loader

Nagpur News

मेयो में विदर्भ के अलावा मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कोरोना के सैंपल जांच के लिए पहुंच रहे है। इससे 24 घंटे जांच होने के बाद भी वहां काम का दवाब कम नहीं हो रहा है। गुरुवार को सुबह तक सारी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। दोपहर से मरकज से आने वालों के अलावा दिल्ली से आने वाले लोगों की जांच की जाना आरंभ होगी। उसकी रिपोर्ट पर सभी की नजर टिकी हुई है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की स्थिति स्पष्ट होगी।

ओपीडी में आने वाले हर व्यक्ति का जांच रहे तापमान

कोरोना के चलते शहर के शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेडिकल) के बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति का फोरहेड डिजिटल इंफ्रारेड थर्मोमीटर (कुछ दूरी से व्यक्ति का तापमान पता करने वाली मशीन) से तापमान की जांच की जा रही है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है जिससे यदि किसी व्यक्ति को बुखार है तो उसका उपचार करते समय सावधानी बरती जा सके।

जानकारी के अनुसार मेडिकल की ओपीडी में इंफ्रारेड थर्मोमीटर से प्रत्येक व्यक्ति का सबसे पहले बुखार जांचा जा रहा है। यदि बुखार वाला कोई व्यक्ति ओपीडी में पहुंच रहा है तो उसे यहां रोककर उससे उसकी हिस्ट्री पता की जाएगी। उसके साथ ही यदि उसे कोरोना से संबंधित किसी भी प्रकार के लक्षण प्रतीत होते है तो उसकाे परामर्श और उपचार कोरोना के आधार पर किया जा सके। इससे यह फायदा होगा कि एक तो वह ओपीडी में पहुंचने वाले लोगों के संपर्क में नहीं आ पाएगा और दूसरा अस्पताल के स्टॉफ को भी खतरा नहीं रहेगा। इन सबके अलावा उक्त रोगों को शुरुआत से ही उचित उपचार मिल सकेगा और उसका समय बर्बाद नहीं जाएगा। इससे बीमारी बढ़ने की स्थिति में होने वाले खतरों को टाला जा सकता है।

मार्केट में मास्क की कमी को देखते हुए आम नागरिकों की सहायता के लिए रेलवे की महिला कर्मचारियों ने घर में रह कर 1000 मास्क तैयार किए हैं। यह मास्क वर्क फ्राम होम अंतर्गत किया गया है।
मध्य रेल नागपुर मंडल में अधिकतर महिलाअों को वर्क फ्रॉम होम दिया गया है। साथ ही कई महिलाओं को छुट्टी दी गई है। रेलवे ने महिलाओं के इस समय का सदुपयोग करने के लिए मास्क बनाने का कार्य दिया है। इसमें मिनिस्ट्रियल, कमर्शियल क्लर्क, टिकट चेकिंग और इसीआरसी केडर्स की 35 महिलाओं ने पुन: उपयोग करने वाले कॉटन के मास्क बनाए हैं। कुल 3000 मास्क बनाए जाएंगे। यह मास्क रेलवे कर्मचारियों को ही वितरित किए जाएंगे।

3 लेयर मास्क 16 रुपए से अधिक बेच नहीं पाएंगे - केंद्र सरकार के आवश्यक वस्तु अधिनियम अंतर्गत 3 लेयर सर्जिकल मास्क की कीमत 16 रुपए निर्धारित की गई है। यह कीमत 30 जून 2020 तक लागू रहेगी। इससे ज्यादा कीमत वसूली न जाए, यह अधिसूचना केंद्र सरकार के राजपत्र में जारी की गई है। 3 लेयर सर्जिकल मास्क में मेल्ट ब्लोन नॉन वोवन फैब्रिक के अस्तर लगा होना चाहिए। यह मास्क 16 रुपए से अधिक कीमत पर नहीं बेचा जा सकता है।

 जरीपटका क्षेत्र में आलमारी में बंधी एक महिला की ओढनी उसके ही 10 वर्षीय बेटे के लिए काल बन गई। महिला का बेटा खेलते- खेलते न जाने कैसे ओढनी से फांसी लगा ली। उसे बेहोशी की हालत में परिजन पहले एक निजी अस्पताल में ले गए। वहां के डॉक्टरों ने उसे मेयो अस्पताल भेज दिया, जहां प्राथमिक जांच के दौरान बालक को मृत घोषित कर दिया। मृतक बालक का नाम कार्तिक गौरव असनानी है। घटना 31 मार्च को शाम करीब 7.30 बजे हुई। कार्तिक का अंतिम संस्कार किया गया है। कोरोना संक्रमण को लेकर शहर में लॉक डाउन चालू है, जिसके चलते स्कूलों में छुट्‌टी दी गई। करीब दो सप्ताह से बच्चे घर में रह रहे हैं। वह खेलने के नए- नए तरीके अपनाते रहते हैं। परिजनों को अपने बच्चों पर हर पल ध्यान देते रहना चाहिए। पुलिस सूत्रों के अनुसार जरीपटका स्थित प्लाट नंबर 313 निवासी गौरव असनानी के बेटे कार्तिक असनानी गत 31 मार्च को शाम करीब 7.30 बजे घर में खेल रहा था। वह उस समय अकेला था। वह खेलते- खेलते आलमारी में बंधी मां की ओढनी से खेलने लगा। इस ओढनी से खेलते समय न जाने कैसे और कब उसका गला कस गया। इससे वह बेहोश हो गया। उसे पहले निजी अस्पताल फिर मेयो अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी मिलने पर जरीपटका पुलिस ने फिलहाल आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज किया है।

कोरोना के मरीज मिलने से लोग घरों में बंद

जरीपटका क्षेत्र में कोरोना के मरीज मिलने के बाद से लोग अपने परिवार के साथ घरों में बंद है। इस क्षेत्र में इस बच्चे की मौत का लेकर परिसर में मातम छा गया है। पुलिस ने बताया कि बहुत ही  होनहार बच्चा था। वह घर में रहकर खेला करता था , पर ईश्वर को न जाने क्या मंजूर था कि घर की आलमारी में बंधी ओढनी के साथ वह गोल – गोल घूम रहा था। यह ओढनी उसके गले में फंसने के कारण कस गया, जिससे वह बेहोश हो गया था। उसे बेहोशी की हालत में अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। 

गणेशपेठ क्षेत्र में पुरानी दुश्मनी के चलते एक युवक पर 5 आरोपियों ने चाकू से हमला कर उसकी हत्या का प्रयास किया। घायल का नाम शैलेश कृष्णा उघडे (27) नई शुक्रवारी गणेशपेठ निवासी है। घायल को मेडिकल के ट्रामा सेंटर अस्पताल में भर्ती किया गया है। पुलिस ने आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार शैलेश उघडे गत 1 अप्रैल को रात करीब 11.30 बजे न्यु शुक्रवारी रामाजी की वाडी निरमा बिल्डिंग के पास, सुरज उमाटे के घर के नजदीक सेड के पास अपने मित्र के साथ बैठकर बातचीत कर रहा था। इस दौरान आरोपी  बंटी कलंबे  रामकुलर चौक, रामाजी की वाडी, नागपुर, अर्पित झाडे  सोमवारी क्वार्टर, सक्करदरा, नागपुर, अंकित बोकडे  तांडापेठ लाल दरवाजा, अद्रीया दीपक कोठीवाल छोटा ताजबाग, नागपुर और हर्षल मांदले रामकुलर चौक, गणेशपेठ, नागपुर निवासी  वहां पर पहुंचे।

इन आरोपियों ने पुरानी दुश्मनी का बदला लेने के लिए शैलेश के साथ विवाद करने लगे। विवाद बढने पर आरोपियों ने चाकू से शैलेश पर हमला कर उसे गंभीर रुप से जख्मी कर दिया। आरोपियों ने शैलेश के सीने, पैर और जांघ पर चाकू से हमला कर उसकी हत्या का प्रयास किया। घटना के बाद सभी आरोपी फरार हो गए। घायल शैलेश को उसके दोस्त ने उसे मेडिकल अस्पताल के ट्रामा सेंटर में पहुंचाया। जहां पर शैलेश का उपचार शुरू है। घायल शैलेश की शिकायत पर गणेशपेठ पुलिस ने उक्त आरोपियों के खिलाफ धारा 307,143,147,148,149,188 व सहधारा 4,25 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश कर रही है।

फेब्रिकेशन और ऑटोमेशन के क्षेत्र में काम करने वाले आसिफ शेख ने बड़ी संख्या में लोगों को सेनिटाइज करने के लिए ऑटोमैटिक सैनिटाइजर केबिन तैयार किया है। गिट्‌टीखदान निवासी आसिफ ने गुरुवार का अपने वर्कशॉप में केबिन का प्रदर्शन भी किया। उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण लोगों को हो रही परेशानी और पब्लिक प्लेस प्रवेश के पहले लोगों को सैनिटाइज किए जाने की सुविधा का विचार कर उन्होंने यह केबिन बनाने का निश्चय किया। लॉकडाउन के कारण बाजार बंद होने के बावजूद जरूरी चीजाें की व्यवस्था कर पांच दिन में केबिन तैयार करने में सफल रहे।

20 लीटर सैनिटाइजर से चलेगी 2 घंटे

आसिफ शेख ने बताया कि केबिन को इस तरह तैयार किया गया है कि जैसे ही कोई व्यक्ति उसमें प्रवेश करेगा केबिन की दीवारों से सेनिटाइजर निकल उन्हें सैनिटाइज कर देगा। व्यक्ति के बिन से निकलते ही मशीन स्वयं बंद हो जाएगी। इस मशीन को 20 लीटर सैनिटाइजर से दो घंटे चलाया जा सकता है और 500 लोगों को सैनिटाइज किया जा सकता है।

पब्लिक स्पेस पर आ सकता है काम

आसिफ शेख ने बताया कि यह मशीन ऐसे स्थानों पर सफलतापूर्वक काम कर सकती है, जहां बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। उन्होंने बताया कि वे मशीन कलक्टर ऑफिस को भेंट करना चाहते हैं। अगर प्रशासन चाहेगा तो वे और भी मशीनें बना सकते हैं।

अजनी स्थीत वाहतूक विभाग कार्यालय के परिसर मे शुक्रवार कि सुबह अचानक आग लग गई वाहतुक विभाग मे ही काम करणे वाले एक कर्मचारी को आग सुलगती दिखाई दि उसने तुरंत ही इसकी जानकारी बाही कर्मचारीयो को दी आग देख परिसर के लोग भी जमा हो गये पहीले तो बकेट से आग बुझाने कि कोशीश की गई मगर आग बडी मात्रा मे होने से अग्नीशामक विभाग को जानकारी दी गई विभाग कि गाडी आने तक मनपा के पाणि टँकर को बुलाकर आग को बुझाया गया आग जिस जगह पय लगी थी वहा विभाग ने जप्त कि गाडीया रखी थी इसी लिए आग को काबु मे लाने के लिए काफी मशगत करनी पडी इस हादसे बडी संख्या मे गाडीयो का नुकसान हुआ है आग लगने कारण अभितक पता नहीं चल पाया है पुलिस विभाग परिसर मे लगे cctv कि जाच कर रहे है...

 गुरुवार को श्री क्षेत्र रामटेक में श्रीराम जन्मोत्सव मनाया गया.हर साल की तरह इस साल भी प्रभु श्रीराम, लक्ष्मण और सीतामाई की राम नवमी के अवसर पर मंदिर में विशेष पूजा अर्चना की गई. लेकिन इस साल यह पूजा मंदिर के पंडितो के हाथों संपन्न हुई. हर वर्ष रामटेक के प्रसिद्ध गढ़ मंदिर में श्रीराम जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जाता है .लेकिन इस साल कोरोना वैश्विक महामारी के चलते सम्पूर्ण देश लॉकडाउन है .ऐसे स्थिति में छोटे-बड़े मंदिर भीड़ ना हो इस दृष्टिकोण से बंद किये गए है.इसलिए इसबार रामजन्मोत्सव पर मंदिर में भक्तों की भीड़ नही थी.मंदिर के पंडितों ने ही सुबह से मंदिर में पूजा -अर्चना की .और रामजी का विशेष श्रृंगार कर भोग लगाया.जिसके बाद दोपहर 12 बजे मंदिर के कपाट खोलकर  प्रभू श्रीराम के जन्म होने की सभी को बधाई दी.मंदिर में रामनवमी के दिन हजारों भक्तों का दर्शन के लिए ताता लगा रहता था. सैकड़ो भजन मंडली ,दिंडी मंदिर पहुँचकर रामजन्मोत्सव की खुशियां मनाती थी.लेकिन इस साल सभी श्रद्धालुओं ने रामजी के दर्शन अपने घर से ही किये.श्रीराम मंदिर से लाउडस्पीकर के जरिये सभी रामटेकवासियों को आरती सुनाई गई.इस दौरान मंदिर के पंडित मुकुंदा महाराज ने कोरोना महामारी से बचने के लिए घर मे ही रहने की सलाह दी और कहा की प्रभु श्रीराम जल्दही इस संकट से देश को और सभी को बाहर निकालेंगे.इसके लिए सभी नागरिक सरकार द्वारा दिये गए दिशानिर्देश का पालन करे.  

सोमवार को एक कोरोना संदिग्ध मरीज की हुई मौत के बाद रिपोर्ट आ गई है। मंगलवार को रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि उसे कोरोना का संक्रमण नहीं था। मरीज को निजी अस्पताल से इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में सोमवार दोपहर भर्ती करवाया गया था जिसके बाद उसकी मृत्यु हो गई। निजी अस्पताल में मरीज का निमोनिया का उपचार चल रहा था। मरीज के स्वास्थ्य में सुधार न होने पर कोरोना की जांच के लिए सैंपल भेजा गया था, जिसकी जांच रिपोर्ट से पुष्टि हुई कि उसे कोरोना संक्रमण नहीं था।

इसी तरह रविवार को पॉजिटिव आए 50 वर्षीय अधिवक्ता के परिजनों की कोरोना की जांच रिपोर्ट निगेटिव आने से राहत मिली। विशेष बात यह है कि अधिवक्ता के परिवार में शामिल उनकी पत्नी, बेटी, बेटा, घर में काम करने वाली महिला के अलावा संपर्क में आने वाले करीब 15 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है जिससे लोगों को सुकून मिला है। अधिवक्ता पॉजिटिव आने के बाद इम्प्रेस सिटी में आने-जाने पर रोक लग गई थी। वहीं, शहर में भी इसको लेकर हड़कंप मचा हुआ था।

कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से निपटने के लिए राज्यसभा सांसद पद्मश्री डॉ विकास महात्मे ने अमरावती और चंद्रपुर जिले के लिए उनकी सांसद निधी से 50 लाख क़ी निधि दी है। पूर्व में उन्होंने नागपुर जिले में  कोरोना के नियंत्रण के लिए 50 लाख की निधि दी है। उन्होंने स्थानीय क्षेत्र विकास निधि (एमपीलैड्स) कमेटी के अध्यक्ष को पत्र लिखकर कहा है कि अमरावती और चंद्रपुर जिले में उक्त राशि से कोरोना वायरस से बचाव, रोकथाम व इलाज करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों  के लिए अत्याधुनिक हेजमेट ड्रेस, प्रयोग में आने वाले चिकित्सा उपकरण,टेस्टिंग किट,मास्क और सेनेटाइजरर्स आदि जरूरी सामानों की खरीद सुनिश्चित करने को कहा है।

सांसद डॉ  महात्मे ने सभी से अपील करते हुए कहा है कि इस महामारी से बचाव के लिए पूरे देश को एकजुटता के साथ आगे आने की जरूरत है। जिससे कि महामारी को मात दी जा सके। संकट की इस घड़ी में केंद्र व प्रदेश सरकार हर संभव प्रयास कर रही है कि पीडि़तों का समुचित इलाज हो। लोगों को भी जागरूक होना जरूरी है। आम जन को चाहिए कि घरों में रहें। घर से बाहर न निकलें। अपने आस-पास साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। सावधानी बरत कर ही इससे बचा जा सकता है। केंद्र और राज्य सरकार अच्छा कार्य कर रही हैं। सांसद महात्मे दिल्ली से संसद सत्र से लौटते ही नागपुर में कोरोना के खिलाफ़ लडाई में सक्रिय हो गये हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 14 अप्रैल तक लॉकडाऊन की घोषणा कर दी है। इस बीच राज्य सरकार ने कर्फ्यू लागू कर दिया जाए। जिस कारण सड़कों पर चहल-पहल पूरी तरह बंद हो गई है। वाहन के आवागमन पर रोक लग गई है। इसका सबसे बड़ा खामियाजा शोकाकुल परिवारों को भुगतना पड़ रहा है। पार्थिव उठाने के लिए भी शववाहिका या अन्य वाहन नहीं मिल रहे है। ऐसे में रिश्तेदार या स्थानीय नागरिक हाथठेले पर शव रखकर उसे श्मशाम घाटों तक ले जा रहे है। रविवार को इसका ज्वलंत उदाहरण सामने आया। रविवार 29 मार्च की सुबह 9.30 बजे गणेशपेठ, मॉडल मिल चाल निवासी रिक्शा चालक बंडू मेश्राम की मेडिकल अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया।

दोपहर 4 बजे उनके निवास से अंतिम यात्रा निकालने का निर्णय लिया गया। इसके लिए अनेक शववाहिका संचालनकर्ताओं से संपर्क किया गया। स्थानीय समाजसेवी राजेश खरे ने पहले गांधीसागर तालाब स्थित झूलेलाल मंदिर की शववाहिका के लिए मोबाइल से संपर्क किया। पता चला कि ड्राइवर उपलब्ध नहीं है। इसके बाद अन्य दो-तीन लोगों से संपर्क किया गया। उन्होंने भी कर्फ्यू के कारण ड्राइवर उपलब्ध नहीं होने की जानकारी दी। प्रयासों को सफलता नहीं मिलने के बाद आखिरकार स्थानीय नागरिकों ने बस्ती में रखे एक हाथठेले का इस्तेमाल किया। हाथठेले पर शव रख उसे मोक्षधाम घाट पहुंचाया गया। विशेष यह कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए इस दौरान सभी को दूरी का पालन करने को कहा गया।

आज जब सुबह एक बुजुर्ग का देखा तो उनसे पूछा कि क्या हुआ,उन्होने बताया कि उनकी माताजी की मृत्यु हो गई है और शव को कंधा देने के लिए चार लोग भी नहीं है। उनके शब्द सुनकर मैने उनका सात्वंना दी। कि बाबाजी आप घबराइए मत,आपकी माताजी को हम कंधा देंगे। फिर मेरा एक साथी आया और हम दोनो ने मिलकर शव को शववाहन में रखा और अंबाझरी लेकर गए। कोरोना के कारण आज ऐसी स्थिती हो गई कि अगर किसी के रिश्तेदार के घर मौत हो जाए,तो उस शव को कंधा देने के लिए चार लोग भी नहीं है। यह बात युवा झेप प्रतिष्ठान के शव वाहन चालक 32 वर्षीय अरविंद पवार ने बताई। उन्होने बताया कि जब से लॉकडाऊन हुआ,तब से शववाहन चालक भी छुट्‌टी पर है। ऐसे में कई शवो को दाह करने में लोगो को परेशानी हो रही है। पिछले 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दिन भी हमने कई शवो को कंधा दिया और उन्हें घाट तक पहुंचाया है। अगर ऐसा कहा कि शव यात्रा में भी कोरोना का साया है तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

मेरा दोस्त भी है साथ - पवार ने बताया कि मैं पिछले 11 वर्ष से शववाहन चला रहा हूं। सोचा भी नहीं था कि ऐसा समय भी देखना पड़ेगा। एक समय यह था कि शव यात्रा में सैकड़ो की संख्या में लोग होते है,और कोरोना ने तो शवो को भी अपनी चपेट में लिया। एक बस्ती में किसी की मृत्यु हो गई थी,उस शव को घाट तक पहुंचाना था,फिर मेरे दोस्त संजय बोक्शे और मैने मिलकर उसको घाट तक पहुंचाया। शहर में बहुत सारे घर ऐसे है जहां पर नैचुरल डेथ होती है। ऐसे में उन घरो की मदद करने का बीड़ा हमने उठाया है। इन दिनो एक्सीडेंट से मृत्यु का ग्राफ हुआ है लेकिन नैचुरल डेथ तो ही रहीं है। लॉक डाऊन से लेकर आज तक हमने लगभग 20 शवो को कंधा देकर घाट तक पहुंचाया है।

चीन के वुहान शहर से दुनिया के 195 देशों में फैल चुका कोरोनावायरस तेजी से आगे बढ़ रहा है। Worldometer वेबसाइट के मुताबिक 28 मार्च सुबह 11 बजे तक भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 887 तक पहुंच गई है। वहीं 20 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में सबसे ज्यादा संक्रमित मामले महाराष्ट्र राज्य में सामने आए हैं। यहां अबतक 153 लोग संक्रमित पाए गए हैं। जबकि 5 लोगों की मौत हो गई है। वहीं आज (शनिवार) सुबह भी नागपुर में दो लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बता दें कि दोनों मरीजों को कोरोना की पुष्टि हुई है। यह दोनों मरीज हाल ही में दिल्ली से लौटे फुटवियर व्यापारी के संपर्क में आए थे । सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार फुटवियर व्यापारी के यहां काम करने वाला एक 38 वर्षीय व्यक्ति पॉजिटिव आया है। इसके अलावा उसके यहां काम करने वाले मैनेजर की 16 साल की बेटी भी पॉजिटिव आई है। यह वही मैनेजर है जो व्यवसायी के साथ में नागपुर से दिल्ली गया था और 18 मार्च को वापस नागपुर लौटा था। 

संपर्क में आने वालों की भी जांच जारी - फुटवियर व्यापारी के गुरुवार को पॉजिटिव आने के बाद से उसके संपर्क में आने वाले लोग और  उनके संपर्क में आने वाले  सभी को स्थानीय इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) और शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल (मेडिकल) मैं जांच के लिए भर्ती किया जा रहा है। एक के बाद एक दूसरे से मिलने वाले कई लोगों की कड़ियों के आधार पर लोगों को अस्पताल में रखकर उनकी जांच की जा रही है और नेगेटिव आने पर उनको डिस्चार्ज किया जा रहा है। शनिवार को पॉजिटिव आए मरीजों के अलावा बड़ी संख्या में उनसे संबंधित लोगों के नमूने लिए गए थे जिनकी जांच निगेटिव आई है। प्रशासन ने कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए मास्क और सेनिटाइजर का इस्तेमाल करते हुए एहतियात बरतने का आग्रह किया है।

अंडरग्रेजुएट मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट (नेशनल इलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट) को लेकर परीक्षार्थियों में असमंजस है। इस वर्ष परीक्षा के लिए 15 लाख 93 हजार विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया है।  एक ओर जहां नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने जेईई मेन्स परीक्षा स्थगित की है। 3 मई को होने जा रही नीट परीक्षा को स्थगित करने पर अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है। हांलाकि 27 मार्च को जारी होने वाले हॉल टिकट और कुछ दिन टल सकते हैं।

बता दें कि नीट परीक्षा 3 मई को होनी है, अधिकारियों को लग रहा है कि तब तक स्थिति सामान्य हो सकती है। तब ही एनटीए ने विद्यार्थियों को पढ़ाई जारी रखते हुए नियमित वेबसाईट चेक करते रहने के निर्देश दिए है। तय टाईमटेबल के अनुसार देश भर में यह परीक्षा 11 भाषाओं में होगी और इसके नतीजे 4 जून को जारी किए जाएंगे।  बता दें कि देश भर में जारी कोरोना वायरस के अलर्ट का असर शिक्षा व्यवस्था पर भी पड़ा है। अधिकांश शिक्षा संस्थाओं और शिक्षा मंडलों की परीक्षाएं टाल दी गई है। जेईई मेन्स और एमएचसीईटी जैसी अंडरग्रेजुएट पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई है। लेकिन नीट संबंधि ऐसी कोई सूचना ना आने से विद्यार्थी असमंजस में है। इसके पूर्व

नागपुर में 59 कोरोना पाजीटिव पाए जाने व 200 से अधिक मरीज मिलने की अफवाह फैलानेवाले 3 लोगों को शहर पुलिस की साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने 23 मार्वीच को डियो क्लिप के माध्यम से फेक जानकारी वायरल की थी। यह भी दावा किया था कि नागपुर में निगेटिव पाये जानेवाले मरीज मुंबई में पाजीटिव पाये जा रहे हैं। यहां की स्वास्थ्य सेवा पर सवाल उठाया था। साथ ही यह भी कहा था कि यहां डाक्टर भी सुरक्षित नहीं है। मेडिकल अस्पताल के एक डाक्टर को पाजीटिव बताया गया था। सोशल मीडिया पर इस आडियो को लेकर काफी चर्चा थी।

आयुक्त ने तुुरंत लिया एक्शन - लोगों में भय का वातावरण बन रहा था। इस पर मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे ने तत्काल खुलासा किया था कि आडिया संवाद सही नहीं है। आरोपियों में जय गुप्ता 37, अमित पारधी 38 व दिव्यांशु मिश्रा 33 शामिल है। पता चला है कि जो आडियो क्लिप वायरल हुआ है वह गुप्ता व पारधी के बीच संवाद का है। आडियो में 4.52 मिनट तक बातचीत की जा रही है। उसमें यह भी कहा गया था कि मेडिकल अस्पताल के डाक्टर कमलेश को पाजीटिव पाए जाने के बाद वेंटिलेटर पर रखा गयाहै। नितीन नाम के एक नेता के नाम का भी जिक्र किया गया। पालकमंत्री नितीन राऊत जिले में प्रशासनिक व्यवस्था की कमान संभाले हुए हैँ। ऐसे में क्लिप सुनकर लोगों को लग रहा था कि जो कहा जा रहा है वह सही है।

नागपूर, दि. 27 : कोरोना विषाणूचा प्रादुर्भाव टाळण्यासाठी लागू करण्यात आलेल्या संचारबंदीच्या काळात जिल्ह्यातील अत्यंत गरीब व झोपडपट्टीत राहणाऱ्या नागरिकांना प्रशासनातर्फे तांदूळ, पीठ, तेल, तिखट-मीठ, साखर आदी जीवनावश्यक वस्तू असलेल्या किटचे घरपोच वाटप करण्यात येणार असल्याची माहिती पालकमंत्री डॉ. नितीन राऊत यांनी दिली. नागरिकांनी  या संचारबंदीचे कटाक्षाने पालन  करावे.  असे आवाहनही त्यांनी केले आहे.
कोरोनाचा प्रादुर्भाव टाळण्यासाठी करण्यात येत असलेल्या उपाययोजना व संचारबंदीच्या काळात गरीब व गरजू नागरिकांना अत्यावश्यक साहित्याच्या पुरवठ्याबाबत आढावा डॉ. नितीन राऊत यांनी जिल्हाधिकारी कार्यालयात  घेतला. त्यावेळी ते बोलत होते.
विभागीय आयुक्त डॉ. संजीव कुमार, पोलीस आयुक्त डॉ. भूषणकुमार उपाध्याय, जिल्हाधिकारी रविंद्र ठाकरे, महानगरपालिकेचे अतिरिक्त आयुक्त राम जोशी, सोलर उद्योग समूहाचे मनीष सत्यनारायण नोवाल, क्रेडाईचे सुनील दुद्दलवार, गौरव अग्रवाल, सोमेश्वर मुंदडा, राजा करवाडे, संतोष चावला आदी यावेळी उपस्थित होते.


कोरोनाच्या पार्श्वभूमीवर जिल्ह्यात तसेच शहरात संचारबंदी लागू करण्यात आली आहे. संचारबंदीमुळे झोपडपट्टी तसेच इतर भागातील नागरिकांच्या दैनंदिन रोजगाराचा  प्रश्न निर्माण झाला आहे. शासनातर्फे दारिद्र्यरेषेखालील कुटुंबांना स्वस्त धान्य दुकानातून धान्य व इतर साहित्याचा पुरवठा करण्यात येत आहे. परंतु या गटात न मोडणाऱ्या गरजू नागरिकांना जीवनावश्यक साहित्याचे वाटप जिल्हा प्रशासनातर्फे तसेच स्वयंसेवी संस्थांच्या मदतीने करण्यात येत आहे. त्यात पाच किलो तांदूळ, पाच किलो पीठ त्यासोबत मूगडाळ, मीठ, हळद, मिरची, साखर, चनाडाळ, पोहे, रवा, चहापत्ती, बेसन तसेच बटाटे व कांदे यांचे एकत्र पॅकेट करुन महसूल, पोलीस व महापालिकेच्या मदतीने वाटप करण्यात येणार असल्याचे पालकमंत्र्यांनी सांगितले.  

आता संपूर्ण नागपुरात होणार ‘कोरोना’ सर्व्हे

मनपाचे पाऊल : नागरिकांना सहकार्य करण्याचे आवाहन

नागपूर, ता. २४ : नागपुरातील कोरोनाबाधित रुग्णांच्या निवासापासून तीन किलोमीटर परिसरात सर्व्हेची घोषणा केल्यानंतर लक्ष्मीनगर आणि धरमपेठ झोनअंतर्ग़त येणाऱ्या सुमारे ५० हजार कुटुंबातील दोन लाख लोकांपर्यंत मनपाच्या आरोग्य विभागाची चमू पोहोचली. आता या दोन झोन व्यतिरिक्त संपूर्ण नागपूर शहरात असा सर्व्हे होणार असून यासाठी नागरिकांनी सहकार्य करण्याचे आवाहन नागपूर महानगरपालिका आरोग्य विभागाच्या वतीने करण्यात आले आहे.

नागपूर महानगरपालिकेचे आयुक्त तुकाराम मुंढे यांच्या आदेशानुसार उर्वरीत आठ झोनमध्येही हा सर्व्हे करण्यात येणार आहे. ‘कोरोना’विषयक जनजागृती आणि शहरातील आरोग्याची माहिती अशा दुहेरी हेतूने हे सर्व्हेक्षण करण्यात येणार आहे. यासंदर्भात माहिती देताना सहायक वैद्यकीय आरोग्य अधिकारी डॉ. प्रवीण गंटावर म्हणाले, या संपूर्ण सर्व्हेक्षणादरम्यान संपूर्ण नागरिकांची माहिती घेण्यात येणार आहे. आरोग्यविषयक प्रश्न विचारण्यात येणार आहे. नागरिकांनी विचारलेल्या प्रश्नांची उत्तरे द्यावी. आपल्या घरापर्यंत येणाऱ्या प्रत्येक कर्मचाऱ्यांकडे ओळखपत्र राहणार आहेत. त्यामुळे त्यांना सहकार्य करण्याचे आवाहन डॉ. गंटावार यांनी केले आहे.

नागरिकांकडून माहिती घेतल्यानंतर, ज्या कोणाला आरोग्याचा काही त्रास जाणवत असेल त्यांनी अथवा त्यांच्या कुटुंबीयांना मनपाच्या नियंत्रण कक्षात फोन करून याबाबत माहिती द्यायची आहे. कुणालाही दवाखान्यापर्यंत जाण्याची गरज नाही. नागरिकांनी माहिती दिल्यानंतर डॉक्टरांची चमू संबंधित घरापर्यंत जाईल आणि तेथे उपचार देईल. त्यामुळे नागरिकांनी प्रशासनानचे पुढील आदेश येईपर्यंत घराबाहेर पडण्याची गरज नाही, असे आवाहनही त्यांनी केले आहे.

nagpur : कोरोना विषाणू संदर्भ:: माहिती : 24/3/20
1. दैनिक संशयित:36
एकूण संशयित: 406
2. सध्या भरती असलेल्या व्यक्ती: 7 ( 4 in gmc & 3 in IGMC)
एकूण भरती केलेल्या व्यक्ती: 194
3. दैनिक तपासणी नमुने: 26
एकूण तपासणी केलेले नमुने: 202
4. पॉझिटिव्ह नमुने: 4
5. पाठपुरावा सुरु असलेल्या एकूण व्यक्ती: 744 (Home Quarantined)
14 दिवस पाठपुरावा केलेल्या व्यक्ती : 39
6. आज विमानतळावर स्क्रीनिंग केलेले प्रवासी: 0
एकूण विमानतळावर स्क्रीनिंग केलेले प्रवासी: 1123
7. आज अलगीकरण केलेले प्रवासी: 5 (4 from domestic flights & 1 self)
8. IGGMC येथे भरतीकरिता पाठविलेले प्रवासी: 0
9. GMC येथे भरतीकरिता पाठविलेले प्रवासी: 0
10. आज अलगीकरण कक्षातून घरी पाठविलेले प्रवासी: 14
11.  सध्या अलगीकरण कक्षात असलेले प्रवासी: 150

 

आयुक्त तुकाराम मुंढे यांच्या आदेशानुसार प्रशासकीय इमारतीपुढे व्यवस्था
 

नागपूर, ता. २४ : 'कोरोना'वर मात करण्यासाठी सर्व स्तरातून प्रयत्न केले जात आहेत. 'कोरोना'चा प्रादुर्भाव रोखण्यासाठी सुरक्षेच्या दृष्टीने आता नागपूर महानगरपालिकेमध्ये हात धुतल्यानंतरच प्रवेश करता येणार आहे. छत्रपती शिवाजी महाराज नवीन प्रशासकीय इमारतीपुढे हात धुण्याची व्यवस्था करण्यात आली आहे. मंगळवारी (ता.२४) मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे यांनी स्वतः प्रवेशद्वारावर हात धुवूनच कार्यालयात प्रवेश केला. 

स्वच्छता हाच 'कोरोना'पासून बचावाचा उत्तम उपाय आहे. प्रत्येकाने कोणत्याही व्यक्ती अथवा वस्तूंच्या संपर्कात आल्यास हात धुणे अत्यावश्यक आहे. मनपामध्ये येणा-या अधिकारी, कर्मचारी तसेच सामान्य नागरिकांच्या सुरक्षेच्या दृष्टीने व त्यांनाही सवय लागावी या हेतूने प्रशासकीय इमारतीच्या प्रवेशद्वाराजवळ हात धुण्याची व्यवस्था करण्यात आली आहे. येथे हॅण्डवॉश किंवा साबणाने हात स्वच्छ धुवूनच कार्यालयात प्रवेश करावे, असे आवाहन मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे यांनी केले आहे.

नागरिकांना सुविधा प्रदान करण्यास मनपा तत्पर : आयुक्त तुकाराम मुंढे

नियंत्रण कक्षाची पाहणी करून घेतला कामाचा आढावा 


नागपूर, ता. २४ : 'कोरोना' प्रतिबंधाच्यादृष्टीने संचारबंदी लागू करण्यात आली आहे. प्रत्येकाने नियमाचे पालन करावे. कुणीही घराबाहेर पडू नये. 'कोरोना' संदर्भात माहिती आणि तक्रारीसाठी मनपा नियंत्रण कक्ष स्थापन करण्यात आले आहे. याशिवाय पाणी पुरवठा आणि मलनि:सारणाच्या तक्रारींसाठीही हेल्प लाईन सुरू करण्यात आली आहे. नागरिकांना सुविधा प्रदान करण्यास महानगरपालिका तत्पर आहे. नागरिकांनीही आपली जबाबदारी ओळखून घरीच राहावे, असे आवाहन मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे यांनी केले. 

मनपाद्वारे 'कोरोना' संदर्भात सुरू करण्यात आलेले नियंत्रण कक्ष व पाणी पुरवठा आणि मलनिःसारण सुविधेबाबच्या हेल्प लाईनलाईनची मंगळवारी (ता.२४) मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे यांनी पाहणी केली व संपूर्ण यंत्रणेच्या कार्याचा आढावा घेतला. 

शहरात संचारबंदी लागू असल्याने अत्यावश्यक गोष्टींसाठीच घरातील कोणत्याही एका सदस्याला घराबाहेर पडण्याची मुभा आहे. भाजी, किराणा, औषध या अत्यावश्यक गोष्टींची खरेदी करताना संसर्ग टाळण्यासाठी  दोन व्यक्तींमध्ये किमान पाच फुटाचे अंतर राखावे. 'कोरोना'च्या प्रतिबंधासाठी या सर्व गोष्टींचे पालन करावे. नागरिकांची कोणत्याही प्रकारे असुविधा होऊनये यासाठी मनपामध्ये नियंत्रण कक्ष स्थापन करण्यात आले आहे. नियंत्रण कक्षामध्ये आधी एकच संपर्क क्रमांक होता आता आणखी एक असे दोन संपर्क क्रमांक सुरू करण्यात आले आहेत. नागरिकांनी मनपाच्या नियंत्रण कक्षाशी ०७१२ २५६७०२१ आणि ०७१२ २५५१८६६ या क्रमांकावर संपर्क साधावा. 

याशिवाय पाणी पुरवठा आणि मलनिःसारण या अत्यावश्यक सेवांसाठी स्वतंत्र हेल्पलाईन सुरू करण्यात आली आहे. सोमवार (ता.२३)पासून सुरू करण्यात आलेल्या या हेल्पलाईनवर पाणी पुरवठ्याबाबत सुमारे १५ तर मलनिःसारण संदर्भात १२ तक्रारी प्राप्त झाल्या. यापैकी काही तक्रारी सोडविण्यात आल्या आहेत तर काहींवर काम सुरू आहे. पाणी पुरवठा आणि मलनिःसारण सुविधेसाठी नागरिकांनी ०७१२ २५३२४७४ या क्रमांकावर संपर्क साधावा. 

नियंत्रण कक्ष सुरू केल्यापासून अर्थात १३ मार्चपासून आजपर्यंत १०११ नागरिकांनी कोरोनासंदर्भात माहिती विचारली. मंगळवारी (ता.२४) सकाळी ८ ते दुपार २ वाजतापर्यंत ५७ नागरिकांनी फोन करून माहिती घेतली, तक्रारी केल्या. नियंत्रण कक्षात माहिती देण्यासाठी एक वैद्यकीय अधिकारी, एक परिचारिका आणि दोन कर्मचारी नागरिकांना माहिती देत आहेत.

कोणत्याही परिस्थितीला सामोरे जाण्यास मनपा तत्पर आहे. मनपातर्फे 'इमर्जेंसी ट्रान्सपोर्टेशन प्लान' संदर्भात कार्य सुरू आहे. नागरिकांनी सहकार्य करावे हीच अपेक्षा आहे. ३१ मार्च पर्यंत कुणीही घराबाहेर पडू नये. आवश्यक माहितीसाठी मनपाशी संपर्क साधावा, असेही आवाहन मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे यांनी केले आहे.

देशभर में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. अब तक 210 केस सामने आए हैं, जिसमें सबसे अधिक मरीज महाराष्ट्र के हैं. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने चार शहरों को लॉकडाउन करने का फैसला किया है. यानी जरूरी दुकानों और सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानें और दफ्तर 31 मार्च तक बंद रहेंगे.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमने मुंबई, पुणे, पिंपरी, नागपुर और एमएमआर रिजन को 31 मार्च तक लॉकडाउन करने का फैसला किया है. यहां जरूरी सामानों और सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानें और दफ्तर बंद रहेंगे. महाराष्ट्र में अब तक कोरोना के 52 मामले सामने आए हैं, जिसमें एक की मौत हो गई है.

ये दुकानें रहेंगी खुली - महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई, नागपुर, पुणे और पिंपरी को लॉकडाउन करने का फैसला किया है, लेकिन राशन - सब्जी की दुकानें और दवाई की दुकानें यानी मेडिकल शॉप खुले रहेंगे. इसके अलावा जरूरी सेवाएं भी जारी रहेंगी. हालांकि, सरकार ने कहा कि पैनिक बाईंग न करें. 31 मार्च तक गैर-जरूरी सामानों और शराब की दुकानें, माल समेत कई प्रतिष्ठान बंद रहेंगे.

पुलिस कर्मियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए महाराष्ट्र राजमार्ग पुलिस ने शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की जांच पर फिलहाल रोक लगाने का फैसला लिया है क्योंकि यह जांच सांस से जुड़ी है। महाराष्ट्र राजमार्ग पुलिस के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) विनय करगांवकर ने सोमवार को इस संबंध में एक परिपत्र जारी किया।
 
परिपत्र के अनुसार, ‘‘ राज्य में कोरोना वायरस के कई मामले सामने आए हैं। वायरस को फैलने से रोकने के लिए पुलिस को एहतियाती तौर पर कदम उठाने की जरूरत है।'' इसमें कहा गया, ‘‘ इसलिए, सभी पुलिसिया शाखाओं के यातायात पुलिस कर्मी वाहन चालकों के शराब पीकर गाड़ी चलाने की जांच नहीं करेंगे।'' करगांवकर ने ‘पीटीआई-भाषा' को बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए यह कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि स्थिति सामान्य होने के बाद ही यह जांच फिर शुरू की जाएगी। देश में अब तक कोविड-19 के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से ही सामने आए हैं जहां संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 39 पर पहुंच गई है।

यवतमाल में एक और मरीज कोरोना पॉजिटिव
-मरीजों की संख्‍या बढ़कर 3 हुई, नागपुर में 4 मरीज
-विदर्भ में 40 नए संदिग्‍धों में 20 यवतमाल के
-बुलढाणा के 12, अकोला का 1 और चंद्रपुर जिला के 4 संदिग्‍ध
-राज्‍य के 39 मरीजों को कोरोना की पुष्टि

  नागपुर. सोमवार को यवतमाल के एक और मरीज को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में जांच के बाद रिपोर्ट की पुष्टि हुई है. यवतमाल से अब तक 3 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हो चुकी है. मामले को लेकर यवतमाल मेडिकल कॉलेज में पहले 9 और अब 2 मिलाकर कुल 11 लोगों को भरती किया गया है. यवतमाल के एक मरीज की पुष्टि होने के बाद राज्य में अब तक कुल 39 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हो चुकी है.
 बता दें कि रविवार को कोरोना संदिग्ध मरीजों के 41 में से 40 सैंपलों की जांच की गई थी, जो सभी निगेटिव आए. सिर्फ एक यही सैंपल रह गया था जिसकी साेमवार को जांच की गई और जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. वहीं, नागपुर में अब तक सिर्फ 4 मरीजों को ही कोरोना की पुष्टि हुई है. सभी लगभग पूरी तरह से स्वस्थ हैं. शहर के मेयो अस्‍पताल अौर मेडिकल अस्‍पताल में मरीजों को भरती रखा गया है.

चुनाव तीन माह के लिए टले
कोरोना वायरस के चलते राज्य में एमपीएससी के एग्जाम भी टल गए हैं. सभी सामूहिक प्रोग्राम भी रद्द कर दिए गए हैं. नगर पालिका और ग्राम पंचायत के चुनाव भी तीन माह के लिए आगे बढा दिए गए हैं.

विदर्भ में 40 नए संदिग्ध
 इस बीच, विदर्भ में रविवार को 40 नए संदिग्धों का पंजीकरण किया गया. इसमें यवतमाल के 20, बुलढाणा के 12, अकोला के 1 तो चंद्रपुर जिला के 4 लोगों का समावेश है. इन सभी मरीजों को अस्पताल और उनके घर में निगरानी में रखा गया है. ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिया गया है. रिपोर्ट आने के बाद उपचार प्रक्रिया तय की जाएगी. इस दरम्यान बुलढाणा में शनिवार को मृत वृद्ध और गोंदिया की महिला की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. एहतियात के तौर पर, पर्यटक ताडोबा-अंधेरी बाघ परियोजना के तहत आने वाले विदेशी पर्यटकों की ‘थर्मल स्क्रीनिंग’ की जाएगी.

बुलढाणा में 12 लोगों पर नजर

बुलढाणा जिला में खामगांव में धार्मिक कार्यक्रम के लिए आए मलेशिया के 5 और इंडोनेशिया के 7 मिलाकर कुल 12 लोग हैं. विदेश से आए मेहमानो में से कुछ लोगों को सर्दी, खांसी होने से उनकी प्राथमिक जांच की गई. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग सतर्क हो गया है. अस्पताल में भरती तीन लोगों को खामगांव के आइसोलेशन वार्ड में उपचार के लिए रखा गया है. अन्य 9 को बुलढाणा के महिला अस्पताल में रखा गया है. आगामी 14 दिनों की निगरानी में रखा गया है.

कोरोना : नागपुर संभाग की स्‍थिति
1. सोमवार के संदिग्‍ध : 44
कुल संदिग्‍ध : 117
2. फिलहाल भरती व्‍यक्‍ति : 19
अब तक कुल भरती व्‍यक्‍ति : 87
3. दैनिक जांच के नमूने : 38
अब तक कुल जांच के नमूने : 95
4. पॉजिटिव नमूने : 4
5. जिन पर निगरानी रखी जा रही : 95
14 दिन से जिनकी निगरानी हो रही : 35
6. आज विमानतल पर स्क्रीनिंग की गई : 25
विमानतल पर अब तक कुल स्क्रीनिंग : 982

यवतमाल में एक और मरीज कोरोना पॉजिटिव
-मरीजों की संख्‍या बढ़कर 3 हुई, नागपुर में 4 मरीज
-विदर्भ में 40 नए संदिग्‍धों में 20 यवतमाल के
-बुलढाणा के 12, अकोला का 1 और चंद्रपुर जिला के 4 संदिग्‍ध
-राज्‍य के 39 मरीजों को कोरोना की पुष्टि

  नागपुर. सोमवार को यवतमाल के एक और मरीज को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में जांच के बाद रिपोर्ट की पुष्टि हुई है. यवतमाल से अब तक 3 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हो चुकी है. मामले को लेकर यवतमाल मेडिकल कॉलेज में पहले 9 और अब 2 मिलाकर कुल 11 लोगों को भरती किया गया है. यवतमाल के एक मरीज की पुष्टि होने के बाद राज्य में अब तक कुल 39 मरीजों को कोरोना होने की पुष्टि हो चुकी है.
 बता दें कि रविवार को कोरोना संदिग्ध मरीजों के 41 में से 40 सैंपलों की जांच की गई थी, जो सभी निगेटिव आए. सिर्फ एक यही सैंपल रह गया था जिसकी साेमवार को जांच की गई और जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. वहीं, नागपुर में अब तक सिर्फ 4 मरीजों को ही कोरोना की पुष्टि हुई है. सभी लगभग पूरी तरह से स्वस्थ हैं. शहर के मेयो अस्‍पताल अौर मेडिकल अस्‍पताल में मरीजों को भरती रखा गया है.

चुनाव तीन माह के लिए टले
कोरोना वायरस के चलते राज्य में एमपीएससी के एग्जाम भी टल गए हैं. सभी सामूहिक प्रोग्राम भी रद्द कर दिए गए हैं. नगर पालिका और ग्राम पंचायत के चुनाव भी तीन माह के लिए आगे बढा दिए गए हैं.

विदर्भ में 40 नए संदिग्ध
 इस बीच, विदर्भ में रविवार को 40 नए संदिग्धों का पंजीकरण किया गया. इसमें यवतमाल के 20, बुलढाणा के 12, अकोला के 1 तो चंद्रपुर जिला के 4 लोगों का समावेश है. इन सभी मरीजों को अस्पताल और उनके घर में निगरानी में रखा गया है. ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिया गया है. रिपोर्ट आने के बाद उपचार प्रक्रिया तय की जाएगी. इस दरम्यान बुलढाणा में शनिवार को मृत वृद्ध और गोंदिया की महिला की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. एहतियात के तौर पर, पर्यटक ताडोबा-अंधेरी बाघ परियोजना के तहत आने वाले विदेशी पर्यटकों की ‘थर्मल स्क्रीनिंग’ की जाएगी.

बुलढाणा में 12 लोगों पर नजर

बुलढाणा जिला में खामगांव में धार्मिक कार्यक्रम के लिए आए मलेशिया के 5 और इंडोनेशिया के 7 मिलाकर कुल 12 लोग हैं. विदेश से आए मेहमानो में से कुछ लोगों को सर्दी, खांसी होने से उनकी प्राथमिक जांच की गई. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग सतर्क हो गया है. अस्पताल में भरती तीन लोगों को खामगांव के आइसोलेशन वार्ड में उपचार के लिए रखा गया है. अन्य 9 को बुलढाणा के महिला अस्पताल में रखा गया है. आगामी 14 दिनों की निगरानी में रखा गया है.

कोरोना : नागपुर संभाग की स्‍थिति
1. सोमवार के संदिग्‍ध : 44
कुल संदिग्‍ध : 117
2. फिलहाल भरती व्‍यक्‍ति : 19
अब तक कुल भरती व्‍यक्‍ति : 87
3. दैनिक जांच के नमूने : 38
अब तक कुल जांच के नमूने : 95
4. पॉजिटिव नमूने : 4
5. जिन पर निगरानी रखी जा रही : 95
14 दिन से जिनकी निगरानी हो रही : 35
6. आज विमानतल पर स्क्रीनिंग की गई : 25
विमानतल पर अब तक कुल स्क्रीनिंग : 982

नागपुर. राज्‍य के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के दबाव में काम कर रहे हैं. बालासाहब ठाकरे ने ऐसा अपमान कभी सहन नहीं किया होता. उद्धव ठाकरे को फिर से वापस भाजपा के साथ आ जाना चाहिए.
 उद्धव ठाकरे को यह सलाह केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री रामदास आठवले ने दी है. यहां आयोजित पत्र परिषद में वे बोल रहे थे. श्री आठवले ने कहा, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भी अपमानजनक स्‍थिति से गुजरना पड़ सकता है. मध्यप्रदेश की तरह ही महाराष्ट्र में भी राजनीतिक भूकंप होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.
  इस अवसर पर आठवले ने कहा, ‘मध्यप्रदेश मंे फिलहाल जो राजनीतिक घटनाक्रम जारी है, उसका असर महाराष्ट्र पर भी पड़ सकता है. मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया को कोई भाजपा ने नहीं तोड़ा है. मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार अल्पमत में है, परंतु उसे बहुमत साबित करने के लिए समय मिल गया है. उसी तरह यदि बहुमत साबित करने के लिए देवेंद्र फड़णवीस को भी समय मिल गया होता तो राज्‍य का परिदृश्‍‍य आज कुछ और होता.

जाली नोटों की खेप नागपुर पहुंच चुकी है। भले ही इसको लेकर कोई पुष्टि न करे, पर इसकी अनदेखी भी नहीं की जा सकती है। जनवरी में 100 रुपए के 71 जाली नोट विभिन्न बैंकों की शाखाओं में जमा कराए गए हैं। इसका खुलासा आरबीआई की जांच में हुआ है। आरबीआई ने सदर थाने में प्रकरण दर्ज कराया है।

1 से 31 जनवरी 2020 के बीच में - माफिया ने अलग-अलग बैंक की शाखाओं में सौ रुपए के 71 जाली नोट जमा करा दिए हैं। पड़ताल हुई तो सभी नोट जाली मिले हैं। पहले तो नाशिक स्थित प्रेस से इसकी जानकारी की गई, जब वहां से इस तरह की किसी भी गलती से इनकार किया गया तो यहां के अफसरों के होश उड़ गए। रिजर्व बैंक की सहायक प्रबंधक रोहिनी स्वागत टिपले की शिकायत पर मंगलवार को सदर थाने में अज्ञात आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। उपनिरीक्षक नागरगोजे जांच कर रहे हैं।

अस्पताल जाते ही नकदी और आभूषणों पर किया हाथ साफ - यशोधरा नगर थानांतर्गत किसी ने सूने घर में नकदी और आभूषणों पर हाथ साफ कर दिया। प्रकरण दर्ज िकया गया है। जामदारवाड़ी तीनखेड़े ले-आउट निवासी नयना प्रमोद भिसीकर (30) रविवार को रात करीब साढ़े ग्यारह बजे घर को ताला लगाकर अपने परिवार के साथ निजी अस्पताल गई थी। वहां से वह सुबह तड़के साढ़े तीन बजे परिवार के साथ वापस घर आई। इस बीच किसी ने सूने घर का फायदा उठाकर कुंडी तोड़कर घर में प्रवेश किया तथा अलमारी से सात हजार रुपए नकद, सोने के आभूषण सहित कुल 1 लाख 98 हजार रुपए के माल पर हाथ साफ कर दिया।  प्रकरण दर्ज किया गया है, जांच जारी है।  

 देवलापार पुलिस स्टेशन के तहत आने वाले तथा देवलापार से 3 किमी की दूर वडंबा में ढाबे में काम करने वाले कारा नामक युवक ने ढाबा मालिक द्वारा ओढ़ने के लिए कंबल नहीं देने पर सिर पर हमला कर हत्या कर दी। पुलिस सूत्रों के अनुसार मृतक प्रकाश बालगोविंद जायस्वाल (53),  वडंबा निवासी का नागपुर-जबलपुर हाईवे पर वडंबा में ढाबा है। इसी ढाबे में आरोपी कारा नामक बिहार निवासी काम करता था। घटना से एक दिन पहले रात को प्रकाश और आरोपी कारा के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। 

कंबल नहीं देने से नाराज था - बताया जाता है कि, ढाबा मालिक द्वारा ओढ़ने के लिए कंबल नहीं देने से कारा गुस्से में था। दूसरे दिन 25 फरवरी की सुबह 4 से 7 बजे के बीच  कारा ने प्रकाश पर लाठी से मुंह पर वार किया। वार इतना जोरदार था कि, प्रकाश लहूलुहान होकर वहीं गिर पड़ा और प्रकाश की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंची। घटना के समय मौजूद फरियादी रामेश्वर गोबरी बिटले, चिखला बांध, रामपाली, तहसील वारासिवनी, मध्यप्रदेश निवासी की शिकायत पर देवलापार पुलिस ने आरोपी कारा को हिरासत में लेकर धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया है। आगे की जांच देवलापार के थानेदार सहायक पुलिस निरीक्षक प्रवीण बोरकुटे कर रहे हैं। 

 

नागपुर यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए राहत भरी खबर है। विश्वविद्यालय ने अपने सभी संबद्ध कॉलेजों में पढ़ने वाले जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए भी 'अर्न एंड लर्न' योजना लागू की है। आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थी कॉलेज में ही पार्ट टाइम काम कर सकते हैं। इसमें भी पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को प्राथमिकता दी जाएगी। विश्वविद्यालय को इस योजना के लिए कुल 7 करोड़ 50 लाख रुपए खर्च होने की उम्मीद है।  इसके लिए बजट मैं प्रावधान करने की तैयारी की जा रही है।

अब तक यूनिवर्सिटी के विभागों तक ही सीमित थी व्यवस्था - उल्लेखनीय है कि अब तक विश्वविद्यालय के विभागों तक ही यह योजना सीमित थी। इस वर्ष "अर्न एंड लर्न' योजना में पार्ट टाइम काम के लिए 314 विद्यार्थियों के आवेदन मिले थे। इसमें से यूनिवर्सिटी ने 200 जरूरतमंद विद्यार्थियों को अपने ही किसी विभाग या संचालित कॉलेज में नियुक्त गया था। पहली सूची में यूनिवर्सिटी ने 155 विद्यार्थियों का चयन किया था। बाद में दूसरी सूची में यूनिवर्सिटी के विद्यार्थी कल्याण विभाग ने 45 विद्यार्थियों का नाम जारी किया था। इन विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय के 46 शैक्षणिक व प्रशासनिक विभागों में ही नियुक्त किया गया था।

कपास के खेत में उगने वाली ढोरकाकड झाड़ी मवेशियों की जान ले रही है। इसे खाते ही मवेशी बीमार पड़ जाते हैं और जान गंवा रहे हैं। हाल ही में हिंगना तहसील के आमगाव, खड़गी, कान्होलीबारा आदि गांवों में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं। इसको लेकर पशु संवर्धन विभाग लगातार मवेशियों को बचाने का प्रयास कर रहा है। हिंगना तहसील अंतर्गत कई वन्यक्षेत्र हैं। यहां मवेशियों पर वन्यजीवों में बाघ, तेंदुए के हमले की घटनाएं आम हैं। इसलिए पूरे साल गांव वाले जंगली जानवरों के कारण दहशत में रहते हैं।

अब नई मुसीबत ढोरकाकड झाड़ी के रूप में सामने आई है। यह दिखने में सामान्य झाड़ियों की तरह ही है। इसे खाने से मवेशियों की मौत तक हो रही है। अब तक इस तरह की झाड़ियां नहीं होती थीं। परंतु इस बार कपास के खेतों में बड़े पैमाने पर इस तरह की झाड़ियां उग आई हैं। इसे खाने के बाद मवेशियों की मल-मूत्र नलिका पर सूजन हो जाता है और मूत्र विसर्जन बंद हो जाता है। इसके बाद मवेशी मर जाते हैं। कान्होलीबारा में इस तरह की घटनाएं हुई हैं। प्राथमिक जांच में इसी तरह का कारण सामने आया है। हालांकि अभी तक इस तरह मरे हुए किसी भी जानवर का पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है। 

पशु संवर्धन विभाग के डॉक्टरों ने देखा मामला - हाल ही में कान्होलीबारा में इस तरह के मामले सामने आए थे। उस वक्त पशु संवर्धन विभाग के उपायुक्त डॉ. मंजुषा पुंडलिक, सह आयुक्त डॉ. भुगावकर, सह आयुक्त प्रादेशिक रोग अन्वेषण प्रयोगशाला डॉ. टोपले, पशुधन विकास अधिकारी डॉ. ऋचा लांजेवार, डॉ. अश्विनी गडगडे आदि ने इसे देखा था।

जेल में सीरियल बम ब्लास्ट के दोषी कैदी पर जानलेवा हमला हुआ। हमला करने वाला कैदी हत्या का दोषी है। वह उम्र कैद की सजा काट रहा है। बीच-बचाव करने पहुंचे जेलरक्षक से भी दोनों कैदियों ने मारपीट की। इससे जेल की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो रहे हैं। धंतोली थाने में प्रकरण दर्ज किया गया है। 

बताया जाता है कि सुबह कैदी नाश्ते के लिए बाहर निकले। किसी बात को लेकर कैदी नावेद हुसैन खान रशीद हुसैन खान (40) और मोहम्मद आजम अस्लम भट्ट (40) में विवाद हो गया। इसके बाद दोनों कैदी एक-दूसरे पर टूट पड़े। जेलरक्षक ईश्वरदास तुलशी राम बहेकर बीच-बचाव किया तो दोनों कैदियों ने उसके साथ भी मारपीट की है। दोनों कैदी मामूली रूप से जख्मी भी हुए हैं। नावेद मुंबई का है। उसे फांसी की सजा हुई है। 11 जुलाई 2006 को मुंबई के लोकल ट्रेनों में हुए सीरियल बम ब्लास्ट के दोषियों में से एक नावेद है। इस मामले में दर्जन भर दोषियों को पकड़ा गया था। इस बीच अदालत ने नावेद को फांसी की सजा सुनाई है। तब से वह नागपुर जेल में है। उसे सुरक्षा गार्ड के अ विभाग के बैरक में रखा गया है।

सरकार हरियाली बढ़ाने का दावा खूब कर रही है, पर हकीकत की तस्वीर उलट है। दैनिक भास्कर ने मनपा की ओर से कराए गए पौधारोपण की पड़ताल की तो पोल खुल गई। नेशनल हाईवे के बोरखेड़ी से जाम तक (चंद्रपुर रोड) में तीन करोड़ रुपए की लागत से 11 हजार पौधे लगाने का दावा किया जा रहा है। बीवीजी कंपनी को 2018-19 में यह काम दिया गया था। हकीकत यह है कि अब पौधे नहीं हैं, बस... मौजूद हैं तो केवल ट्री-गार्ड। एक-एक पौधे के लिए 27-27 सौ रुपए सरकार ने खर्च किए। बावजूद इसके अफसरों ने इसको गंभीरता से नहीं लिया। इतने बड़े पैमाने पर पौधारोपण में गड़बड़ी के बावजूद मनपा के स्तर से न ही कोई जांच कराई गई और न ही किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई तक की गई है।

जामठा से बोरखेड़ी तक ओरिएंटल कंपनी ने पौधारोपण किया है। यह पौधारोपण कंपनी ने अपनी तरफ से किया है। इसका एनएचएआई ने किसी तरह का भुगतान नहीं किया है। 

बोरखेड़ी से जाम तक बीवीजी कंपनी को काम दिया गया है। बीवीजी को इस हिस्से में 11 हजार पौधे लगाने थे। एक पौधारोपण पर करीब 2700 रुपए भुगतान किया जा रहा है। यानी संपूर्ण पौधारोपण के लिए तीन करोड़ रुपए। पौधारोपण के बाद पांच साल तक रख-रखाव का भी जिम्मा है। पहले वर्ष में उसे 40 प्रतिशत भुगतान करना था। इसके बाद दूसरे, तीसरे, चौथे और पांचवें वर्ष में 15-15 प्रतिशत भुगतान करना है।

जाम से आगे का हिस्सा नीरी संस्था को दिया गया है। नीरी को 19 हजार पौधे लगाने हैं। इसके लिए उसे छह करोड़ रुपए भुगतान किया जाएगा। नीरी ने भी जाम से आगे पौधे लगाने का दावा किया है।

निकालस मंदिर के पीछे अवधूत मंदिर रोड, हमालपुरा स्थित गैंगस्टर संतोष आंबेकर के आलीशान बंगले पर बुलडोजर चला चला तो देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। आंबेकर ने तीन प्लाॅट को मिलाकर यह बंगला बनाया था। आरोप है कि उसने 8640.28 स्के. फीट (803 स्के. मीटर) में अनधिकृत निर्माण कार्य किया था। जानकारों की मानें तो पहले मनपा ने संतोष आंबेकर को अवैध निर्माण को लेकर नोटिस जारी किया था। शासन-प्रशासन को अपनी अंगुलियों पर नचाने वाले आंबेकर ने नोटिस को हल्के में लिया।  दो जेसीबी और एक पोकलेन की मदद से उसके आलीशान बंगले को धराशायी कर दिया गया। इस दौरान भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। इस बंगले को लेकर तरह-तरह की कहानियां सुनी जाती हैं। फिलहाल संतोष आंबेकर अलग-अलग मामलों में जेल में बंद है। हफ्ता वसूली, धमकाना, हत्या, दुष्कर्म सहित विविध संगीन धाराएं उस पर लगी हैं। 

आलीशान बंगले में पनाह ले चुका है रवि पुजारी - गैंगस्टर संतोष आंबेकर के बंगले को देखकर सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह कितना शौकीन है। कहा जाता है कि मुंबई के डॉन दाउद इब्राहिम के करीबी छोटा राजन की स्टाइल में आंबेकर को जीना पसंद है। उसकी सूरत भी छोटा राजन से मेल खाती है।  सूत्रों की मानें तो मुंबई के कई बदमाशों के साथ आंबेकर समुंद्र की सैर करता था। बाकायदा रवि पुजारी भी साथ होता था। यहां तक कहा जा रहा है कि आंबेकर के इस आलीशान में बंगले में दो-तीन बार रवि पुजारी भी पनाह ले चुका है। फरारी के दौरान आंबेकर खुद भी बंगले के अंदर बने गुप्त कमरे में रहता था। बंगले में गुप्त कमरे, घुड़शाल और शानदार बगीचा है। लोगों का मानना है कि अकूत दौलत के दम पर आंबेकर फिर जेल से छूटकर आ जाएगा। इस भय से आंबेकर के सताए हुए लोग मुंह नहीं खोल रहे हैं। मंगलवार को जब उसके बंगले पर बुलडोजर चल रहा था, तब बाहर भीड़ में कई लोगों के चेहरे पर मुस्कान थी। ये ऐसे लोग थे, जिनको किसी न किसी बहाने आंबेकर ने सताया है।

सभी को शिक्षा का अधिकार (आरटीई) के अंतर्गत बुधवार से रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया तो आरंभ हुई, लेकिन सर्वर स्लो होने से अनेक पालकों को दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा. पहले दिन 700 से अधिक आवेदन जमा किए गए, लेकिन भौगोलिक नक्शा और उसके आंकड़े सिलेक्ट करने के बाद पेस्ट नहीं हो पा रहे हैं. इतना ही नहीं टाइप किए हुए नाम मराठी में कनवर्ट भी नहीं हो रहे हैं. इस गड़बड़ी की वजह से अनेक पालकों को घर का पता सही तरीके से मैपिंग नहीं हो रहा है.

आरटीई एक्शन कमेटी के अध्यक्ष शाहिद शरीफ ने बताया कि प्रक्रिया आरंभ होने से पहले ही शिक्षा विभाग को उक्त गड़बड़ियों के बारे में अवगत कराया गया था, सुधार के लिए पुणे की ओर से इशारा मामले को रफादफा कर दिया गया. आवदेन जमा करते वक्त इस तरह की गड़बड़ी होने से आवेदन लाटरी में शामिल से वंचित रह सकते हैं.

 नागपुर - कच्छी वीसा मैदान शहर के बड़े खेल मैदानों में एक है। मैदान के चारों ओर पौधे लगाए गए हैं। पौधों की सिंचाई के लिए एक नहीं, दो बोरवेल खोदे गए। पहले बोरवेल में पानी नहीं लगा। उसी से 20 फीट के अंतराल पर दूसरा बोरवेल खोदा गया। पौधों की सिंचाई के लिए मैदान के चारों ओर पाइप लाइन बिछाई गई। सूत्रों की मानें तो बोरवेल और पाइपलाइन बिछाए 8 वर्ष हो गए। लाखों रुपए खर्च किए गए, लेकिन इसका कोई उपयोग नहीं हुआ। पौधों को टैंकर से सिंचाई की जा रही है। मनपा की तिजोरी से बोरवेल और पाइप लाइन पर खर्च किया गया लाखों रुपया व्यर्थ चला गया है।

पौधों तक पानी पहुंचा ही नहीं - मैदान के चारों ओर पौधों की क्यारियों में पाइप लाइन बिछाई गई, लेकिन परिसर के नागरिकों का कहना है कि बोरवेल खोदने के बाद अब तक पाइपलाइन से पौधों की क्यारियों में पानी नहीं छोड़ा गया। सिंचाई के लिए मनपा द्वारा टैंकर का उपयोग किया जा रहा है।

स्टैंड पोस्ट के कैप भी नहीं खुले - पौधों की क्यारियों में पानी छोड़ने के लिए थोड़े-थोड़े अंतर पर स्टैंड पोस्ट लगाए गए हैं। इसमें कैप लगाए गए हैं। कैरी में पानी छोड़ने के लिए कैप खोले जाते हैं। हैरत की बात यह है कि अभी तक कैप भी वैसे ही लगे हुए हैं।

करंट का खतरा  - मैदान में लाइट के लिए इलेक्ट्रिक सप्लाई का बोर्ड लगाया गया है। बोर्ड पर मेन स्वीच खुला पड़ा है। करंट का खतरा बना हुआ है।

1. बोरवेल खोदने के बाद कभी चालू नहीं हुआ। पौधों की सिंचाई टैंकर से की जा रही है।
- उमाकांत गणात्रा, स्थानीय

 2. परिसर में भूजल स्तर काफी गहरा है। बिना जांच-पड़ताल किए बोरवेल और पाइपलाइन पर खर्च करना गलत है।
नामदेव ठाकरे, स्थानीय नागरिक

3. इलेक्ट्रिक वायर खुले पड़े हैं। यहां बूढ़े, बच्चे सभी सुबह, शाम टहलने के लिए आते हैं। उनकी जान को खतरा बना हुआ है।
जगदीश अग्रवाल, स्थानीय नागरिक

4. बोरवेल में पानी नहीं लगा, फिर भी मोटरपंप पर व्यर्थ खर्च किया गया। यह बात समझ से बाहर है।
प्रदीप शाह, स्थानीय नागरिक

नागपुर: गणेशपेठ थाना अंतर्गत उधारी के पैसे मांगने पर जान से मारने की धमकी देने और 2 लाख की धोखाधड़ी किए जाने का मामला सामने आया है. पुलिस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार आरोपी व इतवारी मस्कासाथ निवासी जगदीश मोहनदास गुरीया (52) ने एम्प्रेस मॉल में व्यवसाय करने के लिए फरियादी अब्दुल अजीज उमरभाई उर्फ कच्छी (80) चंद्रलोक बिल्डिंग सीए रोड निवासी से 3 महीने के लिए ब्याज से 2,00,000 रुपये की मांग की थी.

इसके बाद 24 अप्रैल 2018 को फरियादी ने उसे व्यवसाय करने के लिए ब्याज से पैसे दे दिये. 3 महीने की अवधि खत्म होने के बाद भी आरोपी ने पैसे नहीं लौटाए. आरोपी से संपर्क साधने के बाद उसने फरियादी को बनावटी हस्ताक्षर वाला बैंक आफ महाराष्ट्र का चेक दिया. बैंक में जमा करने के बाद चेक पर हस्ताक्षर बनावटी होने का स्पष्ट हुआ. फरियादी ने आरोपी से पैसे की मांग की, लेकिन पैसे लौटाने की बजाय आरोपी ने उसे जान से मारने की धमकी देते हुए पैसे नहीं दूंगा कहा. फरियादी की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है.

गोंदिया. शासन ने अब तक रेती घाटों की नीलामी नहीं की है. फलस्वरूप रेती का अवैध उत्खनन हो रहा है. इसके बाद रेती की अवैध ढुलाई की जाती है. अब रेती घाटों की नीलामी प्रक्रिया के लिए संबंधित राजस्व विभाग ने गतिविधियां शुरू कर दी है. तहसील स्तरीय तकनीकी समिति ने वैसी रिपोर्ट जिला स्तरीय सनियंत्रण समिति के पास भेजा है. जिसमें जिले के 65 रेती घाटों में से 27 रेती घाट योग्य दर्ज किए गए है, इसमें जनसुनवाई व पर्यावरण मान्यता प्राप्त होने के बाद रेती घाटो की नीलामी प्रक्रिया पूर्ण होगी. जिले में शासकीय व निजी निर्माण कार्य बड़े पैमाने पर शुरू है. इसमें भी तिरोड़ा, तुमसर, गोंदिया, गोरेगांव, देवरी, आमगांव इन राज्य मार्गों सहित शासकीय बांधकाम हो रहे हैं. प्रधानमंत्री घरकुल योजना अंतर्गत व निजी निर्माण कार्य के काम शुरू है. बावजूद शासन स्तर पर जिले के रेती घाट शुरू नहीं किए गए.

हर दिन सैकड़ों ब्रास रेती का उत्खनन - जिससे रेती का व्यवसाय करने वालों की बन आई है. जिले में हर दिन सैकड़ों ब्रास रेती का अवैध उत्खनन कर रेती की तस्करी की जा रही है. निर्धारित किए गए रेती घाटों के अलावा अन्य स्थानों पर भी कई घाट तैयार हुए है. पर्यावरण के नियमों का पालन किए बिना किसी भी स्थान से रेती का उत्खनन किया जा रहा है. इसके बाद अधिक दर पर रेती की बिक्री की जाती है. जिले में गोंदिया, तिरोड़ा, सड़क अर्जुनी, आमगांव, सालेकसा, देवरी व अर्जुनी मोरगांव इन तहसीलों में रेती के घाट है. तहसीलों की तहसील तकनीकी समिति के रिपोर्ट अनुसार तिरोड़ा तहसील के 9 रेती घाट नीलामी के योग्य है. वहीं गोंदिया 9, सड़क अर्जुनी 3, आमगांव 2, सालेकसा 1, देवरी 1 तथा अर्जुनी मोरगांव तहसील में 2 रेती घाट इस तरह कुल 27 रेती घाटों को नीलामी के लिए योग्य ठहराए जाने की रिपोर्ट समिति ने दिया है.

 

मनपा के तमाम विभागों को चुस्त-दुरुस्त करने में मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे की कार्यप्रणाली के असर का ही परिणाम रहा कि अब कई विभागों के सलाहकार समिति के सभापति भी बैठकें लेकर कार्रवाई करने में सक्रिय हो गए. इसी तरह बुधवार को परिवहन सभापति बाल्या बोरकर ने भी बसों में यात्रियों को मिलनेवाली सेवा और सुविधा का जायजा लिया. उन्होंने बताया कि शहर की जनता को सर्वसुविधायुक्त सेवा देने की ही मंशा नहीं है बल्कि कर्मचारियों में भी अनुशासन लाने का प्रयास किया जा रहा है.

इसी दिशा में परिवहन सेवा में लापरवाही बरतने वाले 22 कंडक्टरों को नौकरी से बर्खास्त किए जाने की जानकारी भी उन्होंने दी. उन्होंने कहा कि वाट्सअप ग्रुप में कुछ कंडक्टरों ने शामिल होकर रैकेट शुरू किया था, जिसमें यात्रियों से पैसे तो लिए जाते थे, लेकिन टिकट नहीं दिया जाता था. यहां तक कि चेकर्स पर नजर रखने के लिए अन्य लोगों को भी लगा दिया था. इस रैकेट में उक्त 22 कंडक्टरों के शामिल होने का मामला उजागर होते ही बर्खास्तगी की कार्रवाई की गई.

81 कंडक्टरों की आईडी ब्लाक - बाल्या बोरकर ने बताया कि न केवल 22 कंडक्टरों को बर्खास्त किया गया, बल्कि अन्य 81 कंडक्टरों को बिना टिकट यात्रा कराने के लिए दोषी पाए जाते ही उनकी आईडी ब्लाक कर दी गई. अब आईडी ब्लाक किए जाने से उन्हें काम पर नहीं लिया जा सकता है. सर्वप्रथम नियमों के अनुसार उनसे जुर्माना वसूला जाएगा, जिसके बाद चेतावनी देकर आईडी तो खोली जाएगी लेकिन पुन: इस मामले में दोषी पाए जाने पर उन पर भी बर्खास्तगी की कार्रवाई होने से इंकार नहीं किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि बसों में औचक निरीक्षण का सिलसिला लगातार जारी रहेगा. डिम्ट्स कम्पनी के चेकर्स और मनपा के चेकर्स मिलकर कार्रवाई को अंजाम देंगे.

टिकट लेकर ही करें यात्रा - बुधवार को परिवहन सभापति बोरकर ने विभिन्न बस स्थानकों पर जाकर यात्रियों से संवाद किया, जिसमें उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा भरे जा रहे कर के माध्यम से ही मनपा की ओर से इस परिवहन सेवा को उपलब्ध कराया जा रहा है. अत: सेवाओं में और विस्तार करने के लिए यात्रा करते समय टिकट लेकर ही यात्रा करनी चाहिए जिससे मनपा को आय प्राप्त होगी. साथ ही होनेवाली आय से सेवाओं का विस्तार होगा. उल्लेखनीय है कि आयुक्त ने पदभार स्वीकार करते ही लोगों से सीधे जनसंवाद करने का सिलसिला शुरू किया. अब सभापति भी इस तरह की कार्यप्रणाली को अपनाते दिखाई दे रहे हैं.

डॉक्टर आफ साइंस (डी.एससी.) पदवी के लिए भले ही 14 वर्षों पूर्व राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय में शोध प्रबंध (थेसिस) जमा किया गया हो, लेकिन अब तक विवि की ओर से कोई भी निर्णय नहीं लिए जाने पर आपत्ति जताते हुए डा. उज्ज्वल लांजेवार की ओर से हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया, जिस पर सुनवाई के बाद न्यायाधीश रवि देशपांडे और न्यायाधीश अमित बोरकर ने विश्वविद्यालय को नोटिस जारी कर 8 सप्ताह में जवाब दायर करने के आदेश जारी किए. याचिकाकर्ता की ओर से अधि. भानुदास कुलकर्णी और अधि. पल्लवी मुधोलकर ने पैरवी की.

नोटिफिकेशन के अनुसार निर्णय जरूरी                                                                                                                                                                                                                    
याचिकाकर्ता की ओर से पैरवी कर रहे अधि. कुलकर्णी ने कहा कि याचिकाकर्ता एम.एससी. और पीएच.डी. की डिग्री लेने के बाद डी.एससी. की डिग्री के लिए पात्र है, जिसमें याचिकाकर्ता ने डी.एससी. की डिग्री के लिए 30 दिसंबर 2006 को नागपुर विश्वविद्यालय में शोध प्रबंध प्रस्तुत किया था. शोध प्रबंध को लेकर जारी नोटिफिकेशन की धारा 111 के अनुसार इस संदर्भ में निर्णय लेना बंधनकारक है. इसके बावजूद अब तक विवि की ओर से कोई भी निर्णय नहीं लिया गया. इस संदर्भ में कई बार विश्वविद्यालय प्रबंधन तथा संबंधित विभाग से सम्पर्क भी किया गया. लेकिन सकारात्मक जवाब नहीं मिलने से मजबूरन हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा है. सुनवाई के बाद अदालत ने उक्त आदेश जारी किया.

नए आयुक्त के रूप में पदभार स्वीकार करने के बाद अलग-अलग विभागों की जानकारी लेने के लिए हुई बैठकों के दौर में मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे की ओर से परिवहन विभाग का भी लेखाजोखा लिया गया था, जिसमें कंडक्टरों का योजनाबद्ध रैकेट चलने का खुलासा किए जाने के बाद सम्पूर्ण मामले का रिकार्ड तैयार करने की हिदायत विभाग को दी गई. विशेषत: तत्कालीन परिवहन सभापति बंटी कुकड़े की ओर से इस रैकेट का पर्दाफाश कर कई कंडक्टरों पर कार्रवाई भी की गई थी. किंतु बाद में स्थिति ज्यों की त्यों हो गई.

इससे परिवहन विभाग को नुकसान उठाना पड़ रहा है. कुछ कंडक्टर तो ईमानदारी से कार्य कर रहे हैं, किंतु कुछ ने सिंडिकेट तैयार किया है, जिसमें मोबाइल पर ग्रुप तैयार कर औचक निरीक्षण करने वाली टीम की जानकारी एक दूसरे तक पहुंचाई जाती है. जांच का दस्ता किसी मार्ग पर होने पर उस मार्ग पर इन कंडक्टरों द्वारा सभी यात्रियों को टिकट दिया जाता है. लेकिन जिन मार्गों पर टीम न हो, तो उन मार्गों की बसों को बिना टिकट संचालन किया जाता है, जिसके लिए इन कंडक्टरों द्वारा कुछ युवकों को चेकिंग स्टाफ पर निगरानी के लिए भी लगाया गया है.

6 करोड़ का प्रतिमाह नुकसान - परिवहन विभाग की ओर से बताया गया कि जनता को परिवहन सेवाएं मुहैया कराने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं. प्रशासन चौकस रहकर आय बढ़ाने के उपाय कर रहा है, इसके बावजूद इस तरह के रैकेट के कारण मनपा को प्रतिमाह 6 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ रहा है. नुकसान को कम करने के लिए परिवहन विभाग और प्रोग्राम मैनेजर मेसर्स डिम्ट्स कम्पनी की ओर से बसों की जांच करने टीमों को तैयार किया गया. किंतु रैकेट वाले कंडक्टर न केवल टीमों के सदस्यों को सहयोग करने से इंकार करते हैं, बल्कि कई तरह की घटनाओं को भी अंजाम दिया जा रहा है.

पुलिस से मांगा सहयोग - परिवहन विभाग की ओर से इन कंडक्टरों से निपटने के लिए अब पुलिस का सहयोग भी मांगा जा रहा है. पुलिस आयुक्त से लेकर तमाम अधिकारियों को भेजे गए पत्र में बताया गया कि बस कंडक्टर जांच के दौरान सहयोग तो नहीं करते, बल्कि टीम के साथ हाथापायी पर उतर आते हैं. यहां तक कि शीघ्र ही मोबाइल से सहयोगियों को घटनास्थल पर बुलाकर मारपीट तक की जा रही है. घटना के बाद पुलिस थाना में रिपोर्ट भी की जाती है. किंतु पुलिस की ओर से मामले को एनसी करार देकर छोड़ दिया जाता है. मनपा भी सरकारी एजेन्सी होने के नाते ऐसे मामलों में थाने को कड़े निर्देश देकर सहयोग करने की मांग पुलिस से की गई. सूत्रों के अनुसार विभाग के पास रैकेट में शामिल कंडक्टरों द्वारा वाट्सअप ग्रुप पर किए गए संवाद के पुख्ता सबूत प्राप्त हुए हैं, जिनके आधार पर कई कंडक्टरों पर कड़ी कार्रवाई होने की संभावना जताई गई.

 

नागपुर, तीन फरवरी (भाषा) महाराष्ट्र के नागपुर शहर में तीन लोगों को पिछले साल दिसंबर में एक व्यक्ति की कथित तौर पर हत्या करने और अपराध छुपाने के लिए शव को दफनाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि अजय देवगन अभिनीत 2015 की फिल्म ‘‘दृश्यम” से प्रेरित आरोपियों ने यहां कापसी इलाके के एक ढाबे के पिछले हिस्से में पंकज दिलीप गिरामकर के शव को उसकी मोटरसाइकिल के साथ दफना दिया था। गिरामकर हल्दीराम कंपनी में बतौर इलेक्ट्रिशियन काम करता था। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) नीलेश भारने ने रविवार को यहां संवाददाताओं को बताया कि मुख्य आरोपी ढाबे के मालिक अमरसिंह उर्फ लालू जोगेंद्रसिंह ठाकुर (24) का गिरामकर की पत्नी के साथ कथित तौर पर प्रेम संबंध था। ठाकुर से अपनी पत्नी को दूर रखने के लिए गिरामकर पड़ोस के वर्धा जिले में रहने चला गया था। वह 28 दिसंबर को ढाबे पर पहुंचा और आरोपी से प्रेम संबंध खत्म करने को कहा। इसके चलते दोनों के बीच झगड़ा हो गया और ठाकुर ने हथौड़े से गिरामकर के सिर पर वार कर उसकी हत्या कर दी। अधिकारी ने बताया कि ठाकुर ने रसोइये और अन्य सहयोगी की मदद से 10 फुट का एक गड्ढा खुदवाकर गिरामकर के शव को दफना दिया था। पुलिस ने ठाकुर, उसके रसोइये मनोज उर्फ रामप्रवेश तिवारी (37) और अन्य सहयोगी तुषार राकेश डोंगरे (28) के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 302 , 201 और 34 के तहत मामला दर्ज किया है।

तरोडी भागात एमएच-३१-सीबी-७९१० या क्रमांकाच्या मालवाहू ट्रकने मोटरसायकलला (एमएच-४०-एजे-८५८०) धडक दिल्याने युवक ठार तर अन्य दोघे जखमी झालेत. ही घटना रविवारी सकाळी १० वाजताच्या सुमारास घडली. दिनेश मुरलीधर मारबते (वय २७,रा. खेडी परसोडी), असे मृताचे, तर सागर चेतराम डुंमरे व विलास रघुनाथ गोंडाणे (वय २५, दोन्ही रा. खेडी परसोडी, ता. कामठी), अशी जखमींची नावे आहेत. तिघेही ट्रिपलसिट मोटरसायकलने जात होते. मालवाहू वाहनाने मोटरसायकलला धडक दिली. दिनेशचा मृत्यू झाला तर अन्य दोघे जखमी झाले. जखमींवर भवानी हॉस्पिटलमध्ये उपचार सुरू आहेत. याप्रकरणी वाठोडा पोलिसांनी मालवाहू चालकाविरुद्ध प्राणांतिक अपघाताचा गुन्हा दाखल केला आहे.

विनाहेल्मेट वाहन चालविण्याच्या कारवाईला विरोध करीत २५ वर्षीय तरुणीने वाहतूक शाखेच्या महिला पोलिसावर हल्ला केला. यात महिला पोलिसाच्या हाताला जखम झाली. ही घटना रविवारी सकाळी ११ वाजताच्या सुमारास लॉ कॉलेज चौकात घडली. याप्रकरणी अंबाझरी पोलिसांनी तरुणीविरुद्ध शासकीय कामात अडथळा निर्माण करून धमकी दिल्याचा गुन्हा दाखल केला आहे. प्रिया हिवाज (वय २५,रा. पद्मावतीनगर, वर्धा),असे तरुणीचे तर संगीता चंदनजी बोरकर (वय ३२,रा. रघुपतीनगर),असे महिला पोलिसाचे नाव आहे.

संगीता या सीताबर्डी वाहतूक शाखेत कार्यरत आहेत. रविवारी सकाळी त्या लॉ कॉलेज चौकात कर्तव्य बजावित होत्या. यावेळी प्रिया ही एमएच-३२-यू-१४५१ या क्रमांकाच्या मोपेडने जात होती. तिने हेल्मेट घातले नव्हते. संगीता यांनी तिला थांबविले. तिचा वाहनपरवाना घेतला. तिला ट्राफिक बूथमध्ये आणले. यावेळी प्रियाने संगीता यांच्यावर हल्ला केला. शिवीगाळ करीत त्यांना मारहाण केली व मोपेड घेऊन पसार झाली. प्रिया ही एका अकादमीमध्ये काम करीत असल्याची माहिती आहे.

नागपूर : गुन्हेशाखेच्या युनिट चारने मनीषनगरमधील जयंतीनगरी परिसरातील मून युनिसेक्स सलून अॅण्ड स्पा सेंटरमध्ये छापा टाकून देहव्यापार उघडकीस आणला. पोलिसांनी स्पा सेंटरची संचालिका मनीषा तुकाराम कडवे ऊर्फ जास्मीन अविराज क्रेस्टी (वय ३०,रा. त्रिमूर्ती चौक,उमरेड) व दलाल अरविंद मोहनलाल मसी (वय ३०,रा. वैभवनगर, वाडी) या दोघांना अटक केली. सेंटरमधून दोन तरुणींची सुटका केली.

मनीषा ही स्पा सेंटरच्या नावे कुंटनखाना चालवित असल्याची माहिती गुन्हेशाखा पोलिसांना मिळाली. उपायुक्त गजानन राजमाने यांच्या मार्गदर्शनाखाली वरिष्ठ पोलिस निरीक्षक अशोक मेश्राम, सहाय्यक उपनिरीक्षक किरण चौगले, उपनिरीक्षक पुरुषोत्तम मोहेकर, नागोराव इंगळे, रमेश उमाठे, देवेंद्र चव्हाण, सुधाकर धंदर, नितीन आकोते, सचिन तुमसरे व आशिष क्षीरसागर यांनी सापळा रचून सेंटरमध्ये छापा टाकला. पोलिसांनी दोघांना अटक करून दोन पीडित तरुणींची सुटका केली. पोलिसांनी दोन मोबाइल व रोख जप्त केली. दोघांविरुद्ध बेलतरोडी पोलिस स्टेशनमध्ये अनैतिक व्यापार प्रतिबंध अधिनियमानुसार गुन्हा दाखल करण्यात आला आहे.

शनिवारी पहाटे ३ वाजता सुरू झालेल्या भाकरी रविवारी दुपारी ४ वाजेपर्यंत सुरू होत्या. सलग २५ तास एखाद्या महाप्रसादासाठी भाकरी तयार होत असल्याचा हा विक्रम नागपुरातील रेशीमबाग मैदानावर घडला. निमित्त होते, संत श्री गजाजन महाराज यांना झुणका भाकरीचा महानैवेद्य अर्पण सोहळ्याचे.

माउली बहउद्देशीय सेवा मंडळाने हा महानैवेद्य सोहळा आयोजित केला होता. त्यासाठी गेल्या महिनाभरापासून तयारी सुरू होती. मंडळाचे श्रीकांत भुयारकर यांनी दिलेल्या माहितीनुसार, एक लाखावर भाविकांनी रात्री ९ वाजेपर्यंत या महाप्रसादाचा लाभ घेतला. आरतीनंतर दुपारी १२.३० वाजता झुणका, भाकर, मसालेभात, शिरा, कढी अशा महानैवेद्याला प्रारंभ झाला. रात्री ९ वाजले तरी भाविक येतच होते. एकाचवेळी साडेसहा हजार लोक प्रसाद घ्यायला बसू शकतील, अशी टेबल-बेंचेसची व्यवस्था केली होती. ज्यांना घाई आहे अशा भाविकांसाठी बुफे ठेवण्यात आला होता. रात्री ९ वाजता या सोहळ्याची सांगता झाली.

संपूर्ण विदर्भातून आलेल्या पाच हजार सेवाधाऱ्यांनी ही व्यवस्था सांभाळली होती. तीस मोठ्या चुली, एका चुलीवर आठ महिला, याप्रमाणे दोनशे चाळीस महिला पहाटेपासून महानैवेद्य करीत होत्या. मागीलवर्षी मंडळाने शेगावला २१ हजार मोदक अर्पण करण्याचे ठरविले होते. त्यासाठी भाविकांना आवाहन केले आणि तीन दिवसात १ लाख २५ हजार मोदक मंडळाकडे गोळा झाले. याशिवाय, ४०० किलो पेढ्यांचे मोदक होते. हा सर्व प्रसाद महिलांनी घरोघरी करून पाठिवला होता. त्यामुळेच आम्ही यंदा महानैवेद्य अर्पण सोहळा घेण्याचे ठरविले, असे भुयारकर यांनी सांगितले.

एम्स में 24 मॉड्यूलर ओटी, आईसीयू, इमेजिंग फैसीलिटी (एमआरआई, सीटी स्कैन, लाइनर एक्सेलेटर) के साथ अगले माह से 300 बेड की आईपीडी सेवा शुरू हो जाएगी। विदर्भ में उच्चस्तरीय स्वास्थ्य की सुविधा शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री स्वस्थ्य सुरक्षा योजना के तहत शुरू किए गए एम्स का प्रथम चरण पूूर्ण होने के करीब है। प्रथम चरण में ओपीडी, आयुष कॉम्पेक्स और धरमशाला बनकर तैयार है। एम्स की निदेशक मेजर जेनरल डॉ विभा दत्ता ने बताया कि 2 फरवरी को संस्थान के द्वितीय स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी उपस्थित रहेंगे।

दत्ता ने बताया कि सुपर संस्थान में इस वर्ष के अंत तक गैस्ट्राएंट्रोलॉजी, कार्डियोलॉजी, न्यूरोलॉजी, न्यूरो सर्जरी, आंकोलॉजी जैसी स्पेशलिटी सेवा शुरू हो जाएगी। फिलहाल लेक्चर हॉल, लेब्रोटरी, लाइब्रेरी, आवासीय भवन, होस्टल की सुविधा शुरू हो गई है। फिलहाल 32520 वर्ग मीटर में विस्तृत ओपीडी में जेनरल मेडीसिन, जेनरल सर्जरी, ऑब्सेट्रिक एंड गाइनकालजी, पीडियाट्रिक्स, आफ्थल्मॉलजी, ईएनटी, आर्थोपेडिक्स, डर्मेटोलॉजी एंड साइकेट्री सेवा जारी है। परिसर में किफायती मूल्य पर फार्मेसी सेवा भी उपलब्ध है। सितंबर 2019 से जारी ओपीडी सेवा में प्रतिदिन चार सौ से पांच सौ मरीज स्वास्थ्य सेवा ले रहे हैं। 

जल्द ही मलेशिया व दुबई के बाजारों में इस बार विदर्भ के संतरे बेचे जाएंगे। हाल ही में अमरावती और नागपुर जिले की कुछ जगहों पर खरीदार इसे देख परखकर गए हैं। कृषी विभाग के अनुसार इसके लिए उन्होंने सकारात्मक रवैया दिखाया है। एक्सपोर्टर और किसान वर्ग का तालमेल बनने के बाद यहां के संतरे समुद्री मार्ग से विदेश भेजे जा सकते हैं। विदर्भ में कुल सवा लाख हेक्टर पर प्रति वर्ष संतरे का उत्पादन होता है। जिसमें अंबिया व मृग बहार के संतरे रहते हैं। हर साल बडे पैमाने उत्पादन के कारण इसे भारत के हर राज्य में अच्छी मांग है। 

संतरे को लेकर कोई निर्यात नीति भी तय नहीं थी। जिससे किसानों को संतरे का दर्जा बढाने के लिए बढ़ावा नहीं मिल रहा है। हालांकि वर्ष 2019 के नवंबर माह में संतरे के लेकर राज्य सरकार ने एक नीति बनाई है। जिसके बाद संतरे का उत्पादन बढ़ाने गतिविधियां तेज हो गई हैं। जिलाधिकारी के अंतर्गत विशेष कमेठी बनाकर कुछ समय पहले से कृषी विभाग के वसंतराव नाइक राज्य कृषी विस्तार व्यवस्थापन प्रशिक्षण केन्द्र के माध्यम से प्रयास किए जा रहे हैं। जिससे अब विदर्भ के संतरे भी ए ग्रेड दर्जे पर पहुंच गए हैं।

इस बार मृग बहार के संतरों का उत्पादन काफी अच्छा है। जिसके चलते दुबई व मलेशिया के कुछ खरीदार यहां आकर अमरावती व नागपुर जिले के वरूड, काटोल व सालबर्डी आदि परिसर से संतरों को देखकर गए हैं। विदेश में संतरा लेकर जाने के लिए भी उन्होंने सकारात्मक रवैयां अपनाया है। यहां ज्यादा मात्रा में संतरे का उत्पादन होता है। अभी तक आम, अनार जैसे फलों की बिक्री के लिए सिट्रसनेट एप की सुविधा उपलब्ध थी। लेकिन अब संतरे की बिक्री के लिए भी किसानों के लिए एप बनाया गया है। जहां किसान अपने संतरों बारे में लोगों को जानकारी उपलब्ध करा सकते हैं।

अप्पर संचालक वनामती डॉ. अर्चना कडू के मुताबिक विदर्भ में संतरे का उत्पादन बड़े पैमाने पर है। कई किसान प्रशिक्षण के अभाव में पीछे रह जाते हैं। ऐसे में उन्हें प्रशिक्षण दिया जा सकता है। मलेशिया और दुबई से खरीदारों ने विजिट किया है। जिनका अच्छा खासा लाभ यहां के किसानो को मिलेगा।

अंबाझरी ऑर्डनेंस फैक्टरी से निकलने वाले स्क्रैप की हेराफेरी के मामले में गठित समिति की रिपोर्ट अब तक नहीं आई है, लेकिन मामले में अधिकारियों पर कार्रवाई तय हो गई है। रक्षा विभाग का मामला होने के कारण वाड़ी पुलिस एक्शन लेने से कतरा रही है और अंबाझरी ऑर्डनेंस फैक्टरी प्रशासन गठित समिति की रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है। चोरी जा रहे स्क्रैप की कीमत करोड़ों में होने की संभावना जताई जा रही है। फैक्टरी से एक साथ 35 टन स्क्रैप चोरी छुपे निकलने के मामले से हड़कंप मचा हुआ है। बता दें कि, ऑर्डनेंस फैक्टरी में आने-जाने के लिए आम व्यक्ति को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। अंदर और बाहर जाने की एंट्री की जाती है। एंट्री के बाद ही अंदर या बाहर जाने की अनुमति मिलती है। पास बनवाने के बाद उसकी भी जांच की जाती है, ऐसे में फैक्टरी से इतने बड़े पैमाने पर स्क्रैप बाहर जाना कई गंभीर बातों को जन्म दे रहा है।

ऐसा है जांच का पहरा - एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि, पासिंग एरिया में अचानक अधिकारियों को बुलाकर ड्यूटी लगाई जाती है। पासिंग एरिया में एक-दो अधिकारी नहीं, बल्कि 5 से 7 अधिकारियों की जिम्मेदारी रहती है, ऐसे में यदि यह घटनाक्रम सही है, तो बड़ी साठ-गांठ का विषय है।

नहीं हुआ मामला दर्ज - किसी भी छोटे से छोटे मामले में पुलिस सबसे पहले प्राथमिकी दर्ज करती है, लेकिन रक्षा विभाग की अंबाझरी ऑर्डनेंस फैक्टरी का मामला होने के कारण पुलिस शांत बनी हुई है। वही, ऑर्डनेंस फैक्टरी प्रशासन ने भी अब तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं करवाई है, जबकि यह मामला करोड़ों का है।

सकते में हैं पुलिस अधिकारी - करोड़ों का स्क्रैप 23 जनवरी को गुप्त सूचना पर गिट्टीखदान पुलिस ने पकड़ा था। बाद में यह स्कैप पुलिस ने अंबाझरी ऑर्डनेंस फैक्टरी, वाड़ी पुलिस थाना क्षेत्र में होने के कारण वाड़ी पुलिस को सौंप दिया था। रक्षा विभाग का मामला होने के कारण पुलिस अधिकारी भी सकते में हैं। वह भी ऑर्डनेंस फैक्टरी प्रशासन द्वारा मामले में प्राथमिकी दर्ज कराने का इंतजार कर रहे हैं। साथ ही मामले में पूछताछ करने से भी कतरा रहे हैं। ऐसे में मामले में कब प्राथमिकी दर्ज होगी, ऐसी स्थिति बहरहाल दिखाई नहीं दे रही है।

नागपुर: अपने तय समय से देरी से आए मानसून ने इस बार देर तक बरसकर अपना कोटा पूरा तो  किया,  लेकिन मानसून के जाने के बाद  भी कभी भी बारिश  हो जाने से लोग खासे परेशान हो रहे हैं। ठंड के दिनों में भी जमकर बरसात होने से ठंड के सारे रिकार्ड तोड़ डाले। अभी कुछ दिनों से ठंड से थोड़ी राहत मिली ही थी कि मौसम विभाग ने फिर बारिश के संकेत दे दिए हैं।  मौसम में शुक्रवार को भले ही खास बदलाव देखने को नहीं मिले, लेकिन आसमान में बादलों का जमावड़ा रह सकता है। एक-दो दिन बाद हल्की बारिश होने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है। इससे एक बार फिर मौसम करवट बदल सकता है। शुक्रवार को भी गुरुवार जैसा मौसम रहने की संभावना है।

बढ़ सकती है सर्दी - गुुरुवार को अधिकतम तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की कमी के कारण अधिकतम तापमान 28.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 1.9 डिग्री सेल्सियस कम है। वहीं न्यूनतम तापमान में 2.7 डिग्री सेल्सियस की गिरावट के कारण न्यूनतम तापमान 12.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 1.9 डिग्री सेल्सियस कम है। गुरुवार के बाद शुक्रवार को हल्के बादलों का जमावड़ा रह सकता है। 1 फरवरी से हल्की बारिश होने की संभावना जताई जा रही है, जो अगले दो-तीन दिन तक रह सकती है। बारिश के कारण एक बार फिर मौसम करवट बदल सकता है और सर्दी बढ़ सकती है। फरवरी में भी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है।

आम तौर पर हम सभी कभी भी शहर के बर्डी, व्हेरायटी या महल चैक पर किसी का इंतजार करते खडे रहे तो, अपने पास गए आटो वाला आता है, और पुछता है, की बैठो कहा जाना है। इम सभी कही नही जाना है, कहेकर उसके सवाल का जवब देते है। ये बात आम हो गई मगर गुरुवार को व्हेरायटी चैक पर ये सवाल पुछना शायद सभी आटो वालो को मंहेगा पड सकता है। दरसल बात ये है की, मनपा के नवनियुक्त आयुक्त तुकाराम मुंढे महात्मा गांधी के पुण्यतिथी कार्यक्रम मे हिस्सा लेने व्हेरायटी चैक गये थे। कार्यक्रम खतम होने के बाद वे गाडी की और जाने लगे तभी एक आॅटो चालक ने तुकाराम मुंढे से पुछा चलते क्या ? कहाॅ जाना है ? ये सवाल सुनते ही मुंढे घुस्सा हुए और ट्राफिक उपायुक्त चिन्मय पंडीत को आदेश दिए की शहर के सभी आॅटो चालको का बंदोबस्त करे, साथ ही आॅटो स्टॅड का मनपा के साथ संयुक्त सर्वेक्षण करे, मनपा आयुक्त तुकाराम मुंढे ने अधिकारीयों के साथ ही अब आॅटो चालको को भी बडा झटका दिया है।

कलमेश्वर-नागपुर रेलमार्ग पर रेलवे फाटक क्र.-290 के रेलवे ट्रैक पर  दहेगांव स्थित गुरुनानक इंजीनियरिंग कॉलेज के तृतीय वर्ष के छात्र का रेल से कटा शव मिलने से परिसर में हड़कंप मच गया। छात्र का नाम उद्देश सुधाकर वलके (22), सिंदी रेलवे, तहसील सेलू, जिला वर्धा निवासी है। 29 जनवरी को बेटा गुम होने की शिकायत कलमेश्वर पुलिस स्टेशन में उसके पिता सुधाकर वलके ने की थी, लेकिन 30 जनवरी को सुबह 5 बजे रेल से कटी लाश दिखने पर इसकी सूचना स्टेशन प्रबंधक को दी गई। स्टेशन प्रबंधक ने पुलिस स्टेशन में फरियादी फूलचंद्र विक्रम मेश्राम को लाश पहले दिखाई देेने से वे फरियादी बने। पुलिस ने घटनास्थल पर जाकर पंचनामा कर शव को जांच के लिए ग्रामीण चिकित्सालय में भेजा। जहां पोस्टमार्टम के बाद शव रिश्तेदारों को सौंप दिया गया। घटना ट्रेन से गिरकर हुई या उद्देश ने आत्महत्या की,  यह स्पषट नहीं हुआ है। पुलिस निरीक्षक मारुति मुलुक के मार्गदर्शन में हेड कांस्टेबल चंद्रशेखर सावध आगे की जांच कर रहे हैं। कलमेश्वर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

सड़क हादसे में सुरक्षा  गार्ड की मौत - दोपहिया वाहन पर अचानक चक्कर आने से गिरे एक सुरक्षा गार्ड की मौत हो गई। मृतक का नाम मनोहरदास ब्रह्मदास डोगरा (65), कोराडी निवासी है। घटना बुधवार को हुई। पुलिस सूत्रों के अनुसार मनोहरदास डोगरा रात को हमेशा की तरह ड्यूटी पर गए थे। वह चौकीदारी का काम करते थे। रात भर ड्यूटी के बाद  सुबह करीब 6 बजे मनोहरदास अपनी दोपहिया पर घर जा रहे थे। इसी दौरान जरीपटका क्षेत्र में आउटर रिंग रोड पर उन्हें अचानक चक्कर आया और वह दोपहिया वाहन से नीचे गिरने पर गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें उपचार के लिए मेयो अस्पताल ले जाया गया, जहां प्राथमिक जांच के दौरान डॉक्टरों ने मनोहरदास को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलने पर जरीपटका पुलिस ने आकस्मिक मृत्यु का मामला दर्ज कर लिया है। 

नागपुर। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के लिए पूर्व नागपुर में प्रस्तावित 52 किमी लंबी सड़क  निर्माण के लिए 139 पेड़ों के काटे जाने के प्रस्ताव के खिलाफ शहर के पर्यावरणविद आपत्ति दर्ज करा चुके हैं।   स्मार्ट सिटी के डिप्टी सीईओ महेश माेरोने, स्मार्ट सिटी के पर्यावरण प्रमुख देवेंद्र महाजन के साथ ग्रीन विजिल के कौस्तव चटर्जी व अन्य कार्यकर्ता प्रस्तावित सड़क निर्माण स्थल पर जा कर पेड़ों की स्थिति की जांच व बचाने के विकल्प पर विचार-विमर्श किए। उसके बाद कुछ जगहों पर सड़क की चौड़ाई 18 से घटाकर 15 फीट कर पेड़ों को बचाने का निर्णय लिया गया। महेश माेरोने ने कहा कि इस निर्णय से कम से कम 40 पेड़ों को बचाना संभव होगा। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी के तहत विकास सबसे पहले संस्टेनेबल और इको-फ्रेंडली होना जरूरी है। 

139 पेड़ काटे जाने थे - उल्लेखनीय है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत एनएसएससीडीसीएल ने पूर्व नागपुर में 52 किमी लंबी सड़क को चौड़ा करने के लिए 139 पेड़ों के काटे जाने से संबंधित नोटिस के सामने आने के बाद शहर के पर्यावरण प्रेमियों ने इसके खिलाफ मत व्यक्त किया था। सड़क की चौड़ाई पारडी, पूनापुर, भरतवाड़ा और भांडेवाड़ी के इलाके में किया जाना है। साइट पर जाकर जायजा करने वाली टीम में सुरभि जायसवाल और मेहुल शामिल थे। 

कम होगी सड़क की चौड़ाई - सड़क की चौड़ाई को 18 की जगह अगर 15 फीट रखा जाए, तो सुदरू फैक्टरी वाली सड़क पर 68 में से कम से कम 25 पेड़ और भंडारा नेशनल हाईवे से पूनापुर वाली सड़क पर 29 में से 10 से 12 पेड़ बचाए जा सकते हैं। इसी तरह सड़क के एकदम किनारे स्थित पेड़ और ऐसे फुटपाथ जिसके नीचे यूटिलिटी यानी सीवेज पाइपलाइन न हो, पर उगे पेड़ों को बचाया जा सकता है।  -कौस्तव चटर्जी, संस्थापक ग्रीन विजिल

ध्यान रखा जाएगा - स्मार्ट सिटी के प्राेजेक्ट में हमेशा पेड़ों को बचाने का प्रयास किया जाता है। सड़क की चौड़ाई बढ़ाने की प्रस्तावित योजना में भी इसका ध्यान रखा जाएगा। इस बारे में फिलहाल अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है, लेकिन निर्णय सकारात्मक हो यह प्रयास रहेगा। -देवेंद्र महाजन, स्मार्ट सिटी पर्यावरण प्रमुख

जरीपटक्यातील सुगतनगर भागात सुरू असलेल्या देहव्यापार अड्ड्यावर छापा टाकून पोलिसांनी दोन वृद्ध महिलांना अटक करून पीडित महिलेची सुटका केली. विणू देवराव धमगाये (वय ६३, रा.सुगतनगर) व शारदा दयानंद सरोदे (वय ६५, रा. इंदोरा मठ मोहल्ला) ही अटकेतील महिलांची नावे आहेत. दोघीही पीडित महिलेकडून देहव्यापार करवून घेत असल्याची माहिती पोलिस उपायुक्त निलोत्पल यांना मिळाली. त्यांनी विशेष पथकाला छापा टाकण्याचे आदेश दिले. निलोत्पल यांच्या मार्गदर्शनाखाली विशेष पथकाचे सहाय्यक निरीक्षक प्रशांत अन्नछत्रे, शिपाई विनोद सोनटक्के, मृदुल नगरे व जरीपटका पोलिस स्टेशनचे वरिष्ठ पोलिस निरीक्षक खुशाल तिजारे, महिला पोलिस शाइन खान, वैशाली कैकाडे यांनी सुगतनगरमध्ये छापा टाकला. पोलिसांनी पीडित महिलेची सुटका करून दोघींना अटक केली. दोघींविरुद्ध जरीपटका पोलिस स्टेशनमध्ये अनैतिक व्यापार प्रतिबंध अधिनियमानुसार गुन्हा दाखल करण्यात आला आहे.

नागपुर. बुधवार को दिनभर जहां मनपा आयुक्त के जनता दरबार को लेकर मनपा गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म रहा, वहीं शाम होते-होते आयुक्त द्वारा विभाग प्रमुखों को जारी निर्देशों से उनकी कार्यप्रणाली भी देखने को मिल गई. यहां तक कि दोपहर बाद अचानक वित्त विभाग का निरीक्षण करने के बाद 4 कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी होने की भनक लगते ही तमाम कर्मचारियों के पैरों तले जमीन खिसक गई.

उनके इस झटके का आलम यह रहा कि प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी अपने-अपने विभागों में मुस्तैदी से इस आशंका से डटे रहे कि न जाने कब आयुक्त द्वारा दौरा हो जाए. सूत्रों के अनुसार दोपहर 3 बजे के करीब आयुक्त तुकाराम मुंढे ने वित्त विभाग का औचक निरीक्षण किया. जहां वित्त विभाग का अधीक्षक समिति को भेजे जाने तथा उनके अधीनस्थ अधिकारी सहायक अधीक्षक द्वारा मुखिया का काम किए जाने का खुलासा होते ही इस संदर्भ में काफी नाराजगी जताई.

आडिट के लंबित कामों पर फटकार
वित्त विभाग के ज्येष्ठ श्रेणी लिपिक से आयुक्त द्वारा कुछ जानकारी मांगी गई. इस पर कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया. यहां तक कि आडिट का कार्य लंबे समय से लंबित होने का मामला उजागर हुआ. आयुक्त का मानना था कि नागरी संहिता में कोई भी कार्य कितने दिनों में किया जाए, इसे लेकर समय निर्धारित है. इसके बावजूद मामले लंबित होने के कारण ज्येष्ठ श्रेणी लिपिक को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश विभाग प्रमुख को दिए. इसके बाद जीपीएफ सेक्शन का जायजा लिया गया. यहां पर भी कई कार्य लंबित होने का मामला उजागर हुआ. इस पर उच्च श्रेणी लिपिक को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए. इसी तरह अंशदायी पेंशन योजना भले ही वर्ष 2005 से लागू हुई हो, लेकिन इसके भी मामले अटके होने पर कनिष्ठ लिपिक और पेंशन के मामलों को लेकर अन्य कनिष्ठ लिपिक को फटकार लगते हुए दोनों को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए.

कोताही बर्दाश्त नहीं, 31 मार्च तक ‘निवारण एप’
अनौपचारिक चर्चा के दौरान मनपा आयुक्त मुंढे ने कहा कि यदि ट्रेन और हवाई जहाज का टिकट आनलाइन प्राप्त किया जा सकता है, तो तकनीकी का उपयोग कर लोगों की शिकायतों का निवारण क्यों नहीं किया जा सकता है. तकनीकी सेवा का लाभ उठाकर मनपा की सेवाओं को आनलाइन किया जाना चाहिए. किसी भी कार्य या शिकायतों के लिए लोगों को चक्कर नहीं लगाने पड़ने चाहिए. इसीलिए अब 31 मार्च तक शिकायत निवारण प्रणाली के एप को चुस्त-दुरुस्त किया जाएगा. प्रशासकीय कामकाज के संदर्भ में रुख साफ करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में कामकाज और जिम्मेदारी में कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

        हजरत ताजुद्दीन बाबा यांच्या जन्मदिवसा निमित्त मध्य नागपुर राष्ट्रवादी काँग्रेस पक्षा तर्फे मोमीनपुरा प्रभाग ८ येथे नि:शुल्क मेडिकल चेकअप कॅंप चे आयोजन करण्यात आले.  ह्या कॅंप मध्ये सामान्य आरोग्य तपासणी, नेत्र तपासणी, बालक, महिला, वृद्ध यांची विशेष आरोग्य तपासणी व औषधी वितरण करण्यात आले.   या शिबिराचा शेकडो लोकांनी लाभ घेतला.
       या शिबिराचे उदघाटन राकाॅपा शहर अध्यक्ष मा. श्री अनिलजी अहिरकर यांनी केले.  आयोजक महासचिव सोहेल पटेल व प्रभाग ८ अध्यक्ष फहीम खान होते.  मंचसंचालन मध्य नागपूर अध्यक्ष मिलिंद मानापुरे यांनी केले.  विशेष अतिथी सर्वश्री प्यारूद्दीन काजी, जावेद हबीब, रऊफ शाह, वसीम पटेल, नगरसेवक जनाब जुल्फीकार भुत्तो, इरफान अंसारी, निजाम अंसारी, वरीष्ठ पोलीस निरीक्षक श्री अजयकुमार मालविय, सहपोलीस निरीक्षक रामदास पाटील, प्रमोद धोटे, महावितरणचे शाहारुख तुरक,  जनाब हनीफ पटेल, यासुद्दीन भाई, नंदकिशोर माहेश्वरी, रेखा गौर, अनीसा पाशा, ऊर्मिलाताई राऊत, राजन नगरारे, अनवर खान, शकील अहमद, चाॅद भाई, सलमान खान, नईम खान, शहानवाज, सुल्तान खान, गफ्फार भाई, असलम अंसारी व असंख्य कार्यकर्ते उपस्थित होते.  महानगर पालिकेच्या डाॅ. अतीकुर रहमान व त्यांच्या टिम नी शिबीराकरीता अथक परिश्रम घेतले.

शालेय ,महाविद्यालयीन मुलांमुलींनी देशभक्तीपर, सामाजिक,भारतीय संस्कृतीच दर्शन घडविणारे उत्कृष्ठ सांस्कृतिक कार्यक्रम केले सादर       रामटेक  -रामटेक येथे प्रजासत्ताक दिनाचा 71 व्या वर्धापन दिनाचा समारंभ उत्साहात संपन्न झाला.प्रजासत्ताक दिनाचा मुख्य शासकीय समारंभ नेहरू मैदानावर पार पडला. यावेळी उपविभागीय अधिकारी जोगेंद्र कटियारे यांनी ध्वजारोहण केले.यानंतर त्यांनी पोलीस पथक,होमगार्ड, एन सी सी,एम सी सी,स्काऊट, गाईडच्या पथकांचे निरीक्षण करून मानवंदना स्वीकारली. यावेळी आमदार आशिष जयस्वाल, माजी आमदार डी मल्लिकार्जुन रेड्डी, माजी आमदार आनंदराव देशमुख ,नगराध्यक्ष दिलीप देशमुख,माजी नगराध्यक्ष गजेंद्र चौकसे ,तहसीलदार बाळासाहेब मस्के ,मुख्याधिकारी स्वरूप खारगे  ,पोलीस निरीक्षक दिलीप ठाकूर,नगरसेवक-नगरसेविका विविध पक्षांचे पुढारी,कार्यकर्ते व समाजसेवक विविध विभागाचे अधिकारी व कर्मचारी वर्ग प्रामुख्याने उपस्थित होते.यावेळी शालेय ,महाविद्यालयीन मुलांमुलींनी देशभक्तीपर, सामाजिक,भारतीय संस्कृतीच दर्शन घडविणारे सांस्कृतिक कार्यक्रम सादर करण्यात आले.रामटेक नगरीतील विविध शासकीय-निमशासकीय कार्यालये,बँका,शाळा,महाविद्यालयात ध्वजारोहण समारंभ उत्साहात पार पडला. नगर परिषद येथे नगराध्यक्ष दिलीप देशमुख यांचे हस्ते तर मुख्याधिकारी स्वरूप खारगे , नगरसेवक, नगरसेविका यांचे तसेच प्रमुख मान्यवर यांचे उपस्थितीत पार पडला. दिवाणी न्यायालय रामटेक येथे दिवाणी न्यायाधीश व्ही. पी धुर्वे यांचे हस्ते ध्वजारोहनचा कार्यक्रम पार पडला ,गांधी चौक येथील ध्वजारोहन काँग्रेस चे नेते उदयसिंग यादव ,राष्ट्रीय आदर्श विद्यालय व कनिष्ठ महाविद्यालय येथे माजी विद्यार्थी मयंक देशमुख यांचे हस्ते तर संस्थेचे अध्यक्ष आनंदराव देशमुख ,प्राचार्य कमल लिखार यांचे प्रमुख उपस्थितीत संपन्न झाले.ज्ञानदीप कॉन्व्हेंट येथे डॉ. एम. एस. कुरेशी यांचे हस्ते,संस्थेचे अध्यक्ष गजेंद्र चौकसे, प्राचार्य गीता भास्कर यांचे प्रमुख उपस्थितीत संपन्न झाले.विद्यासागर कला महाविद्यालयात  संस्थेचे अध्यक्ष आमदार ऍड. आशिष जयस्वाल,यांचे हस्ते तर प्राचार्य पी. के. यु. पिल्लई यांचे प्रमुख उपस्थिती पार पडले. ताई गोळवलकर कॉलेज येथे प्राचार्य डॉ. राजेश सिंगरु यांचे हस्ते ध्वजारोहन कार्यक्रम पार पडला. श्रीराम विद्यालय येथे प्राचार्य ईश्वर आकट याचे हस्ते ध्वजारोहन पार पडले.एस एन टी महाविद्यालयात प्राचार्य डॉ. संगीता टक्कामोरे यांनी ध्वजारोहण केले.साई इंटरनॅशनल स्कूल रामटेक येथे शेषराव नानोटे यांचे हस्ते तर प्राचार्य महेश नांदेकर व इंचार्जे संगीता वैद्य मॅडम यांचे प्रमुख उपस्थितीत ध्वजारोहन संपन्न झाले.भारतीय स्टेट बॅंक येथे शाखेचे  मॅनेजर मोहनसिंग भाटी यांचे हस्ते ध्वजारोहन संपन्न झाले.

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेनेचा वतीने प्रदेश सरचिटणीस हेमंत गडकरी यांचा मार्गदर्शनात तसेच नागपूर शहर अध्यक्ष विशाल बडगे यांचा प्रमुख उपस्थितीत तसेच शहर सचिव घनश्याम निखाडे व मध्य नागपूर अध्यक्ष शशांक गिरडे यांचा नेतृत्वात राज्याचे ऊर्जामंत्री मा. ना. श्री नितीनजी राऊत यांना निवेदन देण्यात आले.आधीच महागाई तसेच जागतिक मंदीमुळे जनता होरपळलेली असून नागपूर शहरातील तसेच जिल्ह्यातील विजेचे दराचे प्रमाण अतिशय जास्त आहे.
0 ते 100 युनिटचे सध्याचे विजेचे दर 3.05 रुपये प्रति युनिट असून ते कमी करून 0 ते 200 युनिट पर्यंत 2.05 रुपये प्रति युनिट करावे तसेच नागपूर शहरातील व्यापारी वर्गावर आलेले मंदीचा विचार करता कमर्शियल विजेचे दर सुद्धा कमी करण्यात यावे अशी मागणी मनसेचा वतीने प्रामुख्याने करण्यात आली.
तसेच नागपूर जिल्ह्यात झालेल्या अवकाळी पाऊसामुळे आधीच अडचणीत सापडलेल्या शेतकरी वर्गाला  ग्रामीण भागात 24 तास वीज पुरवठा करावा.
मा. उच्च न्यायालयाचा आदेशानुसार शहरातील मंदिर, मस्जिद, बौद्धविहार महानगरपालिकेच्या वतीने तोडण्यात आले परंतू रस्त्यावर यमदूतासारखे उभे असलेले विद्युत खांब या कडे मात्र अधिकारी वर्ग नेहमीच दुर्लक्ष करीत असतो त्यामुळे अनेक नागरिकांचे अपघातामुळे नाहक बळी जात असतो त्या सर्व विद्युत खांबाला तात्काळ हटवावे.
ईतवारी निकालास मंदिर परिसरातील दारोडकर चौक ते माधवराव खुळे चौक पर्यंत रस्त्यावर हायटेंशन विद्युत लाईन मुळे अनेक घर जवळ असल्यामुळे त्या ठिकाणी जीवित हानी होण्याची शक्यता नाकारता येत नाही त्यामुळे त्याकरिता निधी उपलब्ध करून त्वरित ती लाईन भूमिगत करण्यात यावी.
तसेच विजेचा बिलावर प्रति युनिटच्या व्यतिरिक्त अनेक छुपे दर आकारल्या जाते ते छुपे कर त्वरित रद्द करावे अशी मागणी मनसे शिष्ट मंडळाचा वतीने करण्यात आली. या संपूर्ण विषयावर मा. ऊर्जा मंत्री यांनी सकारात्मक भूमिका घेऊन लवकरच अधिकाऱ्यांशी चर्चा करून निर्णय घेतला जाईल असे आश्वासन दिले व मनसेचे वतीने सुद्धा कार्यवाही न झाल्यास आंदोलनाचा ईशारा देण्यात आला.
या प्रसंगी मनसे नागपूर शहर सचिव घनश्याम निखाडे, मध्य नागपूर अध्यक्ष शशांक गिरडे, पूर्व नागपूर अध्यक्ष उमेश उत्तखेडे, मध्य विभाग उपाध्यक्ष सुमित वानखेडे, आशिष पांढरे, अरविंद सावरकर,धीरज गजभिये, राजू पत्राळे, धीरज चिचघरे,ओंकार चन्ने,  शुभम तिडके, सतीश रहांगडाले, सुरज सारवा , मोहन रामटेके, जितू गणगोज ईत्यादी कार्यकर्ते वा पदाधिकारी उपस्थित होते.

कामठी:नागपुर शहर पुलिस के परिमंडल5 डीसीपी द्वारा गठित विशेष पथक ने 20 जनवरी की रात करीब11 बजे पेट्रोलिंग के दौरान बूचडख़ाने के ले जा रहे मवेशियों से भरी एक गाडी पकडी। गाडी में 8 मवेशी पाए गये। लेकिन पुलिस को देख आरोपी अपना वाहन छोडकर भाग खडा हुआ।
    पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार परिमंडल 5 के डीसीपी निलोत्पल द्वारा गठित पथक के कर्मचारी कामठी में पेट्रोलिंग कर रहे थे। इस दौरान खबरी से खबर मिली की एक टाटा योद्धा पिकअप गाडी आजनी रेलवे फाटे से कमसरी बाजार, भाजीमंडी की ओर आ रहा हैं, और इसमें गोवंशीय प्रजाति के मवेशी हैं जो बूचडख़ाने ले जा रहे हैं। खबर के आधार पर स्टाफ ने दबिश देकर आने वाले वाहन को बंगाली कॉलोनी ,कमसरी बाजार में रुकने का ईशारा किया। परंतु पुलिस को देख टाटा योद्धा पिकअप गाडी क्रं.एम एच 31/ एफसी 0914 के चालक ने गाड़ी वही छोडकर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग खडा हुआ। पुलिस ने जब गाडी की तलाशी ली तो गाडी में 8 गोवंशीय प्रजाति के मवेशी क्रुरता से बांधे हुए पाए गये। इन मवेशियों की कीमत करीब 80 हजार रुपए और गाडी की कीमत 4 लाख 50 हजार रुपए, ऐसा कुल 5 लाख 30 हजार का माल पुलिस ने जब्त कर मवेशियों को गौशाला में छोडा गया। पुलिस ने कामठी के जुना पुलिस थाने में वाहन चालक, मालक और माल मालक के खिलाफ मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरु कर दी हैं।

 

नागपुर. कुछ ही देर में घायल तक पहुंचने का दावा करने वाली एम्बुलेंस हेल्पलाइन 108 की हकीकत उस समय उजागर हो गई जब दुर्घटना के शिकार एक व्यक्ति को काफी देर तक उसकी मदद नहीं मिली. ऐसे में जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को लोगों की मदद से हास्पिटल पहुंचाया. घटना सोमवार शाम छत्रपति चौक बस स्टाप की है.

क्या है मामला - चंद्रपुर निवासी प्रशांत अनंतराव ताठे (54) किसी काम से शाम करीब 6.10 बजे नागपुर पहुंचे. वे छत्रपति चौक बस स्टाप पर उतरे. वह बस से उतरकर पैदल ही आगे बढ़े कि पीछे से एक दोपहिया वाहन चालक ने उन्हें टक्कर मारी और फरार हो गया. टक्कर इतनी जोरदार थी कि प्रशांत अपनी जगह पर ही 2 बार घूमकर जमीन पर गिर पड़े. उनका एक पैर बुरी तरह से टूट गया और आंख के पास सिर से खून की धार बहने लगी. उनकी कमर पर बुरी तरह चोटिल हुई. उनका मोबाइल पूरी तरह से चकनाचूर हो गया. तुरंत ही आसपास के लोग और आटो चालक उनकी मदद के लिए दौड़े और उन्हें वहां से उठाकर सड़क के किनारे ले आए. उनकी हालत ऐसी थी कि कमर के निचले हिस्से ने काम करना लगभग बंद कर दिया था. वह अपनी कमर और पैर हिला भी नहीं पा रहे थे.

मांगी मदद तो सवालों की लिस्ट - इसी दौरान वहां मौजूद एक जागरूक नागरिक ने एम्बुलेंस हेल्पलाइन नंबर 108 पर कॉल कर घायल प्रशांत के लिए मदद मांगी. उन्होंने 6.52 मिनट पर 108 तथा 6.54 बजे पुलिस कंट्रोल रूम को सूचित किया. कॉल रिसिव होते ही 108 हेल्पलाइन प्रतिनिधि ने कॉलर पर सवालों की बौछार कर दी. एक्सीडेंट कहां हुआ, कब हुआ, कितनी चोट आई और भी कई सवाल.

इसके बाद 7.09 बजे शहर की एक लेडी डाक्टर को उक्त कॉलर को फोन आया. महिला डाक्टर ने घायल के बारे में पूछताछ की. उन्होंने कहा कि घायल के साथ कोई रिश्तेदार है क्या. उन्होंने कहा कि यदि घायल के साथ कोई रिश्तेदार होगा तब ही हम आपकी मदद कर पायेंगे. महिला डाक्टर से उनकी एम्बुलेस की लोकेशन पूछने पर जवाब मिला कि सीए रोड जो छत्रपति चौक से करीब 7 किमी दूर है. ट्राफिक के बीच यह दूरी तय करने में एम्बुलेंस को 25 से 30 मिनट का समय लगता. ऐसे में डाक्टर ने एमएच-14/सीएल-0402 नंबर की एम्बुलेंस वाले सर्विस प्रोवाइडर को कॉल किया लेकिन उनका नंबर भी बंद आया. इधर प्रशांत का दर्द बढ़ता ही जा रहा था.

25 मिनट तड़पता रहा घायल - एम्बुलेंस की लेटलतीफी के बीच पुलिस कंट्रोल रूम से प्रतापनगर थाने में सूचना प्राप्त हुई. उधर, एक्सीडेंट हुए करीब 25 मिनट का समय गुजर चुका था और प्रशांत इतनी देर तक तड़पते रहे. कुछ ही देर में पुलिस की एक टीम एमएच-31/डीझेड-106 नंबर की गाड़ी से पहुंची. वहीं, एमएच-32/सी-554 नंबर के कार चालक आरडी बन्सोड देवदूत बनकर प्रशांत की मदद के लिए पहुंचे. पुलिस और नागरिकों की मदद से प्रशांत को बंसोड की कार में आरेंज सिटी हास्पिटल तक पहुंचाया गया. इस दौरान 25 मिनट तक प्रशांत तड़पते रहे लेकिन 108 वाली एम्बुलेंस नहीं पहुंची. ऐसे में सवाल उठता है कि स्मार्ट सिटी बन रहे नागपुर में ऐसी घटनाओं को कितनी गंभीरता से लिया जाना चाहिए. जान बचाने वाली 108 एम्बुलेंस सेवा जान जाने के बाद पहुंचे तो उस हेल्पलाइन का क्या अर्थ?

नागपुर. शादी में DJ पर नाचते हुए गलती से धक्का लगने के कारण एक युवक को अपनी जान से हाथ धोना पडा। यह मामला जुनी कामठी मार्ग के अमन सेलिब्रेशन लॉन का है। जहां बीती रात (20 जनवरी) कुछ युवकों ने एक युवक की धारदार हथियार से हत्या कर दी। जबकि पांच लोग जख्मी हो गए है। मृतक का नाम निखिल लोखंडे है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, अमन सेलिब्रेशन लॉन में चल रही शादी में DJ पर नाचते हुए एक लड़के का लड़केवालों को गलती से धक्का लग गया. इसी छोटी से बात से विवाद शुरू हुआ. कुछ लोगों ने लड़कीवाले और लड़केवालों को समझाकर यह विवाद शांत किया. लेकिन शादी हो जाने के बाद लड़केवालों ने बाहर से कुछ युवकों को बुलाकर लड़कीवालों के कुछ लोगों पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। जिसमें निखिल लोखंडे की मौत हो गई और पांच लोग जख्मी हो गए है। आगे की कार्रवाई कलमना पुलिस कर रही है।

हिंगना. मारुती चितमपल्ली बर्ड पार्क, अंबाझरी जैव विविधता उद्यान में वन विभाग हिंगना वनपरिक्षेत्र के अधिकारी, कर्मचारी व ट्रांजिट ट्रीटमेंट सेन्टर ने पेड़ों पर लटके मांजों को पूरी तरह से निकालकर पेड़ों को मांजा फ्री करने का आहवान किया था. इस आह्वान की प्रतिक्रिया स्वरूप रविवार को बड़ी संख्या में नागरिकों ने इस उद्यान में पहुंचकर दिनभर अभियान चलाया और सैकड़ों पेड़ों को जानलेवा मांजे से मुक्ति दिलाई.

छोटे बच्चे भी अपने पालकों को लेकर आए थे. पूरे नागपूर से अंबाझरी को मांजा फ्री करने में भारी संख्या में सहभाग लिया. इस अभियान के दौरान बड़ी संख्या में मांजे, पतंगें आदि प्लास्टिक कचरा जमा किया गया. वन व वन्यजीव क्षेत्र में काम करने वाले स्वयंसेवक तो थे ही, साथ ही आई क्लीन नागपुर, डब्ल्यू डब्ल्यू एफ इंडिया, हेरिटेज कंजर्वेशन सोसायटी, सृष्टि पर्यावरण मंडल, फक्त कंजर्वेशन, बर्ड्स आफ विदर्भ, डा. बाबासाहब आंबेडकर कालेज, विदर्भ सर्पमित्र संस्था के सभी सदस्य भी इस उपक्रम में सहभागी हुए थे. उन्हें पहले यह मालूम ही नही था कि यह उपक्रम किसका है. बाद में उन्हें पता चला कि महाराष्ट्र वनविभाग भी ऐसे कार्यक्रम चलाते है. उन्होंने खूब धन्यवाद देकर आभार माना.

मारुती चितमपल्ली बर्ड पार्क, अंबाझरी जैवविविधता उद्यान में आज जिन्होंने इस उपक्रम में सहभाग दिया और अंबाझरी में इस वर्ष तो पक्षी मांजे में अटककर घायल नही होंगे, ऐसा संकल्प लिया. छोटे बच्चो ने बहुत उत्साह के साथ काम किया. इसके लिए उन्हें अंबाझरी बर्ड बुक देकर प्रोत्साहित किया गया, सभी ने जमा किया हुआ मांजा व पतंग सभी पूरी तरह से जलाकर नष्ट किया.

अगले रविवार को भी मुहिम - इस रविवार को चलाई गई मुहिम में सौ से ज्यादा नागरिकों ने हिस्सा लिया. वन विभाग ने घोषणा की है कि अगले रविवार को भी यह अभियान चलाया जाएगा और जिन कुछ वृक्षों में मंजा फंसा होगा, उसे साफ किया जाएगा. इसके अलावा नि:स्वार्थ भाव से प्रकृति की सेवा करने के इच्छुक नागरिकों से यहां कभी भी आकर मंजा सफाई मुहिम चलाने की अपील की गई है.

नागपुर. कलमना थानांतर्गत गुलशननगर परिसर में रैश ड्राइविंग कर रहे किशोर के साथ मारपीट की गई. किशोर अपने भाई और दोस्तों को लेकर दोबारा आरोपियों से निपटने गया. उनके साथ भी मारपीट की गई. पुलिस ने गुलशननगर निवासी ताहिर खान जाकीर खान (17) की शिकायत पर मामला दर्ज किया है. आरोपियों में संतोष बाबाराम चव्हाण (23), छोटू चंद्रप्रकाश वासनिक (20), प्रदीप रामचंद्र यादव (21), शिवा कार्तिक शाहू (45) और अन्य 2 का समावेश है.

ताहिर शनिवार रात 10 बजे के दौरान परिसर से बाइक पर निकला. तेज गति में रैश ड्राइविंग करने के कारण स्थानीय युवकों ने उसे रोका. समझाने का प्रयास करने पर वह बहस करने लगा. इससे चिढ़कर शिवा ने ताहिर के साथ मारपीट की. ताहिर अपने घर गया और भाई को घटना की जानकारी दी. भाई और दोस्तों के साथ आरोपियों को सबक सिखाने पहुंचा, लेकिन तभी आरोपियों ने लाठी और पत्थर से हमला बोल दिया. दोबारा ताहिर और उसके साथियों से मारपीट की गई. पुलिस ने विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच आरंभ की है.

नागपुर. प्रभाग 12-ड के हाल ही में हुए मनपा के उपचुनाव में भले ही भाजपा प्रत्याशी विक्रम ग्वालबंशी द्वारा भारी वोटों से जीत दर्ज की गई हो, लेकिन अब चुनाव में जहां कई गैरकानूनी हथकंडों को अपनाए जाने का आरोप लगाया जा रहा है, वहीं उपचुनाव के दौरान उपयोग में लाई गई ईवीएम मशीनों के साथ वीवीपैट मशीन नहीं लगाए जाने से मतदान प्रभावित होने का भी आरोप लगाते हुए निर्दलीय प्रत्याशी रहे अशोक डोर्लीकर की ओर से चुनाव अधिकारी को पत्र सौंपा गया. चुनाव अधिकारी को सौंपे गए पत्र में उन्होंने कहा कि चुनाव में नियमों के विपरीत कई कार्य होने के कारण चुनाव परिणामों पर इसका असर पड़ा है. डोर्लीकर की ओर से जताई गई आपत्ति के बाद अब मनपा उपचुनाव को लेकर नया कानूनी पेंच फंसने की जानकारी भी सूत्रों ने दी.

मतदाताओं को किया आकर्षित - डोर्लीकर ने आरोप लगाया कि प्रभाग 12-ड के उपचुनाव को लेकर मतदाता सूची घोषित की गई थी. मतदाता सूची में दर्ज नामों को लेकर समयावधि के भीतर ही आपत्ति दर्ज की गई थी. मतदाता सूची में कई नाम गलत ढंग से शामिल किए गए थे, जिन्हें निकालने के लिए नियमों के अनुसार अर्जी दी गई थी. लेकिन इन बाहरी मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से नहीं निकाले गए, जिसका चुनाव पर भारी असर पड़ा है. इसके विपरीत चुनाव के लिए निर्धारित नियमों के अनुसार चुनाव लड़ रहे कोई भी प्रत्याशी की ओर से मतदाताओं को मतदान तक लाने के लिए वाहनों का उपयोग नहीं किया जा सकता है, लेकिन भाजपा के प्रत्याशी रहे विक्रम ग्वालबंशी की ओर से मतदाताओं के लिए भारी मात्रा में यातायात की सुविधा उपलब्ध कराई गई. मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए मतदान केंद्रों तक लाने-ले जाने की व्यवस्था की गई. यहां तक कि मतदान खत्म होने तक यह सिलसिला जारी रहा.

पुन: कराया जाए चुनाव - डोर्लीकर ने न केवल चुनाव अधिकारी बल्कि जिलाधिकारी और राज्य के मुख्य चुनाव आयोग को भी पत्र भेजकर बताया कि झोपड़पट्टी क्षेत्र के मतदाताओं को कई तरह से प्रभावित करने का संदेह जताते हुए मतदान के काफी समय पहले ही आवेदन कर विशेष रूप से झोपड़पट्टी क्षेत्र में पुलिस की गश्त बढ़ाने की मांग की गई थी. पुलिस गश्त नहीं होने कारण मतदान के पहले की रात में परिसर के मतदाताओं को भाजपा प्रत्याशी के परिवार द्वारा भयभीत किया गया. इन तमाम मुद्दों को देखते हुए मनपा का उपचुनाव रद्द कर नए सिरे से चुनाव कराने की घोषणा करने की मांग भी उन्होंने की.

नागपुर. अंबाझरी आर्डनेन्स फैक्ट्री में स्थापित किए गए आटोमेटेड रोबोटिक नब वेल्डिंग मशीन सेक्शन का उद्घाटन करने नागपुर पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आला अधिकारियों के साथ बैठक की. उन्होंने देशभर की आयुध निर्माणियों में चल रहे कार्यों का जायजा लिया. घरेलू उत्पादनों से सेना की ताकत बढ़ाने को कहा. आर्डनेन्स फैक्ट्री बोर्ड के अध्यक्ष एवं महानिदेशक हरिमोहन ने उनकी अगुवाई की. सेना को ज्यादा से ज्यादा घरेलू हथियार देने का काम आयुध निर्माणियों द्वारा किया जा रहा है. तेजी से बदलते दौर में आयुध निर्माणियों के कार्य भी आधुनिक हो रहे हैं. इसी के तहत अंबाझरी आर्डनेन्स फैक्ट्री में आटोमेटिक रोबोटिक नब वेल्डिंग मशीन सेक्शन का निर्माण किया गया.उद्घाटन के बाद सिंह ने इचापुरी राइफल फैक्ट्री, कानपुर की स्माल आर्म फैक्ट्री, तिरुचिरापल्ली और चांदा आर्डनेन्स फैक्ट्री में बनने वाले हथियारों का निरीक्षण किया. स्निपर राइफल एमके-1, सिन्पर राइफल 336, असाल्ट राइफल आदि का प्रदर्शन किया गया. डीजी हरिमोहन ने उन्हें हथियारों के बारे में विस्तृत जानकारी दी. अंबाझरी आर्डनेन्स फैक्ट्री में बन रही पिनाका मिसाइल और अन्य तोपों के शेल्स के निर्माण कार्य की जानकारी उन्होंने ली. सिंह ने अंबाझरी आर्डनेन्स फैक्ट्री में चल रहे कार्यों की गुणवत्ता और आधुनिकरण की सराहना की.

नागपुर. लोकसभा चुनाव में कम हुई लीड और विधानसभा चुनावों में खराब प्रदर्शन के बाद बीजेपी ने पार्टी की सर्जरी का काम शुरू कर दिया है. पहले चरण में पार्टी ने सभी 6 विधानसभा के मंडल प्रमुखों और विभिन्न आघाड़ियों के प्रमुखों को पद से हटाने का फैसला किया है.

पार्टी के एक बड़े वर्ग का मानना है कि नरेन्द्र मोदी सरकार को जिस तरह का बहुमत 2014 में मिला, उसके बाद से जमीन से जुड़े कार्यकर्ताओं की पूछ-परख कम हो गई. देश में कांग्रेस विरोधी माहौल बना और बीजेपी लगातार मजबूत होते चली गई. 2019 के लोकसभा चुनावों में भी जो बड़ी जीत मिली, उसके बाद भी पार्टी के कई नेताओं का दिमाग सातवें आसमान पर चला गया था, जिसका खामियाजा महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में पार्टी को अच्छा-खासा भुगतना पड़ा.

प्रक्रिया शुरू, नियुक्ति भी जल्द
वैसे तो पार्टी में देश भर में संगठनात्मक प्रक्रिया चल रही है. सिटी के मामले में यह विशेष महत्व इसलिए भी रखता है क्योंकि नागपुर में ही पार्टी के पितृत्व संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मुख्यालय भी है. इस बार पार्टी की सर्जरी थोड़ी ज्यादा सावधानीपूर्वक की जा रही है. सभी 6 मंडल प्रमुखों को हटा दिया गया है और इनकी जगह शीघ्र ही नई नियुक्तियां होने जा रही है. इसके साथ ही विभिन्न आघाड़ी के प्रमुखों को भी हटाने का फैसला किया गया है. एक तरह संगठनात्मक ओवरहालिंग का काम जोर-शोर से शुरु हुआ है.

काम के बचेंगे, बाकी नपेंगे
पता चला है कि जो मंडल प्रमुखों को हटाया गया है, उनमें जो काम के कार्यकर्ता हैं, उन्हें दूसरी जगह एडजस्ट किया जाएगा, लेकिन जो कामचलाऊ हैं उनको रफा-दफा करने में भी पार्टी इस बार कोई कोताही नहीं बरतेगी. बताया गया कि पार्टी के भीतर ही असली और नकली कार्यकर्ताओं के बीच गंभीर बहस चल रही है. 2014 में महाराष्ट्र में सत्तारुढ़ होने के बाद कई तरह के ऐसे कार्यकर्ता पार्टी से जुड़ गये थे, जिनकी वफादारी कभी भी किसी भी दल से नहीं रही.

बीजेपी को भी लगता रहा कि बड़े पैमाने पर लोग आ रहे हैं तो संगठन और भी मजबूत होगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. सब कुछ हवा में चलता रहा और जमीन पर जो कार्यकर्ता पहले से सक्रिय थे, वे भी साइडलाइन कर दिये गये. असली कार्यकर्ता हताश होकर घर बिठा दिये गये और चमकोगिरी वालों को आगे बढ़ाया गया. जिसका असर यह हुआ कि चुनावों में भी परिणाम हवा-हवाई ही आये.

मनपा को बचाने की चुनौती
जिला परिषद चुनावों में जिस तरह पार्टी का बंटाढार हुआ है, उसे देखते हुए कैडर के साथ-साथ बड़े नेताओं को भी जमीन खिसकने का अंदाज लग गया है. 2 वर्ष बाद महानगरपालिका के चुनाव होने वाले हैं. मनपा पर सत्ता अबाधित रखने के लिए बीजेपी ने अभी से तैयारी शुरू की है. यही वजह है कि मंडल प्रमुख हो या आघाड़ियों के मुखिया, इनकी नियुक्ति के समय पुराने कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि उनके अच्छे दिन आने वाले हैं.

नागपुर. बजरिया परिसर में शुक्रवार को स्कूल बस की चपेट में आकर यश भोलानाथ मिश्रा (9) की मौत हो गई थी. यश आरेंज सिटी स्कूल में तीसरी कक्षा का छात्र था. स्कूल प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग और यश को श्रद्धांजलि देने के लिए स्थानीय नागरिक नन्नूमल बिल्डिंग के सामने जमा हुए. सभी पार्टियों के नेता और परिसर के प्रतिष्ठित नागरिक कार्यक्रम में शामिल हुए. डीसीपी ट्राफिक चिन्मय पंडित और गणेशपेठ के थानेदार एस.एस. कुमरे भी कार्यक्रम में पहुंचे. उन्होंने उपस्थितों को बताया कि स्कूल बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया जा चुका है.

कुमरे ने नागरिकों को बताया कि नियमानुसार स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी एक्शन लिया जाएगा. मजदूर माता-पिता का इकलौता बेटा होने के कारण स्थानीय नागरिकों ने परिवार को आर्थिक मदद देने का भी काम किया. जमा हुई राशि लेकर नागरिक यश के घर पहुंचे तो मां का अश्रु बांध फूट गया. उसने बताया कि मंगलवार को ही यश का जन्मदिन भी है. यह सुनकर वहां मौजूद लोगों की आंखें भी नम थी. शुक्रवार की दोपहर यश स्कूल बस क्र. एम.एच.40-बी.एन.3620 पर घर लौट रहा था. बस के चालक प्रफुल्ल माथुरे (26) ने नागोबा मंदिर के पास उसे बस के उतारा.

कंडक्टर नहीं होने के कारण यश बस के सामने से ही रास्ता पार करके अपने घर की ओर जा रहा था. इसी दौरान प्रफुल्ल ने बस चला दी. टक्कर लगने के कारण यश गिर गया और बस के पिछले चक्के की चपेट में आ गया. बस में बैठे छात्र की सुरक्षा की जिम्मेदारी जितनी चालक और कंडक्टर की है, उतनी ही जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की है. कंडक्टर नहीं होने के बावजूद स्कूल प्रबंधन ने बच्चों को बस में घर भेज दिया. पुलिस अब स्कूल मैनेजमेंट के खिलाफ भी एक्शन लेने की तैयारी कर रही हैं.

नागपुर. नियमों के अनुसार 1 मार्च को 16 सदस्यीय स्थायी समिति में से हर वर्ष 8 सदस्यों की निवृत्ति करना अनिवार्य है, जिसके अनुसार अब तक फरवरी में होनेवाली मनपा की सभा के लिए इस प्रस्ताव को भेजने के उद्देश्य से 20 तारीख से पहले की स्थायी समिति में प्रस्ताव पारित किया जाता रहा है, किंतु अब डेढ़ माह पहले ही 8 सदस्यों को निवृत्त करने का प्रस्ताव सचिवालय की ओर से मंगलवार को होने जा रही स्थायी समिति की बैठक लिए भेजा गया है. अचानक ही संभवत: पहली बार डेढ़ माह पहले इस तरह का प्रस्ताव स्थायी समिति के समक्ष आने से मनपा गलियारों में जहां राजनीति गरमा गई है, वहीं तरह-तरह की अफवाहों का बाजार भी गर्म हो गया है.

नये सभापति पद के लिए खींचतान
मंगलवार को होने जा रही स्थायी समिति की बैठक के लिए सचिवालय द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार भाजपा पार्षद लखन येरावार, विजय चुटेले, श्रद्धा पाठक, वैशाली रोहणकर, वर्षा ठाकरे, स्नेहल बिहारे, निरंजना पाटिल और कांग्रेस की पार्षद जिशान मुमताज मो. अंसारी को 1 मार्च की दोपहर बाद निवृत्त किया जाना है. स्थायी समिति की ओर से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद नये सदस्यों की नियुक्ति के लिए मनपा की सभा में प्रस्ताव को रखने की सिफारिश की जाएगी. जानकारों के अनुसार प्रस्ताव में भले ही निवृत्त होनेवालों में वर्तमान स्थायी समिति सभापति प्रदीप पोहाने का नाम न हो, लेकिन फरवरी की सभा के पहले उनके द्वारा इस्तीफा दिया जाएगा. भाजपा पार्षदों को इसकी भलीभांति जानकारी होने के कारण जहां अब स्थायी समिति में जाने के लिए पार्षदों के बीच रस्साकसी शुरू हो गई है, वहीं सभापति बनकर मनपा की तिजोरी को अपने कब्जे में करने के लिए वरिष्ठ पार्षदों में खींचतान शुरू हो गई है.

अब हो रही कर वसूली की समीक्षा
स्थायी समिति की बैठक के लिए रखे गए प्रस्तावों के अनुसार अब तक हुई कर वसूली की समीक्षा करने तथा इस संदर्भ में चर्चा करने का विषय भी रखा गया है. वित्तीय वर्ष 2019-20 समाप्त होने के लिए अब केवल ढाई माह का कार्यकाल बचा होने तथा इस स्थायी समिति के लिए केवल डेढ़ माह का कार्यकाल बचा है. कार्यकाल समाप्ति की कगार पर पहुंची स्थायी समिति की ओर से अब जाकर मनपा के सर्वाधिक आय के स्रोत सम्पत्ति कर से होनेवाली वसूली को लेकर समीक्षा की जानी है. आश्चर्यजनक यह है कि गत सप्ताह स्थायी समिति की बैठक हुई थी, जिसमें सभापति को सम्पत्ति कर एवं अन्य स्रोतों से अब तक हुई आय की जानकारी मांगी गई थी. लेकिन मनपा तिजोरी की चाबी संभालनेवाले सभापति द्वारा जानकारी देने में असमर्थता जताई गई.

नागपुर. पांढरकवड़ा की बाघिन अवनी की हत्या हुए एक वर्ष से भी अधिक समय हो चुका है, लेकिन इस हत्या में दोषियों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने के कारण वन्यजीव प्रेमी जेरेल बनईत ने सरकार से एसआईटी समिति गठित कर जांच की मांग की है. जेरेल ने इस मांग को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे और मंत्री जीतेंद्र आव्हाड़ को हाल ही में ज्ञापन सौंपा है. ज्ञापन सौंपने के बाद जीतेंद्र आव्हाड़ ने कहा कि हालांकि एसआईटी की संरचना तय नहीं की गई है, हमने वन मंत्री संजय राठौड़ से इसकी चर्चा की और आदित्य ठाकरे ने भी इस संबंध में संजय राठौड़ को संज्ञान लेने के लिए कहा है.

दोषियों पर कार्रवाई की मांग
इस मामले पर वन मंत्रालय द्वारा बताया गया है कि इस संबंध में मंत्रालय का कोई इरादा नहीं है. इस मुद्दे पर मुख्य वन्यजीव वार्डन द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट राज्य के कानून और न्यायपालिका मंत्रालय के पास लंबित है.  निवेदन में बनईत ने लिखा है कि नवंबर 2018 में वन विभाग के किराए के निशानेबाजों द्वारा टी 1 (अवनी) बाघिन की गैरकानूनी और गैरवाजिब हत्या की गई. अभूतपूर्व राजनीतिक दबाव और वन विभाग की निष्क्रियता इस मामले को दबाने का प्रयास किया जा रहा है. 18 महीने में 13 लोगों को मारने के आरोप में 2 नवंबर 2018 में अवनी को हैदराबाद के शार्प शूटर असगर अली खान ने मौत के घाट उतार दिया. अवनी को गोली मारने की अनुमति असगर अली को नहीं होने के बावजूद उसने अवनी की हत्या की इसलिए जीतेंद्र आव्हाड़ ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है.

शूटर ने किया आर्म एक्ट का उल्लंघन
बनईत ने बताया कि एनटीसीए और राज्य-स्तरीय समितियों द्वारा विस्तृत जांच में प्रस्तुत किया गया है कि असगर ने टी1 की शूटिंग के दौरान आर्म्स एक्ट, 1958, भारतीय पशु चिकित्सा परिषद अधिनियम (IVCA) 1984, वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 और नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रापिक सब्सटेंस एक्ट, 1985 का उल्लंघन किया. पूर्व वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने वादा किया था कि अगर इन समितियों ने असगर को दोषी ठहराया, तो कार्रवाई की जाएगी. बावजूद इसके 26 महीने बाद भी राज्य सरकार या एनटीसीए द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है. फारेस्ट डेवलपमेंट कार्पोरेशन आफ महाराष्ट्र (FDCM) असगर को क्लीन चिट देकर एक कदम आगे निकल गया है.

नागपुर. करोड़ों की लागत से बनी खाऊ गली में विभिन्न व्यंजनों का आनंद लेने का मुहूर्त नहीं निकल पा रहा है. उद्घाटन के तीसरे ही दिन एक महीने के लिए बिना सूचना दिये इसे बंद कर दिया गया. रविवार की शाम छुट्टी के साथ ठंड के बीच चटपटे व्यंजनों का स्वाद चखने आये कई लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा. किसी को नहीं पता था कि धूमधाम से शुरू की गई यह खाऊ गली फिर से बंद कर दी गई है.

गेट पर नोटिस भी नहीं
रविवार शाम को अंधेरा होते ही खाऊ गली में लोगों का आना शुरू हो गया था, लेकिन गेट पर बंद होने का कोई नोटिस नहीं लगा था. ऐसे में लोग भीतर पहुंचे लेकिन पहली दूकान से लेकर आखिरी दूकान तक खानपान का कोई स्टाल नहीं दिखा. वहीं, रविवार का दिन होने से बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे लेकिन सभी को निराश होकर लौटना पड़ा. लोगों ने गार्ड से पूछा तो बताया गया कि अधिकारियों का कहना है कि अभी खाऊ गली अगले 1 महीने तक बंद रहेगी. हालांकि इससे ज्यादा वह कोई जानकारी नहीं दे सके. ऐसे में सभी हैरान रहे गये कि 2 दिन पहले शुरू हुई खाऊ गली अचानक क्यों बंद कर दी गई.

उल्लेखनीय है कि शहर के सामान्य वर्ग के लिए यह खाऊ गली शुरू करने के दावे किये गये थे. आर्थिक रूप से कमजोर नागरिक जो महल, चिटणीसपुरा, गंजीपेठ और मध्य नागपुर के होटलों में चटपटे व्यंजनों का स्वाद नहीं ले पाते, उन्हें एक स्वच्छ और रमणीय स्थान पर यह सुविधा देने के उद्देश्य से खाऊ गली शुरू करने की बात कही गई थी. इससे पहले भी पूर्व महापौर नंदा जिचकार के कार्यकाल में खाऊ गली पर करोड़ों खर्च किये लेकिन यह कचराघर बनकर रह गयी थी. फिर संदीप जोशी ने महापौर बनने के बाद इसे पूरा कराया. केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी के हाथों उद्घाटन भी करा दिया गया लेकिन इस पर लगा ग्रहण नहीं हटा.

नागपुर. जिला परिषद के चुनावों को लेकर चुनावी कार्यक्रम निर्धारित करने के साथ ही नए सिरे से अध्यक्ष पद के लिए जारी रोस्टर के अनुसार नागपुर जिला परिषद का अध्यक्ष पद अनुसूचित जाति महिला वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है. जिला परिषद के चुनावों में कांग्रेस की 30 सीटों पर जीत के कारण जहां कांग्रेस का अध्यक्ष बनना तय है, वहीं विशेष रूप से पूरे चुनाव में सक्रिय रहे क्रीड़ा मंत्री सुनील केदार के गुट से ही कोई इस पद का दावेदार होने की संभावना जताई जा रही है. जानकारों के अनुसार कामठी से जिला परिषद सदस्य के रूप में रश्मि बर्वे ने जीत हासिल की. केदार समर्थक होने के कारण उनकी दावेदारी पक्की मानी जा रही है.

सलिल बन सकते हैं उपाध्यक्ष
राजनीतिक जानकारों के अनुसार जिला परिषद में कांग्रेस और राकां महाविकास आघाड़ी के रूप में चुनाव मैदान में उतरी थी. हालांकि कांग्रेस को 30 सीटों के साथ एकतरफा जीत हासिल हुई, लेकिन सहयोगी दल राष्ट्रवादी कांग्रेस को भी 10 सीटें हासिल हुई है, जिससे कांग्रेस का अध्यक्ष तथा राष्ट्रवादी का उपाध्यक्ष बनने के संकेत हैं. उपाध्यक्ष पद राकां के कोटे में जाने से विदर्भ में राकां के कद्दावार नेता एवं वर्तमान में गृह मंत्री अनिल देशमुख के बेटे सलिल देशमुख की झोली में यह पद जाने से इंकार नहीं किया जा सकता है. जानकारों के अनुसार जिला परिषद में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद को लेकर दोनों दलों में चित्र साफ है. अत: अध्यक्ष और उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर किसी तरह का पेंच नहीं होने की जानकारी सूत्रों ने दी.

18 को जिप की सभा
बताया जाता है कि अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव के लिए 18 जनवरी को जिला परिषद की सभा का आयोजन किया जा रहा है. जिलाधिकारी रवीन्द्र ठाकरे की अध्यक्षता में सभा का कामकाज शुरू होगा. सुबह 11 से दोपहर 1 बजे तक अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए नामांकन पत्र स्वीकार किए जाएंगे. दोपहर 3 बजे विशेष सभा की शुरुआत होगी. 3.15 बजे तक प्राप्त नामांकन पत्रों की छानबीन की जाएगी. 3.30 बजे तक नामांकन पत्र वापस लेने का समय दिया जाएगा, जिसके बाद आवश्यकता होने पर 3.45 बजे मतदान किया जाएगा.

नागपुर. नायलान मंजे के विरोध में पश्चिम नागपुर कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष रिज़वान खान रूमवी के नेतृत्व में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने गिट्टीखदान चौक पर क्षेत्र के नागरिकों के साथ मिलकर नायलान मांजे की होली जलाई. रुमवी ने कहा नायलान मांजे पर रोक नहीं लगाई गई तो मनपा आयुक्त एवं महापौर का घेराव किया जाएगा. आंदोलन में प्रमुखता से सामाजिक कार्यकर्ता जुबेर शेख, राशिद अब्दुल, नईम खान, फैजल खान, नितिन माहुरे, राजू वासनिक, स्वप्निल निमजे, सत्यम सोडगीर, मोहसिन खान, आशीष घरडे, शाहिद खान, अजस्टिन जॉन, सतीश पाटिल, सुधाकर बोरकर, प्रवीण पोटे आदि उपस्थित थे.

सावनेर:
वाघोडा में स्थित ओकसीजन जिम के संचालक अंगद रवीन्द्र सिंग उम्र 33 वर्ष निवासी वाघोडा की नागोबा मंदिर के पास रविवार की रात 9:00 बजे के क़रीब
हतियार से वार कर हत्या कर दी गई।आरोपी नरेंद्र जयशंकर सिंग उम्र 29 वर्ष,निवासी शक्ति नगर कालोनी,वेकोलि परियोजन बताया गया है जो savनेर की जिम में प्रशिक्षक है।वह घटना को अंजाम देने के बाद से फ़रार है।प्राप्त जानकारी के अनुसार अंगद व नरेंद्र के बीच कुछ माह से किसी अज्ञात वजह से विवाद चल रहा था जिसका अंत इस हत्याकांड में तब्दील हुवा।
रविवार की रात 8:30 बजे के क़रीब फिर दोनों के बीच वही विवाद हुवा जिसके बाद दोनों की नागोबा मंदिर के पास मुलाक़ात हुई। नरेंद्र वहा पर अंगद को ख़त्म करने के उद्देश्य से हतियर लेकर पहुँचा था।झगड़ा होने के बाद नरेंद्र ने अंगद पर हमला कर दिया।अंगद वही ढेर हो कर गिर पड़ा व नरेंद्र वहाँ से भाग निकला।उसे सावनेर स्थित ग्रामीण रगनालय लाया गया जहाँ उसकी हालत गंभीर होने से उसे नागपुर रेफ़र किया गया।नागपुर स्थित एलेक्सिस हॉस्पिटल में चिकित्सकों ने उसे जाँच कर मृत घोषित किया।घटना की जानकारी मिलते ही सावनेर के थानेदार अशोक कोली,एपीआइ निशान्त फूलेकर ने घटनास्थल पर पहुँचकर कर घटना का जायज़ा लिया व आरोपी की तलाश के प्रयास शुरू किए।
लोगों में चर्चा है की यह दोनों अच्छे दोस्त थे व पूर्व में एक ही जिम में कार्यरत थे।कुछ वर्ष पूर्व अंगद ने वाघोडा मे जिम बनाया जिसके बाद से दोनों में दरार आ गयी थी।इसी व्यावसायिक प्रतिद्वंदिता के चलते ही यह हत्याकांड होने की चर्चा क्षेत्र में है।

मामूली विवाद पर व्यक्ति की हत्या
नागपुर। मानकापुर थानाक्षेत्र में झिंगाबाई टाकली में मामूली विवाद में व्यक्ति ने अपने ही रिश्तेदार की चाकू मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने एक घंटे के भीतर आरोपी को पकड लिया। आरोपी विक्की महतो और मतक आनंद खरे 45 है। दोनों आपस में रिश्तेदार हैं। आनंद ललित खरे एसआर बिल्डिंग के पीछे नाले के किनारे अपनी मां और 12 वर्षीय बेटे के साथ रहता था। रविवार रात करीब नौ बजे रिश्तेदार विक्की विक्की उसकी घर के पास बैठा था। इतने में आनंद आ गया। उसके यहां बैठने की बात पर आपत्ति जताते हुए गाली-गलौज की। इसी बात पर दोनों में हाथापाई भी गई। विवाद इतना बढा कि आनंद घर के अंदर से चाकू ले आया। विवाद के बीच महतो ने आनंद से चाकू छीनकर उसे ही मार दिया। इसके बाद वह भाग गया। जख्मी हालत में आनंद को अस्पताल ले जाया गया, जहां डाॅक्टरों ने मत घोषित कर दिया। सूचना पर तुरंत पुलिस भी पहुंच गई।
कार्यक्रम में व्यस्त थी पुलिस
- मानकापुर थाने के पीआई वजीज शेख ने बताया कि सभी अधिकारी ग्रामीण पुलिस के कार्यक्रम में व्यस्त थे। अचानक सूचना आने पर चार टीमें बनाई गई। एक टीम को घटनास्थल, दूसरी टीम अस्पताल और तीसरी टीम आरोपी को पकडने के लिए लगाई गई। एक घंटे में आरोपी विक्की महतो को पुलिस ने पकड लिया। पीआई के मुताबिक दोनों में पहले कभी झगडा नहीं हुआ था और ना ही किसी का आपराधिक रिकाॅर्ड था।  

 

नागपुर. बारिश और बदरीले मौसम की वजह से आरेंज सिटी के न्यनूतम तापमान में बढ़ोतरी हुई थी, लेकिन आसमान साफ होने के साथ ही ठंड का प्रभाव और बढ़ गया. दिनभर चली ठंडी हवाओं की वजह से ठिठुरन बढ़ गई है. इस बीच न्यूनतम तापमान में भी कमी आई है. मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक इसी तरह की ठंड बरकरार रहने की संभावना व्यक्त की है.

शुक्रवार की सुबह से ही ठंडी हवाओं ने घेरे रखा. आसमान साफ होने की वजह से कोहरा भी दिखाई नहीं दिया. कपकपाने वाली ठंड ने लोगों को परेशान कर दिया. दोपहर के वक्त भी ठंड एक समान थी, जैसे-जैसे शाम होती गई पारा और गिरते गया. रात में तो स्थिति यह थी कि ठंडी हवाओं की वजह से ठिठुरन बढ़ गई. लोग राहत पाने के लिए अलाव का सहारा लेते रहे, लेकिन स्थिति यह थी कि हवाएं बाहर भी बैठने नहीं दे रही थीं. मौसम विभाग की ओर से बताया कि संक्रांति तक इसी तरह का मौसम बना रहेगा. दिन में ठंडी हवा बहेगी. जिस वजह से ठिठुरन जारी रहेगी.

बच्चों की बढ़ी परेशानी
मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को सिटी का अधिकतम तापमान 25.3 डिसे और न्यूनतम तापमान 10.1 डिसे दर्ज किया गया, जबकि गुरुवार को सिटी का अधिकतम तापमान 25.7 डिसे और न्यूनतम 15.9 डिसे दर्ज किया गया था. यानी न्यूनतम तापमान में करीब 6 डिसे की कमी आई है. शुक्रवार को विदर्भ में सबसे कम तापमान गोंदिया का न्यूनतम 8.2 डिसे दर्ज किया गया. वहीं दूसरे स्थान पर 9.4 डिसे ब्रम्हपुरी का रहा. अगले कुछ दिनों तक इसी तरह का तापमान बने रहने से ठिठुरन और बढ़ सकती है.

ठंड की वजह से सबसे अधिक परेशानी बच्चों की बढ़ गई है. तड़के उठकर स्कूल जाने में आनाकानी कर रहे हैं. इन दिनों अनेक स्कूलों में टेस्ट परीक्षा चल रही हैं. यही वजह है कि बच्चों को न चाहते हुए भी जाना पड़ रहा है. ठंड की वजह से स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है. सर्दी, जुकाम और खांसी के साथ ही संक्रामक बीमारियां भी बढ़ रही हैं.

नागपुर.  इंजीनियरिंग और अन्य प्रोफेशनल पाठ्यक्रम की शिक्षा लेने के बाद अन्य राज्यों में जानेवाले उच्च शिक्षित युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए जिले में ही बड़े उद्योगों का निर्माण करना होगा. इस दृष्टि से उद्योगों को आकर्षित करने तथा उनकी निर्मिति के लिए प्रारूप तैयार करने के निर्देश पालकमंत्री नितिन राऊत ने उद्योग विभाग के अधिकारियों को दिए. ऊर्जा मंत्री एवं पालकमंत्री राऊत ने शुक्रवार को जिले के विकास कार्यों को लेकर विभाग के प्रमुखों की समीक्षा बैठक ली. जिलाधिकारी रवीन्द्र ठाकरे, सीपी भूषणकुमार उपाध्याय और पुलिस अधीक्षक राकेश ओला, मनपा आयुक्त अभिजीत बांगर, अपर आयुक्त हेमंत पवार आदि उपस्थित थे.

शुरू होगा एडवान्टेज विदर्भ उपक्रम
उन्होंने कहा कि मुंबई और पुणे के अलावा विदर्भ में भी बड़े उद्योग आए, इसके लिए उद्योग स्नेही वातावरण तैयार करने का सरकार का प्रयास है, जिसके लिए एडवान्टेज विदर्भ जैसी उद्योग परिषद लेने का सरकार का मानस होने की जानकारी भी दी. चर्चा के दौरान जिला नियोजन अधिकारी नरिंगे ने बताया कि साधारण योजनाओं के अंतर्गत जिले में योजनाओं के लिए 876 करोड़ का प्रारूप मंजूर है. अब तक 67 प्रतिशत ही खर्च हुआ है, जबकि अनुसूचित जाति-जनजाति योजना में केवल 50 प्रतिशत ही खर्च हो पाया है. 50 प्रतिशत से भी कम निधि खर्च होनेवाले कार्यों की जानकारी लेने के बाद पालकमंत्री राऊत ने सड़क विकास और सार्वजनिक निर्माण विभाग को निधि विहित पद्धति और समय के भीतर खर्च करने के निर्देश दिए.
जनता की समस्याओं को प्राथमिकता से हल करने पर विशेष ध्यान देने की गवाही देते हुए पालकमंत्री ने कहा कि विकास कार्यों के संदर्भ में जनता की आशाओं को पूरा करने के लिए काम करना है. जिले के विकास को लेकर सरकार के पास लंबित उपक्रम के पीछे लगकर पूरा करना है. महत्वपूर्ण उद्योग और युवाओं को स्वयंरोजगार के अवसर, शहर की घनव्यवस्थापन, सार्वजनिक स्थलों के सौंदर्यीकरण तथा शहर में बढ़ते वाहनों की संख्या और उस दृष्टि से पार्किंग की व्यवस्था करने पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश अधिकारियों को दिए. कौशल्य विकास और उद्योग विभाग को संयुक्त रूप से कार्य कर युवाओं को रोजगार के अवसर और प्रशिक्षण देने के निर्देश भी दिए. निरंतर बढ़ते साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस को काम करने की हिदायत देते हुए शीघ्र ही स्मार्ट सिटी के संदर्भ में अलग से बैठक लेने की जानकारी भी उन्होंने दी.


सावनेर: घर के बाहर हमउम्र बच्चों के साथ खेल रही साढ़े 3 साल की बच्ची को प्रलोभन दे कर ले जाने का प्रयास करने वाले एक युवक को बच्ची की दादी की सक्रियता से पकड़ा गया। आरोपी अकबर शकील अकतर शेख़ उम्र 26 वर्ष,निवासी पश्चिम बंगाल को पकड़कर पुलिस के हवाले किया गया।जानकारी के अनुसार सुभाष प्राथमिक शाला के पीछे रहने वाले एक व्यवसायी की साढ़े 3 साल की बच्ची शुक्रवार की दोपहर 2:30 बजे के क़रीब घर के सामने खेल रही थी।उसी दौरान गाव में मोहल्ले में घूमकर साड़ी बेचने वाला युवक अकबर शकील अकतर शेख़ वहा आया व बच्ची को प्रलोभन देकर उसे गोद में उठाकर साथ ले जाने लगा।तभी बच्ची के दादी का ध्यान उस पर गया जिसने बच्ची को ले जाने से रोकने का प्रयास किया।आरोपी ने वह बच्ची उसी की होने की बात कहकर वहा से भागने का प्रयास किया।
बच्ची का अपहरण का प्रयास होता देख उन्होंने ज़ोर से चीख़ कर पड़ोसियों को घटना की जानकारी दी।उसी दौरान बच्ची के पिता भी वहा पहुचे जिन्होंने बच्ची को उसके चंगुल से छीन लिया।वहा उपस्थित लोगों ने आरोपी की पिटाई कर उसे पुलिस के हवाले किया।पुलिस ने आरोपी कि खिलाफ आयपीसी की धारा 363,511 के तहत मामला दर्ज किया।आगे की जाच थानेदार अशोक कोली के मार्गदर्शन में एपीआइ निशांत फूलेकर कर रहे है।

नागपुर. प्याज, तेल के बाद अब सब्जियों का राजा आलू भी महंगा हो गया है. यह भी प्याज की राह चलते हुए आम लोगों को परेशान करने पर तुल गया है. थोक में जहां यह 20 से 22.50 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है, वहीं चिल्लर में यह 30 से 40 रुपये प्रतिकिलो पर पहुंच गया है. अभी महंगे प्याज से निजात भी नहीं मिली थी कि अब लोगों को आलू के लिए अधिक जेबें ढीली करनी पड़ रही हैं. पिछले 2 से 3 माह से आलू 20 रुपये प्रतिकिलो चल रहा था.

पुराना स्टाक खत्म, नये की आवक
व्यापारियों के अनुसार आलू का पुराना स्टाक वक्त से पहले ही खत्म हो गया. यह दिसंबर तक चलता तो आलू के भाव 20 रुपये प्रतिकिलो पर ही बने रहते. अभी मार्केट में नये के साथ कोल्ड के आलू की 15 गाड़ी की आवक हो रही है. वहीं बारिश के कारण इस वर्ष आलू की फसल भी कम बताई जा रही है. इसके चलते कलमना बाजार में आलू की आवक पर भी असर हुआ है. कलमना में आलू के भाव 800-900 रुपये प्रति मन चल रहे हैं. मार्केट में इंदौर, छिंदवाड़ा सहित अन्य स्थानों से आलू आ रहा है. इसमें कानपुर, इलाहाबाद, आंध्र, कर्नाटक से जब आलू की आवक शुरू हो जायेगी, तो आलू के भाव कंट्रोल में आ जायेंगे.

नागपुर.  फेरीवाला, फुटपाथ दूकानदार और बाजार तथा सड़कों के किनारे व्यवसाय करनेवाले लगभग 1 लाख हाकर्स होने का दावा करते हुए इनके लिए हाकर्स जोन तैयार करने की मांग कर याचिकाकर्ता शम्मी गुप्ता की ओर से हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया. याचिका पर सोमवार को सुनवाई होने की संभावना जताई जा रही है. साप्ताहिक बाजार में खाद्य पदार्थ बेचनेवाले याचिकाकर्ता ने याचिका में बताया कि गत 50 वर्षों से परिवार द्वारा इसी तरह का व्यवसाय किया जा रहा है. बाजारों में अस्थायी स्टाल्स लगाते हैं, लेकिन कानून के अनुसार अधिकार प्राप्त हो, इसीलिए याचिका दायर की गई है.

याचिका में बताया गया कि जुलाई 2019 में स्ट्रीट वेंडर्स के पंजीयन के लिए उनसे 60 रु. लिए गए थे. लेकिन अब तक उन्हें पहचान पत्र नहीं दिया गया है. इसी दौरान टाउन वेंडिंग कमेटी के चुनाव के लिए कामगार आयुक्त को सूची भेजी गई. 17 दिसंबर को समिति के लिए चुनाव कराए गए, जिनमें 3149 हाकर्स की ही सूची दिखाई गई. जबकि वास्तविक रूप में हाकर्स की संख्या काफी अधिक है. समिति चुनाव में केवल 1282 हाकर्स द्वारा ही मतदान किया गया. समिति के अध्यक्ष मनपा आयुक्त होने के कारण याचिकाकर्ता की ओर से टाउन वेंडर्स एक्ट लागू करने के लिए आवेदन भी दिया गया था. लेकिन मनपा आयुक्त द्वारा कोई फैसला नहीं लिया गया, जिससे मजबूरन हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है.

TVC का फैसला रद्द करें
याचिका में बताया गया कि मनपा क्षेत्र में सभी तरह के हाकर्स मिलाकर उनकी संख्या 1 लाख के करीब है. सड़कों के किनारे व्यापार करनेवाले इन व्यवसायिकों के लिए स्ट्रीट वेंडर्स एक्ट बनाया गया, जिसके अनुसार ही टाउन वेंडिंग कमेटी बनाने, हाकर्स जोन तथा नानहाकिंग जोन तैयार करने, सभी विक्रेताओं को पहचान पत्र देने, कानूनी प्रावधानों के अनुसार नियमित करने तथा टाउन वेंडिंग कमेटी का चुनाव रद्द कर सभी पंजीकृत विक्रेताओं को मतदान का अधिकार देते हुए नए सिरे से चुनाव कराने के आदेश देने की मांग भी याचिका में की गई.

नागपुर.  आरेंज सिटी में पतंगों का बाजार सजते ही वो...काट..वो...काट की आवाजें गली-मुहल्ले में गूंजने लगती हैं. लेकिन इस बार मौसम की मार जहां पतंगबाजों के अरमानों पर पानी फेर रही है, वहीं पतंग मार्केट भी इसके चलते ठंडा पड़ा है. संक्रांति को लेकर 10 से 15 दिन पहले ही पतंग मार्केट में बच्चों सहित बड़ों की धूम रहती है. परंतु रुक-रुककर हो रही बारिश के खराब हुए मौसम से पतंग मार्केट सूना पड़ा हुआ है. माल को गीला होने से बचाने के लिए जहां व्यापारियों को दूकानें बंद रखनी पड़ रही हैं, वहीं कुछ अपने माल को प्लास्टिक से ढंककर रख रहे हैं. पतंग को लेकर सबसे अधिक धूम मचाने वाले बच्चे भी मार्केट से गायब दिख रहे हैं. बारिश से बढ़ी ठंड के कारण बच्चों की वो.. काट..वो... की आवाज भी सुनाई नहीं दे रही है.

एक दिन की खरीदी पर टिका व्यापार
व्यापारियों के अनुसार पतंगबाजी के लिए सजे बाजार साफ मौसम पर निर्भर करते हैं. संक्रांति पर छोटे बच्चों से लेकर बड़ों में पतंगबाजी के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने मिलती है. संक्रांति के दिन ही लाखों रुपये की पतंगें उड़ती हैं, लेकिन इस बार बारिश का मौसम पतंग की बिक्री पर खलल डालते नजर आ रहा है. लोगों को इस त्योहार के साथ पतंग उड़ाने का बड़ी बेसब्री से इंतजार रहता है और इसी दिन पतंग का व्यापार भी बहुत अधिक होता है.

वैसे पतंग बाजार 1 माह पहले से ही सज जाता है और बच्चे पतंगों की खरीदी करने के साथ उड़ाना भी शुरू कर देते हैं, परंतु इस बार मौसम की मार से जहां व्यापार को फटका लगा है, वहीं पतंगबाजों का मजा भी किरकिरा हो गया है. व्यापारियों के अनुसार अभी जो कुछ भी उम्मीद है वह संक्रांति के दिन की है. इस दिन भी यदि मौसम ने दगा दिया, तो व्यापार पूरी तरह से चौपट हो जाएगा. इसी एक दिन पर पूरा व्यापार टिका हुआ है. शुरू से ही संक्रांति पर पतंगें उड़ाने की परंपरा रही है. इन त्योहारों से पूर्व ही शहर में आसमान पतंगों से पटे दिखते थे. लेकिन बरसात के चलते ऐसा नजारा नहीं दिख रहा है.

5 चकरी भी नहीं बिक रहीं दिनभर में
व्यापारियों के अनुसार इस बार तो दिन में 5 चकरी भी नहीं बिक पा रही हैं. मौसम के साथ-साथ नायलॉन मांजा भी व्यापार पर असर डाल रहा है. अभी भी कुछ लोग नायलॉन मांजा ब्लैक में बेच रहे हैं. 200 रुपये वाला माल 600 रुपये में बेचा जा रहा है. वहीं बरेली के मांजे की डिमांड कम हो रही है. आज 4 दिन शेष होने के बावजूद भी व्यापार ठंडा पड़ा है. दिल्ली, नोएडा, औरंगाबाद में नायलॉन मांजा बनाने वाली पचासों कम्पनियां हैं.
बरेली का मांजा पर्यावरण के साथ जनसुरक्षा
पतंग व्यापारी बताते हैं कि बहुत से ग्राहक आते हैं, जो कि नायलॉन मांजा के बारे में पूछते हैं, लेकिन हमारे द्वारा उन्हें बरेली के मांजे की तरफ कन्वर्ट किया जा रहा है. उन्हें बताया जा रहा है कि बरेली का मांजा पर्यावरण के साथ जनसुरक्षा की दृष्टि से अच्छा है. समझने वाले समझ जाते हैं और जो नहीं समझता वह आगे बढ़ जाता है. अभी पतंग का व्यापार पहले की तरह नहीं रह गया.

नागपुर. अखिल भारतीय श्रमिक हड़ताल की अपील पर बुधवार को नागपुर म्युनिसिपल कार्पोरेशन एम्प्लाइज यूनियन, नागपुर महानगरपालिका एवजदार कामगार संगठन और नागपुर महानगरपालिका कामगार संगठन के संयुक्त तत्वावधान में जहां मनपा में कामगारों द्वारा प्रदर्शन किया गया, वहीं कामगारों के खिलाफ नीतियों को लेकर जमकर नारेबाजी की गई. सार्वजनिक क्षेत्रों को बचाने, निजीकरण को रोकने, ठेकेदारी प्रथा बंद करने, ठेका कामगारों को प्रतिमाह 21,000 रु. की न्यूनतम मजदूरी देने, श्रमिक कोड को रद्द कर श्रम कानूनों को पूर्ववत बहाल करने, सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने तथा सीएए, एनआरसी और एनपीआर का विरोध कर मनपा आयुक्त से चर्चा की गई.

 करें 7वां वेतन आयोग लागू
श्रमिकों का नेतृत्व कर रहे जम्मू आनंद के साथ मनपा आयुक्त से मिले शिष्टमंडल ने चर्चा के दौरान कहा कि कर्मचारियों को वर्ष 2016 से ही 7वां वेतन आयोग लागू किया जाना चाहिए. एवजदारों को स्थायी करने, 45 की उम्र पार करनेवाले एवजदारों को अपने एक बच्चे को एवजी कार्ड देने का एच्छिक अधिकार देने, ठेका कामगारों को श्रम कानून लागू करने, ठेका कामगारों को स्थायी करने के लिए नीति निर्धारित करने की मांग की गई. शिष्टमंडल में जम्मू आनंद, बालकृष्ण पलांदुरे, रमेश गवई, अनिता मेंढे, शिवा बावने, मनीष जम्भुलकर, पुरुषोत्तम रंगारी, प्रकाश मेश्राम, चन्द्रभान गजभिये, इंदु गजभिये, अविनाश जंझाड, सुधीर गजभिए आदि शामिल थे.

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  नागपुर जिले में बुधवार की सुबह फिर रिमझिम बारिश ने मौसम में और ठंडक घोल दी। कई जगह गरज के साथ बारिश होने की जानकारी है। इस बार देर से आया मानसून लंबे समय तक बरसता रहा। बारिश का मौसम बीच जाने के बाद भी बीच-बीच में बारिश होती रही है जिससे किसानों के हाथ आई फसल को एक बार फिर नुकसान हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार बेमौसम बारिश गुरुवार को भी हो सकती है। विदर्भ में कुछ जगह बारिश के साथ ओले भी पड़ सकते हैं। मंगलवार को नागपुर का अधिकतम तापमान 26.7 डिग्री व न्यूनतम तापमान 11.5 डिग्री सेल्सियस रहा। 24 घंटे में न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस बढ़ा है।

10 के बाद बढ़ेगी ठंड
मौसम विभाग के अनुसार, बुधवार को बादल छाए रहेंगे। नागपुर समेत विदर्भ में कई जगह गरज के साथ बारिश होगी। कुछ जगहों पर आेले भी पड़ सकते हैं। फिलहाल पश्चिमी हवा चल रही है। नागपुर समेत विदर्भ में लगातार 8 व 9 जनवरी (दो दिन) को बारिश होने की संभावना है। बादल छाने से न्यूनतम तापमान में वृद्धि होगी। सोमवार की तुलना में मंगलवार को न्यूनतम तापमान में 3.6 डिग्री की वृद्धि हुई। इसी तरह बुधवार को न्यूनतम तापमान में आैर वृद्धि हो सकती है। न्यूनतम तापमान 16 डिग्री के पार हो सकता है। हालांकि अधिकतम तापमान 26-27 डिग्री के आसपास ही रहने की संभावना है। 10 जनवरी के बाद ठंड बढ़ने के आसार बने हुए हैं।

नागपुर जिले के काटोल,कोंढाली,कलमेश्वर,कुही,नरखे़ड़ सहित आसपास के क्षेत्रों में चना,कपास और संतरा को इस बेमौसम बारिश से खासा नुकसान हुआ है। गत सप्ताह मूसलाधार बारिश से संतरे की फसल पूरी तरह चौपट हो गई वहीं किसानों द्वारा काटकर रखी गई फसलों भी पानी में भीग गई। यही हाल उपज मंडियों में रहा जिन किसानों ने यहां माल बेचने के लिए लाया था उनकी उपज वाहन में ही रहने से भीग कई जगह तो इन उपजों से अंकुर भी निकलने की जानकारी मिली है। किसान वर्ग सरकार से प्राकृतिक आपदा से राहत के लिए सरकार से गुहार लगाई है।

नागपुर. शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व अस्पताल के टीबी वार्ड स्थित चर्मरोग विभाग की इमारत का पोर्च गिरने से 2 लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना के बाद से इमारतों का स्ट्रक्चरल आडिट की मांग की जाने लगी, लेकिन इमारतों की सुरक्षा और देखभाल की बजाय मेडिकल में पुरानी इमारतों के पोर्च गिराने का काम सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग ने शुरू किया है. लेकिन पोर्च गिराते वक्त दीवारों को भी नुकसान पहुंचने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता. इस ओर विभाग द्वारा गंभीरता नहीं बरती जा रही है.

सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग द्वारा सतत रूप से इमारतों का आडिट नहीं किया जाता. यही वजह है कि मेडिकल में जीर्ण इमारतों के मरम्मत को लेकर लापरवाही बरती जा रही है. चर्मरोग विभाग की घटना भी इसी लापरवाही का उदाहरण था. इस मामले में अब तक क्या कार्रवाई हुई है, यह सस्पेंस बना हुआ है. वहीं दूसरी भविष्य की सुरक्षा को देखते हुए पोर्च गिराने का काम शुरू कर दिया गया है.

- अधिकारी जानकारी देने से बच रहे
शासकीय दंत महाविद्यालय व अस्पताल की इमारत का पोर्च गिराया गया. इसके साथ ही मार्ड होस्टल के सामने लटक रहा पोर्च भी गिराया गया. लेकिन पोर्च क्यों गिराए जा रहे हैं, इस बारे विभाग द्वारा अधिकृत रूप से बोलने से अधिकारी बच रहे हैं. आखिर पोर्च गिराना ही उपाय है या फिर समूची इमारत की देखभाल करना? यह सवाल उठने लगा है.

सूत्रों ने बताया कि इस संबंध में सार्वजनिक निर्माण कार्य विभाग के कार्यकारी अभियंता आर.आर. जायसवाल और मेडिकल अधिष्ठाता डा. सजल मित्रा के बीच चर्चा हुई. वहीं वीएनआईटी के अधिकारियों द्वारा किए गए इमारतों के आडिट में भी आधार के बिना खड़े पोर्च को गिराने की सिफारिश की गई थी. उल्लेखनीय है कि मेडिकल में 12 दिसंबर को पोर्च गिरने से देवनाथ बागडे और वनिता वाघमारे की मृत्यु हुई थी. वाघमारे अपने परिवार का एकमात्र कमाई का हाथ था. परिवार को पालन-पोषण की जिम्मेदारी सरकार द्वारा लिए जाने की मांग की जा रही थी, लेकिन सरकार ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2 लाख की मदद देकर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ली.

- और 5-6 पोर्च गिराएंगे
बताया गया कि मेडिकल जीर्ण इमारतों में आधार के बिना खड़े और 5-6 पोर्च हैं. बारी-बारी से सभी पोर्च को गिराने की जानकारी मिली है. वैसे देखा जाए तो पोर्च को आधार देने के लिए पर्यायी व्यवस्था की जा सकती थी. स्टील के पाइप या सीमेंट के आधार से पोर्च से सपोर्ट दिया जा सकता था, लेकिन पोर्च गिराने की कार्यवाही सभी के समझ से परे बताई जा रही है. इस घटना से यह भी स्पष्ट हो गया है कि निर्माण कार्य के दौरान ही लापरवाही बरती गई.

नागपुर. आने वाली 10 जनवरी को शाम 5 बजे मानकापुर क्रीड़ा संकुल के सामने सदर फ्लाईओवर का लोकार्पण होने जा रहा है. फ्लाईओवर का उद्घाटन केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी के हाथों किया जाएगा. इस अवसर पर पूर्व मुंख्यमत्री और वर्तमान के महाविकास आघाड़ी के मंत्री एवं विधायक भी उपस्थित रहेंगे. इस फ्लाईओवर के बनने से सदर व आसपास के निवासियों को संजीवनी मिल गई है. अब बस कुछ ही दिनों के इंतजार के बाद इस फ्लाईओवर को नागरिकों के यातायात के लिए खोल दिया जाएगा. पुलिया के यातायात के लिए खुल जाने से स्थानीय निवासियों के साथ ही मार्ग से गुजरने वाले वाहनचालकों को बड़ी राहत मिलने वाली है.

अब न आए कोई परेशानी
3 बार फ्लाईओवर के लोकार्पण की तिथि की घोषणा करने के बाद इस बार पुलिया पर पंडाल देख नागरिकों को उम्मीद है कि जो समय और तारीख दी गई है, उसी दिन फ्लाईओवर को खोला जाएगा. जनता इसी बात की आशा कर रहे है कि इस बार किसी भी प्रकार की कोई परेशानी आए बिना फ्लाईओवर खुल जाए. 28 दिसंबर 2019 इस पुल का निर्माण पूरा होने की तारीख थी. उसके बाद अब तक 3 बार मुहूर्त निकला. 2 जनवरी, फिर 5 जनवरी और उसके बाद 9 जनवरी का मुहूर्त निकला, लेकिन कोई भी तारीख की पत्रिका नहीं प्रकाशित हुई थी. अब 10 जनवरी की पत्रिका प्रकाशित हो गई है.

व्यापारियों को होगा लाभ
सदर निवासी जमील खान ने कहा कि फ्लाईओवर बन जाने से सदर के मार्केट को संजीवनी मिलेगी. फ्लाईओवर के निर्माण कार्य, ट्राफिक, धूल, खराब सड़कों के कारण ग्राहकों ने अपना रास्ता बदल दिया था. इससे ग्राहकी पर भारी असर पड़ा है. ऐसी स्थिति में दूकान का किराया निकलना भी मुश्किल हो गया. ग्राहक सदर की बजाय अब सीताबर्डी के मार्केट से खरीदी करना पसंद करते थे, लेकिन सदर फ्लाईओवर के बन जाने के बाद इस मार्केट की रौनक दुबारा लौट आएगी. फ्लाईओवर बन जाने से हैवी वेहिकल ट्राफिक ऊपर से चला जाएगा. इससे परिसर के व्यापारियों को राहत मिलेगी.

ट्राफिक जाम की समस्या होगी हल
दिनेश कांबले ने बताया कि फ्लाईओवर का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है. लोकार्पण होने के बाद स्थानीय नागरिकों के साथ इस मार्ग से गुजरने वाले वाहनचालकों को राहत मिलने वाली है. इस मार्ग पर एमपी की ओर जाने वाली बसों और बड़े वाहन के कारण सर्वाधिक ट्राफिक जाम होता है. फ्लाईओवर बन जाने के बाद एमपी की ओर जाने वाली सारी बसें एलआईसी चौक से सीधे मानकापुर फ्लाईओवर के पास उतरेंगी. फ्लाईओवर से यातायात शुरू होने के बाद इस सदर मार्ग पर लगने लावा ट्राफिक जाम अब नहीं लगेगा. फ्लाईओवर के ऊपर से वाहनों के जाने के बाद नीचे से आसानी से वाहन चालक आवाजाही कर सकेंगे. केवल वाहन चालक ही नहीं, बल्कि अन्य दूकानदारों को भी इसका लाभ होगा.

नागपुर।  राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने अपनी शीतकालीन परीक्षाओं के तहत 934 में से 627 पाठ्यक्रमों के नतीजे एक माह के भीतर जारी कर दिए हैं। इसके साथ ही 72 परीक्षाओं के परिणाम प्रक्रिया में हैं, जो जल्द ही जारी किए जाएंगे। नागपुर विवि ने कुछ वर्ष पूर्व ही उत्तर पुस्तिकाओं का आॅनस्क्रीन मूल्यांकन शुरू किया है। इसके अलावा पूरी परीक्षा प्रणाली ऑनलाइन की गई है। विश्वविद्यालय ने पहले चरण में ली गई लगभग सभी परीक्षाओं के नतीजे जारी कर दिए हैं। अधिकांश परिणाम परीक्षा होने के 15 से 30 दिनों के भीतर जारी किए गए हैं।  एक हजार पाठ्यक्रमों की होती हैं परीक्षाएं
उल्लेखनीय है कि नागपुर यूनिवर्सिटी ने अपनी परीक्षा प्रणाली में कई उल्लेखनीय कदम उठाए हैं, जिसके बाद परीक्षा प्रणाली सुव्यवस्थित नजर आ रही है। एक वक्त ऐसा था, जब परीक्षा के लंबे समय बाद भी नतीजे जारी नहीं होने से विद्यार्थियों को आंदोलन का सहारा लेना पड़ता था।  नागपुर विश्वविद्यालय हर परीक्षा सत्र में करीब 1000 पाठ्यक्रमों की परीक्षाएं लेता हैं, जिसमें करीब 3 लाख 75 हजार विद्यार्थी शामिल होते हैं।   "आविष्कार' के लिए आवेदन की अवधि 9 जनवरी तक बढ़ी
राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने राज्य स्तरीय आविष्कार प्रतियोगिता की चयन प्रक्रिया में आवेदन की अवधि बढ़ा दी है। इच्छुक विद्यार्थी और शिक्षक अब 9 जनवरी तक प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदकों से [email protected] पर आवेदन मेल करने के लिए कहा गया है। 

चयन प्रक्रिया 4 भागों में विभाजित
 इस प्रतियोगिता में विश्वविद्यालय से संलग्नित कॉलेजों के विद्यार्थी और शिक्षक अपने प्रोजेक्ट प्रस्तुत कर सकते हैं। चयन प्रक्रिया को विवि ने चार भागों में विभाजित किया है। इसमें अंडरग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन, एमफिल, पीएचडी विद्यार्थी और एमफिल-पीएचडी कर रहे शिक्षकों की श्रेणियां बनाई गई हैं। प्रतियोगिता के लिए 10 और 11 जनवरी को जिला स्तर पर चयन होंगे। चयन शिविर भिवापुर स्थित भिवापुर महाविद्यालय मंे आयोजित किया गया है। जिला स्तरीय शिविर में चुने गए विद्यार्थी शिक्षकों को 14 और 15 जनवरी को नागपुर के बेसा स्थित दादासाहब बालपांडे कॉलेज ऑफ फार्मेसी में प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके बाद 28 से 30 जनवरी तक मुंबई मंे होने वाली राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में वे हिस्सा ले सकेंगे।

नागपुर। सर्द मौसम में भी एनआरसी, सीएए के विरोध में शहर का वातावरण गर्म है। युवा छात्रों ने सड़क पर उतरकर नागरिकता संशोधन विधेयक का जमकर विरोध किया। इंदोरा मैदान से मोर्चा निकालकर संविधान चौक पहुंचा। रास्ते में केंद्र सरकार के विरोध में नारेबाजी की गई। संविधान चौक में पहुंचकर जनसभा ली गई। सभा में युवा छात्रों ने एनआरसी, सीएए के विरोध में केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। प्रा. जावेद पाशा, भदंत शिवली, सुमित मेश्राम जनसभा में सहभागी होकर आंदोलन का समर्थन किया। दानिश रजा खान, मोहम्मद दानिश, बुरहानुल हसन के नेतृत्व में मोर्चा निकाला गया। नागरिकों का यह दुर्भाग्य, सरकार के इरादे नाकाम
भदंत शिवली ने कहा कि एनआरसी, सीएए के पीछे सरकार के नापाक इरादे छिपे हैं। सरकार धर्म के नाम पर देश की जनता को बांटना चाहती है। जब तक सरकार अपने नापाक इरादों से पीछे कदम नहीं हटाएगी, हम लड़ाई जारी रखेंगे।  प्रा. जावेद पाशा ने कहा कि यह आंदोलन किसी जाति या धर्म का नहीं है। एनआरसी, सीएए का विरोध भारत के सभी नागरिकों के अधिकार की लड़ाई है। एनआरसी, सीएए से देश के सभी समुदाय के लोग प्रभावित होंगे। पीढ़ियों से जिस देश में रह रहे है, उसी देश में अब अपनी नागरिकता सिद्ध करनी पड़ रही है। देश के नागरिकों का यह दुर्भाग्य है।  दानिश रजा खान ने कहा कि संसद में भले ही विपक्ष विरोध करने मेें कमजोर पड़ रहा है, लेकिन सड़कों पर उतरी युवा शक्ति विपक्ष की भूमिका निभा रही है। देश के मूल नागरिकों से नागरिकता का सबूत मांगकर अविश्वास दिखाया जा रहा है। जो सरकार देश के नागरिकों को नागरिक नहीं मानती, उस सरकार को हम सरकार नहीं मानते।  अंत में राष्ट्रगीत गाकर आंदोलन का समापन किया गया।

 4 दिवसीय धरना
एनआरसी, सीएए कानून सरकार जब तक वापस नहीं लेती, जब तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी गई।  इस ओर ध्यान देने की मांग की गई है।

 रामटेक. सावनेर विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुनील केदार कैबिनेट मंत्री बनने के बाद पहली बार रामटेक पहुंचे. इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने  मनसर में उनका बैंड-बाजे के साथ आतिशबाजी कर ने भव्य स्वागत किया.
  पर्यटक मित्र, कांग्रेस नेता व रामधाम के संचालक  चंद्रपाल चौकसे ने रामधाम में सुनील केदार के सत्कार का कार्यक्रम आयोजित किया था, जहां उन्होंने मंत्री जी को फूलों की माला पहनाकर बधाई दी. कार्यक्रम में  महिपाल चौकसे, उदयसिंह यादव,नागपुर डिस्ट्रिक्ट बैंक के पूर्व संचालक तथा कांग्रेस नेता डॉ. रामसिंह सहारे, पी. टी. रघुवंशी, सचिन किरपान, असलम शेख, निितन भैसारे, अजय खेडगरकर, श्रीधर झाडे, दयाराम भोयर, अशोक चिखले व युवा कांग्रेस के पदाधिकारी भी उपस्थित थे. इस कार्यक्रम में ग्रामीण पत्रकार संगठन द्वारा भी कैबिनेट मंत्री सुनील केदार का स्वागत किया गया।

रामटेक. विद्यासागर शिक्षण संस्था के संस्थापक अध्यक्ष, डॉक्टर व समाजसेवक स्वर्गीय विनोदकुमार जयस्वाल के 20 वें  स्मृतिदिन के अवसर पर 1 जनवरी को विद्यासागर कला महाविद्यालय में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया.
 इस अवसर पर विद्यासागर शिक्षण संस्था के अध्यक्ष विधायक  अधि. आशीष जयस्वाल, उपाध्यक्ष प्रा. टी. डी. लोधी, सचिव श्रीमती अनिता जयस्वाल, अधि. अनूप जयस्वाल, नीरज जयस्वाल, डॉ. संगीता टक्कामोरे, डॉ. निनाद पाठक, डॉ. गौरी पाठक के साथ ही कई  लोग उपस्थित थे,
  सभा में कॉलेज के प्राचार्य डॉ. पिल्लई ने स्व. डॉ. विनोदकुमार जयस्वाल के शिक्षा और सामाजिक कार्यों के बारे में बताया. विधायक आशीष  जयस्वाल ने  कहा, हम आने वाले समय में डॉक्टर साहब के सपने पूरे करने के लिए काम करेंगे. इस दौरान कॉलेज के शिक्षक, कर्मचारी और विद्यार्थी बड़ी संख्या  में उपस्थित थे.

नागपुर. दिल्ली समेत उत्तर व पूर्वी भारत में कोहरे के कारण बिगड़ा ट्रेनों का टाइम टेबल अब भी सुचारु नहीं हो सका है. हालांकि बारिश के कारण थोड़ी राहत मिली लेकिन लेटलतीफी जारी है. शुक्रवार को नागपुर आने वाली ट्रेनों में 12511 गोरखपुर-यशवंतपुर एक्सप्रेस सर्वाधिक 14 घंटे की देरी से चली. इसके अलावा ट्रेन 12410 गोंडवाना एक्सप्रेस 2 घंटे, 12616 जीटी एक्सप्रेस 2 घंटे, 12130 आजाद हिंद एक्सप्रेस 1 घंटे, 22692 बंगलुरू राजधानी 1.30 घंटे, 16094 अंदमान एक्सप्रेस 2.45 घंटे, 12722 दक्षिण एक्सप्रेस 2 घंटे, 12859 गीतांजलि एक्सप्रेस व 12833 अहमदाबाद-हावड़ा एक्सप्रेस 1-1 घंटे की देरी से पहुंचीं.

नागपुर. सदर फ्लायओवर को शुरू करने के लिए चल रहे टाइमपास पर आज सिटी के कांग्रेसी कार्यकर्ता बुरी तरह भड़क गये. प्रमोद ठाकूर और अभिषेक सिंह के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने रास्ता रोकने वाले बैरिकेट उखाड़ फेंके. कांग्रेसियों के हंगामा के बाद मौके पर पहुंची सदर पुलिस ने आधार दर्जन कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया.

एम्बुलेंस के लिए खोला रास्ता
सदर फ्लायओवर पर हाईवे के अधिकारी और निर्माण कार्य में लगे ठेकेदार की मनमानी इन दिनों चरम पर है. पहले तो दोनों को 2 जनवरी की डेडलाइन दी गई थी और उस हिसाब से यह तैयार भी हो रहा था, लेकिन बाद में अकारण ही यह डेडलाइन बढ़ती जा रही है. दोपहर 1.45 बजे के करीब जब कांग्रेस के कार्यकर्ता काटोल रोड से सदर की ओर जा रहे थे, तब ट्राफिक जाम में एक एम्बुलेंस फंसी नजर आई. ठाकूर और सिंह ने तुरंत ही बैरिकेट को हटाया और एम्बुलेंस को फ्लायओवर से जाने का रास्ता दिया. इतने देर में कुछ और लोग भी उस मार्ग से जाने लगे. कार्यकर्ताओं को लोगों ने आग्रह किया कि जब जनता के पैसे से बना फ्लायओवर, जनता के लिए बनकर तैयार हो गया है तो जनता के लिए खोलने में क्या बुराई है. लोगों के साथ मिलकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने फ्लायओवर के तीनों छोर पर लगे बैरिकेट निकालकर रोड के किनारे रख दिये. काटोल रोड, रिजर्व बैंक चौक वाला मुहाना और उधर मानकापुर क्रीड़ा संकूल के पास वाली लैडिंग के बैरिकेड हटा दिये गये.

नागपुर. अजनी थानांतर्गत एक पत्नी ने अपने अय्याश पति को हथौड़ी से कई वार करके मौत के घाट उतार दिया. मृतक का नाम जयवंतनगर निवासी महेश पोरंडवार (44) बताया गया है जबकि आरोपी पत्नी का नाम ममता महेश पोरंडवार है. दोनों की एक बेटी और एक बेटा है. बेटी की शादी हो चुकी है जबकि बेटा पढ़ाई कर रहा है. ममता घरों में डेली नर्स का काम करती है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, महेश को शराब की लत थी और उसका किसी अन्य महिला से अवैध संबंध भी बताया जा रहा है. इसके चलते ममता और उसके बीच हमेशा विवाद होता था. एक समय में महेश की माली हालत काफी अच्छी थी. वह स्वयं हितेन ट्रांसपोर्ट कम्पनी नामक एजेंसी का मालिक था. उसके पास कार समेत उच्चस्तरीय रहन-सहन की सारी सुविधायें थी, लेकिन शराब की लत और अवैध संबंध के चक्कर में वह बहुत अधिक खर्च करने लगा और धीरे-धीरे उसकी आर्थिक स्थिति बुरी तरह बिगड़ गई. इसके चलते हमेशा ही ममता और परिवार के अन्य सदस्यों से वह झगड़ा करता था.

बेटे की फीस के लिए हुआ झगड़ा
बार-बार के झगड़ों से परेशान होकर ममता अपने बेटे के साथ महेश से अलग रहने लगी. इसके बाद महेश ने अय्याशी में और अधिक खर्च करना शुरू कर दिया. करीब 3 महीने बाद पति से अलग रहने के कारण ममता की आर्थिक हालत बिगड़ने लगी. उसे अपने बेटे की कालेज की फीस देना भी मुश्किल हो रहा था. इस बीच उसे जानकारी मिली कि महेश ने अपनी अय्याशी के लिए पैसे कम पड़ने पर प्लाट बेचने निकाला है. यह जानकर ममता अपने बेटे की फीस के लिए रुपये लेने महेश के पास पहुंची. इसी बीच उनके बीच विवाद हो गया. महेश ने फीस के लिए रुपये देने की बजाय गालीगलौज और मारपीट शुरू कर दी.

दुष्कर्म का प्रयास, खुद पहुंची थाने
इस समय भी वह शराब के नशे में धुत था. मारपीट के बाद महेश वहीं नहीं रुका. ममता ने अपनी पुलिस शिकायत में बताया कि इस दौरान महेश ने उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया. विरोध करने पर महेश ने लोहे की हथौड़ी से ममता पर हमला किया. ममता ने स्वयं का बचाव करके महेश के हाथ से हथौड़ी छीनकर उसी से ताबड़तोड़ वार कर दिये. बुरी तरह से जख्मी महेश ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. महेश को मौत के घाट उतारने के बाद ममता स्वयं अजनी थाने पहुंची और अपने पति की हत्या की बात बताई. सकते में आई पुलिस ने तुरंत ममता को गिरफ्तार कर मामला दर्ज किया. जांच जारी है.

 नागपुर. शहर में आज भी नागपुर महानगरपालिका की ओर से अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया. शहर भर के फुटपाथों से सौ से अिधक शेड तोड़े गए, कई ट्रक सामग्री जब्‍त की गई और फुटपाथों को खाली कराया गया.
  लक्ष्‍मीनगर जोन क्रमांक 1 में दीक्षाभूमि से नीरी रोड  से काचीपुरा चौक से वर्धा रोड से दक्षिण अंबाझरी  रोड के अतिक्रमण हटाए गए. कार्रवाई के दौरान अतिक्रमण करने वालों से 13300 रुपए दंड भी वसूला गया. कनिष्‍ठ अभियंता कोली ने कार्रवाई का नेतृत्‍व किया. धरमपेठ जोन में एलएडी काॅलेज चौक के फुटपाथों को अतिक्रमण हटाकर खाली करा लिया गया.
  धंतोली ज़ोन क्रमांक 4 में मॉडल मिल चौक से गांधीसागर तालाब से आयसोलेशन हास्‍पीटल और वहीं से इमामबाड़ा चौक तक फुटपाथों को साफ कर दिया गया. अतिक्रमण हटाओ के दौरान करीब एक ट्रक सामग्री जब्‍त की गई. कई शेड भी तोड़ डाले गए.
सतरंजीपुरा जोन में रानी दुर्गावतीनगर चौक से ईंट भट्टी तक फुटपाथ के अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की गई. सतरंजीपुरा और धरमपेठ के सहायक आयुक्‍त प्रकाश वराडे के मार्गदर्शन में इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया.
  महल जोन 6 के तहत आजमशाह चौक से मासुरकर चौक से इतवारी रेलवे स्‍टेशन तक रोड के दोनों बाजू में  बने शेड तोड़ डाले गए. इन शेडों में हजरत गौहर अलीशाह चिकन सेंटर, खनक पाल पैलेस, बालाजी पान मंदिर जैसे करीब 25 शेड तोड़े गए और 29 अतिक्रमण हटाया गया. नेहरूनगर जोन में भांडे प्‍लॉट चौक से बॉलीवुड सेंटर पाइंट से सक्‍करदरा तालाब से सक्‍करदरा फायर ब्रिगेड आॅफिस से महाकालकर सभागृह से दत्तात्रय बगीचा से संजुबा हाईस्‍कूल से छोटा ताजबाग से नेहरू नगर जोन तक फुटपाथ पर कब्‍जा कर बैठे 48 अतिक्रमण हटा दिए गए. सर्वाधिक अतिक्रमण यहीं से हटाया गया. इस दौरान करीब 4 ट्रक सामान जब्‍त किया गया. इस कार्रवाई में सहायक आयुक्‍त स्‍नेहा करपे, उपअभियंता श्री शिंगणजुडे मौजूद थीं.
   मंगलवारी जोन 10 में मंगलवारी सदर बाजार से गड्डीगोदाम पोस्‍ट आफिस से शक्‍तिनाला परिसर से मोहन नगर से स्‍टेट बैंक तक फुटपाथ के अतिक्रमण हटाए गए. कार्रवाई में करीब 48 अतिक्रमणों को साफ कर दिया गया. 3 ट्रक माल जब्‍त किया गया. कनिष्‍ठ अभियंता किशोर वानखेड़े उपस्‍थित थे. पूरी कार्रवाई सहायक आयुक्‍त अशोक पाटिल और
प्रवर्तन निरीक्षक संजय कांबले के मार्गदर्शन में नितिन मंथनवार, भास्‍कर मालवे, शादाब खान विशाल ढोले आतिश वासनिक द्वारा अंजाम दी गई.

न्यू ईयर पर ज़श्न के जोश में हुड़दंग करने वाले और शराबियों को शहर पुलिस ने पहले ही चेतावनी दे दी थी, हालांकि करवाई के लिए शाम होने का भी इंतजार नहीं किया गया| दोपहर से शहर के विभिन्न स्थानों पर नाकेबंदी करके ब्रीथ एनलायजर से वाहन चालकों की जाँच शुरू कर दी थी, न्यू ईयर को देख वाहतूक पुलिस और पुलिस विभाग इनके संयुक्त विद्यमान से शहर के विविध जगहों पर ५० मुख्य चौराहों पर नाकाबंदी की गई थी, इस करवाई में ५९२ ड्रंक ड्राइव करवाई की गई, वाहतूक पुलिस आयुक्त चिन्मय पंडित इन्होने INBCN  को बताया की पुलिस के तगड़े बंदोबस्त के कारन हुड़दंग की कोई भी वारदात सामने नहीं आई|

शहर के रामदासपेठ स्थित आयुष्मान सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल के डॉक्टरोंने नौ साल के बच्चीं को नया जीवनदान दिया है, ख़ुशी कुमरे नामक बच्ची के फेफड़े से बेर का बीज निकलकर डोक्टोनो ने उसकी जान बचाई है| सरकारी अस्पताल में एक्स-रे निकले के बाद लड़की के फेफड़ों के वायुमार्ग में बेर का बीच दिखासी दिया, जो भोजन करते समयब उसके फेपड़ों तक गया था| बीच को एक लम्बे लचीले ट्यूब- ब्रॉचोस्कोपी से णिअकाला गया, जो साँस के नाली की अंदर चला गया| लड़की को अभी छुट्टी दी गई है| आयुष्मान सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में बच्चे की जान बचने वाली टीम में डॉ. संदीप अग्रवाल, ईएनटी सर्जन, डॉ. विनोद बोरकर एनस्थेटिस्ट, डॉ. प्रशांत वानखड़े, डॉ. मुरली.बी.के, मोना परिचारिका, आरती परिचारिका शामिल थी|  

   

पुरे साल में शनिवार का दिन उपराजधानी नागपुर में  सबसे ठंडा रहा । सुबह नागपुर शहर का न्यूनतम तापमान 5 दशमलो 1 डिग्री दर्ज किया गया ।आने वाले दिनों में भी पारा और निचे जाने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है ।याने की नए साल की शुरुवात नागपुर वासी कड़ाके की ठंड के साथ करेंगे ।बादल छटते ही शहर में साथ ही विदर्भ में अचानक से ठंड बढ़ गई ।

साल के अंतिम दिनों में आखिर नागपुर में गुलाबी ठंड ने दस्तक दे ही दी ।शनिवार सुबह नागपुर का न्यूनतम तापमान 5 दशमलो 1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया ।जो की इस साल का सबसे ठंडा दिन है ।मौसम विभाग के अनुसार आसमान से बादल छटते ही मौसम साफ हो गया और शीत लहर चलने लगी ।जीसवजह से तापमान में गिरावट दर्ज की गई ।
देश का हाल देखे तो दिसंबर माह  में सर्दी नए नए रिकॉर्ड बना रही है। पहाड़ों पर तापमान माइनस 20 से माइनस 30 डिग्री तक लुढ़क चुका है। उत्तराखंड, कश्मीर और हिमाचल में भीषण बर्फबारी हो रही है तो दिल्ली समेत मैदानी इलाकों में शीतलहर जारी है। और उपराजधानी  नागपुर समेत विदर्भ में भी  कड़ाके की ठंड शुरू हो चुकी है ।
साल 2018 में 29 दिसंबर को नयूनतम तापमान 3 दशमलो 4 डिग्री दर्ज किया गया था जो की 2018   का सबसे ठंडा दिन रहा था ।इस साल भी  या आने वाले नए साल में ठंड अपना रिकॉर्ड तोड़ सकती है ।विदर्भ का हाल देखे तो शनिवार को गोंदिया का  नयूनतम तापमान 5 .2 दर्ज किया गया । वर्धा का न्यूनतम तापमान 7 .5  अमरावतीका न्यूनतम तापमान 9 .2   ,अकोला  का न्यूनतम तापमान 8. 7 ,चंद्रपुरका न्यूनतम तापमान 5 .4    ,यवतमाल का न्यूनतम तापमान 9 डिग्री   ,ब्रम्हपुरी का न्यूनतम तापमान 6 .9   , वही गडचिरोली का न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया ।बुलढाना का न्यूनतम तापमान 9 .5  और वाशिम का 11 .2 डिग्री दर्ज किया गया ।आने वाले दिनों में इन आकड़ो में और भी गिरावट हो सकती है ।ऐसे में नागपुर वासी और विदर्भ के नागरिक अपनी सेहत का खयाल जरूर रखे ।
 
 एकता गहरवार की रिपोर्ट इन बीसीएन न्यूज़ नागपुर 

नागपुर महानगर पालीका के कर आकारण विभाग सभापती के रुप मे पार्षद महेंद्र धनविजय की नियुक्ती की गई। शुक्रवार को मनपा मुख्यालय मे महापौर संदीप जोशी, सत्तापक्ष नेता संदीप जाधव, उपमहापौर मनिषा कोठे इनके उपस्थीती मे पदग्रहण संभाला, पदभार संभालने के बाद धनविजय इन्होने इनबीसीएन से बात की उन्होने कहा की भविष्य मे कर विभाग से आवक बढाने की काशीश रहेगी। क्युकी कर आकारण विभाग मनपा का मुख्य स्त्रोत है। नागपुर महानगर पालीका के मुख्य कार्यालय सिवील लाईन मे परिवहन विभाग सभापती के रुप मे पार्षद बाल्या बोरकर की नियुक्ती की गई। पदग्रहण समारोह महापौर संदीप जोशी, विधायक कृष्णा खोपडे, विकास कुंभारे और उपमहापौर मनिषा कोठे सहीत अन्य मान्यवर उपस्थीत थे। पदग्रहण करने के बाद बाल्या बोरकर मे इनबीसीएन से बात की उन्होने कहा की मेरे कार्यालय मे परिवहन विभाग की आवक बढाने की कोशीश रहेगी। बंटी कुकडे इन्होने अचानक पद से इस्तीफा देणे के बाद पद खाली हुआ था। शुक्रवार को चुनाव कर बाल्या बोरकर की नियुक्ती की गई। मगर बोरकर इन्हे ये खुर्सी काटो भरी रहने वाली है।

नागपुर।
शहर के होनहार युवा ने मेहनत के बलबूते सरकार के मीडिया सेल में जगह बनाई है। वह हाल में नई दिल्ली में डिजिटल मीडिया सलाहकार के रूप में इस्पात मंत्रालय में शामिल हुए हैं। बात कर रहे हैं संतरानगरी के रहने वाले प्रांजल चैधरी की। ये प्रांजल की समझदारी और क्रिएटिविटी का ही फल है कि उन्होंने कुछ ही वर्षों में मुकाम हासिल किया है। इस्पात मंत्रालय के लिए प्रांजल विविध रणनीतियों के प्रयोजन के साथ उनके संचालन की योजना बना रहे हैं।
मुंबई विश्वविद्यालय से बैचलर ऑफ मास मीडिया (बीएमएम) से स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद प्रांजल ने तीन साल मुंबई से संसद सदस्य और भाजयुमो की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूनम महाजन के साथ काम किया। उन्होंने महाजन के साथ कार्यकाल के दौरान डिजिटल मीडिया और संचार के क्षेत्र में व्यापक अनुभव प्राप्त किया। महाजन के साथ उनके कार्यकाल ने निश्चित रूप से लुटियंस दिल्ली में कार्यरत रहे लोगों का ध्यान खींचा। अब उन्हें केंद्र सरकार के साथ काम करने के लिए दिल्ली बुलाया गया है। सोशल मीडिया पर प्रांजल ने प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में खुद का पेश किया है। ट्विटर पर उनके 55 हजार से अधिक फॉलोअर्स हैं, जिनमे पीएम मोदी और केंद्र सरकार के कैबिनेट मंत्रियों सहित अनेक गणमान्य शामिल हैं। उनके निजी फेसबुक पेज पर करीब सवा लाख से अधिक लाइक्स हैं। उन्हें वर्तमान मामलों और प्रौद्योगिकी दोनों पर सक्रिय रूप से पोस्ट और ट्वीट करते हुए देखा गया है।

 

 महाराष्ट्र वाहतुक सेना कि और से मेट्रो प्रशासन के खीलाफ आंदोलन कीया गया है। जिसमें कामगार, सुरक्षा गार्ड, अन्य कर्मचारीयो के पेमेंट जल्द से जल्द देने की मांग की गई है। मांग ना पुरी होने पर अनशन पर बैठने का दीया इशारा । शिवसेना महाराष्ट्र वाहतुक सेना की और से कर्मचारी यो को मेट्रो द्वारा पेमेंट बकाया है।  लेकीन कई दिनों से कर्मचारीयो को सिर्फ आश्वासन दिये जा रहे है। मेट्रो द्वारा तीन कंपनीयो को काम का जिम्मा दीया गया था और इन कंपनीयो द्वारा विविध कामों के लीए कर्मचारी रखे गये लेकीन मेट्रो के काॅन्टे्रक्टर ने कामगार सुरक्षा गार्ड, मटेरीयल सप्लायर्स पेटी काॅन्ट्रेक्अर इनका बिल  देने मे लेट फी करने लगे है। उसी को मद्यनजर शिवसेना महाराष्ट्र वाहतुक सेना की और से गुरुवार को आंदोलन कीया गया है। आंदोलन के दौरान मेट्रो के अधीकारी द्वारा शिवसेना महाराष्ट्र वाहतुक सेना के कार्याध्यक्ष को कहा गया है। की तीनो कंपनीयो को ब्लॅक लीस्ट कर कर्मचारीयों को पेमेंट जल्द से जल्द दीया जायेगा। लेकीन अब देखना यह होगा। के मेट्रो के अधीकारी ये तीनों कंपनीयो को ब्लॅक लीस्ट कर कर्मचारीयों को न्याय दे पाते है या नही ?

नागपुरः ओबीसी महीला संमेलन का आयोजन ख्रिसमस 25 व 26 दिसंबर को शहर के बजाज नगर परिसर स्थित कस्तुरबा भवन में कीया गया था। जिसका समारोप गुरुवार को कीया गया। ओबीसी महिला महासंघ कि और से दो दीवसीय पहले महीला संमेलन का आयोजन हुआ था। इस संमेलन कि शुरुवात 25 दिसंबर को संविधान रैली निकालकर की गई तो विविध कार्यक्रमो का आयोजन भी कीया गया था। दो दीन के इस संम्मेलन में विविध कार्यक्रमो का आयोजन कीया गया था। तो गुरुवार को भी महिलाओ के लीए विविध सत्र रखे गये थे। जिसमे व्याख्यान परिसंवाद और अन्य कार्यक्रमो का आयोजन की गया था। मंच पर उपस्थीत मान्यवरों के व अध्यक्षीय भाषण के बाद ओबीसी महिला संमेलन का समारोप कीया गया है। 

नागपुर शहर में ठंड के मौसम में बारिश का मौसम  बना है ऐसे में नागपुर वासी भी  चकित हो गए ।मौसम विभाग के अनुसार  शुक्रवार को भी बारिश आ सकती है और शनिवार से मौसम खुलेगा । साथ ही आने वाले नए साल के पहले दिन से नागपुर और पुरे  विदर्भ में कड़ाके की ठंड पड़ेंगी ।

   देशभर में ठंड का मौसम अपना असर दिखा रहा है। लेकिन नागपुर समेत पुरे विदर्भ में विंटर पैटर्न अब तक शुरू नहीं हुआ है। जीसवजह से जितना न्यूनतम तापमान रहना चाहिए उतना नहीं है । मौसम विभाग के अनुसार आँध्रप्रदेश के ऊपर एंटी साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना है ,इसलिए  बादल छाये है। इसी बादल की वजह से  ठंड का मौसम नहीं बन पा रहा है। नागपुर विभाग के मौसम वैज्ञानिक श्री साहू ने बताया की उत्तर भारत हिमालय की औरसे ठंडी हवाएं आती है जीसवजह से ठंड महसूस होती है  लेकिन बादलों की वजह से  हवाएं चलना बंद है। राजस्थान के ऊपर ठंडी हवाओ का सायक्लोन बनना चाहिए तब जाकर नागपुर और विदर्भ में कड़ाके की ठंड पड़ेंगी। साथ ही उन्होंने बताया की बादल की वजह से 4 से 5 दिनों तक ऐसा ही मौसम बना रहेगा। लेकिन आने वाले नए साल के पहले दिन से तापमान कम होगा और कड़ाके की ठंड पड़ना शुरू होंगी ।
मौसम विभाग के अनुसार नागपुर शहर में आज बारिश होने की संभावना बताई जा रही है। मौसम वैज्ञानिक श्री साहू ने बताया की 2 अलग -अलग जगह की हवाएं एक साथ मिलती है ,इसलिए आसमान में  बारिश का मौसम बनता है। शहर में कलसे बारिश का मौसम बना है और आज भी बारिश आ सकती है लेकिन 28 दिसंबर याने शनिवार से मौसम साफ हो जाएगा।
 

26 दिसंबर को सुबह नागपूर शहर मे भी सुर्यग्रहण देखा जाना था। ग्रहण देखने के लिये नागपूर के रमन सायन्स ने एक हप्ते पहले की पूरी तैयारी कर ली थी। मगर ऐन मौके पर बदली और बारीश के वजह से इस तैयारी पर पानी फिर गया। वही दुसरी जगह पर तैयार बैठे लोगो मे भी काफी नाराजगी फैल गई। हमने इस ग्रहण को कैसे अनुभव किया रहता इस बारे मे रमण सायन्स से मिले टेक्नीकल जाणकारी कुछ इस तरह रही। इस साल भले ही हमने प्राकृतिक तरीके से सुर्यग्रहण नही देख पाए| क्योंकी बदली की वजह से इस सुर्यग्रहण को ग्रहण लग गया था। पर रमण सायन्स की और से तकनीक के जरीये, आकाश मे किस तरह ग्रह तारे करवट लेते है। जिससे ग्रहण की स्थिती निर्माण होती है। यह सारी हकीकत तकनिकी रुप से देखी गई। साथ ही उन्होने बताया की हरसाल सुर्यग्रहण होता है। यह प्राकृतिक है। तो इससे किसी जीवत पर कोई हाणी नही होती है। ग्रहण को लोग मिथ्या या अंधश्रध्दा मानते है। यह सरासर गलत बात है। गुरुवार को होनेवाले ग्रहण को खुली आखो से नही देख पाए ये दुर्भाग्य है। साथ ही ग्रहण को देखने आये लोग भी निराश होकर गये। पर रमण सायन्स ने विज्ञान की तर्ज पर ग्रहण का दर्शन कराने के बाद ये मायुसी थोडी बहोत कम हुई। रमन सायन्स का तकनिकी तरीका लोगो के समज और शिक्षा देनेवाला रहा। भले सुर्यग्रहण सिधा न दिखा हो। एक और सुर्यदेव को लगे ग्रहण का अनुभव भलेही वरुण देव ने ढक दिया हो, पर मायुस लागो मे प्रकृती का नियम रमण सायन्स ने दिखाई दिया।
 

किसानो के 2 लाख तक कर्जा माफ 
मुख्यमंत्री ठाकरे की बडी घोषणा 
शितसत्र के दौरान पीएम मोदी पर साधा निशाना 
किसानो के 2 लाख तक का कर्जा पुरी तरह से माफ करने की घोषणा मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे ने शितसत्र के दौरान की है। साथ ही उन्होने प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर तंज कसते हुये निशाना साधा।  

सुधीर मुनगंटीवार 
उध्दव ठाकरे अभी भी बिएमसी मे अटके है- मुनगंटीवार 
महानगर कानून बदलावर साधा निशाना 
किसानो के लिये सरकार ले अच्छा निर्णय- मुनगंटीवार 
महानगर कानून मे बदलाव को लेकर विपक्ष के नेता सुधिर मुनगंटीवार इन्होने मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे की शाब्दीक खिचाताणी की। ठाकरे अभी भी बीएमसी मे ही अटके हुये है। इसी खिचातानी मे विदर्भ के किसानो के मुद्दे को लेकर सुधीर मुनगंटीवार इन्होने इनबीसएन से बात की । 

बच्चु कडू 
किसानो के हित मे सरकार ले निर्णय- बच्चु कडू
बच्चु कडू को सरकार से अपेक्षाये
नये सरकारने शितसत्र के आखरी दिन कीसानो के लिए कुछ किसानो के हित मे निर्णय लेना चाहीये, ऐसी बात व्यक्त की। इस बात पर उन्होने इनबीसएन के सामने अपनी बात रखी। 

विकास ठाकरे 
किसानो को मिलेगी राहत 
विकास ठाकरे ने बया किया कथन
नई सरकार से किसानो को राहत देनेवाली अच्छी खबर मिलेगी, ऐसी बात विकास ठाकरे इन्होने कही। इसी बात को लेकर हमने उनसे बात कही, पेश है। विकास ठाकरे इनका कथन।

रोहीत पवार 
नेतृत्व नही सबका मित्र बनकर करना है काम 
रोहीत पवार का कथन 
नवनिर्वाचीत विधायक रोहीत पवार इनसे विभिन्न मुद्दो को लेकर हमारे संवाददाता ने की हुई खास बातचीत।

सीएजी का शक भ्रष्टाचार नही होता- फडणवीस 
शितसत्र के आखरी दिन भी आक्रमक फडणवीस 
सीएजी का शक भ्रष्टाचार नही होता, ऐसी दौरान सदन मे कही। उपयोगीता प्रमाणपत्र पेश ना करना भ्रष्टाचार नही होता। ऐसे बात कहते हुये सदन आखरी दिन भी अपनी बात स्पष्ट रखी। 

अधिवेशन मे बेहतरीन काम किया है इस मोबाईल सव्र्हिलेन्स ने 
नागपुर के अधिवेशन मे आनेवाले जुलूस को लेकर चप्पे चप्पे की जाणकारी देनेवाले पुलिस प्रशासन का मोबाईल सव्र्हिलेन्स व्हेईकल ने अबतक सैकडो आंदोलन को अपने कैद मे लिया है। 

अधिवेशन समाप्ती
अधिवेशन से नुकसान फिर भी है प्यार - दुकानदार 
नागपुर का शीतकालीन अधिवेशन संपन्न होते ही, शहर के नागरिकों ने अधिवेशन को लेकर अपअपनी प्रतिक्रियांए दी है। 

ड्रोन डीसीपी 
डिसीपी निलोत्पल इन्होने पुलिस की थपथपाई पीठ 
पिछले पांच दिनोसे अधिवेशन के दौरान मोबाईल सव्र्हिलांस व्हेईकल के माध्यम से कर्मचारी अच्छा काम कर रही है। इस बात को लेकर डिसीपी निलोत्पल इन्होने अपनी शुभकामनाये देकर कर्मचारीयो की पीठ थपथपाई।

कर्जमाफी किसानो का विश्वासघात - फडणवीस 
सरकार अपनी बात पर खरी नहीं उतरी
सतबारा अभी क्लीन नहीं- फडणवीस 
ठाकरे के कर्जमाफी घोषणा पर फडणवीस की टिपणी 

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इन्होने किसानो का विश्वासघात किया है| ऐसी टिपणी देवेंद्र फडणवीस ने ठाकरे के किसान कर्जमुक्ति पर की है| किसानो के कर्जमाफी के सतह सतह सतबारा क्लीन करने की मांग थी| मगर सरकार अपनी बात पर खरी नहीं उतरी, ऐसे भी फडणवीस ने स्पष्ट किया| 

CAA  पर शांति बनाये रखे, ग़लतफ़हमी ना रखे- मुख्यमंत्री  

एकनाथ शिंदे महिला सुरक्षा
महिला सुरक्षा के लिये कठोर कानून की मांग- एकनाथ शिंदे 
आरोपीयो को मिले कडी से कडी सजा
देश मे दिन ब दिन महिलाओ पर बढते अत्याचार के मामलो पर राज्य के गृहमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा, की महीलाओ और बालको को सुरक्षीत रखना ये राज्य सरकार का कर्तव्य है। और हमने इस संदर्भ मे राज्य के मुख्यमंत्री से बात की है। ऐसे मामले के आरोपीयो को कडी से कडी सजा मिलनी चाहिये, ऐसा कठोर कानून महाराष्ट्र मे भी लागू किया जायेगा।


देवेद्र फडणवीस 
अजीत पवार को मिली क्लीनचीट अमान्य 
अॅटी करप्शन ब्युरो ने अजित पवार को क्लीन चीट दि गई है। जो हमे मंजूर नही है। ऐसा विपक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा हैं 

 

आरीफ शाह 
केंद्र सरकार एनआर आर रद्द करे - शाह 
जमात ए इसलामिया संगठण धूले के विधायक आरीफ शाह इन्होने केंद्र सरकार के एनसीआरआर को लेकर जमकर रोष व्यक्त किया। 

 

प्रताप सरनाईक 
महाराष्ट्र से विदर्भ को अलग नही होणे देंगे-प्रताप सरनाईक
शिवसेना के विधायक प्रताप सरनाईक इन्होने अलग विदर्भ के मुद्दो को सिरे से नकारते हुए महाराष्ट्र एकसंघ एक राज्य ही रहे, ऐसा उन्होने कहा।

 

नाना पटोले
विधानसभा के कामकाज  सुचारु ढंग से शुरु है। नाना पटोले
विधानसभा के अध्यक्ष नाना पटोले इन्होने सभागृह के कामकाज पर संतोष व्यक्त किया साथ ही विरोधी योके हरकतो पर अपनी प्रतिक्रीया व्यक्त की 

 

दिव्यानी परांडे 
महाविकास आघाडी किसानों का कर्जा कब माफ करेगी - दिव्यानी परांडे
नासिक की विधायक दिव्यानी परांडे इन्होने महाविकास आघाडी के मुख्यमंत्री पर जोरदार तंज कसते हुए कहाः की ये सरकार किसानो को सिर्फ आश्वासन दे रही है। मात्र असल मे कर्जामाफी नही दे रही है।

 

प्रकाश गजभिये
सरकार दिक्षाभूमी को दे 365 करोड-गजभिये 
विधायक प्रकाश गजभिये इन्होने विधान परिषद में दिक्षा भूमी के निधी को लेकर सभापती का ध्यान आकर्षित किया। 365 करोड रुपए दिक्षाभूमी को सरकार जल्द से जल्द दिलवा दे। ऐसी जाणकारी उन्होने इनबीसीएन समक्ष दी। 


अमीत साटम 
ठाकरे सरकार स्थगिती की सरकार है - अमीत साटम  
विपक्ष व्दारा सभागृह के सिढीयो पर आंदोलन कीया गया है। विकासकार्या को और मेट्रो के कार्योको सरकार व्दारा स्थगिती दी जा रही है। विकासकामो पर सरकार व्दारा ऐक लगाई गई है। ऐसा आरोप विपक्ष व्दारा किया गया है। इसी मुद्दे को लेकर बिजेपी विधायक अमित साटम से बातचीत की है। 

 

अबू आझमी 
महाराष्ट्र में CAA और NRC लागु करने से पहले उद्धव ठाकरे से बातचीत करनी होगी और ठाकरे ऐसे लागु करने के लिए सहयोग नहीं करेंगे, जिस कारन हमें डरने की बात नहीं है| और शुक्रिया भी अबू आझमी द्वारा किया गया साथ ही शांति बनाये रखने की अपील की है| 

 

विद्या चव्हाण 
सवकारग्रस्त अधिनियम कानून पर सदन में चर्चा की गई| इस सुधारना कानून से किसानो राहत नहीं मिल रही, ऐसी बात सामने रखने के बाद जयंत पाटिल इन्होने इसमें कठोर पहल की जाये ऐसे निर्देश दिए| इस बात पर सदन के बहार विद्या चव्हाण इन्होने अपनी राय जताई| 
सवकारग्रस्ति कानून पर सदन में चर्चा 
जयंत पाटिल ने दिए कठोर करवाई के निर्देश 
 

रेशीम बाग स्थित का दवाखाना मे तीन दिवसीय बालक की अचानक मौत होने से बालक के परिजनोने हाॅस्पीटल मे बडी शांती से अपनी बात रखत हुये, हाॅस्पीटल के गैरजीम्मेदाराना करतुत की वजह से बच्चे का दहांत हुआ ऐसी बात कही, रात 12 के आसपास दूध पिकर बच्चा सो गया था। मगर सुबह बच्चे की माॅ को बच्चे की कोई हलचल नही दिखी। इस बात की जानकारी डाॅक्टरो को दि गई। जब डाॅक्टरो ने बच्चे का चेक किया तो बच्चा मृत था। डाॅक्टरो के मुताबिक बच्चा 6 घंटे पहले ही गुजर गया था। मगर इसकी जानकारी सुबह मिली ! दौरान इस घंटे मे नवजात बालक के तरफ ध्यान देना डाॅक्टर या अन्य संबंधित व्यक्ती को क्यों उचीत नही लगा! ऐसा सवाल भी परिजनो ने किया। साथ ही इस मामले मे एक गंभीर बात भी सामने आई है। कि किसी भी नवजात बच्चे को माॅ के दूध के सिवाय बाहर का कुछ भी पिने के लिये दिया नही जाता। मगर इस घटना मे बच्चे को पॅकेट के दूध मे शक्कर मिला कर दूध पिलाया गया। इस सारे घटना को लेकर हमने डाॅक्टरो से बात करने की कोशीश की । पर डाॅक्टरो ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। प्रकरण मे हुडदंग मचते देख हाॅस्पीटल प्रशासनने पुलिस को भी बुला लीया गया। आखीर, पुलिस प्रशासन, हाॅस्पीटल प्रशासन और बालक परिजनो मे सामंजस्य से पुलीस के मदत से इस मामले मे परदा कर लीया गया। 

बुलेट ट्रैन वाली नहीं रिक्शा वाली गोर-गरीब की है सरकार-  मुख्यमंत्री 
विपक्ष को मजाकिया अंदाज में दिया करारा जवाब 
ये मेरी नहीं हमारी सरकार है - सीएम 
देश की आर्थिक स्थिति कोमा में - सीएम 

नागपुर शीत सत्र के चौथे दिन सदन में  राज्य पाल अभिभाषण पर मुख्यमंत्री  उद्धव ठाकरे ने विपक्ष की जमकर खिंचाई की ।विपक्ष को प्रमाणों के साथ करारा जवाब देने से उद्धव ठाकरे ने  मुख्यमंत्री होने के नाते जबरदस्त भूमिका निभाते हुए अपने  परिपक्व होने का परिचय दिया ।इस दौरान  विपक्ष  में सन्नटा छा गया था।
उन्होंने  अपने भाषण में सब से पहले कहा कि,  हमारी प्राथमिकता कम बोलना ज्यादा काम करना है विपक्ष की तरह अगला पाठ पिछला सपाट वाला काम नही करेंगे।राज्य सरकार गरीबो की सरकार है तीन चक्के वाली सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि  गरीबो की सरकार है उसे बुलेट ट्रैन की  आवश्यकता नही  उसे ऑटो रिक्शा ही पसंद  है जिसका  सर्व सामान्य जनता उपयोग करती है । इस दौरान उन्होंने 
सन्त गाडगे बाबा स्मृति  दिन का तात्पर्य लेकर  विपक्ष को हड़काया , कहा की धर्म बताने की जगह नहीं  जीने की  है, यह उनका सन्देश है,
।सुधीर मुंगटीवार के भाषण का जवाब देते हुए  कहा कि," सुधीर भाऊ  नका होऊ अधीर आता आमचे सरकार  म्हणून झांले बेकार" मुख्यमंत्री 
उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम  दिए हुए शब्द को पूरा करने के लिए किसी भी स्तर पर जायँगे ।
मुख्यमंत्री बनाने के बयान पर ठाकरे ने कहा कि बाला सहाब को ऐसा शब्द नही दिया था, की बीजेपी के साथ ही  सीएम बनाऊंगा और आगे कहा कि,   जिंदगी भर भजापा के साथ ही रहूंगा ऐसा नही कहा था । 25 वर्ष हम बोझ लेकर चल रहे थे और अब हमने अपना बोझ उतार दिया है ।  चाय से केटली गरम पर कहा कि केतली पोछने वाले कपड़े भी  अब गरम होने लगे है।
सामना  में प्रकाशित खबर का दाखला दिया  जा रहा है।  सामना में प्रधान मंत्री मोदी की भी तारीफ की गयी|

अधिवेशन मे अबतक का सबसे बडी संख्यावाला रहा मोर्चा 
जमाअत ए इस्लामी हिंदू नागपूर एवं भारतीय मुस्लीम परिषद इनके संयुक्त तत्वावधान मे नागरिकता संशोधन कानून को रद्द करणे एवं पाच प्रतिशत मुस्लिम आरक्षण को राज्य मे पुर्नस्थापीत करणे की मांग को लेकर विधान सभा मे दस्तक दी। 

 

नागपूर नागरित्व बील मोर्चा 
नागपूर मे सीएबी-एन आर सी विरोध प्रदर्शन 
भारतीय मुस्लीम परिषद का नेतृत्व 
भारी भिड मे हुआ विरोध प्रदर्शन 
विजय वड्डेटीवार ने आश्वस्थ किया 
कहा, राज्य मे बिल नही होगा लागू 
सीबीए-एनआरसी के खिलाफ मे देश के अलग अलग कोने मे विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। वही नागपूर मे भी शितसत्र का मौका देख भारतीय मुस्लीम परिषद और जमाते इस्लामी हिन्द जैसे संघटन ने साथ साथ सीएबी का विरोध किया ! इस दौरान सरकार की ओर से विजय वडेट्टीवार ने प्रदर्शनकारीयो से  मुलाकात की। और यह बिल राज्य मे लागू नही होगा, ऐसा विश्वास भी दिलाया।

 

शिक्षक समन्वय समिती
शिक्षक समन्वय समितीने रखी अपनी मांग 
विशेष शिक्षक व परिचर को समायोजीत करे 
अपंग समावेशीत विशेष शिक्षक और परिचर समायोजन प्रतिक्षा को लेकर महाराष्ट्र राज्य शिक्षक समन्वय समिती ने अपनी मांग करते हुये, विधान मंडलपर आंदोलन छेडा गया।

 

आम आदमी 
आम आदमी पार्टी ने लगाई गुहार 
किसान, मजदूरो की समस्या दूर करे 
राज्य मे किसान,मजदूर और सामान्य जनता की समस्याओ को लेकर आम आदमी पार्टी ने सरकारी दरवाजे पर दस्तक दी। इस दौरान हमारे संवाददाता ने उनसे बातचीत की।

 

शेतकरी संघटना भंडारा 
खेती मे सिंचाई को लेकर आंदोलन भंडारा के शेतकरी संघटना की मांग 
कचरखेडा उपसा सिंचन तहत धारगाव लाखनी तहसील के सोमलवाडा परिसर के 49 गावों मे लिफट व्दारा खेती मे सिंचाई सुविधा करने की मांग को लेकर भंडारा की राजे छत्रपती शिवाजी महाराज शेतकरी संघटना ने आंदोलन किया। 

जागृक पालकोंने धरणा आंदोलन किया
 और खिंचा सरकार का अपनी ओर  ध्यान 
जागृक पालक समिती व जय जवान जय किसान संगठण की ओर से स्कूल फिस मे हुई वृध्दी और पीअीए का नियमानुसार गठन आदी मांगो को लेकर विधान सभा मे संगठण ने दस्तक दी। इस मौके पर विद्यार्थीयो ने सरकार का ध्यान अपनी ओर खिंचा|

 

कोलीवाली बिजली 
नई सरकार स्थगिती सरकार - विपक्ष 
सरकार के खिलाफ प्रदर्शन 
मुंबई कोलीवाली को मिले बिजली
सभ के चैथे दिन मुम्बई के विधायको ने विधान भवन परिसर मे सरकार सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। मुंबई के कोलीवाली के उपर वाले इलाको मे रहने वाले लोगो को बिजली का मिटर देने की मांग की! इस दौरान उन्होने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर सरकार को स्थगिती सरकार बताया!

सीबीए-एनआरसी के खिलाफ मे देश के अलग अलग कोने मे विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। वही नागपूर मे भी शितसत्र का मौका देख भारतीय मुस्लीम परिषद और जमाते इस्लामी हिन्द जैसे संघटन ने साथ साथ सीएबी का विरोध किया ! इस दौरान सरकार की ओर से विजय वडेट्टीवार ने प्रदर्शनकारीयो से  मुलाकात की। और यह बिल राज्य मे लागू नही होगा, ऐसा विश्वास भी दिलाया।

फडणवीस  
विपक्ष ने किया सभात्याग 
फडणवीस ने कहा, मुख्यमंत्री का अभिभाषण कुछ भी स्पष्ट नहीं 
विधानसभा में राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पूर्व सरकार पर निशाना साधते हुए कई गलतिया गिनाई| जिसके बाद विपक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस ने नई सरकार पर तंज कसते हुए सभात्याग किया| सभात्याग के बाद उन्होंने सदन के बहार मिडिया से रूबरू हुए| 

 

फडणवीस पर किया आरोप 
जितेंद्र आव्हाड ने वीयपक्ष पर साधा निशान 
1  जनवरी को किसान मुक्ति एलान- आव्हाड
राष्ट्रवादी के विधायक जितेंद्र आव्हाड इन्होने विपक्ष पर सीधा निशाना साधते हुए, जमकर तंज कसा| उन्होंने देवेंद्र फडणवीस पर आरोप किये है| साथ ही उन्होंने कहा की 9 जनवरी को किसानो को कर्जमुक्ति का जाहिर किया जायेगा|

 

काॅमन मिनीमम प्रोग्राम मे रखेंगे मुद्दा वड्डेटीवार 
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के विधायक तथा पार्टी के वरिष्ठ नेता विजय वड्डेटीवार इन्होने मुस्लीम आरक्षण किसानो का कर्जा तथा विपक्षव्दारा की जा रही राजनिती आदी के बारे मे उन्होने बातचीत की ।

 

अजित पवार
शितसत्र के चैथे दिन महाआघाडी की बैठक होणे जा रही है। बैठक मे कीसान कर्ज माफी, नागरिकत्व बिल,जैसे विषयो पर चर्चा होगी, इस बात की जानकारी अजित पवार इन्होने दीे। 

 

प्रविण दरेकर
विधान परिषद विरोधी पक्ष नेता शितसत्र के चैथे दिन विधान परिषद मे विविध विषय सभागृह मे रखे, इस बात की जानकारी,प्रविण दरेकर इन्होने दी।

 

सुधीर मुनगंटीवार 
देशहीत मे है नागरीकत्व बिल-मुनगंटीवार 
नागरीकत्व बिल पर सत्तापक्ष का विरोध 
राज्य मे लागू ना हो बिल- सत्तापक्ष
नागरीकत्व सुधारना कानून को सत्तापक्ष व्दारा जमकर विरोध किया जा रहा है। राज्य मे यह कानून लागू ना हो, ऐसी मांग भी सत्तापक्ष की है। इस बारे मे भाजपा विधायक सुधीर मंुनंगटीवार इन्होने इनबीसीएन से बात की। 

 

नारायण कोचे 
नागपूर मुंबई समृध्दी मार्ग को बाबासाहब का नाम दो 
भाजपा विधायक नारायण कोचे की मांग 
नागपूर से मुंबई समृध्दी महामार्ग को डाॅ. बाबासाहब आंबेडकर का नाम दिया जाये। ऐसी मांग भाजपा विधायक नारायण कोचे इन्होने की है। 

 

शरद पवार 
राष्ट्रवादी अल्पसंख्यांक जुट के विद्रोही के घर शरद पवार 
करीब आधा घंटा बिताकर वार्तालाप की 
शितसत्र के दौरान आये राष्ट्रवादी के सर्वेसर्वा शरद पवार इन्होने, राष्ट्रवादी अल्पसंख्यांक गुट के शब्बीर विद्रोही के घर पवार ने करीब आधा घंटा बिताकर उनसे वार्तालाप किया। 

 

मनीषा चौधरी                            

देश मे महिलाओ पर बढ़ते अत्याचारो के खिलाफ सरकार क्या सख्त कदम उठाएगी इसपर महिला विधायक मनीषा चौधरी ने जानकारी दी । साथ ही सदन में इस गंभीर मुद्दे पर विधानसभा अध्यक्ष के सामने अपनी बात रखने का बताया।

 

 रामटेक  विधानसभा क्षेत्र विधायक आशीष जैसवाल                                                  

 रामटेक विधानसभा क्षेत्र के विधायक एडवोकेट आशीष जैस्वाल ने सदन के परिसर में युवाओं को रोजगार देने के लिए अग्रसर रहने की बात कही। इस दौरान उन्होंने बताया कि क्षेत्र के युवाओं को रोजगार दिलाना ही उनका उद्देश्य है। इसलिए वो सदन में युवा रोजगार का मुद्दा रखेंगे। 

 

आशिष जयस्वाल
युवाओ को मिले रोजगार - जयस्वाल 
रोजगार दिलाना प्रमुख उद्देश 
रामटेक विधानसभा क्षेत्र के विधाय एॅड. आशिष जयस्वाल ने सदन के परिसर मे युवाओ को रोजगार देने के लिये अग्रसर रहने की बात कही! इसा दौरान उन्होने बताया की क्षेत्र के युवाओ को रोजगार दिलाना ही उनका उद्देश है। इस बारे मे उन्होने हमारी संवाददाता एकता गहरवार से बात की।

 

कोलीवाली बिजली 
नई सरकार स्थगिती सरकार - विपक्ष 
सरकार के खिलाफ प्रदर्शन 
मुंबई कोलीवाली को मिले बिजली
सभा के चौथे दिन मुम्बई के विधायको ने विधान भवन परिसर मे सरकार सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। मुंबई के कोलीवाली के उपर वाले इलाको मे रहने वाले लोगो को बिजली का मिटर देने की मांग की| इस दौरान उन्होने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर सरकार को स्थगिती सरकार बताया|

 

विनायक मेटे
सरकार की तीजोरी है खाली- विनायक मेटे 
मराठा आरक्षण के संदर्भ मे सर्वोच्च न्यायलयाने सरकार की भूमीका रखने वाले वरिष्ठ विधीस मुकुल रोहत ही इन्हे, सरकार द्वारा इस केस से हटाया गया है। जिसका कारण सरकार के पास उन

      सदन में चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने नागरिकता बिल को असवैधानिक कहा। जिसके बाद सदन में विपक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस समेत अन्य नेता हंगामा करने लगे। इस दौरान फडणवीस ने कहा की जो न्यायलय लागु करेंगा वही राज्य में लागु होगा और आप इस तरह बिल को असवैधानिक नहीं कह सकते। जिसके बाद विपक्ष के सारे विधायक वेल में आकर अध्यक्ष के सामने आकर प्रदर्शन करने लगे। अध्यक्ष ने बार बार संयम रखने की बात कही लेकिन विधायकों की " सविधान का अपमान नहीं सहेंगा हिंदुस्तान " ऐसी  नारेबाजी जारी थी जिसके चलते अध्यक्ष ने सदन का कामकाज 11  बजकर 47  मिनट पर तहकूब कर दिया। 11  बजकर 57 मिनट पर तालिका अध्यक्ष यशोमति ठाकुर द्वारा सदन में आते ही हंगामा विपक्ष ने हंगामा शुरू किया इसलिए तालिका अध्यक्ष ने कामकाज 10 मिनट के लिए तहकूब कर दी। जिसके बाद 12 बजकर 7 मिनट पर सदन का कामकाज फिरसे शुरू किया गया। इस दौरान अध्यक्ष ने कानून की असवैधानिक न बोले  ऐसे निर्देश दिए ।

बुधवार को विधान सभा कामकाज के दौरान अक्कलकोट के विधायक कल्याण शेट्टी ने आमदार निवास में ठहरे विधायकों की सुरक्षा का सवाल उठाया । उन्होंने कहा मंगलवार रातमे शराब के नशे में 3 अज्ञात लोगो ने उनका दरवाजा खटखटाया और शराब पिने के लिए पैसे मांगे । लेकिन विधायक द्वारा दाट-दपट करने पर वो तीनो विधायक पर चढ़ गए । जिसके बाद विधायक ने पुलिस कर्मचारियों को आवाज लगाई लेकिन वह कोई नहीं आया ,उन्होंने बाहर जाने पर देखा तो पुलिस कर्मी सो रहे थे । इस बात को विधानसभा अध्यक्ष ने गंभीरता से लेकर कार्रवाई करने के आदेश दिए । जिसके बाद सदन में बेलापुर की विधायक मंदा म्हात्रे ने भी सुरक्षा पर सवाल उठाये ।उन्होंने उनके साथ भी एक दिन पहले  ऐसा ही वाकया होने की बात कही । इस दौरान दोनों विधायकों की बात को  गंभीरता से लेकर कार्रवाई करने के आदेश विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले ने दिए ।

नागपुर शीत सत्र के तीसरे दिन बुधवार को विपक्ष ने सदन का कामकाज शुरू होने से पहले सीढियो पर किसानों के मुद्दे को लेकर नारेबाजी की और प्रदर्शन किया। 11 बजे विधानसभा का कामकाज शुरू होने के बाद अध्यक्ष नाना पटोले के आते ही विपक्ष ने  मंगलवार रातको महापौर संदीप जोशी पर हुई गोलीबारी प्रकरण  में कामकाज स्थगित करने की मांग की। उन्होंने कहा की अधिवेशन के दौरान प्रथम नागरिक पर जानलेवा हमला होना यह सरकार की असफलता है ।विषय गंभीर है इसलिए इसपर चर्चा होनी चाहिए  और हंगामा शुरू किया जिसके बाद  अध्यक्ष ने 11  बजकर 2 मिनट पर सदन का कामकाज   5 मिनट के लिए  तहकूब किया। जिसके बाद 11 बजकर 7  मिनट पर सदन का कामकाज शुरू किया गया। भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार ने मंगलवार रातमे महापौर  के वाहन पर 2 अज्ञात बाइक सवार द्वारा पर गोलिया चलाकर किये गए| जानलेवा हमले की जानकारी अध्यक्ष नाना पटोले को दी साथ ही इस मामले को गंभीरता से लेकर सदन का कामकाज स्थगित करने की मांग की। जिसपर अध्यक्ष ने इस प्रकरण की गंभीरता देखते हुए सरकार को जांच करने के आदेश दिए और स्थगन प्रस्ताव को नामंजूर किया| 

शितसत्र का तिसरा दिन भी आक्रमक 
किसानो 25 हजार मुआवजा दो-विपक्ष
शितसत्र के तिसरे दिन भी विपक्ष आक्रमक दिखाई दिया। सभागृह के सिडीओ पर विपक्षव्दारा आंदोलन किया गया। किसानो के मुआवजे को लेकर विपक्ष ने 25 हजार को मुआवजा दिया जाये ऐसी मांग सदन के बाहर की।

विधायक रवी राणा की अलग मांग
किसानो के लिये हेक्टरी 30 हजार दो-राणा
युवा स्वाभिमानी पार्टी के विधायक रवी राणा इन्होने किसानो को हेक्टरी 30 हजार मुआवजा देने की मांग की है।

नाना पटोले 
राज्य के हर जिले मे होगा राहत कोष 
मुख्यमंत्री राहत कोष जी आर जारी 
राज्य के जिले मे मुख्यमंत्री राहत कोष कार्यालय शुरु करने के संकेत नाना पटोले इन्होने दी। इस संबंध मे जी आर जारी किया गया है। 

एमआयएम 
एमआयएम विधायक व्दारा सीएबी और एनसीआर का निषेध किया गया। सदन के बाहर सिढीयो मे बैठकर उनके विधायको ने बैनर लेकर अपनी मंाग रखी । राज्य मे एनसीआर और सीएबी जैसे निर्णय को लेकर उन्होने हरकत जताई है।

रविराणा 
विधायक रवि राणा की अलग मांग 
किसानो के लिये हेक्टरी 30 हजार दो-राणा
युवा स्वाभिमानी पार्टी के विधायक रवीराणा इन्होने किसानो को हेक्टरी 30 हजार मुआवजा देने की मांग की है। 

अनिल सोले 
महापौर हमले पर अनिल सोले ने जताया डर 
शहर का प्रथम नागरिक सुरक्षित नही 
सामान्य जनता सुरक्षित है?
नागपूर महानगर पालिका के महापौर संदिप जोशी पर बिती रात 12 बजे के आस पास जानलेवा हमला किया गया। इस हमले मे महापौर गाडी पर गोलीबार हुआ मगर इस हमले मे महापौर और उनका परिवार बालबाल बचा है। इस बारे मे हमने अनिल सोले से बात की।

कई मुद्दो को लेकर करना है कार्यः धीरज देशमुख
नवनिर्वाचीत विधायक धीरज देशमुख इनसे कई मुद्दो पर खास बातचित की है।

फडणवीस सरकार के कार्यकाल मे हुये भ्रष्टाचार: अनिल गोटे 
पूर्व विधायक अनिल गोटे द्वारा फडणवीस सरकार के नेतृत्व में भ्रष्टाचार और गैरव्यवहार होने की बात कही गई है। गोटे ने कहा के फडणवीस सरकार के पाच के नेतृत्व में भ्रष्टाचार मुक्त महाराष्ट्र नही हुआ है।

   अब राज्य के हर जिले में मुख्यमंत्री  राहत कोष का कार्यालय रहेगा। इस संबंध में जीआर जारी होने की जानकारी उन्होंने दी। पटोले ने बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की काम करने की गति काफी तेज है। हमने नागपुर में सीएम राहत कोष शुरू करने को कहा था, लेकिन मुख्यमंत्री ने राज्य के हर जिले में सीएम राहत कोष शुरू करने संबंधी जीआर जारी किया। इसलिए उन्हें  एक अवसर के साथ चेतावनी दी। इसके बाद हंगामा करने पर सस्पेंड किया जा सकता है। यह महाराष्ट्र है। इस तरह का बर्ताव या हंगामा करने की महाराष्ट्र की संस्कृति नहीं है। सत्तापक्ष व विपक्ष में तालमेल बिठाकर नियमानुसार अच्छी तरह सदन का कामकाज चले, यह मेरी भूमिका है। विधानसभा का कामकाज सुचारु रूप से चलेगा ऐसी उम्मीद है। 


- शहर में विधानसभा सत्र चल रहा है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। ऐसे में देर रात महापौर संदीप जोशी की कार पर अज्ञात हमलावरों ने बंदूक से जानलेवा हमला कर दिया। घटना मंगलवार देर रात करीब 12 बजे वर्धा रोड पर एम्प्रेस पैलेस के पास हुई। हालंाकि घटना में महापौर बाल-बाल बच गए। बताया जाता है, महापौर परिवार के साथ किसी काम से गए थे। लौटते समय अज्ञात बदमाशों ने उनकी कार पर तीन राउंड फायर किया। इसके बाद बदमाश फरार हो गए।
घटना के बाद महापौर का परिवार का दहशत में है। पुलिस ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बता दें कि 4 दिसंबर को महापौर को धमकी भरा पत्र भी मिला था, जिसमें जान से मारने की धमकी दी गई थी। इसकी शिकायत भी सदर थाने में की गई थी। खास है कि पदभार संभालते ही महापौर अतिक्रमण के खिलाफ लगातार मुहिम चला रहे हैं। शायद ये कार्रवाई कुछ लोगों को पसंद नहीं आ रही। 

 

उध्दव ठाकरे 
सरकार वचन के लिये कटीबध्द -मुख्यमंत्री
किसानो को दिया बचन पुरा करेंगे 
मुआवजे को बाध्य किया, विपक्ष ढिढोंरा ना पिटे
किसानो को दिया हुआ वादा हम पुर्ण करेंगे। वादा पूर्ती के लिए सरकार कटी बध्द। पर विपक्ष ने किसान मुआवजे के लिये। हमने बाध्य किया, ऐसा ढिंढोरा ना पिटने की बात मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे इन्होने सभागृह के बाहर मिडीया के सामने रखी। 

 

किसानो को 25 हजार हेक्ट्री आवजा की मांग 

शितसत्र के दुसरे दिन भी, विरोधी पक्ष आक्रमक दिखाई दिया। किसानो को हेक्ट्री 25 हजार मुआवजा देने की मांग विपक्ष से की गई। सदन  की कार्यवाही  शुरू होते  ही विपक्ष  नेता देवेंद्र फडणवीस ने  नियम  57के तहत  मुख्यमंत्री  ने   किसानो  को दिये 25हजार  रूपये हेक्टरी  भाव  देने की मांग  की| यह घोषणा  जबतक  सरकार नही करती  तबतक  सदन की कार्यवाही  नही चलने दी जायेगी| यह कहते  ही सदन में  विपक्ष के विधायक  नारेबाजी  करते, तथा बैनर  दिखाते  सदन के वेल  में  पहूंचे  विधानसभा  अध्यक्ष  ने  बैनर ना दिखाने  के सुचना  देने के बाद भी विधायक  बैनर दिखाते रहे| अब अध्यक्ष  ने  फलक  झलकाने  वाले  विधायको  के नाम लिखने  की सुचना अध्यक्ष ने दी| इस अवसर  पर सत्ता  दल तथा विपक्ष  में  एक दुसरे के विरोध  मे  जमकर नारेबाजी के बीच सदन का कामकाज  30 मिनीट  के लिये सभागृह का कामकाज स्थगित  किया गया| 

 

महाविकास आघाडी की बैठक शिवसेना कक्ष मे 
विरोधी पक्ष ने भी ली बैठक
शितसत्र के दुसरे दिन महाविकास आघाडी की बैठक हुई। यह बैठक शिवसेना कक्ष मे हुई। वही दुसरी और विपक्ष व्दारा भी बैठक लि गई।
 

शितसत्र के दुसरे दिन भी विपक्ष आक्रमक 
किसानो को 25 हजार हेक्ट्री आवजा की मांग 
शितसत्र के दुसरे दिन भी, विरोधी पक्ष आक्रमक दिखाई दिया। किसानो को हेक्ट्री 25 हजार मुआवजा देने की मांग विपक्ष से की गई। इस वक्त भाजपा विधायक गिरीश महाजन इनसे की गई खास बातचीत पेश है। 
 

प्रविण दरेकर 
विपक्ष नेता प्रविण दरेकर की किसानो के लिये मांग
25 हजार हेक्ट्री मदत होत-दरेकर 
भाजपा विधायक प्रविण दरेकर इनकी विधान परिषद पर नियुक्त होने के बाद शितसत्र के दुसरे दिन किसानो के लिए 25 हजार रु. हेक्ट्री मुआवजा मिले ऐसी चर्चा सभागृह मे हो ऐसी मांग की है। 
 

विपक्ष का दुसरे दिन जोरदार हंगामा 
विपक्ष की किसानो के लिये 25 हजार हेक्ट्री मांग 
हंगामे के बाद विधान सभा कल तक स्थगीत 
शितसत्र के दुसरे दिन भी विपक्ष ने विधान सभा मे हंगामा करते हुये, आक्रमकता दिखाई। बेमौसम बारीश से किसानो को हुये नुकसान के लिये 25 हजार मुवाअजा मिले। ऐसी मांग को लेकर जोरदार आक्रमण किया। जिसके बाद विधान सभा कल तक स्थगित किया गया। 
 

संजय गायकवाड 
सभागृह मे विपक्ष का जमकर हंगामा 
सेना व भाजपा आमने सामने 
सेना विधायक संजय गायकवाड इन्होने विधानसभा सभागृह मे असभ्य वर्तन करते हुये, विरोधी पक्ष के हातोसे बॅनर छिनकर फाड दिया। 
 

अभिमन्यु पवार 
सेना- भाजपा आमने सामने
बॅनर को लेकर सेना झपटी 
संजय गायकवाड -अभिमन्यू पवार आमने सामने 
विरोधी पक्ष के व्दारा किसानो की मांग को लेकर सभागृह मे बॅनर बाजी की गई। उसी दौरान सेना विधायक संजय गायकवाड व्दारा बॅन छिना गया था। इसी मुद्दे को लेकर भाजपा विधायक अभिमन्यु पवार ने इनबीसीएन से बातचीत की।

 

संजय राउत 
सामना पढ़ते तो भाजपा सत्ता में रहते 
सामना पढ़ने के लिए भाजपा विपक्ष में आये- संजय राउत 
शिवसेना मुखपृष्ठ सामना पढ़ने के लिए भाजपा को विपक्ष में आना होगा| अगर पहले से सामना पढ़ा रहता तो भाजपा आज सत्ता में रहती, ऐसा बयान मिडिया के सामने संजय राउत इन्होने दिया|

 

बच्चु कडू
बच्चु कडू से खास बातचीत 
शितसत्र के दुसरे दिन विपक्ष व्दारा सभागृह के बाहर जमकर हंगामा मचाया गया। इस दौरान बच्चू ने अपनी बात रखी।

 

 

सर्व शिक्षा अभियान- सर्व शिक्षा अभियान करार कर्मचारी कृती समीती द्वारा शितसत्र के पहले दिन ही विधान भवन पर मोर्चा निकाला गया। जिसमे समग्र शिक्षा योजना करार के तहत कर्मचारीयों को शासन सेवा मे समावेश करने की मांग की गई है। जल्द से जल्द मांग पूरी न होने पर तीव्र आंदोलन का इशारा दिया है। विदर्भ कोतवाल संघ का विधानभवन पर मोर्चा- महाराष्ट्र राज्य महसूल विभाग के कोतवाल कर्मचारीयो ने चतुर्थ श्रेणी का दर्जा प्राप्त करने हेतू विधान भवन पर मोर्चा निकाला। कोतवाल संघने अपनी मांग ज्ञापन मे स्पष्ट की है। उन्होने नागरी सेवाओ संदर्भ जोडते हुये मांग सामने रखी। अगर मांग मंजूर ना की गई तो बेमुदत ठिया आंदोलन करने का इशारा विदर्भ कोतवाल संघने दिया। हिंगणघाट मोर्चा- राष्ट्रीय मिल मजदूर संघ ने की मांग, मोहता इंडस्ट्रि के मजदूरो का रवैया सुधारे राष्ट्रीय मिल मजदूर संघ हिंगणघाट की और से मोहता इंडस्ट्रि के मजदूरो को लेकर जो रवैया है। उस और ध्यायनाकर्षीत हुये सरकार को मदत की गुहार लगाई। साथ संघटना की ओर से ज्ञापन सौंपकर अपनी मांग रखी। महाराष्ट्र राज्य कोतवाल- महाराष्ट्र राज्य कोतवाल संयुक्त संघर्ष समिती द्वारा लक्षवेधी आंदोलन कीया गया है। जिसमें कोतवालों ने चतुर्थ श्रेणी का दर्जा देणे कि मांग की गई, महाराष्ट्र राज्य कोतवाल संयुक्त संघर्ष समिती के अध्यक्ष उत्तमराव गवई के नेतृत्व मे मोर्चा निकाला गया। जितेन्द्र अव्हाड- राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता जींतेद्र आव्हाड ने शीतसत्र के पहले दीन विधान भवन परिसर मे भाजपा सरकार पर कई मुद्दो को लेकर निशाना लगाया।

नागपुर राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता जीतेन्द्र आव्हाड ने शीत सत्र के पहले दिन विधान भवन परिसर में  भाजपा सरकार पर कई मुद्दों को लेकर निशाना साधा । इस दौरान उन्होंने कहा की उन्नाव में हमारी बेटी से बलात्कार कर उसे जला दिया गया ,हैदराबाद में वेटरनिटी महिला डॉक्टर से दुष्कर्म कर उसे भी जिन्दा जला दिया गया , फिर भी मोदी सरकार चुप बैठी रही। मोदी सरकार के राज में हर 3 घंटे में बलात्कार की घटनाये होती है  फिर भी सरकार मौन है ऐसा आरोप भी एनसीपी विधायक जीतेन्द्र आव्हाड ने लगाया । एनआरसी और  नागरिकता बिल को लेकर पुरे भारत में उग्र प्रदर्शन शुरू है फिर भी सरकार चुप्पी साधे बैठी है । एक तरफ महंगाई आसमान छू रही है और अर्थव्यवस्था की हालत दिन पर दिन खराब होती जा रही है ,ऐसा ही रहा तो देश डूब जाएगा। वही दूसरी और जनता के मोबाइल और सोशल मिडिया के सारे खातों पर  सरकार की नजर रहेंगी  मतलब सरकार को फेसबुक ,ट्विटर,व्हाट्स ऍप, इंस्ट्राग्राम  जैसे पर्सनल अकाउंट की जानकारी रहेंगी ।हमारी प्रायवेसी जो है वो हैक की जाएँगी ।ये करकर सरकार ने डॉ बाबासाहब आंबेडकर के सविधान में दिए गए कुछ अधिकारों पर धावा बोल दिया है ।और मै नहीं चाहूंगा की मेरे जो  भाई- बहन है जो  अपने जीवन की शुरुवात कर रहे है उनकी कोई भी पर्सनल बात सरकार तक पहुंचे। दिल्ली  रेप ऑफ कैपिटल है वहा हर मिनिट में महिलाओ पर अत्याचार होते है फिर भी मोदी जी चुप है ।और इस तरह चुप रहने का मोदी सरकार ने नाटक रचा है । 

गणेश टेकडी मंदीर का निर्माण कार्य शुरु है। जहा कुछ धांदलीयाॅ हो रही है। ऐसी जानकारी पत्रपरिषद द्वारा गणेश टेकडी मंदीर के विश्वस्तो द्वारा दी गई है। गणेश मंदीर टेकडी का निर्माण कार्य प्रगती पथ पर है। इस निर्माण कार्य में धांदलीया हो रही है। जिस कारण गुरुवार को विश्वस्तो द्वारा पत्रपरिषद ली गई है। विश्वस्तो का कहना है। मंदीर में लगे हुए सी.सी.टी.व्ही रंगीन कॅमेरे का नादुरुस्त और कृष्णधवल बताकर बदले गये है। नियीमत सभा में निवीदा निकालकर कॅमेरे खरेदी करना ऐसा ठराव पास किया। 4.92 लाख रुपये का खरेदी व्यवहार किया लेकिन टेंडर प्रक्रीया न करते हुए कोटेशन व्दारा खरेदी की गयी । जो अनुचित है, मंदिर मे स्टेनलेस स्टील की रेलींग की गई लेकिन इस 6.50 लाख रुपये का माल भी टेंडर न निकालकर कोटेशन व्दारा माल खरीदा गया। जो कानुनी रुप से गलत है। मोहगांव झिल्पी की 4.85 एकर जमीन दान में मिली। उस जमीन पर निवीदा निकालकर काम करना है। ऐसा ठराव पास होने के बाद भी डायरेक्ट लाखों रुपयों का खर्चा किया गया। मंदीर के मा. सभासदों को पुरी बस भरकर ले जाया गया। किसी भी सभासदों को इस जमीन पर खर्चा करना उचित नही लगा। पाच सभासदों की कमेटी की गई। उनके व्दारा भी इस काम को आगे नहीं करना चाहीए ऐसा अभिप्राय होने के बावजूद भी इस जमीन पर लाखो रुपये खर्च किए गये। एक बोरवेल में पानी नही लगने के बावजूद भी दुसरा बोरवेल 600 फिट गहरा, खर्च रु.1,55000/- अक्षरी एक लाख पच्चपन हजार रुपये सिर्फ किया। उचित प्रमाण में पाणी नही होने पर भी वहाॅ रु.3,56,000/- अक्षरी रुपये तीन लाख छप्पन हजार सिर्फ सोलर पंप के लिए खर्च किया। सरकार व्दारा सोलर पंप फ्री में लेकर दिखाते ऐसा समझाने पर भी नही सुना गया। आज उस मुरुम और पत्थर वाली जमीन पर, वहा जाने के लिए रास्ता भी वनविभाग की जमीन से जाना पडता है। वहा नक्षत्र वन,बर्ड पार्क की योजना बनाई जाती है। जो लाखो रुपये के खर्च के बावजूद कुछ भी दिखाई नही देता है। डिंफेन्स इस्ट आॅफिस, मुंबई व्दारा श्री कुलकर्णी साहब को बुलाया है। ऐसा बताकर विमान व्दारा एक ही दिन में जाना और आना करा कर मंदीर के रुपया खर्च किये। डिफेंन्स व्दारा कभी भी बुलाया नही जाता यह निजी यात्रा मंदीर की रक्कम से खर्च की गये स्पष्ट है। ऐसा विश्वस्त लखीचंद ढोबळे व्दारा पत्र परिषद दरम्यान

शताब्दी नगर चौक स्थित भीम नगर मे मनपा की मराठी स्कूल है। यह स्कुल 20 साल पुरानी हैं। मगर फिलहाल बंद है। इस बंद स्कुल को फिर से गरीब तपके के बच्चो के लिये शुरु करने के लिये शुरु करने के लिए सरकारी स्कुल बचाव कृती समिती की ओर से मांग करते हुये। चिपको आंदोलन किया गया। इस आंदोलन मे परिसर के स्लम बच्चो समेत उनके माता पिता ने भी हिस्सा लिया था। स्कुल की इमारत भले 30 साल पुरानी हो, पर अभी भी यहा स्कुल चलाई जा सकती है। लेकीन मनपा का धोरण सरकारी स्कुल बंद करके प्राईव्हेट स्कुल चलाना है। ऐसा आरोप भी आंदोलन के समय किया गया। फिलहाल इस सरकारी स्कुल को बंद करके यहा पर मनपा कर्मचारी बैठते है। एक तरीके से तक्रार निवारण केंद्रा बना दिया गया। कृती समिती की ओर से बारबार शिकायत करने के बावजूद किसी ने एक नही सुनी। स्कुल शुरु करने के लिए कृती समितीने करीब 300 बच्चे लाकर दिये। फिर भी किसीने सुद नही ली। वैसे तो स्कुल वह जगह है, जहा पढाई लिखाई के बाद व्यक्ती इंसान बनकर उभरता है। मगर आज सरकारी रवैये से स्कुलो का नुकसान हो रहा है। साथ ही बच्चो का भविष्य भी अंधकारमय होता दिख रहा है। ऐसे मे सरकारी स्कुल बचाव कृती समिती का यह अभियान सराहनीय है|

नागपुरः गिट्टीखदान पुलिस स्टेशन अंतर्गत कुछ लोगो ने मिलकर चैकीदार की पिटाई कर जबरदस्ती से जमीन पर अपन कब्जा कर लिया। इस घटना में शिकायत के आधार पर पुलिस ने 7 लोगो के खिलाफ मामला दर्ज किया है। जानकारी के अनुसार गिट्टीखदान पुलिस स्टेशन अंतर्गत प्लाॅट नं.573,कसाबपुरा,मोमिनपुरा निवासी फरियादी मिर्जा सलीम बेग की मालकी की जमीन गोरेवाडा, वाॅटर पंप के सामने है। यशोधरानगर निवासी आरोपी शहनबाज इस्माइल खान, मोमिनपुरा निवासी मोहम्मद शकील जाकिर हुसैन शेख, वसीम अंसारी सलीम अंसारी, जाफर नगर निवासी मोहम्मद कादिर मोहम्मद वकील खान, नवा बाजार कामठी निवासी मोहम्मद सादिक वकील अहमद, जाफर नगर निवासी मोहम्मद रिजवान मोहम्मद सुभान, फिरोज उर्फ बबलू अंसारी व 2 अज्ञात लोगों ने मिलकर मिर्जा तारिक बेग की जमीन पर लगे गेट का ताला तोडकर अतिक्रमण किंवा इतना ही नही यहां पर तैनात सुरक्षा गार्ड से मारपीट कर जान से मारने की धमकी दी, घटना की शिकायत पुलिस में की गई। पुलिस ने धारा 24,143,147,149,336,447,506-ब भादंवि के तहत मामला दर्ज किया।

नागपुर- यात्रियों की यात्रा सुविधा एवं प्रतीक्षा सूची को ध्यान में रखते हुए रेल प्रशासन ने गाडी संख्या 02032 नागपुर-पुणे के बीच केवल दो फेरी साप्ताहिक सुपर फास्ट स्पेशल ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है। 02032 नागपुर-पुणे साप्ताहिक सुपरफास्ट विशेष ट्रेन नागपुर से 25 दिसंबर 2019 एवं 1 जनवरी 2020 को कुल 2 फेरिवां प्रत्येक बुधवार को 19.40 बजे प्रस्थान कर वर्धा आगमन 20.51 प्रस्थान 20.53,बडनेरा आगमन 22.23 प्रस्थान 22.35, अकोला आगमन 23.38 प्रस्थान 23.40, भुसावल दूसरे दिन गुरुवार आगमन 01.55 प्रस्थान 02.00, मनमाड आगमन 04.40 प्रस्थान एवं पुणे आगमन 11.45 बजे होगा। संरचना: कुल 20 कोच जिसमें 1 व्दितीय वातानुकूलित 5 तृतीय वातानुकूलित,08 शयनबाग 4 व्दितीय साधारण एवं 2 एसएलआर|

नागपुर महानगर पालीका के स्थायी समिती की सभा मंगलवार को सिव्हील लाईन स्थीत मुख्यालय के डाॅ. पंजाबराव देशमुख स्मृती सभागृह मे संपन्न हुई। मंगलवार को हुई इस सभा मे समिती की और 22 करोड 53 लाख 10 हजार 149 रुपये के प्रस्ताव को मंजुरी दी गई। इनमे बारीश मे डाबरी रस्तो पर होणे वाले गठ्ठो को बंद करणे के नई मशीन के प्रसताव को मंजुरी दी गई। ये मशीन बारीश के मौसमे में भी गठ्ठो को बंद करणे का काम करेगी, इसके साथ शहर के लता मंगेशकर उदयान के सौदर्यीकरण के प्रस्ताव को भी मंजूरी सभा मे दी गई। बारीश के मौसम मे जनता के घरो के कुए मे दुषित पाणी की समस्या आती है। इस समस्या के निवारण के लिए मनपा ने नई मशीन खरीद रहे है। ये मशीन ऐसी समस्या आने पर काम आने पर सक्षम रहने की बात स्थायी समिती अध्यक्ष प्रदीप पोहाणे इन्होने पत्र परीषद मे दी, ये मशीन एक गाडीव्दारा संचालीत की जाएगी और झोन स्थर पर कार्यवीत किया जाएगा। ये काम अग्नीशामक विभागव्दारा संचालीत किया जाएगा। पोहाने ने बताया की इस काम के लिए 4 व्यक्ती की जरुरत लगेगी, मगर पहीले से ही अग्नीशामक विभाग कर्मचारी की कमी ऐसे मे इस प्रस्ताव को मंजुरी देणे से पहीले, कर्मचारीयों के बारे में नही सोचा गया, स्थायी समिती अध्यक्ष का कहना है की झोन से ही 4 कर्मचारीयों को प्ररिक्षण देकर उसे काम चलाया जाएगा स्थायी समीती के मंगलवार को हुई इस सभा मे छत्तीसगढी लोक महोत्सव पर 38 लाख 80 हजार रुपये खर्च किए। जा रहे है। मनपा की पहले ही आर्थिक स्थीती खराब है। ऐसे मे लाखों रुपये खर्च करना कितना जायज है। मनपा मे अब महोत्सव लेना रित सी बन गई है। पुर्व स्थायी समिती अध्यक्ष विरेंद्र कुकरेजा इन्होने भी अपने मतदार क्षेत्र में भी संास्कृतीत महोत्सव का आयोजन किया और अब विदयामान स्थायी समिती अध्यक्ष प्रदीप पोहाने इन्होने भी अपने मतदार क्षेत्र मे सांस्कृतीक महोत्सव का आयोजन किया है।

शहर मे सुगंधीत तंबाखू और गुटके पर पाबंदी होने के बावजूद चोरी छिपे जहरीले पदार्थ शहर मे पोहच रहे है। सोमवार रात अन्न व औषध प्रशासन विभाग ने ऐसे ही एक मामले की पोल खोलकर करीब 3 लाख 5 हजार किमत का अमली पदार्थ जप्त किया है। जिसमे सुगंधित तंबाखू बागवान, जनम तंबाखू और विमल गुटखा पाया गया। यह कारवाई अन्न व औषध प्रशासन के सह आयुक्त चंद्रकांत पवार इनकी निगरानी मे किया गया। कारवाई मे झाइलो कंपनी की कार भी जप्त कि गई है। जिसकी किमत ढाई लाख बताई जा रही है। वही वाहन चालक को भी धर दबोचा है। हालांकी जप्त किया गया माल कहा से आया, कहा जा रहा था। इसकी पुक्ता जानकारी प्रशासन को नही मिली है। पर पाटणसावंगी टोल नाके के पास हुई कार्रवाई के बाद अंदाज लगाया जा सकता है। की ये अमली पदार्थ शहर मे कहा से पोहच रहे है। कैसे पोहच रहे है। प्रशासन की जानकारी अनुसार बार बार जगह बदलकर माल का कारोबार बढते जा रहा है। मगर अन्न प्रशासन के कठोर कार्रवाई से इस बढते कारोबार पर तंज कसी हुई है। फिलहाल इस मामले मे राकेश सुरेश वाही नामक वाहन चालक को गिरप्तार कर लिया गया है। साथ माले के तह तक जाने के लिये अन्न प्रशासन ने कमर कसी है।

नागपुरः हप्ता वसूली, धमकी के साथ साथ महाठग, भुमाफीया संतोष आंबेकर का पाप का घडा भरने बाद उसे जैल की सलाखो के पिछे डाल दिया गया। पर अभी भी उसके काले कारनामे सामने आ रहे है। फिलहाल पोक्सों का एक और मामला सामने आया है। जिसमे संतोष आंबेकर की काली करतूत सामने आयी है। इस मामले मे अंाबेकर के एक साथी को भी क्राईम ब्रांच ने धर दबोचा है। लक्ष्मी चैक से जानेवाले आठ रस्ता चैक के बिच एक आलिशान सलुन है। सलून का नाम काॅपर सलून है। और इसी सलून का मालिक विवेक सिंह ठाकुर को भी पुलिस प्रशासन ने सलाखो के पिछे डाल दिया है। ठाकुर के आलिशान काॅपर सलून के किस्से भी होने की संभावनाये है। जो आंबेकर से जुडी हो सकती है। फिलहाल इस मामले मे आंबेकर और ठाकुर के खिलाफ धारा 354-अ-ब के तहत मामला दर्ज कर दिया है। हप्ता वसुली, अपहरण, जमीन हडपना,ठगी,इतनाही नही अब संतोष आंबेकर पर लैगिंक अत्याचार के मामले भी सामने आने लगे है। ताजा जानकारी के अनुसार आंबेकर ने काॅपर सलून व मालिक विवेक सिंह ठाकुर से मिलकर कई लडकियों को अपने जाल मे फसाया होगा। ऐसा अंदाजा भी लगाया जा सकता है। फिलहाल आंबेकर जेल के सलाखों के पिछे अपनी काली करतुत का खामीयाजा भूगत रहा है। वही उसका साथी विवेक सिंह ठाकुर बजाज नगर पुलिस के हिरासत मे है। और क्राईम ब्रांच मामले के तह तक जाने की कोशीश मे जुटी है।

नई सरकार के बिच नागपूर मे शितसत्र होने जा रहा है। इसी बीच विदर्भ के मुद्दे प्रलंबित है। किसान आत्महत्या, कर्जमाफी, पिने का पानी, खेती से जुडे सवाल, बिजली आदी समस्याओ का अंबार है। नई सरकार इस समस्याओ पर क्या हल निकालती है। यह देखना होगा। साथ ही इस बार विरोधी पक्ष भी प्रबल होने से दोनो सदनो का कामकाज होगा या बहस 6 दिन निकल जायेंगे यह भी देखनेवाली बात होगी। फिलहाल विधानसभा अध्यक्ष नानापटोले और उपाध्यक्ष निलम गोरे दोनो शितसत्र की तयारीया देखने सदन मे पोहचे थै। इस दौरान उपाध्यक्ष निलम गोरे इनसे नागपूर मेंट्रो समाचार ने संवाद साधा। उन्होने कहा की, विदर्भ के मुद्दो पर सत्तापक्ष और विपक्ष दोनो अगर समन्वय साधकर चर्चा करते है। तो इसपर हल निकाला जा सकता है। तो वही अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा , की महाराष्ट्र चुनावी नतिजो के बाद सरकार बनने मे काफी वक्त लगा। जिस कारण विदर्भ के मुद्दो पर चर्चा करने के लिये शितसत्र के लिए सिर्फ 6 दिन मिले। दोनो सदनो मे सत्तापक्ष और विपक्ष की चर्चा के अंत विदर्भ के मुद्दो को लेकर हल निकलेगा। साथ ही उन्होने काह, शितसत्र की तैयारी अंतिम पायदान पर है। आढावा बैठक के दौरान विधान सभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनो ने मिडीया से चर्चा की।

ये हमारे देश को क्या हो गया है? क्या हम मानव से दानव बन रहे है ? क्या हम दरिंदे बन गये है ? क्या हमारी संवेदशीलता मर गई है ? एक स्त्री को हम सदभाव से क्यों नही देख पाते ? क्या हम बहु बेटीयो की इज्जत करना भुल गये है ? क्या हम दुसरी नन्ही बच्चीयो मे अपनी बेटी के रुप मे नही देख सकते ? ऐसे और न जानें कितने सवाल आज की स्थिती में सामने खडे दो रहे है। उन्नाव बलात्कार पिडीताने करीब सालभर जिंदगी से संघर्ष करने के बाद 6 दिसंबर 2019 को आखरी सास ली। उसके पूर्व 28 नवंबर को दिल दहला देनेवाली वारदात हैद्राबाद मे घटी। जहा एक डाॅक्टर के साथ चार दरिंदो ने दरींदगी करने के बाद महिला डाॅक्टर को जलाकर मार दिया। इन दो घटनाओं से एक और पुरा देश दहल गया। वही दुसरी और महाराष्ट्र मे भी ऐसी घटनाओं से पूरा राज्य आहत हुआ है। महाराष्ट्र के नासिक, जालना, बिड और नागपूर जिल्हा भी दहल उठा है। इन चारों घटनाओ मे एक समानता है की चाहे घटनाओ मे नाबालिग बच्चीओ के साथ दरींदगी की है। नासिक मे अंबड परिसर मे एक 7 वर्षीय बच्ची के साथ एक 26 वर्षीय युवा ने अपने हवस का शिकार बनाया। तो जालना मे एक 13 वर्षीय नाबालीग बच्ची को अगुवा कर उसे हिंगोली ले जाकर अत्याचार किया गया। इस घटना में 2 महिला समेत एक पुरुष को भी गिरफ्तार किया है। साथ ही बिड तहसील के हद मे मैंदा गाव मे एक नाबालिग के साथ अत्याचार सामने आया है। 18 साल के एक नराधम ने इस घटना को अंजाम दिया। तो अभी नागपूर जिले के कलमेश्वर तहसील मे एक 4 वर्षीय बच्ची से अत्याचार कर उसे पत्थर से कुचल दिया गया। ये चारो घटनाएं हमारे आसपडोस मे सामने आई है। जहा संवेदनाहीन समाज का एक चेहरा सामने आ रहा है। जहा संवेदनाहीन समाज का एक चेहरा सामने आ रहा है। तो वही उन्नाव और हैद्राबाद मे जो वारदात सामने आई है। इन सभी घटनाओं से एक ना अनेक सवाल सामने खडे होकर आ रहे है। इन सवालो से अब हमे खुद ही से खुद को जवाब देना होगा। क्या सच मे हम इंसान है ? अगर है तो हमारी इंसानियत कहा मर गई है ? स्त्री जाती सम्मान करना इसी जमीन पर हमे सिखाया गया है। तो हमारा स्त्रीयो के बारे मे ऐसा अभद्र व्यवहार क्यो ? क्यों हम बार बार इस द्रौपदी की साडी खिच कर उसे नग्न कर रहे है? क्यों एक इंसानियत के नाते स्त्रीयों का सम्मान करे। क्यो की वो माॅ है, बहन है, बेटी है।

शहर मे अतिक्रमण थमने का नाम नही ले रहा। जिसके चलते पालिका प्रशासन अतिक्रमण के विरोध मे कमर कस कर खडा हो गया। अतिक्रमण के वजह से शहर मे कही यातायात नदारद है। कही फुटपाथ अडे हुअे है। तो कही सार्वजनिक, सरकारी जमिने अतिक्रमण से बिझी है। तो कही किसी के घरो के सामने अतिक्रमण बढने से लोग परेशान है। इसी परेशानियों को मद्यनजर रखकर महानगर पालिका ने पूर्व मेअर प्रविण दटके उनकी अगुवाई मे एक समिती गठीत की है। ये समिती के मंगलवार से शहर मे अतिक्रमण हटाने के लिये सक्रीय होगा। आनेवाले तिन दिनो तक अतिक्रमण का सफाया किया जायेगा। ऐसी बात मेअर संदिप जोशी ने कही। उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार यह कार्य होगा। शस्त्रोंपर खडे ट्रॅव्हल्स, ट्रक, अवैध वाहन के साथ साथ फुटपाथ अडानेवाले हाॅकर्स पर भी यह गाज गिरेगी । नियमानुसार अतिक्रमण हटाया जाना है। इस कारवाई के दौरान सहकार्य पर जोर दिया जायेगा। अगर सहयोग नही मिलता। और कार्य मे बाधा जलनेवाले पर कठोर कारवाई की जायेगी, ऐसे संकेत भी जोशी ने दिये। जोशी संकेत बाद किसी अज्ञात ने जोशी को मारने की धमकी की खबर सामने आयी है। जिसके विरोध मे अज्ञात के खिलाफ सदर पुलिस स्टेशन मे मामला दर्ज किया गया है।

-कलमेश्‍‍वर क्षेत्र में बच्‍ची की लाश मिली -बलात्‍कार के बाद हत्‍या की आशंका नागपुर। कलमेश्‍‍वर तालुका में आने वाले गांव लिंगा लाडई में आज दोपहर को एक 5 साल की बच्‍ची की लाश मिली है। बच्‍ची के मुंह में उसी की टी-शर्ट ठूंसी हुई थी और सिर पत्‍थरों से कुचला हुआ था। पुलिस ने लाश को नागपुर मेडिकल कॉलेज में पोस्‍टमार्टम के लिए भेजा है। अनुमान है कि बच्‍ची से बलात्‍कार करने के बाद उसकी जान ले ली गई है। हालांकि पुलिस ने अभी इस संबंध में कुछ भी कहने से मना कर दिया है। पुलिस का कहना है कि जब तक पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक इस मामले में कुछ भी कह पाना संभव नहीं है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बच्‍ची कमल (काल्‍पनिक नाम) 6 दिसंबर को दोपहर 3 बजे स्‍कूल से घर लौटी थी। घर आने के बाद 4 बजे के आसपास बच्‍ची पास ही में रहने वाली अपनी नानी के घर चली गई, मगर उस वक्‍त उसकी नानी घर में नहीं थी। बताते हैं कि बच्‍ची पास में ही कुछ परिचित बच्‍चों के साथ खेलने लग गई। शाम करीब 6 बजे के आसपास बच्‍ची अपने घर जाने के लिए वहां से निकली, मगर घर पहुंची नहीं। नानी को लगा कि बच्‍ची अपने घर चली गई है और घर के लोगों को लगा कि बच्‍ची नानी के घर गई है। बच्‍ची दो बहनों में बडी है और उसके माता-पिता दोनों मजदूरी करते हैं। काफी देर तक जब बच्‍ची का पता नहीं चला तो बच्‍ची के परिजनों ने कलमेश्‍‍वर पुलिस की शरण ली। पुलिस ने मामला दर्ज किया और मामले की गंभीरता को देखते हुए बच्‍ची की खोेज के लिए 3 टीमों का गठन किया। आज दोपहर करीब 12 बजे दो टीमों को कलमेश्‍‍वर क्षेत्र में खून से लथपथ अवस्‍था में बच्‍ची की लाश मिली। बच्‍ची के मुंह में उसी का टी-शर्ट ठूंसा हुआ था और उसके सिर पर पत्‍थरों की चोट के गहरे निशान थे। शरीर पर खून बिखरा हुआ था। बच्‍ची के सिर के पास ही एक पत्‍थर भी मिला है। पुलिस ने पोस्‍टमार्टम के लिए लाश को मेडिकल कॉलेज भेजा है। हालांकि रविवार होने के कारण कमल का पोस्‍टमार्टम नहीं हो पाया। पुलिस ने इस मामले में शक के आधार पर एक 30 वर्षीय युवक को गिरफ्‍तार किया है। हालांकि पुलिस अभी इस मामले में कुछ भी कहने से बच रही है। संभावना है कि बच्‍ची भी युवक की हवस का शिकार हुई है। कयास लगाया जा रहा है कि बच्‍ची के साथ बलात्‍कार के बाद उसकी हत्‍य

चंद्रपूर(विशेष प्रतिनिधी) अँकर-29 नोव्हेंबर पासून बेपत्ता दादाभाई वॉर्ड येथिल रहिवासी अस्लम शेख गेधू मिया शेख उर्फ अस्लम भाई वय 50 वर्ष, यांचे छिन्न विच्छिन्न अवस्थेतील शव चार दिवसानंतर बल्लारपूर-विसापूर रोड वरील पेपरमिल मागील परिसरात आढळून आले होते. कुटुंबीयांनी अस्लम च्या अचानक हरविल्याची तक्रार बल्लारपूर पोलिसात दाखल केली होती, 29 नोव्हेंबर रोजी शुक्रवारी सायंकाळी 8 चे दरम्यांन विसापूर येथून आपल्या दुचाकीने बल्लारपूर ला आपल्या घरी निघाल्या नंतर तो पुन्हा घरी परतलाच नव्हता… मात्र चार दिवसानंतर त्याचा मृतदेह बल्लारपूर-विसापूर रोड वरील पेपर मिल मागील भागात एका खोल नालीत छिन्न विच्छिन्न अवस्थेत आढळून आल्याने शहरात एकच खळबळ उडाली होती.धारदार शस्त्रांनी व दगडांनी ठेचून त्याची हत्या केली असावी,असा कयास लावल्या जात होता.तो विसापूरहुन बल्लारपूर कडे निघतांना आपल्या दुचाकीने निघाला होता.मात्र घटना स्थळावर त्याची दुचाकी तथा मोबाईल न मिळाल्याने या मर्डर मिस्ट्री चा गुंता बल्लारपूर पोलिसांना अद्यापही सोडविता आला नाही.अस्लम याचा सावकारी चा मोठा व्यवसाय होता,तथा तो सट्टा ही चालवायचा.याच कारणाने त्याचा खून तर झाला नाही?या शक्यताही पोलिसांनी तपासून बघितल्या.पण पोलिसांना कोणताच धागा गवसला नाही,याचे सर्वत्र नवल करण्यात येत आहे.त्यातच मृतक असलम यांची दुचाकी आणि हरवलेला मोबाईल हे या मर्डर मिस्ट्रीचा प्रमुख पुरावा अद्यापही पोलिसांना न गवसल्याने अनेक प्रश्न सद्यातरी अनुत्तरित आहे.डॉक्टरांच्या प्राथमिक अंदाज आणि अहवाल जरी असलम याचा मृत्यू जरी नैसर्गिक झाल्याची बतावणी करत असला तरी,हरविल्याच्या तारखेपासून चार दिवसानंतर असलम चा मृत देह छिन्न विच्छिन्न अवस्थेत सापडणे,घटना स्थळावरून त्याची दुचाकी व मोबाईल गायब असणे,या मुळे या मर्डर मिस्ट्री चा गुंता अधिकच वाढला आहे.आणि या प्रकरणाचा तपास करतांना पोलिसांना सपशेल अपयश आले आहे.दरम्यान शव विच्छेदन अहवाल आल्यानंतर बरेच चित्र स्पष्ट होणार असले तरी,मृतक असलम याची हरवलेली दुचाकी आणि मोबाईल नेमके कुठे आहे?या प्रश्नाचे उत्तर शोधण्याचे मोठे आव्हान पोलिसांसमोर उभे ठाकले असतांनाच असलम चा मृत्यू नेमका कसा झाला?या सारख्या अनेक प्रश

हिस्लाॅप एज्युकेशन सोसाइटी व्दारा संचालीत हिस्लाॅप महाविदयालय के वनस्पती शास्त्र विभाग की और से 7 दिसंबर से 2 दीवसीय पुष्प प्रदर्शनी का आयोजन कीया गया है। हिस्लाॅप काॅलेज के वनस्पतीशास्त्र विभाग द्वारा पिछले 16 सालों से पुष्प प्रदर्शनी का आयोजन की जा रहा है। और इस बार भी पुष्प प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है। जिसमे 14,000 फुलदारी पौंधे शामील है। ठंडी के मौसम में खिलने वाले फुल प्रदर्शनी का आकर्षण होते है। गुलाब, शेवंती,पेटुनिअम,बेगोनिअस, केलेंडुला,मेरीगोल्ड डायबंस,जिनीया, आदि का समावेश है।इस पुष्प प्रदर्शनी में शेवंती फुल की 70 प्रजातीयों को रखा गया है।

1000 किलो प्लास्टिक बरामद नागपुरः पर्यावरणीय प्रदुषण को रोखने के लिये प्लास्टिक बंदी के कई कानून सरकारने बनाये है। बावजूद इसके प्लास्टिक कंपनीया प्लास्टिक निर्माण कर धडल्ले से आयात निर्यात कर रही है। पर प्लास्टिक को रोखधाम कटने के लिये नागपूर मनपा ने भी कमर कसी है। इसी के चलते मनपा के सतरंजीपुरा झोन और गांधीबाग झोन को दो दिन पहले एक जानकारी मिलने के बाद सिधा आरपीएफ से संपर्क साधा। और इस पुक्ता जानकारी की खबर पंहुचाई। जिसके बाद आरपीएफ पुलिस ने जाल बिछाकर रेल्वे से आ रहे प्लास्टिक पार्सल को हिरासत मे लिया। करीब 1 हजार किलो प्लास्टिक बरामद करने के बाद इसके मालिक तक रेल्वे पुलिस और मनपा अधिकारियों ने पोहच ना चाहा। मगर संशयीत नहो प्लास्टिक और बालाजी प्लास्टिक के मालिको ने इस को नकारा है। ऐसी खबर भी पुलिस की ओर से दि गई। रेल्वे पुलिस के मुताबिक दृग और राजनांदगाव से ये प्लास्टिक पार्सल रेले से आया है। रेल पुलिस ने दो दिनो के मशक्कत के बाद इस प्लास्टिक को बरामद किया है। संशयीतो ने माल का जीम्मा नही उठाया। जिसके बाद पुलिस ने मनपा झोन अधिकारीयों के साथ खोज को कडी कर दी है। रेल पुलिस ने ये भी कहा की प्लास्टिक बंदी के खिलाफ पुरी सिस्टीम एकसाथ हो तो बंदी भी सही मायने होगी।

नागपुर - राज्य उत्पादन शुल्क विभाग ने हुडकेश्वर तथा अजनी पुलिस स्टेशन के हद मे आनेवाले पराते सावजी तथा बेसा रोड के देशी चुला ढाबेपर पुलिस के साथ संयुक्त कारवाई कर शराबीयो समेत हाॅटेल मालकोपर कडी कारवाई की है। कारवाई मे 2 हाॅटेल मालको समेत 19 शराबीओ को पुलिस ने धर दबोचा है। वही करीब 14 हजार 500 रू का माल हिरासत मे लिया गया। जिल्हाधिकारी रविंद्र ठाकरे, पुलिस आयुक्त डाॅ. भुषणकुमार उपाध्याय, पुलिस उपायुक्त निर्मला देवी तथा राज्य उत्पादन शुल्क विभाग के विभागीय उपायुक्त मोहन वर्दे, अधिक्षक प्रमोद सोनुने आदेश के अनुसार निरिक्षक रावसाहेब कोरे इन्होने की। इस कारवाई मे सहाय्यक पुलिस निरीक्षक संतोष मुंडे, पोलीस स्टाफ और राज्य उत्पादन शुल्क विभाग के दुय्यम निरीक्षक दिलीप बडवाईक, सहाय्यक दुय्यम निरीक्षक प्रशांत येरपुडे, जवान निलेश पांडे, राहुल पवार, वाहन चालक राजू काष्टे, रवी निकाळजे आदी इस मुहिम के शिलेदार रहे। कारवाई के दौरान हॉटेल मालक विश्वास खुशाल टाकलीकर (उम्र 45 गोळीबार चैक नागपूर) प्रबंधक विक्की वनवास पाटील (उम्र 32 न्यू वैशाली नगर नागपूर) शराबी तुषार अरविंद फुलझेले (उम्र 27 कैलास नगर नागपूर) मनीष अशोक रामटेके (उम्र 29 ईश्वर नगर नागपूर) राहुल सुरेश आखेर (उम्र 31 बेलतरोडा नागपूर) गोपाळ माधवराव देशपांडे (उम्र 28 विठ्ठल नगर नागपूर५) चेतन रामचंद्र सेलोकर (उम्र 32 मिरे लेआऊट नागपूर) विजय महादेव बनते (सक्करधरा नागपूर) शुभम देविदास भोकले ( शाहू नगर नागपूर) राजेंद्र माधवराव तेलराडे (रामचंद्र नगर नागपूर) वीरेंद्र दिगंबर काटोले (बेसा नागपूर) कुलदीप शालीकराम बावणे (अयोध्या नगर नागपूर) ललित लक्ष्मण जिमले (कैलास नगर मानेवाडा नागपूर) अक्षय बबनराव निंबाळकर (विश्वकर्मा नगर नागपूर) सौरभ संजय गवरे (ज्ञानेश्वर नगर नागपूर) विशाल उपासराव गायकवाड (बेसा नागपूर) अशोक डोमाजी मांडवकर (आशीर्वाद नगर नागपूर) कुणाल गणेश लोहकरे(बेसा नागपूर) स्वप्नील जनार्धन जिंहारे (बानराहे नगर नागपूर) विशाल वासुदेवराव ढोले (मानेवाडा नागपूर) गजानन सुर्यभानजी पाटील (चण्डिका नगर नागपूर) आदिओ पर महाराष्ट्र दारुबंदी कानुन के तहत मामला दर्ज किया गया। इसमे 18 लोग मेडीकल रिपोर्ट मे दोषी पाये गये है।

कॉंग्रेस के नगरसेवक बंटी शेळके पर मोंटू मुटकुरे नामक लड़के द्वारा मारपीट करने का आरोप लगाया गया है, जिसका खंडन कर बंटी शेळके द्वारा गुरुवार को पत्रपरिषद लेकर बुधवार की रात हुए वाकिये की जानकारी दी है| बंटी शेळके पर मारपीट का आरोप लगाने वाला मोंटी मुटकुरे की कई दिनों से मुझे मेरे प्रभाग के नागरिक शिकायत कर रहे थे की ये शराब पीकर आने जाने वालों को गालिया देता है, और किसी के भी घर के सामने रात बे रात गाड़ी खड़ी कर घंटो गालिया देकर बात करते रहता है, कई बार मोंटी को समझाया था लेकिन मोंटी बार बार वही गलतियाँ की गई है| बुधवार की रात बंटी शेळके मेडिकल से घर गुजरते हुए रस्ते पर मोंटी के दोस्त के साथ बैठे थे और समझाया की आगे से मोंटी ऐसी गलती मत करो लेकिन जिसका आज बतंगड़ बन चूका है |साथ ही शेळके का कहना है| है की भाजपा के दबाव में पूरी तरह छडयंत्र रचकर कैसे छवि ख़राब की जाये यह कोशिश बार बार मेरे खिलाप की जा रही है, ऐसा भी शेळके द्वारा पत्रपरिषद में कहा गया है| साथ ही शेळके का कहने है| की यह भाजपा क्यों के दबाव में पूरी तरह छडयंत्र रचकर कैसे छवि ख़राब की जाये यह कोशिश बार बार मेरेर खिलाफ की जा रही है| ऐसा भी शेळके द्वारा पात्र परिषद् में कहा गया है|

भारत रत्न परमपूज्य डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर महाराष्ट्र राज्य के कैबिनेट मंत्री डॉ. नितीन राऊत ने अपने जनसंपर्क कार्यालय बेजनबाग में श्रद्धांजली कार्यक्रम के साथ संविधान चौक पर जाकर बाबासाहेब आंबेडकर के पुतले को पुष्पहार अर्पण कर डॉ. नितीन राऊत ने दीक्षाभूमि जाकर बाबासाहेब आंबेडकर के अस्थि कलश का दर्शन किया और श्रद्धांजली दी| महापरिनिर्वाण दिवस पर उत्तर नागपुर में विभिन्न जगहो पर श्रद्धांजली और ब्लड डोनेशन कैंप का कार्यक्रम लिया गया| इस मौके पर, मुख्य रूप से पूर्व मंत्री अनीस अहमद, सेवादल के संगठन कृष्णकुमार पांडे, बंडोपंथ टैंभूरने, ठाकुर जगियासी, सुरेश जगियासी, हरीभाऊ कीरपाने, नगरसेवक दिनेश यादव, नेहा राकेश निकोसे, परसराम मानवटकर, अजीत सिंह, महेंद्र ब्रह्मणवाड़े, दीपक खोब्रागड़े, विजयाताई हजारे, सुरेश पाटिल, राजेश लाडे, आमिर नूरी, तुषार नंदगवली, गौतम अंबादे, राम यादव, सतीश पाली, संतोष खड़ेसे, पंकज नगराले, राकेश ईखार, कुणाल निमगड़े, रुपेश केळवतकर, आतिश साखरे आदि उपस्थित थे|

पाचपावली पुलिस स्टेशन अंतर्गत 2 दिन पूर्व हुए विवाद के चलते 11 लोगों ने मिलकर रॉड और लकड़ी से प्रहार कर एक युवक को मौत के घाट उतार दिया| जबकि दो लोगों को गंभीर रूप से जख्मी कर दिया| पुलिस ने सभी 11 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर पांच आरोपी को गिरफ्तार किया है| जानकारी के अनुसार 2 दिन पूर्व शुभम सदावर्ते की बाइक को कट लगने को लेकर हुए विवाद में लालगंज मेहंदी बाग रोड उरकुडे ज्वेलर्स के बाजू में दारू भट्टी नाईक तालाब के समीप निवासी पवन गणेश धार्मिक वह उसका मित्र पियुष वह मृतक शुभम सदावर्ते के साथ आरोपी पिंटू सुरेश बेंडेकर, जितेश सुरज बेंडेकर, आकाश माहुरे, बादल नरेश पडोले, मंगेश चिरोडकर, सुशांत सोनकुसरे, विक्की बुटरया, आकाश गुटरया, विक्की डोला कृष्णा व अन्य ने मिलकर लोहे की रॉड राफ्टर से हमला किया| जिसमें पवन व उसका मित्र पीयूष आंगड़े गंभीर जख्मी हो गए| जबकि इस घटना में बाबरी वीहीर समीप चकना चौक निवासी शुभम सदावर्ते के सिर छाती व पीठ पर लोहे की रॉड व लकड़ी से जोरदार प्रहार करने से उसे गंभीर चोट लगी| पाचपावली पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर आगे की जांच कर रही है|

गणेशपेठ थाना अंतर्गत नो पार्कींग के विवाद के चलते गाडी चालक ने वाहतुक शाखा काॅटन मार्केट के वरिष्ठ पुलीस निरीक्षक शैलेष शंखे पर हमला कर दीया। गणेश पेठ थाना अंतर्गत गुरुवार को जाधव चैक पर नो पार्कींग में गाडी लगाने पर वाहतुक शाखा के वरिष्ठ पुलीस निरीक्षक ने टोकने पर हुए विवाद ने अलग मोड ले लीया। पुलीस निरीक्षक टोकने पर गाडी चालक घुस्से मे आकर निरीक्षक पर हमला कर दीया। प्राप्त जानकारीनुसार वाहतुक शाखा काॅटन मार्केट के वरिष्ठ निरीक्षक शैलेष शंखे गणेशपेठ थाना अंतर्गत आने वाले जाधव चैक पर अपना कर्तव्य निभा रहे थे। तभी उन्हे एम एच 49 बी 7250 नंबर की गाडी जिसके मालीका का नाम मोहन राम किशन सिंह ठाकुर है। नो पार्कींग मे दिखाई दी शंखे ने गाडी मालक को गाडी नो पार्कींग से हटाने को कहा। गाडी मालक मोहन राम ठाकुर ने शंखे के साथ बहेस करना शुरु कर दीया। गाडी मालक का कहना है, की मै गाडी का लगाउ। इस विषय पर दोनो मे काफी देर तक बहेस हुई। बहेस के दौरान घुस्साए गाडी चालक ने शंखे पर हात उठा दीया । कर्तव्य पर किसी सरकारी कर्मचारी पर हात उठाना था। सरकारी कामों मे रुकावट बनना कानुनी अपराध होता है। इसी लिए ये मामला गणेशपेठ थाना पोहचा । इस मामले की सचाई जानने के लिए हमारी टीम ने गणेशपेठ के वरिष्ठ पुलीस निरीक्षक एस.एस.कुमरे से बात की तो उन्होने बताया की ठाकुर नामक गाडी चालक को इसके पहले भी नो पार्कींग के लिए आगा किया गया था। गुरुवार को भी इसी विषय पर बहेस हुई और गाडी चालक ने हात उठा लीया। इसकी शिकायत थाने मे दर्ज कराई गई और आरोपी पर मामले दर्ज कराया है।हमारी टीम ने शैलेष शंखे से भी बात की उन्होने कॅमेरे के सामने कुछ भी बोलने से मना कर दीया। पर उन्होने पत्रकारो से चर्चा करते हुए बताया की, आरोपी ने गुन्हा तो किया है। मगर मै उसके खिलाफ कोई भी शिकायत दर्ज नही कर रहा हु। उन्होने आगे कहा की, आज हुई पुरी घटना में आरोपी ठाकुर ये पारीवारीक विवादो से त्रस्त था। उसमे घुस्सा भरा हुआ था। इसी लिए उसने ये कदम उठाया है। अभी उसे भी इसका अफसोस हो रहा है। शंखे ने आगे बताया की, मै उस पर गंभीर गुन्हे दाखील नही करुगा। इसके बाद कोई भी नागरीक ऐसा कदम नही उठाए इसी लिए उसे सीख तो मिलनी चाहीए।

नागपुर शहर के गैगंस्टर संतोष आंबेकर के इतवारी निकालस मंदीर स्थित 4 मंजीले इमारत पर मनपा के तोडु दस्ते ने बुधवार को अतिक्रमण कार्रवाई की, संतोष आंबेकर और उसका भांजा निलेश केदार कई दीनो से विविध मामलो के चलते सुर्खीयो मे रहे है। बुधवार को मनपा के तोडु दस्ते ने नोटीस नुसार अतिक्रमण कार्रवाई की, कार्रवाई दौरान तगडा पुलीस बंदोबस्त रखा गया था। कार्रवाई देखने के लिए लोगो ने भी भीड जमा कि थी। आंबेकर गैंग पर चल रही कार्रवाई के दौरान ही मनपा ने की इस कार्रवाई को विशेष कहा जा रहा है। जानकारी मिली है की 'आठवण' नामक इस इमारत में आंबेकर का भांजा निलेश केदार अपने परिवार के साथ रहता था। वो अभी अपने मामा के साथ विविध मामलो मे जेल म बंद है।

कांग्रेस नेता व नवनिर्वाचीत विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले अध्यक्ष पद का पदभार संभालने के बाद पहीली बार बुधवार को नागपुर पोहचे। नाना पटोले इनका नागपुर विमानतल पर ढोल ताशा के साथ भव्य स्वागत किया गया। नाना पटोले का स्वागत एवं बधाई देने बडी संख्या मे कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थीत थे। विमानतल से स्वागत सभारंभ खत्म कर नाना पटोले ने दिक्षाभुमी,बडा ताजबाग और टेकडी गणपती का आर्शिवाद लिया। नाना पटोले इन्होने पत्रकारों से कहा की मै अब राजनेतीक विषयों पर नही बोल सकता। इस पद पर बैठकर मुझे जनता के विषयों को न्याय देना है।

नागपुर में जिला परिषद चुनाव आचार संहिता पाश्र्वभुमी पर अवैध तरीके से शराब निर्मीती व बिक्री स्थानों पर छापामार कारवाई कि गई है। जिसमें आपे रिक्षा, 540 किलो काला गुड व 50 लिटर हातभट्टी शराब व 17 लीटर देसी शराब ऐसा कुल मिलाकर 2 लाख 300 रुपये कीमत का मुद्देमाल जप्त किया गया है। साथ ही 9 आरोपी को गिरप्तार कीया गया है। जिला परिषद चुनाव को देखते हुये जिलाधिकारी रविंद्र ठाकरे व उपायुक्त मोहन वर्दे अधीक्षक प्रमोद सोनोने इन्होने चुनाव आचार संहिता कार्यकाल मे विशेष मुहीम चलाकर प्रोहीबीशन रेड्स कर अवैध शराब निर्मीती व बिक्री पर कारवाई के आदेश दिये गये है। उसी के तहत गिट्टीखदान पुलिस थाना हद्द में भिवसन खोरी ने हातभट्टी शराब निर्मिती के लीये काला गुड ले जाया जायेगा इस गुप्त जानकारी के अनुसार छापा डाल कर काले गुड की 12 किलो 20 ढेपा व 30 किलो की 10 बोरी जप्त की गई है। साथ ही विमलबाई मेश्राम के घर से 20 लीटर तयार हातभट्टी की शराब जप्त की गई है। साथ ही भिवसन खोरी के अन्य तीन स्थानों पर भी छापामार कर मोहा शराब जप्त की गई है। तो साथ ही यशोधरा पुलीस थाना हद्द में चार अवैध शराब बिक्री स्थानों पर छापामार कारवाई की गई है।

नागपुर: हैद्राबाद मे डाॅ.प्रियंका रेड्डी पर नराधमो द्वारा अन्याय करने वाले गुन्हेगारों को जल्द से जल्द सजा देने कि मांग के साथ महिला सुरक्षा के पुख्ता उपाय योजना किये जाये। ऐसा ज्ञापन जिलाधिकारी रविंद्र ठाकरे को राष्ट्रवादी कांग्रेस द्वारा सौंपा गया है। दिन ब दिन महिलाओं पर अत्याचार बढ रहे है। महिलाये सुरक्षित रहे इसलीये पुख्ता इंतजामात कीये जाये। ताकी हैद्राबाद में जो घटना हुई वह दोबारा ना हो और प्रियंका रेड्डी के गुन्हेगारों को सजा मिलें। हैद्राबाद की घटना के बाद से महिलाओं, लडकीयों मे दहशत का वातावरण निर्माण हो चुका है। महिलाओं, लडकीयों के सुरक्षा के लीये उपाय योजना की जाये। इस मांग को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नगरसेवक व गटनेता दुनेश्वर पेठे के नेतृत्व में जिलाधीकारी को ज्ञापन सौंपा गया है। ऐसे अपराधीयों पर अंकुंश लगाने के लिए प्रशासन द्वारा क्या कदम उठाये जायेंगे ये तो आनेवाले दीनों मे ही पता चलेगां।

राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विद्यापीठ की ओर से जागतिक दिव्यांग दीन मनाया गया। कार्यक्रम के अध्यक्ष के रुप मे राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विद्यापीठ के कुलगुरु डाॅ सिध्दार्थ विनायक काणे उपस्थित थे। प्रमुख अतिथी के रुप में प्र-कुलगुरु विनायक देशपांडे मानसोपचार तज्ञ डाॅ.सुधीर भावे ,डाॅ संजय बजाज उपस्थीत थे। दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम की शुरुवात की गई। कार्यक्रम में उपस्थीत मान्यवरोने,दिव्यांग विषयक संवाद व चर्चा की विद्यापीठ की ओर से संगीत कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया था। साथ ही समांतर नामक अभिवाचन की प्रस्तुती भी कि गई।

कॅबिनेट मंत्री नितीन राउत सोमवार को मंत्री बनने के बाद पहली बार नागपुर पहुंचे विमानतल पर राउत के सर्मथको द्वारा भव्य स्वागत कीया गया। इस दौरान समर्थक व कार्यकर्ताओ की काफी भीड थी। इसी भीड का फायदा उठाकर अज्ञात व्यक्तीने कॅबीनेट मंत्री नितीन राउत के स्वागत के लीए पहुंचे व्यक्ती की जेब से 48,000 रुपये चुरा लिये है। इसके अलावा अन्य व्यक्ती के जेब से 7 हजार ऐसा कुल मीलाकर 55,000 रुपये का मुद्देमाल व बॅक के डाॅक्युमेंट्स चुनाने कि घटना सामने आयी है। फिर्यादी के शिकायत पर मामला दर्ज कीया गया है। पुलीस आगे की जांच कर रही है।

शहर मे रस्ते पे हो रहे दुर्घटनाओ का प्रमाण बढ रहा है। इन दुर्घटनाओ मे युवक शिकार हो रहे है। मां-बाप अपने बच्चे 10 या 12 वी पास होते ही दुपहिया वाहन दे देते है। मां-बाप की सोच होती है। की कोंचीग क्लासेस से काॅलेज जाने मे सुविधा हो मगर युवा पिढी गाडी हात में आते ही स्टाईल दिखाने के लिए तेज रप्तार में गाडी चलाते है। जिसे दुर्घटना की आशंका बढ जाती है। शहर मे दुर्घटना तो बढ रही है। मगर दुर्घटना के बाद अपघात गस्त व्यक्ती को सही समय पर इलाज नही होता है। यही समस्या देख शहर के जागृत नागरीक राजु वाघ इन्होने दुर्घटना कम हो साथ ही अपघात ग्रस्त व्यक्ती प्राथमिक इलाज हो इसका बिठा उठा लिया है। उन्होने इस सामाजिक कार्य करणे के लिए एक संस्था की स्थापना की है। ये संस्था शहर मुख्य चैराह और काॅलेज स्कुल मे जाकर लोगो मे अवरनेस कर रही है। इस कार्यक्रम मे दुर्घटना होने पर लोगों को कैसे बचाया जा सकती है। साथ ही जख्मी लोगो पर किस तरह से प्राथमिक इलाज किया जा सकता है। इसकी जानकारी व प्रात्याक्षिक दी जाती है। ऐसा ही एक कार्यक्रम शुक्रवार को शहर के ईश्वर देशमुख काॅलेज मे रस्ते अपघात आपती व्यवस्थापन आणि अनुसंधान केंद्र व्दारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। कार्यक्रम राजु वाघ और उनके टीम ने उपस्थीत काॅलेज छात्रों को मार्गदर्शन किया गया। कार्यक्रम व्दारा संस्था के सदस्योने अपने अनुभव बताते हुए। दुर्घटना होणे कर दुर्घटना में फंसे लोगो को कौसे बचाए और मदत कैसे करे इसकी जानकारी दी गई।

राज्य में महाविकास आघाडी कि सत्ता स्थापन हुई है। अब शितसत्र की भी तैयारीयां उपराजधानी नागपूर में शुरु हो गई है। कहा जा रहा है। दिसंबर के तिसरे सप्ताह में शितसत्र शुरु हो सकता है। महाविकास आघाडी की सरकार की सरकार राज्य में बन चुकी है। गूरुवार को शपथ ग्रहण कर, कामकाज संभाल लिया है। अब उपराधानी मे शितसत्र संभाल लिया है। अब उपराजधानी मे शितसत्र की तयारी शुरु हो गई है। अब नागपूर में शितसत्र होना तय माना जा रहा है। दिसंबर महीने के तिसरे सप्ताह में शुरु होने के अंदेशा है। यह शितसत्र अल्पकालीन होगा। सत्ता स्थापन होने में वक्त लगने शितसत्र कब होना तय है। यह अंदेश कोई नही लगा पा रहा है। सुत्रों के अनुसार मंत्री मंडलके स्थापना के बाद तीन दीन का सत्र चलेगा मुंबई में होना है। जिसमें शितसत्र की निश्चीत तारीख तय होगी। विधीमंडळ सचिवालय को शितसत्र के तयारीयों कम से कम 15 से 20 दिनों का वक्त लग सकता है। इसी कारण शितसत्र दिसबंर के तिसरे या आखरी सप्ताह में लीया जायेगा।

नागपुर पुलिस ने एक स्थानीय अदालत द्वारा देवेन्द्र फडणवीस के नाम जारी समन की गुरुवार को तामील की। फडणवीस पर चुनावी हलफनामे में खुद पर चल रहे आपराधिक मामलों की जानकारी न देने का आरोप है। फडणवीस के घर पर समन की तामील की गई। यह घटनाक्रम ऐसे वक्त हुआ है, जब महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन ने सरकार बनाई है। फडणवीस नागपुर से विधायक हैं। शहर के वकील सतीश उके ने अदालत में एक याचिका दायर कर फडणवीस के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने की मांग की थी। यह मामला चुनावी शपथ पत्र में फडणवीस द्वारा अपने खिलाफ दो क्रिमिनल केस के बारे में जानकारी छिपाने के आरोप से जुड़ा है। सदर के पुलिस इंस्पेक्टर ने बताया कि हमने एक स्थानीय अदालत द्वारा फडणवीस के नाम जारी समन को उन्हें तामील किया है| सतीश उईके द्वारा फडणवीस के खिलाफ मजिस्ट्रेट कोर्ट में एक शिकायत दायर की गई थी| इससमें लंबित आपराधिक मामलों के सभी विवरणों का खुलासा नहीं करने के लिए उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की मांग की गई थी| इस मामले को हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया था|

Recent Posts