से 557 रन बनाए हैं और 2 विकेट लिए हैं।

 (PM Modi Writes Letter To Suresh)भारताचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनी याने १५ ऑगस्ट रोजी सोशल मीडियावरून आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती जाहीर केल्यानंतर अवघ्या १५ मिनिटात सुरेश रैनाने देखील निवृत्ती जाहीर केली होती. धोनीच्या निवृत्तीच्या बातमी पाठोपाठ रैनाची निवृत्ती हा चर्चेचा विषय ठरला होता. नरेंद्र मोदी यांनी धोनीला शुभेच्छा देणारे पत्र पाठवले होते. तसेच पत्र मोदींनी रैनाला देखील पाठवले आहे. धोनीने वयाच्या ३९व्या वर्षी निवृत्ती घेतली. तर रैनाने ३३व्या वर्षी घेतलेल्या निवृत्तीने क्रिकेट जगत हैराण झाले होते.


रैनाने इतक्या लवकर घेतलेल्या निवृत्तीवर पंतप्रधान मोदींनी लक्ष वेधले. ते म्हणाले, तुम्ही इतके युवा आहेत आणि तरी निवृत्ती कशी काय घेतली. १५ ऑगस्ट रोजी तुम्ही आयुष्यातील सर्वात अवघड असा निर्णय घेतला. मी यासाठी निवृत्ती हा शब्द वापरणार नाही. निवृत्त होण्यासाठी तुम्ही अजून लहान आहात आणि तुमच्यात भरपूर ऊर्जा आहे. क्रिकेटच्या मैदानावरील एक शानदार प्रवासानंतर आता आयुष्यातील नव्या डावाला सुरूवात करत आहात.

कीमो पॉल (Keemo Paul) के चार विकेट और शिमरोन हटमायेर (Shimron Hetmyer) के 44 गेंद में 71 रन की मदद से गयाना अमेजन वारियर्स (Guyana Amazon Warriors) ने हीरो कैरेबियाई प्रीमियर लीग (Caribbean Premier League) में सेंट किट्स एंड नेविस पैट्रियट्स को तीन विकेट से हराकर पहली जीत दर्ज की। हेटमायेर (Hetmyer) ने अपनी पारी में तीन छक्के और आठ चौके लगाये। वारियर्स ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया।

पैट्रियट्स ने पांच विकेट 83 पर पर गंवा दिये लेकिन बेन डंक (29) और कप्तान रेयाद एमरिट (17) ने आखिरी में आक्रामक पारियां खेलकर टीम को आठ विकेट पर 127 रन तक पहुंचाया। वारियर्स के लिये हेटमायेर ने शानदार पारी खेली। एक अन्य मैच में जमैका टालावाह ने सेंट लूसिया जोक्स को पांच विकेट से मात दी।

मुख्य कोच जस्टिन लैंगर (Justin Langer)  का मानना है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के बीच आस्ट्रेलियाई क्रिकेट को कुछ कुर्बानियां देनी होंगी मसलन अंतरराष्ट्रीय मैचों में कुछ स्टार खिलाड़ियों का नहीं होना और घरेलू स्पर्धाओं में कुछ समझौते हो सकते हैं। आस्ट्रेलियाई पुरूष टीम चार से 16 सितंबर तक वनडे और टी20 श्रृंखलायें खेलने रविवार को इंग्लैंड रवाना होगी।

लैंगर का मानना है कि क्रिकेट आस्ट्रेलिया का फोकस अंतरराष्ट्रीय मैचों पर रहना चाहिये जो देश में क्रिकेट की सेहत के लिये जरूरी है। उन्होंने कहा ,‘‘ हम अपने परिवारों से नहीं मिल सकेंगे क्योंकि हमें क्रिकेट खेलना है।कुछ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी शायद परिवार के साथ रहने को तरजीह देकर क्रिकेट से दूर रहें। ऐसे समझौते करने पड़ेंगे।”

उन्होंने कहा ,‘‘ घरेलू क्रिकेट में भी कई बदलाव होंगे। कुछ सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी उससे भी बाहर रह सकते हैं। हमें बड़ी टीमें चुननी होंगी क्योंकि खिलाड़ी भीतर बाहर नहीं हो सकते। घरेलू क्रिकेट की लागत कम करनी होगी और मैचों की संख्या में भी कटौती करनी पड़ेगी।” 

मुख्य कोच क्रिस सिल्वरहुड (Chris Silverwood) का मानना है कि खराब मौसम से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिये इंग्लैंड (England ) में टेस्ट मैच जल्दी शुरू करने चाहिये। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ शुक्रवार को होने वाले टेस्ट में अगर समय में बदलाव होता है तो उनकी टीम को कोई ऐतराज नहीं होगा।

इंग्लैंड और पाकिस्तान दूसरे टेस्टमें पांच दिन के भीतर 134 . 3 ओवर ही खेल सके। बारिश और खराब रोशनी के कारण खेल कई बार बाधित हुआ। इंग्लैंड में इस समय सारे मैच सुबह 11 बजे शुरू होते हैं जबकि खेल समाप्ति के समय में इजाफा किया जा सकता है।

सिल्वरहुड ने कहा ,‘‘ साढे दस बजे शुरू करने में क्या हर्ज है। हमें नुकसान की भरपाई करनी होगी। यह मसला तो बार बार आयेगा।” उन्होंने कहा ,‘‘ मुझे मैच जल्दी शुरू करने से कोई ऐतराज नहीं। यही सही भी है। इस पर बात होनी चाहिये।” उन्होंने यह भी कहा कि हल्के रंग की लाल गेंद और दूधिया रोशनी भी इसका उपाय हो सकते हैं

फंतासी गेमिंग प्लेटफॉर्म ड्रीम11 ( Dream11 ) ने भले ही इस सत्र में इंडियन प्रीमियर लीग ( Indian Premier League) के टाइटिल अधिकार हासिल कर लिए हों लेकिन अगले दो सत्र में भी उसके पास इन अधिकारों का रहना इस पर निर्भर करेगा कि वह अपनी बोली को कितना बढ़ाता है क्योंकि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (Board of Control for Cricket in India) मौजूदा पेशकश से संतुष्ट नहीं है।

बीसीसीआई (BCCI) सूत्रों के अनुसार यही कारण है कि बोर्ड ने अब तक आधिकारिक रूप से ड्रीम11 के नाम की घोषणा आईपीएल टाइटिल अधिकार धारक के रूप में नहीं की है जबकि लीग के अध्यक्ष बृजेश पटेल ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की। ड्रीम11 ( Dream11 ) ने चीन की मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो की जगह ली जिसे सीमा पर भारत-चीन तनाव के कारण प्रायोजन से हटना पड़ा।

सूत्रों ने कहा है कि बीसीसीआई और ड्रीम इलेवन अब भी तीन साल के सशर्त करार पर बात कर रहे हैं जिसके तहत अगर वीवो प्रत्येक साल 440 करोड़ रुपये के करार पर वापसी नहीं करता है तो उसे 2021 और 2022 में प्रत्येक साल 240 करोड़ रुपये का भुगतान करना होगा। इस मामले की जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, ‘‘ यह हमेशा से स्पष्ट था कि सर्वश्रेष्ठ बोली लगाने वाले को टाइटिल अधिकार नहीं मिले (बोली लगाने वालों से इच्छा पत्र स्वीकार करने से पहले बीसीसीआई ने यह स्पष्ट कर दिया था)।”

उन्होंने कहा, ‘‘ड्रीम11 ने सबसे बड़ी बोली लगाई है और अब भी अधिकार हासिल करने का प्रबल दावेदार है लेकिन आधिकारिक घोषणा से पहले कुछ मुद्दों का हल निकाला जा रहा है।” पता चला है कि बीसीसीआई ड्रीम11 से बात कर रहा है और चाहता है कि वह दूसरे और तीसरे साल की अपनी बोली में इजाफा करे। अधिकारी ने कहा, ‘‘अगर यह सिर्फ 2020 के लिए है तो 222 करोड़ ठीक है। लेकिन यह तीन साल के लिए सशर्त बोली है। वीवो के साथ हमारा करार अब भी कायम है।”

उन्होंने पूछा, ‘‘हमने इसे खत्म नहीं किया है, यह बस रुका है। अगर हमें 440 करोड़ रुपये मिल रहे हैं तो हम 240 करोड़ रुपये क्यों लें।” ऐसी स्थिति में ड्रीम11 के पास दो विकल्प होंगे कि वह या तो एक साल के करार (असल में चार महीने और 14 दिन) को स्वीकार करे या 2021 और 2022 की सशर्त राशि में इजाफा करे जो पूरी तरह से उस पर निर्भर करेगा।

पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) का मानना है कि नतीजों से भावनात्मक रूप से अलग रहने ने महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की सफलता में बड़ी भूमिका निभाई। धोनी (MS Dhoni)ने भारतीय क्रिकेट में बड़ी विरासत छोड़ते हुए शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया। मैदान पर अपने धैर्य के लिए पहचाने जाने वाले धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की सभी ट्रॉफियां जीतने वाले एकमात्र कप्तान हैं। उन्होंने 15 अगस्त को इंस्टाग्राम पर बेहद संक्षिप्त शब्दों में संन्यास लेने की घोषणा की। लक्ष्मण ने शानदार सफलता के लिए भारतीय टीम के अपने पूर्व साथी को बधाई दी।

लक्ष्मण ने स्टार स्पोर्ट्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ पर कहा, ‘‘मुझे हमेशा से लगता है कि भारत की कप्तानी करना संभवत: किसी के लिए भी सबसे कड़ी चुनौती है क्योंकि दुनिया भर में सभी की आपसे इतनी अधिक उम्मीदें होती हैं। लेकिन महेंद्र सिंह धोनी कभी नतीजों से भावनात्मक रूप से नहीं जुड़ा रहा। ” उन्होंने कहा, ‘‘उसने खेल प्रशंसकों को ही नहीं बल्कि लाखों भारतीयों को प्रेरित किया और बताया कि किस तरह का आचरण करना चाहिए और कैसे अपने देश का दूत बनना चाहिए, सार्वजनिक जीवन में खुद को कैसे रखना चाहिए। और यही कारण है कि वह इतना सम्मानित है।”

लक्ष्मण ने कहा कि इस पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपने आचरण और खेल के प्रति योगदान से भविष्य की पीढ़ियों के लिए उदाहरण पेश किया। उन्होंने कहा, ‘‘क्रिकेट प्रशंसकों का प्यार आपकी क्रिकेट उपलब्धियों के लिए मिलता है लेकिन सम्मान इस चीज से मिलता है कि आपका आचरण कैसा रहा।”

लक्ष्मण ने कहा, ‘‘अगर आप सोशल मीडिया पोस्ट देखें तो सिर्फ पूर्व खिलाड़ियों या क्रिकेट प्रशंसकों ने ही टिप्पणी नहीं की बल्कि सभी भारतीयों ने की जिसमें फिल्मी सितारे, जाने माने उद्योगपति, राजनेता शामिल रहे।” उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया भर के पूर्व क्रिकेटरों, क्रिकेट जगत ने भारतीय क्रिकेट ही नहीं बल्कि विश्व क्रिकेट में योगदान के लिए महेंद्र सिंह धोनी को शुक्रिया कहा।” 

पूर्व क्रिकेटर गोपालस्वामी कस्तूरीरंजन (Gopalaswamy Kasturirangan ) का बुधवार को यहां उनके आवास पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (Karnataka State Cricket Association) के कोषाध्यक्ष और प्रवक्ता विनय मृत्युंजय ने पीटीआई को बताया, ‘‘जी कस्तूरीरंजन का आज सुबह निधन हो गया। चामराजापेट में अपने निवास पर दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हुआ।”

कस्तूरीरंजन 89 वर्ष के थे और वह पूर्व क्रिकेटर, प्रशासक और बीसीसीआई के क्यूरेटर रहे। क्रिकेट जगत से जुड़े सूत्रों ने बताया कि उन्होंने दायें हाथ के तेज गेंदबाज के रूप में अपने अधिकांश मैच रणजी ट्रॉफी में 1948 से 1963 के बीच मैसूर की ओर से खेले।

उनके निधन पर शोक जताते हुए पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले ने ट्वीट किया, ‘‘जी कस्तूरीरंजन के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ। क्रिकेट में योगदान के लिए उन्हें याद रखा जाएगा। उनके परिवार के प्रति दिल से संवेदनाएं।”

केएससीए ने शोक संदेश में कहा, ‘‘कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष, सचिव और प्रबंध समिति के सदस्य पूर्व रणजी खिलाड़ी, केएससीए के पूर्व उपाध्यक्ष और बीसीसीआई के पूर्व क्यूरेटर जी कस्तूरीरंजन के निधन पर शोक जताते हैं।”  

भारताचा माजी क्रिकेटपटू मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकचे गाड्यांचे प्रेम सर्वांना माहित आहे. सचिनकडे जगातील महाग समजल्या जाणाऱ्या BMW, फेरारी ते जीटी-आर पासून Nissan सारख्या गाड्या आहेत. जगातील या सर्वोत्तम गाड्या दारात असून सुद्धा सचिन आनंदी नाही.

फार कमी जणांना ही गोष्ट माहित आहे की, सचिन क्रिकेटपटू झाल्यानंतर घेतलेल्या पहिल्या गाडीसाठी आज देखील झुरतोय. स्पोर्ट्स लाइट या शोमध्ये बोलताना सचिनने ही गोष्ट सांगितली.

ज्या कोणी ती गाडी विकत घेतली असेल त्यांनी माझ्याशी संपर्क करावा. भावनिक कारणामुले मला ती परत हवी आहे, असे सचिनने सांगितले. क्रिकेटपटू झाल्यानंतर माझी पहिली गाडी होती मारुती ८०० होय. पण दुर्दैवाने ही पहिली गाडी माझ्या सोबत नाही. ती गाडी जर मला परत मिळालील तर खुप आनंद होईल. तर जे लोक ऐकत आहेत त्यांनी विनंती आहे की या संदर्भात तुम्ही कधीही माझ्याशी संपर्क करू शकता.

वांद्रे येथील घराच्या बाल्कनीतून लहान वयातच सचिनची गाड्यांची आवड सुरू झाली होती. आता त्याच्याकडे जगातील महाग गाड्या आहेत.
 

भारतीय क्रिकेट संघाचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनीने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती जाहीर करून आता चार दिवस होत आले. तरी धोनीच्या निवृत्ती संदर्भातील चर्चा अद्याप काही कमी झाल्या नाहीत. धोनी गेल्या वर्ष भरापासून क्रिकेटपासून दूर होता. तरी चाहत्यांना आशा होती की तो पुन्हा मैदानावर दिसेल. आयपीएल नंतर भारतीय संघातून टी-२० वर्ल्ड कपनंतरच धोनी निवृत्ती घेईल असे वाटत होते. पण त्याआधीच धोनीने निवृत्ती जाहीर केली. धोनीच्या निवृत्तीसंदर्भात बोलताना टीम इंडियातील एका खेळाडूने त्याचे करिअर कोणी संपवले याचा खुलासा केलाय.

एका टीव्ही कार्यक्रमा दरम्यान बोलताना युजवेंद्र चहल म्हणाला, धोनी अजून देखील आंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेळू शकतात. माझी तर इच्छा आहे की त्याने खेळावे. तो जेव्हा मैदानात असतो तेव्हा माझे ५० टक्के काम कमी होते. धोनीला आधीचपासूनच कळते की खेळपट्टी कशी असेल. त्याचा आम्हाला फायदा होतो. धोनी नसले तर आम्हाला खेळपट्टी समजण्यासाठी आणखी दोन ओव्हर लागतात.

धोनीने अचानक आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती घेतली. यावर चहल म्हणाला, धोनीचे करिअर करोना व्हायरसने संपवले. करोना नसता तर तो निश्चितपणे टी-२० वर्ल्ड कप खेळला असता. कुलदीप यादव आणि माझ्या करिअरमध्ये धोनीचे खुप मोठे योगदान आहे. एका मोठ्या भावा प्रमाणे धोनीने आम्हाला अनेक बारकावे सांगितले. काही चूका झाल्या तर तो समजावून सागायचा. धोनी विकेटच्या मागे असेल तर त्याचा सर्वात जास्त फायदा आम्हालाच होत असे.

भारताचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनीने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती घेतल्यापासून चाहते त्यासाठी निरोपाचा सामना घ्या अशी विनंती करत आहेत. धोनीने गेल्या वर्षी वर्ल्ड कप स्पर्धेत सेमीफायनल सामन्यात भारताची ब्लू जर्सी घातली होती. त्यानंतर चाहत्यांना वाटले की तो आयपीएलनंतर पुन्हा भारतीय संघात दिसेल. पण त्याआधीच धोनीने निवृत्तीचा धक्का दिला.

आता भारताच्या या सर्वात यशस्वी कर्णधारासाठी फेअरवेल मॅच खेळावी अशी मागणी चाहते करत आहेत. झारखंडच्या मुख्यमंत्र्यांनी देखील अशी विनंती बीसीसीआयला केली आहे. अशाच एक मोठी बातमी समोर आली आहे.

भारताचे पंतप्रधान नरेंद्र मोदी एम एस धोनीला विनंती करू शकतील की त्याने २०२१ चा टी-२० वर्ल्ड कप खेळावा, असा विश्वास पाकिस्तानचा माजी जलद गोलंदाज शोएब अख्तर याला वाटतो.

एका मुलाखतीत शोएब अख्तरला धोनी टी-२० वर्ल्ड कप खेळेल असे वाटते का असा प्रश्न विचारण्यात आला होता. त्यावर तो म्हणाला, हा धोनीची वैयक्तीक निर्णय आहे. पण मला वाटते की, धोनीने टी-२० क्रिकेट खेळावे. त्याने टी-२० वर्ल्ड कप खेळावा. ज्या पद्धतीने भारतात त्याला पाठिंबा मिळतो, प्रेम मिळते त्यावरून त्याने टी-२० वर्ल्ड कप खेळावा. पण हा त्याचा वैयक्तीक निर्णय असेल, असे अख्तर म्हणाला.

धोनीने १५ ऑगस्ट रोजी अचानक आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती जाहीर केली. एरवी भारतीय खेळाडूंच्या नावाने बोट मोडणाऱ्या पाक खेळाडूंनी धोनीच्या निवृत्तीनंतर मात्र कौतुकाचे पुल बांधले आहेत. इंझमाम-उल-हक, बासित अली, वसीम अक्रम, वकार युनिस, मुदस्सर नजर, शाहित आफ्रिदीसह अन्य खेळाडूंनी धोनीचे कौतुक केले आहे.

माझ्या नजरेत धोनी भारताच्या सर्वात महान फलंदाजांपैकी एक आहे. तो एक खरा सामना विजेता होता. ज्या विरुद्ध खेळताना मला खुप आनंद मिळाला, असे इंझमामने म्हटले. धोनी एक परफेक्ट फिनिशर होता असे राशिद लतीफने म्हटले.

 लॉटेरो मार्टिनेज (Lautaro Martinez) और रोमेलु लुकाकु (Romelu Lukaku) के दो-दो गोल की मदद से इंटर मिलान (Inter Milan) ने यूरोपा लीग फुटबॉल टूर्नामेंट (Europa League) के सेमीफाइनल में शख्तार डोनेस्क को 5-0 से हराकर एक दशक में पहली बार यूरोपीय टूर्नामेंट  के फाइनल में जगह बनाई। इटली की टीम इंटर मिलान ने अंतिम आधे घंटे में चार गोल दागकर युक्रेन की टीम शख्तार के डिफेंस को ध्वस्त किया।

फाइनल में इंटर का सामना शुक्रवार को कोलोन में पांच बार के चैंपियन सेविला से होगा। मार्टिनेज ने 19वें मिनट और डेनिलो डिएम्ब्रोसियो ने 64वें मिनट में हेडर से गोल दागकर इंटर को 2010 में चैंपियन्स लीग में खिताबी जीत के बाद पहली बड़ी महाद्वीपीय ट्रॉफी के फाइनल में जगह दिलाने की राह पर डाला। मार्टिनेज और लुकाकु ने अंतिम 10 मिनट में तीन और गोल दागकर इंटर की बड़ी जीत सुनिश्चित की।

बार्सीलोना (Barcelona) ने चैंपियन्स लीग के क्वार्टर फाइनल में बायर्न म्यूनिख के खिलाफ टीम की 8-2 की शर्मनाक हार के तीन दिन बाद कोच क्विक्यू सेटिन (Quique Setien) को बर्खास्त कर दिया जिसे क्लब के बड़े पैमाने पर होने वाले पुनर्गठन की दिशा में पहला कदम बताया जा रहा है। बार्सीलोना में अध्यक्ष जोसेप बारटोम्यू द्वारा बुलाई गई बोर्ड की आपात बैठक के बाद इस फैसले की घोषणा की गई।

क्लब ने मार्च 2021 में चुनावों की घोषणा की और साथ ही कहा कि सीनियर टीम में कई बदलाव किए जाएंगे। सेटिन के विकल्प की तुरंत घोषणा नहीं की गई है लेकिन स्पेन की मीडिया ने कहा है कि नीदरलैंड के कोच रोनाल्ड कोमैन इस पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं। बार्सीलोना का यह पूर्व डिफेंडर कथित तौर पर पहले ही बार्सीलोना पहुंच चुका है।

बार्सीलोना ने कहा कि आगामी दिनों में नए कोच की घोषणा की जाएगी जो सीनियर टीम के पुनर्गठन का हिस्सा है। मार्च में नए चुनाव का मतलब है कि 2020-2021 वित्त वर्ष में पूरी जिम्मेदारी मौजूदा बोर्ड के पास रहेगी।

कोरोना वायरस ( COVID-19) से जुड़ी स्थिति के कारण अमेरिकी टेनिस संघ (United States Tennis Association) ने 12 अक्टूबर तक सभी राष्ट्रीय जूनियर प्रतियोगिताएं रद्द कर दी हैं। यूएसटीए (USTA) ने साथ ही वयस्क वर्ग एक की सभी प्रतियोगिताएं साल के अंत तक रद्द कर दी हैं जिसमें वयस्क, ओपन, फैमिली और आयु वर्ग प्रतियोगिताएं शामिल हैं।

प्रतियोगिता से जुड़े सभी लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए प्रतियोगिताओं को रद्द करने का फैसला किया गया क्योंकि टूर्नामेंट के लिए अलग अलग राज्यों की यात्रा करने में संक्रमण का अधिक खतरा बना हुआ है। यूएसटीए ने कहा है कि प्रतियोगिता के स्थलों और खिलाड़ियों के घरेलू राज्यों में अलग अलग नियमों, पाबंदियों और पृथकवास के समय पर विचार किया जा रहा है।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच गैरी कर्स्टन  ने पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए सोमवार को कहा कि उन्होंने जिनके साथ भी काम किया उसमें धोनी ‘सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में से एक’ रहे हैं। कर्स्टन  के कोच रहते हुए धोनी की कप्तानी में ही भारतीय टीम ने 2011 में विश्व कप जीता था। 52 साल के कर्स्टन 2008 से 2011 तक भारतीय टीम के कोच थे।

विकेटकीपर बल्लेबाज धोनी क्रिकेट की दुनिया के इकलौते ऐसे कप्तान रहे है जिन्होंने आईसीसी के सभी खिताब जीते हैं। उन्होंने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। कर्स्टन ने भारतीय टीम के कार्यकाल के साथ शानदार यादें देने के लिए धोनी का शुक्रिया किया। दक्षिण अफ्रीका के इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘ मुझे सबसे अच्छे कप्तानों में से एक के साथ काम करने का शानदार अनुभव है।

भारतीय क्रिकेट टीम के साथ कई शानदार यादें देने के लिए धन्यवाद एमएस (धोनी)।” कर्स्टन के कोच रहते भारत 2011 में 28 साल बाद विश्व चैम्पियन बना था।। टीम ने इससे पहले 2010 में एशिया कप का खिताब भी जीता था। कर्स्टन ने उस समय धोनी के साथ मजबूत संबंध बनाया था और सोमवार को उन्होंने अपने पहले के एक बयान को फिर से दोहराया जिसमें दोनों के एक-दूसरे के करीब होने का पता चलाता है।

उन्होनें कहा, ‘‘ अगर मेरे साथ धोनी हो तो मुझे युद्ध में भी जाने में कोई परेशानी नहीं होगी।” धोनी ने शनिवार को इंस्टाग्राम पोस्ट में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की थी। वह हालांकि 19 सितंबर से शुरू हो रहे इंडियन प्रीमियर लीग में खेलेंगे। 

साउथम्पटन. पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) ने कहा है कि कोरोना वायरस (coronavirus) महामारी के बीच ब्रिटेन आने के लिए इंग्लैंड को अजहर अली (Azhar Ali) और उनकी टीम का आभारी होना चाहिए और उन्हें इसके बदले 2022 में पाकिस्तान का दौरा करना चाहिए। वैश्विक स्वास्थ्य संकट के बावजूद वेस्टइंडीज और पाकिस्तान (Pakistan) ने इंग्लैंड (England) का दौरा करने का फैसला किया जिससे इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) भारी वित्तीय नुकसान से बच गया। इंग्लैंड ने 2005-06 से पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है।

टीम 2009 में श्रीलंकाई टीम बस पर आतंकी हमले के बाद सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान नहीं आई है। जो रूट और उनकी टीम को हालांकि 2022 में तीन टेस्ट और पांच एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए पाकिस्तान का दौरा करना है। वसीम ने स्काई स्पोर्ट्स क्रिकेट से कहा, ‘‘टीम के यहां आने के कारण आप लोगों को पाकिस्तान क्रिकेट का आभारी होना चाहिए और देश का उससे भी अधिक। वे यहां ढाई महीने से अधिक समय तक जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण में रहेंगे।”

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए अगर सब कुछ सही रहा तो इंग्लैंड को पाकिस्तान का दौरा करना चाहिए। मैं वादा करता हूं कि मैदान के अंदर और बाहर उनका पूरा ख्याल रखा जाएगा और प्रत्येक मैच के स्टेडियम खचाखच भरा होगा।” इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में हिस्सा लिया है और अकरम को उम्मीद है कि इससे सुरक्षा चिंताओं को दूर करने में मदद मिलेगी। इस महीने की शुरुआत में इंग्लैंड के कोच क्रिस सिल्वरवुड ने भी कहा था कि उन्हें पाकिस्तान दौरे पर टीम ले जाने में कोई समस्या नहीं है।

भारत के पूर्व खिलाड़ी चंदू बोर्डे और महाराष्ट्र के पूर्व तेज गेंदबाज पांडुरंग सलगांवकर ( Pandurang Salgaonkar ) ने चेतन चौहान (Chetan Chauhan)को एक ‘ऊर्जावान और मददगार’ टीम के साथी के रूप में याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी। सलामी बल्लेबाज चौहान ने इन दोनों के साथ घरेलू क्रिकेट में महाराष्ट्र का प्रतिनिधित्व किया था। चौहान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक नहीं लगाने वाले सबसे प्रसिद्ध बल्लेबाजों में से एक हैं।

कोविड-19 बीमारी से जुड़ी जटिलताओं के कारण रविवार को 73 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। चौहान ने पुणे में पढ़ाई की थी और घरेलू क्रिकेट में बोर्डे की कप्तानी में उन्होंने महाराष्ट्र का प्रतिनिधित्व किया था। पूर्व चयनकर्ता और क्रिकेट मैनेजर बोर्डे ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ जब वह महाराष्ट्र के लिए खेल रहे थे तो क्रिकेट को लेकर उनका दृष्टिकोण सकारात्मक था।”

उन्होंने कहा, ‘‘ वह आत्मविश्वास से भरे थे और बहुत मेहनती थे। इतना ही नहीं वह एक शानदार खिलाड़ी थे। मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि वह भारतीय और महाराष्ट्र की टीम के लिए एक संपत्ति थे।” उन्होंने कहा, ‘‘ वह बहुत सकारात्मक थे जो टीम के लिए अच्छा था। वह हर किसी को प्रोत्साहित भी करते थे और उनकी बातों में विश्वास झलकता था।”

जाने माने क्यूरेटर सलगांवकर ने कहा कि चौहान ने क्रिकट के उनके शुरूआती दिनों में काफी मदद की थी। इस 70 साल के पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘‘ मैंने अपने शुरूआती वर्षों में महाराष्ट्र के लिए चौहान के साथ खेला है और वह मेरे लिए बहुत मददगार थे। चेतन की वजह से युवा खिलाड़ियों को काफी प्रोत्साहन मिलता था।”

उन्होंने कहा, ‘‘ वह एक सलामी बल्लेबाज थे और मैं गेंदबाजी की शुरूआत करता था। हम एक-दूसरे को अच्छे से समझते थे। वह मुझे (नेट्स में) खेलना पसंद करते थे। वह हर किसी के लिए बहुत मददगार थे।” चौहान उत्तर प्रदेश सरकार में सैनिक कल्याण, होम गार्ड और नागरिक सुरक्षा मंत्री थे।

भारतीय क्रिकेट संघाचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनी याने आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमधून निवृत्ती घेतली. त्यानंतर आता धोनीची जर्सी क्रमांक ७ ला देखील निवृत्त करण्याची मागणी केली जात आहे. भारताचा विकेटकिपर दिनेश कार्तिकने धोनीची जर्सी निवृत्त करण्याची मागणी सर्व प्रथम केली आहे.

दिनेश कार्तिकने गेल्या वर्षी वर्ल्क कपमधील सेमीफायनल सामन्यानंतर घेतलेला धोनी सोबतचा फोटो शेअर केला आहे. तो म्हणतो, हा फोटो वर्ल्ड कप सेमीफायनलनंतर काढला होता. या काळात फार छान आठवणी होत्या. मला आशा वाटते की बीसीसीआय क्रमांक सातची जर्सी निवृत्त करतील. आयुष्यातील दुसऱ्या डावासाठी गुड लक. मला आशा आहे की या नव्या डावात देखील तु आम्हाला हैराण करशील.

कार्तिकने धोनीच्या पदार्पणाच्या तीन महिने आधी २००४ साली भारतीय संघाकडून पदार्पण केले होते. पण धोनीच्या कामगिरीमुळे तामिळनाडूच्या या क्रिकेटपटूला २६ कसोटी, ९६ वनडे आणि ३२ टी-२० सामने खेळता आले.

बीसीसीआयमधील एका वरिष्ठ अधिकाऱ्याने धोनीची जर्सी निवृत्त करण्यावर सहमती दर्शवली आहे. बीसीसीआयमधील सदस्य आणि महिला संघाच्या माजी कर्णधार शांता रंगास्वामी यांनी धोनीला हा गौरव मिळाला पाहिजे असे मत व्यक्त केले. धोनीने अशा वेळी निवृत्ती घेतली आहे जेव्हा लोकांनी का निवृत्ती घेतील असा प्रश्न विचारला ना की का निवृत्ती घेत नाही अशा वेळी. एक खेळाडू आणि कर्णधार म्हणून धोनीने खुप मोठे योगदान दिले आहे. जर जर्सी निवृत्त झाली तर धोनी दिलेला एक मोठा सन्मान ठरेल, असे रंगास्वामी म्हणाल्या.
 

भारताचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनीच्या निवृत्तीवर टीम इंडियाचा विद्यमान कर्णधार विराट कोहली याने त्याच्या पुढील वाटचालीसाठी शुभेच्छा दिल्या आहेत. टीम इंडियाची धुरा विराटला धोनीकडून मिळाली होती. धोनीने विराटच्या नेतृत्वाखाली खेळत असला तरी मैदानावर धोनीच नेहमी संघाचे नेतृत्व करताना दिसायचा.

भारतीय संघ एखाद्या कठीण प्रसंगात असला तर विराट नेहमी धोनीचा सल्ला घ्यायचा. इतक नव्हे तर डीआरएसबाबतचा निर्णय घेण्याआधी विराट नेहमी धोनीचे मत विचारात घ्यायचा. धोनीच्या निवृत्तीवर त्याचे चाहते निराश आणि भावूक झाले. पण दुसऱ्या बाजूला भारतीय क्रिकेटपटू आणि चाहते त्याला भावी वाटचालीसाठी शुभेच्छा देत आहेत.

धोनीने शनिवारी निवृत्ती जाहीर केल्यानंतर विराटने सोशल मीडियावर फोटो शेअर करत त्याला शुभेच्छा दिल्या होत्या. पण आज विराटने बीसीसीआयच्या माध्यमातून एक व्हिडिओ शेअर केला आहे.

धोनीबद्दल बोलताना विराट भावूक झाल्याचे व्हिडिओत दिसते. धोनीने मला नेहमी सपोर्ट केला त्यासाठी मी आभारी आहे. करिअरच्या सुरुवातीला माझ्यावर विश्वास दाखवला. तुझ्यामुळेच मी कर्णधार म्हणून खुप काही शिकू शकलो. आम्ही सर्व जण तुला मीस करू आणि मी नेहमी सांगत आलो आहे आणि आता पुन्हा सांगतो की, तुच माझा कर्णधार होतास आणि काम राहशील.

आईपीएल 2020 (IPL 2020) का आगाज अगले महीने से होने वाला है. कोरोना वायरस की वजह से इस बार इंडियन प्रीमियर लीग यूएई में खेला जाएगा. फैंस हर बार की तरह इस सीजन के लिए भी बेहद एक्साइटेड हैं. कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार भी ये टूर्नामेंट काफी शानदार होगा, जिसमें कई ऐसे रिकॉर्ड बनेंगे जिन्हें तोड़ पाना काफी मुश्किल होगा. वैसे भी आईपीएल के पिछले 12 सीजन में कई अनोखे रिकॉर्ड्स बन चुके हैं, तो चलिए आज की इस स्टोरी में हम कई रिकॉर्ड्स के बारे में बात करते हैं.

सबसे ज्यादा कैच

आईपीएल में सबसे ज्यादा कैच लेने का रिकॉर्ड सुरेश रैना (Suresh Raina) के नाम दर्ज है. रैना ने अपने आईपीएल करियर में कुल 193 मैच खेले हैं, जिनमें वो 102 कैच लपक चुके हैं. आईपीएल के स्टार क्रिकेटर रैना एक बार फिर चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से खेलते हुए कई नए करिश्मे करने के लिए तैयार हैं.

सबसे ज्यादा बार डक आउट होने का रिकॉर्ड
ये रिकॉर्ड हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) के नाम पर दर्ज है. आपको बता दें कि भज्जी आईपीएल में अब तक 13 बार जीरो पर आउट हो चुके हैं. वैसे भज्जी के अलावा पार्थिव पटेल भी आईपीएल में 13 बार डक पर आउट हो चुके हैं. इन दोनों के बाद इस मामले में दूसरे नंबर पर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का नाम है जो IPL में 12 बार जीरो पर आउट हुए हैं.

एक ओवर में सबसे ज्यादा रन लुटाने का रिकॉर्ड
ये रिकॉर्ड प्रशांत परमेश्वरण (Prasanth Parameswaran) के नाम है. दरअसल आईपीएल 2011 के दौरान कोच्चि टस्कर्स के प्रशांत परमेश्वरण के एक ओवर में क्रिस गेल (Chris Gayle) ने 4 छक्के और 3 चौके जड़कर 37 रन अपने नाम किए थे. परमेश्वरण के द्वारा बनाए गए इस रिकॉर्ड को शायद ही कोई तोड़ पाएगा.

मुंबई: मुंबईच्या क्रिकेट विश्वात ज्युनिअर डेल स्टेन अशी ओळख असलेल्या करण तिवारी या युवा क्रिकेटपटूने आत्महत्या करून आयुष्य संपवले. करोना काळात एका बाजूला देशातील क्रिकेट बंद असताना आयपीएलच्या १३व्या हंगामामुळे उत्साहाचे वातावरण तयार झाले होते. पण त्यातच करणच्या आत्महत्येची धक्कादायक बातमी समोर आली.

गेल्या वर्षी झालेल्या आयपीएल स्पर्धेत करण वानखेडे मैदानावर गोलंदाजी सराव सत्रात गोलंदाजी करताना दिसला होता. स्थानिक क्रिकेटमध्ये करनला ज्युनिअर डेल स्टेन असे म्हटले जात होते. करनची गोलंदाजी करण्याची अॅक्शन आणि उंची दक्षिण आफ्रिकेचा गोलंदाज डेल स्टेन सारखी होती. करणकडे नोकरी नव्हती तो मुंबईतील काही क्रिकेट क्लबकडून खेळत होता. त्याने काही दिवसांपूर्वी कोचिंगच्या लेव्हल १ चा कोर्स पूर्ण केला होता.

करणला IPL मध्ये का संधी मिळाली नाही
आत्महत्या करण्यापूर्वी करणने त्याचा राजस्थानमधील उदयपूर येथील मित्राला फोन करून संधी मिळत नसल्याने निराश असून आयुष्य संपवणार असल्याचे म्हटले होते. त्याला यावर्षी आयपीएलमध्ये संधी मिळेल अशी अपेक्षा होती.

करणचा फोन झाल्यानंतर संबंधित मित्राने करनच्या बहिणीला फोन करून याची माहिती दिली. करणची बहिण देखील राजस्थानमध्ये राहते. मित्राच्या फोननंतर करणच्या बहिणीने मुंबईत आईला फोन करून सांगितले. पण तोपर्यंत फार उशिर झाला होता. रुग्णालयात नेल्यावर डॉक्टरांनी त्याला मृत जाहीर केले.

नवी दिल्ली: देशात करोना रुग्णांची वाढती संख्या लक्षात घेता या वर्षी आयपीएलचा १३वा हंगाम युएईमध्ये खेळवण्याचा निर्णय बीसीसीआयने घेतला आहे. यासाठी केंद्र सरकारची परवानगी देखील मिळाली असून येत्या १९ सप्टेंबरपासून आयपीएलचा थरार सुरू होणार आहे.

आयपीएलमुळे फक्त भारतातच नाही तर जागतिक क्रिकेटमध्ये नवा उत्साह येणार आहे. यासाठी बीसीसीआय दिवस रात्र काम करत आहे. विशेषत: करोना काळात आयपीएलमधील सर्व खेळाडू, सपोर्ट स्टाफ, अधिकारी आणि अन्य लोकांना जैव वातावरणात सुरक्षित ठेवण्याचे मोठे आवाहन बीसीसीआय समोर आहे.

इतक्या मोठ्या प्रमाणात खेळाडूंना एकत्र ठेवताना जर एखाद्या व्यक्तीला करोना झाला तर त्याचा परिणाम संपूर्ण स्पर्धेव होऊ शकतो. अशातच अद्याप खेळाडूंची जमाजमव आणि सराव सुरू होण्याआधी आयपीएलमध्ये कोरनाने प्रवेश केला आहे.

आयपीएलच्या पहिल्या हंगामाचे विजेतेपद मिळवणाऱ्या राजस्थान रॉयल्स संघाचे फिल्डिंग कोच दिशांत याग्निक यांना करोनाची लागण झाली आहे. १९ सप्टेंबर पासून सुरू होणाऱ्या आयपीएल साठी सर्व संघ तयारी करत असताना राजस्थान रॉयल्स संघाला मोठा झटका बसला आहे. संघाच्या अधिकृत ट्विटरवरून याची माहिती देण्यात आली आहे.

मुंबई. इंडियन टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। वह अक्सर अपनी बेटी और एम एस धोनी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करती रहती हैं। हाल ही में साक्षी ने सोशल मीडिया पर जीवा की एक तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर को देखकर सभी लोग काफी हैरान हो गए है। 

दरअसल, साक्षी ने अपने इंस्टाग्राम पर जीवा की एक तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर में जीवा की गोद में एक बच्चा नजर आ रहा है। इस तस्वीर को देखकर सभी लोगों के मन में सवाल उठने लगा है कि आखिर यह बच्चा किसका है।

सोशल मीडिया पर साक्षी का यह पोस्ट काफी वायरल हो रहा है। कई लोगों ने पूछा कि यह बच्चा किसका है, तो वहीं कुछ लोगों ने बधाई तक दे डाली। हालांकि साक्षी ने अभी बताया नहीं कि यह बच्चा कौन है। 

सिडनी. आस्ट्रेलिया की नेशनल बास्केटबॉल लीग (एनबीएल) कोरोना वायरस महामारी के कारण निलंबित अपने सत्र को इस साल शुरू करने के लिए न्यूजीलैंड में जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण तैयार करने की योजना बना रही है। यह विचार पिछले हफ्ते न्यूजीलैंड ब्रीकर्स ने रखा था और एनबीएल का टूर्नामेंट शुरू करने के लिए बना कार्यबल जिन विकल्पों पर विचार कर रहा है उनमें यह भी शामिल है।

एनबीएल दिसंबर में लीग शुरू करने की योजना बना रहा है। लीग के मालिक लैरी केस्टलमैन के हवाले से मंगलवार को आस्ट्रेलियन एसोसिएटेड प्रेस ने कहा, ‘‘हम सभी स्थलों पर विचार कर रहे हैं…. जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण तैयार किया जाएगा और हमें विचार करना होगा कि स्थिति और बदतर हो जाए या यही स्थिति बरकार रहे।”

एबीएल का कार्यबल अमेरिका में नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन के फ्लोरिडा में बनाए जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण का भी अध्ययन कर रहा है जहां प्रशंसकों को स्टेडियम में आने की इजाजत नहीं है और मुकाबले ओरलैंडो के समीप वाल्ट डिज्नी वर्ल्ड रिजॉर्ट में खेले जा रहे हैं। न्यूजीलैंड में 100 से अधिक दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण का कोई नया मामला सामने नहीं आया है और घरेलू पांबिदयां हटा दी गई हैं जिससे रग्बी जैसे खेलों में बड़ी संख्या में दर्शक पहुंच रहे हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग  के ऐलान के साथ ही क्रिकेटर्स ने जमकर तैयारियां करनी शुरू कर दी है. चेन्नई सुपरकिंग्स के स्टार क्रिकेटर सुरेश रैना भी रोजाना जमकर नेट प्रैक्टिस और फिजिकल वर्कआउट के घंटों लंबे  सेशन कर रहे हैं. लेकिन इस बिजी शेड्यूल के बीच में आईपीएल के इस दूसरे सबसे कामयाब बल्लेबाज ने एक ऐसा काम किया है, जिसने उनकी वीबी प्रियंका चौधरी चौधरी का दिल खुश कर दिया है.  

 अपने हाथ पर गुदवाया बेटी के नाम का टैटू

दरअसल बेहद बिजी शेड्यूल और कोरोना वायरस का कहर फैला होने के बावजूद सुरेश रैना टैटूमेकर के पास पहुंच गए. वहां उन्होंने घंटों की मेहनत के बाद अपने दाएं हाथ पर अपनी छोटी बेटी रियो  का नाम गुदवाया. इसका वीडियो और फोटो उन्होंने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर फैंस के साथ शेयर किया है.

2 नाम पहले से मौजूद हैं हाथ पर
अपनी छोटी बेटी के नाम के अलावा सुरेश रैना के हाथ पर दो नाम पहले से ही लिखे हुए हैं. इनमें एक नाम है उनकी पत्नी प्रियंका का और दूसरा नाम है बड़ी बेटी ग्रेसिया का. ये दोनों नाम उन्होंने अपने बाएं हाथ पर लिखवाए हुए हैं. खास बात ये है कि टैटूमेकर ने बहुत खूबसूरत तरीके से डिजाइनर शब्दों में हिंदी में प्रियंका नाम सुरेश के हाथ पर ऐसे लिखा हुआ है कि वो बहुत शानदार दिखाई दे रहा है. 

 टीम इंडिया में बढ़ रहा है टैटू का क्रेज

टीम इंडिया के क्रिकेटरों में भी यूरोपीय फुटबॉलरों की तर्ज पर टैटू गुदवाने का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है. खुद सुरेश रैना ने पहले से ही अपने शरीर पर टैटू बनवाए हुए थे तो भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली, बाएं हाथ के दिग्गज ओपनिंग बल्लेबाज शिखर धवन, विस्फोटक ओपनिंग बल्लेबाज केएल राहुलके शरीर तो पूरी तरह टैटू से भरे पड़े हैं.

पैरालंपिक खेलों में पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी दीपा मलिक का मानना है कि अगले साल होने वाले टोक्यो पैरालंपिक खेलों में देश के पदकों की संख्या दो अंकों में होगी। गोला फेंक की खिलाड़ी रही दीपा ने 'इन द स्पोर्टलाइट' चैट शो के दौरान टेबल टेनिस खिलाड़ी मुदित दानी से कहा कि रियो में अपने पदकों की संख्या को दोगुना किया था, हमारी टीम में 19 खिलाड़ी थे। हमने दो स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीता था। 2018 (एशियाई पैरा खेलों में) में हमारी टीम में 194 सदस्य थे और हमने 72 पदक जीते थे। इसने पहले ही मापदंड स्थापित किया है।

रियो डि जिनेरियो में 2016 में रजत पदक जीतने वाली 49 साल की दीपा ने कहा कि अगले साल टोक्यो खेलों के बारे में सबसे शानदार चीज यह होगी कि भारत पैरालंपिक में दोहरे अंक में पदक जीतेगा। आईपीसी विश्व चैंपियनशिप में भी रजत पदक जीतने वाली दीपा ने कभी अपनी दिव्यांगता को अपने जुनून के रास्ते में नहीं आने दिया। दीपा को 1999 में जब कहा गया कि उनकी रीढ़ की हड्डी से ट्यूमर को निकालने के लिए सर्जरी करनी होगी तो उन्होंने कारगिल युद्ध के घायल सैनिकों से प्रेरणा ली।

उन्होंने कहा कि जिस अस्पताल में मुझे सर्जरी के लिए ले जाया गया वहां युद्ध में अंग गंवाने वाले कई सैनिक थे। मुझे लगता है कि वे तुरंत की मेरे लिए प्रेरणास्रोत बने। अगर ये स्वस्थ युवा लोग अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए अपने अंग गंवा रहे थे तो बीमारी के कारण मलाल करने का मेरे पास कोई कारण नहीं था। दीपा ने रियो में गोले को 4.61 मीटर की दूरी तक फेंककर रजत पदक जीता था। दीपा को हाल में भारतीय पैरालंपिक समिति का अध्यक्ष चुना गया।

चैंपियन्स लीग के क्वार्टर फाइनल में हिस्सा लेने के लिए पुर्तगाल के दौरे पर जाने वाली एटलेटिको मैड्रिड की टीम के दो सदस्य कोविड-19 (कोरोना वायरस संक्रमण) पॉजिटिव पाए गए हैं, हालांकि टीम को यात्रा करने की अनुमति मिल गई है। यूरोप के टॉप क्लब टूर्नामेंट के अंतिम चरण में हिस्सा ले रहे क्लबों के बीच करोना वायरस महामारी से जुड़ा यह पहला मामला है।

क्लब ने बताया कि एंजेला कोरिया और सिमे वर्सालको कोरोना जांच में पॉजिटिव पाए गए हैं। इसने कहा कि पूरी टीम की फिर से जांच कराई गई और बाकी सभी खिलाड़ियों के रिजल्ट नेगेटिव आए हैं। अंतिम आठ का मुकाबला बुधवार से लिस्बन में कड़े स्वास्थ्य नियमों के बीच खेला जाना है।

दोनों सेमीफाइनल और 23 अगस्त को होने वाला फाइनल भी लिस्बन में होगा। क्वार्टर फाइनल में हिस्सा लेने वाले अन्य क्लबों ने हाल में अपने किसी खिलाड़ी के कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने की पुष्टि नहीं की है। 

भारतामध्ये आता खऱ्या अर्थाने 'मिशन आयपीएल'ला सुरुवात झाल्याचे पाहायला मिळत आहे. कारण आतापर्यंत जवळपास पाच महिने घरामध्येच बसलेले खेळाडू आता 'मिशन आयपीएल'साठी आपले घर 'या' दिवशी सोडणार असल्याचे पाहायला मिळत आहे.

आयपीएलसाठी सर्वात मोठे आव्हान हे खेळाडूचे असणार आहे. कारण खेळाडू घराबाहेर पडल्यावर त्याना क्वारंटाइनमध्ये राहावे लागणार आहे. त्यानंतर खेळाडूंची करोना चाचणी होणार आहे. या चाचणीत निगेटीव्ह आल्यावरच त्यांना युएईमध्ये आयपीएल खेळण्यासाठी जाता येणार आहे. त्यामुळे खेळाडू आपल्या घरातून कधी बाहेर पडणार, याची उत्सुकता सर्वांनाच लागलेली आहे.

पाच महिन्यांपासून घरात असलेले खेळाडू ८ आणि ९ ऑगस्टला घराबाहेर पडतील, असे समजते आहे. खेळाडू जेवढे लवकर घराबाहेर पडतील तेवढीच पुढील प्रक्रीया सुलभ होणार आहे. त्यामुळे खेळाडूंना लवकर घराबाहेर येण्यासाठी बीसीसीआय विनंती करणार आहे. शनिवारी किंवा रविवारी खेळाडू घराबाहेर पडल्यावर ते संघातील खेळाडूंना कुठे आणि कधी भेटणार, याचा कार्यक्रमही ठरवण्यात आला आहे. त्यानुसार आता खऱ्या अर्थाने 'मिशन आयपीएल'ला सुरुवात होणार असल्याचे म्हटले जात आहे.

करोना व्हायरसमुळे पुढे ढकलण्यात आलेला आयपीएलचा १३ वा हंगाम १९ सप्टेंबरपासून युएईमध्ये सुरू होणार आहे. करोना संकटानंतर क्रिकेट विश्वात होणारी ही सर्वात मोठी स्पर्धा आहे. त्यामुळे संपूर्ण जगाचे लक्ष या स्पर्धेवर आहे. या स्पर्धेत भारतासह परदेशातील खेळाडू खेळणार आहेत. इतक्या मोठ्या प्रमाणात होणाऱ्या स्पर्धेबाबत सर्वांना उत्सुकत आहे.

आयपीएलच्या १३व्या हंगामातील सर्वात मोठे आकर्षण असणार आहे ते भारताचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनी याची कामगिरी होय. धोनी एका वर्षानंतर पुन्हा एकदा मैदानात दिसणार आहे. त्याला मैदानावर पाहण्यासाठी चाहते उत्सुक आहेत. तर त्याच्या कामगिरीवर भारतीय निवड समितीसह संपूर्ण जगाचे लक्ष असणार आहे. धोनीने जर चांगली कामगिरी केली तर भारतीय संघात त्याला पुन्हा खेळण्याची संधी मिळू शकते.

आयपीएलमध्ये धोनीची कामगिरी वेगळ्या उंचीवर पोहोचते. चेन्नई सुपर किंग्ज संघाला धोनीने ३ वेळा विजेतेपद मिळून दिले आहे. धोनीचे आणि चेन्नईचे कनेक्शन सर्वांना माहित आहे. क्रिकेटमधील IPL या महाकुंभ मेळ्याला भारत सरकारने हिरवा कंदील दिला आहे. आता बातमीचा परिणाम शेअर बाजारात दिसू लागलाय.

आयपीएलमधील सर्वात फेव्हरेट संघ असलेल्या चेन्नई सुपर किंग्जचे शेअरच्या किमतीत मोठी तेजी आली आहे. धोनीच्या नेतृत्वाखाली खेळणाऱ्या सीएसकेचे शेअर गेल्या ५ दिवसात ५० टक्क्यांहून अधिकने वाढले आहेत. सीएसकेच्या शेअरची किमत ३५-३७ रुपयांवरून ५२ ते ५५ टक्क्यांपर्यंत पोहोचली आहे. ७ जुलै रोजी धोनीच्या वाढदिवसा असलेल्या किमती आज दुप्पट झाल्या आहेत.

आयपीएलमधील चेन्नई सुपर किंग्स संघाचा कर्णधार महेंद्रसिंग धोनीच्या करोना चाचणीबाबतचा एक खुलासा संघाच्या एका अधिकाऱ्याने केलेला पाहायला मिळत आहे. सध्याच्या घडीला भारताच्या सर्व खेळाडूंना करोना चाचणी आवश्यक आहे. या चाचणीत खेळाडू करोना पॉझिटीव्ह सापडला तर त्याला युएईमध्ये आयपीएल खेळण्यासाठी जाता येणार नाही.

यावर्षी आयपीएल संयुक्त अरब अमिरातीमध्ये खेळवली जाणार आहे. आयपीएल जर यशस्वी करायची असेल तर युएईमधील करोनाबाबतच्या सर्व नियमांचे पालन बीसीसीआय आणि आयपीएल खेळाडूंना करावे लागणार आहे. आज चेन्नई सुपर किंग्सच्या अधिकाऱ्यांनी धोनीच्या करोना चाचणीबाबत एक खुलासा केला आहे.

नवी दिल्ली: भारतीय क्रिकेट संघाचा माजी कर्णधार महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) लवकरच मैदानावर दिसणार आहे. धोनी युएईमध्ये होणाऱ्या आयपीएल (IPL) च्या १३व्या हंगामात खेळताना दिसेल. धोनी गेल्या एक वर्षापासून क्रिकेट खेळला नाही. त्यामुळे त्याच्या कमबॅकची सर्वांना प्रतिक्षा आहे.

भारतीय क्रिकेट नियामक मंडळा (BCCI) चे माजी अध्यक्ष एन श्रीनिवासन (N. Srinivasan) यांनी धोनीबद्दलचा एक किस्सा सांगितला. धोनीने एकदा एका चांगल्या खेळाडूला चेन्नई सुपर किंग्ज (Chennai Super Kings) संघात घेण्यास नकार दिला होता. याबद्दल धोनी म्हणाला होता की, संबंधित खेळाडू संघातील वातावरण खराब करेल.

श्रीनिवासन इंडिया सिमेंट (India Cements)चे मालक आहेत आणि हीच कंपनी आयपीएलमधील चेन्नई सुपर किंग्जची मालक आहे. धोनीबद्दलचा हा प्रसंग सांगताना त्यांनी संबंधित खेळाडूचे नाव नाही सांगितले.

एका वेबीनारमध्ये श्रीनिवासन म्हणाले, आम्ही धोनीला एका खेळाडूचे नाव सुचवले. त्यावर तो म्हणाला, नाही सर हा संघ खराब करेल. संघाची एकी फार महत्त्वाची आहे. तुम्ही अमेरिकेकडे पाहा तेथे फ्रेंचाइजी आधारावर खेळ मोठ्या काळापासून सुरू आहे. भारतात आता कुठे आपण सुरूवात केली आहे. आता आपल्यासाठी ही गोष्टी नवी आहे. पण इंडिया सीमेंटमध्ये जुनिअर स्तरावर संघ चालवण्याचा मोठा अनुभव आहे.

2020 की आईएल का आयोजन करना बीसीसीआई के लिए एक बहुत बड़ा चैलेंज होने जा रहा है. हज़ार चुनातियों को पार कर इस बार के आईपीएल का आयोजन करना पड़ेगा भारतीय क्रिकेट बोर्ड को. अब कौन सी चुनातियों का सामना करना पड़ेगा बीसीसीआई को. चलिए आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की बैठक से पहले एबीपी न्यूज़ पर आपको एक नज़र दिखाते है अरब अमीरात में होने जा रहे इवेंट से पहले बीसीसीआई के सामने पेश किए गए चुनौतियों की लिस्ट

रविवार को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग से पहले कई सवाल सामने आ रहे है , जिन सवालों का जवाब बैठक के बाद ही मिलेगा. क्या 8 नवंबर की जगह 10 नवंबर को खेला जाएगा आईपीएल का फाइनल. ऐसी संभावना भी है. अगर ऐसा होता है तो पहलीबार फाइनल वीक एन्ड की जगह पर खेला जाएगा वीक डे में.

ऐसा क्यों करना पड़ सकता है ? क्यों कि होस्ट ब्रॉडकास्टर की तरफ से मांग ये है कि दीवाली के हफ्ते में जितना दिन हो सके टूर्नामेंट को खींचा जाए ताकि ज़्यादा लोग आखरी हफ्ते के मुक़ाबलों का मज़ा उठा सके.

अगर दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ियों को उस देश सरकार की तरफ से खेलने की अनुमति नही दिया जाता है तो रिप्लेसमेंन्ट के तौर पर फ्रैंचाइज़ी टीमें क्या कर सकता है इसपर चर्चा होगी. दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी कैरिबियाई प्रीमियर लीग में भी नही खेल रहे है क्यों कि उनको इजाज़त नही मिली है. अब आरसीबी की टीम में 21 खिलाडियों में से 3 ऐसे विदेशी खिलाड़ी है जो कि दक्षिण अफ्रीका से है और टीम के न्यूक्लियस माने जाते है. अब ए बी डिविलियर्स जैसे खिलाड़ी नही खेल पाएंगे तो उनकी जगह पर अच्छे रिप्लेसमेंन्ट तो विराट कोहली की टीम को ज़रूर मिलना चाहिए. लेकिन कैसे ? ये जानकारी मिल सकता है गवर्निंग कॉउन्सिल की बैठक के बाद.

आयरलैंड के खिलाफ खेले गए पहले वनडे मैच में पांच विकेट लेकर तेज गेंदबाज डेविड विले ने इंग्लैंड की जीत में अहम भूमिका निभाई. डेविड विले को पिछले साल अंतिम समय पर विश्व कप टीम से बाहर जाने के बाद वह दोबारा मौका का भरोसा नहीं था. विले को विश्व कप से ठीक पहले टीम से हटा दिया गया था. विले की स्थान पर जोफ्रा आर्चर को टीम में चुना गया था.

विले ने हालांकि गुरुवार रात को खेले गए मैच में अपने करियर में पहली बार पांच विकेट लिए. इस प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया. मैच के बाद विले ने कहा, 

" मैं चार साल से टीम का हिस्सा था, इसलिए आखिरी समय पर विश्व कप टीम से बाहर हो जाना मेरे लिए मुश्किल था. मेरे लिए यह मैदान पर जाकर हर एक पल का आनंद लेने की बात है. हर मौका आखिरी मौका हो सकता है. जब मैं लुत्फ उठाता हूं तो मैं अपनी सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेलना चाहता हूं. उम्मीद है कि परिणाम आते रहें. "

आयपीएलच्या चाहत्यांसाठी आता एक आनंदाची बातमी समोर आली आहे. कारण काही दिवसांपूर्वी आयपीएल युएईमध्ये होणार हे आयपीएलच्या प्रशासकीय समितीच्या अध्यक्षांनी सांगितले होते. आता आयपीएलची तारीख आणि वेळही जाहीर करण्यात आल्याचे समजते आहे.

यापूर्वी आयपीएल २६ सप्टेंबर ते ८ नोव्हेंबर या कालावधीमध्ये होणार असे समजले होते. त्याचबरोबर आयपीएलचे सामने रात्री आठ वाजता सुरु होणार, असेही सांगण्यात आले होते. पण यामध्ये आता बदल करण्यात आल्याचे समजते. त्याचबरोबर आयपीएल दिवाळीच्या हंगामात खेळवावी, असे आयपीएलचे प्रसारण करणाऱ्या कंपनीला वाटत होते. पण बीसीसीआय मात्र तसे करणार नसल्याचे आत दिसत आहे.

यावर्षी आयपीएल युएईमध्ये होणार आहे. त्याचबरोबर आयपीएल हे २६ सप्टेंबरला आता सुरु होणार नाही, तर १९ सप्टेंबरपासून आयपीएलची सुरुवात होणार असल्याचे समजते आहे. त्याचबरोबर आयपीएलचे सामने रात्री आठ वाजता सुरु होणार, असेही सांगण्यात आले होते. पण युएई आणि भारताची वेळ पाहून आता आयपीएलचे सामना रात्री ७.३० वाजता सुरु करण्यात येणार आहे.

 

आयसीसीने काल ऑस्ट्रेलियातील ट्वेन्टी-२० विश्वचषक रद्द करण्याचा निर्णय घेतला. त्यामुळे आयपीएलच्या मार्गातील मोठा अडसर दूर झाल्याचे म्हटले जात आहे. त्यामुळे आता बीसीसीसीआय आयपीएलची घोषणा कधी करणार, याची उत्सुकता चाहत्यांना आहे. पण आता आयपीएलचे भवितव्य बीसीसीआय ठरवू शकत नाही, असेही म्हटले जात आहे.

आयपीएलसाठी बीसीसीआयने पहिल्यांदा आशिया चषक स्पर्धा रद्द केली. त्यानंतर सर्वांच्या नजरा या आयसीसीवर होत्या. कारण ट्वेन्टी-२० विश्वचषक स्पर्धा रद्द झाल्यास बीसीसीआय आयपीएल खेळवू शकत नव्हती. पण आता विश्वचषकही पुढे ढकलण्यात आला आहे. त्यामुळे आता बीसीसीआय काय करणार, याकडे सर्वांचे लक्ष लागलेले आहे. पण बीसीसीआयलाही काही मर्यादा आहेत आणि त्यामध्येच राहून त्यांना आपले काम करावे लागणार आहे.

आयपीएलसाठी लागणाऱ्या दोन महिन्यांचा मोठा प्रश्न आता सुटलेला आहे. पण अजूनही बरेच प्रश्न बीसीसीआयला सोडवायचे आहेत. त्यासाठी आता ७-१० दिवसांमध्ये बीसीसीआय एक महत्वाची बैठक बोलावणार आहे. यामध्ये आयपीएलच्या प्रशासकीय समितीचे सदस्य असतील. या बैठकीमध्ये आयपीएल कशी खेळवता येईल, याबाबत सखोल चर्चा करण्यात येणार आहे.

नवी दिल्ली: क्रिकेटमध्ये सुरूवातीचा काळ हा इंग्लंड आणि ऑस्ट्रेलिया यांच्या लढतीचा होता. या दोन्ही संघांनी क्रिकेटवर बरीच वर्ष वचस्व ठेवले होते. त्यानंतर वेस्ट इंडिज, मग भारत आदी संघांनी इंग्लंड आणि ऑस्ट्रेलियाला कट्टर देण्यास सुरूवात केली. भारतीय क्रिकेट संघ वनडेतील सर्वोत्तम संघ मानला जातो. सध्या विराट कोहलीच्या नेतृत्वाखाली भारतीय संघ शानदार कामगिरी करत आहे. त्याआधी महेंद्र सिंह धोनीच्या नेतृत्वाखाली टीम इंडियामध्ये मोठे बदल झाले. धोनीच्या आधी असा बदल सौरव गांगुलीच्या नेतृत्वाखाली झाला.

आयसीसीचे स्पर्धांचे विजेतेपद मिळवणाऱ्या टीम इंडियाने एका पेक्षा एक फलंदाज दिले आहेत. भारतीय संघात आक्रमक फलंदाजांची कमी नाही. वनडे क्रिकेटमध्ये सर्वाधिक चौकार मारणाऱ्या संघाचा विचार केल्यास भारतीय संघ सर्वात आघाडीवर आहे. वनडे क्रिकेटच्या इतिहासात भारतीय संघाने सर्वात जास्त चौकार मारले आहेत.

भारतीय संघाने आतापर्यंत १८ हजार ३०० चौकार मारले आहेत. तर आयसीसी वनडे वर्ल्ड कपचे सर्वाधिक वेळा विजेतेपद मिळवणाऱ्या ऑस्ट्रेलियाच्या संघाने आतापर्यंत १६ हजार ६९७ चौकार मारले आहेत. या यादीत तिसऱ्या स्थानावर पाकिस्तानचा संघ आहे. त्यांनी १५ हजार ६७३ चौकार मारले आहेत. त्यानंतर श्रीलंकेचा क्रमांक येतो. त्यांनी १४ हजार ६१७ मारलेत. तर वेस्ट इंडिजने १३ हजार ७०६ आणि इंग्लंडने १३ हजार ५०६ चौकार मारलेत.

क्रिकेटमध्ये अनेकदा मैदानावर चुकीच्या गोष्टी होतात. याला नेहमीच खेळाडू जबाबदार असतात असे नाही, तर काही वेळा अंपायर दोषी असतात. क्रिकेटमध्ये अनेकदा घडले आहे की अंपायरनी चुकीचे निर्णय दिले आणि सामन्याचा निकाल बदलला. अशाच एका चुकीच्या निर्णयाबद्दल एका अंपायरला १२ वर्षानंतर पश्चाताप झालाय. ही चुक भारतीय क्रिकेट संघाबाबत झाली होती.

भारत आणि ऑस्ट्रेलिया यांच्यात २००८ मध्ये झालेल्या बॉर्डर-गावसकर मालिका दोन कारणामुळे चर्चेत राहिली. पहिले कारण म्हणजे मंकीगेट प्रकरण होय आणि दुसरे म्हणजे अंपायर स्टीव्ह बकनर यांची खराब अंपायरिंग होय. बकनर यांनी १२८ कसोटी आणि १८१ वनडेत अंपायरिंग केली. बकनर त्यांच्या करिअरमध्ये कोणत्याही वादात पडले नाहीत. पण करिअरच्या अखेरच्या काळात त्यांनी काही चुका केल्या. यात २००८ मधील सिडनी येथे झालेला भारत आणि ऑस्ट्रेलिया यांच्यातील कसोटी सामन्याचा समावेश होता.

सिडनी कोसटीत झालेल्या चुकीबद्दल बोलताना बकनर म्हणाले, मी सिडनीत झालेल्या २००८ मधील कसोटी सामन्यात दोन चुका केल्या. पहिली चुक तेव्हा झाली जेव्हा भारत चांगली कामगिरी करत होता आणि मी ऑस्ट्रेलियाच्या फलंदाजाला शतक करू दिले. दुसरी चुक सामन्याच्या पाचव्या दिवशी केली ज्यामुळे कदाचित भारताला सामना गमवावा लागला. पाच दिवसातील त्या दोन चुका करणारा मी पहिला अंपायर होतो? पण तरी देखील त्या दोन चुकांबद्दल मला आजही त्रास होतो.

क्रिकेटचा इतिहास जितका रंजक आहे तितकाच त्यातील विक्रम देखील. कसोटी हा प्रकार क्रिकेटचा मुळ भाग मानला जातो. अशा कसोटीत एकापेक्षा एक दर्जेदार खेळाडू झाले आहेत. ज्यांनी विक्रमांचा डोंगर उभा केला. अशाच काही खेळाडूंपैकी काही मोजके खेळाडू आहेत जे सर्वाधिक वेळा शून्यावर बाद झाले तर काही खेळाडू असे आहेत जे कधीच शून्यावर बाद झाले नाही.

कसोटी क्रिकेटमध्ये असे मोजके खेळाडू आहेत जे करिअरमध्ये कधीच शून्यावर बाद झाले नाहीत. या मोजक्या खेळाडूंमध्ये भारताच्या एका खेळाडूचा समावेश आहे. भारतीय संघातील माजी फलंदाज आणि सध्या इंडियन प्रीमिअर लीग (IPL)चे चेअरमन ब्रजेश पटेल हे आंतरराष्ट्रीय कसोटीमध्ये कधीच शून्यावर बाद झाले नाहीत.

शून्यावर बाद न होणाऱ्या फलंदाजांमध्ये अव्वल स्थानी आहेत ऑस्ट्रेलियाचे जेम्स वॉलेस ब्रूक. त्यांनी १९५१ ते ५९ या काळात २४ कसोटी सामन्यात ४४ डावात ३४.५९च्या सरासरीने १ हजार २८० दावा केल्या. दुसऱ्या स्थानावर ऑस्ट्रेलियाचे रेगी डफ आहेत. त्यंनी १९०२ ते ०५ या कालावधीत २२ कसोटीत ४० डाव खेळले. त्यानंतर क्रमांक येते भारताच्या ब्रजेश पटेल यांचा त्यांनी २१ कसोटीत ३८ डाव खेळले यात २९.४५च्या सरासरीने ९७२ धावा केल्या.

 

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड के प्रस्तावित दौरे के लिए गुरुवार को 26 सदस्यीय संभावित टीम का चयन किया, जिसमें ग्लेन मैक्सवेल और उस्मान ख्वाजा जैसे खिलाड़ियों के अलावा टी20 वर्ल्ड कप को ध्यान में रखते हुए कुछ नए चेहरे में भी शामिल किए गए हैं. क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) ने टीम की घोषणा करते हुए कोविड-19 महामारी के चलते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की उसकी कवायदों के लिए इसे ‘एक सकारात्मक कदम, हालांकि कोई निश्चित नहीं’ करार दिया.

इंग्लैंड अभी वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेल रहा है, जिससे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी भी हुई. सीए ने बयान में कहा, ‘इस दौरे को लेकर अभी अंतिम फैसला किया जाना है तथा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए), इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) और संबंधित सरकारी एजेंसियों के बीच बातचीत चल रही है.’

दौरे की पुष्टि होने के बाद ही अंतिम टीम का चयन किया जाएगा. संभावित टीम में नियमित खिलाड़ियों के अलावा मैक्सवेल भी शामिल हैं, जिन्होंने पिछले साल अक्टूबर से अपने देश की तरफ से कोई मैच नहीं खेला है. उन्होंने मानसिक स्वास्थ्य मसलों के कारण विश्राम लिया था. ख्वाजा भी पिछले कुछ समय से सीमित ओवरों के पसंदीदा खिलाड़ी नहीं रहे. उन्हें इस साल अप्रैल में पिछले पांच वर्षों में पहली बार सीए के अनुबंधित खिलाड़ियों में जगह नहीं मिली थी.

 

दक्षिण अफ्रीका के स्टार पेसर कैगिसो रबाडा और ऑलराउंडर क्रिस मॉरिस पहले 3टीमक्रिकेट (3टीसी) सोलिडेरिटी कप में नहीं खेल पाएंगे. शनिवार को सेंचुरियन में होने वाले इस मुकाबले से देश में क्रिकेट की वापसी भी होगी. रबाडा को इस मैच में किंगफिशर्स की अगुवाई करनी थी, लेकिन वह और मध्यम गति के गेंदबाज सिसांडा मगाला किसी पारिवारिक सदस्य की मौत के कारण इससे हट गए हैं.

ईसपीएनक्रिकइन्फो के अनुसार 33 साल के मॉरिस सुपरस्पोर्ट पार्क में होने वाले मुकाबले के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे. इन तीनों खिलाड़ियों की जगह दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज मखाया एनटीनी के बेटे थांडो एनटीनी (किंगफिशर्स), ब्योन फोर्टिन (ईगल्स) और गेराल्ड कोएट्जी (किंगफिशर्स) को टीमों से जोड़ा गया है.

रबाडा की की गैरमौजूदगी में हेनिरक क्लासेन किंगफिशर्स की अगुवाई करेंगे. एबी डिविलियर्स (ईगल्स) और क्विंटन डिकॉक (काइट्स) अन्य कप्तान है. यह मुकाबला पहले 27 जून को होना था, लेकिन कोविड-19 महामारी को देखते हुए इसे टाल दिया गया था.

सोलिडेरिटी कप में दक्षिण अफ्रीका के चोटी 24 क्रिकेटर भाग लेंगे, जिन्हें तीन टीमों में बांटा गया है. ये तीनों टीमें एक ही मैच में खेलेंगी. प्रत्येक टीम में 8 खिलाड़ी होंगे और मैच दो हिस्सों में होगा. इसमें प्रत्येक हिस्से में 18-18 ओवर होंगे. प्रत्येक टीम 12 ओवर बल्लेबाजी करेगी, लेकिन यह छह-छह ओवरों के दो हिस्सों में बंटी होगी. इस तरह से प्रत्येक टीम एक-दूसरे का सामना करेगी.

आयपीएल खेळवण्यासाठी बीसीसीआने आता चांगलीच कंबर कसलेली दिसत आहे. यापूर्वी त्यांनी आशिया चषक रद्द केला होता. त्यानंतर आता आयपीएलसाठी एक महत्वाची मालिका रद्द करण्याच्या विचारात बीसीसीआय आहे. आयपीएलसाठी ही मालिका रद्द करण्याचा निर्णय बीसीसीआय घेणार असल्याचे समजते आहे. पण प्रतिस्पर्धी संघाच्या क्रिकेट मंडळाने भारताबरोबरची मालिका रद्द करण्याचा निर्णय घेतल्याचे म्हटले जात आहे.

आयपीएल झाले नाही तर बीसीसीआयला चार हजार कोटी रुपयांचे नुकसान होऊ शकते. त्यामुळे या वर्षी कोणत्याही परिस्थितीत आयपीएल खेळवण्यासाी बीसीसीआय प्रयत्नशील असल्याचे पाहायला मिळते आहे. कारण आयपीएल खेळण्यासाठी बीसीसीआयचे अध्यक्ष सौरव गांगुली यांनी आशिया चषक स्पर्धाही रद्द केलेली आहे. त्यामुळे आता एक महत्वाचा दौराही आयपीएलसाठी रद्द होण्याच्या मार्गावर असल्याचे म्हटले जात आहे.

भारताच्या दौऱ्यावर इंग्लंडचा संघ सप्टेंबर महिन्यामध्ये येणार होता. पण या महिन्यात बीसीसीआय आयपीएल खेळवण्यासाठी प्रयत्न करत आहे. त्यामुळे हा भारताचा दौर रद्द करण्याचा निर्णय इंग्लंडच्या क्रिकेट मंडळाने घेतला आहे, असे डेली मेल या वर्तमानपत्राने म्हटले आहे. त्यामुळे आता बीसीसीआय यावर काय निर्णय घेते, हेदेखील पाहावे लागणार आहे.

नवी दिल्ली: गेल्या वर्षी इंग्लंडमधील लॉड्स मैदानावर आजच्या दिवशी म्हणजे १४ जुलै रोजी क्रिकेटमधील सर्वात ऐतिहासिक अशी वर्ल्ड कप फायनल झाली होती. इंग्लंड आणि न्यूझीलंड हे दोन्ही संघ पहिल्या विजेतेपदासाठी लढत होते. निर्धारित ५० षटकात सामना बरोबरीत सुटल्यानंतर सुपर ओव्हरमध्ये देखील हा सामना टाय झाला. या सामन्यात इंग्लंडने न्यूझीलंडचा चक्क शून्य धावांनी पराभव केला. क्रिकेटच्या इतिहासात असा एकमेव निकाल आहे ज्यात एखाद्या संघाचा शून्य धावांनी पराभव झाला असेल.

वर्ल्ड कप २०१९च्या फायनलमध्ये प्रथम ५०-५० षटकात सामन्याचा निकाल लागला नाही. त्यानंतर सुपर ओव्हर झाली तेव्हा देखील दोन्ही संघांच्या धावा समान झाल्या. पण इंग्लंडच्या संघाला विजयी घोषित करण्यात आले. इंग्लंडने न्यूझीलंडला शून्य धावांनी हरवले. कारण क्रिकेटमध्ये विजयाचा निर्णय फक्त धावा किंवा विकेटनी होतो.

सुपर ओव्हरमध्ये इंग्लंडने सर्वाधिक चौकार मारल्यामुळे त्यांना विजेतेपद देण्यात आले. इंग्लंड संघाने प्रथमच वर्ल्ड कप जिंकला तो ही घरच्या मैदानावर. इंग्लंड संघाने धावा किंवा विकेटच्या जोरावर नव्हे तर चौकारांच्या जोरावर सामना जिंकला.

नवी दिल्ली: क्रिकेटच्या इतिहासात काही असे विक्रम आहेत जे मोडले जाणे अशक्य वाटतात. असे अशक्यप्राय विक्रम जसे आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटमध्ये झाले आहेत तसेच ते प्रथम श्रेणी सामन्यात देखील झाले आहेत. प्रथम श्रेणी कसोटी सामन्यात (Highest Innings totals in First Class cricket) एका संघाने एका डावात तब्बल १ हजार धावा करण्याचा पराक्रम केला आहे. विशेष म्हणजे अशी कामगिरी या संघाने दोन वेळा केली. जाणून घेऊयात क्रिकेटमधील या अनोख्या विक्रमाबद्दल...

आंतरराष्ट्रीय (International Cricket) कसोटी क्रिकेटमध्ये एका डावात सर्वाधिक धावा करण्याचा विक्रम श्रीलंकेच्या नावावर आहे. लंकेने भारताविरुद्ध १९९७ साली एका डावात ६ बाद ९५२ धावा केल्या होत्या. प्रथम श्रेणी सामन्याचा विचार केल्यास एका संघाने अशी कामगिरी केली आहे ज्याचा विचार करणे अशक्य आहे.

१९२३ साली व्हिक्टोरिया संघाने तस्मानिया संघाविरुद्ध झालेल्या सामन्यातील दुसऱ्या डावात १ हजार ५९ धावांचा डोंगर उभा केला. मेलबर्न मैदानावर झालेल्या या सामन्यात तस्मानियाने पहिल्या डावात फक्त २१७ धावा केल्या होत्या. उत्तरादाखल व्हिक्टोरिया संघाने १ हजार ५९ धावा केल्या. व्हिक्टोरिया संघाकडून बिल पोंसफोर्डने ४२९ धावा केल्या. हा सामना व्हिक्टोरिया संघाने ६६६ धावांनी जिंकला.

त्यानंतर व्हिक्टोरिया संघाने १९२६ साली पुन्हा एकदा अशी कामगिरी केली. त्यांनी न्यू साउथ वेल्स विरुद्ध २४ ते २९ डिसेंबर १९२६ रोजी मेलबर्न येथे झालेल्या सामन्यात १ हजार १०७ धावा केल्या. या सामन्यात बिल पोंसफोर्ड यांनी ३५२, जॅक राइडर २९५ धावा केल्या. व्हिक्टोरिया संघातील पहिल्या चार फलंदाजांनी ३ अंकी धावसंख्या केली होती. या सामन्यात व्हिक्टोरिया संघाने १ डाव आणि ६५६ धावांनी विजय मिळवला.
 

भारताचा माजी कर्णधार सौरव गांगुलीचे बरेच किस्से आहेत. गांगुलीने जेव्हा लॉर्ड्सवर आपले टी-शर्ट काढून आनंद साजरा केला होता, तेव्हा त्याच्याबद्दल बऱ्याच प्रतिक्रीया आल्या होत्या. गांगुलीने भारताच्या क्रिकेटमध्ये आक्रमकता आणली, असे म्हटले जाते. पण एकदा गांगुली थेट श्रीलंकेच्या ड्रेसिंगरुममध्ये घुसला होता, असा किस्साही आता ऐकायला मिळत आहे. गांगुली श्रीलंकेच्या ड्रेसिंगरुममध्ये का घुसला होता, याचा खुलासा श्रीलंकेचा माजी कर्णधार कुमार संगकाराने केला आहे.

एक कर्णधार म्हणून गांगुलीने भारताचा संघ घडवला होता. आपल्यातील आक्रमक बाणा त्याने संघातही रुजवला होता. त्यामुळेच गांगुलीच्या नेतृत्वाखालील भारतीय संघाला प्रतिस्पर्धी घाबरत होते. गांगुलीने भारतीय संघाचा क्रिकेट विश्वात एक दरारा निर्माण केला होता. त्यामुळे गांगुीचे बरेच किस्से क्रिकेट वर्तुळात प्रसिद्ध आहेत. पण संगकाराने मात्र गांगुलीचा एक खास किस्सा आता शेअर केल्याचे पाहायला मिळत आहे.

कोरोना काल के पहले इंटरनेशनल मैच में वेस्टइंडीज ने जीत के साथ आगाज किया है. बता दें कि कोरोना काल में ये पहली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सीरीज है, जिसमें बदले हुए हालात में दोनों टीमें खेल रही थी. कैरेबियाई टीम ने मेजबान इंग्लैंड को उसी की धरती पर पहले टेस्ट मैच में 4 विकेट से मात दे दी.

इसी के साथ ही मेहमान वेस्टइंडीज ने तीन मैचों की मौजूदा टेस्ट सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली. सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच गुरुवार 16 जुलाई को मैनचेस्टर में खेला जाएगा. वेस्टइंडीज के लिए जर्मेन ब्लैकवुड ने सबसे ज्यादा 95 रन बनाए. ब्लैकवुड का यह 11वां अर्धशतक था.

रोस्टन चेज ने 37 और शेन डाउरिच ने 20 रन बनाए. इंग्लैंड के लिए जोफ्रा आर्चर ने सबसे ज्यादा 3 विकेट लिए. वेस्टइंडीज को जोफ्रा आर्चर ने शुरू में ही करारे झटके दिए. आर्चर ने क्रेग ब्रेथवेट (4) और ब्रूक्स (0) को पवेलियन भेजा जबकि मार्क वुड ने शाई होप (9) का विकेट लिया. वेस्टइंडीज के सलामी बल्लेबाज जॉन कैंपबेल चोटिल हो गए थे. आर्चर का यॉर्कर उनके पांव पर लगा जिससे उन्हें मैदान छोड़ना पड़ा.

आर्चर और जेम्स एंडरसन ने शुरू से ही घातक गेंदबाजी करके वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को परेशानी में रखा. बारबाडोस में जन्में तेज गेंदबाज आर्चर ने छठे ओवर में इंग्लैंड को पहली सफलता दिलाई जब ब्रेथवेट ने उनकी गेंद अपने विकेटों पर खेली. आर्चर ने ब्रूक्स को अगले ओवर में LBW आउट किया.

होप ने कवर ड्राइव से दो चौके लगाए, लेकिन वुड ने गेंद संभालते ही उन्हें बोल्ड कर दिया. वुड पर ड्राइव करने के प्रयास में होप चूक गए थे. रोस्टन चेस (37) को जोफ्रा आर्चर ने जोस बटलर के हाथों कैच आउट कराया. शेन डॉवरिच (20) और जर्मेन ब्लैकवुड (95) का विकेट स्टोक्स ने लिया.

करोना व्हायरसमुळे सर्वांना सक्तीने घरी बसावे लागले होते. आता काही प्रमाणात व्यवहार सुरू होत आहेत. हजारो जणांचे बळी घेतलेल्या या व्हायरसपासून काळजी घेत क्रीडा मैदानात पुन्हा एकदा सामने सुरू झालेत. क्रिकेटचा विचार केल्यास इंग्लंड आणि वेस्ट इंडिज यांच्यात सुरू झालेल्या कसोटी सामन्यापासून आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटला पुन्हा एकदा सुरूवात झाली. या मालिकेमुळे एक क्रिकेटसाठी सकारात्मक वातावरण तयार झाले असून लवकरच टी-२० लीगला सुरूवात होणार आहे.

करोना व्हायरसमुळे जवळपास तीन महिन्यांहून अधिक काळ क्रिकेट सामने झाले नव्हते. इंग्लंड आणि वेस्ट इंडिज क्रिकेट बोर्डाने करोनाची भीती असताना मालिका घेण्याचा निर्णय घेतला. आता टी-२० लीगची तयारी सुरू झाली आहे. येत्या १८ ऑगस्टपासून कॅरेबियन प्रीमियर लीग (CPL 2020) ला सुरूवात होणार आहे. करोना व्हायरसनंतर सुरू होणारी ही पहिली टी-२० लीग स्पर्धा असेल.

CPL स्पर्धा ३४ दिवस खेळवली जाईल तर फायनल मॅच २० सप्टेंबर रोजी होईल. ही स्पर्धा त्रिनिदाद अॅण्ड टोबॅगो येथे खेळवली जाणार आहे. यामुळे खेळाडू आणि टीममधील स्टाफला करोना व्हायरसची लागण होण्याचा धोका नाही. या स्पर्धेच्या आयोजनासाठी स्थानिक प्रशासन आणि सरकारकडून परवानगी मिळाली आहे.

 

मुंबई: भारत आणि पाकिस्तान यांच्यातील क्रिकेट सामन्यात नेहमी कमालीची चुरस पाहायला मिळते. दोन्ही संघा दरम्यान जेव्हा सामना होतो तेव्हा खेळातील डावपेचा सोबत स्लेजिंगचा देखील वापर केला जातो. भारताचे माजी विकेटकीपर आणि फलंदाज किरण मोरे हे देखील स्लेजिंगबाबत आघाडीवर असत. भारत-पाकिस्तान यांच्यातील एका सामन्याबाबत एक घटना त्यांनी सांगितली, ज्यात पाकिस्तानचा क्रिकेटपटूने मोरेंना धमकी दिली होती

'द ग्रेटेस्ट रायवलरी' या पॉडकास्ट कार्यक्रमात बोलताना किरण मोरे म्हणाले, १९८९ मध्ये भारत आणि पाकिस्तान यांच्यात लढत झाली होती. आम्ही पाकिस्तानच्या दौऱ्यावर होतो. मी कराची कसोटीत सलीम मलिकला स्लेज केले होते आणि तेव्हा तो मला बॅटने मारण्यासाठी आला होता. मी त्याला पंजाबी भाषेत अपशब्द वापरला होता.

 

वेस्टइंडीज के टी20 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान डेरेन सैमी ने ‘ब्लैक लाइव्स मैटर (बीएलएम)’ पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व खिलाड़ियों द्वारा आलोचना का सामना कर रहे लुंगी नगिदी का समर्थन किया है. हरफनमौला सैमी उन क्रिकेटरों में शामिल है, जिन्होंने क्रिकेट में नस्लवाद के मुद्दे को सबसे पहले उठाया था.

सैमी ने ट्विटर पर लिखा कि नगिदी की आलोचना से पता चलता है कि इस मुद्दे पर बोलना क्यों जरूरी है. सैमी ने ट्वीट किया, ‘यह तथ्य है कि कुछ पूर्व खिलाड़ियों को ‘बीएलएम’ आंदोलन पर नगिदी के रुख से परेशानी है, यही कारण है कि हम अश्वेत लोगों के मुद्दे पर यहां हैं. हम तुम्हारे साथ हैं.’

इस हफ्ते की शुरुआत में नगिदी ने कहा था, 'नस्लवाद का मुद्दा कुछ ऐसा है जिसे हमें वैसे ही बहुत गंभीरता से लेने की जरूरत है जैसे बाकी दुनिया कर रही है.’

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटरों पैट सिमकॉक्स, बोएटा डिप्पेनार और विकेटकीपर रूडी स्टेन को हालांकि उनकी बात नागवार गुजरी, जिन्होंने देश के श्वेत किसानों पर हो रहे हमले के मुद्दे पर चुप रहने पर नगिदी पर निशाना साधा था.

इन खिलाड़ियों ने कहा था कि नस्लवाद के खिलाफ ‘बीएलएम’मुद्दे का साथ देने चाहिए, लेकिन अपने देश के श्वेत किसानों की जानवरों की तरह हत्या पर चुप्पी साधने वालों का वे समर्थन नहीं कर सकते.

कोरोना वायरस महामारी के कारण गेंद पर लार लगाने की अनुमति नहीं है. ऐसे में इंग्लैंड के गेंदबाज वेस्टइंडीज के खिलाफ चल रहे पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में पीठ के पसीने से गेंद को चमका रहे हैं. साउथेम्प्टन में चल रहे पहले टेस्ट मैच से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की जैव सुरक्षित वातावरण में वापसी हुई है. कोविड-19 महामारी के कारण मार्च से ही सभी तरह की खेल गतिविधियां ठप थीं

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज मार्क वुड ने कहा, ‘लार पर प्रतिबंध लगने के बाद अब पीठ का पसीना अहम बन गया है.’ उन्होंने कहा, ‘केवल अपना पसीना... हालांकि हम गेंद पर आपस में थोड़ा पसीना मिला रहे हैं. मुझे कुछ जिमी (एंडरसन) और जोफ्रा (आर्चर) से मिला.’

पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड के पहली पारी के 204 रनों के जवाब में वेस्टइंडीज ने अपनी पहली पारी में 318 रन बनाए. तीसरे दिन का खेल समाप्त होने पर इंग्लैंड ने दूसरी पारी में बिना किसी नुकसान के 15 रन बना लिये थे. तीसरे दिन रोस्टन चेस और शेन डाउरिच की 81 रनों की साझेदारी के बाद वेस्टइंडीज ने बेन स्टोक्स की शानदार गेंदबाजी के सामने आखिरी पांच विकेट 51 रन के भीतर गंवा दिए.

मुंबई: आयपीएलच्या गेल्या म्हणजेच १२व्या हंगामात चाहत्यांचे भरपूर मनोरंजन झाले. गोलंदाजांनी त्यांची भूमिका अगदी चोख पार पाडली पण पॉवर हिटर्स फलंदाजांनी चाहत्यांना वेगळाच आनंद दिला. फलंदाजांनी गेल्या हंगामात क्लासिक शॉट खेळले. एक नजर टाकूयात आयपीएलमधील एका सिझनमध्ये सर्वाधिक धावा करणाऱ्या टॉपच्या ५ फलंदाजांच्या यादीवर...

वेस्ट इंडिजच्या या धडाकेबाज फलंदाजाने २०१३च्या आयपीएलमध्ये ७०८ धावा केल्या. त्या वर्षी स्पर्धेतील एका सामन्यातील सर्वोच्च धावा देखील गेलनेच केल्या होत्या. त्याने एका सामन्यात नाबाद १७५ धावा केल्या होत्या. २०१३ मध्ये त्याने १६ सामन्यात १५६च्या स्ट्राइक रेटने धावा केल्या. यात एक शतक आणि ४ अर्धशतकांचा समावेश होता. गेलने संपूर्ण स्पर्धेत ५१ षटकार आणि ५७ चौकार मारले होते.

गेल आणि हसी यांच्या फलंदाजीची शैली वेगवेगळी असली तरी हे दोघेही आयपीएलमध्ये यशस्वी झाले आहेत. या दोघांनी एका सिझनमध्ये प्रत्येकी ७३३ धावा केल्या आहेत. गेलने रॉयल चॅलेंजर्स बेंगळूरूकडून तर हसीने चेन्नई सुपर किंग्सकडून ही खेळी केली. यात गेलने १६०च्या स्ट्राइक रेटने तर हसीने १२९च्या स्ट्राइक रेटने धावा केल्या. गेलने २०१२ साली केलेल्या सर्वोच्च धावसंख्यते नाबाद १२८ ही एका सामन्यातील अव्वल खेळी होती.

ऑस्ट्रेलिया के सीमित ओवरों के कप्तान एरॉन फिंच का कहना है कि भारत जैसे क्रिकेट के दीवाने देश में लोगों की अपेक्षाओं का बोझ काफी है, लेकिन विराट कोहली ने बतौर कप्तान शानदार प्रदर्शन किया है. फिंच ने कहा कि खिलाड़ी खराब दौर से गुजरते हैं, लेकिन कोहली, स्टीव स्मिथ, रिकी पोंटिंग और सचिन तेंदुलकर जैसे खिलाड़ी अपवाद हैं.

उन्होंने सोनी टेन के पिट स्टॉप शो पर कहा,‘हर खिलाड़ी का एक खराब दौर आता है, लेकिन कोहली, स्मिथ, पोंटिंग और तेंदुलकर ऐसे खिलाड़ी थे जिनका फॉर्म कभी भी लगातार दो सीरीज में खराब नहीं रहा.’ फिंच ने कहा,‘भारत के लिए खेलने का दबाव अलग है और कप्तानी का अलग... और जिस तरह से कोहली लंबे समय से दोनों काम कर रहे हैं, वह लाजवाब है.’

उन्होंने कहा,‘महेंद्र सिंह धोनी से कप्तानी लेने के बाद अपेक्षाएं काफी थीं और वह लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे. यह काफी प्रभावशाली है.’ उन्होंने कहा,‘सबसे प्रभावी बात तो तीनों प्रारूपों में उनका लगातार अच्छा खेलना है. वनडे क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज होना और फिर टेस्ट और टी20 में उस कामयाबी को दोहराना, काबिले तारीफ है.’

आईसीसी ने गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है और फिंच ने कहा कि खिलाड़ियों को इसकी आदत हो जाएगी. उन्होंने कहा,‘मैंने इंग्लैंड या वेस्टइंडीज टीमों से बात नहीं की है, लेकिन मुझे लगता है कि अगले कुछ महीने में खिलाड़ी इसके आदी हो जाएंगे. गेंद को चमकाने के दूसरे तरीके तलाशे जाएंगे.’

2007 में टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के मैनेजर रहे लालचंद राजपूत का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में पूर्व कप्तान और मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली का मिश्रण है. पूर्व सलामी बल्लेबाज राजपूत ने कहा कि गांगुली की भारत में क्रिकेट खेलने के तरीके में बदलाव लाने में एक बड़ी भूमिका रही और धोनी इसे आगे लेकर गए, जब वह 2007 में टीम के कप्तान बने.

राजपूत ने 'स्पोर्ट्सक्रीड़ा से कहा, 'गांगुली खिलाड़ियों को आत्मविश्वास देते थे और उन्होंने भारतीय टीम की मानसिकता में बदलाव किया और मुझे लगता है कि धोनी इसी चीज को लेकर आगे गए. अगर धोनी को लगा कि किसी खिलाड़ी में काबिलियत है, वो उन्हें पूरे मौके देने की कोशिश करते थे.

पूर्व मैनेजर ने कहा कि धोनी की कप्तानी में राहुल द्रविड़ और गांगुली का मिश्रण है. उन्होंने कहा, ईमानदारी से कहूं तो वो काफी शांत रहते हैं. एक कप्तान को मैदान पर रहते हुए फैसले लेने होते हैं और वो दो कदम आगे की सोचते हैं. एक चीज जो मुझे उनकी अच्छी लगती है कि वो सोचने वाले कप्तान हैं. उनकी कप्तानी में राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली का मिश्रण है. गांगुली काफी आक्रामक कप्तान थे.

धोनी का भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल कप्तानों में शुमार होता है. उनकी कप्तानी में भारतीय टीम ने दिसंबर 2009 में ICC टेस्ट रैंकिंग में नंबर-1 स्थान पर कब्जा कर किया था. धोनी एकमात्र ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने टीम इंडिया को तीन बड़े ICC खिताब (टी20 वर्ल्ड कप 2007, वर्ल्ड कप 2011 और चैम्पियंस ट्रॉफी 2013) दिलवाए.

ऑस्ट्रेलिया और जिम्बाब्वे के बीच वनडे सीरीज कोरोना वायरस महामारी के कारण दोनों बोर्ड की सहमति से स्थगित कर दी गई. तीन मैचों की सीरीज अगस्त में खेली जानी थी, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में कोरोना महामारी के नए मामले सामने आ रहे हैं.

ऑस्ट्रेलिया में 7500 से अधिक लोग संक्रमित हैं, जबकि उनमें से 7000 ठीक हो चुके हैं. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा,‘दोनों बोर्ड ने मिलकर सीरीज स्थगित करने का फैसला लिया है. सभी विकल्पों पर विचार करने के बाद खिलाड़ियों, मैच अधिकारियों और स्टाफ की सुरक्षा और सेहत को ध्यान में रखकर यह फैसला लिया गया.’

ऑस्ट्रेलिया में दूसरे देश से आने वाले लोगों को 14 दिनों के पृथकवास में रहना अनिवार्य है. जिम्बाब्वे की टीम आखिरी बार 2003-04 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर आई थी.

कसोटी क्रिकेटमध्ये एखादा फलंदाज मैदानावर कितीवेळ फलंदाजी करतो याला फार महत्त्व असते. कसोटी ही कोणत्याही खेळाडूच्या संयमाची परीक्षा घेणारी असते. त्यामुळेच फलंदाज किती वेळ क्रीझवर टिकतो, गोलंदाजांच्या सर्व प्रकारच्या माऱ्याला धैऱ्य आणि कौशल्याने मात देतो हे पहिले जाते. म्हणून असे म्हटले जाते की कसोटीत चेंडू जर बाहेर जात असेल तर तो सोडण्याचा संयम हवा आणि चेंडू आत येणार असेल तर तो थांबवण्याचे कौशल्य हवे. एखाद्या फलंदाजाने क्रीझवर किती चेंडूंचा सामना केला यावर कसोटी क्रिकेटमधील त्याची क्षमता ओळखली जाते.

क्रिकेटमधील कसोटी हा प्रकार फलंदाजाच्या संयमाची परीक्षा घेत असतो. क्रिझवर अधिक वेळ थांबून गोलंदाज थकल्यानंतर धावा करण्याची परंपरा आहे. म्हणूनच फलंदाजाची खऱ्या अर्थाने या प्रकारात कसोटी लागते. जाणून घेऊयात कसोटीमध्ये सर्वाधिक चेंडूंचा समाना करणारे फलंदाज...

अ‍ॅलन बॉर्डर: कसोटी क्रिकेटमध्ये सर्वाधिक चेंडू खेळणाऱ्या फलंदाजांच्या यादीत पाचव्या क्रमांकावर आहेत ऑस्ट्रेलियाचे माजी कर्णधार अ‍ॅलन बॉर्डर. डाव्या हाताने खेळणाऱ्या या फलंदाजाने १५६ कसोटी सामन्यात २७ हजार ००२ चेंडूंचा सामना केला. बॉर्डर यांच्या नेतृत्वाखाली ऑस्ट्रेलियाचा संघाचा जगातील सर्वात धोकादायक संघ असा प्रवास सुरू झाला. बॉर्डरच्या नेतृत्वााखाली ऑस्ट्रेलियाने १९९५ साली वेस्ट इंडिजमध्ये कसोटी मालिका जिंकली. त्यानंतर ऑस्ट्रेलियाचे शानदार अशी कामगिरी सुरू ठेवली. बॉर्डर यांनी कसोटीत ५०.६ च्या सरासरीने ११ हजार १७४ धावा केल्या. त्यात २७ शतक आणि ६३ अर्धशतक केले. ऑस्ट्रेलियाने बॉर्डरच्या नेतृत्वाखाली इंग्लंडचा पराभव करत १९८७ मध्ये पहिला वर्ल्ड कप जिंकला होता.
 

भारतीय हॉकी संघाचा गोलकीपर पी. आर. श्रीजेश दोन महिन्यांहून अधिक काळानंतर गेल्या आठवड्यात कोचीतील आपल्या घरी पोहोचला. लॉकडाउनमुळे भारतीय हॉकी संघातील खेळाडू बेंगळुरूच्या भारतीय क्रीडा प्राधिकरणात (साई) राहात होते. घरापासून लांब राहणे, हॉकीचा सराव नसणे, करोनाच्या बातम्या कानावर पडणे, यामुळे त्यांच्यासाठी हा काळ मानसिकदृष्ट्या अतिशय आव्हानात्मक होता. एखाद्या मोहिमेसारखेच सारे काही होते. श्रीजेशने वृत्तसंस्थेला दिलेल्या मुलाखतीत यावर प्रकाश टाकला.

साई केंद्र तसे सुरक्षित होते. पण दोन महिन्यांहून अधिक काळ कसोटी बघणारा असेल...
नक्कीच. पण तेथे आम्ही पूर्णपणे बंदिस्त नव्हतो. छोट्या-छोट्या गटात आम्ही कॅम्पसमध्ये फिरायचो. शिबिर नव्हतेच सुरू. तरीही सगळ्यांनाच घरची खूप आठवण येत होती. पुढे पुढे दिवसातील त्याच त्याच कामाचा कंटाळा यायला लागला होता. मानसिकदृष्ट्या आम्ही कमकुवत होत होतो. आता ही विश्रांती आमच्यासाठी नवी उर्जा देणारी ठरणार आहे. नव्या मानसिकतेसह आम्ही मैदानात उतरू शकू.

 

कधी कधी एखादी गोष्ट घडते की, त्यामुळे एकच गोंधळ उडालेला पाहायला मिळतो. सध्याच्या घडीला सोशल मीडियावर एका आंतरराष्ट्रीय क्रिकेटपटूच्या निधनाचे वृत्त चांगलेच व्हायरल झालेले पाहायला मिळत आहे. हे वृत्त देशाच्या क्रिकेट मंडळानेच ट्विट करून सांगितले होते. पण त्यानंतर एकच गोंधळ उडाल्याचे पाहायला मिळाले.

पाकिस्तानच्या क्रिकेट मंडळाने क्रिकेटपटू मोहम्मद इरफानचे निधन झाले असल्याचे एक ट्विट केले. त्यानंतर चाहत्यांनी इरफान श्रद्धांजली वाहण्यास सुरुवात केली. पण या सर्व प्रकारानंतर आपण जीवंत असल्याचेच ट्विट इरफानने केल्याचे पाहायला मिळाले. त्यामुळे सोशल मीडियावर एकच गोंधळ झालेला पाहायला मिळाला.

पाकिस्तानच्या क्रिकेट मंडळाने इरफानचे निधन झाल्याचे ट्विट केले. त्यानंतर इरफानला बरेच फोन आले. त्याच्या कुटुंबियांकडेही बऱ्याच लोकांनी विचारपूस केली आणि या सर्व गोष्टीला तो वैतागला. त्यामुळेच त्याने एक ट्विट केले आणि यामध्ये त्याने सांगितले की, " माझ्या निधनाची बातमी खोटी आहे. या गोष्टीमुळे मला आणि माझ्या कुटुंबियांना बराच त्रास सहन करावा लागला आहे. माझा रस्ते अपघातात निधन झाल्याचे वृत्त चुकीचे आहे. मी माझ्या घरीच असून सुरक्षित आहे."

 

क्रिकेट चाहत्यांसाठी आता एक आनंदाची बातमी आली आहे. चाहत्यांना आता स्टेडियममध्ये जाऊन सामन्यांचा आनंद घेता येऊ शकतो. जर संघांना क्रिकेट खेळण्याची परवानगी दिली जाऊ शकते, तर चाहत्यांही सामना पाहायला दिले पाहिजे, असा निर्णय आता घेण्यात आला आहे.

करोना व्हायरसमुळे क्रिकेटचे मोठे नुकसान झाले आहे. कारण करोनामुळे सध्याच्या घडीला सर्व आंतरराष्ट्रीय स्पर्धा स्थगित करण्यात आल्या आहेत. त्यामुळे आता क्रिकेट स्पर्धा कधी सुरु होणार, याची उत्सुकता चाहत्यांना आहे. काही दिवसांपूर्वी आपल्याला स्टेडियममध्ये जाऊन सामने पाहता येणार नाहीत, यामुळे चाहते नाराज झाले होते. पण आता या निर्णयामुळे चाहत्यांना स्टेडियममध्ये जाऊन सामना पाहता येणार आहे.

भारतामध्ये सध्याच्या घडीला क्रिकेट सुरु करण्यात आलेले नाही. क्रिकेटपटूही सध्या सराव करताना दिसत नाहीत. पण आयपीएल खेळवण्यासाठी मात्र बीसीसीआयॉने चांगलीच कंबर कसल्याचे पाहायला मिळत आहे. सप्टेंबर ते नोव्हेंबर या कालावधीमध्ये आयपीएल खेळवण्यासाठी बीसीसीआय प्रयत्न करत असल्याचे पाहायला मिळत आहे. पण आयपीएल होणार की नाही, हे ट्वेन्टी-२० विश्वचषकावर अवलंबून असणार आहे. जर विश्वचषक रद्द झाला तर आयपीएल खेळवले जाऊ शकते, असे म्हटले जात आहे.

सध्याच्या घडीला एक धक्कादायक बातमी समोर आली असून मुंबई इंडियन्सबरोबर काम करणाऱ्या एका व्यक्तीला करोना व्हायरसची लागण झाल्याचे आता समोर आले आहे.

करोना व्हायरसमुळे सध्याच्या घडीला सर्व खेळाडू आपल्या घरीच आहेत. त्याचबरोबर सपोर्ट स्टाफही आपल्या घरी आहे. पण करोना कसा होऊ शकतो, हे आपण सांगू शकत नाही. त्यामुळे ही बातमी जेव्हा चाहत्यांनी वाचली तेव्हा त्यांना धक्का बसला. कारण मुंबई इंडियन्सबरोबर काम करणाऱ्या व्यक्तीला जर करोना झाला तर आयपीएलचे काय होणार, हा प्रश्न त्यांना पडला आहे.

जर आयपीएलमधील संघाशी निगडीत असलेल्या व्यक्तीला करोना झाला, तर काय करायचे याबाबत अजून बीसीसीआयने ठरवलेले नाही. पण संघाशी निगडीत असलेल्या व्यक्तीला करोना झाल्यामुळे आता चिंतेचे वातावरण निर्माण झाले आहे. त्यामुळे मुंबई इंडियन्सच्या संघातील खेळाडू सुरक्षित आहे की नाही, हा प्रश्नही चाहत्यांना पडला आहे.

हा व्यक्ती आहे तरी कोण...
ही व्यक्ती २०१८ साली मुंबई इंडियन्सच्या संघाबरोबर होती. त्यावेळी बांगलादेशचा वेगवान गोलंदाज मुस्ताफिझूर रेहमान हा मुंबईच्या संघाबरोबर जोडला गेलेला होता. त्याची मदत ही व्यक्ती करत असल्याचे पाहायला मिळाले होते. करोना झालेली ही व्यक्ती आहे बांगलादेशचा माजी क्रिकेटपटू नफीस इक्बाल. नफीस हा बांगलादेश संघाचा कर्णधार तमीम इक्बालचा भाऊ आहे. आता नफीसला करोना झाल्याचे निष्पन्न झाले असून त्याच्या संपर्कातील लोकांचीही करोना चाचणी करण्यात येणार आहे. सध्याच्या घडीला नफिसची प्रकृती सुधारत असल्याचे पाहायला मिळत आहे. त्यामुळे त्याच्या कुटुंबियांची चिंता कमी झाली आहे.

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी रविवार को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन की खबर सुनकर उदास और टूट गए हैं. यह तब हुआ जब 34 वर्षीय अभिनेता को उनके मुंबई स्थित आवास पर मृत पाया गया था. सुशांत ने पूर्व कप्तान धोनी की बायोपिक में साल 2016 में बनी फिल्म एमएस धोनी दी अलटोल्ड स्टोरी में अहम भूमिका निभाई थी.

भूमिका के लिए चुने जाने के बाद, राजपूत को पूर्व भारतीय विकेटकीपर किरण मोरे के अलावा किसी और ने प्रशिक्षित नहीं किया और मोरे के साथ मैदान पर धोनी के तौर-तरीकों को जानने के लिए लगभग 9 महीने बिताए. उनकी कला के प्रति उनका यह समर्पण था कि प्रशिक्षण के दौरान कई बार उनके हाथों पर चोट लगने के बावजूद, वो रूके नहीं थे और यहां तक ​​कि धोनी के ट्रेडमार्क हेलीकॉप्टर शॉट भी सीख गए थे. भूमिका के लिए प्रशिक्षण के दिनों में उनका अभ्यास देखने लायक था.

एमएस धोनी के एजेंट और पूर्व भारतीय कप्तान की बायोपिक के निर्माता अरुण पांडे ने बताया कि, “इस भूमिका को अच्छी तरह से निभाने का कारण यह था कि इस फिल्म का हिस्सा बनने से पहले ही उन्होंने धोनी को पहचान लिया था. वह उनके लिए एक तरह की प्रेरणा थी. सुशांत इस इंडस्ट्री से नहीं थे, वह भी धोनी जैसे छोटे शहर से आए थे.''

कोरोना महामारी ने कई लोगों को गरीबी और भुखमरी की ओर धकेल दिया है. इस सब के बीच, भारत के पूर्व सीमर इरफान पठान ने एक उदाहरण पेश किया है कि कैसे कोई व्यक्ति उन लोगों के लिए दयालु और मददगार हो सकता है जिन्हें इन कठिन समय में मदद की जरूरत है.

इरफान अपने बड़े भाई यूसुफ पठान के साथ पहले लॉकडाउन के दौरान मास्क, खाने के पैकेट और दवाइयां बांटते देखे गए. तो वहीं अब एक ताजा घटना में, इरफान ने चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के आधिकारिक मोची आर भास्करन को 25,000 रुपये की मदद की क्योंकि आईपीएल के स्थगित होने के कारण उनका धंधा चौपट होने की कगार पर था.

भास्करन 1993 से चेन्नई के वालाजाह रोड पर बैठते हैं और वह पिछले 12 वर्षों से सीएसके के आधिकारिक मोची है. मैच के दिनों के दौरान, वो एक छोटे से वर्कस्टेशन में काम करते हैं जो खिलाड़ी और मैच ऑफिशियल्स एरिया के बाहर है.

इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच अगस्त में टेस्ट सीरीज खेले जाने की संभावना है. इंग्लैंड दौरे के लिए पाकिस्तान 29 सदस्यों की टीम का एलान भी कर चुका है. हालांकि टेस्ट टीम में वहाब रियाज का नाम काफी चौंकाने वाला था, क्योंकि रियाज एक साल पहले इस फॉर्मेट से संन्यास लेने का एलान कर चुके थे. लेकिन वहाब ने इंग्लैंड में टेस्ट खेलने के लिए हामी भर दी है. पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने रियाज के टेस्ट क्रिकेट में लौटने के फैसले की तारीफ की है.

पाकिस्तान को इंग्लैंड दौरे पर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज और इतने ही मैचों की टी 20 सीरीज खेलनी है. वहाब ने सीमित ओवरों के क्रिकेट पर ध्यान लगाने के लिए पिछले साल सितंबर में प्रथम श्रेणी क्रिकेट से अनिश्चितकाल के लिए ब्रेक ले लिया था.

अख्तर ने मंगलवार को ट्विटर पर लिखा, " खुद को टेस्ट क्रिकेट में उपलब्ध रखने के लिए मैं वास्तव में आपके फैसले की तारीफ करता हूं, वहाब रियाज. आप इंग्लैंड की परिस्थितियों में बहुत अच्छा प्रदर्शन करेंगे, इंशाअल्लाह."

अभिनेता सुशांत सिंह रजपूतच्या (Sushant Singh Rajput) निधनावर संपूर्ण देश शोकाकुल आहे. सुशांतने बॉलिवूडमध्ये अल्पावधीत नाव कमावले होते. चित्रपटातून काम करण्याआधी सुशांतने छोट्या पडद्यावर काम केलेले. टीव्हीवरील 'पवित्र रिश्ता' ही मालिका लोकप्रिय झाली होती. या मालिकेत सुशांतची मुख्य भूमिका होती. त्यानंतर सुशांतला २०१३ साली 'काय पो छे' (Kai Po Che) चित्रपटातून पहिला ब्रेक मिळाला. या चित्रपटात सुशांत एक क्रिकेट प्रशिक्षकाच्या भूमिकेत आहे. या चित्रपटात ज्या मुलाला सुशांतने क्रिकेटचे प्रशिक्षण दिल्याचे दाखवले आहे तो रियल लाईफमध्ये क्रिकेटपटू झाला आहे.

'काय पो छे' या चित्रपटात सुशांतने ज्या मुलाला प्रशिक्षण दिले होते त्याचे नाव दिग्विजय देशमुख (चित्रपटातील नाव अली) असून तो एक जलद गोलंदाज आहे आणि महाराष्ट्राकडून खेळतो.
 

क्रिकेट सामन्यात एक नो बॉल सामन्याचे चित्र बदलू शकतो. त्यामुळेच कोणत्याही गोलंदाजाने नो बॉल टाकल्यास ती मोठी चूक मानली जाते. कारण त्या चेंडूवर फलंदाज बाद झाला तर फक्त त्याला जीवदान मिळत नाही तर एक अतिरिक्त चेंडू मिळतो. पण क्रिकेट जगतात असे काही अवलिया गोलंदाज झाले आहेत ज्यांनी त्यांच्या आंतरराष्ट्रीय करिअरमध्ये एकही नो बॉल टाकला नाही.

क्रिकेटच्या इतिहासात असे फक्त ५ गोलंदाज झाले आहेत ज्यांनी त्यांच्या करिअरमध्ये एकही नो बॉल टाकला नाही. या पाच पैकी ४ जलद गोलंदाज आहेत तर फक्त एक फिरकीपटू आहे. जाणून घेऊयात नो बॉल न टाकणाऱ्या पाच दिग्गज गोलंदाजांबद्दल...

वेस्ट इंडिजचे माजी फिरकीटपटू लान्स गिब्स यांनी संपूर्ण क्रिकेटमध्ये एकही नो बॉल टाकला नाही. अशी कामगिरी करणारे ते पहिले गोलंदाज होते. इतक नव्हे तर गिब्स यांनी कसोटीत ३०० विकेट घेतल्या. अशी कामगिरी करणारे ते दुसरे गोलंदाज होते. पहिल्यांदा ३०० विकेट घेण्याची कामगिरी इंग्लंडच्या फ्रेड टूमॅन यांनी केली होती. गिब्स यांनी ७९ कसोटी आणि ३ वनडे मॅच खेळल्या. यात त्यांनी एकही नो बॉल टाकला नाही. कसोटीत त्यांनी एकूण ३०९ विकेट घेतल्या.

 

इस्लामाबाद: करोना व्हायरसची लागण झालेल्या खेळाडूंमध्ये आणखी एकाचा समावेश झाला आहे. पाकिस्तानचा माजी अष्ठपैलू क्रिकेटपटू शाहिद आफ्रिदीला करोना व्हायरसची लागण झाली आहे. खुद्द आफ्रिदीने ही माहिती दिली.

गुरुवारपासून माझी तब्येत बिघडली आहे. करोना चाचणी केल्यानंतर ती पॉझिटिव्ह आली. यातून बाहेर पडण्यासाठी तुमच्या प्रार्थनेची गरज आहे, असे ट्टीट आफ्रिदीने केले आहे.

क्रीडा क्षेत्रात आणि क्रिकेटमधील काही खेळाडूंना याआधी करोनाची लागण झाली होती. पण एखाद्या प्रसिद्ध क्रिकेटपटूला करोना व्हायरसची लागण होण्याची ही पहिलीच घटना आहे. आफ्रिदीने पाकिस्तानकडून १९९८ ते २०१८ या काळात २७ कसोटी, ३९८ वनडे आणि ९९ टी-२० सामने खेळले आहेत.

आफ्रिदी गेल्या काही दिवसांपासून भारत, पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांच्यावर टीका करत आहे. त्याने काश्मीर संदर्भात देखील भारतावर टीका केली होती. आफिदीच्या या बेताल वक्तव्यावर भारतीय क्रिकेटपटूंनी त्याचा समचार घेतला होता.
 

स्टार क्रिकेटर विराट कोहली दुनिया में सर्वाधिक कमाई करने वाले खिलाड़ियों की फोर्ब्स की सूची में शामिल एकमात्र क्रिकेटर हैं. उनकी कुल वार्षिक कमाई 26 मिलियन डॉलर (196 करोड़ रुपये) है. भारतीय कप्तान ने इस सूची में जोरदार छलांग लगाई है. वह 66वें स्थान पर हैं, जबकि पिछले साल 100वें स्थान पर थे.

31 साल के विराट कोहली ने ने 12 महीने में अपनी कुल कमाई (26 मिलियन डॉलर) में करार के जरिए 24 मिलियन डॉलर हासिल किए, जबकि सैलरी और जीत से उनके हिस्से 2 मिलियन डॉलर आए. पिछली बार विराट कोहली ने कुल 25 मिलियन डॉलर की कमाई की थी.

फोर्ब्स की सर्वाधिक कमाई वाली लिस्ट की बात करें, तो विराट कोहली 2018 में 83वें स्थान पर थे, लेकिन अगले साल 2019 में वह 100वें पायदान पर फिसल गए थे. और अब इस साल 2020 में कोहली 66वें स्थान पर आ गए.

उधर, दिग्गज टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर दुनिया में सबसे ज्यादा कमाई करने वाले खिलाड़ी बन गए हैं. शुक्रवार को जारी वार्षिक फोर्ब्स की सूची में स्टार फुटबॉलर लियोनेल मेसी शीर्ष से तीसरे स्थान पर खिसक आए हैं.

केंद्र सरकार ने रविवार को पूरे देश में लागू लॉकडाउन को और 14 दिनों के लिए बढ़ा दिया है और कहा है कि इस दौरान जो गाइडलाइंस जारी की गई हैं, उनके उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

बीसीसीआई ने देर रात जारी अपने बयान में कहा है कि उसने कोविड-19 को रोकने के लिए जारी की गई गाइडलाइंस को गंभीरता से लिया है. बीसीसीआई ने कहा है कि वह अपने अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए शिविर लगाए जाने का इंतजार करेगी.

बीसीसीआई ने बयान में कहा, '31 मई तक हवाईयात्रा और लोगों के आने-जाने की पाबंदी को ध्यान में रखते हुए बीसीसीआई अपने अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए स्किल आधारित कैम्प लगाए जाने का इंतजार करेगी.'

बीसीसीआई ने कहा, 'बोर्ड यह साफ कर देना चाहता है कि खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ की सुरक्षा सबसे पहले है और हम जल्दबाजी में ऐसा कोई फैसला नहीं लेंगे जो भारत को कोरोना वायरस से जारी लड़ाई में मुश्किल में डाल दे.'

बयान में कहा गया है, 'इसी बीच बीसीसीआई राज्य स्तर की गाइडलाइंस पर ध्यान देगी और राज्य क्रिकेट संघों के साथ मिलकर स्थानीय स्तर पर स्किल आधारित ट्रेनिंग शुरू करने पर विचार करेगी. बीसीसीआई अधिकारी टीम प्रबंधन से बातचीत करना जारी रखेंगे और हालात सुधरने तक पूरी टीम के लिए सही प्लान तैयार रखेंगे.'

साउथ अफ्रीका (South Africa) के क्रिकेटर एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) रिटायरमेंट से पहले अपनी टीम की सबसे बड़ी मजबूती माने जाते थे. उनके जाने के बाद से साउथ अफ्रीका (South Africa) की टीम अब तक उनकी कमी से उबर नहीं पाई है. पिछले साल इंग्लैंड (England) में हुए वर्ल्ड कप के दौरान एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) की अंतरराष्ट्रीय वापसी को लेकर चर्चा शुरू हुई थी जो अब तक कायम है. अब खुद डिविलियर्स (AB De Villiers) ने अपनी वापसी को लेकर बयान दिया है.

डिविलियर्स ने वापसी को लेकर दिया बड़ा बयान - इस साल अक्टूबर में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप को देखते हुए कायास लगाए जा रहे हैं कि डिविलियर्स(AB De Villiers) अपने देश के लिए एक बार फिर मैदान पर उतर सकते हैं. डिविलियर्स से जब उनकी वापसी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'अभी रुकते हैं और देखते हैं क्या होता है. फिलहाल मेरा पूरा ध्यान आईपीएल पर है. मैं चाहता हूं कि आरसीबी के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूं. इसके बाद स्थिति के देखते हुए फैसला किया जाएगा कि इस साल मुझे औऱ क्या करना है.' एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) पिछले साल हुए क्रिकेट वर्ल्ड कप से पहले भी वापसी के लिए तैयार थे लेकिन उन्हें मौका नहीं दिया गया था. साउथ अफ्रीका के लिए वर्ल्ड कप निराशाजनक रहा था. वह ग्रुप स्टेज पर ही बाहर हो गई थी.

टी20 लीग में किंग साबित हुए हैं एबी डिविलियर्स  - एबी डिविलियर्स (AB De Villiers) ने साउथ अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट, 228 वनडे और 78 टी20 मैच खेले हैं. हालांकि टी20 इंटरनेशनल में डिविलियर्स का रिकॉर्ड अच्छा नहीं है. उनका औसत 26.1 है और उन्होंने 10 अर्धशतक ही लगाए हैं.  डिविलियर्स ब्रिसबेन हीट के लिए बिग बैश लीग (Big Bash League) में खेले थे. वहां उन्होंने 6 मैच खेले और 24.33 की औसत से 146 रन बनाए. उन्होंने एक ही अर्धशतक लगाया. वहीं वह लंबे समय से आईपीएल (IPL) में विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से खेलते हैं और अहम खिलाड़ी हैं. वह अब तक 154 मैचों में 4395 रन बना चुके हैं. जिसमें तीन शतक औऱ 33 अर्धशतक लगा चुके हैं. पिछले साल उन्होंने 13 मैचों में 442 रन बनाए थे जिसमें पांच अर्धशतक शामिल थे.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) का 13वां सीजन खटाई में पड़ता नजर आ रहा है. हालांकि बीसीसीआई (BCCI) ने फिलहाल की स्थिति को देखते हुए इसका आयोजन 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है, लेकिन बोर्ड अब भी आईपीएल आयोजित करने की हर तरह की संभावनाओं पर विचार कर रहा है. इस बीच इस तरह की खबरें भी आ रहीं हैं कि आईपीएल (IPL) आयोजित होता है तब भी विदेशी खिलाड़ी इससे दूरी बना सकते हैं. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने तो खिलाड़ियों से आईपीएल में खेलने को लेकर विचार तक करने के लिए कह दिया है. हालांकि अब ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर (David Warner) के खेमे से आईपीएल को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है.

15 अप्रैल तक टाल दिया गया है आईपीएल का आयोजन

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) का 13वां सीजन 29 मार्च से शुरू होना था. इसका पहला मुकाबला चार बार की चैंपियन रोहित शर्मा की अगुआई वाली मुंबई इंडियंस और तीन बार की विजेता महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच होना था. मगर दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते बीसीसीआई ने इसे 15 अप्रैल तक टाल दिया.

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के कारण सभी पुरुष और महिला पेशेवर टेनिस टूर्नामेंट सात जून तक स्थगित कर दिये गये हैं. एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) ने बुधवार को घोषणा की कि क्लेकोर्ट का पूरा सत्र पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नहीं होगा. इससे एक दिन पहले फ्रेंच ओपन (French Open) ने घोषणा की थी मई में क्लेकोर्ट पर होने वाला वर्ष का यह दूसरा ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट सितंबर तक स्थगित कर दिया गया है.

कई टूर्नामेंट पर पड़ेगा असर

एटीपी (ATP) और डब्ल्यूटीए (WTA) टूर ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह अप्रैल के आखिर या मई के शुरू तक टूर्नामेंटों को निलंबित कर सकता है. नयी घोषणा के बाद जिन टूर्नामेंट पर असर पड़ेगा में उनमें पुरुष और महिलाओं के मैड्रिड और रोम टूर्नामेंट भी शामिल हैं.

जिन टूर्नामेंट को रद्द किया गया है उनमें डब्ल्यूटीए के स्ट्रासबोर्ग (फ्रांस) और रबात (मोरक्को) तथा एटीपी के म्यूनिख, पुर्तगाल, जेनेवा और फ्रांस के लियोन में होने वाले टूर्नामेंट शामिल हैं. दोनों टूर ने कहा कि आगामी नोटिस तक रैंकिंग जस की तस बनी रहेगी और उसमें कोई बदलाव नहीं होगा. अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ ने अपने निचली श्रेणी के टूर्नामेंट को सात जून तक रद्द कर दिया है.

 पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण दशहत में हैं. इस महामारी के चलते खेल के मैदान भी सूने हाे गए हैं. अधिकतर टूर्नामेंट रद्द हो गए हैं, वहीं कुछ स्‍थगित कर दिए गए हैं. खिलाड़ी भी अपने अपने घर लौट रहे हैं. इसी वजह से न्‍यूजीलैंड की टीम भी ऑस्‍‍‍ट्रेलिया दौरे से स्‍वेदश लौट आई है. इसके बावजूद खिलाड़ी अभी अपने परिवार वालों से दूर ही रहेंगे. दरअसल इस महामारी के चलते सुरक्षा के लिहाज से उन्‍हें 14 दिनों के लिए आइसोलेशन पर रहने के लिए कहा गया है. कीवी टीम और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज होनी थी, मगर खाली स्‍टेडियम में पहला मैच करवाने के बाद अधिकारियों ने इस सीरीज को स्‍थगित कर दिया.

कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी के चलते पूरी दुनिया थम गई है. सभी की जिंदगी काफी प्रभावित हो रही है. चीन के वुहान शहर से शुरू हुए इस वायरस के कारण दुनिया भर में करीब सात हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. साथ ही दो लाख से अधिक लोग संक्रमित हो गए हैंं.

चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) ने दुनिया की रफ्तार मानो थाम सी दी है. खेलों की दुनिया पर भी इसका गहरा असर पड़ा है. छोटे से लेकर बड़े अधिकतर खेल आयोजन या तो स्‍थगित कर दिए गए हैं, या फिर उन्हें रद्द ही कर दिया गया है. इंडियन प्रीमियर लीग पर भी इसका असर देखने को मिला है, जिसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. यहां तक कि टोक्यो ओल‌िंपिक के आयोजन को लेकर भी संदेह के बादल मंडराने लगे हैं. पाकिस्तान सुपर लीग (Pakistan Super League) के सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबले भी स्‍थगित कर दिए गए हैं.

पाकिस्तान सुपर लीग (Pakistan Super League) के पिछले कुछ मुकाबले बिना दर्शकों के खाली स्टेडियम में खेले गए थे, लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते असर के बाद आखिरकार बाकी बचे तीनों मुकाबले स्‍थगित कर दिए गए. मगर अब राहत की खबर ये आई है कि पाकिस्तान सुपर लीग से जुड़े 128 लोगों के कोरोना वायरस की चपेट में आने का शक जताया जा रहा था, उन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

सभी की रिपोर्ट निगेटिव - पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) ने ये खुलासा किया था कि पीएसएल से जुड़े रीब 128 लोगों का कोविड-19 (Covid-19) टेस्ट किया गया था. खास बात ये है कि इन 128 लोगों में कई खिलाड़ी भी शामिल हैं. अब इसकी रिपोर्ट आ गई है. पीसीबी के चीफ एग्जीक्यूटिव वसीम खान ने बताया कि सभी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है और हम खुश हैं कि ये सभी लोग अपने-अपने परिवारों के पास लौट गए हैं. 

भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने कहा है कि कोरोना वायरस से लड़ने की इस मुश्किल जंग में सभी लोगों को जिम्मेदार होने की जरूरत है. कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर में करीब आठ हजार लोगों की जान जा चुकी है, जबकि दो लाख से अधिक लोग इसके संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. इस वायरस की वजह से दुनियाभर में खेल आयोजनों को स्‍थगित या रद्द कर दिया गया है. अश्विन ने कहा है कि लोगों को एकजुट होकर इस दुश्मन से लड़ना चाहिए.

अनुशासन की कमी
रविचंद्रन अश्विन ने भारत ऐसा देश हो सकता है जहां ये वायरस बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां आत्म अनुशासन की काफी कमी है. हम सभी का दुश्मन एक ही है, जिसे देखा नहीं जा सकता. इसे लेकर घबराहट भी है, लेकिन नजरअंदाजी भी कम नहीं है. भारत जैसे देश में आपको वायरस से बचने के लिए थोड़ी किस्मत की भी जरूरत होती है.

ऑस्‍ट्रेलिया (Australia) की घरेलू लीग शेफील्ड शील्ड (Sheffield Shield) के विजेता का ऐलान कर दिया गया है. दिलचस्प बात है कि न तो इसका नतीजा फाइनल से निकला और न ही टॉस से. कोरोना वायरस के चलते शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट के फाइनल को रद कर दिया गया है, जिसके बाद न्यू साउथ वेल्स को अंक तालिका में टॉप पर रहने का इनाम विजेता ट्रॉफी के रूप में मिला. टूर्नामेंट में एक दौर का खेल बाकी था, लेकिन ऑस्‍ट्रेलिया ने अपने यहां सभी खेल गतिविधियों को बंद करने का फैसला किया. अंक तालिका में दूसरे स्थान पर विक्टोरिया की टीम काबिज थी जो न्यू साउथ वेल्स से 12 अंक पीछे थी. खास बात है कि ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ, मिचेल स्टार्क, पैट कमिंस और नाथन लायन साउथ वेल्स के लिए ही खेलते हैं.

खिताबी मुकाबला खेलने की संभावना नहीं थी - क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया (Cricket Australia) के चीफ एग्जीक्यूटिव केविन रॉबटर्स ने कहा कि ऐसे में जबकि 27 मार्च को शेफील्ड शील्ड (Sheffield Shield) टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले के आयोजन की कोई संभावना नहीं थी तो एकमत से न्यू साउथ वेल्स को विजेता चुनने का ऐलान किया गया. उन्होंने कहा कि नौ दौर के मुकाबलों के बाद न्यू साउथ वेल्स की टीम ने बड़ी बढ़त ले रखी थी. ऐसे में इस सीजन को बिना किसी विजेता के खत्म करने से अच्छा तरीका बेहतर साबित हुई टीम को ट्रॉफी देने का था, जिसे सर्वसम्मति से मान लिया गया.

 कोरोना वायरस के चलते इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन पर रद्द होने की तलवार लटक गई है. बीसीसीआई ने 29 मार्च से प्रस्तावित सीजन को पहले ही 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है. अब सोमवार को आठों फ्रेंचाइजियों के बीच हुई अहम बैठक में भी कोई नतीजा नहीं निकल सका, जिसके बाद टूर्नामेंट के रद्द होने की आशंका बढ़ गई है. कोरोना वायरस के चलते भारत और साउथ अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज भी रद्द कर दी गई है. अब आईपीएल के आगामी सीजन को लेकर आठों फ्रेंचाइजियों ने बड़ा कदम उठाया है.

अगले आदेश तक प्री टूर्नामेंट कैंप रद्द - दरअसल, फ्रेंचाइजियों ने अपने सभी खिलाड़ियों को छुट्टी दे दी है. फ्रेंचाइजियों ने प्री टूर्नामेंट कैंप अगले आदेश तक रद्द कर दिए हैं. डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट के अनुसार, विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 21 मार्च से शुरू होने वाले अपने कैंप को रद्द्द कर दिया है. गत चैंपियन और आईपीएल इतिहास की सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस, तीन बार की विजेता चेन्नई सुपरकिंग्स और दो बार की चैंपियन कोलकाता नाइटराइडर्स ने भी ऐसा ही किया है.
 

कपिल देव... एक ऐसा जादुई कप्तान जिसने भारत में क्रिकेट को एक अलग और खास जगह दिलाई. कपिल देव की कप्तानी में ही भारत ने पहली बार विश्व विजेता का ताज पहना. कपिल देव की अगुवाई में ही टीम इंडिया ने साल 1983 में वेस्टइंडीज जैसी दिग्गजों से भरी टीम को वर्ल्ड कप फाइनल में मात दी और लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीती. हालांकि वर्ल्ड कप जीतने के 17 साल बाद इसी विश्व विजेता कप्तान पर एक ऐसा आरोप लगा, जिसके बाद कपिल देव इतने आहत हुए कि उन्होंने आत्महत्या तक की बात कह डाली थी.


कपिल देव पर लगा था फिक्सिंग का आरोप
साल 2000, जुलाई के महीने में कपिल देव पर पूर्व ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर ने मैच फिक्सिंग का आरोप लगा था. मनोज प्रभाकर ने सनसनीखेज आरोप लगाते हुए दावा किया था कि साल 1994 में कपिल देव ने उन्हें घूस देने की कोशिश की थी. इस आरोप के दौरान कपिल देव टीम इंडिया के कोच थे. प्रभाकर के आरोपों के बाद कपिल देव पर मीडिया, राजनेताओं ने दबाव बनाया और उन्हें टीम इंडिया के कोच का पद छोड़ना पड़ा. इस मामले की जब सीबीआई जांच हुई तो कपिल देव को बेकसूर पाया गया और प्रभाकर का दावा गलत साबित हुआ. सीबीआई ने मनोज प्रभाकर ही मैच फिक्सिंग का दोषी पाया. 

 

हाल ही में क्रिकेट को अलविदा कहने वाले भारतीय ओपनर वसीम जाफर (Wasim Jaffer) ने टीम इंडिया के दो दिग्गजों राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) और वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) काे लेकर बड़ा बयान दिया है. वसीम जाफर ने कहा है कि मौजूदा दौर में क्रिकेटरों को सम्मान और पहचान तभी मिलती है जब वे तीनों प्रारूपों में सफल होते हैं. जाफर ने क्रिकेट डाॅटकाॅम से कहा, ‘आपको तभी पहचान और सम्मान मिलेगा जब आप तीनों प्रारूपों में कामयाब हैं. मैं यह नहीं कहता कि चेतेश्वर पुजारा का सम्मान नहीं है लेकिन वह सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलता है, कोई दूसरा प्रारूप नहीं. अब समय बदल गया है. मेरे समय में भी राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण जैसे खिलाड़ियों को उनका श्रेय नहीं मिला.’

तीनों प्रारूपों में फिट खिलाड़ी को ही मिलती है पहचान
वसीम जाफर (Wasim Jaffer) के अनुसार आज का समय ऐसे खिलाड़ियों का है जो तीनों प्रारूपों में अपने को ढाल सकते हैं. उन्होंने कहा, 'कोई भी खिलाड़ी किसी एक प्रारूप को खेलकर नहीं टिक सकता. आपको तभी पहचान और सम्मान मिलता है जब आप तीनों प्रारूपों में फिट होते हैं. मैं ये नहीं कह रहा हूं कि चेतेश्वर पुजारा का सम्मान नहीं है, लेकिन स्वाभाविक रूप से वो सिर्फ टेस्ट क्रिकेट खेलेंगे, कोई और प्रारूप नहीं.'

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड  के बीच सिडनी वनडे कोरोना वायरस  के खतरे को देखते हुए खाली स्टेडियम में आयोजित किया गया था. इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 71 रन की जोरदार जीत दर्ज की थी. हालांकि मैच की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल भी हुईं, जिसमें दोनों टीमों के खिलाड़ी दर्शक दीर्घा में जाकर कुर्सियों के नीचे गेंद तलाशते नजर आ रहे थे. हालांकि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते ये सीरीज रद्द कर दी गई. अब खाली स्टेडियम में मैच आयोजित किए जाने को लेकर ऑस्ट्रेलियाई के दिग्गज बल्लेबाज ने बड़ा बयान दिया है.
भीड़ की जरूरत नहीं
दरअसल, ऑस्ट्रेलिया (Australia) के पूर्व क्रिकेटर इयान चैपल (Ian Chappell) ने कहा है कि खिलाड़ियों को भीड़ की जरूरत नहीं होती. चैपल ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो से कहा, ‘मेरा मानना है कि एक खिलाड़ी को अच्छे प्रदर्शन के लिए भीड़ की जरूरत नहीं है. करीबी मुकाबलों का रोमांच ही इसके लिए काफी है. चौकों-छक्कों के बीच एससीजी पर खामोशी छाई हुई थी. ऐसे माहौल में खेल का मजा लेकर अच्छा लगा जहां आप अपने आपको सोचते हुए सुन सकते हैं.’

विश्व युद्ध से भी बुरे दौर में पहुंच गए  - इयान चैपल (Ian Chappell) ने साथ ही कहा कि लगभग सभी क्रिकेट मैचों का रद्द होना पहली बार हुआ है. इससे हम दो विश्व युद्धों वाले बुरे दौर में पहुंच गए लगते हैं.  चैपल ने कहा, 'साल 1914 की शुरुआत में प्रथम विश्व युद्ध के चलते भी टेस्ट मैच निलंबित कर दिए गए थे. ये निलंबन 1920 तक जारी रहा था. इसके बाद दूसरे विश्व युद्ध के दौरान भी अगस्त 1939 से लेकर मार्च 1946 तक ऐसा ही किया गया.'
 

भारतीय टीम (Indian Team) के टेस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) इन दिनों अपनी बल्लेबाजी को लेकर सुर्खियों में हैं. या यूं कहा जाए कि अपनी धीमी बल्लेबाजी को लेकर. न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ वेलिंगटन टेस्ट के बाद तो भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के सब्र का बांध भी टूट गया था और उन्होंने सार्वजनिक रूप से पुजारा की धीमी बल्लेबाजी पर सवाल खड़े कर दिए थे. दरअसल, इस मैच में पुजारा ने पहली पारी में 42 गेंद पर 11 रन बनाए थे, जबकि दूसरी पारी में 81 गेंद पर 11 रनों की पारी खेली ‌थी. यहां तक कि क्राइस्टचर्च में खेले गए दूसरे टेस्ट में भी पुजारा ने 54 रनों के लिए 140 और 24 रनों के लिए 88 गेंदें खेली ‌थीं. अब इस मामले में पुजारा का दर्द छलक आया है.

चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की मौजूदगी में सौराष्ट्र (Saurashtra) की टीम ने बंगाल (Bengal) को हराकर पहली बार रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) खिताब अपने नाम किया. इस मैच में पुजारा ने एक बार फिर धीमी, लेकिन अहम पारी खेली. पुजारा ने 237 गेंद पर 66 रन बनाए थे. पुजारा ने खुलासा किया कि रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने के बाद टीम ने शानदार तरीके से इसका जश्न मनाया. शाम को पार्टी की गई और फिर अगले दिन वो फिल्म भी देखने गए.

 

कोरोना वायरस (Corona Virus ) से संक्रमित लोगों के भारत में 111 मामले सामने आ चुके हैं. देश में दो लोगों की जान इस महामारी ने ली है. चीन (China) के वुहान (Wuhan) से निकले इस वायरस ने दुनियाभर में खौफ का माहौल बना रखा है. ऑस्ट्रेलिया (Australia) में भी इससे संक्रमित लोगों के 156 मामले सामने आए हैं. यहां तक कि दुनियाभर में खेल आयोजनों पर भी इसका असर देखने को मिला है. हाल ही में इसके चलते ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड (Australia vs New Zealand) के बीच खेली जा रही वनडे सीरीज भी रद्द कर दी गई. मगर अब इस वायरस से निपटने के उपायों को लेकर ऑस्ट्रेलियाई सरकार अपने ही लोगों के निशाने पर आ गई है.

14 दिन तक सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा - ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने इस हफ्ते ऐलान किया था कि जो लोग भी दूसरे देशों से ऑस्ट्रेलिया (Australia) आ रहे हैं, उन्हें 14 दिन तक सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके. अब ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के ओपनर डेविड वॉर्नर (David Warner) और एरॉन फिंच (Aaron Finch) ने इस पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

बड़ा सवाल : कैसे पता चलेगा कि सेल्फ आइसोलेशन हुआ है या नहीं?

पांच बार के चैंपियन और स्टार चेस प्लेयर विश्वनाथन आनंद  भी कोरोना वायरस से बचने की जद्दोजहद में जुटे हैं. एक शतरंज टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए जर्मनी गए विश्वनाथन आनंद वहीं फंस गए हैं. उन्हें सोमवार 16 मार्च को भारत लौटना था, लेकिन अब उनकी वापसी इस महीने के अंत तक के लिए टल गई है. तब तक के लिए आनंद ने खुद को सेल्फ आइसोलेशन में रखा है. 50 वर्षीय विश्वनाथन आनंद फरवरी में जर्मनी पहुंच गए थे. फिलहाल वह परिवार के साथ वीडियो कॉलिंग करके और इंटरनेट पर दोस्तों के साथ बातें करके समय बिता रहे हैं. पहली बार अलग-थलग रहने पर मजबूर होना पड़ा - विश्वनाथन आनंद  ने कहा है कि उनके लिए ये अनोखा अनुभव है. आनंद के अनुसार, 'जिंदगी में पहली बार मुझे अलग-थलग रहने पर मजबूर होना पड़ रहा है. ये बिल्कुल अलग तरह का अनुभव है. मेरे दिन का सबसे अहम हिस्सा वीडियो कॉल पर बेटे अखिल और पतनी अरुणा से बात करने का होता है. ऐसा करके हमारे चेहरे पर खुशियां बिखर जाती है.' जर्मनी में कोरोना वायरस का पहला मामला 27 जनवरी 2020 को सामने आया था. मगर फरवरी में इसकी संख्या बढ़ती गई.

दो बार वॉक और इंटरनेट पर दोस्तों से बात...

बढ़ते मामलों के बाद जर्मनी ने कोरोना वायरस (Corona Virus) को देश में फैलने से रोकने के लिए फ्रांस, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, डेनमार्क और लक्जमबर्ग से लगी अपनी सीमाओं पर सख्ती बढ़ा दी है. विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) ने कहा, 'मैं दिन में दो बार वॉक करने जाता हूं और इंटरनेट पर दोस्तों से बातें करता हूं. अगर इस दौरान मैं किसी से मिलता हूं तो ये सुनिश्चित करता हूं कि हमारे बीच कुछ मीटर की दूरी बनी रहे.'

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) की तर्ज पर कुछ समय पहले शुरू हुआ पाकिस्तान सुपर  लीग ( Pakistan Super League ) भी अब लोकप्रिय होने लगा है. पहली बार पाकिस्तान अपने घर में  इस लीग का पूरा सीजन करवा रहा है. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्पिनर ब्रैड हॉग (Brad Hogg) लंबे समय से आईपीएल (IPL) से जुड़े हुए हैं. वहीं उन्होंने पीएसएल (PSL) को भी बढ़ते हुए देखा है. इसी आधार पर हॉग ने दोनों लीग को खासियत और लोकप्रियता के आधार पर नंबर दिए. दरअसल ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ट्विटर पर सवाल जवाब के सेशन में शामिल थे. इसी  दौरान एक फैन ने दोनों लीग को नंबर देने के लिए कहा था. हॉग ने दोनों  लीग को 10 में से नौ अंक दिए. उन्होंने पाकिस्तान में क्रिकेट को वापस लाने और इस खेल में लोगों की रूचि बढ़ाने के लिए पीएसएल की तारीफ की. उसी समय उन्होंने  दुनियाभर में अधिक लोकप्रिय होने और बड़ी संख्या में दर्शक जुटाने के लिए आईपीएल की तारीफ की.

दोनों लीग पर कोरोना वायरस की मार - हालांकि इस साल दोनों ही लीग कोरोना वायरस  की चपेट में आ गए. जहां आईपीएल के 13वें सीजन को 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. वहीं पीएसएल के समय को भी घटा दिया गया है  और अब सेमीफाइनल मुकाबले डबल हेडर में खेले जाएंगे. लीग पर वायरस का प्रभाव पड़ने से पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर  काफी निराश भी हैं. उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा था कि काफी लंबे समय बाद पाकिस्तान में क्रिकेट की वापसी हुई ‌थी. देश में पीएसएल का पूरा सीजन पहली बार हो रहा था, मगर इस खतरे की वजह से लीग प्रभावित हो गई. विदेशी खिलाड़ी वापस जा चुके हैं. मैच भी खाली स्टेडियम में हो रहे हैं.

टीम जब मैदान पर विजय हासिल  करके अपने ड्रेसिंग रूम में लौटती तो वहां पर जश्न का माहौल  होता है, मगर दिल्ली यूनाइटेड (Delhi United) की टीम जब अपने ड्रेसिंग रूम में लौटी तो वहां की स्थिति होश उड़ाने वाली थी. ड्रेसिंग रूम से उनका सब कुछ चोरी हो गया था. मोबाइल फोन, पर्स, बैग, कपड़े और यहां तक कि च्यूइंग गम पर भी चोरों ने हाथ साफ कर दिया था. यह मामला शुक्रवार का है. जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम (Jawaharlal Nehru Stadium) में दिल्ली फुटबॉल लीग में दिल्ली यूनाइटेड और सिटी एफसी के बीच मुकाबला खेला गया और इस मुकाबले में दिल्ली की टीम ने एकतरफा अंदाज में 2-0 से जीत दर्ज की. मगर इस जीत की खुशी उनकी ज्यादा देर तक नहीं रह गई. ड्रेसिंग रूम में पहुंचते ही सबके चेहरे  का रंग उड़ गया.  देश में सबसे अहम स्टेडियम में इस प्रकार की घटना से हर कोई हैरान है.

दिल्ली यूनाइटेड के कोच आयुष भुट्टन ने बताया मैच दोपहर सवा तीन बजे शुरू होना था. मगर शुरू होने में 15-20 मिनट की देरी हो गई. उन्होंने बताया कि मैदान पर आने से पहले ड्रेसिंग रूम में ताला लगा दिया  गया था और चाबी टीम के मैनेजर के पास थी. जो पूरे मैच के दौरान डगआउट में बैठे थे.

कोरोना वायरस के कारण सभी खिलाड़ी मैदान से दूर हैं. मैदान से दूर वह अपने परिवार और खास दोस्तों के साथ यह समय बिता रहे हैं. वहीं पूर्व भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह और वेस्टइंडीज के धाकड़ बल्लेबाज क्रिस गेल भी इस समय जमकर मस्ती कर रहे हैं. युवराज ने रविवार को क्रिस गेल का एक वीडियो शेयर किया. जिसमें कैरेबियाई बल्लेबाज हिंदी का एक डायलॉग बोलने की को‌शिश  करते नजर आ रहे हैं. मगर वह सही से नहीं बोल सके. जिसका वीडियो युवी ने सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया. इस वीडियो को शेयर करते हुए युवराज ने लिखा कि  कॉन्फिडेंस मेरा,कब्र बनेगी तेरी. अच्छा कहा काका!. दरअसल गेल को भी यही डायलॉग कहना था. युवराज सिंह  पिछले दिनों रोड़ सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज में इंडिया लीजेंड्स टीम का हिस्सा थे, मगर कोरोना वायरस के कारण सीरीज को स्‍‌थगित कर दिया गया. वहीं क्रिस गेल को नेपाल की एवरेस्ट प्रीमियर लीग में खेलना था, मगर कोरोना की मार से वह लीग भी नहीं बच पाई. इसके बाद उनकी नजर इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) पर थी, जिसका आगाज पहले 29 मार्च से होना था, मगर भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए  इसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है. गेल किंग्स इलेवन पंजाब का हिस्सा हैं.

अगले महीने हो सकता है आईपीएलआईपीएल (IPL) को टालने का फैसला बीसीसीआई ने दिल्ली स‌हित कर्नाटक और महाराष्ट्र राज्य में टूर्नामेंट के आयोजन से मना करने के बाद लिया गया. हालांकि अभी तक इस पर आशंका बनी हुई है कि आईपीएल का 13वां सत्र होगा भी या नहीं. हालांकि मुंबई में बीसीसीआई  और टीम मालिकों के बीच हुई मीटिंग में इस बात पर चर्चा हुई कि अगर आईपीएल का सीजन देरी से शुरू होता है तो इसे छोटा किया जा सकता है.कोराेना वायरस के कारण सिर्फ आईपीएल ही नहीं, बल्कि भारत और साउथ अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज भी रद्द हो  गई है. वहीं ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच चल रही सीरीज को भी रद्द करना पड़ा. क्रिकेट के अलावा काफी खेल पर भी इस महामारी का काफी असर पड़ा है.

चेन्नई के लोग कोरोनावायरस को लेकर जिस तरह की लापरवाही दिखा रहे हैं, भारत के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन उसे लेकर खासा निराश हैं. पूरे विश्व भर में फैली बीमारी कोरोनावायरस के कारण तमाम स्वास्थ एजेंसियों ने लोगों से आपस में दूरी बनाने को कहा है. अश्विन का कहना है कि तमिलनाडु के लोग इस चीज को मान नहीं रहे हैं, क्योंकि उनका मानना है कि गर्मी कोरोना वायरस के प्रभाव को अपने आप कम कर देगी.

चेन्नई में कोरोना का डर नहीं - अश्विन ने ट्वीट किया, 'मैं दूसरे तरीके से कहूं तो चेन्नई में अभी तक आपस में दूरी बनाने वाली बात पर अमल नहीं किया गया है. इसका एक कारण यह है कि लोगों को लगता है कि गर्मी इस बीमारी को कम कर देगी और उनका विश्वास है कि कुछ नहीं होगा.'

विराट कोहली ने की अपील - इससे पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने लोगों से इस बीमारी को लेकर सावधान रहने की अपील की है. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 15 अप्रैल तक स्थगित होने के बाद चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी टीम के कार्यक्रम को छोड़कर फैन्स से मिलते नजर आए थे.

पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो के होटलों में से एक होटल ने उन खबरों का खंडन किया है, जिसमें कहा गया था कि कोराना वायरस के खतरों से निपटने और इससे पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए रोनाल्डो अपने होटलों को अस्पतालों में बदलने जा रहे हैं. स्पेनिश अखबार मार्का ने कहा था कि रोनाल्डो ने अपने दो होटलों में से एक होटल को अस्पताल में बदलने का फैसला किया है, जिसमें कि कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की मदद की जा सके.

हालांकि लिस्बन में स्थित होटल के स्टाफ ने कहा है कि होटलों को अस्पताल में बदलने की किसी भी योजना से वे अवगत नहीं है. गोल डॉट कॉम ने होटल के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा, 'यह एक होटल है और यह अस्पताल बनने नहीं जा रहा है. यह प्रतिदिन एक जैसा ही है और यह होटल ही बना रहेगा. हमें प्रेस की ओर से फोन भी आया था. मैं उनके अच्छे दिन की कामना करता हूं.'पुर्तगाल में कोरोना वायरस के अब तक 200 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है. इससे पहले, स्पेन स्थित मार्का डेली ने कहा था कि रियल मेड्रिड के पूर्व खिलाड़ी रोनाल्डो अस्पतालों में कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की हरसंभव मदद मुहैया कराएंगे. रोनाल्डो के जुवेंतस टीम साथी खिलाड़ी डिफेंडर डेनिएल रुगानी भी कोरोना वायरस की चपेट में हैं. डिफेंडर डेनिएल रुगानी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और रोनाल्डो ने उन्हें भी अपना हरसंभव मदद देने का भरोसा दिया है.

ग्रीस के युवा स्टार टेनिस खिलाड़ी स्टेफानोस सितसिपास ने दुबई ड्यूटी फ्री चैंपियनशिप के दूसरे राउंड में प्रवेश कर लिया है। सितसिपास ने मेंस सिंगल्स के पहले राउंड के मुकाबले में स्पेन के पाब्लो कारेनो बुस्ता को 7-6(1), 6-1 से मात देकर दूसरे राउंड में अपनी जगह पक्की की है। दोनों खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला एक घंटा 34 मिनट तक चला। अब दूसरे राउंड में सितसिपास का सामना एलेक्जेंडर बुबलिक से होगा। जिन्होंने वर्ल्ड नंबर-47 हुरकाक्ज को 76 मिनट तक चले मैच में 6-2, 7-5 से हराया। 

मैच के बाद सितसिपास ने कहा, मैं इस बात से खुश हूं कि मैं लंबे समय से दो सेट में मैच जीतते आ रहा हूं। मैं कोर्ट पर अतिरिक्त समय नहीं बिता रहा, इसलिए इससे मुझे मदद मिलेगी। अगले मैच के अपने प्रतिद्वंद्वी पर सितसिपास ने कहा, बुब्लिक मुश्किल खिलाड़ी हैं। वह कोर्ट पर अजीब तरह की चीजें करते हैं। मुझे वहां अपना काम करना होगा, जिस तरह से मैं करता आ रहा हूं। अभी तक मैं अच्छा कर रहा हूं। मुझे यह प्रदर्शन जारी रखना होगा।

विश्व चैंपियन भारतीय महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु को आंध्र प्रदेश सरकार की एंटी-करप्शन हेल्पलाइन की ब्रांड एम्बेसडर नियुक्त किया गया है। सिंधु और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी की मौजूदगी में मंगलवार को यहां एंटी-करप्शन टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया। इस अवसर पर भ्रष्टाचार रोको शीर्षक से एक वीडियो भी जारी किया गया, जिसमें लोगों को भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी आंखें और कान खोले रखने को कहा गया।

सिंधु आंध्र प्रदेश में डिप्टी कलेक्टर हैं। 2016 में रियो ओलंपिक में रजत पदक जीतने के बाद राज्य की तत्कालीन सरकार ने उन्हें तीन करोड़ रुपये नकद पुरस्कार, अमरावती में एक आवास और ग्रुप वन अफसर की नौकरी देने की घोषणा की थी।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के उप कप्तान हरमनप्रीत सिंह ने कहा है कि टीम को आगामी टोक्यो ओलंपिक से पहले कुछ क्षेत्रों पर खास ध्यान देने की जरूरत है। भारतीय टीम ने एफआईएच प्रो लीग के पिछले मैच में मौजूदा चैंपियन आस्ट्रेलिया को पेनाल्टी शूट आउट में 3-1 से हराया था। इससे पहले टीम को 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था। हरमनप्रीत को आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला था।

हरमनप्रीत ने कहा, विश्व की टॉप-3 टीमों के खिलाफ अच्छा परिणाम था और इससे पूरी टीम का आत्मविश्चवास बढ़ा है। लेकिन अभी भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं, जोकि हमारे लिए चिंता का सबब बने हुए हैं। आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के बाद जब टीम बेंगलुरू के साई सेंटर में अभ्यास के लिए एकजुट हुई है तो हमने अपने बेसिक्स पर ध्यान देने का फैसला किया है।उपकप्तान का मानना है कि टीम को सभी चार क्वार्टरों में निरंतरता बनाए रखने की जरूरत है और साथ ही गोल स्कोरिंग में सुधार करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, इन मैचों में क्वार्टरों के बीच धीमा पड़ने के कारण हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा है। यह एक ऐसा क्षेत्र हैं, जिसपर ओलंपिक खेलों से पहले सुधार करने की जरूरत है। कोच का भी मानना है कि सर्किल पर पेनाल्टी में हम और भी बेहतर कर सकते हैं। इसके अलावा पेनाल्टी कॉर्नर पर भी ज्यादा गोल खाने से बच सकते हैं।

जर्मनी के फुटबाल क्लब बायर्न म्यूनिख ने चैम्पियंस लीग के मैच मे इंग्लिश क्लब चेल्सी को 3-0 से करारी शिकस्त देते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह लगभग पक्की कर ली है। यह दोनों टीमें 2012 में चैम्पियंस लीग के फाइनल में भिड़ी थीं जहां चेल्सी ने अपना पहला खिताब जीता था। लेकिन इस बार जर्मन क्लब ने अंतिम-16 के पहले चरण के मैच में अपनी बादशाहत को पहले मिनट से ही दिखाया। स्टैमफोर्ड ब्रिज पर खेले गए इस मैच में पहले हाफ में एक भी गोल नहीं हो सका। यहां चेल्सी के गोलकीपर विलि काबालेरो ने कुछ अच्छे बचाव किए। थॉमस मुलर ने पहले ही मिनट में एक प्रयास किया, जिसे अर्जेटीना के गोलकीपर ने निरस्त कर दिया। इसके बाद 15वें मिनट मे उन्होंने रोबर्ट लेवांडोव्स्की के शॉट को ब्लॉक कर चेल्सी को राहत दी। 30वें मिनट में इस गोलकीपर ने लेवांडोव्स्की को एक बार फिर रोका और कुछ देर बाद मुलर के एक और प्रयास को विफल कर चेल्सी को गोल खाने से लगातार बचाए रखा।

इस बीच हालांकि इंग्लिश क्लब ने गोल करने के ना के बराबर मौके बनाए थे। 43वें मिनट में मार्कोस अलोंसो ने एक करीबी मौका जरूर बनाया लेकिन बायर्न के गोलकीपर मैनुएल नेयुर ने कॉर्नर किक को क्लीयर करने में सफलता हासिल की। दूसरे हाफ की शुरुआत जिस तरह से हुई थी उससे लग रहा था कि जर्मन क्लब जल्द ही स्कोरशीट पर खाता खोल लेगा। इस टीम ने चार मिनट के अंतर में 2-0 की बढ़त ले ली। यह दोनों गोल सर्जी गनबैरी ने किए जिसमें लेवांडोव्स्की ने उनकी मदद की।

AUS Vs NZ: आस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए अपनी टीम का ऐलान कर दिया है. चयनकर्ताओं ने टीम में कोई बदलाव नहीं किया है और वही टीम चुनी है जो इस समय दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेल रही है. कंधे की चोट से जूझ रहे झाए रिचर्डसन को हालांकि न्यूजीलैंड दौर के लिए चुनी गई 14 सदस्यीय टीम में जगह नहीं मिली है.रिचर्डसन को टी-20 टीम में जगह मिली थी. वह दक्षिण अफ्रीका में वनडे टीम के साथ ही रहेंगे. रिचर्डसन ने बीते 11 महीनों से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम नहीं रखा है. उन्हें पिछले साल मार्च में पाकिस्तान के खिलाफ खेली गई सीरीज में कंधे में चोट लगी थी.टीम के मुख्य चयनकर्ता ट्रेवर होंस ने कहा, "झाए अच्छा कर रहे हैं, जैसा हमने बिग बैश में देखा. वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई टी-20 सीरीज में वापस आए थे और टीम में जगह बनाने के लिए मेहनत कर रहे थे."

उन्होंने कहा, "हम लकी हैं कि हमारे पास प्रतिभाशाली तेज गेंदबाजों का एक पूल है. झाए ने कड़ी मेहनत के बाद यह जगह हासिल की है. उन्हें दक्षिण अफ्रीका में रखने से हमें एक विकल्प मिलेगा." आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज 29 फरवरी से शुरू हो रही है. इसके बाद आस्ट्रेलिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ 13 मार्च से वनडे सीरीज खेलनी है.

आस्ट्रेलियाई टीम : एरॉन फिंच (कप्तान), एश्टन अगर, एलेक्स कैरी (उपकप्तान), पैट कमिंस (उपकप्तान), जोश हेजलवुड, मार्नस लाबुशैन, मिशेल मार्श, केन रिचर्डसन, डी आर्सी शॉर्ट, स्टीव स्मिथ, मिशेल स्टार्क, मैथ्यू वेड, डेविड वार्नर, एडम जाम्पा.

ऑस्ट्रेलिया के स्टार खिलाड़ी स्टीव स्मिथ के फैंस के लिए बहुत अच्छी खबर है. स्टीव स्मिथ इंग्लैंड की नई क्रिकेट लीग 'द हंड्रेड' में वेल्स फायर टीम की कमान संभालेंगे. इस बात की जानकारी वेल्स फायर टीम की ओर से दी गई है. 'द हंड्रेड' लीग का पहला सीजन जुलाई 2020 में खेला जाना है. स्मिथ को गेंद से छेड़छाड़ करने के मामले में दो साल पहले आस्ट्रेलिया की कप्तानी से हटा दिया गया था.

स्मिथ उस टीम की अगुवाई करेंगे जिसमें आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क, इंग्लैंड की विश्व कप विजेता टीम के सदस्य जॉनी बेयरस्टो और प्लंकेट शामिल हैं. इन स्टार खिलाड़ियों के अलावा इस टीम में टॉम बैंटन और वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज रवि रामपाल भी शामिल हैं.

कप्तानी मिलने के बाद स्मिथ ने कहा, ''हंड्रेड के पहले साल में वेल्स फायर की कप्तानी का न्योता मिलना सम्मान है. हमारी टीम काफी मजबूत दिख रही है और उसमें ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने पिछले कुछ सालों में अंतरराष्ट्रीय और घरेलू स्तर पर दबदबा बनाया.'' वेल्स के कोच गैरी कर्स्टन हैं.

आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप 2020 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने जीत से आगाज किया है. वेस्टइंडीज के खिलाफ वॉर्मअप मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को रोमांचक मुकाबले में 2 विकेट से हरा दिया. भारत की टीम महज 107 रन बनाने के बावजूद ये मैच जीत गई. वेस्टइंडीज की टीम एक समय एकतरफा अंदाज में जीत की ओर बढ़ रही थी लेकिन आखिरी ओवर में पूनम यादव ने 3 गेंदों में 2 विकेट लेकर मैच का पासा ही पलट दिया.

भारत की बल्लेबाजी फ्लॉप
ब्रिसबेन के एलन बॉर्डर फील्ड पर खेले जा रहे मैच में टीम इंडिया की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और उसने 19 गेंदों के अंदर अपने 3 विकेट गंवा दिये. स्मृति मंधाना दूसरे ही ओवर में 4 रन बनाकर आउट हो गईं. जेमिमाह रोड्रिग्ज तो दूसरी ही गेंद पर निपट गईं. इसके बाद शेफाली वर्मा भी 12 रन बनाकर पैवेलियन लौट गई. कप्तान हरमनप्रीत कौर और दीप्ति शर्मा ने साझेदारी करने की कोशिश की लेकिन, दोनों खुलकर नहीं खेल सकीं. हरमनप्रीत 11वें ओवर में 11 रन बनाकर आउट हो गईं. वेदा कृष्णमूर्ति 5 और दीप्ति शर्मा 21 रन बनाकर आउट हो गईं. पूजा वस्त्रकार ने 13 और तानिया भाटिया ने 10 रन बनाए. आखिर में शिखा पांडे ने कुछ अच्छे शॉट लगाकर भारत का स्कोर 100 के पार पहुंचाया. वो 16 गेंदों में 24 रन बनाकर नाबाद रहीं. 

कंबाला रेस (भैंसों की परंपरागत दौड़) में 100 मीटर की दूरी महज 9.55 सेकंड में पूरी कर तहलका मचा देने वाले श्रीनिवास गौड़ा का रिकाॅर्ड एक हफ्ते भी कायम नहीं रह सका. निशांत शेट्टी  ने भैंसों के साथ 9.51 सेकंड में 100 मीटर दौड़कर उनका ये कीर्तिमान ध्वस्त कर दिया है. निशांत ने 13.68 सेकंड में 143 मीटर की दूरी तय की. उनका ये प्रदर्शन श्रीनिवास गौड़ा से 4 सेकंड बेहतर रहा. जबकि सौ मीटर रेस अकेले पूरी करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दुनिया के सबसे तेज इंसान और जमैकाई धावक यूसेन बोल्ट के नाम है, जिन्होंने 100 मीटर की दूरी 9.58 सेकंड में पूरी की थी.  

श्रीनिवास गौड़ा ने साई ट्रायल में हिस्सा लेने से किया इनकार - बाजागोली जोगीबेट्टू के निशांत शेट्टी ने रविवार को वेन्नूर में ये नया रिकॉर्ड बनाया. हाल ही में कंबाला रेस में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले श्रीनिवास गौड़ा को मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा ने सम्मानित किया था. साथ ही राज्य सरकार ने उन्हें 3 लाख रुपये बतौर पुरस्कार देने का भी ऐलान किया था. यहां तक कि खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने श्रीनिवास गौड़ा को भारतीय खेल प्राधिकरण के बेंगलुरु स्थित सेंटर पर ट्रायल देने को कहा था. हालांकि गौड़ा ने ट्रायल की बजाय दस मार्च को कंबाला रेस में दूसरी बार दौड़ने को तरजीह देने का फैसला किया. 

श्रीनिवास गौड़ा ने खुद ही बताई थी ट्रैक पर रेसिंग की सच्चाई - कंबाला कर्नाटक में होने वाली वार्षिक दौड़ प्रतियोगिता है, जिसमें प्रतियोगी भैंसों के साथ 143 मीटर की दौड़ पूरी करते हैं. इससे पहले, श्रीनिवास गौड़ा ने कंबाला रेस और ट्रैक रेस दोनों में फर्क बताया था. गौड़ा ने कहा था कि कंबाला रेस में हील्स का अहम रोल होता है, जबकि ट्रैक रेस में पैरों की उंगली का रोल अहम होता है. उन्होंने बताया कि कंबाला रेस में सिर्फ जॉकी ही नहीं, बल्कि भैसों का भी अहम रोल होता है. वहीं  ट्रैक रेस में ऐसा कुछ नहीं होता. 

 वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज ओशाने थॉमस की कार का एक्सीडेंट हो गया है, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. खबरों के अनुसार, उनकी हालत स्थिर है. ओशाने ने वेस्टइंडीज के लिए अपना पिछला मैच 12 जनवरी 2020 को आयरलैंड के खिलाफ खेला था. 23 साल के इस तेज गेंदबाज ने वेस्टइंडीज के लिए 20 वनडे और 10 टी20 मैच खेले हैं. वनडे में उनके नाम 27 जबकि टी20 प्रारूप में 9 विकेट दर्ज हैं. वेस्टइंडीज प्लेयर्स एसोसिएशन ने उनके जल्द ठीक होने की कामना की है. 

टक्कर लगने के बाद पलट गई थॉमस की कार
वेस्टइंडीज प्लेयर्स एसोसिएशन के अनुसार, 'हमारी संवेदनाएं ओशाने थॉमस के साथ हैं. हम उनके जल्दी ठीक होने की कामना करते हैं.' वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज टीनो बेस्ट ने भी थॉमस के जल्द ठीक होने की उम्मीद जताई है. दरअसल, ओशाने थॉमस रविवार रात को कार से जा रहे थे. हाईवे पर उनकी कार की दूसरी गाड़ी से टक्कर हो गई. जिसके बाद उनकी कार पलट गई. हालांकि अस्पताल ले जाते वक्त थॉमस होश में थे और प्रतिक्रिया व्यक्त कर पा रहे थे. 

एथेंस ओलिंपिक 2004  में राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़  ने निशानेबाजी में रजत पदक जीतकर इतिहास रचा था. यह किसी भी भारतीय का व्‍यक्तिगत स्‍पर्धा में पहला रजत पदक था. इससे पहले केडी जाधव, लिएंडर पेस और कर्णम मलेश्‍वरी ने कांस्‍य पदक जीत रखा था और राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने इस पदक को चांदी में बदला था. उन्‍होंने पुरुषों के डबल ट्रैप इवेंट में रजत पदक जीता था. उन्‍होंने 17 अगस्‍त 2004 को रजत जीता था. स्‍वतंत्रता दिवस का जश्‍न मना रहे देश को जब उनकी कामयाबी का पता चला तो खुशी दोगुनी हो गई.

2004 के एथेंस ओलिंपिक में राठौड़ ने न केवल भारत का पदक सूखा समाप्‍त किया बल्कि यह उस टूर्नामेंट में भारत का इकलौता पदक रहा. इन खेलों में सानामाचा चानू, कुंजारानी, अभिनव बिंद्रा और सुमा शिरुर जैसे खिलाड़ियों ने अच्‍छा प्रदर्शन किया लेकिन ये सभी फाइनल में पदक से दूर रह गए थे.

यह‍ निशानेबाजी की एक स्‍पर्धा है. इसमें निशानेबाज को एक सेकंड में हवा में जा रहे दो टारगेट पर निशाना लगाना होता है. जितने टारगेट पर निशाना लगता है उनके पॉइंट काउंट होते हैं. राठौड़ ने ओलिंपिक मेडल के अलावा दुनियाभर के कई टूर्नामेंट में कुल 25 मेडल अपने नाम किए. एथेंस ओलिंपिक से 2 साल पहले मैनचेस्‍टर कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स 2002 में उन्‍होंने इन खेलों का रिकॉर्ड बनाते हुए गोल्‍ड मेडल जीता था. उन्‍होंने 200 में से 192 निशाने लगाए थे. यह रिकॉर्ड आज भी बरकरार है.  

इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब अब जल्द ही वेस्टइंडीज में भी पांव पसारने जा रही है. किंग्स इलेवन पंजाब ने कैरेबियाई प्रीमियर लीग  की टीम सेंट लूसिया जूक्स को खरीदने की पूरी तैयारी कर ली है. अभिनेता शाहरुख खान की स्वामित्व वाली इंडियन प्रीमियर लीग की फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइटराइडर्स के बाद किंग्स इलेवन पंजाब दूसरी फ्रेंचाइजी होगी, जो कैरेबियाई प्रीमियर लीग की टीम खरीदेगी. कोलकाता नाइटराइडर्स ने ट्रिनबागो नाइट राइडर्स को खरीदा था. वर्ष 2013 में शुरू हुई कैरेबियाई प्रीमियर लीग दुनिया की स्थापित टी20 लीग में से एक है.  

नौ महीने से जारी थी कोशिशें
किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया ने पीटीआई से कहा, ‘हम कैरेबियाई प्रीमियर लीग का हिस्सा बनने के लिए करार पर हस्ताक्षर करने वाले हैं. हम सेंट लूसिया फ्रेंचाइजी को खरीद रहे हैं. ढांचा और कंपनी के नाम के बारे में जानकारी बीसीसीआई से स्वीकृति मिलने के बाद ही दी जाएगी.’ वाडिया ने साथ ही कहा, ‘मोहित बर्मन (सह मालिक) करार पर हस्ताक्षर के लिए फिलहाल वेस्टइंडीज में हैं. इस करार को संभव बनाने के लिए मैं विशेष तौर पर सेंट लूसिया के प्रधानमंत्री एलेन चेस्टनेट को धन्यवाद देना चाहता हूं. हम लगभग नौ महीनों से इस पर काम कर रहे थे.’ 

भारतीय हॉकी प्रेमियों के ‌लिए खुशखबरी आई है. साल 2021 का जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप भारत में खेला जाएगा. अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ ने सोमवार को घोषणा की कि भारत अगले साल होने वाले जूनियर पुरुष विश्व कप का मेजबान होगा. यह दूसरी बार है जब भारत इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की मेजबानी करेगा. इससे पहले 2016 में भी उत्तर प्रदेश के लखनऊ में इस टूर्नामेंट का आयोजन किया गया था और तब भारत चैंपियन बना था. वहीं, साल 2021 में जूनियर महिला हॉकी वर्ल्ड कप का आयोजन साउथ अफ्रीका में किया जाएगा.  

16 टीमें खिताब के लिए भिड़ेंगी - एफआईएच ने कहा कि यह प्रतियोगिता 2021 के अंत में खेली जाएगी लेकिन इसके आयोजन स्थल और असल तारीखों की घोषणा बाद में की जाएगी. जूनियर पुरुष विश्व कप  में 16 टीमें खिताब के लिए चुनौती पेश करेंगी जिसमें छह यूरोप, मेजबान भारत सहित चार एशिया, दो अफ्रीका, दो ओसियाना और दो अमेरिका से होंगी. भारत इससे पहले साल 2018 में सीनियर हॉकी वर्ल्ड कप की मेजबानी भी कर चुका है. जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप खिलाड़ियों को खुद को अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों के खिलाफ परखने का मौका देता है.

दो बार जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप जीत चुका है भारत - इन 16 टीमों में से छह यूरोपीय टीमें भारत में होने वाली इस प्रतियोगिता के लिए पहले ही क्वालीफाई कर चुकी हैं. इनमें जर्मनी, इंग्लैंड, नीदरलैंड, स्पेन, बेल्जियम और फ्रांस शामिल हैं. इन्होंने यूरोपीय महाद्वीपीय चैंपियनशिप के जरिए क्वालीफाई किया है जो 2019 में खेली गई. भारत ने 2016 में लखनऊ में फाइनल में बेल्जियम को 2-1 से हराकर खिताब जीता था. यह भारत का दूसरा एफआईएच जूनियर पुरुष विश्व कप खिताब था. इससे पहले भारतीय टीम ने साल 2001 में अर्जेंटीना को 6-1 से हराकर खिताब अपने नाम किया था.

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने हाल ही में पत्नी कायली को तलाक दिया था. मगर जीवन के इस घटनाक्रम ने उनके करियर पर किसी तरह का प्रभाव नहीं डाला है और अब वह नई नौकरी करने वाले हैं. माइकल क्लार्क ने 8 अगस्त 2015 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था, लेकिन इससे पहले उन्होंने साल 2015 में न केवल अपनी टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाया, बल्कि देश के लिए 245 वनडे में तकरीबन 45 की औसत से 7981 रन बनाए. वहीं 115 टेस्ट मैच में 49.10 की औसत से 8643 रन उनके बल्ले से निकले. हालांकि टी20 में उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा. क्लार्क ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 34 टी20 मैचों में सिर्फ एक अर्धशतक लगाया. 

लॉरी डैली के साथ स्पोर्ट्स ब्रेकफास्ट शो में आएंगे नजर
पिछले हफ्ते ही ये खबर आई थी कि माइकल क्लार्क ने पत्नी कायली से तलाक ले लिया है. और अब डेली टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, क्लार्क ने नई नौकरी भी तलाश ली है. खबरों के अनुसार, माइकल क्लार्क रग्बी लीग के दिग्गज रहे लॉरी डैली के साथ स्काई स्पोर्ट्स रेडियो का बिग स्पोर्ट्स ब्रेकफास्ट शो होस्ट करने जा रहे हैं. ब्रॉडकास्टिंग जगत के दिग्गज टेरी केनेडी के पिछले साल शो से हटने के बाद अब माइकल क्लार्क ये जिम्मेदारी संभालने जा रहे हैं. 

 

आयोजकों को बड़ी राहत देते हुए चीन ने आगामी मार्च में नई दिल्ली में होने वाले आईएसएसएफ वर्ल्ड कप से नाम वापस ले लिया है. इतना ही नहीं, चीन के बाद अब पाकिस्तान भी इस शूटिंग वर्ल्ड कप के लिए अपने खिलाड़ियों को नहीं भेजेगा. 15 मार्च से डॉ. कर्णी सिंह रेंज में शुरू हो रही इस प्रतियोगिता में राइफल, पिस्टल और शॉटगन तीनों स्पर्धाएं आयोजित की जाएंगी. कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए इस बात की संभावना कम ही थी कि विदेश मंत्रालय और स्वास्‍थ्य मंत्रालय चीनी खिलाड़ियों को वीजा देता, लेकिन उससे पहले ही चीन ने नाम वापस लेकर आयोजकों की मुश्किल आसान कर दी. 

'चीन ने अच्छा फैसला किया'
इस बारे में भारतीय राष्ट्रीय राइफल एसोसिएशन के अध्यक्ष रणइंदर सिंह ने कहा, 'प्रतियोगिता से नाम वापस लेने का फैसला पूरी तरह से चीन का है. इससे हमारा कोई लेना-देना नहीं है. मुझे लगता है कि ये अच्छा फैसला है. हालांकि हमारी ओर से चीन  के खिलाड़ियों के लिए होटल बुकिंग्स समेत अन्य व्यवस्‍था कर दी गई थीं.' वहीं पाकिस्तान के निशानेबाज भी दिल्ली नहीं आएंगे. बता दें कि भारत ने जब पिछला शूटिंग वर्ल्ड कप का आयोजन किया था, तब भारत सरकार ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को वीजा देने से इनकार कर दिया था.  पाकिस्तान का दावा-जर्मनी में ट्रेनिंग लेंगे निशानेबाज, इसलिए वर्ल्ड कप में नहीं खेल सकते पाकिस्तानने भी अपने निशानेबाजों को दिल्ली में होने वाले शूटिंग वर्ल्ड कप में हिस्सा न लेने देने का फैसला किया है. नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ पाकिस्तान के एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसीडेंट जावेद लोधी ने बताया कि हमारे तीन निशानेबाजों ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है और हम उनकी कोचिंग पर ध्यान दे रहे हैं. हमने जर्मनी में उनके लिए कोच तलाश लिया है, लेकिन वह मार्च से ही ट्रेनिंग शुरू कर सकेंगे. ऐसे में इस बात का कोई मतलब नहीं है कि हम ट्रेनिंग की बजाय अपने शूटरों को वर्ल्ड कप में खेलने भेज दें.  

70 मैचों में 362 टेस्ट विकेट लेने वाले आर अश्विन ने अबतक अपने करियर में जबर्दस्त प्रदर्शन किया है. वो अपने करियर में हर फॉर्मेट में एक हजार से ज्यादा विकेट ले चुके हैं. अश्विन ने ये कामयाबी अपनी सटीक लाइन-लेंथ और गेंदबाजी में विविधता के चलते हासिल की है. अश्विन कई तरह की गेंद फेंकने के लिए जाने जाते हैं. उनके तरकश में एक तीर कैरम बॉल का है, जिसपर अकसर बल्लेबाज चकमा खाते दिखते हैं. अश्विन ने अपनी इसी कैरम बॉल को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है. अश्विन ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने कैरम बॉल एक टेनिस बॉल क्रिकेटर से सीखी थी.  

अश्विन ने किससे सीखी कैरम बॉल? - आर अश्विन ने क्रिकबज के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में खुलासा किया कि उन्होंने कैरम बॉल फेंकने की कला उनके साथ पार्क में खेलने वाले एक टेनिस बॉल क्रिकेटर से सीखी थी. अश्विन ने कहा, 'मैं पहली बार जब टेनिस बॉल से क्रिकेट खेलने गया तो मैं बल्लेबाजी कर रहा था. वहां पर एक लड़का था जो गजब के एक्शन के साथ गेंदबाजी कर रहा था. उसकी गेंद हवा में अंदर आ रही थी और वो लगातार गेंद को दोनों ओर घुमा रहा था. मुझे नहीं पता कि आज वो लड़का कहां है लेकिन मैंने उसके जैसा गेंदबाज आजतक नहीं देखा.' अश्विन ने आगे बताया, 'उसका नाम एसके था. उसी से मैंने कैरम बॉल सीखी थी.' अश्विन ने खुलासा किया कि वो टेनिस बॉल से काफी अच्छा खेलते थे लेकिन उस गेंदबाज ने उनके होश उड़ा दिए थे. अश्विन ने कहा, 'मेरा टेनिस क्रिकेट में बड़ा नाम था लेकिन उस गेंदबाज ने अपनी कला से मुझे नचाया. इसके बाद मैंने उस लड़के से गेंदबाजी सीखी. मैं रोजाना सुबह उस लड़के से कैरम बॉल सीखने जाता था, वो 10-15 दिन मुझे हर सुबह कैरम बॉल सिखाने आया.' इसी शो में आर अश्विन ने ये भी खुलासा किया था कि उन्हें टेनिस बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट का फाइनल खेलने से रोकने के लिए अगवा तक कर लिया था.

कंबाला रेस (भैंसों की परंपरागत दौड़)  में 100 मीटर की रेस 9.55 सेकंड में पूरी करने के बाद चर्चा में आए कर्नाटक के  कंबाला धावक श्रीनिवास गौड़ा  के ट्रायल की असल तारीख अभी तय नहीं की गई है. गौड़ा को भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के बेंगलुरू केंद्र में आकलन के लिए बुलाया गया है. साइ के सूत्रों ने बताया कि गौड़ा को वास्तविक ट्रायल से पहले सामंजस्य बैठाने का समय दिया जाएगा. उनके सोमवार को साइ के बेंगलुरू केंद्र में पहुंचने की उम्मीद है. साइ सूत्रों ने बताया कि श्रीनिवास गौड़ा सोमवार को साइ बेंगलुरू केंद्र पहुंच रहे हैं. उन्हें आराम करने और सामंजस्य बैठाने के लिए एक या दो दिन का समय दिया जाएगा, जिसके बाद उनका ट्रायल होगा. ट्रायल की तारीख अभी तय नहीं हुई है. खेल मंत्री किरेन रिजिजू  ने शनिवार को साइ के शीर्ष कोचों को 28 वर्ष के कंबाला धावक गौड़ा का ट्रायल करवाने का निर्देश दिया था. एक वीडियो क्लिप में गौड़ा पारंपरिक भैंस दौड़ के दौरान 100 मीटर की दूरी सिर्फ 9.55 सेकंड में पूरी करते नजर आए थे जिसके बाद वह सोशल मीडिया पर छा गए थे.  

यूसेन बोल्ट से होने लगी तुलना - कर्नाटक के गौड़ा ने इस प्रतियोगिता के दौरान सिर्फ 13.62 सेकंड में 142.5 मीटर की दौड़ लगाई थी. उन्होंने पहले 100 मीटर की दूरी सिर्फ 9.55 मीटर में तय की, जिसके बाद उनकी तुलना ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता यूसेन बोल्ट (Usain Bolt) से होने लगी, जिनका 100 मीटर में विश्व रिकॉर्ड 9.58 सेकंड का है. हालांकि गौड़ा का मानना है कि उनकी रेस और  बोल्ट की रेस में जमीन आसमान का फर्क है और वह खुद की तुलना बोल्ट से नहीं करते. 

वनडे सीरीज में मात देने के बाद मेजबान न्यूजीलैंड  दो टेस्ट मैचों की सीरीज में भी भारत  को मात देने के लिए तैयार है. इसके लिए न्यूजीलैंड ने भारज के खिलाफ दो टेस्ट मैचाें की सीरीज के लिए अपनी 13 सदस्यीय टेस्ट टीम की घोषणा कर दी है. तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट की टीम में वापसी हुई है, जो चोटिल होने के कारण टीम से बाहर चल रहे थे. मगर टीम से सबसे अनुभवी और सफल स्पिनर मिचेल सेंटनर को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. सेंटनर सहित न्यूजीलैंड ने तीन खिलाड़ियों  को टीम से  बाहर कर दिया है. भारत और न्यूजीलैंड के बीच 21 फरवरी से दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जाएगी. सलामी बल्लेबाज जीत रावल, स्पिन गेंदबाज ऑल राउंडर मिचेल सेंटनर और तेज गेंदबाज मैट हेनरी टीम में जगह नहीं बना पाए.  

एजाज पटेल की हुई वापसी - पिछले साल अगस्त में श्रीलंका के खिलाफ खेलने के बाद अब जाकर एजाज पटेल की टीम में वापसी हुई है. वहीं ऑकलैंड के तेज गेंदबाज काइल जैमिसन को चोटिल लॉकी फर्ग्युसन की जगह टीम में जगह मिली है. बोल्ट भी पूरी तरह से फिट हो गए हैं. दरअसल पिछले साल दिसंबर में बोल्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में अपने दाएं हाथ में चोट लगवा बैठे थे. जिसके बाद वह सीरीज का आखिरी मैच भी नहीं खेल पाए थे  और सीमित ओवर क्रिकेट से भी दूर रहे ‌थे. ट्रेंट बोल्ट  की वापसी के साथ ही कीवी टीम अधिक मजबूत हो गए है. भारत के खिलाफ दो इंटरनेशनल वनडे मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले कायल जेमीसन को भी 13 सदस्‍यीय टीम में शामिल किया गया है और उन्हें टेस्ट डेब्यू का मौका मिल सकता है.

जैमिसन को टेस्ट टीम में मिल सकता है मौका - भारत के खिलाफ वनडे मैच और न्यूजीलैंड ए के लिए शानदार  प्रदर्शन करने का इनाम तो जेमीसन को मिल गया है, मगर वह टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू कर पाएंगे या नहीं, ये तो टीम की रणनीति पर निर्भर करेगा. क्योंकि कीवी टीम ने अपने तीनों अनुभवी तेज गेंदबाजों बोल्ट , टिम साउदी और नील वैगनर को मौका दिया है और यह तिकड़ी भारत को परेशान करने के लिए तैयार है. वहीं पहले टेस्ट मैच में जेमीसन को अंतिम एकादश में शामिल किए जाने पर विचार चल रहा है. अगर कीवी टीम चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरती है तो जेमीसन को मौका सकता है. 

खेल जगत के लिए यह साल काफी खास है. ओलिंपिक ईयर होने के कारण हर खिलाड़ी का पूरा ध्यान सिर्फ अपने खेल पर ही है, मगर ओलिंपिक से पहले भारतीय उम्मीदों को बड़ा झटका लगा है. 400 मीटर की वर्ल्ड जूनियर चैंपियन और एशियन गेम्स की सिल्वर मेडलिस्ट हिमा दास साल भर के लिए अपनी पसंदीदा स्‍पर्धा (400 मीटर) से दूर जा रही हैं और अब वह अपना पूरा ध्यान 200 मीटर पर लगाएंगी. हालांकि इसके बाद व्यक्तिगत स्पर्धा में ओलिंपिक का टिकट हासिल करने की उनकी संभावना लगभग खत्म सी हो गई है. दरअसल चोट और फिर बुखार के कारण उनकी स्पीड और ताकत पर भी फर्क पड़ा है जिसे वह वापस हासिल करना चाहती हैं और इसीलिए वह 200 मीटर रेस पर अपना ध्यान लगाना चाहती हैं. 200 मीटर में हिमा का सर्वश्रेष्ठ 23.10 सेकंड है. 2018 में एशियन गेम्स में सिल्वर जीतने के बाद से ही वह चोटों से जूझ रही थीं.

400 मीटर के लिए तैयार नहीं हिमा दास - भारतीय एथलेटिक्स फेडरेशन के हाइ परफॉर्मेंस डायरेक्टर वोल्कर हेरमैन ने कहा कि हिमा दास  400 मीटर के लिए अभी पूरी  तरह से तैयार नहीं हैं. जरूरत के हिसाब से उनकी अभी वह कंडीशनिंग नहीं है और 400 मीटर में आपको अच्छी ट्रेनिंग और ताकत की जरूरत होती है. उन्होंने कहा कि हम पिछले सत्र की तरह कोई गलती नहीं करना चाहते. सा‌थ ही हम किसी को मजबूर नहीं करना चाहते. उन्होंने कहा कि यदि हम हिमा को 400 मीटर में प्रतियोगिता के लिए कहते हैं तो उन पर काफी दबाव आ जाएगा. वह अभी युवा हैं और हम कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहते. 

400 मीटर में मिलेगी मदद - कोच को भी उम्मीद है कि 200 मीटर से हिमा दास को स्पीड बढ़ाने में मदद मिलेगी, जब वह 2021 में 400 मीटर में वापसी करेंगी तो उनके लिए थोड़ा आसान हो जाएगा. पिछले सीजन में 200 मीटर में हिमा ने चार गोल्ड मेडल जीते थे. हेरमैन  ने कहा कि पिछले साल वह बैक इंजरी से जूझ रही थीं. जिससे उबरने के बाद उन्हें बुखार हो गया और वह सही से ट्रेनिंग नहीं कर पाईं. इसीलिए अपनी पुरानी लय को हासिल करने के लिए उन्हें 200 मीटर पर ध्यान लगाने के लिए कहा गया है. हालांकि इसकी संभावना कम है कि हिमा 4 गुणा 400 मीटर रिले स्क्वॉड का हिस्सा होंगी. हालांकि फेडरेशन मई में टीम फाइनल करेगी. 

कर्णम मलेश्‍वरी (Karnam Malleshwari). भारत की पहली ओलिंपिक मेडलिस्‍ट महिला. भारत की पहली और इकलौती ओलिंपिक मेडलिस्‍ट वेटलिफ्टर. आंध्र प्रदेश के एक छोटे से गांव वुसावनीपेटा से ताल्‍लुक रखने वाली कर्णम मलेश्‍वरी (Karnam Malleshwari) ने 25 साल की उम्र में साल 2000 में हुए सिडनी ओलिंपिक में वेटलिफ्टिंग में 69 किलो भारवर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर इतिहास रच दिया था. उन्‍होंने फाइनल में कुल 240 किलो ( 110 किलो स्‍नैच और 130 किलो क्‍लीन एंड जर्क) उठाया था और अगर कोच के गणित में गड़बड़ी नहीं हुई होती तो संभव है कि भारत को पहला व्‍यक्तिगत गोल्‍ड मेडल साल 2000 में ही मिल जाता. कर्णम मलेश्‍वरी को सिडनी ओलिंपिक्‍स में गोल्‍ड न जीतने का मलाल अब भी रहता है. 

कर्णम मलेश्‍वरी 5 बहनों में से एक थी और सभी वेटलिफ्टिंग में थी. 12 साल की उम्र में उन्‍होंने कोच नीलमशेट्टी अप्‍पन्‍ना की देखरेख में प्रैक्टिस कर दी थी. बाद में दिल्‍ली में स्‍पोर्टस अथॉरिटी ऑफ इंडिया में जाने के बाद तो कर्णम ने मुड़कर नहीं देखा. सिडनी ओलिंपिक में जाने से पहले वह दो बार वर्ल्‍ड चैंपियन बन चुकी थीं और उन्‍हें राजीव गांधी खेल रत्‍न मिल चुका था. ओलिंपिक में मेडल जीतने से पहले वह 29 अंतरराष्‍ट्रीय मेडल जीत चुकी थीं और इनमें से 11 गोल्‍ड थे.

पाकिस्तान की टीम ने भारत की गैर आधिकारिक टीम को हराकर सर्किल कबड्डी वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम  कर लिया है. खिताबी मुकाबले में पाकिस्तान ने करीबी मुकाबले में भारत को 43-41 के अंतर से मात दी. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान को इस जीत की बधाई दी. मगर बधाई देने के साथ ही वह फैंस के निशाने पर आ गए. फैंस ने कहा कि इस जीत से वे अपनी जनता को बेवकूफ बना रहे हैं. दरअसल इस टूर्नामेंट के लिए भारतीय दल सरकार की मजूंरी के बिना ही पाकिस्तान गया था. यहां तक कि मंत्रालय को भी नहीं पता था कि किसी टूर्नामेंट के लिए कोई भारतीय टीम पाकिस्‍तान गई है.  

सोशल मीडिया पर फोटो वायरल होने के बाद इसका खुलासा हुआ. पिछले सप्ताह ही खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि किसी भी कबड्डी टीम को टूर्नामेंट में हिस्सा लेने की मंजूरी नहीं दी गई है. भारतीय झंडे और नाम के साथ खेलने वालों के खिलाफ जांच की जाएगी. पाकिस्तान (Pakistan) में हुए सर्किल कबड्डी वर्ल्ड कप टूर्नामेंट में भारत के अलावा, ईरान, इंग्लैंड, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया सहित कई और टीमों ने ‌हिस्सा लिया था. भारतीय की इस गैर अधिकारिक टीम पर मिली जीत के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान  ने अपनी टीम को बधाई दी और ट्वीट करके कहा कि भारत को हराकर कबड्डी वर्ल्ड कप जीतने के लिए पाकिस्तान टीम को बधाई.

हालांकि इसके बाद वह खुद ही अपने ट्वीट पर फैंस के निशाने पर आ गए. एक फैन ने कहा कि सुबह सुबह भड़काना शुरू कर दिया. वहीं एक फैन ने कहा कि पाकिस्तान कबड्डी टीम  तो प्रो कबड्डी लीग की पटना पाइरेट्स तक को भी नहीं हरा पाएगी. एक यूजर ने साफ किया कि भारत ने कबड्डी वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं लिया था. इस यूजर ने पाक प्रधानमंत्री को कहा कि वे अपनी जनता को बेवकूफ बनाकर खुश रहें और वह बेवकूफ बनती जाएगी.  

श्रीलंका के दौरे पर 3 वनडे और 2 टी20 मैचों की सीरीज खेलने गई वेस्टइंडीज की टीम ने अपनी प्रैक्टिस शुरू कर दी है. श्रीलंका क्रिकेट इलेवन के खिलाफ सोमवार को वनडे प्रैक्टिस मैच में उसके बल्लेबाजों ने जलवा दिखाया. कोलंबो में खेले जा रहे इस मैच में वेस्टइंडीज की टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में 282 रन बनाए. सुनील एंब्रिस, निकोलस पूरन ने 41-41 रनों की पारी खेली, वहीं डैरेन ब्रावो ने शानदार शतक ठोका.  

डैरेन ब्रावो का शानदार शतक - डैरेन ब्रावो (Darren Bravo) ने महज 88 गेंदों में 100 रन बनाए, जिसमें उन्होंने 14 चौके और एक छक्का लगाया. शतक पूरा करने के बाद ब्रावो ने खुद ही पैवेलियन लौटने का फैसला किया और वो रिटायर्ड आउट हुए. डैरेन ब्रावो के लिए ये पारी बेहद अहम है, क्योंकि वो 7 महीने बाद वेस्टइंडीज की वनडे टीम में लौटे हैं. ब्रावो को फिटनेस टेस्ट में फेल होने वाले हेटमायर की जगह मौका मिला है. बता दें डैरेन ब्रावो ब्रायन लारा के भतीजे हैं और उनका बल्लेबाजी स्टाइल उनसे मिलता है. डैरेन ब्रावो तकनीकी तौर पर बेहद मजबूत हैं, लेकिन उनके प्रदर्शन में निरंतरता का अभाव रहा है. ब्रावो ने 8 टेस्ट शतक और 3 वनडे शतक लगाए हैं. ब्रावो के नाम 54 टेस्ट में 3506 रन हैं, वहीं वनडे में उन्होंने 110 मैचों में 2839 रन बनाए हैं. 

वेस्टइंडीज का श्रीलंका दौरा - बता दें वेस्टइंडीज की टीम श्रीलंका के खिलाफ 22 फरवरी से तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलेगी. पहला वनडे कोलंबो में खेला जाएगा. दूसरा वनडे 26 फरवरी को हंबनटोटा और तीसरा वनडे मैच कैंडी में खेला जाएगा. तीन मैचों की वनडे सीरीज के बाद दो टी20 मैचों की सीरीज भी होगी. दोनों टी20 मैच कैंडी में 4 और 6 मार्च को खेले जाएंगे. श्रीलंका दौरे के लिए वेस्टइंडीज की वनडे टीम- कायरन पोलार्ड (कप्तान), फाबियान एलेन, सुनील एंब्रिस, डैरेन ब्रावो, रोस्टन चेज, शेल्डन कॉटरेल, जेसन होल्डर, शे होप, अलजारी जोसफ, ब्रैंडन किंग, कीमो पॉल, निकोलस पूरन, रोवमैन पॉवेल, रोमारियो शेफर्ट और हेडन वॉल्श जूनियर. 

न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज 0-3 से गंवाने के बाद अब टीम इंडिया की अगली चुनौती 2 मैचों की टेस्ट सीरीज है (India vs New Zealand Test Series), जिसका आगाज 21 फरवरी से हो रहा है. पहला टेस्ट मैच वेलिंगटन में खेला जाने वाला है और सीरीज के लिए मेजबान टीम ने अपने 13 खिलाड़ियों का ऐलान कर दिया है. न्यूजीलैंड की टीम में ट्रेंट बोल्ट की वापसी हुई है, तो वहीं वनडे सीरीज में अपनी गेंदों का दम दिखाने वाले जेमीसन को टेस्ट टीम में भी मौका मिला है. इसके अलावा कीवी टीम ने एक ऐसा खिलाड़ी भी टीम में चुना है जो भारत के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है. दिलचस्प बात ये है कि इस खिलाड़ी का जन्म भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में हुआ था और अपनी गेंदबाजी से उसने पाकिस्तान से जीत छीन ली थी. न्यूजीलैंड की टीम ने बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज एजाज पटेल को अपनी टेस्ट टीम में जगह दी है. 31 साल के एजाज पटेल 6 महीने बाद कीवी टीम में वापस आए हैं, उन्होंने साल 2018 में पाकिस्तान के खिलाफ अबू धाबी में अपना टेस्ट डेब्यू किया था. एजाज पटेल 7 टेस्ट मैचों में 22 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. बता दें एजाज पटेल का जन्म मुंबई में हुआ था लेकिन जब वो महज 8 साल के थे तो उनका परिवार ऑकलैंड में बस गया. 

पाकिस्तान से छीन ली थी जीत - एजाज पटेल (Ajaz Patel) ने 16 नवंबर 2018 को अपना डेब्यू टेस्ट खेला और पहले ही मुकाबले में उन्होंने पाकिस्तान के होश उड़ा दिए. अबू धाबी में खेले गए टेस्ट मैच में एजाज पटेल ने दूसरी पारी में 5 विकेट लेकर पाकिस्तान से मैच छीन लिया. न्यूजीलैंड ने ये मुकाबला महज 4 रन से जीता था. पाकिस्तान की टीम को जीत के लिए 176 रन बनाने थे और वो एक समय 3 विकेट पर 130 रन बना चुकी थी. इसके बाद एजाज आए और उन्होंने कहर बरपाती गेंदबाजी करते हुए इमाम उल हक, सरफराज अहमद, बिलाल आसिफ, हसन अली और अजहर अली को आउट कर न्यूजीलैंड को जीत दिला दी. एजाज पटेल को इस मुकाबले में मैन ऑफ द मैच चुना गया.

एजाज पटेल क्यों हैं टीम इंडिया के लिए खतरा - बता दें टेस्ट सीरीज में एजाज पटेल (Ajaz Patel) टीम इंडिया के लिए भी खतरा बन सकते हैं. भारतीय टीम पिछले कुछ दौरों पर स्पिनर्स के खिलाफ संघर्ष करती दिखी है. इंग्लैंड में मोइन अली और ऑस्ट्रेलिया में नाथन लायन इसका बड़ा उदाहरण हैं. एजाज पटेल 223 फर्स्ट क्लास विकेट ले चुके हैं और बड़ी बात ये है कि भारत की प्लेइंग

भारत में बास्केटबॉल अब तेजी से फैल रहा है. ज्यादा से ज्यादा भारतीय खिलाड़ियों को बाहर निकलकर ट्रेनिंग करने का मौका मिल रहा है. इन दिनों देश के तीन उभरते खिलाड़ियों पर हर किसी की नजर है. जिनका चयन एनबीए (NBA) टीम में भी हो चुका है. यहां तक कि उन्होंने यूरोप में ट्रेनिंग भी ली. भारत के तीन युवा खिलाड़ी लोकेंद्र, जितेंद्र और जयदीप को एनबीए ने टीम में चुना. यह टीम यूरोप  टूर पर भी गई थी. दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार अंडर 17 के ये तीनों खिलाड़ियों ने पेरिस में ट्रेनिंग भी ली और फिर बुडापेस्ट में मुकाबले भी खेले. तीनों खिलाड़ी एनबीए (NBA) की ग्रेटर नोएडा स्थित एकेडमी में ट्रेनिंग ले रहे हैं. 

 

भारत इस साल होने वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान डे नाइट टेस्ट खेलेगा. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने रविवार को यह जानकारी दी. भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कुछ समय पहले कहा था कि उनकी टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान डे नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार है. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा, ‘हां, ऑस्ट्रेलिया में भारत डे नाइट टेस्ट खेलेगा. जल्द ही इसकी औपचारिक घोषणा की जाएगी.’

पूर्व भारतीय कप्तान गांगुली ने साथ ही कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ अगली घरेलू सीरीज का दूसरा टेस्ट डे नाइट का मुकाबला होगा. उन्होंने साथ ही कहा कि बोर्ड भविष्य में हर सीरीज में एक डे नाइट टेस्ट के आयोजन का प्रयास करेगा. भारत ने अपना पहला डे नाइट टेस्ट पिछले साल नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ ईडन गार्डन्स में खेला था और इस मुकाबले में आसान जीत दर्ज की थी. ऑस्ट्रेलिया दौर पर डे नाइट टेस्ट का स्थल अभी तय नहीं है लेकिन गुलाबी गेंद के मैच की मेजबानी पर्थ या एडिलेड को मिलने की संभावना है.

पिछले महीने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर तीन मैचों की वनडे सीरीज से पहले कोहली ने कहा था, ‘हम चुनौती के लिए तैयार हैं- फिर चाहे यह गाबा हो या पर्थ... यह हमारे लिए मायने नहीं रखता. यह किसी भी टेस्ट सीरीज का बेहद रोमांचक हिस्सा बन गया है और हम डे नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार हैं.’

भारत ने 2018-19 में एडिलेड में डे नाइट टेस्ट खेलने का ऑस्ट्रेलिया का अनुरोध ठुकरा दिया था और इसके बाद अनुभव की कमी का हवाला दिया था. इस बीच पता चला है कि भारत आईपीएल के बाद श्रीलंका में तीन वनडे और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की सीरीज खेलेगा.

मास्को में 1980 में हुए ओलिंपिक  में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गोल्‍ड जीता था, लेकिन इससे पहले के ओलिंपिक में भारतीय टीम सातवें पायदान पर रही थी और उससे पहले लगातार दो ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था. यानी 16 साल बाद भारत एक बार फिर दुनिया को अपना दम दिखाने में कामयाब हो गया था, लेकिन इसके बाद आज तक हॉकी में भारत अपनी  ताकत नहीं दिखा पाया. 1980 ओलिंपिक का गोल्ड भारतीय हॉकी के लिए आखिरी मेडल साबित हुआ. उस ओलिंपिक में भारत ने स्पेन को मात दी ‌थी. इस हाईवोल्टेज मुकाबले में भारत ने स्पेन को 4-3 से  मात दी थी. 

टीम का सफर - पहले मैच में भारत (India) ने तंजानिया को 18-0 से हराया था. ओलिंपिक हॉकी में यह दूसरा सबसे बड़ा स्कोर था. इससे पहले 1932 लॉज एंजलिस में भारत ने यूएसए पर 24-1 से जीत दर्ज की थी. इससे बाद पोलैंड से भारत ने 2-2 से ड्रॉ खेला. अगले मैच में भारत ने स्पेन से भी ड्राॅ मुकाबला खेला. दो ड्रॉ खेलने के बाद भारत क्यूबा को 13-0 से और मेजबान रूस को 4-2 से हराकर पूल में दूसरे स्‍थान पर रहा. पहले स्‍थान पर स्पेन की टीम थी. इसी के साथ भारत ने फाइनल में लिए भी क्वालीफाई कर लिया था.

मोहम्मद शाहिद ने जगाई ‌थी उम्मीद - स्पेन के साथ भारत का फाइनल मुकाबला धड़कने रोक देना वाला रहा. इस समय भारत में सैटलाइट टेलीविजन आया ही था. दूसरे हाफ के शुरुआती मिनट में ही भारत ने तीन गोल करके शानदार बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन स्पेन ने पलटवार करते हुए दो गोल करके भारत को जवाब दिया. हालांकि इसके छह मिनट बाद मोहम्मद शाहिद (Mohammed Shaheed) ने गोल दागा, जिससे भारतीय टीम का उत्साह बढ़ा. दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर चल रही थी. इसके चार मिनट बाद ही स्पेन ने एक और  गोल दाग दिया. हुआन अमत ने यहां अपनी हैट्रिक पूरी की थी. आखिरी के मिनटों में  माहौल काफी टेंशन वाला हो गया था. लेकिन भारतीय डिफेंस ने इसके बाद स्पेन के आक्रामण को मजबूती से रोका और आखिरकार भारत 16 साल के इंतजार के बाद गोल्ड जीतने में सफल हो ही गया.

अगले महीने से शुरू होने वाले आईपीएल से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर  ने बड़े बदलाव का ऐलान किया है. दो दिन पहले टीम ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से सभी तस्वीरें हटी ली थीं जिसके बाद कायास लगाए जा रहे थे कि आरसीबी में बड़ा बदलाव होने वाला है. शुक्रवार को आरसीबी  ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस बदलाव का ऐलान किया.

फैंस के साथ शेयर किया नया लोगो - आरसीबी  ने ट्विटर पर एक वीडियो डालकर फैंस के साथ अपना नया लोगो शेयर किया. उन्होंने वीडियो शेयर किया जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा था, 'यही वह लम्हा था जिसका आपको इंतजार था. नए साल के लिए नई आरसीबी और उसका नया लोगो.'  

फैंस ने की टीम का नाम बदलने की अपील - फैंस ने लोगो बदलने के साथ ही मैनेजमेंट को टीम का नाम बदलने की भी सलाह दी. फैंस का कहना था कि टीम के नाम में बैंगलोर की जगह बेंगलुरु (Bengaluru) होना चाहिए. आपको बता दें कि साल 2014 बैंगलोर का नाम बदलकर बेंगलुरु कर दिया गया था. ऐसे में फैंस चाहते हैं कि टीम भी अपना नाम बदले.  आरसीबी (RCB) ने तीसरी बार अपना लोगो बदला है. वहीं टीम ने ट्वीटर पर भी अपना नाम बदलकर रॉयल चैलेंजर्स रख लिया है. आपको बता दें कि इस बदलाव से पहले बुधवार को टीम ने अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट से तस्वीरें हटा ली थीं जिसके बाद लगातार यह संशय कायम था कि आखिर टीम ने ऐसा क्यों किया. शुक्रवार को इसकी वजह भी फैंस के सामने आ गई. 

डबल्स विशेषज्ञ सत्विकसाईराज रंकीरेड्डी  की अनुपस्थिति का खामियाजा भारत को भुगतना पड़ा जिसे गुरुवार को बैडमिंटन एशिया टीम चैम्पियनशिप (Badminton Asian Championship) के दूसरे ग्रुप बी मैच में युवा मलेशियाई टीम से 1-4 से शिकस्त मिली.

टखने की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण सात्विक के टूर्नामेंट से हटने के कारण भारत को एम आर अर्जुन (MR Arjun) और चिराग शेट्टी तथा ध्रुव कपिला और लक्ष्य सेन की दो जोड़ियों को उतारना पड़ा. दोनों ही जोड़ियां अपने मुकाबले गंवा बैठी.

केवल श्रीकांत को मिली जीत
किदाम्बी श्रीकांत एकमात्र भारतीय खिलाड़ी रहे जिन्होंने जीत हासिल की. दुनिया के 11वें नंबर के खिलाड़ी बी साई प्रणीत और एच एस प्रणॉय  को अन्य एकल मुकाबलों में सीधे गेम में पराजय का मुंह देखना पड़ा. 

इस हार के बाद भारत ग्रुप में दूसरे स्थान पर रहा और अब शुक्रवार को क्वार्टरफाइनल में उसका सामना थाईलैंड (Thailand) से होगा. शुरुआती मैच में कजाखस्तान पर 4-1 की जीत के बाद भारत को दूसरे मुकाबले में मलेशिया (Malaysia) से भिड़ना था. सत्विक की अनुपस्थिति से भारत को अच्छी शुरुआत कराने की जिम्मेदारी प्रणीत के कंधों पर थी लेकिन विश्व चैम्पियनशिप का कांस्य पदक विजेता दुनिया के 14वें नंबर के खिलाड़ी ली जी जिया से 18-21 15-21 से हार गया.

हैमिल्टन. सीमित ओवर प्रारूप के बाद टीम इंडिया का असली टेस्ट शुरू हो चुका है. भारतीय टीम को अब न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है, जिसका पहला मुकाबला 21 फरवरी से वेलिंगटन में शुरू होगा. हालंकि टीम ने न्यूजीलैंड एकादश के खिलाफ तीन दिवसीय अभ्यास मैच से टेस्ट सीरीज की तैयारियों का आगाज कर दिया है. भारतीय टीम ने पहले दिन सभी दस विकेट खोकर 263 रन बना लिए हैं. इनमें मध्यक्रम के बल्लेबाज हनुमा विहारी ने सबसे ज्यादा 101 रन बनाए, जबकि चेतेश्वर पुजारा ने 93 रनों की शानदार पारी खेली. 

पृथ्वी-मयंक ने की ओपनिंग, भारत ने 38 रनों तक गंवाए चार विकेट - भारतीय टीम ने इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. टीम के लिए पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल ओपनिंग करने उतरे. हालांकि ये जोड़ी पहले ही ओवर में टूट गई जब शॉ चार गेंदों में बिना खाता खोले रचिन रवींद्र को कैच थमाकर चलते बने. इसके बाद तो जैसे विकेटों का पतझड़ ही लग गया. मयंक अग्रवाल भी 13 गेंदों पर एक रन बनाकर डैन क्लीवर को कैच देकर पवेलियन लौटे. चौथे नंबर पर उतरे शुभमन गिल पहली ही गेंद पर टिम सीफर्ट को कैच देकर आउट हुए. अजिंक्य रहाणे ने जमने की कोशिश की, लेकिन वे भी अपनी पारी को 30 गेंदों पर 18 रन से आगे नहीं खींच सके. इस तरह 38 रनों पर ही भारत के चार विकेट गिर चुके थे.

हनुमा-पुजारा ने पांचवें विकेट के लिए जोड़े 195 रन- शुरुआती झटकों के बाद तीसरे नंबर पर उतरे चेतेश्वर पुजारा और छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए हनुमा विहारी ने टीम को संभाला. दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 195 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की. इस दौरान हनुमा विहारी अधिक आक्रामक नजर आए. उन्होंने 182 गेंदों पर 10 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 101 रन की पारी खेली. वहीं चेतेश्वर पुजारा शतक से आठ रनों से चूक गए. उन्होंने 211 गेंदों पर 11 चौके और 1 छक्के की मदद से 93 रन बनाए.

सुमित पस्सी के इंजुरी टाइम में किए गए गोल के दम पर जमशेदपुर एफसी ने गुरुवार को मेजबान हैदराबाद एफसी (Hyderabad FC) को उसके घर जीएमसी बालायोगी स्टेड़ियम में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग (ISL) के छठे सीजन के मैच में 1-1 की बराबरी पर रोक दिया.
पहले हाफ में मार्सेलिन्हो द्वारा 39वें मिनट में किए गए गोल के दम पर हैदराबाद ने एक गोल की बढ़त ले ली थी और मैच के अंतिम समय तक उसे कायम भी रखा था लेकिन इंजुरी टाइम में पस्सी की किस्मत से जमशेदपुर ने गोल कर मेजबान टीम को अपने आखिरी घरेलू मैच में पूरे तीन अंक नहीं लेने दिए.
इस जीत के बाद हैदराबाद के 17 मैचों में सात अंक हो गए हैं. वह अंक तालिका में सबसे नीचे 10वें स्थान पर ही बनी हुई है. जमशेदपुर भी इस मैच से एक अंक लेने में सफल रही. वह सातवें स्थान पर ही है.  

पहले हाफ में हैदाराबाद ने बनाई थी बढ़त - शुरुआत में दो मौके मिलने के बाद हैदराबाद ने अपना आक्रमण तेज कर दिया. इन मौकों के बीच 32वें मिनट में हैदराबाद के पास एक बार फिर से खाता खोलने का मौका हाथ से चला गया. टीम के स्टार खिलाड़ी आदिल  इस बार भी चूक गए और मोहम्मद रफीक ने उनके हेडर को ब्लॉक कर दिया. मेजबान टीम इसके कुछ मिनट बाद ही जमशेदपुर एफसी की डिफेंस को भेदने में सफल रहे और उसने नेस्टर गार्डियोलो के बेहतरीन गोल से मैच में अपना खाता खोल लिया. नेस्टर ने बॉक्स के बाहर से नेट के दाए कोने में गेंद को डाल अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई. नेस्टर ने यह गोल 39वें मिनट में किया. हैदराबाद ने इस बढ़त को हाफ टाइम की समाप्ति तक कायम रखा.  

दूसरे हाफ में टीमों में हुआ बदलाव - जमशेदपुर  को बराबरी के मौके कम मिल रहे थे और जो मिल रहे थे उन्हें वो अपने पक्ष में मोड नहीं पा रही थी. 69वें मिनट में करण अमिन ने थ्रो से गेंद ली जो वापस उनके पास आ गई. अमिने इस पर शॉट लेना चाहा जिसे मैथ्यू किलगालोन ने डाइव मार कर रोक दिया और गेंद बाहर चली गई.

भारतीय क्रिकेट टीम  के बेहतरीन ऑलराउंडरों में शुमार युवराज सिंह  ने सौरव गांगुली की कप्तानी में अपने करियर की शुरुआत की थी. युवी ने पिछले साल आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद से युवराज सिंह सोशल मीडिया पर बेबाकी से भारतीय टीम को लेकर अपनी राय रखते रहे हैं. अब एक बार फिर उन्होंने सोशल मीडिया पर ऐसा कुछ लिख दिया है, जिसने बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को भी हैरान कर दिया है. युवराज सिंह ने अपनी पोस्ट में सौरव गांगुली को जमकर ट्रोल किया है.  

दादा लोगो तो हटा लो - दरअसल, बीसीसीआई अध्यक्ष और टीम इंडिया के सबसे पसंदीदा कप्तानों में रहे सौरव गांगुली  ने सोशल मीडिया पर अपनी एक तस्वीर पोस्ट की, जिसमें वो राहुल द्रविड़ के साथ पिच पर नजर आ रहे हैं. गांगुली ने इसका कैप्‍शन लिखा, 'शानदार यादें.' युवराज सिंह ने गांगुली की इस पोस्ट पर प्रतिक्रिया देने में जरा भी देर नहीं लगाई. युवराज सिंह ने गांगुली की पोस्ट के नीचे लिखा, 'दादा लोगो तो हटा लो, आप अब बीसीसीआई अध्यक्ष बन गए हो. प्लीज प्रोफेशनल हो जाओ.'  

इंग्लैंड को 344 रनों पर समेट दिया, वेंकटेश प्रसाद ने लिए पांच विकेट - साल 1996 के भारतीय टीम के इंग्लैंड दौरे पर खेले गए इस मैच में तत्कालीन कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था. इंग्लैंड ने मैच में 344 रन का स्कोर खड़ा किया था. इसमें जैक रसेल का शतक जबकि ग्राहम थोर्पे के 89 रनों का अहम योगदान रहा. भारतीय टीम की ओर से तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने बेहतरीन खेल दिखाया. उन्होंने इंग्लैंड के पांच बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई. गांगुली ने जड़ा शतक, द्रविड़ ने बनाए 95 रन - जवाब में भारतीय टीम ने भी शुरुआती विकेट जल्दी गंवा दिए थे, लेकिन सौरव गांगुली के शतक और राहुल द्रविड़ के 95 रनों की बदौलत टीम ने पहली पारी में 429 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा कर लिया. इंग्लैंड के लिए क्रिस लेविस और एलन मुलाली ने तीन-तीन विकेट लिए. हालांकि भारतीय टीम इंग्लैंड की दूसरी पारी समेट नहीं सकी और पहली पारी में अच्छी बढ़त के बावजूद टीम को ड्रॉ से संतोष करना पड़ा. सौरव गांगुली अपने डेब्यू मैच में शतक लगाने वाले दसवें भारतीय क्रिकेटर बने.

बेंगलुरु. हार्दिक पंड्या, इशांत शर्मा, शिखर धवन और भुवनेश्वर कुमार जैसे सीनियर खिलाड़ी इन दिनों बेंगलुरु के एनसीए में हैं जहां वह सब रिहैब की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं. जहां हार्दिक पंड्या अपनी सर्जरी के बाद से टीम में वापसी की कोशिश में लगे हैं वहीं इशांत और धवन चोटिल होने के चलते फिलहाल टीम से बाहर हैं. यह सभी खिलाड़ी एनसीए में मेडिकल निगरानी में है. हालांकि साथ रहकर यह सब मस्ती का कोई मौका नहीं छोड़ रहे जिसका सबूत दिया शिखर धवन ने.  

जिम में मस्ती के मूड में दिखे स्टार खिलाड़ी - धवन ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें वह इशांत शर्मा और हार्दिक पंड्या के साथ जिम में नजर आ रहे हैं. वीडियो में आमिर खान की फिल्म जो जीता वहीं सिकंदर का गाना बज रहा था जिसपर तीनों मस्ती के मूड में दिखे. जहां हार्दिक पंड्या नाचते हुए दिखाई दिए तो शिखर धवन साइकिल पर बैठकर गाने का मजा लेते दिखे. वहीं इशांत शर्मा हाथ में वेट रोड लेकर नाचते हुए दिखाई दिए. वीडियो के कैप्शन में शिखर धवन ने लिखा, 'किसने कहा रिहैब बोरिंग होता है? यहां के हम सिकंदर.' इस वीडियो के नीचे युवा तेज गेंदबाज खलील अहमद ने कमेंट करते हुए कहा कि एक और खिलाड़ी जल्दी आपके साथ जुड़ने वाला है.  

टीम से बाहर हैं धवन और हार्दिक पंड्या - शिखर धवन को ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे के दौरान वनडे सीरीज में फील्डिंग करते हुए कंधे में चोट लग गई थी. इसके बाद से ही वह टीम से बाहर चल रहे हैं. बात करें हार्दिक पंड्या की तो वह लंबे समय से अपनी सर्जरी के चलते टीम से बाहर हैं.
उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ इंडिया ए में शामिल किया गया था हालांकि बाद में उनकी फिटनेस को देखते हुए उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया. वह फिलहाल एनसीए में क्रिकेट प्रैक्टिस के साथ-साथ फिटनेस पर काम कर रहे हैं. इशांत शर्मा को दिल्ली के लिए रणजी मैच खेलते हुए एड़ी में चोट लगी थी. उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए टीम में शामिल किया गया है. हालांकि टीम से जुड़ने से पहले उन्हें शनिवार को एनसीए में फिटनेस टेस्ट देना होगा जिसमें पास होने के बाद ही वह न्यूजीलैंड जा सकेंगे. 

लय हासिल करने के लिए जूझ रही पहलवान साक्षी मलिक ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने की उम्मीदों को बनाए रखने के लिए एक बार फिर से ट्रायल कराने की मांग की है। साक्षी इन दिनों एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप के भाग लेने की तैयारी कर रही है जहां वह गैर ओलंपिक वर्ग में चुनौती पेश करेंगी। रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता को ओलंपिक के 62 किग्रा भारवर्ग के लिए हुए ट्रायल में सोनम मलिक ने हरा दिया था। 

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) पहले ही यह साफ कर चुका है कि ट्रायल में जीत दर्ज करने वाले खिलाड़ी अगर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन नहीं करेंगे तो फिर से ट्रायल का आयोजन किया जा सकता है। सोनम रोम में रैंकिंग सीरिज की प्रतियोगिता के पहले दौर में हार गयी थी लेकिन अगर वह दिल्ली में 18 फरवरी से शुरू हो रही एशियाई चैम्पियनशिप में पदक जीतने में सफल रहीं तो डब्ल्यूएफआई उन्हें एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर में भाग लेने से नहीं रोकेगा। यह क्वालीफायर मार्च में आयोजित होगा।

साक्षी ने कहा, ''मुझे एक दौर के ट्रायल की उम्मीद है। अगर मैं ट्रायल में क्वालीफाई कर जाती हूं तो मेरे पास ओलंपिक का टिकट हासिल करने के दो मौके होंगे। एशियाई विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स (एडब्ल्यूसी) और विश्व ओलंपिक क्वालीफायर्स। मैं इन दोनों टूर्नामेंटों के जरिये क्वालीफाई करना चाहती हूं। उन्होंने कहा, ''एडब्ल्यूसी के लिए मेरी तैयारी अच्छी है। चाहे कोई भी प्रतियोगिता हो मैं पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगी। मैं अपनी तकनीक सुधारने पर काम कर रही हूं। मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूं कि पिछले टूर्नामेंटों की गलती फिर से ना दोहराऊं। ट्रायल्स में 18 साल की सोनम 6-10 से साक्षी से पिछड़ रही थी लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए जीत दर्ज की। साक्षी एशियाई चैम्पियनशिप में 65 किग्रा भाग वर्ग में भाग ले रही हैं।

कुश्ती से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रख चुकीं महिला पहलवान रितु फोगाट को ओलम्पिक पदक न जीत पाने का मलाल है लेकिन उनका मानना है कि फोगाट परिवार का ओलम्पिक पदक जीतने का सपना विनेश पूरा कर सकती हैं। भारतीय कुश्ती में फोगाट बहनों का बड़ा नाम है और उन्होंने अपनी कामयाबियों से देश का नाम रोशन किया है। रितु महिला कुश्ती से अब मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में कदम रख चुकीं हैं और इस कॉम्बैट खेल में उनका सपना विश्व चैंपियन बनने का है। रितु ने बुधवार को यहां नेशनल स्पोर्ट्स क्लब में वन चैम्पियनशिप किंग ऑफ द जंगल के लिए अपनी तैयारियों का प्रदर्शन किया। उनकी तैयारियां देखने के लिए भारी संख्या में प्रशंसक और मीडियाकर्मी मौजूद थे। उनके कोच पिता महावीर फोगाट भी इस अवसर पर मौजूद थे।

वर्ष 2016 में राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक और अंडर 23 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली रितु ने अपने नए खेल और पुराने खेल कुश्ती पर बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें इस बात का अफ़सोस रहेगा कि वह ओलम्पिक पदक नहीं जीत पायीं लेकिन उन्हें लगता है कि विनेश इस साल टोक्यो ओलम्पिक में फोगाट परिवार का ओलम्पिक पदक जीतने का सपना पूरा कर सकती हैं। उल्लेखनीय है कि विनेश ने 2016 के रियो ओलम्पिक में हिस्सा लिया था लेकिन चोट के कारण उन्हें अपना मुकाबला गंवाना पड़ा था। विनेश ने चोट से उबरने के बाद शानदार वापसी करते हुए 2018 में राष्ट्रमंडल खेलों और फिर एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। विनेश ने 2019 में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ देश को ओलम्पिक कोटा भी दिलाया था।

भारत के रोहन बोपन्ना और उनके कनाडा के जोड़ीदार डेनिस शापोवालोव ने रोटरडैम ओपन टेनिस टूर्नामेंट के पुरुष युगल वर्ग के क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली है। इन दोनों ने आस्ट्रेलिया के जॉन पीयर्स और मिशेल वीनस को मात दे अंतिम-8 में प्रवेश किया। रोहन-शापोवालोव की जोड़ी ने आस्ट्रेलियाई जोड़ी को 7-6, 6-7, 10-8 से मात दी। क्वार्टर फाइनल में रोहन-शापोवालोव जोड़ी का सामना चौथी सीड जीन जूलिएन रोजर और होरिया टेकाउ की जोड़ी से गुरुवार को होगा।

साल के पहले ग्रैंडस्लैम ऑस्ट्रेलियाई ओपन में रोहन बोपन्ना ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाए थे। वो और यूक्रेन की उनकी जोड़ीदार नादिया किचेनोक को मिक्स्ड डबल्स के क्वॉर्टर फाइनल में सीधे सेटों में हार का सामना करना पड़ा। भारत और यूक्रेन की जोड़ी को 47 मिनट चले एकतरफा मुकाबले में निकोला मेकटिच और बारबोरा क्रेसिकोवा की पांचवीं वरीय जोड़ी के खिलाफ 0-6, 2-6 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

सरफराज खान (नाबाद 169) और आकर्षित गोमेल (122) रन की शतकीय पारियों की बदौलत मुंबई ने बुधवार को मध्य प्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए और बी मुकाबले के पहले दिन का खेल खत्म होने तक पहली पारी में 4 विकेट पर 352 रन बना लिए। 

टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई की टीम की ओर से सरफराज ने 204 गेंदों में 22 चौके और 3 छक्कों की मदद से नाबाद 169 रन और गोमेल ने 122 रन की शतकीय पारी में 11 चौके और 1 छक्का जड़ा। सरफराज ने इस साल जनवरी में हिमाचल प्रदेश के खिलाफ नाबाद दोहरा शतक लगाया था।

मुंबई की पारी में हार्दिक तामोर (12) के रुप में पहला विकेट गिरने के बाद गोमेल और सूर्यकुमार यादव ने दूसरे विकेट के लिए 52 रन की साझेदारी की। सूर्यकुमार ने 43 रन की पारी में 9 चौके लगाए। सूर्यकुमार के आउट होने के कुछ देर बाद ही सिद्धेश लाड भी 4 रन के मामूली स्कोर बनाकर जल्द ही पैवेलियन लौट गए। इसके बाद सरफराज ने गोमेल का साथ मिलकर मुंबई की पारी को संभाला और दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 275 रन की बड़ी साझेदारी हुई।

दिन का खेल खत्म होने तक सरफराज और अंकुश जायसवाल बिना खाता खोले क्रीज पर हैं। मध्य प्रदेश की ओर से कुलदीप सेन ने 67 रन देकर 3 विकेट और कप्तान शुभम शर्मा ने 34 रन पर 1 विकेट लिया।

एक बार फिर गोल्ड जीतने की उम्मीद लिए भारतीय हॉकी टीम 1972 में म्यूनिख ओलिंपिक  में उतरी. लेकिन यहां पर भी वह  लगातार दूसरी  बार सेमीफाइनल की बाधा को पारी नहीं कर पाई और 1972 के सेमीफाइनल में मिली हार टीम सहित फैंस के लिए स्वीकार करना मुश्किल था. ग्रुप में शीर्ष स्‍थान हासिल करने वाली टीम इंडिया (Team India) को सेमीफाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने शिकस्त दी और वो भी  करारी. भारत ने 2-0 के अंतर से सेमीफाइनल मुकाबला गंवा दिया था.  इसके बाद ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में भारतीय नेदलैंड्स को हराकर ब्रॉन्ज मेडल के साथ भारत लौटी.  

टीम का सफर - पिछले सभी ओलिंपिक की तरह इस ओलिंपिक में भी भारतीय टीम ग्रुप में टॉप पर रही. भारत ने अपने ग्रुप का पहला मुकाबला नेदरलैंड्स के साथ 1-1 से ड्रॉ खेला. इसके बाद ग्रेट ब्रिटेन को 5-0 से, ऑस्ट्रेलिया  को 3-1 से हराया. भारत ने अगला मुकाबला पोलैंड के साथ 2-2 से ड्रॉ खेला. इसके बाद केन्या को 3-2,  मैक्सिको को 8-0 से और न्यूजीलैंड को 3-2 से मात दी. हर किसी को उम्मीद थी कि इस बार भी खिताबी मुकाबला भारत और पाकिस्तान का होगा, लेकिन पाकिस्तान की टीम अपने ग्रुप में दूसरे नंबर पर रही, जिससे दोनों सेमीफाइनल में ही आमने सामने हो गई और इस मुकाबले में पड़ोसी देश ने 2-0 से मात दी.

ब्रॉन्ज मेडल के लिए भारत को बहाना पड़ा पसीनासेमीफाइनल गंवाने के बाद भारत (India) के पास सम्मान बचाने का सिर्फ एक ही मौका था. ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में नेदरलैंड्स को मात दे. मुकाबला शुरू हुआ और शुरुआती छह मिनट में ही नेदरलैंड्स के टाइ क्रूज ने गोल दागकर भारत की धड़कने बढ़ा दी थी. भारत पर दबाव बढ़ गया था, लेकिन सात बार की ओलिंपिक चैंपियन इस दबाव को हैंडल करना भी जानती थी. 

15वें मिनट में बिलीमोगा गोविंदा ने गोल दागकर स्कोर बराबर कर दिया. मुकाबला बराबरी पर पहुंच गया था. दोनों टीम की ओर से जोर आजमाइश शुरू हो गई, लेकिन पहला हाफ बराबरी पर रहा. दूसरा हाफ भी गोल रहित रहता दिख रहा था. लेकिन मुकाबले के आखिरी मिनट में मुखबेन ‌सिंह ने गोल दागकर भारत को इस ओलिंपिक में भी खाली हाथ नहीं रहने दिया.
टीम: बीपी गोविंदा, चार्ल्स कुरनेलियुस, मैनुअल फ्रेड्रिक, माइकल किंडो, एमपी गणेश, कृष्‍णामूर्ति पेरुमल, अजीपाल सिंह, हरबिन्दर सिंह, हरमिक सिंह, मुकबेन सिंह,

एफसी गोवा को अपने घर का शेर कहा जाए तो गलत नहीं होगा. बीते सीजन का फाइनल खेलने वाली इस टीम ने बुधवार को अपने घर में लगातार छठी जीत के साथ हीरो इंडियन सुपर लीग (ISL) के छठे सीजन की अंक तालिका में एक बार फिर शीर्ष स्थान हासिल कर लिया है. गोवा ने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मुंबई सिटी एफसी को 5-2 से हराया. गोवा के लिए फेरान कोरोमिनास ने 20वें और 80वें मिनट में गोल किए जबकि हुगो बोउमोस ने 38वें तथा जैकीचंद सिंह 39वें मिनट में गोल दागा. मुंबई के मोहम्मद रफीक का एक आत्मघाती गोल भी गोवा के खाते में जुड़ा. गोवा के लिए रावलिन बार्जेस ने 18वें और बिपिन सिंह ने 57वें मिनट में गोल किए. गोवा की इस सीजन में 17 मैचों में यह 11वीं जीत है और वह 36 अंकों के साथ शीर्ष पर विराजमान हो गया है. मुंबई के 17 मैचों से 26 अंक हैं और वह चौथे स्थान पर ही बना हुआ है. मुंबई की हार ने ओडिशा एफसी को प्लेऑफ की दौड़ से बाहर होने से बचा लिया.

मैच में पहले 15 मिनट बीत जाने के बाद अगले पांच मिनट में एक के बाद एक दो गोल देखने को मिलेंगे. पहले मुंबई ने 18वें मिनट में रॉवलिन बॉर्जेस के गोल की मदद से 1-0 की बढ़त बना ली. लेकिन गोवा ने दो मिनट बाद ही शानदार वापसी करते हुए कोरोमिनास के गोल के दम पर मुकाबले में 1-1 की बराबरी कायम कर ली. गोवा के इस गोल में बोउमोस  का असिस्ट रहा. बराबरी का गोल करने के बाद गोवा ने हमले तेज किए और दो मिनट मे दो गोल करते हुए 3-1 की बढ़त ले ली. उसके लिए दूसरा गोल बोउमोस ने 38वें मिनट में और तीसरा गोल जैकीचंद ने 39वें मिनट किया. जैकी के इस गोल में कोरो का असिस्ट रहा.
दूसरे हाफ में गोवा ने मुंबई को नहीं होने दिया आगे - दूसरे हाफ की शुरुआत अच्छी नहीं रही. 49वें मिनट में मुंबई के विद्यानंद सिंह और 51वें मिनट में इसी टीम के लिए पहला गोल करने वाले बार्जेस को पीला कार्ड मिला. 57वें मिनट में हालांकि बिपिन सिंह ने गोल करते हुए दोनों टीमों के गोल अंतर को कम कर दिया. गोवा ने 68वें मिनट में भी एक जोरदार हमला किया लेकिन मुंबई के डिफेंडर सावधान थे. 71वें मिनट में गोला के मंडार राव देसाई को चोट लगी और वह बाहर जाने को मजबूर हए. 75वें मिनट में बिपिन चोटिल होकर बाहर गए और रेनियर फर्नांडिस ने उनकी जगह ली. 

मुंबई  एक गोल से पीछे था और गोवा इस अंतर को बढ़ाना चाहता था. इसी क्रम में कोरो ने 80वें मिनट

भारतीय हॉकी टीम 1968 मैक्सिको ओलिंपिक (Mexico Olympic) में उतरी तो थी खिताब बचाने के लिए, लेकिन किसी को अंदाजा नहीं था कि हॉकी में भारत का स्वर्णिम काल आखिरी पड़ाव पर है इस ओलिंपिक में भारत ने ब्रॉन्ज मेडल जीता. भारत के इस ब्रॉन्ज मेडल से जितना दुख देश को हुआ था, उतनी ही हैरानी दुनिया भर को हुई थी. हॉकी पर राज करने वाली टीम इस बार कैसे ब्रॉन्ज तक ही पहुंच पाई.
सात बार ओलिंपिक का खिताब जीतने वाली भारतीय टीम सहित पूरी दुनिया को उस समय बड़ा झटका लगा, जब सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया (Australia) ने उसे हरा दिया. इसके बाद ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में वेस्ट जर्मनी को रोमांचक मुकाबले में हराकर भारत को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा. 

पिछले सभी ओलिंपिक (Olympic) की तरह इस ओलिंपिक में भी भारतीय टीम ग्रुप में टॉप पर रही. हालांकि इस बार उसे ग्रुप में एक हार का भी सामना करना पड़ा था. भारत के ग्रुप में वेस्ट जर्मनी, बेल्जियम, स्पेन, ईस्ट जर्मनी, जापान (Japan) और मेजबान मेक्सिको थे. भारतीय टीम ने शुरुआती दौर में अपने ग्रुप में कुल सात मैच खेले, जिसमें से छह में जीत मिली, जबकि एक में हार का सामना करना पड़ा.

लय हासिल करने के लिए जूझ रही पहलवान साक्षी मलिक ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने की उम्मीदों को बनाये रखने के लिए एक बार फिर से ट्रायल कराने की मांग की है. साक्षी इन दिनों एशियन कुश्ती चैंपियनशिप के भाग लेने की तैयारी कर रही है जहां वह गैर ओलिंपिक वर्ग में चुनौती पेश करेंगी. रियो ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता को ओलिंपिक के 62 किग्रा भारवर्ग के लिए हुए ट्रायल में सोनम मलिक ने हरा दिया था.

दूसरी बार हो सकते हैं ट्रायल - भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) पहले ही यह साफ कर चुका है कि ट्रायल में जीत दर्ज करने वाले खिलाड़ी अगर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन नहीं करेंगे तो फिर से ट्रायल का आयोजन किया जा सकता है. सोनम रोम में रैंकिंग सीरिज की प्रतियोगिता के पहले दौर में हार गयी थी लेकिन अगर वह दिल्ली में 18 फरवरी से शुरू हो रही एशियाई चैंपियनशिप में पदक जीतने में सफल रहीं तो डब्ल्यूएफआई उन्हें एशियाई ओलिंपिक क्वालीफायर में भाग लेने से नहीं रोकेगा. यह क्वालिफायर मार्च में आयोजित होगा.

साक्षी के पास अब भी ओलिंपिक टिकट हासिल करने का मौका - साक्षी ने कहा, ‘मुझे एक दौर के ट्रायल की उम्मीद है. अगर मैं ट्रायल में क्वालिफाई कर जाती हूं तो मेरे पास ओलिंपिक का टिकट हासिल करने के दो मौके होंगे. एशियाई विश्व ओलिंपिक क्वालिफायर्स (एडब्ल्यूसी) और विश्व ओलिंपिक क्वालीफायर्स. मैं इन दोनों टूर्नामेंटों के जरिये क्वालीफाई करना चाहती हूं.’ उन्होंने कहा, ‘एडब्ल्यूसी के लिए मेरी तैयारी अच्छी है. चाहे कोई भी प्रतियोगिता हो मैं पदक जीतने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगी. मैं अपनी तकनीक सुधारने पर काम कर रही हूं. मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूं कि पिछले टूर्नामेंटों की गलती फिर से ना दोहराऊं.’ ट्रायल्स में 18 साल की सोनम 6-10 से साक्षी से पिछड़ रही थी लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए जीत दर्ज की. साक्षी एशियाई चैम्पियनशिप में 65 किग्रा भार वर्ग में भाग ले रही हैं.

टी-20 सीरीज में न्यूजीलैंड को 5-0 से हराने के बाद वनडे सीरीज में उत्साह के साथ उतरी भारतीय टीम को करारी हार झेलनी पड़ी है. न्यूजीलैंड ने तीन मैचों की इस सीरीज को 3-0 से जीत लिया है. यह 1989 यानी 31 साल बाद पहला मौका है जब भारतीय टीम को वनडे सीरीज (कम से कम तीन मैच) में व्हाइटवाश का सामना करना पड़ा है. इससे पहले वनडे सीरीज में भारतीय टीम सभी मैच वेस्ट इंडीज के खिलाफ 1989 में हारी थी.

वनडे सीरीज में भारत की हार - वेस्ट इंडीज ने 1983-84 में 5-0 से हराया

                                              वेस्ट इंडीज ने ही फिर 1988-89 में 5-0 से हराया

                                              न्यूजीलैंड ने 3-0 से हराया

हार के बाद कप्तान कोहली बोले  -वहीं, न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज में एक भी नहीं जीतने के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा कि मैदान पर टीम के खिलाड़ी अपनी काबिलियत के साथ न्याय नहीं कर सके. न्यूजीलैंड की टीम ने 14 साल बाद भारत को किसी द्वीपक्षीय सीरीज में क्लीन स्वीप किया है.विराट कोहली ने मैच के बाद कहा, "पहले मैच में हम दौड़ मे थे. सभी तीन मैचों में हमारी फील्डिंग का लेवल उच्चस्तरीय नहीं थी. हमने जिस तरह से वापसी की, वह सकारात्मक है लेकिन फील्ड के अंदर हम अपनी क्षमता के साथ न्याय नहीं कर सके."

इससे पहले बता दें कि वनडे सीरीज में चोट की वजह से भारतीय ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा बाहर हो गए थे. वनडे में शिखर धवन भी चोट की वजह से नहीं खेल पाए थे. इन दोनों खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में भारतीय टीम में दो नए ओपनर बल्लेबाज- पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल आए लेकिन ये दोनों ही बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाए और टीम को किसी मैच में अच्छी शुरुआत नहीं दिला सके.

भारतीय फॉरवर्ड लालरेम्सियामी को 2019 की एफआईएच की सर्वश्रेष्ठ उदीयमान महिला खिलाड़ी चुना गया। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। भारत की 19 वर्ष की स्ट्राइकर ने अर्जेंटीना की जूलिएटा जांकुनास और नीदरलैंड की फ्रेडरिक माटला को हराया जो दूसरे और तीसरे स्थान पर रही। मिजोरम की इस खिलाड़ी को 40 प्रतिशत वोट मिले। उन्हें राष्ट्रीय संघों से 47.7 प्रतिशत, मीडिया से 28.4 प्रतिशत और प्रशंसकों तथा खिलाड़ियों से 36.4 प्रतिशत वोट मिले।

बेलारूस के खिलाफ 2017 में पदार्पण करने के बाद लालरेम्सियामी भारतीय टीम का अभिन्न अंग बनी हुई है। उन्होंने 2017 में कोरिया और 2019 में स्पेन के खिलाफ सर्वाधिक गोल दागे। हिरोशिमा में एफआईएच सीरिज फाइनल्स में भारत ने ओलंपिक क्वालीफायर्स में जगह बनाने की होड़ में शामिल आठ दूसरी टीमों को हराया। भारत ने अमेरिका को हराकर शीर्ष स्थान हासिल किया। 

टूर्नामेंट के दौरान लालरेम्सियामी के पिता का निधन हो गया था लेकिन इस दुख को झेलते हुए उसने खेलने का फैसला किया। उसने बाद में कहा, ''मैं चाहती थी कि मेरे पिता को मुझ पर गर्व हो। इसलिए मैंने रुकने और खेलने का फैसला किया।'' 

मिजोरम के छोटे से गांव से निकली लालरेम्सियामी ने कहा, ''मेरे गांव में हॉकी काफी मशहूर नहीं है। बहुत कम लोग खेलते हैं लेकिन मेरी हमेशा से हॉकी में रुचि थी। यही वजह है कि मैने थेंजाल जाने का फैसला किया जो मेरे गांव से काफी दूर था। मुझे शुरुआती साल होस्टल में बिताने पड़े।''

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने कबड्डी विश्व कप  में हिस्सा लेने के लिए भारतीय टीम के पाकिस्तान  पहुंचने पर हैरानी जताई है. आईओए के अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा  ने सोमवार को कहा कि जो लोग शनिवार को लाहौर पहुंचे हैं, वे देश के अधिकारी नहीं हैं. वे अपने बैनर तले ‘भारत’ (India) शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. वे एमेच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया  द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है. नरेंद्र बत्रा ने कहा, ‘आईओए  ने उन्हें अपनी मंजूरी नहीं दी है और ना ही महासंघ ने उन्हें मंजूरी दी है. इसलिए मुझे नहीं पता कि कौन गए हैं. पता नहीं 60 गए हैं या 100 लोग. मुझे कुछ नहीं पता. कबड्डी फेडरेशन, जो आईओए (IOA) का सदस्य है, उसने हमसे पुष्टि की है कि उन्होंने किसी को नहीं भेजा है. मैंने खेल मंत्रालय का बयान पढ़ा है जिसमें भी पुष्टि की गई है कि उन्होंने किसी को इसकी मंजूरी नहीं दी है. इसलिए मुझे नहीं पता कि वे कौन है और क्या कहानी है.’

भारतीय टीम वाघा सीमा के रास्ते लाहौर पहुंची. पाकिस्तान में पहली बार कबड्डी विश्व कप  का आयोजन हो रहा है. इसमें भारत समेत 10 देशों की टीमें हिस्सा ले रही हैं. बत्रा ने कहा, ‘जब तक हमारे सदस्य इकाई इसे मंजूरी नहीं देते तब तक वे ‘भारत’ शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकते. इसके लिए आपको आईओए और सरकार से अनुमति लेनी होगी, तभी आप उस शब्द का इस्तेमाल कर सकते हैं. भारतीय पासपोर्ट वाले कुछ लोग भारत के रूप में वहां जाते हैं और खेलते हैं. लेकिन मैं पाकिस्तान के बारे में कुछ नहीं कह सकता, यह मेरे अधिकार से बाहर है.’ विदेश में होने वाले टूर्नामेंटों में भाग लेने के लिए राष्ट्रीय महासंघों को खेल मंत्रालय से इजाजत लेने की जरूरत होती है. खेल मंत्रालय फिर इसके लिए गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय से अनुमति मांगता है. इस बीच, एकेएफआई के प्रशासक जस्टिस (रिटायर्ड हर्ट) एपसी गर्ग ने कहा है कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है कि कोई टीम पाकिस्तान गई है. उन्होंने एक बयान में कहा, ‘किसी भी टीम ने पाकिस्तान जाने और वहां कबड्डी मैच खेलने के लिए एकेएफआई से अनुमति नहीं ली है. एकेएफआई ऐसे कामों के लिए समर्थन नहीं करता है। उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है.’ 

U19 World Cup के फाइनल मैच में भारत और बांग्लादेश के खिलाड़ियों में बहस हो गई। दोनों देशों के खिलाड़ियों में बात धक्का-मुक्की तक पहुंच गई थी। इस मामले में कड़ा रुख अपनाते हुएइंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी ने अंडर 19 वर्ल्ड कप के फाइनल में विवाद पैदा करने वाले 5 खिलाड़ियों को दोषी पाया है। आइसीसी ने विश्व कप फाइनल में माहौल खराब करने के लिए 5 खिलाड़ियों को दोषी पाया है, जिनमें 3 बांग्लादेशी खिलाड़ी हैं, जबकि 2 भारतीय खिलाड़ी भी इस विवाद में लिप्त पाए गए।

जिन पांच खिलाड़ियों को आइसीसी ने दोषी पाया है उनमें बांग्लादेश के खिलाड़ी मोहम्मद तौहविद ह्रदोय, शमीम हुसैन और रकिबुल हनस का नाम शामिल है। वहीं, भारतीय खिलाड़ियों में नाम वर्ल्ड कप में अच्छा प्रदर्शन करने वाले और आइसीसी की वर्ल्ड कप टीम में चुने गए रवि बिश्नोई और आकाश सिंह का नाम शामिल है। इन सभी को आइसीसी ने अपने आचार संहिता के आर्टिकल 2.21 को तोड़ने का दोषी पाया है, जबकि बिश्नोई पर 2.5 आर्टिकल का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है। इन सभी पांच खिलाड़ियों ने आइसीसी अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल के मैच रेफरी ग्रेमी लैब्रॉय द्वारा लगाए गए आरोपों को स्वीकार कर लिया है।

सभी आरोप मैदानी अंपायरों सैम एन और एड्रियन होल्डस्टोक, तीसरे अंपायर रवीन्द्र विमलासिरि और चौथे अंपायर पैट्रिक बोंगनी जेले ने लगाए।
क्या है निलंबन अंक के मायने : निलंबन अंक आगामी अंतरराष्ट्रीय मैचों पर लागू होंगे। एक निलंबन अंक के मायने हैं कि खिलाड़ी एक वनडे या टी-20, अंडर-19 या ये टीम अंतरराष्ट्रीय मैच से बाहर रहेगा।

दुबई। किसी वैश्विक टूर्नामेंट में पहली बार फ्रंटफुट नोबॉल तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा, जब आईसीसी इस महीने के आखिर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले महिला टी-20 विश्व कप में इसे लागू करेगी। हाल ही में भारत और वेस्टइंडीज में सफल प्रयोग के बाद इसके इस्तेमाल का फैसला किया गया। 

आईसीसी ने एक बयान में कहा कि तीसरा अंपायर हर गेंद के बाद फ्रंटफुट लैंडिंग पोजिशन पर नजर रखेगा। गेंद नोबॉल होने पर वह मैदानी अंपायर को इसकी सूचना देगा। इसमें कहा गया कि मैदानी अंपायरों को निर्देश दिए गए हैं कि फ्रंटफुट नोबॉल पर वे फैसला नहीं लेंगे, बाकी नोबॉल पर हालांकि वे ही फैसला लेंगे। हाल ही में 12 मैचों में इस तकनीक का ट्रॉयल लिया गया जिसमें 4,717 गेंदें डाली गईं और उनमें 13 नोबॉल थीं।

आईसीसी महाप्रबंधक (क्रिकेट) ज्यौफ अलार्डिस ने कहा कि क्रिकेट में मैच अधिकारियों की मदद के लिए तकनीक के इस्तेमाल की अच्छी परंपरा रही है। मुझे यकीन है कि इस तकनीक के प्रयोग से आईसीसी महिला टी-20 विश्व में फ्रंटफुट नोबॉल में गलतियों की गुंजाइश कम हो जाएगी।

भारतीय कप्तान प्रियम गर्ग ने कहा कि पहला अंडर 19 वर्ल्ड कप जीतने के बाद बांग्लादेश के खिलाड़ियों का बर्ताव ‘भद्दा ’ था. भारत को रविवार को फाइनल में हराने के बाद कुछ बांग्लादेशी क्रिकेटर जश्न मनाते समय सीमा लांघ गए. उनके कप्तान अकबर अली ने इस ‘अप्रिय घटना’ के लिए माफी मांगी. भारतीय कप्तान गर्ग ने कहा कि इस तरह की घटना नहीं होनी चाहिए थी. गर्ग के हवाले से क्रिकइन्फो ने कहा, ‘हम सहज थे. यह खेल का हिस्सा है. कभी आप जीतते हैं तो कभी हारते हैं. उनकी प्रतिक्रिया भद्दी थी. ऐसा नहीं होना चाहिए था लेकिन ठीक है, चलता है.’ मैच के दौरान भी बांग्लादेशी खिलाड़ी काफी आक्रामक थे जबकि उनके तेज गेंदबाज शरीफुल इस्लाम ने हर गेंद पर भारतीय बल्लेबाजों के साथ छींटाकशी की. विजयी रन लेने के बाद भी उनका रवैया ऐसा ही था.

अली ने हालांकि कहा ,‘जो हुआ, वह नहीं होना चाहिए था. मुझे नहीं पता कि वास्तव में क्या हुआ. फाइनल में जज्बात उमड़ आते हैं और कई बार खिलाड़ियों का उन पर काबू नहीं रहता.’ उन्होंने कहा, ‘युवाओं को इससे बचना चाहिए. हमें विरोधी का सम्मान करना चाहिए, खेल का सम्मान करना चाहिए. क्रिकेट भद्रजनों का खेल है. मैं अपनी टीम की ओर से माफी मांगता हूं.’ भारत ने पिछले साल एशिया कप फाइनल और ट्राई सीरीज के फाइनल में बांग्लादेश को हराया था. अली ने कहा, ‘भारत बांग्लादेश प्रतिद्वंद्विता ऐसी ही है. हम एशिया कप फाइनल में उनसे हारे थे तो मुझे लगता है कि कहीं बदले की बात खिलाड़ियों के जेहन में थी. मैं उनकी ओर से माफी मांगता हूं.’ भारतीय टीम प्रबंधन के एक करीबी सूत्र ने बताया कि मैच काफी तनाव में खेला गया लेकिन मैच के बाद जो हुआ, उसमें भारतीय खिलाड़ियों की कोई गलती नहीं थी.

 

इंडोनेशिया के क्रिस्टोफर रुंगकाट और स्वीडन के आंद्रे गोरांसन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट का युगल खिताब जीत लिया. चेक गणराज्य के जिरी वेस्ली ने रविवार को यहां महालुंगे बालेवाड़ी स्टेडियम में बेलारूस के इगोर गेरासिमोव को हराकर टाटा ओपन महाराष्ट्र के तीसरे संस्करण का एकल खिताब जीत लिया. वेस्ली ने 546,355 डॉलर इनामी इस टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में गेरासिमोव को 7-6 (7-2), 5-7, 6-3 से हराया. यह मुकाबला करीब सवा दो घंटे चला. वेस्ले ने पहला सेट 7-6 से अपने नाम किया. पहले सेट में दोनों के बीच जोरदार भिड़ंत हुई. एक समय दोनों 5-5 की बराबरी पर थे और फिर दोनों ने 6-6 की बराबरी हासिल की. इसके बाद यह सेट टाइब्रेकर में गया, जहां वेस्ले ने 7-2 से जीत हासिल की. दूसरे सेट में भी दोनों खिलाड़ियों के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिली. एक समय दोनों 5-5 से बराबरी पर थे लेकिन गेरासिमोव ने पहले 6-5 की बढ़त हासिल की और फिर 7-5 से यह सेट जीतकर मैच को तीसरे और निर्णायक सेट में ले जाते हुए रोमांचक बना दिया.

निर्णायक सेट में हालांकि वेस्ले ने अपने प्रतिद्वंद्वी को मौका नहीं दिया और 6-3 से जीत हासिल करते हुए चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया. इससे पहले, इंडोनेशिया के क्रिस्टोफर रुंगकाट और स्वीडन के आंद्रे गोरांसन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट का युगल खिताब जीत लिया. रुंगकाट और गोरांसन ने दक्षिण एशिया के एकमात्र एटीपी टूर इवेंट के फाइनल में इजरायल के जोनाथन इर्लिच और बेलारूस के आंद्रेई वेसीलेवस्की को 6-2, 6-3, 10-8 से हराया. इर्लिच और आंद्रेई इस मैच में आठ ऐस सर्विस लगाने के बावजूद हार गए. साथ ही इन दोनों ने रुंगकाट और गोरांसन (3) की तुलना में सिर्फ एक डबल फॉल्ट किए. रुंगकाट और गोरांसन ने पहला सेट आसानी से 6-2 से अपने नाम कर दिया लेकिन इर्लिच और वेसीलेवस्की ने दूसरे सेट में शानदार खेल दिखाते हुए वापसी की और इसे 6-3 से अपने नाम किया. इसके बाद सुपर टाईब्रेकर हुआ, जिसमें दोनों के बीच जोरदार भिड़ंत हुई लेकिन रुंगकाट और गोरांसन 10-8 से जीत हासिल करने में सफल रहे.

लिंकन: विराट कोहली की अगुआई में जहां सीनियर टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज खेल रही है, वहीं इंडिया ए की टीम न्यूजीलैंड ए  के खिलाफ दूसरे गैर आधिकारिक टेस्ट मैच में उतर गई है. हालांकि हनुमा विहारी की कप्तानी में इंडिया ए और न्यूजीलैंड ए के बीच खेला गया पहला गैर आधिकारिक टेस्ट बिना किसी नतीजे के ड्रॉ समाप्त हुआ था. शुक्रवार से शुरू हुए दूसरे मुकाबले में न्यूजीलैंड ए ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पांच विकेट पर 276 रन बना लिए हैं. स्टंप के समय डैन क्लेवर 46 और डेरिल मिचेल 36 रन बनाकर क्रीज पर जमे हुए थे.  

कप्तान ने दिलाई ठोस शुरुआत - न्यूजीलैंड ए के कप्तान रदरफोर्ड ने इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. टीम के लिए ओपनरों रदरफोर्ड और यंग ने अच्छी शुरुआत की. दोनों ने पहले विकेट के लिए 67 रन की साझेदारी की. रदरफोर्ड के रूप में मेजबान टीम को पहला झटका लगा. उन्हें तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज  ने विकेटकीपर केएस भरत के हाथों कैच कराया. रदरफोर्ड ने 79 गेंदों पर 40 रन बनाए. तीसरे नंबर पर उतरे रचिन रवींद्र भी 12 रन बनाकर चलते बने. उन्हें सिराज ने बोल्ड आउट कर पवेलियन भेजा. विल यंग भी कुछ देर बाद 26 रन बनाकर शाहबाज नदीम की गेंद पर स्टंप आउट हो गए.  

अवेश खान ने दिया दोहरा झटका - न्यूजीलैंड ए  ने तीन विकेट 105 रनों पर गंवा दिए थे. इसके बाद ग्लेन फिलिप्स और सीफर्ट ने पारी को आगे बढ़ाया. दोनों ने संभलकर खेलते हुए रन बनाने का सिलसिला जारी रखा. दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 76 रनों की साझेदारी हुई. टीम का स्कोर जब 181 रन था, तभी फिलिप्स अवेश खान की गेंद पर केएल भरत को कैच दे बैठे. उन्होंने 80 गेंदों पर 65 रन बनाए. सीफर्ट भी अधिक देर तक नहीं टिक सके और 64 गेंदों पर 30 रन बनाकर अवेश खान की गेंद पर शुभमन गिल को कैच देकर पवेलियन लौट गए.  

इंदौर की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी अमी कमानी ने पुणे में आयोजित राष्ट्रीय बिलियर्ड्स चैंपियनशिप में महिला वर्ग का खिताब अपने नाम किया। म.प्र. बिलियर्ड्स-स्नूकर एसोसिएशन के चेयरमैन भोलू मेहता ने बताया कि अमी ने खिताबी मुकाबले में दिल्ली की किरत भंडाल को 3-1 (77-66, 55-75, 78-39, 75-32) से मात दी। खिताबी मुकाबला पांच फ्रेम का था, लेकिन अमी ने शानदार खेल दिखाते हुए किरत को 4 फ्रेम में ही हराकर राष्ट्रीय चैंपियन होने का गौरव हासिल किया। वहीं सेमीफाइनल में अमी ने कर्नाटक की गत विजेता उमा देवी को कड़े संघर्ष में 3-2 से पराजित किया था।

अमी कमानी ने क्वार्टर फाइनल में कर्नाटक की एम. चित्रा को हराया था। अमी का यह दूसरा राष्ट्रीय बिलियर्ड्स खिताब है जबकि अब तक वह कुल 8 बार राष्ट्रीय खिताब जीत चुकी है। अमी की सफलता पर भारतीय बिलियर्ड्स-स्नूकर एसो. के उपाध्यक्ष सुनील बजाज, अश्विनी पुराणिक, सुजीत गेहलोत, अशोक सेठी व मितेंद्र गौड़ ने बधाई दी।

 

भारतीय खेल प्राधिकरण ओर हॉकी इंडिया ने जूनियर और सब जूनियर खिलाड़ियों के लिए देश के 7 शहरों में हाई परफार्मेंस केंद्र बनाने की घोषणा की। 

यह कदम ओलंपिक 2024 और 2028 के लिए प्रतिभाओं को तैयार करने के मकसद से उठाया गया है। दिल्ली के ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम पर राष्ट्रीय हॉकी अकादमी, सुंदरगढ (ओडिशा), भोपाल और बेंग्लुरु में साइ केंद्र अगले तीन महीने में शुरू हो जाएंगे जबकि बाकी तीन केंद्र अगले एक साल में शुरू होंगे। हॉकी इंडिया और उसके हाई परफार्मेंस निदेशक इन पर नजर रखेंगे और खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के मौके भी दिए जाएंगे। ये अकादमियां खेलो इंडिया योजना के तहत शुरू की जाएंगी।

हाई परफार्मेंस हॉकी केंद्र शुरू में इन 7 जगहों पर खोले जाएंगे।

1. साइ केंद्र, बेंग्लुरु

2. मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम, दिल्ली

3. साइ सुंदरगढ, ओडिशा

4. साइ यूडीएमसीसी, भोपाल

5. साइ एनएस एनईसी, इम्फाल

6. बालेवाड़ी खेल परिसर, पुणे

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को हराकर तहलका मचाने वाली दो बार की विश्व कैडेट चैंपियन सोनम मलिक देश की स्टार पहलवान विनेश फोगाट को अपना आदर्श मानती हैं और उनके नक्शेकदम पर चलना चाहती हैं। 

17 वर्षीय सोनम सोमवार को यहां बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्स वुमैन ऑफ द ईयर के पांच नामित खिलाड़ियों की घोषणा के अवसर पर मौजूद थीं और उन्होंने इस दौरान अपनी पंसदीदा पहलवान के बारे में पूछने पर कहा, मैं विनेश को ज्यादा बेहतरीन मानती हूं क्योंकि वह सबसे ज्यादा मजबूत पहलवान हैं। आगामी 15 अप्रैल को 18 वर्ष की होने जा रही सोनम के पिता राजेंद्र मलिक और कोच अजमेर मलिक भी इस अवसर पर मौजूद थे। सोनम ने जनवरी के शुरु में ट्रायल मुकाबले में साक्षी को पराजित किया था।
वह मुकाबले के आखिर तक 4-6 से पिछड़ी हुई थी लेकिन उन्होंने अंतिम सेकेंडों में चार अंक लेने वाला दांव लगाते हुए स्कोर 10-10 से बराबर कर दिया। कुश्ती नियमों के अनुसार मुकाबले में स्कोर बराबर रहने की स्थिति में अंतिम अंक लेने वाले खिलाड़ी को विजेता घोषित किया जाता है।

यह पूछने पर कि क्या कभी उन्हें उम्मीद थी कि उनका साक्षी से मुकाबला हो सकता है, सोनम ने कहा, मैं 62 किग्रा वर्ग में खेलती हूं जो साक्षी का वजन वर्ग है। मुझे मालूम था कि मेरा एक ना एक दिन उनसे मुकाबला होना है इसलिए मैं इस चुनौती के लिए हमेशा तैयार थी।” हरियाणा के सोनीपत जिले के गोहाना की पहलवान सोनम को कोच अजमेर अपनी अकादमी में ट्रेनिंग देते हैं और कोच का मानना है कि इस लड़की में ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने का दम है।

क्रिकेट इतिहास की दो चिर-प्रतिद्वंद्वी, भारत और पाकिस्तान की टीमें मंगलवार को सेनवेस पार्क मैदान पर अंडर-19 विश्व कप के सेमीफाइनल में आमने-सामने होंगी। सीनियर टीमों का मैच होता है तो जबरदस्त हो-हल्ला होता है लेकिन युवा टीमों के इस मैच को लेकर अधिक हो-हल्ला नहीं है। वैसे इससे इस मैच की अहमियत कम नहीं होती और दोनों टीमों के लिए यह मैच किसी फाइनल से कम नहीं होगा। आइए जानें भारत के किन खिलाड़ियों पर नजरें हैं...

शीर्ष क्रम में यशस्वी जायसवाल गजब के फॉर्म में चल रहे हैं। उन्होंने 4 मैच खेले हैं और 3 में हाफ सेंचुरी लगाई है। इस दौरान उनके नाम 103.50 की औसत से 207 रन दर्ज हुए हैं। एक बार उनसे वैसे ही प्रदर्शन की उम्मीद होगी। अगर यह बल्लेबाज चल गया तो पाकिस्तान के लिए मुश्किल हो सकती है।

कप्तान प्रियम गर्ग को वैसे तो बैटिंग का बहुत मौका नहीं मिला है, लेकिन यहां सूझ-बूझ भरी कप्तानी के साथ-साथ बैटिंग में भी अच्छा करने का दबाव होगा। उन्होंने वर्ल्ड कप में अपने पहले मैच में श्रीलंका के खिलाफ 72 गेंदों में 56 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली थी, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 रन ही बना पाए थे।

गेंदबाजों की बात करें तो टूर्नमेंट में रवि बिस्नोई ने 4 मैच में कुल 11 विकेट झटके हैं और भारत के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 5 रन देकर 4 विकेट लेने का है, जो जापान के खिलाफ लिया था। इसके अलावा उन्होंने 4 विकेट न्यू जीलैंड के खिलाफ भी 4 विकेट झटके थे। रवि बैटिंग भी अच्छी कर सकते हैं। उन्होंन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल में महत्वपूर्ण 30 रन बनाए थे।

भारतीय टीम के महत्वपूर्ण खिलाड़ी कार्तिक त्यागी भी फॉर्म में हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल में 4 विकेट झटकते हुए भारत को अहम मौके पर जीत दिलाई थी। यह तेज गेंदबाज जब पाकिस्तान के खिलाफ मैदान पर उतरेगा तो वैसे ही करिश्माई प्रदर्शन की उम्मीद होगी। त्यागी ने अब तक 4 मैचों में 9 विकेट झटके हैं।

न्यूजीलैंड के खिलाफ ट्वेंटी-ट्वेंटी सीरीज 5-0 से अपने नाम करने के बाद टीम इंडिया को बड़ा झटका लगा है. टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ी और ओपनर रोहित शर्मा 5 फरवरी से शुरू हो रही तीन मैचों की वनडे सीरीज से बाहर हो गए हैं. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में इस बात की जानकारी दी है. रोहित शर्मा पांचवें ट्वेंटी-ट्वेंटी मुकाबले के दौरान चोटिल हो गए थे. रोहित शर्मा को आखिरी ट्वेंटी-ट्वेंटी मुकाबले में रन लेते हुए पिंडली में चोट लगी थी. चोट के बावजूद रोहित शर्मा ने बल्लेबाजी करने की कोशिश की और एक छक्का भी लगाया. हालांकि ना भाग पाने की वजह से वह रिटायर्ड हर्ट हो गए थे. उन्होंने 41 गेंद की अपनी पारी में तीन चौकों और तीन छक्कों की मदद से 60 रन बनाए. अब जब रोहित शर्मा सीरीज के बाकी मैचों में नहीं खेल पाएंगे तो उनकी जगह मयंक अग्रवाल को भारतीय टीम में शामिल किया जाएगा.जबकि टेस्ट सीरीज में के एल राहुल की वापसी हो सकती है. इसके अलावा पृथ्वी शॉ भी वापसी का दावा पेश करेंगे.

चोट से जूझ रही है टीम इंडिया - न्यूजीलैंड दौरे पर टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ियों का चोटिल होना जारी है. न्यूजीलैंड दौरे की शुरुआत से पहले ही ईशांत शर्मा और शिखर धवन चोट की वजह से बाहर हो गए थे. कुछ दिन पहले हार्दिक पांड्या भी चोट से नहीं उभर पाने की वजह से टेस्ट टीम से बाहर हो गए.

तीन वनडे और दो टेस्ट खेलने बाकी - न्यूजीलैंड दौरे पर टीम इंडिया को अभी तीन वनडे की सीरीज खेलनी है. पहला वनडे बुधवार 5 फरवरी को खेला जाएगा. 21 फरवरी से खेला जाएगा. यह टेस्ट सीरीज आईसीसी की टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा है.

इनफॅार्म भारतीय सलामी बल्लेबाज केएल राहुल ने कहा है कि वह अभी टी-20 वर्ल्ड कप के बारे में ज्यादा नहीं सोच रहे हैं और आगे भी इसी तरह का प्रदर्शन जारी रखना चाहते हैं. राहुल ने रविवार को बे ओवल मैदान में न्यूजीलैंड के साथ समाप्त हुई पांच मैचों की टी-20 सीरीज में 56, नाबाद 57, 27, 39 और 45 रनों की पारी खेली. इसके लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज का पुरस्कार मिला. भारतीय कप्तान विराट कोहली को पांचवें टी-20 मैच से आराम दिया गया था और उनकी जगह रोहित शर्मा इस मैच में कप्तानी कर रहे थे. लेकिन कार्यवाहक कप्तान रोहित चोटिल हो गए वह रिटायर्ड हर्ट हो गए. रोहित के रिटायर्ड हर्ट होने के बाद राहुल को मैच में कप्तानी करने का मौका मिला और उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को सात रनों से जीत दिला दी. भारत ने इस जीत के साथ ही सीरीज में 5-0 से क्लीन स्वीप हासिल कर ली.

राहुल ने मैच के बाद कहा, "हम बहुत खुश हैं कि हमने 5-0 से सीरीज जीती है. मैं इस बात से बहुत खुश हूं कि मैं भारतीय टीम की जीत में भूमिका निभा सका और भारतीय टीम ने मेरे प्रदर्शन के दम पर यह सीरीज जीती." उन्होंने कहा, "मैं वास्तव में अब बहुत अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं और मैं हमेशा कोशिश करता हूं कि टीम में मुझे जो भी भूमिका मिले मैं उसे बखूबी निभा सकूं. अभी हम टी-20 वर्ल्ड कप के बारे में ज्यादा नहीं सोच रहे हैं. लेकिन उम्मीद करता हूं कि मैं अपनी बल्लेबाजी टी-20 वर्ल्ड कप तक इसी प्रकार जारी रख पाऊंगा." भारत पांच फरवरी से न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन वनडे मैच खेलेगा और राहुल ने कहा कि वे 50 ओवर के फॉर्मेट में भी इसी प्रक्रिया का पालन करेंगे. राहुल ने रोहित की चोट पर कहा, "दुर्भाग्यवश रोहित के साथ ऐसा हुआ. लेकिन उम्मीद है कि वह अगले कुछ दिनों में ठीक हो जाएंगे. टीम के रूप में हम एक दूसरे पर बहुत ज्यादा विश्वास करते हैं. हम अब कुछ दिन आराम करेंगे और इस जीत का मजा उठाएंगे."

भारत ने पांचवें और अंतिम टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में न्यूजीलैंड को सात रन से हराया. भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए तीन विकेट पर 163 रन बनाये. इसमें कप्तान रोहित शर्मा के 60, राहुल के 45 और श्रेयस अय्यर के नाबाद 33 रन शामिल हैं.

आस्ट्रेलियाई ओपन खिताब के साथ अपना 17वां ग्रैंडस्लैम जीतने वाले नोवाक जोकोविच ने चेताया है कि अब उनकी नजरें रोजर फेडरर के 20 ग्रैंडस्लैम के रिकार्ड पर लगी है. दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी बने जोकोविच ने डोमिनिक थिएम को पांच सेटों में हराकर आठवीं बार आस्ट्रेलियाई ओपन जीता.

नोवाक जोकोविच के अलावा फेडरर और नडाल ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो एक ग्रैंडस्लैम आठ या अधिक बार जीत चुके हैं. सर्बिया के इस खिलाड़ी ने कहा, ''अपने कैरियर के इस चरण में मेरे लिये सबसे अहम ग्रैंडस्लैम हैं.''

उन्होंने कहा, ''ग्रैंडस्लैम की वजह से ही मैं खेल रहा हूं. मेरी नजरें सबसे ज्यादा ग्रैंडस्लैम जीतने का रिकार्ड बनाने पर लगी है. यही सबसे बड़ा लक्ष्य है.''

 स्पेन के दिग्गज फुटबाल क्लब बार्सिलोना ने ब्राजील के मिडफील्डर मैथ्यूज फर्नाडीज के साथ करार करने की घोषणा की है। क्लब ने फर्नाडीज के साथ 7 मिलियन यूरो का करार किया है और वह अब अगले पांच साल तक इस क्लब में बने रहेंगे। बार्सिलोना ने एक बयान में कहा, एफसी बार्सिलोना ने मैथ्यूज फर्नाडीज के साथ करार किया है और वह एक जुलाई को क्लब से जुडेंगे।

फर्नाडीज ने 2016 में ब्राजील की फर्स्ट क्लब के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। 2019 में वह पालमिरास पहुंच गए थे, जहां उन्होंने 11 मैचों में एक गोल किया था। वह ब्राजील की अंडर-17 टीम और अंडर-20 टीम के लिए 2-2 मैच खेल चुके हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या पूरी तरह फिट ना होने के कारण न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली 2 मैचों की टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं। हार्दिक राष्ट्रीय क्रिकेट संघ (एनसीए) के प्रमुख फिजियो आशीष कौशिक के साथ लंदन गए थे। जहां पर स्पाइनल सर्जन डाक्टर जेम्स आलीबोन ने उनकी चोट की जांच की। अब पंड्या जब तक पूरी तरह से फिटनेस हासिल नहीं कर लेते हैं तब तक वह एनसीए में ही रिहैब करेंगे। 

टेस्ट सीरीज का पहला मैच 21 फरवरी को वेलिंग्टन में होगा - चोट के कारण पंड्या पहले ही न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 और वनडे सीरीज में जगह नहीं बना पाए थे। BCCI ने बताया कि हार्दिक जब तक पूरी तरह से फिटनेस हासिल नहीं कर लेते हैं तब तक वह एनसीए में ही रिहैब करेंगे। भारत-न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला 21 फरवरी को वेलिंग्टन और दूसरा 29 फरवरी को क्राइस्टचर्च में खेला जाएगा। 

India vs New Zealand भारत और न्यूजीलैंड (Ind vs NZ) के बीच खेली जी रही पांच टी-20 मैचों की सीरीज़ में टीम इंडिया ने (Team India) 3-0 की अजेय बढ़त बना ली है. इसी के साथ भारत ने न्यूज़ीलैंड की ज़मीन पर इतिहास भी रच दिया है, क्योंकि ये पहला मौका है जब कीवी धरती पर भारतीय टीम ने टी-20 सीरीज़ जीत की उपलब्धि हासिल की है. तीसरा मैच टीम इंडिया के लिए बेहद खास रहा और इस मैच का नतीज़ सुपर ओवर (Super Over) से निकला. इस रोमांचक मुकाबले भारत की जीत के हीरो रहे रोहित शर्मा (Rohit Sharma). रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 40 गेंदों पर 65 रन की दमदार पारी खेली और फिर जब मैच सुपर ओवर में पहुंचा तो उन्होंने आख़िर की दो गेंदों पर दो छक्के लगा कर टीम इंडिया को जीत दिला दी.

रोहित शर्मा के लिए भी खास रहा ये मैच - तीसरे टी-20 मैच में ओपनर रोहित शर्मा 40 गेंदों में 65 रन बनाए, लेकिन मजे की बात ये है कि इस पारी के दौरान उन्होंने पहली 11 गेंदों पर सिर्फ़ 12 रन बनाए थे, लेकिन इसके बाद उन्होंने अपना गियर चेंज किया और फिर अगली 12 गेंदों में ही उन्होने अपने 50 रिन पूरे कर लिए. इसके बाद जब मैच सुपर ओवर में पहुंचा, तो वहां पर भी रोहित ने द हिटमैन शो दिखाते हुए आख़िर की दो गेंदों पर दो छक्के लगा टीम इंडिया को जीत दिला दी. रोहित ने भारत को इस मैच में जीत तो दिलाई ही इसके साथ ही साथ उन्होंने इस बेहद ही रोमांचक मुकाबले में एक खास मुकाम भी हासिल कर लिया. इस अहम मैच में रोहित शर्मा ने बतौर भारतीय ओपनर सभी फॉर्मेट में अपने 10 हज़ार रन भी पूरे कर लिए.

गावस्कर, सचिन और सहवाग को छोड़ा पीछे -रोहित शर्मा से पहले सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर और विरेंदर सहवाग भी ये कारनामा कर चुके हैं. लेकिन रोहित इस मामले में बेहद ख़ास हैं क्योंकि वो एकलौते खिलाड़ी हैं जिनका औसत 50 से ऊपर का रहा है. मैच में बनाए अर्धशतक के साथ रोहित अंतरराष्ट्रीय टी-20 में संयुक्त रूप से सबसे ज्यादा 50 रनों से अधिक की पारी खेलने वाले खिलाड़ी बन गए है. उन्होंने इस पारी के जरिए विराट कोहली की बराबरी कर ली है. अब दोनों टी-20 में 24 बार 50 रनों से अधिक की पारी खेलने वाले खिलाड़ी बन गए है. इन 24 पारियों में रोहित के नाम चार शतक भी है. यह भी एक रिकॉर्ड है. वहीं विराट कोहली अंतरराष्ट्रीय टी20 में शतक नहीं लगा पाए है.

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने साइना नेहवाल का नाम लिए बिना उनके बीजेपी में शामिल होने पर तंज कसा है. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा , ‘‘पहली बार सुना है. बेवजह खेलना शुरू किया और अब बेवजह पार्टी ज्वाइन किया.’’
सोशल मीडिया में ज्वाला के इस ट्वीट पर लोगों ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है. सानिया और उनकी बड़ी बहन चंद्रांशू नेहवाल बुधवार को बीजेपी में शामिल हो गईं. बीजेपी में शामिल होने पर बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री जिस तरह से दिन रात काम करते हैं, वह मुझे बहुत पसंद है. मुझे देश के लिए कुछ करना पसंद है और बीजेपी एक ऐसी पार्टी है जो देश के लिए अच्छा काम कर रही है, मुझे पार्टी में शामिल होने की खुशी है. 8 फरवरी को दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले साइना का बीजेपी ज्वाइन करना पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. माना जा रहा है कि सायना के बीजेपी में आने से दिल्ली चुनाव में पार्टी और मजबूत होगी और सत्ताधारी आम आदमी पार्टी पर बीजेपी को बढ़त मिलेगी.

साइना के फैंस ने जमकर किया ट्रोल  - ज्वाला के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया में साइना के फैंस ने उन्हें जमकर ट्रोल किया. लोगों ने ज्वाला को याद दिलाया कि साइना ने भारत के लिए जीतकर देश का सम्मान बढ़ाया है. वहीं ज्वाला ने बाद में अपने ट्वीट के लिए लोगों को सफाई दी. अपने ट्वीट के चार घंटे के बाद, ज्वाला ने साइना को बीजेपी ज्वाइन करने पर बधाई भी दी. ज्वाला ने ट्वीटर पर लिखा, "साइना, पार्टी ज्वाइन करने के लिए आपको शुभकामना...मेरी शुभकामना है कि तुम देश की महिलाओं और महिला खेल के लिए कुछ बड़ा करोगी. हां यह कठिन है लेकिन मुझे उम्मीद है तुम एक बड़ा परिवतन करोगी, गुड लक." उल्लेखनीय है कि साइना ने बीजेपी महासचिव अरुण सिंह सिंह की उपस्थिति में बुधवार को पार्टी ज्वाइन किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि बीजेपी में शामिल होना उनके लिए सौभाग्य की बात है. साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश के लिए योगदान करने का वादा किया.

वेलिंगटन. विराट कोहली क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में बतौर कप्तान और बतौर बल्लेबाज ढेरों उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं और कर चुके हैं. मगर कप्तान के तौर पर अब तक उनके पास आईसीसी की एक भी ट्रॉफी नहीं है. यही वो पैमाना है, जिस पर इतिहास उन्हें कसौटी पर कसेगा. साल 2019 में इंग्लैंड में हुए आईसीसी वर्ल्ड कप में भी टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के हाथों सेमीफाइनल में शिकस्त का सामना करना पड़ा था. ऐसे में जबकि मौजूदा समय में भारतीय टीम पांच मैचों की टी20 सीरीज, तीन मैचों की वनडे सीरीज और दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने के लिए न्यूजीलैंड में हैं तो उसके लिए राहत की खबर आई है. टीम इंडिया टी20 सीरीज में शुरुआती तीनों मुकाबले जीतकर अजेय बढ़त बना चुकी है. इसी सीरीज के बाद उसे पांच फरवरी से वनडे सीरीज में उतरना है.  

वनडे सीरीज के लिए टीम का ऐलान
भारत  के खिलाफ वनडे सीरीज में न्यूजीलैंड की मुश्किल बढ़ गईं हैं. मेजबान टीम ने वनडे सीरीज के लिए टीम का ऐलान कर दिया है, जिसमें उसे तिहरा झटका लगा है. उसके तीन अहम तेज गेंदबाज चोट के चलते टीम इंडिया के खिलाफ वनडे सीरीज नहीं खेल पाएंगे. इन खिलाड़ियों में भारतीय टीम को आईसीसी वर्ल्ड कप सेमीफाइनल  में धूल चटाने वाले ट्रेंट बोल्ट , लॉकी फग्युर्सन और मैट हेनरी शामिल हैं. ट्रेंट बोल्ट के हाथ में चोट है, जबकि मैट हेनरी के अंगूठे में चोट लगी है. वहीं फग्युर्सन की पिंडलियों में खिंचाव है. ये तीनों खिलाड़ियों ऑस्ट्रेलिया में खेलने के दौरान चोटिल हुए थे. इन तीनों तेज गेंदबाजों ने वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ मिलकर छह विकेट लिए थे और टीम की जीत का आधार रख दिया था.  

 

महेंद्र सिंह धोनी के बारे में कहा जाता है कि वो न सिर्फ अपनी बल्लेबाजी बल्कि कप्तानी से भी मैच जिताने का दम रखते हैं. दुनिया के बेहतरीन कप्तानों में शुमार और टीम इंडिया के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने भले ही जुलाई 2019 से क्रिकेट के मैदान पर कदम नहीं रखा है, लेकिन वो एक बार फिर कप्तान की भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं. धोनी ने पिछला मैच आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल के तौर पर खेला था, जिसमें टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. उसके बाद से धोनी के भविष्य को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है. हालांकि उन्होंने खुद इस बारे में स्थिति साफ नहीं की है.

आईपीएल के उद्घाटन मैच से पहले ऑल स्टार मैच का आयोजन
महेंद्र सिंह धोनी (इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के कप्तान हैं. वह अपनी टीम को तीन बार इस टूर्नामेंट का विजेता बना चुके हैं. आईपीएल का 13वां सीजन इस साल 29 मार्च से शुरू होगा, जबकि खिताबी मुकाबला 24 मई को मुंबई में खेला जाएगा. हालांकि इस बार के आईपीएल के उद्घाटन से तीन दिन पहले एक ऑल स्टार मैच का आयोजन भी किया जाएगा. माना जा रहा है कि इसमें आईपीएल (IPL) की सभी आठों फ्रेंचाइजियों के खिलाड़ी शामिल होंगे. माना जा रहा है कि ये मैच उत्तर व पूर्वी भारत की चार फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब, दिल्ली कैपिटल्स, राजस्‍थान रॉयल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स व दक्षिण और पश्चिम भारत की फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपरकिंग्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सनराइजर्स हैदराबाद और मुंबई इंडियंस के खिलाड़ियों के बीच होगा.  

एबी डिविलियर्स भी होंगे धोनी की टीम का हिस्सा
अगर ऐसा हुआ तो फिर दुनिया एक बार फिर विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे दिग्गजों को महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेलता देखेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि एमएस धोनी चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान हैं जबकि विराट कोहली के पास रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और रोहित शर्मा के पास मुंबई इंडियंस की कप्तानी है. ऐसे में जबकि ये तीनों खिलाड़ी ऑल स्टार मैच में एक ही टीम के लिए खेलेंगे तो इस बात में कोई शक नहीं है कि टीम की कमान एमएस धोनी के ही हाथ में रहेगी. 

चोटिल खिलाड़ी की विपक्षी टीम ने ऐसे की मदद - न्यूजीलैंड की टीम ने बुधवार को भारत के हाथों टी-20 मुकाबला भले ही सुपर ओवर में गंवाया हो, लेकिन उनकी जूनियर टीम (अंडर-19) वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में पहुंच गई है. अब उसका मुकाबला साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश के बीच सुपर लीग क्वार्टर फाइनल मुकाबले के विजेता से होगा.

बेनोनी (साउथ अफ्रीका) में खेले गए अंडर-19 वर्ल्ड कप के सुपर लीग क्वार्टर फाइनल में न्यूजीलैंड ने वेस्टइंडीज को 2 विकेट से हराया. पहले बल्लेबाजी करते हुए विंडीज की टीम 47.5 ओवरों में 238 रन पर सिमट गई. न्यूजीलैंड टीम ने 49.4 ओवर में 8 विकेट खोकर जीत का लक्ष्य हासिल कर लिया. यह मैच न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों की खेल भावना के लिए याद रखा जाएगा. दरअसल, जब वेस्टइंडीज के बल्लेबाज को चलने में दिक्कत हुई, तो कीवी क्रिकेटर्स ने उस खिलाड़ी को अपने कंधों का सहारा दिया.इस मुकाबले में विंडीज के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले किर्क मैकेंजी जब 99 रन बनाए थे, तब वह रिटायर्ड हर्ट हो गए. उस वक्त टीम का स्कोर 6 विकेट पर 205 रन था. इसके बाद मैकेंजी आखिरी बल्लेबाज के रूप में उतरे, लेकिन वह बोल्ड हो गए. मैकेंजी के पैर में तकलीफ थी. जब तक उनकी मदद के लिए कोई और मैदान में पहुंचता, उन्हें विपक्षी टीम के जेसी ताशकॉफ और जॉय फील्ड ने कंधे पर उठा लिया और मैदान के बाहर ले गए.

साइना ने भाजपा से जुड़कर जल्द बैडमिंटन को अलविदा कहने के संकेत दिए
 नयी दिल्ली, पिछले कुछ अर्से से सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार की नीतियों की खुलकर सराहना करने वाली साइना नेहवाल ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से जुड़कर चोटों से प्रभावित रहे अपने सुनहरे करियर को जल्द ही अलविदा कहने के संकेत दे दिए हैं। भाजपा से जुड़ने के दौरान साइना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी जमकर सराहना की। पार्टी आगामी दिल्ली चुनाव में युवा मतदाताओं में पैठ बनाने के लिये उन्हें यूथ आइकन के रूप में पेश कर सकती है । दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी रही साइना का करियर पिछले कुछ समय से चोटों से प्रभावित रहा है जिसका असर उनके खेल पर भी पड़ा है।रियो ओलंपिक 2016 में जल्दी बाहर होने के बाद इस स्टार खिलाड़ी को घुटने का आपरेशन कराना पड़ा था और इसके बाद से इस चोट ने उन्हें लगातार परेशान किया है। पूर्व ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साइना ने 2018 से 30 से अधिक टूर्नामेंटों में हिस्सा लिया और इस दौरान सिर्फ दो खिताब जीत पाईं। साथ ही इस दौरान लगभग आधे टूर्नामेंटों में वह क्वार्टर फाइनल में भी जगह नहीं बना पाई। साइना के लिए इस साल होने वाले तोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करने की राह भी आसान नहीं होगी।साइना की विश्व रैंकिंग अभी 18 है और अगर वह 30 अप्रैल को जारी होने वाली रैंकिंग में शीर्ष 16 में जगह नहीं बना पाती हैं तो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाएंगी। तोक्यो ओलंपिक में महिला एकल में कोई देश अधिकतम दो खिलाड़ियों को कोर्ट पर उतार सकता है लेकिन इसके लिए ये दोनों खिलाड़ी विश्व रैंकिंग में शीर्ष 16 में होनी चाहिए। पीवी सिंधू की विश्व रैंकिंग अभी छह है और अगर साइना शीर्ष 16 में जगह बनाने में नाकाम रहती हैं तो उनका चौथी बार ओलंपिक में हिस्सा लेने का सपना टूट जाएगा।माना जा रहा है कि अगर साइना ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहती हैं तो वह राजनीति में सक्रिेय भूमिका निभा सकती हैं। हिसार में जन्मीं साइना साथ ही इस साल 17 मार्च को 30 बरस की हो जाएंगी और ऐसे में लोगों का मानना है कि पिछले कुछ समय से चोटों से परेशान रहने के कारण वैसे भी उनका अंतरराष्ट्रीय करियर अधिक नहीं बचा है। खेल जगत में साइना जाना माना चेहरा हैं और भारत में बैडमिंटन को लोकप्रिय बनाने में उनक

ब्रायंट ने शाकिल ओ नील के साथ मिलकर लेकर्स को 2000, 2001 और 2002 में खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी.

ब्रायंट की अगुवाई में अमेरिका की ओलंपिक टीम ने 2008 बीजिंग ओलंपिक और 2012 लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते थे. इससे वह वैश्विक हस्ती बन गये थे.

वाशिंगटनकभी हार न मानने के जज्बे, कड़ी प्रतिस्पर्धा और सटीकता के कारण कोबे ब्रायंट एनबीए के दिग्गज बने और वह अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए, जिसने नेशनल बास्केटबॉल लीग की नई पीढ़ी और दुनिया भर के फैन्स को प्रेरित किया. ब्रायंट की कल 41 साल की उम्र में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई. आज पूरी दुनिया उनकी जाने पर आंसू बहा रही है. हर कोई उनकी उपलब्धियों को याद कर शोक मना रहा है.

23 साल की उम्र में 3 खिताब जीतने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बने - कोबे ब्रायंट लॉस एंजिलिस लेकर्स के साथ 20 साल तक जुड़े रहे और इस दौरान उनकी टीम ने पांच एनबीए खिताब जीते. कोबे बीन ब्रायंट पूर्व एनबीए खिलाड़ी जो ‘जेलीबीन’ ब्रायंट के बेटे थे. उनका 23 अगस्त 1978 को फिलाडेल्फिया में जन्म हुआ था. ब्रायंट ने शाकिल ओ नील के साथ मिलकर लेकर्स को 2000, 2001 और 2002 में खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी. इस तरह से वह 23 साल की उम्र में तीन खिताब जीतने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बने थे.

बीजिंग और लंदन ओलंपिक के बाद बने वैश्विक हस्ती  - इसके बाद ओ नील ने ब्रायंट के साथ झगड़े के कारण लेकर्स को छोड़ दिया. इससे ब्रायंट का खेल भी प्रभावित हुआ और इसके बाद स्पेन के पाउ गैसोल के आने तक उनकी टीम कोई खिताब नहीं जीत पायी. ब्रायंट की अगुवाई में लेकर्स ने 2009 और 2010 में खिताब जीते. बाद में उनकी ओ नील से सुलह हो गयी थी. ब्रायंट की अगुवाई में अमेरिका की ओलंपिक टीम ने 2008 बीजिंग ओलंपिक और 2012 लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते थे. इससे वह वैश्विक हस्ती बन गये थे. उन्होंने कई शानदार प्रदर्शन किये लेकिन 22 जनवरी 2006 को टोरंटो रैप्टर्स के खिलाफ उनके प्रदर्शन को कोई नहीं भुला सकता जब उन्होंने 81 अंक बनाये. उनसे अधिक अंक केवल विल्ट चैंबरलेन (100 अंक) ने 1962 में बनाये थे. यही नहीं 2016 में 37 साल की उम्र में उन्होंने एनबीए के अपने अंतिम मैच में भी उटाह के खिलाफ 60 अंक बनाये थे.

'बास्केटबॉल मेरा जीवन है' - ब्रायंट ने कहा था, ‘

टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारी के लिए अहम मानी जा रही पांच मैचों की सीरीज के पहले मैच में शुक्रवार को टीम इंडिया का सामना खिलाड़ियों की चोटों से प्रभावित न्यूजीलैंड टीम से होगा. इस व्यस्त सत्र में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी सरजमीं पर आखिरी वनडे के पांच दिन के भीतर यहां टी-20 मैच खेल रही है. यह मुकाबला भारतीय समयानुसार दोपहर 12.20 से खेला जाएगा.

विराट कोहली की कप्तानी में टीम मंगलवार को आकलैंड पहुंची और बुधवार को आराम किया. टीम ने गुरुवार को अभ्यास किया. दूसरी ओर व्यस्तता के कारण टीम प्रबंधन चयन में निरंतरता लाने में कामयाब रहा है, चूंकि विश्व कप से पहले उसे सर्वश्रेष्ठ संयोजन तलाशना है.

टी-20 विश्व कप इस साल अक्टूबर में ऑस्ट्रेलिया में होगा. शिखर धवन, हार्दिक पंड्या, दीपक चाहर और भुवनेश्वर कुमार की चोटों के बावजूद वैकल्पिक खिलाड़ियों ने अपनी उपयोगिता साबित करके टीम को कमी नहीं खलने दी है.

धवन के विकल्प के तौर पर केएल राहुल ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया. इसके बाद धवन के लौटने पर उनके साथ अच्छी सलामी जोड़ी बनाई जब रोहित शर्मा को आराम दिया गया था. इस बार भी धवन की गैरमौजूदगी में रोहित और राहुल पारी की शुरुआत करेंगे.

कप्तान कोहली ने संकेत दिया है कि बल्लेबाज विकेटकीपर के तौर पर राहुल की दोहरी भूमिका से टीम को अधिक विकल्प मिले हैं. कोहली के अनुसार राहुल वनडे और टी-20 दोनों में विकेटकीपिंग करते रहेंगे. वह टी-20 में पारी की शुरूआत करेंगे, लेकिन वनडे में मध्यक्रम में ही उतरेंगे. इसके मायने हैं कि तीन मैचों की वनडे सीरीज में रोहित के साथ पृथ्वी शॉ पारी का आगाज कर सकते हैं. राहुल के विकेटकीपिंग करने पर ऋषभ पंत अंतिम एकादश से जगह खो सकते हैं. मनीष पांडे पांचवें विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में उतर सकते हैं और श्रेयस अय्यर चौथे स्थान पर रहेंगे. पांडे, अय्यर और पंत ने गुरुवार को नेट्स पर साथ में अभ्यास किया जबकि संजू सैमसन बाद में उतर. सैमसन का पहले टी-20 में खेलना तय नहीं लग रहा. भारत अगर पांच गेंदबाजों को लेकर उतरता है और छठे विकल्प के रूप में शिवम दुबे को बाहर रखता है तो पंत और पांडे दोनों अंतिम एकादश में आ सकते हैं.

 

आस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच ने भारतीय कप्तान विराट कोहली को ऑल टाइम ग्रेट वनडे प्लेयर करार दिया जबकि रोहित शर्मा को शीर्ष पांच में शामिल किया. रोहित ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे में 119 रन बनाए जो उनका 29वां वनडे शतक है. कोहली ने 89 गेंदों पर 91 रन बनाये. इन दोनों ने 137 रन की साझेदारी की जिससे भारत ने यह मैच आसानी से जीत लिया. ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरोन फिंच का मानना है कि सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के कंधे की चोट के कारण बल्लेबाजी के लिए नहीं उतरने के बावजूद इन दोनों की पारियों से भारत ने 287 रन के लक्ष्य को आसानी से हासिल किया. फिंच ने मैच के बाद कहा, "उनके पास विराट हैं जो शायद ऑल टाइम ग्रेट वनडे खिलाड़ी हैं और रोहित है जो शायद ऑल टाइम ग्रेट बल्लेबाजों की सूची में टॉप पांच में शामिल होगा. वे लाजवाब हैं और अभी भारतीय टीम की विशेषता यह है कि उसके अनुभवी खिलाड़ी बड़े मैचों में अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभा रहे हैं."

उन्होंने कहा, "रोहित ने शतक जड़ा. शिखर के नहीं खेल पाने के कारण उन्हें बदलाव करना पड़ा और उनके दो सबसे अनुभवी खिलाड़ियों ने सर्वाधिक योगदान दिया जिससे पता चलता है कि उनका शीर्ष क्रम कितना मजबूत है." आस्ट्रेलिया ने अंतिम दस ओवरों में केवल 63 रन बनाए और इस बीच पांच विकेट गंवाए और फिंच की नजर में यह टीम पर भारी पड़ा. फिंच ने कहा, "पिछले दो मैचों में आखिर के अधिकतर ओवरों में हमारे गेंदबाजों ने बल्लेबाजी की. हमने राजकोट में देखा कि केएल राहुल ने अंतिम ओवरों में हमें कितना नुकसान पहुंचाया क्योंकि वे मंझे हुए बल्लेबाज हैं. मुझे लगता है कि इस मामले में हमसे चूक हुई. हमारे पास ऐसा बल्लेबाज नहीं था जो अंतिम 20-30 गेंदों पर हमारे लिये पर्याप्त रन जुटा पाता." एरोन फिंच ने आगे कहा, "लेकिन श्रेय भारत को जाता है. पिछले कुछ मैचों में डेथ ओवरों की उसकी गेंदबाज बेजोड़ रही. मोहम्मद शमी, नवदीप सैनी और जसप्रीत बुमराह ने पिछले दोनों मैचों में शानदार गेंदबाजी की. आप उन क्षेत्रों की पहचान कर सकते हो जिनमें आपको सुधार करना है लेकिन आपको भारत को भी श्रेय देना होगा."

        भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कल सीरीज का तीसरा और आखिरी वनडे मैच बेंगलुरू में खेला जाएगा. इस मैच में चोटिल शिखर धवन और रोहित शर्मा के खेलने को लेकर सस्पेंस बढ़ गया है. हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने कहा है कि शिखर धवन और रोहित शर्मा के खेलने को लेकर कल सुबह फैसला लिया जाएगा.

बीसीसीआई ने कहा है कि शिखर धवन और रोहित शर्मा तेजी से सुधार कर रहे हैं. उनपर नजर रखी जा रही है. कल अंतिम एकदिवसीय मैच में दोनों खिलाड़ियों के खेलने को लेकर मैच से पहले फैसला लिया जाएगा. शुक्रवार जब भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे दूसरे वनडे मैच में रोहित शर्मा बाउंड्री पर फील्डिंग कर रहे थे तभी गेंद को रोकते हुए नीचे गिरे जिसमें उनके बाएं कंधे में चोट लग गई. रोहित इस दौरान गेंद को फेंकने में भी सक्षम नहीं थे. इसके बाद रोहित फीजियो नीतिन पटेल के साथ मैदान के बाहर गए जहां केदार जाधव को फील्डिंग करने का मौका मिला.

वहीं शिखर धवन को भी दूसरे मैच में एक शॉट खेलते हुए 10वें ओवर में पैट कमिंस की गेंद पर पसली में भी चोट लगी थी. धवन भी फील्डिंग के दौरान मैदान पर नहीं उतरे थे. दूसरे मैच में शिखर धवन में 90 गेंदों पर 96 रनों की पारी खेली थी. अगर कल के मैच के लिए धवन रिकवरी करने में नाकाम रहते हैं तो भारतीय टीम के लिए यह किसी बड़े झटके से कम नहीं होगा. रोहित शर्मा ने भी 42 रनों की पारी खेली थी. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए दूसरे वनडे मैच में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराकर सीरीज को 1-1 की बराबरी पर ले आई है. ऐसे में टीम इंडिया का कल फाइनल मुकाबला बेंगलुरू में खेला जाएगा. ऐसे में रोहित और धवन का खेलना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर टीम इंडिया के ये दोनों ओपनर्स ये मैच नहीं खेलते हैं तो ऑस्ट्रेलिया को फायदा पहुंच सकता है और टीम इंडिया इस दौरान बैकफुट पर नजर आ सकती है.

         विश्व की दो दिग्गज टीमें भारत और आस्ट्रेलिया के बीच रविवार को यहां होने वाला तीसरा और निर्णायक वनडे मैच रोमाचंक होने की संभावना है. सीरिज में अभी तक दोनों ही टीमों ने एक-एक मुकाबला जीत रखा है. अब दोनों ही टीमें आखिरी मैच जीतकर सीरिज जीतने के इरादे से उतरेंगी. फाइनल मैच बेंगलुरू के चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला जाएगा. सीरीज के पहले मैच में जहां ऑस्ट्रेलिया ने जीता वहीं दूसरे मुकाबले में भारत ने वापसी करते हुए टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हरा दिया. मुंबई में खेले गए पहले वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को बुरी तरह हराया था वहीं राजकोट में भारत ने हर क्षेत्र में बेहतरीन प्रदर्शन करके जीत दर्ज की है. अब दोनों ही टीमों की निगाहें सीरिज के आखिरी निर्णायक मुकाबले पर होंगी. दोनों ही टीमें इस मैच को जीतकर सीरिज पर कब्जा जमाना चाहेंगी.

दूसरे वनडे में भारत की तरफ से रोहित शर्मा और शिखर धवन ने पारी का आगाज किया. जबकि कप्तान विराट कोहली अपने पसंदीदा तीसरे नंबर पर उतरे और श्रेयस अय्यर चौथे नंबर पर आए. अब तीसरे वनडे में भी यही बल्लेबाजी क्रम बरकरार रहने की संभावना है. गेंदबाजी में किसी तरह के बदलाव की संभावना नहीं है और टीम तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों के साथ ही उतर सकती है. कुलदीप यादव पिछले साल अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाए थे, हालांकि पिछले मैच में उन्होंने एक ओवर में अलेक्स कैरी और स्टीव स्मिथ के विकेट लेकर खुद को साबित किया था. वहीं इस मैच से पहले भारत के लिए कुछ मुश्किलें भी हैं. पिछले मुकाबले में फिल्डिंग करते वक्त सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा चोटिल हो गए थे. टीम को विश्वास है कि वे मैच से पहले फिट हो जाएंगे. इसके अलावा दूसरे वनडे में चोटिल ऋषभ पंत की जगह मनीष पांडे को खेलने का मौका मिला था. अब देखना होगा कि बाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज मैच के लिए फिट हो पाएंगे या नहीं.

         बीसीसीआई द्वारा केंद्रीय अनुबंध से दरकिनार करने की खबरों के बीच महेंद्र सिंह धोनी ने जब अपने घरेलू राज्य झारखंड की रणजी टीम के साथ अभ्यास किया तो टीम के कोच राजीव कुमार को अपनी बल्लेबाजी से हैरान कर दिया. यह पहली बार था जब धोनी ने विश्व कप-2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली हार के बाद बल्ला थामा हो. कुमार ने कहा कि उनको लग रहा था कि धोनी को बल्लेबाजी में थोड़ी परेशानी होगी, लेकिन वो बल्ले के बीचोंबीच से गेंद को मार रहे थे. कोच ने कहा कि धोनी ने आईपीएल-2020 की तैयारियां शुरू कर दी हैं.

उन्होंने कहा, "मैं ईमानदारी से कहूं तो.. मुझे लगा था कि धोनी ने लंबे समय से ट्रेनिंग नहीं की है तो उन्हें थोड़ी परेशानी होगी. आखिरी बार जब हमने बात की थी तो उन्होंने कहा था कि वह जनवरी में शुरू करेंगे और देख लीजिए उन्होंने अभ्यास शुरू कर दिया. वह अपनी बात पर कायम रहने वाले खिलाड़ी हैं. इसमें कोई हैरानी वाली बात नहीं थी कि वह टीम के बाकी खिलाड़ियों के साथ किसी आम झारखंड के खिलाड़ी की तरह ही खेल रहे थे, लेकिन जिस बात से मुझे हैरानी हुई वह यह थी कि उन्होंने लगभग हर गेंद को बल्ले के बीचों-बीच लिया, चाहे वो तेज गेंदबाज हों या स्पिनर. उन्होंने थ्रोडाउनस को भी अच्छी तरह खेला." कोच ने कहा, "मैंने राष्ट्रीय टीम को लेकर उनसे अभी तक बात नहीं की है. लेकिन अगले आईपीएल के लिए उन्होंने तैयारियां शुरू कर दी हैं. टीम रविवार से रणजी ट्रॉफी खेलने में व्यस्त होगी वहीं धोनी तब तक अभ्यास करेंगे जब तक वो रांची में हैं."

कोच से जब पूछा गया कि इन दो दिनों में धोनी ने उन चीजों से कुछ हटकर किया जो वो आमतौर पर करते हैं तो कोच ने कहा कि उन्होंने गेंदबाजों से काफी बातें कीं. कोच ने कहा, "वह बेहद पेशेवर खिलाड़ी हैं. उन्होंने युवाओं के साथ समय बिताया, खासकर गेंदबाजों के साथ. उन्होंने गेंदबाजों से लाइन और लैंग्थ को लेकर चर्चा की. उन्होंने बताया कि कहां और किधर गेंद डालनी चाहिए और बल्लेबाजों को कैसे फंसाना चाहिए. धोनी जैसे सीनियर खिलाड़ी से जितनी उम्मीद की जानी चाहिए वे उतने ही खुलकर खिलाड़ियों से बात कर रहे थे."

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज कल से शुरु होने जा रही है. ये सीरीज भारत में ही खेली जाएगी. इस दौरान दोनों टीमों को अपने बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद है. सीरीज को लेकर ऑस्ट्रेलिया पूर्व कप्तना और दिग्गज बल्लेबाज रिकी पोंटिंग ने अपनी राय रखी है.

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया की सीरीज से पहले रिकी पोंटिंग ने ट्विटर पर ऑस्ट्रेलिया के दमदार प्रदर्शन करने का दावा किया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, "वर्ल्डकप में शानदार प्रदर्शन करने के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम आत्मविश्वास में नजर आएगी. हमारी टीम ये सीरीज 2-1 जीत सकती है.

बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच मुंबई में खेला जाएगा. भारत ने हाल ही में श्रीलंका को टी20 सीरीज में 2-0 से मात दी तो वहीं ऑस्ट्रेलिया ने भी न्यूजीलैंड को टेस्ट सीरीज में 3-0 से मात दी. पिछली बार जब भारत और ऑस्ट्रेलिया का मुकाबला हुआ था तो ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 3-2 से हराया था. ऐसे में टीम इंडिया की इस बार पूरी कोशिश होगी कि वो पिछली सीरीज का हार का बदला इस बार जरूर ले.

 

टीम इंडिया के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या एक बार फिर सुर्खियों में हैं. इस बार किसी विवाद को लेकर नहीं बल्कि इस बार उन्होंने अपने बयान से अपने फैंस का दिल जीत लिया. दरअसल पिछले कुछ समय से बतौर फिनिशर उनकी तुलना पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से की जा रही थी. जिस पर उन्होंने ऐसा बयान दिया जिसकी हर तरफ प्रशंसा हो रही है. चोट के कारण टीम से बाहर चल रहे ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने उनकी तुलना एम एस धोनी से करने पर कहा है, "मैं कभी भी एम एस धोनी की कमी पूरी नहीं कर सकता, मैं तो उस बारे में सोचता ही नहीं हूं. मैं आने वाली चुनौतियों को लेकर एक्साइटेड हूं. मैं जो भी, जब भी करूंगा वो टीम के लिए सोचकर करूंगा. ये वर्ल्ड कप की तरफ बढ़ाया गया पहला कदम होगा और फिर धीरे-धीरे कप आ जाएगा."

वहीं एक शो 'कॉफी विद करण' में दिए गए अपने बयान का भी पांड्या ने जिक्र किया. उन्होंने कहा, "जो भी कमेंट्स किए गए, वो ऐसे समझ लीजिए कि उस समय गेंद मेरे पाले में नहीं थी." पांड्या ने कहा कि "मुझे मालूम नहीं था कि एक क्रिकेटर के तौर पर इसके बाद हमें क्या कुछ झेलना पड़ेगा. बता दें कि लोअर इंजरी होने के कारण हार्दिक पांड्या पिछले साल सितंबर से क्रिकेट से दूर हैं और अब वह टीम इंडिया में वापसी को लेकर बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. माना जा रहा है कि अगले महीने न्यूजीलैंड के दौरे पर जा सकते हैं. इस दौरे से पहले पांड्या इंडिया ए के साथ मैच खेलते नजर आएंगे.

भारत और श्रीलंका की क्रिकेट टीमें शुक्रवार को महाराष्ट्र क्रिकेट संघ (एमसीए) स्टेडियम में तीसरे और आखिरी टी-20 मैच के लिए आमने-सामने होंगी. गुवाहाटी में खेला गया पहला मैच बारिश और गीली पिच के कारण रद्द हो गया था जबकि इंदौर में खेले गए दूसरे मैच में भारत ने एकतरफा जीत हासिल कर सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली है.

इस मैच को जीत मेजबान टीम साल की पहली सीरीज अपने नाम करने की कोशिश में होगी जबकि श्रीलंका बराबरी की इच्छा लेकर मैदान पर उतरेगी. भारत के लिए दूसरे मैच में जहां सब कुछ अच्छा रहा था वहीं श्रीलंका को हर विभाग में दिक्कतें आई थीं.

भारतीय गेंदबाजों ने श्रीलंका को बड़ा स्कोर नहीं करने दिया था जिसमें अहम भूमिका नवदीप सैनी और शार्दूल ठाकुर ने निभाई थी. दोनों ने मिलकर पांच विकेट लिए थे. इंदौर में उम्मीद थी कि वापसी कर रहे जसप्रीत बुमराह अपना जलवा दिखाएंगे. वह हालांकि मिला-जुला प्रदर्शन ही कर सके थे. बुमराह ने चार ओवर फेंके थे और 32 रन देकर एक विकेट लिया था.

यह सीरीज बुमराह के लिहाज से काफी अहम है क्योंकि न्यूजीलैंड दौरे पर जाने से पहले वह अपनी पुरानी लय हासिल करना चाहते हैं. आखिरी मैच में भी बुमराह की कोशिश होगी कि वह पुराने रूप की तरफ लौटे.

वहीं बल्लेबाजी में लोकेश राहुल, श्रेयस अय्यर, कोहली ने अहम योगदान दिया था और अच्छी बल्लेबाजी की थी. हां शिखर धवन की बल्लेबाजी ने पिछले मैच में निराश किया था. चोट के बाद वापसी कर रहे धवन को भी बुमराह की तरह लय हासिल करने में परेशानी हो रही थी. वह गेंद को बल्ले पर सही तरह से ले नहीं पा रहे थे. दूसरे मैच में धवन एक बार फिर फॉर्म में वापसी की कोशिश करेंगे.

भारत के लिए बाकी सब कुछ सही रहा था. इसी कारण बदलाव की उम्मीद कम ही नजर आती है. इसी लिहाज से देखा जाए तो संजू सैमसन को फिर मौका मिलता नहीं दिख रहा है. वहीं श्रीलंका की बात की जाए तो उसका प्रदर्शन किस तरह का निराशाजनक था इस बात का पता उसके नए कोच मिकी आर्थर के बयान से पता चल जाता है जो उन्होंने दूसरे मैच के बाद दिया था.

कोच ने कहा था, "अधिकतर समय, सही समय पर खेल की कम समझ होने की कमी से हमें नुकसान हुआ." कोच अपने बल्लेबाजों के खासे नाराज दिखे थे. उन्होंने कहा था कि बल्लेबाजों का स्ट्राइक रोटेट न करना नुकसानदायक रहा. कोच की बात पर

    मलेशिया मास्टर्स सुपर 500 टूर्नामेंट के क्वालीफायर में मंगलवार को हार का सामना करना पड़ा। शुभांकर को तीसरी सीड मलेशिया के लिएव डेरेन ने 31 मिनट तक चले मुकाबले में 21-15, 21-15 से मात दी। शुभांकर के अलावा लक्ष्य को भी तीन गेम तक चले संघर्षपूर्ण मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा। चौथी सीड डेनमार्क के हेंस क्रिस्टियन सोल्बर्ग विटिंग्स ने 49 मिनट तक चले मुकाबले में लक्ष्य को 11-21 21-18 21-14 से हराया। इंडोनेशिया के सिती फादिया सिल्वा रामाधांती और रिब्का सुगियार्तो की जोड़ी ने भारतीय जोड़ी को 30 मिनट में 21-15 21-10 से हरा दिया। पुरुष युगल में सात्विकसाइराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी को अभी क्वालीफायर मुकाबले में उतरना है। 

    इंदौर में भारत और श्रीलंका के बीच दूसरा टी20 मुकाबला खेला जाएगा| क्रिकेट फैंस बेसब्री से इस मैच का इंतजार कर रहे हैं| हालांकि मौसम को लेकर ये कहा जा रहा है कि फैंस को ये पूरा मैच देखने को मिल सकता है क्योंकि आज मौसम पूरी तरह से साफ है| तापमान की अगर बात करें तो वहां 20 से 21 डिग्री का तापमान रह सकता है| हालांकि मौसम विभाग का मानना है कि मैच के दौरान धुंध काफी ज्यादा होगी|

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, शिवम दुबे, श्रेयस अय्यर, रवींद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मनीष पांडे, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), लोकेश राहुल, नवदीप सैनी, संजू सैमसन (विकेटकीपर), शार्दूल ठाकुर, वॉशिंगटन सुंदर.

श्रीलंका : लसिथ मलिंगा (कप्तान), धनंजय डी सिल्वा, वानिंडु हसारंगा, निरोशन डिकवेला (विकेटकीपर), ओशाडा फर्नाडो, अविश्का फर्नाडो, दानुष्का गुणाथिलका, लाहिरु कुमारा, एंजेलो मैथ्यूज, कुशल मेंडिस, कुशल परेरा, भानुका राजापक्षा, कासुन राजिथा, लक्षण संदकाना, दासुन शनका, इसुरु उदाना.

    एमपीसीए के चीफ क्यूरेटर का कहना है कि ओस से लड़ने के लिए हम पिछले तीन दिनों से केमिकल का छिड़काव कर रहे हैं| क्यूरेटर का कहना है कि ग्राउंड स्टाफ पिछले तीन दिनों से पानी भी काफी दे रहा है|  पिच पर लाल मिट्टी है जिससे गेंद सीधे बल्ले पर आएगी| साल 2017 में भारत और श्रीलंका के बीच एक टी20 मैच खेला गया था| यहां भारत ने पांच विकेट खोकर 260 रन बनाए थे जहां रोहित शर्मा ने 43 गेंदों में 118 रनों की पारी खेली थी| टीम इंडिया ने श्रीलंका को इस मैच में 88 रनों से हरा दिया था| 

रोहित शर्मा का मानना है कि न्यूजीलैंड का घातक तेज गेंदबाजी आक्रमण अपने घर में और भी ज्यादा कारगर साबित होता है, क्योंकि वह अपनी योजनाओं को बखूबी अंजाम देते हैं| इसके बावजूद रोहित ने दावा किया है कि अगले महीने आने वाली चुनौती के लिए वह पूरी तरह तैयार हैं| अपनी पहली टेस्ट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डबल सेंचुरी सहित तीन शतक ठोक चुके रोहित शर्मा इस बार न्यूजीलैंड में नील वैग्नर, मैट हैनरी, ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी जैसे तेज गेंदबाजों का सामना करेंगे| यहां भारतीय टीम को दो टेस्ट मैच खेलने हैं, जो फरवरी में वेलिंग्टन और क्राइस्टचर्च में खेले जाएंगे| रोहित ने कहा, "मेरे लिए बिना किसी शक के यह चुनौतीपूर्ण होगा| यहां मुझे नई गेंद का सामना करना होगा|"  रोहित अच्छी तरह जानते हैं कि भारत से बाहर की पिचों पर गेंद कहीं ज्यादा स्विंग और सीम करती है| लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ पिछले साल खेली गई घरेलू सीरीज भी भारत में स्वागत योग्य वाले बदलाव के साथ खेली गई थी| 

ओलम्पिक पदक विजेता सायना नेहवाल के नाम की ही गूंज होती थी। समय के साथ सायना ढलान पर गईं, लेकिन उनके हाथ से गिरते बैडमिंटन की बागडोर को पीवी सिंधु ने संभाल लिया। रियो ओलिम्पक की रजत पदक विजेता ने 2019 में भारत को विश्व चैम्पियनशिप में पहला स्वर्ण पदक भी दिलाया, लेकिन सायना की ढलान को संभालने वाली सिंधु अब खुद लड़खड़ाती दिख रही हैं। भारतीय बैडमिंटन की परिचायक हैं। यह साल सिंधु के लिए हर लिहाज से अहम है, क्योंकि इसी साल जापान की राजधानी टोक्यो में ओलम्पिक खेलों का आयोजन भी होना है। सिंधु के बीते साल के प्रदर्शन पर गौर किया जाए तो विश्व चैम्पियन बनने के बाद से उनके हिस्से कोई भी ट्रॉफी नहीं आई और कई बार तो वह टूर्नामेंट के पहले ही दौर में बाहर हो गईं। सिंधु का खेल अब अवसान पर है, यह हालांकि समय ही बताएगा। वह अभी 24 साल की हैं और वह ओलम्पिक रजत पदक जीतने के अलावा विश्व चैंपियनशिप में तीन पदक और कई खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। इसके बाद उन्हें 14 से 19 जनवरी तक इंडोनेशिया मास्टर्स में भाग लेना है। इंडोनेशिया मास्टर्स के पहले दौर में उनका सामना जापान की आया ओहरी से होना है। ओहरी की बाधा के बाद सिंधु के सामने सायना और जापान की सयाका ताकाहाशी के बीच होने वाले मैच की विजेता होगी। 

    भारत का अगला इंटरनेशनल एसाइन्मेंट 26 मार्च को है, जब वह 2022 फीफा विश्व कप क्वालीफायर में एशियाई चैम्पियन कतर से भिड़ेगी। इसके बाद भारत को चार जून को बांग्लादेश से भिड़ना और फिर नौ जून को अफगानिस्तान से भिड़ना है। मैदान पर निरंतरता की कमी उसे पीछे की तरफर खींचती रही है। इसके अलावा कई ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे भारतीय टीम अभी जूझ रही है और आने वाले समय में इन समस्याओं के और गहराने के आसार हैं। अफगानिस्तान और बांग्लादेश के खिलाफ उसे जीतना चाहिए था लेकिन रक्षात्मक खेल के कारण वह ड्रॉ को मजबूर हुआ। इससे उसके क्वालीफायर में आगे जाने की सम्भावनाओं को आघात लगा। कतर के खिलाफ ड्रॉ बीते साल और हाल के कुछ वर्षो में भारत की सबसे बड़ी सफलता कही जा सकती है लेकिन इसके अलावा टीम बीते साल कोई और सकारात्मक परिणाम नहीं दे सकी।  इनमें से दो में उसकी जीत हुई और चार मुकाबले ड्रॉ रहे। बाकी के मैचों में उसे हार मिली। भारत ने एशियन कप में 6 जनवरी, 2019 को थाईलैंड पर 4-1 की जीत के साथ नए साल की शुरुआत की थी। उस समय स्टीफेन कांस्टेनटाइन भारत के कोच थे। भारत को एशियन कप में 10 जनवरी को संयुक्त अरब अमीरात से 0-2 से हार मिली और फिर 14 जनवरी को बहरीन ने उसे 1-0 से हराया। उनकी देखरेख में भारत ने थाईलैंड में आयोजित किंग्स कप में थाईलैंड को 1-0 से हराकर शानदार शुरुआत की लेकिन उसके बाद वह जीत के लिए तरस गई। खिलाड़ियों की चोट और उनके ट्रीटमेंट, रीहैब और कुल मिलाकर उनके मैनेजमेंट को लेकर भी भारतीय टीम की तैयारी पूरी नहीं है। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा और डिफेंडर संदेश झिंगन लम्बे समय से चोटिल हैं। 2019 में आधे साल तक ये नहीं खेले। ऐसे में अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ को खिलाड़ियों के ट्रीटमेंट के नए साधनों और बेहतर मैनेजमेंट के बारे में सोचना होगा। झिंगन और जेजे हालांकि इस साल वापसी कर रहे हैं लेकिन उनकी गैरमौजूदगी में टीम को पहली ही काफी नुकसान हो चुका है।

भारत और श्रीलंका के बीच कल गुवाहाटी में पहला टी20 मुकाबला खेला जाना था. इस दौरान टॉस भी हुआ और भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया लेकिन तभी मैच के बीच बारिश आ गई और एक भी गेंद नहीं फेंका जा सका. इसके बाद जब कवर्स हटाए गए तो कप्तान से लेकर अंपायर इस बात को लेकर चौंक गए कि बारिश के कारण पिच भी गीली हो चुकी है. इसके बाद ग्राउंड स्टाफ से लेकर अंपायर्स बार बार इस बात को लेकर परेशान होते रहे कि गीली पिच को कैसे सुखाया जाए लेकिन तभी ग्राउंड स्टाफ अपना जुगाड़ लेकर आया. स्टेडियम में बैठे लोगों को ये लग रहा था कि ग्राउंड स्टाफ पिच को सुखाने के लिए कुछ हाइटेक मशीने लेकर आएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ और अंत में पिच पर हेयरड्रायर, वैक्यूम क्लिनर, कपड़ा प्रेस करने वाला आयरन ये सभी चीजें पिच पर दिखीं. बता दें कि कल के मैच का ये नजारा भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे बेहतरीन तो नहीं लेकिन सबसे शर्मसार जरूर कहा जाएगा क्योंकि एक तरफ बीसीसीआई सबसे अमीर बोर्ड तो है लेकिन अंत में असम क्रिकेट एसोसिएशन के पास कोई ऐसी तकनीक नहीं थी जिससे गीली पिच को सुखाकर मैच को दोबारा से शुरू किया जा सके. बता दें कि कल के मैच के इस नजारे के बाद अब भारतीय फैंस लगातार ट्विटर पर बोर्ड असम क्रिकेट और क्रिकेट ऑफिशियल्स को ट्रोल कर रहे हैं.

टीम इंडिया के कैप्टन को टेस्ट क्रिकेट का प्रारूप बदलना रास नहीं आया है और उन्होंने साफ कहा है कि वे चार दिन वाले टेस्ट के पक्ष में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि ये टेस्ट क्रिकेट के साथ न्याय नहीं है. गौरतलब है कि आईसीसी टेस्ट क्रिकेट का फॉर्मेट बदलने के लिए सोच रही है वहीं कई जाने माने खिलाड़ी इस पर अपना विरोध दर्ज करा चुके हैं. इसी लिस्ट में अब विराट कोहली का भी काम जुड़ गया है. विराट ने कहा कि टेस्ट के फॉर्मेट में अधिक बदलाव नहीं होने चाहिए. अगर इसको बाजार के लिए बनाना है तो इसको डे-नाइट कर दिया जाना चाहिए लेकिन टेस्ट क्रिकेट में इससे अधिक बदलाव ठीक नहीं होंगे.

भारत और श्रीलंका के बीच खेले जाने वाले टी-20 मैच से पहले कोहली से पत्रकारों ने इस पर सवाल पूछे थे. इनके जवाब में कोहली ने कहा कि अगर डे-नाइट टेस्ट पर फोकस किया जाएगा तो इसके फॉर्मेट में काफी दिलचस्पी पैदा हो सकती है. दरअसल आईसीसी चाहती है कि विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप-2023 से चार दिन के टेस्ट मैच कराए जाएं. फिलहाल टेस्ट मैच 5 दिन के होते हैं. 4 दिन के टेस्ट वाले आईडिया की कई खिलाड़ी आलोचना कर चुके हैं और अब विराट ने भी अपनी राय रख दी है. कोहली ने यहां तक कहा कि अगर 5 दिन के टेस्ट को 4 दिन का कर दिया जाएगा तो एक दिन वो भी आएगा जब तीन दिन के टेस्ट की बात कही जाएगी. उन्होंने कहा कि टेस्ट मैच क्रिकेट का सबसे शुद्ध फॉर्मेट है और इसमें बदलाव नहीं किया जाना चाहिए. कोहली ने कहा कि टी20 नए फॉर्मेट के हिसाब से अच्छा था. जब उनसे 100 गेंदों वाले फॉर्मेट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे उस फॉर्मेट में नहीं जाना चाहते क्योंकि पहले ही वे काफी कुछ कर रहे हैं.

ऋषभ पंत ने लिखा, ''जब मैं तुम्हारे साथ होता हूं तो खुद को ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं.' उनकी इस पोस्ट को 5 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं.

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव नहीं रहते हैं. लेकिन नए साल के मौके पर अपनी गर्लफ्रेंड ईशा नेगी के साथ फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की हैं. पंत ने इंस्टाग्राम पर फोटो पोस्ट की हैं. फोटो में दोनों बर्फ में मस्ती करते हुए नजर आ रहे हैं ऋषभ पंत और ईशा नेगी की ये तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. ऋषभ पंत ने लिखा कि 'जब तुम्हारे साथ होता हूं तो खुद को ज्यादा बेहतर महसूस करता हूं.' उनकी इस पोस्ट को 5 लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं. वहीं ईशा नेगी ने फोटो शेयर करते हुए लिखा, ''5 साल और अभी भी जारी…लव यू...'' उनकी इस पोस्ट पर 45 हजार लाइक्स आ चुके हैं. पिछले साल जनवरी में ही पंत ने अपनी प्रोफाइल पर ईशा नेगी के साथ फोटो पोस्ट की थी और दुनिया को अपने प्यार  के बारे में बताया था. उस समय पोस्ट पर  उन्होंने लिखा था, ''मैं बस तुम्हें खुश रखना चाहता हूं क्योंकि तुम्हारी वजह से मैं बहुत खुश हूं.''

कर्नाटक ने बीसीसीआई के आग्रह पर सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को मुंबई के खिलाफ उसके मैदान पर तीन जनवरी से होने वाले रणजी ट्रॉफी मैच से आराम देते हुए 15 सदस्यीय टीम में शामिल नहीं किया है| हालांकि, मुंबई ने इस मुकाबले के लिए भारतीय टेस्ट टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे के अलावा पृथ्वी शॉ को भी अपनी टीम में जगह दी है|

मयंक को 17 जनवरी से शुरू हो रहे न्यूजीलैंड दौरे के लिए भारत ए की सभी प्रारूपों की टीम में जगह दी गई है| टीम 10 जनवरी को ऑकलैंड के लिए रवाना होगी और टेस्ट टीम के नियमित सदस्य अग्रवाल पर काम के बोझ को देखते हुए उन्हें आराम देने का आग्रह किया गया था|

आर समर्थ की टीम में वापसीमयंक अग्रवाल की गैरमौजूदगी में आर समर्थ की टीम में वापसी हुई है| खराब फॉर्म से जूझ रहे आर समर्थ को हिमाचल प्रदेश के खिलाफ पिछले मैच में चार और शून्य रन की पारियां खेलने के बाद टीम से बाहर कर दिया गया था| भारत की सीनियर टीम भी 24 जनवरी से न्यूजीलैंड के खिलाफ पांच टी20, तीन वनडे और फिर दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी| भारत का न्यूजीलैंड दौरा 24 जनवरी से चार मार्च तक चलेगा|

रहाणे को भी भारत ए टीम में जगह मिली है, लेकिन उनके फरवरी में दूसरे चार दिवसीय मैच में ही खेलने की संभावना है| शॉ को भी सभी प्रारूपों के लिए भारत ए टीम में शामिल किया गया है, लेकिन वह आठ महीने के डोपिंग प्रतिबंध के बाद वापसी कर रहे हैं| वहीं, चोट के कारण लंबे समय से टीम इंडिया  से बाहर रहे  हार्दिक पंड्या को भी तीन वनडे मैच के लिए टीम में शामिल किया गया है|

भारतीय कप्तान विराट कोहली पत्नी अनुष्का शर्मा के साथ इस समय स्विट्जरलैंड में छुट्टियां मना रहे हैं| इस कपल ने नए साल का स्वागत भी इस खूबसूरत जगह पर ही किया| वहीं उन्होंने फैंस को बर्फीले पहाड़ों से नए साल की बधाईयां भेजीं| सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करके इस  खूबसूरत जोड़ी ने कहा कि हमारी तरफ से हर एक को नए साल की बधाई| हालांकि जब कोहली फैंस के लिए यह खास मैसेज रिकॉर्ड कर रहे थे, तभी अनुष्का रोमांटिक हो गईं और उन्होंने कोहली को कसकर गले लगा लिया|
टीम इंडिया श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया की मेजबानी के साथ अपने नए साल की शुरुआत करेगी और उससे पहले कोहली छुट्टियों का पूरा मजा ले रहे हैं| कोहली ने कहा कि वे दोनों अभी खूबसूरत ग्ले‌शियर पर हैं और उन्होंने सोचा कि सभी के लिए पहले ही न्यू ईयर की विशेज रिकॉर्ड करें|  

अनुष्का बनी बेस्ट फोटोग्राफर
इससे पहले मंगलवार को विराट कोहली ने अपनी एक तस्वीर शेयर की थी, जिसका क्रेडिट उन्होंने अनुष्का शर्मा को देते हुए उन्हें बेस्ट फोटोग्राफर बताया| कोहली ने कहा कि तस्वीर को लेकर कोई तनाव नहीं है| जब बेहतरीन फोटोग्राफर तस्वीर लें| कोहली ने अनुष्का के साथ अपनी इस ट्रिप को लेकर और भी कई फोटोग्राफ शेयर  की| 

 

छुट्टियों से लौटते ही व्यस्त हो जाएंगे भारतीय कप्तान
भारतीय कप्तान विराट कोहली छुट्टियों से लौटते ही व्यस्त हो जाएंगे| टीम इंडिया को जनवरी के शुरुआत में ही श्रीलंका के खिलाफ तीन टी20 मैचों की घरेलू सीरीज खेलनी है और फिर इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज भारत के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी| ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज होने के बाद भारतीय टीम पांच टी20 मैचों की सीरीज के लिए न्यूजीलैंड का दौरा करेगी, जो 24 जनवरी से शुरू होगी| टी20 सीरीज के बाद कीवी टीम तीन वनडे और दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारत की मेजबानी करेगी, जो चार मार्च तक चलेगी|

नए साल 2020 ने दस्तक दे दी है और पूरी दुनिया उसका जश्न मना रही है| दुनिया के कई बड़े क्रिकेटर छुट्टियां मना रहे हैं| कोई समंदर के तट पर है तो कोई अपने परिवार के साथ खूबसूरत बर्फीली जगह पर नए साल का आगाज कर रहा है, लेकिन एक क्रिकेटर ऐसा भी है जिसने बेहद खास अंदाज में नए साल का जश्न मनाया| ये क्रिकेटर नए साल से ठीक पहले अपने देश की सेना में शामिल हुआ| यहां बात हो रही है श्रीलंका के ऑलराउंडर तिसारा परेरा की, जो श्रीलंकाई सेना की गजबा रेजीमेंट में शामिल हुए हैं|  

श्रीलंका के ऑलराउंडर तिसारा परेरा  ने श्रीलंका की गजबा रेजीमेंट को बतौर मेजर जॉइन किया है| तिसारा परेरा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं जिसमें वो सेना की वर्दी में दिख रहे हैं| एक फोटो में परेरा सावधान की मुद्रा में वर्दी में सीना तान कर खड़े हैं| वहीं दूसरी तस्वीर में उनके हाथ में बंदूक है और वो जमीन पर नीचे लेटकर गोलियां चला रहे हैं| 

तिसारा परेरा ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी| उन्होंने कहा, 'मैंने आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल शैवेंद्र सिल्वा का न्योता स्वीकार कर सेना को जॉइन किया है| उनके जैसे शख्स से न्योता पाना मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा लम्हा है| शुक्रिया सर| मैं अपने देश की सेना के लिए बेहतर क्रिकेट खेलने की कोशिश करू